Anger Quotes in hindi

मुझे जिंदगी का तजूर्बा तो नहीं पर इतना मालूम है, छोटा इंसान बडे मौके पर काम आ सकता है।
मंजिल चाहे कितनी भी उंची क्यो नाहोदोस्तो..!! रास्ते हमेशा पेरो के नीचे होते हे.
यहाँ सब समझते है के मैं इश्क़ का माराहूँ,हाँ अन्जान हैं, के उन्होंने अभी मेरामेहबूब नहीं देखा.
रोता वही है जिसने महसूस कि हो सच्चीमोहब्बत को, वरना मतलब के रिश्तें रखने वाले को तो कोईभी नही रूला सकता.
जरुरत है कुछ नए नफरत करने वालो की पुराने वाले चाहने लगे है मुझे.
सुना है तुम्हे मोहोबत का सोक नहीं है लेकिन बर्बाद तो तुम कमाल का करती हो.
जिंदगी खर्च कर दी तुझे पाने की चाहत मे । इससे बडी कीमत क्या होती तेरे प्यार की ।।
ना तुमने आवाज़ दी ना मैंने मुड़ के देखाख़ामोशी चलती रही दरम्यां !!
तन्हाईयो से इस कदर डर लगता है सफ़र हीअब तो हमसफ़र लगता है !!
तू किसी और के लिए होगा समन्दर ए इश्क़, हम तो रोज़ तेरे साहिल से प्यासे गुज़र जाते.
ज़रा तल्ख़ लहज़े में बात कर ज़रा बेरुख़ी से पेश आ, मैं इसी नज़र से तबाह हुआ मुझे देख न यूँ प्यार से.
ना शौक दीदार का ना फिक्र जुदाईकी, बड़े खुश नसीब हैँ वो लोग जो मोहब्बत नहीँ करत.
मेरी उम्र इतनी तो नहीं फिर भी..ना जाने क्यों?? बड़े बड़े आशिक़ मुझे सलाम करते है.
इश्क की होलियां खेलनी छोड़ दी है मैंने,वरना हरचेहरे पर रंग मेरा होता. !!
फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ “इश्क” मुकम्मल, इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है….!
मुझे जिंदगी का तजूर्बा तो नहीं पर इतना मालूम है, छोटा इंसान बडे मौके पर काम आ सकता है..
मंजिल चाहे कितनी भी उंची क्यो नाहो दोस्तो..!! रास्ते हमेशा पेरो के नीचे होते हे..!
जरुरत है कुछ नए नफरत करने वालो की पुराने वाले चाहने लगे है मुझे.
ज़रा तल्ख़ लहज़े में बात कर ज़रा बेरुख़ी से पेश आ, मैं इसी नज़र से तबाह हुआ मुझे देख न यूँ प्यार से.
बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना, कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में !
सुन पगली Senty होना हमारी फितरत में नहीं, भाग रे छोरी ये लड़का तेरी किस्मत में नहीं.
Acha hu toh accha hi rehne do, Bura bann gaya toh mujhe jhelne ki aukaat nahi tumhari.
अरे पगली, मेरी बोली मे एक अदा है, जिसपे तेरे जैसी 56 छोरी फिदा है.
जा pagle जी ले अपनी जिंदगी, हम मोहब्बत की रानी है, गद्दारो के मुँह नहीं लगते.
status और Pic मत देख Pagli ज़ाके Kitab पड़ Pyaar होने से अच्छा Passहो ज़ाएगी.
देख मेरे जुते 👞👞 भी तेरी नियत से ज्यादा साफ़ है।
कमियाँ तो बहुत है मुझमे, पर कोई निकाल कर तो देखे.
लड़कियाँ भी मोहब्बत मे ऐसे लड़को को चाँद तारे तोड़कर लाने को कहती है जिनको मोहल्ले मे कोई कड़ी पत्ता भी तोड़ने नही देता.
बाप के सामने अय्याशी, और हमारे सामने बदमाशी, बेटा, भूल कर भी मत करियो.
जिनकी नज़रों में हम अच्छे नही, वो अपनी आँखो का इलाज करवाये.
Attitude तो मेरे पास भी है, लेकिन इतना फोकट का भी नहीं हैं, जो बात-बात पे Attitude दिखाऊ.
अगर तुम उन्हें हद से ज्यादा Attention दोगे तो, भाईसाब अकड़ तो बढ़ ही जायेगी उनकी.
वो मेरी न हुई तो ईसमेँ हैरत की कोई बात नहीँ, क्योँकि शेर से दिल लगाये बकरी की ईतनी औकात नही.
Usne kaha chale jaao meri zindagi se. Mene kaha kon ho tum bhaisahab.
“क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के सामान है, इसमें आप ही जलते हैं।”

“कोई भी क्रोधित हो सकता है- यह आसान है,
लेकिन सही व्यक्ति से सही सीमा में सही समय पर और सही उद्देश्य के साथ सही तरीके से क्रोधित होना
सभी के बस कि बात नहीं है और यह आसान नहीं है।”

“ये भी अच्छा है कि ये सिर्फ़ सुनता है, दिल अगर बोलता तो क़यामत हो जाती।”
“हर एक मिनट जिसमे आप क्रोधित रहते हैं, आप ६० सेकेण्ड की मन की शांति खोते हैं।”
“क्रोध मूर्खों के ह्रदय में ही बसता है।”
क्रोध पर यदि काबू ना किया जाये, तो वह जिस चोट के कारण उत्पन्न हुआ उससे से कहीं ज्यादा हानि पहुंचा सकता है।”
“क्रोध के कारण की तुलना में उसके परिणाम कितने गंभीर होते हैं।”
“हर बार जब आप क्रोधित होते हैं, तब आप अपनी ही प्रणाली में ज़हर घोलते हैं।”
“जो व्यक्ति बदले की भावना रखता है वो दरअसल अपने ही घावों को हरा रखता है।”

मुझे जिंदगी का तजूर्बा तो नहीं पर इतना मालूम है,
छोटा इंसान बडे मौके पर काम आ सकता है।

यहाँ सब समझते है के मैं इश्क़ का मारा हूँ,
हाँ अन्जान हैं के उन्होंने अभी मेरा मेहबूब नहीं देखा

“क्रोध वह हवा है जो बुद्धि के दीप को बुझा देती है।”

मंजिल चाहे कितनी भी उंची क्यो ना हो दोस्तो..
रास्ते हमेशा पेरो के नीचे होते हे..!

रोता वही है जिसने महसूस कि हो सच्ची मोहब्बत को वरना
मतलब के रिश्तें रखने वाले को तो कोई भी नही रूला सकता.

तन्हाईयो से इस कदर डर लगता है सफ़र ही अब तो हमसफ़र लगता है !!

हमारे जीने का तरीका थोड़ा अलग है,हम उमीद पर नहीं अपनी जिद पर जीते है!!

हुकुमत वो ही करता हे जिसका दिलो पर राज होता हे !!!!
वरना यू तो गली के मुर्गो के सिरो पे भी ताज होता हे

जीत हासिल करनी हो तो काबिलियत बढाओ ।
किस्मत की रोटी तो कुत्तों को भी नसीब हो जाती है

मेरी आँखों के जादु से अभी तुम कहा वाकिफ हो ,
हम उसे भी जीना सिखा देते हे जिसे मरने का शौक हो ।

इन्कार है जिन्हे आज मुझसे मेरा वक्त देखकर,
मै खूद को इतना काबील बनाउंगा वो मिलेंगे मूझसे वक्त लेकर!

सुधरी हे तो बस मेरी आदते वरना मेरे शौक
वो तो आज भी तेरी औकात से ऊँचे हैं…!!!

हारने वालो का भी अपना रुतबा होता हैं …
मलाल वो करे जो दौड़ में शामिल नही थे..

हर किसी को मैं खुश रख सकूं वो सलीका मुझे नहीं आता..
जो मैं नहीं हूँ, वो दिखने का तरीका मुझे नहीं आता ।

दिमाग कहता है मारा जायेगा लेकिन दिल कहता है देखा जाएगा

वो आईना देख मुस्कुरा के बोली… बेमौत मरेगा मुझ पर मरने वाला..

खरीद लेंगे सबकी सारी उदासियाँ दोस्तों !
सिक्के हमारे मिजाज़ के, चलेंगे जिस रोज !!

भीङ में खङा होना मकसद नहीं हैं मेरा ,
बलकि भीङ जिसके लिए खडी है वो बनना है मुझे ॥।

Attitude तो बचपन से है, जब पैदा हुआ तो डेढ़ साल मैंने किसीसे बात नही की

अकड़ती जा रही हैं हर रोज गर्दन की नसें,
आज तक नहीं आया हुनर सर झुकाने का .

सीढ़ियाँ उन्हे मुबाराक जिन्हें छत पर जाना हो
मेरी मंज़िल तो आसमाँ है मुझे रास्ता खुद बनाना है॥

दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है…
जब से अपनों को अजमाते चले गए॥

अच्छे होते हैं बुरे लोग जो अच्छा होने का नाटक तो नहीं करते॥

मत पूछना मेरी शख्सियत के बारे में हम जैसे दिखते है वैसे ही लिखते है …!

पिछले बरस था खौफ की तुझको खो ना दूँ कही,
अब के बरस ये दुआ है की तेरा सामना ना हो

मैं क्यूँ कुछ सोच कर दिल छोटा करूँ…
वो उतनी ही कर सकी वफ़ा जितनी उसकी औकात थी…

आसमान में उड़ने वाले जरा ये खबर भी रख….!!
जन्नत पहुँचने का रास्ता मिट्टी से ही गुजरता है….!!

मेरे मिज़ाज को समझने के लिए बस इतना ही काफी है,
मैं उसका हरगिज़ नहीं होता जो हर एक का हो जाये।

अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उंगलिया,
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं

जैसा भी हूं अच्छा या बुरा अपने लिये हूं,
मै खुद को नही देखता औरो की नजर से..!!

मजा चख लेने दो उसे गेरो की मोहबत का भी,
इतनी चाहत के बाद जो मेरा न हुआ वो ओरो का क्या होगा।

रियासते तो आती जाती रहती हे,मगर बादशाही करना तो आज भी लोग हमसे सीखते हे!

गूलाम हूं अपने घर के संस्कारों का ..
वरना मै भी लोगों को उनकी औकात दिखाने का हूनर रखता हुं

रोज स्टेटस बदलने से जिंन्दगी नहीं बदलती,
जिंदगी को बदलने के लिये एक स्टेटस काफी है..!!

मेरी आँखों के जादु से अभी तुम कहा वाकिफ हो ,
हम उसे भी जीना सिखा देते हे जिसे मरने का शौक हो ।

हारने वालो का भी अपना रुतबा होता हैं मलाल वो करे जो दौड़ में शामिल नही थे..

पियो सर उठा के , जियो लडखडा के

शहर भर मेँ एक ही पहचान है ‘हमारी’
सुर्ख आँखे,गुस्सैल चेहरा और ”नवाबी अदायेँ’!

इरादे सब मेरे साफ़ होते हैं
इसीलिए, लोग अक्सर मेरे ख़िलाफ़ होते हैँ…!!!

हम भी दरिया है, हमे अपना हुनर मालूम हे।
जिस तरफ भी चल पडेंगे, रास्ता हो जायेगा।

हम तो बेज़ान चीज़ों से भी वफ़ा करते हैं,तुझमे तो फिर भी मेरी जान बसी है।

लोगो से कह दो हमारी तकदीर से जलना छोड़ दे।
हम घर से दवा नही ‘माँ की दुआ’ लेकर निकलते है।

मत पूछना मेरी शख्सियत के बारे में ..हम जैसे दिखते है वैसे ही लिखते है …!

पिछले बरस था खौफ की तुझको खो ना दूँ कही,
अब के बरस ये दुआ है की तेरा सामना ना हो

लहरों का सुकून तो सभी को पसंद है,
लेकिन तुफानो में कश्ती निकालने का मजा ही कुछ और है

मिल सके आसानी से , उसकी ख्वाहिश किसे है?
ज़िद तो उसकी है जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं…

हक़ से दो तो तेरी नफरत भी कुबूल है हमें ,
खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें!!!

नमक स्वाद अनुसार और अकड़ औकाद अनुसार ही अच्छी लगती है

प्यार करता हु इसलिए फ़िक्र करता हूँ, नफरत करुगा तो जिक्र भी नही करुगा

दिमाग कहता है मारा जायेगा लेकिन दिल कहता है देखा जाएगा

भीङ में खङा होना मकसद नहीं हैं मेरा ,
बलकि भीङ जिसके लिए खडी है वो बनना है मुझे ॥।

अकड़ती जा रही हैं हर रोज गर्दन की नसें,
आज तक नहीं आया हुनर सर झुकाने का ..

पाना है मुक्काम ओ मुक्काम अभी बाकी है
अभी तो जमीन पै आये है असमान की उडान बाकी है !

हम जैसे सिरफिरे ही इतिहास रचते हैं !समझदार तो केवल इतिहास पढ़ते हैं !!

अगर जींदगी मे कुछ पाना हो तो तरीके बदलो, ईरादे नही..

हमने तुम्हें उस दिन से और ज़्यादा चाहा है,
जबसे मालूम हुआ के तुम हमारे होना नहीं चाहते..

नखरे तो सिर्फ मम्मी पापा उठाते है
दुनिया वाले तो बस ऊँगली उठाते है…

जब से मुझे पता चला है कि मेरा आत्मविश्वास मेरे साथ है !
तबसे मैने ये सोचना बंद कर दिया कि कौन मेरे खिलाफ है !!

मेरी ख़ामोशी को कमजोरी ना समझ ऐ काफिर …
गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है

” रुतबा ” तो खामोशियों का होता है
” अलफ़ाज़ ” तो बदल जाते है लोगों को देखकर

दुनिया आपकी ” उदहारण ” से बदलेगी आपकी ” राय ” से नहीं

हम समंदर हैं, हमें खामोश ही रहने दो….
ज़रा मचल गये, तो शहर ले डूबेंगे…

सख़्त हाथों से भी छूट जाते हैं हाथ….
रिश्ते ज़ोर से नहीं तमीज़ से थामे जाते हैं ।
----------
क्रोध में मनुष्य अपने मन की बात नहीं कहता, वह केवल दूसरों का दिल दुखाना चाहता है।
~ Premchand
----------
क्रोध कभी बिना कारण के नहीं होता और कभी-कभी यह एक अच्छे कारण के साथ होता है।
~ Benjamin Franklin
----------
क्रोध में आपका मुँह आपके मन की तुलना में ज्यादा चलता है।
~ Joe Moore
----------
कभी भी यह मत भूलो कि किसी आदमी ने क्रोध में आपसे क्या कहा था।
~ Henry Ward Beecher
----------
गुस्सा कभी बिना कारण के नहीं होता और कभी-कभी यह एक अच्छे कारण के साथ होता है।
~ Benjamin Franklin
----------
गुस्से में आपका मुँह आपके मन की तुलना में ज्यादा चलता है।
~ Joe Moore
----------
बुरे व्यक्ति पर क्रोध करने से पूर्व अपने पर ही क्रोध करना चाहिए।
~ Chanakya
----------
क्रोध से ज्ञान का प्रकाश बुझ जाता है।
~ R. G. Ingersoll
----------
बुरे व्यक्ति पर क्रोध करने से पहले अपने पर ही क्रोध करना चाहिए।
~ Chanakya
----------
गुस्से से ज्ञान का प्रकाश बुझ जाता है।
~ R. G. Ingersoll
----------
क्रोध को जीतने में मौन सबसे अधिक सहायक है।
~ Mahatma Gandhi
----------
बुरे व्यक्ति पर क्रोध करने से पूर्व अपने पर ही क्रोध करना चाहिए।
~ Chanakya
----------
क्रोध मस्तिष्क के दीपक को बुझा देता है। अतः हमें सदैव शांत व स्थिरचित्त रहना चाहिए।
~ Robert G. Ingersoll
----------
ईर्ष्या और क्रोध से जीवन क्षय होता है।
~ The Bible
----------
क्रोध एक प्रकार का क्षणिक पागलपन है।
~ Mahatma Gandhi
----------
जब क्रोध आए तो उसके परिणाम पर विचार करो।
~ Confucius
----------