Sharabi Shayari

Sharab Sareer Ko Khatam Krti Hai
Sharab Samaj Ko Khatam Krti Hai,
Aao Aaj Is Sharab Ko Khatam Krte Hain,
Ek Bottle Tum Khtam Kro, Ek Bottle Hum Khatam Krte Hai..
----------
इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ,
सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ,
जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश,
मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ।
----------
Ishq-a-bewafai ne daal di hai aadat buri,
Main bhi sharif hua karta tha is zamane mein,
Pehle din shuru karta tha masjid mein namaaz se,
Ab dhalti hai shaam sharab ke sath mehkhane mein.
----------
Madhhosh hum hardam raha karte hain,
Aur ilzaam sharaab ko diya karte hain,
Kasoor sharaab ka nahi unka hai yaron,
Jinka chehra hum har jaam mein talaash kiya karte hain.
----------
Aashikon ko mohabbat ke alava agar kuchh kaam hota,
Toh maikhane jake har roz yun badnam na hota,
Mil jaati chahne wali usse bhi kahin raah mein koi,
Agar kadmon mein nasha aur hath mein jaam na hota.
----------
Pee ke raat ko hum unko bhulane lage,
Sharab mein gham ko milane lage,
Daru bhi bewafa nikali yaron,
Nashe mein to woh aur bhi yaad aane lage.
----------
Raat chup hai magar chand khamosh nahi,
Kaise kahoon aaj phir hosh nahi,
Is tarah dooba hoon teri mohabbat ki gahrai mein,
Hath mein jaam hai aur peena ka hosh nahi.
----------
Rok do mere janaze ko zaalimon,
Mujh mein jaan aa gayi hai,
Peeche mud ke dekho kameeno,
Daru ki dukan aa gayi hai…
CHEERS !!
----------
Ek jaam ulfat ke naam,
Ek jaam mohabat ke naam.
Ek jaam wafa k naam,
Puri botal bewafa ke naam,
Aur pura theka doston ke naam.
----------
Teri aankhon ke ye jo pyale hain,
Meri andheri raaton ke ujale hain,
Peeta hoon jaam par jaam tere naam ka,
Hum to sharabi be-sharab wale hain..!!
----------
Pee hai sharab har gali har dukan se,
Ek dosti si ho gai hai sharab ke jaam se,
Guzre hain hum ishq mein kuchh aise mukam se,
Ke nafrat si ho gai hai mohabbat ke naam se.
----------
Gham is kadar mila ki ghabra ke pee gaye,
Khushi thodi si mili to mila ke pee gaye,
Yun to naa thi janam se peene ki aadat,
Sharab ko tanha dekha to taras khaa ke pee gaye.
----------
Nasha Mohabbat Ka Ho Ya Sharab Ka;
Hosh Dono Mein Kho Jate Hain;
Fark Sirf Itna Hai Ki Sharab Sula Deti Hai;
Aur Mohabbat Rula Deti Hai!
----------
Aaye The Hanste Khelte Mai-Kade Mein Firaq;
Jab Pee Chuke Sharaab To Sanjeeda Ho Gaye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Paani Se Pyaas Na Bujhi;
Toh Maikhane Ki Taraf Chal Nikla;
Socha Shikayat Karun Teri Khudha Se;
Par Khudha Bhi Tera Aashiq Nikla!
----------
Kuch Nasha To Aapki Baat Ka Hai;
Kuch Nasha To Dheemi Barsaat Ka Hai;
Humein Aap Yoon Hi Sharabi Na Kahiye;
Is Dil Par Asar To Aap Se Mulakat Ka Hai!
----------
Khudaa Maujood Hai Puri Duniya Mein, Kahin Bhi Jagah Nahi;
Tu Jannat Mein Jaa, Wahan Peena Mana Nahi!
----------
Peete Hain Apne Maze Ke Liye, Khaamkhaan Badnaam Gham Hai,
Poori Botal Pee Kar Dekho, Phir Duniya Kya Jannat Se Kam Hai!
~ Meer Taqi Meer
----------
Peete Hai Gham e Duniya Bhulaa Ne Ke Liye, Aur Koi Baat Nahi;
Jannat Main Kahan Gham Hai, Waha Peene Kaa Mazaa Nahi!
----------
Meri Kabar Pe Mat Gulaab Le Kar Aana;
Na Hi Haathon Mein Chiraag Le Kar Aana;
Payasa Hu Main Barso Se Jaanam;
Botal Sharab Ki Aur Ek Glass Le Kar Aana!
----------
Jaam Peene Se Kya Fayda, Shaam Mein Pee Subha Utar Jaayegi;
Arey Peeni Hai To Do Boond Mohabbat Ki Pee, Saari Zindagi Nashe Mein Hi Guzar Jaayegi!
----------
Mai-Khane Mein Kyon Yaad-E-Khuda Hoti Hai Aksar;
Masjid Mein To Zikr-E-Mai-O-Meena Nahi Hota!
~ Riyaz Khairabadi
----------
Peeta Tha Jiske Saath Wo Saaki Bada Haseen Tha;
Aadi Bana Kar Zaalim Ne Maikhana Badal Liya!
----------
Pehle Sharaab Zeesat Thi Ab Zeesat Hai Sharaab;
Koi Pila Raha Hai Piye Ja Raha Hun Main!
~ Jigar Moradabadi
----------
Kyon Intezar Karen Kisi Mehkti Hui Shaam Ka;
Teri Nazron Se Hi Chalakta Hai Nasha Kisi Madira Ke Jaam Ka!
----------
Pi Liya Karte Hain Jeene Ki Tamanna Mein Kabhi-Kabhi,
Kyonki Dagmagana Bhi Zaroori Hai Sambhalne Ke Liye!
----------
Lutf-E-Mai Tujhse Kya Kahun Zaahid,
Haye Kambakht Tum Ne Pi Hi Nahi!
~ Daagh Dehlvi
----------
Main Aur Bazm-E-Mai Se Yun Tishna-Kaam Aaun,
Gar Maine Kee Thi Tauba Saaqi Ko Kyaa Hua Tha!
~ Mirza Ghalib
----------
Abhi Raat Hai Baaki Naa Utha Naqaab Saaki,
Tera Rind Girte Girte Kahin Phir Sambhal Na Jayein!
----------
Aaye The Hanste Khelte Mai-Kane Mein 'Firaq',
Jab Pi Chuke Sharab To Sanjida Ho Gaye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Ye Kaali Kaali Botlein Jo Hain Sharaab Kee,
Raatein Hain In Mein Band Hamare Shabaab Kee!
~ Riyaz Khairabadi
----------
Pita Hun Jitni Utni Hi Badhti Hai Tishnagi,
Saqi Ne Jaise Pyaas Mila Di Sharab Mein!
----------
Shikan Na Daal Jabin Par Sharab Dete Hue;
Ye Muskurati Hui Cheez Muskura Ke Pila!
----------
Aaj Pee Lene De Jee Lene De Mujhko Saqi;
Kal Meri Raat Khuda Jaane Kahan Guzregi!
~ Wasim Barelvi
----------
Mehfil-e-Ishq Sajao To Koi Baat Bane;
Daulat-e-Ishq Lutao To Koi Baat Bane;
Jaam Haathon Se Nahi Hai Peena Mujhko;
Kabhi Aankhon Se Pilao To Koi Baat Bane!
----------
Main Talakhiye Hyaat Se Ghabra Ke Pee Geya;
Gham Kee Siyah Raat Se Ghabra Ke Pee Geya;
Itni Dakik She Koi Kaise Samajh Sake;
Yazdan Ke Vakiyat Se Ghabra Ke Pee Geya!
~ Saghar Siddiqui
----------
Wo Bhi Din The Jab Hum Bhi Piya Karte The;
Yun Na Karo Humse Peene Pilane Kee Baat;
Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab;
Utni Hum Paimaney Mein Chod Diya Karte The!
----------
Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi;
Aao Kahin Sharab Piyein Raat Ho Gayi!
~ Nida Fazli
----------
Kal Ke Liye Kar Aaj Na Khisat Sharab Mein;
Yeh Suu-e-Zan Hai, Saqi-e-Kausar Ke Baab Mein!

Translation:
Why Parsimony today in the promise of tomorrow's imbibing.
This surely is an insult to the generosity of heaven's thirst-quencher.
~ Mirza Ghalib
----------
Kaash Humein Bhi Koi Samjhane Wala Hota;
To Aaj Hum Itne Nasamjh Na Hote;
Kaash Koi Ishq Ka Jaam Pilane Wala Hota;
To Aaj Hum Bhi Is Sharab Ke Deewane Na Hote!
----------
Sab Kehte Hain Ki Buri Hai Yeh Sharaab;
Maine Bhi Maana Ki Yeh Sharaab Nasha Chadati Hai;
Fir Puchte Hain Sab Mujhse Ki Kyon Peeta Hun Main;
To Kya Bataun Yaaro Yeh Sharab Hi Hai Jo Unka Gham Bhulati Hai!
----------
Lafzon Ke Fasaane Dhoondhte Hain Hum Log;
Lamhon Mein Zamaane Dhoondhte Hain Hum Log;
Tu Zeher Hi De Sharaab Keh Kar Saqi;
Peene Ke Bahaane Dhoondhte Hain Hum Log!
----------
Mahekta Hua Jism Tera Gulab Jaisa Hai;
Neend Ke Safar Mein Tu Khwaab Jaisa Hai;
Do Ghoont Pee Lene De Aankhon Kee Mastiyan;
Nasha Teri Aankhon Ka Sharab Ke Jaam Jaisa Hai!
----------
मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नही, साकी;
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती।
----------
Na Tum Hosh Mein Ho Na Hum Hosh Mein Hain;
Chalo Maikade Mein Wahin Baat Hogi!
~ Bashir Badr
----------
Yu Toheen Naa Kar Sharaab Ko Kadwa Keh Kar;
Zindgi Ke Tajurbe Sharaab Se Bhi Kadwe Hote Hein!
----------
Har Kisi Baat Ka Koyi Jawaab Nahi Hota;
Har Naam Ishq Mein Kharab Nahi Hota;
Yun To Jhum Lete Hain Nashe Me Rehne Wale;
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota!
----------
Masjid Khuda Ka Ghar Hai;
Peene Ki Jagha Nahin;
Kaafir Ke Dil Mein Ja;
Wahan Khudaa Nahin!
~ Allama Iqbal
----------
Gham Is Kadar Barhey Ke Mein Ghabra Ke Pee Gaya;
Is Dil Ki Be-Basi Pe Tarss Kha Ke Pee Gaya;
Thukra Raha Tha Mujh Ko Bari Der Se Jahan;
Main Aaj Sab Jahan Ko Thukraa Ke Pee Gaya!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Kehte Hai Pee Ne Wale Mar Jate Hai Bhari Jawani Me;
Hum Ne Toh Dekha Hai Buzurgo Ko Jawan Hote Maikhane Me!
----------
Peenay Dai Sharab Masjid Main Baid Kay Ghalib;
Ya Woh Jaga Bata Jahan Khuda Nehen Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Gham Ish Kadar Barhey Ke Mein Ghabra Ke Pee Gaya;
Is Dil Ki Be-Basi Pe Tarss Kha Ke Pee Gaya;
Thukra Raha Tha Mujh Ko Bari Der Se Jahan;
Main Aaj Sab Jahan Ko Thukraa Ke Pee Gaya!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Tohfe Mai Mat Gulaab Lekar Aana;
Meri Qabr Par Mat Chiraag Lekar Aana;
Bahot Pyaasa Hoon Barso'n Se Main;
Jab Bhi Aana Sharaab Lekar Aana!
----------
Kuch Nasha To Aapki Baat Ka Hai;
Kuch Nasha To Dheemi Barsaat Ka Hai;
Humein Aap Yun Hi Sharabi Na Kahiye;
Is Dil Par Asar To Aap Se Mulakat Ka Hai!
----------
Saaqi Dekh Zamaane Ne, Kaisi Tohmat Lagayi Hai;
Aankhein Teri Nasheeli Hai, Sharabi Mujhe Kehte Hai!
----------
Nasha Mohabbat Ka Ho Ya Sharab Ka;
Hosh Dono Mein Koh Jate Hai;
Fark Sirf Itna Hai Ke Sharab Sula Deti Hai;
Aur Mohabbat Rula Deti Hai!
----------
Badi Gaur Se Dekh Raha Hu Is Maikhane Ko;
Is Ne Waqt Hi Nahi Diya Sar Jhukane Ko;
Mujhe Marne Se Dar Nahi Lagta Aye "Umar";
Bas Sharm Si Arahi Hai Us Ke Paas Jane Ko!
----------
Lafzon Ke Fasaane Dhondhte Hain Hum Log;
Lamhon Mai Zamaane Dhondhte Hain Hum Log;
Tu Zehar Hi De Sharaab Keh Kar Saaqi;
Jeene Ke Bahaane Dhondhte Hain Hum Log!
----------
Hamesha Yaad Aati Hai Unki;
Aur Mood Ho Jata Hai Kharab;
Tab Hamesha Lekar Baithe Hai Hum;
Ek Hath Me Kalam Aur Ek Hath Me Sharab!
----------
Maikhane Saje The, Jam Ka Tha Daur;
Jam Me Kya Tha Ye Kisne Kiya Tha Gaur;
Jam Me Gum Tha Mere Armano Ka;
Aur Sab Kahe Rahe The Ek Aur, Ek Aur!
----------
Teri Yaad Ne Hamhe Jeene Na Diya;
Chain Se Humko Ab Marne Na Diya;
Hum Peete Hai Teri Yaad Me Zalim;
Par Iss Duniya Ne Hame Peene Na Diya!
----------
Kabhi Yaroon Ki Mehfil Me Baith Ke Hum Bhi Piya Karte The;
Kabhi Yaroon Ke Yaar Ban Ke Hum Bi Jiya Karte The;
Zindagi Ne Ki Bewafi ,Warna;
Hum Bhi Zingadi Se Pyar Kiya Karte The!
----------
Ek Bewaafa Ki Yaad Mein, Maine Jam Utha Liya;
Ek Bewaafa Ki Yaad Mein, Maine Jam Utha Liya;
Fir Lagaya Bread Pe, Aur Fatafat Kha Liya!

Please Note: Saare Aashiq Bevde Nahi Hote, Kuch Bhuke Bhi Hote Hain!
----------
Peenay De Sharab Masjid Mein Baith Kar Galib;
Ya Woh Jagah Bataa Jahan Khuda Maujood Nahi Hai!
----------
Hum Lakh Achhe Sahi Log Kharab Kahte Hai;
Bigda Hua Wo Hamko Nawab Kahte Hai;
Hum To Aise Badnam Ho Gaye Hai Ki;
Paani Bhi Piye To Log Sharab Kehte Hain!
----------
Gham-E-Dunia Mein Gham-E-Yaar Bhi Shaamil Kar Lo;
Nasha Badhta Hai Sharabein Jo Sharabon Mein Milen To!
----------
Paani Se Pyaas Na Bujhi;
Toh Maikhane Ki Taraf Chal Nikla;
Socha Shikayat Karun Teri Khudha Se;
Par Khudha Bhi Tera Ashiq Nikla!
----------
Har Baat Ka Koi Jawab Nahi Hota;
Har Ishq Ka Naam Kharab Nahi Hota;
Yuh To Jhoom Lete Hain Nashe Mein Pene Wale;
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota!
----------
Tohfe Mein Gulaab Lekar Mat Aana;
Kabar Pe Chirag Lekar Mat Aana;
Buhut Pyaase Hain Hum Barso Se, Ae Dost;
Jab Aana To Sharaab Ki Bottle Aur Do Glass Lekar Aana!
----------
Saaqi Gayi Bahaar Dil Mein Rahee Havas;
Tu Minnaton Sey Jaam Dey Aur Main Kahoon Key 'Bas!'
~ Mirza Ghalib
----------
Woh Bhi Din They Jab Hum Bhi Piya Karte They;
Yun Na Karo Hamse Piney Pilaney Ki Baat;
Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab Hai;
Utni Hum Paimaney Mein Chhod Diya Kartey They!
----------
Hamesha Yaad Aati Hai Unki;
Aur Mann Ho Jata Hai Kharab;
Tab Hamesha Lekar Baithe Hai Hum;
Ek Hath Mein Kalam Aur Ek Hath Mein Sharab!
----------
Yaaron Ki Mehfil Aise Jamai Jaati Hai;
Kholane Se Pehle Botal Hilaayi Jati Hai;
Fir Tute Dil Waalon Ko Awaaz Lagayi Jati Hai;
Ke Ao Yahan, Dard-e-DiL Ki Dawa Pilayi Jati Hai!
----------
Maykhane Mein Kaise Bujhti Pyas Meri;
Inn Hothon Ko Talab To Tere Hothon Ki Thi!
----------
Masjid Khuda Ka Ghar Hai, Peeney Ki Jagha Nahin;
Kaafir Ke Dil Mein Ja, Wahan Khudaa Nahin!
~ Allama Iqbal
----------
Khali Hai Abhi Jaam, Mein Kuchh Sochh Raha Hun;
Aaye Gardishe Ayyam, Mein Kuchh Sochh Raha Hun;
Saaqi, Saagar Ko Zarra Thaam, Mein Kuchh Sochh Raha Hun!
----------
Rehta hu maikhane mein to sharabi na samaj mujhe;
Har wo shakhs jo masjid se nikle namazi nahi hota.
----------
Jab peene se nafrat thi mujhe to zabardasti pilayi yaaron ne;
Ab aadat pad gayi peene ki to machaayi e duhayi yaaron ne;
Maine maana janab peeta hu peeta hu be-hisaab peeta hu;
Log logon ka khoon peete hai main to phir bhii sharab peeta hu.
----------
Jaam pe jaam peene se kya fayeda,
Raat guzri to utar jayegi,
Kisi ki aankhon se peeyo khuda ki kasam,
Umr saari nashe mein guzar jayegi.
----------
Rok deo mere janaze nu mere vich jaan aa gai hai,
Saaleyo peeche mudh ke dekho SHARAB di dukan aa gai hai...CHEERS!
----------
बात सजदों की नहीं नीयत की है;
मयखाने में हर कोई शराबी नहीं होता!
----------
कुछ भी ना बचा कहने को हर बात हो गयी;
आओ चलो शराब पियें रात हो गयी!
----------
मयख़ाने से बढ़कर कोई ज़मीन नहीं;
जहाँ सिर्फ़ क़दम लड़खड़ाते हैं ज़मीर नहीं!
----------
यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं है मेरा शराब से;
इश्क की राहों में तन्हा मिली तो हमसफ़र बन गई!
----------
कर दो तब्दील अदालतों को मयखानों में साहब;
सुना है नशे में कोई झूठ नहीं बोलता!
----------
मेरे घर से मयखाना इतना करीब न था,
ऐ दोस्त कुछ लोग दूर हुए तो मयखाना करीब आ गया।
----------
नशा पिला के गिराना तो सब को आता है;
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी।
----------
कहते हैं पीने वाले मर जाते हैं जवानी में;
हमने तो बुजुर्गों को जवान होते देखा है मैखाने में।
----------
तेरी निगाह से ऐसी शराब पी मैंने, फिर न होश का दावा किया कभी मैंने;
वो और होंगे जिन्हें मौत आ गई होगी, निगाह-ए-यार से पाई है जिन्दगी मैंने।
----------
नशा तब दोगुना होता है,
जब जाम भी छलके और आँख भी छलके।
----------
आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश पे बार बार,
लब चूम लूँ तिरा लब-ए-पैमाना छोड़ कर।
~ Jaleel Manikpuri
----------
ऐ ज़ौक़ देख दुख़्तर-ए-रज़ को न मुँह लगा,
छुटती नहीं है मुँह से ये काफ़र लगी हुई।
~ Sheikh Ibrahim Zauq
----------
बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये;
कि वो आज नजरों से अपनी पिलायें;
मजा तो तब है पीने का यारो;
इधर हम पियें और नशा उनको आये।
----------
पहले शराब ज़ीस्त थी अब ज़ीस्त है शराब,
कोई पिला रहा है पिए जा रहा हूँ मैं।
~ Jigar Moradabadi
----------
पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील';
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई।
~ Jaleel Manikpuri
----------
नशा पिला के गिराना तो सब को आता है;
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी।
~ Allama Iqbal
----------
जिगर की आग बुझे जिससे जल्द वो शय ला,
लगा के बर्फ़ में साक़ी, सुराही-ए-मय ला।
~ Insha Allah Khan Insha
----------
हम तो जी रहे थे उनका नाम लेकर;
वो गुज़रते थे हमारा सलाम लेकर;
कल वो कह गए भुला दो हमको;
हमने पूछा कैसे, वो चले गए हाथों मे जाम देकर।
----------
पूछिये मयकशों से लुत्फ़-ए-शराब;
ये मज़ा पाक-बाज़ क्या जाने।
~ Daagh Dehlvi
----------
तेरे होठों में भी क्या खूब नशा मिला;
यूँ लगता है तेरे जूठे पानी से ही शराब बनती है।
----------
बोतलें खोल कर तो पी बरसों;
आज दिल खोल कर भी पी जाए।
~ Rahat Indori
----------
आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़';
जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
मैं थोड़ी देर तक बैठा रहा उसकी आँखों के मैखाने में;
दुनिया मुझे आज तक नशे का आदि समझती है।
----------
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है;
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
शराब और मेरा कई बार ब्रेकअप हो चुका है;
पर कमबख्त हर बार मुझे मना लेती है।
----------
मेरे घर से मयखाना इतना करीब ना था दोस्त;
कुछ लोग दूर हुए तो मयखाना करीब आ गया।
----------
मैं उनकी आँखो से छलकती शराब पीता हूँ;
गरीब हो कर भी मँहगी शराब पीता हूँ;
मुझे नशे में वो बहकने नहीं देते;
उन्हें तो खबर ही नहीं कि मैं कितनी शराब पीता हूँ।
----------
फिर ना पीने की कसम खा लूँगा;
साथ जीने की कसम खा लूँगा;
एक बार अपनी आँखों से पिला दे साकी;
शराफत से जीने की कसम खा लूँगा।
----------
ना पीने का शौक था, ना पिलाने का शौक था;
हमे तो सिर्फ नज़र मिलाने का शौक था;
पर क्या करे यारो, हम नज़र ही उनसे मिला बैठे;
जिन्हें सिर्फ नज़रों से पिलाने का शौक था।
----------
ग़म इस कदर मिला कि घबरा के पी गए;
ख़ुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गए;
यूँ तो ना थे जन्म से पीने की आदत;
शराब को तनहा देखा तो तरस खा के पी गए।
----------
पैमाना कहे है कोई मय-ख़ाना कहे है;
दुनिया तेरी आँखों को भी क्या क्या न कहे है।
~ Mir Taqi Mir
----------
महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है;
नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है;
दो घूँट पी लेने दे आँखों के इस प्याले से;
नशा तेरी आँखों का शराब के जाम जैसा है।
----------
मेरे दिल के कोने से एक आवाज़ आती है;
कहाँ गयी वो ज़ालिम जो तुझे तड़पाती है;
जिस्म से रूह तक उतरने की थी ख्वाहिश तेरी;
और अब एक शराब है जो तेरा साथ निभाती है।
----------
नशा हम किया करते है, इलज़ाम शराब को दिया करते हैं;
कसूर शराब का नहीं उनका है जिनका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।
----------
कुछ नशा तो आपकी बात का है;
कुछ नशा तो धीमी बरसात का है;
हमें आप यूँ ही शराबी ना कहिये;
इस दिल पर असर तो आप से मुलाकात का है।
----------
नशा हम करते हैं, इल्ज़ाम शराब को दिया जाता है;
मगर इल्ज़ाम शराब का नहीं उनका है;
जिनका चेहरा हमें हर जाम में नज़र आता है।
----------
मयखाने सजे थे, जाम का था दौर;
जाम में क्या था, ये किसने किया गौर;
जाम में गम था मेरे अरमानों का;
और सब कह रहे थे एक और एक और।
----------
मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नही साकी;
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती।
----------
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है;
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
तनहइयो के आलम की ना बात करो जनाब;
नहीं तो फिर बन उठेगा जाम और बदनाम होगी शराब।
----------
नशा पिलाके गिराना तो सबको आता है;
मज़ा तो जब है कि गिरतों को थाम ले साकी;
जो बादाकश थे पुराने वो उठते जाते हैं;
कहीं से आबे-बक़ा-ए-दवाम ले साकी;
कटी है रात तो हंगामा-गुस्तरी में तेरी;
सहर क़रीब है अल्लाह का नाम ले साकी।
~ Allama Iqbal
----------
बड़ी भूल हुई अनजाने में, ग़म छोड़ आये महखाने में;
फिर खा कर ठोकर ज़माने की, फिर लौट आये मयखाने में;
मुझे देख कर मेरे ग़म बोले, बड़ी देर लगा दी आने में।
----------
मौसम भी है, उम्र भी, शराब भी है;
पहलू में वो रश्के-माहताब भी है;
दुनिया में अब और चाहिए क्या मुझको;
साक़ी भी है, साज़ भी है, शराब भी है।
~ Akhtar Sheerani
----------
कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं;
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं;
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर;
कि पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।
----------
मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नहीं, ऐ साकी;
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती!
----------
बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये;
कि वो आज नजरों से अपनी पिलायें;
मजा तो तब है पीने का यारो;
इधर हम पियें और नशा उनको आये।
----------
पी के रात को हम उनको भुलाने लगे;
शराब मे ग़म को मिलाने लगे;
ये शराब भी बेवफा निकली यारो;
नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।
----------
मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती;
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती;
सब जानते हैं मैं नशा नही करता;
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती।
----------
ग़म इस कद्र बढे कि घबरा कर पी गया;
इस दिल की बेबसी पर तरस खा कर पी गया;
ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना;
मैं आज सब जहां को ठुकरा कर पी गया!
~ Sahir Ludhianvi
----------
नफरतों का असर देखो जानवरों का बटंवारा हो गया;
गाय हिन्दू हो गयी और बकरा मुसलमान हो गया;
मंदिरो मे हिंदू देखे, मस्जिदो में मुसलमान;
शाम को जब मयखाने गया तब जाकर दिखे इन्सान!
----------
आप को इस दिल में उतार लेने को जी चाहता है;
खूबसूरत से फूलों में डूब जाने को जी चाहता है;
आपका साथ पाकर हम भूल गए सब मैखाने;
क्योकि उन मैखानो में भी आपका ही चेहरा नज़र आता है।
----------
पीने दे शराब मस्जिद में बैठ के ग़ालिब;
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं है।
~ Mirza Ghalib
----------
​यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं ​है ​मेरा​;​
​​शराब से...​
इश्क की राहों में तन्हा मिली ​ तो;​​​
हमसफ़र बन गई.......​
----------
उम्र भर भी अगर सदाएं दें;
​बीत कर वक़्त फिर नहीं मरते;​
​सोच कर तोड़ना इन्हें साक़ी;
​टूट कर जाम फिर नहीं जुड़ते।​
~ Syed Abdul Hameed Adam
----------
यह शायरी लिखना उनका काम नहीं;
जिनके दिल आँखों में बसा करते हैं;
शायरी तो वो शख्श लिखता है;
जो शराब से नहीं कलम से नशा करता है।
----------
​रात चुप चाप है पर चाँद खामोश नहीं;
कैसे कह दूँ कि आज फिर होश नहीं;
ऐसा डूबा हूँ मैं तुम्हारी आँखों में;
हाथ में जाम है पर पीने का होश नहीं।
----------
तोहफे में मत गुलाब लेकर आना;
मेरी क़ब्र पर मत चिराग लेकर आना;
बहुत प्यासा हूँ अरसों से मैं;
जब भी आना शराब लेकर आना।
----------
मेरी तबाही का इल्जाम अब शराब पर है;
करता भी क्या और तुम पर जो आ रही थी बात।
----------
लानत है ऐसे पीने पर हज़ार बार;
दो घूंट पीकर ठेके पर ही लंबे पसर गये।
~ Amjad Jodhpuri
----------
हर तरफ खामोशी का साया है;
जिसे चाहते थे हम वो अब पराया है;
गिर पङे है हम मोहब्बत की भूख से;
और लोग कहते है कि पीकर आया है।
----------
शराब पी के रात को हम उनको भुलाने लगे;
शराब मे ग़म को मिलाने लगे;
ये शराब भी बेवफा निकली यारो;
नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।
----------
पी के रात को हम उनको भूलने लगे;
शराब में गम को मिलाने लगे;
दारु भी बेवफ़ा निकली यारों;
नशे में तो वो भी याद आने लगे।
----------
ग़म इस कदर बढे कि घबरा कर पी गया;
इस दिल की बेबसी पर तरस खा कर पी गया;
ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना;
मैं आज सब जहां को ठुकरा कर पी गया!
~ Sahir Ludhianvi
----------
तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है;
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है;
फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों;
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!
----------
मैं नहीं इतना घाफिल कि अपने चाहने वालों को भूल जाऊं;
पीता ज़रूर हूँ लेकिन थोड़ी देर यादों को सुलाने के लिए!
----------
पीते थे शराब हम;
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर;
महफ़िल में गए थे हम;
यारों ने पिलाई उसकी कसम देकर।
----------
गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम;
खुशी थोड़ी सी मिली, उसे खुश होकर पी गए हम;
यूं तो ना थे हम पीने के आदी;
शराब को तन्हा देखा, तो तरस खाकर पी गए हम।
----------
हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं;
इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं;
हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में;
कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं!
----------
बोतल पे बोतल पीने से क्या फायदा, मेरे दोस्त;
रात गुजरेगी तो उतर जाएगी!
पीना है तो सिर्फ एक बार किसी की बेवफाई पियो;
प्यार की कसम, उम्र सारी नशें में गुजर जाएगी!
----------
मैं तोड़ लेता अगर वो गुलाब होती!
मैं जवाब बनता अगर वो सवाल होती!
सब जानते हैं मैं नशा नहीं करता,
फिर भी पी लेता अगर वो शराब होती!
----------
थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी!
----------
तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है!
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है!
फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों!
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!