Shayari on Gila shikwa

Baat Unchi Thi Magar Baat Zara Kam Aanki;
Usne Jazbaat Ki Aukaat Zara Kam Aanki;
Woh Farishta Keh Kar Mujhe Zaleel Karta Raha;
Main Insaan Hun, Meri Jaat Zara Kam Aanki!
----------
Badalne Wale Toh Har Cheez Badal Dete Hain;
Kamaan Se Nikla Teer Badal Dete Hain;
Tum Toh Mere Chaar Aansu Na Badal Sake;
Badalne Wale Toh Taqdeer Badal Dete Hain!
----------
Mere Pyaar Ki Wo Inteha Puchte Hain;
Dil Mein Hai Kitni Jagah Puchte Hain;
Chahte Hain Hum Unko Khud Se Zyada;
Iss Chahat Ki Bhi Woh Wajah Puchte Hain!
----------
Na Zindagi Mili Na Wafa Mili;
Na Jaane Kyon Har Khushi Humse Khafa Mili;
Jhoothi Muskaan Liye Apne Gham Chhupaate Hain;
Sachi Mohabbat Karne Ki Bhi Kya Khoob Saza Mili!
----------
Nazar Mein Shokhiyan Lab Par Mohabbat Ka Fasaana Hai;
Meri Ummeed Ki Zad Mein Abhi Saara Zamaana Hai;
Kayi Jeete Hain Dil Ke Desh Par Maloom Hai Mujhko;
Sikandar Hoon Mujhe Ik Roz Khaali Haath Jaana Hai!
----------
Jis Par Hamari Aankh Ne Moti Bichhaye Raat Bhar;
Bheja Wahi Kaagaz Humne Likha Kuch Bhi Nahin!
----------
Badalne Wale Toh Har Cheez Badal Dete Hain;
Kamaan Se Nikla Teer Badal Dete Hain;
Tum Toh Mere Chaar Aansu Na Badal Sake;
Badalne Wale Toh Taqdeer Badal Dete Hain!
----------
Aankh Ladate Hi Hua Ishq Ka Aazaar Mujhe;
Chashm Beemaar Teri Kar Gayi Beemaar Mujhe;
Dil Ko Zakhmi To Vah Karte Hain Magar Hairat Hai;
Nazar Aati Nahi Chalti Hui Talwar Mujhe!
~ Jaleel Manikpuri
----------
Ungliyan Toot Gayi Patthar Tarashte Tarashte;
Aur Jab Bani Surat-e-Yaar Toh Kharidaar Aa Gaye!
----------
Meri Neendein Udaane Wale;
Ab Tere Khawab Kaun Dekhega!
----------
Yeh Ajab Qayamatein Hain Teri Rahguzar Mein Guzari;
Na Ho Ke Mar Mittein Hum, Na Ho Ke Jee Uthein Hum!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Fursat Mein Hi Yaad Kar Liya Karo Humein;
Do Pal Hi Mangte Hain Puri Zindagi Nahi!
----------
Shayad Mujhe Kisi Se Mohabbat Nahi Hui;
Lekin Yaqeen Sabko Dilaata Raha Hun Main!
----------
Na Karo Takraar, Mujhe Tumhara Hi Khayal Hai;
Phir Baat Se Baat Niklegi Aur Tum Rooth Jaoge!
----------
Shaayad Mujhe Kisi Se Mohabbat Nahi Hui;
Lekin Yaqeen Sabko Dilata Raha Hoon Main!
----------
Rokna Meri Hasrat Thi Aur Jaana Uss Kaa Shaunk;
Woh Shaunk Poora Kar Geya Meri Hasratien Tod Kar!
----------
Woh Jo Kehta Hai Ishq Mein Kya Rakha Hai;
Ik Heer Ne Usko Apna Ranjha Bana Rakha Hai!
----------
Narazgi Chahe Kitni Bhi Ho Tumse;
Par Tumhe Bhul Jane Ka Khayal Aaj Bhi Nahi Aata!
----------
Utar Kar Dekho Mere Pyaar Ki Gehrai Mein;
Sochna Mere Bare Mein Raat Ki Tanhai Mein;
Agar Ho Jaye Mere Pyaar Ka Ehsaas Tumhein;
Milega Mera Aks Tumhein Apni Parchai Mein!
----------
Apni Tasveer Banaoge Toh Hoga Ehsaas;
Kitna Dushwar Hai Khud Ko Koi Chehra Dena!
----------
Tanha Rehna To Seekh Liya Hum Ne;
Par Khush Na Kabhi Reh Payengein;
Teri Doori To Phir Bhi Seh Leta Hai Yeh Dil;
Per Teri Mohabbat Ke Bin Na Jee Payengein!
----------
Humse Khelti Rahi Duniya Taash Ke Patton Ki Tarah;
Jisne Jeeta Usne Bhi Phenka, Jisne Haara Usne Bhi Phenka!
----------
Main Apni Khak Uthakar Kahan Kahan Ghumoon;
Tere Bagair Meri Zindagi Ki Keemat Kya!
----------
Aata Hai Kaun Kaun Tere Gham Ko Baantne;
Ghalib Tu Apni Maut Ki Afwaah Udaa Ke Dekh!
~ Mirza Ghalib
----------
Qarar Dil Ko Sada Jiske Naam Se Aaya;
Wo Aaya Bhi To Kisi Aur Kaam Se Aaya!
----------
Dil Ki Umeedon Ka Haunsla Toh Dekho;
Intezar Usi Ka Hai Jisko Ehsaas Tak Nahi!
----------
Apni Tamanna Se Kabhi Kuch Nahi Chaha Tha Humne;
Uski Khushi Dhundhte Rahe Toh Badnam Ho Gaye!
----------
Kaat Kar Zuban Meri Keh Raha Tha Woh Faraz;
Ab Tumhein Ijazat Hai Haal e Dil Sunane Ki!
~ Ahmad Faraz
----------
Kuch Iss Tarah Sauda Kiya Waqt Ne;
Tajurba De Kar Woh Meri Nadani Le Gaya!
----------
Jinki Yaad Hai Dil Mein Nishaani Ki Tarah;
Woh Toh Bhool Gaye Humein Kahani Ki Tarah!
----------
Har Baar Hawaon Ko Ilzaam Dena Thik Nahi Yaaron;
Kabhi Sochna Kahin Chiraag Kud Na Thak Gaya Ho Jalte Jalte!
----------
Wo Baat Baat Pe Deta Hai Parindon Ki Misaal 'Faraz';
Saaf Saaf Nahi Kehta Mera Sheher Hi Chodd Do!
~ Ahmad Faraz
----------
Ruth Jao Kitna Bhi Mana Lenge;
Dur Jao Kitna Bhi Bula Lenge;
Dil Aakhir Dil Hai Sagar Ki Ret Toh Nahi;
Ki Naam Likh Kar Usse Mita Denge!
----------
Pyaar Jab Milta Nahi Toh Hota Kyon Hai;
Agar Khwabon Mein Wo Aaye Toh Insaan Sota Kyon Hai;
Jab Yahi Pyaar Aankhon Ke Samne Kisi Aur Ka Ho Jaye;
Toh Dil Itna Rota Kyon Hai!
----------
Rukta Bhi Nahi Theek Se Chalta Bhi Nahi;
Yeh Dil Hai Ki Tere Baad Sambhalta Hi Nahi!
----------
Badi Ajeeb Mulaqatein Hoti Thi Hamari;
Wo Matlab Se Milte The, Aur Humein Milne Se Matlab Tha!
----------
Kabhi Hon Mukhatib To Kahun Kya Dard Hai Mera;
Ab Tum Door Se Puchoge To Khairiyat Hi Kahenge!
----------
Haath Ki Lakeerein Bhi Kitni Ajeeb Hain,
Kambakht Mutthi Mein Hain Par Kabu Mein Nahi!
----------
Kuch To Aisa Hai Jo Wo Hum Se Nahi Kehte,
Har Ek Baat Pe Jo Mujh Ko Sahi Kehte Hain!
----------
Berukhi Kis Shiddat Se Nibhai Jaati Hai Koi Unse Seekhe;
Aankhein Khuli Rakhte Hain Aur Kehte Hain Hum Dikhte Hi Nahi!
----------
Koi Tabeez Aisa Do Ki Main Chalaak Ho Jaun;
Bahut Nuksaan Deti Hai Mujhe Ye Sadgi Meri!
----------
Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye;
Rooth Kar Waqt Ganvane Ki Zaroorat Kya Hai!
----------
Itne Sawal The Mere Paas Ki Meri Umar Se Simat Na Sake,
Jitne Jawaab The Tere Paas Sabhi Teri Ek Nigah Mein Aa Gaye!
----------
Kaash Wo Samjhte Is Dil Ki Tadap Ko Toh Humein Yun Ruswa Na Kiya Jata;
Yeh Berukhi Bhi Unki Manzoor Thi Humein Bas Ek Baar Hamein Samajh Toh Liya Hota!
----------
Koshish To Hoti Hai Ki Teri Har Khwahish Poori Karun;
Par Darr Lagta Hai Ki Tu Khwahish Mein Mujhse Judai Na Maang Le!
----------
Rukta Bhi Nahi Theek Se Chalta Bhi Nahi;
Yeh Dil Hai Ki Tere Baad Sambhalta Hi Nahi!
----------
Koi Betaab, Koi Mast, Koi Chup, Koi Hairaan;
Teri Mehfil Mein Ek Tamaasha Hai Jidhar Dekho!
----------
Main To Barbaad Ho Geya Hun Magar;
Ab Kisi Aur Ko Kabhi Aasra Mat Dena!
----------
Jinhen Saanson Ki Mehek Se Ishq Mehsoos Na Ho,
Wo Gulab Dene Bhar Se Haal-E-Dil Kya Samjhenge!
----------
Raakh Beshak Hun Magar, Mujh Mein Harkat Hai Abhi Bhi;
Jis Ko Jalne Ki Tamanna Ho, Wo Hawa De Kar Dekh Le Mujhe!
----------
Ehsaan Jatana Jaane Kaise Seekh Liya,
Mohabbat Jatate To Kuch Aur Baat Thi!
----------
Maang Kar Tujh Se Khushi Lun, Yeh Mujhe Manzoor Nahi;
Bata Kis Ka Maangi Hui Daulat Se Bhala Hota Hai!
----------
Qissa Teri Ada Ka Mujh Se Bhulaya Na Geya,
Mere Hi Dil Mein Mehfil Aur Mujhe Hi Bulaya Na Geya!
----------
Aaj Maine Phir Bheje The Jazbaat Apne,
Tumne Phir Alfaz Samajh Padh Kar Rakh Diye!
----------
Hum To Unke Deedar Ke Bahaane Aate The Tere Dar Pe;
Maaf Karna Khudaa Agar Humse Ibadaat Na Hui To!
----------
Khyalaon Ko Kisi Ki Aas Rehti Hai,
Nigahaon Ko Teri Talaash Rehti Hai,
Tere Bina Koi Kami Nahi Hai Lekin,
Tere Bagair Tabiyat Udaas Rehti Hai!
----------
Talaash Kar Meri Kami Ko Apne Dil Mein,
Dard Ho To Samjh Lena Rishta Abhi Baaki Hai!
----------
Zamin Par Wo Mera Naam Likhte Hain Aur Mitate Hai;
Unka Toh Timepass Ho Jata Hai....Kambhakt Mitti Mein Hum Mil Jate Hai!
----------
Ab Na Koi Shikwa, Na Gila, Na Koi Malal Raha;
Sitam Tere Bhi Be-Hisab Rahe, Sabr Mera Bhi Kamaal Raha!
----------
Raat Kitni Veeran Si Ho Jaati Hai,
Jab Kuch Apne Yaad Kiye Bina Hi So Jaate Hain!
----------
Naseeb-Naseeb Ki Baat Hoti Hai, Koi Nafrat Dekar Bhi Bepanah Pyaar Karta Hai;
Aur Koi Bepanah Pyaar Dekar Bhi Yahan Bas Khaali Haath Reh Jaata Hai!
----------
Tha Vaada Shaam Ka Magar Aaye Woh Raat Ko,
Main Bhi Kivaad Kholne Fauran Nahi Geya!
~ Anwar Shuoor
----------
Jo Kehte The Ki Rahenge Umar Bhar Saath Tere,
Ab Roothe Hain To Koi Manane Bhi Nahi Aaya!
----------
Ab Bhi Yaad Kar Rahe Ho PaagaL Ho Kya,
Usne To Tere Baad Bhi Hazaron BhuLa Diye!
----------
Saans Tham Jati Hai Par Jaan Nahi Jati,
Dard Hota Hai Par Aawaz Nahi Aati,
Ajeeb Log Hain Is Zamane Mein,
Koi Bhool Nahi Pata Aur Kisi Ko Yaad Nahi Aati!
----------
Sikha Do Mujhe Bhi Vaadon Se Mukar Jaane Ka Hunar,
Main Bhi Bahut Thak Geya Hun Inhe, Nibhate-Nibhate!
----------
Bin Mere Reh Hi Jayengi Koi Na Koi Kami Shahyad,
Tum Zindagi Ko Jitni Marzi Sanwarne Ki Koshish Kar Lo!
----------
Is Duniya Mein Ajnabi Rehna Hi Theek Hai,
Log Bahut Takleef Dete Hain Aksar Apna Bana Kar!
----------
Bhula Denge Tumhein Bhi Zara Sabar To Kijiye,
Aapke Jaisa Banne Mein Aur Badalne Mein Thoda Waqt To Lagega!
----------
Maine Kab Kaha Ki Tum Keemat Samjho Hamari,
Humein Bikna Hi Agar Hota To Yun Tanha Nahi Hote!
----------
Ye Jo Mere Halaat Hain, Ek Din Ye Sudhar Jayenge,
Magar Tab Tak Kayi Log Mere Dil Se Utar Jayenge!
----------
Na Haal Pucha, Na Khairiyat Puchi;
Aaj Bhi Jab Mile Toh Unhone Bas Haisiyat Puchi!
----------
Woh Baatein To Humse Karte The Magar Us Mein Zikar Kisi Aur Ka Rehta Tha;
Hum To Unke Har Dukh Ko Apna Maante Rahe Aur Unhein Fikar Kisi Aur Ka Rehta Tha!
----------
Aaj Kyon Takleef Hoti Hai Tumhein Meri Be-Rukhi Se,
Tum Ne Hi To Sikhaya Hai Ki Kaise Dil Jalate Hain!
----------
Meri Mohabbat Ki Na Sahi, Mere Saleeke Ki To Daad De;
Tera Zikr Roz Karte Hain, Tera Naam Liye Bagair!
----------
Saans Tham Jati Hai Par Jaan Nahi Jati,
Dard Hota Hai Par Aawaz Nahi Aati,
Ajeeb Log Hain Is Zamane Mein,
Koi Bhool Nahi Pata Aur Kisi Ko Yaad Nahi Aati!
----------
Ajeeb Daastaan Hain Is Chhote Se Dil Ki,
Marammat Bhi Hum Karen, Sudharein Bhi Hum Magar Tod Koi Aur Deta Hai!
----------
Kuch Aise Ho Gaye Hain Is Daur Ke Rishte,
Jo Awaaz Tum Na Do To Bolte Wo Bhi Nahi!
----------
Gurur Bahut Tha Mujhe, Tumhein Apni Mohabbat Bana Kar;
Par Shayad Is Mohabbat Se Bhi Upar Apno Ke Ehsaan Ne Ye Gurur Thamne Na Diya!
----------
Tera Nazariya Mere Nazariye Se Alag Tha Kyonki,
Tumne Waqt Guzara Tha Aur Maine Zindagi!
----------
Tumne Bhi Humein Bas Ek Diye Ki Tarah Hi Samjha,
Raat Gehri Hui To Jala Dia, Subah Hui To Bujha Dia!
----------
Waqt Mile To Yaad Karte Ho, Dil Karta Hai To Baat Karte Ho,
Ek Zamana Tha Jab Hamare Bina Ek Pal Bhi Nahi Reh Sakte The,
Par Ab To Ek Zamane Ke Baad Sirf Pal Bhar Ke Liye Yaad Karte Ho!
----------
Unke Chehre Pe Is Kadar Noor Tha Ki Unki Yaad Mein Rona Bhi Manzoor Tha,
Bewafa Hain Woh Ye Keh Bhi Nahi Sakta Tha Pyaar To Humne Kiya Us Mein Uska Kya Kasoor Tha!
----------
Meri Bas Itni Si Khwahish Hai,
Ki Bas Ajnabi Raahon Mein Koi Apna Na Mil Jaye!
----------
Guftgu Karte Rahiye Thodi Thodi Sabhi Doston Se,
Kyonki Aksar Jaale Lag Jaate Hain Band Makaano Mein!
----------
Na Chaho Itna Humein Chahaton Se Darr Lagta Hai,
Na Aao Itna Kareeb Ki Judai Se Darr Lagta Hai,
Tumhari Wafaon Pe Bharosa To Bahut Hai,
Bas Apne Hi Naseeb Se Darr Lagta Hai!
----------
Main Chahta Tha Wafa Unse, Unhone Humein Bhula Diya;
Isi Tadapte Gham Ne Yaaro, Mujhe Shayar Bana Diya!
----------
Ajeeb Rangon Mein Guzri Hai Zindagi Hamari,
Dilon Par To Raaj Kiya Bas Mohabbat Ko Taras Gaye!
----------
Tu Nahi To Ye Nazara Bhi Bura Lagta Hai,
Chaand Ke Paas Sitaara Bhi Bura Lagta Hai,
La Kar Jab Se Chodda Hai Tumne Bhanwar Mein Mujhko,
Mujhe Dariya Ka Kinara Bhi Bura Lagta Hai!
----------
Na Chaho Itna Hume, Chahaton Se Dar Lagta Hai,
Na Aao Itna Kareeb, Judai Se Dar Lagta Hai,
Tumhari Wafaon Pe Bharosa To Hai,
Magar Apne Naseeb Se Dar Lagta Hai!
----------
Manayega Nahi JaB Koi Tumhein Rooth Jaane Ke Baad,
To Apna Roothna Aur Mera Manana Bahut Yaad Aayega!
----------
Muskurahtein Jhoothi Bhi Hua Karti Hain,
Dekhna Nahi Inhe Samjhna Seekho!
----------
Tera Naam Tha Aaj Kisi Ajnabi Ki Zubaan Pe,
Baat To Zara Si Thi Par Dil Ne Bura Maan Liya!
----------
Labon Se Kuch Kehte Ho, Aankhon Se Kuch Aur;
Kabhi Dil Se Kuch Kaho To Hum Apni Baat Kare!
----------
Afsos Toh Hai Tumhare Dil Ke Badal Jaane Ka,
Magar Tumhari Kuch Baaton Ne Jeene Ka Salika Sikha Diya!
----------
Loot Lete Hain Apne Hi Yahan,
Varna Gairon Ko Kya Pata Is Dil Ki Deewar Kamzor Kahan Se Hai!
----------
Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye;
Rooth Kar Aise Yun Waqt Zaaya Na Kiya Karo!
----------
Dilon Se Khelna Humein Bhi Aata Hai Magar,
Jis Khel Mein Khilona Toot Jaye Wo Khel Humein Pasand Nahi!
----------
Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye;
Ruth Kar Aise Yun Waqt Zaaya Na Kiya Karo!
----------
Bikta Hai Gham Hansi Ke Bazaar Mein,
Lakho Dard Chupe Hote Hain Ek Chote Se Inkaar Mein,
Wo Kya Samajh Payenge Pyaar Ki Kashish Ko,
Jinhone Fark Hi Nahi Samjha Pasand Aur Pyaar Mein!
----------
Nazare To Badlenge Hi Ye To Kudrat Hai,
Afsos To Humein Tere Badalne Ka Hua Hai!
----------
Sirf Nazdeekiyon Se Mohabbat Hua Nahi Karti;
Fasle Jo Dilon Mein Ho To Fir Chahat Hua Nahi Karti;
Agar Naraz Ho Khafa Ho To Shikayat Karo Humse;
Khamosh Rehne Se Dilon Kee Dooriyan Mita Nahi Karti!
----------
Aaj Koi Shayari Nahi Bas Itna Sun Lo,
Main Tanha hun Aur Vajah Tum Ho!
----------
Jisne Kabhi Chahaton Ka Paigaam Likha Tha;
Jisne Apna Sab Kuch Mere Naam Likha Tha;
Suna Hai Aaj Use Mere Zikar Se Bhi Nafrat Hai;
Jisne Kabhi Apne Dil Par Mera Naam Likha Tha!
----------
Tum Agar Yaad Rakhoge To Inayat Hogi,
Varna Hum Ko Kahan Tum Se Shikayat Hogi,
Ye To Bewafa Logon Ki Dunya Hai,
Tum Agar Bhool Bhi Jao To Riwayat Hogi!
----------
Mana Ki Hum Galat The Jo Tujhse Mohabbat Kar Baithe,
Par Royega Ek Din Tu Bhi Aisi Wafa Kee Talaash Mein!
----------
Keh Deta Hun Vaise Mera Kehna Nahi Banta,
Is Dil Ke Ilawa Kahin Aur Tera Rehna Nahi Banta!
----------
Kisi Ka Ishq Kisi Ka Khyaal The Hum Bhi,
Gaye Dino Mein Bahut Ba-Kamaal The Hum Bhi!
----------
Karein Kis Ka Yakeen Yahan Sab Adakaar Hi To Hain,
Gila Bhi Karein To Kis Se Yahan Sab Apne Yaar Hi To Hain!
----------
Teri Mehfil Se Uthe To Kisi Ko Khabar Tak Na Thi,
Tera Mud-Mud Ke Dekhna Humein Badnaam Kar Geya!
----------
Waqt Wahi Khada Raha, Sadak Aage Nikal Gayi;
Koi Zidd Pe Ada Raha, Kisi Ki Jaan Nikal Gayi!
----------
Kuchh Ajab Haal Hai In Dino Tabiyat Ka Sahab,
Khushi, Khushi Na Lage Aur Gham Bura Na Lage!
----------
Mere Saath Wo Rahega To Zamana Kya Kahega,
Meri Ek Yehi Tamanna, Tera Ek Yehi Bahaana!
----------
Usne Toda Tha Mera Dil Us Se Koi Shikayat Nahi,
Ye Usi Ki Amanat Thi Usko Achha Laga So Tod Diya!
----------
Taraste The Jo Humse Milne Ko Kabhi,
Na Jaane Kyon Aaj Humare Saye Se Bhi Katrate Hain,
Hum Bhi Wahi Hain Yeh Dil Bhi Wahi Hai,
Na Jaane Phir Kyon Humein Dekh Wo Raasta Badal Jaate Hain!
----------
Seekh Jao Waqt Par Kisi Ki Chahat Ki Qadar Karna,
Kahin Koi Thak Na Jaye Tumhe Ehsaas Dilate Dilate!
----------
Is Kadar Hum Yaar Ko Manane Nikle,
Uski Chahat Ke Hum Deewane Nikle,
Jab Bhi Use Dil Ka Haal Batana Chaha,
Toh Uske Hothon Se Waqt Na Hone Ke Bahane Nikle!
----------
Ho Chuki Mulakaat Abhi Salaam Baaki Hai,
Tumhare Naam Ki Do Ghoont Sharaab Baki Hai,
Tumko Mubarak Ho Khushiyon Ka Shamiyana,
Mere Naseeb Mein Abhi Do Gaz Zameen Baki Hai!
----------
Ajnabi Rehna Hi Theek Hai Is Duniya Mein,
Bahut Taklif Dete Hain Log Aksar Apna Bana Kar!
----------
Kehte The Hum Dono Ki Reh Nahi Sakte Tumhare Bina,
Bas Hum Dono Hi Reh Gaye Magar Wo Vaada Na Raha!
----------
Kitne Majboor Hain Hum Taqdeer Ke Haathon,
Na Tumhe Paane Ki Aukat Rakhte Hain Na Tumhe Khone Ka Honsla!
----------
Marne Ke Naam Se Jo Hothon Pe Rakhte The Ungliyan,
Afsos Wahi Log Mere Dil Ke Qatil Nikle!
----------
Chhod Di Khwahishe Saari Jo Tujhe Pasand Na Thi,
Tum Na Mile To Kya Hua Teri Khwahish To Aaj Bhi Poori Karte Hain!
----------
Gunah To Bahut Hue Humse Zindagi Mein,
Shukar Raha Khuda Ka Ki Mohabbat Nahi Hui!
----------
Ro Ro Kar Dhoonda Karoge Ek Din Mere Jaise Tang Karne Wale Ko,
Chale Jayenge Hum Ek Din, Kisi Khoobsurat Kafan Ka Naseeb Ban Kar!
----------
Tu Nahi To Ye Nazara Bhi Bur Lagta Hai,
Chaand Ke Paas Sitaara Bhi Bura Lagta Hai,
La Ke Jis Roz Se Chhoda Hai Tumne Bhanwar Mein Mujhko,
Mujhko Dariya Ka Kinara Bhi Bura Lagta Hai!
----------
Hamari Rooh Main Na Samaye Hote To Bhool Jate Tumhe,
Itna Kareeb Na Aaye Hote To Bhool Jate Tumhe,
Ye Kehte Hue Ki Mera Talluq Nahin Tumse Koi,
Ankhon Main Aansu Na Aaye Hote To Bhul Jate Tumhe!
----------
Kis Qadar Mushkil Hai Yeh Zindagi Ka Safar,
Khuda Ne Marna Haram Kiya Logon Ne Jeena!
----------
Aata Hai Yahan Sab Ko Bulandi Se Girana,
Wo Log Kahan Hain Ki Jo Girton Ko Uthaye!
----------
Tumhari Har Ek Baat Bewafai Ki Kahani Hai,
Lekin Teri Har Saans Meri Zindagi Ki Nishani Hai,
Tum Aaj Tak Nahi Samajh Sake Mere Pyaar Ko,
Isliye Mere Aansu Bhi Tere Liye Paani Hain!
----------
Chalo Hum Galat The Ye Maan Lete Han Ai Zindagi,
Par Ek Baat Bata Kya Woh Shakhs Sahi Tha Jo Badal Geya Itna Kareeb Aane Ke Baad!
----------
Itne Kahan Masroof Ho Gaye Ho Tum,
Ki Aaj-Kal Dil Dukhane Bhi Nahi Aate!
----------
Pahle Is Mein Ik Adaa Thi Naaz Tha Andaaz Tha,
Roothna Ab To Teri Aadat Mein Shaamil Ho Geya!
~ Agha Shayar Qazalbash
----------
Kissi Harf Main Kisi Baab Mein Nahi Aaye Ga,
Tera Zikar Meri Kitab Mein Nahi Aaye Ga!
~ Noshi Gilani
----------
Ajnabi Ban Ke Miloon Ga Main Tujhe Mehfil Mein,
Tu Ne Chedi Bhi To Main Baat Badal Jaaon Ga!
----------
Tujhe Paane Kee Chahat Itni Badh Gayi Ki Apno Kee Mohabbat Bhool Geya,
Inkaar Karke Bada Gunaah Kiya Tune Main Meri Sharafat Bhool Geya!
----------
Dil Bhi Toda To Salike Se Na Toda Tumne,
Bewafai Ke Bhi Aadab Hua Karte Hain!
----------
Phir Apne Aap Pe Us Ko Hijab Aata Hai,
Thirkati Jheel Pe Jab Mahtab Aata Hai,
Dikhaiye Na Humein Aap Mausami Aansu,
Ki Ye Hunar To Humein Be-Hisab Aata Hai!
~ Nadir Siddiqui
----------
Ai Maut Aa Kar Humko Khamosh To Kar Gayi Tu,
Magar Sadiyon Dilon Ke Andar Hum Gunjte Rahenge!
----------
Hua Hai Chaar Sajdon Par Ye Dava Zahidon Tum Ko,
Khuda Ne Kya Tumhare Haath Jannat Bech Dali Hai!
~ Daagh Dehlvi
----------
Zara Sa Jhooth Hi Keh Do Mujh Bin Tum Adhure Ho,
Tumhara Kya Bigadta Hai Bas Phir Se Mukar Jana!
----------
Aksar Sukhe Hue Honthon Se Hi Hoti Hai Meethi Baatein,
Pyaas Bujh Jaye To Alfaz Aur Insaan Dono Badal Jaya Karte Hain!
----------
Kaun Rota Hai Kisi Aur Kee Khaatir Ai Dost,
Sab Ko Apni Hi Kisi Baat Pe Rona Aayaa!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Log Kehte Hain Ki Badnaami Se Bachna Chahiye,
Keh Do Be Is Ke Jawani Ka Maza Milta Nahi!
~ Akbar Allahabadi
----------
Hamare Chale Jaane Ke Baad Yeh Samandar Ki Ret Bhi Tumse Pucha Karegi,
Kahan Chala Geya Woh Shakhs Jo Tanhai Mein Aa Kar Bas Tumhara Hi Naam Likha Karta Tha
----------
Meri Chahat Ka Sar-e-Aam To Charcha Na Karo,
Kam To Pehle Bhi Nahin Aur To Ruswa Na Karo!
~ Fakhira Batool
----------
Dil Se Roye Magar Honthon Se Muskura Baithe,
Yun Hi Hum Kisi Se Wafa Nibha Baithe,
Wo Humein Ek Lamha Na De Paye Apne Pyaar Ka,
Aur Hum Unke Liye Apni Zindagi Luta Baithe!
----------
Le De Ke Apne Paas Faqat Ek Nazar To Hai,
Kyon Dekhe Zindagi Ko Kisi Kee Nazar Se Hum!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Ishq Ka Batwara Razamandi Se Hua,
Chamak Unhone Batori Tanhai Hum Le Aaye!
----------
Kitna Badlun Khud Ko Tere Liye,
Kuch To Mere Andar Mera Rehne De!
----------
Laga Kar Aag Seeney Mein Chale Ho Tum Kahan;
Abhi To Raakh Udne Do Tamasha Aur Bhi Hoga!
----------
Ab Kaun Se Mausam Se Koi Aas Lagaye;
Barsaat Mein Bhi Yaad Na Jab Un Ko Hum Aaye!
----------
Wo Mohabbat Bhi Teri Thi, Wo Nafrat Bhi Teri Thi;
Wo Apnapan Aur Thukrane Ki Ada Bhi Teri Thi;
Hum Apni Wafa Ka Insaf Kisse Maangte,
Wo Shehar Bhi Tera Tha Aur Adalat Bhi Teri Thi!
----------
Tarsate The Jo Milne Ko Humse Kabhi,
Aaj Wo Kyon Mere Saaye Se Katraate Hain;
Hum Bhi Wahi Hain Dil Bhi Wahi Hai,
Naa Jane Kyon Log Badal Jaate Hain!
----------
Fursat Nahi Unhe Humse Kuch Batein Karne Kee,
Isliye Ab Har Waqt Khamosh Rehte Hain!
----------
Dil Se Roye Magar Honthon Se Muskura Baithe,
Yun Hi Hum Kisi Se Wafa Nibha Baithe,
Wo Humein Ek Lamha Na De Paye Apne Pyaar Ka,
Aur Hum Unke Liye Zindagi Luta Baithe!
----------
Lajja Kar Sharam Kha Kar Muskura Kar,
Diya Bosa Magar Munh Bana Kar!
----------
Sholhiyan Chod Di Usne Ab Ke,
Har Rang Mein Udaasi Ghulti Ja Rahi Hai;
Us Roothne Wale Se Kaho Dekh Le Aa Kar,
Woh Paagal Ladki Ab Sudharti Ja Rahi Hai!
----------
Aaj Hamari Baaton Ka Jawab Nahi Dete Na Do,
Aaoge Jab Hamari Kabar Par Hum Bhi Aisa Hi Karenge!
----------
Wo Waqt Ka Jahaaz Tha Karta Lihaaz Kya,
Main Doston Se Haath Milane Mein Reh Geya!
~ Hafeez Merathi
----------
Jin Kee Nazron Mein Hum Nahi Achhe,
Kuch To Woh Log Bhi Bure Honge!
----------
Shayad Unki Ada Hai Ye Jo Har Din Hume Tadpate Hain Wo,
Kabhi Kisi To Kabhi Kisi Bahane Se Hume Satate Hain Wo,
Na Jane Kya Milta Hai Unhe Jo Humpe Yeh Sitam Dhate Hain Wo,
Chain Hi Nahi Milta Unhe Jab Tak Hume Rulate Nahi Hain Wo!
----------
Kuch Haar Gayi Taqdeer, Kuch Toot Gaye Sapne;
Kuch Gairon Ne Kiya Barbaad Kuch Bhool Gaye Apne!
----------
Maana Ki Tum Lafzon Ke Baadshah Ho Lekin,
Hum Bhi Khamoshiyon Par Raaj Karte Hain!
----------
Jo Afsaane Dil Mein Rehte Hain, Wo Aankhon Mein Nahi Rehte;
Bahut Se Harf Aise Hain, Jo Lafzon Mein Nahi Rehte;
Kitabon Mein Likhe Jaate Hain, Duniya Bhar Ke Afsaane;
Magar Jin Mein Haqeeqat Ho, Wo Kitabon Mein Nahi Rehte!
----------
Kuch Haar Gayi Taqdeer, Kuch Toot Gaye Sapne,
Kuch Gairon Ne Kiya Barbaad Kuch Bhool Gaye Apne!
----------
Dil Behlane Ke Liye Hi Guftgu Kar Liya Karo Janab;
Maloom To Humein Bhi Hai Ki Hum Aapko Achhe Nahi Lagte!
----------
Shayar Bana Diya Adhuri Mohabbat Ne,
Mohabbat Agar Puri Hoti To Hum Bhi Ek Ghazal Hote!
----------
Kaise Kahen Ki Usko BhI Humse Hai Koi Vaasta,
Usne To Humse Aaj Tak Koi Gila Nahi Kiya!
~ Jon Elia
----------
Na Chaho Itna Humein Chahaton Se Darr Lagta Hai,
Na Aao Kareeb Itna Ki Judai Se Darr Lagta Hai,
Tumhari Wafaon Pe To Hai Yakeen Humein,
Bas Apne Hi Naseeb Se Darr Lagta Hai!
----------
Hum Bhi Kar Le Jo Roshni Ghar Mein,
Phir Andhere Kahan Kayam Kare!
~ Khumar Barabankvi
----------
Mere Andaaz Wo Samajh Na Sake,
Mere Jazbaat Wo Samajh Na Sake,
Wo Samajh Na Sake Meri Mazboori,
Mere Halaat Wo Samajh Na Sake!
----------
Humne Socha Tha Ki Shayad, Hum Hi Chahte Hain Tumko,
Par Tumhein Chahne Wala To Kafila Nikla,
Dil Ne Kaha Shikayat Kar Khuda Se,
Par Khuda Bhi Tera Chahne Wala Nikla!
----------
Kis Kis Se Wabasta Karen Hum Apni Umeedein,
Is Daur Ka Har Shakhs Wafa Bhool Geya Hai!
----------
Kyon Keh Rahe Ho Sab Kuch Kismat Kee Baat Hai,
Meri Tabahiyon Mein Tumhara Bhi Haath Hai!
----------
Khamosh Baitho To Log Kehte Hain Udaasi Achhi Nahi,
Zara Sa Hans Len To Muskurane Kee Vajah Puch Lete Hain!
----------
Mumkin Nahi Kisi Ko Samjh Pana,
Samjhe Bina Kisi Se Dil Lagana,
Aasan Hai Kisi Ko Pyaar Karna,
Magar Bahut Mushkil Hai Zindagi Mein Kisi Ka Pyaar Pana!
----------
Woh Silsile Woh Shaunk Woh Kurbat Na Rahi,
Phir Yun Hua Ki Dard Mein Shiddat Na Rahi,
Apni Zindagi Mein Ho Gaye Mashroof Woh Itna,
Ki Humko Yaad Karne Kee Fursat Bhi Na Rahi!
----------
Dhoondo Ge Ujjre Rishton Mein Wafa Ke Khazane;
Tum Mere Baad Mohabbat Ka Bahut Ehtram Karo Ge!
----------
Dil Ab Pehle Jaisa Masoom Nahi Raha,
Pathar To Nahi, Magar Ab Mom Bhi Nahi Raha!
----------
Bahut Khaas The Kabhi Nazro Mein Kisi Ke Hum Bhi;
Magar Nazron Ke Takaze Badalne Mein Der Kaha Lagti Hai!
----------
Suna Hai Ishq Ka Shaunq Nahi Tum Ko,
Magar Barbaad Tum Kamaal Karte Ho!
----------
Waqt Rehta Nahi Kahin Tik Kar;
Aadat Is Kee Bhi Aadmii Si Hai!
~ Gulzar
----------
Baad Marne Ke Meri Qabar Pe Aaya Ghafil,
Yaad Aayi Mere Qatil Ko Wafa Mere Baad!
----------
Aag Se Seekh Liya Humne Yeh Qareena Bhi;
Bujh Bhi Jana Par Badi Der Tak Sulagte Rehna;
Jaane Kis Umar Mein Jayegi Ye Aadat Apni;
Roothna Usse Aur Auron Se Uljhate Rehna!
----------
Aaye To Yun Ki Jaise Hamesha The Meharban;
Bhule To Yun Ki Goya Kabhi Aashna Na The!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Har Ek Chehre Ko Zakhmon Ka Aaina Na Kaho;
Ye Zindagi To Hai Rahmat Ise Saza Na Kaho;
Na Jaane Kaun Si Mazburion Ka Qaidi Ho;
Wo Saath Chhod Geya Hai To Bewafa Na Kaho!
~ Rahat Indori
----------
Shayar Bana Diya Adhuri Mohabbat Ne,
Mohabbat Agar Puri Hoti To Hum Bhi Ek Ghazal Hote!
----------
Ajeeb Zulm Hue Hain Mohabbat Par Yaaro;
Jinhe Mili Unhein Kadar Nahi Jinhe Kadar Thi Unhein Mili Nahi!
----------
Tera Nazariya Mere Nazariye Se Alag Tha Kyonki,
Tumne Waqt Guzara Tha Aur Maine Zindagi!
----------
Khyalon Mein Bhatak Jana Teri Yaadon Mein Kho Jana,
Bahut Mehnga Pada Hai Mujhko Tera Ho Jana!
----------
Dil Behlane Ke Liye Hi Guftgu Kar Liya Karo Janab;
Maloom To Humein Bhi Hai Ki Hum Aapko Achhe Nahi Lagte!
----------
Zindagi Kya Kisi Muflis Ke Qabaa Hai Jis Mein;
Har Ghadi Dard Ke Paiband Lagaye Jate Hain!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Zaalim Duniya Mein Zara Sambhal Ke Rehna Mere Yaar;
Yahan Palkon Pe Bithaya Jata Hai Nazron Se Girane Ke Liye!
----------
Guzar Geya Wo Waqt Jab Tere Talabgaar The Hum;
Ab Khuda Bhi Ban Jao To Sajda Na Karenge!
----------
Kuch Is Tarah Se Guzari Hai Zindagi Jaise;
Tamaam Umar Kisi Dusre Ke Ghar Mein Raha!
~ Ahmad Faraz
----------
Unse Milne Ko Jo Sochun Ab Wo Zamana Nahi;
Ghar Bhi Kaise Jaun Ab To Koi Bahana Nahi;
Mujhe Yaad Rakhna Kahin Tum Bhula Na Dena;
Mana Ki Barson Se Teri Gali Me Aana Jana Nahi!
----------
Is Kadar Hum Yaar Ko Manane Nikle;
Uski Chahat Ke Hum Deewane Nikle;
Jab Bhi Use Dil Ka Haal Batana Chaha;
To Uske Hothon Se Waqt Na Hone Ke Bahane Nikle!
----------
Raat Der Tak Teri Dehleez Par Baithi Rahin Meri Aankhein;
Khud Na Aana Tha To Koi Khwab Hi Bhej Diya Hota!
----------
Meri Bahaduri Ke Kisse Mashoor The Shehar Mein,
Tujhe Kho Jaane Ke Darr Ne Mujhe Qayar Bana Diya!
----------
Ai Aasmaan Tere Khudaa Ka Nahi Hai Khauf;
Darte Hain Ai Zameen Tere Aadmi Se Hum!
----------
Main Shikayat Kya Karun Ab,
Yeh To Kismat Kee Baat Hai;
Teri Soch Mein Bhi Main Nahi,
Mujhe Lafz-Lafz Tu Yaad Hai!
----------
Na Gul Khile Hain Na Un Se Mile Na Mai Pee Hai;
Ajeeb Rang Mein Ab Ke Bahaar Guzri Hai!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye;
Rooth Kar Aise Yun Waqt Zaaya Na Kiya Karo!
----------
Tum Bhool Kar Bhi Yaad Nahi Karte Ho Kabhi;
Hum To Tumhari Yaad Mein Sab Kuch Bhula Chuke!
~ Sheikh Ibrahim Zauq
----------
Kabhi Tanhai, Kabhi Tadap, Kabhi Bebasi To Kabhi Intezar;
Ye Marz Bhi Kya Khoob Hai Jise Sab Log Ishq Kehte Hai!
----------
Jisne Kabhi Chahton Ka Paigaam Likha Tha;
Jisne Apna Sab Kuch Mere Naam Likha Tha;
Suna Hai Aaj Use Mere Zikar Se Bhi Nafrat Hai;
Jisne Kabhi Apne Dil Par Mera Naam Likha Tha!
----------
Asaani Se Dil Lagaaye Jaate Hain;
Magar Mushkil Se Vaade Nibhaye Jaate Hain;
Mohabbat Le Aati Hai Un Raahon Pe;
Jahan Diyon Ke Badle Dil Jalaye Jaate Hain!
----------
Jitni Shiddat Se Mujhe Zakham Diye Hain Us Ne;
Itni Shidat Se Toh Maine Usey Chahaa Bhi Nhi Tha!
----------
Khwahishon Ka Kafila Bhi Ajeeb Hi Hai;
Aksar Wahin Se Guzarta Hai Jahan Raasta Na Ho
----------
Teri Baatein Hi Sunane Aaye; Dost Bhi Dil Dukhane Hi Aaye!
~ Ahmad Faraz
----------
Mohabbat Hai Ki Nafrat Hai, Koi Itna To Samjhaye;
Kabhi Main Dil Se Ladhti Hun, Kabhi Dil Mujh Se Ladhta Hai!
----------
Rulane Ke Baad Kyon Hansate Hain Log;
Jaane Ke Baad Kyon Bulate Hain Log;
Zindagi Mein Kya Kuch Kasar Baaki Thi;
Jo Marne Ke Baad Bhi Jalate Hain Log!
----------
Yeh Dil Bura Sahi Magar Sar-e-Bazaar To Na Keh;
Aakhir Tu Is Makaan Mein Kuch Din Raha To Hai!
----------
Unka Bharosa Mat Karo Jinka Khayal Waqt Ke Sath Badal Jaye;
Bharosa Unka Karo Jinka Khayal Vaise Hi Rahe Jab Aapka Waqt Badal Jaye!
----------
Majlis Mein Mere Zikr Ke Aate Hi Uthe Woh;
Badnami-e-Ushshaq Ka Ezaz To Dekho!
~ Hakim Momin Khan Momin
----------
Mohabbat Yahan Bikti Hai Ishq Nilaam Hota Hai;
Bharose Ka Katal Yahan Khule Aam Hota Hai;
Zamaane Se Mili Jab Thokar To Maikhaane Chale Gaye Hum;
Aaj Wahi Zamaana Humein Sharabi Ka Naam Deta Hai!
----------
Dil Tod Kar Hamara Tumko Rahat Bhi Na Milegi;
Hamare Jaisi Tumko Kahin Chahat Bhi Na Milegi;
Yun Itni Berukhi Na Dikhlaiye Humein;
Hum Agar Ruthe To Hamari Aahat Bhi Na Milegi!
----------
Safar Mein Koi Kisi Ke Liye Theharta Nahi;
Na Mud Ke Dekha Kabhi Sahilon Ko Dariya Ne!
~ Farigh Bukhari
----------
Bane Hain Ahal-E-Hawas Muddai Bhi Munsif Bhi;
Kise Vakeel Karein Kisse Munsifi Chaahen!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Lipta Hai Mere Dil Se Kisi Raaz Ki Maanind;
Woh Shakhs Jis Ko Mera Hona Bhi Nahin Hai!
----------
Aaina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Reh Gaye;
Sahab Ko Dil Na Dene Pe Kitna Guroor Tha!
~ Mirza Ghalib
----------
Ab Shikayat Tujh Se Nahi Khud Se Hai;
Maana Ki Sare Jhooth Tere The Par Un Pe Yaqeen To Mera Tha!
----------
Bewafai Karke Niklun Ya Wafa Kar Jaunga;
Shehar Ko Har Zaike Se Aashna Kar Jaunga;
Tu Bhi Dhoondega Mujhe Shauq-e-Saza Mein Ek Din;
Main Bhi Koi Khoobsurat Si Khata Kar Jaunga!
~ Zafar Iqbal
----------
Lo Aaj Humne Tod diya Rishta-e-Umeed;
Lo Ab Kabhi Gila Na Karenge Kisi Se Hum!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Chaale Jayenge Ek Din Hum Tujhe Tere Haal Pe Chod Kar;
Apno Kee Kadaar Kya Hoti Hai Tuje Waqt Sikha Dega!
----------
Ab Aur Nahi Hoti Isjq Kee Ghulami;
Yaaro Keh Do Use, Ho Jaye Jiska Hona Hai!
----------
Mere Muqaddar Mein To Tumhari Yaadein Hain Lekin;
Tum Jiske Muqaddar Mein Ho Use Zindagi Mubarak!
----------
Kis Liye Katra Ke Jata Hai Musafir Dum To Le;
Aaj Sukha Ped Hun Kal Tera Saya Main Hi Tha!
~ Ibrahim Ashk
----------
Tu Agar Chhod Ke Jaane Kee Zidd Pe Hai To Ja;
Jaan Bhi Jism Se Jaati Hai To Kab Puch Ke Jaati Hai!
----------
Khafa Bhi Rehte Hain Aur Wafa Bhi Karte Hain;
Is Tarha Apne Pyaar Ko Bayan Bhi Karte Hain;
Jane Kaisi Narazgi Hai Meri Unse;
Khona Bhi Chahte Hain Aur Pane Kee Dua Bhi Karte Hain!
----------
Taraste The Jo Humse Milne Ko Kabhi;
Na Jaane Kyon Aaj Humare Saye Se Bhi Katrate Hain;
HUm bhi Wahi Hain Yeh Dil Bhi Wahi Hai;
Na Jaane Phir Kyon Aise Log Badal Jaate Hain!
----------
Gham Mujhe Dete Ho Auron Kee Khushi Ke Vaaste;
Kyon Bure Bante Ho Tum Nahaq Kisi Ke Vaaste!
~ Riyaz Khairabadi
----------
Mere Lafz Agar Us Tak Pahunch Jayein To Bas Itna Keh Dena;
Hum Jaise Log Ek Baar Kho Jayein To Phir Dobara Nahi Milte!
----------
Humse Khelti Rahi Duniya Taash Ke Patton Ki Tarah;
Jisne Jeeta Usne Bhi Phenka Jisne Haara Usne Bhi Phenka!
----------
Dil Bhar Aaya Kaghaz-e-Khaali Kee Surat Dekh Kar;
Jinko Likhna Tha Wo Sab Baatein Zubani Ho Gayi!
~ Ahmad Mushtaq
----------
Daad-o-Tahsin Ka Ye Shor Hai Kyon;
Hum To Khud Se Kalaam Kar Rahe Hain!

Meaning:
Daad-o-Tahsin = Praise and appreciation
Kalaam = Talking
~ Jon Elia
----------
Baat Umar Bhar Kee Thi Do Pal Kee Nahi;
Baat Saath Kee Thi Halaat Kee Nahi;
Jahan Ke Mele Mein Haath Chhod Diya Tune;
Baat Zubaan Kee Thi Kismat Kee Nahi!
----------
Mujhse Na Sahi, Gairon Se Hi Sahi;
Tumhein Dil Ko Lagana Aa To Geya;
Duniya Mein Kisi Ke Tum Ho To Gaye;
Chalo Tumhein Pyaar Nibhana Aa To Geya!
----------
Tumne Dekha To Humein Pyaar Se Bas Itna Hi Sahi;
Tera Bas Ho Geya Deedar Bas Itna Hi Sahi;
Tera Aashiq Hun Tumne Humein Chaha Na Sahi;
Kabhi Mujhko Pehchaan Liya Bas Itna Hi Sahi!
----------
Bhula Kar Mujhe Agar Tum Ab Bhi Ho Salamat;
To Bhula Kar Tumhein Sambhalna Mujhe Bhi Aata Hai;
Meri Fitrat Mein Nahi Hai Bas Ye Aadat Varna;
Teri Tarah Yun Badalna Mujhe Bhi Aata Hai!
----------
Tum Bhi Ho Beete Hue Waqt Ki Tarah Hu-B-Hu;
Tum Ne Bhi Yaad Aana Hai, Khud Aana To Hai Nahi!
----------
Zinda Rahe To Kya Hai, Jo Mar Jayein Hum To Kya;
Duniya Se Khamoshi Se Guzar Jayein Hum To Kya;
Hasti Hi Apni Kya Hai Zamane Ke Samne;
Ek Khwab Hain Jahan Mein Bikhar Jayein Hum To Kya!
----------
Agar Talaash Karun Koi Mil Hi Jayega;
Magar Tumhaari Tarah Kaun Mujhe Chahega;
Tumhen Zaruur Koi Chahaton Se Dekhega;
Magar Vo Aankhein Hamari Kahaan Se Layega!
----------
Aatish-e-Ishq Mein Jal Jaun Tujhe Is Se Kya;
Mausam Kee Tarah Badal Jaun Tujhe Is Se Kya;
Chot Khaun Ya Zakham Lage, Ya Ehsas-e-Gham Mein Tarpun;
Main Gir Jaun Ya Sambhal Jaun Tujhe Is Se Kya!
----------
Uski Chahat Ne Rulaya Bahut Hai;
Uski Yaadon Ne Tadpaya Bahut Hai;
Hum Usse Karte Hain Mohabbat Beintehaa;
Iss Baat Ko Usne Aazmaya Bahut Hai!
----------
Kehte Hain Woh Majbur Hain Hum;
Na Chahte Hue Bhi Door Hain Hum;
Chura Lee Hai Unhone Dhadkane Hamari;
Phir Bhi Kehte Hain Ki Bekasoor Hain Hum!
----------
Sab Fasane Hain Duniya Daari Ke;
Kis Ne Kis Ka Sukoon Loota Hai;
Sach To Yeh Hai Ki Iss Zamane Mein;
Main Bhi Jhootha Hun Tu Bhi Jhootha Hai!
----------
Mohabbat Se Rihaa Hona Zaroori Ho Geya Hai;
Mera Tujh Se Judaa Hona Zaroori Ho Geya Hai;
Wafaa Ke Tazurbey Karte Hue To Umar Guzri;
Zara Sa Bewafa Hona Zaroori Ho Geya Hai!
~ Noshi Gilani
----------
Galtiyon Se Juda Tu Bhi Nahi, Main Bhi Nahi;
Dono Insaan Hain, Khuda Tu Bhi Nahi, Main Bhi Nahi;
Tu Mujhe Aur Main Tujhe Ilzaam Deta Hun Magar;
Apne Andar Jhankta Tu Bhi Nahi, Main Bhi Nahi!
----------
Ai Maut, Main Tujhe Gale Lagana Chahta Hun;
Kitni Wafa Hai Tujh Mein Yeh Aazmana Chahta Hun;
Rulaya Hai Bahut Duniya Mein Logo Ne Mujhe;
Mile Jo Tera Saath To Main Logo Ko Rulana Chahta Hun!
----------
Is Se Pehle Ki Bewafa Ho Jayein;
Kyon Na Ai Dost Hum Judaa Ho Jayein;
Tu Bhi Heere Se Ban Geya Pathar;
Hum Bhi Kal Jaane Kya Se Kya Ho Jayein!
~ Ahmad Faraz
----------
Aankhein Bhi Haye Naza Mein Apni Badal Gayi;
Sach Hai Ki Bekasi Mein Koi Aashna Nahin!
~ Khwaja Mir Dard
----------
Ek Pal Kee Judai Gawara Na Kar Sake;
Aisa Ishq Hum Dobara Na Kar Sake;
Zindagi Bhar Palat Ke Naa Dekha Kabhi;
Hum Phiir Bhi Shikwa Tumhara Naa Kar Sake!
----------
Yahin Se Jaan Geya Main Ki Waqt Dhalne Lage;
Main Thak Haar Ke Baitha To Pair Jalne Lage;
Jo De Raha Tha Sahaare To Ik Hajoom Mein Tha;
Jo Gir Pada To Sabhi Raasta Badalne Lage!
----------
Chahne Se Koi Cheez Apni Nahi Hoti;
Har Muskuraht Khushi Nahi Hoti;
Armaan To Hote Hain Bahut Magar;
Kabhi Waqt To Kabhi Kismat Sahi Nahi Hoti!
----------
Hum Ne Mohbbaton Ke Nashe Mein Aa Kar Use Khuda Bana Dala;
Hosh Tab Aaya Jab Us Ne Kaha Ki Khuda Kisi Ek Ka Nahi Hota!
~ Mirza Ghalib
----------
Naadani Kee Hadh Hai Zara Dekho To Unhein;
Mujhe Kho Kar Wo Mere Jaisa Dhoondh Rahe Hain!
----------
Marne Ka Tere Ishq Mein Iraada Bhi Nahi Hai;
Hai Ishq, Magar Itna Jyada Bhi Nahi Hai!
----------
Kitna Ajeeb Apni Zindagi Ka Safar Nikla;
Saare Jahan Ka Dard Apna Muqaddar Nikla;
Jiske Naam Apni Zindagi Ka Har Lamha Kar Diya;
Afsos Wo Hamari Chahat Se Bekhabar Nikla!
----------
Aankhon Ke Ishaare Samajh Nahi Paate;
Honthon Se Dil Kee Baat Keh Nahi Paate;
Bebasi Ka Aalam Ab Kuch Yun Ho Geya Ki;
Kuch Keh Bhi Nahi Paate Aur Chup Reh Bhi Nahi Paate!
----------
Khuli Jo Aankh To Wo Tha Na Wo Zamanaa Tha;
Dehakati Aag Thi Tanhayi Thi Fasanaa Tha;
Ye Kya Ki Chand Hi Kadmon Pe Thak Ke Baith Gaye;
Tumhein To Saath Mera Door Tak Nibhanaa Tha!
~ Farhat Shahzad
----------
Kisi Ne Humein Aashiq Kaha;
Kisi Ne Humein Deewana Kaha;
In Aankho Mein Aansu Tab Aaye;
Jab Kuch Apno Ne Hi Humein Begana Kaha!
----------
Kar Rahaa Tha Gham-e-Jahaan Ka Hisaab;
Aaj Tum Yaad Behisaab Aaye!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Agar Talaash Karun Koi Mil Hi Jayega;
Magar Kaun Tumhari Tarah Mujh Ko Chahega;
Tumhein Zaroor Koi Chahaton Se Dekhega;
Magar Wo Aankhein Hamari Kahan Se Layega!
~ Bashir Badr
----------
Kuch Khabar Nahi Hum Ko Apna Ya Paraya Hai;
Dhoondne Ye Dil Jis Ko Is Gali Mein Aaya Hai;
Hum Duayein Dete Hain Tum Ko Phir Bhi Jaan-e-Jaan;
Magar Tum Ne Is Dil Ko Be-Panah Sataya Hai!
----------
Barabar Se Bach Kar Guzar Jaane Wale;
Yeh Naale Nahi Be-Asar Jaane Wale;
Nahi Jaante Kuch Ki Jaana Kahan Hai;
Chale Ja Rahe Hain Magar Jaane Wale!
~ Jigar Moradabadi
----------
Rasam-e-Wafa Nibhana To Gairat Kee Baat Hai;
Wo Mujhko Bhool Jayein Yeh Hairat Kee Baat Hai;
Sab Mujhko Chahte Hain Shohrat Kee Baat Hai;
Bas Wo Humein Nahi Chahte Yeh Hamari Kismat Kee Baat Hai!
----------
Betabiyan Samet Ke Sare Jahaan Kee;
Jab Kuch Na Ban Saka To Mera Dil Bana Diya!
~ Jigar Moradabadi
----------
Hum To Tere Dil Kee Mehfil Sajane Aaye The;
Teri Kasam Tujhe Apna Banane Aaye The;
Kis Baat Kee Saza Dee Tumne Humein Bewafa;
Hum To Tere Dard Ko Apna Banane Aaye The!
----------
Dil Ke Behlane Kee Tadbeer To Hai;
Tu Nahi Hai Teri Tasveer To Hai;
Humsafar Chhod Gaye Mujh Ko To Kya;
Saath Mere Meri Taqdeer To Hai!
~ Shakeel Badayuni
----------
Meri Koshish Hamesha Hi Naqaam Rahi;
Pehle Tumhein Paane Kee Ab Tumhein Bhulane Kee!
----------
Kyon Koi Chaah Kar Mohabbat Nibha Nahi Paata;
Kyon Koi Chaah Kar Rishta Banaa Nahi Paata;
Kyon Leti Hai Zindagi Aisi Karvat;
Ki Koi Chaah Kar Bhi Pyaar Jataa Nahi Paata!
----------
Na Zindagi Mili Na Wafa Mili;
Na Jaane Kyon Har Khushi Humse Khafa Mili;
Jhoothi Muskaan Liye Apne Gham Chupaate Hain;
Sachhi Mohabbat Karne Kee Bhi Kya Khoob Saza Mili!
----------
Palkein Khuli Subah To Yeh Jaana Humne;
Maut Ne Aaj Phir Se Humein Zindagi Ke Hawale Kar Diya!
----------
Koi Umeed Bar Nahi Aati;
Koi Soorat Nazar Nahi Aati;
Maut Ka Ek Din Muayyan Hai;
Neend Kyon Raat Bhar Nahi Aati!

Translation:
No longing can now be fulfilled,
No despite can now be envisaged.
The day of death has been appointed,
Why is the night crowded with sleeplessness?
~ Mirza Ghalib
----------
Aaye To Yun Ki Jaise Hamesha The Mehrban;
Bhule To Yun Ki Goya Kabhi Aashna Na The!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Dil Tod Kar Hamara Tumko Rahat Bhi Na Milegi;
Hamare Jaisi Tumko Chaht Bhi Na Milegi;
Yun Itni Berukhi Na Humein Dikhlaiye;
Hum Agar Ruthe To Hamari Aahat Bhi Na Milegi!
----------
Dil Kee Baat Ko Juban Se Kehna Nahi Aata;
Khafa Hona To Aata Hai, Khafa Rehna Nahi Aata!
----------
Dilon Ko Fikr-e-Do-Alam Se Kar Diya Aazad;
Tere Junoon Ka Khuda Silsila Daraaz Kare!
~ Hasrat Mohani
----------
Kuch Pane Kee Chaahat Mein Bahut Kuch Choot Jata Hai;
Na Jane Sabr Ka Dhaga Kahan Par Toot Jata Hai;
Zara Batao Ki Tum Kise Humraah Kehte Ho;
Yahan To Apna Saya Bhi Saath Chod Jata Hai!
----------
Pehli Mohabbat Thi Hamari, Hum Jaan Na Sake;
Pyaar Kya Hota Hai Hum Pehchan Na Sake;
Humne Unhe Dil Mein Basaya Hai Iss Kadar Ki;
Chah Kar Bhi Hum Unhe Apne Dil Se Nikaal Na Sake!
----------
BhulaKar Mujhe Agar Tum Ab Bhi Ho Salamat;
To BhulaKar Tumhein Sambhalna Mujhe Bhi Aata Hai;
Meri Fitrat Mein Nahi Hai Ye Aadat Varna;
Teri Tarah Yun Badalna Mujhe Bhi Aata Hai!
----------
Koi Mil Jaye Mujhe Tum Jaisa Ye Na-Mumkin Sahi;
Lekin Tum Dhund Lo Hum Jaisa Itna Aasan Ye Bhi Nahi!
----------
Apni Gali Mein Mujh Ko Na Kar Dafn Baad-e-Qatl;
Mere Pate Se Khalak Ko Kyon Tera Ghar Mile;
Saqi Gari Kee Sharm Karo Aaj Varna Hum;
Har Shab Piya Hi Karte Hain Mai Jis Kadar Mile!

Translation:
Do not bury me in your alley after my murder,
Why should my address bring the world to your home.
Practice the properieties of wine bearing today,
Other nights, I imbibe whatever can be found.
~ Mirza Ghalib
----------
Kash Woh Samajhte Is Dil Kee Tadap Ko;
To Yun Humein Ruswa Na Kiya Hota;
Unki Ye Berukhi Bhi Manzoor Thi Humein;
Bas Ek Baar Humein Samjh Liya Hota!
----------
Hum Ko Unse Hai Wafa Kee Umeed;
Jo Nahi Jaante Wafa Kya Hai;
Haan Bhala Kar Tera Bhala Hoga;
Aur Darvesh Kee Sada Kya Hai!

Translation:
We hope for fidelity from them,
Who do not know what fidelity may be.
Yes, do well, well will come to you,
What else is the Dervish's cry?
~ Mirza Ghalib
----------
Main Bhi Munh Mein Jubaan Rakhta Hun;
Kaash Pucho Ki Mudda Kya Hai;
Jab Ki Tujh Bin Nahi Koi Maujood;
Phir Yeh Hungama Ai Khuda Kya Hai!

Translation:
I also have a tongue in my mouth,
If only you could ask its articulation,
if there is nothing apart from you, Oh Lord!
Then what is this continual turmoil.
~ Mirza Ghalib
----------
Wafa Kee Keemat Lagai Nahi Jati;
Humse Apni Chahat Chupayi Nahi Jati;
Is Kadar Mohabbat Hai Humein Unse;
Ki Unki Khata Bhi Humse Batai Nahi Jati!
----------
Kuch Main Bhi Thak Geya Use Dhoondte Hue;
Kuch Zindagi Ke Paas Bhi Mohlat Nahi Rahi;
Us Kee Har Ek Ada Se Jhalakne Laga Khaloos;
Jab Mujh Ko Aitbar Kee Aadat Nahi Rahi!
----------
Deedar Tera Kiya Humne, Aaj Gairon Kee Qataar Se;
Na Nazar-e-Inayat Hui, Na Rooh Ko Sukun Mila!
----------
Kitab-e-Ishq Mein Jitne Alfaz Likhe Hain;
Dil Mein Mere Utne Ehsaas Rakhe Hain;
Tum Keh Kar Dekhte Sitamgar, Zalim;
Mere Labon Par Kitne Tere Naam Rakhe Hain!
----------
Tu Dost Kisi Ka Bhi Sitamgar Na Hua Tha;
Auron Pe Hai Woh Zulm Ki Mujh Par Na Hua Tha;
Chhoda Mah-e-Nakhshab Kee Tarah Dast-e-Qaza Ne;
Khurshid Hanuz Us Ke Barabar Na Hua Tha!

Translation: You are no one's friend, albeit, the giver of pain,
The grief you inflicton others, you will not even bestow upon me.
Just as the hand of death can smash the image of Nakhshab's moon,
The sun's radiance will also vanish before it can match that of the beloved.
~ Mirza Ghalib
----------
Deewana Mat Kaho Mujh Ko Yun Achha Nahi Lagta;
Bada Afsos Hota Hai Jab Koi Apna Nahi Lagta;
Lagta Hai Ki Hogi Uski Bhi Kuch Majboori;
Uska Yun Chhod Kar Jana Achha Nahi Lagta!
----------
Hum Ne Waqt Se Bahut Wafa Kee, Lekin Waqt Hum Se Bewafai Kar Geya;
Kuch To Hamare Naseeb Bure The, Kuch Us Ka Hum Se Jee Bhar Geya!
----------
Badalte Iss Zamane Ne Sab Ko Badal Dala;
Khwabon Aur Khyalon Ko Bhi Badal Dala;
Na Badal Saka Us Bewafa Ko Pyaar Mera;
Jiske Liye Humne Apne Aap Ko Badal Dala!
----------
Badli Jo Kaynaat Mujhe Iska Gham Nahi;
Lekin Bura Tha Naseeb Jo Tum Badal Gaye!
----------
Khamosh Guzar Jate Hain Woh Kareeb Se;
Sawal Uthte Hain Dil Mein Ajeeb Se;
Woh Khafa Hain Ya Yeh Unki Koi Ada Hai;
Shikayat Bhi Kya Karein Ab Agar Yahi Hai Naseeb Mein!
----------
Zamana Badal Geya Badal Gaye Insaan Bhi;
Aaj Badla Sab Kuch Chahat Aur Pyaar Bhi;
Aaj Kisi Kee Nazar Mein Keemat Nahi Hai Khoon Kee;
Paisa Jis Kee Jeb Mein Wo Hi Sultaan Aur Ameer Bhi!
----------
Jaane Do Abb Iss Gusse Ko;
Ishq Ko Toh Bhi Nibhaana Hai.
Gussa Hai Aggar Aashiq Pe;
Toh Kabr Mein Kyun Isse Lajaana Hai!
~ JD Ghai
----------
Ek Se Silsile Hain Sab Hijr Kee Rut Bata Gayi;
Phir Wahi Subah Aayegi Phir Wahi Sham Aa Gayi;
Mere Lahoo Mein Jal Uthe Utne Hi Taza Dam Chirag;
Waqt Kee Sazishi Hawa Jitne Diye Bujha Gayi!
~ Pirzada Qasim
----------
Chaman Se Bichhda Hua Ek Gulab Hoon;
Main Khud Apni Tabaahi Ka Jawaab Hoon;
Yun Nigahein Na Fer Mujhse Mere Sanam;
Main Teri Chahaton Mein Hi Hua Barbaad Hoon!
----------
Kaise Kahe Ki Usko Bhi Humse Hai Koi Vaasta;
Usne To Humse Aaj Tak Koi Gila Nahi Kiya!
~ Jon Elia
----------
Maut Se Keh Do Ki Hum Se Naraazgi Khatam Kar Le Ab;
Woh Bhi Bahut Badal Gaye Hain Jinke Liye Jiya Karte The Hum!
----------
Tinkon Se Khelte Hi Rahe Aashiyan Mein Hum;
Aaya Bhi Aur Geya Bhi Zamana Bahar Ka!
~ Fani Badayuni
----------
Yeh Na Puch Ki Shikayatein Kitni Hain Tujhse Ai Zindagi;
Sirf Yeh Bata Ki Tera Koi Aur Sitam Baaki To Nahi Hai!
----------
Kehte Hain Woh Majbur Hain Hum;
Na Chahte Hue Bhi Door Hain Hum;
Chura Lee Hai Unhone Dhadkane Hamari;
Phir Bhi Kehte Hain Ki Bekasoor Hain Hum!
----------
Hum Bhi Ek Sham Bahut Uljhe Hue The Khud Mein;
Ek Sham Usko Bhi Haalat Ne Mohlat Nahin Di!
~ Iftikhar Arif
----------
Mumkin Ho Aap Se To Bhula Dijiye Mujhe;
Pathar Pe Hun Lakeer, Mita Dijiye Mujhe;
Har Roz Mujh Se Taaza Shikayat Hai Aap Ko;
Main Kya Hun, Aik Baar Bata Dijiye Mujhe!
----------
Mehfil Mein Mere Zikar Ke Aate Hi Uthe Woh;
Ruswa-e-Mohabbat Ka Ye Ezaz To Dekho!

Meaning:
Ruswa-e-Mohabbat = Humiliated In Love
Ezaz = Miracle
~ Hakim Momin Khan Momin
----------
Mohabbat Kee Daastan Sunane Aaye Hain;
Tabah Karne Ke Baad Woh Pyaar Jatane Aaye Hain; Aansu Ponch Liye The Hum Ne Kab Ke;
Magar Woh Fir Se Aaj Hume Rulane Aaye Hain!
----------
Takdeer Se Shikwa Bhi Karein To Kis Tarah Karein;
Iss Takdeer Ne Humko Milaaya Bhi Tha Unse!
----------
Mohabbat Hum Ne Kee To Ek Khata Ho Gayi;
Ki Wafa Aur Zindagi Hi Ab Saza Ho Gayi;
Wafa Karte Rahe Hum Ibadaton Kee Tarah;
Phir Ibadat Bhi Hamare Liye Ek Gunah Ho Gayi!
----------
Woh Aate Hain Khwabo'n Mein Yunhi Bin Bulaye;
Aisa Hi Kuchh Shikwa Hamare Dil Ko Bhi Hai!
~ JD Ghai
----------
Karoge Yaad Tum Ki Main Kehta Tha Kabhi;
Daulat Aur Mohabbat Ka, Na Kabhi Bhi Mel Hota Hai;
Hoti Hai Jinke Liye Daulat Hi Sab Se Badhkar;
Unke Liye To Yeh Mohabbat, Bas Ek Khel Hota Hai!
----------
Lutf Wo Ishq Mein Paaye Hain Ki Jee Jaanta Hai;
Ranj Bhi Aise Uthaye Hain Ki Jee Jaanta Hai;
Jo Zamane Ke Sitam Hain Wo Zamana Jaane;
Tu Ne Dil Itne Sataye Hain Ki Jee Jaanta Hai!
~ Daagh Dehlvi
----------
Tumhein Jafa Se Na Yun Baaz Aana Chahiye Tha;
Abhi Kuch Aur Mera Dil Dukhana Chahiye Tha!
~ Pirzada Qasim
----------
Reh Na Pao Ge Kabhi Bhula Kar Dekh Lo;
Yakeen Nahi Aata To Aazma Kar Dekh Lo;
Har Jagah Mehsoos Hogi Kami Hamari;
Apni Mehfil Ko Kitna Bhi Saja Kar Dekh Lo!
----------
Gum Ye Nahi Ki Kasam Apni Bhulai Tum Ne;
Gum To Ye Hai Ke Raqeebon Se Nibhai Tum Ne;
Koi Ranjish Thi Agar Tum Ko To Mujh Se Keh Dete;
Baat Apas Ki Kyon Sab Ko Batai Tum Ne!
----------
Wo Mujhe Chaahti Hai Par Apna Nahi Sakti;
Mujhe Bhulane Ka Dard Utha Nahi Sakti;
Ajeeb Hai Uske Pyaar Ka Ye Andaz Bhi;
Khafa To Karti Hai Par Manaa Nahi Sakti!
----------
Koi Dhokha Nahi Aisa Jo Na Khaya Hum Ne;
Zindagi Bhar Tera Saath Nibhaya Hum Ne;
Kabhi Mehnat Ka Silaa Apni To Paya Hi Nahin;
Chaaon Auron Ko Mili Pedh Lagaya Hum Ne!
----------
Apne Hi Hote Hain Jo Dil Pe Vaar Karte Hain 'Faraz';
Warna Gairon Ko Kya Khabar Ki Dil Kee Jagah Kaun Si Hai!
~ Ahmad Faraz
----------
Tum Ise Shikwa Samajh Kar Kis Liye Sharma Gaye;
Muddaton Ke Baad Dekha Tha To Aansu Aa Gaye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Milate Ho Usi Ko Khaak Mein, Jo Dil Se Milta Hai;
Meri Jaan Chahane Wala, Badi Mushkil Se Milta Hai!
~ Daagh Dehlvi
----------
Kabhi Unki Yaad Aati Hai Kabhi Unke Khawab Aate Hain;
Mujhe Satane Ke Saleeke To Unhe Behisab Aate Hain;
Qayamat Dekhni Ho Agar Chale Jana Kisi Mehfil Mein;
Suna Hai Ki Mehfil Mein Woh Be-Naqab Aate hain!
----------
Churi Kee Nok Se Zakhmo Pe Wo Marham Lagate Hain;
Zakham Bhi Khud Hee Dete Hain Khud Hee Aansu Bahate Hain;
Yeh Kaisa Pyaar Hai Unka Koi To Humko Samjhao;
Sitamgar Hain Ya Hain Dilbar Woh Jo Yaad Aate Hain!
----------
Bhale Hi Raah Chalton Ka Daaman Tu Tham Le;
Magar Mere Pyaar Ko Bhi Tu Kabhi Pehchan Le;
Kitna Intezar Kiya Hai Tere Ishq Mein Humne;
Zara Yeh Dill Kee Betaabi Ko Bhi Tu Kabhi Jaan Le!
----------
Koi Mil Jaaye Mujhe Tum Jaisa Yeh Na-Mumkin Sahi;
Lekin Tum Dhund Lo Hum Jaisa Itna Aasan Yeh Bhi Nahi!
----------
Ghum Ye Nahi Ki Kasam Apni Bhulai Tum Ne;
Ghum To Ye Hai Ki Raqeebon Se Nibhai Tum Ne;
Koi Ranjish Thi Agar Tum Ko To Mujh Se Keh Deta;
Baat Aapas Kee Kyon Sab Ko Batai Tum Ne!
----------
Chahat Kee Raah Mein Bikhre Aarmaan Bahut Hain;
Hum Uski Yaad Mein Pareshan Bahut Hain;
Woh Har Baar Dil Todta Hai Ye Keh Kar Ki;
Meri Ummedon Kee Duniya Mein Abhi Mukaam Bahut Hain!
----------
Tujhe Fursat Na Mili Padhne Kee Warna;
Hum To Tere Shehar Mein Biktey Rahe Kitaabon Kee Tarah!
----------
Pyaar Kisi Se Jo Karoge Ruswai Hi Milegi;
Wafa Kar Lo Chahe Jitni, Bewafai Hi Milegi;
Jitna Bhi Kisi Ko Apna Bana Lo;
Jab Aankh Khulegi Tanhayi Hi Milegi!
----------
Baat Karte Hain Khushi Kee To Ek Ranj Ke Sath;
Woh Hansate Bhi Hain Ke Rula Dete Hain!
~ Daagh Dehlvi
----------
Kahan Tak Sunegi Raat Kahan Tak Sunayein Ge hum;
Shikwe Sare Sab Aaj Tere Rubaru Karein!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Karoge Yaad Ek Din Iss Pyaar Ke Zamane Ko;
Chale Jayenge Jab Hum Kabhi Na Vapas Aane Ko;
Chalega Mehfil Mein Jab Zikr Hamara Koi;
To Tum Bhi Tanhayi Dhoondoge Aansu Bahane Ko!
----------
Yahan Kisi Ko Bhi Kuch Hasb-e-Aarzoo Na Mila;
Kisi Ko Hum Na Mile Aur Hum Ko Tu Na Mila!
~ Zafar Iqbal
----------
Hum Ne Waqt Se Bahut Wafa Kee Lekin;
Waqt Humse Bewafai Kar Geya;
Kuch Humare Naseeb Bure The;
Kuch Logon Ka Humse Dil Bhar Geya!
----------
Nahin Jaata Kisi Se Wo Marz, Jo Hai Naseebon Ka;
Na Qayal Hun Dawa Ka Main, Na Qayal Hun Tabibon Ka;
Na Shikwa Dushmano Ka Hai, Na Hai Shikwa Habibon Ka;
Shikayat Hai To Kismat Ki, Gila Hai To Naseebon Ka!
~ Bahadur Shah Zafar
----------
Iss Dunya Mein Jo Humko Dil Ke Hain Rog Mile;
Khushiyon Ki Talaash Mein Jo Humko Hain Sog Mile;
Matlabi Zamane Kee Matlabi Galiyon Mein;
Doston Ke Roop Mein Sab Dushman Log Mile!
----------
Har Chaman Mein Mumkin Hai Ki Gul Khil Jaaye;
Tumhe Bhi Hamare Baad Mumkin Hai Koi Aur Mil Jaaye;
Zindagi To Tumne Kabhi Hum Ko Jeene Na Di;
Ab Marna Chaha To Kehte Ho Ki Maut Bhi Na Aaye!
----------
Badla Jo Waqt Gehri Dosti Badal Gayi;
Suraj Dhala To Saaye Ki Surat Badal Gayi;
Ik Umar Tak Main Teri Zarurat Bana Raha;
Fir Yun Hua Ki Teri Zarurat Badal Gayi!
----------
Jo Pyaar Kar Ke Humein Barbaad Karte Hain;
Unko Kabhi Khushiyan Kaise Milegi;
Hum To Unko Jee-Jaan Se Chahate Hain;
Unko Humse Bad-dua Kaise Milegi!
----------
Mukhliss Har Kisi Ke Sath Rehta Hun;
Shayad Issi Liye Udaas Rehta Hun!
----------
Mujhe To Gham Tha Us Ke Bicharrne Ka Magar;
Woh Hath Malta Raha Umar Bhar Ganwaa Ke Mujhe!
----------
Gham e Dunia Mein Gham e Yaar Bhi Shamil Kar Lo;
Nasha Bhadta Hai Sharabein Jo Sharabon Mein Milein;
Ab Na Wo Main Hun Na Tu Hai Na Wo Mazi Hai 'Faraz';
Jaise Do Saye Tamanna Ke Sarabon Mein Milein!
----------
Giley Hain Hazaron Ki Badle Ho Kyon Tum;
Magar Ab Karein Kyon Gila Ajnabi Se;
Azab Hai Neendein Ganwane Ka Silsila;
Yeh Acha Nahin Silsila Ajnabi Se!
----------
Kya Uss Se Chupaaun, Nahi Ghair Bhi Itna;
Kya Us Ko Bataaun, Mera Apna To Nahi Hai!
----------
Guzar Gaya Woh Waqt, Jab Teri Hasrat Thi Mujhe;
Ab Tu Khuda Bhi Ban Jaye To Bhi Tera Sajda Na Karu!
----------
Arz Sirf Itna Hai Dosti Ke Baare Mein;
Aadmi Galat Samjha Aadmi Ke Baare Mein!
----------
Giley Hain Hazaron Ki Badle Ho Kyon Tum;
Magar Ab Karein Kyon Gilaa Ajnabi Se;
Azab Hai Neendein Ganwane Ka Silsila;
Yeh Acha Nahin Silsila Ajnabi Se!
~ Sahir Rasool
----------
Kis Qadar Naadim Hua Hoon Main Bura Keh Kar Usey;
Kya Khabar Thi Jaate Jaate Woh Dua De Jaye Ga!

Translation:
Naadim = Feel Guilty
----------
Phool Chahe The Magar Hath Mein Aaye Pathar;
Humne Aghosh-e-Mohabbat Mein Sulaye Pathar!
----------
Tum Kya Gaye Ki Waqt Ka Ehsaas Mar Geya;
Raaton Ko Jaagte Rahe Aur Din Ko So Gaye!
----------
Wohi Ahal-e-Karwan Hain Wohi Be Hisi Ka Alam;
Na Kisi Ko Manzil Na Gham-e-Shikasta Pani!
----------
Jise Khud Se Hi Nahin Furstein; Jise Khayal Apne Kamaal Ka; Useh Kya Khabar Mere Shaunq Ki; Useh Kya Pata Mere Haal Ka!
----------
Umeed To Manzil Pe Pahunchne Ki Bari Thi;
Taqdeer Magar Janay Kahan Soyi Parri Thi;
Khush They Ke Guzarein Gey Rafaqat Mein Safar Ab;
Tanhayee Magar Baahon Ko Phir Kholey Khari Thi!
----------
Sun Kar Tamaam Raat Meri Dastaan-e-Gham;
Boley To Sirf Yeh Ke Bahut Boltey Ho Tum!
----------
Bana Ghulab To Kaante Chubaa Geya Ek Shakhs;
Hua Chiragh To Ghar Hi Jala Geya Ek Shakhs!
----------
Dekh Kaisi Qayamat Si Barpa Hui Hai Aashiyanon Pe Iqbal;
Jo Lahoo Se Tameer Hue The, Paani Se Bah Gaye!
~ Allama Iqbal
----------
Teri Banda Parwari Se Mere Din Guzar Rahe Hain;
Na Gila Hai Doston Ka, Na Shikayat-e-Zamana!
----------
Bikhri Kitaabein, Bheege Auraaq Aur Yeh Tanhai;
Kahoon Kaise Ke Mila Mohabbat Mein Kuch Bhi Nahi!
----------
Qasam De Ke Apni Tujhe Rok Ley Ga;
Teri Laghzishon Pe Tujhe Tok De Ga;
Tu Murr Murr Ke Piche Kise Dekhta Hai;
Tera Kaun Hai Jo Tujhe Rok Le Ga!

Translation:
Laghzishon = Deviating
----------
Kabhi Pathar Se Bhi Takraye To Kharaash Tak Na Aye;
Kabhi Ik Baat Hi Se Insaan Toot Ke Bikhar Jatey Hain!
----------
Duniya Ne Teri Yaad Se Begaana Kar Diya;
Tujh Se Bhi Dil-Fareb Hain Gham Rozgaar Ke!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Kab Talak Tuj Pe Inhisar Krain;
Kyun Na Ab Doosron Se Pyar Krain;
Tu Kabi Waqt Par Nahi Pahuncha;
Kis Tarah Tera Aitbar Krain!
~ Syed Wasi Shah
----------
Ek Khushi Dil Ne Kya Maang Li;
Meri Har Khushi Ko Nazar Lag Gyi!
----------
Phir Itne Mayoos Kyun Ho Uski Bewafayi Par Faraz;
Tum Khud Hi Toh Kehte Thay Ki Woh Sab Se Juda Hai!
~ Ahmad Faraz
----------
Rail Ki Seeti Mein Kaise Hijr Ki Tamheed Thi;
Us Ko Rukhsat Karke Ghar Laute To Andaaza Hua!
~ Parveen Shakir
----------
Meri Wafa Ki Gawahi Toh Sitare Bhi Dete Hain;
Par Mere Chaand Ko Aaya Nahi Aitbar Mera!
----------
Badi Hoti Hai Mayoosi, Badi Hoti Hai Mayoosi;
Bana Kar Hum Ne Naqash Aarzoo Aksar Mita Daala!
----------
Ajeeb Saanehaa Guzraa Hai Mujh Pe Aaj Ki Shaam;
Main Aaj Shaam Tumhare Hijar Mein Udaas Na Tha;
Ab Ek Saal Toh Yeh Ek Gham Hi Kaafi Hai;
Tumhari Salgiraah Par Bhi Tumhare Paas Na Tha!
~ Syed Wasi Shah
----------
Yeh Kya Ke Tujhe Bhi Hai Zamaney Se Shikayat;
Yeh Kya Ke Teri Aankh Bhi Pur'num Hai Meri Jaan!
----------
Ho Na Ho Yeh Koi Sach Bolne Wala Hai Qateel;
Jis Ke Hathon Mein Qalam, Paon Mein Zanjeerein Hain!
~ Qateel Shifai
----------
Jigar Ho Jaega Chhalni Yeh Aankhein Khoon Royeingi Wasi;
Be Fainz Logon Se Nibha Kar Kuch Nahi Milta!
~ Syed Wasi Shah
----------
Tum Par Beete Gi Toh Tum Bhi Jaan Jaoge Mohsin;
Koi Nazar Andaz Kare Toh Kitna Dard Hota Hai!
~ Mohsin Naqvi
----------
Log Toh Majboor Hain Marenge Patthar;
Kyun Na Hum Sheeshon Se Keh Dein Toota Na Karein!
~ Ahmad Faraz
----------
Kaha Talash Karoge Tum Mujh Jaisa Koi;
Jo Tumhare Sitam Bhi Sahe;
Aur Tum Se Mohabbat Bhi Kare!
~ Allama Iqbal
----------
Ishq Qaatil Se Bhi, Maqtool Se Hamdardi Bhi;
Yeh Btaa Kis Se Mohabbat Ki Jaza Mange Ga!
~ Allama Iqbal
----------
Baat To Kirdar Ki Hoti Hai Ghalib;
Warna Qad Mein Toh Saya Bhi Insan Se Bada Hota Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Maza Deti Hain Unko Zindagi Ki Thokrein Mohsin;
Jinko Naam­-e-Khuda Le Kar Sambhal Jane Ki Aadat Ho!
~ Mohsin Naqvi
----------
Jin Ke Angan Mein Ameeri Ka Shajar Lagta Hai;
Un Ka Har Aaib Bhi Zamaane Ko Hunar Lagta Hai!

Translation:
Shajar = Tree
Aaib = Weakness
~ Allama Iqbal
----------
Raiza Raiza Hai Akss Mera, Magar Hairat Yeh Hai;
Hai Mera Aayina Salamat, To Phir Toota Kya Hai!
----------
Woh Dil Mein Hai;
Dhadkan Mein Hai;
Rooh Mein Hai Ghalib;
Sirf Kismat Mein Nahi Hai To Khuda Se Gila Kaisa!
~ Mirza Ghalib
----------
Nerangi Siasat e Doran To Dekhiye;
Manzil Unhein Mili Jo Shareek e Safar Na The!
----------
Zameer Marta Hai Ehsaas Ki Khamoshi Se;
Ye Woh Wafaat Hai Jis Ki Khabar Nahi Hoti!
----------
Kuch Aansu, Kuch Khushiyan De Kar Taal Gaya;
Jeevan Ka Ek Aur Sunehraa Saal Gaya;
Kon Jaane Ke Kal Ka Samaa Kaisa Ho Ga;
Ab Tak To Kal Sa Hi Hai Sab Haal Gaya!
----------
Shor Hai, Hungaama Araayi Hai;
Zindagi, Tu Kahaan Le Aayi Hai;
Nafsa Nafsi Ka Ajeeb Aalam Hai;
Bheed Hai, Magar Tanhaai Hai!
----------
Juda Huye Hain Bahut Log Ik Tum Bhi Sahi;
Ab Itni Si Baat Pe Kya Zindagi Haraam Karein!
~ Nasir Kazmi
----------
Ishq Qaatil Say Bhi, Maqtool Say Hamdardi Bhi;
Yeh Bta Kis Say Mohabbat Ki Jaza Mangay Ga;
Sajda Khaaliq Ko Bhi, Iblees Say Yarana Bhi;
Hashr Mein Kis Say Aqeedat Ka Sila Mangay Ga!
~ Allama Iqbal
----------
Janey Kis Daur Mein Jaye Gi Yeh Aadat Meri;
Roothna Us Se Aur Auron Se Ulajhtey Rehnaa!
----------
Umeed To Manzil Pe Pohnchnay Ki Bari Thi;
Taqdeer Magar Janay Kaha Soi Padi Thi;
Khush Thay K Guzarein Gey Rafaqat Mein Saffr Ab;
Tanhai Magar Baahon Ko Phir Kholay Khadi Thi!
----------
Chand Kaliyan Noshaat Ki Chun Kar;
Muddaton Mahv-e-Yaas Rehta Hoon;
Tujhse Milna Khushi Ki Baat Sahi;
Tujhse Mil Kar Udaas Rehta Hoon!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Sharminda Meri Rooh Ki Sachayiyan Huin;
Tabsraa Woh Zameer Ne Kirdaar Par Kiya!
----------
Yu Na Barbaad Kar Mujhe, Baaz Aaja Mera Dil Dukhane Se;
Main Toh Insan Hu, Patthar Bhi Tut Jata Hein Itna Azmane Se!
----------
Na Umeedi ka Main Qaayal To Nahin Hoon Magar;
Maine Barsaat Mein Jaltey Huye Ghar Dekhe Hain!
----------
Tik Bhi Na Mud Key Meri Taraf Tu Ney Ki Nigaah;
Ik Umar Teray Pechay Main Zalim Laga Phira!
----------
Humi Ne Tark-e-Taluq Main Pehel Ki Ke Faraz;
Woh Chahtaa Tha Magar Hauslaa Na Tha Us Ka!
~ Ahmad Faraz
----------
Daikh Kaisi Qayamat Si Barpa Hui Hai Aashiyanon Pay Iqbal;
Jo Lahoo Se Tameer Huye Thay, Paani Se Bah Gaye!
~ Allama Iqbal
----------
Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuch Baat Ki;
Barri Arzoo Thi Hum Ko Mulaaqat Ki!
~ Bashir Badr
----------
Ghum E Arzo Teri Rah Me, Shab E Arzo Teri Chah Me;
Jo Ujar Gaya Wo Basa Nahi, Jo Bichar Gaya Wo Mila Nahi!
----------
Khulta Kisi Pay Kya Mery Dil Ka Muamla;
Shairon K Intekhab Nay Ruswa Kia Mujhy!
~ Mirza Ghalib
----------
Wo Kitna Meharban Tha K Hazaron Gham De Gaya;
Hum Kitne Khud Gharz Nikle Kuch Na De Sake Mohabbat K Siwa!
----------
Heraan Hoon Kay Muddat-e-Qaleel Main Mohsin;
Wo Shakhas Meri Souch Say Zayada Badal Gaya!

Translation:
Qaleel = Very less
~ Mohsin Naqvi
----------
Mitt Jaye Gi Makhlooq To Insaaf Karo Ge;
Munsif Ho Agar To Hashar Uthaa Kyon Nahin Dete!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Kon Tha Woh Jo Tha Apne Shab-o-Roz Mein Gum;
Mar Gaye Jis Ki Mandderon Pe Kabooter Mere!

Translation:
Mandderon = Balcony
----------
Jo Teri Muntazir Theen Woh Ankhen Hi Bujh Gayin;
Ab Kyun Sajaa Raha Hai Charaaghon Se Shaam Ko!
~ Mohsin Naqvi
----------
Husn Bhi Tha, Kashish Bhi Thi;
Andaaz Bhi Tha, Naqab Bhi Tha;
Heya Bhi Thi, Pyaar Bhi Tha;
Aggar Kuchh Na Tha To Bass Ikrar!
~ JD Ghai
----------
Har Ek Baat Pe Kehte Ho Tum Ke 'Tu Kya Hai';
Tumhee Kaho Ke Yeh Andaaz-e-Guftgoo Kya Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Mere Haq Mein To Nahin Taaron Ki Basti Achhi;
Iss Bulandi Se Zameen Walon Ki Pasti Achi!
~ Allama Iqbal
----------
Lamha Bhar Apna Hawaaon Ko Bananay Waale;
Ab Na Aayein Ge Palat Kar Kabhi Jaane Waale!
~ Qateel Shifai
----------
Ye Na Pooch Ki Shikayatein Kitni Hain Tujhse Aye Zindagi;
Sirf Ye Bata Ki Tera Koi Aur Sitam Baaqi To Nahi Hai.
----------
Samandaron Mein Muaafiq Havaa Chalaata Hai;
Jahaaz Khud Nahiin Chalte Khudaa Chalaataa Hai!
----------
Kya Jaaniye Kya Hai Tere Bimaar Ki Haalat;
Isa Bhi Yeh Kehte Hain Ke Hai Waqt Dua Ka!
~ Amir Meenai
----------
Umer Draaz Maang Kar Laahe Teh Chaar Din;
Do Aarzoo Me Kat Gahe, Do Intezaar Me!
~ Bahadur Shah Zafar
----------
Khamosh Fiza Thi Saya Bhi Nahi Tha;
Is Duniya Mein Unsa Koi Aaya Bhi Nahi Tha;
Kis Jurm Mein Cheeni Gai Humse Hamari Hassi;
Humne To Kisi Ka Dil Dukhaya Bhi Nahi Tha!
----------
Koi Gila, Koi Shikwa Na Rahe Aapse;
Yeh Aarzoo Hai Ki Silsila Rahe Aapse;
Bas Is Baat Ki Badi Umeed Hai Aapse;
Khafa Na Hona Agar Hum Khafa Rahein Aapse!
----------
Dil Ko Pighlaata Hua, Aankhon Ko Garmaata Hua;
Phir Khayaal-e-Yaar Aaya Aag Barsaata Hua!
----------
Karta Raha Fareb Koi Saadgi Ke Saath;
Itna Bada Mazaak Meri Zindagi Ke Saath;
Shaayad Mili Saza Mujhe Is Jurm Ki;
Ho Gaya Tha Jo Pyaar Mujhe Ek Ajnabi Ke Saath!
----------
Khayal Jiska Tha Mujhe, Khayal Mein Mila Mujhe;
Sawal Ka Jawab Bhi Sawal Mein Mila Mujhe;
Kisiko Apne Amal Ka Hisab Kya Dete;
Sawal Sare Galat The Jawab Kya Dete!
----------
Kahan Tak Suney Gi Raat Kahan Tak Sunayen Ge Hum;
Shikwey Saarey Sabb Aaj Tere Rubaruu Karain!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Kisi Ke Dil Mein Basna Bura To Nahi;
Kisi Ko Dil Mein Basana Khata To Nahi;
Hain Ye Zamane Ki Nazar Me Bura To Kya Hua;
Zamane Wale Bhi Insaan Hai Khuda To Nahi!
----------
Teri Firaaq-o-Arzoo Mein Katt Ti Rahi Zindagi Meri;
Aab Toh Saansey Bhi Bhojh Ban Gayi Ho Jaise!

Translation:
Firaaq-o-Arzoo = Longing
~ Ankur Karan Singh
----------
Tujhe Khabar Hai Tere Teer-e-Bepanah Ki Khair;
Bahut Dino Se Dil-e-Natwan Nahi Milta!
~ Faani
----------
Dil Gaya Raunak-e-Hayat Gai;
Gumm Gaya Saari Kayanaat Gai!
~ Jigar
----------
Jise Naseeb Ho Roz-e-Seah Mera Sa;
Woh Shakhs Din Na Kahe Raat Ko, Tou Kyonkar Ho!

Translation:
Roz-e-Seah = Day Is Black
~ Mirza Ghalib
----------
Saza na Do Muje Beqasur Hoon Mein;
Tham Lo Muj Ko Gamon Se Choor Hoon Mein;
Teri Doori Ne Kar Diya Pagal Sa Mujhe;
Or Logon Ka Kehna He K Magroor Hoon Mein!
----------
Har Ek Sawal Ka Usko Jawab Kya Dete;
Hum Apni Zaat Ka Usko Hisaab Kya Dete;
Jo Ek Lafz Ki Khushbo Na Rakh Saka Mehfooz;
Hum Ush K Haath Mai Pori Kitaab Kya Deete!
----------
Zakham Dene Ka Andaz Kuch Aisa Hai;
Zakham Dekar Kahte Hain Ab Hal Kaisa Hai;
Zehar Dekar Kahte Hai Ab Pina Hi Hoga;
Aur Jab Pi Liya To Kahte Hain Jina Hi Hoga;
Yehi Hai Dosto Pyar Ki Kahani Haste Haste Phir Rona Hi Hoga!
----------
Khareeda Jaa Nahin Sakta Hai Saaqi Zarf Rindon Ka;
Bahut Sheeshe Pighalte Hain To Ek Paimana Banta Hai!
----------
Dil Cheer Ke Dekh Tera Hi Naam Hoga;
Teri Wafa Teri Sada Tera Payaam Hoga;
Aaj Bhari Mehafil Mein Koi Badnaam Hoga;
Teri Jafaa Tera Sitam Tujhape Ilzaam Hoga!
----------
Saza Na Do Muje Beqasur Hoon Mein;
Tham Lo Muj Ko Gamon Se Choor Hoon Mein;
Teri Doori Ne Kar Diya Pagal Sa Mujhe;
Or Logon Ka Kehna He Ke Magroor Hoon Me!
----------
Kitne Majboor Hain Takdeer Ke Hathon;
Na Use Pane Ki Aukat Rakhte Hain Aur Na Use Khone Ka Hosla!
----------
Dard Me Koi Mausam Pyara Nahi Hota;
Dil Ho Pyasa To Pani Se Gujara Nahi Hota;
Koi Dekhe To Humari Bebasi;
Hum Sabhi Ke Ho Jate Hain Par Koi Humara Nahi Hota!
----------
Uttah Kar Dil Mera Ushne Pathar Pe De Mara;
Main Kehta Hi Reh Gya Dekho Ish Mein Tum Ho!
----------
Bahut Socha Bahut Samjha Bahut Hi Der Tak Parkha;
Ki Tanha Ho Ke Jee Lena Mohabbat Se To Behtar Hai!
----------
Deewana Hun Tera Mujhe Inkaar Nahi;
Kaise Keh Dun Ki Mujhe Tumse Pyar Nahi;
Kuch Shararat To Teri Nazro Mein Bhi Thi;
Main Akela Hi To Iska Gunehgar Nahi!
----------
Muddat Se Jis Ke Waaste Dil Beqarar Tha;
Wo Laut Kar Na Aaya Magar Intezaar Tha;
Jo Humsafar Tha Chhod Gaya Raah Mein Mujhe;
Main Phans Gaya Bhanwar Mein Woh Darya Ke Paar Tha!
----------
Chaand Utra Hamare Aangan Main Sitaroo Ko Gawara Na Hua;
Sitaroo Se Geela Kya Karte Jab Woh Chaand Hi Hamara Na Hua!
----------
Ussh Ki Mohabbat Ka Silsila Bhi Kya Ajeeb Tha;
Apna Bhi Na Banaya Or Kisi Ka Hone Bhi Nhi Diya!
----------
Har Baat Jante Hue Bhi Dil Maanta Na Tha;
Hum Jaane Aitbaar Key Kis Marhale Mein The!
----------
Ye Nahi Gam Ke Qasam Apni Bhulai Tum Ne;
Gam Te Ye Hai Ke Raqeebon Se Nibhai Tum Ne;
Koi Ranjish Thi Ager Tum Ko To Mujh Se Kehte;
Baat Apas Ki Kiun Sab Ko Batai Tum Ne!
----------
Pathar Samajh Kar Paon Se Thokr Laga Di;
Afsos Teri Aankh Ne Parkha Nahi Mujhe;
Kya Umeedein Bandh Kar Aaya Tha Samne;
Ush Ne To Aankh Bhar Ke Dekha Nahi Mujhe!
----------
Unhone Khud Ki Jaban Ko Mod Diya;
Nadani Main Hamare Dil Ko Tod Diya;
Ab To Hamare Ansoon Bhi Nahi Rukte Unki Yaad Mein;
Kyuki Apnone Hi Humse Muh Mod Diya!
----------
Akhiyan Wich Aa Ke Ruk Jande Ne Hanju;
Palka Te Aa Ke Ruk Jande Ne Hanju;
Bada Dil Karde Baha Deva Ehna Nu;
Par Tenu Hasdeya Vekh Ke Suk Jande Ne Hanju!
----------
Itna Chhota Nahi Rista Hamara;
Kaise Soch Liye K Aa Gaya Kinara;
Lo Fir Ho Gayi Aap K Aangan Me Roshni;
Ek Baar Fir Badnaam Ho Gaya Naam Hamara!
----------
Tanha Hoon Is Dard Mohabbat Mein;
Meri Tarah Behaal Tum Bhi Ho;
Hum Hai Kisi Ujde Hue Shahar Ki Misaal;
Aankhen Bata Rahi Hai Ki Viraan Tum Bhi Ho!
----------
Chahe Jitna Hanslo Aaj Mujh Par Mein Bura Nahi Manooga;
Is Hansi Ko Apne Dil Mein Basa Loonga;
Aur Jab Yaad Aayegi Tumhari;
Yahi Hansi Lekar Thoda Muskura Loonga!
----------
Abhi Mashroof Hun Kafi Kabhi Fursat Me Sochunga;
K Tujhko Yaad Rakhne Me Mai Kya-Kya Bhool Jata Hun!
----------
Tumhare Baad Kaun Banega Mera Humdard;
Humne To Apne Bhi Khoye Hein Tujhe Pane Ke Liye!
----------
Is Kadar Hum Yaar Ko Manane Nikle;
Uski Chahat Ke Hum Deewane Nikle;
Jab Bhi Use Dil Ka Haal Batana Chaha;
To Uske Hothon Se Waqt Na Hone Ke Bahane Nikle!
----------
Ba Andaaz-E-Ghaiz-O-Ghazab Bolti Hain;
Ba Awaaz-E-Shor-O-Shaghab Bolti Hain;
Nahin Bolti Hain Tau Kab Bolti Hain;
Pe Jab Bolti Hain Tau Sab Bolti Hain!
Translation:
Andaaz-E-Ghaiz-O-Ghazab: Spit Fire And Smoke
Awaaz-E-Shor-O-Shaghab: Hall Reverberates With Their Shouts And Shrieks
----------
Is Kadar Hum Yaar Ko Manane Nikle;
Uski Chahat Ke Hum Deewane Nikle;
Jab Bhi Use Dil Ka Haal Batana Chaha;
To Uske Hothon Se Waqt Na Hone Ke Bahane Nikle!
----------
Taqdeer Kya Likhun Mukaddar Ke Samne;
Qatil Ne Qatl Kar Diya Mere Ghar Ke Samne;
Sari Basti Jalti To Afsos Na Hota;
Tanha Mera Hi Ghar Jalta Rha Samundar Ke Samne!
----------
Vada Karke Nibhana Bhool Jate Hain;
Lagakar Aag Bujana Bhool Jate Hain;
Ye To Aadat Ho Gayi Hai Unki;
Rulate To Hai Par Manana Bhool Jate Hain!
----------
Kuch Iss Tarah Sauda Kiya Waqt Ne;
Tajurba De Kar Woh Meri Nadani Le Gya!
----------
Tere Hussan Ke Hum Deewane Ho Gaye;
Tujhe Apna Banate Banate Hum Khud Se Begaane Ho Gaye;
Na Chor Na Mujhe Tu Aaye Zalim;
Tere Kareeb Aakar Hum Duniya Se Dur Hogaye Hai!
----------
Din Me Deepak Jalane Se Kya Hoga;
Raakh Me Aag Lagane Se Kya Hoga;
Jab Aapko Aati Hi Nahi Hamari Yaad;
Toh Phir Yaad Dilane Se Kya Hoga!
----------
Bekhudi Besabab Nahin Ghalib;
Kuchh Tau Hai Jiski Parda Daari Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Yeh Dekha Ki Main Ja Rahi Hoon Kahin;
Andhera Hai Aur Rah Milati Nahi!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Jis Ke Liye Sab Kuch Luta Diya Humne;
Wo Kehte Hai Unko Bhula Diya Humne;
Gaye The Hum Unke Aansu Pochne;
Ilzam De Diya Ki Unko Rula Diya Humne!
----------
Keh Do Usse, Judai Aziz Hai To Rooth Jaayein
Wo Jee Sakta Hain, To Hum Mar Bhi Sakte Hain!
----------
Ek Nazar Bhi Dekhna Gawaara Nahi Usse;
Zara Bhi Ehsaas Hamaara Nahi Usse;
Wo Sahil Se Dekhte Rahe Dubna Hamaara;
Hum Bhi Khuddar The Pukara Nahi Usse!
----------
Chaman Mein Jo Bhi The Naafiz Usool Uske The;
Tamaam Kaante Hamaare The Aur Phool Uske The;
Main Iltejaa Bhi Kartaa To Kis Tarha Kartaa;
Shehar Mein Faisle Sabko Kabool Uske The!
----------
Apni Aankhon Ke Samandar Main Utar Jaane De;
Tera Mujhrim Hoon Mujhe Doob Ke Mar Jaane De;
Zakhm Kitne Diye Hain Teri Chaahat Ne Mujko;
Sochta Hoon Tujh Se Kahoon Magar Jaane De!
----------
Hazaaron Khwahishein Aisi Ki Har Khwahish Pe Dum Nikle;
Bahut Nikle Mere Armaan, Lekin Phir Bhi Kum Nikle.
Nikalna Khuld Se Aadam Ka Sunte Aaye The, Lekin;
Bahut Beaabru Hokar Tere Kuche Se Hum Nikle!
~ Mirza Ghalib
----------
Haan Woh Nahin Khuda Parast, Jaao Woh Bewaafa Sahi;
Jisko Ho Deen-o-Dil Aziz, Uski Gali Mein Jaaey Kyun?
Ghalib-e-Khasta Ke Baghair Kaunse Kaam Band Hain;
Roeye Zar Zar Kya, Kijeye Haae Haae Kyun?

Khuda Parast = Godly
Deen-o-Dil = Heart and Faith
Ghalib-e-Khasta = Hapless Ghalib
----------
Tappish Sooraj Ki Hoti Hai;
Jalna Zameen Ko Parta Hai;
Kasoor Ankhon Ka Hota Hai;
Bhugatna Dil Ko Parta Hai!
----------
Har waqt Milti Rehti Hain Anjani Si Saza Mujhe;
Main Kaise Poochun Taqdir Se Mera Qasoor Kya Hai!
----------
Aadatan Tumne Kar Diye Vaade, Aadatan Hum Ne Bhi Aitabaar Kiya;
Teri Raahon Mein Baarahaa Ruk Kar, Humne Apna Hi Intazaar Kiya;
Ab Na Maangenge Zindagii Ya Rab, Ye Gunaah Humne Ek Bar Kiya!
----------
Waada Kar Lete Hein, Nibhaana Bhul Jaate Hein;
Lagakar Aag, Bhujana Bhul Jaate Hein;
Yeh To Aadat Ho Gaye Ab Unki Roz;
Ke Rulaate Hein, Aur Manana Bhul Jaate Hein!
----------
Humne Wajood Apna Kho Liya;
Unka Wajood Apne Saath Jodte-Jodte!
~ JD Ghai
----------
Taras Jaoge Hamaare Labo Se Sunn Ne Ko Ek Ek Lafz;
Pyaar Ki Baatein To Kya, Hum Shakayat Bhi Nahi Karenge!
----------
Nigahon Pe Nigahon Ke Pehre Hote Hain;
Nigahon Ke Ghav Bhi Gehre Hote Hain;
Na Jaane Kyun Koste Hain Log Badsurton Ko;
Barbaad Karne Wale To Khoobsurat Chehre Hi Hote Hain!
----------
Tu Milke Bhi Na Milaa;
Tujhe Pa Ke Bhi Na Paya;
Mein Adhuri Reh Gai;
Jab Tera Saaya Mujhe Na Nazar Aya!
----------
Kahan Talaash Karoge Tum, Mujh Jaisa Shakhs;
Jo Tumhare Sitam Bhi Sahe Aur Tum Se Mohabbat Bhi Kare!
----------
Itna Na Tarpao Ke Koi Gunaah Kar Loon Main;
Phir Na Kehna Ke Kyun Barbaad Kiya Khud Ko, Meri Muhabbat Ke Liye!
----------
Bin Mangay Hi Mil Jati Hain Tabeerain Kisi Ko Faraz;
Koi Khali Hath Reh Jata Hai, Hazaaron Duaoon Ke Baad!
~ Ahmad Faraz
----------
Maine Hi Seekhaya Tha Usse Teer Chalana;
Ab Mere Siwa, Uss Ka Koi Nishaana Bhi Nahi!
----------
Uski ankho me nazar ata tha sara jahan mujhko;
Magar uski ankhon me khud ko kabhi dekha hi nahi.
----------
Hum bhi bikne gaye the bazaar-e-ishq mein,
Kya pata tha wafa karne walon ko log khareeda nahi karte.
----------
Chaand to nikla hai magar yeh raat na hai pehli si,
Yeh mulaaqaat, mulaaqaat na hai pehli si,
Ranjh kuchh kum to hua aaj teray milne se,
Yeh alag baat ke yeh baat na hai pehli si.
----------
Mit gaye hain sab zakham,
Bas nishaan baaki reh gaya,
Saza puri ho gayi,
Karna gunaah baaki reh gaya.
----------
Woh ruthte rahe hum manate rahe,
Unki raahon me palkein bichate rahe,
Unhone kabhi palat ke bhi na dekha,
Hum ankh jhapkane se bhi katrate rahe.
----------
Ai mere humnashin chal kahin aur chal,
Is chaman mein ab apna guzaara nahin,
Baat hoti gulon tak to seh lete hum,
Ab to kaanton pe bhi haq hamara nahin.
----------
Akhan di benuri changi nahi hundi,
Sajna kolon doori changi nahi hundi,
Kade kade tan milya kar,
Har vele majboori changi nahi hundi.
----------
Humne socha tha ki shayad, hum hi chahte hai tumko, par tumhe chahne wala to kafila nikla,
Dil ne kaha shikayat kar khuda se, paar khuda bhi tera chahne wala nikla.
----------
तन्हाई की यह कुछ ऐसी अजब रात है;
तुझसे जुडी हुई हर याद मेरे साथ है;
तड़प रहा है तनहा चाँद बिना चांदनी के;
इस अंधेरी रात में आज कुछ और बात है!
----------
मोहब्बत की तलाश में निकले हो तुम अरे ओ पागल;
मोहब्बत खुद तलाश करती है जिसे बर्बाद करना हो!
----------
जब गिला शिकवा अपनों से हो तो खामोशी ही भली;
अब हर बात पे जंग हो यह जरूरी तो नहीं!
----------
बहुत मशरूफ हो शायद, जो हम को भूल बैठे हो;
न ये पूछा कहाँ पे हो, न यह जाना कि कैसे हो!
----------
क्यों तुझे पाने के लिये मिन्नते करूँ;
मुझे तुझसे मोहब्बत है कोइ मतलब तो नहीं!
----------
परखो तो कोई अपना नहीं;
समझो तो कोई पराया नहीं!
----------
ज़मीन पर मेरा नाम वो लिखते और मिटाते हैं;
वक्त उनका तो गुजर जाता है, मिट्टी में हम मिल जाते हैं!
----------
पता है गलत हो, फिर भी अड़े हो;
तुम दिल दुखाने में, माहिर बड़े हो!
----------
शौक से तोड़ो दिल मेरा मैं परवाह क्यों करूँ;
तुम ही रहते हो इसमे अपना घर खुद ही उजाड़ोगे!
----------
किसी ने कहा था मोहब्बत फूल जैसी है;
कदम रुक गये आज जब फूलों को बाजार में बिकते देखा!
----------
तेज़-रफ़्तार हवाओं को ये एहसास कहाँ;
शाख़ से टूटेगा पत्ता तो किधर जाएगा!
----------
कमाल करते हैं हमसे जलन रखने वाले;
महफ़िलें खुद की सजाते हैं और चचेॅ हमारे करते हैं!
----------
इस 'नहीं' का कोई इलाज नहीं;
रोज़ कहते हैं आप आज नहीं!
----------
यूँ ही एक छोटी सी बात पे ताल्लुकात पुराने बिगड़ गये;
मुद्दा ये था कि सही "क्या" है और वो सही "कौन" पर उलझ गये!
----------
उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नहीं;
ये दिल उसका है, अपना होता तो बात और थी!
----------
चल आ तेरे पैरों पर मरहम लगा दूं ऐ मुक़द्दर;
कुछ चोटें तुझे भी आई होंगी, मेरे सपनों को ठोकर मार कर!
----------
मेरी हस्ती को तुम क्या पहचानोगे,
हजारों मशहूर हो गए मुझे बदनाम करते करते।
----------
दाम अक्सर ऊंचे होते हैं ख़्वाहिशों के;
मगर खुशियां हरगिज़ महंगी नहीं होती!
----------
उलझे हुए हैं अपनी उलझनों मे आज कल;
आप ये न समझना के अब वो लगाव नहीं रहा!
----------
सीख जाओ वक्त पर किसी की चाहत की कदर करना;
कहीं कोई थक ना जाए तुम्हें एहसास दिलाते-दिलाते!
----------
क्यों शर्मिंदा करते हो रोज़ हाल पूछकर;
हाल हमारा वही है जो तुमने बना रखा है!
----------
मत लगाओ बोली अपने अल्फ़ाज़ों की;
हमने लिखना शुरू किया तो तुम नीलाम हो जाओगे!
----------
मोहब्बत थी, तो चाँद अच्छा था;
उतर गई, तो दाग भी दिखने लगे!
----------
मेरा झुकना, और तेरा खुदा हो जाना;
यार, अच्छा नहीं इतना बड़ा हो जाना!
----------
गिला शिकवा तो बस साँसें चलने तक होता है;
बाद में तो आँख में आँसू और दिल में पछतावा रह जाता है!
----------
दुनिया भी कितनी अजीब जगह है;
जब चलना नही आता था, तब कोई गिरने नही देता था;
और जबसे चलना सिखा है, कदम कदम पर लोग गिराना चाहते है!
----------
सिर्फ इतना ही कहा है, प्यार है तुमसे;
जज्बातों की कोई नुमाईश नहीं की;
प्यार के बदले सिर्फ प्यार मांगती हूँ;
रिश्ते की तो कोई गुज़ारिश ही नहीं की!
----------
प्यार वो हम को बेपनाह कर गये;
फिर ज़िंदगी में हम को तन्हा कर गये;
चाहत थी उनके इश्क में फ़नाह होने की;
पर वो लौट कर आने को भी मना कर गये!
----------
दिल को इसी फ़रेब में रखा है उम्र भर;
इस इम्तिहां के बाद कोई इम्तिहां नहीं!
----------
कुछ गैर ऐसे मिले, जो मुझे अपना बना गए;
कुछ अपने ऐसे निकले, जो गैर का मतलब बता गए!
----------
अगर हमारी उल्फतों से तंग आ जाओ तो बता देना;
हमें नफरत तो गवारा है मगर दिखावे की मोहब्बत नहीं!
----------
तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में;
बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता!
----------
हम तो नर्म पत्तों की, शाख हुआ करते थे;
छीले इतने गये कि, खंजर हो गये!
----------
उनकी अपनी मरजी हो, तो वो हमसे बात करते है;
और हमारा पागलपन देखो क़ि सारा दिन उनकी ‪मरजी‬ का इंतजार करते है!
----------
बड़ा फर्क है, तेरी और मेरी मोहब्बत में;
आप परखते रहे, और हमने ज़िंदगी यकीन में गुजार दी!
----------
वो पहले सा कहीं, मुझको कोई मंज़र नहीं लगता;
यहाँ लोगों को देखो, अब ख़ुदा का डर नहीं लगता!
----------
मोहब्बत का ख़ुमार उतरा तो, ये एहसास हुआ;
जिसे मन्ज़िल समझते थे, वो तो बेमक़सद रास्ता निकला!
----------
नज़र अंदाज़ करने की वज़ह क्या है बता भी दो;
मैं वही हूँ, जिसे तुम दुनिया से बेहतर बताती थी।
----------
आये हो आँखों में तो कुछ देर तो ठहर जाओ;
एक उम्र लग जाती है एक ख्वाब सजाने में!
----------
मैं इस काबिल तो नही कि कोई अपना समझे,
पर इतना यकीन है, कोई अफसोस जरूर करेगा मुझे खो देने के बाद।
----------
ये रस्म, ये रिवाज, ये कारोबार वफ़ाओं का सब छोड़ आना तुम;
मेरे बिखरने से जरा पहले लौट आना तुम।
----------
पतझड़ भी हिस्सा है जिंदगी के मौसम का,
फर्क सिर्फ इतना है कुदरत में पत्ते सूखते हैं और हकीकत में रिश्ते।
----------
यूँ तो सिखाने को जिंदगी बहुत कुछ सिखाती है;
मगर झूठी हँसी हँसने का हुनर तो मोहब्बत ही सिखाती है।
----------
ऐ चाँद जा, क्यों आया है अब मेरी चौखट पर;
छोड़ गया है वो शख्स, जिसकी याद में तुम्हें देखा करते थे।
----------
कभी फुर्सत मिले तो इतना जरुर बताना;
वो कौन सी मोहब्बत थी जो हम तुम्हें दे ना सके।
----------
तुम मुझे हँसी-हँसी में खो तो दोगे,
पर याद रखना फिर आंसुओं में ढ़ूंढ़ोगे।
----------
कहते हैं दिल से ज्यादा महफूज जगह नहीं दूनिया में और कोई;
फिर भी ना जाने क्यों सबसे ज्यादा यहीं से लोग लापता होते हैं।
----------
तुम्हें शिकायत है कि मुझे बदल दिया है वक़्त ने;
कभी खुद से भी तो सवाल कर कि क्या तू वही है।
----------
हँस कर कबूल क्या कर ली सजाएँ मैंने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर मढ़ने का।
----------
भूल जाऊंगा उसी वक़्त उसी पल,
बस तू उससे मिला दे जो मुझसे ज़्यादा चाहता है तुम्हें।
----------
कहीं छत थी, दीवार-ओ-दर थे कहीं, मिला मुझे घर का पता देर से;
दिया तो बहुत ज़िन्दगी ने मुझे, मगर जो दिया, वो दिया देर से।
~ Nida Fazli
----------
तू न कर ज़िक्र-ए-मोहब्बत कोई गम नहीं;
तेरी ख़ामोशी भी सच बयाँ कर देती है।
----------
हाथों की लकीरों के फरेब में मत आना;
ज्योतिषों की दुकान पर मुक्कदर नहीं बिकते।
----------
दिलों की बात करता है ज़माना;
लेकिन मोहब्बत आज भी चेहरों से शुरू होती है।
----------
बड़ी अजीब सी है शहरों की रौशनी,
उजालों के बावजूद चेहरे पहचानना मुश्किल है।
----------
वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते,
कसूर हर बार गल्तियों का नही होता।
----------
हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले,
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले;
है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कसूर इसमें,
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।
----------
मुस्कुरा कर उन का मिलना और बिछड़ना रूठ कर;
बस यही दो लफ़्ज़ एक दिन दास्ताँ हो जायेंगे।
----------
तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे मगर,
हमारी बेचैनियों की वजह बस तुम हो।
----------
वो लफ्ज कहाँ से लाऊं जो तेरे दिल को मोम कर दें,
मेरा वजूद पिघल रहा है तेरी बेरूखी से।
----------
ना कर दिल अजारी, ना रुसवा कर मुझे;
जुर्म बता, सज़ा सुना और किस्सा खत्म कर।
----------
कसूर ना उनका है ना मेरा, हम दोनो रिश्तों की रसमें निभाते रहे;
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे, हम मोहबत को दिल में छुपाते रहे।
----------
ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम है, मोहब्बत के लिए;
फिर एक दूसरे से रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है।
----------
हाल जब भी पूछो खैरियत बताते हो,
लगता है मोहब्बत छोड़ दी तुमने।
----------
भीड़ में भी आज भी तन्हा खड़े हैं,
जहाँ उनका साथ होना था वहाँ भी अकेले खड़े हैं।
----------
वैसे ही दिन वैसी ही रातें हैं ग़ालिब, वही रोज का फ़साना लगता है;
अभी महीना भी नहीं गुजरा और यह साल अभी से पुराना लगता है।
----------
मेरी आँखों में आँसू नहीं बस कुछ नमी है,
वजह तू नहीं बस तेरी ये कमी है।
----------
दिल की ना सुन ये फ़कीर कर देगा,
वो जो उदास बैठे हैं, नवाब थे कभी।
----------
नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं,
कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता।
----------
मिलावट है तेरे इश्क में इत्र और शराब की,
वरना हम कभी महक तो कभी बहक क्यों जाते।
----------
हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो गम मिलते हैं,
हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हैं।
----------
मेरी खामोशी से किसी को कोई फर्क नही पडता,
और शिकायत में दो लफ़्ज कह दूं तो वो चुभ जाते हैं।
----------
खूबसूरत क्या कह दिया उनको, वो हमको छोड़कर शीशे के हो गए;
तराशा नहीं था तो पत्थर थे, जब तराश दिया तो खुदा हो गए।
----------
गिला शिकवा ही कर डालो कि कुछ वक्त कट जाए,
लबों पे आपके ये खामोशी अच्छी नहीं लगती।
----------
आज धुन्ध बहुत है मेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं, और जो दिखते है वो अपने नहीं।
----------
अब ना कोई शिकवा, ना गिला, ना कोई मलाल रहा,
सितम तेरे भी बे-हिसाब रहे, सब्र मेरा भी कमाल रहा।
----------
अधूरी हसरतों का आज भी इल्ज़ाम है तुम पर,
अगर तुम चाहते तो ये मोहब्बत ख़त्म ना होती।
----------
कहो तो थोड़ा वक्त भेज दूँ,
सुना है तुम्हें फुर्सत नहीं मुझसे मिलने की।
----------
तुम्हीं कहते थे कि यह मसले नज़र सुलझी तो सुलझेंगे;
नज़र की बात है तो फिर यह लब खामोश रहने दो।
----------
मशरूफ रहने का अंदाज़ तुम्हें तन्हा न कर दे ग़ालिब,
रिश्ते फुर्सत के नहीं तवज्जो के मोहताज़ होते हैं।
----------
जो लम्हा साथ हैं उसे जी भर के जी लेना,
कम्बख्त ये जिंदगी भरोसे के काबिल नहीं है।
----------
तुम आए थे, पता लगा, सुन कर, अच्छा भी लगा;
पर गेरों से पता चला, बेहद बुरा लगा।
----------
हम कुछ ना कह सके उनसे, इतने जज्बातों के बाद,
हम अजनबी के अजनबी ही रहे इतनी मुलाकातो के बाद।
----------
तमाम गिले-शिकवे भुला कर सोया करो यारो
सुना है मौत किसी को मुलाक़ात का मौका नही देती।
----------
मुदद्तें हो गयी हैं चुप रहते रहते,
कोई सुनता तो हम भी कुछ कहते।
----------
दिलों कि बात भले करता हो जमाना,
मगर मोहब्बत आज भी चेहरों से ही होती है।
----------
मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,
बोला साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है।
----------
इंसान बुलबुला है पानी का, जी रहे हैं कपडे बदल बदल कर,
एक दिन एक 'कपडे' में ले जायेंगे कंधे बदल बदल कर।
----------
गिरते हुए आँसुओं को कौन देखता है,
झूठी मुस्कान के दीवाने हैं सब यहाँ।
----------
अपना होगा तो सता के मरहम देगा,
जालिम होगा अपना बना के जख्म देगा,
समय से पहले पकती नहीं फसल,
अरे बहुत बरबादियां अभी मौसम देगा।
----------
छुप छुप कर तेरी सारी तस्वीरें देखता हूँ, बेशक तू ख़ूबसूरत आज भी है,
पर चेहरे पर वो मुस्कान नहीं जो मैं लाया करता था।
----------
एहसान ये रहा तोहमत लगाने वालों का मुझ पर,
उठती उँगलियों ने मुझे मशहूर कर दिया।
----------
लम्हों की दौलत से दोनों ही महरूम रहे,
मुझे चुराना न आया, तुम्हें कमाना न आया।
----------
खामोश बैठें तो वो कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,
ज़रा सा हँस लें तो मुस्कुराने की वजह पूछ लेते हैं।
----------
मोहब्बत की आजमाइश दे दे कर थक गया हूँ ऐ खुदा;
किस्मत मेँ कोई ऐसा लिख दे, जो मौत तक वफा करे।
----------
कौन कहता है मुसाफिर जख्मी नही होते,
रास्ते गवाह हैं कम्बख्त गवाही नही देते।
----------
नवंबर की तरह हम भी अलविदा कह देंगें एक दिन,
फिर ढूँढते फिरोगे हमें दिसंबर की सर्द रातों में।
----------
अल्फ़ाज़ के कुछ तो कंकर फ़ेंको,
यहाँ झील सी गहरी ख़ामोशी है।
----------
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं,
अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर ख़ामोश।
----------
दिल से पूछो तो आज भी तुम मेरे ही हो;
ये ओर बात है कि किस्मत दग़ा कर गयी।
----------
अफसोस ये नहीं है कि दर्द कितना है,
अफसोस तो ये है कि बस तुम्हें परवाह नहीं।
----------
मंज़िलों से गुमराह भी ,कर देते हैं कुछ लोग,
हर किसी से रास्ता पूछना अच्छा नहीं होता।
----------
अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल;
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे।
~ Allama Iqbal
----------
उनसे शिकवे और शिकायत इतनी है कि नजरें मिलाने को मन नही करता,
और मोहब्बत इतनी कि दूर जाने को दिल नही करता।
----------
सब कुछ बदला बदला था जब बरसो बाद मिले;
हाथ भी न थाम सके वो इतने पराये से लगे।
----------
वो हमारी एक खता पर हमसे कुछ इस कदर रूठ कर चल दिए,
जैसे सदियों से उन्हें किसी बहाने की तलाश थी।
----------
लहजे में बदजुबानी, चेहरे पे नक़ाब लिए फिरते हैं;
जिनके ख़ुद के बही-खाते बिगड़े हैं, वो मेरा हिसाब लिए फिरते है।
~ Anu Sood
----------
अधूरी हसरतों का आज भी इलज़ाम है तुम पर,
अगर तुम चाहते तो ये मोहब्बत ख़त्म ना होती।
----------
दो लफ्ज़ लबों पर गुमसुम से बैठे थे,
न वो कुछ कह सके न हम कुछ कह सके;
ज़ुबाँ भी आज ख़ामोश से बैठे थे,
न वो कुछ सुन सके न हम कुछ सुन सके।
----------
सबूतों की ज़रूरत पड़ रही है,
यक़ीनन दूरियाँ अब बढ़ रही हैं।
----------
रूकता भी नहीं ठीक से चलता भी नही,
यह दिल है के तेरे बाद सँभलता ही नही।
----------
सिखा दी बेरुखी भी ज़ालिम ज़माने ने तुम्हें,
कि तुम जो सीख लेते हो हम पर आज़माते हो।
----------
तुझसे मैँ इजहार-ए-मोहब्बत इसलिए भी नही करता,
सुना है बरसने के बाद बादलो की अहमियत नही रहती।
----------
जिसने कभी चाहतों का पैगाम लिखा था,
जिसने अपना सब कुछ मेरे नाम लिखा था,
सुना है आज उसे मेरे ज़िक्र से भी नफरत है,
जिसने कभी अपने दिल पर मेरा नाम लिखा था।
----------
समेट कर ले जाओ अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से,
अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर इनकी ज़रूरत पड़ेगी।
----------
अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तहा,
तो हम तुमसे नही तुम हमसे मोहब्बत करते।
----------
बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर,
जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया।
----------
ये बेवफा, वफा की कीमत क्या जाने;
ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने;
जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर;
वो भला प्यार की कीमत क्या जाने।
----------
चलो आज अपना हुनर आज़माते हैं,
तुम तीर आजमाओ हम अपना जिगर आज़माते हैं।
----------
हम हैं मता ए कूचा ओ बाज़ार की तरह,
उठती है हर निगाह खरीदार की तरह।
----------
इश्क़ में मेरा टूटना लाजमी था,
काँच का दिल था और मोहब्बत पत्थर से की थी।
----------
ख़ूब पर्दा है कि चिलमन से लगे बैठे हैं,
साफ़ छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं।
~ Daagh Dehlvi
----------
उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी;
उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी।
----------
उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी;
उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी!
----------
करें किसका यक़ीन यहाँ सब अदाकार ही तो हैं,
गिला भी करें तो किससे करें सब अपने यार ही तो हैं।
----------
तेरी महफ़िल से उठे तो किसी को खबर तक ना थी,
तेरा मुड़-मुड़ कर देखना हमें बदनाम कर गया।
----------
यह न पूछ कि शिकायतें कितनी हैं तुझ से;
यह बता कि तेरा कोई और सितम बाकी तो नही।
----------
जिसके लिए तोड़ दी मैंने सारी सरहदें,
आज उसी ने कह दिया कि जरा हद में रहा करो।
----------
क्यों करते हो मुझसे इतनी ख़ामोश मोहब्बत,
लोग समझते है इस बदनसीब का कोई नहीं।
----------
शौक था उन्हे महफिलों का,
फिर मेरी लाश पे इतनी वीरानी क्यों।
----------
इस नहीं का कोई इलाज नहीं,
रोज़ कहते हैं आप आज नहीं।
~ Daagh Dehlvi
----------
कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे,
कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए।
----------
तेरी तस्वीरों में कुछ यादें मेरी भी हैं,
कुछ पलों की बातें अधूरी भी हैं।
----------
बडी देर से देख रहा हूँ आज तस्वीर तेरी,
देख कर जाने क्यों लगा कि तुम वो ना रहे जो पहले थे।
----------
क्या अजीब सी ज़िद है हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की।
----------
बस तुम्हें पाने की अब तमन्ना नहीं रही,
मोहब्बत तो आज भी तुमसे हम बेशुमार करते हैं।
----------
मैं ने माँगी थी उजाले की फ़क़त एक किरन,
तुम से ये किस ने कहा आग लगा दी जाए।
~ Zakia Ghazal
----------
कुछ तो शराफत सीख़ ले ऐ मोहब्बत तू शराब से,
बोतल पर कम से कम लिखा तो होता है कि मैं जानलेवा हूँ।
----------
आवारगी छोड़ दी हमने तो लोग भूलने लगे हैं;
वरना शोहरत कदम चूमती थी जब हम भी बदनाम हुआ करते थे।
----------
आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते हैं,
अक्सर वही आप की आँखें खोल जाता है।
----------
फिर वही दिल की गुज़ारिश, फिर वही उनका गुरूर;
फिर वही उनकी शरारत, फिर वही मेरा कसूर।
----------
मुझे वो दिन के उजाले में क्यों नहीं दिखता,
जो ख़्वाब रात में आँखें निचोड़ जाता है,
मेरी नज़र को सलीके से मोड़ जाता है,
मेरा वजूद वो ऐसे झंझोड़ जाता है।
----------
अशआर मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं,,
कुछ शेर फ़क़त उन को सुनाने के लिए हैं।
~ Jaan Nisar Akhtar
----------
बुरे हैं हम तभी तो जी रहे हैं,
अच्छे होते तो दुनिया जीने नहीं देती।
----------
बिकने वाले और भी हैं जाओ जाकर खरीद लो,
हम कीमत से नहीं किस्मत से मिला करते हैं।
----------
नेकियाँ खरीदी हैं हमने अपनी शोहरतें गिरवी रखकर,
कभी फुर्सत में मिलना ऐ ज़िन्दगी तेरा भी हिसाब कर देंगे।
----------
हँसकर कबूल क्या कर ली सजाएँ मैंने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर मढ़ने का।
----------
वो भी आधी रात को निकला और मैं भी,
फिर क्यों उसे चाँद और मुझे आवारा कहते हैं लोग।
----------
हवा को कह दो कि खुद को आज़मा के दिखाए,
बहुत चिराग बुझाती है कभी एक जला के तो दिखाए।
----------
नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं,
जब भी मिलते हैं कहते हैं तुम्हें छोड़ेंगे नहीं।
----------
गुमान ना कर अपने दिमाग पर ऐ दोस्त,
जितना तेरे पास है उतना तो मेरा ख़राब रहता है।
----------
चलने दो ज़रा आँधियाँ हक़ीक़त की,
न जाने कौन से झोंके से अपनों के मुखौटे उड़ जायें।
----------
आए तो यूँ कि जैसे हमेशा थे मेहरबान,
भूले तो यूँ कि गोया कभी आश्ना न थे।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
तुझमें और मुझमे फर्क सिर्फ इतना सा है कि,
तेरा कुछ कुछ हूँ मैं और मेरा सब कुछ है तू।
----------
किस्मत ने जैसा चाहा वैसे ढल गए हम,
बहुत संभल के चले फिर भी फिसल गए हम,
किसी ने विश्वास तोडा तो किसी ने दिल,
और लोगों को लगा कि बदल गए हम।
----------
उसका चेहरा भी सुनाता है कहानी उसकी,
चाहती हूँ कि सुनूँ उस से ज़ुबानी उस की,
वो सितमगर है तो अब उससे शिकायत कैसी,
और सितम करना भी आदत पुरानी उसकी।
~ Rehana Qamar
----------
बहुत शख्स मिले जो समझाते थे मुझे,
काश! कोई मुझे समझने वाला भी मिलता।
----------
अब इस सादा कहानी को नया एक मोड़ देना था,
ज़रा सी बात पर अहद-ए-वफ़ा ही तोड़ देना था,
महकता था बदन हर वक़्त जिस के लम्स-ए-खुशबू से,
वही गुलदस्ता दहलीज़-ए-खिजाँ पर छोड़ देना था।
~ Anjum Irfani
----------
इस कश्मकश में उलझा है दिल आपका,
पढ़ लिया है सब कुछ मगर जवाब नहीं आया कोई।
----------
ये नज़र चुराने की आदत आज भी नहीं बदली उनकी,
कभी मेरे लिए ज़माने से और अब ज़माने के लिए हमसे।
----------
इसी शहर में कई साल से मेरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं,
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं।
~ Bashir Badr
----------
अब जो रूठे तो हार जाओगे सनम,
हम मनाने का हुनर भूल बैठे हैं।
----------
मंज़िल पाना तो बहुत दूर की बात है,
गुरूर में रहोगे तो रास्ते भी ना देख पाओगे।
----------
शिकायत है उन्हें कि ,हमें मोहब्बत करना नहीं आता,
शिकवा तो इस दिल को भी है पर इसे शिकायत करना नहीं आता।
----------
लोग कहते हैं मोहब्बत में असर होता है,
कौन से शहर में होता है किधर होता है।
~ ShaiKh Ghulam Hamdani MusHafi
----------
बदल जाओ भले तुम मगर ये ज़ेहन में याद रखना,
कहीं पछतावा ना बन जाये हमसे बेरुखी इतनी।
----------
झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ, सुबह और शाम में;
सच बोलने की अदा ने हमसे कई अज़ीज़ छीन लिए।
----------
इश्क़ को भी इश्क़ हो तो फिर देखूं मैं इश्क़ को भी,
कैसे तड़पे, कैसे रोये, इश्क़ अपने इश्क़ में।
----------
नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की,
पता नहीं कहाँ से सीखी जालिम ने अदायें रूठ जाने की।
----------
था जहाँ कहना वहां कह न पाये उम्र भर,
कागज़ों पर यूँ शेर लिखना बेज़ुबानी ही तो है।
----------
उम्र ने तलाशी ली तो जेबों से लम्हे बरामद हुए,
कुछ ग़म के, कुछ नम थे, कुछ टूटे, कुछ सही सलामत थे।
----------
दुश्मनों के साथ मेरे दोस्त भी आज़ाद हैं,
देखना है खींचता है मुझ पे पहला तीर कौन।
~ Parveen Shakir
----------
इसे इत्तेफाक समझो या दर्द भरी हकीकत,
आँख जब भी नम हुई वजह कोई अपना ही था।
----------
नही रहता कोई शख़्स अधूरा किसी के भी बिना,
वक़्त गुज़र ही जाता है, कुछ खोकर भी कुछ पाकर भी।
----------
वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर,
आदत इस की भी आदमी सी है।
~ Gulzar
----------
यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।
~ Bashir Badr
----------
मोहब्बत मुझे तुम से नहीं तेरे किरदार से है,
वरना हसीन लोग तो बाजार में आम मिला करते हैं।
----------
एक तेरी बे-रुख़ी से ज़माना ख़फ़ा हुआ;
ऐ संग-दिल तुझे भी ख़बर है कि क्या हुआ।
~ Arsh Siddique
----------
चले जायेंगे तुझे तेरे हाल पर छोड़कर,
कदर क्या होती है ये तुझे वक़्त सिखाएगा।
----------
मैं फ़ना हो गया अफ़सोस वो बदला भी नहीं,
मेरी चाहतों से भी सच्ची रही नफरत उसकी।
----------
कभी भूल कर भी मत जाना मोहब्बत के जंगल में,
यहाँ साँप नहीं हमसफ़र डसा करते हैं।
----------
मर्ज़ी से जीने की बस ख्वाहिश की थी मैंने,
और वो कहते हैं कि खुदगर्ज़ बन गए हो तुम।
----------
ढाया खुदा ने ज़ुल्म हम दोनों पर,
तुम्हें हुस्न देकर और मुझे इश्क़ देकर।
----------
छोड़ दो किस्मत की लकीरों पे यकीन करना;
जब लोग बदल सकते हैं तो किस्मत क्या चीज़ है।
----------
ख़ामोशियों के सिलसिले बढ़ते गए;
कारवाँ चलता रहा हम भी चलते गए;
ना उनको ख़बर, ना हमें उनकी फिकर;
ज़िंदगी जिस राह ले चली हम भी चलते गए।
----------
कुछ और भी हैं काम हमें ऐ ग़म-ए-जानाँ;
कब तक कोई उलझी हुई ज़ुल्फ़ों को सँवारे।
~ Habib Jalib
----------
मंज़िलों से ही गुमराह कर देते हैं कुछ लोग,
हर किसी से रास्ता पूछना अच्छा नहीं होता।
----------
ये वफ़ा की सख़्त राहें ये तुम्हारे पाँव नाज़ुक;
ना लो इंतिक़ाम मुझ से मेरे साथ साथ चल के।
~ Khumar Barabankvi
----------
जुस्तुजू जिस की थी उस को तो न पाया हम ने;
इस बहाने से मगर देख ली दुनिया हम ने।
~ Shahryar
----------
चाह कर भी पूछ नहीं सकते हाल उनका,
डर है कहीं कह ना दे कि ये हक तुम्हें किसने दिया।
----------
आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है;
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है।
~ Wasim Barelvi
----------
खुदा तू भी कारीगर निकला,
खींच दी दो - तीन लकीरें हाथों में और ये भोला आदमी उसे तकदीर समझ बैठा।
----------
जिस को जाना ही नहीं उस को ख़ुदा कैसे कहें,
और जिसे जान लिया हो वो ख़ुदा कैसे हो।
~ Shahzad Ahmad
----------
अजीब इत्तेफाक था वो मतलब से मिलते थे,
और हमें तो बस मिलने से मतलब था।
----------
आजाद कर देंगे तुम्हे अपनी चाहत की कैद से,
मगर वो शख्स तो लाओ जो हमसे ज्यादा कदर करे तुम्हारी।
----------
कोई हालात नहीं समझता,
कोई जज़्बात नहीं समझता;
ये तो बस अपनी अपनी समझ है,
कोई कोरा कागज़ भी पढ़ लेता है,
तो कोई पूरी किताब नहीं समझता।
----------
रुकता नहीं तमाशा, रहता है खेल जारी;
उस पर कमाल ये है, कि दिखता नहीं मदारी।
----------
गुज़रता जा रहा है वक़्त आपाधापी में यूँ ही;
कभी मेरे भी हिस्से एक सुहानी शाम आ जाये।
----------
दरवाज़े बड़े करवा लिए हैं हमने भी अपने आशियाने के,
क्योंकि कुछ दोस्तों का कद बड़ा हो गया है चार पैसे कमाकर।
----------
फुर्सत मिले जब भी तो रंजिशे भुला देना;
कौन जाने साँसों की मोहलतें कहाँ तक हैं।
----------
गिले-शिकवे ज़रूरी हैं अगर सच्ची मोहब्बत है;
जहाँ पानी बहुत गहरा हो थोड़ी काई रहती है।
----------
मुदद्तें हो गयी हैं चुप रहते रहते,
कोई सुनता तो हम भी कुछ कहते।
----------
वफ़ा की उम्मीद मत रखो इस दुनिया में,
जब दुआ कबूल नहीं होती तो लोग भगवान बदल लेते हैं।
----------
आग थे इब्तिदा-इश्क़ में हम;
हो गए ख़ाक इन्तहा है यह।
~ Meer Taqi Meer
----------
दूरियाँ जब बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गयी;
फिर तुमने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नही।
----------
कोहराम मचा रखा है जून की गर्म हवाओं ने,
और एक तेरे दिल का मौसम है जो बदलने का नाम ही नही लेता।
----------
किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल;
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा।
~ Ahmad Faraz
----------
वो जो बन के दुश्मन मुझे जीतने को निकले थे,
कर लेते अगर मोहब्बत मैं खुद ही हार जाता।
----------
तू भी औरों की तरह मुझ से किनारा कर ले;
सारी दुनिया से बुरा हूँ तेरे किस काम का हूँ।
----------
हमें नींद की इज़ाज़त भी उनकी यादों से लेनी पड़ती है;
जो खुद आराम से सोये हैं हमें करवटों में छोड़ कर।
----------
चल रहे हैं इस ‪‎दौर में ‪रिश्वतों‬ के ‪सिलसिले‬;
‪तुम‬ भी कुछ ‪‎ले देके‬ ‪मेरे‬ क्यों नही हो जाते?
----------
दोस्तों को भी मिले दर्द की दौलत या रब;
मेरा अपना ही भला हो मुझे मंज़ूर नहीं।
~ Hafeez Jalandhari
----------
जो बात मुनासिब है वो हासिल नहीं करते;
जो अपनी गिरह में हैं वो खो भी रहे हैं;
बे-इल्म भी हम लोग हैं ग़फ़लत भी है तेरी;
अफ़सोस के अंधे भी हैं और सो भी रहे हैं।
----------
एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;
जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;
मैं जो ज़िद्दी हूँ तो वो भी है अना का कैदी;
मेरे कहने पे कहाँ उसने चले आना है।
----------
हो मुखातिब तो कहूँ, क्या मर्ज़ है मेरा;
अब तुम ख़त में पूछोगे, तो खैरियत ही कहेंगे।
----------
मेरी ख़बर तो किसी को नहीं मगर 'अख़्तर';
ज़माना अपने लिए होशियार कैसा है।
~ Akhtar Ansari
----------
तेरा नज़रिया मेरे नज़रिये से अलग था शायद,
तुझे वक्त गुज़ारना था और मुझे जिन्दगी।
----------
दिल जलाने की आदत उनकी आज भी नहीं गयी;
वो आज भी फूल बगल वाली कबर पर रख जाते हैं।
----------
ज़िन्दगी में हमेशा नए लोग मिलेंगे;
कहीं ज्यादा तो कहीं कम मिलेंगे;
ऐतबार ज़रा सोच समझ कर करना;
मुमकिन नहीं हर जगह तुम्हें हम मिलेंगे।
----------
अपने सिवा बताओ कभी कुछ मिला भी है क्या तुम्हें;
हज़ार बार ली हैं तुमने मेरे दिल की तलाशियाँ।
----------
लेकर के मेरा नाम वो मुझे कोसता है;
नफरत ही सही पर वो मुझे सोचता तो है।
----------
निकले थे इसी आस पे कि किसी को अपना बना लेंगे;
एक ख्वाहिश ने उम्र भर का मुसाफिर बना दिया।
----------
अपने अपने किये पे हैं हम दोनों इतने शर्मिंदा;
दिल हम से कतराता है और हम दिल से कतराते हैं।
~ Qateel Shifai
----------
दिल से पूछो तो आज भी तुम मेरे ही हो;
ये ओर बात है कि किस्मत दग़ा कर गयी।
----------
उसे किसी की मोहब्बत का ऐतबार नहीं;
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है।
----------
अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल;
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे।
~ Allama Iqbal
----------
ना जाने यह नज़रें क्यों उदास रहती हैं;
ना जाने इन्हे किसकी तलाश रहती है;
जानती हैं यह कि वो किस्मत में नहीं;
लेकिन फिर भी ना जाने क्यों उन्हें पाने की आस रखती हैं।
----------
दिल पे आए हुए इल्ज़ाम से पहचानते हैं;
लोग अब मुझ को तेरे नाम से पहचानते हैं।
~ Qateel Shifai
----------
बहुत ज़ालिम हो तुम भी, मोहब्बत ऐसे करते हो;
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो।
----------
तुझे दुश्मनों की खबर न थी मुझे दोस्तों का पता नहीं;
तेरी दास्ताँ कोई और थी मेरा वाकिया कोई और है।
~ Saleem Kausar
----------
और भी बनती लकीरें दर्द की शायद कई;
शुक्र है तेरा खुदा जो हाथ छोटा सा दिया;
तूने जो बख्शी हमें बस चार दिन की ज़िंदगी;
या ख़ुदा अच्छा किया जो साथ छोटा सा दिया।
----------
यहाँ गमगीन मत होना, कोई जो भूल जाए तो;
यहाँ रब को भी सब, वक़्त-ए-ज़रूरत याद करते हैं।
----------
तू छोड़ दे कोशिशें इंसानो को पहचानने की;
यहाँ ज़रूरत के हिसाब से सब बदलते नक़ाब हैं;
अपने गुनाहों पर सौ पर्दे डाल कर;
हर शख्स कहता है ज़माना बड़ा खराब है।
----------
जरा सी वक़्त ने करवट क्या बदली;
मेरे अपनों के नक़ाब गिर गए।
----------
हाल-ए-दिल ना-गुफ़्तनी है हम जो कहते भी तो क्या;
फिर भी ग़म ये है कि उस ने हम से पूछा ही नहीं।
~ Saleem Ahmed
----------
जरा सा भी नही पिघलता दिल तेरा;
इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा है।
----------
हर कोई मिलता है यहाँ पहन सच का नक़ाब;
मुश्किल है पहचान पाना यहाँ कौन अच्छा है कौन ख़राब।
----------
कब तक रह पाओगे आखिर यूँ दूर हम से;
मिलना पड़ेगा आखिर कभी ज़रूर हम से;
नज़रें चुराने वाले ये बेरुखी है कैसी;
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हम से।
----------
अब उस की शक्ल भी मुश्किल से याद आती है;
वो जिस के नाम से होते न थे जुदा मेरे लब।
~ Ahmad Mushtaq
----------
मेरी ख़बर तो किसी को नहीं मगर 'अख़्तर';
ज़माना अपने लिए होशियार कैसा है।
~ Akhtar Ansari
----------
ज़िंदा रहे तो क्या है, जो मर जाएं हम तो क्या;
दुनिया से ख़ामोशी से गुज़र जाएं हम तो क्या;
हस्ती ही अपनी क्या है ज़माने के सामने;
एक ख्वाब हैं जहान में बिखर जायें हम तो क्या।
----------
उन से कह दो मुझे ख़ामोश ही रहने दे 'वसीम';
लब पे आएगी तो हर बात गिराँ गुज़रेगी।
~ Wasim Barelvi
----------
भूल गए वो यह कि उन्हें हसाया किसने था;
जब वो रूठे थे तो मनाया किसने था;
वो कहते हैं वो बहुत अच्छे है शायद;
वो भूल गए कि उन्हें यह बताया किसने था।
----------
तू कहाँ जाएगी कुछ अपना ठिकाना करने;
हम तो कल ख़्वाब-ए-अदम में शब-ए-हिज्राँ होंगे।
~ Hakim Momin Khan Momin
----------
मेरी कबर पे वो रोने आये हैं;
हम से प्यार है ये कहने आये हैं;
जब ज़िंदा थे तो रुलाया बहुत;
अब आराम से सोये हैं तो जगाने आये हैं।
----------
मतलबी दुनिया के लोग खड़े हैं हाथों में पत्थर लेकर;
मैं कहाँ तक भागूं शीशे का मुक़द्दर लेकर।
----------
वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ,
पर अपनों का पता चलता है, वक़्त के साथ;
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ,
पर अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ।
----------
नज़र और नसीब के मिलने का इत्तेफ़ाक़ कुछ ऐसा है;
कि नज़र को पसंद हमेशा वही चीज़ आती है, जो नसीब में नहीं होती है।
----------
है किस्मत हमारी आसमान में चमकते सितारे जैसी;
लोग अपनी तमन्ना के लिए हमारे टूटने का इंतज़ार करते हैं।
----------
वो लफ्ज कहां से लाऊं जो तेरे दिल को मोम कर दें;
मेरा वजूद पिघल रहा है तेरी बेरूखी से।
----------
कैसे करुं भरोसा गैरों के प्यार पर;
यहाँ अपने ही मजा लेते हैं अपनों की हार पर।
----------
कितना इख़्तियार था उसे अपनी चाहत पर;
जब चाहा याद किया जब चाहा भुला दिया;
बहुत अच्छे से जानता है वो मुझे बहलाने के तरीके;
जब चाहा हँसा दिया जब चाहा रुला दिया।
----------
कितना अजीब है लोगों का अंदाज़-ए-मोहब्बत;
रोज़ एक नया ज़ख्म देकर कहते हैं अपना ख्याल रखना।
----------
ना छेड़ क़िस्सा वो उल्फत का;
बड़ी लम्बी यह कहानी है;
हारे नहीं हम अपनी ज़िन्दगी से;
यह तो किसी अपने की मेहरबानी है।
----------
वादे वफ़ा करके क्यों मुकर जाते हैं लोग;
किसी के दिल को क्यों तड़पाते हैं लोग;
अगर दिल लगाकर निभा नहीं सकते;
तो फिर क्यों दिल से इतना लगाते हैं लोग।q
----------
लोग तो बेवजह ही खरीदते हैं आईने;
आँखें बंद करके भी अपनी हकीकत जानी जा सकती है।
----------
कोई मुझ से पूछ बैठा "बदलना" किसे कहते हैं?
सोच में पड़ गया हूँ मिसाल किस की दूँ?
"मौसम" की या "अपनों" की।
----------
एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;
जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;
मैं जो ज़िद्दी हूँ तो वो भी कुछ कम नहीं;
मेरे कहने पर कहाँ उसने चले आना है।
----------
हसीनों ने हसीन बन कर गुनाह किया;
औरों को तो क्या हमको भी तबाह किया;
पेश किया जब ग़ज़लों में हमने उनकी बेवफाई को;
औरों ने तो क्या उन्होंने भी वाह - वाह किया।
----------
यह न पूछ कि शिकायतें कितनी हैं तुझ से;
यह बता कि तेरा कोई और सितम बाकी तो नहीं।
----------
मोहब्बत है कि नफरत है, कोई इतना समझाए;
कभी मैं दिल से लड़ती हूँ कभी दिल मुझ से लड़ता है।
----------
'दर्द' के मिलने से ऐ यार बुरा क्यों माना;
उस को कुछ और सिवा दीद के मंज़ूर न था।
~ Khwaja Mir Dard
----------
वादा करके वो निभाना भूल जाते हैं;
लगा कर आग फिर वो बुझाना भूल जाते हैं;
ऐसी आदत हो गयी है अब तो उस हरजाई की;
रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं।
----------
मेरा यही अंदाज इस जमाने को खलता है;
कि इतना पीने के बाद भी सीधा कैसे चलता है!
----------
सब फ़साने हैं दुनियादारी के,
किस से किस का सुकून लूटा है;
सच तो ये है कि इस ज़माने में,
मैं भी झूठा हूँ तू भी झूठा है।
----------
ज़िंदा रहे तो क्या है, जो मर जायें हम तो क्या;
दुनिया से ख़ामोशी से गुज़र जायें हम तो क्या;
हस्ती ही अपनी क्या है ज़माने के सामने;
एक ख्वाब हैं जहान में बिखर जायें हम तो क्या।
----------
किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह;
वो आशना भी मिला हमसे अजनबी की तरह;
किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी;
छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह।
~ Qateel Shifai
----------
गर्मिये हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं;
हम चिरागों की तरह शाम से जल जाते हैं;
शमा जलती है जिस आग में नुमाइश के लिए;
हम उसी आग में गुमनाम से जल जाते हैं;
जब भी आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ;
जाने क्यों लोग मेरे नाम से जल जाते हैं।
----------
वादा करके निभाना भूल जाते हैं;
लगा कर आग फिर वो बुझाना भूल जाते हैं;
ऐसी आदत हो गयी है अब तो सनम की;
रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं।
----------
सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे;
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे।
----------
ये मंजिले मुझे रास आती नहीं,
ऐ रास्तो मुझे अपना हमसफ़र बना लो।
----------
मुझ को शिकस्त-ए-दिल का मज़ा याद आ गया;
तुम क्यों उदास हो गए क्या याद आ गया;
कहने को ज़िन्दगी थी बहुत मुख्तसर मगर;
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया।
~ Khumar Barabankvi
----------
तेरे पास आने को जी चाहता है;
फिर से दर्द सहने को जी चाहता है;
आज़मा चुके हैं अब ज़माने को हम;
बस तुझे आज़माने को जी चाहता है।
----------
हम भी बिकने गए थे बाज़ार-ऐ-इश्क में;
क्या पता था वफ़ा करने वालों को लोग ख़रीदा नहीं करते।
----------
जिस से चाहा था, बिखरने से बचा ले मुझको;
कर गया तुन्द हवाओं के हवाले मुझ को;
मैं वो बुत हूँ कि तेरी याद मुझे पूजती है;
फिर भी डर है ये कहीं तोड़ न डाले मुझको।
~ Zafar Iqbal
----------
कोई चला गया दूर तो क्या करें;
कोई मिटा गया सब निशान तो क्या करें;
याद आती है अब भी उनकी हमें हद से ज्यादा;
मगर वो याद ना करें तो क्या करें।
----------
सुकून मिल गया मुझको बदनाम होकर;
आपके हर एक इल्ज़ाम पे यूँ बेजुबान होकर;
लोग पढ़ ही लेंगें आपकी आँखों में मेरी मोहब्बत;
चाहे कर दो इनकार यूँ ही अनजान होकर।
----------
आईने के सामने खड़े होकर खुद से माफ़ी माँग ली मैंने;
सबसे ज्यादा खुद का दिल दुखाया है औरों को खुश करने में।
----------
जहाँ दरिया कहीं अपने किनारे छोड़ देता है;
कोई उठता है और तूफाँ का रुख मोड़ देता है;
मुझे बे-दस्त-ओ-पा कर के भी खौफ उसका नहीं जाता;
कहीं भी हादसा गुज़रे वो मुझसे जोड़ देता है।

शब्दार्थ:
बे-दस्त-ओ-पा = असहाय
~ Wasim Barelvi
----------
कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था;
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था;
सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है;
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।
-----------
वक़्त बदलता है ज़िन्दगी के साथ;
ज़िन्दगी बदलती है वक़्त के साथ;
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ;
बस अपने बदल जाते हैं वक़्त के साथ।
----------
मेरा इल्ज़ाम है तुझ पर कि तू बेवफा था;
दोष तो तेरा था मगर तू हमेशा ही खफा था;
ज़िन्दगी की इस किताब में बयान है तेरी मेरी कहानी;
यादों से सराबोर उसका एक एक सफा था।
----------
मुझ से बहुत क़रीब है तू फिर भी ऐ 'मुनीर';
पर्दा सा कोई मेरे तिरे दरमियाँ तो है।
~ Munir Niazi
----------
कदम कदम पे बहारों ने साथ छोड़ दिया;
पड़ा जब वक़्त तब अपनों ने साथ छोड़ दिया;
खायी थी कसम इन सितारों ने साथ देने की;
सुबह होते देखा तो इन सितारों ने साथ छोड़ दिया।
----------
काम अब कोई न आएगा बस इक दिल के सिवा;
रास्ते बंद हैं सब कूचा-ए-क़ातिल के सिवा।
~ Ali Sardar Jafri
----------
मानते हैं सारा जहाँ तेरे साथ होगा;
खुशी का हर लम्हा तेरे पास होगा;
जिस दिन टूट जाएँगी साँसे हमारी;
उस दिन तुझे हमारी कमी का एहसास होगा।
----------
ज़ख़्म देने की आदत नहीं हमको;
हम तो आज भी वो एहसास रखते हैं;
बदले बदले से तो आप हैं जनाब;
जो हमारे अलावा सबको याद रखते हैं।
----------
इस जहान में कब किसी का दर्द अपनाते हैं लोग;
रुख हवा का देखकर अक्सर बदल जाते हैं लोग।
----------
रास्ते में पत्थरों की कमी नहीं है;
मन में टूटे सपनो की कमी नहीं है;
चाहत है उनको अपना बनाने की मगर;
मगर उनके पास अपनों की कमी नहीं है।
----------
वो सो जाते हैं अकसर हमें याद किए बगैर;
हमें नींद नहीं आती उनसे बात किए बगैर;
कसूर उनका नहीं कसूर तो हमारा ही है;
क्योंकि उन्हें चाहा भी तो उनकी इज़ाज़त लिए बगैर।
----------
तुम और किसी के हो तो हम और किसी के;
और दोनों ही क़िस्मत की शिकायत नहीं करते।
~ Saqi Faruqi
----------
जीवन का हर पन्ना तो रंगीन नही होता;
हर रोने वाला तो गमगीन नही होता;
एक ही दिल को कोई कब तक तोड़ता रहेगा;
अब कोई जोड़ता भी है तो यकीन नही होता।
----------
हसीनो ने हसीन बन कर गुनाह किया;
औरों को तो ठीक पर हमें भी तबाह किया;
अर्ज़ किया जब ग़ज़लों में उनकी बेवफाई का;
औरों ने तो ठीक उन्होंने भी वाह-वाह किया।
----------
सो जा ऐ दिल कि आज धुन्ध बहुत है तेरे शहर में;
अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं।
----------
अक्सर सूखे हुए होंठों से ही होती हैं मीठी बातें;
प्यास बुझ जाये तो अल्फ़ाज़ और इंसान दोनों बदल जाया करते हैं।
----------
तुम ने किया न याद कभी भूल कर हमें;
हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया।
~ Bahadur Shah Zafar
----------
हमें उनसे कोई शिकायत नहीं;
शायद हमारी ही किस्मत में चाहत नहीं;
हमारी तक़दीर को लिख कर तो ऊपर वाला भी मुकर गया;
पूछा जो हमने तो बोला यह मेरी लिखावट नहीं।
----------
कभी तो सोच तेरे सामने नहीं गुज़रे;
वो सब समय जो तेरे ध्यान से नहीं गुज़रे;
ये और बात है कि उनके दरमियाँ मैं भी;
ये वाकिये किसी तकरीब से नहीं गुज़रे।
~ Majeed Amjad
----------
रीत है जाने यह किस ज़माने की;
जो सज़ा मिलती हैं यहाँ किसी से दिल लगाने की;
ना बसाना किसी को दिल में इतना कि;
फिर दुआ माँगनी पड़े रब से उसे भुलाने की।
----------
हमने भी कभी चाहा था एक ऐसे शख्स को;
जो आइने से भी नाज़ुक था मगर था पत्थर का।
----------
उसको क्या सज़ा दूँ जिसने मोहब्बत में हमारा दिल तोड़ दिया;
गुनाह तो हमने किया जो उसकी बातों को मोहब्बत का रंग दे दिया।
----------
दिलों में खोट जुबां से प्यार करते हैं;
बहुत से लोग दुनिया में बस यही प्यार करते हैं।
----------
रहते थे कभी जिनके दिल में हम अज़ीज़ों की तरह;
बैठे हैं हम आज उनके दर पे फकीरों की तरह।
----------
कहने देती नहीं कुछ मुँह से मोहब्बत मेरी;
लब पे रह जाती है आ आ के शिकायत मेरी।
~ Daagh Dehlvi
----------
वो भूल गए कि उन्हें हसाया किसने था;
जब वो रूठे थे तो मनाया किसने था;
वो कहते हैं वो बहुत अच्छे है शायद;
वो भूल गए कि उन्हें यह बताया किसने था।
----------
कहाँ से लाऊँ हुनर उसे मनाने का;
कोई जवाब नहीं था उसके रूठ जाने का;
मोहब्बत में सजा मुझे ही मिलनी थी;
क्योंकि जुर्म मेरा था उनसे दिल लगाने का।
----------
मुझे शिकवा नहीं कुछ बेवफ़ाई का तेरी हरगिज़;
गिला तब हो अगर तू ने किसी से भी निभाई हो।
~ Khwaja Mir Dard
----------
उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद;
अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद;
क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया;
यहाँ लोग भूल जाते ही किसी को दफनाने के बाद।
----------
मोहब्बत का मेरा यह सफर आख़िरी है;
ये कागज, ये कलम, ये गजल आख़िरी है;
फिर ना मिलेंगे अब तुमसे हम कभी;
क्योंकि तेरे दर्द का अब ये सितम आख़िरी है।
----------
ना जाने कौन सी बात पर वो रूठ गयी है;
मेरी सहने की हदें भी अब टूट गयी हैं;
कहती थी जो कि कभी नहीं रूठेगी मुझसे;
आज वो अपनी ही बातें भूल गयी है।
----------
मुद्दत से कोई शख्स रुलाने नहीं आया;
जलती हुई आँखों को बुझाने नहीं आया;
जो कहता था कि रहेंगे उम्र भर साथ तेरे;
अब रूठे हैं तो कोई मनाने नहीं आया।
----------
तुम ने चाहा ही नहीं हालात बदल सकते थे;
तेरे आाँसू मेरी आँखों से निकल सकते थे;
तुम तो ठहरे रहे झील के पानी की तरह;
दरिया बनते तो बहुत दूर निकल सकते थे।
----------
दस्तूर-ए-उल्फ़त वो निभाते नहीं हैं;
जनाब महफ़िल में आते ही नहीं हैं;
हम सजाते हैं महफ़िल हर शाम;
एक वो हैं जो कभी तशरीफ़ लाते ही नहीं हैं!
----------
आग से सीख लिया हम ने यह करीना भी;
बुझ भी जाना पर बड़ी देर तक सुलगते रहना;
जाने किस उम्र में जाएगी यह आदत अपनी;
रूठना उससे और औरों से उलझते रहना।
----------
तुम्हें ही कहाँ फ़ुरसत थी, मेरे पास आने की;
मैने तो बहुत इत्तला की, अपने गुज़र जाने की।
----------
समझा न कोई हमारे दिल की बात को;
दर्द दुनिया ने बिना सोचे ही दे दिया;
जो सह गए हर दर्द को हम चुपके से;
तो हमको ही पत्थर दिल कह दिया।
----------
दुनिया ने हम पे जब कोई इल्ज़ाम रख दिया;
हमने मुक़ाबिल उसके तेरा नाम रख दिया;
इक ख़ास हद पे आ गई जब तेरी बेरुख़ी;
नाम उसका हमने गर्दिशे-अय्याम रख दिया।

शब्दार्थ:
गर्दिशे-अय्याम = समय का चक्कर
~ Qateel Shifai
----------
दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया;
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया;
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने;
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया।
----------
ज़िंदगी से चले हैं अब इल्ज़ाम लेकर;
बहुत जी चुके हैं अब उनका नाम लेकर;
अकेले बातें करेंगे अब वो इन सितारों से;
अब चले जायेंगे उन्हें यह सारा आसमान देकर।
----------
जब प्यार नहीं है तो भुला क्यों नहीं देते;
ख़त किसलिए रखे हैं जला क्यों नहीं देते;
किस वास्ते लिखा है हथेली पे मेरा नाम;
मैं हर्फ़ ग़लत हूँ तो मिटा क्यों नहीं देते।
----------
मुझे शिकवा नहीं कुछ बेवफ़ाई का तेरी हरगिज़;
गिला तब हो अगर तूने किसी से भी निभाई हो।
~ Khwaja Mir Dard
----------
अब कर के फ़रामोश तो नाशाद करोगे;
पर हम जो न होंगे तो बहुत याद करोगे।
~ Mir Taqi Mir
----------
भुला के मुझको अगर तुम भी हो सलामत;
तो भुला के तुझको संभलना मुझे भी आता है;
नहीं है मेरी फितरत में ये आदत वरना;
तेरी तरह बदलना मुझे भी आता है।
----------
ना रोया कर सारी-सारी रात किसी बेवफा की याद में;
को खुश है अपनी दुनिया में तेरी दुनिया उजाड़ कर।
----------
मैंने कब चाहा कि...

मैंने कब चाहा कि मैं उस की तमन्ना हो जाऊँ;
ये भी क्या कम है अगर उस को गवारा हो जाऊँ;

मुझ को ऊँचाई से गिरना भी है मंज़ूर, अगर;
उस की पलकों से जो टूटे, वो सितारा हो जाऊँ;

लेकर इक अज़्म उठूँ रोज़ नई भीड़ के साथ;
फिर वही भीड़ छटे और मैं तनहा हो जाऊँ;

जब तलक महवे-नज़र हूँ, मैं तमाशाई हूँ;
टुक निगाहें जो हटा लूं तो तमाशा हो जाऊँ;

मैं वो बेकार सा पल हूँ, न कोइ शब्द, न सुर;
वह अगर मुझ को रचाले तो हमेशा हो जाऊँ;

आगही मेरा मरज़ भी है, मुदावा भी है 'साज़';
जिस से मरता हूँ, उसी ज़हर से अच्छा हो जाऊँ।
~ Abdul Ahad Saaz
----------
अच्छा यक़ीं नहीं है तो कश्ती डुबा के देख;
एक तू ही नाख़ुदा नहीं ज़ालिम ख़ुदा भी है।
~ Qateel Shifai
----------
दुनिया में मत ढूंढ नाम ए वफ़ा 'फ़राज़';
दिलों से खेलते हैं लोग बना के हमसफ़र अपना।
~ Ahmad Faraz
----------
ज़िंदगी हमारी यूँ सितम हो गयी;
ख़ुशी ना जाने कहाँ दफ़न हो गयी;
बहुत लिखी खुदा ने लोगों की मोहब्बत;
जब आयी हमारी बारी तो स्याही ही ख़त्म हो गयी।
----------
दिल वो नगर नहीं है कि फिर आबाद हो सके;
पछताओगे सुनो हो ये बस्ती उजाड़ कर।
~ Mir Taqi Mir
----------
मोहब्बत मुक़द्दर है एक ख्वाब नहीं;
ये वो अदा है जिसमे सब कामयाब नहीं;
जिन्हें पनाह मिली उन्हें उँगलियों पर गिन लो;
मगर जो फना हुए उनका कोई हिसाब नहीं।
----------
सपना हैं आँखों में मगर नींद नहीं है;
दिल तो है जिस्म में मगर धड़कन नहीं है;
कैसे बयाँ करें हम अपना हाल-ए-दिल;
जी तो रहें हैं मगर ये ज़िंदगी नहीं है।
----------
तेरी महफ़िल से उठे तो किसी को खबर तक ना थी,
तेरा मुड़-मुड़कर देखना हमें बदनाम कर गया।
----------
मंजिल भी उसकी थी, रास्ता भी उसका था;
एक मैं अकेला था, बाकी काफिला भी उसका था;
साथ-साथ चलने की सोच भी उसकी थी;
फ़िर रास्ता बदलने का फ़ैसला भी उसका था।
----------
इश्क़ करना तो लगता है जैसे मौत से भी बड़ी एक सज़ा है;
क्या किसी से शिकायत करें जब अपनी तक़दीर ही बेवफा है।
----------
तुम्हारी नफरत पर भी लुटा दी ज़िन्दगी हमने;
सोचो अगर तुम मोहब्बत करते तो हम क्या करते।
----------
दोस्ती किस से न थी किस से मुझे प्यार न था;
जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।
~ Meer Hasan
----------
अच्छा है डूब जाये सफीना हयात का;
उम्मीदो-आरजूओं का साहिल नहीं रहा।

अनुवाद:
सफीना = नाव
हयात = ज़िंदगी
साहिल = किनारा
~ Asar Lakhnavi
----------
तुझसे दोस्ती करने का हिसाब ना आया;
मेरे किसी भी सवाल का जवाब ना आया;
हम तो जागते रहे तेरे ही ख्यालों में;
और तुझे सो कर भी हमारा ख्वाब ना आया।
----------
प्यार के नाम पे यहाँ तो लोग खून पीते हैं;
मुझे खुद पे नाज़ है कि मैं सिर्फ शराब पीता हूँ।
----------
तुम आज हँसते हो हंस लो मुझ पर ये आज़माइश ना बार-बार होगी;
मैं जानता हूं मुझे ख़बर है कि कल फ़ज़ा ख़ुशगवार होगी;
रहे मोहब्बत में ज़िन्दगी भर, रहेगी ये कशमकश बराबर;
ना तुमको कुर्बत में जीत होगी ना मुझको फुर्कत में हार होगी;
हज़ार उल्फ़त सताए लेकिन मेरे इरादों से है ये मुमकिन;
अगर शराफ़त को तुमने छेड़ा तो ज़िन्दगी तुम पे वार होगी।
~ Khwaja Mir Dard
----------
मेरे लफ़्ज़ों से न कर मेरे क़िरदार का फ़ैसला;
तेरा वज़ूद मिट जायेगा मेरी हकीक़त ढूंढ़ते ढूंढ़ते।
----------
वो रास्ते में पलटा तो रुक गया मैं भी;
फिर कदम, कदम न रहे, सफर, सफर न रहा;
नज़रों से गिराया उसको कुछ इस तरह हम ने;
कि वो खुद अपनी नज़रों में मुताबिर न रहा।
----------
किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नही;
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नही;
गुनाह हो यह ज़माने की नजर में तो क्या;
यह ज़माने वाले कोई खुदा तो नही।
----------
अपना समझा तो कह दिया वरना;
गैरों से तो कोई गिला नहीं होता;
कुछ न कुछ पहले खोना पड़ता है;
मुफ्त में तो कोई तज़ुर्बा नहीं मिलता।
----------
गुलों को छू के शमीम-ए-दुआ नहीं आई;
खुला हुआ था दरीचा सबा नहीं आई;
हवा-ए-दश्त अभी तो जुनूँ का मौसम था;
कहाँ थे हम तेरी आवाज़ नहीं आई।
~ Ada Jafri
----------
तुझे फुर्सत न मिली पढ़ने की वरना;
हम तो तेरे शहर में बिकते रहे किताबों की तरह।
----------
उसकी तलाश में निकलूं भी तो क्या फ़ायदा;
वो बदल गया है खोया होता तो अलग बात होती।
----------
घर बना कर मेरे दिल में वो छोड़ गया;
न ख़ुद रहता है न किसी और को बसने देता है।
----------
सौ बार मरना चाहा उनकी निगाहों में डूब के;
वो हर बार निगाहें झुका लेते हैं, मरने भी नहीं देते।
----------
हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है;
शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है;
कितनी शिद्दत से उन्हें याद करते हैं हम;
और एक वो हैं जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है।
----------
देखी है बेरुखी की आज हम ने इन्तहा 'मोहसिन';
हम पे नज़र पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए।
~ Mohsin Naqvi
----------
मिला वो भी नहीं करते, मिला हम भी नहीं करते;
वफ़ा वो भी नहीं करते, वफ़ा हम भी नहीं करते;
उन्हें रुस्वाई का दुःख, हमें तन्हाई का दर्द;
गिला वो भी नहीं करते शिकवा हम भी नहीं करते।
----------
एक ग़ज़ल तेरे लिए ज़रूर लिखूंगा;
बे-हिसाब उस में तेरा कसूर लिखूंगा;
टूट गए बचपन के तेरे सारे खिलौने;
अब दिलों से खेलना तेरा दस्तूर लिखूंगा।
----------
कोई जुदा हो गया कोई ख़फ़ा हो गया;
यह दुनिया के लोगों को क्या हो गया;
जिस सजदे में मुझे उस को माँगना था रब से;
अफ़सोस वही सजदा क़ज़ा हो गया।
----------
तुझे मोहब्बत करना नहीं आता;
मुझे मोहब्बत के सिवा कुछ और नहीं आता;
ज़िन्दगी गुजारने के बस दो ही तरीके हैं;
एक तुझे नहीं आता और एक मुझे नहीं आता।
----------
अजीब अँधेरा है साकी तेरी महफ़िल में;
हमने दिल भी जलाया तो भी रौशनी न हुई!
---------- 
बदले तो नहीं हैं वो दिल-ओ-जान के क़रीने;
आँखों की जलन, दिल की चुभन अब भी वही है।
~ Ada Jafri
----------
तमाम रात मेरे घर का एक दर खुला रहा;
मैं राह देखती रही वो रास्ता बदल गया।
~ Parveen Shakir
----------
चांदनी रात बड़ी देर के बाद आयी;
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी;
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद;
आज की रात बड़ी देर के बाद आयी।
~ Kaifi Azmi
----------
वो, जिनके घर मेहमानों का आना-जाना होता है;
उनको घर का हर कमरा हर रोज़ सजाना होता है;
जिस देहरी की क़िस्मत में स्वागत या वंदनवार न हों;
उस चौखट के भीतर केवल इक तहख़ाना होता है।
----------
तूने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया;
कितने रिश्ते तेरी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ;
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है;
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ।
----------
शर्मिंदा होंगे जाने भी दो इम्तिहान को;
रखेगा कौन तुम को अज़ीज़ अपनी जान से।
~ Mir Taqi Mir
----------
दिल तो चाहा पर शिकस्त-ए-दिल ने मोहलत ही न दी;
कुछ गिले-शिकवे भी कर लेते मुनाजतों के बाद।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
सजा लबों से अपने सुनाई तो होती;
रूठ जाने की वजह बताई तो होती;
बेच देता मैं खुद को तुम्हारे लिए;
कभी खरीदने की चाहत जताई तो होती।
----------
एक दिन हम तुम से दूर हो जायेंगे;
अंधेरी गलियों में यूं ही खो जायेंगे;
आज हमारी फिक्र नहीं है आपको;
कल से हम भी बेफिक्र हो जायेंगे।
----------
उस की आँखों में नज़र आता है सारा जहाँ मुझ को;
अफ़सोस कि उन आँखों में कभी खुद को नहीं देखा मैंने।
----------
मेरे प्यार को बहकावा समझ लिया उन्होंने;
मेरे एहसास को पछतावा समझ लिया उन्होंने;
मैं रोती रही उनकी याद में पर हुआ ये कि;
मुझे ही बेवफ़ा समझ लिया उन्होंने।
----------
रात क्या ढली सितारे चले गए;
गैरों से क्या शिकायत जब हमारे चले गए;
जीत सकते थे हम भी इश्क़ की बाज़ी;
पर उनको जिताने की धुन में हम हारे चले गए।
----------
संग-ए-मरमर से तराशा खुदा ने तेरे बदन को,
बाकी जो पत्थर बचा उससे तेरा दिल बना दिया।
----------
दिलों को खरीदने वाले लोग हज़ार मिल जायेंगे;
तुमको दगा देने वाले बार-बार मिल जायेंगे;
मिलेगा न हमें तुम जैसा कोई;
मिलने को तो लोग हमें बेशुमार मिल जायेंगे!
----------
जता-जता के मोहब्बत, दिखा-दिखा के ख़ुलूस;
बहुत क़रीब से लूटा है मेरे दोस्तों ने मुझे।
----------
उनके होंठों पे मेरा नाम जब आया होगा;
ख़ुद को रुसवाई से फिर कैसे बचाया होगा;
सुन के फ़साना औरों से मेरी बर्बादी का;
क्या उनको अपना सितम न याद आय होगा?
----------
मोहब्बत से वो देखते हैं सभी को,
बस हम पर कभी ये इनायत नहीं होती;
मैं तो शीशा हूँ टूटना मेरी फ़ितरत है,
इसलिए मुझे पत्थरों से कोई शिकायत नहीं होती।
----------
चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं;
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं;
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश;
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये हैं।
~ Rahat Indori
----------
जो आँसू दिल में गिरते हैं वो आँखों में नहीं रहते;
बहुत से हर्फ़ ऐसे हैं जो लफ़्ज़ों में नहीं रहते;
किताबों में लिखे जाते हैं दुनिया भर के अफ़साने;
मगर जिन में हक़ीक़त हो वो किताबों में नहीं रहते।
----------
खुलसे इश्क़, न जोशे अमल, न दर्द ए वतन;
ये ज़िन्दगी है ख़ुदाया कि ज़िन्दगी का क़फ़न।
~ Jigar Moradabadi
----------
बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर;
माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है..
~ Munawwar Rana
----------
कोई उम्मीद बर नहीं आती​;​​​​​
​कोई सूरत नज़र नहीं आती;​​
​​मौत का एक दिन मु'अय्यन है​;​​
​नींद क्यों रात भर नहीं आती​।
~ Mirza Ghalib
----------
आँख उठाकर भी न देखूँ, जिससे मेरा दिल न मिले;​​
जबरन सबसे हाथ मिलाना, मेरे बस की बात नहीं...
----------
दिल से मिले दिल तो सजा देते है लोग​;​​
​प्यार के जज्बातों को डुबा देते है लोग;​​
​दो इँसानो को मिलते कैसे देख सकते है​;​
जब साथ बैठे दो परिन्दो को भी उठा देते है लोग...
----------
कम से कम ​तन्हाई तो साथी है​;​
अपनी ​जिंदगी के हर एक पल की​;​​
चलो ये शिकवा भी दूर हुआ कि​;​​
किसी ने साथ नहीं दिया​।
----------
मुझे देखने से पहले साफ़ कर​;
अपनी आँखों की पुतलियाँ ग़ालिब​;
कहीं ढक ना दे मेरी अच्छाइयों को भी​;
नज़रों की ये गन्दगी तेरी​।
~ Mirza Ghalib
----------
​कहने वालों का कुछ नहीं जाता​;
सहने वाले कमाल करते हैं;
कौन ढूंढें जवाब दर्दों के​;​
लोग तो बस सवाल करते है।
----------
इंतजार किस पल का किये जाते हो यारों;
प्यासों के पास समंदर नही आने वाला;
लगी है प्यास ​तो ​चलो रेत निचोड़ी जाए​;​
अपने हिस्से में समंदर नहीं आने वाला​।
----------
तेरी नज़रों से दूर जाने के लिए तैयार तो थे हम;
फिर इस तरह, नज़रें घुमाने की जरूरत क्या थी;​​
तेरे एक इशारे पे, हम इल्जाम भी अपने सिर ले लेते​;​
फिर बेवजह, झूठे इल्जाम लगाने की जरुरत क्या थी।
----------
रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है​;
​ना चाहते हुए भी प्यार होता है​;​
क्यू देखते है हम वो सपने​;​
जिनके टूटने पर भी उनके सच होने​;​
का इंतेज़ार होता है​।
----------
हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है​;​
शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है​;​
कितने सिद्दत से उन्हें याद करते है हम​;​
​और एक वो है​, जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है​। ​
----------
​गुज़र गया वो वक़्त जब तेरी हसरत थी मुझको​;
​अब ​ खुदा भी बन जाए तो भी तेरा सजदा ना करूँ..
----------
​सोचा था घर बना कर बैठुंगा सुकून से;
पर घर की ज़रूरतों ने मुसाफ़िर बना डाला​।
~ JD Ghai
----------
हर वक़्त का हंसना तुझे बर्बाद ना कर दे;
​तन्हाई के लम्हों में, कभी रो भी लिया कर;
​ए दिल तुझे दुश्मन की भी पहचान कहाँ;
​तु हल्का-ए-याराना में भी मोहतात रहा कर।
~ Ahmad Faraz
----------
गलत तस्वीर दिखाई, उसको ही बस खुश रख पाया;
जिसके सामने आईना रक्खा, हर शख्स वो मुझसे रूठ गया।
----------
तुझे मुफ्त में जो मिल गए हम​;​​​
​ ​तु कदर ना करे ये तेरा हक़ बनता है​।
----------
जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है;​​​
उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।
~ Allama Iqbal
----------
मेरे ही हाथों पर लिखी है तकदीर मेरी;​​
और मेरी ही तक़दीर पर मेरा बस नहीं चलता।
----------
काश वो नगमें हमें सुनाए ना होते;
आज उनको सुनकर ये आंसू ना आए होते;
अगर इस तरह भूल जाना ही था;
तो इतनी गहराई से दिल में समाए ना होते।
----------
​मेरी वफाएं सभी लोग जानते हैं;
उसकी जफ़ाएं सभी लोग जानते हैं;
वो ही ना समझ पाए मेरी शायरी;
दिल की सदाएं सभी लोग जानते है।
----------
तिश्नगी जम गई पत्थर की तरह होंठों पर;​
​​ डूब कर भी तेरे दरिया से मैं प्यासा निकला।
~ Jigar Moradabadi
----------
जिन्हें गुस्सा आता है, वो लोग सच्चे होते है​;
​ मैंने झूठों को अक्सर, मुस्कुराते हुए देखा है​।
----------
सुकून की बात मत कर ऐ ग़ालिब;
बचपन वाला 'इतवार' अब नहीं आता।
----------
ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया​;
​कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए।
~ Javed Akhtar
----------
हमने मांगी थी उनके जीवन की ख़ुशी;
उन्होंने हमारी ख्वाहिश-ए-कज़ा भी छीन ली।
----------
सब शिकवे हमसे कागज पर उतारे ना जाएंगे;
कहीं पढ़ने वाला तुम्हें बददुआ ना दे दे।
----------
ग़ज़ब किया तेरे वादे पर ऐतबार किया;
तमाम रात क़यामत का इंतज़ार किया।
~ Daagh Dehlvi
----------
वादा करते तो कोई बात होती;
मुझे ठुकराते तो कोई बात होती;
यूँ ही क्यों छोड़ दिया दामन;
कसूर बतलाते तो कोई बात होती।
----------
आवाज़ दी है तुमने कि धड़का है दिल मेरा;
कुछ ख़ास फ़र्क़ तो नहीं दोनों सदाओं में।
~ Qateel Shifai
----------
बर्बादी का दोष दुश्मनों को देता रहा मैं अब तलक;
दोस्तों को भी परख लिया होता तो अच्छा होता;
यूँ तो हर मोड़ पर मिले कुछ दगाबाज लेकिन;
आस्तीन को भी झठक लिया होता तो अच्छा होता।
~ Lata Chaudhary
----------
दुनियां ने याद से बेगाना कर दिया;
तुझसे भी फ़रेब है, ग़म रोज़गार के।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर;
इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ।
~ Noshi Gilani
----------
तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी;
एक हम है कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे!
----------
बन गए गैर अपने होते हुए;
जब तुम वाकिफ हो गरीबी से मेरी।
----------
एक लम्हा ना दिया साथ तुने मेरा;
जबकि तेरे लिए हमने ज़िंदगी गुजार दी।
----------
फूलों को तो बहारों में आना ही था;
खारों को क्यों संग में लाना था;
जिसे चाहा हमने दिल से अपनाया;
क्या उसी को हमसे दूर जाना था।
----------
इतने कहाँ मशरूफ़ हो गए हो तुम;
आजकल दिल तोड़ने भी नहीं आते!
----------
जो तेरी मुंतज़िर तीन वो आँखें ही बुझ गई;
अब क्यों सजा रहा है चिरागों से शाम को।
~ Mohsin Naqvi
----------
यह अजब क़यामतें हैं तेरी रहगुज़र में गुज़ारी;
ना हो के मर मिटें हम, ना हो के जी उठें हम।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
बंद मुट्ठी से जो उड़ जाती है क़िस्मत की परी;
इस हथेली में कोई छेद पुराना होगा।
----------
हाथों की लकीरों पर मत जा ऐ ग़ालिब;
नसीब उन के भी होते हैं जिन के हाथ नहीं होते।
~ Mirza Ghalib
----------
कहाँ तक सुनेगी रात कहाँ तक सुनाएंगे हम;
शिकवे सारे सब आज तेरे रुबरु करें।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
जाने क्यों अकेले रहने को मज़बूर हो गए;
यादों के साये भी हमसे दूर हो गए;
हो गए तन्हा इस महफ़िल में;
कि हमारे अपने भी हमसे दूर हो गए।
----------
अब भी इल्जाम-ए-मोहब्बत है हमारे सिर पर;
अब तो बनती भी नहीं यार हमारी उसकी।
----------
उन लोगों का क्या हुआ होगा;
जिनको मेरी तरह ग़म ने मारा होगा;
किनारे पर खड़े लोग क्या जाने;
डूबने वाले ने किस-किस को पुकारा होगा।
----------
एहसान जताना जाने कैसे सीख लिया;
मोहब्बत जताते तो कुछ और बात थी।
----------
चंद कलियाँ निशात की चुनकर;
मुद्दतों मायूस रहता हूँ;
तेरा मिलना ख़ुशी की बात सही;
तुझसे मिलकर उदास रहता हूँ।
~ Sahir Ludhianvi
----------
हुस्न भी था, कशिश भी थी;
अंदाज़ भी था, नक़ाब भी था;
हया भी थी, प्यार भी था;
अगर कुछ ना था तो बस इकरार।
~ JD Ghai
----------
हमें अपने हबीब से यही एक शिकायत है;
ज़िंदगी में तो आए नहीं, लेकिन हमें सपनों में सताते रहे।
~ JD Ghai
----------
तु वो ज़ालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा ना बन सका;
और दिल वो काफ़िर जो मुझ में रह कर भी तेरा हो गया।
~ Mirza Ghalib
----------
ये दूरियां तो मिटा दूँ मैं एक पल में मगर;
कभी कदम नहीं चलते तो कभी रास्ते नहीं मिलते।
----------
मत बनाना रिश्ता इस जहां में;
बहुत मुश्किल उन्हें निभाना होगा;
हर एक रिश्ता एक नया ग़म देगा;
एक तरफ बेबस तु और एक तरफ हँसता ज़माना होगा।
----------
​​गुज़र गया वो वक़्त जब तेरे तलबगार थे हम;
अब खुद भी बन जाओ तो सजदा ना करेंगे​।
----------
कितना समझाया दिल को कि तु प्यार ना कर;
किसी के लिए खुद को बेक़रार ना कर;
वो तेरे लिए नहीं है नादान;
ऐ पागल किसी और की अमानत का इंतज़ार ना कर!
----------
खामोश थे हम तो मगरूर समझ लिया;
चुप हैं हम तो मजबूर समझ लिया;
यही आप की खुशनसीबी है कि हम इतने क़रीब हैं;
फिर भी आप ने दूर समझ लिया!
----------
काश आपकी सूरत इतनी प्यारी ना होती;
काश आपसे मुलाक़ात हमारी ना होती;
सपनो में ही देख लेते हम आपको;
तो आज मिलने की इतनी बेकरारी ना होती!
----------
इंतज़ार की आरज़ू अब खो गई है;
खामोशियों की आदत हो गई है;
ना शिकवा रहा ना शिकायत किसी से;
अगर है तो एक मोहब्बत, जो इन तन्हाईयों से हो गई है।
----------
बड़ी उम्मीद थी उनको अपना बनाने की;
तमन्ना थी उनके हो जाने की;
क्या पता था जिनके हम होना चाहते हैं;
उनको आदत ही नहीं थी किसी को अपना बनाने की!
----------
ये क्या कि सब से बयां दिल की हालतें करनी;
'फ़राज़' तुझको न आईं मुहब्बतें करनी।
~ Ahmad Faraz
----------
तुझे मोहब्बत करना नहीं आता;
मुझे मोहब्बत के सिवा कुछ आता नहीं;
ज़िंदगी गुज़ारने के दो ही तरीके हैं;
एक तुझे नहीं आता, एक मुझे नहीं आता!
----------
कितना बेबस है इंसान किस्मत के आगे;
कितना दूर है ख्वाब हकीकत के आगे;
कोई रुकी हुई सी धड़कन से पूछे;
कितना तड़पता है यह दिल मोहब्बत के आगे।
----------
​उस बुलंदी से तुमने नवाजा क्यों था;​​
​गिर कर मैं टूट गया कांच के बर्तन की तरह।
----------
वह कहता है पागल है वो तो;
जो मेरी बातों को अपने दिल पर ले ​गई;
मैंने तो कभी उसे अपना माना ही नहीं था;
वो तो खुद-ब-खुद मेरी होकर रह गई।
~ Sarab Sandhu
----------
ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे;
तू बहुत देर से मिला है मुझे।
~ Ahmad Faraz
----------
बस यही बात कि लोगों को ना चाहों दिल से;
तज़ुर्बे इस के सिवा उम्र को क्या देते हैं।
----------
उनका हम से मिलना भी तो कुछ ऐसा था;
जैसे लहरें मिल के समुंद्र से गले और बिछड़ जाती हैं।
----------
​मैंने रब से कहा वो छोड़ के चली गई;
पता नहीं उसकी क्या मजबूरी थी;
रब ने कहा इसमें उसका कोई कसूर नहीं;
यह कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।
----------
शिकायतें भी थी उसे तो मेरे ख़ुलूस से;
अजीब था वो शख्स मेरी आदतें ना समझ सका।
----------
मैं किसी को क्या इल्ज़ाम दूँ अपनी मौत का दोस्तो;
यहाँ तो सताने वाले भी अपने थे और दफ़नाने वाले भी अपने।
----------
दिल से दूर जिन्हें हम कर ना सके;
पास भी उन्हें हम कभी पा ना सके;
मिटा दिया प्यार जिसने हमारे दिल से;
हम उनका नाम लिख कर भी मिटा ना सके।
----------
वो अपनी ज़िंदगी में हुआ मशरूफ इतना;
वो किस-किस को भूल गया उसे यह भी याद नहीं।
----------
कुछ आँसू होते हैं जो बहते नहीं;
लोग अपने प्यार के बिना रहते नहीं;
हम जानते हैं आपको भी आती है हमारी याद;
पर जाने क्यों आप हमसे कहते नहीं।
----------
​​​दिल की किस्मत बदल न पाएगा​;​
बंधनो से निकल न पाएगा​;​
तुझको दुनिया के साथ चलना है​;​
​तु मेरे साथ चल न पाएगा​।
----------
​किसी ने हमें रुलाया तो क्या बुरा किया;​
​​दिल को दुखाया तो क्या बुरा किया​;​
​​हम तो पहले से ही ​तन्हा थे​;
​किसी ने एहसास दिलाया तो क्या बुरा किया।
----------
एक मेरा ही हाथ नहीं थामा उस ने;
वरना गिरते हुए कितने ही संभाले उसने।
----------
​मैं ​दीवाना हूँ तेरा मुझे इंकार नहीं​;​
कैसे कह दूं कि मुझे तुमसे प्यार नहीं;​
कुछ शरारत तो तेरी नज़रों में भी थी;​
मैं अकेला ही तो इसका गुनहगार नहीं।
----------
​सिखा दी बेरुखी भी ज़ालिम ज़माने ने तुम्हें​;
​कि तुम जो सीख लेते हो हम पर आज़माते हो​।
----------
​मैं पा नहीं सका आज तक इस खलिश से छुटकारा​;
​​तु मुझे जीत भी सकता था मगर ​हारा क्यूँ​।
----------
हम तो मौजूद थे रात में उजालों की तरह​;
लोग निकले ही नहीं ​ढूंढने वालों की तरह​;
दिल तो क्या हम रूह में भी उतर जाते​;
उस ने चाहा ही नहीं चाहने वालों की तरह​।
----------
एक वफ़ा को पाने की कोशिश में;
ज़ख़्मी होती हैं वफ़ाएं कितनी;
कितना मासूम सा लगता है लफ्ज़ मोहब्बत;
और इस लफ्ज़ से मिलती हैं सज़ाएं कितनी।
----------
​मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदलकर देख​;
​ मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकलकर देख​। ​
----------
मैंने उस से बस इतना ही पूछा था कि;
एक पल में किसी की जान कैसे निकल जाती है;
उस ने चलते चलते अपना हाथ;
मेरे हाथ से छुड़ा लिया......
----------
​​हमारी आरजूओं ने हमें इन्सां बना डाला​;​​
​वरना जब जहां में आये थे, बन्दे ​​​थे खुदा के​।​
----------
मैं सुपुर्दे ख़ाक हूँ मुझको जलाना छोड़ दे;
कब्र पर मेरी तु उसके साथ आना छोड़ दे;
हो सके गर तु खुशी के अश्क पीना सीख ले;
या तु आँखों में अपनी काजल लगाना छोड़ दे।
----------
वो समझें या ना समझें मेरे जज्बात को;
मुझे तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को;
हम तो चले जायेंगे इस दुनिया से;
मगर आंसू बहायेंगे वो हर रात को।
----------
हसरतों की जहर बुझी लौ में मोम सा दिल जला दिया हमने;
कौन बिजली की धमकियां सहता, आशियाँ खुद जला दिया हमने।
----------
तहज़ीब में भी उसकी क्या ख़ूब अदा थी;
नमक भी अदा किया तो ज़ख़्मों पर छिड़क कर।
----------
मुझे गुमान था कि चाहा बहुत सबने मुझे;
मैं अज़ीज़ सबको था मगर ज़रूरत के लिए।
----------
मुक्कदर का गरीब, दिल का अमीर था;
मिलकर बिछड़ना मेरा नसीब था;
चाह कर भी कुछ कर न सके हम;
घर जलता रहा और समुन्दर करीब था।
----------
कोई रिश्ता टूट जाये दुख तो होता है;
अपने हो जायें पराये दुख तो होता है;
माना हम नहीं प्यार के काबिल;
मगर इस तरह कोई ठुकराये दुख तो होता है।
----------
देखा है, आज मुझे भी गुस्से की नज़र से;
मालूम नहीं आज वो किस-किस से लड़े है।
~ Sajan Peshavari
----------
तु कहीं भी रह तेरे सर पे इल्जाम तो है;
तेरी हाथों की लकीरों में मेरा नाम तो है;
मुझे अपना बना या ना बना तेरी मर्जी;
पर तु मेरे नाम से बदनाम तो है।
----------
ये संगदिलों की दुनिया है;
यहाँ संभल के चलना ग़ालिब;
यहाँ पलकों पे बिठाया जाता है;
नज़रों से गिराने के लिए।
~ Mirza Ghalib
----------
जब भी सुलझाना चाहा जिंदगी के सवालों को मैंने;
हर एक सवाल में जिंदगी मेरी उलझती चली गई।
~ Author Unknown
----------
जिस कश्ती के मुक़द्दर में हो डूब जाना फ़राज़;
तूफानों से बच भी निकले तो किनारे रूठ जाते है।
~ Ahmad Faraz
----------
क्यों उन्हें हमारी सदा सुनाई नहीं देती;
जाने क्यों वो हमसे जुदा रहता है;
लौट आती है इबादत भी मेरी खाली;
जाने किस मंज़िल पे खुदा रहता है।
----------
बस एक ही गलती हम सारी ज़िन्दगी करते रहे मोहसिन;
धूल चेहरे पर थी और हम आईना साफ़ करते रहे।
~ Mohsin Naqvi
----------
दिल पे क्या गुज़री वो अनजान क्या जाने;
प्यार किसे कहते है वो नादान क्या जाने;
हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का;
कैसे बना था घोसला वो तूफान क्या जाने।
~ Pramod Nautiyal
----------
एक अजीब सा मंजर नज़र आता है;
हर एक आंसू समंदर नज़र आता है;
कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना;
हर किसी के हाथ में पत्थर नज़र आता है।
----------
कहते हैं बिना मेहनत किये;
आप कुछ पा नहीं सकते;
न जाने गम पाने के लिए;
कौन सी मेहनत कर ली मैंने।
----------
इस कदर हम यार को मनाने निकले;
उसकी चाहत के हम दीवाने निकले;
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा;
उसके पास वक़्त ना होने के बहाने निकले।
----------
आए ही तो थे तेरे दर पर;
ऐसा क्या कर गये थे हम;
तुम चाहने लगे हो औरो को;
ऐसा क्या मर गये थे हम।
----------
काश की खुदा ने दिल पत्थर के बनाये होते;
तोड़ने वाले के हाथों में जख्म तो आए होते।
----------
कुछ तबीयत ही मिली थी ऐसी, चैन से जीने की सूरत नहीं हुई;
जिसको चाहा उसे अपना न सके, जो मिला उससे मुहब्बत न हुई।
~ Jigar Moradabadi
----------
रेत पर नाम लिखते नहीं;
रेत पर लिखे नाम कभी टिकते नहीं;
लोग कहते हैं पत्थर दिल हैं हम;
लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं।
~ Author Unknown
----------
मेरी हर बात को उल्टा वो समझ लेते हैं;
अब के पूछा तो कह दूंगा कि हाल अच्छा है।
~ Jaleel Manikpuri
----------
उठ के पहलू से चले हो तो बताते जाना;
छोड़ कर जाते हो अब किसके सहारे मुझको।
----------
पत्थर कहा गया कभी शीशा कहा गया;
दिल जैसी एक चीज़ को क्या-क्या कहा गया।
~ Zafar Gorakhpuri
----------
दर्द गैरों को सुनाने की ज़रूरत क्या है;
अपने साथ औरों को रुलाने की ज़रूरत क्या है;
वक्त यूँही कम है दोस्ती के लिए;
रूठकर वक्त गंवाने की ज़रूरत क्या है!
----------
उसका चेहरा भी सुनाता हैं कहानी उसकी;
चाहता हूँ कि सुनूं उससे जुबानी उसकी;
वो सितमगर है तो अब उससे शिकायत कैसी;
क्योंकि सितम करना भी आदत हैं पुरानी उसकी!
----------
घर बना के मेरे दिल में वो छोड़ गया;
अब ना खुद रहता है ना किसी और को बसने देता है!
----------
सपनों की तरह आकर चले गए;
ग़मों की नींद सुलाकर चले गए;
किस भूल की सज़ा दी हमकों;
पहले हंसाया, और फिर रुलाकर चले गए।
----------
हमें भुलाकर सोना तो तेरी आदत ही बन गई है, अय सनम;
किसी दिन हम सो गए तो तुझे नींद से नफ़रत हो जायेगी।
----------
कदम यूं हीं डगमगा गया रास्ते में;
वर्ना संभलना हम भी जानते थे;
ठोकर भी लगी तो उस पत्थर से;
जिसे हम अपना मानते थे!
----------
अपनी तस्वीर को आँखों से लगाता क्या है;
एक नज़र मेरी तरफ देख, तेरा जाता क्या है;
मेरी बर्बादी में तू भी है बराबर का शामिल;
मेरे किस्से मेरे यारों को सुनाता क्या है!
~ Shehzad Ahmed
----------
आदतन तुमने कर दिए वादे, आदतन हमने ऐतबार किया;
तेरी राहों में बारहा रुक हमने अपना ही इंतज़ार किया;
अब ना मांगेंगे ज़िन्दगी या रब, ये गुनाह हमने एक बार किया!
~ Gulzar
----------
तुमसे मिला था प्यार कुछ अच्छे नसीब थे;
हम उन दिनों अमीर थे, जब तुम गरीब थे।
----------
अर्ज़ किया है:
उड़ती हुई फ्रॉक को काबू में रखो;
उड़ती हुई फ्रॉक को काबू में रखो;
वाह! वाह!
पैंटी ना पहनो कोई बात नहीं, कम से कम बगीचा तो साफ़ रखो।
----------
उन्हें शिकायत है हमसे कि हम हर किसी को देखकर मुस्कुराते हैं;
ना समझ वो क्या जाने हम तो हर चेहरे में वो ही नज़र आते हैं।
----------
ज़ख्म देने की आदत नहीं हमको;
हम तो आज भी वो एह्साह रखते हैं;
बदले-बदले तो आप हैं जनाब;
हमारे आलावा सबको याद रखते हैं।
----------
हमारी आँखों में आंसू आये न होते;
अगर तुम पीछे मुड़कर मुस्कुराए न होते;
तुम्हारे जाने के बाद ये गम होता है कि;
काश तुम जिंदगी में आये ही न होते।
----------
वो जो हममें तुममें क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो;
वही यानी वादा निबाह का तुम्हें याद हो कि न याद हो;
वह जो लुत्फ़ मुझपे थे पेश्तर वह करम कि था मेरे हाल पर;
मुझे सब है याद ज़रा-ज़रा तुम्हें याद हो कि न याद हो।
~ Hakim Momin Khan Momin
----------
वादा कर लेते हैं, निभाना भूल जाते हैं;
लगाकर आग बुझाना भूल जाते हैं;
ये तो आदत हो गई है अब उनकी रोज़;
कि रुलाते हैं और मनाना भूल जाते हैं।
----------
तेरी महफ़िल से उठे तो किसी को खबर तक ना थी;
तेरा मुड़-मुड़कर देखना हमें बदनाम कर गया।
----------
शिकायत है उन्हें कि हमें मोहब्बत करना नही आता;
शिकवा तो इस दिल को भी है;
पर इसे शिकायत करना नहीं आता।
----------
दीवाने तेरे हैं, इस बात से इनकार नहीं;
कैसे कहें कि हमें आपसे प्यार नहीं;
कुछ तो कसूर है आपकी निगाहों का;
हम अकेले तो गुनेहगार नहीं।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बतायें इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतजार करना!
----------
उल्फत में अक्सर ऐसा होता है;
आँखे हंसती हैं और दिल रोता है;
मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी;
हमसफर उनका कोई और होता है!
----------
मुझे सता के वो मेरी दुआएं लेता है;
उसे खबर है कि मुझे बद्दुआ नहीं आती;
सब कुछ सौप दिया उसे हमने;
फिर भी वो कहता है, हमें वफा नहीं आती!
----------
चीखें भी यहाँ गौर से सुनता नहीं कोई;
अरे, किस शहर में तुम शेर सुनाने चले आये!
फ़राज़
~ Ahmad Faraz
----------
हमने सोचा कि सिर्फ हम ही उन्हें चाहते हैं;
मगर उनके चाहने वालों का तो काफ़िला निकला;
मैंने सोचा कि शिकायत करू खुदा से;
मगर वह भी उनके चाहने वालों में निकला!
----------
तेरे शहर के कारीगर बड़े अजीब हैं ये खुसूस-ये-दिल; कांच की मरम्मत करते हैं पत्थर के औजारों से!
----------
अय दिल ये तूने कैसा रोग लिया;
मैंने अपनों को भुलाकर, एक गैर को अपना मान लिया!
----------
हमें उनसे कोई शिकायत नहीं;
शायद हमारी किस्मत में चाहत नहीं!
मेरी तकदीर को लिखकर तो ऊपर वाला भी मुकर गया;
पूछा तो कहा, "ये मेरी लिखावट नहीं"!
----------
हमें उनसे कोई सिकायत नहीं;
शायद हमारी किस्मत में चाहत नहीं!
मेरी तकदीर को लिखकर तो ऊपर वाला भी मुकर गया;
पूछा तो कहा, 'ये मेरी लिखावट नहीं'!
----------
एक सिलसिले की उम्मीद थी जिनसे;
वही फ़ासले बनाते गये!
हम तो पास आने की कोशिश में थे;
ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये!
----------
तुम दुआ हो मेरी, सदा के लिए;
मै जिंदा हूँ तुम्हारी, दुआ के लिए!
कर लेना लाख शिकवे हमसे;
मगर कभी खफा न होना खुदा के लिए!
----------
जिसकी आँखों में कटी थी सदियाँ;
उसने सदियों की जुदाई दी है!
गुलज़ार
----------
खुदा जाने, प्यार का दस्तूर क्या होता है;
जिन्हें अपना बनाया, वो न जाने क्यों दूर होता है;
कहते हैं कि मिलते नहीं ज़मीन आसमान;
फिर न जाने क्यूँ, आसमान ज़मीन का सरूर होता है!
----------
तरस जाओगें हमारे लबों से सुनने को एक एक लफ्ज़;
प्यार की बात तो क्या, हम शिकायत भी नहीं करेंगे!
----------
ए दिल ये तू ने कैसा रोग लिया,
मैंने अपनों को भुला के,
एक ग़ैर को अपना मान लिया!
----------
मुझे ना सताओ इतना की मैं रुठ जाऊ तुमसे ...!
मुझे अछा नहीं लगता अपनी सासों से जुदा होना ...!
----------
तुम्हारी नाराजगी से कोई गिला नहीं, अगर तुम खुश हो;
हम तो तुम्हारी खुशी में खुश होना जानते हैं!
----------
बिन मांगे ही मिल जाती हैं, ताबीरें किसी को;
कोई खाली हाथ रह जाता है, हजारों दुआओं के बाद!
----------
अपनी तकदीर में तो कुछ ऐसे ही सिलसिले लिखे हैं;
किसी ने वक़्त गुजारने के लिए अपना बनाया;
तो किसी ने अपना बनाकर 'वक़्त' गुजार लिया!
----------
तकदीर बनाने वाले, तूने भी हद कर दी;
तकदीर में किसी और का नाम लिखा था;
और दिल में चाहत किसी और की भर दी!
----------
तकदीर के लिखे पे, कभी शिकवा न किया कर;
फूल भी तो खुश रहते हैं, काँटों की भीड़ में!
----------
भूल गए या, भुलाना चाहते हो?
दूर कर दिया, या जाना चाहते हो?
आजमा लिया, या आजमाना चाहते हो?
मैसेज कर रहे हो या अभी और पैसे बचाना चाहते हो?
----------
इन आंखो मे आंसू आये न होते;
अगर वो पीछे मुडकर मुस्कुराये न होते!
उनके जाने के बाद बस येही गम रहेगा;
कि काश वो हमारी ज़िन्दगी मे दूबारा आये न होते!
----------
आस पास तेरा एहसास अब भी लिये बैठें हैं;
तू ही नज़र अंदाज़ करे तो हम शिकवा किससे करें!
----------
फलक से चाँद उतारा गया;
मेरी आस का एक सहारा गया!
मैं दो बूँद पानी तरसती रही;
मेरे होंठों से ज़हर गुज़ारा गया!
----------
हम आह भी भरते हैं तो बदनाम होते हैं;
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता!
----------
हम भी बिकने गए थे बाज़ार-ऐ-इश्क में,
क्या पता था वफ़ा करने वालो को लोग ख़रीदा नहीं करर्ते!
----------
वो दिल में है, धडकन में है, रूह में है;
सिर्फ किस्मत में नहीं तो खुदा से गिला कैसा!
----------
दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे!
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे!
वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का!
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!
----------
मोहब्बत नहीं है कोई किताबों की बाते!
समझोगे जब रो कर कुछ काटोगे रातें!
जो चोरी हो गया तो पता चला दिल था हमारा!
करते थे हम भी कभी किताबों की बाते!
----------
इस कदर हम यार को मनाने निकले!
उसकी चाहत के हम दिवाने निकले!
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा!
उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले!
----------
एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है!
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है!
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद!
फिर भी हर मोड़ पर उसी का इन्तज़ार क्यों है!
----------
इंतज़ार करते करते वक़्त क्यों गुजरता नहीं!
सब हैं यहाँ मगर कोई अपना नहीं!
दूर नहीं पर फिर भी वो पास नहीं!
है दिल में कहीं पर आँखों से दूर कहीं!
----------
हर शाम कह जाती है एक कहानी !
हर सुबह ले आती है एक नई कहानी !
रास्ते तो बदलते है हर दिन लेकिन !
मंजिल रह जाती है वही पुरानी !
----------
तरसते थे जो मिलने को हमसे कभी!
आज वो क्यों मेरे साए से कतराते हैं!
हम भी वही हैं दिल भी वही है!
न जाने क्यों लोग बदल जाते हैं!