Yaadein shayari

Aaj Ki Raat Bhi Mumkin Hai Na So Sakun;
Yaad Phir Aayi Hai Neendoon Ko Udaane Wali!
----------
Kuch Meethi Si Thandak Hai Aaj In Hawaon Mein,
Shayad Teri Yaadon Se Bhara Daraaz Khula Reh Geya Hai!
----------
Zindagi Ki Har Fizaon Mein Yaad Rakhna;
Dil Ki Sadaon Mein Yaad Rakhna;
Yeh Tohfa Bohat Hai Mere Liye;
Khaloos-e-Dil Se Duaon Mein Yaad Rakhna!
----------
Jinki Yaad Hai Dil Me Nishaani Ki Tarah;
Woh To Bhool Gaye Hume Kahani Ki Tarah!
----------
Sabhi Naghme Saaz Mein Gaaye Nahi Jate;
Sabhi Log Mehfil Mein Bulae Nahi Jate;
Kuch Pass Reh Kar Bhi Yaad Nahi Aate;
Kuch Dur Rehkar Bhi Bhulaye Nahi Jate!
----------
Dil Bhar Aaya Kaghaz-e-Ḳhali Ki Surat Dekh Kar;
Jin Ko Likhna Tha Woh Sab Batein Zubani Ho Gayin!
~ Ahmad Mushtaq
----------
Kya Rog De Gayi Hai Yeh Naye Mausam Ki Barish;
Mujhe Yaad Aa Rahe Hain Mujhe Bhool Jane Waley!
----------
Band Kar Diye Hain Humne Darwaze Ishq Ke,
Par Teri Yaad Hai Ki Dararon Se Bhi Aa Jaati Hain!
----------
Aap Bhulakar Dekho, Hum Phir Bhi Yaad Aayenge;
Aapke Chahne Walon Mein Aapko Hum Hi Nazar Aayenge;
Aap Thak Jaoge Pee-Pee Kar Paani;
Par Hum Hichki Bankar Aapko Yaad Aayenge!
----------
Ye Ajeeb Khel Hai Meri Zindagi Mein,
Jahan Yaad Ka Lafz Aa Jaye, Wahan Tum Yaad Aate Ho!
----------
Teri Yaadon Ki Koi Sarhad Hoti To Achha Hota;
Khabar To Hoti Kitna Safar Tay Karna Hai!
----------
Khushboo Jaise Log Mile Afsanon Mein;
Aaj Jab Ek Purana Khat Khola Anjaane Mein!
----------
Lafzon Mein Uljhana Nahi Aata;
Baat Saaf Hai Ki Bahut Yaad Aa Rahe Ho Tum!
----------
Teri Yaadon Ke Chiragon Ko Jalaya Har Shaam,
Teri Baaton Ko Seene Se Lagaya Har Shaam,
Maangi Khuda Se Teri Khushi Ki Duayein,
Tanha Baith Ke Haatho Ko Uthaaya Har Shaam!
----------
Aap Bhula Kar Dekho, Hum Phir Bhi Yaad Aayenge;
Aapko Hum Hi Nazar Aayenge,
Aap Paani Pi-Pi Kar Thak Jaoge,
Hum Hichki Ban Kar Yaad Aayenge!
----------
Rakh Lo Dil Mein Sambhal Kar Thodi Si Yaad Meri,
Reh Jaoge Jab Tanha To Kaam Aayenge Hum!
----------
Betaab Se Rehte Hain Uski Yaad Mein Aksar,
Raat Bhar Nahi Sote Hain Uski Yaad Mein Aksar,
Jism Mein Dard Ka Bahana Sa Bana Kar,
Hum Toot Kar Rote Hain Uski Yaad Mein Aksar!
----------
Neend Cheen Rakhi Hai Uski Yaadon Ne,
Gila Uski Doori Se Karen Ya Apni Chahat Se!
----------
Tum Aankhon Ki Baat Karte Ho Janab,
Hamare To Lafz Bheegh Gaye Kisi Ki Yaad Mein!
----------
Samjha Do Tum Apni Yaadon Ko Zara,
Waqt-Bewaqt Tang Karti Hain Mujhe Karzdaar Ki Tarah!
----------
Nahi Aati To Unki Yaad Mahino Tak Nahi Aati;
Magar Jab Yaad Aate Hain, To Aksar Yaad Aate Hain!
~ Hasrat Mohani
----------
Chali Aati Hai Teri Yaad Mere Zehen Mein Aksar,
Tujhe Ho Na Ho Teri Yaadon Ko Zaroor Mujhse Mohabbat Hai!
----------
Mohabbat Kee Hawa Jism Kee Dawa Ban Gayi;
Doori Aapki Meri Chahat Kee Saza Ban Gayi;
Kaise Bhulun Aapko Ek Pal Ke Liye;
Aapki Yaad Hamare Jeene Kee Wajah Ban Gayi!
----------
Kaise Bhula Dun Main Uski Yaadon Ko,
Maut Insanon Ko Aati Hai, Yaadon Ko Nahi!
----------
Dil Ki Khamoshi Se Saanson Ke Thaher Jane Tak,
Yaad Aayega Mujhe Wo Shakhs Mar Jane Tak!
----------
Is Duniya Mein Sab Kuch Bikta Hai,
Phir Judai Hi Rishwat Kyon Nahi Leti;
Marta Nahi Hai Koi Kisi Se Juda Hokar,
Bas Yaadein Hi Hain Jo Jeene Nahi Deti!
----------
Ab Bhi Chale Aate Hain Khayalon Mein Woh,
Roz Lagti Hai Haziri Us Gair Hazir Ki!
----------
Khatam Ho Gayi Kahani Bas Kuch Alfaaz Baaki Hain,
Ek Adhure Ishq Kee Ek Muqqamal Si Yaad Baaki Hai!
----------
Bas Jeene Hi To Nahi Degi,
Aur Kya Kar Lengi Yaadein Teri!
----------
Kaash Tu Bhi Ban Jaye Teri Yaadon Kee Tarah;
Na Waqt Dekhe Na Bahana, Bas Chali Aaye!
----------
Saari Khidkiyan Darwaze Band Kar Leta Hun,
Phir Bhi Na Jane Kahan Se Aa Jati Hain Tumhari Yaadein!
----------
Kuch Beete Hue Lamho Se Mulakat Hui,
Kuch Toote Hue Sapno Se Baat Hui,
Yaad Jo Karne Baithe Un Tamam Yaadon Ko,
To Aapki Hi Yaadon Se Shuruat Hui!
----------
Yaad Hai Ab Tak Tujhse Bichadne Kee Wo Andheri Shaam Mujhe;
Tu Khamosh Khada Tha Lekin Baatein Karta Tha Kajal!
~ Nasir Kazmi
----------
Tumhari Khushbu Se Mehakti Hai Wo Ghazlein Bhi,
Jin Mein Likhti Hun Main 'Ki Tumhein Bhul Gayi Hun'!
----------
Mat Pucho Ki Main Alfaz Kahan Se Lata Hun;
Ye Uski Yaadon Ka Khazana Hai bas Lutaye Ja Raha Hun!
----------
Tanhai Mere Dil Mein Samati Chali Gayi;
Kismat Bhi Apna Khel Dikhati Chali Gayi;
Mehkti Fiza Kee Khushbu Mein Jo Dekha Pyaar Ko;
Bas Yaad Unki Aayi Aur Rulati Chali Gayi!
----------
Bedard Zamane Ka Bahana Sa Bana Kar;
Hum Toot Ke Rote Hain Teri Yaad Me Aksar!
----------
Yakeen Karo Aaj Iss Kadar Yaad Aa Rahe Ho Tum,
Jis Kadar Tum Ne Bhula Rakha Hai Mujhe!
----------
Mulaqat Bhi Kabhi Aansu De Jati Hai;
Nazrein Bhi Kabhi Dhokha De Jati Hain;
Gujre Hue Lamhon Ko Yaad Karke Dekhiye;
Tanhai Bhi Kabhi Kabhi Sukoon De Jati Hai!
----------
Raat Kee Khamoshi Raas Nahi Aati;
Meri Parchayi Bhi Ab Mere Paas Nahi Aati;
Aati Hai To Bas Aapki Yaad;
Jo Aakar Ek Pal Bhi Mujhse Door Nahi Jaati!
----------
Kisi Kee Yaad Dil Mein Aaj Bhi Hai;
Bhool Gaye Wo Magar Pyaar Aaj Bhi Hai;
Hum Khush Rehne Ka Daawa To Karte Hain Magar;
Unki Yaad Mein Behte Aansu Aaj Bhi Hain!
----------
Tujhe Chahne Wale Kum Na Honge;
Waqt Ke Sath Shayad Hum Na Honge;
Chahe Kisi Ko Kitna Bhi Pyaar Dena;
Lekin Teri Yaadon Ke Haqdar Sirf Hum Hi Honge!
----------
Nikli Mohabbat Ki Baat To Tum Yaad Aa Gaye;
Uthe Dil Mein Wo Zazbat To Tum Yaad Aa Gaye;
Garmi Ne Sukha Diya Tha Teri Yaadon Ko;
Hui Jab Pyaar Kee Barsat To Tum Yaad Aa Gaye!
----------
Yaad Rukti Nahi Rok Paane Se;
Dil Maanta Nahi Kisi Ke Manane Se;
Ruk Jaati Hain Dhadkane Aapko Bhool Jaane Se;
Isliye Aapko Yaad Karte Hain Jeene Ke Bahane Se!
----------
Kash Tu Bhi Ban Jaye Teri Yaadon Ki Tarah;
Na Waqt Dekhe Na Bahana, Bas Chali Aaye!
----------
Kabhi Ek Lamha Aisa Bhi Aata Hai;
Jis Mein Beeta Hua Kal Nazar Aata Hai;
Bas Yaadein Reh Jati Hain Yaad Karne Ke Liye;
Aur Waqt Sab Kuch Leke Guzar Jata Hai!
----------
Tu Bhi Chup Hai Main Bhi Chup Hun Yeh Kaisi Tanhayi Hai;
Tere Saath Teri Yaad Aayi Kya Tu Sach-Much Aayi Hai!
~ Jon Elia
----------
Jane Kitni Umeedein Thi Tujhko Meri Yaadon Se;
Ki Jab Bhi Aayengi Haal Suna Jaya Karengi;
Hum Bhi Tere Liye Ek Khilona Bhar The;
Ki Yaadein Aayengi Aur Dil Behla Jaya Karengi!
----------
Yeh Hum Bhi Ganwara Karte Hain, Yeh Tum Bhi Ganwara Kar Lena;
Ro Ro Ke Guzari Hain Humne Raatein, Tum Hans Ke Guzara Kar Lena;
Betabi Hadh Se Badh Jaye Aur Neend Raaton Ko Aa Jaye;
To Doob Ke Meri Yaadon Mein Tum Duniya Se Kinara Kar Lena!
----------
Khata Ho Jaati Hai Jazbaat Ke Saath;
Unka Pyaar Yaad Aata Hai, Har Baat Ke Saath;
Khata Kuchh Bhi Nahi, Mahaz Pyaar Kiya Hai;
Unka Pyaar Yaad Aata Hai, Har Alfaaz Ke Saath!
----------
Koshish Karun Ga Usko Bhulane Kee Umar Bhar;
Aaye Gi Uski Yaad Magar Umar Bhar Mujhe!
~ Qateel Shifai
----------
Barsat Kee Bheegi Raaton Mein Phir Koi Suhani Yaad Aayi;
Kuch Apna Zamana Yaad Aaya Kuch Unki Jawani Yaad Aayi;
Hum Bhool Chuke The Jisne Humein Duniya Mein Akela Chora Tha;
Jab Gaur Kiya To Ek Surat Jaani Pehchani Si Yaad Aayi!
----------
Khoobsurat Hai Zindagi Ek Khawab Kee Tarha;
Jaane Kab Toot Jaye Kaanch Kee Tarha;
Mujhe Na Bhoolna Kisi Baat Kee Tarha;
Apne Dil Mein Hi Rakhna Khoobsurat Yaad Kee Tarha!
----------
Kya Wajha Hai Mere Darne Kee;
Ab To Khwaish Hai Unki Yaadon Mein Marne Kee;
Na Jane Unhein Kyon Itna Yaad Karta Hai Dil;
Jinhe Fursat Hi Nahi Hai Humein Yaad Karne Kee!
----------
Phir Chupke Se Yaad Aa Geya Koi;
Meri Aankhon Ko Phir Rula Geya Koi;
Kaise Uska Shukriya Karun Ada;
Jo Mujh Na-Chiz Ko Shayar Bana Geya Koi!
----------
Subah Phuti To Wo Pehlu Se Utha Aakhir-e-Shab;
Wo Jo Ik Umr Se Aaya Na Geya Aakhir-e-Shab;
Yaad Ka Phir Koi Darwaza Khula Aakhir-e-Shab!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Jab Raat Kee Tanhayi Dil Ban Ke Dhadakti Hai;
Yaadon Ke Jharokhon Mein Chilman Si Sirakti Hai;
Lobaan Mein Chingari Jaise Koi Rakh Jaye;
Yun Yaad Teri Shab Bhar Seene Mein Sulagti Hai!
~ Bashir Badr
----------
Tanhai Mere Dil Mein Samati Chali Gayi;
Kismat Bhi Apna Khel Dikhati Chali Gayi;
Mehkti Fiza Kee Khushboo Mein Jo Dekha Pyaar Ko;
Bas Yaad Unki Aayi Aur Rulati Chali Gayi!
----------
Saans Tham Jati Hai Par Jaan Nahi Jati;
Dard Hota Hai Par Aawaz Nahi Aati;
Ajeeb Log Hain Iss Zamane Mein;
Koi Bhool Nahi Pata Aur Kisi Ko Yaad Nahi Aati!
----------
Tanhai Mere Dil Mein Samati Chali Gayi;
Kismat Bhi Apna Khel Dikhati Chali Gayi;
Mehkti Fiza Kee Khushbu Mein Jo Dekha Pyaar Ko;
Bas Yaad Unki Kee Aayi Aur Rulati Chali Gayi!
----------
Raaton Ka Manzar Azeeb Lagta Hai;
Saya Teri Yaadon Ka Kareeb Lagta Hai;
Lehrein Aakar Waapis Ho Jaati Hain;
Woh Sahil Tanha Azeeb Lagta Hai!
----------
Zubaan Se Tumhein Keh Nahi Sakte;
Isliye Hamesha Khuda Se Fariyad Karte Hain;
Jab Bhi Dil Dhadke Tumhara Zor Zor Se;
Samajh Lena Hum Tumhein Dil Se Yaad Karte Hain!
----------
Shikwa Kisi Ka Na Fariyad Kisi Kee;
Honi Thi Yun Hi Zindagi Barbaad Kisi Kee;
Ehsas Mita Talash Miti Mit Gayi Umeedein;
Sab Mit Geya Par Na Mit Saki Yaad Kisi Kee!
----------
Aaj Tanha Sahi Lekin Kal Manjar Nazar Aayega;
Har Juban Pe Naam Har Nazar Mein Chehra Nazar Aayega;
Mumkin Hai Mujhko Bhi Bhool Jayegi Duniya Lekin;
Dil Mein Tamam Umar Chehra Nazar Aayega!
----------
Apne Dil Ki Sunn, Afwahon Se Kaam Na Le;
Mujhe Yaad Rakh, Beshak Naam Na Le;
Tera Veham Hai Ki Hum Bhool Gaye Tujhe;
Meri Koi Aisi Saans Nahi Jo Tera Naam Na Le!
----------
Abhi Mashroof Hun Kafi Kabhi Fursat Mein Sochunga;
Ki Tujhko Yaad Rakhne Mein Main Kya-Kya Bhool Jata Hun!
----------
Uss Ke Bin Chup Chup Rehna Ab Achha Lagta Hai;
Khamoshi Se Ek Dard Ko Sehna Bhi Achha Lagta Hai;
Uss Ka Milna Na Milna To Kismat Kee Baat Hai;
Magar Pal Pal Uss Kee Yaad Mein Rona Ab Achha Lagta Hai
----------
Aaj Bhi Kayi Sawal Hain Iss Dil Mein;
Pyaar Ka Gham Bezuban Hai Iss Dil Mein;
Kuch Keh Nahi Paata Ye Dil Magar;
Uss Dil Ke Liye Aaj Bhi Pyaar Hai Iss Dil Mein!
----------
Jo Beet Geya Use Bhool Ja Ai Dil;
Jo Guzar Geya Waqt Woh Kabhi Na Aayega;
Pal Do Pal Ka Saath De Kar Saathi Chala Geya;
Uski Yaad Mein Jal Kar Tu Aur Bhi Pachtayega!
----------
Tum Se Kab Humne Mulaqat Ka Vaada Chaha;
Door Reh Kar Tujhe Kuch Aur Bhi Jyada Chaha;
Yaad Aayi Hai Teri Aur Bhi Shiddat Se Humein;
Bhool Jaane Ka Tujhe Jab Bhi Iraada Chaha!
----------
Unki Yaadon Ko Abhi Bhi Seene Mein Chhupaye Baitha Hun;
Haye Main Kis Zalim Se Dil Ko Lagaye Baitha Hun;
Inhi Raahon Se Aayenge, Bhale Hee, Baad Mere Marne Ke;
Kitna Nadan Hun Abhi Bhi Dil Ko Samjhaye Baitha Hun!
----------
Tanhai Mein Hum Teri Taakte Hain Raahein;
Tumhe Dekhne Ko Taras Jati Hain Nigahein;
Bekhudi Ka Ab Yeh Aalam Hai Kaisa;
Tumhe Yaad Karke Nikal Jati Hain Aahein!
----------
Zindagi Ke Har Lamhon Mein Unhi Ko Paate Hain;
Bhool Jayein Khud Ko Par Unhe Nahi Bhulate Hain;
Jane Kya Baat Hai Unme Ai Khuda;
Jitna Bhulate Hain Wo Utna Yaad Aate Hain!
----------
Yaad Aane Wale Yaad Aaye Ja Rahe Hain;
Mere Khyalon Kee Duniya Par Chaye Ja Rahe Hain;
Hum Kuch Keh Rahe Hain Par Wo Chup Hain;
Bas Mera Khat Padh Kar Muskuraye Ja Rahe Hain!
----------
Bheegi Palkon Ke Sang Muskurate Hain Hum;
Pal Pal Dil Ko Kuch Aur Behlate Hain Hum;
Tu Door Hai Humse To Kya Hua Mere Dilbar;
Har Saans Mein Teri Aahat Paate Hain Hum!
----------
Tasveer Mein Khayaal Hona To Lazmi Saa Hai;
Magar Ek Tasveer Hai Jo Khayaalon Mein Bani Hai!
----------
Yaad Teri, Bas Baat Teri, Fariyad Teri;
Ya Rabb Mujhe Kaam Koi To Aur Bhi Ho!
----------
Bhuli Hui Rahoon Se Jo Guzre Hum Kabhi;
Har Gham Par Khoyee Hui Ek Yaad Mili Hai!
----------
Yaad Rakhna Hi Mohabbat Mein Nahi Hai Sab Kuch;
Bhool Jana Bhi Badi Baat Hua Karti Hai!
----------
Hosh Apna Bhi Aye Ga Lekin Pehle;
Dil Teri Yaadon Se Rihaa Toh Ho!
----------
Shabb Ki Tanhai Mein Gungunaati Rahin;
Beeti Baatein Mujhe Yaad Aati Rahin!
----------
Koi Aur Hi Kaam Somp Do Mujhe Ab Tum;
Yeh Kya Tujhe Sochna Aur Sochtey Hi Rehna!
----------
Main Tujhe Ko Bhool Chuka, Lekin Ek Umar Ke Baad;
Tera Kheyal Kya Tha Ke Chott Ubhar Aayi!
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
Saza Ban Jati Hain Guzre Hue Waqt Ki Yaadein;
Najaane Kyun Chhod Jaane Ke Liye Meharban Hote Hain Log!
~ Parveen Shakir
----------
Bichhdi Hui Rahoon Se Jo Guzre Hum Kabhi;
Har Gam Par Khoyee Hui Ek Yaad Mili Hai!
----------
Ab Toh Un Ki Yaad Bhi Aati Nahin;
Kitni Tanha Ho Gayin Tanhaayiaan!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Dard-e-Dil Jab Had Se Guzar Jata Hai;
Bankar Syahi Kaagaz Pe Bikhr Jata Hai;
Jab Jab Utha Hai Teri Yaadon Ka Dhwan;
Bankar Nasha Is Dil Mein Utar Jata Hai!
----------
Ab Wahan Yaadon Ka Bikhra Hua Malba Hi Toh Hai;
Jis Jagah Ishq Ne Buniyad Makaan Ki Rakhi Thi!
----------
Kitni Jaldi Zindagi Guzar Jaati Hai;
Pyaas Buztee Nahin Barsaat Chali Jaati Hai;
Aap Ki Yaadein Kuchh Iss Tarah Aati Hai;
Neend Aati Nahin Aur Raat Guzar Jaati Hai!
----------
Gum'sum Si Raahguzar Thi, Kinara Nadi Ka Tha;
Paani Mein Chaand, Chaand Mein Chehra Kisi Ka Tha!
~ Mohsin Naqvi
----------
Huyi Muddat Ke Ghalib Mar Gaya Par Yaad Aata Hai;
Har Ek Baat Pe Kahna Ke Yun Hota To Kya Hota!
~ Mirza Ghalib
----------
Aaj Tafseel Nahi Bas Itna Suno;
Bohat Aaj Yaad Aa Rahe Ho Tum!
----------
Dunyaa Ne Teri Yaad Se Begaana Kar Diya;
Tujh Se Bhi Dil-Fareb Hain Gham Rozgaar Ke...
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Hum Bhi Hon Ge Ap Ke Dil Mein Magar;
Magar Ik Bhoolay Huye Qissay Ki Tarah;
Kabhi Jo Na Baant Pao Ge Dard To Yaad Aaunga;
Hum Tum Jo They Aik Jism Ke Hissay Ki Tarah!
----------
Bhooli Huyi Sabaa Hoon Mujhe Yaad Ki Jiye;
Tum Se Kahin Milaa Hoon Mujhe Yaad Ki Jiye!
----------
Tum Bhi Ho Beetay Huye Waqt Ki Maanind, Hu-Bahuu;
Tum Ne Bhi Yaad Ana Hai, Aana To Naheen Hai!
----------
Dosti Di Dastan Jado Waqt Sunave Ga;
Mainu Ek Shaks Jaroor Yaad Ayuga;
Bhul Jan Gay Jindgi De Sare Gum;
Jadon Tere Naal Bitaya Oh Pal Yaad Ayuga!
----------
Yaad Rukti Nahi Rok Paane Se;
Dil Maanta Nahi Kisi K Smjhane Se;
Ruk Jati Hai Dhadkene Aapko Bhool Jane Se;
Isliye Aapko Yaad Karte Hai Zeene K Bhane Se!
----------
Chandni Raat Mein Aur Bhi Shiddat Se Aaye Gi Yaad Uski;
Behtar Tha Hum So Jatay Shaam Honey Se Pehlay!
----------
Jee Dhoondta Hai Phir Wahi Fursat Ke Raat Din;
Baithe Rahein Tasawwur-e-Janaan Kiye Hue!
~ Mirza Ghalib
----------
Teri Yaad Mein Pal Pal Marta Hai Koi;
Har Saans Ke Saath Tujhe Yaad Karta Hai Koi;
Fursat Mile To Tanhai Mein Sochna;
Kitni Khamosh Mohabbat Tum Se Karta Hai Koi!
----------
Dil Ki Kitaab Ka Panna Churaa Legae Tum;
Aankhon Se Neendh Uda Legae Tum;
Teri Yaad Me Tadapne Ki Aadat Nahin Thi Mujhe;
Apni Yaadon Se Tadpaane Sikha Gaye Tum!
----------
Jaaneman Aaj Tum Bahut Yaad Aaye Ho;
Kuch Yaadon Se aur Kuch jhoothe Waadon Se!
----------
Dil Ki Kitaab Ka Panna Churaa Legae Tum;
Aankhon Se Neendh Udda Legae Tum;
Teri Yaad Me Tadapne Ki Aadat Nahin Thi Mujhe;
Apni Yaadon Se Tadpaane Sikha Gaye Tum!
----------
Jugnu Ko Qaid Kar K Muskaraya Na Karo;
Roshni Ki Khatir Kisi Ka Dil Jalaya Na Karo;
Sitam Karna Hai Karo Par Itna Na Karo;
Yaad Nahi Karsakte To Yaad Aaya Na Karo!
----------
Shayad Woh Apna Wajood Chhor Gaya Hai Meri Hasti Mein;
Yoon Sote-Sote Jaag Jana Meri Aadat Pehle Kabhi Na Thi!
~ Mushtaq Ahmad Nazish
----------
Yaad Rukti Nahi Rok Paane Se;
Dil Maanta Nahi Kisi K Samjhane Se;
Ruk Jati Hai Dhadkene Aapko Bhool Jane Se;
Isliye Aapko Yaad Karte Hai Zeene Ke Bhane Se!
----------
Abhi Mashroof Hun Kafi Kabhi Fursat Mein Sochunga;
Ke Tujhko Yaad Rakhne Me Mai Kya-Kya Bhool Jata Hun!
~ Mirza Ghalib
----------
Saare Shikwe Jawab Tere Hai;
Dil Pe Saare Ghaav Tere Hai;
Tum Yaad Aao To Nind Nahi Aati;
Nind Aaye To Saare Khwab Tere Hai!
----------
Dost Ki Yaad Se Badi Koi Daulat Nahin Hoti;
Sath Rehna Hi Dost Ki Jarurat Nahin Hoti;
Duriyan Kardeti Ha Yaadon Ko Jinda;
Warna Yaadon Ki Koi Keemat Nahin Hoti!
----------
Yaad Rukti Nahi Rok Paane Se;
Dil Maanta Nahi Kisi Ke Samjhane Se;
Ruk Jati Hai Dhadkane Aapko Bhool Jane Se;
Isliye Aapko Yaad Karte Hai Zeeneh Ke Bhane Se!
----------
Dost Ki Yaad Se Badi Koi Daulat Nahi Hoti;
Sath Rehna Hi Dost Ki Jarurat Nahi Hoti;
Duriyan Kardeti Hai Yadoon Ko Jinda;
Warna Yadoon Ki Koi Keemat Nahi Hoti!
----------
Kadmo Ki Duri Se Dilo Ke Fasle Nahi Badte;
Dur Hone Se Dosti Ke Ehsaas Nahi Marte;
Kuch Kadmo Ka Fasla Hi Sahi Hamare Bech;
Par Koi Pal Nahi Jab Aapko Hum Yaad Nahi Karte!
----------
Kabhi Ek Lamha Aisa Bhi Aata Hai;
Jisme Beeta Hua Kal Nazar Aata Hai;
Bas Yaaden Reh Jati Hai Yaad Karna Ke Liye;
Aur Waqt Sab Kuch Lekar Guzar Jata Hai!
----------
Maghrib Ki Waadion Mein Goonji Azaan Hamari;
Thamta Na Tha Kisi Se Sail-E-Rawaan Hamara!
~ Allama Iqbal
----------
Yeh Mat Kehna Ke Teri Yaad Se Rishta Nahi Rakha;
Mein Khud Tanha Raha Dil Ko Magar Tanha Nahi Rakha;
Tumhari Chahton Ke Phool Tu Mehfooz Rakhey Hain;
Tumhari Nafraton Ki Peerh Ko Zinda Nahi Rakha!
----------
Uthe Hain Jab Yeh Haath Duaon Ko;
Rab Se Tere Liye Hi Fariyaad Karte Hain;
Tu Humein Bhulla Bhi De To Kya;
Hum To Tumhe Har Pal Yaad Karte Hain!
----------
Unki Yaad Mein Sab Kuch Bhulla Baithe Hain;
Chiraag Khusiyo Ke Bujha Baithe Hain;
Hum To Marenge Unki Baahon Mein;
Ye Bhi Shart Maut Se Lagaa Baithe Hain!
----------
Saarey Maahol Mein Khusboo Hai Teri Yaadon Ki;
Hum Ne Gham-Khaney Ko Bhi Phoolon Sey Saja Rakha Hai!
----------
Yaad Aati Hai Jo Marhoom Tamannaaon Ki;
Bhool Jaata Hun Ke Mehroom-E-Tamanna Hun Main!
----------
Bichri Hui Raahon Se Jo Guzrey Hum Kabhi;
Har Gham Par Khoyi Hui Ik Yaad Mil Gayi!
----------
Kabhi Tujhko Chandni Raaton Mein;
Yaad Aayein Jo Hum Barsaaton Mein;
Nafrat Hi Se Lena Naam Mera;
Jo Zikar Mera Ho Baaton Mein!
----------
Gehri Thi Raat, Lakin Hum Khoye Nahi;
Dard Bahoot Tha Dil Mein, Lakin Hum Roye Nahi;
Koi Nahi Hamara Jo Puche Humse;
Jag Rahe Ho Kisi Ke Liye, Ya Kisi Ke Liye Soye Hi Nahi!
----------
Muddatein Guzreen Teri Yaad Bhi Aayi Na Humein;
Aur Hum Bhool Gaye Hon Tujhey Aisa Bhi Nahi;
Sar Mein Sauda Bhi Naheen Dil Mein Tamanna Bhi Nahi;
Lekin Is Tark-E-Mohabbat Ka Bharosa Bhi Nahi!

Tark-E-Mohabbat = Abandonment of Love
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Teri Yaad Mein Har Pal Khoya Hu Main;
Tujhe Mehsus Kar Akele Roya Hu Main;
Na Jaane Kab Tera Deedar Ho;
Iss Intzaar Mein Khuli Aankho Se Soya Hu Main!
----------
Har Ek Majar Par Udasi Chhayi Hai;
Chand Ki Roshni Mein Bhi Kami Aayi Hai;
Akele Acchhe The Hum Apne Aashiyane Mein;
Jane Kyun Tutkar Aaj Fir Aapki Yaad Aayi Hai!
----------
Guzrey Hue Waqt Ki Kuchh Nishaniya Baaki Hain;
Abhi Uski Gali Mein Meri Kahaniya Baaki Hain;
Abhi Zinda Hai Mohaabat Mujhme Kahin;
Logon Ke Dilon Mein Hairaniya Baaki Hain!
----------
Jaaney Kaisy Jeety Hain Log Yaadoon Ke Saharey;
Main To Kai Baar Marta Hoon Ik Yaad Aanay Pe!
----------
Dukh Nahi Wahan Fasaana Jahan Hai Tera;
Khushi Dhoondhe Hamesha Aashiyana Tera;
Zindagi Mein Tu Kabhi Udaas Na Ho;
Duniyaa Yeh Yaad Rakhe Muskurana Tera!
----------
Raat Yoon Dil Mein Teree Khoyee Huee Yaad Aaee;
Jaisey Veeraney Mein Chupkey Sey Bahaar Aa Jaaye;
Jaisey Sahraaon Mein Hauley Sey Chaley Baad-e-Naseem;
Jaisey Beemaar Ko Bevajah Qaraar Aa Jaaye!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Bhool Jane Ka Bahana Na Bana Dena;
Durr Jane Ki Bas Ek Wajah Bata Dena;
Khud Chale Jayenge Apki Zindagi Se;
Par Jaha Apki Yaad Na Aaye, Wo Jagah Bata Dena!
----------
Chaho To Dil Se Hame Mita Dena;
Chaho To Hamko Bhula Dena;
Par Yeh Vaada Karo Ae Dost;
Ki Jab Yaad Aye Hamaari, Toh Rona Mat Bas Muskura Dena!
----------
Dil Mein Chahat Ka Hona Bhi Zaruri Hai;
Warna Yaad To Dushman Bhi Roz Kiya Karte Hain!
----------
Jab Koi Taaza Museebat Tutati Hai, Hafeez;
Ek Aadat Hai Khuda Ko Yaad Kar Leta Hun Main!
~ Hafeez Jullandhuri
----------
Naino Mein Basse Hain, Zarra Dhyan Rakhna;
Apna Rishta Yunhi Aabad Rakhna;
Mujhe To Aadat Hai Yaad Karne Ki;
Hichkiyan Aati Rahein To Maaf Karna!
----------
Kabhi Kabhi Pathar Ke Takranay Se Aati Nahi Kharash;
Kabhi Ek Zara Si Baat Se Insaan Bikhar Jaata Hai;
Bhool Jao Unhe Jinhe Maaf Nahi Kar Sakte;
Ya Fir - Maaf Kar Do Unhe, Jinhe Bhool Nahi Sakte!
----------
Badi Tabdiliyan Laye Hain Hum Apne Aap Main; Lekin Tumhaari Yaad Main Rehne Ki Aadat, Abb Bhi Bakki Hai!
----------
Meri Saanson Ko Aadat Hai, Teri Yaadon Se Chalney Ki;
Ruk Jayeingi Yeh Saansein, Jiss Din Tum Yaad Na Aaoge!
----------
Kabhi Kitaabon Main Phool Rakhna;
Kabhi Darakhton Pe Naam Likhna;
Humein Bhi Hai Yaad Aaj Tak Woh;
Nazar Sey Harf-e-Salaam Likhna!
----------
Koi Shaam Aati Hai Tumhari Yaad Lekar;
Koi Shaam Jaati Hai Tumahri Yaad Dekar;
Mujhe Toh Uss Shaam Ka Intezaar Hai;
Jo Aaye Tume Saath Lekar!
----------
Bahut Khoobsurat Unka Har Andaaz Hai;
Haqiqat Hai Ya Khwaab Hai;
Khushnaseebon Ke Paas Rehte Hain Woh;
Mere Paas To Bas Unki Meethi Si Yaad Hai!
----------
Aapki Yaad Dil Ko Bekarar Karti Hai;
Nazar Talash Apko Bar Bar Karti Hai;
Gila Nahi Jo Hum Hain Door Apse;
Hamari To Judai Be Apse Pyar Karti Hai!
----------
Tum Se Wabastgi Ka Ye Aalam Hai;
Hum Woh Saans Nahi Lete Jisme Tumhari Yaad Na Ho!
----------
Apne Dil Ki Sunn, Afwahon Se Kaam Na Le;
Mujhe Yad Rakh, Beshak Naam Na Le;
Tera Veham Hai Ke Hum Bhool Gaye Tujhe;
Meri Koi Aisi Saans Nahi Jo Tera Naam Na Le!
----------
Teri Yaad Ilaaj-e-Gham Hai;
Soch, Tera Maqaam Kya Hoga!
----------
Main Uss Ke Kheyal Se Jaoon To Kahan Jaoon;
Woh Meri Sooch Ke Har Raste Pae Nazar Aata Hai!
----------
Meri Yaadon Ki Kashti Uss Samundar Mein Tairti Hai;
Jiss Mein Paani Meri Apni Hi Palkon Ka Hota Hai!
----------
Kaash Unko Kabhi Fursat Mein Yeh Khayal Aa Jaye;
Ke Koi Yaad Karta Hai Unhey Zindagi Samajh Kar!
----------
Apani Yaadon Ke Ujallon Ko Mere Pass Rahne Do;
Baki Hayat-E-Safar Inki Roshni Mein Guzaar Leinge!
----------
Samundar Ke Safar Mein Iss Tarhan Awaaz Dain Humko;
Hawaein Tez Ho Aur Kashtiyon Mein Shaam Ho Jai;
Ujaley Apni Yadoon Ke Hamare Saath Rehne De;
Najane Kis Gali Mein Zindagi Ki Shaam Ho Jai!
----------
Kitni Jaldi Zindaagi Guzar Jaati Hai;
Pyaas Bujtee Nahin Barsaat Chali Jaati Hai;
Aap Ki Yaadein Kuchh Iss Tarah Aati Hai;
Neend Aati Nahin Aur Raat Guzar Jaati Hai!
----------
Jaane Uss Shakas Ko Kaisa Yeh Hunar Aata Hai;
Raat Hote He Ankhon Mein Utar Jaata Hai;
Mein Uski Yaad Se Niklon, Toh Kahaan Jaun;
Woh Meri Soch Ki Har Dehlez Pe Nazar Aata Hai!
----------
Kaise Bhula Doon Main Usko;
Maut Insanon Ko Aati Hai, Yadon Ko Nahi!
----------
Sazzaa Ban Jaati Hain, Guzree Huye Waqt Ki Yaadein;
Jaane Kyun Matlab Ke Liye, Meharbaan Hote Hain Log!
----------
Takleef Jo Ho Kabhi, Mujhe Sochne Se Tumhe;
Ek Lamha Bhi Na Lagana, Mujhe Bhool Jaana Tum!
----------
Aapki Yaad Staye To Dil Kya Kare;
Yaad Dil Se Na Jaye To Dil Kya Kare;
Socha Tha Sapno Mein Mulaqat Hogi;
Magar Neend Hi Na Aaye, To Hum Kya Kare!
----------
Ab udaas hona bhi acha lagta hai;
Kisi ka pass na hona bhi acha lagta hai.
Main door reh kar b kisi ki yaadon me hun;
Ye ehsaas hona b acha lagta hai.
----------
Aj koi mujhko dilaye na mohabbat ka yakeen,
Jo mujhe bhool na sakte the, wohi bhool gaye.
----------
Ye kambakht hichkiyan thamti kyu nahin;
Ye kis k zehan mein aaker atak gaye hain hum.
----------
Rishta banaya hai to nibhayenge,
Har pal aapko hasayenge-satayenge,
Pata hai aapko to fursat nahi yaad karne ki,
Hum hi msg kr-kr ke apni yaad dilayenge.
----------
Yaad hum bhi aapko karte hai, yaad aap bhi hame karte hai,
fark itna hai hum yaad ane par sms karte hai aur aap sms ane par yaad karte hai.
----------
Judai apki rulati rahegi,
yaad apki aati rahegi,
pal pal jaan jati rahegi,
jab tak jism mein hai jaan har saans ye rishta nibhati rahegi.
----------
Chale gaye ho dur kuch pal ke liye, Dur rehkar bhi karib ho har pal ke liye, Kaise yaad na aaye aapki ek pal ke liye, Jab dil me ho aap har pal ke liye.
----------
Bhool Se Agar Koi Bhool Hui,
To Bhool Samajke Use Bhool Jana,
Arey Bhoolna Sirf Bhool Ko,
Bhoolkar Bhi Hume Na Bhool Jana
----------
Sooni zindagi main hulchul mehsus hui,
Bejaan dil ki aaj dhadkan mehsus hui,
Jaane kyun aaj aisa laga,
Shayad aapki kami mehsus hui.
----------
Suraj paas ho na ho, Roshni aaspaas rehti hai,
Chand paas ho na ho, Chandni aaspaas rehti hai,
Waise hi aap paas ho na ho,
Apki Yaadein hamesha saath rehti hai!
----------
Rukta bhi nahi, theek se chalta bhi nahi,
Yeh dil hai kay tere baad sambhalta hi nahi,
Is umar key sehra say teri yaad ka baadal,
Talta bhi nahi aur barasta bhi nahi,
----------
Jeena chahte hain magar zindagi raas nahi aati,
Marna chahte hain magar maut paas nahi aati,
Bahut udas hain hum is zindagi se,
Unki yaadein bhi to tadpane se baaz nahi aati.
----------
Jab dosti ki dastan waqt sunayega,
Tumko bhi koi shaks yaad ayega,
Tab bhool jayenge zindgi ke gam ko,
Jab apke sath guzara samay yaad ayega.
----------
Unka ashiyana dil mein basa rakha hai,
Unki yadon ko seene se laga rakha hai,
Pata nahi yaad aate hain wohi kyun,
Vaise dost to hamne auron ko bhi bana rakha hai.
----------
Missed call to ek bahana hai,
Irada to aapka ek lamha churana he,
Aap chahe humse baat karo ya na karo,
Aap ki yadon mein humara ana jana hai.
----------
Teri yaad rud jandi akhan cho pani banke,
Ki khatya es rooh ne diwani ban ke,
Bhaven ho gaya hun sadi akhan toh dur,
Par dil vich wasya hai pyar di nishani ban ke.
----------
Suni zindagi mein halchal si mehsoos hui, bejaan dil ki aaj dhadkan mehsus hui,
Jane aaj kyu aisa laga, shayad aapki kami mehsoos hui.
----------
बेचैन इस क़दर था, सोया न रात भर;
पलकों से लिख रहा था, तेरा नाम चाँद पर!
----------
कितनी खूबसूरत हो जाती है उस वक्त दुनिया;
जब कोई कहता है कि तुम याद आ रहे हो!
----------
बड़ी तलब लगी है खुद को आजमाने की;
कहो तो यादों के तूफानों का रुख मोड़ दूँ!
----------
इस छोटे से दिल में किस किस को जगह दूँ मैं;
गम रहें, दम रहे, फरियाद रहे या तेरी याद!
----------
कहीं यादों का मुकाबला हो तो बताना, जनाब;
हमारे पास भी किसी की यादें बेहिसाब होती जा रही हैं!
----------
तेरे ख़त में इश्क़ की गवाही आज भी है,
हर्फ़ धुंधले हो गए हैं मगर स्याही आज भी है।
----------
सरहदें तोड़ के आ ज़ाती है किसी पंछी की तरह,
यह तेरी याद है जो बंटती नहीं मुल्कों की तरह।
----------
वो वक़्त वो लम्हें कुछ अजीब होंगे;
दुनिया में हम खुश नसीब होंगे;
दूर से जब इतना याद करते हैं आपको;
क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे!
----------
कभी कभी इतनी शिद्दत से आपकी याद आती है;
मैं पलकों को मिलाता हूँ, तो आँखें भीग जाती हैं!
----------
नींद आये या ना आये, चिराग बुझा दिया करो,
किसी की याद में किसी और को जलाना अच्छी बात नहीं।
----------
यह यादों का ही रिशता है, जो छूटता नहीं;
वरना मुद्दत हुई कि वो दामन, छुडा चले गए।
----------
बैठे थे अपनी याद लेकर कि अचानक चौंक उठे;
किसी ने शरारत से कह दिया सुनो वो मिलने आये हैं।
----------
रख दी गयी कायनात हमारे क़दमों में;
मगर हमने तुम्हारी यादों का सौदा नहीं किया।
----------
यादें भी क्या क्या करा देती हैं,
कोई शायर हो गया तो कोई खामोश हो गया।
----------
वो नहीं आती पर निशानी भेज देती है;
ख्वाबों में दास्ताँ पुरानी भेज देती है;
कितने मीठे हैं उसकी यादों के मंज़र;
कभी-कभी आँखों में पानी भेज देती है।
----------
आ गयी तेरी याद दर्द का लश्कर लेकर,
अब कहाँ जायें हम दिल-ए-मुजतर लेकर।
----------
तू याद रख या ना याद रख,
तू याद है बस ये याद रख।
----------
मेरी आवारगी में कुछ क़सूर अब तुम्हारा भी है,
जब तुम्हारी याद आती है तो घर अच्छा नहीं लगता।
----------
कुछ खूबसूरत पलों की महक सी हैं तेरी यादें,
सुकून ये भी है कि ये कभी मुरझाती नहीं।
----------
कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी,
हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आता है।
----------
महक रही है जिंदगी आज भी जिसकी खुशबू से,
वो कौन था जो यूँ गुजर गया मेरी यादों से।
----------
हमारे पास तो सिर्फ तेरी यादे हैं,
ज़िन्दगी तो उसे मुबारक हो, जिसके पास तू है।
----------
फूलों की तरह जब होंठों पे एक शोख़ तबस्सुम बिखरेगा,
धीरे से तुम्हारे कानों में एक बात पुरानी कह देंगे।
----------
अब ऐसा भी क्या लिखूं, मैं तेरी याद में;
कि तेरी सूरत दिखे मुझे हर अलफ़ाज़ में।
----------
कितने अनमोल होते हैं ये यादों के रिश्ते भी,
कोई याद ना भी करे चाहत फिर भी रहती है।
----------
अजीब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर;
सो जाऊं तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं।
----------
तेरे गम में भी नायाब खजाना ढूँढ लेते हैं,
हम तुम्हें याद करने का बहाना ढूँढ लेते हैं।
----------
नजरों से दूर हो कर भी, यूं तेरा रूबरू रहना,
किसी के पास रहने का, सलीका हो तो तुम सा हो।
----------
यादें भी क्या क्या करा देती हैं,
कोई शायर हो गया, कोई खामोश।
----------
फिर पलट रही हैं सर्दियों की सुहानी रातें,
फिर तेरी याद में जलने के जमाने आ गए।
----------
तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं;
किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
बंद कर दिए है हमने दरवाज़ें इश्क के,
पर तेरी याद हैं कि दरारों में से भी आ जाती हैं।
----------
काश! तेरी यादो की कोई सरहद होती,
पता तो चलता अभी कितना सफर और तय करना है।
----------
तेरी याद से शुरू होती है मेरी हर सुबह,
फिर ये कैसे कह दूँ कि मेरा दिन खराब है।
----------
सिसकियाँ लेता है वजूद मेरा गालिब,
नोंच नोंच कर खा गई तेरी याद मुझे।
~ Mirza Ghalib
----------
बैठे थे अपनी मस्ती में कि अचानक तड़प उठे,
आ कर तुम्हारी याद ने अच्छा नहीं किया।
----------
आज हम हैं कल हमारी यादें होंगी,
जब हम ना होंगे तब हमारी बातें होंगी,
कभी पलटोगे ज़िन्दगी के यह पन्ने,
तब शायद आपकी आँखों से भी बरसातें होंगी।
----------
ग़रज़ कि काट दिए ज़िंदगी के दिन ऐ दोस्त,
वो तेरी याद में हों या तुझे भुलाने में।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,
लम्हें तो अपने आप मिल जाते हैं;
कौन पूछता है पिंजरे में बंद परिंदों को,
याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं।
----------
सुना है कि तुम रातों को देर तक जागते हो,
यादों के मारे हो या मोहब्बत मे हारे हो।
----------
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
ना जाने कसी गली में ज़िन्दगी की शाम हो।
----------
अजीब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर;
सो जाऊं तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं।
----------
आज मुस्कुराने की हिम्मत नहीं मुझ में,
आज टूट कर मुझे उसकी याद आ रही है।
----------
जब जब तेरी यादों का रमज़ान आता हैं,
मेरी आँखें नींद के रोज़े रखती है।
----------
मत पूछो कि मै अल्फाज कहाँ से लाता हूँ,
ये उसकी यादों का खजाना है, बस लुटाये जा रहा हूँ।
----------
आज ये पल है, कल बस यादें होंगी;
जब ये पल ना होंगे, तब सिर्फ बातें होंगी;
जब पलटोगे जिंदगी के पन्नों को;
तो कुछ पन्नों पर आँखें नम और कुछ पर मुस्कुराहटें होंगी।
----------
कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी,
हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आता है।
----------
समझा दो तुम अपनी यादों को ज़रा;
दिन रात तंग करती हैं मुझे कर्ज़दार की तरह।
----------
हर रात रो-रो के उसे भुलाने लगे;
आंसुओं में उस के प्यार को बहाने लगे;
ये दिल भी कितना अजीब है कि;
रोये हम तो वो और भी याद आने लगे।
----------
अजीब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर;
सो जाऊं तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं।
----------
यादें अगर आँसू होती तो चली जाती;
यादें अगर लिखावट होती तो मिट जाती;
यादें ज़िंदगी में बसा वो लम्हा हैं;
जो लाख कोशिशों के बाद भी लफ़्ज़ों में नहीं सिमट पाती।
----------
बहुत अजब होती हैं यादें यह मोहब्बत की,
रोये थे जिन पलों में याद कर उन्हें हँसी आती है;
और हँसे थे जिन पलों में अब याद कर उन्हें रोना आता है।
----------
तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं;
किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
जब भी तन्हाई में उनके बगैर जीने की बात आयी;
उनसे हुई हर एक मुलाकात मेरी यादों में दौड आई।
----------
जब भी तेरी यादों को आसपास पाता हूँ;
खुद को हद दर्ज़े तक उदास पाता हूँ;
तुझे तो मिल गई खुशियाँ ज़माने भर की;
मै अब भी दिल में वही प्यास पाता हूँ।
----------
यादें आँसू होती तो छलक जाती;
यादें लिखावट होती तो मिट जाती;
यादें तो जिंदगी में बसा वो एहसास हैं;
जो लाख कोशिश के बाद भी लफ़्ज़ों में बयान नहीं होती।
----------
यकीन करो आज इस कदर याद आ रहे हो तुम;
जिस कदर तुम ने भुला रखा है मुझे।
----------
प्यार करते हैं तुमसे कितना दिखा ना सके;
तुम क्या हो हमारे लिए कभी बता ना सके;
तुम साथ नहीं हो फिर भी;
तुम्हारी याद को कभी हम भुला ना सके।
----------
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में;
फिर रात को उसकी यादों की हवा चलती है और हम फिर बिखर जाते हैं।
----------
दुनिया के ज़ोर प्यार के दिन याद आ गये;
दो बाज़ुओ की हार के दिन याद आ गये;
गुज़रे वो जिस तरफ से बज़ाए महक उठी;
सबको भरी बहार के दिन याद आ गये।
~ Khumar Barabankvi
----------
तेरी यादें भी न मेरे बचपन के खिलौने जैसी हैं;
तन्हा होता हूँ तो इन्हें लेकर बैठ जाता हूँ।
----------
अभी मशरूफ हूँ काफी कभी फुर्सत में सोचूंगा;
कि तुझको याद रखने में मैं क्या - क्या भूल जाता हूँ।
----------
यह याद है आपकी या यादों में आप हो;
यह ख्वाब है आपके या ख्वाबों में आप हो;
हम नहीं जानते बस इतना बता दो;
हम जान है आपकी या जान हमारी आप हो?
----------
अब सोचते हैं लाएँगे तुझ सा कहाँ से हम;
उठने को उठ तो आए तेरे आस्ताँ से हम।
~ Majrooh Sultanpuri
----------
समंदर के सफर में इस तरह आवाज़ दो हमको;
हवाएं तेज़ हो जायें और कश्तियों में शाम हो जाये;
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
ना जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये।
----------
बन कर अजनबी मिले थे ज़िंदगी के सफ़र में;
इन यादों के लम्हों को मिटायेंगे नहीं;
अगर याद रखना फितरत है आपकी;
तो वादा है हम भी आपको भुलायेंगे नहीं।
----------
तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी;
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी;
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा प्यार को;
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी।
----------
याद रूकती नहीं रोक पाने से;
दिल मानता नहीं किसी के समझाने से;
रुक जाती हैं धड़कनें आपको भूल जाने से;
इसलिए आपको याद करते हैं जीने के बहाने से।
----------
यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे;
मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे;
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम;
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।
----------
यादों में आपके तनहा बैठे हैं;
आपके बिना लबो की हँसी गवा बैठे हैं;
आपकी दुनिया में अँधेरा ना हो;
इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं।
----------
हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली;
कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली;
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ;
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली।
----------
यादें अगर आँसू होती तो चली जाती;
यादें अगर लिखावट होती तो मिट जाती;
यादें ज़िंदगी में बसा वो लम्हा हैं;
जो लाख कोशिशों के बाद भी लफ़्ज़ों में नहीं सिमट पाती।
----------
नया कुछ भी नहीं हमदम, वही आलम पुराना है;
तुम्हीं को भुलाने की कोशिशें, तुम्हीं को याद आना है।
----------
दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने न दिया;
जब चली सर्द हवा मैंने तुझे याद किया।
~ Josh Malihabadi
----------
तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने;
प्यार का हर फ़र्ज़ अदा किया हमने;
मत सोच कि हम भूल गए हैं तुझे;
आज भी खुदा से पहले तुझे याद किया हमने।
----------
साँस लेने से भी तेरी याद आती है;
हर साँस में तेरी खुशबू बस जाती है;
कैसे कहूँ कि साँस से मैं ज़िंदा हूँ;
जब कि साँस से पहले तेरी याद आती है।
----------
ये जो चंद फुर्सत के लम्हे मिलते हैं जीने के लिए;
मैं उन्हें भी तुम्हे सोचते हुए ही खर्च कर देता हूँ।
----------
तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी;
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी;
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा प्यार को;
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी।
----------
तुम्हारी यादों में मेरा अक्स झिलमिलाता होगा;
तुम्हारी बातों में मेरा ज़िक्र भी आता होगा;
लाख मशरूफ रहो तुम कहीं भी लेकिन;
अक्सर मेरा ख्याल तुम्हें भी सताता होगा।
----------
उसे जब याद आएगा वो पहली बार का मिलना;
तो पल पल याद रखेगा या सब कुछ भूल जायेगा;
उसे जब याद आएगा गुज़रे मौसम का हर लम्हा;
तो खुद ही रो पड़ेगा या खुद ही मुस्कुराएगा।
----------
ख्याल में आता है जब भी उसका चेहरा;
तो लबों पे अक्सर फरियाद आती है;
भूल जाता हूँ सारे गम और सितम उसके;
जब भी उसकी थोड़ी सी मोहब्बत याद आती है।
----------
हिचकियों को न भेजो अपना मुखबिर बना के;
हमें और भी काम हैं तुम्हें याद करने के सिवा।
----------
इश्क़ पाने की तमन्ना में कभी कभी ज़िंदगी खिलौना बन कर रह जाती है;
जिसके दिल में रहना चाहते हैं, वो सूरत सिर्फ याद बन कर रह जाती है।
----------
दिल की हालत बताई नहीं जाती;
हमसे उनकी चाहत छुपाई नहीं जाती;
बस एक याद बची है उनके चले जाने के बाद;
हमसे तो वो याद भी दिल से निकाली नहीं जाती।
----------
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
ना जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाये।
----------
तू नहीं तो ज़िंदगी में और क्या रह जायेगा;
दूर तक तन्हाइयों का सिलसिला रह जायेगा;
आँखें ताज़ा मंज़रों में खो तो जायेंगी मगर;
दिल पुराने मौसमों को ढूंढ़ता रह जायेगा।
----------
अजनबी शहर के अजनबी रास्ते, मेरी तन्हाई पर मुस्कुराते रहे;
मैं बहुत दूर तक यूँ ही चलता रहा, तुम बहुत देर तक याद आते रहे।
----------
अब सोचते हैं लाएँगे तुझ सा कहाँ से हम;
उठने को उठ तो आए तेरे आस्ताँ से हम।
~ Majrooh Sultanpuri
----------
जुदा होकर भी सताने से बाज़ नहीं आते;
दूर रहकर भी वो दिल जलाने से बाज़ नहीं आते;
हम तो भूलना चाहते हैं हर एक याद उनकी;
मगर वो ख्वाबों में आने से भी बाज़ नहीं आते।
----------
हर वक़्त तेरी यादें तडपाती हैं मुझे;
आखिर इतना क्यों ये सताती हैं मुझे;
इश्क तो किया था तुमने भी शौंक से;
तो क्यों नहीं यह एहसास दिलाती हैं तुझे।
----------
बिछड़ी हुई राहों से जो गुज़रे हम कभी;
हर ग़म पर खोयी हुई एक याद मिल गयी।
----------
किसी की यादों को रोक पाना मुश्किल है;
रोते हुए दिल को मनाना मुश्किल है;
ये दिल अपनों को कितना याद करता है;
ये कुछ लफ़्ज़ों में बयां कर पाना मुश्किल है।
----------
बड़ी तब्दीलियां लायें हैं हम अपने आप में;
पर तुम्हारी याद में रहने की आदत अब भी बाकी है।
----------
मोहब्बत की हवा जिस्म की दवा बन गयी;
दूरी आपकी मेरी चाहत की सज़ा बन गयी;
कैसे भूलूँ आपको एक पल के लिए भी;
आपकी याद हमारे जीने की वजह बन गयी।
----------
कोई मलाल कोई आरजू नहीं करता;
तुम्हारे बाद यह दिल गुफ्तगू नहीं करता;
कोई न कोई चीज़ मेरी टूट जाती है;
तुम्हारी याद से जब भी वज़ू नहीं करता।

अनुवाद:
वज़ू = पवित्र
~ Syed Wasi Shah
----------
हर रात रो-रो के उसे भुलाने लगे;
आंसुओं में उस के प्यार को बहाने लगे;
ये दिल भी कितना अजीब है कि;
रोये हम तो वो और भी याद आने लगे।
----------
तुमसे दूरी का एहसास जब सताने लगा;
तेरे साथ गुज़ारा हर लम्हा याद आने लगा;
जब भी कोशिश की तुम्हें भुलाने की;
तू और भी इस दिल के करीब आने लगा।
----------
बिछड़ी हुई राहों से जो गुज़रे हम कभी;
हर ग़म पर खोयी हुई एक याद मिली है।
----------
याद रूकती नहीं रोक पाने से;
दिल मानता नहीं किसी के समझाने से;
रुक जाती हैं धड़कनें आपके भूल जाने से;
इसलिए आपको याद करते हैं जीने के बहाने से।
----------
जीना चाहते हैं मगर ज़िन्दगी रास नहीं आती;
मरना चाहते हैं मगर मौत पास नहीं आती;
बहुत उदास हैं हम इस ज़िन्दगी से;
उनकी यादें भी तो तड़पाने से बाज़ नहीं आती।
----------
हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली;
कुछ यादें मेरे संग पांव पांव चली;
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ;
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली।
----------
चाँद के बिना अँधेरी रात रह जाती है;
साथ कुछ हसीन मुलाकात रह जाती है;
सच है जिंदगी कभी रूकती नहीं;
बस वक़्त निकल जाता है और याद रह जाती है।
----------
फूल शबनम में डूब जाते हैं;
जख्म मरहम में डूब जाते हैं;
जब आती है कभी याद तेरी;
हम तेरे गम में डूब जाते हैं।
----------
मालूम नहीं मंज़िल खुद मुझे अपनी;
कदम रुक जायेंगे खुद, सफर जहाँ खत्म होगा;
तुम्हें याद न करूँ ऐसा पल न कभी आये;
भूल जाऊं जिस दिन मैं तुम्हें, वो दिन आखिरी हो जाये।
----------
आज तेरी याद सीने से लगा कर हम रोये;
तन्हाई में तुझे पास बुला कर हम रोये;
कई बार पुकारा इस दिल ने तुम्हें;
हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोये।
----------
कोई प्यार पाने की ज़िद्द में है;
शायद कोई आज़माने की ज़िद्द में है;
मुझे जिस की याद आती है इतनी शिद्दत से;
शायद वो मुझ से दूर जाने की ज़िद्द में है।
----------
चलो बाँट लेते हैं अपनी सजायें;
न तुम याद आओ न हम याद आयें।
----------
तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा होता;
खबर तो होती कि सफ़र कितना तय करना है।
----------
जानता हूँ एक ऐसे शख्स को मैं भी 'मुनीर';
ग़म से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं।
~ Munir Niazi
----------
कुछ लोग भूल कर भी भुलाये नहीं जाते;
ऐतबार इतना है कि आजमाये नहीं जाते;
हो जाते हैं दिल में इस तरह शामिल कि;
उनके ख्याल दिल से मिटाये नहीं जाते।
----------
एक जुर्म हुआ है हम से एक यार बना बैठे हैं;
कुछ अपना उसको समझ कर सब राज़ बता बैठे हैं;
फिर उसकी प्यार की राह में दिल और जान गवा बैठे हैं;
वो याद बहुत आते हैं जो हुमको भुला बैठे हैं।
----------
समंदर के सफर में इस तरह आवाज़ दे हमको;
हवाएं तेज़ हो जायें और कश्तियों में शाम हो जाये;
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दे;
ना जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाये।
----------
कुछ नहीं बाकी बचा है तेरे जाने के बाद;
तड़प उठता है मेरा दिल आ जाये जो तेरी याद;
मायूस हो गया हूँ मैं अपनी सूनी ज़िंदगी से;
कोई तो हो जो समझे मेरे दिल के यह जज़्बात।
----------
हमारी बेख़ुदी का हाल वो पूछें अगर;
तो कहना होश बस इतना है कि तुम को याद करते हैं।
----------
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
न जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाए।
~ Bashir Badr
----------
मेरी गुफ्तुगू के हर अंदाज़ को समझता है;
एक वही है जो मुझ पे एतमाद रखता है;
दूर होकर भी मुझसे वो है इतना क़रीब;
ऐसा लगता है मेरे आस-पास रहता है।
----------
सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली;
एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली;
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर;
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।
----------
कितनी जल्दी ज़िन्दगी गुज़र जाती है;
प्यास बुझती नहीं और बरसात चली जाती है;
आप की यादें कुछ इस तरह आती हैं;
नींद आती नहीं और रात गुज़र जाती है!
----------
हर वक़्त हम आप को याद करते हैं;
गिण-गिण के साँसे हम उधार लिया करते हैं;
आप को क्या पता मर कर भी हम आप की याद में साँसे लिया करते हैं।
----------
उनसे दूर जाने का इरादा ना था;
सदा साथ रहने का वादा भी ना था;
वो याद नहीं करेंगे जानते थे हम;
पर इतनी जल्दी भुल जाऐंगे अंदाज़ा ना था।
----------
उसकी आदत पड़ गई है मुझे, जो छुड़ाए नही छुटती;
खुद धुंधला पड़ गया हूँ मैं, उसे याद करते-करते;
अब उसे न सोचू तो जिस्म टूटने सा लगता है;
एक वक़्त गुजरा है उसके नाम का नशा करते-करते।
----------
लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे;
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे;
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद;
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।
~ Rahat Indori
----------
बहुत जी चाहता है कैद​-​ए​-​जाँ से हम निकल जायें​;​
तुम्हारी याद भी लेकिन इसी मलबे में रहती है।
~ Munawwar Rana
----------
सारी उम्र आंखो मे एक सपना याद रहा;
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा;​
​ना जाने क्या बात थी उनमे और हममे;​
​सारी महफ़िल भूल गए बस वह चेहरा याद रहा ​। ​
----------
रेख़ती के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ग़ालिब​;​​​​
कहते हैं अगले ज़माने में कोई मीर भी था।
~ Mir Taqi Mir
----------
​कब्र के सन्नाटे में से एक आवाज़ आयी;
किसी ने फूल रख के आंसूं की दो बूंद बहायी;
जब तक था जिंदा तब तक ठोकर खायी;
अब सो रहा हूं तो उसको मेरी याद आयी।
----------
याद आते हैं तो कुछ भी नहीं करने देते​;​
अच्छे लोगों की यही बात बहुत बुरी लगती है ​।
----------
किसी की यादों ने पागल बना रखा है;
कहीं मर ना जाऊं कफ़न सिला रखा है;
जलने से पहले दिल निकाल लेना;
कहीं वो ना जल जाए जो दिल में छुपा रखा है।
----------
​यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं है मेरा​ शराब से​;
​ इश्क की राहों में तन्हा मिली​ हमसफ़र बन गई....
----------
तुझको याद करके रोता है अब दीवाना तेरा;
जो ना भूल पाएगा कभी भी ठुकराना तेरा;
तुम हमें भूल जाओ शायद ये फितरत है तेरी;
मुश्किल है हमारे लिए प्यार भुलाना तेरा।
----------
तुम्हारी याद के सहारे जिए जाते है;
वरना हम तो कब के मर गए होते;
जो जख्म दिल में नासूर बन गए;
जख्म वो कब के भर गए होते।
----------
एक तेरी ख़ामोशी जला देती है इस पागल दिल को;
बाकी तो सब बातें अच्छी हैं तेरी तस्वीर में।
----------
बेताब से रहते हैं उसकी याद में अक्सर;
रात भर नहीं सोते हैं उसकी याद में अक्सर;
जिस्म में दर्द का बहाना सा बना कर;
हम टूट कर रोते हैं उसकी याद में अक्सर।
----------
अभी-अभी वो मिला था हज़ार बातें कीं;
अभी-अभी वो गया है मगर ज़माना हुआ।
~ Ahmad Faraz
----------
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं;
मौत इंसानों को आती है यादों को नहीं।
----------
यह मोहब्बत भी है क्या रोग फ़राज़;
जिसे भूले वो सदा याद आया।
~ Ahmad Faraz
----------
हर वक़्त तेरी यादें तड़पाती हैं मुझे;
आखिर इतना क्यों ये सताती है मुझे;
इश्क तो किया था तूने भी गर्व से;
तो यही एहसास क्यों नहीं दिलाती है तुझे।
----------
यादों में हमारी वो भी कभी खोए होंगे;
खुली आँखों से कभी वो भी सोए होंगे;
माना हँसना है अदा ग़म छुपाने की;
पर हँसते-हँसते कभी वो भी रोए होंगे।
----------
हर एक मजार पर उदासी छाई है;
चाँद की रौशनी में भी कमी आई है;
अकेले अच्छे थे हम अपने आशियाने में;
जाने क्यों टूटकर आज फिर आपकी याद आई है।
----------
तन्हा हो कभी तो मुझे ढूंढ लेना;
इस दुनियां से नहीं अपने दिल से पूछ लेना;
आपके आस पास ही कहीं रहते हैं हम;
यादों से नहीं तो साथ गुज़ारे लम्हों से पूछ लेना​।
----------
करूं न याद उसे मगर किस तरह भुलाऊं उसे;
ग़ज़ल बहाना करूं और गुनगुनाऊं उसे।
~ Ahmad Faraz
----------
अकेला सा महसूस करो जब तन्हाई में;
याद मेरी आए जब जुदाई में;
महसूस करना तुम्हारे ही पास हूँ मैं;
जब चाहे मुझे देख लेना अपनी परछाई में।
----------
यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए;
कोई रूठ जाता है मनाने के लिए;
रिश्ते निभाना कोई मुश्किल तो नहीं;
बस दिलों में प्यार चाहिए उसे निभाने के लिए।
----------
हमसे दूर होकर हमारे पास हो तुम;​​
हमारी सूनी ज़िंदगी की आस हो तुम;
कौन कहता है हमसे बिछड़ गए हो तुम;
हमारी यादों में हमारे साथ हो तुम।
----------
वो चाँद है मगर आप से प्यारा तो नहीं;
परवाने का शमा के बिन गुजारा तो नहीं;
मेरे दिल ने सुनी है एक मीठी सी आवाज़;
कहीं आपने मुझे पुकारा तो नहीं।
----------
सिर्फ देख के किसी को दिल की बात नहीं होती;
मुलाकात हो फिर भी कभी बरसात नहीं होती;
जानते है तुम कभी हमारे ना हो पाओगे;
फिर भी इस दिल में कभी रात नहीं होती।
----------
ज़िक्र अक्सर तेरा ही आता हैं हर अफ़साने में;
तुझे जान से ज्यादा चाहा हमने ज़माने में;
तन्हाई में तेरा ही सहारा मिला;
नाकाम रहे तुझे अक्सर हम भुलाने में।
----------
तेरे बगैर इस जिंदगी की हमें जरुरत नहीं;
तेरे सिवा हमें किसी और की चाहत नहीं;
तुम ही रहोगे हमेशा मेरे दिल में;
किसी और को इस दिल में आने की इजाजत नहीं।
----------
किस जगह रख दूँ मैं, तेरी याद के चराग़ को
कि रौशन भी रहूँ और हथेली भी ना जले।
----------
बताओ है कि नहीं मेरे ख्वाब झूठे;
कि जब भी देखा तुझे अपने साथ देखा।
----------
हर बात समझाने के लिए नहीं होती;
ज़िंदगी अक्सर कुछ पाने के लिए नहीं होती;
याद अक्सर आती है आपकी;
पर हर याद जताने के लिए नहीं होती।
----------
​मेरी तन्हाइयां करती हैं ​जिन्हें याद सदा;
उन को भी मेरी ज़रुरत हो ज़रूरी तो नहीं।
----------
​उनसे मिलने को जो सोचों अब वो ज़माना नहीं;​
​ घर भी कैसे जाऊं अब तो कोई बहाना नहीं​;
​ मुझे याद रखना कहीं तुम भुला न देना;​
​​ माना के बरसों से तेरी गली में ​आना-जाना नहीं।
----------
मुझे ये डर है तेरी आरज़ू ना मिट जाए;
बहुत दिनों से तबियत मेरी उदास नहीं।
----------
क्या अच्छा क्या बुरा क्या भला देखा;
जब भी देखा तुझे अपने रु-बरु देखा;
सोचा बहुत भूलकर भी सोचूँ ना तुझे;
जिस रात आँख लगी फिर तुझे हर सू देखा।
----------
​उम्र की राह में ​रा​स्ते बदल जाते हैं​;
वक़्त ​की आंधी में इंसान बदल जाते हैं​;​
सोचते हैं तुम्हें इतना याद न करे लेकिन​;​
आँख बंद करते ही ​ख़यालात बदल जाते हैं।
----------
ये आरज़ू थी कि ऐसा भी कुछ हुआ होता;
मेरी कमी ने तुझे भी रुला दिया होता;
मैं लौट आती तेरे पास एक लम्हे में;
तेरे लबों ने मेरा नाम तो लिया होता!
----------
याद कर के भूलना ही न आया हमें;
किसी के दिल को सताना ही ना आया हमें;
किसी के लिए तड़पना तो सीख लिया;
पर अपने लिए किसी को तड़पाना न आया हमें।
----------
​मैंने कोशिश के बाद उसे भुला दिया;​​
​उसकी यादों को सीने से मिटा दिया;​​
​एक दिन फिर उसका पैगाम आया;​​
​लिखा था मुझे भूल जाओ और​;​​
मुझे हर लम्हा फिर याद दिला दिया​।
----------
ये अच्छा उसने मेरे कतल का तरीका ईजाद किया;
मर जाता मैं हिचकियो से, इतना मुझे याद किया।
----------
​खयालों में ​उसके मैंने बिता दी ज़िंदगी सारी;​​
​​इबादत कर नहीं पाया खुदा! नाराज़ मत होना​।
----------
​याद आती है तुम्हारी तो सिहर जाता हूँ मैं​;​
देख कर साया तुम्हारा अब तो डर जाता हूँ मैं​;​
अब न पाने की तमन्ना है न है खोने का डर​;​
जाने क्यूँ अपनी ही चाहत से मुकर जाता हूँ मैं​।
----------
​आप से जब से हमारी यारी हो गई;​
​दुनिया और भी हमारी प्यारी हो गई;​
इस से पहले हम किसी भी चीज के आदी न थे;​
​​पर अब आप को याद करने की बीमारी हो गई।
----------
​उनकी याद में जलना अजीब लगता है​;​
धीरे-धीरे से पिघलना अजीब लगता है​;​
सारी दुनियाँ के बदलने से ​हमे फर्क नहीं ​पड़ता;
बस कुछ अपनों का बदलना अजीब लगता है​।
----------
ए दोस्‍त तेरी दोस्‍ती पे नाज करते है;
हर वक़्त मिलने की फरियाद करते है;
हमें नहीं पता घरवाले बताते है;
के हम नींद में भी आपकी बात करते है।
----------
मौत के बाद भी याद आ रहा है कोई;
दिल के दर्द दिल से ले जा रहा हैं कोई;
ऐ खुदा दो दिन की मोहलत दे दे मुझे;
मेरी याद में उदास जा रहा है कोई।
----------
यह कौन राह दिखाकर चला गया मुझको;
मैं जिंदगी में भला किसके काम आया था।
----------
दिल तड़पता रहा और वो जाने लगे;
संग गुज़रे हर लम्हें याद आने लगे;
खामोश नज़रों से देखा जो उसने मुड कर;
भीगी पलकों से हम भी मुस्कराने लगे।
----------
वो दिन दिन नही..वो रात रात नही;
वो पल पल नही जिस पल आपकी बात नही;
आपकी यादों से मौत हमे अलग कर सके;
मौत की भी इतनी भी औकात नही।
----------
छोड़ दिया हमारा साथ कोई गम नहीं;
भूल जायेंगे आप हमें, पर भूलने वाले हम नहीं;
आप से मुलाक़ात ना हो पाई तो कोई बात नहीं;
आपकी एक याद मुलाकात से कम नहीं।
----------
सांस थम जाती हैं, पर जान नहीं जाती;
दर्द होता है, पर आवाज नहीं आती;
अजीब लोग हैं इस जमाने में;
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।
----------
गुज़रे हैं तेरे बाद भी कुछ लोग इधर से;
लेकिन तेरी खुशबू न गई राह गुज़र से।
----------
यहीं पर सारे चमन की बहार थी कल तक;
पड़ी है आज जहाँ ख़ाक आशियाने की।
----------
यादों की किम्मत वो क्या जाने;
जो ख़ुद यादों को मिटा दिए करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं!
----------
सारी उम्र आंखो मे एक सपना याद रहा;
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा;
ना जाने क्या बात थी उनमे और हममे;
सारी महफ़िल भुल गये बस वह चेहरा याद रहा!
----------
तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी;
वरना हमको कहां तुम से शिकायत होगी;
ये तो बेवफ़ा लोगों की दुनिया है;
तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी!
----------
अगर यूँही ये दिल सताता रहेगा;
तो इक दिन मेरा जी ही जाता रहेगा;
मैं जाता हूँ दिल को तेरे पास छोड़े;
ये मेरी याद तुझको दिलाता रहेगा!
----------
काश वो एक नया तरीका मेरे क़त्ल का इज़ाद करें;
मर जाऊ मैं हिचकियों से वो इस कदर मुझे याद करें!
----------
ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा;
मैं खुद तन्हा रहा मगर दिल को तन्हा नहीं रखा;
तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज़ रखे हैं;
तुम्हारी नफरतों की पीड़ को ज़िंदा नहीं रखा!
----------
वो रूठे इस कदर की मनाया ना गया;
दूर इतने हो गए कि पास बुलाया ना गया;
दिल तो दिल था कोई समंदर का साहिल नहीं;
लिख दिया था जो नाम वो फिर मिटाया ना गया!
----------
अपने दिल की सुन अफवाहों से काम ना ले;
मुझे दिल में रख बेशक मेरा नाम ना ले;
ये वहम है तेरा कि तुझे भूल जायेंगे हम;
मेरी कोई ऐसी साँस नहीं जो तेरा नाम ना ले!
----------
कौन कहता है तेरी याद से बेख़बर हूँ मैं;
ज़रा बिस्तर की सिलवटो से पूँछ, मेरी रात कैसे गुजरती है?
----------
न तस्वीर है आपकी जो दीदार किया जाए;
न आप पास हैं जो बात की जाए;
ये कौन सा एहसास दिया है आपने;
न कुछ कहा जाए, न रहा जाए!
----------
यूँ तो कई बार भीगे बारिश में;
मगर ख्यालों का आँगन सूखा ही रहा;
जब आँखों की दीवारें गीली हुई उसकी यादो से;
तब ही जाना हम ने बारिश क्या होती है!
----------
कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए;
जब भी तेरी याद सी आई तुझे भुला के रोए;
एक तेरा ही तो नाम था जिसे हज़ार बार लिखा;
जितना लिख के खुश हुए उससे ज्यादा मिटा के रोए!
----------
कुछ यादगार-ए-शहर-ए-सितमगर ही ले चलें;
आये हैं तो फिर गली में से पत्थर ही ले चलें;
रंज-ए-सफ़र की कोई निशानी तो पास हो;
थोड़ी-सी ख़ाक-ए-कूचा-ए-दिलबर ही ले चलें!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
बनकर अजनबी मिले थे जिन्दगी के सफर में;
इन यादों के लम्हों को मिटायेंगे नही;
अगर याद रखना फितरत है आपकी;
तो वादा है हम भी आपको कभी भुलायेंगे नही।
----------
कितने चेहरे हैं इस दुनिया में;
मगर हमको एक चेहरा ही नाज़ार आता है;
दुनिया को हम क्या देखें;
उसकी यादों में सारा वक़्त गुजर जाता है।
----------
उसकी बातें बार बार याद करके रोई;
उसके लिए रब से फ़रियाद करके रोई;
उसकी ख़ुशी के लिए छोड़ दिया उसे;
फिर उसी की कमी का एहसास करके रोई।
----------
साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएगें जरूर;
प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे जरूर;
राह में कितने भी कांटे क्यों न हो;
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आयेंगे जरूर।
----------
कौन कहता है उसके बिना मैं मर जाऊंगा;
दरिया हूँ सागर में उतर जाऊंगा।
----------
अगर जिंदगी में जुदाई ना होती;
तो कभी किसी की याद आई ना होती;
साथ ही गुजरता हर लम्हा तो शायद;
रिश्तों में इतनी गहराई ना होती।
----------
रात की खामोशी रास नहीं आती;
मेरी परछाईं भी अब मेरे पास नहीं आती;
कुछ आती भी है तो बस तेरी याद;
जो आकर भी एक पल भी मुझसे दूर नहीं जाती।
----------
शाम होते ही चिरागों को बुझा देता हूँ;
ये दिल ही काफी है तेरी याद में जलने के लिए।
----------
कस्तियाँ रह जाती हैं तूफान चले जाते हैं;
याद रह जाती है इंसान चले जाते हैं;
प्यार कम नहीं होता किसी के दूर जाने से;
बस दर्द होता है उनकी याद आने से।
----------
छोड़ दिया हमारा साथ कोई गम नहीं;
भूल जायेंगे आप हमें, पर भूलने वाले हम नहीं;
आप से मुलाक़ात ना हो पाई तो कोई बात नहीं;
आपकी एक याद मुलाकात से कम नहीं।
----------
सारी उम्र आँखों में एक सपना याद रहा;
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा;
न जाने क्या बात थी उनमें और हम में;
सारी महफिल भूल गए बस वही एक चेहरा याद रहा।
----------
यादों की कीमत वो क्या जाने;
जो ख़ुद यादों को मिटा दिए करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं!
----------
बन के अजनबी मिले थे जिन्दगी के सफर में;
इन यादों के लम्हों को मिटायेंगे नहीं;
अगर याद रखना फितरत है आपकी;
तो वादा है हम भी आपको कभी भुलायेंगे नहीं।
----------
भूलना मेरी आदत नहीं, यादाश्त चली जाये तो और बात है;
आपकी याद आती है, हर सांस के साथ;
अगर मेरी सांस ही टूट जाये तो और बात है।
----------
यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम;
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम;
जिसको जितना याद करते हैं;
उसे भी उतना याद आयें हम!
----------
तेरे लिए खुद को मजबूर कर लिया;
ज़ख्मो को अपने नासूर कर लिया;
मेरे दिल में क्या था ये जाने बिना;
तुने खुद को हमसे कितना दूर कर लिया!
----------
आदतन तुमने कर दिये वादे, आदतन हमनेँ भी ऐतबार किया;
तेरी राहोँ मेँ हर बार रुककर, हमनेँ अपना ही इंतजार किया!
गुलजार
----------
हर यादों में उनकी याद रहती है;
मेरी आँखों को उनकी तलाश रहती है;
दुवा करो वो मुझको मिल जाए यारो;
सुना है दोस्तों की दुआ में फरिश्तों की आवाज़ होती है!
----------
जब महफ़िल में भी तन्हाई पास हो;
रोशनी में भी अँधेरे का एहसास हो;
तब किसी खास की याद में मुस्कुरा दो;
शायद वो भी आपके इंतजार में उदास हो!
----------
कहानी बन के जियें हैं; वो दिल के आशियानों में!
हमको भी लगेगी सदियाँ; उन्हें भुलाने में!
----------
ज़िक्र उनका ही आता है मेरे फ़साने में;
जिनको जान से ज्यदा चाहते थे हम किसी ज़माने में!
तन्हाई में उनकी ही याद का सहारा मिला;
जिनको नाकाम रहे हम भुलानें में!
----------
बचपन की वो अमीरी न जाने कहाँ खो गयी;
जब बारिश के पानी में, हमारे भी जहाज तैरा करते थे!
----------
पलकों से आँखों की हिफाजत होती है;
दिल तो धड़कन की अमानत होती है!
ये यादो का रिश्ता भी बड़ा अजीब है;
करो तो तकलीफ और न करो तो शिकायत होती है!
----------
मेरे इश्क ने सीख ली है अब वक़्त की तकसीम...
वो मुझे बहुत कम याद आता है;
सिर्फ इतना...दिल की हर एक धड़कन के साथ!
----------
किसी को क्या हासिल होगा मुझे याद करने से, दोस्तो...मैं तो एक आम इंसान हूँ;
और यहाँ तो, हर किसी को ख़ास की तलाश है!
----------
जाने उस शक्स को कैसा ये हुनर आता है;
रात होती है तो आँख में उतर आता है;
मैं उसके ख्याल से निकलूं तो कहाँ जाऊं;
वो मेरी सोच के हर रास्ते पर नज़र आता है!
----------
बड़ी तब्दीलियाँ लायें हैं अपने आप में लेकिन;
तुम्हे बस याद करने की, वो आदत अभी बाकी है!
----------
अब उदास होना भी अच्छा लगता है!
किसी का पास न होना भी अच्छा लगता है!
मैं दूर रह कर भी किसी की यादों में हूँ!
ये एहसास होना भी अच्छा लगता है!
----------
उनसे दूर जाने का इरादा तो न था;
सदा-साथ रहने का भी वादा तो न था;
वो याद आयेगा, ये जानते थे हम;
पर इतना याद आयेगा, अंदाज़ा तो न था!
----------
दुनिया में कोई किसी के लिए कुछ नहीं करता;
मरने वाले के साथ हर कोई नहीं मरता;
अरे…मरने की बात तो दूर रही;
यहाँ तो जिंदगी है फिर भी कोई याद नहीं करता;
वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए!
----------
यादों में हम रहें ये एहसास रखना;
नज़रों से दूर सही दिल के पास रखना;
ये नहीं कहते कि साथ रहो दूर सही पर याद रखना!
----------
करोगे याद गुजरे जमाने को,
तरसोगे हमारे साथ एक पल बिताने को,
फिर आवाज़ दोगे हमे वापिस बुलाने को,
और हम कहेंगे दरवाजा नहीं है कबर से बाहर आने को!
----------
हर पल ने कहा एक पल से,
पल भर के लिये आप मेरे सामने आ जाओ...
पल भर का साथ कुछ ऐसा हो...
कि हर पल तुम ही याद आओ!
----------
किसी ने हमसे पूछा कि वादों और यादो में क्या फर्क होता है? हमने बस इतना ही कहा कि `वादों को तो इंसान तोड़ देता है` पर `यादे इंसान को तोड़ देती है`!
----------
कुछ तो बात है तेरी फितरत में ऐ दोस्त;
वरना तुझ को याद करने की खता हम बार-बार न करते!
----------
यादे अजीब होती हैं;
बता के नहीं आती और रुला कर भी नहीं जाती!
----------
किसी की यादों ने हमने तनहा कर दिया;
वरना हम अपने आप में किसी महफ़िल से काम न थे!
----------
तेरी आँखों में हमे जाने क्या नज़र आया!
तेरी यादों का दिल पर सरुर है छाया!
अब हमने चाँद को देखना छोड़ दिया!
और तेरी तस्वीर को दिल में छुपा लिया!
----------
गर्दिश में सितारे होतें हैं!
सब दूर किनारे होतें हैं!
यूँ देख के यादों की लहरें!
हम बैठ किनारे रोते हैं!
----------
जीना चाहते हैं मगर ज़िन्दगी रास नहीं आती!
मरना चाहते हैं मगर मौत पास नहीं आती!
बहुत उदास हैं हम इस ज़िन्दगी से!
उनकी यादें भी तो तड़पाने से बाज़ नहीं आती!
----------
न वो आ सके न हम कभी जा सके!
न दर्द दिल का किसी को सुना सके!
बस बैठे है यादों में उनकी!
न उन्होंने याद किया और न हम उनको भुला सके!
----------
बड़ी कोशिश के बाद उन्हें भूला दिया!
उनकी यादों को दिल से मिटा दिया!
एक दिन फिर उनका पैगाम आया लिखा था मुझे भूल जाओ!
और मुझे भूला हुआ हर लम्हा याद दिला दिया!
----------
कभी किसी सपने को दिल से लगाया करो!
किसी के ख्वाबों में आया-जाया करो!
जब भी जी हो कि कोई तुम्हें भी मनाये!
बस हमें याद करके रूठ जाया करो!
----------
सारी उम्र आँखों में एक सपना याद रहा!
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा!
न जाने क्या बात थी उन मे और हम मे!
सारी महफिल भूल गए बस वही एक चेहरा याद रहा!
----------
आज यह कैसी उदासी छाई है!
तन्हाई के बादल से भीगी जुदाई है!
रोया है फिर मेरा दिल!
जाने आज किसकी याद आई है!
----------
फूल खिलते हैं खिल कर बिखर जाते है!
फूल खिलते हैं खिल कर बिखर जाते हैं!
यादे तो दिल में रहती है दोस्त मिल कर बिछड़ जाते है!
----------
ये याद है आपकी या यादों में आप हो?
ये ख्वाब है आपके या ख्वाबों में आप हो?
हम नहीं जानते बस इतना बता दो!
हम जान है आपकी या जान हमारी आप हो?
----------
दूर है आपसे तो कुछ गम नहीं!
दूर रह कर भूलने वाले हम नहीं!
रोज़ मुलाक़ात न हो तो क्या हुआ!
आपकी याद आपकी मुलाक़ात से कम नहीं!
----------
समझा दो अपनी यादों को!
वो बिना बुलाये पास आया करती है!
आप तो दूर रहकर सताते हो मगर!
वो पास आकर रुलाया करती है!
----------
जब से तेरी चाहत अपनी ज़िन्दगी बना ली है!
हम ने उदास रहने की आदत बना ली है!
हर दिन हर रात गुजरती है तेरी याद में!
तेरी याद हमने अपनी इबादत बना ली है!
----------
याद में तेरी आँहें भरता है कोई!
हर साँस के साथ तुझे याद करता है कोई!
मौत तो सचाई है आनी है!
लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज मरता है कोई!
----------
भुला देना उसे जो रुला जाये!
याद रखना उसे जो निभा जाये!
वादा आपसे करेंगे बहुत लोग!
मगर दिल की बात कहना उससे जिसके बिना एक पल न रहा जाये!
----------
अपनी यादों में हम तुम्हें बसाना चाहते है!
अपने पास तुम्हें हम बुलाना चाहते है!
थक गए हम तुम्हें याद करते करते!
अब हम तुम्हें याद आना चाहते है!
----------
दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया!
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया!
हम से लोग हैं नाराज़ किस लिये!
हमने कभी किसी को खफा तो नहीं किया!
----------
उस अजनबी का यूँ न इंतज़ार करो!
इस आशिक दिल का न ऐतबार करो!
रोज़ निकला करें किसी के याद में आंसू!
इतना न कभी किसी से प्यार करो!
----------
दिल तेरी याद में आहें भरता है!
मिलने को पल पल तड़पता है!
मेरा यह सपना टूट न जाये कहीं!
बस इसी बात से दिल डरता है!
----------
रात हुई जब शाम के बाद!
तेरी याद आई हर बात के बाद!
हमने खामोश रहकर भी देखा!
तेरी आवाज़ आई हर सांस के बाद!
----------
दिल जब टूटता है तो आवाज नहीं आती!
हर किसी को मुहब्बत रास नहीं आती!
ये तो अपने-अपने नसीब की बात है!
कोई भूलता नहीं और किसी को याद भी नहीं आती!
----------
याद किसी को करना ये बात नहीं जताने की!
दिल पे चोट देना आदत है ज़माने की!
हम आपको बिल्कुल नहीं याद करते!
क्योकि याद किसी को करना निशानी है भूल जाने की!
----------





यादों की कीमत वो क्या जाने,
जो ख़ुद यादों के मिटा दिया करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
सिर्फ यादों के सहारे ही जिया करते हैं।
----------
चले जायेंगे मगर यादें सुहानी छोड़ जायेंगे;
आपके दिल में अपनी निशानी छोड़ जायेंगे;
कभी रोयेंगे तो कभी मुस्कुरायेंगे;
हम इश्क़ की ऐसी कहानी छोड़ जायेंगे।
----------
यादों की भीड़ में आप की परछाई सी लगती है;
कानों में कोई आवाज़ एक शहनाई सी लगती है;
जब आप करीब हैं तो अपना सा लगता है;
वर्ना सीने में सांस भी पराई सी लगती है।
----------
मेरी आँखें तेरे दीदार को तरसती हैं;
मेरी नस-नस तेरे प्यार को तरसती हैं;
तू ही बता दे कि तुझे बताएं कैसे;
कि मेरी रूह तक तेरी याद में तड़पती है।
----------
उन हसीन पलों को याद कर रहे थे;
आसमान से आपकी बात कर रहे थे;
सुकून मिला जब हमें हवाओं ने बताया;
आप भी हमें याद कर रहे थे।
----------
कभी दिल को कभी शमा को जला कर रोये;
तेरी याद को दिल से लगा कर हम रोये;
रात की गोद में जब सो गयी सारी दुनिया;
चाँद को तेरी तस्वीर बना कर हम रोये।
----------
दिल की बात किसी से कही नहीं जाती;
दिल की हालत अब हमसे सही नहीं जाती;
तड़पती तो होगी वो भी हमारी तरह;
वरना यूँ ही किसी की याद हर पल नहीं आती।
----------
कौन कहता है हम आपको याद नहीं करते;
करते तो हैं मगर इज़हार नहीं करते;
सोचते हैं कहीं यादें बिखर न जायें;
इसलिए हर बार दीदार नहीं करते।
----------
दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ;
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ;
इस दिल में दर्द नहीं यादें हैं उसकी;
अब यादें ही मुझे दर्द दें तो इल्ज़ाम क्या दूँ।
----------
यादों की भीड़ में आप की परछाई सी लगती है;
कानों में कोई आवाज़ एक शहनाई सी लगती है;
जब आप करीब हैं तो अपना सा लगता है;
वर्ना सीने में सांस भी पराई सी लगती है।
----------
बिखरे अश्कों के मोती हम पिरो न सके;
तेरी याद में सारी रात सो न सके;
मिट न जाये आँसुओं से याद;
यही सोच कर हम रो न सके।
----------
अजीब लगती है शाम कभी-कभी;
ज़िंदगी लगती है बेजान कभी-कभी;
समझ आये तो हमें भी बताना;
कि क्यों करती हैं यादें परेशान कभी-कभी।
----------
एक आरज़ू सी है कि उन्हें भूल जाएँ हम;
मगर उनकी यादों के आगे तो यह हसरत भी हार जाती है।
----------
मेरी आँखें तेरे दीदार को तरसती हैं;
मेरी नस-नस तेरे प्यार तरसती है;
तू ही बता कि तुझे बताऊँ कैसे;
कि मेरी रूह तक तेरी याद में तड़पती है।
----------
अजीब लगती है शाम कभी-कभी;
ज़िंदगी लगती है बेजान कभी-कभी;
समझ आये तो मुझे भी बताना कि;
क्यों करती हैं यादें परेशान कभी-कभी।
----------
साँस लेने से उसकी याद आती है;
और ना लेने पे जान जाती है;
कैसे कह दूँ की सिर्फ़ साँसों क सहारे जिंदा हूँ;
कमब्खत साँस भी तो उसकी याद के बाद आती है।
----------
दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ;
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ;
इस दिल में दर्द नहीं यादें हैं उसकी;
अब यादें ही मुझे दर्द दें तो उसे इलज़ाम क्या दूँ।
----------
साथ हमारा चाहे पल भर का सही;
पर वो पल ऐसे जैसे कोई कल नहीं;
न हो ज़िन्दगी में शायद फिर मिलना हमारा;
पर महकती रहेंगी तुम्हारी यादें हमारे संग यूँ ही!
----------
हम तो अपने दिल से किसी की याद मिटाते नहीं;
इतनी बेरुखी से किसी को भुलाते नहीं;
पर अपनी तक़दीर ही ऐसी है;
हम लाख चाहकर भी किसी को याद आते नहीं।
----------
वो याद आए भुलाते-भुलाते;
दिल के ज़ख्म उभर आए छुपाते-छुपाते;
सिखाया था जिसने गम में मुस्कुराना;
उसी ने रुला दिया हँसाते-हँसाते।
----------
उसकी याद ने आज फिर रुला दिया;
कैसा है वो चेहरा जिसने ये सिला दिया;
ग़मों में रहने का जिसे तरीका ना था;
उसकी याद ने ढेरों ग़मों के साथ जीना सिखा दिया।
----------
आँखों में रहने वालों को याद नहीं करते;
दिल में रहने वालों की बात नहीं करते;
हमारी तो रूह में बस गए हो आप;
तभी तो आपसे मिलने की फ़रियाद नहीं करते।
----------
मोहब्बत का इशारा याद रहता है;
हर प्यार को अपना प्यार याद रहता है;
दो पल जो प्यार की बाहों में गुज़रे हों;
मौत तक वो नज़ारा याद रहता है।
----------
चाँद की जुदाई में आसमान भी तड़प गया;
उसकी झलक पाने को हर सितारा तरस गया;
बादल का दर्द क्या कहूं;
चाँद की याद में वो तो हँसते-हँसते बरस गया।
----------
तेरी याद में आंसुओं का समंदर बना लिया;
तन्हाई के शहर में अपना घर बना लिया;
सुना है लोग पूजते हैं पत्थर को;
इसीलिए मैंने अपना दिल पत्थर बना लिया।
----------
ये ज़िंदगी बिन तेरे भी कट जाएगी;
पर कुछ कमी तो जरुर रह जाएगी;
कल को तड़पाएगी तो कभी तरसाएगी;
हर लम्हा जब भी तेरी याद आएगी।
----------
कैसा वक़्त है यह, उसे फुर्सत नहीं मुझे याद करने की;
कभी वो शख्स मेरी ही सांसों से जिया करता था।
----------
जब भी आपसे मिलने की तक़दीर नज़र आई;
मुझे पाँव में बँधी ज़ंजीर नज़र आई;
तेरी याद में निकल पड़े मेरे आँसू;
हर आँसू में तेरी तस्वीर नज़र आई।
----------
अगर मेरी याद आए तो चाँद को देख लेना;
ये सोच कर नहीं कि खूबसूरत है कितना;
बल्कि यह सोच कर कि हज़ारों सितारों में तन्हा है कितना।
----------
पानी का एक कतरा आँख से गिरा अभी;
क्या तुमने मुझको याद किया अभी;
तुझसे मिले ज़माना हुआ मगर;
यूँ लगा कोई मुझसे मिल कर गया अभी।
----------
ज़ख्म मोहब्बत में हमने खाए हैं;
चिराग उनकी राहों में जलाए हैं;
हर होंठ पर हैं वो गीत मेरे;
जो उनकी याद में हमने गाए हैं।
----------
बूँदें बारिश की यूँ ज़मीन पर आने लगी;
सोंदी सी महक माटी की जगाने लगी;
हवाओं में भी जैसे मस्ती छाने लगी;
वैसे ही हमें भी आपकी याद आने लगी।
----------
ना वो आ सके, ना हम जा सके;
दर्द दिल का किसी को ना सुना सके;
यादों को लेकर बैठें हैं आस में उनकी;
ना उन्होंने याद किया, ना हम उन्हें भुला सके।
----------
जीना चाहते हैं पर ज़िंदगी रास नहीं आती;
मौत चाहते हैं पर मौत पास नहीं आती;
उदास हैं हम इस ज़िंदगी से;
पर उसकी यादें तरसाने से बाज़ नहीं आती।
----------
चाहो तो दिल से हम को मिटा देना;
चाहो तो हम को भुला देना;
पर यह वादा करो कि आए जो कभी याद हमारी;
रोना मत सिर्फ मुस्कुरा देना।
----------
पाने से खोने का मज़ा कुछ और है;
बंद आँखों से देखने का मज़ा कुछ और है;
आंसू बने लफ्ज़ और लफ्ज़ बने ग़ज़ल;
तेरी यादों के साथ जीने का मज़ा कुछ और है।
----------
हर बात समझाने के लिए नहीं होती;
ज़िंदगी हमेशा पाने के लिए नहीं होती;
याद तो आती है आपकी हर पल;
पर हर याद जताने के लिए नहीं होती।
----------
किसी भी मोड़ पर हम आपको खोने नहीं देंगे;
जुदा होना भी चाहो हम होने नहीं देंगे;
चाँदनी रातों में आएगी हमारी याद;
हमारी यादों के वो पल आपको सोने नहीं देंगे।
----------
तिनकों से बना पल, पल से बना लम्हा;
और लम्हों ने वक़्त को चुना;
हर पल कोई किसी के साथ नहीं रह सकता;
इसीलिए तो खुदा ने यादों को चुना।
----------
समझा दो अपनी यादों को;
वो बिन बुलाए पास आया करती हैं;
आप तो दूर रहकर सताते हो मगर;
वो पास आकर रुलाया करती हैं।
----------
एक दिन हमारे आँसू हमसे पूछ बैठे;
हमें रोज़-रोज़ क्यों बुलाते हो;
हमने कहा हम याद तो उन्हें करते हैं;
तुम क्यों चले आते हो।
----------
दो कदम तो सब साथ चलते हैं;
पर ज़िंदगी भर का साथ कोई नहीं निभाता;
अगर रो कर भुलाई जाती यादें;
तो हँस कर कोई गम नहीं छुपाता।
----------
बूँद-बूँद से है सागर की गहराई;
इसकी हर बूँद है मुझ में समाई;
कोई मांगे तो एक बूँद ना दे सकेंगे;
क्योंकि हर बूँद में है आपकी याद समाई।
----------
यूँ ही मुड़कर ना देखा होगा उन्होंने;
अभी कुछ चाहत तो बाकी होगी;
भले ही जी रहे होंगे कितने सुकून से वो;
तड़पने के लिए हमारी बस एक याद ही काफी होगी।
----------
कुछ लोग जिंदगी मे इस कदर शामिल हो जाते हैं;
अगर भूलना चाहो तो और याद आते हैं;
बस जाते हैं वो दिल में इस कदर;
कि आंखे बंद करो तो सामने नजर आते हैं।
----------
तुम मुझे भूल कर तो देखो;
हर ख़ुशी रूठ जाएगी;
जब अकेले तुम बैठोगे;
खुद-ब-खुद मेरी याद आएगी।
----------
ख़ूबियाँ इतनी तो नहीं है हम में;
कि हम आपको हर पल याद आयेंगे;
पर इतना ऐतबार है हमें खुद पर;
कि आप कभी हमें भूल ना पायेंगे।
----------
भुला ना सकोगे मुझे भूल कर तुम;
मैं अक्सर तुम्हें याद आता रहूँगा;
कभी ख़्वाब बन कर कभी याद बन कर;
मैं नींद तुम्हारी चुराता रहूँगा।
----------
आँखें बंद करके रोता हूँ तो लगता है तुझे मैं रोया नहीं;
सदियों तक जागा हूँ मैं तेरे इंतज़ार में सोया नहीं;
प्यार में पाया क्या है यह मुझे मालूम नहीं है;
पर तेरे सिवा ज़िंदगी में मैंने कुछ खोया नहीं।
----------
आप हमें रुला दो हमें गम नहीं;
आप हमें भुला दो हमें कोई गम नहीं;
जिस दिन हमने आपको भुला दिया;
समझ लेना इस दुनियाँ में हम नहीं।
----------
हमने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर;
दिल से गुज़री हैं सितारों की बारातें अक्सर;
और कौन है जो मुझको तसल्ली देता;
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर।
----------
जिस घड़ी तेरी यादों का समय होता है;
फिर हमें आराम कहाँ होता है;
हौंसला मुझ में नहीं तुझको भुला देने का;
काम सदियों का है, लम्हों में कहाँ होता है।
----------
शिकायत न करता ज़माने से कोई;
अगर मान जाता मनाने से कोई;
फिर किसी को याद करता न कोई;
अगर भूल जाता भुलाने से कोई।
----------
ज़िंदगी में कोई ख़ास था;
तन्हाई के सिवा कुछ न पास था;
पा तो लेते ज़िंदगी की हर ख़ुशी;
पर हर ख़ुशी में तेरी कमी का एहसास था।
----------
याद रूकती नहीं रोक पाने से;
दिल मानता नहीं किसी के समझाने से;
रुक जाती हैं धड़कनें आपको भूल जाने से;
इसलिए आपको याद करते हैं ज़ीने के बहाने से।
----------
कब तक खुद को रोक पाएगी;
बिना मेरे न वो रह पाएगी;
मैं बस जाऊंगा उसकी यादों में इस तरह;
कि फिर वो दूसरों को याद करना भूल जाएगी।
----------
जब छोटे थे हम ज़ोर से रोते थे,
जो पसंद था उसे पाने के लिए;
आज बड़े हो गए तो चुपके से रोते हैं;
जो पसंद है उसे भुलाने के लिये!
----------
प्यार वो हम को बेपनाह कर गये;
फिर ज़िंदगी में हम को तनहा कर गये;
चाहत थी उनके इश्क़ में फ़नाह होने की;
पर वो लौट कर आने को भी मना कर गये।
----------
वक्त हर चीज़ मिटा देता है;
हसीन लम्हों को भुला देता है;
पर नहीं मिटा सकता दोस्तों की यादें;
क्योंकि वक्त खुद ही दोस्तों की याद दिला देता है।
----------
नराजगी का शबाब तो पूछ लिया करो;
दुनिया लाख हो याद तो कर लिया करो;
मत रखो बेशक हर एक पल की खबर;
जिंदा हैं या मर गए इतना तो पूछ लिया करो।
----------
अच्छी है याद तेरी अच्छा है नाम तेरा;
अय दूर के रहने वालों कैसा है हाल तेरा;
दिल में तेरी याद होंठो पे नाम तेरा;
मेरे दिल में बसने वाले तुझको सलाम मेरा।
----------
जख्म देने की आदत नहीं हमको;
हम तो आज भी वो अहसास रखते हैं;
बदले-बदले तो आप हैं जनाब;
हमारे अलावा सबको याद रखते हैं।
----------
तुझे भूलने का कभी हौंसला ना हुआ;
दूर रहकर भी तू मुझसे जुदा ना हुआ;
तुझसे मिल के हम किसी से क्या मिलते;
कोई तेरे जैसा इस जहाँ में दूसरा न हुआ।
----------
दोस्ती की वो मिसाल बनायेंगे हम;
आँखें बंद करोगे तो नज़र आयेंगे हम;
भर देंगे इतना प्यार आपके दिल में कि;
सबसे पहले याद आयेंगे हम।
----------
हर रात में आपके पास उजाला हो;
हर कोई आपको चाहने वाला हो;
वक्त गुजर जाये उनकी यादों के सहारे;
कोई आपको इतना प्यार करने वाला हो।
----------
मजबूरी में नहीं, दिल करे तो याद करना;
दुनिया से फुर्सत मिले तो याद करना;
दुआ है ज़माने की हर ख़ुशी पाओ आप;
फिर भी आँख भर आये तो हमें जरूर याद करना।
----------
बनकर लब्ज मेरी किताबों में मिलना;
बनकर खुशबु की महक मेरे गुलाबों में मिलना;
जब आयेगी तुम्हें हमारी याद;
तब बनकर ख्वाब मेरी आँखों में मिलना!
----------
गहरी थी रात लेकिन हम खोये नहीं;
दर्द बहुत था दिल में, मगर हम रोए नहीं;
कोई नहीं हमारा जो पूछे हमसे;
जाग रहे हो किसी के लिए या किसी के लिए सोए नहीं।
----------
बहेंगी जब भी सर्द हवायें;
हम खुद को तन्हा पायेंगे;
एहसास तुम्हारे साथ का;
हम कैसे महसूस कर पायेंगे।
----------
अजीब लगती है शाम कभी-कभी;
जिंदगी लगती है बेजान कभी-कभी;
समझ आये तो हमें भी बताना कि;
क्यों परेशान करती हैं यादें कभी-कभी।
----------
हर बात कहकर समझाई नहीं जाती;
हर चीज़ जिंदगी में पाई नहीं जाती;
यूं तो हर वक्त याद करते हैं आपको;
पर क्या करें यादें तो किसी को दिखाई नहीं जाती।
----------
यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए;
कोई रूठ जाता है फिर मान जाने के लिए;
रिश्ते निभाना कोई मुश्किल तो नहीं;
बस दिलों में प्यार चाहिए उसको निभाने के लिए।
----------
वो जिंदगी ही क्या जिसमें मोहब्बत नहीं;
वो मोहब्बत ही क्या जिसमें यादें नहीं;
वो यादें ही क्या जिसमें तुम नहीं;
और वो तुम ही क्या जिसके साथ हम नहीं।
----------
जो तूने दिया उसे हम याद करेंगे;
हर पल तेरे मिलने की फ़रियाद करेंगे;
चले आना जब कभी ख्याल आया मेरा;
हम रोज़ खुदा से पहले तुझे याद करेंगे।
----------
आज ये पल है, कल बस यादें होंगी;
जब ये पल ना होंगे, तब सिर्फ बातें होंगी;
जब पलटोगे जिंदगी के पन्नों को;
तो कुछ पन्नों पर आँखें नम और कुछ पर मुस्कुराहटें होंगी।
----------
साँसों से प्यारी यादें हैं तुम्हारी;
धड़कन से प्यारी बातें हैं तुम्हारी;
तुम्हें यकीन हो न हो पर;
इस जिंदगी से प्यारी दोस्ती है तुम्हारी।
----------
आपकी याद में दीवाने से फिरते हैं;
तन्हाई में अक्सर आपको तलाश करते हैं;
जिंदगी वीरान सी है आपके जाने के बाद;
आज भी हम तुमसे प्यार करते हैं।
----------
जब भी होगी पहली बारिश;
तुमको सामने पायेंगे;
वो बूंदों से भरा चेहरा;
तुम्हारा हम कैसे देख पायेंगे।
----------
एक उम्मीद का दियां जल रहा था;
जिसे अश्कों की बारिश ने बुझा दिया;
तनहा अकेले ख़ुशी से जी रहा था;
आज फिर आपकी प्यारी सी याद रुला दिया।
----------
हिचकिचाते हुए बात की जिसने;
क्या पता था वही जिंदगी के मायने बन जायेंगे;
कुछ याद रहे न रहे जिंदगी में;
पर वो हमेशा याद आयेंगे।
----------
सोचा याद ना करके थोड़ा तड़पायें उनको;
किसी और का नाम लेकर जलायें उनको;
पर कोई चोट उनको लगी तो दर्द हमें होगा;
अब कोई ये बताये कि किस तरह सतायें उनको!
----------
उसकी याद हमें बेचैन बना जाती है;
हर जगह हमें उसकी सूरत नजर आती है;
कैसा हाल किया है मेरा आपके प्यार ने;
नींद भी आती है तो आँखें बुरा मान जाती हैं।
----------
यादें आती हैं यादें जाती हैं;
कभी खुशियाँ कभी गम लाती हैं;
शिकवा ना करो जिंदगी से;
आज जो जिंदगी है, वही आने कल की याद कहलाती है।
----------
यादों से दिल भरता नहीं;
दिल से यादें निकलती नहीं;
यह कैसी कशमकश है;
आपको याद किये बिना दिल को चैन मिलता नहीं।
----------
हर एक मजर पर उदासी छाई है;
चाँद की रोशनी में भी कमी आई है;
अकेले अच्छे थे हम अपने आशियाने में;
जाने क्यों टूटकर आज फिर आपकी याद आई है।
----------
सामने ना हो तो तरसती हैं आँखें;
याद में तेरी बरसती हैं आँखें;
मेरी लिए नहीं इनके लिए ही आ जाओ;
आपका बेपनाह इंतज़ार करती हैं आँखें!
----------
समझा दो अपनी यादों को;
वो बिना बुलाये पास आया करती हैं;
आप तो दूर रहकर सताते हो मगर;
वो पास आकर रुलाया करती हैं।
----------
अपनी हर सांस में आबाद किया है तुमको;
ए मेरी जाना बहुत याद किया है तुमको;
मेरी जिंदगी में तुम नहीं तो कुछ भी नहीं;
अपनी जिंदगी से बढ़कर प्यार किया है तुमको!
----------
कभी एक लम्हा ऐसा भी आता है;
जिसमें बीता हुआ कल नजर आता है;
बस यादें रह जाती हैं याद करने के लिए;
और वक्त सबकुछ लेकर गुजर जाता है।
----------
'फूल' खुशबु के लिए;
'प्यार' निभाने के लिए;
'आँखें' दिल चुराने के लिए;
और यह मेरा मैसेज आपको;
"मेरी याद" दिलाने के लिए।
----------
यादों की कीमत वो क्या जाने;
जो खुद यादों को मिटा दिया करते हैं;
यादों का मतलब तो उनसे पूछो;
जो यादों के सहारे जिया करते हैं।
----------
आज ये पल है;
कल बस यादें होंगी;
जब ये पल ना होंगे;
तब सिर्फ बातें होंगी;
जब पलटोगे जिंदगी के पन्नों को;
तो कुछ पन्नों पर नाम और कुछ पर मुस्कुराहटें होंगी।
----------
मत इंतज़ार कराओ हमें इतना;
कि वक़्त के फैसले पर अफ़सोस हो जाये;
क्या पता कल तुम लौटकर आओ;
और हम खामोश हो जाएँ!
----------
सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती है;
यादों में भी गम की परछाई मिलती है;
जितनी भी दुआ करते हैं किसी को पाने की;
उतनी ही ज्यादा जुदाई मिलती है!
----------
जब याद तुम्हारी आती है;
पल-पल मुझको तड़पाती है;
तुम नाम वहाँ पर लेते हो;
आवाज यहाँ तक आती है!
----------
खामोश रात के पहलू में सितारे न होते;
इन रूखी आँखों में रगींन नज़ारे न होते;
हम भी न करते याद आपको;
अगर आप इतने प्यारे न होते।
----------
अगर आप होते भुलाने के क़ाबिल,
तो होते कहां दिल लगाने के क़ाबिल!
----------
यादें आती हैं यादें जाती हैं;
कभी खुशियाँ कभी गम लाती हैं;
सिकवा न करो जिंदगी से;
आज जो जिंदगी है, वही कल की यादें कहलाती हैं।
----------
दूरियां ही नज़दीक लाती हैं;
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;
दूर होकर भी कोई करीब है कितना;
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
----------
अजीब लगती है शाम कभी-कभी;
जिंदगी लगती है बेजान कभी-कभी;
समझ में आये तो हमें भी बताना कि;
क्यों करती हैं यादें परेशान कभी-कभी।
----------
ख़ुशी से दिल को आबाद करना;
और गम से दिल को आज़ाद करना;
हमारी बस इतनी गुजारिश है आपसे;
कि हमें भी दिन में एक बार जरूर याद करना।
----------
लम्हों की यादें संभाल के रखना;
हम याद तो आयेंगे ही लेकिन - लौटकर नहीं।
----------
आँखों को अश्क का पता न चलता;
दिल को दर्द का एहसास न होता;
कितना हसीन होता जिंदगी का सफ़र;
अगर मिलकर कभी बिछड़ना न होता!
----------
जीना चाहते हैं मगर ज़िन्दगी रास नहीं आती;
मरना चाहते हैं मगर मौत पास नहीं आती;
बहुत उदास हैं हम इस ज़िन्दगी से;
उनकी यादें भी तो तड़पाने से बाज़ नहीं आती।
----------
हम इतने स्वीट नहीं कि मधुमेह (Diabetic) हो जाए;
ना इतने नमकीन हैं कि ब्लड प्रेसर बढ़ जाए;
और ना इतने स्वादी हैं कि मज़ा आ जाए;
पर इतने कड़वे भी नहीं कि याद ना आयें।
----------
ना जाने कैसे जीते हैं लोग प्यार में;
मैं तो कई बार मरता हूँ, तेरी एक याद आने पे।
----------
कल रात चाँद बिलकुल आप जैसा था।
बिलकुल:
वही खूबसूरती
वही नूर
वही गुरूर
और वही, आपकी तरह दूर।
तड़प रहें हैं तेरी याद में।
----------
सागर में गहराई होती है;
यादों में तन्हाई होती है;
इस व्यस्त जिंदगी में कौन किसको याद करता है;
और अगर कोई करता है तो उसकी यादों में सच्चाई होती है।
----------
महक होती तो तितलियाँ बहुत आती;
कोई रोता तो सिसकियाँ ज़रूर आती;
कहने को तो लोग मुझे बहुत याद करते हैं;
मगर याद करते तो हिचकियां जरूर आती।
----------
ज़ुबा पर जब किसी के दर्द का अफ़साना आता है;
हमें रह-रह के याद अपना दिल-ए-दीवाना आता है।
~ Sadiq Jaisi
----------
महक होती तो तितलियाँ जरूर आती;
कोई रोता तो सिसकियाँ जरूर आती;
कहने को तो लोग मुझे बहुत याद करते हैं;
मगर याद करते तो हिचकियाँ जरूर आती।
----------
हाथ पढ़ने वाले ने तो परेशानी में डाल दिया मुझे;
लकीरें देख कर बोला, "तु मौत से नहीं, किसी की
.
..
...
याद में मरेगी"।
----------
लम्हों का हिसाब रखते हो;
जिंदगी की हसीं किताब रखते हो;
फुर्सत मिले तो लिखना कभी;
क्या मुझे दिल से याद करते हो।
----------
जब याद तुम्हारी आती है;
पल-पल मुझको तड़पाती है;
तुम नाम वहां पर लेती हो;
लेकिन आवाज यहाँ तक आती है।
----------
यादों की किम्मत वो क्या जाने;
जो ख़ुद यादों के मिटा दिया करते हैं;
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो;
यादों के सहारे जिया करते हैं।
----------
अगर फुर्सत के लम्हों में मुझे याद करते हो तो मुझे याद मत करना;
मैं तनहा ज़रूर हूँ मगर फ़जूल नहीं।
----------
हँसना और हँसाना कोशिश है मेरी;
हर कोई खुश रहे, यह चाहत है मेरी;
भले ही मुझे कोई याद करे या ना करे;
लेकिन हर अपने को याद करना आदत है मेरी!
----------
आप भुलाकर देखो, हम फिर भी याद आएंगे;
आपके चाहने वालों में;
आपको हम ही नज़र आएंगे;
आप पानी पी-पी के थक जाओगे;
पर हम हिचकी बनकर याद आएंगे!
----------
तुझे भूलने की कोशिशें कभी कामयाब न हो सकें;
तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब है, जो हवा चली तो महक गई!
----------
हम तुमसे दूर कैसे रह पाते;
दिल से तुमको कैसे भूल पाते;
काश तुम आईने में बसे होते;
ख़ुद को देखते तो तुम नज़र आते!
----------
वो न आए उनकी याद वफ़ा कर गई;
उनसे मिलने की चाह सुकून तबाह कर गई;
आहट दरवाज़े की हुई तो उठकर देखा;
मज़ाक हमसे हवा कर गई!
----------
वो न आए उनकी याद वफ़ा कर गई;
उनसे मिलने की चाह सुकून तबाह कर गई;
आहट दरवाज़े की हुई तो उठकर देखा;
मज़ाक हमसे हवा कर गई !
----------
शोर न कर धड़कन ज़रा, थम जा कुछ पल के लिए;
बड़ी मुश्किल से मेरी आखों में उसका ख्वाब आया है!
----------
मुझे नींद की इजाज़त भी उसकी यादों से लेनी पड़ती है;
जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!
----------
दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूं;
प्यार का उसे पैगाम क्या दूं;
इस दिल में दर्द नहीं, उसकी यादें हैं;
अब यादें ही दर्द दे;
तो उसे क्या इल्ज़ाम दूं!
----------
एक आह जो दिल को रुला दे;
एक वाह जो मन को बहला दे;
एक राह जो मंजिल को मिला दे;
और एक मैसेज, जो अपनों की याद दिला दे!
----------
एक दिन हमारे आंसुओ ने हमसे पूछा, "हमें रोज़ रोज़ क्यों बुलाते हो?"
हम ने कहा, "हम 'नाम-ऐ-हुसैन' लेते हैं, तुम तो खुद ही चले आते हो!"
----------
पत्ते गिर सकते है, पर पेड़ नहीं;
सूरज डूब सकता है, पर आसमान नहीं;
आप भूल सकते है, पर हम नहीं!
----------
ये चाँद चमकना छोड़ भी दे, तेरी चांदनी मुझे सताती है;
तेरे जैसा ही था उसका चेहरा, तुझे देख के वो याद आती है!
----------
तड़प उठते है, उन्हें याद करके;
जो गए है, हमे बर्बाद करके;
अब तो इतना ही ताल्लुक रह गया है;
कि रो लेते है, बस उन्हें याद करके!
----------
दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ;
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ;
इस दिल में दर्द नहीं उसकी यादे हैं;
अब यादे ही दर्द दें;
तो उसे इलज़ाम क्या दूँ!
----------