Zindagi shayari

Zindagi Guzar Gayi Saari Kanton Kee Kagaar Par;
Aur Phoolon Ne Machai Hai Bheed Hamari Mazaar Par!
----------
Agar Tamaam Baatein Taqdir Mein Likhi Hoti Toh;
Main Apne Bando Ko Dua Maangna Na Sikhata!
----------
Zindagi Meri Thi Lekin Ab Toh;
Tere Kehne Mein Raha Karti Hai!
----------
Chehre Ki Hansi Se Har Gham Ko Chupao;
Bahut Kuch Bolo Par Kuch Na Batao;
Khud Na Kabhi Rootho Par Sabko Manao;
Raaz Hai Yeh Zindgi Ka, Bas Jeete Chale Jao!
----------
Chehre Ki Hansi Se Har Gham Chupao;
Bahut Kuch Bolo Par Kuch Na Batao;
Khud Na Rutho Kabhi Par Sabko Manao;
Yeh Raaz Hai Zindagi Ka, Bas Jeete Jao!
----------
Tere Bina Hum Jeena Bhool Jaate Hain;
Zakhmon Ko Seena Bhool Jate Hain;
Tu Zindagi Main Sabse Azeez Hai Hamein;
Tujhse Har Bar Yeh Kehna Bhool Jaate Hain!
----------
Yeh Ek Baar Ki Maut Ab Use Mili Warna;
Zara Zara Sa Toh Hiddat Se Mar Raha Tha Koi!
~ Qateel Shifai
----------
Apni To Zindagi Ki Ajeeb Kahani Hai;
Jis Cheez Ko Chaha Wo Hi Begani Hai;
Haste Hain Dunia Ko Hasane Ke Liye Warna;
Dunia Doob Jaye In Ankhon Main Itna Pani Hai!
----------
Taash Ke Patoon Ki Manind Hai Zindagi Meri;
Jis Kisi Ne Bhi Khela, Taqseem Mar Diya Mujhe!
~ Ahmad Faraz
----------
Hichkiyon Par Ho Raha Hai Zindagi Ka Raag Ḳhatam;
Jhatke De Kar Taar Tode Ja Rahe Hain Saaz Ke!
~ Natiq Gulavati
----------
Mil Sake Aasani Se Uski Khawaish Kise Hai;
Zid To Uski Hai Jo Mukadar Me Likha Hi Nahi Hai!
----------
Fikr-e-Maash Ishq-e-Butan Yaad-e-Raftagan;
Is Zindagi Mein Ab Koi Kya Kya Kiya Kare!
~ Sauda Mohammad Rafi
----------
Badi Talash Se Milti Hai Zindagi Ai Dost;
Qaza Ki Tarah Pata Puchti Nahi Aati!
----------
Aaj Nagah Hum Kisi Se Mile;
Baad Muddat Ke Zindagī Se Mile!
----------
Ai Hijr Waqt Tal Nahi Sakta Hai Maut Ka;
Lekin Ye Dekhna Hai Ki Mitti Kahan Ki Hai!
----------
Pehle Bhi Jeete The, Magar Jab Se Mili Hai Zindagi;
Seedhi Nahi Hai, Door Tak Uljhi Hai Zindagi!
----------
Achhi Bhali Thi Door Se, Jab Paas Aayi Kho Gayi;
Jis Mein Na Aaye Kuch Nazar Woh Roshni Hai Zindagi!
----------
Sab Hawayein Le Gayaa Mere Samandar Ki Koi;
Aur Mujhko Ek Kashti Badvani De Gayaa!
~ Javed Akhtar
----------
Jis Din Meri Arthi Is Duniya Se Vida Hogi;
Ek Alag Sama Hoga Ek Alag Baat Hogi!
----------
Band Lifafe Pe Rakhi Chitthi Si Hai Ye Zindagi;
Pata Nahi Agle Hi Pal Kaun Sa Paigam Le Aaye!
----------
Waqt Sikha Deta Hai Insan Ko Falsafa Zindagi Ka;
Phir To, Naseeb Kya, Lakeer Kya Aur Taqdeer Kya!
----------
Raaste Kahan Khatam Hote Hain Zindagi Ke Is Safar Mein,
Manzil Wahi Jahan Khwahishen Tham Jayein!
----------
Har Aarzoo Poori Ho To Jeene Ka Kya Maza,
Jeene Ke Liye Bas Ek Khoobsurat Wajah Ki Talaash Kar!
----------
Zindagi Tujhse Har Kadam Par Samjhauta Kyon Kiya Jaye,
Shaunk Jeene Ka Hai Magar Itna Bhi Nahi Ki, Mar-Mar Ke Jiya Jaye.
Jab Jalebi Ki Tarah Uljh Hi Rahi Hai Tu Ai Zindagi,
Toh Fir Kyon Na Tujhe Chashni Mein Dubo Kar Maza Hi Le Liya Jaye!
----------
Nahi Maangta Ai Khudaa Ki Zindagi Sau Saal Kee De,
De Bhale Chand Lamhon Kee Lekin Kamaal Kee De!
----------
Samajh Na Aaye Ai Zindagi Tera Yeh Faisla,
Ek Taraf Kehte Hain Sabar Ka Phal Meetha Hota Hai,
Aur Dusri Taraf Kehte Hain Waqt Kisi Ka Intezar Nahi Karta!
----------
Udasiyon Ki Vajah To Bahut Hai Zindagi Mein,
Lekin Bevajah Khush Rehne Ka Maza Hi Kuch Aur Hai!
----------
Sair Kar Duniya Ki Ghafil Zindagani Phir Kahan,
Zindagi Gar Kuch Rahi To Yeh Jawani Phir Kahan!
~ Khwaja Mir Dard
----------
Sikha Diya Hai Jahaan Ne Har Zakham Pe Hansna,
Le Dekh Zindagi, Ab Tujhse Nahi Darte Hum!
----------
Zindagi Tasveer Bhi Bhi Hai Aur Taqdeer Bhi;
Farak To Bas Iske Rango Ka Hai;
Mann Chahe Rango Se Bane To Hai Tasveer;
Aur Aanjane Rango Se Bane To Hoti Hai Taqdeer!
----------
Ruthi Jo Zindagi To Mana Lenge Hum;
Mile Jo Gham Wo Seh Lenge Hum;
Bas Aap Rehna Hamesha Saath Hamare To;
Nikalte Hue Aansuon Mein Bhi Muskura Lenge Hum!
----------
Zindagi Tujh Se Har Ek Saans Pe Samjhauta Karun;
Shaunk Jeene Ka Hai Mujh Ko Magar Itna To Nahi;
Rooh Ko Dard Mila Dard Ko Aankhein Na Mili;
Tujh Ko Mehsoos Kiya Hai Tujhe Dekha To Nahi!
~ Muzaffar Warsi
----------
Zindagi Jeete Jeete Hum Marna Seekh Gaye;
Khade The Maut Kee Raah Pe Magar Jeena Seekh Gaye;
Ab To Is Zindagi Pe Bhi Taras Aane Laga Hai;
Jo Jeete Hue Marna Aur Marte Hue Jeena Seekh Gaye!
----------
Kashish Honi Chahiye Kisi Ko Yaad Karne Kee;
Lamhe To Apne Aap Hi Mil Jayenge;
Waqt Hona Chahiye Kisi Ko Milne Ka;
Bahane To Apne Aap Hi Mil Jaynege!
----------
Na Gul Na Yeh Gulistan Hamara Hai;
Jise Pujte Hain Na Woh Farishta Hamara Hai;
Chal Pade Hain Jis Manzil Kee Taraf;
Na Woh Manzil Na Woh Raasta Hamara Hai!
----------
Mom Kee Tarah Pighalti Ja Rahi Hai Zindagi;
Kyon Is Tarah Hath Se Fisal Rahi Hai Zindagi;
Hum Tumhein Pana Chahte Hain, Dil Mein Basana Chahte Hain;
Par Kyon Unchahe Sadmon Se Guzar Rahi Hai Zindagi!
----------
Bahut Pehle Se Un Kadmon Kee Aahat Jaan Lete Hain;
Tujhe Ai Zindagi Hum Door Se Pehchan Lete Hain!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Zindagi Se Sabhi Ko Mohabbat Hai;
Magar Zindagi Kisi Kee Mohabbat Nahi Banti;
Tamanna Le Kar Jeete Hain Sab Log;
Magar Har Tamanna Taqdeer Nahi Banti!
----------
Itni Badsaluki Na Kar Ai Zindagi;
Hum Kaun Sa Yahan Baar-Baar Aane Wale Hain!
----------
Khuda Mujhe Kisi Toofan Se Aashna Kar De;
Ki Tere Behar Kee Maujon Mein Iztrab Nahi;
Tujhe Kitaab Se Mumkin Nahi Faraag Ki Tu;
Kitaab-Khawan Hai Magar Sahib-e-Kitaab Nahi!

Meaning:
Aashna = Introduce
Behar = Sea
Iztrab = Restlessness
Faraa g = Freeness
Kitaab-Khawan = Reader of book
Sahib-e-Kitaab = Owner of book
~ Allama Iqbal
----------
Na Afsos Hai Tujhe Sahab Na Koi Sharmindagi Hai;
Guzar Rahi Hai Jo Gunaahon Mein Yeh Kaisi Zindagi Hai!
----------
Baare Duniya Mein Raho Gham-Zada Ya Shaad Raho;
Aisa Kuch Kar Ke Chalo Yahan Ki Bahut Yaad Raho!
~ Mir Taqi Mir
----------
Phool Bankar Muskurana Zindagi;
Muskurake Ghum Bhulana Zindagi;
Jeet Kar Koi Khush Ho Toh Kya Hua;
Haar Kar Khushiyan Manana Bhi Hai Zindagi!
----------
Gham-e-Hayaat Pareshaan Na Kar Sakega Mujhe;
Ki Aa Geya Hai Hunar Mujh Ko Muskurane Ka!
----------
Maza Deti Hain Unko Zindagi Kee Thokrein 'Mohsin';
Jinko Naam-e-Khudaa Le Kar Sambhal Jaane Kee Aadat Ho!
~ Mohsin Naqvi
----------
Jo Yakeen Ke Raah Par Chal Pade, Unhein Manzilon Ne Panaah Dee;
Jinhe Vassvason Ne Daraa Diya, Woh Kadam Kadam Par Behak Gaye!
----------
Maut Ne Chupke Se Najaney Kya Kaha;
Aur Zindagi Khamosh Ho Kar Reh Gayi!
----------
Khawabon ki Tabeer Mein Zindgi Uljhaa Li Itni;
Ke Haqeeqat Mein Rehna Ka Saleeka Hi Hum Bhool Gaye!
~ JD Ghai
----------
Kash Takdeer Bhi Hoti Zulf Ki Tarah;
Jab Jab Bikharti, Tab Tab Sawaar Lete!
----------
Teri Khushi Se Agar Gham Mein Bhi Khushi Na Hui;
Woh Zindagi To Mohabbat Ki Zindagi Na Hui!
----------
Haath Mein Haath Un Ka Yun Aaya;
Zindagi Mere Haath Lag Gai Ho Jaise!
----------
Bana Kar Faqeeron Ka Hum Bhes 'Ghalib';
Tamasha Ehl-e-Karam Dekhte Hain!
~ Mirza Ghalib
----------
Khuda To Milta Hai, Insaan Hi Nahin Milta;
Yeh Cheez Woh Hai Jo Dekhi Kahin Kahin Maine!
~ Allama Iqbal
----------
Aag Paani Mein Lagane Ka Hunar Seekha Hai;
Kaam Mushkil Hai Bahut Hum Ne Magar Seekha Hai;
Yeh Jo Chaltay Nazar Aatay Hain Musalsal Hum Log;
Kuch To Paanay Ki Talab Hai Jo Safar Seekha Hai!
----------
Guzar Na Jaye Kahin Umar Ehteyaaton Mein;
Jo Kaam Karne Hain Woh Deewana-War Kar Daloon!

Translation:
Deewana = War;like Crazies
----------
Zindagi Khaak Na Thi, Khaak Uddatey Guzri;
Tujhse Kya Kehtey Tere Pass Jo Atey Guzri;
Din Jo Guzraa To Kisi Yaad Mein Guzra;
Shaam Ayi To Koi Khawb Dikhatey Guzri!
----------
Wohi Ahal-e-Karwan Hain Wohi Be Hisi Ka Alam;
Na Kisi Ko Manzil Na Gham-e-Shikasta Pani!
----------
Umar-e-Daraaz Maang Ke Laaye They Chaar Din;
Do Aarzu Mein Katt Gaye Do Intizaar Mein!
~ Bahadur Shah Zafar
----------
Sheher Ki Be Chiraag Galiyon Mein;
Zindagi Tujh Ko Dhoondti Hai Abhi

Translation:
Be Chiraag = Dark, Having No Light
~ Nasir Kazmi
----------
Chupaaye Dil Mein Ajab Sa Ghubaar Bethe Hain;
Najane Kese Tassawur Mein Yaar Bethe Hain;
Luttaa Chuke Hain Murawwat Mein Zindagi Apni;
Tere Liye To Anaa Ko Bhi Maar Bethe Hain!
----------
Koi Ro Ke Dil Bahlata Hai;
Koi Hass Kar Dard Chhupata Hai;
Kya Karamaat Hai Kudrat Ka;
Zinda Insaan Paani Mein Doob Jaata Hai;
Aur Murda Tair Ke Dikhata Hai!
----------
Manzil Toh Mil Hi Jayegi Bhatak Kar Hi Sahi;
Gumrah Toh Wo Hai, Jo Ghar Se Nikle Hi Nahi!
----------
Hamein To Kaatni Hai Sham-e-Gham Mein Zindagi Apni;
Jahan Woh Hain Wahin Aee Chaand Le Jaa Chaandni Apni!
----------
Waqt Do Mujh Par Kathin Guzre Hain Saari Umar Mein;
Ek Tere Aane Se Pehle Ek Tere Jaane Ke Baad!
~ Daagh Dehlvi
----------
Bhahut Roya Tha Jab Mera Janam Hua Tha;
Aur Hans Rahi Thi Ye Duniya;
Magar Doston Ek Din Badala Lunga;
Hansta Hua Jaunga Aur Royegi Ye Duniya!
----------
Waqt Badal Jata Hai Insaan Badal Jate Hai;
Waqt Waqt Pe Rishto Ke Andaaz Badal Jate Hai;
Kabhi Keh Diya Apna To Kabhi Kar Diya Paraya;
Din Or Raat Ki Tarh Zindagi Ke Ehsas Badal Jate Hai!
----------
Ittefaqan Jab Mil Jate Ho Rah Mein Tum Kabhi;
Yoon Lagta Hai Kareeb Se Zindagi Jaa Rahi Ho Jaise!
----------
Zindagi Mein Jo Hum;
Chahte Hai Wo Aasani Se Nahi Milta;
Lekin Zindagi Ka Sach Yeh Hai Ki;
Hum Bhi Wohi Chahte Hai, Jo Aasan Nahi Hota!
----------
Qabr Ki Mitti Haath Mein Liye Soch rahi Hoon;
Log Marte Hain To Guroor Kahan Jata Hai!
----------
Meri Chahatain Tumse Alag Kab Hain;
Dil Ki Bataein Tumse Chupi Kab Hain;
Tum Sath Raho Dil Main Dharkan Ki Jaga;
Phir Zindagi Ko Sanson Ki Zarorat Kab Hai!
----------
Phool Bankar Muskarana Zindagi;
Muskarake Gum Bhulana Zindagi;
Jeet Kar Koi Khush Ho To Kya Hua;
Haar Kar Khushiya Manana Bhi Zindagi!
----------
Ik Karb E Wafa Musalsal Mujhe Sone Nahi Deta;
Dil Sabar Ka Aadi Kabhi Rone Nahi Deta;
Main Uska Hoon Ye Raaz To Woh Jaan Gaya Hai;
Woh Kis Ka Hai Ehsaas Ye Hone Nahi Deta!
----------
Zindagi Jab Kisi Doraahe Par Laati Hai;
Ek Ajeeb Si Kasamkash Mein Pad Jati Hai;
Chunte Hai Hum Kisi Ek Raah Ko;
Fir Kew Dusri Raah Bahut Yaad Aati Hai!
----------
Ush Hasti Se Jab Tak Koi Baat Nahi Hoti;
Din Nahi Nikalta Or Raat Nahi Hoti;
Na Ho Wo Khafa Kabhi Useh Kehna;
Bina Uske Toh Mukamal Meri Zaat Nahi Hoti!
----------
Qabr Ki Mitti Haath Mein Liye Soch Raha Hoon;
Log Marte Hain To Garoor Kahan Jata Hai!
----------
Elahi Teri Mukhlooq Ka Ajab Tamasha Dekha;
Chalaktey Jaam Dekhey Samundar Ko Piyasa Dekha;
Ye Kya Maajra Hai Apni To Samajh Main Nahi Aaya;
Admi Apni Hi Justajoo Main Ulajhta Dekha!
----------
Jab Se Suna Hai Ki Marne Ka Naam Jindgi Hai;
Sar Pe Qafan Liye Qaatil Ko Dhundhte Hein!
----------
Kitnaa Khouff Hota Hai Shaam Kay Andheroon Mein;
Poonch Un Parindoo Say Jin Kay Gharr Nahi Hotay!
----------
Dil Ke Liye Dard Bhi Roz Naya Chahiye;
Zindagi Tu Hi Bata Kaise Jina Chahiye;
Maano Meri Kazmi, Tum Ho Bhaley Aadmi;
Phir Wohi Aawargi, Kuch To Haya Chahiye!
----------
Jab Rooh Kisi Bojh Se Thak Jaati Hai;
Ehsaas Ki Lau Aur Bhi Barh Jaati Hai;
Main Badhta Hoon Zindagi Ki Taraf Lekin;
Zanjeer See Paon Mai Chanak Jaati Hai!
----------
Haath Mein Uske Kalam Ka Aana Acha Lagta Hai;
Usko Bhi School Ko Jaana Acha Lagta Hai;
Bada Kar Diya Ghardish Ne Waqt Se Pehle Warna;
Sar Pe Kisko Bojh Uthana Acha Lagta Hai!
----------
Hasane Ke Baad Kyu Rulati Hai Duniya;
Jaane Ke Baad Kyu Bhulati Hai Duniya;
Zindagi Me Kya Koi Kasar Baaki Thi;
Jo Mar Jaane Ke Baad Bhi Jalati Hai Duniya!
----------
Naraz Hona Aapse Galti Kehlayegi;
Aapki Ruswaie Se Saanse Tham Jayengi;
Haste Rehna Hamesha;
Aapki Hasi Se Hamari Zindagi Savar Jayegi!
----------
Zindagi Jeete Jeete Hum Marna Seekh Gaye;
Maut Ki Raah Pe Khade Hai Par Kambakt Jeena Seekh Gaye;
Ab To Is Zindgi Pe Bhi Taras Aane Laga Hai;
Jo Jeete Hue Marna Aur Marte Hue Jeena Seekh Gaye!
----------
Har Lamha Apke Hothon Pe Muskan Rahe;
Har Gum Se Aap Anjaan Rahen;
Jiske Sath Mehak Uthe Aapki Zindgi;
Hamsha Aapke Pass Woh Insan Rahe!
----------
Zindagi Ko Samajhna Hai To Mujhe Dekho;
Keh Gaya Pani Ka Bulbula Jaate Jaate!
----------
Waqt Leta Hai Karvate Na Jaane Kaise Kaise;
Umar Itni toh Nahi Thi Jitne Sabak Seekh Liye Hamne!
----------
Har Waqt Milti Rahti Hain Anjani Si Saza Mujhe;
Main Kaise Poochun Taqdeer Se Mera Qasoor Kya Hai!
----------
Runj Se Khugar Hua Insaan To Mit Jaata Hai Runj;
Mushkilein Mujh Par Padi Itni Ke Aasaan Ho Gayi!
----------
Har Gam Par Hai Majamaa-E-Ushshaaq Muntazir;
Maqtal Ki Raah Milti Hai Kuu-E-Habeeb Se;
Is Tarah Zindagi Ne Diyaa Hai Hamaara Saath;
Jaise Koi Nibhaa Rahaa Ho Kisi Raqeeb Se!
----------
Andhere Ke Humsafar Ko Koi Yaad Nahi Kartaa;
Subah Hote Hi Chiraagon Ko Bujha Dete Hain Sab Log!
----------
Chaaha Hai Tujhko Tere Taghaful Ke Bawajood;
Aye Zindagi Tu Bhi Yaad Karegi Kabhi Humein!
----------
Zameen Bhi Paaon Nahi Rakhne Deti Humein Ab To;
Humein Ye Zidd Hua Karti Thi Ki Ik Naya Aasmaan Banaayenge!
----------
Har Dua Gar Kabool Ho Jaaye;
Aadmi Be-Usool Ho Jaaye;
Vo To Ranj-O-Gham Raahaton Mein Shaamil Hain;
Varnaa Insaan Malool Ho Jaaye!
----------
Zinda Rahein To Kya Hai, Jo Mar Jaayein Hum To Kya;
Duniya Se Khamoshi Se Guzar Jaayein Hum To Kya;
Hasti Hi Apni Kya Hai Zamaane Ke Saamne;
Ek Khwab Hain Jahaan Mein Bikhar Jaayein Ham To Kya!
----------
Mil Ke Bichadna Dastoor Hai Zindagi Ka;
Ek Ye Hi Kissa Mashur Hai Zindagi Ka;
Beete Hue Pal Laut K Nai Aate;
Yehi Sabse Bada Kasoor Hai Zindagi Ka!
----------
Chand Lamhon Mein Dekha Hai Hawaaon Ka Rukh Badalte Humne;
Jo Kal Tak Karib Hua Karte The, Aaj Wohi Raqeeib Ho Gaye!
----------
Khaa Ke Thokar Bhi Na Sambhle To Musafir Ka Naseeb;
Farz To Adaa Karte Hain Raah Ke Patthar Apna!
----------
Khushiyon Se Naraaz Hai Meri Zindagi;
Pyaar Ki Mohtaaz Hai Meri Zindagi;
Hans Leta Hun Logon Ko Dikhane Ke Liye;
Warna Dard Ki Kitaab Hai Meri Zindagi!
----------
Aankhon Main Mahfuz Rakhna Sitaaron Ko;
Ab Dur Talak Sirf Raat Hogi;
Musafir Tum Bhi Ho Musafir Hum Bhi Hain;
Kisi Naa Kisi Mod Par Phir Mulakaat Hogi!
----------
Koi Kuchh To Batlaao Kya Javaab Doon Aakhir;
Ek Savaal Karta Hai Roz Mujhsey Ghar Mera!
~ Ghulam Rabbani Taban
----------
Manzil To Mil Hi Jayegi, Bhatak Kar Hi Sahi;
Gumrah To Wo Hain, Jo Ghar Se Nikle Hi Nahi!
----------
Toofan Mein Taash Ke Ghar Nahi Bante;
Rone Se Bigde Muqadar Nahi Swarte;
Duniya Ko Jitne Ka Hausla Rakho;
Ek Haar Se Koi Faqeer Aur Ek Jeet Se Koi Sikandar Nahi Bante!
----------
Khushiya Batortey Batortey Umar Guzar Gayi;
Par Khush Na Ho Sakey;
Ek Din Ehsaas Hua Khush To Wo Log Hai, Jo Khushiya Baant Rahey Hai!
----------
Zinda Hai Magar Jinne Ka Iraada Badal Diya;
Waqt Ke Tufaan Ne Har Ek Vaada Badal Diya;
Chal Sake Kissi Ke Sath Iss Kabil Na Rahe Aab;
Thokaron Ne Hame Itna Jayada Badal Diya!
----------
Aankhon Ki Hoti Hai Khata, Aur Saza Dil Ko Mil Jaati Hai;
Pucho Na Yaaro Pal Mein Hi Kaise Zindagi Badal Jaati Hai!
----------
Zindagi Jeena Aasaan Nahi Hota;
Bina Sangharsh Ke Koi Mahaan Nahi Hota;
Jab Tak Na Pade Hathode Ki Chot;
Pathar Bhi Bhagwaan Nahi Hota!
----------
Zindagi Ka Safar Toh Ek Haseen Safar Hai;
Her Kissi Ko Kissi Na Kissi Ki Talash Hai;
Kissi Ke Pass Manzil Hai, Toh Raah Nahi;
Aur Kissi Ke Pass Rah Hai, Toh Manzil Nahi!
----------
Kissi Se Aggar Juda Hona Itna Aasan Hota;
Toh Jism Se Rooh Ko Lene Kabhi Farishte Na Aate!
----------
Surma-e-Muft-e-Nazar Hoon, Meri Qeemat Yeh Hai;
Ke Rahe Chashm-e-Khareedaar Pe Ehsaan Mera!
~ Mirza Ghalib
----------
Rone Se Kissi Ko Paya Nahi Jata;
Khone Se Kissi Ko Bhulaya Nahi Jata;
Waqt Sabko Milta Hai Zindaagi Badalane Ke Liye;
Par Zindagi Nahi Milti Waqt Badalne Ke Liye!
----------
Ghalib Bura Na Maan Jo Vaiz Bura Kahe;
Aisa Bhi Koi Hai Ke Sab Acha Kahein Jisse!
~ Mirza Ghalib
----------
Qahar To Yeh Hai Ke Kafir Ko Milein Hoor-o-Qasoor;
Aur Bechaare Musalmaan Ko Faqt Waada-e-Hoor!

Translation:
How cruel that Kafirs are granted houries here on earth;
The poor Muslims have to wait for the promised nymphs above!
~ Mir Taqi Mir
----------
Basa Dete Nahin Aur Dil Pe Hai Har Lahza Nigah;
Ji Mein Kahte Hein Ke Muft Haath Aaey, Tau Maal Achha Hai!

Translation
He has his eyes on my heart, but doesn't yield a kiss;
The stuff is good, he seems to think, if it comes gratis!
~ Mirza Ghalib
----------
Saari Zindgaani Humne Bita Di;
Unka Ikraar-e-Ishq Itna Mushkil To Na Tha;
Hum Ikraar Karte Rahe, Wo Inkaar Karte Gaye!
~ JD Ghai
----------
Maut Ke Baad Bhi Yaad Aa Raha Hai Koi;
Mitti Meri Kabr Se Utha Raha Hai Koi;
Ai Khuda, Do Pal Ki Zindagi Aur De De;
Meri Kabr Se Udaas Ja Raha Hai Koi!
----------
Hum Jawaani Mein Ishq Ko Mazaak Samajhte Rahe;
Iss Kambakht Ishq Ne Meri Zindgaani Ko Mazak Bana Diya!
~ JD Ghai
----------
Chirag Se Na Puchho Baaki Tel Kitna Hai;
Sanso Se Na Pucho Baaki Khel Kitna Hai;
Pucho Us Kafan Mein Lipte Hue Insaan Se;
Zindgi Mein Gum Aur Kafan Mein Sukoon Kitna Hai!
----------
Kabhi Honthon Se Angaare Barsate Rahe;
Kabki Labh Pe Labh Rakhte Gaye;
Iss Hi Tarahein Humne Zindgaani Bita Di;
Kabhi Takraar aur Kabhi Ikraar Karte Karte!
~ JD Ghai
----------
Halaat Ne Tod Diya Mujhe Kache Dhage Ke Tarah;
Warna Mere Wade Bhi Kabhi Zanjeer Hua Karte The!
----------
Zindaagi Uski Jiss Ki Mout Pe Zamaana Afsos Karay, Ghalib;
Youn To Har Shaks Aata Hai Iss Dunia Main Marney Ke Liye!
~ Mirza Ghalib
----------
Hai Zindagi Mana Dard Bhari;
Phir Bhi Isme Ye Raahat Bhi Hai;
Main Hoon Tera Aur Tu Hai Meri;
Yunhi Rahe Hum, Ye Chahat Bhi Hai!
----------
Kuchh Iss Tarah Se Thukraya Zindaagi Ne Humein;
Abb Har Khushi Se Jaise Nafrat See Ho Gayi;
Dil Se Unhe Humne Kab Ka Nikaal Diya;
Abb Inn Saanso Mein Unki Khusbu Si Rah Gayi!
----------
Yeh Dastoor-e-Zindaagi To Dekho;
Ishq-E-Bukhar Hum Ko Tha;
Lekin Hakim-E-Dawa Kissi Aur Ke Naseeb Mein Thi!
~ JD Ghai
----------
Kashmakash Mein Kat Gayi Saari Zindgaani;
Tanhayi Ne Jeene Na Diya Aur Justaju Ne Marne!
~ JD Ghai
----------
Teri Berukhi Aur Teri Meherbaani;
Yehi Maut Hai Aur Yehi Zindgaani!
----------
Kamaal Ka Hausla Diyaa Khuda Ne Hum Insaano Ko;
Waqif Hum Agle Pal Se Nahi Hote;
Aur Waade Hum Janmo Ke Kar Lete Hain!
----------
Taqderien Badal Jati Hain Jab Zindagi Ka Koi Maqsad Ho;
Warna Zindagi Kat Jati Hai Taqdeer Ko Ilzaam Dete Dete!
----------
Hum To Jee Bhi Nahi Sakey Aik Saath;
Hum Ko To Aik Saath Marna Tha!
----------
Gam-e-Zindagi Ke Maare Hain;
Har Baazi Jeet Ke Haare Hain;
Yeh Jo Meri Jholi Mein Pathar Hain;
Sab Mere Chahne Walon Ne Marey Hain!
----------
Akhir Zindagi Ne Bhi Aaj Puchh Liya Mujhse;
Kahan Hai Wo Shaks Jo Tujhe Mujh Se Bhi Aziz Tha!
----------
Chalte Rahte Hain Ki Chalna Hai Musafir Ka Naseeb;
Sochte Rahte Hain Ki Kis Raahaguzar Ke Hum Hain!
----------
Uske Chale Jaane Ke Baad;
Hum Mohabbat Nahi Karte Kisi Se;
Ek Choti Si Zindagi Hai;
Kis-Kis Ko Aazmate Rahenge!
----------
Iss Tarah Loot Liya 'Sheer-E-Tamanna' Ne Hume;
Zindagi Bhi Chheen Li, Aur Jaan Se Maara Bhi Nahi!
----------
Khudkushi Ke Liye Thoda Sa Zaher Hi Kaafi Hai, Dosto;
Magar Zinda Rehne Ke Liye, Kaafi Zaher Pina Padta Hai!
----------
Wohi Kaarwaan, Wohi Raaste, Wohi Zindaagi, Wohi Marhalay;
Magar Apne Makaam Par, Kabhi Tum Nahin Aur Kabhi Hum Nahin!
----------
Hathoan Ki Lakiroan Pe Mat Jaa, Ai Ghalib;
Naseeb Un Ke Bhi Hote Hain, Jin Ke Hath Nehin Hote!
----------
Khuda Kare Zindagi Mein Yeh Makaam Aaye;
Tujhe Bhulne Ki Dua Karun Aur Dua Mein Tera Naam Aaye!
----------
Kaafir Ke Dil Se Aya Hon, Mein Yeh Dekh Kar;
Khuda Maujood Hai Wahan, Par Usey Pata Nahin!
~ Ahmad Faraz
----------
Dil Se Roye, Magar Hothon Se Muskura Bathe;
Yun Hi Hum Kissi Se Wafa Nibha Bathe;
Woh Hume Ek Lamha Na De Paye Apne Pyar Ka;
Aur Hum Un Ke Liye Zindagi Luta Bathe!
----------
Kisi Faqeer Ki Jholi Mein Jab Maine Ek Sikka Dala;
Tab Yeh Jaana Ke Iss Mehangayi Ke Zamaane Mein;
DUA'EN Aaj Bhi Kitni Sasti Hein!
----------
Tanhai Toh Hai Saathi Apni, Zindagi Ke Har Ek Pal Ki 'Faraz';
Chalo Yeh Shikwa Bhi Door Huwa, Ke Kisi Ne Saath Na Diya!
~ Ahmad Faraz
----------
Na Murawat, Na Mohabbat, Na Khuloos Hain Faraz;
Main Toh Sharminda Hun Iss Daur Ka Insaan Hokar!
~ Ahmad Faraz
----------
Ab Tak Dil-e-Khush Fehem Ko Tujh Se Hain Umeedain;
Yeh Aakhri Shama Bhi Bhujane Ke Liye Aa!
~ Ahmad Faraz
----------
Aye Waaiz-e-Naadaan, Karta Hai Tu Ek Qayaamat Ka Charcha;
Yahaan Roz Nighaayein Milti Hain, Yahaan Roz Qayamat Hoti Hai!
----------
Akhir zindigi ne bhi aaj puchh liya mujhse,
Kahan hai wo shaks jo tujhe mujh se bhi aziz tha.
----------
Ksi ko kya hasil hoga mjhe yaad karney se, doston!
Main to ek aam insaan hu,
Aur yaha to har kisi ku khass ki talaash hai.
----------
Rakh housla wo manzar bhi ayega,
Pyase ke paas chal ke samandar bhi ayega,
Thak-kar na beth ae manzil ke musafir,
Manzil bhi milegi or milne ka maza bhi ayega.
----------
Chhu le tu asman zamin ki talaash na kar;
Jee le zindagi tu khushi ki talaash na kar;
Taqdir badal jayegi apne aap hi aey dost;
Muskrana sikh le wajah ki talaash na kar.
----------
Jis din kitaab -e- ishq ki takmil ho gayi;
Rakh denge zindagi tera bastaa uthaa ke hum.
----------
Roz rote hue kehti hai ye zindgi mujhse;
Sirf ek shakhs ki khatir mujhe barbad mat kar.
----------
Manzil to mil hi jaayegi, bhatak ke hi sahi.
Gumraah toh woh hai jo ghar se nikle hi nahin!
----------
Khwaish aisi karo ki aasman tak ja sako,
Dua aisi karo ki khuda ko pa sako,
U to jeene k liye pal bahut kam hai,
Jiyo aise k har pal mein zindgi pa sako..!
----------
Wo yaron ki mehfil wo muskrate pal,
Dilse juda hai apna bita hua kal
Kabhi guzarti thi zindgi waqt bitane me,
Ab waqt guzar jata hai chand kagaz k note kamane me.
----------
Log kahtey hain ki ladkiyan zindagi hoti hain maut nahi,
Magar voh kya jane ki dhoka bhi zindagi deti hai maut nahi
----------
Khuda kisi ko kisi pe fida na kare, Kare to qayamat tak juda na kare,
Yeh mana ki koi marta nahi judai mein, lekin jee bhi to nahi pata tanhai me
----------
Kal mila waqt to zulfein teri suljha doonga,
Aaaj uljha hoon zara waqt ko sulajhane mein,
Yun to sulajh jatee hain uljhi zulfein,
Umar kat jati hai waqt ko sulajhane mein.
----------
Abhi to Baaj ki asali udaan baaki hai,
Abhi to aapka imtihan baaki hai,
Abhi tak to aapne zamin dekhi hai,
Abhi to pura aasmaan baaki hai.
----------
Manzil unhi ko milti hai, Jinke sapno me jaan hoti hai,
Pankh se kuchh nahi hota, Hauslon se udaan hoti hai.
----------
Chand lamhon ki zindagani hai, nafraton se jiya nahi karte,
lagta hai dushmanon se guzarish karni padegi, dost to ab yaad kiya nahi karte
----------
Kaun jane kab maut ka paigam aa jaye,
Zindagi ki akhari sham aa jaye,
Hum toh dhundhte hain waqt aisa jab,
Hamari zindagi apke kam aa jaye.
----------
Soch ko badlo, sitare badal jayeng,
Najar ko badlo, nazare badal jayenge,
Kashtiya badalne ki jarurat nahi,
Dishaon ko badlo, KINARE badal jayenge.
----------
Zindagi ko ek rangin kalpana samjho,
Subah ko sach raat ko sapna samjho,
Bhulana chahte ho sabhi gamo ko to,
Zindagi me mujhe apna samjho.
----------
Kya kahun tujhe? Khwab kahun to toot jayega, dil kahun to bikhar jayega,
Aa tera naam zindagi rakh dun, maut se pehle to tera saath chuut na payega!
----------
Kal Mila Waqt To Zufain Teri Suljha Doonga,
Aaaj Uljha Hoon Zara Waqt Ke Sulajhne Mein,
Yoon To Sulajh Jatee hein Uljhee Zulfain,
Umar Kat Jati Hai Waqt Ke Sulajhne Mein
----------
Zindagi jaise ek saza si ho gayi hai,
gam ke saagar me is kadar kho gayi hai,
tum kar do ek SMS yeh gujarish hai meri,
tumari SMS ki aadat si ho gayi hai.
----------
मैंने तो माँगा था थोड़ा सा उजाला अपनी जिंदगी में;
वाह रे चाहने वाले तूने तो आग ही लगा दी जिंदगी में!
----------
किसी ने हम से पूछा इतने छोटे से दिल में इतने सारे दोस्त कैसे समां जाते हैं;
हम ने कहा वैसे ही जैसे छोटी सी हथेली में सारे जिंदगी की लकीरें समां जाती हैं!
----------
नज़रिया बदल के देख, हर तरफ नज़राने मिलेंगे;
ऐ ज़िन्दगी यहाँ तेरी तकलीफों के भी दीवाने मिलेंगे!
----------
कोई तो है मेरे अंदर मुझको संभाले हुए;
कि बेकरार होकर भी बरक़रार हूँ मैं!
----------
जेब में क्यों रखते हो खुशी के लम्हें जनाब;
बाँट दो इन्हें ना गिरने का डर, ना चोरी का!
----------
ना जाने कितनी अनकही बातें, कितनी हसरतें साथ ले जाएगें;
लोग झूठ कहते हैं कि, खाली हाथ आए थे और खाली हाथ जाएगें!
----------
एक अजीब सी दौड़ है ये ज़िन्दगी;
जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं;
हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं ।
----------
जिन्दगी की राहों में मुस्कुराते रहो हमेशा;
क्योंकि उदास दिलों को हमदर्द तो मिलते हैं, पर हमसफ़र नहीं!
----------
ना जाने कब खरच हो गए पता ही नहीं चला;
वो लम्हें जो बचा कर रखे थे जीने के लिये!
----------
तमन्ना ने जिंदगी के आँचल में सिर रख कर पूछा "मैं कब पूरी होउंगी";
जिंदगी ने हँसकर जवाब दिया "जो पूरी हो जाये वो तमन्ना ही क्या!
----------
जिंदगी दो लफ्ज़ों में यूँ अर्ज है;
आधी कर्ज है, तो आधी फर्ज है!
----------
सख़्त हाथों से भी छूट जाती हैं कभी उंगलियाँ;
रिश्ते ज़ोर से नहीं तमीज़ से थामे जाते हैं!
----------
मोहब्बत की कहूँ देवी या तुमको बंदगी कह दूँ;
बुरा मानो न गर हमदम तो तुमको ज़िन्दगी कह दूँ!
----------
ज़िन्दगी तो सभी के लिए रंगीन किताब है;
फर्क है तो बस इतना कि कोई;
हर पन्ने को दिल से पढ़ रहा है;
और कोई दिल रखने के लिए पन्ने पलट रहा है!
----------
लगता है, आज ज़िन्दगी कुछ ख़फ़ा है;
चलिए छोड़िये, कौन सा पहली दफ़ा है!
----------
फासलें इस कदर हैं आजकल रिश्तों में;
जैसे कोई घर खरीदा हो किश्तों में!
----------
चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी;
लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है!
----------
रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं, जिन्दगी के सफ़र में;
मंजिल तो वहीं है जहाँ, ख्वाहिशें थम जाए!
----------
हाल पूछ लेने से कौन सा हाल ठीक हो जाता है;
बस एक तसल्ली सी हो जाती है कि इस भीड़ भरी दुनिया में कोई अपना भी है।
----------
हर एक लकीर, एक तजुर्बा है जनाब,
झुर्रियां चेहरों पर, यूँ ही आया नही करती।
----------
बड़ी चालाक होती है ये जिंदगी हमारी,
रोज़ नया कल देकर, उम्र छीनती रहती है।
----------
हर बात मानी है तेरी सिर झुका कर ए जिंदगी,
हिसाब बराबर कर तू भी तो कुछ शर्तें मान मेरी।
----------
"दरिया" बन कर किसी को डुबोना बहुत आसान है,
मगर "जरिया" बनकर किसी को बचायें तो कोई बात बने।
----------
रास्ते कहाँ खत्म होते हैं जिंदगी के इस सफर में,
मंजिल तो वही है जहाँ ख्वाहिशें थम जायें।
----------
समझ ना आया ए ज़िन्दगी तेरा ये फ़लसफ़ा,
एक तरफ़ कहते हैं सब्र का फल मीठा है
और दूसरी तरफ़ कहते हैं वक्त किसी का इंतज़ार नहीं करता।
----------
जिंदगी तुझसे हर कदम पर समझौता क्यों किया जाये,
शौक जीने का है मगर इतना भी नहीं कि मर मर कर जिया जाये;
जब जलेबी की तरह उलझ ही रही है तू ए जिंदगी,
तो फिर क्यों न तुझे चाशनी में डुबा कर मजा ले ही लिया जाये।
----------
ऐ जिन्दगी तेरे जज्बे को सलाम,
पता है कि मंजिल मौत है फिर भी दौड रही है तू।
----------
बारिश में रख दो इस जिंदगी के पन्नों को, ताकि धुल जाए स्याही,
ज़िन्दगी फिर से लिखने का मन करता है कभी-कभी।
----------
एक नींद है जो लोगों को रात भर नहीं आती,
और एक जमीर है जो हर वक़्त सोया रहता है।
----------
ज़िन्दगी में सारा झगड़ा ही ख्वाहिशों का है,
ना तो किसी को गम चाहिए और ना ही किसी को कम चाहिए।
----------
मुश्किल हालात से कह दो आज हमसे ना उलझे,
दुआओं से हाथ भरे है मेरे तुम्हें कहाँ संभाल पाउँगा।
----------
लोग तो बेवजह खरीदते हैं आईने,
आँख बंद करके भी अपनी हक़ीक़त जानी जा सकती है।
----------
खुद को भी कभी महसूस कर लिया करो,
कुछ रौनकें खुद से भी हुआ करती हैं।
----------
ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे,
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिए।
----------
छोटी सी जिन्दगी है, हर बात में खुश रहो,
जो चेहरा पास ना हो उसकी आवाज में खुश रहो,
कोई रूठा हो आप से उसके अंदाज में खुश रहो,
जो लौट के नही आने वाले उनकी याद में खुश रहो,
कल किसने देखा अपने आज में खुश रहो।
----------
जो दिल में शिकवे कम और जुबान पर शिकायतें कम रखते हैं,
वही लोग हर रिश्ता निभाने का दम रखते हैं।
----------
आहिस्ता चल ऐ ज़िन्दगी कुछ क़र्ज़ चुकाने बाकी हैं,
कुछ के दर्द मिटाने बाकी हैं कुछ फ़र्ज़ निभाने बाकी हैं।
----------
अब समझ लेता हूँ मीठे लफ़्ज़ों की कड़वाहट,
हो गया है ज़िन्दगी का तज़ुर्बा थोड़ा थोड़ा।
----------
ज़िन्दगी शायद इसी का नाम है,
दूरियां मज़बूरियां तन्हाईयाँ।
~ Kaif Bhopali
----------
कुछ चंद लम्हें ज़िंदगी के ज़िंदगी को मायनों से भर देते हैं,
वरना ज़िंदगी तो अक्सर यूँ ही बेमानी सी गुज़र जाती है।
----------
जिंदगी ने मेरे मर्ज का एक बढ़िया इलाज़ बताया;
वक्त को दवा कहा और ख्वाहिशों का परहेज बताया।
----------
उदासियों की वजह तो बहुत है ज़िन्दगी में;
पर बेवजह खुश रहने का मज़ा ही कुछ और है।
----------
क्यों जुड़ता है तू इस जहान से,
एक दिन ये गुज़र ही जायेगा;
चाहे कितना भी समेट ले तू इस जहान को,
मुट्ठी से तो एक दिन फिसल ही जायेगा।
----------
मुस्कुराते रहोगे तो दुनिया आपके क़दमों में होगी;
वरना आंसुओं को तो तो आँखें भी जगह नहीं देती।
----------
तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम;
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम।
~ Sahir Ludhianvi
----------
खुशियों से नाराज़ है मेरी ज़िन्दगी;
बस प्यार की मोहताज़ है मेरी ज़िन्दगी;
हँस लेता हूँ लोगों को दिखाने के लिए;
वैसे तो दर्द की किताब है मेरी ज़िन्दगी।
----------
जिंदगी ज़ख्मों से भरी है वक़्त को मरहम बनाना सीख लो;
हारना तो मौत के सामने है फिलहाल जिंदगी से जीतना सीख लो।
----------
इक हुनर है जो कर गया हूँ मैं;
सब के दिल से उतर गया हूँ मैं;
कैसे अपनी हँसी को ज़ब्त करूँ;
सुन रहा हूँ कि घिर गया हूँ मैं।
~ Jon Elia
----------
किसी के काम न जो आए वह आदमी क्या है;
जो अपनी ही फिक्र में गुजरे, वह जिन्दगी क्या है।
~ Asar Lakhnavi
----------
कितना और बदलूं खुद को जिंदगी जीने के लिए;
ऐ जिंदगी, मुझको थोडा सा... मुझमे बाकी रहने दे!
----------
साथ रहते यूँ ही वक़्त गुज़र जायेगा;
दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा;
जी लो ये पल जब हम साथ हैं;
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले जायेगा।
----------
मौत उसकी है करे जिसका ज़माना अफ़सोस;
यूँ तो ज़िंदगी में आये हैं सभी मरने के लिए।
----------
रोया हूँ बहुत तब जरा करार मिला है;
इस जहाँ में किसे भला सच्चा प्यार मिला है;
गुजर रही है जिंदगी इम्तिहान के दौर से;
एक ख़तम तो दूसरा तैयार मिला है।
----------
काग़ज़ की कश्ती थी पानी का किनारा था;
खेलने की मस्ती थी ये दिल अवारा था;
कहाँ आ गए इस समझदारी के दलदल में;
वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था।
----------
सबके कर्ज़े चुका दूँ मरने से पहले, ऐसी मेरी नीयत है;
मौत से पहले तू भी बता दे ज़िंदगी, तेरी क्या कीमत है।
----------
उम्र-ऐ-जवानी फिर कभी ना मुस्करायी बचपन की तरह;
मैंने साइकिल भी खरीदी, खिलौने भी लेके देख लिए।
----------
लम्हों की खुली किताब हैं ज़िन्दगी;
ख्यालों और सांसों का हिसाब हैं ज़िन्दगी;
कुछ ज़रूरतें पूरी, कुछ ख्वाहिशें अधूरी;
इन्ही सवालों के जवाब हैं ज़िन्दगी।
----------
सो सुख पा कर भी सुखी न हो;
पर एक ग़म का दुःख मनाता है;
तभी तो कैसी करामात है कुदरत की;
लाश तो तैर जाती है पानी में;
पर ज़िंदा आदमी डूब जाता है!
----------
चाहा है तुझ को तेरी तग़ाफ़ुल के बावजूद;
ए ज़िन्दगी तू याद करेगी कभी हमें!
----------
सफ़र ज़िन्दगी का बहुत ही हसीन है;
सभी को किसी न किसी की तालाश है;
किसी के पास मंज़िल है तो राह नहीं;
और किसी के पास राह है तो मंज़िल नहीं।
----------
तुने तो रुला के रख दिया ए-जिन्दगी​;
जा कर पूछ मेरी माँ से ​ कितने लाडले थे हम...
----------
​अपनी ही तरह से परेशान है हर कोई;
इस तपती धूंप के लिए कोई दरख़्त नहीं है;
किसी के पास खाने के लिये रोटी नहीं है;
और किसी के पास रोटी खाने का वक़्त नहीं है...
----------
इन कमबख्त़​ ​जरूर​तो और चाहतों ने मार डाला;​​
​कभी ​जरूरतें पूरी नही होती​ तो ​कभी चाह​तें​ बिखर जाती है;​​
​कभी चाहतें ​के पीछे भागो तो कभी ​जरूरतों पूरी करों;​
बस ​इसी में ​तालमेल बिठाते-बिठाते ज़िन्दगी गुज़र जाती है।
----------
खबर नहीं मुझे यह जिन्दगी कहाँ ले जाए;​​
कहीं ठहर के मेरा इंतज़ार मत करना।
~ Munawwar Rana
----------
देने वाले ने दिया सब कुछ अजब अंदाज से;
​सामने दुनिया पड़ी है और उठा सकते नहीं... ​​
~ Bashir Badr
----------
यूँ ही रखते रहे बचपन से दिल साफ़ हम अपना​​;​
पता नहीं था कि कीमत तो चेहरों ​की होती है दिल ​की नहीं​..
----------
उस रात गरीब माँ ने यह कह के बच्चों को सुला दिया;
फ़रिश्ते ख्वाब में आते है रोटियां ले कर​।
----------
​बिना लिबास आए थे इस जहां में;
बस एक कफ़न की खातिर, इतना सफ़र करना पड़ा...
----------
​​​नज़र-नज़र में उतरना कमाल होता है;​​​​
नफ़स-नफ़स में बिखरना कमाल होता है;​​​​
बुलंदियों पे पहुंचना कोई कमाल नहीं;​​​​
बुलंदियों पे ठहरना कमाल होता है।
----------
दुनिया का हर शौंक पाला नही जाता;
कांच के खिलौनों को उछाला नही जाता;
मेहनत करने से मुश्किल हो जाती है आसान;
क्योंकि हर काम तक़दीर पर टाला नही जाता।
----------
ज़िंदगी जीने को एक यहाँ ख्वाब मिलता है​;
​यहाँ हर सवाल ​का झूठा जवाब मिलता है​;​
​किसे समझे अपना किसे पराया​;​
​यहाँ हर चेहरे पे एक नकाब मिलता है​। ​
----------
अपनी जिंदगी के अंधेरों का शुक्रगुजार हूँ मैं;​​​
​जब से मुझे पता चला है कि;​
​तेरी ​​रौशनी ने​ ​ तुझे अंधा बना दिया...
~ Lata Chaudhary
----------
बच्चा था भूखा और आँखों में अश्क जरुर था​​​​;
​​उस फरिश्ते का करिश्मा भी एक फितूर था​​;
​गोद में बसी माया ने उस भूख को भुला दिया​​;
​​माँ की लोरी के जादू ने उसे फिर से सुला दिया​।
----------
सर-ऐ-आम ​मुझे ​ये शिकायत है ज़िन्दगी से​;​
क्यूँ मिलता नहीं मिजाज मेरा किसी से...​?​
----------
ये चाहतें​, ये रौनकें​, पाबन्द है मेरे जीने तक​;​​​
बिना रूह के नहीं रखते​, घर वाले भी ज़िस्म को​।
----------
ये ना पूछ कि शिकायतें कितनी है तुझसे​;​
ए जिंदगी, सिर्फ ये बता कि तेरा कोई और​;​​
​ सितम बाकि तो नहीं है।​
----------
ज़िंदगी को बेनियाजे आर्ज़ू करना पड़ा;
आह किन आँखों से अंजामे तमन्ना देखते।
~ Sahir Ludhianvi
----------
​फुर्सत में करेंगे तुझसे हिसाब​-​ए​-​ज़िन्दगी​;
अभी तो उलझे है खुद को सुलझाने में​...​
----------
यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िंदगी;
हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत ना मिली।
----------
ज़िंदगी क्या किसी मुफ़लिस की क़बा है, जिसमें;
हर घड़ी, दर्द के पैबंद लगे जाते है।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
​बिना लिबास आए थे इस जहां में​;​
बस एक कफ़न की खातिर​;​
इतना सफ़र करना पड़ा​।
----------
ज़िंदगी क्या किसी मुफ़लिस की क़बा है, जिसमें;
हर घड़ी, दर्द के पैबंद लगे जाते हैं।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
रब ने नवाजा हमें जिंदगी देकर;
और हम शौहरत मांगते रह गये;
जिंदगी गुजार दी शौहरत के पीछे;
फिर जीने की मौहलत मांगते रह गये।
~ Lata Chaudhary
----------
हीरों की बस्ती में हमने कांच ही कांच बटोरे हैं;
कितने लिखे फ़साने, फिर भी सारे कागज़ कोरे है।
----------
आराम से कट रही थी तो अच्छी थी;
जिंदगी तू कहाँ इन आँखों की बातों में आ गयी!
----------
दुनियाँ में इतनी रस्में क्यों हैं;
प्यार अगर ज़िंदगी है तो इसमें कसमें क्यों हैं;
हमें बताता क्यों नहीं ये राज़ कोई;
दिल अगर अपना है तो किसी और के बस में क्यों है।
----------
​रफ़्तार कुछ इस कदर तेज़ है जिन्दगी की​;
कि सुबह का दर्द शाम को, पुराना हो जाता है​।
----------
यहाँ मज़दूर को मरने की जल्दी यूँ भी है;
कि ज़िंदगी की कश्मकश में कफ़न महंगा ना हो जाए।
----------
शायद यह वक़्त हम से कोई चाल चल गया;
रिश्ता वफ़ा का और ही रंगों में ढ़ल गया;
अश्क़ों की चाँदनी से थी बेहतर वो धूप ही;
चलो उसी मोड़ से शुरू करें फिर से जिंदगी ।
----------
​तु ही बता ​ए ज़िंदगी;
इस ज़िंदगी का क्या होगा;
कि हर पल मरने वालों को;
जीने के लिए भी वक़्त नहीं।
----------
ज़िंदगी हसीं है इससे प्यार करो;
हर रात की नयी सुबह का इंतज़ार करो;
वो पल भी आएगा, जिसका आपको इंतज़ार है;
बस अपने रब पर भरोसा और वक़्त पर ऐतबार करो।
----------
​रूठी सी ज़िन्दगी को मनाना तो आता है​;​​​​
लोगों को ​हँसाना तो आता है​;​​
क्या हुआ जो न बस सके किसी के दिल में​;​​
लोगों को अपने दिल में बसाना तो आता है।
----------
जीवन में ज़ख्म बड़े नहीं होते हैं;
उनको भरने वाले बड़े होते हैं;
रिश्ते बड़े नहीं होते हैं;
लेकिन रिश्तों को निभाने वाले बड़े होते हैं।
----------
चेहरा बता रहा था कि मारा है भूख ने;
सब लोग कह रहे थे कि कुछ खा के मर गया।
----------
अब तो अपनी तबियत भी कुछ जुदा सी लगती है;
सांस लेता हूँ तो ज़ख्मों को हवा सी लगती है;
कभी राज़ी तो कभी मुझसे खफा सी लगती है;
ज़िंदगी तु ही बता कि तु मेरी क्या लगती है।
----------
जियो जिंदगी जरुरत के मुताबिक;​
ख्वाइशों के मुताबिक नहीं;​​
जरुरत फ़क़ीर भी कर लेता हैं पूरी;​​
ख्वाइश कभी​ ​बादशाह की ​भी ​पूरी नहीं हुई।​
----------
​ज़िंदगी भर के लिए है मौत से अनुबंध मेरा​​;
​जब तलक जिंदा रहूँगा पास फटकेगी नहीं वो​।
----------
​हमारा चार दिन की ज़िंदगी में हाल है ऐसा​;
न जाने लोग कैसे हैं जो सौ सौ साल जीते है​।
----------
हादसों की ज़द में हैं तो क्या मुस्कुराना छोड़ दें;
जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें??
----------
जुगनुओं की रोशनी से तीरगी हटती नहीं;
आइने की सादगी से झूठ की पटती नहीं;
ज़िंदगी में गम नहीं फिर ज़िंदगी में क्या मजा;
सिर्फ खुशियों के सहारे ज़िंदगी कटती नहीं।
----------
क़ब्र की मिट्टी हाथ में लिए सोच रहा हूँ;
लोग मरते हैं तो ग़ुरूर कहाँ जाता है।
----------
जिदंगी तेरे ख्वाब भी कमाल के है;
तु गरीबों को उन महलों के सपने दिखाती है;
जिसमें अमीरों को नींद नहीं आती।
----------
मुझको थकने नहीं देता, ये जरूरतों का पहाड़;
मेरे बच्चे मुझे बूढा होने नहीं देते।
----------
लाख तलवारे बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ;
सर झुकाना नहीं आता तो झुकाए कैसे।
----------
मुश्किल में भाग जाना आसान होता है;
हर पहलु जिंदगी का इम्तिहान होता है;
डरने वाले को कुछ नहीं मिलता और;
लड़ने वाले के क़दमों में जहान होता है।
----------
साहिल पे पहुंचने से इनकार किसे है लेकिन;
तूफ़ान से लड़ने का मज़ा ही कुछ और है;
कहते है, कि किस्मत खुदा लिखता है लेकिन;
उसे मिटा के खुद गढ़ने का मजा ही कुछ और है।
----------
रोया है बहुत तब जरा करार मिला है;
इस जहाँ में किसे भला सच्चा प्यार मिला है;
गुजर रही है जिंदगी इम्तिहान के दौर से;
एक ख़तम तो दूसरा तैयार मिला है।
----------
दुनिया सलूक करती है हलवाई की तरह;
तुम भी उतारे जाओगे मलाई की तरह।
~ Munawwar Rana
----------
जो तेरा है, वो कभी कही भी नहीं जाएगा;
जो तेरा नहीं है, तु उसे कभी नहीं पाएगा;
नेक नीयत रख अपनी तु सदा बन्दे;
एक दिन खुदा भी चलकर तेरे पास आएगा।
----------
उस फलक के तीर का क्या निशाना था;
जहाँ थी मेरी मंजिल वहीँ तेरा आशियाना था;
बस पहुंच ही रही थी कश्ती साहिल पे;
इस तूफ़ान को भी अभी आना था।
----------
ज़िंदगी की हर एक उड़ान बाकी है;
हर मोड़ पर एक इम्तिहान बाकी है;
अभी तो सिर्फ़ आप ही परेशान है मुझसे;
अभी तो पूरा हिन्दुस्तान बाकी है।
----------
तेरी नेकी का लिबास ही तेरा बदन ढकेगा, ऐ बंदे;
सुना है ऊपर वाले के घर, कपड़ों की दुकान नहीं होती।
----------
जीना चाहता हूँ मगर जिंदगी रास नहीं आती;
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती;
उदास हूँ इस जिंदगी से इसलिए क्योंकि;
उसकी यादें तडपाने से बाज नहीं आती।
----------
ज़िंदगी जिंदादिली का नाम है;
मुर्दादिल ख़ाक जिया करते है?
~ Nasikh
----------
असफलताए इंसान को तोड़ देती है;
जीवन की राहों को नया मोड़ देती है;
जो करते हैं, जी-जान से प्रयास पूरा;
असफलताएं उनका पीछा छोड़ देती है।
----------
जिन्दगी की उलझनों ने;
कम कर दी हमारी शरारते;
और लोग समझते हैं कि;
हम समझदार हो गये।
----------
मौत अंजाम-ए-ज़िन्दगी है मगर;
लोग मरते हैं ज़िन्दगी के लिए।
~ Sahil Manak Puri
----------
कौन देता है उम्र भर का सहारा;
लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं!
----------
तेरे आज़ाद बन्दों की ना ये दुनिया ना वो दुनिया;
यहाँ मरने की पाबंदी, वहां जीने की पाबंदी!
----------
जिंदगी जिसको तेरा प्यार मिला वो जाने;
हम तो नाकाम ही रहे चाहने वालों की तरह!
----------
आंधियां गम की चलेंगी तो संवर जाऊंगा;
मैं तो दरिया हूँ समंदर में उतर जाऊंगा;
मुझे सूली पे चढाने की ज़रूरत क्या है;
मेरे हाथ से कलम छीन लो मैं मर जाऊंगा!
----------
देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतना करीब से, कि चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से;
इस रेंगती हयात का कब तक उठाएं भार, बीमार अब उलझने लगे हैं तबीब से;
कुछ इस तरह दिया है ज़िन्दगी ने हमारा साथ जैसे कोई निभा रहा हो रकीब से;
ए रूह-ए-असर जाग कहाँ सो रही है तू, आवाज़ दे रहे हैं पयम्बर सलीब से!
----------
खुशनसीब हैं वो जो दिल मे किसी को जगह देते हैं;
बेचैनी सहकर भी दूसरों को हंसना सिखा देते हैं;
दुनियावाले लाख चाहें बदनाम उन्हें कर लें;
मगर वो अपनी सादगी से हर दिल में जगह बना लेतें हैं!
----------
थोड़ी मस्ती थोड़ा सा ईमान बचा पाया हूँ;
ये क्या कम है मैं अपनी पहचान बचा पाया हूँ;
कुछ उम्मीदें, कुछ सपने, कुछ महकी-महकी यादें;
जीने का मैं इतना ही सामान बचा पाया हूँ।
----------
ज़िन्दगी दरस्त-ए-ग़म थी और कुछ नहीं;
ये मेरा ही हौंसला है की दरम्यां से गुज़र गया!
----------
न ख्वाहिशें हैं न शिकवे हैं अब न ग़म हैं कोई;
ये बेख़ुदी भी कैसे कैसे ग़ुल खिलाती है!
----------
जब टूटने लगे हौंसला तो बस ये याद रखना;
बिना मेहनत के हासिल तख़्त-ओ-ताज नहीं होते;
ढूढ़ लेना अंधेरे में ही मंजिल अपनी दोस्तों;
क्योंकि जुगनू कभी रोशनी के मोहताज़ नहीं होते।
----------
आगे तो परीजाद ये रखते थे हमें घेर;
आते थे चले आप जो लगती थी ज़रा देर;
सो आके बुढ़ापे ने किया हाय ये अंधेरे;
जो दौड़ के मिलते थे वो अब हैं मुंह फेर।
~ Nazeer Akbarabadi
----------
कौन अंदाजा मेरे गम का लगा सकता है;
कौन सही राह दिखा सकता है;
किनारों वालों तुम उसका दर्द क्या जानो;
डूबने वाला ही गहराई बता सकता है।
----------
हंसने के बाद क्यों रुलाती है दुनिया;
जाने के बाद क्यों भुलाती है दुनिया;
जिंदगी में क्या कोई कसर बाकी है;
जो मर जाने के बाद भी जलाती है दुनिया।
----------
आबादी भी देखी है, वीराने भी देखे हैं;
जो उजड़े और फिर न बसे, दिल की निराली बस्ती है।
~ Fani Badayuni
----------
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;
जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;
यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;
न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो।
----------
जिंदगी ने कुछ इस तरह का रूख लिया;
जिसने जिस तरफ चाहा मोड़ दिया;
जिसको जितनी थी जरुरत साथ चला;
और फिर एक लम्हें में तन्हा छोड़ दिया!
----------
राह में निकले थे ये सोचकर, किसी को बना लेंगे अपना;
मगर इस ख्वाहिश ने, जिंदगी भर का मुसाफिर बना दिया।
----------
ये भी अच्छा है कि ये सिर्फ़ सुनता है;
दिल अगर बोलता तो क़यामत हो जाती।
----------
अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफिला जिंदगी का;
सकून ढूढनें चले थे, नींद ही गवा बैठे!
~ अंजली देवी
----------
ना वो मिलती है, ना मैं रुकता हूँ;
पता नहीं रास्ता गलत है, या मंजिल!
----------
ठोकरें खाकर भी ना संभले तो मुसाफिर का नसीब;
राह के पत्थर तो अपना फ़र्ज़ अदा करते हैं!
----------
हजारों झोपड़िया जलकर राख होती हैं;
तब जाकर एक महल बनता है!
आशिको के मरने पर कफ़न भी नहीं मिलता;
हसीनाओं के मरने पर "ताज महल" बनता है!
----------
ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तकदीर भी!
फर्क तो रंगों का है!
मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर;
और अनजाने रंगों से बने तो तकदीर!!!
----------
तकदीरें बदल जाती हैं, जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो;
वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है 'तकदीर' को इल्ज़ाम देते देते!
----------
मेरी इबादतों को ऐसे कबूल कर ऐ, मेरे खुदा;
कि सजदे में मैं झुकूं और मुझसे जुड़े हर रिश्ते की ज़िन्दगी संवर जाये!
----------
बिना गम के ख़ुशी का पता कैसे चलेगा;
बिना रोंए हुए, हंसी का मज़ा कैसे मिलेगा;
जो उसे करता हैं, उसे वही जानता है;
अगर हम जान गए तो, उसे खुदा कौन कहेगा!
----------
रास्ते कहा खत्म होते हैं, ज़िन्दगी के इस सफ़र में;
मंजिल तो वही है, जहाँ ख्वाहिशें थम जाये!
----------
ऐ ज़िन्दगी, तोड़ कर हमको ऐसे बिखेरो इस बार;
न फिर से टूट पायें हम, और न फिर से जुड़ पाओ तुम!
----------
क्या कहूँ तुझे ख्वाब कहूँ, तो टूट जायेगा;
दिल कहूँ, तो बिखर जायेगा!
आ तेरा नाम ज़िन्दगी रख दूँ;
मौत से पहले तो तेरा साथ छूट न पायेगा!
----------
बैठ कर किनारे पर मेरा दीदार ना कर;
मुझको समझना है तो समन्दर में उतर के देख!
----------
किसी को अपना बनाने के लिए हमारी सारी खूबियाँ भी कम पड़ जाती हैं;
जबकि किसी को खोने के लिए एक कमी ही काफी है!
----------
कितना मुश्किल है ज़िन्दगी का ये सफ़र;
खुदा ने मरना हराम किया, लोगों ने जीना!
----------
तकदीरें बदल जाती है, जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो;
वरना ज़िन्दगी तो कट ही जाती है, तकदीर को इल्जाम देते देते!
----------
कुछ अमल भी ज़रूरी है, इबादत के लिए;
सिर्फ सजदा करने से, किसी को जन्नत नहीं मिलती!
----------
ज़िदगी जाने कितने मोड़ लेती है, हर मोड़ पर नए सवाल देती है;
तलाशते रहते हैं हम जवाब ज़िन्दगी भर;
और जब जवाब मिल जाये तो ज़िन्दगी सवाल बदल देती है!
----------
अगर कोई पूछे जिंदगी में क्या खोया क्या पाया?
तो बिना झिझक कह देना जो कुछ खोया वो मेरी नादानी है;
और जो पाया वो मेरे रब की मेहरबानी है!
----------
मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है ज़िन्दगी की
लेकिन सिर्फ सांसें लेने को 'जीना' तो नहीं कहते!
----------
देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतना करीब से;
चहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से!
साहिर लुधियानवी!
----------
न सवाल बनकर मिला करो;
न जवाब बनकर मिला करो;
मेरी ज़िन्दगी मेरे ख्वाब हैं;
मुझे ख्वाब बनकर मिला करो!
----------
दर्द इतना था ज़िन्दगी में की;
धड़कन भी साथ देने से घबरा गयी!
----------
वक्त कहता है कि फिर नहीं आऊंगा;
तेरी आँखों को अब न रुलाऊंगा!
जीना है तो इस पल को जी ले;
शायद मैं कल तक न रुक पाऊंगा!
----------
रख हौसला वो मंजर भी आयेगा;
प्यासे के पास चल के समुन्दर भी आयेगा!
थक कर न बैठ ऐ मंजिल के मुसाफिर;
मंजिल भी मिलेगी और मिलने का मज़ा भी आयेगा!
----------
एक अजीब सी चुभन है आज दिल में कहीं;
कुछ टूट के बिखर गया है जर्रे जर्रे सा!
मत खाओ कसमें सारी ज़िन्दगी साथ निभाने की;
हमने सांसो को भी जुदा होते देखा है!
----------
काम करो ऐसा, कि पहचान बन जाये;
हर कदम ऐसा चलो, कि निशान बन जाये!
यहाँ ज़िन्दगी तो सभी काट लेते हैं;
ज़िन्दगी जियो ऐसी, कि मिसाल बन जाये!
----------
वक़्त बदलता है ज़िन्दगी के साथ;
ज़िन्दगी बदलती है वक़्त के साथ;
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ;
बस अपने बदलते हैं वक़्त के साथ!
----------
आखिर ज़िन्दगी ने भी आज पूछ लिया मुझ से,
कहाँ है वो शक्स जो तुझे मुझ से भी अज़ीज़ था!
----------
जिंदगी की असली उड़ान अभी बाकी है;
जिंदगी के कई इम्तिहान अभी बाकी है;
अभी तो नापी है मुट्ठी भर ज़मीं हमने;
अभी तो सारा आसमान बाकी है!
----------
छोड़ ये बात कि मिले ये ज़ख़्म कहाँ से मुझ को;
`ज़िन्दगी बस तू इतना बता!` कितना सफर बाकि है!
----------
बिना लिबास आये थे इस जहां में;
बस एक कफ़न की खातिर इतना सफ़र करना पड़ा!
----------
मंजिल तो मिल ही जाएगी, भटक के ही सही;
गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं!
----------
एक ही गलती हम सारी उम्र करते रहे;
धूल चेहरे पे थी;
और हम आइना साफ़ करते रहे!
----------
सारी उम्र अधुरा रहा मैं, जब सांस रुकी लोग कहते पूरा हो गया!
----------
आपके आने से ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है!
दिल में बसाई है जो वो आपकी ही सूरत है!
दूर जाना नहीं हमसे कभी भूलकर भी!
हमे हर कदम पर आपकी ज़रूरत है!
----------
कल फुर्सत न मिली तो क्या होगा!
इतनी मोहलत न मिली तो क्या होगा!
रोज़ कहते हो कल मिलेंगे, कल मिलेंगे!
कल मेरी आँखे न खुली तो क्या होगा!
----------
तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी!
तेरे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी!
क्या कहे क्या गुजरेगी दिल पर!
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी!
----------
कशिश होनी चाहिए किसी को याद करने की!
लम्हे तो अपने आप मिल जायेंगे!
वक़्त होना चाहिए किसी को मिलने का!
बहाने तो अपने आप मिल जायेंगे!
----------
ज़िन्दगी से पूछिये ये क्या चाहती है!
बस एक आपकी वफ़ा चाहती है!
कितनी मासूम और नादान है ये!
खुद बेवफा है और वफ़ा चाहती है!
----------
हंसरते रह जायेगी आपके बिना अधूरी!
ज़िन्दगी न होगी आपके बिना पूरी!
अब और सही जाये न यह दूरी!
जीने के लिये आपका साथ है बहुत ज़रूरी!
----------
कोशिश करो की कोई हम से न रूठे!
जिन्दगी में अपनों का साथ न छूटे!
रिश्ते कोई भी हो उसे ऐसे निभाओ!
कि उस रिश्ते की डोर ज़िन्दगी भर न छूटे!
----------
फिर न सिमटेगी अगर दोस्ती बिखर जायेगी!
ज़िन्दगी जुल्फ नहीं जो फिर से संवर जायेगी!
जो ख़ुशी दे तुम्हें थाम लो दामन उसका!
ज़िन्दगी रो कर नहीं हंस कर गुज़र जायेगी!
----------
जिंदगी की किताब के कुछ पन्ने होते है!
कुछ अपने और कुछ बेगाने होते हैं!
प्यार से संवर जाती है जिंदगी!
बस प्यार से रिश्ते निभाने होते है !
----------
भरी महफिल में तन्हा मुझे रहना सिखा दिया !
तेरे प्यार ने दुनिया को झूठा कहना सिखा दिया !
किसी दर्द या ख़ुशी का एहसास नहीं है अब तो !
सब कुछ ज़िन्दगी ने चुप -चाप सहना सिखा दिया !
----------
ज़िन्दगी जैसे एक सज़ा सी हो गयी है !
ग़म के सागर में कुछ इस कदर खो गयी है !
तुम आ जाओ वापिस यह गुज़ारिश है मेरी !
शायद मुझे तुम्हारी आदत सी हो गयी है !
----------
साथ रहते रहते वक़्त गुज़र जाएगा!
दूर होने के बाद कौन किसे याद आएगा!
जी लो ये पल जब तक हम साथ है!
कल का क्या पता हम हो न हो!
----------
धीरे धीरे दिल ने धड़कना सीखा!
धीरे धीरे दिल ने सम्भलना सीखा!
धीरे धीरे हर राह पर चलना सीखा!
और धीरे धीरे हर मौसम में हमने हंसना सीखा!
----------


ज़िन्दगी, बस इतना अगर दे दो तो काफी है,
सिर से चादर ना हटे, पाँव भी चादर में रहें।
----------
यह ज़िन्दगी बस सिर्फ पल दो पल है;
जिसमें न तो आज और न ही कल है;
जी लो इस ज़िंदगी का हर पल इस तरह;
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सबसे हसीं पल है।
----------
वक़्त सबको मिलता है ज़िंदगी बदलने के लिए;
पर ज़िंदगी दोबारा नहीं मिलती वक़्त बदलने के लिए।
----------
ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तक़दीर भी,
फर्क तो सिर्फ रंगों का है।
मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर और अनजाने रंगों से बने तो तक़दीर।
----------
दर्द कैसा भी हो कभी आँख नम ना करो;
रात काली सही लेकिन ग़म ना करो;
एक सितारा बन जगमगाते रहो;
ज़िन्दगी में यूँ ही सदा मुस्कुराते रहो।
----------
चेहरे की हँसी से ग़म को भुला दो;
कम बोलो पर सब कुछ बता दो;
खुद ना रूठो पर सब को हँसा दो;
यही राज़ है ज़िन्दगी का जियो और जीना सीखा दो।
----------
छोटी सी है जिंदगी हँस के जियो;
भुला के सारे गम दिल से जियो;
उदासी में क्या रखा है मुस्कुरा के जियो;
अपने लिए न सही अपनों के लिए जियो।
----------
ज़िन्दगी एक हसीन ख़्वाब है;
जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिये;
ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे;
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये।
----------
देखो तो ख्वाब है ज़िन्दगी;
पढ़ो तो किताब है ज़िन्दगी;
सुनो तो ज्ञान है ज़िन्दगी;
पर हमें लगता है कि हँसते रहो तो आसान है ज़िन्दगी।
----------
ज़िंदगी तो सभी के लिए एक रंगीन किताब है;
फर्क बस इतना है कि कोई हर पन्ने को दिल से पढ़ रहा है;
और कोई दिल रखने के लिए पन्ने पलट रहा है।
----------

फूल बनकर मुस्कुराना है ज़िंदगी;
मुस्कुराते हुए सब ग़म भुलाना है ज़िंदगी;
जीत का जश्न तो हर कोई मना लेता है;
हार कर खुशियां मनाना भी है ज़िंदगी।
----------
ज़िंदगी में कभी उदास मत होना;
कभी किसी बात पर निराश ना होना;
ज़िंदगी है संघर्ष चलती ही रहेगी;
कभी हार कर अपने जीने का अंदाज़ मत खोना।
----------
कोई खुशियों की चाह में रोया;
कोई दुखों की पनाह में रोया;
अजीब सिलसिला है ये ज़िंदगी का;
कोई भरोसे के लिए रोया, कोई भरोसा करके रोया।
----------
वक़्त बदल जाता है इंसान बदल जाते हैं;
वक़्त वक़्त पे रिश्तों के अंदाज़ बदल जाते हैं;
कभी कह दिया अपना तो कभी कर दिया पराया;
दिन और रात की तरह ज़िंदगी के एहसास बदल जाते हैं।
----------
ज़िंदगी पल-पल ढलती है;
जैसे रेत बंद मुट्ठी से फिसलती है;
शिकवे कितने भी हो हर पल;
फिर भी हँसते रहना;
क्योंकि ये ज़न्दगी जैसी भी है,
बस एक बार ही मिलती है।
----------
ज़िंदगी ज़ख्मों से भरी है;
वक़्त को मरहम बनाना सीख लो;
हारना तो है मौत के सामने एक दिन;
फ़िलहाल ज़िंदगी से जीतना सीख लो।
----------
जब ज़िंदगी हंसाये तो समझना कि अच्छे कर्मों का फल मिल रहा है;
और जब ज़िंदगी रुलाये तो समझ लेना कि अच्छे कर्म करने का वक़्त आ गया है।
----------
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
एक यही किस्सा मशहूर है ज़िंदगी का;
बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते;
यही सबसे बड़ा कसूर है ज़िंदगी का।
----------
ज़िंदगी जब भी आपको रुलाने लगे;
आप इतना मुस्कुराओ कि दर्द भी शर्माने लगे;
निकले ना आँसू आँखों से आप के कभी;
किस्मत भी मज़बूर होकर आपको हँसाने लगे।
----------
फूल बनकर मुस्कुराना ही ज़िंदगी है;
मुस्कुरा कर गम भुलाना ही ज़िंदगी है;
जीत कर कोई खुश हो तो अच्छा है;
हार कर भी खुशियां मनाना ही ज़िंदगी है।
----------
वो यारों की महफ़िल वो मुस्कुराते पल;
दिल से जुदा है अपना बीता हुआ कल;
कभी गुज़रती थी ज़िंदगी वक़्त बिताने में;
अब वक़्त गुज़रता है चाँद कागज़ के नोट कमाने में।
----------
ख्वाहिश ऐसी करो कि आसमान तक जा सको;
दुआ ऐसी करो कि खुदा को पा सको;
यूँ तो जीने के लिए पल बहुत कम हैं;
जियो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको।
----------
बहुत कुछ सिखा जाती है ये ज़िंदगी;
हँसा के भी रुला जाती है ये ज़िंदगी;
जी सको जितना उतना जी लो दोस्तो;
क्योंकि बहुत कुछ बाकी रह जाता है और ख़त्म हो जाती है ज़िंदगी।
----------
बचपन में जब धागों के बीच माचिस को फसाकर फोन-फोन खेलते थे,
तो मालूम नहीं था एक दिन इस फोन में ज़िंदगी सिमटती चली जायेगी।
----------
हँस कर जीना यही दस्तूर है ज़िंदगी का;
एक यही किस्सा मशहूर है ज़िंदगी का;
बीते हुए पल कभी लौटकर नहीं आते;
बस यही एक कसूर है ज़िंदगी का।
----------
क्या है यह ज़िंदगी:
देखो तो ख्वाब है ये ज़िंदगी;
पढ़ो तो किताब है ये ज़िंदगी;
सुनो तो ज्ञान है ये ज़िंदगी;
हँसते रहो तो आसान है ये ज़िंदगी।
----------
ज़िंदगी पल-पल ढलती है;
जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है;
शिकवे कितने भी हों पर हर पल हँसते रहना;
क्योंकि ये ज़िंदगी जैसी भी एक है बस एक ही बार मिलती है।
----------
दिल से कभी तूने पुकारा ही नहीं;
चाह कर भी दूर कभी हुआ नहीं;
वक़्त की बेड़ियों ने किया कमज़ोर सही;
ज़िंदगी का सही मतलब समझा ही नहीं।
----------
मौत मिलती है न ज़िंदगी मिलती है;
ज़िंदगी की राहों में बेबसी मिलती है;
रुला देते हैं क्यों मेरे अपने;
जब भी मुझे कोई ख़ुशी मिलती है।
----------
तेरे ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ;
ज़िंदगी तेरी चाहत में सवार लूँ;
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह;
तमाम उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़र लूँ।
----------
ज़िंदगी में कभी उदास मत होना;
कभी किसी बात पर निराश मत होना;
ज़िंदगी संघर्ष है, चलती ही रहेगी;
कभी अपने जीने का अंदाज़ मत बदलना।
----------
फूल बनके खुशबु फैलना ही है ज़िंदगी;
हर दर्द को हँसी में छुपा लेना ही है ज़िन्दगी;
ज़िंदगी में जीत मिली तो क्या हुआ;
हार कर भी ख़ुशी जताना ही है ज़िंदगी।
----------
ज़िंदगी बहुत कुछ सिखाती है, कभी हँसाती है कभी रुलाती है;
पर जो हर हाल में खुश रहते हैं, ज़िंदगी उनके आगे सिर झुकाती है।
----------
सपना ऐसा देखो कि आसमान तक जा सको;
दुआ ऐसी करो कि खुदा को पा सको;
यूँ तो ज़िंदगी जीने में बहुत कम पल हैं;
पर जियो तो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको।
----------
ज़िंदगी ज़ख्मों से भरी है, वक़्त को मरहम बनाना सीख लो;
हारना तो है ही मौत के हाथों एक दिन, फिलहाल ज़िंदगी को जीना सीख लो।
----------
ज़िंदगी जाने कितने मोड़ लेती है;
हर मोड़ पर नए सवाल देती है;
तलाशते रहते हैं हम जवाब ज़िंदगी भर;
और जब जवाब मिल जाये तो ज़िंदगी सवाल बदल देती है।
----------
जिदंगी तेरे ख्वाब भी कमाल के है।
तू गरीबों को उन महलों के सपने दिखाती है;
जिसमें अमीरों को नींद नहीं आती।
----------
जाने कौन सा तराना है ये ज़िन्दगी;
बिना बात का फ़साना है ये ज़िन्दगी;
एक अरस गुज़र गया पत्तों के साथ गिरे हुए;
पर आज भी उम्मीद का खज़ाना है ज़िन्दगी!
----------
जिंदगी जीना आसान नहीं होता;
बिना संघर्ष कोई महान नहीं होता;
जब तक न पड़े हथोड़े की चोट;
पत्थर भी भगवान नहीं होता।
----------
ज़िंदगी छोटी नहीं होती बस हमारी ख्वाहिश बढ़ जाती है;
उसी तरह कोई बुरा नहीं होता, बस हमारी सोच बदल जाती है।
----------
ना किसी के 'आभाव' में जियो, ना किसी के 'प्रभाव' में जियो;
ये जिंदगी आपकी है, बस इसे अपने मस्त 'स्वाभाव' में जियो।
----------
कभी-कभी ज़िंदगी में ये तय करना बड़ा मुश्किल हो जाता है कि गलत क्या है?
वो झूठ जो चेहरे पे मुस्कान लाए;
या वो सच जो आँखों में आंसू लाए।
----------
ज़िंदगी गुरु से ज्यादा सख्त होती है;
गुरु सबक देकर इम्तिहान लेता है और ज़िंदगी इम्तिहान लेकर सबक देती है।
----------
ज़िंदगी में हम ने कभी कुछ चाहा ही नहीं;
जिसे चाहा उसे कभी पाया ही नहीं;
जिसे पाया उसे यूँ खो दिया;
जैसे ज़िंदगी में कभी कोई आया ही नहीं।
----------
वक़्त सबको मिलता है ज़िंदगी बदलने के लिए;
पर ज़िंदगी दोबारा नहीं मिलती वक़्त बदलने के लिए।
----------
हर पल में प्यार है, हर लम्हें में ख़ुशी है;
कह दो तो यादें हैं,जी लो तो ज़िंदगी है।
----------
ज़िंदगी ने पुछा, "सपना क्या होता है?"
तो हक़ीक़त बोली, "बंद आँखों में जो अपना होता है, खुली आँखों में वही सपना होता है।"
----------
जिसकी सुबह अच्छी, उसका दिन अच्छा;
जिसकी शाम अच्छी, उसकी रात अच्छी;
जिसके दोस्त अच्छे, उसकी ज़िंदगी अच्छी।
----------
बहुत रोया था मैं, जब मेरा जन्म हुआ था और हँस रही थी यह दुनियाँ;
बदला लूंगा एक दिन मौत के समय हँसता हुआ जाउंगा और रोएगी यह दुनिया।
----------
खुशियाँ बटोरते बटोरते उम्र गुजर गई , पर खुश ना हो सके, एक दिन एहसास हुआ , खुश तो वो लोग थे जो खुशियाँ बांट रहे थे!
----------
सपनों की मंज़िल पास नहीं होती;
ज़िंदगी हर पल उदास नहीं होती;
ख़ुदा पे यकीन रखना मेरे दोस्त;
कभी-कभी वो भी मिल जाता है जिसकी आस नहीं होती।
----------
ज़िंदगी एक तीन पेज की पुस्तक की तरह है;
पहला और अंतिम पेज भगवान ने लिख दिया है;
पहला पेज जन्म और अंतिम पेज मृत्यु;
बीच के पेज को भरना है प्यार, विश्वास और मुस्कुराहट से।
----------
चेहरे की हंसी से हर ग़म छुपाओ;
बहुत कुछ बोलो पर कुछ ना बताओ;
खुद ना रूठो कभी, पर सब को मनाओ;
राज़ है यह ज़िंदगी का बस जीते चले जाओ!
----------
मनुष्य का अपना क्या है?
जन्म दूसरे ने दिया;
नाम दूसरे ने दिया;
शिक्षा दूसरे ने दी;
काम करना भी दूसरे ने सिखाया;
अंत में शमशान भी दूसरे ले जायेंगे।
तुम्हारा अपना इस संसार में क्या है जो इतना घमंड करते हो।
----------
ज़िंदगी में टेंशन ही टेंशन है;
फिर भी इन लबों पर मुस्कान है;
क्योंकि जीना जब हर हाल में है;
तो मुस्करा के जीने में क्या नुक्सान है।
----------
ज़िन्दगी पल-पल ढलती है;
जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है;
शिकवे कितने भी हो हर पल; फिर भी हँसते रहना...
क्योंकि ये ज़िन्दगी जैसी भी है;
बस एक ही बार मिलती है।
----------
ख़्वाहिश ऐसी करो कि आसमान तक जा सको;
दुआ ऐसी करो कि खुद को पा सको;
यूँ तो जीने के लिए पल बहुत कम हैं;
जीयो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको!
----------
कैसे कहें कि ज़िंदगी क्या देती है;
हर कदम पे ये दगा देती है;
जिनकी जान से भी ज्यादा कीमत हो दिल में;
उन्ही से दूर रहने की सज़ा देती है।
----------
चाह रखने वाले, मंज़िलों को ताकते नहीं;
बढ़ कर थाम लिया करते हैं;
जिनके हाथों में हो वक़्त की कलम;
अपनी किस्मत वो खुद लिखा करते हैं।
----------
ज़िंदगी तो सभी के लिए एक रंगीन किताब है;
फर्क है तो बस इतना कि कोई हर पन्ने को दिल से पढ़ रहा है;
और
कोई दिल रखने के लिए पन्ने पलट रहा है।
----------
हँसाने के बाद क्यों रुलाती है दुनिया;
प्यार दे कर भी क्यों भूलती है दुनिया;
ज़िन्दगी में क्या क़सर बाकी रह गयी थी;
जो मर जाने के बाद भी जलाती है दुनिया।
----------
जिंदगी का सफ़र तो एक हसीन सफ़र है;
हर किसी को किसी की तलाश है;
किसी के पास मंजिल है तो राह नहीं;
और किसी के पास राह है तो मंजिल नहीं।
----------
कोई खुद से भी प्यारा होता है;
कोई तो दिल का सहारा होता है;
जरूरी नहीं जिंदगी अपने लिए ही प्यारी हो;
जिंदगी में कोई तो जिंदगी से भी प्यारा होता है।
----------
गम सहकर भी मुस्कुराओ दुनिया में;
यहाँ बुजदिलों की गुजर नहीं होती;
हँसना भी जरूरी है जीने के लिए;
रोकर जिंदगी बसर नहीं होती।
----------
दुनिया में कोई किसी के लिए कुछ नहीं करता;
मरने वाले के साथ हर कोई नहीं मरता;
अरे यहाँ मरने कि बात तो दूर रही;
यहाँ तो जिंदगी है, फिर भी कोई याद नहीं करता।
----------
ये साली जिंदगी भी इअर-फ़ोन के जैसी है;
लाख सुलझा के रखो, लेकिन उलझ ही जाती है।
----------
फूल बनकर मुस्कुराना जिंदगी;
मुस्कुरा के गम भुलाना जिंदगी;
जीत कर कोई खुश हो तो क्या हुआ;
हार कर खुशियाँ मनाना है जिंदगी।
----------
ख़ुशी की परछाईयों का नाम है जिंदगी;
ग़मों की गहराइयों का नाम है जिंदगी;
एक प्यारा सा प्यार है हमारा;
उसी की प्यारी सी हंसी का नाम है जिंदगी।
----------
ज़िंदगी बड़ी अजीब होती है;
कभी हार कभी जीत होती है;
तमन्ना रखो समंदर की गहराई छूने की;
किनारों पे तो बस ज़िंदगी की शुरुआत होती है।
----------
खोकर पाने का मज़ा ही कुछ और है;
रोकर मुस्कुराने का मज़ा ही कुछ और है;
हार तो जिंदगी का हिस्सा है मेरे दोस्त;
हार के बाद जीतने का मजा ही कुछ और है।
----------
जिंदगी से हम गिला नहीं करते;
किस्मत जिनकी न हो वो मिला नहीं करते;
दिल पे जख्म कुछ ऐसे खायें हैं हमने;
जितने यह गहरे हैं, उतने कभी सिला नहीं मिलते।
----------
जिंदगी में दो चीज़ें हमेशा टूटने के लिए ही होती हैं:
"सांस और साथ" सांस टूटने से तो इंसान 1 ही बार मरता है;
पर किसी का साथ टूटने से इंसान पल-पल मरता है।
----------
जिंदगी भर कोई साथ नहीं देता;
ये जान लिया है अब;
लोग भी तभी याद करते हैं;
जब वो खुद अकेले हों तब।
----------
मेरा हर लम्हा चुरा लिया आपने;
आँखों को एक चाँद दिया आपने;
हमें जिंदगी दी और किसी ने;
पर प्यार इतना देकर जीना सिखा दिया आपने।
----------
बड़े अजीब हैं ये जिन्दगी के रास्ते;
अनजाने मोड़ पर कुछ लोग दोस्त बन जाते हैं;
मिलने की खुशी दें या न दें;
बिछड़ने का गम जरुर दे जाते हैं।
----------
जिंदगी का सफ़र तो एक हसीन सफ़र है;
हर किसी को किसी की तलाश है;
किसी के पास मंजिल है, तो राह नहीं;
और किसी के पास राह है तो मंजिल नहीं।
----------
अपनी जिंदगी के अलग असूल हैं;
यार की खातिर तो कांटे भी कबूल हैं;
हंस कर चल दूं कांच के टुकड़ों पर भी;
अगर यार कहे, यह मेरे बिछाए हुए फूल हैं।
----------
जिंदगी को क्या जरुरत है मंजिलों की;
वक्त हर मंजिल आसान बना देता है;
मरता नहीं किसी से जुदा होकर कोई;
ये वक सबको जीना सिखा देता है।
----------
जिंदगी ने कुछ इस तरह का रूख लिया;
जिसने जिस तरफ चाहा मोड़ दिया;
जिसको जितनी थी जरुरत साथ चला;
और फिर एक लम्हें में तन्हा छोड़ दिया।
----------
जरुरत के मुताबिक जिंदगी जिओ - ख्वाहिशों के मुताबिक नहीं।
क्योंकि जरुरत तो फकीरों की भी पूरी हो जाती है;
और ख्वाहिशें बादशाहों की भी अधूरी रह जाती है।
----------
गम न हो वहां जहाँ हो फ़साना आपका;
खुशियाँ ढूढती रहें आशियाना आपका;
वो वक़्त ही न आये जब आप उदास हों;
ये दुनिया भुला न सके मुस्कुराना आपका।
----------
जवानी भी जिंदगी का क्या दौर होती है;
निगाहें भी कम्बख्त दिलों का चोर होती हैं;
याद आते ही आज भी मुस्कान दे जाती है;
इश्क में इंतज़ार की बात ही कुछ और होती है।
----------
मत कर तलाश मंजिलों की;
खुदा खुद ही मंजिल दिखा देता है;
यूं तो मरता नहीं कोई किसी के बिना;
वक्त सबको जीना सिखा देता है।
----------
अजीब तरह से सोचा था जिंदगी के लिए;
जीना मरना था उसी के लिए;
वो मुझे तन्हा छोड़ गई तो यकीन आया;
कोई नहीं मरता किसी के लिए।
----------
बनती है अगर बात तो बांट लो हर ख़ुशी;
गम न ज़ाहिर करो तुम किसी से कभी;
दिल की गहराई में गम छुपाते रहो;
चार दिन की जिंदगी में सदा मुस्कुराते रहो।
----------
कोई खुशियों की चाह में रोया;
कोई दुखों की पनाह में रोया;
अजीब सिलसिला है ये जिंदगी का;
कोई भरोसे के लिए रोया;
तो कोई भरोसा करके रोया।
----------
जिंदगी में दो चीज़ें हमेशा टूटने के लिए ही होती हैं:
"सांस और साथ"
सांस टूटने से तो इंसान 1 ही बार मरता है;
पर किसी का साथ टूटने से इंसान पल-पल मरता है।
----------
जिंदगी जीना आसान नहीं होता;
बिना संघर्ष कोई महान नहीं होता;
जब तक न पड़े हथोड़े की चोट;
पत्थर भी भगवान नहीं होता!
----------
जिंदगी की असली उड़ान अभी बाकी है;
जिंदगी के कई इम्तिहान अभी बाकी हैं;
अभी तो नापी है मुटठी भर ज़मीन आपने;
आगे अभी सारा आसमान बाकी है।
----------
जिंदगी में 4 बातें आपका साथ कभी नहीं छोड़ेंगी:
1. दिल की धड़कन।
2. परछाईं।
3. खुशियां।
4. एक उससे रिश्ता जिसका आप मैसेज पढ़ रहे हो।
----------
जिंदगी तो सभी के लिए सामान्य है।
फर्क तो बस इतना है कि कोई दिल से जी रहा है;
और
कोई दिल रखने के लिए जी रहा है।
----------
जिंदगी हर हाल में ढलती है;
जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है;
गिले शिकवे कितने भी हो;
लेकिन हर हाल में हँसते रहना;
क्योंकि जिंदगी ठोकरों से ही संभलती है।
----------
जिंदगी में कुछ फैसले हम खुद लेते हैं, और कुछ हमारी तकदीर।
बस अंतर तो सिर्फ इतना है कि तकदीर के फैसले हमें पसंद नहीं आते
और
हमारे फैसले तकदीर पसंद नहीं करती।
----------
मौत का डर, जिंदगी के डर से ही आता है;
जो शख्स भरपूर जिंदगी जीता है;
वह किसी भी वक्त मौत को गले लगाने के लिए तैयार रहता है।
----------
प्यार में वक्त गुजर जाता है;
और
वक्त में प्यार गुजर जाता है।
----------
देखो तो ख्वाब है जिंदगी;
पढ़ो तो किताब है जिंदगी;
सुनो तो ज्ञान है जिंदगी;
पर हँसते रहो तो आसान है जिंदगी।
----------
जिंदगी की उलझनों ने हमारी शरारतों को कम कर दिया;
और लोग समझते हैं कि हम समझदार हो गए।
----------
वक़्त भी लेता है करवटे ना जाने कैसे-कैसे;
उम्र इतनी तो नहीं थी, जितने सबक सीख लिए मैंने।
----------
छोटी सी जिंदगी है हंस के जिओ;
भुला के सारे गम दिल से जिओ;
उदासी में क्या रखा है मुस्कुरा के जिओ;
अपने लिए न सही अपनों के लिए जिओ।
----------
जिंदगी के हर पल को ख़ुशी से बैठाओ;
रोने का टाइम कहां, सिर्फ मुस्कुराओ;
चाहे ये दुनिया कहे पागल आवारा;
बस याद रखना "जिंदगी ना मिलेगी दोबारा"।
----------
जिंदगी बहुत कुछ सिखाती है;
थोड़ा रुलाती है थोड़ा हसाती है;
खुद से ज्यादा किसी पे भरोसा मत करना;
क्योंकि अँधेरे में तो परछाईं भी साथ छोड़ जाती है।
----------
ख़ुशी ने वादा किया था कि वो 5 दिन बाद लौट आयेगी। पर जब हमने जिंदगी की किताब खोल के देखी तो कमबख्त जिंदगी ही 4 दिन की थी।
इसलिए हर दिन का आनंद लीजिये।
----------
ज़िन्दगी एक प्रतिस्पर्धा है; और दो ही विकल हैं:
1. भाग लो
या
2. भाग लो
मर्ज़ी आपकी है।
----------
जिंदगी आईसक्रीम की तरह है।
टेस्ट करो तो भी पिघलती है;
वेस्ट करो तो भी पिघलती है।
इसलिए जिंदगी को टेस्ट करना सीखो, वेस्ट तो हो ही रही है।
----------
मौत को तो मैंने कभी देखा नहीं;
पर वो यकीनन बहुत खूबसूरत होगी;
कमबख्त जो भी उससे मिलता है;
जिंदगी जीना ही छोड़ देता है।
----------
जिंदगी एक पल है;
जिसमें न आज है न कल है;
जी लो इसको इस तरह;
कि जो भी आपसे मिले वो यही कहे;
बस यही 'मेरी' जिंदगी का सबसे हसीन पल है।
----------
लफ्ज़ वही हैं, माईने बदल गये हैं;
किरदार वही, अफ़साने बदल गये हैं;
उलझी ज़िन्दगी को सुलझाते सुलझाते;
ज़िन्दगी जीने के बहाने बदल गये हैं।
----------
जिंदगी से आप जो भी बेहतर से बेहतर ले सको, ले लो;
क्योंकि
जब जिंदगी लेना शुरू करती है तो 'सांसे' भी नहीं छोड़ती।
शुभ दिवस।
----------
संता: रात में मैंने सपने में देखा कि एक लड़का तुम्हारी किस लेने की कोशिश कर रहा है।
जीतो: तो क्या लड़का सफल हुआ?
संता: नहीं।
जीतो: तो फिर कोई और होगी, मैं नहीं।
----------
जिंदगी से आप जो बेहतर से बेहतर ले सको ले लो;
क्योंकि
जिंदगी जब लेना शरू करती है तो सांसे भी नहीं छोड़ती।
----------
अपनी तो ज़िन्दगी है अजीब कहानी है;
जिस चीज़ को चाह है वो ही बेगानी है;
हँसते भी है तो दुनिया को हँसाने के लिए;
वरना दुनिया डूब जाये इन आखों में इतना पानी है।
----------
अपनी तो ज़िन्दगी अजीब कहानी है;
जिस चीज़ को चाह वो ही बेगानी है;
हँसते भी है तो दुनिया को हँसाने के लिए;
वरना दुनिया डूब जाये इन आखों में इतना पानी है।
----------
चेहरे की हंसी से हर गम चुराओ;
बहुत कुछ बोलो पर कुछ ना छुपाओ;
खुद ना रूठो कभी पर सबको मनाओ;
राज़ है ये जिंदगी का बस जीते चले जाओ।
----------
जिंदगी बहुत कुछ सिखाती है;
कभी हंसती है तो कभी रुलाती है;
पर जो हर हाल में खुश रहते हैं;
जिंदगी उनके आगे सर झुकाती है।
----------
दिल तो करता है जिंदगी को किसी क़ातिल के हवाले कर दूँ;
जुदाई में यूँ रोज़ रोज़ मरना मुझे अच्छा नहीं लगता!
----------
जब से पता चला है, कि मरने का नाम है 'जिंदगी';
तब से, कफ़न बांधे कातिल को ढूढ़ते हैं!
----------
जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है;
बल्कि यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते।
---------- 
पैसे की दौड़ में पाप धोने को मिले ना मिले;
फिर से जीवन में पुण्य कमाने को मिले ना मिले;
कर लो कर्म दिल से;
क्या पता दोबारा ये जीवन मिले ना मिले।
---------- 
रोने से किसी को पाया नहीं जाता;
खोने से किसी को भुलाया नहीं जाता;
वक्त सबको मिलता है ज़िंदगी बदलने के लिए;
पर ज़िंदगी नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए।
---------- 
मंजिल उन्हीं को मिलती है;
जिनके सपनो में जान होती है;
पंख से कुछ नहीं होता;
हौंसलों से ही उड़ान होती है।
---------- 
हम अपनी ज़िंदगी में हर किसी को इसीलिए एहमियत देते हैं;
क्योंकि जो अच्छा होगा वो ख़ुशी देगा;
और जो बुरा होगा वो सबक देगा।
---------- 
जीवन में किसी का 'भला' करोगे,
तो 'लाभ' होगा क्योंकि 'भला' का उल्टा 'लाभ' होता है।
और जीवन में किसी पर 'दया' करोगे,
तो वो 'याद' करेगा क्योंकि 'दया' का उल्टा 'याद' होता है।
---------- 
जब छोटे थे तो ज़ोर-ज़ोर से रोते थे अपनी पसंद को पाने के लिए;
अब बड़े हो गए हैं तो चुपके से रोते है अपनी पसंद छुपाने के लिए।
---------- 
मैंने ज़िंदगी से पुछा कि तू इतनी कठिन क्यों है?
ज़िंदगी ने हंसकर कहा, "दुनियां आसान चीज़ों की कद्र नहीं करती"।
---------- 
वक़्त बदलता है ज़िंदगी के साथ;
ज़िंदगी बदलती है वक़्त के साथ;
वक़्त नहीं बदलता है अपनों के साथ;
बस अपने बदल जाते हैं वक़्त के साथ।
---------- 
ज़िंदगी एक रात है;
जिसमें ना जाने कितने ख्वाब हैं;
जो मिल गया वो अपना है;
जो टूट गया वो सपना है।
----------
कोई नहीं होता हमेशा के लिए किसी का;
लिखा है साथ थोड़ा-थोड़ा सभी का;
मत बनाओ किसी को अपने जीने की वजह;
क्योंकि जीना है अकेले, यह असूल है ज़िंदगी का।
---------- 
हर सपना कुछ पाने से पूरा नहीं होता;
कोई किसी के बिन अधूरा नहीं होता;
जो चाँद रौशन करता है रात भर सब को;
हर रात वो भी तो पूरा नहीं होता।
---------- 
हँसना ज़िंदगी है;
हँस कर गम भुलाना ज़िंदगी है;
जीत कर हँसे तो क्या हँसे;
हार कर ख़ुशियाँ मनाना ज़िंदगी है।
---------- 
जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है;
बल्कि;
यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते।
---------- 
मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है जिंदगी की; 
लेकिन
सिर्फ साँसें लेने को 'जीना' तो नहीं कहते।
---------- 
पैसे की रेस में पाप धोने को मिले ना मिले;
फिर से जीवन में पूण्य कमाने को मिले ना मिले;
कर लो कर्म दिल से;
क्या पता अगले जन्म ये जीवन मिले ना मिले।
---------- 
जीवन में एक बार जो फैसला कर लिया तो फिर पलट कर मत देखो;
क्योंकि;
पलट-पलट कर देखने वाले इतिहास नहीं बनाते।
---------- 
जीवन में तीन गिफ्ट कभी मिस मत करना।
1. प्रेमी (Lover): भगवान का दिया गिफ्ट।
2. माता-पिता (Parents): गिफ्ट में आये भगवान।
3. दोस्ती (Friendship): भगवान को भी नहीं मिलने वाला गिफ्ट।
---------- 
नींद तो बचपन में आती थी.....
अब तो सिर्फ सोते है हम।
---------- 
आप अपने जीवन काल के लिए कुछ नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप इसे मूल्यवान बनाने के लिए कुछ अवश्य ही कर सकते हैं।
----------
जिंदगी ने पूछा, सपना क्या होता है?
तो हक़ीकत बोली, ''बंद आँखों में जो अपना होता है, खुली आँखों में वही सपना होता है।''
---------- 
जब कोई हमसे पूछता है, "हाल-चाल कैसा है, कैसी गुजर रही है?"
तो बस इतना कह देता हूँ:
ज़िन्दगी में ग़म है;
ग़म में ही मज़े हैं;
और मज़े में हम हैं!
---------- 
बिना लछ्य के जीवन, बिना पता लिफ़ाफ़े के समान है;
जो कहीं भी कभी नहीं पूहंच सकता!
---------- 
हे जिंदगी, ले चल मुझे वहाँ, जो मुकाम आखरी हो;
ज़िंदगी तेरी सफ़र का जो अंजाम आखरी हो!
----------