Saaki aur Sharab shayari

Nasha Mohabbat Ka Ho Ya Sharab Ka;
Hosh Dono Mein Kho Jate Hain;
Fark Sirf Itna Hai Ki Sharab Sula Deti Hai;
Aur Mohabbat Rula Deti Hai!
----------
Aaye The Hanste Khelte Mai-Kade Mein Firaq;
Jab Pee Chuke Sharaab To Sanjeeda Ho Gaye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Paani Se Pyaas Na Bujhi;
Toh Maikhane Ki Taraf Chal Nikla;
Socha Shikayat Karun Teri Khudha Se;
Par Khudha Bhi Tera Aashiq Nikla!
----------
Kuch Nasha To Aapki Baat Ka Hai;
Kuch Nasha To Dheemi Barsaat Ka Hai;
Humein Aap Yoon Hi Sharabi Na Kahiye;
Is Dil Par Asar To Aap Se Mulakat Ka Hai!
----------
Khudaa Maujood Hai Puri Duniya Mein, Kahin Bhi Jagah Nahi;
Tu Jannat Mein Jaa, Wahan Peena Mana Nahi!
----------
Peete Hain Apne Maze Ke Liye, Khaamkhaan Badnaam Gham Hai,
Poori Botal Pee Kar Dekho, Phir Duniya Kya Jannat Se Kam Hai!
~ Meer Taqi Meer
----------
Peete Hai Gham e Duniya Bhulaa Ne Ke Liye, Aur Koi Baat Nahi;
Jannat Main Kahan Gham Hai, Waha Peene Kaa Mazaa Nahi!
----------
Meri Kabar Pe Mat Gulaab Le Kar Aana;
Na Hi Haathon Mein Chiraag Le Kar Aana;
Payasa Hu Main Barso Se Jaanam;
Botal Sharab Ki Aur Ek Glass Le Kar Aana!
----------
Jaam Peene Se Kya Fayda, Shaam Mein Pee Subha Utar Jaayegi;
Arey Peeni Hai To Do Boond Mohabbat Ki Pee, Saari Zindagi Nashe Mein Hi Guzar Jaayegi!
----------
Mai-Khane Mein Kyon Yaad-E-Khuda Hoti Hai Aksar;
Masjid Mein To Zikr-E-Mai-O-Meena Nahi Hota!
~ Riyaz Khairabadi
----------
Peeta Tha Jiske Saath Wo Saaki Bada Haseen Tha;
Aadi Bana Kar Zaalim Ne Maikhana Badal Liya!
----------
Pehle Sharaab Zeesat Thi Ab Zeesat Hai Sharaab;
Koi Pila Raha Hai Piye Ja Raha Hun Main!
~ Jigar Moradabadi
----------
Kyon Intezar Karen Kisi Mehkti Hui Shaam Ka;
Teri Nazron Se Hi Chalakta Hai Nasha Kisi Madira Ke Jaam Ka!
----------
Pi Liya Karte Hain Jeene Ki Tamanna Mein Kabhi-Kabhi,
Kyonki Dagmagana Bhi Zaroori Hai Sambhalne Ke Liye!
----------
Lutf-E-Mai Tujhse Kya Kahun Zaahid,
Haye Kambakht Tum Ne Pi Hi Nahi!
~ Daagh Dehlvi
----------
Main Aur Bazm-E-Mai Se Yun Tishna-Kaam Aaun,
Gar Maine Kee Thi Tauba Saaqi Ko Kyaa Hua Tha!
~ Mirza Ghalib
----------
Abhi Raat Hai Baaki Naa Utha Naqaab Saaki,
Tera Rind Girte Girte Kahin Phir Sambhal Na Jayein!
----------
Aaye The Hanste Khelte Mai-Kane Mein 'Firaq',
Jab Pi Chuke Sharab To Sanjida Ho Gaye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Ye Kaali Kaali Botlein Jo Hain Sharaab Kee,
Raatein Hain In Mein Band Hamare Shabaab Kee!
~ Riyaz Khairabadi
----------
Pita Hun Jitni Utni Hi Badhti Hai Tishnagi,
Saqi Ne Jaise Pyaas Mila Di Sharab Mein!
----------
Shikan Na Daal Jabin Par Sharab Dete Hue;
Ye Muskurati Hui Cheez Muskura Ke Pila!
----------
Aaj Pee Lene De Jee Lene De Mujhko Saqi;
Kal Meri Raat Khuda Jaane Kahan Guzregi!
~ Wasim Barelvi
----------
Mehfil-e-Ishq Sajao To Koi Baat Bane;
Daulat-e-Ishq Lutao To Koi Baat Bane;
Jaam Haathon Se Nahi Hai Peena Mujhko;
Kabhi Aankhon Se Pilao To Koi Baat Bane!
----------
Main Talakhiye Hyaat Se Ghabra Ke Pee Geya;
Gham Kee Siyah Raat Se Ghabra Ke Pee Geya;
Itni Dakik She Koi Kaise Samajh Sake;
Yazdan Ke Vakiyat Se Ghabra Ke Pee Geya!
~ Saghar Siddiqui
----------
Wo Bhi Din The Jab Hum Bhi Piya Karte The;
Yun Na Karo Humse Peene Pilane Kee Baat;
Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab;
Utni Hum Paimaney Mein Chod Diya Karte The!
----------
Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi;
Aao Kahin Sharab Piyein Raat Ho Gayi!
~ Nida Fazli
----------
Kal Ke Liye Kar Aaj Na Khisat Sharab Mein;
Yeh Suu-e-Zan Hai, Saqi-e-Kausar Ke Baab Mein!

Translation:
Why Parsimony today in the promise of tomorrow's imbibing.
This surely is an insult to the generosity of heaven's thirst-quencher.
~ Mirza Ghalib
----------
Kaash Humein Bhi Koi Samjhane Wala Hota;
To Aaj Hum Itne Nasamjh Na Hote;
Kaash Koi Ishq Ka Jaam Pilane Wala Hota;
To Aaj Hum Bhi Is Sharab Ke Deewane Na Hote!
----------
Sab Kehte Hain Ki Buri Hai Yeh Sharaab;
Maine Bhi Maana Ki Yeh Sharaab Nasha Chadati Hai;
Fir Puchte Hain Sab Mujhse Ki Kyon Peeta Hun Main;
To Kya Bataun Yaaro Yeh Sharab Hi Hai Jo Unka Gham Bhulati Hai!
----------
Lafzon Ke Fasaane Dhoondhte Hain Hum Log;
Lamhon Mein Zamaane Dhoondhte Hain Hum Log;
Tu Zeher Hi De Sharaab Keh Kar Saqi;
Peene Ke Bahaane Dhoondhte Hain Hum Log!
----------
Mahekta Hua Jism Tera Gulab Jaisa Hai;
Neend Ke Safar Mein Tu Khwaab Jaisa Hai;
Do Ghoont Pee Lene De Aankhon Kee Mastiyan;
Nasha Teri Aankhon Ka Sharab Ke Jaam Jaisa Hai!
----------
मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नही, साकी;
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती।
----------
Na Tum Hosh Mein Ho Na Hum Hosh Mein Hain;
Chalo Maikade Mein Wahin Baat Hogi!
~ Bashir Badr
----------
Yu Toheen Naa Kar Sharaab Ko Kadwa Keh Kar;
Zindgi Ke Tajurbe Sharaab Se Bhi Kadwe Hote Hein!
----------
Har Kisi Baat Ka Koyi Jawaab Nahi Hota;
Har Naam Ishq Mein Kharab Nahi Hota;
Yun To Jhum Lete Hain Nashe Me Rehne Wale;
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota!
----------
Masjid Khuda Ka Ghar Hai;
Peene Ki Jagha Nahin;
Kaafir Ke Dil Mein Ja;
Wahan Khudaa Nahin!
~ Allama Iqbal
----------
Gham Is Kadar Barhey Ke Mein Ghabra Ke Pee Gaya;
Is Dil Ki Be-Basi Pe Tarss Kha Ke Pee Gaya;
Thukra Raha Tha Mujh Ko Bari Der Se Jahan;
Main Aaj Sab Jahan Ko Thukraa Ke Pee Gaya!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Kehte Hai Pee Ne Wale Mar Jate Hai Bhari Jawani Me;
Hum Ne Toh Dekha Hai Buzurgo Ko Jawan Hote Maikhane Me!
----------
Peenay Dai Sharab Masjid Main Baid Kay Ghalib;
Ya Woh Jaga Bata Jahan Khuda Nehen Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Gham Ish Kadar Barhey Ke Mein Ghabra Ke Pee Gaya;
Is Dil Ki Be-Basi Pe Tarss Kha Ke Pee Gaya;
Thukra Raha Tha Mujh Ko Bari Der Se Jahan;
Main Aaj Sab Jahan Ko Thukraa Ke Pee Gaya!
~ Sahir Ludhianvi
----------
Tohfe Mai Mat Gulaab Lekar Aana;
Meri Qabr Par Mat Chiraag Lekar Aana;
Bahot Pyaasa Hoon Barso'n Se Main;
Jab Bhi Aana Sharaab Lekar Aana!
----------
Kuch Nasha To Aapki Baat Ka Hai;
Kuch Nasha To Dheemi Barsaat Ka Hai;
Humein Aap Yun Hi Sharabi Na Kahiye;
Is Dil Par Asar To Aap Se Mulakat Ka Hai!
----------
Saaqi Dekh Zamaane Ne, Kaisi Tohmat Lagayi Hai;
Aankhein Teri Nasheeli Hai, Sharabi Mujhe Kehte Hai!
----------
Nasha Mohabbat Ka Ho Ya Sharab Ka;
Hosh Dono Mein Koh Jate Hai;
Fark Sirf Itna Hai Ke Sharab Sula Deti Hai;
Aur Mohabbat Rula Deti Hai!
----------
Badi Gaur Se Dekh Raha Hu Is Maikhane Ko;
Is Ne Waqt Hi Nahi Diya Sar Jhukane Ko;
Mujhe Marne Se Dar Nahi Lagta Aye "Umar";
Bas Sharm Si Arahi Hai Us Ke Paas Jane Ko!
----------
Lafzon Ke Fasaane Dhondhte Hain Hum Log;
Lamhon Mai Zamaane Dhondhte Hain Hum Log;
Tu Zehar Hi De Sharaab Keh Kar Saaqi;
Jeene Ke Bahaane Dhondhte Hain Hum Log!
----------
Hamesha Yaad Aati Hai Unki;
Aur Mood Ho Jata Hai Kharab;
Tab Hamesha Lekar Baithe Hai Hum;
Ek Hath Me Kalam Aur Ek Hath Me Sharab!
----------
Maikhane Saje The, Jam Ka Tha Daur;
Jam Me Kya Tha Ye Kisne Kiya Tha Gaur;
Jam Me Gum Tha Mere Armano Ka;
Aur Sab Kahe Rahe The Ek Aur, Ek Aur!
----------
Teri Yaad Ne Hamhe Jeene Na Diya;
Chain Se Humko Ab Marne Na Diya;
Hum Peete Hai Teri Yaad Me Zalim;
Par Iss Duniya Ne Hame Peene Na Diya!
----------
Kabhi Yaroon Ki Mehfil Me Baith Ke Hum Bhi Piya Karte The;
Kabhi Yaroon Ke Yaar Ban Ke Hum Bi Jiya Karte The;
Zindagi Ne Ki Bewafi ,Warna;
Hum Bhi Zingadi Se Pyar Kiya Karte The!
----------
Ek Bewaafa Ki Yaad Mein, Maine Jam Utha Liya;
Ek Bewaafa Ki Yaad Mein, Maine Jam Utha Liya;
Fir Lagaya Bread Pe, Aur Fatafat Kha Liya!

Please Note: Saare Aashiq Bevde Nahi Hote, Kuch Bhuke Bhi Hote Hain!
----------
Peenay De Sharab Masjid Mein Baith Kar Galib;
Ya Woh Jagah Bataa Jahan Khuda Maujood Nahi Hai!
----------
Hum Lakh Achhe Sahi Log Kharab Kahte Hai;
Bigda Hua Wo Hamko Nawab Kahte Hai;
Hum To Aise Badnam Ho Gaye Hai Ki;
Paani Bhi Piye To Log Sharab Kehte Hain!
----------
Gham-E-Dunia Mein Gham-E-Yaar Bhi Shaamil Kar Lo;
Nasha Badhta Hai Sharabein Jo Sharabon Mein Milen To!
----------
Paani Se Pyaas Na Bujhi;
Toh Maikhane Ki Taraf Chal Nikla;
Socha Shikayat Karun Teri Khudha Se;
Par Khudha Bhi Tera Ashiq Nikla!
----------
Har Baat Ka Koi Jawab Nahi Hota;
Har Ishq Ka Naam Kharab Nahi Hota;
Yuh To Jhoom Lete Hain Nashe Mein Pene Wale;
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota!
----------
Tohfe Mein Gulaab Lekar Mat Aana;
Kabar Pe Chirag Lekar Mat Aana;
Buhut Pyaase Hain Hum Barso Se, Ae Dost;
Jab Aana To Sharaab Ki Bottle Aur Do Glass Lekar Aana!
----------
Saaqi Gayi Bahaar Dil Mein Rahee Havas;
Tu Minnaton Sey Jaam Dey Aur Main Kahoon Key 'Bas!'
~ Mirza Ghalib
----------
Woh Bhi Din They Jab Hum Bhi Piya Karte They;
Yun Na Karo Hamse Piney Pilaney Ki Baat;
Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab Hai;
Utni Hum Paimaney Mein Chhod Diya Kartey They!
----------
Hamesha Yaad Aati Hai Unki;
Aur Mann Ho Jata Hai Kharab;
Tab Hamesha Lekar Baithe Hai Hum;
Ek Hath Mein Kalam Aur Ek Hath Mein Sharab!
----------
Yaaron Ki Mehfil Aise Jamai Jaati Hai;
Kholane Se Pehle Botal Hilaayi Jati Hai;
Fir Tute Dil Waalon Ko Awaaz Lagayi Jati Hai;
Ke Ao Yahan, Dard-e-DiL Ki Dawa Pilayi Jati Hai!
----------
Maykhane Mein Kaise Bujhti Pyas Meri;
Inn Hothon Ko Talab To Tere Hothon Ki Thi!
----------
Masjid Khuda Ka Ghar Hai, Peeney Ki Jagha Nahin;
Kaafir Ke Dil Mein Ja, Wahan Khudaa Nahin!
~ Allama Iqbal
----------
Khali Hai Abhi Jaam, Mein Kuchh Sochh Raha Hun;
Aaye Gardishe Ayyam, Mein Kuchh Sochh Raha Hun;
Saaqi, Saagar Ko Zarra Thaam, Mein Kuchh Sochh Raha Hun!
----------
Rehta hu maikhane mein to sharabi na samaj mujhe;
Har wo shakhs jo masjid se nikle namazi nahi hota.
----------
Jab peene se nafrat thi mujhe to zabardasti pilayi yaaron ne;
Ab aadat pad gayi peene ki to machaayi e duhayi yaaron ne;
Maine maana janab peeta hu peeta hu be-hisaab peeta hu;
Log logon ka khoon peete hai main to phir bhii sharab peeta hu.
----------
Jaam pe jaam peene se kya fayeda,
Raat guzri to utar jayegi,
Kisi ki aankhon se peeyo khuda ki kasam,
Umr saari nashe mein guzar jayegi.
----------
Rok deo mere janaze nu mere vich jaan aa gai hai,
Saaleyo peeche mudh ke dekho SHARAB di dukan aa gai hai...CHEERS!
----------
बात सजदों की नहीं नीयत की है;
मयखाने में हर कोई शराबी नहीं होता!
----------
कुछ भी ना बचा कहने को हर बात हो गयी;
आओ चलो शराब पियें रात हो गयी!
----------
मयख़ाने से बढ़कर कोई ज़मीन नहीं;
जहाँ सिर्फ़ क़दम लड़खड़ाते हैं ज़मीर नहीं!
----------
यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं है मेरा शराब से;
इश्क की राहों में तन्हा मिली तो हमसफ़र बन गई!
----------
कर दो तब्दील अदालतों को मयखानों में साहब;
सुना है नशे में कोई झूठ नहीं बोलता!
----------
मेरे घर से मयखाना इतना करीब न था,
ऐ दोस्त कुछ लोग दूर हुए तो मयखाना करीब आ गया।
----------
नशा पिला के गिराना तो सब को आता है;
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी।
----------
कहते हैं पीने वाले मर जाते हैं जवानी में;
हमने तो बुजुर्गों को जवान होते देखा है मैखाने में।
----------
तेरी निगाह से ऐसी शराब पी मैंने, फिर न होश का दावा किया कभी मैंने;
वो और होंगे जिन्हें मौत आ गई होगी, निगाह-ए-यार से पाई है जिन्दगी मैंने।
----------
नशा तब दोगुना होता है,
जब जाम भी छलके और आँख भी छलके।
----------
आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश पे बार बार,
लब चूम लूँ तिरा लब-ए-पैमाना छोड़ कर।
~ Jaleel Manikpuri
----------
ऐ ज़ौक़ देख दुख़्तर-ए-रज़ को न मुँह लगा,
छुटती नहीं है मुँह से ये काफ़र लगी हुई।
~ Sheikh Ibrahim Zauq
----------
बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये;
कि वो आज नजरों से अपनी पिलायें;
मजा तो तब है पीने का यारो;
इधर हम पियें और नशा उनको आये।
----------
पहले शराब ज़ीस्त थी अब ज़ीस्त है शराब,
कोई पिला रहा है पिए जा रहा हूँ मैं।
~ Jigar Moradabadi
----------
पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील';
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई।
~ Jaleel Manikpuri
----------
नशा पिला के गिराना तो सब को आता है;
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी।
~ Allama Iqbal
----------
जिगर की आग बुझे जिससे जल्द वो शय ला,
लगा के बर्फ़ में साक़ी, सुराही-ए-मय ला।
~ Insha Allah Khan Insha
----------
हम तो जी रहे थे उनका नाम लेकर;
वो गुज़रते थे हमारा सलाम लेकर;
कल वो कह गए भुला दो हमको;
हमने पूछा कैसे, वो चले गए हाथों मे जाम देकर।
----------
पूछिये मयकशों से लुत्फ़-ए-शराब;
ये मज़ा पाक-बाज़ क्या जाने।
~ Daagh Dehlvi
----------
तेरे होठों में भी क्या खूब नशा मिला;
यूँ लगता है तेरे जूठे पानी से ही शराब बनती है।
----------
बोतलें खोल कर तो पी बरसों;
आज दिल खोल कर भी पी जाए।
~ Rahat Indori
----------
आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़';
जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
मैं थोड़ी देर तक बैठा रहा उसकी आँखों के मैखाने में;
दुनिया मुझे आज तक नशे का आदि समझती है।
----------
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है;
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
शराब और मेरा कई बार ब्रेकअप हो चुका है;
पर कमबख्त हर बार मुझे मना लेती है।
----------
मेरे घर से मयखाना इतना करीब ना था दोस्त;
कुछ लोग दूर हुए तो मयखाना करीब आ गया।
----------
मैं उनकी आँखो से छलकती शराब पीता हूँ;
गरीब हो कर भी मँहगी शराब पीता हूँ;
मुझे नशे में वो बहकने नहीं देते;
उन्हें तो खबर ही नहीं कि मैं कितनी शराब पीता हूँ।
----------
फिर ना पीने की कसम खा लूँगा;
साथ जीने की कसम खा लूँगा;
एक बार अपनी आँखों से पिला दे साकी;
शराफत से जीने की कसम खा लूँगा।
----------
ना पीने का शौक था, ना पिलाने का शौक था;
हमे तो सिर्फ नज़र मिलाने का शौक था;
पर क्या करे यारो, हम नज़र ही उनसे मिला बैठे;
जिन्हें सिर्फ नज़रों से पिलाने का शौक था।
----------
ग़म इस कदर मिला कि घबरा के पी गए;
ख़ुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गए;
यूँ तो ना थे जन्म से पीने की आदत;
शराब को तनहा देखा तो तरस खा के पी गए।
----------
पैमाना कहे है कोई मय-ख़ाना कहे है;
दुनिया तेरी आँखों को भी क्या क्या न कहे है।
~ Mir Taqi Mir
----------
महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है;
नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है;
दो घूँट पी लेने दे आँखों के इस प्याले से;
नशा तेरी आँखों का शराब के जाम जैसा है।
----------
मेरे दिल के कोने से एक आवाज़ आती है;
कहाँ गयी वो ज़ालिम जो तुझे तड़पाती है;
जिस्म से रूह तक उतरने की थी ख्वाहिश तेरी;
और अब एक शराब है जो तेरा साथ निभाती है।
----------
नशा हम किया करते है, इलज़ाम शराब को दिया करते हैं;
कसूर शराब का नहीं उनका है जिनका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।
----------
कुछ नशा तो आपकी बात का है;
कुछ नशा तो धीमी बरसात का है;
हमें आप यूँ ही शराबी ना कहिये;
इस दिल पर असर तो आप से मुलाकात का है।
----------
नशा हम करते हैं, इल्ज़ाम शराब को दिया जाता है;
मगर इल्ज़ाम शराब का नहीं उनका है;
जिनका चेहरा हमें हर जाम में नज़र आता है।
----------
मयखाने सजे थे, जाम का था दौर;
जाम में क्या था, ये किसने किया गौर;
जाम में गम था मेरे अरमानों का;
और सब कह रहे थे एक और एक और।
----------
मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नही साकी;
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती।
----------
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है;
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
तनहइयो के आलम की ना बात करो जनाब;
नहीं तो फिर बन उठेगा जाम और बदनाम होगी शराब।
----------
नशा पिलाके गिराना तो सबको आता है;
मज़ा तो जब है कि गिरतों को थाम ले साकी;
जो बादाकश थे पुराने वो उठते जाते हैं;
कहीं से आबे-बक़ा-ए-दवाम ले साकी;
कटी है रात तो हंगामा-गुस्तरी में तेरी;
सहर क़रीब है अल्लाह का नाम ले साकी।
~ Allama Iqbal
----------
बड़ी भूल हुई अनजाने में, ग़म छोड़ आये महखाने में;
फिर खा कर ठोकर ज़माने की, फिर लौट आये मयखाने में;
मुझे देख कर मेरे ग़म बोले, बड़ी देर लगा दी आने में।
----------
मौसम भी है, उम्र भी, शराब भी है;
पहलू में वो रश्के-माहताब भी है;
दुनिया में अब और चाहिए क्या मुझको;
साक़ी भी है, साज़ भी है, शराब भी है।
~ Akhtar Sheerani
----------
कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं;
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं;
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर;
कि पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।
----------
मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नहीं, ऐ साकी;
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती!
----------
बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये;
कि वो आज नजरों से अपनी पिलायें;
मजा तो तब है पीने का यारो;
इधर हम पियें और नशा उनको आये।
----------
पी के रात को हम उनको भुलाने लगे;
शराब मे ग़म को मिलाने लगे;
ये शराब भी बेवफा निकली यारो;
नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।
----------
मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती;
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती;
सब जानते हैं मैं नशा नही करता;
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती।
----------
ग़म इस कद्र बढे कि घबरा कर पी गया;
इस दिल की बेबसी पर तरस खा कर पी गया;
ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना;
मैं आज सब जहां को ठुकरा कर पी गया!
~ Sahir Ludhianvi
----------
नफरतों का असर देखो जानवरों का बटंवारा हो गया;
गाय हिन्दू हो गयी और बकरा मुसलमान हो गया;
मंदिरो मे हिंदू देखे, मस्जिदो में मुसलमान;
शाम को जब मयखाने गया तब जाकर दिखे इन्सान!
----------
आप को इस दिल में उतार लेने को जी चाहता है;
खूबसूरत से फूलों में डूब जाने को जी चाहता है;
आपका साथ पाकर हम भूल गए सब मैखाने;
क्योकि उन मैखानो में भी आपका ही चेहरा नज़र आता है।
----------
पीने दे शराब मस्जिद में बैठ के ग़ालिब;
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं है।
~ Mirza Ghalib
----------
​यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं ​है ​मेरा​;​
​​शराब से...​
इश्क की राहों में तन्हा मिली ​ तो;​​​
हमसफ़र बन गई.......​
----------
उम्र भर भी अगर सदाएं दें;
​बीत कर वक़्त फिर नहीं मरते;​
​सोच कर तोड़ना इन्हें साक़ी;
​टूट कर जाम फिर नहीं जुड़ते।​
~ Syed Abdul Hameed Adam
----------
यह शायरी लिखना उनका काम नहीं;
जिनके दिल आँखों में बसा करते हैं;
शायरी तो वो शख्श लिखता है;
जो शराब से नहीं कलम से नशा करता है।
----------
​रात चुप चाप है पर चाँद खामोश नहीं;
कैसे कह दूँ कि आज फिर होश नहीं;
ऐसा डूबा हूँ मैं तुम्हारी आँखों में;
हाथ में जाम है पर पीने का होश नहीं।
----------
तोहफे में मत गुलाब लेकर आना;
मेरी क़ब्र पर मत चिराग लेकर आना;
बहुत प्यासा हूँ अरसों से मैं;
जब भी आना शराब लेकर आना।
----------
मेरी तबाही का इल्जाम अब शराब पर है;
करता भी क्या और तुम पर जो आ रही थी बात।
----------
लानत है ऐसे पीने पर हज़ार बार;
दो घूंट पीकर ठेके पर ही लंबे पसर गये।
~ Amjad Jodhpuri
----------
हर तरफ खामोशी का साया है;
जिसे चाहते थे हम वो अब पराया है;
गिर पङे है हम मोहब्बत की भूख से;
और लोग कहते है कि पीकर आया है।
----------
शराब पी के रात को हम उनको भुलाने लगे;
शराब मे ग़म को मिलाने लगे;
ये शराब भी बेवफा निकली यारो;
नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।
----------
पी के रात को हम उनको भूलने लगे;
शराब में गम को मिलाने लगे;
दारु भी बेवफ़ा निकली यारों;
नशे में तो वो भी याद आने लगे।
----------
ग़म इस कदर बढे कि घबरा कर पी गया;
इस दिल की बेबसी पर तरस खा कर पी गया;
ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना;
मैं आज सब जहां को ठुकरा कर पी गया!
~ Sahir Ludhianvi
----------
तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है;
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है;
फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों;
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!
----------
मैं नहीं इतना घाफिल कि अपने चाहने वालों को भूल जाऊं;
पीता ज़रूर हूँ लेकिन थोड़ी देर यादों को सुलाने के लिए!
----------
पीते थे शराब हम;
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर;
महफ़िल में गए थे हम;
यारों ने पिलाई उसकी कसम देकर।
----------
गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम;
खुशी थोड़ी सी मिली, उसे खुश होकर पी गए हम;
यूं तो ना थे हम पीने के आदी;
शराब को तन्हा देखा, तो तरस खाकर पी गए हम।
----------
हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं;
इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं;
हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में;
कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं!
----------
बोतल पे बोतल पीने से क्या फायदा, मेरे दोस्त;
रात गुजरेगी तो उतर जाएगी!
पीना है तो सिर्फ एक बार किसी की बेवफाई पियो;
प्यार की कसम, उम्र सारी नशें में गुजर जाएगी!
----------
मैं तोड़ लेता अगर वो गुलाब होती!
मैं जवाब बनता अगर वो सवाल होती!
सब जानते हैं मैं नशा नहीं करता,
फिर भी पी लेता अगर वो शराब होती!
----------
थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी!
----------
तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है!
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है!
फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों!
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!