Romantic shayari

Dil ye mera Tumse Pyar karna chahta hai,
Apni Mohabbat ka izhaar karna chahta hai,
Dekha hai jab se Tumhe aey mere Sanam,
Sirf tumhara hi Dedaar karne ko dil chahta hai.
----------
Pyaar ki aanch se to patthar bhi pighal jata hain
Sache dil se sath de to naseeb bhi badal jata hai
Pyaar ki rahon par mil jaye sacha hamsafar,
To kitna bhi gira hua insaan bhi sambhal jata hai
----------
Meri mohabbat hai woh koi majboori to nahin,
Woh mujhe chahe ya mil jaye, zaroori to nahin,
Yeh kuch kam hai ke basa hai meri saanson mein,
Woh saamne ho meri aankhon ke zaroori to nahin.
----------
Tere Bina Tutkar Bikhar Jayenge,
Tum Mil Gaye To Gulshan Ki Tarah Khil Jayenge,
Tum Na Mile To Jite Ji Mar Jayenge,
Tumhe Paa Liya To Markar Bhi Jee Jayenge.
----------
Meri Hasratein machal gayi,
Jab tumne socha ek pal ke liye,
Anjaam-e-deewangi kya hogi,
Jab tum milogi mujhe umr bhar ke liye..
----------
Kasoor toh tha hi in nigaahon ka,
Joh chupke se deedar kar betha,
Humne to khamosh rehne ki thani thi,
Par bewafa ye zuban izhar kar betha.
----------
Udas nahi hona kyon ki main saath hoon,
Saamne na sahi par aas-paas hoon,
Palkon ko band kar jab bhi dil mein dekhoge,
Main har pal tumhare sath hu!
----------
Ishq mohabbat to sab karte hai,
gam-a-judai se sab darte hai,
hum to ishq karte ha na to mahabbat,
hum to bas aapki ek mushkurahat pane ke liye taraste hai.
----------  
Teri dhadkan hi zindagi ka kissa hai mera,
tu zindagi ka ek ahem hissa hai mera,
ye mohabbat tujhse sirf lafzo ki nahin hai,
teri rooh se rooh tak ka rishta hai mera..!
----------
Main Dua Mein Tujhe Manga Hai,
Magar Wafa Se Manga Hai..!!
Kabhi Sajde Mein Jakar Pucho Apne Rab Se,
K Maine Kis Kis Ada Se Tumhe Manga Hai..!!
----------
Tera Intezaar Mujhe Har Pal Rehta Hai,
Har Lamha Mujhe Tera Ehsaas Rehta Hai,
Tujh Bin Dhadkane Rukk Si Jaati Hai,
Ki Tu Mere Dil Me Meri Dhadkan Banke Rehta Hai.
----------
Zameen ke har zarre ko aftab kar denge,
Gulshan ke har phool ko gulab kar denge,
Ek pal bhi na reh sakoge hamare bin,
Aap ki sab aadat hum itni kharab kr denge..
----------
Dil karta hai zindagi tujhe de du,
Zindagi ki saari khusiyan tere naam kar du..
De de agar tu mujhe bharosa apne saath ka,
To yakeen maan apni saanse bhi tere naam kar du.
----------
Mujhe in raaho me tera saath chahiye,
tanhaiyo me tera hath chahiye,
khushiyon se bhare is sansar me tera pyaar chahiye,
----------
Aankho ki gehrai ko samaz nahi sakte,
honto se kuch keh nahi sakte.
Kaise baya kare hum aapko yeh dil ka haal ki,
tumhi ho jiske bageir hum reh nahi sakte.
----------
Kuch door mere saath chalo,
Hum saari kahani keh denge,
Samjhe na tum jise aankhon se,
Wo baat muh Jubaani keh denge.
----------
Tujse hi har subha ho meri,
Tujse hi har sham,
Kuch aisa rishta ban gaya tujhse,
Ki Har saaso mein sirf tera hi naam.
----------
Ek tu teri aawaz yaad aayegi,
Teri kahi huwi har baat yaad aayegi,
Din dhal jayega raat yaad aayegi,
Har lamha pahli mulakat yaad aayegi.
----------
Aap Khud Nahi Janti Aap Kitni Pyari Ho,
Jaan Ho Hamari Par Jaan Se Pyari Ho,
Duriyon K Hone Se Koi Fark Nahi Padta,
Aap Ki Bhi Hamari Thi Or Aaj Bhi Hamari Ho.
----------
Ankho se aankhe milakar to dekho,
Humare dil se dil milakar to dekho,
Saare jaha ki khushiya tere daaman mai rakh denge,
Humse pyaar ka izhaar karke to dekho.
----------
Ladki ki nazro mei nazakat hoti hai,
Uske inkar mei bhi ijaajat hoti hai,
Humesha piche pad jao jab tak haan na bole,
Kyunki der se haan karna ladkiyo ki aadat hoti hai.
----------
Logo se sunte the Mohabbat ke Afsaane,
Khawab Humne bhi dekhe the Suhaane,
Pyaar kya hai ?
Hum aksar sochte the..
Iss Baat se Hum apne Dil ko rokte the,
Lekin ab Tumhe iss Dil mein basa kar,
Yeh Khata ek baar karna chahta hai,
Yeh Dil Tum se Pyaar karna chahta hai
Apni Mohabbat ka Izhaar karna chahta hai.
----------
Hasrat hain sirf tumhe paane ki,
Aur koi khawahish nahi is deewane ki,
Shikwa mujhe tumse nahi khuda se hai,
Kya zarurat thi tumhe itna khubsurat banaane ki.
----------
Apni nigahon se na dekh khudko
Heera bhi tujhe patthar lagega,
Sab kehte honge chand ka tukda hai tu,
Meri nazar se dekh chand tera tukda lagega.
----------
Mujhko phir wahi suhana nazara mil gaya,
Nazron ko jo deedar tumhara mil gaya,
Aur kisi cheez ki tamanna kyun karu,
Jab mujhe teri baahon me sahara mil gaya.
----------
Chhupa Leta Tujhe Is Tarah Se Meri Baahon Mein,
Hawa Bhi Guzrjane Ke Liye Izazat Maange,
Ho Jaaye Tere Ishq Mein Madhosh Is Tarah Ki,
Hosh Bhi Wapas Aane Ki Izaazat Maange.
----------
अंदाज-ऐ-प्यार तुम्हारी एक अदा है..
दूर हो हमसे तुम्हारी खता है..
दिल में बसी है एक प्यारी सी तस्वीर तुम्हारी..
जिस के नीचे ‘आई मिस यू’ लिखा है..
----------
Sirf Isharon Mein Hoti Mohabbat Agar,
In Lafazon Ko Khoobsurati Kaun Deta?
Bas Pathar Ban Ke Rah Jaata ‘Taj Mahal’,
Agar Ishq Isse Apni Pehchan Na Deta.
----------
Zindagi Nu Pyaar Assi Tere To Jyada Nahi Karde,
Kise Hor Te Aitbar Assi Tere To Jyada Nahi Karde,
Tu Jee Sake Mere Bin Eh Ta Changi Gall Hai Sajjna,
Par Assi Jee Lavange Tere Bin Eh Vaada Nahi Karde.
----------
Chupa Loon Is Tarah Tujhe Apni Baahon Mein,
Ki Hawa Bhi Guzarne Ki Izazat Maange,
Ho Jaun Itna Madhosh Tere Ishq Mein,
Ki Hosh Bhi Aane Ki Izazat Manage.
----------
Tu Meri Dhadkan,
Main Teri Rooh,
Tu Agr Hain,
To Main Hoon.
----------
Muje in raaho me tera sath chahiye,
Tanhaiyo mein tera haath chahiye…!!

Tham si jati hain us pal dhadkane
Jb unki jhuki palke mohabbat ka izhar karti .

Ye dil tum se pyaar karna chahta hain,
Apni Mohabbat ka Iqraar karna chahta hain.

Rub se aap ki khushi mangte hain,
Or aapse umer bhar ki mohabbat mangte hain.

मुझे मेरे कल कि फिक्र तो आज भी नही है,
पर ख्वाहिश तुझे पाने कि कयामत तक रहेगी.

Dil hi dil mein hum unse pyar karte hain
Aaj es propose day pe apni mohabbat ka izhar krte hain.

मुक्तसर सी ज़िन्दगी है मेरी तेरे साथ जीना चाहता हूँ,
कुछ नहीं मांगता खुदा से बस तुझे मांगता हूँ.

Unhe chahna hamari kamzori hai,
Unse keh na pana hamari majboori hai,
Wo kyun nai samajhte hamaari khaamoshi ko,
Kya payar ka izhaar karna zaruri hai.

Na Main Tumhe Khona Chahta Hun,
Na Teri Yaad Me Rona Chahta Hun,
Jab Tak Zindagi Hai Main Hamesa Tumhare Sath Rahunga,
Bas Yahi Baat Tumse Kehna Chahta Hun.

Mujhe in raaho me tera saath chahiye,
Tanhaiyo me tera hath chahiye,
Khushiyon se bhare iss sansaar me tera pyaar chahiye.
----------
तराशा है उनको बड़ी फुर्सत से,
जुल्फे जो उनकी बादल की याद दिला दे,
नज़र भर देख ले जो वोह किसी को,
नेकदिल इंसान की भी नियत बिगड़ जाए.
----------
Wo Mohabbtein Jo Tumhare Dil Mein Hain,
Usse Zubaan Par Lao Aur Bayan Kar Do,
Aaj Bas Tum Kaho Aur Kehte Hi Jao,
Hum Bas Sunein Aise Be-Zuban Kar Do.
----------
Tere Naam Se Mohabbat Ki Hai,
Tere Ehsaas Se Mohabbat Ki Hai,
Tum Pass Nahi Ho Mere Phir Bhi,
Tumhari Yaad Se Mohabbat Ki Hai,
Kabhi Tumne Bhi Mujhe Yaad Kiya Hoga,
Maine Un Lamhaat Se Mohabbat Ki Hai,
Tum Se Milna To Ek Khwaab Sa Lagta Hai,
Maine Tumhare Intezar Se Bhi Mohabbat Ki Hai.
----------
Fizao Ka Mausam Jaane Ke Baad Baharo Ka Mausam Aaya,
Gulab Se Gulab Ka Rang Tere Gaalon Par Aaya,
Tere Naino Ne Kaali Ghata Ka Jab Kajal Lagaya,
Jawani Jo Tum Par Aayi To Nasha Meri Aankhon Mein Aaya.
----------
Kuch Log Toot Kar Chahte Hain,
Kuch Log Chah Kar Toot Jaate Hain,
Humein Tumse Hai Kitni mohabbat,
Kabhi Aao Hamare Paas Tumhein Batate Hain.
----------  
Aapse yeh doori humse sahi nahi jati,
Juda hoke aapse humse raha nahi jata,
Ab toh waapas laut aayiye hamare paas,
Dil ka haal ab lafzon mein kaha nahi jata!
----------
Zara nazaro se dekh liya hota,
agar tamanna thi darane ki..
hum yun hi behosh ho jaate the,
kya zarurat thi muskurane ki..!!
----------
Unhe chahna hamari kamzori hai,
Unse keh na pana hamari majboori hai,
Wo kyun nai samajhte hamaari khaamoshi ko,
Kya payar ka izhaar karna zaruri hai.

Na Main Tumhe Khona Chahta Hun,
Na Teri Yaad Me Rona Chahta Hun,
Jab Tak Zindagi Hai Main Hamesa Tumhare Sath Rahunga,
Bas Yahi Baat Tumse Kehna Chahta Hun.

Mujhe in raaho me tera saath chahiye,
Tanhaiyo me tera hath chahiye,
Khushiyon se bhare iss sansaar me tera pyaar chahiye.

Kuch door mere saath chalo,
Hum saari kahani keh denge,
Samjhe na tum jise aankhon se,
Wo baat zubani keh denge.
----------
Dil ki nazuk dhadkano ko..
Mere sanam tumne dhadkana sikha diya,
Jab se mila hai tera pyaar dil ko,
Gham ne bhi muskurana sikha diya.
----------
Tere naam se mohabbat ki hain,
Tere ehsaas se mohabbat ki hai,

Tum mere pass nahi phir bhi,
Tumhari yaad se mohabbat ki hai,

Kabhi tumne bhi mujhe yaad kiya hoga,
Maine un lamho se mohabbat ki hain,

Tum se milna to ek khwab sa lagta hain,
Mene tumhare intezar se mohabbat ki hai.
----------
Is Zindagi Ko Jeene Ki Aarzoo,
Bin Tere Hai Adhuri,
Tera Sath Jo Mil Jaye,
Meri Zindagi Ho Jaye Puri. ❤️
----------
प्यार मोहब्बत आशिकी..
ये बस अल्फाज थे..
मगर.. जब तुम मिले..
तब इन अल्फाजो को मायने मिले !!
----------
Mein Tod Leta Agar Tum Gulab Hoti,
Main Jawab Banta Agar Tum Sawal Hoti,
Sabhi Jante Hai Ki Mein Nasha Nahi Karta,
Fir Bhi Pee Lete Agar Tum Sharaab Hoti.
----------
Chehre pe mere zulfo ko phailao kisi din,
Kyu roz sirf garajate ho, baras jao kisi din,
Khushbu ki tarah guzro mere dil ki gali se,
Phulon ki tarah mujhpe bikhar jao kisi din.
----------
Apni Sanso Me Mehkta Paya Hai Aapko,
Kyu Na Kare Shiddat Se Yaad Aapko,
Jab Humare Pyar Ke Liye Hi..
Khuda Ne Banaya Hai Aapko..!!
----------
मेरी यादो मे तुम हो, या मुझ मे ही तुम हो,
मेरे खयालो मे तुम हो, या मेरा खयाल ही तुम हो,
दिल मेरा धडक के पूछे, बार बार एक ही बात,
मेरी जान मे तुम हो, या मेरी जान ही तुम हो!!!
----------  
Tumhari palkon main bassa huwa ek khawb hoon,
Kahi adhura tutt kai bikhar na jaoon,
Tumhari ankhon mai jalakta hua ek anson hu,
Kahi beh kar raith mai mil na jau,
Tumhare dil mai bassa hua ek arman hu,
Kahi dharkan mai dabb kar kho ma jau,
Tumharae hothon pai bassi hua ek hassi hu,
Kahi kabi gam mai baddal na jau,
Tumhare labbo pai thirk ti hui ek kampkapi hu,
Kahi shoonay sai thirkna na bhul jau,
Mujhe hardam sinnae sai lagai rakhna tu,
Kahi judah ho kai duniya ki bhirr mai kho na jau,
Tumhare jism mai bassi hui ek ruh hu,
Kahi bichhur kai marr na jau!
----------
Ishq ne hame benaam kar diya,
Har khushi se hame anjaan kar diya,
Hamne to kabhi nahi chaha ke hame bhi mohabbat ho,
Lekin aap ki ek nazar ne hame nilaam kar diya.
----------
Tere Chehre Mein Mera Noor Hoga,
Fir Tu Na Kabhi Mujhse Dur Hoga,
Soch Kya Khusi MiLegi Jaan Us Pal,
Jis Pal Teri Maang Mein ..
Mere naam ka Sindoor Hoga.
----------
Is baat ka ehsaas..
Kisi par na hone dena..
Ke teti chahaton se chalti hai..
Meri sansein..
----------
Tere jism pe apne jism ko rakhu,
Tere honton ko apne honton se maslu,

Tujhe pyar main itni shiddat se karu,
Ki us mithe dard se teri aah nikal jaye,

Dard se teri aankho se aasu jhalak jaye,
Or tu tan se or mann se sirf meri ho jaye,

Badan se tere lipta rahon or subha ho jaye,
Subha tujse jb main puchu teri raat ka aalam,

Tu sharma kar mere seene se lipat jaye!!
----------
Band hotho se kuch na kah kar..
Aankho se pyar jatati ho..

Jab bhi aati ho hume
hamse hi chura ke le jati ho
----------
Teri aankhon ke ye jo pyale hain,
Meri andheri raaton ke ujale hain,
Peeta hoon jaam par jaam tere naam ka,
Hum to sharabi be-sharab wale hain..!!
----------
Galti karke woh galti ka naam puchhate hain,
Dard dekar woh dawa ka naam puchhate hain,
Mar gaye hum unki isi adaa pe,
Hokar meri jaan meri jaan ka naam puchhate hain.
----------
Dooriyon se rishton mein fark nahi padta,
Baat to dil ki nazdeekiyon ki hoti hai,
Paas rehne se bhi rishte nahi ban paate,
Warna mulakatein to roz kitnon se hoti hain.
----------
Tere Husn Ko,
Parde Ki Zaroorat Hi Kya Hai Zaalim,
Kon Rehta Hai Hosh Main,
Tujhe Dekhne K Baad.
----------
Tum haseen ho, gulab jaisi ho,
Bahut nazuk ho khawab jaisi ho,
Hothon se lagakar pee jaun tumhe
Sir se paanv tak sharab jaisi ho…!!
----------
Ek aas, ek ehsaas,
Meri soch aur bus tum,
Ek sawal, ek majaal,
Tumhara khayal or bs tum.
----------
Koi hain jiska ess dil ko intjaar hain,
Khyalo mein bas usi ka khayal hain,
Khushyaan main saari us par luta du..
Chahat me uski mai khud ko mita du..
Kab ayega vo jiska es dil ko intjaar hain.
----------
Aankhe To Pyar Mein Dill Ki Juban Hoti Hai,
Chahat To Sada Bejuban Hoti Hai,
Pyar Mein Dard Bhi Mile To Kya Ghabrana,
Suna Hai Dard Se Chahat Or Jawan Hoti Hai.
----------
Tu Kahe Jo Bhi Woh Karunga Main,
Tu Udas Na Ho Tere Paas Hun Main,
Kya Karna Hai Kisi Aur Ka Sang,
Tere Saath Sanam Din Raat Hun Main.
----------
Aapne Toh Yeh Pooch Liya Bas Mere Dosto,
Ki Unke Baare Mein Hamara Kya Khyal Hai,

Aapne Jara Yeh Bhi Toh Poochha Hota Hamse,
Unko Dekhne Ke Baad Hamara Kya Haal Hai.
----------
Bin Aapke Kuchh Bhi Achha Nahi Lagta,
Kuchh Pal Ki Judai Bhi Sahi Nahi Jaati,

Tum Khud Hi Samajh Lo Gahrayi Pyar Ki,
Likh Kar Yeh Baat Mujhse Kahi Nahi Jaati.
----------
Agar Bantenge Sabko Pyar Jeevan Mein,
Tabhi Toh Yaaro Insaan Kahlaayenge Hum,

Jis Mein Hoga Bas Pyar Hi Pyar,
Ek Aisi Nayi Duniya Banayenge Hum.
----------
Yeh Doori Aur Humse Sahi Nahi Jaati,
Tere Paas Aane Ko Dil Karta Hai,

Bhula Kar Saare Duniya Bhar Ke Ghamon Ko,
Tere Aagosh Mein So Jaane Ko Dil Karta Hai.
----------
Dil To Unke Sine Mai Bhi Machalta Hoga,
Hushn Bhi So-So Rang Badalta Hoga,
Uthti Hongi Jab Nigahein Unki,
Khud Khuda Bhi Gir-Gir Ke Sambhalta Hoga.
----------
Shaan Se Pyar Ka Izhar Karenge,
Teri Mohabbat Pe Jaan Bhi Nisar Karenge,

Dekh K Jalegi Duniya Saari,
Is Kadar Tujhpe Aitbaar Karenge,

Denge Salaami Sab Humko,
Jab Pyar Ko Hum Bayaan Karenge,

Daulat Aur Shaurat Ka Kya Hai Kaam,
Teri Khushi Mein Khudko Nichaawar Karenge,

Har Ghadi Ho Bus Tera Deedar,
Waqt Se Hum Yahi Iltijaa Karenge,

Saaye Ki Tarah Tujhse Liptey Rahenge,
Duniya Ki Buri Nazar Se Tujhe Bachaya Karenge.
----------
Mohabbat ka koi rang nahi,
Fir bhi wo rangin hai,
Pyar ka koyi chehra nahi,
Phir bhi woh hasin hai.
----------
Kab tak wo mera hone se inkaar karega,
Khud tut kar wo ik din mujhse pyaar karega,
Ishq ki aag me main usko itna jala dungi,
Ki izhaar wo mujhse sar-e-bajaar karega.
----------
Kabhi yun bhi aa meri aankh mein
Ki meri najar ko khabar na ho,

Mujhe ek raat navaj de
Magar uske baad subah na ho,

Woh bada raham o karam hai
Mujhe yeh asar bhi daan karein,

Tujhe bhulane ki dua karun
Toh meri dua mein asar na ho,

Mere baajuon mein thaki thaki
Abhi khwab dekh rahi hai chandani,

Na uthe sitaron ki palki
Abhi aahton ka gujar na ho.
----------
Hum karte hai tumse pyar,
Aaj karte hai pyar ka ikraar.
Jante hai tum bhi hamare liye bane ho,
Tumne jitna pyar kiya utna kisi ne kiya na tha,
Jitna tumne khabon mein sataya ,
Utna tang kisi ne kiya na tha,
Hai majburiyan tumhari hai majburiya hamhari,
Bas kehna hai aaj itna tumse,
Kabhi kam na hogi dil se mohabbat tumhari.
----------
Sab Tamannayein Ho Puri, Koi Khwaish Bhi Rahe,
Chahta Woh Hai, Mohabbat Mein Numaish Bhi Rahe,

Aasmaa Chume Mere Pankh, Teri Rahmat Se,
Aur Kisi Ped Ki Dali Pe Rihaish Bhi Rahe,

Usne Sompa Nahi Mujhe Mere Hisse Ka Vajud,
Uski Koshish Hai Ke Mujhse Meri Ranjish Bhi Rahe,

Mujhko Maalum Hai, Mera Hai Woh, Main Uska Hu,
Uski Chahat Hai Ke Rashmon Ki Yeh Bandish Bhi Rahe,

Mosmon Se Rahein Vishvas Ke Aise Riste,
Kuchh Adavat Bhi Rahe, Thodi Navajish Bhi Rahe.
----------
Dil Toh Karta Hai Khair Karta Hai,
Aapka Jikr Gair Karta Hai,

Kyo Na Main Dil Se Du Dua Usko,
Jabki Woh Mujhse Bair Karta Hai,

Aap Toh Hubhu Wohi Hain Jo,
Mere Sapno Mein Sair Karta Hai,

Ishq Kyu Aapse Yeh Dil Mera,
Mujhse Pooche Bagair Karta Hai,

Ek jarra Duayen Maa Ki Le,
Aasmano Ki Sair Karta Hai.
----------
Tere Aaghosh Mein, Aane Ko Betab Hun Main,
Jab Chaho, Eh Dost Pukar Lena Hamein,
Mahsoos Karna Chahta Hu, Teri Dhadkano Ko,
Aankhon Ke Raste, Dil Mein Utaar Lena Hamein.
----------
Bhale Laakh Kar Lu Koshish Bhi Magar,
Dil Ki Baat Kahi Na Jaayegi Mujh Se,
Eh Mere Hamdam Na Hona Juda Kabhi,
Teri Judaayi Na Sahi Jaayegi Mujhse.
----------
Aakar Aap Ab Jana Nahi,
Dil Ko Mere Tarsana Nahi,
Hum De Chuke Hain Dil Aapko,
Todkar Isko Tadpana Nahi.
----------
In Aankhon Mein Aur Koi Ab Basta Nahi Hai,
Ek Aapko In Aankhon Mein Basaane Ke Baad,
Yeh Dil Mera Ab Kahi Aur Lagta Nahi Hai,
Ik Aap Se Is Dil Ko Lagane Ke Baad.
----------
Yeh Soch Rakha Tha Humne Apne Jeevan Mein, Ki,
Kisi Bhi Hansi Ko, Na Dil Mein Basayenge Hum,
Magar Aap Se Milne Ke Baad, Na Malun Tha, Yu,
Ki, Sirf Aapke Hi Hokar Rah Jaayenge Hum.
----------
Aap Mukurate Huye Hi Achhe Lagte Ho,
Aap Hamesha Hi Aise Muskuraya Karo,
Maja Aata Hai Humein Aapko Sataane Mein,
Magar Aap Ruthkar Maan Jaya Karo.
----------
Aap Humko Aise Mat Dekhiye,
Kahin Humko Mohabbat Na Ho Jaaye,
Aap Toh Muskura Kar Chale Jaaoge,
Is Dil Ko Musibat Na Ho Jaaye.
----------
Hamne Pahli Bar Apni Zindagi Mein Chaha Jisko,
Unse Hi Humne Apne Pyar Ka Izhaar Kar Diya,
Ab Woh Apne Dil Ko Bekarar Karein Ya Na Karein,
Magar Humne Toh Apne Dil Ko Bekarar Kar Diya.
----------
Aapse Pyar Karne Ko Dil Karta Hai,
Aapko Baahon Mein Bharne Ko Dil Karta Hai,
Ek Aap Hi Toh Is Duniya Mein Jispe,
Dilo Jaan Nisaar Karne Ko Dil Karta Hai.
----------
Ek Din Aap Hamein Hi Chahoge Dekh Lena,
Hum Khuda Se Aapko Maang Laayenge Dekh Lena,
Shayad Aapko Hamari Mohabbat Ka Ehsas Nahi Hai,
Aapse Hi Iska Izhaar Karvaayenge Dekh Lena.
----------
Agar Hum Na Mile Hote Unse,
To Yeh Dil Na Yun Bekarar Hota,
Na Najrein Milti Unse Kabhi,
Na Humko Un Se Pyar Hota.
----------
Unki Khubsurati Ki Kya Taarif Karun Eh Yaaron,
Khuda Bhi Un Jaisa Koi Aur Na Bana Paya Hoga,
Main Toh Pareshan Hun Yeh Sochkar Ki Shayad,
Na Zindagi Mein Aayega, Na Un Jaisa Koi Aaya Hoga
----------
Jamaana Agar Hum Rooth Bhi Jaaye Toh,
Is Baat Ka Hamein Gham Na Koi Hoga,
Magar Aap Jo Humse Khafa Ho Gaye Toh,
Hum Par Is Se Bada Sitam Na Koi Hoga.
----------
Zindagi Mein Bahut Kuchh Khoya Hai Humne,
Magar Ab Toh Kuchh Paane Ki Tamanna Hai Hamein,
Aap Humse Dil Lagayein Ya Na Lagayein,
Magar HumKo Aapse Dil Lagane Ki Tamanna Hai.
----------
Jaise Julfon Ki Lat Hai Chehre Ke Karib Tere,
Kaash Hum Bhi Aaj Tere Itne Karib Hote,
Tere Phulon Se Chehre Ko Hardam Niharte Hum,
Kaash Aisi Hoti Kismat Aise Naseeb Hote.
----------
Is Mohabbat Ka Koi Raaz Na Jaane,
Jaane Sab Ko Kaise Hoti Hai,

Yeh Dil Toh Aapko Apna Maane,
Jaane Kaise Hota Hai,

Ehsas Tumhara Is Dil Mein Hardam Rehna,
Jaane Kaise Hota Hai,

Chup Chap Rah Kar Bhi Sab Kuch Kah Jaana,
Jaane Kaise Hota Hai,

Rooh Mein Samaa Ke Aankhon Mein Aa Jaana,
Jaane Kaise Hota Hai,

Is Mohabbat Ka Koi Raaz Na Jaane,
Jaane Kaise Hota Hai.
----------
Woh Itne Hasee Honge Eh Mere Dosto,
Dil Ko Is Baat Ka Yakee Aata Nahi,
Ab Toh Unko Paane Ki Chahat Ho Gayi,
Unke Bina Ab Kuchh Bhata Nahi.
----------
Aapki Pooja Karte Hain Hum,
Aap Par Hi Bas Marte Hain Hum,
Humko Aapse Bahut Pyar Hai,
Aapko Kahne Se Darte Hain Hum.
----------
Bhale Kitne Hi Khafa Hote Ho Tum Hamse,
Magar Paas Hote Ho Toh Sab Achha Lagta Hai,
Baaki Saari Kaynat Lagti Hai Jhooti Si,
Bas Ek Aapka Pyar Sachha Lagta Hai.
----------
Agar Thak Jaao Kabhi Toh Humse Kahna,
Hum Utha Lenge Tumko Apni Baahon Mein,
Aap Ek Baar Pyar Karke Toh Dekho Humse,
Hum Khusiyan Bichha Denge Aapki Raahon Mein.
----------
Agar Zindagi Mein Kabhi Pyar Hum Karenge,
Har Haal Mein Us Pe Aitbar Hum Karenge,
Karenge Hum Sada Poori Har Aarju Uski,
Wada Raha Na Kabhi Takrar Hum Karenge.
----------
Karta Hun Aaj Tuhse Yeh Wada,
Har Ek Kadam Tere Saath Rahunga,
Bharunga Teri Jholi Main Khusiyon Se,
Tere Liye Toh Har Gham Main Sahunga.
----------
Tujhsa Hansi Na Dekha Humne,
Sara Zamana Dekh Liya,
Tere Aaghosh Mein Aake Humdam,
Savrag Suhana Dekh Liya.
----------
Aap Humse Pyar Karke Toh Dekhiye,
Hum Aapke Sare Gham Apne Bana Lenge,
Chhinkar Is Saare Jahan Ki Khusiyan,
Dekhna Aapke Kadmon Tale Bichha Denge.
----------
Jeevan Mein Bas Aap Se Hi Pyaar Kiya Tha,
Aapse Hi Toh Mohabbt Ka Izhaar Kiya Tha,
Agar Chhodna Tha Yun Hi Toh Inkar Kar Dete,
Tab Toh Aapne Bhi Dil Se Ikrar Kiya Tha.
----------
Main Kya Dekhun Is Duniya Ke Najare,
Mujhe Tere Chehre Se Fursat Nahi Hai,
Sagar Pana Chahta Hai Bas Tujhko,
Mujhe Aur Kisi Ki Jarurat Nahi.
----------
Tere Hi Dam Se Zinda Hun Yaar,
Sirf Tumhi Se Karta Hun Main Pyar,
Jaan Ho Meri Tum Ho Mera Karar,
Sirf Tumhi Se Karta Hun Main Pyar.
----------
Abhi Abhi Toh Aaye Ho Eh Mere Hamdam,
Aur Abhi Jaane Ki Baat Karte Ho,
Yeh Kaisi Hai Sanam Mohabbat Aapki,
Aap Dil Dukhane Ki Baat Karte Ho.
----------
Najar Na Lag Jaaye Kahin Aapko Kisi Ki,
Sari Duniya Se Chhupakar Aa Rakh Lu Tujhko,
Bas Itni Si Aarju Hai Hamari Toh Jeevan Mein,
Har Janam Mein Pyar Milta Rahe Aapka Mujhko.
----------
Juda Tumse Hokar Na Ji Paaunga Main,
Usi Pal Tadap Tadap Kar Mar Jaaunga Main,
Tere Sang Hi Jeevan Bitana Hai Mujhko,
Tere Bina Na Kuchh Bhi Ban Paaunga Main.
----------
Teri Har Ada Mein Koi Baat Hai,
Main Deewana Sa Hua Jaata Hun,
Har Kisi Mein Dekhta Hun Tumko,
Khud Se Begana Hua Jata Hun.
----------
Mere Dil Mein Rahna Tum Oh Sanam,
Kya Karna Is Char Deewari Ka,
Bas Hum Jee Lenge Ek Dooje Ke Liye,
Chhod Denge Is Duniya Sari Ko.
----------
Jabse Dekha Hai Najron Ne Aapko,
Inko Aur Kuchh Bhi Najar Nahi Aata,
Na Jaane Kaisa Kiya Hai Jaadu Aapne,
Koi Aur Chehra Isko Nahi Bhata.
----------
Bhale Bhool Jana Aap Hamein,
Hum Aapko Bhool Na Paayenge,
Aapka Hi Saath Mangenge Sada,
Hum Jab Bhi Jahan Mein Aayenge.
----------
Chup Rahkar Bhi Kya Karte,
Aaj Bol Diya Ki Pyar Hai,
Ab Hoga Jo Woh Dekh Jaayega,
Ab Kah Diya Ki Ikrar Hai.
----------
Tere Bina Main Kuchh Bhi Nahi,
Tere Saath Hi Sab Baharein Hain,
Jo Teri Baahein Hain Hamdam,
Sagar Ke Yahi Toh Kinare Hain.
----------
Chand Taaron Ki Hamein Jarurat Nahi,
Humko Toh Bas Aapka Pyar Chahiye,
Aur Kuchh Nahi Mangunga Aapse Kabhi,
Pyar Ki Dolat Bas Besumar Chahiye.
----------
Aap Aayenge Kab Talak Itna Toh Bata Dijiye,
Aap Ke Intezaar Mein Kkhud Ko Bhulaye Baithe Hain,
Wapas Ja Na Paoge Bas Ek Baar Chale Aao,
Aapki Raahon Mein Hum Palkein Bichhye Baithe Hain.
----------
Aap Aayenge Kab Talak Itna Toh Bata Dijiye,
Aap Ke Intezaar Mein Kkhud Ko Bhulaye Baithe Hain,
Wapas Ja Na Paoge Bas Ek Baar Chale Aao,
Aapki Raahon Mein Hum Palkein Bichhye Baithe Hain.
----------
Kuchh Der Aur Agar Aap Thahar Jaate,
Toh Dil Ke Armaan Main Pure Kar Leta,
Aankhon Mein Basakar Kar Leta Band Inko,
Fir Hanskar Sabke Sitam Jar Leta.
----------
Pyar Mein Tere Hum Is Kadar Kho Gaye Hain,
Zamane Se Bekhabar Hum Tere Dil Mein So Gaye Hain,
Mat Uthana Ab Hamein Apne Dil Ki God Se,
Hum Sada Ke Liye Ab Tumhaare Ho Gaye Hain.
----------
Mera Chain Chheen Liya Hai Tere Nain Ne,
Tadpu Bepanah Rahu Bechain Main,
Har Pal Main Tujh Par Jaan Nishar Karta Hun,
Tujhe Pata Nahi Kitna Main Pyar Karta Hun.
----------
Dil Ke Kisi Kone Mein Ab,
Koi Jagah Nahi,
“E-Sanam”
Ke ..
Tasveer Humne Har Taraf,
Teri Laga Di.
----------
Jaanu Na Main Kya Ajib Si Muskurahat Hai Tumhari,
Kyon Uspe Main Apna Sab Kuch Vaar Deti Hun,
Jaanu Na Main Kya Ajib Si Chahat Hai Tumhari,
Kyon Uspe Had Se Gujar Jana Chahti Main Hun,
Kya Baat Hai Tujme Mere Yara,
Dil Chir Ke Dekho Sirf Tera Hi Naam Likha Hai Usmein Yara,
Jaanu Na Main Aisi Kya Kashish Hai Aap Ke Pyar Mein,
Aapki Baahon Mein Aakar Bikhar Jati Main Hun,
Jaanu Na Main Aisa Kaun Sa Dard Hota Hai Pyar Mein,
Par Tu Jo Saath Hai Mere To Har Dard Sahe Jati Main Hun,
Jaanu Na Main Yeh Ajib Si Zindagi Ki Mushkil Raahein,
Par Haath Tera Mere Haath Mein Hai,
To Har Mushkil Se Lad Jati Main Hun.
----------
Chahte Hain Aapko Kitna,
Yeh Koi Nahi Jaanta,
Aap Ke Bina Hum Jiye,
Yeh Dil Hi Nahi Manta.
----------
Nagme Toh Kayi Sune Honge,
Jahan Mein Magar,
Mujhsa Nagma Na Kahin Suna Hoga,
Aashiq Toh Kayi Honge,
Jahan Mein Magar,
Mujhsa Chahne Wala Na Kahin Hoga,
Tumhein Khusi Dene Ki Khatir,
Tujh Se Dil Laga Baithe,
Armaa Na Tha Mohabbat Ka,
Tujh Se Mohabbat Kar Baithe.
----------
Us Mahboob Ko Poojte Hain,
Jinhein Pyar Hum Karte Hain,
Us Husan Ko Hum Chahte Hai,
Jis Par Hum Aahein Bharte Hain.
----------
Badi gahrai se chaha hai tujhe,
Badi duao se paya hai tujhe,
Tujhe bhulane ki sochu bhi to kaise,
Kismat ki lakiro se churaya hai tujhe.
----------
Unse Door Bhala Hum Kaise Reh Pate,
Dil Se Unhe Kaise Bhula Pate,
Kaash Ki Woh Sanso Ke Illava Aayine Mein Bhi Hote,
Khud Ko Bhi Dekhte To Woh Nazar Aate.
----------
Dil Ka Rishta Hai Hamara,
Dil Ke Kone Mein Naam Hai Tumhara,
Har Yaad Mein Hai Chehra Tumhara,
Hum Sath Nahi To Kya Hua,
Zindagi Bhar Pyar Nibhane Ka Wada Hai Hamara.
----------
Kaash Aisa Ho Ki Tumko Tumse Chura Loon,
Waqt Ko Rok Kar Waqt Se Ek Din Chura Loon,
Tum Paas Ho To Is Raat Se Ek Raat Chura Loon,
Tum Saath Ho To Is Jahan Se Ye Jahan Chura Loon.
----------
Kosish Bahut Ki Dil Ko Samjhne Ki,
Aankho Ko Kasam Di So Jane Ki,
Bahut Samjhaya Phir Bhi Aankhe Nahi Soyi,
Soyi Tab Jab Maine Baat Ki Aapke Khawabo Me Aane Ki.
----------
Dil Ki Kitaab Kaa Panna Churaa Le Gyaa Koi,
Neend Aankhon Se Udaa Le Gaya Koi,
Peene Ki Aadat Nahi Thi,
Humein Zaam Nigahoon Se Pilaa Gaya Koi.
----------
Humne Chaand Se Pooha,
Teri Chaandni Ka Raaz Kya Hai,
Chaand Ne Aapki Taraf Ishara,
Kar Ke Kaha Inhi Say Pucho Jisay,
Dekh Kar Main Chamakta Hoon.
----------
Jaan Hai Mujhko Zindagi Se Pyari,
Jaan Ke Liye Kar Doon Kurban Yaari,
Jaan Ke Liye Todd Doon Dosti Tumhaari,
Ab Tumse Kya Chhupana,
Tum Hi To Ho Jaan Hamaari.
----------
Pyaar Mein Milne Ki Zaroorat Hoti Hai,
Naa Milon To Phir Shikayat Hoti Hai,
Khamosh Rahe Lab Naa Bole Beshaq,
Lekin Aankhon Mein Mohabbat Hoti Hai,
Rakh Lo Chaahe Sau Pardon Mein Ishq,
Zamaane Mein Phir Bhi Fasiihat Hoti Hai,
Jo Itna Paas Rehke Dil Se Door Ho Jaye,
Woh Kya Jaane Ashq Ki Bhi Kimat Hoti Hai,
Khwaab Ki Teh’ni Paka’d Soya Reh Kitnaa,
Jab Hoye Naa Puraa To Musiibat Hoti Hai,
Ulfat Mein Roothne Ki Riit Puraani Hai,
Dil Naa Maane Manaane Ki Tabiiyat Hoti Hai.
----------
Yaadon Ke Bhanwar Mein Ek Pal Humara Ho,
Khilte Chaman Mein Ek Gul Humara Ho,
Aur Jab Yaad Kare Aap Apno Ko To Uss,
Yaad Mein Ek Naam Hamara Ho.
----------
Pal Bhar Ke Liye Agar Woh Hamein Apna Bana Le,
Aapne Zeevan Ka Agar Woh Sapna Bana Le,
Phir Bhale Hi Woh Mera Dil Tod De,
Bus Is Raat Ke Liye Woh Mujhe Sajna Bana Le.
----------
Is Se Pahle Ki Saare Khwab Toot Jaayein,
Aur Yeh Zindagi Hum Se Rooth Jaaye,
Ek Doosre Ke Pyar Mein Kho Jaayein Iss Kadar ,
Ke Hum Saare Ghamon Ko Bhool Jayein.
----------
Khata Pahli Samajh Kar Maaf Kar Dena,
Raah E Wafa Mein Ho Jaaye Jo Gunaah Hamse,
Mohabbat Ki Hadein Paar Kar Chuke Hain Sanam,
Phir Kaise Hain Dilbar Yeh Parde Hum Se.
----------
Chaahat Ke Yeh Kaise Afsane Huye,
Khud Nazron Mein Apni Begane Huye,
Kisi Bhi Riste Ka Khayal Nahi Mujhe,
Ishq Mein Tere Is Kadar Diwaane Huye.
----------
Sitaron se aage bhi koi jahan hoga,
Jahan ke saare nazaron ki kasam,
Aapse pyaara wahan bhi na hoga.
----------
Sajti rahe khushiyon ki mehfil,
Har Khushi suhani rahe,
Aap zindgi mein itne khush rahe,
Ki har khushi aapki diwani rahe.
----------
Aa teri umar main likh doon chand sitaron se,
Tera janam din main manau phoolon se baharon se,
Har ek khoobsurti dunia se main le aau,
Sajaun ko yeh mehfil main har haseen nazaron se.
----------  
Saari Umar Aankho Mein Ek Sapna,
Yaad Raha,
Sadiyaan Beet Gayin Woh Lamha,
Yaad Raha,
Jaane Kya Baat Hai Aap Mein,
Saari Mahfil Bhool Gaye Bas Woh Pal,
Yaad Raha.
----------  
Aaj Humse Woh Door Hain Bahut Yeh Mana,
Magar Yaadon Mein Hum Unko Yaad Karte Hain,
Unse Sapno Mein Hi Mila De Eh Maalik,
Bas Hardam Hum Yahi Fariyaad Karte Hain.
----------  
Kaif Mein Duba Hua Hoon Aalam E Tanhayi Hai,
Phir Teri Yaad Dabe Paanv Chali Aayi Hai,
Shab E Taarik Pe Chhayi Huyi Ranayi Hai,
Yeh Teri Zulf Ke Saaye Hain Ke Parchhayi Hai,
Tere Deevane Ko Itna Bhi Ab Hosh Nahi,
Yeh Tera Aaghosh Hai Ya Ghausha E Tanhayi Hai.
----------
Ek Aapko Paane Ki Khatir Sanam,
Aap Dekhna Hum Kya Kya Kar Jaayenge,
Bas Aap Yaad Rakhna Apna Wada,
Hum Toh Saare Jahan Se Lad Jaayenge.
----------  
Laakh Karta Hun Koshish Ki Yeh Na Aaye,
Aa Hi Jaati Hai Kambhakt Yaad Aapki,
Sari Sari Raat Fir Na Deti Hai Sone,
Mere Sanam Pyari Si Baat Aapki.
----------
Mohabbat Aur Kisi Se Bhi Hoti Hai Jamane Mein Dosto,
Jaruri Nahi Ki Hasino Se Hi Pyar Kiya Jata Hai,
Aankhon Aankhon Mein Bhi Ho Jaati Hai Baatein Kai Aksar,
Jaruri Nahi Hamesha Aankhon Se Hi Ajhar Hota Hai.
----------
Tum Puchhte Ho Dil Kyu Bharta Hai Aahein Mera,
Hum Kahte Hain Ke Koi Isko Bhi Samjha De,
Aakar Tum Hi Puchh Lo Jo Tum Janana Chahte Ho,
Ki Kya Hua Hai Yeh Shayad Tum Ko Hi Bata De.
----------  
Umar Ki Raah Mein Raste Badal Jate Hai,
Waqt Ki Aandhi Me Insan Badal Jate Hai,
Sochte Hai Tumhe Itna Yaad Na Kare Lekin,
Ankh Band Karte Hi Irade Badal Jate Hai.
----------  
Kadmo Ki Duri Se Dilo Ke Fasle Nahi Badhte,
Dur Hone Se Ehsas Nahi Marte,
Kuch Kadmo Ka Fasla Hi Sahi Hamare Beech,
Lekin Aisa Koi Pal Nzhi Jab Hum Apko Yaad Nahi Krte..
----------
Bheegi Palkon Ke Sang Muskurate Hain Hum,
Pal Pal Dil Ko Kuch Aur Behlate Hain Hum,
Tu Door Hai Humse To Kya Hua Mere Dilbar,
Har Saans Mein Teri Aahat Paate Hain Hum.
----------  
Yaad Aane Wale Yaad Aaye Ja Rahe Hain,
Mere Khyalon Kee Duniya Par Chaye Ja Rahe Hain,
Hum Kuch Keh Rahe Hain Par Wo Chup Hain,
Bas Mera Khat Padh Kar Muskuraye Ja Rahe Hain.
----------
Dosti karna hame bhi sikhao,
Dil ke kisi kone me hame bhi bithao,
Ham tumhare dil me hain ki nahi,
Zuban se na sahi SMS se to batao.
----------
Ye dil bda kamjor hai ise koi samjhata nahi,
Ye tumse pyar bahut karta hai par keh pata nahi,
Darta hai kahi tumne ise thukra na do,
Kyuki ek tum hi ho jiske bina ye rah pata nahi.
----------  
Yaad ap ko kuchh is trah karte hain,
Ki ap ki yaado mein hi khoye rahte hain,
Kab gujar jati hain din aur rate,
Fir bhi ap ki khyalo me jagte hue hi soye rahte hain.
----------
Rahenge tere dil me hardam,
Humara pyar kabhi na hoga kam,
Chahe kitni bhi aaye zindgi me khusiyan aur gum,
Rahenge hum dono sath sath hardam.
----------
Tera hi ishq hai meri bandag…
Mujhe aur kuch to khabar nahi..
Tujhe dekh kar dekhun aur kahin..
Ab mere paas wo nazar nahi..!!!
----------
Bahut ajeeb hai yeh bandhishe Mohabbat ki ..
Na us ne Qaid mein rakha ..
Na hum Farar huye.
----------  
Chand bhi tanha,
Raat bhi tanha,
Aur tanha meri Zaat hai,
Phir Toot ke ye yaad aaya,
Ajeeb December ki ye Raat hai.
----------
Aadhi raat ko sapna aa jaata hai,
Phir sona mushkil ho jaata hai,
Khuda ki kasam yaaro maine pyar nahi kiya,
Ye pyaar to apne aap hi ho jaata hai…
----------
Teri aankhe samundar ki tarah gahri hain sathi..
Yun to tairna aata hai mujhko par..
Unme dub jaane ka maza kuchh aur hai.
----------
Tum mujhe kabhi dil to ..
Kabhi aankho se pukaro,
Ye hontho ke tabassum to ..
Jamane ke liye hain.
----------
Mere kuch lafz aise hain,
Jo apni band aankhon se,
Tere dil ki her ek tehreer parhte hai,
Woh hain to lafz he lekin,
Woh ek taqdeer rakhtr hai,
Kabhi jo rooth jao tum,
Na mujhse maan pao tum,
To tumko woh manane ki,
Her ek tadbeer rakhte hain,
Mere kuch lafz aise hain.
----------
Apna Humsafar Bana Le Mujhe,
Tera Hi Saya Hu Apna Le Mujhe,
Ye Raat Ka Safar Or Bhi Hasin Ho Jayega,
Tu Aa Ja Mere Sapno Me Ya Bula Le Mujhe.
----------
Kya nasha hai ishq aaj tak samajh na paye hum,
Un nashili ankho me kahi ho na jayenge gum,
Yun to ishq samajh nahi aata najane kya bala thi ye,
Ke juda hone pe unke yeh ankhe ho gayi hai num.
----------
Aaj pyari si subha boli,
Uth dekh kya najara hai,
Maine kaha Ruk pahle use message bhej du,
Jo ise subha se bhi pyara hai.
----------
Har Subha Teri Duniya Me Roshni Kar De,
Rab Tere Gam ko Teri Khushi Kar De
Jab Bhi Tootne Lage Teri Sanse,
Khuda Tujhme Shamil Meri Zindagi Kar De.
----------
Hamne To Kaha Tha Mat Dekho Khwab Hamare,
Tumne Fir Bhi Khwabo Mai Basaya Hamko,
Kar Khud Ki Mohabbat Ko Buland Jara,
Aur Kismat Ke Panno se Chura Lo Hamko.
----------
Zindgi Raaz Hai To Raaz Rehne Do,
Agar H Koi Aitraaz To Aitraaz Rehne Do,
Par Agar Apka Dil Kahe Hume Yaad Karne Ko,
To Dil Ko Ye Mat Kehna Ki Aaj Rehne Do.
----------
Raat Hoti Hai Har Shaam K Baad,
Teri Yaad Aati Hai Har Baat K Baad,
Hamne Khamoos Reh Kar Bhi Dekha Hai,
Teri Awaaz Aati Hai Meri Har Saans K Baad.
----------
Gulab ki mehak bhi fiki lagti hai,
Kaun si khushbu mujhme basa gayi ho tum,
Zindgi hai kya teri chahat ke siva,
Yeh kaisa khwab aankho ko dikha gayi ho tum.
----------
Na gharz kisi se,
Na wasta,
Mujhe kaam hay apne kaam se ..
teray zikr se,
teri fikar se,
teri yaad se,
tere naam se.
----------
Wo Ankhon ke Samne rehne lga hai aajkal,
Kyun yaad aane lga hai pal pal,
Kyun khoyi khoyi si ye Nazar hai,
Pyaara Lagne lga yeh lamba safar,
Waqt ka Na hosh hai Na darr kisi cheez ka,
Rub-a-ru huyi intezaar tha Jis tasveer ka.
----------
Ae neend zara dhire aa,
Lagta hai unke khwabo me ane ka waqt ho gaya hai,
Is pal ke intezar me, suraj dhal gaya hai,
Yahi waqt hai mulakat ka,
Kya btaye yaaro kitna haseen khwab aaya hai,
Shayad ruthe the wo humse,
Pehli bar kisiko manane me maza aya hai.
----------
Us Ke Bina Ab Chup Chup Rehna Acha Lagta Hai,
Khamoshi Se Dard Ko Sehna Acha Lagta Hai,
Jis Hasti Ki Yaad Mein Din Bhar Aansoo Behte Hain,
Saamne Us Ke Kuch Na Kehna Acha Lagta Hai,
Mil Ker Us Se Bichar Na Jaon Darti Rehti Hoon,
Is Liye Bas Door Hi Rehna Acha Lagta Hai.
----------
Teri har baat se mohabbat ki hai,
Tere ehsaas se mohabbat ki hai,
Tu mere paas nahi hai phir bhi,
Teri yaad se mohabbat ki hai,
Main tum ko kis tarha bhool sakta hoon,
Maine teri har ada se mohabbat ki hai,
Kabhi to usne bhi mujhe yaad kiya hoga,
Maine un lamhe se mohabbat ki hai.
----------
Mere mehboob me kyun na tujhe pagal kar doon..
Ban kar pyaas main khud tujhe badal kar doon..
Tu baras jaye shiddat se muhabbat ki ghata ban kar..
Me ban ka nasheb tera khud ko jal thal kar doon..!!
----------
Kash Me Aisi Ghazal Likhu Teri Pyar Me,
Tera Aks jhalakta Ho Mere Har Alfaz Me,
Tere Liye Aise Moti Sajau Alfazo Ki Surat Me,
Jis Ka Na Zikr Ho duniya ki Kisi Kitab Me..
----------
Chahat ki mehfil main bulaya hai kisi ne,
Khud bula ker phir sataya hai kisi ne,
Jab tak jali hai shama jalta raha parwana,
Kya is tarhan saath nibhaya hai kisi ne.
----------
Haste dilo me gham bhi hai,
Muskurati aankhe kabhi nam bhi hai,
Dua karte hai aapki hansi kabhi na ruke,
Kyunki apki muskurahat ke deewane hum bhi hai.
----------
Paheli bar tumne hume itne pyar se dekha ki ..
Hum aap ke baremein sochne lege,
Aur ek bar dekhengein to ..
Pyar ka itbar karne ko sochane lage.
----------
Kash Tum Samjh ,
Kitna Chah Hai Tumko,
Kitna Dhonda Hai Tum Ko,
Kis Qadar Muhabbat Hai,
Kis Qadar Zarorat Hai,
Kash Tum Samjh Pate,
Jaan Ye Tumhari Hai,
Her Khushi Tumhari Hai,
Dil Lagi Tumhi Se Hai,
Zindagi Tumhi Se Hai,
Rooh Ki Zarorat Ho,
Meri Tum Muhabbat Ho,
KASH TUM SAMJH Pate.
----------
Jaha dekhu samne nazaar ati ho tum,
Pyaar ki parichayiyo se hamesha yaad ati ho tum,
Mere Khwaboo ki duniya me rehti ho tum,
Mere pass ake muskurati ho tum,
Mohabat ki in raho me aake tadapati ho tum,
Pyaar hume de kar door cheli jati ho tum.
----------
Inkaar bhi tum ho, Ikraar bhi Tum ho,
Meri zindagi ka, pehla pehla pyaar Tum ho,
Aaati ho khwaabo mein muskurate huye,
Shayad !! Mere khwaab ki taaabir Tum ho,
Kabhi Surkh,kabhi Zard,kabhi Sabz rang mein
Gulshan ke har Gul ke rango mein Tum ho,
Girti huweee Zulf teri, Jaise ho Aabshaar,
Fanoos se girte huye Jharno mein Tum ho,
Gazaali Aankhein udhjaye teri, to ho jaye Sawera,
Taab-e-Aftab mein , to kabhi Mahtaab mein Tum ho,
Teri ek nazar humpar bhi Inayaat ho jaye ! Sabaa !!!
Meri dhadkan, meri Rooh, mere Khoon ke katro mein Tum ho !!!
----------
Dhadakte huye dil ka qaraar ho tum,
Inn saji mehfilon ki bahaar ho tum,
Tarasti huyi nigaahon ka intezaar ho tum,
Naz(naam) ki zindagi ka pehla pyar ho tum.
----------
Dekha Hai Tuje Meri Ankhoon Ne,
Chooa Hai Tuje Meri Hontoon Ne,
Hum Ne To Kuch Nahi Kiya Sanam,
Pyaar Kiya Hai Tuje Mere Hathoon Ne.
----------
Tum Mera Pyaar Bhi Meri Chahat Bhi,
Is Dil Ki Dhar Kan Or Karar Bhi Tu Hai,
Mere Pyaar Ki Tum Hi Manzil Ho,
Is Jahaa Me Sab Se Kaareeb Tu Hai,
Meri Raton Ki Chandni Bhi Ho Tum,
Meri Zindgi Ka Ujala Tum Ho Sanam,
Dil Ki Baaggia Sirf Tum Se Khili,
Mere Gulfam Bhi Tu Gulshan Tu Hai.
----------
Thora Likhti Ho Kya Khoob Likhti Ho,
Choti Si Soch Kamal Zahn Rakhti Ho,
Khushi Deni Ya Gham Kya Stock Rakhti Ho,
Manti Nahin Modern Hoon Q Naqab Main Rahti Ho.
----------
Apko Dekhkar Ye Nigah Jhuk Jayegi,
Khamoshi Har Bat Keh Jayegi,
Pad Lena In Ankhon Mein Apne Pyar Ko,
Apki Kasam Sari Kaynaat Wahi Ruk Jaegi.
----------
Hum Karte Hain Tum Se Pyar Tum Se Hi Pyar Karenge,
Aaj Ye Sari Duniya K Samne Iqraar Karenge,
Kabhi To Jhalak Do Hamari In Tarasti Nighaon Ko,
Phir Shaam O Saher Tumhara Hi Deedar Karenge.
----------
Saamne Baithe Raho,
Dil Ko Qaraar Aayega,
Jitnaa Dekhenge Tumhe,
Utnaa Hi Pyar Aayega.
----------
Is Duniya Se Tumse Pahle Main Chala Jaaonga,
Aasmaan Par Jakar Ek Aashiyana Banaunga,
Jahan Chand Aur Taare Tumara Kahna Manega,
Wahan Main Tumahare Pyaar Ka Jahan Sajaunga.
----------
Hum apni deewangi se jaane jaate hain,
Wo apni be-rukhi se pehchaane jaate hain.
Roz miltey hai lekin kuch kehte sunte nahi,
Mere saamne wo meri dharkan barhaane aate hain,
Shab-bhar Intzaar me hum taare dekha karte hai,
Sawera hone se pehle wo chand bujhane aate hain.
----------
Sitam Ko Hamne Berukhi Samjha,
Pyar Ko Hamne Bandgi Samjha,
Tum Chahe Mujhe Jo Samjho,
Hamne To Tumeh Apni Zindagi Samjha.
----------
Raah me uske roshni karne ko ..
Hum apna dil bhee jalaa dete ..
Wo kehte to sahi hamse dil ki baat ..
Hum sunne ko uski bat saare jahaan ko khamosh karaa dete ..
----------
Uske bina duniya suni si lagti hai ..
Bin uske Zindgi adhuri si lagti hai ..
Pata Nahi kyu chahte hain Hum usko itna ..
Ki uske Bin jeena bhi majburi si lagti hai….
----------
Izhaar mohabbt ka kuch aise huya,
Kya kahe pyar kaise huya,
Unki ek jhalak pe nisar huye hum,
Sadgi mein marr-mitte aur ankho se ikarar huya.
----------
Raat ka andhera kuch kehna chahta hai ..
Yeh chand chandni ka sath rehna chahta hai ..
Hum to tanha hi khush the ..
Mager pta nhi kyu yeh dil ab ..
Kisi ke sath rehna chahta hai ..
----------
Aankho me teri hain mera ha chehra,
Chaahe too ye maane ya na maane,
Teri mohabbat pe hai mera pehra,
Chaahe too ye maane ya na maane,
Tere liye main jate huye lamho ko mod lu,
Tere dhadkano ko chhu lu teraa jism odh lu.
----------
Sukun milta hai jab unse baat hoti hai,
Hazar raato mein wo ek raat hoti hai,
Nigah utha ke jab wo dekhti hai meri traf,
Wo ek nigah meri puri kaynaat hoti hai.
----------
Jab bhi dekha hai us chand ko,
Usme shirf tumhi nazar aate ho hume,
Kardo meri zindegi ko roshan aapni chandni se,
Ab to tere kirno me bhigne ki tamanna hai hume.
----------
Uske pyar mein do pal ki zindgi bahut hai,
Ek pal ki hasi aur ek pal ki kushi bahut hai,
Ye dunia mujhe jane ya na jane,
Uski ankhe muje pehchan le yahi mere liye bahut hai.
----------
Sun li jo khuda ne woh dua tum to nahi ho,
Darwaazey pe dastak ki sadaa tum to nahi ho,
Simtti huyi sharmaayi huyi raat ki raani,
Soyi huyi kaliyon ki hayaa tum to nahi ho,
Mehsoos kiya tum ko to geeli hui palkein,
Bheegey huye mausam ki adaa tum to nahi ho,
----------
Hai tumari wafaon pe mujhko yaqeen,
Phir bhi dil chata hai mere dil nasheen,
Yunhi meri tasalli ki khatir zara,
Mujhko apna banane ka wada karo.
----------
Aapki Yaad Ne Mujko Beqrar Kar Diya,
Tanha Jeena Mera Dushwar Kar Diya,
Socha Aaj Apko Hum Yaad Na Kare,
Kambakht Dil Ne Dhadkne Se Inkar Kar Diya,
----------
Akash ke taro me khoya hai jaha sara,
lagata hai pyara ek-ek tara,
un taro me khoya hai ek sitara,
jo is waqt pad raha hai SMS hamara.
----------
Tera Chehra Jab Samne Aaya,
Mera Dil Dekh Tumko Muskuraya,
Shukr Karta Hu Ma Us Khuda Ka,
Jisne Mujhe Tujhse Milaya.
----------
Mere paas mere Habeeb Aa,
Zara aur dil k qareeb aa,
Tujhe dharkanon main basaon main,
K bicharne ka kabi darr na ho..
----------
Muskurao Tum To Khushbu Bikhar Jaye,
Baate Karo To Dil Machal Jaye,
Itni Dilkash Hai Teri Ada,
Ki Insaan To Kya,
Khuda Bhi Aap Per Fida Ho Jaaye.
----------
Kaho To Phool Ban Jau,
Tumhari Zindagi Ka Ek Asool Ban Jau,
Suna Hai Rait Per Chal K Tum Mehak Jate Ho,
Kaho To Ab Ki Baar Zameen Ki Dhool Ban Jau,
Bohat Nayab Hote Hain Jinhain Tum Apna Kehte Ho,
Ijazat Do K Main Bhi Iss Qdar Anmool Ban Jau…
----------
Main Mar Jaun To Mujhe Jala Dena,
Usse Pahle Mera Dil Ko Nikal Lena,
Mujhe Parwah Nahi Is Dil Ki Jal Jane Ki,
Mujhe Parwah Hai Is Dil Mein Rahne Wali Ki.
----------
Taare Toh Door Hain Fir Bhi Chamakte Hain,
Baadal Toh Door Hain Phir Bhi Baraste Hain,
Hum Bhi Kitne Nadan Hain,
Aap Hamare Dil Mein Hain Aur Hum Aapse Milne Ko Taraste Hain.
----------
Na Hogi Mohabbat Mujhe Kisi Se Tere Siwa,
Na Rahi Ab Zaroorat Kisi Ki Tere Siwa,
Dhondh Rahi Thi Ankhain Jisko Sadiyoon Se,
Duniya Mein Woh Chehra Kisi Ka Nahi Tere Siwa.
----------
Apke aane se zindagi kitni Khubsurat hai,
Dil me basi hai jo wo apki hi Surat hai,
Door jaana nahi humse kabhi bhulkar bhi,
Hume har kadam per aapki hi Zarurat hai.
----------
Pariyon se sunder hai mehbooba meri,
Paakar use khud par naaz karta hu,
Har janam mein bas usi ka banna hai,
Ye elaan sareaam karta hu.
----------
Tu bhadkata huya shola hai
Aur main Sheetal shabnam ki tarhan,
Ab dekhna yeh hai ke
Tu pighalata hai mujhe pehle
Yahn mein bujha deti hoon teri pyas.
----------
Pyar kiya to unki mohabbat nazar aayi,
Dard huya to palke unki bhar aayi,
Do dilon ki dharkan me ek baat nazar aayi,
Dil to unka dharka par awaz is dil se aayi.
----------
Ah Khuda Aaj Yeh Faisla Kar De,
Use Mera Yaa Mujhe Uska Kar De,
Bahut Dard Sahe Hain Maine,
Koi Khusi Ab Toh Mukkadar Kar De,
Bahut Muskil Lagta Hai Us Se Door Rahna,
Judai Ke Safar Ko Kam Kar De,
Jitna Door Chale Gaye Who Mujh Se,
Utna Kareeb Kar De,
Nahi Likha Agar Naseeb Mein Unka Naam,
Toh Khatam Yeh Zindagi Aur Mujhe Fanna Kar De.
----------
Jab vo haste hai to raha nahi jata,
Jab vo rote h to saha nahi jata,
Ji chahta ke gale se laga lu,
Par jab vo paas hote hai to kuch kaha bhi nahi jata.
----------
Fiza me mehakti shaam ho tum,
Pyaar me jhalakta jaam ho tum,
Seene me chupaye feerte hain hum yaadein tumhari,
Isliye meri zindagi ka dusra naam ho tum.
----------
Kamaal Ki Funkaari Hain
Tum Mein Aey-Jaana…..!!
Waar Bhi Dil Par Karte Ho
Aur Rehte Bhi Dil Mein…..!!
----------
Log samajhte hain humne unko bhula rakha hai,
wo kya jane ki dil me chupa rakha hai,
dekhe na koi usay meri aankho mein,
isliye palkon ko hum ne jhuka rakha hai.
----------
Aap Hume Bhool Jao Hume Koi Gum Nahi,
Aap Hume Bhool Jao Hume Koi Gum Nahi,
Jis Din Humne Aapko Bhuladiya,
Samajh Lijiyega, is duniya me hum nahi.
----------
Khuda Ne Jab Tujhe Banaya Hoga,
Ek Suroor Sa Uske Dil Mai Aaya Hoga,
Socha Hoga Kya Dunga Tohfe Mai Tujhe,
Tab Jake Usne Mujhe Banaya Hoga.
----------
Palko ko humne jab bhi jhukaya hai,
Bas ek hi khayal aaya hai,
Jis khuda ne tumhe banaya hai,
Tumhe dharti pe bhejke bhala wo kaise jee paaya hai.
----------
Na Jane Kab Wo Haseen Raat Hogi,
Jab Unki Nigahe Humari Nigaho Ke Saath Hogi,
Baithe Hai Hum Uss Raat Ke Intezaar Mein,
Jab Unke Hontho Ki Surkhiya Humare Hontho Ke Saath Hogi.
----------
Mohabbat ke chaand ko apni panah mein rehne do,
Labon ko na kholo aankhon ko kuch kehne do,
Dil peh haath rakho aur kuch der rehne do,
Mujhe mehsoos karo aur apne paas hi rehne do.
----------
Mera har lamha chura liya aapne,
Aankhon ko ek chand dikha diya aapne,
Hamein zindagi di kisi aur ne,
Par pyaar itna dekar jeena sikha diya aapne.
----------
Doorian Bahut Hai Par Itna Smajh Lo,
Pass Rahkar Hi Koi Rishta Khas Nahi Hota,
Tum Dil Ke Pass Itne Ho Ki,
Dooriyon Ka Ehsaas Nahi Hota.
----------
Badi Gahrai se Chaha hai Tujhe,
Badi Duao se Paya hai Tujhe,
Tujhe Bhulane ki Sochu bhi to Kaise,
Kismat ki Lakiro se Churaya hai Tujhe.
----------
Ae barish zara thamke baras,
Jab mere yaar aa jaye to jamke baras,
Pehle na baras ki woh aa na sake,
Phir itna baras ki wo jaa na sake…
----------
Aaj socha ki sms kya bheju,
aap muskurain aisa paighaam kya bheju,
koi phool to mujhe malum nahi,
jo khud gulshan ho use gulaab kya bheju.
----------
Dukh me khushi ki wajah banti hai mohabbat,
dard me yado ki wajah banti hai mohabbat,
Jab kuch bhi acha nhi lagta duniya me,
Tab jeene ki wajah banti hai mohabbat.
----------
Love and Friendship..
Its a package of “feelings”,
Nobody can “Make it”,
Nobody can “Break it”,
Nobody can “Explain it”,
Only “I” and “You” can “feel it” .
----------
Chah kar bhi juda na reh sakoge,
Ruthkar bhi khafa na reh sakoge,
hum Rishta hi kuch aise nibhayege,
Ki Aap humare bina ek pal bhi na reh sakoge.
----------
Muddat se akele the hum,
ek zamane ke baad kisi ka milna achha laga..
Sagar se gehri lagi apki dosti,
tairna aata tha par doob jana achha laga..
----------
Na shikva na gila rahe aapse,
Tamnna hai bas ek silsila rahe aapse,
Haskar fir rona nahi chahte,
Paane ki chaah nahi bas khona nahi chahte.
----------
Na Chorhna Mera Saath…
Zindagi Mein Kabhi,
Shahyad Mein Zinda Hun…
Tere Saath ki Wajah Se.
----------
Khamosh Raastoon Mein,
Tera Saath Chahiye…
Tanha Hai Mera Haath,
Tera Haath Chahiye…
----------
Teri Nigahon Ke Yoon Hi Kayal The Hum,
Kya Jaroorat Thi Aajmane Ki,
Yoon Hi Behosh Pade Hai Teri Rahon Main,
Kya Jaroorat Thi Alag Se Muskurane Ki.
----------
Nazare Mile To Pyar Ho Jata Hai,
Palke Uthe To Izhaar Ho Jata Hai,
Na Jane Kya Kasish Hai Chahat Main,
Ke Koi Anjaan Bhi Hamari….
Zindagi Ka Haqdaar Ho Jata Hai.
----------
Jaante Hain Sab Phir Bhi Aanjaan Bante Hain,
Isi Tarha Wo Humesha Pareshan Karte Hain,
Puchte Hain Humse Ke Aapko Kya Pasand Hai,
Khud Jawaab Hokar Bhi Ye Swaal Karte Hai.
----------
Chahoge agar aap mujhe
chahne walo ki tarah,
sawar jaunga main bhi
bikhre baalo ki tarah…!!
----------
Hum to bheege hai tere ishq ki..
baarish main kuchh is tarah,
Jaise kisi shayar ki..
kalam sayaahi main doobi rehti hai. . !!
----------
Bankar khusbu teri saanso mein bikhar jaungi,
Sukun bankar tere dil mein utar jaungi,
Mehsoos karne ki koshish to karo,
Dur reh kar bhi tere kareeb nazar aaungi.
----------
Pehla pegaam aapke naam likh raha hun,
Apne dil ke arman likh raha hun,
Zara pyar se kholana mere is pyar bhare pegam ko,
Likh pehle kuch aur raha tha ab kuch aur likh raha hun.
----------
Naam ki kya baat kartey ho,
Log chehrey tak bhul jate hain,
Tum Samundar ki baat karte ho,
Dubne wale to Aankho mein bhi doob jate hain.
----------
Bhool Na Jaun Maangna Use Har Namaaz K Baad,
Yahi Soch Kar Humne Naam Uska Dua Rakkha Hai.
----------
Zindagi me kuch aise log hain,
Jo haqiqat mein to samne aate nahi,
aur sapno me aakar jaate bhi nahi…
----------
Labo se chu kar ik jaam dete jana,
Hathon se apne ik paigam dete jana,
Meri mohabbat ko thukraya jo tune,
To ise dosti ka nam dete jana.
----------
Dil ki nazuk dhadkano ko..
mere sanam tumne dhadakna sikha diya,
jab se mila hai tera pyaar dil ko,
gum me bhi muskurana sikha diya.
----------
tere chehre ne kuch aisa gazab dhaya hai,
ki tere Husn se aaj chand bhi sharmaya hai,
maang lete tujhe aaj uss khuda se,
par woh bhi aaj tera gulam nazar aaya hai!
----------
Tanha khud ko kabhi mat hone dena,
apno ko kabhi rone mat dena,
aap bahut khaas hain hamare liye..
Is khayaal ko apne se kabhi juda hone mat dena!
----------
Aankhon me rehne wale ko yaad nahi karte,
Dil me rehne wale ki baat nahi karte,
Hamari to RUUH me bas gaye ho aap,
Tabhi to milne ki FARIYAD nahi karte!
----------
Aankhon ki gehraayi ko samajh nahi paate,
Hoth hai magar kuch hum keh nahi paate,
Apni Dil ki baat kis tarah kahe tumse,
Tum wahi ho jinke bina hum reh nahi paate.
----------
Mehakti baharo me tumhe Phuulon ki tarah dekha hai,
Baraste Sawan me tumhe Buundo ki tarah dekha hai,
saja rakhe hai jo khwab apni zindagi ki raho me,
un raho me tumhe apni dulhan ki tarah dekha hai.
----------
Mast Nazron se dekh lenaa tha
Agar tamanna thi aazmane ki,
Hum to behosh youn hi ho jaate
Kya zaroorat thi muskurane ki.
----------
Aapki Muskurahat ne hame behosh kar diya,
Aapki Muskurahat ne hame behosh kar diya,
Hum Hosh me aane hi waale the,
ki aapne fir se muskura diya.
----------
Tumhari is ada ka kya jawab du,
apne dost ko kya uphar du,
koi achcha sa phool hota to mali se mangvata,
jo khud gulab hai usko kya gulab du.
----------











हैं परेशानियाँ यूँ तो बहुत सी ज़िंदगी में;
तेरी मोहब्बत सा मगर, कोई तंग नहीं करता!
----------
तुम्हारी एक मुस्कान से सुधर गई तबियत मेरी;
बताओ ना तुम इश्क करते हो या इलाज करते हो!
----------
इश्क़ कर लीजिये बेइंतेहा किताबों से;
एक यही हैं जो अपनी बातों से पलटा नहीं करतीं!
----------
बंध जाये किसी से रूह का बंधन;
तो इजहार ए मोहब्बत को अल्फ़ाज़ों की जरुरत नहीं होती!
----------
इतना शौंक मत रखो इन इश्क की गलियों में जाने का;
क़सम से रास्ता जाने का है आने का नहीं!
----------
एक बार उसने कहा था मेरे सिवा किसी से प्यार ना करना;
बस फिर क्या था तब से मोहब्बत की नजर से हमने खुद को भी नहीं देखा!
----------
सिर्फ बिछड़ जाने से ही तो रिश्ता खतम नहीं होता;
प्यार वो कुआ है जिसका पानी कभी कम नहीं होता!
----------
कौन कहता है मुर्दे जिया नहीं करते;
मैंने आशिकों की बस्ती में लाशों को चलते देखा है!
----------
खुदा की रहमत में अर्जियाँ नहीं चलतीं;
दिलों के खेल में खुदगर्जियाँ नहीं चलतीं;
चल ही पड़े हैं तो ये जान लीजिए हुज़ूर;
इश्क़ की राह में मनमर्जियाँ नहीं चलतीं!
----------
पलकों से पानी गिरा है तो उसे गिरने दो;
सीने में कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही होगी!
----------
तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में एक बार;
दर्द हो तो समझ लेना मोहब्बत अभी बाकी है!
----------
कितनी मोहब्बत है तुमसे, कोई सफाई ना देंगे;
साये की तरह रहेंगे तेरे साथ, पर दिखाई ना देंगें।!
----------
लफ़्ज़ों के इत्तेफाक़ में, यूँ बदलाव करके देख;
तू देख कर न मुस्कुरा, बस मुस्कुरा के देख!
----------
आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की;
लम्हें तो अपने आप मिल जाते हैं!
----------
कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है;
कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है;
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से;
तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है!
----------
ख़ुदा तो उसकी आँखों में था;
हम खामखाँ आयतें पढ़ते रहे!
----------
तेरा इश्क़ ही है मेरी बंदगी, मुझे और कुछ तो खबर नहीं;
तुझे देख कर देखूँ और कहीं, अब मेरे पास वो नज़र नहीं!
----------
गीली लकड़ी सा इश्क तुमने सुलगाया है;
न पूरा जल पाया कभी न ही बुझ पाया है!
----------
उसके लिये तो मैंने यहा तक दुआएं की है;
कि कोई उसे चाहे भी तो बस मेरी तरह चाहे!
----------
एहसासों की अगर जुबाँ होती;
दुनियां फिर खूबसूरत कहाँ होती;
लफ़्ज़ बन जातें हैं पर्दे जज़्बात के;
अजी फिर कैसे ये मोहोब्बत बयाँ होती!
----------
लिख दूं किताबें तेरी मासूमियत पर, फिर डर लगता है;
कहीं हर कोई तुझे पाने का तलबगार ना हो जाये!
----------
उम्र निसार दूं तेरी उस एक नज़र पे;
जो तू मुझे देखे और मैं तेरा हो जाउं!
----------
सिर्फ एक बार आओ दिल में, देखने मुहब्बत अपनी;
फिर लौटने का इरादा हम तुम पर छोड़ देंगे!
----------
राख से भी आएगी खुशबू मोहब्बत की;
मेरे खत तुम सरेआम जलाया ना करो!
----------
वो सज़दा ही क्या, जिसमे सर उठाने का होश रहे;
इज़हार-ए-इश्क़ का मजा तब, जब मैं बेचैन रहूँ और वो ख़ामोश रहे!
----------
चलेगा मुक़दमा आसमान में सब आशिकों पर एक दिन;
जिसे देखो अपने महबूब को चाँद जो बताता है!
----------
तुम्हारी दुनिया से जाने के बाद;
हम तुम्हें हर एक तारे में नज़र आया करेंगे;
तुम हर पल कोई दुआ माँग लेना;
और हम हर पल टूट जाया करेंगे!
----------
तेरा अक्स गढ़ गया है, आँखों में कुछ ऐसा;
सामने खुदा भी हो तो, दिखता है हू-ब-हू तुझ जैसा!
----------
अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है;
एक शख्स मेरी इन आँखो में बेतहाशा है!
----------
मेरे आँसुओं से भी आती है खुशबू, जब से इन आँखों में तुझे बसाया है;
जख्म भी मीठे लगते हैं, जब से तूने ये मेरा दिल चुराया है!
----------
इश्क की बहुत सारी उधारियां है, तुम पर;
चुकाने की बात करो तो, कुछ किश्तें तय कर लें!
----------
मोहब्बत तो वो बारिश है, जिसे छूने की चाहत में;
हथेलियां तो गीली हो जाती हैं, पर हाथ खाली ही रह जाते हैं!
----------
बरसो बाद तेरे करीब से गुज़रे,
जो न संभलते तो गुज़र ही जाते।
----------
दिल में है जो बात किसी भी तरह कह डालिये,
जिंदगी ही ना बीत जाये कहीं बताने में।
----------
सारी उम्र आँखों में एक सपना याद रहा;
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा;
ना जाने क्या बात थी उनमे और हम में;
सारी महफ़िल भूल गए बस वो चेहरा याद रहा।
----------
कितना प्यार है तुमसे, वो लफ्ज़ों के सहारे कैसे बताऊँ,
महसूस कर मेरे एहसास को, अब गवाही कहाँ से लाऊँ।
----------
मुझे हुक्म हुआ है कुछ और माँग उसके सिवा;
मैं महफ़िल से उठ गया, कि मुझे ज़ुस्तुजू नहीं किसी और की।
----------
रात ख़्वाबों में आए थे तुम, और देखो;
अभी तक महक रहा है, तुम्हारी ख़ुशबू से वो सिरहाना मेरा।
----------
नफरतों के जहान में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं;
दूर रहना कोई कमाल नहीं, पास आओ तो कोई बात बने।
----------
पहली मुलाकात थी, हम दोनों ही थे बेबस;
वो जुल्फें न संभाल पाए और हम खुद को।
----------
इबादत की खुशबू पहुँचे तुम तक, अपने यकीन का इम्तिहान कर दूँ;
आज मैं अपने अश्क को गंगा, और इश्क को कुरान कर दूँ।
----------
तुम्हें सोचा तो हर सोच से खुशबू आई,
तुम्हें लिखा तो हर अल्फ़ाज महकता पाया।
----------
तू मेरी मज़बूरी बन गयी है ऐसे;
कि साँस लेना जरुरी है जैसे।
----------
कौन कहता है मुलाक़ात हमारी आज की है;
तू मेरी रूह के अंदर तो कई सदियों से है।
----------
भूख रिश्तों को भी लगती है,
कभी प्यार परोस कर तो देखिये।
----------
हमने ज़िन्दगी बितायी आँख सिरहाने लेकर;
रात दुल्हन सी आयी ख़्वाब सुहाने लेकर।
----------
तेरी इबादत का रंग इस कदर गहरा चढ़ा;
नजर जहाँ पड़ी वहीं तेरा दीदार हुआ।
----------
नहीं बसती किसी और की सूरत अब इन आँखो में,
काश कि हमने तुम्हें इतने गौर से ना देखा होता।
----------
जीने के लिए जान जरुरी है, हमारे लिए तो आप जरुरी हैं;
मेरे चेहरे पे चाहे गम हो, आपके चेहरे पे मुस्कान जरुरी है।
----------
ये कहाँ मुमकिन है कि हर लफ़्ज़ बयाँ हो;
कुछ परदे हो दरमियाँ ये भी तो लाज़मी है।
~ Rahi Mastana
----------
तलब उठती है बार-बार तेरे दीदार की,
ना जाने देखते देखते कब तुम लत बन गए।
----------
सुनो बहुत इंतजार करता हूँ तुम्हारा;
सिर्फ एक कदम बढा दो बाकी के फासले मैं खुद तय कर लूँगा।
----------
याद रखते हैं हम आज भी उन्हें पहले की तरह;
कौन कहता है फासले मोहब्बत की याद मिटा देते हैं।
----------
तुझे छोड़ दूं तुझे भूल जाँऊ, कैसी बातें करते हो;
सूरत तो फिर भी सूरत है, मुझे तो तेरे नाम के लोग भी अच्छे लगते हैं।
----------
तलब उठती है बार-बार तेरे दीदार की;
ना जाने देखते-देखते कब तुम लत बन गये।
----------
मैं तुम्हारी कुछ मिसाल तो दे दूँ मगर जानां,
जुल्म ये है कि बे-मिसाल हो तुम।
----------
प्यार अगर सच्चा हो तो कभी नहीं बदलता,
ना वक्त के साथ ना हालात के साथ।
----------
तेरी वफ़ा के तकाजे बदल गये वरना,
मुझे तो आज भी तुझसे अजीज कोई नहीं।
----------
होती अगर मोहब्बत बादल के साये की तरह,
तो मैं तेरे शहर में कभी धूप ना आने देता।
----------
हर बात का कोई जवाब नही होता,
हर इश्क का नाम खराब नही होता,
यूँ तो झूम लेते हैं नशे में पीने वाले,
मगर हर नशे का नाम शराब नही होता।
----------
मेरी चाहतें तुमसे अलग कब हैं, दिल की बातें तुम से छुपी कब हैं;
तुम साथ रहो दिल में धड़कन की जगह, फिर ज़िन्दगी को साँसों की ज़रूरत कब है।
----------
घायल कर के मुझे उसने पूछा, करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे;
लहू-लहू था दिल मगर होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।
----------
रिश्ते किसी से कुछ यूँ निभा लो, कि उसके दिल के सारे गम चुरा लो;
इतना असर छोड दो किसी पे अपना, कि हर कोई कहे हमें भी अपना बना लो।
----------
कुछ कह भी दो कुछ सुन भी लो;
अधूरे लफ्ज़, अधूरे अफ़साने अक्सर कहानी बन जाया करते हैं।
----------
आँखों से दूर दिल के करीब था, मैं उस का वो मेरा नसीब था;
न कभी मिला न जुदा हुआ, रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था।
----------
मैं नासमझ ही सही मगर वो तारा हूँ जो,
तेरी एक ख्वाहिश के लिए सौ बार टूट जाऊं।
----------
आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,
लम्हें तो खुद-ब-खुद मिल जाया करते हैं।
----------
वो मेरी आखिरी सरहद हो जैसे,
सोच जाती ही नहीं उससे आगे।
----------
तेरे उतारे हुए दिन पहन के, अब भी मैं,
तेरी महक में कई रोज़ काट देता हूँ।
~ Gulzar
----------
सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो।
----------
वजह पूछोगे तो उम्र गुजर जायेगी,
कहा ना अच्छे लगते हो तो बस लगते हो।
----------
तस्वीर में ख्याल होना तो लाज़मी सा है;
मगर एक तस्वीर है, जो ख्यालों में बनी है।
----------
मैंने रंग दिया हर पन्ना तेरे नाम से,
मेरी किताबों से, मेरी यादों से पूछ इश्क किसे कहते हैं।
----------
तेरी मोहब्बत की तलब थी इस लिए हाथ फैला दिए,
वरना हमने तो कभी अपनी ज़िंदगी की दुआ भी नही माँगी।
----------
आँखों में आंसुओं की लकीर बन गयी;
जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गयी;
हमने तो सिर्फ रेत में उंगलियाँ घुमाई थी;
गौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गयी।
----------
इश्क ने कब इजाजत ली है आशिक़ों से,
वो होता है, और होकर ही रहता है।
----------
तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी,
एक हम हैं कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे।
----------
छुपे-छुपे से रहते हैं सरेआम नही हुआ करते,
कुछ रिश्ते बस एहसास होते हैं उनके नाम नहीं हुआ करते।
----------
'नजर' 'नमाज' 'नजरिया' सब कुछ बदल गया,
एक रोज इश्क़ हुआ और मेरा खुदा बदल गया।
----------
मैं घर से तेरी तमन्ना पहन के जब निकलूँ,
बरहना शहर में कोई नज़र ना आए मुझे।
~ Qateel Shifai
----------
मैं फ़रमाईश हूँ उसकी, वो इबादत है मेरी,
इतनी आसानी से कैसे निकाल दूँ उसे अपने दिल से,
मैं ख्वाब हूँ उसका, वो हकीकत है मेरी।
----------
फिर इश्क़ का जूनून चढ़ रहा है सिर पे,
मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे।
----------
क्या जरूरत है मुझे इतर की बदन पर लगाने के लिए,
तेरा ख्याल ही बहुत है मुझे महकाने के लिए।
----------
देखो आपकी आँखों से गुफ्तगू करके साहब,
मेरी आँखों ने भी बोलना सीख लिया।
----------
देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं,
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं,
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर,
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।
----------
लोग पूछते हैं कौन सी दुनिया में जीते हो,
हमने भी कह दिया मोहब्बत में दुनिया कहाँ नजर आती है।
----------
अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में जनाब,
नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।
----------
तमन्ना तेरे जिस्म की होती तो छीन लेते दुनिया से,
इश्क तेरी रूह से है इसलिए खुदा से मांगते हैं तुझे।
----------
शब्दों को होठों पर रखकर दिल के भेद ना खोलो,
मैं आँखों से सुन सकता हूँ तुम आँखों से बोलो।
----------
यह कौन शरमा रहा है, यूँ फ़ुर्सत में याद कर के,
कि हिचकियाँ आना तो चाहती हैं, पर हिच-किचा रही हैं।
----------
जिसका वजूद नहीं, वह हस्ती किस काम की,
जो मजा न दे, वह मस्ती किस काम की,
जहाँ दिल न लगे, वो बस्ती किस काम की,
हम आपको याद न करें, तो फिर ये मोहब्बत किस काम की।
----------
नकाब तो उनका सिर से लेकर पाँव तक था,
मगर आँखें बता रही थी कि मोहब्बत की शौकीन वो भी थी।
----------
फ़क़ीर मिज़ाज़ हूँ मैं, अपना अंदाज़ औरों से जुदा रखता हूँ;
लोग मंदिर मस्जिदों में जाते हैं, मैं अपने दिल में ख़ुदा रखता हूँ।
----------
कुछ और भी हैं काम हमें ऐ ग़म-ए-जानाँ,
कब तक कोई उलझी हुई ज़ुल्फ़ों को सँवारे।
~ Habib Jalib
----------
माना कि उनमें अलग कुछ भी नहीं है,
मगर जो बात उसमें है किसी और में नही है।
----------
हमने जब कहा नशा शराब का लाजवाब है,
तो उसने अपने होठो से सारे वहम तोड़ दिए।
----------
अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है,
मेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है।
----------
तू नाराज न रहा कर तुझे वास्ता है खुदा का,
एक तेरा ही चेहरा खुश देख कर तो हम अपना गम भुलाते हैं।
----------
ये आशिकोँ का शहर है जनाब,
यहाँ सवेरा सूरज से नही, किसी के दीदार से होता है।
----------
अक्सर नींदें चुरा लेता हूँ देखो रिस्क ही रिस्क हूँ मैं,
बिन बताये दिल में उतर जाता हूँ इश्क़ ही इश्क़ हूँ मैं।
----------
मैं कुछ कहूँ और तेरा ज़िक्र ना आये,
उफ्फ, ये तो तौहीन होगी, तेरी चाहत की।
----------
ज़िन्दगी के किस मोड़ पर ले आई है यह जवानी भी,
जलना होगा या डूबना होगा "अक्स" इश्क़ आग भी है और पानी भी।
----------
बेपनाह मोहब्बत का एक ही उसूल है,
मिले या ना मिले तू हर हाल मे कबूल है।
----------
सब पूछते हैं मुझ से क्यों रातों को मैं जागता हूँ और दिन में खोया हुआ सा रहता हूँ,
चुप रहूँ या कह दूँ अब सब से कि इस बेचैन दिल की वजह तुम हो।
----------
नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर,
कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नही देता।
~ Anu Sood
----------
तेरा अक्स गढ़ गया है आँखों में कुछ ऐसा,
सामने खुदा भी हो तो दिखता है हू-ब-हू तुझ जैसा।
----------
मुझ से रूठकर वो खुश है तो शिकायत ही कैसी,
अब मैं उनको खुश भी ना देखूं तो हमारी मोहब्बत ही कैसी।
----------
तुझे कोई और भी चाहे इस बात से दिल थोड़ा जलता है,
पर फखर है मुझे इस बात पर कि हर कोई मेरी पसंद पे ही मरता है।
----------
हाल तो पूछ लू तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी,
ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है।
----------
तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी,
एक हम हैं कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे।
----------
ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ,
तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है,
मैं रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ।
----------
अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है;
मेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है।
----------
बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
कि वो आज नजरों से हमें अपनी पिलायें;
मजा तो तब ही पीने का यारो,
इधर हम पियें और नशा उनको हो जाये।
----------
मुद्दत के बाद उसने जो आवाज़ दी मुझे,
कदमों की क्या बिसात थी, साँसे ठहर गयीं।
----------
मैंने अपने आप को हमेशा बादशाह समझा,
एहसास तब हुआ जब तुझे माँगा फकीरों की तरह।
----------
तेरे जल्वों ने मुझे घेर लिया है ऐ दोस्त,
अब तो तन्हाई के लम्हे भी हसीं लगते हैं।
~ Seemab Akbarabadi
----------
ये न जाने थे कि उस महफ़िल में दिल रह जाएगा,
हम ये समझे थे चले आएँगे दम भर देख कर।
~ Mamnoon Nizamuddin
----------
छीनकर हाथों से जाम वो इस अंदाज़ से बोली,
कमी क्या है इन होठों में जो तुम शराब पीते हो।
----------
ये याद है तुम्हारी या यादों में तुम हो,
ये ख्वाब हैं तुम्हारे या ख्वाबों में तुम हो,
हम नहीं जानते हमें बस इतना बता दो,
हम जान हैं तुम्हारी या हमारी जान तुम हो।
----------
इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतश ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने।
~ Mirza Ghalib
----------
मेरी यादो मे तुम हो, या मुझ मे ही तुम हो,
मेरे खयालो मे तुम हो, या मेरा खयाल ही तुम हो,
दिल मेरा धडक के पूछे, बार बार एक ही बात,
मेरी जान मे तुम हो, या मेरी जान ही तुम हो।
----------
अज़ीज़ इतना ही रखो कि जी संभल जाये,
अब इस कदर भी ना चाहो कि दम निकल जाये।
----------
मुझको चाहते होंगे और भी बहुत लोग,
मगर मुझे मोहब्बत सिर्फ अपनी मोहब्बत से है।
----------
दूर रह कर भी जो समाया है मेरी रूह में;
पास वालों पर वो शख्स कितना असर रखता होगा।
~ Surjit Patar
----------
यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहा,
कि तेरे ही करीब से गुज़र गए तेरे ही ख्याल से।
----------
कर दे इश्क़ में अपने मदहोश तरह कि,
होश भी आने से पहले इज़ाज़त माँगे।
----------
मोहब्बत का कोई रंग नहीं फिर भी वो रंगीन है,
प्यार का कोई चेहरा नहीं फिर भी वो हसीन है।
----------
होगी कितनी चाहत उस दिल में,
जो खुद ही मान जाये कुछ पल खफा होने के बाद।
----------
मत देखो हमें तुम यूँ इस कदर,
इश्क़ तुम कर बैठोगे और इलज़ाम हम पे लग जायेगा।
----------
देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है,
दिल धड़कता है सहूलत से यही काफी है,
हाल दुनिया के सताए हुए कुछ लोगों का,
पूछ लेते हो शरारत से यही काफी है।
~ Badar Munir
----------
तुम को चाहने की वजह कुछ भी नहीं,
बस इश्क़ की फितरत है बेवजह होना।
----------
तुम्हारी आँखों में बसा है आशियाना मेरा,
अगर ज़िन्दा रखना चाहो तो कभी आँसू मत लाना।
----------
गुफ्तगू उनसे होती यह किस्मत कहाँ,
ये भी उनका करम है कि वो नज़र तो आये।
----------
सजा है मौसम तुम्हारी महक से आज फिर;
लगता है हवायें तुम्हें छू कर आयी हैं।
----------
चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं;
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;
बच के रहना इन हुस्न वालों से यारो;
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।
----------
कौन सी बात है जो उस में नहीं,
उस को देखे मेरी नज़र से कोई।
~ Shahryar
----------
अगर तुम्हें यकीन नहीं तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास,
अगर तुम्हें यकीन हैं तो मुझे कुछ कहने की ज़रूरत नहीं।
----------
हम उनके दिल पर राज़ करते थे,
मेरा दिल जिनका गुलाम आज भी है।
----------
याद रखना ही मोहब्बत में नहीं है सब कुछ,
भूल जाना भी बड़ी बात हुआ करती है।
~ Jamaal Ehsani
----------
जिस को जाना ही नहीं उस को ख़ुदा कैसे कहें;
और जिसे जान लिया हो वो ख़ुदा कैसे हो।
~ Shehzad Ahmed
----------
रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,
मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी।
~ Jaleel Manikpuri
----------
बोसा देते नहीं और दिल पे है हर लहज़ा निगाह,
जी में कहते हैं कि मुफ़्त आए तो माल अच्छा है।
~ Mirza Ghalib
----------
कुछ इस अदा से आज वो पहलू-नशीं रहे,
जब तक हमारे पास रहे हम नहीं रहे।
~ Jigar Moradabadi
----------
उल्टी हो गईं सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया,
देखा इस बीमारी-ए-दिल ने आख़िर काम तमाम किया।
~ Meer Taqi Meer
----------
ये तो नहीं कि तुम सा जहान में हसीन नहीं,
इस दिल का क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं।
~ Daagh Dehlvi
----------
चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
जिंदगी वीरान थी और मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो।
----------
सौ बार कहा दिल से चल भूल भी जा उसको,
सौ बार कहा दिल ने तुम दिल से नहीं कहते।
----------
इंतज़ार मेरी उम्र से लंबा हो शायद,
तेरा आना इस मर्ज़ की दवा हो शायद।
----------
इत्तेफ़ाक़ से ही सही मगर मुलाकात हो गयी;
ढूंढ रहे थे हम जिन्हें आखिर उन से बात हो गयी;
देखते ही उन को जाने कहाँ खो गए हम;
बस यूँ समझो दोस्तो वहीं से हमारे प्यार की शुरुआत हो गयी।
----------
तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे;
तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे;
तुम ना मिले तो जीते जी ही मर जायेंगे;
तुम्हें जो पा लिया तो मर कर भी जी जायेंगे।
----------
फ़िज़ा की महकती शाम हो तुम,
प्यार में छलकता जाम हो तुम,
सीने में छुपाये फिरता हूँ यादें तुम्हारी,
इसलिए मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हो तुम!
----------
जब से मुँह को लग गई अख़्तर मोहब्बत की शराब,
बे-पिए आठों पहर मदहोश रहना आ गया।
~ Akhtar Ansari
----------
उस की बाहों में सोने का अभी तक शौंक है मुझको,
मोहब्बत में उजड़ कर भी मेरी आदत नहीं बदली।
----------
कहीं वो आ के मिटा दें न इंतज़ार का लुत्फ़,
कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी।
~ Hasrat Jaipuri
----------
धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल,
अभी तो पलकें झुकाई हैं मुस्कुराना अभी बाकी है उनका।
----------
मोहब्बत मुझे थे उसी से सनम,
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा,
मौत भी मेरी चाहत को न रोक सकी,
क़ब्र में भी यह दिल उसके लिए धड़कता रहा।
----------
अब तक ख़बर न थी कि मोहब्बत गुनाह है;
अब जान कर गुनाह किए जा रहा हूँ मैं।
----------
लिखा था राशि में आज खज़ाना मिल सकता है,
कि अचानक गली में सनम पुराना दिख गया।
----------
कोई समझे तो एक बात कहूँ,
इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
तोहमतेँ तो लगती रही रोज़ नयी नयी हम पर,
मगर जो सबसे हसीन इलज़ाम था वो तेरा नाम था।
----------
आदत सी हो गयी है तेरे करीब रहने की,
बस इतना बता तेरी साँसों की खुशबू वाला इत्र मिलेगा कहाँ!
----------
तुम हमें कभी दिल कभी आँखों से पुकारो,
ये होंठो के तकल्लुफ तो ज़माने के लिए हैं।
----------
सूरज ढलते ही रख दिये उसने मेरे होठों पर होंठ,
इश्क का रोज़ा था और गज़ब की इफ्तारी।
----------
दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है,
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता।
~ Ahmad Faraz
----------
नहीं है अब कोई तमन्ना इस दिल में,
मेरी पहली और आखिरी जुस्तजू बस तुम हो।
----------
नहीं भाता अब तेरे सिवा किसी और का चेहरा,
तुझे देखना और देखते रहना दस्तूर बन गया है।
----------
उसे कह दो अपनी ख़ास हिफाज़त किया करे,
बेशक साँसें उसकी हैं मगर जान तो वो हमारी है।
----------
दिल से हर मामला कर के चले थे साफ़ हम,
कहने में उनके सामने बात बदल गयी।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
दिल अपने को एक मंदिर बना रखा है,
उस के अंदर बस तुझ को बसा रखा है,
रखता हूँ तेरी चाहत की तमन्ना रात दिन,
तेरे आने की उम्मीद का दिया जला रखा है।
----------
अब आ गए हैं आप तो आता नहीं है याद;
वर्ना कुछ हम को आप से कहना ज़रूर था।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
किसी की क्या मज़ाल थी जो कोई हमें खरीद सकता;
हम तो खुद ही बिक गए खरीददार देख कर।
----------
अभी कम-सिन हो रहने दो कहीं खो दोगे दिल मेरा;
तुम्हारे ही लिए रखा है ले लेना जवाँ हो कर।
----------
ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना;
बन गया रक़ीब आख़िर था जो राज़-दाँ अपना।
~ Mirza Ghalib
----------
दिल में आप हो और कोई खास कैसे होगा;
यादों में आपके सिवा कोई पास कैसे होगा;
हिचकियॉं कहती हैं आप याद करते हो;
पर बोलोगे नहीं तो मुझे एहसास कैसे होगा।
----------
क्या अच्छा क्या बुरा क्या भला देखा;
जब भी देखा तुझे अपने रु ब रु देखा;
सोचा बहुत भूल कर ना सोचूंगा तुझे;
जिस रात आँख लगी फिर तुझे हर ख्वाब में देखा।
----------
आहिस्ता आहिस्ता आपका यकीन करने लगे हैं;
आहिस्ता आहिस्ता आपके करीब आने लगे हैं;
दिल तो देने से घबराते हैं मगर;
आहिस्ता आहिस्ता आपके दिल की कदर करने लगे हैं।
----------
कल तेरा जिक्र हुआ महफ़िल में,
और महफ़िल देर तक महकती रही।
----------
ऐ काश कुदरत का कहीं ये नियम हुआ करे,
तुझे देखने के सिवा ना मुझे कोई काम हुआ करे।
----------
मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना;
जरा से भी चूक हुई तो मोहब्बत हो जायेगी।
----------
उनके लबो पर देखो फिर आज मेरा नाम आया है;
लेकर नाम मेरा देखो महबूब आज कितना शरमाया है;
पूछे मेरी ये आँखे उनसे कि कितनी मोहब्बत है मुझसे;
बोले वो पलके झुका कि मेरी हर साँस में बस तू ही समाया है।
----------
मैं जो चाहूँ तो अभी तोड़ लूँ नाता तुम से;
पर मैं बुझ-दिल हूँ मुझे मौत से डर लगता है।
----------
हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका;
मुस्कुरा कर तुम ने देखा दिल तुम्हारा हो गया।
~ Jigar Moradabadi
----------
हाल तो पूछ लू तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी;
ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है।
----------
मुझे याद करने से ये मुद्दा था;
निकल जाए दम हिचकियाँ आते आते।
~ Daagh Dehlvi
----------
जब पास हों तो रुख से निगाहें ना मोड़ना;
जब दूर हों तो मेरा तस्सावुर न छोड़ना;
सोच लेना दिल लगाने से पहले एक बार;
मुश्किल बहुत है निभाने रिश्ते,
भूल कर भी कभी इनकी ज़ंजीरें ना तोडना।
----------
आँखों में देख कर वो दिल की हकीकत जानने लगे;
उनसे कोई रिश्ता भी नहीं फिर भी अपना मानने लगे;
बन कर हमदर्द कुछ ऐसे उन्होंने हाथ थामा मेरा;
कि हम खुदा से दर्द की दुआ मांगने लगे।
----------
वादा करके और भी आफ़त में डाला आपने;
ज़िन्दगी मुश्किल थी, अब मरना भी मुश्किल हो गया।
~ Jaleel Manikpuri
----------
इश्क़ है इश्क़ ये मज़ाक़ नहीं;
चंद लम्हों में फ़ैसला न करो।
~ Sudarshan Faakir
----------
देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं;
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं;
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर;
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।
----------
ना छोड़ना मेरा साथ ज़िन्दगी में कभी;
शायद मैं ज़िंदा हूँ तेरे साथ की वजह से।
----------

उसे मैं ढाँप लेना चाहता हूँ अपनी पलकों में;
इलाही उस के आने तक मेरी आँखों में दम रखना।
~ Qateel Shifai
----------
आँखों की गहराई को समझ नहीं सकते;
होंठों से हम कुछ कह नहीं सकते;
कैसे बयाँ करें हम यह हाल-ए-दिल आपको;
कि तुम्हीं हो जिसके बगैर हम रह नहीं सकते।
----------
बहुत वक़्त लगा हमें आप तक आने में;
बहुत फरियाद की खुदा से आपको पाने में;
कभी यह दिल तोड़ कर मत जाना;
हमने उम्र लगा दी आप जैसा सनम पाने में।
----------
कोई मेरे दिल से पूछे तेरे तीर-ए-नीम-कश को;
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।
~ Mirza Ghalib
----------
तेरी चुप्पी अगर तेरी कोई मज़बूरी है;
तो रहने दे इश्क़ कौन सा ज़रूरी है।
----------
क़दमों की दूरी से दिलों के फांसले नहीं बढ़ते;
दूर होने से एहसास नहीं मरते;
कुछ क़दमों का फांसला ही सही हमारे बीच;
लेकिन ऐसा कोई पल नहीं जब हमको याद नहीं करते।
----------
उनके ख्याल से ही जब इतनी सुहानी लगती है ये दुनिया;
सोचो अगर वो साथ होंगे तब क्या बात होगी।
----------
होती अगर मोहब्बत बादल के साये की तरह;
तो मै तेरे शहर मे कभी धूप ना आने देता।
----------
हर बार संभाल लूंगा गिरो तुम चाहो जितनी बार;
बस एक ही इल्तिज़ा है कि मेरी नज़रों से ना गिरना तुम कभी।
----------
यूँ तो तमन्ना दिल में ना थी लेकिन;
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक बन बैठे।
----------
ये तो कहिए इस ख़ता की क्या सज़ा;
मैं जो कह दूँ आप पर मरता हूँ मैं।
~ Daagh Dehlvi
----------
कहा ये किसने कि फूलों से दिल लगाऊं मैं;
अगर तेरा ख्याल ना सोचूं तो मर जाऊं मैं;
माँग ना मुझसे तू हिसाब मेरी मोहब्बत का;
आ जाऊं इम्तिहान पर तो हद्द से गुज़र जाऊं मैं।
----------
वो कहते हैं मुझसे कोई और बात करो;
लाऊँ कहाँ से बात अब उनकी बात के सिवा।
----------
प्यार की तरह आधा अधूरा सा अल्फाज था मैं;
तुमसे क्या जुडा ज़िंदगी की तरह पूरी गजल बन गया।
----------
मेरी यादों में तुम हो, या मुझ में ही तुम हो;
मेरे खयालों में तुम हो, या मेरा ख़याल ही तुम हो।
----------
सुना है प्यार में मुश्किल नहीं कुछ भी;
चलो समंदर में आग लगा कर आज़माते हैं।
----------
ज़िंदा रहे तो हर दिन तुम्हें याद करते रहेंगे;
भूल गए तो समझ लेना खुदा ने हमें याद कर लिया।
----------
वो मुलाक़ात कुछ अधूरी सी लगी;
पास होकर भी कुछ दूरी सी लगी;
होंठों पे हँसी आँखों में नमी;
पहली बार किसी की चाहत ज़रूरी सी लगी।
----------
आँखों में बस बसी है सूरत आपकी;
दिल में छुपी है मूरत आपकी;
महसूस होता है जीने के लिए;
हमें तो बस है ज़रूरत आपकी।
----------
ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता;
आँख उन से जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता।
~ Akbar Allahabadi
----------
दो कदम चलने के लिए साथ माँगा है;
बस पल दो पल के लिए प्यार माँगा है;
हम समझते हैं उसकी मज़बूरियों को;
इसलिए उसे उसकी मज़बूरियों के साथ माँगा है।
----------
मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती;
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती;
सब जानते है मैं शरब नहीं पीता;
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती।
----------
दो बातें उनसे की तो दिल का दर्द खो गया;
लोगों ने हमसे पूछा कि तुम्हें क्या हो गया;
बेकरार आँखों से सिर्फ हँस के रह गए;
ये भी ना कह सके कि हमें प्यार हो गया।
----------
मुँह की बात सुने हर कोई दिल के दर्द को जाने कौन;
आवाजों के बाज़ारों में ख़ामोशी पहचाने कौन;
सदियों सदियों वही तमाशा रस्ता रस्ता लम्बी खोज;
लेकिन जब हम मिल जाते हैं खो जाता है जाने कौन।
~ Noshi Gilani
----------
मैं यूँ भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ;
कोई मासूम क्यों मेरे लिए बदनाम हो जाए।
~ Bashir Badr
----------
चलो उसका नही तो खुदा का एहसान लेते हैं;
वो मिन्नत से ना माना तो मन्नत से मांग लेते हैं।
----------
भेज दी तस्वीर अपनी उन को ये लिख कर 'शकील';
आप की मर्ज़ी है चाहे जिस नज़र से देखिए।
~ Shakeel Badayuni
----------
तेरा अंदाज़-ए-सँवरना भी क्या कमाल है;
तुझे देखूं तो दिल धड़के, ना देखूं तो बेचैन रहूँ।
----------
क्या मज़ा देती है बिजली की चमक मुझ को रियाज़;
मुझ से लिपटे हैं मिरे नाम से डरने वाले।
~ Riyaz Khairabadi
----------
वो खुद पर गरूर करते है, तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं;
जिन्हें हम चाहते है, वो आम हो ही नहीं सकते।
----------
अपनी ज़िन्दगी में मुझ को करीब समझना;
कोई ग़म आये तो उस ग़म में भी शरीक समझना;
दे देंगे मुस्कुराहट आँसुओं के बदले;
मगर हज़ारों में मुझे थोड़ा अज़ीज़ समझना।
----------
वो कभी मिल जाएं तो क्या कीजिये;
रात दिन सूरत को देखा कीजिये;
चाँदनी रातों में एक एक फूल को;
बेखुदी कहती है सज़दा कीजिये।
~ Akhtar Sheerani
----------
कुछ मतलब के लिए ढूँढते हैं मुझको;
बिन मतलब जो आए तो क्या बात है;
कत्ल कर के तो सब ले जाएँगे दिल मेरा;
कोई बातों से ले जाए तो क्या बात है।
----------
अपनी ज़िन्दगी का अलग उसूल है;
प्यार की खातिर तो काँटे भी कबूल हैं;
हँस के चल दूँ काँच के टुकड़ों पर;
अगर तू कह दे ये मेरे बिछाये हुए फूल हैं।
----------
ज़रा साहिल पे आकर वो थोड़ा मुस्कुरा देती;
भंवर घबरा के खुद मुझ को किनारे पर लगा देता;
वो ना आती मगर इतना तो कह देती मैं आँऊगी;
सितारे, चाँद सारा आसमान राह में बिछा देता।
----------
जब कोई ख्याल दिल से टकराता है;
दिल ना चाह कर भी खामोश रह जाता है;
कोई सब कुछ कह कर प्यार जताता है;
तो कोई कुछ ना कह कर प्यार निभाता है।
----------
वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है;
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है;
उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से;
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिये बनाया है।
~ Bashir Badr
----------
क्या कहें कुछ भी कहा नहीं जाता;
दर्द मिलता है पर सहा नहीं जाता;
हो गयी है मोहब्बत आपसे इस कदर;
कि अब तो बिन देखे आप को जिया नहीं जाता।
----------
तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ;
ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ;
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी;
सारी उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़ार लूँ।
----------
हम उस से थोड़ी दूरी पर हमेशा रुक से जाते हैं;
न जाने उस से मिलने का इरादा कैसा लगता है;
मैं धीरे धीरे उन का दुश्मन-ए-जाँ बनता जाता हूँ;
वो आँखें कितनी क़ातिल हैं वो चेहरा कैसा लगता है।
~ Syed Abdul Hameed Adam
----------
आँखों से आँखें मिलाकर तो देखो;
हमारे दिल से दिल मिलाकर तो देखो;
सारे जहान की खुशियाँ तेरे दामन में रख देंगे;
हमारे प्यार पर ज़रा ऐतबार करके तो देखो।
----------
ना जाने कब वो हसीन रात होगी;
जब उनकी निगाहें हमारी निगाहों के साथ होंगी;
बैठे हैं हम उस रात के इंतज़ार में;
जब उनके होंठों की सुर्खियां हमारे होंठों के साथ होंगी।
----------
मोहब्बत एक दम दुख का मुदावा कर नहीं देती;
ये तितली बैठती है ज़ख़्म पर आहिस्ता आहिस्ता।
~ Abbas Tabish
----------
मेरी चाहत को अपनी मोहब्बत बना के देख;
मेरी हँसी को अपने होंठो पे सज़ा के देख;
ये मोहब्बत तो हसीन तोहफा है एक;
कभी मोहब्बत को मोहब्बत की तरह निभा कर तो देख।
----------
इश्क़ में कोई खोज नहीं होती;
यह हर किसी से हर रोज नहीं होती;
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना;
क्योंकि पलकें कभी आँखों पर बोझ नहीं होती।
----------
रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके;
रोज उस के कूचे में कोई काम निकल आता है।
----------
साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएंगे ज़रूर;
प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे ज़रूर;
कितने भी काँटे क्यों ना हों राहों में;
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे ज़रूर।
----------
क्यों तू अच्छा लगता है, वक़्त मिला तो सोचेंगे;
तुझ में क्या क्या देखा है, वक़्त मिला तो सोचेंगे;
सारा शहर शहंशाही का दावेदार तो है लेकिन;
क्यों तू हमारा अपना है, वक़्त मिला तो सोचेंगे।
----------
रात से शिकायत क्या बस तुम्हीं से कहना है;
बस तुम ज़रा ठहर जाओ रात कब ठहरती है।
----------
प्यार वो है जिसमे सच्चाई हो;
साथी की हर बात का एहसास हो;
उसकी हर अदा पर नाज़ हो;
दूर रह कर भी पास होने का एहसास हो।
----------
आये जो वो सामने तो अज़ब तमाशा हुआ;
हर शिकायत ने जैसे ख़ुदकुशी कर ली।
----------
मेरे दिल ने जब भी कभी कोई दुआ माँगी है;
हर दुआ में बस तेरी ही वफ़ा माँगी है;
जिस प्यार को देख कर जलते हैं यह दुनिया वाले;
तेरी मोहब्बत करने की बस वो एक अदा माँगी है।
----------
इश्क़ करने में नही पूछी जाती जात मोहबत की;
चलो कुछ तो है दुनिया में जो मज़हबी नहीं हुआ।
----------
ख्याल में आता है जब भी उसका चेहरा;
तो लबों पे अक्सर फरियाद आती है;
भूल जाता हूँ सारे ग़म और सितम उसके;
जब ही उसकी थोड़ी सी मोहब्बत याद आती है।
----------
तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा;
शमा होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा।
~ Bahadur Shah Zafar
----------
कभी दोस्ती कहेंगे कभी बेरुख़ी कहेंगे;
जो मिलेगा कोई तुझसा उसे ज़िन्दगी कहेंगे;
तेरा देखना है जादू तेरी गुफ़्तगू है खुशबू;
जो तेरी तरह चमके उसे रोशनी कहेंगे।
----------
ये दिल भुलाता नहीं है मोहब्बतें उसकी;
पड़ी हुई थी मुझे कितनी आदतें उसकी;
ये मेरा सारा सफर उसकी खुशबू में कटा;
मुझे तो राह दिखाती थी चाहतें उसकी।
~ Noshi Gilani
----------
दिल की हसरत मेरी ज़ुबान पे आने लगी;
तुमने देखा और ये ज़िन्दगी मुस्कुराने लगी;
ये इश्क़ के इन्तहा थी या दीवानगी मेरी;
हर सूरत में मुझे सूरत तेरी नज़र आने लगी।
----------
ऐ आशिक तू सोच तेरा क्या होगा;
क्योंकि हशर की परवाह मैं नहीं करता;
फनाह होना तो रिवायत है तेरी;
इश्क़ नाम है मेरा मैं नहीं मरता।
----------
रात होगी तो चाँद दुहाई देगा;
ख्वाबों में आपको वह चेहरा दिखाई देगा;
ये मोहब्बत है ज़रा सोच कर करना;
एक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा।
----------
इत्तेफ़ाक़ से ही सही मगर मुलाकात हो गयी;
ढूंढ रहे थे हम जिन्हें आखिर उन से बात हो गयी;
देखते ही उन को जाने कहाँ खो गए हम;
बस यूँ समझो दोस्तो वहीं से हमारे प्यार की शुरुआत हो गयी।
----------
तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे;
तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे;
तुम ना मिले तो जीते जी ही मर जायेंगे;
तुम्हें जो पा लिया तो मर कर भी जी जायेंगे।
----------
जाने कहाँ थे और और चले थे कहाँ से हम;
बेदार हो गए किसी ख्वाब-ए-गिराँ से हम;
ऐ नौ-बहार-ए-नाज़ तेरी निकहतों की खैर;
दामन झटक के निकले तेरे गुलसिताँ से हम।
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
तुम को तो जान से प्यारा बना लिया;
दिल को सुकून आँख का तारा का बना लिया;
अब तुम साथ दो या ना दो तुम्हारी मर्ज़ी;
हम ने तो तुम्हें ज़िन्दगी का सहारा बना लिया।
----------
लफ़्ज़ों में कैसे तारीफ करूँ,
लफ़्ज़ों में आप कैसे समा पाओगे;
जब भी पूछेंगे कभी लोग आपके बारे में,
हमारी आँखों में देख कर वो सब जान जायेंगे।
----------
नसीब आज़माने के दिन आ रहे हैं;
क़रीब उन के आने के दिन आ रहे हैं;
जो दिल से कहा है जो दिल से सुना है;
सब उनको सुनाने के दिन आ रहे हैं।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
हर ख़ुशी से खूबसूरत तेरी शाम करूँ;
अपना प्यार सिर्फ मैं तेरे नाम करूँ;
मिल जाए अगर दोबारा ये ज़िंदगी;
हर बार ये ज़िंदगी मैं तेरे नाम करूँ।
----------
है इश्क़ भी जूनून भी, मस्ती भी जोश-ए-खून भी;
कहीं दिल में दर्द, कहीं आह सर्द, कहीं रंग ज़र्द;
है यूँ भी और यूँ भी।
~ Hafeez Jalandhari
----------
अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे;
तेरा मुजरिम हूँ मुझे डूब कर मर जाने दे;
ज़ख्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको;
सोचता हूँ कहूँ, फिर सोचता हूँ कि छोड़ जाने दे।
----------
पल पल के रिश्ते का वादा है आपसे;
अपनापन कुछ इतना ज्यादा है आपसे;
ना सोचना कि भूल गए हम आपको;
ज़िन्दगी भर चाहेंगे ये वादा है आपसे।
----------
तेरे ही क़दमों में मरना भी और जीना भी;
कि तेरा प्यार है दरिया भी और सफ़ीना भी;
मेरी नज़र में तो अब सब बराबर हैं;
मेरे लिए तो तू ही है काशी तू ही मदीना भी।
----------
ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ;
मुझे तुम से मोहब्बत है मगर जताना भूल जाता हूँ;
तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है;
मैं रास्ता याद रखता हूँ मगर ठिकाना भूल जाता हूँ।
----------
हम रूठे तो किसके भरोसे;
कौन है जो आयेगा हमे मनाने के लिए;
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको;
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये।
----------
होश आये तो क्योंकर तेरे दीवाने को;
एक जाता है तो दो आते हैं समझाने को।
----------
कभी मोहब्बत करो तो हमसे करना;
दिल की बात जुबान पर आये तो हम से कहना;
न कह सको कुछ तो आँखें झुका लेना;
हम समझ जायेंगे हमें तुम न कुछ कहना।
----------
गलत सुना था कि मोहब्बत आँखों से होती है;
दिल तो वो भी चुरा लेते हैं जो पलकें नहीं उठाते।
----------
दिल एक हो तो कई बार क्यों लगाया जाये;
बस एक इश्क़ ही काफी है अगर निभाया जाये।
----------
हम वो फूल हैं जो रोज़ रोज़ नहीं खिलते;
यह वो होंठ हैं जो कभी नहीं सिलते;
हम से बिछड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें;
हम वो दोस्त हैं जो रोज़ रोज़ नहीं मिलते।
----------
हक़ीक़त खुल गई हसरत तेरे तर्क-ए-मोहब्बत की;
तुझे तो अब वो पहले से भी बढ़ कर याद आते हैं।
~ Hasrat Mohani
----------
खुशबू की तरह मेरी हर साँस में;
प्यार अपना बसाने का वादा करो;
रंग जितने तुम्हारी मोहब्बत के हैं;
मेरे दिल में सजाने का वादा करो।
----------
तन्हाइयों में मुस्कुराना इश्क़ है;
एक बात को सब से छुपाना इश्क़ है;
यूँ तो नींद नहीं आती हमें रात भर;
मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना ही इश्क़ है।
----------
कच्ची दीवार हूँ ठोकर ना लगाना मुझे;
अपनी नज़रों में बसा कर ना गिराना मुझे;
तुम को आँखों में तसावुर की तरह रखता हूँ;
दिल में धड़कन की तरह तुम भी बसाना मुझे।
----------
ताल्लुक हो तो रूह से रूह का हो;
दिल तो अकसर एक दूसरे से भर जाया करते हैं।
----------
उस एक चेहरे में आबाद थे कई चेहरे;
उस एक शख़्स में किस किस को देखता था मैं।
~ Saleem Ahmed
----------
हमें तो खैर कोई दूसरा अच्छा नहीं लगता;
उन्हें खुद भी कोई अपने सिवा अच्छा नहीं लगता;
~ Mohsin Zaidi
----------
उदास हूँ पर तुझसे नाराज़ नहीं;
तेरे दिल में हूँ पर तेरे पास नहीं;
झूठ कहूँ तो सब कुछ है मेरे पास;
और सच कहूँ तो तेरे सिवा कुछ नहीं।
----------
धोखा ना देना कि तुझपे ऐतबार बहुत है;
ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत है;
तेरी सूरत ना दिखे तो दिखाई कुछ नही देता;
हम क्या करें कि तुझसे हमें प्यार बहुत है।
----------
उनके दीदार के लिए दिल तड़पता है;
उनके इंतज़ार में दिल तरसता है;
क्या कहें इस कमबख्त दिल को अब;
अपना होकर भी जो किसी और के लिए धड़कता है।
----------
दिल की किताब में गुलाब उनका था;
रात की नींद में एक ख्वाब उनका था;
है कितना प्यार हमसे जब यह हमने पूछ लिया;
मर जायेंगे बिन तेरे यह जवाब उनका था।
----------
आँखों के सामने हर पल आपको पाया है;
अपने दिल में सिर्फ आपको ही बसाया है;
आपके बिना हम जियें भी तो कैसे;
भला जान के बिना भी कोई जी पाया है।
----------
मोहब्बत के लबोँ पर फिर वही तकरार बैठी है;
एक प्‍यारी सी मीठी सी कोई झनकार बैठी है;
तुझसे दूर रहकर के हमारा हाल है ऐसा;
मैँ तेरे बिन यहाँ तू मेरे बिन वहाँ बेकार बैठी है।
----------
निकला करो इधर से भी होकर कभी कभी;
आया करो हमारे भी घर पर कभी कभी;
माना कि रूठ जाना यूँ आदत है आप की;
लगते मगर हैं अच्छे आपके ये तेवर कभी कभी।
----------
बगैर जाने-पहचाने इक़रार ना कीजिये;
मुस्कुरा कर यूँ दिलों को बेक़रार ना कीजिये;
फूल भी दे जाते हैं ज़ख़्म गहरे कभी-कभी;
हर फूल पर यूँ ऐतबार ना कीजिये।
----------
आप को भूल जाऊं यह नामुमकिन सी बात है;
आप को न हो यकीन यह और बात है;
जब तक रहेगी साँस तब तक आप रहोगे याद;
टूट जाये यह साँस तो यह और बात है।
----------
कुछ सोचूं तो तेरा ख्याल आ जाता है;
कुछ बोलूं तो तेरा नाम आ जाता है;
कब तक छुपाऊँ दिल की बात;
उसकी हर अदा पर मुझे प्यार आ जाता है।
----------
कहीं शेर ओ नग़्मा बन के कहीं आँसुओं में ढल के;
वो मुझे मिले तो लेकिन कई सूरतें बदल के।
~ Khumar Barabankvi
----------
मेरे दिल ने जब भी कभी कोई दुआ माँगी है;
तो हर दुआ में बस तेरी वफ़ा माँगी है;
जिस प्यार को देख कर दुनिया वाले जलते हैं;
तेरी मोहब्बत करने की बस वो एक अदा माँगी है।
----------
अजीब नशा है होशियार रहना चाहता हूँ;
मैं उस के ख़्वाब में बेदार रहना चाहता हूँ;
ये मौज-ए-ताज़ा मेरी तिश्नगी का वहम सही;
मैं इस सराब में सरशार रहना चाहता हूँ।
~ Irfan Siddiqi
----------
चंद फाँसले हों दरमियाँ ये भी लाज़मी है;
डरता हूँ अगर नज़दीकियाँ बढ़ गई तो;
कहीं मोहब्बत ना हो जाए शख़्सियत से तेरी!
----------
तेरे मिलने की आस न होती;
तो ज़िंदगी आज यूँ उदास न होती;
मिल जाती कभी तस्वीर जो तेरी;
तो हमको आज तेरी तलाश न होती।
----------
कब उनके लबों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए भी प्यार होगा;
गुज़र रही हैं अब तो यह रातें बस इसी सोच में;
कि शायद उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।
----------
वो सामने आये तो अज़ब तमाशा हुआ;
हर शिकायत ने जैसे ख़ुदकुशी कर ली।
----------
याद आयेगी हमारी तो बीते कल की किताब पलट लेना;
यूँ ही किसी पन्ने पर मुस्कुराते हुए हम मिल जायेंगे।
----------
लाखों में इंतिख़ाब के क़ाबिल बना दिया;
जिस दिल को तुमने देख लिया दिल बना दिया;
पहले कहाँ ये नाज़ थे, ये इश्वा-ओ-अदा;
दिल को दुआएँ दो तुम्हें क़ातिल बना दिया।
~ Jigar Moradabadi
----------
जज़्बात मचलते हैं जब तुमसे मिलता हूँ;
अरमान मचलते हैं जब तुमसे मिलता हूँ;
साथ हम दोनों का कोई बर्दाश्त नहीं करता;
जलती है देख कर दुनिया जब मैं तुमसे मिलता हूँ।
----------
करते हैं हम तुमसे मोहब्बत;
हमारी खता यह माफ़ करना;
है अगर बदनाम मोहब्बत हमारी;
तुम प्यार को बदनाम मत करना।
----------
इस वहम में वो दाग़ को मरने नहीं देते;
माशूक़ न मिल जाए कहीं ज़ेर-ए-ज़मीं और।
~ Daagh Dehlvi
----------
तू महक बन कर मुझ से गुलाबों में मिला कर;
जिसे छू कर मैं महसूस कर सकूँ;
तू मस्ती की तरह मुझ से शराबों में मिला कर;
मैं भी इंसान हूँ, डर मुझ को भी है बहक जाने का;
इस वास्ते तू मुझ से हिजाबों में मिला कर।
----------
उसे मैं ढाँप लेना चाहता हूँ अपनी पलकों में;
इलाही उस के आने तक मेरी आँखों में दम रखना।
~ Qateel Shifai
----------
आँखों की गहराई को समझ नहीं सकते;
होंठों से हम कुछ कह नहीं सकते;
कैसे बयाँ करें हम यह हाल-ए-दिल आपको;
कि तुम्हीं हो जिसके बगैर हम रह नहीं सकते।
----------
न आज लुत्फ़ कर इतना कि कल गुज़र न सके;
वह रात जो कि तेरे गेसुओं की रात नहीं;
यह आरजू भी बड़ी चीज़ है मगर हमदम;
विसाले यार फकत आरजू की बात नहीं।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
आपसे दूर भला हम कैसे रह पाते;
दिल से आपको कैसे भुला पाते;
काश कि आप इस दिल के अलावा आईने में भी रहते;
देखते जब आइना खुद को देखने को तो वहाँ भी आप ही नज़र आते।
----------
चाहतों ने किया मुझ पे ऐसा असर;
जहाँ देखूं मैं देखूं तुझे हमसफ़र;
मेरी खामोशियाँ भी जुबान बन गयी;
मेरी बेचैनियां इश्क़ की दास्तान बन गयी।
----------
आप को देख कर यह निगाह रुक जाएगी;
ख़ामोशी अब हर बात कह जाएगी;
पढ़ लो अब इन आँखों में अपनी मोहब्बत;
कसम से सारी कायनात इसे सुनने को थम जाएगी।
----------
ना मैं ख्याल में तेरे ना मैं गुमान में हूँ;
यकीन दिल को नहीं है कि इस जहान में हूँ;
खुदाया रखियेगा दुनिया में सरफ़राज़ मुझे;
मैं पहले इश्क़ के, पहले इम्तिहान में हूँ।
----------
रूठी हो अगर ज़िंदगी तो मना लेंगे हम;
मिले जो गम अगर वो भी सह लेंगे हम;
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे तो;
निकलते हुए आँसुओं में भी मुस्कुरा लेंगे हम।
----------
यूँ नज़रों से आपने बात की और दिल चुरा ले गए;
हम तो समझे थे अजनबी आपको;
पर दे कर बस एक मुस्कुराहट अपनी;
आप तो हमें अपना बना गए।
----------
उनके आने की बंधी थी आस जब तक हमनशीं;
सुबह हो जाती थी अक्सर जानिब-ए-दर देखते।
~ Asar Lakhnavi
----------
इश्क़ में हर लम्हा ख़ुशी का एहसास बन जाता है;
दीदार-ए-यार भी खुदा का दीदार बन जाता है;
जब होता है नशा मोहब्बत का;
तो अक्सर आईना भी ख्वाब बन जाता है।
----------
सिर्फ नज़र से जलाते हो आग चाहत की;
जलाकर क्यों बुझाते हो आग चाहत की;
सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे;
हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।q
----------
इत्तेफ़ाक़ से यह हादसा हुआ है;
चाहत से मेरा वास्ता हुआ है;
दूर रह कर बड़ा बेताब था दिल;
पास आ कर भी हाल बुरा हुआ है।
----------
खुदा भी मांगे ये दिल तो निकाल देंगे;
अगर दिल ने कहा तुम बेवफा हो;
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।
----------
मुझे भी अब नींद की तलब नहीं रही;
अब रातों को जागना अच्छा लगता है;
मुझे नहीं मालूम वो मेरी किस्मत में है या नहीं;
मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है।
----------
कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा;
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा;
इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे;
कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा।
----------
तुम्हारी नफरत पर भी लुटा दी ज़िंदगी हमने;
सोचो अगर तुम मोहब्बत करते तो हम क्या करते।
----------
सब भूल जाता हूँ आप के सिवा, यह क्या मुझे हुआ है;
क्या इसी एहसास को दुनिया ने इश्क़ का नाम दिया है।
----------
कैसे कहूँ कि अपना बना लो मुझे;
बाहों में अपनी समा लो मुझे;
बिन तुम्हारे एक पल भी कटता नहीं;
आ कर एक बार मुझ से चुरा लो मुझे।
----------
उसके साथ जीने का एक मौका दे दे ऐ खुदा;
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे।
----------
सामने मंज़िल थी और पीछे उसका वजूद, क्या करते हम भी यारों;
रुकते तो सफर रह जाता, चलते तो हमसफ़र रह जाता।
----------
दूरियों की ना परवाह कीजिये;
दिल जब भी पुकारे बुला लीजिये;
कहीं दूर नहीं हैं हम आपसे;
बस अपनी पलकों को आँखों से मिला लीजिये।
----------
सीने में दिल तो हर एक के होता है;
लेकिन हर एक दिल में प्यार नहीं होता;
प्यार करने के लिए तो दिल होता है;
दिल में छुपाने के लिए प्यार नहीं होता।
----------
अपने घर की खिड़की से मैं आसमान को देखूँगा;
जिस पर तेरा नाम लिखा है उस तारे को ढूँढूँगा;
तुम भी हर शब दिया जला कर पलकों की दहलीज़ पर रखना;
मैं भी रोज़ एक ख़्वाब तुम्हारे शहर की जानिब भेजूँगा।
~ Amjad Islam Amjad
----------
तुम को हज़ार शर्म सही मुझ को लाख ज़ब्त;
उल्फ़त वो राज़ है कि छुपाया न जाएगा।
~ Altaf Hussain Hali
----------
इश्क़ फिर वो रंग लाया है कि जी जाने है;
दिल का ये रंग बनाया है कि जी जाने है;
नाज़ उठाने में जफ़ाएं तो उठाई लेकिन;
लुत्फ़ भी ऐसा उठाया है कि जी जाने है।
~ Nazeer Akbarabadi
----------
मैं तेरे प्यार में इतना ग़ुम होने लगा हूँ;
जहाँ भी जाऊं बस तुम्हें ही सामने पाने लगा हूँ;
हालात यह हैं कि हर चेहरे में तू ही तू दिखता है;
ऐ मेरे खुदा अब तो मैं खुद को भी भुलाने लगा हूँ।
----------
दिल के लुट जाने का इज़हार ज़रूरी तो नहीं;
यह तमाशा सरे बाजार ज़रूरी तो नहीं;
मुझे था इश्क़ तेरी रूह से और अब भी है;
जिस्म से कोई सरोकार ज़रूरी तो नहीं।
----------
दुःख में ख़ुशी की वजह बनती है मोहब्बत;
दर्द में यादों की वजह बनती है मोहब्बत;
जब कुछ भी अच्छा ना लगे हमें दुनिया में;
तब हमारे जीने की वजह बनती है मोहब्बत।
----------
फूलों की याद आती है काँटों को छूने पर;
रिश्तों की समझ आती है फासलों पे रहने पर;
कुछ जज़्बात ऐसे भी होते हैं जो आँखों से बयां नहीं होते;
वो तो महसूस होते हैं ज़ुबान से कहने पर।
----------
तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ;
ज़िंदगी अपनी तेरी चाहत में सवार लूँ;
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी;
सारी उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़ार लूँ।
----------
अब आएं या न आएं इधर पूछते चलो;
क्या चाहती है उनकी नज़र पूछते चलो;
हम से अगर है तर्क-ए-ताल्लुक तो क्या हुआ;
यारो कोई तो उनकी ख़बर पूछते चलो।

शब्दार्थ:
तर्क-ए-ताल्लुक = टूटा हुआ रिश्ता
~ Sahir Ludhianvi
----------
फ़िज़ा में महकती शाम हो तुम;
प्यार में झलकता जाम हो तुम;
सीने में छुपाये फिरते हैं चाहत तुम्हारी;
तभी तो मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम हो तुम।
----------
अगर मैं हद से गुज़र जाऊं तो मुझे माफ़ करना;
तेरे दिल में उतर जाऊं तो मुझे माफ़ करना;
रात में तुझे तेरे दीदार की खातिर;
अगर मैं सब कुछ भूल जाऊं तो मुझे माफ़ करना।
----------
कुछ पल के लिए हमें अपनी बाहों में सुला दो;
अगर आँखें खुली तो उठा देना ना खुली तो दफना देना।
----------
किसी की खातिर मोहब्बत की इन्तहा कर दो;
लेकिन इतना भी नहीं कि उसको खुदा कर दो;
मत चाहो किसी को टूट कर इस कदर;
कि अपनी ही वफाओं से उसको बेवफा कर दो।
----------
माना कि किस्मत पे मेरा कोई ज़ोर नही;
पर ये सच है कि मोहब्बत मेरी कमज़ोर नही;
उसके दिल में, उसकी यादो में कोई और है लेकिन;
मेरी हर साँस में उसके सिवा कोई और नही।
----------
ऐसा जगाया आपने कि अब तक ना सो सके;
यूँ रुलाया आपने कि महफ़िल में हम ना रो सके;
ना जाने क्या बात है आप में सनम;
माना है जबसे तुम्हें अपना किसी के ना हम हो सके।
----------
लाख बंदिशें लगा दे यह दुनिया हम पर;
मगर दिल पर काबू हम कर नहीं पायेंगे;
वो लम्हा आखिरी होगा हमारी ज़िन्दगी का;
जिस पल हम तुझे इस दिल से भूल जायेंगे।
----------
किसी पत्थर में मूर्त है, कोई पत्थर की मूर्त है;
लो हम ने देख ली दुनिया, जो इतनी खूबसूरत है;
ज़माना अपनी न समझे कभी पर मुझे खबर है;
कि तुझे मेरी ज़रूरत है और मुझे तेरी ज़रूरत है।
----------
तेरा एहसान हम कभी चुका नहीं सकते;
तू अगर माँगे जान तो इंकार कर नहीं सकते;
माना कि ज़िंदगी लेती है इम्तिहान बहुत;
तू अगर हो हमारे साथ तो हम कभी हार नहीं सकते।
----------
ये इश्क भी नशा-ए-शराब जैसा है, यारो;
करें तो मर जाएँ और छोड़े तो किधर जाएँ।
----------
इब्तिदा-ए-इश्क़ है लुत्फ़-ए-शबाब आने को है;
सब्र रुख़्सत हो रहा है इज़्तिराब आने को है।

अनुवाद:
इब्तिदा-ए-इश्क़ = इश्क़ की शुरुआत
लुत्फ़-ए-शबाब = जवानी का मज़ा
इज़्तिराब = बेचैनी
~ Fani Badayuni
----------
आँखों में चाहत दिल में कशिश है;
फिर क्यों ना जाने मुलाकात में बंदिश है;
मोहब्बत है हम दोनों को एक-दूसरे से;
फिर भी दिलों में ना जाने यह रंजिश क्यों है।
----------
कुछ उलझे हुए सवालों से डरता है दिल;
ना जाने क्यों तन्हाई में बिखरता है दिल;
किसी को पा लेना कोई बड़ी बात तो नहीं;
पर उनको खोने से डरता है यह दिल।
----------
क्या मांगू खुदा से तुम्हें पाने के बाद;
किसका करूँ इंतज़ार तेरे आने के बाद;
क्यों इश्क़ में जान लुटा देते हैं लोग;
मैंने भी यह जाना तुमसे इश्क़ करने के बाद।
----------
दुःख में ख़ुशी की वजह बनी है मोहब्बत;
दर्द में यादों की वजह बनी है मोहब्बत;
जब कुछ भी ना रहा था अच्छा इस दुनिया में;
तब हमारे जीने की वजह बनी है यह मोहब्बत।
----------
मेरी साँसों में बिखर जाओ तो अच्छा होगा;
बन के रूह मेरे जिस्म में उतर जाओ तो अच्छा होगा;
किसी रात तेरी गोद में सिर रख के सो जाऊं;
फिर उस रात की कभी सुबह ना हो तो अच्छा होगा।
----------
जब कोई ख्याल दिल से टकराता है;
दिल ना चाह कर भी, खामोश रह जाता है;
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है;
कोई कुछ ना कहकर भी, सब बोल जाता है।
----------
कुछ खेल नहीं है इश्क़ करना;
ये ज़िंदगी भर का रत-जगा है।
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
माना कि किस्मत पे मेरा कोई ज़ोर नही;
पर ये सच है कि मोहब्बत मेरी कमज़ोर नही;
उस के दिल मे, उसकी यादो मे कोई और है लेकिन;
मेरी हर साँस में उसके सिवा कोई और नही।
----------
करिये तो कोशिश हमको याद करने की;
फुर्सत के लम्हे तो अपने आप मिल जायेंगे;
दिल में अगर है चाहत हमसे मिलने की;
बहाने मिलने के खुद-ब-खुद बन जायेंगे।
----------
रात होगी तो चाँद दुहाई देगा;
ख्वाबों में आपको वह चेहरा दिखाई देगा;
ये मोहब्बत है ज़रा सोच कर करना;
एक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा।
----------
ऐ आशिक तू सोच तेरा क्या होगा;
क्योंकि हशर की परवाह मैं नहीं करता;
फनाह होना तो रिवायत है तेरी;
इश्क़ नाम है मेरा मैं नहीं मरता।
----------
दिल के किसी कोने में अब कोई जगह नहीं ऐ सनम;
कि तस्वीर हमने हर तरफ तेरी ही लगा रखी है।
----------
जो रहते हैं दिल में वो जुदा नहीं होते;
कुछ एहसास लफ़्ज़ों से बयां नहीं होते;
एक हसरत है कि उनको मनाये कभी;
एक वो हैं कि कभी खफा नहीं होते।
----------
सोचता हूँ कि, कभी भी अब तुझे याद नहीं करूँगा;
फिर सोचता हूँ एक ये फ़र्क़ तो रहने दो हम दोनों में।
----------
तू ही मिल जाये मुझे ये ही काफ़ी है;
मेरी हर साँस ने बस यही दुआ माँगी है;
जाने क्यों दिल खींचा जाता है तेरी तरफ़;
क्या तुमने भी मुझे पाने की कोई दुआ माँगी है।
----------
ज़िंदगी जीने के लिए मुझे दुआ चाहिए;
उस पर किस्मत की भी वफ़ा चाहिए;
खुदा के रहम से सब कुछ है मेरे पास;
बस प्यार करने के लिए आप जैसा कोई महबूब चाहिए।
----------
कहीं शेर ओ नग़्मा बन के कहीं आँसुओं में ढल के;
वो मुझे मिले तो लेकिन कई सूरतें बदल के।
~ Khumar Barabankvi
----------
चुराकर दिल मेरा वो बेखबर से बैठे हैं;
मिलाते नहीं नज़र हमसे अब शर्मा कर बैठे हैं;
देख कर हमको छुपा लेते हैं मुँह आँचल में अपना;
अब घबरा रहे हैं कि वो क्या कर बैठे हैं।
----------
कभी मोहब्बत करो तो हमसे करना;
दिल की बात जुबाँ पर आये तो हम से कहना;
न कह सको कुछ तो आँखें झुका लेना;
हम समझ जायेंगे हमें तुम न कुछ कहना।
----------
ज़माने भर में आशिक कोई हमसा नही होगा;
खूबसूरत सनम भी कोई तुमसा नहीं होगा;
मर भी जाये उसकी बाहों में तो कोई गम नही यारो;
क्योंकी उसके आँचल से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होगा।
----------
जो एक बार दिल में बस जाये उसे हम निकाल नहीं सकते;
जिसे दिल अपना बना ले उसे फिर कभी भुला नहीं सकते;
वो जहाँ भी रहे ऐ खुदा हमेशा खुश रहे;
उनके लिए कितना प्यार है हमें ये कभी हम जता नहीं सकते।
----------
दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त;
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते।
~ Akbar Allahabadi
----------
बड़ी मुद्दत से चाहा है तुम्हें;
बड़ी दुआओं से पाया है तुम्हें;
तुम ने भुलाने का सोचा भी कैसे;
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुम्हें।
----------
हर घडी एक नाम याद आता है;
कभी सुबह, कभी शाम याद आता है;
सोचते हैं हम कि कर लें फिर से मोहब्बत;
फिर हमें मोहब्बत का अंजाम याद आता है।
----------
वो कहीं भी गया लौटा तो मेरे पास आया;
बस यही बात अच्छी है मेरे हरजाई की।
~ Parveen Shakir
----------
इस दिल की हर धड़कन का एहसास हो तुम;
तुम क्या जानो हमारे लिए कितने ख़ास हो तुम;
जुदा होकर तुमने हमे मौत से भी बदतर सज़ा दी है;
फिर भी इस तड़पते हुए दिल ने तुम्हें खुश रहने की दुआ दी है।
----------
उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था;
कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था;
बेवफा भी नहीं कह सकते उसको ज़ालिम;
प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।
----------
प्यासी ये निगाहें तरसती रहती हैं;
तेरी याद में अक्सर बरसती रहती हैं;
हम तेरे ख्यालों में डूबे रहते हैं;
और ये ज़ालिम दुनिया हम पे हँसती रहती है।
----------
चाहत के ये कैसे अफ़साने हुए;
खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए;
अब दुनिया की नहीं कोई परवाह हमें;
इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए।
----------
तेरी आवाज़ तेरे रूप की पहचान है;
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है;
ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें;
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।
----------
ना दिल से होता है, ना दिमाग से होता है;
ये प्यार तो इत्तेफ़ाक़ से होता है;
पर प्यार करके प्यार ही मिले;
ये इत्तेफ़ाक़ भी किसी-किसी के साथ होता है।
----------
फिर से वो सपना सजाने चला हूँ;
उमीदों के सहारे दिल लगाने चला हूँ;
पता है कि अंजाम बुरा ही होगा मेरा;
फिर भी किसी को अपना बनाने चला हूँ।
----------
मुश्किल था कुछ तो इश्क़ की बाज़ी को जीतना;
कुछ जीतने के ख़ौफ़ से हारे चले गए।
~ Shakeel Badayuni
----------
आईने में भी खुद को झांक कर देखा;
खुद को भी हमने तनहा करके देखा;
पता चल गया हमें कितनी मोहब्बत है आपसे;
जब तेरी याद को दिल से जुदा करके देखा।
----------
देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं;
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं;
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर;
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।
----------
कहते हैं ग़ज़ल क़ाफ़िया-पैमाई है नासिर;
ये क़ाफ़िया-पैमाई ज़रा कर के तो देखो।
~ Nasir Kazmi
----------
बेवजह हम वजह ढूंढ़ते हैं तेरे पास आने को;
ये दिल बेकरार है तुझे धड़कन में बसाने को;
बुझी नहीं प्यास इन होंठों की अभी;
न जाने कब मिलेगा सुकून तेरे इस दीवाने को।
----------
यूँ तो तमन्नाएं दिल में ना थी हमें लेकिन;
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक़ बन बैठे;
बंदगी तो खुदा की भी करते थे लेकिन;
ना जाने क्यों हम काफ़िर बन बैठे।
----------
तुम बिन ज़िंदगी सूनी सी लगती है;
हर पल अधूरी सी लगती है;
अब तो इन साँसों को अपनी साँसों से जोड़ दे;
क्योंकि अब यह ज़िंदगी कुछ पल की मेहमान सी लगती है।
----------
'अनीस' आसान नहीं आबाद करना घर मोहब्बत का;
ये उन का काम है जो ज़िंदगी बर्बाद करते हैं।
~ Meer Anees
----------
तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे;
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे;
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो;
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।
----------
हम फिर उनके रूठ जाने पर फ़िदा होने लगे;
फिर हमे प्यार आ गया जब वो ख़फ़ा होने लगे।
----------
संगमरमर के महल में तेरी ही तस्वीर सजाऊंगा;
मेरे इस दिल में ऐ प्यार तेरे ही ख्वाब सजाऊंगा;
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा;
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा जो तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा।
----------
तपिश से बच के घटाओं में बैठ जाते हैं;
गए हुए कि सदाओं में बैठ जाते हैं;
हम इर्द-गिर्द के मौसम से घबरायें;
तेरे ख्यालों की छाओं में बैठ जाते हैं।
~ Farhat Abbas Shah
----------
हम जानते तो इश्क़ न करते किसी के साथ;
ले जाते दिल को ख़ाक में इस आरज़ू के साथ।
~ Mir Taqi Mir
----------
इश्क़ का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करूँ;
आप भूल भी जाओ तो मैं हर पल याद करूँ;
इस इश्क़ ने बस इतना सिखाया है मुझे;
कि खुद से पहले आपके लिए दुआ करूँ।
----------
मुझे भी अब नींद की तलब नहीं;
अब रातों को जागना अच्छा लगता है;
पता नहीं वो मेरी तकदीर में है कि नहीं;
पर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है।
----------
यूँ तो तमन्ना दिल में ना थी लेकिन;
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक बन बैठे;
बंदगी तो खुदा की भी करते थे लेकिन;
ना जाने क्यों हम काफ़िर बन बैठे।
----------
तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा;
शमा होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा।
~ Bahadur Shah Zafar
----------
ये चांदनी रात बड़ी देर के बाद आयी;
ये हसीं मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी;
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद;
आज की ये रात बड़ी देर के बाद आयी।
----------
ऐसा क्या कह दूं कि तेरे दिल को छू जाए;
ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए;
तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी;
ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए।
----------
तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी;
एक हम है कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे।
----------
हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं;
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं।
~ Munawwar Rana
----------
आपके बिन टूटकर बिखर जायेंगे;
मिल जायेंगे आप तो गुलशन की तरह हम खिल जायेंगे;
अगर न मिले आप तो जीते जी मर जायेंगे;
पा लिया जो आपको तो मर कर भी जी जायेंगे।
----------
तेरी आवाज़ की शहनाइयों से प्यार करते हैं;
तस्सवुर मैं तेरे तन्हाइयों से प्यार करते हैं;
जो मेरे नाम से तेरे नाम को जोड़े ज़माने वाले;
उन चर्चों से अब हम प्यार करते हैं।
----------
कोई तीर जैसे जिगर के पार हुआ है;
जाने क्यों दिल इतना बेक़रार हुआ है;
पहले कभी देखा न मैंने तुम्हें;
फिर भी क्यों ऐ अजनबी इस कदर तुमसे प्यार हुआ है।
----------
आँखें मुझे तलवे से मलने नहीं देते;
अरमान मेरे दिल के निकलने नहीं देते;
खातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते;
सच है कि हमीं दिल को संभलने नहीं दते;
किसी नाज़ से कहते हैं झुंझला के शब-ए-वस्ल;
तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते।
~ Akbar Allahabadi
----------
वो लाख तुझे पूजती होगी मगर तू खुश न हो ऐ खुदा;
वो मंदिर भी जाती है तो मेरी गली से गुजरने के लिए!
----------
मैंने अपनी हर एक सांस तुम्हारी गुलाम कर रखी है;
लोगो में ये ज़िन्दगी बदनाम कर रखी है;
अब ये आइना भी किस काम का मेरे;
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर रखी है।
----------
सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए;
मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए;
ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में;
ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए।
----------
आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या;
क्या बताऊँ कि मिरे दिल में हैं अरमाँ क्या क्या;
ग़म अज़ीज़ों का हसीनों की जुदाई देखी;
देखें दिखलाए अभी गर्दिश-ए-दौराँ क्या क्या।
~ Akhtar Sheerani
----------
जब कभी टूट कर बिखरो तो बताना हमको;
हम तुम्हें रेत के जर्रों से भी चुन सकते हैं।
----------
क्या इश्क़ एक ज़िंदगी-ए-मुस्तआर का;
क्या इश्क़ पाएदार से ना-पाएदार का;
वो इश्क़ जिस की शमा बुझा दे अजल की फूँक;
उस में मज़ा नहीं तपिश-ओ-इंतिज़ार का।
~ Allama Iqbal
----------
अजब अपना हाल होता जो वस्ल-ए-यार होता;
कभी जान सदके होती कभी दिल निसार होता;
कोई फ़ित्ना या क़यामत न फिर अश्कार होता;
तेरे दिल पे ज़ालिम काश मुझे इख़्तियार होता।
~ Daagh Dehlvi
----------
ऊपर से गुस्सा दिल से प्यार करते हो;
नज़रें चुराते हो दिल बेक़रार करते हो;
लाख़ छुपाओ दुनिया से मुझे ख़बर है;
तुम मुझे ख़ुद से भी ज्यादा प्यार करते हो।
----------
आप पहलू में जो बैठें तो संभल कर बैठें;
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की।
~ Jaleel Manikpuri
----------
ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो;
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें;
अब न वो मैं हूं न तू है न वो माज़ी है 'फ़राज़'
जैसे दो साये तमन्‍ना के सराबों में मिलें।
~ Ahmad Faraz
----------
हमसफ़र तो साथ-साथ चलते हैं;
रास्ते तो बेवफ़ा बदलते हैं;
आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में;
जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं।
----------
घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;
सारी गली उनकी फिराक मे निकली;
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;
और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली।
----------
मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा;
बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए।
~ Ehsaan Danish
----------
निकलते हैं तेरे आशियां के आगे से यह सोच कर कि तेरा दीदार हो जायेगा;
खिड़की से तेरी सूरत न सही तेरा साया तो नजर आएगा।
----------
चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं;
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;
बच के रहना इन हुस्न वालों से यारो;
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।
----------
साहिल पर खड़े-खड़े हमने शाम कर दी;
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी;
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी;
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।
----------
आँखों मे आ जाते है आँसू;
फिर भी लबों पे हँसी रखनी पड़ती है;
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;
जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है।
----------
न हम कुछ कह पाते हैं, न वो कुछ कह पाते हैं;
एक दूसरे को देखकर गुजर जाया करते हैं;
कब तक चलता रहेगा ये सिलसिला;
ये सोचकर दिन गुजर जाया करते हैं।
----------
शायर तो हम है शायरी बना देंगे;
आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे;
कभी सुनाओ हमें अपनी आवाज़;
आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे।
----------
कब तक होश संभाले कोई, होश उड़े तो उड़ जाने दो;
दिल कब सीधी राह चला है, राह मुड़े तो मुड़ जाने दो।
----------
नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को;
निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है।
----------
मोहब्बत एक नाम है दर्द और ख़ुशी की कहानी का;
मोहब्बत एक नाम है हर पल मुस्कुराने का;
ये कोई लम्हा दो लम्हों की पहचान नहीं है;
मोहब्बत एक नाम है हर पल साथ निभाने का।
----------
होठों पर मोहब्बत के फ़साने नहीं आते;
साहिल पर समंदर के खजाने नहीं आते;
पलकें भी चमक उठती हैं सोते हुए हमारी;
आँखों को अभी ख्वाब छुपाने नहीं आते।
~ Bashir Badr
----------
फ़िज़ा को महकाती शाम हो तुम;
प्यार में छलकता जाम हो तुम;
तुम्हें दिल में छुपाये फिरते हैं;
मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम हो तुम।
----------
मैंने अपनी हर एक सांस तुम्हारी गुलाम कर रखी है;
लोगों में ये ज़िन्दगी बदनाम कर रखी है;
अब ये आइना भी क्या काम का मेरे;
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर रखी है।
----------
यूँ ही तो नहीं दिल मेरा तुझे तलाशता फिरता;
कर यकीन मंज़िल का तू ही है किनारा मेरा;
यूँ ही तो नहीं आयी सदा तेरी हवाओं में बह कर;
हौले से तूने ही होगा नाम पुकारा मेरा।
----------
अरे आप क्यों नहीं समझते हो सनम;
दिल का दर्द दबता नहीं है दबाने से;
आपको मोहब्बत का इज़हार करना ही पड़ेगा;
क्योंकि मोहब्बत छुपती नहीं छुपाने से।
----------
वो बात क्या करूँ जिसकी खबर ही न हो;
वो दुआ क्या करूँ जिसमे असर ही न हो;
कैसे कह दूँ आपको लग जाये मेरी भी उम्र;
क्या पता अगले पल मेरी उम्र ही न हो।
----------
छुपा लूंगा तुझे इस तरह से मेरी बाहों में;
हवा भी गुज़रने के लिए इज़ाज़त मांगे;
हो जाऊं तेरे इश्क़ में मदहोश इस तरह;
कि होश भी वापस आने के इज़ाज़त मांगे।
----------
उधर ज़ुल्फ़ों में कंघी लग रही है और ख़म निकलता है;
इधर रग-रग से खिंच-खिंच के हमारा दम निकलता है;
इलाही ख़ैर कर उलझन पे उलझन पड़ती जाती है;
ना उनका ख़म निकलता है ना अपना दम निकलता है।

ख़म - उलझन
----------
इश्क़ नाज़ुक मिजाज़ है बे-हद;
अक्ल का बोझ उठा नहीं सकता।
----------
तू ही बता ए दिल तुम्हें समझाऊं कैसे;
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे;
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा;
मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।
----------
क्या ज़रूरी है कि हम हार के जीतें 'तबिश';
इश्क़ का खेल बराबर भी तो हो सकता है!
~ Abbas Tabish
----------
कभी लफ्ज़ भूल जाऊं, कभी बात भूल जाऊं;
तूझे इस क़द्र चाहूँ के अपनी ज़ात भूल जाऊं;
उठ के तेरे पास से जो में चल दूँ;
जाते हुए खुद को तेरे पास भूल जाऊं!
----------
अब मगर कुछ भी नहीं, कुछ भी नहीं हो सकता;
अपने जज़्बों से यह रंगीन शरारत न करो;
कितनी मासूम हो, नाज़ुक हो, हमाक़त न करो;
बार बार हाँ तुम से कहा था कि मोहब्बत न करो।
----------
फिर न सिमटेगी मोहब्बत जो बिखर जायेगी;
ज़िंदगी ज़ुल्फ़ नहीं जो फिर संवर जायेगी;
थाम लो हाथ उसका जो प्यार करे तुमसे;
ये ज़िंदगी ठहरेगी नहीं जो गुज़र जायेगी।
~ Allama Iqbal
----------
जिस रंग में देखो उसे वो पर्दानशीं है;
और उस पे ये पर्दा है कि पर्दा ही नहीं है;
मुझ से कोई पूछे तेरे मिलने की अदायें;
दुनिया तो यह कहती है कि मुमकिन ही नहीं है।
~ Jigar Moradabadi
----------
कौन कहता है मोहब्बत की ज़ुबान होती है;
होंठों के बिना खुले ही हक़ीक़त बयां होती है;
इश्क़ वो खुदायी है मेरे दोस्त,
जो लफ़्ज़ों से नहीं आँखों से बयां होती है।
----------
सरे राह जो उनसे नज़र मिली,
तो नक़्श दिल के उभर गए;
हम नज़र मिला कर झिझक गए,
वो नज़र झुका कर चले गए।
~ Mirza Ghalib
----------
जब आंसू आए तो रो जाते हैं;
जब ख्वाब आए तो खो जाते हैं;
नींद आंखो में आती नहीं;
बस आप ख्वाबो में आयेंगे, यही सोच कर सो जाते हैं।
----------
ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है उसके लिये;
कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मुझसे रूठ जाता है।
----------
ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्रो-करार;
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो न थी।
~ Bahadur Shah Zafar
----------
मोहब्बत के बाद मोहब्बत मुमकिन तो है;
पर टूट कर चाहना सिर्फ एक बार होता है​।
----------
​हज़ार चेहरों में उसकी मुशाहबतें मिले मुझ को;
पर दिल की ज़िद थी अगर वो नहीं तो उस जैसा भी नहीं।
----------
तोड़ कर देख लिया आईना-ए-दिल तूने;​
तेरी सूरत के सिवा और बता क्या निकला​।
----------
​उससे कहो के मेरी सजा को कुछ कम कर दे;
मैं आदि मुजरिम नहीं हूँ गलती से इश्क हुआ था।
----------
मेरे इन होंठों पर तेरा नाम अब भी है;
भले छीन ली तुमने मुस्कुराहट हमारी।
----------
हमारे प्यार का यूँ इम्तिहान ना लो;
करके बेरुखी मेरी तुम जान ना लो;
एक इशारा कर दो हम खुद मर जाएंगे;
हमारी मौत का खुद पर इल्ज़ाम ना लो।
----------
चाहने वाले की जानता है अजमत कोई-कोई;
दिल से करता है आज मोहब्बत कोई-कोई;
मोहब्बत में चाहते हैं सब अशूक यार;
दीवाने की माफिक चाहे तुरबत कोई-कोई।
----------
कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी;
​चंद सिक्कों के लिए तुने क्या नहीं खोया है;​
माना नहीं है मखमल का बिछोना मेरे पास;
पर तु ये बता, कितनी राते चैन से सोया है।
~ Lata Chaudhary
----------
तुम राह में चुप-चाप खड़े हो तो गए हो;
किस-किस को बताओगे घर क्यों नहीं जाते।
----------
अगर इश्क़ गुनाह है गुनाहगार है खुदा;
जिसने बनाया दिल किसी पर आने के लिए।
----------
मोहब्बत की हद्द है सितारों से आगे;
प्यार का जहाँ है बहारों से आगे;
वो दीवानों की कश्ती जब बहने लगी;
तो बहते बह गई किनारों से आगे।
----------
कहते हैं लोग खुदा की इबादत है;
ये मेरी समझ में तो एक जहालत है;
चैन न आए दिल को, रात जाग के गुजरे;
जरा बताओ दोस्तों क्या यही मोहब्बत है।
----------
है इश्क़ की मंज़िल में हाल के जैसे;
लुट जाए कहीं राह में सामान किसी का।
~ Bhaddurshah Zafar
----------
ना इश्क़ का इज़हार किया, ना ठुकरा सके हमें वो;
हम तमाम ज़िंदगी मज़लूम रहे, उनके वादा मोहब्बत के।
~ JD Ghai
----------
एहसास के दामन में आंसू गिराकर देखो;
प्यार कितना है आजमा कर देखो;
तुम्हें भूल कर क्या होगी दिल की हालत;
किसी आईने पे पत्थर गिराकर तो देखो।
----------
लोगों ने कहा तुम उसको याद क्यों करते हो;
जो तुम्हे याद ही नहीं करता;
तड़प कर दिल बोला;
मोहब्बत करने वाले कभी मुक़ाबला नहीं करते।
----------
​इश्क़ की बंदगी दी है तो हुस्न की इबादत जरूरी है;
इश्क़ से जीने की आस रहेगी और हुस्न से तड़प का सकून​।
~ JD Ghai
----------
आँखों में इश्क़, लब पे ख़ामोशी;
अंदाज़ में इकरार, जिस्म में इंकार;
कहाँ जाएं मोहब्बत करने वाले;
एक तरफ जन्नत, दूसरी तरफ जहन्नुम।
~ JD Ghai
----------
इश्क़ पर ज़ोर नहीं, यह वो आतिश ग़ालिब;
के लगाए ना लगे और बुझाए ना बुझे।
~ Mirza Ghalib
----------
ये इश्क़ के घाव बहुत गहरे है;
दर्द भी देते हैं और भरते भी नहीं।
~ JD Ghai
----------
ना पूछ दिल की हक़ीक़त मगर ये कहता है;
वो बेक़रार रहे जिसने बेक़रार किया।
----------
वो मेरे दिल पर सिर रखकर सोई थी बेखबर;
हमने धड़कन ही रोक ली कि कहीं उसकी नींद ना टूट जाए।
----------
आँसू आ जाते हैं आँखों में;
पर लबों पर हंसी लानी पड़ती है;
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;
जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है।
----------
​रिश्तों का धागा इतना कच्चा नहीं होता;
किसी का दिल तोड़ना अच्छा नहीं होता;
प्यार तो दिल की आवाज़ है;
कौन कहता है एक तरफ़ का प्यार सच्चा नहीं होता​।
----------
कितना प्यार है उनसे काश वो ये जान लें;
वो ही है ज़िंदगी मेरी ये बात मान लें;
उनको देने को नहीं कुछ पास हमारे;
बस एक जान है हमारी जब चाहे मांग लें!
----------
जिनको हमने चाहा मोहब्बत की हदें तोड़ कर;
आज उसने देखा नहीं निगाह मोड़ कर;
ये जान कर बहुत दुःख हुआ मुझे;
कि वो खुद भी तन्हा हो गये मुझे छोड़ कर!
----------
ऐ मोहब्बत, तुझे पाने की कोई राह नहीं;
तू तो उसे ही मिलेगी, जिसे तेरी परवाह नहीं।
----------
कसूर ना उनका था ना हमारा;
हम दोनों ही रिश्तों की रसम निभाते रहे;
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे;
और हम मोहब्बत को दिल में छुपाते रहे​।
----------
वो खुदा था मेरा अब मेरा ईमान है; ​​
चला गया छोड़ कर, इसलिए दिल उदास है;
बेवफा नही कहूंगा ​मैं उसको;
क्यूंकी इश्क़ करना उसका मुझ पर अहसान है।
----------
प्यार में कोई तो दिल तोड़ देता है;
दोस्ती मेँ कोई तो भरोसा तोड़ देता है;
जिंदगी जीना तो कोई गुलाब से सीखे;
जो खुद टूट कर दो दिलों को जोड़ देता है।
----------
कैसा सितम है आपका यह कि रोने भी नहीं देता;
करीब आते नहीं और खुद से जुदा होने भी नहीं देता।
----------
जिस तरह रगों में खून रहता है;
इस तरह तेरी चाहत का जुनून रहता है;
ज़िंदगी की हर ख़ुशी मंसूब है तुमसे;
बात हो तुमसे तो दिल को सुकून रहता है।
----------
अब भी आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ;
लोग जल जल कर ख़ाक हुए जाते हैं;
उड़ता है दिल से जैसे धुआँ;
बस वो छूने से ही राख हुए जाते है।
----------
हाँ! मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं;
जा! किसी और का होने की इजाज़त है तुझे।
----------
तलब करे तो मैं अपनी आँखें भी उन्हें देदू;
मगर ये लोग मेरी आँखों के ख्वाब मांगते हैं।
----------
बड़ी मुद्दत से चाहा है तुम्हे;
बड़ी दुआओ से पाया है तुम्हे;
तुझे भुलाने का सोचूं भी कैसे;
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुम्हें।​
----------
यह रात इतनी तन्हा क्यों होती है;
किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों होती है;
अजीब खेल खेलती है ये किस्मत भी;
जिसे पा नहीं सकते उसी से मोहब्बत क्यों होती है।
----------
​​मोहब्बत नहीं है क़ैद मिलने या बिछड़ने की​;​
ये इन खुदगर्ज़ लफ़्ज़ों से बहुत आगे की बात है।
----------
मुद्दत से दूर थे हम-तुम;
एक ज़माने के बाद मिलना अच्छा लगा;
सागर से गहरा लगा प्यार आपका;
तैरना तो आता था पर डूबना अच्छा लगा।
----------
कितने तोहफे देती है ये मोहब्बत भी यार;
दुःख अलग रुस्वाई अलग, जुदाई अलग तन्हाई अलग।
----------
उस एक चेहरे ने हमें ​तन्हा कर दिया वरना;​
हम तो ​अपने आप में ही एक महफ़िल हुआ करते थे।
----------
​इश्क़ ने हमें बेनाम कर दिया;
हर ख़ुशी से अनजान कर दिया;
हमने कभी नहीं चाहा कि हमें इश्क़ हो;
पर उनकी एक नज़र ने हमें नीलाम कर दिया।
----------
ना रूठना हमसे हम मर जाएंगे;
दिल की दुनिया तबाह कर जाएंगे;
प्यार किया है हमने कोई मज़ाक नहीं;
दिल की धड़कन तेरे नाम कर जाएंगे।
----------
​मैं अल्फाज़ हूँ तेरी हर बात समझता हूँ​;​
मैं एहसास हूँ तेरे जज़्बात समझता हूँ​;​
कब पूछा मैंने ​कि ​क्यूँ दूर हो मुझसे​;​
मैं दिल रखता हूँ तेरे हालात समझता हूँ​।
----------
​तु ही मिल जाए मुझे बस इतना ही काफी है​;​
मेरी हर सांस ने बस ये ही दुआ मांगी है​;​
जाने क्यूँ दिल खिंचा चला जाता है तेरी तरफ​;​
क्या तूने भी मुझे पाने की दुआ मांगी है​।
----------
​तेरे बगैर इस ज़िन्दगी की हमें जरुरत नहीं​;​
तेरे सिवा हमें किसी और की चाहत नहीं​;​
तुम ही रहोगे हमेशा मेरे दिल​ में​;​
किसी और को इस दिल में आने की इजाज़त नहीं​।
----------
​​एक अजनबी से बात क्या हुई क़यामत हो गयी​;
सारे शहर को इस चाहत की खबर हो गयी​​;​
​क्यूँ ना दोष दू ​इस ​दिल-ऐ-नादाँ को​;​
दोस्ती का इरादा था और मोहब्बत हो गयी​।
----------
​रुलाना हर किसी को आता है;​
​हँसाना भी हर किसी को आता है;​
​​रुला के जो मना ले वो सच्चा यार है;​​​
​​और जो रुला के खुद भी रो पड़े वही सच्चा प्यार है।
----------
​न​ज़​रे​ मिले तो प्यार हो जाता है;
पलके उठे तो इज़हार हो जाता हैं;
ना जाने क्या कशिश हैं चाहत में;
कि कोई अनजान भी हमारी;
जिंदगी हक़दार हो जाता है।
----------
लबों की हँसी आपके नाम कर देंगे;
हर खुशी आप पर कुर्बान कर देँगेँ;
जिस दिन होगी कमी मेरे प्यार;
उस दिन हम इस दुनिया को सलाम कर देंगे।
----------
मुहब्बत के लिए इक ज़िंदगी कम पड़ गयी होगी;
तभी तो सात जन्मों का खुदा ने कर दिया बंधन।
----------
जख्म बन जाने की आदत है उन्हें;
रुला कर मुस्कुराने की आदत है उन्हें;
मिलेंगे कभी तो खूब रुलाएंगे;
सुना हैं रोते हुए लिपट जाने की आदत है उन्हें।
----------
जो आपने न लिया हो, ऐसा कोई इम्तिहान न रहा;
इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा;
है कोई बस्ती, जहां से न उठा हो ज़नाज़ा दीवाने का;
आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रिस्तान न रहा।
----------
जनाजा रोक कर वो मेरा कुछ इस अन्दाज़ मे बोले;
गली छोड्ने को कहा था, तुमने तो दुनियां ही छोड दी।
----------
तुम रख ना सकोगे मेरा तौफ़ा संभालकर;
वरना मैं अभी दे दूं जिस्म से रूह निकाल कर।
----------
किसी की क्या मजाल थी;
जो हमें खरीद सकता;
हम तो खुद ही बिक गये;
खरीददार देख के।
~ Mirza Ghalib
----------
अपनी तो यारो बस इतनी सी कहानी है;
कुछ तो खुद से ही बर्बाद थे;
कुछ इश्क की मेहरबानी है।
----------
अक्ल कहती है, ना जा कूचा-ए-क़ातिल की तरफ;
सरफ़रोशी की हवस कहती है चल क्या होगा।
~ Bedil Ajhimabadi
----------
इश्क की चोट का कुछ दिल पे असर हो तो सही;
दर्द कम हो कि ज्यादा हो, मगर हो तो सही।
~ Jhlal
----------
वो दिल लेकर हमें बेदिल ना समझें उनसे कह देना;
जो हैं मारे हुए नज़रों के उनकी हर नज़र दिल है।
~ Mir Taqi Mir
----------
ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्र-ओ-करार;
बेकरारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो ना थी।
~ Bhaddurshah Zafar
----------
जिस दिल में बसा था प्यार तेरा;
वो दिल तो कभी का तोड़ दिया;
बदनाम ना होने देंगे तुझे इसलिए;
तेरा नाम भी लेना छोड़ा दिया।
----------
गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती;
सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती;
मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त;
प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।
----------
वो सामने थी और हम पलके उठा ना सके;
चाहते थे पर पास उनके जा ना सके;
ना देख ले वो अपनी तस्वीर हमारी आँखों में;
बस यही सोच कर हम उनसे नज़रे मिला ना सके।
----------
हम नहीं जीत सके उनसे;
वो ऐसी शर्त लगाने लगे;
प्यारी सी आँखों को;
मेरी आँखों से लडाने लगे;
हम शायद जीत भी जाते;
पर पलके हमने तब झपकाई;
जब उनकी आँखों से आंसू आने लगे।
----------
दूर जाकर भी हम दूर जा ना सकेंगे;
कितना रोयेंगे हम बता ना सकेंगे;
गम इसका नहीं कि आप मिल ना सकोगे;
दर्द इस बात का होगा कि हम आप को भुला ना सकेंगे।
----------
ना चाहो किसी को ऐसे कि;
चाहत आपकी मज़बूरी बन जाए;
पर चाहो किसी को इतना कि;
आपका प्यार उसके लिए जरुरी बन जाए।
----------
तेरे इश्क का बुखार है मुझको;
और हर चीज खाने की मनाही है;
एक हुस्न के हकीम ने सिर्फ;
तेरे चमन की मौसमी बताई है।
----------
हर हसीं काफिरां के माथे पर;
अपनी रहमत का ताज रखता है;
तू भी परवरदिगार मेरी तरह;
आशिकाना मिज़ाज रखता है।
~ Narendra Kumar Shad
----------
अगर तुम किसी को दिल की गहराइयों से चाहों;
तो ये उम्मीद मत करो कि वो भी तुम्हे चाहे;
लेकिन चाहों उसे इस कदर टूट के कि;
तुम्हारे सिवा किसी और का प्यार उसे पसंद ही न आए।
----------
वो थे न मुझसे दूर न मैं उनसे दूर था;
आता न था नज़र तो नज़र का कुसूर था।
~ Jigar Moradabadi
----------
चुरा के मुट्ठी में दिल को छिपाए बैठे है;
बहाना यह है कि मेहंदी लगाए बैठे है।
~ Atish
----------
तुम बहारों की आरजू न करो;
हमने कांटों में फूल देखे हैं।
----------
जला कर शमा-ए-उल्फत आप ने फ़ौरन ही गुल कर दी;
खुदारा ये तो बता दीजिये कि अब परवानों का क्या होगा!
----------
मैं क़ाबिल-ए-नफ़रत, हूँ तो छोड़ दो मुझको;
मगर यूं मुझसे दिखावे की मोहब्बत ना किया करो।
----------
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई;
दोनों को इक अदा में रजामंद कर गई;
शक हो गया है सीना, ख़ुशी लज्जते-फ़िराक;
तकलीफे-पर्दादारी-ए-ज़ख्म-जिगर गई!
----------
रिश्वत भी नहीं लेता कमबख्त जान छोड़ने की;
ये तेरा इश्क मुझे बहुत ईमानदार लगता है!
----------
वो नकाब लगा कर खुद को इश्क से महफूज़ समझते रहे;
नादां इतना भी नहीं समझते कि इश्क चेहरे से नहीं आँखों से शुरू होता है!
----------
दिलों की जरुरत कोई क्या समझेगा;
रिश्तों की अहमियत कोई क्या समझेगा;
तेरी मुस्कान ही है मेरी ख़ुशी;
इस ख़ुशी की कीमत कोई क्या समझेगा!
----------
किसी का क्या जो क़दमों पर जबीं-ए-बंदगी रख दी;
हमारी चीज़ थी हमने जहां जानी वहां रख दी;
जो दिल माँगा तो वो बोले ठहरो याद करने दो;
ज़रा सी चीज़ थी हमने जाने कहाँ रख दी!
----------
हमें पता था की उसकी मोहब्बत के जाम में ज़हर है;
पर उसका पिलाने का अंदाज़ ही इतना प्यारा था की हम ठुकरा न सके!
----------
तुम्हें नींद नहीं आती तो कोई और वजह होगी;
अब हर ऐब के लिए कसूरवार इश्क तो नहीं।
----------
हर खामोशी का मतलब इंकार नहीं होता;
हर नाकामयाबी का मतलब हार नहीं होता;
तो क्या हुआ अगर हम तुम्हें न पा सके;
सिर्फ पाने का मतलब प्यार नहीं होता!
----------
जब से तूने मुझे दीवाना बना रखा है;
संग हर शख्स ने हाथों में उठा रखा है;
उसके दिल पर भी कड़ी इश्क में गुजरी होगी;
नाम जिसने भी मोहब्बत का सज़ा रखा है!
----------
हमने कब माँगा है तुमसे वफाओं का सिलसिला;
बस दर्द देते रहा करो, मोहब्बत बढ़ती जायेगी।
----------
ज़िन्दगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है;
ज़ुल्फ़-ओ-रुखसार की जन्नत नहीं कुछ और भी है;
भूख और प्यास की मारी हुई इस दुनिया में;
इश्क ही इक हकीकत नहीं कुछ और भी है!
~ Sahir Ludhianvi
----------
तक़दीर के आईने में मेरी तस्वीर खो गई;
आज हमेशा के लिए मेरी रूह सो गई;
मोहब्बत करके क्या पाया मैंने;
वो कल मेरी थी आज किसी और की हो गई!
----------
किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नही;
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नही;
गुनाह हो यह ज़माने की नजर में तो क्या;
यह ज़माने वाले कोई खुदा तो नही!
----------
ये दिल न जाने क्या कर बैठा;
मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा;
इस ज़मीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता;
और ये पागल चाँद से मोहब्बत कर बैठा।
----------
हर बार दिल से ये पैगाम आए;
ज़ुबाँ खोलूं तो तेरा ही नाम आए;
तुम ही क्यूँ भाए दिल को क्या मालूम;
जब नज़रों के सामने हसीन तमाम आए|
----------
कुछ सोचूं तो तेरा ख्याल आ जाता है;
कुछ बोलूं तो तेरा नाम आ जाता है;
कब तलक बयाँ करूँ दिल की बात;
हर सांस में अब तेरा एहसास आ जाता है।
----------
मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं;
चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए।
----------
कुछ चेहरे भुलाए नहीं जाते;
कुछ नाम दिल से मिटाए नहीं जाते;
मुलाक़ात हो न हो, अय मेरे यार;
प्यार के चिराग कभी बुझाए नहीं जाते।
----------
दुख मे खुशी की वजह बनती है मोहब्बत;
दर्द मे यादों की वजह बनती है मोहब्बत;
जब कुछ भी अच्छा नहीं लगता दुनिया में;
तब जीने की वजह बनती है मोहब्बत।
----------
तुझको पाकर भी न कम हो सकी बेताबि-ए-दिल;
इतना आसान तिरे इश्क़ गम था भी कहां।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
आँखों में हया हो तो पर्दा दिल का ही काफी है;
नहीं तो नक़ाब से भी होते हैं, इशारे मोहब्बत के।
----------
वफा के बदले बेवफाई ना दिया करो;
मेरी उम्मीद ठुकरा कर इंकार ना किया करो;
तेरी मोहब्बत में हम सब कुछ खो बैठे;
जान चली जायेगी इम्तिहान ना लिया करो।
----------
लाखों में इन्तिख़ाब के क़ाबिल बना दिया;
जिस दिल को तुमने देख लिया, दिल बना दिया।
~ Jigar Moradabadi
----------
खुशबू ने फूल को एक अहसास बनाया;
फूल ने बाग को कुछ खास बनाया;
चाहत ने मोहब्बत को एक प्यास बनाया;
और इस मोहब्बत ने एक और देवदास बनाया।
----------
आँखों में आंसुओं की लकीर बन गई;
जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गई;
हमने तो सिर्फ रेत में उंगलियाँ घुमाई थी;
गौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गई।
----------
राज़-ए-हक़ीकत जानने वाले देखिये अब क्या कहते हैं;
दिल को अपना दिल नहीं कहते, उनकी तमन्ना कहते हैं।
~ Fani Badayuni
----------
दिल की किताब में गुलाब उनका था;
रात की नींदों में ख्वाब उनका था;
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा;
मर जायेंगे तुम्हारे बिना यह जवाब उनका था।
----------
दिल में प्यार का आगाज हुआ करता है;
बातें करने का अंदाज हुआ करता है;
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती;
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है!
----------
कब तक रहोगे आखिर यूं दूर हमसे;
मिलना पड़ेगा आखिर एक दिन जरूर हमसे;
दामन बचाने वाले ये बेरुखी है कैसी?
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हमसे!
----------
बहते अश्कों की ज़ुबान नहीं होती;
लफ़्ज़ों में मोहब्बत बयां नही होती;
मिले जो प्यार तो कदर करना;
किस्मत हर कीसी पर मेहरबां नहीं होती।
----------
सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं;
दूर वो मुझसे हैं पर मैं खफा नहीं;
मालूम है अब भी वो प्यार करते हैं मुझसे;
वो थोड़ा सा जिद्दी है, मगर बेवफा नहीं!
----------
Aksar Log Apni Chahat Ki Taarif Karte Hein;
Tanke Woh Khaafa Na Ho Jayein;
Hum Isliye Khamosh Rehte Hein;
Tanke Koi Aur Unpe Fida Na Ho Jaye!
----------
तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में, अय दोस्त;
दर्द हो तो समझ लेना कि महोब्बत अभी बाकी है।
----------
Kya Dhoondtey Ho Tum Ishq Ko Aye Bekhabar;
Yeh Khud Hi Dhond Leta Hai, Jisse Barbaad Karna Ho!
----------
धोखा दिया था जब तूने मुझे, जिंदगी से मैं नाराज था;
सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं, मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था।
----------
तुम्हारी दुनिया से जाने के बाद;
हम तुम्हें हर एक तारे में नज़र आया करेंगे;
तुम हर पल कोई दुआ माँग लेना;
और हम हर पल टूट जाया करेंगे।
----------
जब भी उनकी गली से गुज़रता हूँ;
मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं;
दुःख ये नहीं, वो दरवाजा बंद कर देते हैं;
खुशी ये है, वो मुझे अब भी पहचान लेते हैं!
----------
कोई चाँद से मोहब्बत करता है;
कोई सूरज से मोहब्बत करता है;
हम उनसे मोहब्बत करते हैं;
जो हमसे मोहब्बत करते हैं।
----------
चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो;
सांसों में मेरी खुशबु बन के बिखर जाते हो;
कुछ यूँ चला है तेरे 'इश्क' का जादू;
सोते-जागते तुम ही तुम नज़र आते हो।
----------
इश्क है वही जो हो एक तरफा;
इजहार है इश्क तो ख्वाईश बन जाती है;
है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ;
जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।
----------
एक जनाजा और एक बारात टकरा गए;
उनको देखने वाले भी चकरा गए;
ऊपर से आवाज आई-ये कैसी विदाई है;
महबूब की डोली देखने साजन कि अर्थी भी आई है।
----------
मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता;
कहीं तू बढ़ भी सकता है, कहीं तू मुझ से कम होगा।
~ Wasim Barelvi
----------
लोग कहते हैं पिये बैठा हूँ मैं;
खुद को मदहोश किये बैठा हूँ मैं;
जान बाकी है वो भी ले लीजिये;
दिल तो पहले ही दिये बैठा हूँ मैं।
----------
ना जाने वो कौन तेरा हबीब होगा;
तेरे हाथों में जिसका नसीब होगा;
कोई तुम्हें चाहे ये कोई बड़ी बात नहीं;
लेकिन तुम जिसको चाहो, वो खुश नसीब होगा!
----------
आँखों में आंसुओं की लकीर बन गई;
जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गई;
हमने तो सिर्फ रेत में उंगलियाँ घुमाई थी;
गौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गई!
----------
जिस्म तो बहुत संवार चुके रूह का सिंगार कीजिये;
फूल शाख से न तोड़िए खुशबुओं से प्यार कीजिये!
----------
जो दिल से करीब हो उसे रुसवा नहीं कहते;
यूं अपनी मोहब्बत का तमाशा नहीं करते;
खामोश रहेंगे तो घुटन और बढ़ेगी;
इसलिए अपनों से कोई बात छुपाया नहीं करते!
----------
तस्वीर में ख्याल होना तो लाज़मी सा है;
मगर एक तस्वीर है, जो ख्यालों में बनी है!
ग़ालिब मिर्ज़ा!
----------
Unke Dekhne Se Jo Aa Jaatie Hai Munh Par Raunaq;
Woh Samajhte Hain Ke Beemaar Ka Haal Achcha Hai!
----------
वफ़ा का लाज हम वफा से निभायेगें;
चाहत के दीप हम आँखों से जलाएंगे;
कभी जो गुजरना हो तुम्हें दूसरे रास्तों से;
हम फूल बनकर तेरी राहों में बिखर जायेंगे!
----------
ना आना लेकर उसे मेरे जनाजे में;
मेरी मोहब्बत की तौहीन होगी;
मैं चार लोगो के कंधे पर हूंगा;
और मेरी जान पैदल होगी!
----------
कोई छुपाता है, कोई बताता है;
कोई रुलाता है, तो कोई हंसाता है;
प्यार तो हर किसी को ही किसी न किसी से हो जाता है;
फर्क तो इतना है कि कोई अजमाता है और कोई निभाता है!
----------
हम रूठे तो किसके भरोसे, कौन आएगा हमें मनाने के लिए;
हो सकता है, तरस आ भी जाए आपको;
पर दिल कहाँ से लाये, आप से रूठ जाने के लिए!
----------
रात होगी तो चाँद दुहाई देगा;
ख्वाबों में आपको वह चेहरा दिखाई देगा;
ये मोहब्बत है, ज़रा सोचकर करना;
एक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा!
----------
अगर हो सके तो वापस कर दो;
बिना दिल के हमारा दिल नहीं लगता!
----------
इश्क का जिसको ख्वाब आ जाता है;
समझो उसका वक़्त खराब आ जाता है;
महबूब आये या न आये;
पर तारे गिनने का तो हिसाब आ ही जाता है!
----------
दो दिलो की मोहब्बत से जलते हैं लोग;
तरह-तरह की बातें तो करते हैं लोग;
जब चाँद और सूरज का होता है खुलकर मिलन;
तो उसे भी "सूर्य ग्रहण" तक कहते हैं लोग!
----------
तुम मुझे भूल भी जाओ तो ये हक़ है तुमको;
मेरी बात और है, मैने तो मोहब्बत की है!
----------
छुपा लूं तुझको अपनी बाँहों में इस तरह, कि हवा भी गुजरने की इजाज़त मांगे;
मदहोश हो जाऊं तेरे प्यार में इस तरह, कि होश भी आने की इजाज़त मांगे!
----------
खुद को वो चाहे लाख मुकमल समझें;
लेकिन मेरे बिना, वो मुझे अधुरा ही लगता है!
----------
तमाम नींदें गिरवी हैं हमारी उसके पास;
जिससे ज़रा सी मुहब्बत की थी हमनें!
----------
बस इतना ही कहा था, कि बरसो के प्यासे हैं हम;
उसने अपने होठों पे होंठ रख के, हमे खामोश कर दिया!
----------
उनके आने के इंतज़ार में हमनें;
सारे रास्ते दिएँ से जलाकर रोशन कर दिए!
उन्होंने सोचा कि मिलने का वादा तो रात का था;
वो सुबह समझ कर वापस चल दिए।
----------
बेवाफायों की इस दुनियां में संभलकर चलना मेरे दोस्तों;
यहाँ बर्बाद करने के लिए, मुहब्बत का भी सहारा लेते हैं लोग!
----------
अगर हो सके तो वापस कर दो वो हमें;
जिस दिल के बिना, हमारा दिल नहीं लगता!
----------
मेरे इश्क ने सीख ली है, अब वक़्त की तकसीम...
वो मुझे बहुत कम याद आता है;
सिर्फ इतना - दिल की हर एक धड़कन के साथ!
----------
बड़ी मुददत के बाद मिलने वाली थी कैद से आज़ादी;
पर किस्मत तो देखो, जब आज़ादी मिलने वाली थी;
तब तक पिंजरे से प्यार हो चुका था!
----------
मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही;
वो मुझे चाहे या मिल जाये, जरूरी तो नही;
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो;
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नही!
----------
खफा न होना हमसे, अगर तेरा नाम जुबां पर आ जाये;
इंकार हुआ तो सह लेंगे और अगर दुनिया हंसी, तो कह देंगे;
कि मोहब्बत कोई चीज़ नहीं, जो खैरात में मिल जाये;
चमचमाता कोई जुगनू नहीं, जो हर रात में मिल जाये;
----------
हमसे बदल गये वो निगाहें तो क्या हुआ
जिंदा हैं कितने लोग मोहब्बत किये बगैर!
----------
अजीब खेल है ये मोहब्बत का;
किसी को हम न मिले, कोई हमें ना मिला!
----------
सोचता हूँ कि अब तेरे दिल में उतर कर देखूं;
कौन है वहां, जो मुझको तेरे दिल में बसने नहीं देता!
----------
फूल खिलते रहे जिंदगी की राह में;
हंसी चमकती रहे आपकी निगाह में;
कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बाहर आपको;
दिल देता है यही दुआ बार-बार आपको;
वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए!
----------
कभी हँसता है प्यार, कभी रुलाता है प्यार;
हर पल की याद दिलाता है यह प्यार;
चाहो या न चाहो पर आपके होने का एहसास दिलाता है ये प्यार;
वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए!
----------
खींच लेती है मुझे उसकी मोहब्बत;
वरना मै बहुत बार मिला हूँ आखरी बार उससे!
----------
उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी;
उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी!
----------
तुम्हारे पास नहीं तो फिर किस के पास है?
वो टुटा हुआ दिल, आखिर गया कहाँ!
----------
ये डूबने वाले का ही होता हे कोई फन;
आँखों में किसी के भी समंदर नहीं होता!
----------
दिल की धड़कन और मेरी सदा है वो;
मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है वो;
चाहा है उसे चाहत से बड़ कर;
मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है वो!
----------
तुम मुझे मौका तो दो ऐतबार बनाने का;
थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते!
----------
आज असमान के तारों ने मुझे पूछ लिया;
क्या तुम्हें अब भी इंतज़ार है उसके लौट आने का!
मैंने मुस्कुराकर कहा;
तुम लौट आने की बात करते हो;
मुझे तो अब भी यकीन नहीं उसके जाने का!
----------
माना आज उन्हें हमारा कोई ख़याल नहीं;
जवाब देने को हम राज़ी है, पर कोई सवाल नहीं!
पूछो उनके दिल से क्या हम उनके यार नहीं;
क्या हमसे मिलने को वो बेकरार नहीं!
----------
रेत पर नाम कभी लिखते नहीं;
रेत पर नाम कभी टिकते नहीं;
लोग कहते है कि हम पत्थर दिल हैं;
लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं!
----------
महोब्बत और नफरत सब मिल चुके हैं मुझे;
मैं अब तकरीबन मुकम्मल हो चोका हूँ!
----------
इश्क के रिश्ते कितने अजीब होते है?
दूर रहकर भी कितने करीब होते है;
मेरी बर्बादी का गम न करो;
ये तो अपने अपने नसीब होते हैं!
----------
वो खुद पर गरूर करते है, तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं!
जिन्हें हम चाहते है, वो आम हो ही नहीं सकते!
----------
कोई ठुकरा दे तू हंस के सह लेना;
मोहब्बत की ताबित में ज़बरदस्ती नहीं होती!
----------
ये वफ़ा तो उस वक्त की बात है ऐ फ़राज़;
जब मकान कच्चे और लोग सच्चे हुआ करते थे!
----------
कोई अच्छा लगे तो उनसे प्यार मत करना;
उनके लिए अपनी नींदे बेकार मत करना;
दो दिन तो आएँगे खुशी से मिलने;
तीसरे दिन कहेंगे इंतज़ार मत करना!
----------
कृष्ण ने राधा से पूछा: ऐसी एक जगह बताओ, जहाँ में नहीं हूँ?
राधा ने मुस्कुराके कहा, `बस मेरे नसीब में`!
----------
चहरे पर हंसी छा जाती है!
आँखों में सुरूर आ जाता है!
जब तुम मुझे अपना कहते हो,
अपने पर गुरुर आ जाता है!
----------
अगर तुम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता!
तुम्हारे चहरे को कमल कौन कहता!
यह तो करिश्मा है मोहब्बत का!
वरना पत्थर को ताज महल कौन कहता!
----------
तुम्हारे नाम को होंठों पर सजाया है मैंने!
तुम्हारी रूह को अपने दिल में बसाया है मैंने!
दुनिया आपको ढूंढते ढूंढते हो जायेगी पागल!
दिल के ऐसे कोने में छुपाया है मैंने!
----------
मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम!
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा!
मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी!
कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा!
----------
जब तक तुम्हें न देखूं!
दिल को करार नहीं आता!
अगर किसी गैर के साथ देखूं!
तो फिर सहा नहीं जाता!
----------
इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं!
गम - ऐ - जुदाई से सब डरते हैं
हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत!
हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं!
----------
माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये!
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये!
दिल की क्या औकात आपके सामने!
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!
----------
उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ!
सामने न सही पर आस-पास हूँ!
पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे!
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ!
----------
मोहब्बत ऐसी थी कि उनको दिखाई न दी!
चोट दिल पर थी इसलिए दिखाई न गयी!
चाहते नहीं थे उनसे दूर होना पर!
दुरिया इतनी थी कि मिटाई न गयी!
----------
प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता!
ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता!
दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की!
उसके बिना जिया नहीं जा सकता!
----------
इस से पहले कि दिलो में नफरत जागे!
आओ एक शाम मोहब्बत में बिता दी जाये!
करके कुछ मोहब्बत की बातें!
इस शाम की मस्ती बड़ा दी जाये!
----------
देखो मेरी आँखों में ख्बाब किसका है!
देखो मेरे दिल में तूफ़ान किसका है!
तुम कहते हो मेरे दिल के रास्ते से कोई नहीं गुज़रा!
तो फिर यह पैरों के निशान किसके हैं!
----------
न कोई सुबह है और न कोई शाम है!
हर लम्हा आपका ही नाम है!
इससे मजाक मत समझ लेना!
यह हमारी तरफ से प्यार का पैगाम है!
----------
बड़ी मुद्दत से चाहा है तुझे!
बड़ी दुआओं से पाया है तुझे!
तुझे भुलाने की सोचूं भी तो कैसे!
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे!
----------
कभी-कभी ऐसा भी होता है!
प्यार का असर जरा देर से होता है!
आपको लगता है हम कुछ नहीं सोचते आपके बारे में!
पर हमारी हर बात में आपका ही जिक्र होता है
----------
फिजा में महकती एक शाम हो तुम!
प्यार में छलकता जाम हो तुम!
सीने में छुपाये फिरते है हम याद तुम्हारी!
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हो तुम!
----------
हर खामोशी का मतलब इंकार नहीं होता!
हर नाकामयाबी का मतलब हार नहीं होता!
तो क्या हुआ अगर हम तुम्हें न पा सके!
सिर्फ पाने का मतलब प्यार नहीं होता!
----------
क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है!
एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है!
लगने लगते है अपने भी पराये!
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है!
----------
हम रूठे तो किसके भरोसे!
कौन है जो आयेगा हमे मनाने के लिए!
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको!
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये!
----------
हमारा हर लम्हा चुरा लिया आपने!
आँखों को एक चाँद दिखा दिया आपने!
हमें ज़िन्दगी तो दी किसी और ने!
पर प्यार इतना देकर जीना सिखा दिया आपने!
----------
आँखों में तेरी डूब जाने को दिल चाहता है!
इश्क में तेरे बर्बाद होने को दिल चाहता है!
कोई संभाले मुझे, बहक रहे है मेरे कदम!
वफ़ा में तेरी मर जाने को दिल चाहता है!
----------
इस कदर हम उनकी मुहब्बत में खो गए!
कि एक नज़र देखा और बस उन्हीं के हम हो गए!
आँख खुली तो अँधेरा था देखा एक सपना था!
आँख बंद की और उन्हीं सपनो में फिर सो गए!
----------
किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नहीं !
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नहीं !
गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या !
ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं !
----------
किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों है?
जो नहीं मिल सकता उसी से मुहब्बत क्यों है?
कितने खायें है धोखे इन राहों में!
फिर भी दिल को उसी का इंतजार क्यों है?
----------
कभी किसी से प्यार मत करना!
हो जाये तो इंकार मत करना!
चल सको तो चलना उस राह पर!
वरना किसी की ज़िन्दगी ख़राब मत करना!
----------
प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता!
ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता!
दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की!
उस के बिना जिया नहीं जा सकता!
----------
तुझे भूलकर भी न भूल पायेगें हम!
बस यही एक वादा निभा पायेगें हम!
मिटा देंगे खुद को भी जहाँ से लेकिन!
तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम!
----------
मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं!
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं!
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में!
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं!
----------
जब कोई ख्याल दिल से टकराता है!
दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है!
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है!
कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है!
----------
दिल को था आपका बेसबरी से इंतजार!
पलके भी थी आपकी एक झलक को बेकरार!
आपके आने से आयी है कुछ ऐसी बहार!
कि दिल बस मांगे आपके लिये खुशियाँ बेशुमार!
----------
कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है!
कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है!
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से, तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है
----------
वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे!
दुनिया में हम खुश नसीब होंगे!
दूर से जब इतना याद करते है आपको!
क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे?
----------
बेताब तमन्नाओ की कसक रहने दो!
मंजिल को पाने की कसक रहने दो!
आप चाहे रहो नज़रों से दूर!
पर मेरी आँखों में अपनी एक झलक रहने दो!
----------
उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको!
खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको!
हम तो कुछ देने के काबिल नहीं है!
देने वाला हज़ार खुशिया दे आपको!
----------
गम ने हसने न दिया, ज़माने ने रोने न दिया!
इस उलझन ने चैन से जीने न दिया!
थक के जब सितारों से पनाह ली!
नींद आई तो तेरी याद ने सोने न दिया!

----------

मेरे बारे में इतना मत सोचना, दिल में आता हूँ, समज में नहीं
तुम जिन्दगी में आ तो गये हो मगर ख्याल रखना, हम ‘जान’ दे देते हैं मगर ‘जाने’ नही देते!
तुम खुश-किश्मत हो जो हम तुमको चाहते है वरना, हम तो वो है जिनके ख्वाबों मे भी लोग इजाजत लेकर आते है!
किसीने मुझसे पूछा ज़्हिंदगी किसी हैं, मेने मुस्कुराकर कहा वो ठीक हे!
मेरी मुस्कराहट तो तब बहार आती हैं, जब में आप के साथ होता हू!
जिसकी सजा सिर्फ तुम्हो मुझे एसा गुन्नाह करना हैं!
धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल अभी तो पलकें झुकाई है मुस्कुराना अभी बाकी है!
लोग कहते हैं की मोहब्बत एक बार होती हैं, लेकिन मुझे तो एक ही इंसान से बार बार होती हे!
में तो पैदा ही आप से इश्क़ कर ने के लिए होवा था!
हर मोहब्बत की कहानी मुझे पसंद हैं, मगर हमारी कहानी मेरी मनपसंद हैं!
मुझे मालूम था कि वो रास्ते कभी मेरी मंजिल तक नहीं जाते थे, फिर भी मैं चलता रहा क्यूँ कि उस राह में कुछ अपनों के घर भी आते थे!
यूं तो सब कुछ सलामत है तेरी दुनिया में ए खुदा! बस रिश्तें ही हैं जो अब टूटे टूटे से नजर आते हैं!
बोलो ना? तेरे बिना जी नहीँ सकते हम. इसी बात का फायदा उठाते हो ना!
जिस रोज तेरे चाहने वालो को तू बेहद बुरी लगेगी, उस दिन भी तू हमे बेहद खूबसूरत लगेगी!
बहुत कुछ बदला हैं मैने अपने आप में, लेकिन, तुम्हें वो टूट कर चाहने की आदत अब तक नहीं बदली…
दिलो जान से करेंगे हिफ़ाज़त उसकी बस एक बार वो कह दे कि मैं अमानत हूं तेरी।
मेरी ज़िन्दगी में खुशियाँ तेरे बहाने से है, आधी तुझे सताने से है, आधी तुझे मनाने से है…
तुमको देखा तो मौहब्बत भी समझ आई, वरना इस शब्द की तारीफ ही सुना करते थे…
ज़िन्दगी बहुत ख़ूबसूरत है, सब कहते थे, जिस दिन तुझे देखा, यकीन भी हो गया!
धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल अभी तो पलकें झुकाई है मुस्कुराना अभी बाकी है उनका…
कल ही तो तौबा की मैंने शराब से.. कम्बख्त मौसम आज फिर बेईमान हो गया।।
भीड़ में खड़ा होना मकसद नही है मेरा, बल्कि भीड़ जिसके लिए खड़ी है वो बनना है मुझे !!
बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी‬‎और हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं‬..!!!
कौन कहता है की सिर्फ ‪चोट‬ ही ‪दर्द‬ देता है असली दर्द मुझे तब होता है जब तू ‪ online‬ आके भी ‪reply‬ नहीं देती
अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का, सब को मंज़िल का शौख हे, मुझे रास्ते का ..।
पसंद है मुझे.. उन लोगों से हारना… जो लोग मेरे हारने की वजह से पहली बार जीते हों..
‘हुनर’ सड़कों पर तमाशा करता है और ‘किस्मत’ महलों में राज करती है!!
मैंने महसूस किया है उस जलते हुए रावण का दुःख जो सामने खड़ी भीड़ से बारबार पूछ रहा था.. तुम में से कोई राम है क्या?
नए लोग से आज कुछ तो सीखा हे, पहले अपने जैसा बनाते हे फिर अकेला छोड़ देते है…
खेलने दो उन्हे जब तक जी न भर जाए उनका, मोहब्बत चार दिन कि थी तो शौक कितने दिन का होगा..
मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनियाँ में, इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं..
एहसान वो किसी का लेते, नहीं मेरा भी चुका दिया, जितना भी खाया था नमक, मेरे ज़ख़्मों पर लगा दिया..
कोई उसे खुश करने के बहाने ढूंड रहा था, मैने कहा- उसे मेरे मरने की खबर सुना दे..
किस बात पर मिजाज बदला बदला सा है.. शिकायत है हमसे.. या ये असर किसी और का है..
रहता तो नशा तेरी यादों का ही है, कोई पूछे तो कह देता हुँ पी रखी है..
काश कि वो लौट आयें मुझसे यह कहने, कि तुम कौन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले..!!!
हद से बढ़ जाये तालुक तो गम मिलते हैं.. हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हँ..
कितना कुछ जानता होगा वो शख्स मेरे बारे में मेरे मुस्कुराने पर भी जिसने पूछ लिया की तुम उदास क्यों हो.
कभी फुर्सत मिले तो सोचना जरूर, एक लापरवाह लड़का क्यों तेरी परवाह करता था !
जिंदगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ.. मगर, किसी के भरोसे का फ़ायदा नहीं..
जिस्म से होने वाली मुहब्बत का इज़हार आसान होता है. रुह से हुई मुहब्बत को समझाने में ज़िन्दगी गुज़र जाती है..
Ladkiya.. makeup mein le leti he ladko ki jaan.. aur saala makeup utaro toh poora kabristan..!
बात करने से ही बात बनती है..बात ना करने से, बातें बन जाती है ..!
तुम अच्छे हो तो बन के दिखाओ, हम बुरे है तो साबित करो.
काश !! OLX पे उदासी और अकेलापन भी बेचा जा सकता.
हम नवाब इस लिए है क्यों की हम लोगो पे नहीं लोगो के दिलो पे राज करते है
भूख रिश्तों को भी लगती है.. प्यार परोस कर तो देखिये..!
हिंदुस्तान में जब लड़कियों के पास कुछ करने के नहीं होता तो वो अक्सर अपना मूड खराब कर लेती है।
पगली तू हमारी बराबरी क्या करेगी हम तो माचीस भी Snepdeal से मंगवाते है…..
चुपचाप चल रहे थे.. हम अपनी मंजिल की तरफ.. फिर रस्ते में एक ठेका पड़ा.. और हम गुमराह हो गए।
ऐ जीन्दगी जा ढुंड॒ कोई खो गया है मुझ से. अगर वो ना मिला तो सुन तेरी भी जरुरत नही मुझे.
कुछ दूर हमारे साथ चलो, हम दिल की कहानी कह देंगे, समझे ना जिसे तुम आखो से, वो बात जुबानी कह देंगे ।
कितनी ही खूबसूरत क्यों न हो तुम.. पर मैं जानता हूँ.. असली निखार मेरी तारीफ से ही आता है..
होने वाले ख़ुद ही अपने हो जाते हैं.. किसी को कहकर, अपना बनाया नही जाता..!!
नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को, निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है..
ज़िन्दगी जोकर सी निकली … कोई अपना भी नहीं.. कोई पराया भी नहीं
मेरी आँखों में बहने वाला ये आवारा सा आसूँ पूछ रहा है.. पलकों से तेरी बेवफाई की वजह..
दम तोड़ जाती है हर शिकायत लबों पे आकर, जब मासूमियत से वो कहती है मैंने क्या किया है
अगर तुम्हें यकीं नहीं, तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास, अगर तुम्हें यकीं है, तो मुझे कुछ कहने की जरूरत नही !
मेरी हर बात को उल्टा वो समझ लेते हैं, अब के पूछा तो कह दूंगा कि हाल अच्छा है..
खामोशियाँ में शोर को सुना है मैंने, ये ग़ज़ल गुंगुनायेगी रात के साये में ।
मिला क्या हमें सारी उम्र मोहब्बत करके, बस एक शायरी का हुनर, एक रातों का जागना..
ना पीछे मुड़ के देखो, ना आवाज़ दो मुझको, बड़ी मुश्किल से सीखा है मैंने अलविदा कहना..!
कभी टूटा नहीं मेरे दिल से तेरी यादों का रिश्ता.. गुफ़्तगू किसी से भी हो ख़याल तेरा ही रहता है..
ना छेड़ किस्सा वोह उल्फत का बड़ी लम्बी कहानी है मैं जिन्दगी से नहीं हारा किसी अपने की मेहरबानी है
हर किसी के हाथ मैं बिक जाने को हम तैयार नहीं.. यह मेरा दिल है तेरे शहर का अख़बार नहीं..
आज भी एक सवाल छिपा है.. दिल के किसी कोने मैं.. की क्या कमी रह गईथी तेरा होने में.
मेरी लिखी किताब, मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगे इसे पढा करो, मोहब्बत करना सिख जाओगे..!!
इतनी चाहत तो लाखो रुपए पाने की भी नही होती.. जितनी बचपन की तस्वीर देख कर बचपन में जाने की होती हैं
साला किस्मत भी ऐसी है, की जिस दिन मेरा सिक्का चलेगा न, ठीक उसी दिन सरकार सिक्कों पे रोक लगा देगी..!
जितनी बार उसकी प्रोफाईल देखता हुं. यदि उतनी बार किताब खोल के देखता तो..कसम से यारो IAS का पेपर क्लीयर कर देता
दिल मेरा भी कम खूबसूरत तो न था.. मगर मरने वाले हर बार सूरत पे ही मरे..
मेरी आवाज़ ही परदा है मेरे चेहरे का, मैं हूँ ख़ामोश जहाँ मुझको वहाँ से सुनिए….!!!
उसने हर नशा सामने लाकर रख दिया और कहा.. सबसे बुरी लत कौनसी हैं, मैने कहा.. तेरे प्यार की.
क्या ऐसा नहीँ हो सकता की हम प्यार मांगे, और तुम गले लगा के कहो… और कुछ….??
वजह नफरतों कि तलाशी जाती है, मोहब्बत तो बेवजह ही हो जाती है..!!
फ्रेंड की प्रोफ़ाइल पिक्चर, लाइक करना आदत है हमारी. . . क्योंकी हर फ्रेंड के सूरत मे छिपी है खुशी हमारी.
आजकल देखभाल कर हौते हैं प्यार के सौदे… वो दौर और थे जब प्यार अन्धा होता था..![/su_note
छोङो ना यार , क्या रखा है सुनने और सुनाने मेँ किसी ने कसर नहीँ छोङी दिल दुखाने मेँ ..
यूँ ही जरा खामोश जो रहने लगे हैं हम। लोगों ने कैसे कैसे फसाने बना लिये।।
ज़िंदगी की दौड़ मे कच्चा रह गया… नही सीखा फ़रेब बच्चा रह गया…
खुदा सवाल करेगा अगर क़यामत में, तो हम भी कह देंगे लुट गए हम शराफत में…
बस ख़ामोशी जला देती है इस दिल को.. बाकि तो सब बाते अच्छी है तेरी तस्वीर में…
ज़रूरी तो नहीं के शायरी वो ही करे जो इश्क में हो, ज़िन्दगी भी कुछ ज़ख्म बेमिसाल दिया करती है…
कुछ अलग सा है अपनी मौहबत का हाल… तेरी चुपी और मेरा सवाल ….!!!!
सब को मुहब्बत के ग़म नहीं मिलते टूटने वाले दिल होते हैं ख़ास.
ज़मीं पर रह कर आसमां को छूने की फितरत है मेरी, पर गिरा कर किसी को, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे
कैसे चलूँ तेरे_एहसास के बिना दो_कदम भी मैं, लड़खड़ाती जिदंगी की आखरी_बैसाखी हो तुम..
मेरी कोशीश हमेशा ही नाकाम रही पहले तूझे पाने की और अब तुझे भुलाने की
Jab bhi main mujh ko dekhu… Mujh main bhi main Tujh sa lagu :’)
मुजे कोइ ऐसी जगह ले चलो जहा रहु सिर्फ मे और मेरी तन्हाई
मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनियाँ में इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं
साथी तो मुझे अपने सुख के लिए चाहिए दुखों के लिए तो मैं अकेला काफी हूँ…..
इतने कहाँ मशरूफ हो गए हो तुम, आजकल दिल दुखाने भी नहीं आते…!
यू पलटा मेरी किस्मत का सितारा मेरे दोस्तो उसने भी छोड़ दिया और अपनों ने भी
वाकिफ़ है वो मेरी कमज़ोरी से…! वो रो देती है, और मैं हार जाता हूँ…
मैने सिखी नही कोई शायरी महफिलों मे जाकर ! हालात अक्सर दर्द सहना सिखा देते है
मुश्किल होता है जवाब देना. जब कोई खामोश रह करभी सवाल कर लेता है!
Bahut gurur tha sbko apni daulat pe.. zara sa zameen kya hili sb aukat me aa gye..
दुआ कभी खाली नही जाती, बस लोग इंतजार नही करते..
जिसे आज मुजमे हजार एब नजर आते हे, कभी वही लोग हमारी गलती पे भी ताली बजाते थे !!
दिन ऐसे गुजारो की रात को चैन से सो सको.. और रात ऐसी गुजारो की सुबह खुद से नजरे मिला सको.
देखना.. एक दिन बदल जाऊगा पूरी तरह मैं तुम्हारे लिए न सही.. लेकिन… तुम्हारी वजह से ही सही..!!
देखकर तुमको अकसर हमें एहसास होता है कभी कभी ग़म देने वाला भी कितना ख़ास होता है.
दुनिया को इतना सीरियस लेने की जरुरत नहीं, यहाँ से कोई जिन्दा बच के नहीं जाएगा..!!!
दुआ कभी खाली नही जाती, बस लोग इंतजार नही करते.
नाम और बदनाम में क्या फर्क है ? नाम खुद कमाना पड़ता है,और बदनामी लोग आपको कमा के देते हैं!
सोने के जेवर ओर हमारे तेवर लोगो को अक्सर बहोत मेंहगे पडते हे.
ढूंढ़ रहा हु लेकिन नाकाम हु अभी तक, वो लम्हा जिस में तुम याद ना आये,
तरक्की की फसल, हम भी ‘काट’ लेते… थोड़े से तलवे, अगर ‘हम’ भी चाट लेते.
तेरी मोहब्बत पर मेरा हक़ तो नही मगर.. जी चाहता है क़ि आखिरी सांस तक तेरा इन्तजार करू..!!
तेरे ही नाम से ज़ाना जाता हूं मैं, ना जाने ये शोहरत है या बदनामी.
तुम वादा करो आखरी दीदार करने आओगे, हम मौत को भी इंतजार करवाएँगे तेरी ख़ातिर,
बात इतनी सी थी कि तुम अच्छे लगते थे, अब बात इतनी बढ़ गई है कि तुम बिन कुछ अच्छा नहीं लगता!!!
बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म..!अब जिसतरह की दुनियां, उस तरह के हम…!!
मंदिर भी क्या गज़ब की जगह है! गरीब बाहर भीख मांगते हैं, और अमीर अन्दर.
मालुम था कुछ नही होगा हासिल लेकिन… वो इश्क ही क्या जिसमें खुद को ना गवायाँ जाए.
मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना.
मैँने अपना गम आसमान को क्या सुना दिया… शहर के लोगों ने बारीश का मजा ले लिया.
मूंगफली में छिलके और छोरी में नखरे ना होते तो जिंदगी कितनी आसान हो जाती.
में उन ही चीज़ों का शोख़ रखता हु जो मुझे मिलती हे । उन चिंजो का नहीं जिनकी इजाजत मेरे माँ बाप नहीं देते .
मेरा वक्त बदला है… रूतबा नहीं तेरी किस्मत बदली है… औकात नहीं ।
मेरे मरने के बाद मेरी कहानी लिखना, कैसे बर्बाद हुई मेरी जवानी लिखना.
मुझे जॉब करने का कोई सोख नहीं है ये तो मम्मी-पापा की जींद है की तेरे लिए छोरी कहा से धुंध के लाएंगे.
रुलाने मे अक्सर उन्हीँ लोगो का हाथ होता है जो हमेशा कहते है कि तुम हँसते हुए अच्छे लगते हो.
वो तो खिलोने वाले की मजबूरी है वरना बच्चो को रोते हुए देखना उसे भी अच्छा नही लगता ।
वो काग़ज़ आज भी फूलों की तरह महकता है.. जिस पर उसने मज़ाक़ में लिखा था ..मुझे तुमसे मोहब्बत है.
शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है, जंगल मे चुनाव नही होते.
अब मैं कोई भी बहाना नहीं सुनने वाला .. तुम मेरा प्यार…. मुझे प्यार से वापस कर दो.
अब किसी और से मोहब्बत कर लूं, तो शिकायत मत करना ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है…!
अर्ज़ किया है.. ज़िन्दगी में अगर ग़म न होते.. तो शायरों की गिनती में हम न होते.
अगर कहो तो आज बता दूँ मुझको तुम कैसी लगती हो। मेरी नहीं मगर जाने क्यों, कुछ कुछ अपनी सी लगती हो।
अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का, बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है ॥
आज टूटा एक तारा देखा, बिलकुल मेरे जैसा था। चाँद को कोई फर्क नहीं पड़ा, बिलकुल तेरे जैसा था।।
इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर, शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!
इतनी कामीयाबि हाँसिल करूंगा की तु जे माफी मांगने के लिये भी लाईन मेँखडा होना पडेगा.
करेगा जमाना कदर हमारी भी एक दिन देख लेना… बस जरा ये भलाई की बुरी आदत छुट जाने दो.
क़दर किरदार की होती है वरना कद में तो साया भी इंसान से बड़ होता है..
कांटो से बच बच के चलता रहा उम्र भर… क्या खबर थी की चोट एक फूल से लग जायेगी.
काश तुम मेरी मौत होते तो, एक दिन जरुर मेरे होते.
क्या किसी से शिकायत करें जब अपनी तक़दीर ही बेवफा है।
क्यों गुरूर करते हो अपने ठाठ पर… मुट्ठी भी खाली रहेगी जब पहुंचोगे घाट पर..
इस दुनिया मे कोई किसी का हमदर्द नहीं होता … लोग ज़नाजे के साथ भी होते हैं तो सिर्फ अपनी हाजिरी गिनवाने के लिए.
बताँऊ तुम्हें एक निशानी उदास लोगों की….. कभी गौर करना यें हसंते बहुत हैं
हर शाम सुहानी नहीं होती, हर चाहत के पीछे कहानी नहीं होती, कुछ तो असर ज़रूर होगा मोहब्बत में, वर्ना गोरी लड़की काले औज़ार की दीवानी नहीं होती।
तुम आस पास ना आया करो जब मैं शराब पीता हूँ…क्या है कि मुझसे दुगना नशा सभांला नहीं जाता.
पलट के देख ज़ालिम, तमन्ना हम भी रखते हैं, हुस्न तुम रखती हो, तो जवानी हम भी रखते हैं; गहराई तुम रखती हो तो लंबाई हम भी रखते हैं!
इश्क की पतंगे उडाना छोड़ दी ….. वरना हर हसीनाओं की छत पर हमारे ही धागे होते.
मैंने भी बदल दिये ज़िन्दगी के उसूल, अब जो याद करेगा… सिर्फ वो ही याद रहेगा…!!
मैंने पूछा एक पल में जान कैसे निकलती है, उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया…
पहले हमें भी मोहबत का नशा था यारो पर जब से दिल टूटा है नशे से मोहबत हो गई है छोटी-छोटी बातें करके बड़े कहाँ हो जाओगे… पतली गलियों से निकलो तो खुली सड़क पर आओगे…
ईरादे सब मेरे साफ होते है, इसीलिए लोग अक्सर मेरे खिलाफ होते हेँ !
मैँ कभी बुरा नही था उसने मुझे बुरा कह दिया…फिर मैँ बुरा बन गया ताकि उन्हे कोई झुठा ना कह दे…
नींद तो आने को थी मगर दिल पिछले किस्से ले बैठा…. अब खुद को बेवक्त सुलाने मे कुछ तो वक्त लगेगा..
कौन देता है उम्र भर का सहारा, लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं!
उस घडी मेरा इश्क हदें भूल जाता था, जब लडते लडते वो कहती थी लेकिन प्यार मैं ज्यादा करती हू तुमसे..
चल कोई बात नही जो तु मेरे साथ नही लेकिन यह बंदा तेरे लिये रोये ऐसी तेरी ओकात नही।
मै शायर नही बस दिल के अहसासो को शब्दो का रूप दे देता हूँ.. जहाँ दिख गये हसीन चेहरे थोडी बहुत आवारगी कर लेता हूँ…
जिस शहर में तुम्हे मकान कम और शमशान ज्यादा मिले… समझ लेना वहा किसी ने हम से आँख मिलाने की गलती की थी….!!
आज फिर तन्हा रात में इंतज़ार है उस शख्स का, जो कहा करता था तुमसे बात न करूँ तो नींद नहीं आती
हजारो दुआओ में मांग कर भी वो मेरी न हो सकी, एक खुशनसीब ने बिना मांगे उसे अपना बना लिया ।।
मैं इस काबिल तो नही कि कोई अपना समझे…. पर इतना यकीन है… कोई अफसोस जरूर करेगा मुझे खो देने के बाद.!!
जिस मोहब्बत में दीवानगी ना हो, वोह मोहब्बत ही नही.
मैंने पूछा एक पल में जान कैसे निकलती है, उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया…
ना कर शक मेरी मोहब्बत पर ऐ पगली… अगर सबूत देने पर आया तो तू बदनाम हो जायेगी…
मुजे उस बात की फिक्र नहीं, जीस में मेरा जीक्र नहीं!
मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना.. नाराज वो होते हैं जिन को अपने आप पे गुरूर होता है…..!!
मुझे आदत नहीं कहीं बहुत देर तक ठहरने की.. लेकिन जब से तुम मिले हो ये दिल कही और ठहरता नही…
उसने सिर्फ एक बार मुझसे कहा था… तुम प्यार सिर्फ मुझी से करना …. उसके बाद… मैने प्यार की नज़र से खुद को भी नहीं देखा..
मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोई जेब नही
हर एक शख्स ने अपने अपने तरीके से इस्तेमाल किया हमें.. और हम समझते रहे लोग हमें पसंद करते हैं !!
क्या हसीन इत्तेफाक़ था, तेरी गली में आने का… किसी काम से आये थे, किसी काम के ना रहे….!!
लौट आती है हर बार इबादत मेरी खाली, न जाने किस ऊँचाई पे मेरा ‘खुदा’ रहता है…!
जहर के असरदार होने से कुछ नही होता साहब खुदा भी राजी होना चाहिये मौत देने के लिय.
दिल से बेहतर तो रावण है साल में एक ही दिन जलता है.
कुछ लोग हमें अपना कहा करते है । सच कहूँ वो सिर्फ कहा करते है ।
कुछ लौग ये सोचकर भी मेरा हाल नहीं पुँछते… कि यै पागल दिवाना फिर कोई शैर न सुना देँ !!
हम घोडे के ‪‎ट्रिगर‬ पे नहीँ, बल्की खुद के ‪जीगर‬ पे जीते हे ।
होंठो से लगाकर तूने, दिल को एक नये नशे की तलब लगा दी। सकूं मिलता था भींड में हमे, तन्हाई में बुलाकर तूने, तन्हाई की आदद्त लगा दी।
लोग कहते हैं की इतनी दोस्ती मत करो के दोस्त दिल पर सवार हो जाए में कहता हूँ दोस्ती इतनी करो के दुश्मन को भी तुम से प्यार हो जाए.
लोग हमें समजते कम हे और समजाते ज्यादा हे… इसलिए मामले सुलजते कम हे और उलजते ज्यादा हे …!!
गर्लफ्रेंड तोह बच्चे पटाते हे , मे तोह कमिना हु , कमिनी ही पटाउन्गा..
गलत बन्दे से प्यार कर रही है वो.. मोहब्बत मेँ कही हुस्न ना खराब कर बैठे.
खुद के लिए कभी कुछ माँगा नहीं, औरों के लिए सर झुकाने पड़ते हैं।
पानी मेँ पत्थर मत झेको उस पानी कोभी कोई पीता है॥ यु मत रहो जिँदगी मेँ उदास तुमे देख के भी कोई जिता है॥
जिस क़दर उसकी क़दर की हमनें !! उस क़दर बेक़दर हो गए हम..
जहां तक रिश्तों का सवाल है…..लोगो का आधा वक़्त…. अन्जान लोगों को इम्प्रेस करने औरअपनों को इग्नोर करने में चला जाता हैं…!!
जैसा भी हूं अच्छा या बुरा अपने लिये हूं, मै खुद को नही देखता औरो की नजर से..
नेक बनने के लिए ऐसी कोशिश करो जैसी कोशिश खूबसूरत दिखने के लिए करते हो.
गुलाम बनकर जिओगे तो कुत्ता समजकर लातमारेगी ये दुनिया.. नवाब बनकर जिओगे तो शेर समझ सलामठोकेगी ये दुनिया.
अगर प्यार है तो शक़ कैसा अगर नहीं है तो हक़ कैसा.
तेरी आँखों के जादू से तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़ ये उसे भी जीना सीखा देती है जिसे मरने का शौक़ हो!!
न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर..तेरे सामने आने से ज़्यादा.. तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है…!!!
तु बेशक अपनी महफ़िल में मुझे बदनाम करता है, लेकिन तुझे अंदाजा भी नहीं की वो लोग भी मेरे पैर छुते है, जिन्हें तु भरी महफ़िल में सलाम करता है.
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर की पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं.
जब भी अपनी शख्शियत पर अहंकार हो, एक फेरा शमशान का जरुर लगा लेना.. तेरे दीदार की आस में आते हैं तेरी गलियों में वरना सारा शहर पडा है आवारगी के लिए.
भगवान से वरदान माँगा कि दुश्मनों से पीछा छुड़वा दो अचानक दोस्त कम हो गए.
अपनी भूख का इल्ज़ाम न दे तू खुदा को.. वो माँ के पेट में भी बच्चों को पाल देता है !
इस शिद्दत से निभा अपना किरदार पर्दा गिर जाए पर तालियाँ बजती रहे.
मेरे हाल पर हसने वालो बस इतना याद रखना लोगो का तो वक्त आता हे पर मेरे पूरा दोर आएगा.
थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ जिन्दगी मुनासिब होगा मेरा हिसाब कर दे.
तु बेशक अपनी महफ़िल में मुझे बदनाम करता है, लेकिन तुझे अंदाजा भी नहीं की वो लोग भी मेरे पैर छुते है, जिन्हें तु भरी महफ़िल में सलाम करता है.
माचिस की ज़रूरत यहाँ नहीं पड़ती यहाँ आदमी आदमी से जलता है.
सुना है इश्क़ से तेरी बहुत बनती है एक एहसान कर उस से क़ुसूर पुछ मेरा.
मेरे इरादे मेरी तक़दीर बदलने को काफी हैं मेरी किस्मत मेरी लकीरों की मोहताज़ नहीं. मेरे लफ़्ज़ों की सही पहचान, अगर वो कर लेते उन्हें मुझसे ही नहीं खुद से भी मोहब्बत हो जाती.
आप दिल से यूँ पुकारा ना करो, हमको यूँ प्यार से इशारा ना करो, हम दूर हैं आपसे ये मजबूरी है हमारी, आप तन्हाइयों मे यूँ रुलाया ना करो..
अगर जींदगी मे कुछ पाना हो तो तरीके बदलो ईरादे नही.
अजीब दस्तूर है मोहब्बत का रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है.
भरी जेब ने दुनिया की पहेचान करवाई और खाली जेब ने इन्सानो की.
एक सवेरा था जब हँस कर उठते थे हम और आज कई बार बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है.
तेरे होठों से भी क्या खूब नशा मिला यूँ लगता है तेरे जूठे पानी से ही शराब बनती है|
ख़ुशी तकदीरो में होनी चाहिए तस्वीरो में तो हर कोई खुश नज़र आता है|
दुनिया के बड़े से बड़े साइंटिस्ट ये ढूँढ रहे है की मंगल ग्रह पर जीवन है या नहीं पर आदमी ये नहीं ढूँढ रहा कि जीवन में मंगल है या नही.
जब लगे पैसा कमाने, तो समझ आया शौक तो मां-बाप के पैसों से पुरे होते थे अपने पैसों से तो सिर्फ जरूरतें पुरी होती है.
मैंने अपनी मौत की अफवाह उड़ाई थी दुश्मन भी कह उठे आदमी अच्छा था.
कोई मिल जाए तुम जैसा ये ना-मुमकिन है पर तुम ढूँढ लो हम जैसा इतना आसान ये भी नही.
दम कपड़ों में नहीं, जिगर में रखो बात कपड़ों में होती तो सफेद कफन में लीपटा मुर्दा भी सुलतान मिर्ज़ा होता.
इस कदर हर तरफ तन्हाई है, उजालो मे अंधेरों की परछाई है, क्या हुआ जो गिर गये पलकों से आँसू, शायद याद उनकी चुपके से चली आई है.
चाहे दुश्मन मिले चार या चार हज़ार सब पर भारी पड़ेंगे मेरे जिगरी यार.
कितनी खुबसूरत सी हो जाती है ये दुनिया जब अपना कोई कहता है कि तुम याद आ रहे हो.
कहते हैं के कब्र में सुकून की नींद आती है अज़ीब बात है कि ये बात भी ज़िन्दा लोगों ने कही है.
नशा हम किया करते है इलज़ाम शराब को दिया करते है कसूर शराब का नहीं उनका है जिनका चहेरा हम जाम मै तलाश किया करते है.
कहां कोइ मिला जिस पर दिल लुटा देते हर एक ने धोखा दिया किस किस को भुला देते रखते हैं दिल में छुपा के अपना दर्द करते बयान तो महफिल को रुला दे.
वो बार बार मुझसे पूछती है आखिर क्या है मोहब्बत अब क्या बताऊं उसे की उसका पूछना और मेरा ना बताना यही मोहब्बत है.
तू मोहब्बत है मेरी इसीलिए दूर है मुझसे अगर जिद होती तो शाम तक बाहों में होती.
आपसे मुलाक़ात की अजब निशानी है, हँसते हँसते आंखे भर आती हें जिंदगी में हो चाहे कितनी परेशानी, आपके साये में हर मुश्किल आसा.
कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं,
किसी की महोब्बत से हमने क्या पाया है रात की नींद और दिन का चैन गंवाया है क्या करें हम इस दिल का जिसे आज बरबाद हो कर भी होश नहीं आया है
बहुत तकलीफ देती है ना मेरी बातें तुम्हें देख लेना एक दिन मेरी खामोशी तुम्हें रुला देगी
नदी जब किनारा छोड़ देती है राह की चट्टान तक तोड़ देती है बात छोटी भी अगर चुभ जाती हैं दिल में, ज़िन्दगी के रास्तों को मोड़ देती है
शतरंज की चालों का खौफ़ उन्हें होता है जो सियासत करते हैं साहेब हम तो यारी करते हैं
भगवान अगर कुछ देना चाहें तो पहले दोनो हाथ खाली कर देता है… ताकि आपको कुछ बेहतर दे सकें !!
बिखर कर रह गया.. वजूद मेरा..! मै तो समझा था, इश्क संवार देगा मुझे..!!
मज़हब पता चला, जो मुसाफ़िर की लाश का!! चुपचाप आधी भीड़ घरों को चली गई!!
तू बदनाम ना हो इसलिये जी रही हूं मै, वरना तेरी चौखट पे मरने का इरादा रोज़ होता है..
मजा चख लेने दो उसे गेरो की मोहबत का भी, इतनी चाहत के बाद जो मेरा न हुआ वो ओरो का क्या होगा | बन के तुम मेरे मुझको मुकम्मल कर दो….अधूरे-अधूरे अब हम ख़ुद को भी अच्छे नहीं लगते.
Hum Bhi Dariya Hain Humein Apna Hunar Maloom Hai Jis Taraf Bhi Chal Parainge Raasta khud hi bna lenge.
Kheench Leti Hai Unki Mohabbat Mujhe Har Baar !!!! Warna Bahut Baar Mile Thay Unse Aakhri Baar.
बेशक वो ख़ूबसूरत आज भी है, पर चेहरे पर वो मुस्कान नहीं, जो हम लाया करते थे..!!
अपनी हार पर कितना शकून था मुझे, जब उसने गले लगाया जीतने के बाद.
हर बार सम्हाल लूँगा गिरो तुम चाहो जितनी बार, बस इल्तजा एक ही है कि मेरी नज़रों से ना गिरना…
आज भी लोग हमारी इतनी इज्जत करते हैं, हमारे ‪‎status‬ वो सर झुकाकर पढ़ते हैं ..!!
तेरी मोहब्बत को कभी खेल नही समजा, वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नही ।
हकीकत में ये खामोशी हमेशा चुप नही रहती, कभी तुम गौर से सुनना बहुत किस्से सुनाती है.
न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई, न वो वापस लौटीं, न मोहब्बत दोबारा हुई…
चलो अब जाने भी दो.. क्या करोगे दास्तां सुनकर, ख़ामोशी तुम समझोगे नहीं, और बयां हमसे होगा नही
खुद को बिखर्ने मत देना, कभी किसि हाल मेँ, लोग गिरे हुए माकान कि, ईटे तक लेजा ते है.
प्यार करना सीखा है, नफरतों का कोई ठौर नहीं….!! बस तू ही तू हैं दिल में, दूसरा कोई और नहीं….!!
देख पगली दिल मेँ प्यार होना चाहिए… धक-धक तो Royal Enfield भी करता है!
Vo IShQ hi kYa.. Jo Aankho Se na Tapke!
‎लाख‬ दिये ‪‎जलाले‬ अपनी ‪‎गली‬ मे..? मगर ‪रोशनी‬ तो ‪हमारे‬ आने से ही ‪‎होगी‬.
Sahara dudhne ki adat Humari nhi, Hum akele hi puri mehfil ke baraber hai.
इंसान सिर्फ आग से नहीं जलता, कुछ लोग तो हमारे अंदाज से जल जाते है। गहरी साज़िशों का दौर है, उनके गिरेबान में झाँकते रहिये..
रेल मंत्री से बस एक ही गुज़ारिश है, मग्गे की चेन लंबी कर दें.
जब स्टेटस कॉपी होने लग जाए तो समझ लो तरक्की कर रहे हो .
जीवन की एक सच्चाई ये भी है कि हमेशा ट्रैफिक बराबर वाली लेन में तेज़ चलता है.
तेरे साथ भी तेरा था… तेरे बिन भी तेरा ही हूँ…
हमसफ़र खूबसूरत नहीं.. सच्चा होना चाहिए .
आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते हैं, अक्सर वही आप की आँखें खोल जाता है.
अभी तो इश्क़ हुआ है… ‘मंज़िल’ तो मयखाने में मिलेगी…!!!
खवाहिश नही मुझे मशहुर होने की … आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है…
कमज़ोर पड़ गया है मुझसे तुम्हारा ताल्लुक …या कहीं और सिलसिले मजबूत हो गए हैं..
आइना जब भी उठाया करो.. “पहले देखो”…फिर “दिखाया करो”.!!
चल पड़े है फ़िकरे यार धुएं में उडा के मेरी नीम सी ज़िन्दगी शहद कर दे… कोई मुझे इतना चाहे की हद कर दे…
प्यार का रिश्ता भी कितना अजीब होता है। मिल जाये तो बातें लंबी और बिछड़ जायें तो यादें लंबी।
सरकार को पाकिस्तान के आतंकवाद का जवाब देना अनिवार्य नहीं है।। लेकिन.. सेटअप बॉक्स लगाना अनिवार्य हैं..!!
अचानक Wi-Fi सिग्नल बंद हो गये… लगता है कि… पडोसी ने बिल नहीं भरा…!!
हमारा कत्ल करने की उनकी साजीश तो देखो…… गुजरे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया….
एक शराब की बोतल दबोच रखी है…. तुजे भुलाने की तरकीब सोच रखी है…..
इश्क करो तो आयुर्वेदिक वाला करो… फायदा ना हो तो नुक़सान भी ना हो…
लोग रोज नसें काटते हैं प्यार साबित करने के लिये, लेकिन कोई सूई भी नही चुभने देता.. “रक्त दान” के लिए।
ज़िन्दगी के हाथ नहीं होते.. लेकिन कभी कभी वो ऐसा थप्पड़ मारती हैं जो पूरी उम्र याद रहता है
तुम्हारा दिल है या किसी मंत्री का इस्तीफा, कब से मांग रहा हूँ, दे ही नहीं रही हो..
शर्म की अमीरी से इज्जत की गरीबी अच्छी है ..
इस दुनियाँ में सिर्फ बिना स्वार्थ के माँ बाप ही प्यार कर सकते हैं ..
दिल मेरा उसने ये कहकर वापस कर दिया… दुसरा दिजीए… ये तो टुटा हुआ है….!!?!!
कुछ रिश्ते मुनाफा नहीं देते, पर अमीर जरूर बना देते हैं.
शाम को थक कर टूटे झोपड़े में सो जाता है वो मजदूर, जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है….
अमीर की बेटी पार्लर में जितना दे आती है, उतने में गरीब की बेटी अपने ससुराल चली जाती है….
कल एक इन्सान रोटी मांगकर ले गया और करोड़ों कि दुआयें दे गया, पता ही नहीँ चला की, गरीब वो था की मैं….
दीदार की तलब हो तो नजरें जमाये रखना .. क्यों कि ‘नकाब’ हो या ‘नसीब’ सरकता जरूर है…
गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी, साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं
मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए….
जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है..
बचपन भी कमाल का था खेलते खेलते चाहें छत पर सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी…
हर नई चीज अच्छी होती है लेकिन दोस्त पुराने ही अच्छे होते है….
ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब कही मेरी माँ की दुवा तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये….
खोए हुए हम खुद हैं, और ढूंढते भगवान को हैं…
अहंकार दिखा के किसी रिश्ते को तोड़ने से अच्छा है की,माफ़ी मांगकर वो रिश्ता निभाया जाये….
जिन्दगी तेरी भी, अजब परिभाषा है..सँवर गई तो जन्नत, नहीं तो सिर्फ तमाशा है…
खुशीयाँ तकदीर में होनी चाहिये, तस्वीर मे तो हर कोई मुस्कुराता है…
हम तो पागल हैं शौक़-ए-शायरी के नाम पर ही दिल की बात कह जाते हैं और कई इन्सान गीता पर हाथ रख कर भी सच नहीं कह पाते है…
जिंदगी में वही लोग कामयाबी के शिखर को छुते है… जो बचपन में साइकिल की चैन उतरते ही तुरंत उल्टा पैडल मारकर चढ़ा लिया करते थे!!!
न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर.. तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है..!
जो इंसान प्रेम मेँ निष्फल होता है, वो जिदगी मे सफल होता है..
हम अपना ‪#‎status‬ दिलो पर ‪#‎update‬ करते है ‪#‎facebook‬ पर नहीं|
ज़िंदगी भी विडियो गेम सी हो गयी है, साला एक लैवल क्रॉस करो तो अगला लैवल और मुश्किल आ जाता हैं..
मेरे दोस्त केहते हैं तुम्हारे सब #StatuS एक नंबर रेहते हैं मैने कहा २ नंबर के काम मैने कभी किया ही नहीं|
वो कहते है कि हमे मोहब्बत है आपसे हमने भी कह दिया जा झूठी प्यार का पंचनामा -2 देखी है हमने
जिंदगी मै सिर्फ़ दो ही नशा करना, जीने के लिए यार और मरने के लीये प्यार..
कुछ लोग मुझे अपना कहा करते थे.. सच कहूँ तो वो सिर्फ कहा करते थे..
ज़िंदगी से बस यही गिला है मुझे, तू बहुत देर से मिला है मुझे ।
तब, महबूबा की गलियों के चक्कर काट काट कर जवानी बिता दी जाती थी अब, मोबाइल को चार्जिंग में लगाये लगाये बीत रही है ।
है कोई वकील इस जहान में,जो हारा हुआ इश्क जीता दे मुझको.
अब कहा जरूरत है पत्थर उठाने की, लोग जुबान से ही रिश्ते तोड जाते है ।
जीतें है इस आस पर एक दिन तुम आओगे, मरते इसलिए नहीं क्युँकी अकेले रह जाओगे..!!
एकअजीब सी जंग छिडी हे तेरी यादो को लेकर, आँखे कहती है सोने दे, दिल कहता है रोने दे!!!!
हम भी दरिया है, हमे अपना हुनर मालूम हे। जिस तरफ भी चल पडेंगे, रास्ता हो जायेगा।
समझदारी आने तक यौवन चला जाता है जब तक माला गुंथी जाती है फूल मुरझा जाते हैं।
तुम कहो या ना कहो… तकाज़े सब बयां कर देते हैं…. फिर चाहें बेरुखी हो या मोहब्बत.
गुलाब से पूछो कि दर्द क्या होता है, देता है पैगाम मोहब्बत का और खुद कांटो में रहता है.
हमसे मोहब्बत का दिखावा न किया कर, हमे मालुम है तेरे वफा की डिगरी फर्जी है ..!!
बस ऐक चहेरे ने तन्हा कर दिया हमे, वरना हम खुद ऐक महेफिल हुआ करते थे…!!!
पढ़ रहा हुं मैं इश्क की किताब अगर बन गया वकील तो , बेवफओं की खैर नही..।
दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको, हम तो दोस्तों के रूठ जाने से डरते हैं.!!
सिर्फ तूने ही कभी मुझको अपना न समझा, जमाना तो आज भी मुझे तेरा दीवाना कहता है
फ़रिश्ते ही होंगे जिनका इश्क मुकम्मल होता है , हमने तो यहाँ इंसानों को बस बर्बाद होते देखा है
मौत और मोहोब्बत तो बस नाम से बदनाम है ! असली दर्द तो Slow Internet देता है !!
कुछ लोग आंसुओं की तरह होते हैं पता ही नहीं चलता साथ दे रहे हैं या साथ छोड़ रहे हैं….!!
खूश्बु कैसे ना आये मेरी बातों से यारों, मैंने बरसों से एक ही फूल से जो मोहब्बत की है ।
उसके दिलमें नही तो क्या हुआ.. उसकी ब्लॉकलिस्ट में तो है हम.
क्यूँ घबराता है ऐ इंसान तू कुछ खोने से, जीवन तो शुरू ही होता है रोने से.
खुद की “Selfy” निकालना सेक़ेन्डों का काम है, लेक़िन खुद की “Image” बनानें में जिन्दगी गुजर जाती है !!
मिट्टी का तन, मस्ती का मन, छण भर जीवन, मेरा परिचय
और भी बनती लकीरें दर्द की शुकर है खुदा तेरा जो हाथ छोटे दिए।
सीढिया उन्हे मुबारक हो… जिन्हे छत तक जाना है… मेरी मन्जिल तो आसमान है.. रास्ता मुझे खुद बनाना है..।
सारी दुनिया रूठ जाने से मुझे मुझे गरज नहीं,बस एक तेरा रूठ जाना मुझे तकलीफ देता है..
मैंने भी बदल दिये हैं जिन्दगी के उसूल । अब जो याद करेगा सिर्फ वही याद रहेगा ।
रूह तक नीलाम हो जाती है इश्क के बाज़ार में, इतना आसान नहीं होता किसी को अपना बना लेना
आईने के सामने सजता सँवरता है हर कोई, मगर आइनों सी साफ जिन्दगी जीता है कोइ-कोई
हेंसीयत तो इतनी हैं की.. जब आंख उठाते हैं तो नवाब भी सलाम ठोकते हैं….!!!
काश मेरा घर तेरे घर के करीब होता..। मोहब्बत ना सही देखना तो नसीब होता..
इस दुनीया मैं हम से जलने वाले बहोत हैं.. मगर उससे कोइ फरक नहीं पड़ता.. !! क्योंकी हम पे मरने वाले भी बहोत हैं !
उसके ख्याल से ही इतनी ख़ूबसूरत है दुिनयां अगर वो साथ हो तो क्या बात है..
दोस्ती का इरादा था.. प्यार हो गया।। दोस्तो अब दुआ दीजिये… सलाह नही।।
मैंने अपनी मौत की अफवाह उड़ाई थी, दुश्मन भी कह उठे आदमी अच्छा था.. नसीब का लिखा तो मील ही जायेगा, या रब …. देना हे तो वो दे जो तकदीर मे ना हो .
कतल हुवा इस तरह हमारा किश्तों में, कभी खंजर बदल गये कभी कातिल ।।
मुझे ढूंढने की कोशिश अब न किया कर, तूने रास्ता बदला तो मैंने मंज़िल बदल ली…!!
इन्सान की चाहत है कि उड़ने को पर मिले, और परिंदे सोचते हैं कि रहने को घर मिले…!
तेरी याद से अच्छी तो मेरी सराब हे ज़ालिम, कमब्क्त रुलाने के बाद सुला तो देती हे मुझे !!
बेर कैसे होते है ‘शबरी’ से पूछो, राम जी से पूछोगे तो मीठा ही बोलेंगे !!
मजबूत रिश्ते और कडक चाय……धीरे धीरे बनते है…!!
यूँ तो शिकायते तुझ से सैंकड़ों हैं मगर.. तेरी एक मुस्कान ही काफी है सुलह के लिये….!!
ऊपर जिसका अन्त नही उसे आसमां कहते है॥ इस जहां मे जिसका अन्त नही उसे मां कहते है॥
बड़ी मुस्किल से बनाया था अपने आपको काबिल उसके, उसने ये केहकर बिखेर दिया… की तुमसे मोह्बत तो है पर पाने की चाहत नही हे !!
छोड़ तो सकता हूँ मगर छोड़ नहीं पाता उसे, वो शख्स मेरी बिगड़ी हुई आदत की तरह है.
हम तो यूहीँ दिल साफ रखा करते थे….. पता नहीं था कीमत चेहरों की होती है..
इन बादलों का मिज़ाज मेरे मेहबूब से काफी मिलता हे , कभी टुटके बरसाते हे तो कभी बेरुखी से गुजर जाते हे !!
फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल, इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है…..!! मेरी जिंदगी का खेल शतरंज से भी मज़ेदार निकला.. मैं हारा भी तो अपनी हीं रानी से..!!
वो फिर से लौट आये थे मेरी जिंदगी में….अपने मतलब के लिये और हम सोचते रहे की हमारी दुआ में दम था ..
शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी, अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी
होठ मिला दिए उसने मेरे होठो से यह कहकर… शराब पीना छोड़ दोगे तोह यह जाम तुम्हे रोज़ मिलेगा..
‎attitude तो‬ सब लोगों के पास होता है, बस फर्क इतना है कि किसी का Attitude छिप जाता है, और हमारा Attitude तो छप जाता है..!
आगरा का ताजमहल गवाह हैं की औरत जीते जी ही नहीं मरने के बाद भी जेबें खाली करवा सकती है.
खुशियाँ बटोरते बटोरते उम्र गुज़र गई .. पर हाथ कुछ न लगा ! तब जाकर ये एहसास हुआ कि .. खुश तो वो लोग हैं “जो खुशियाँ बाँट रहे थे” !!
इतिहास गवाह हैं (खबर..) हो या (कबर..) खोदते ‘अपने’ ही हैं..
यूँ ही शौक़ है हमारा तो शायरी करना ।। किसी की दुखती रग छू लूँ.तो यारों माफ़ करना..
नीलाम कुछ इस कदर हुए, बाज़ार-ए-वफ़ा में हम आज, बोली लगाने वाले भी वो ही थे, जो कभी झोली फैला कर माँगा करते थे!
अकल कितनी भी तेज ह़ो नसीब के बिना नही जित सकती, बिरबल काफी अकलमंद होने के बावजूद.. कभी बादशाह नही बन सका ।
पानी दरिया में हो या आँखों में, गहराई और राज़ 2नो में होते हैं!!
ना छेड़ किस्सा वोह उल्फत का बड़ी लम्बी कहानी है मैं जिन्दगी से नहीं हारा किसी अपने की मेहरबानी है..
ये, फ़र्क़ तो है, दरमियाँ तेरे और मेरे, तुम कह कर भी नहीं कहते, और हम कह ही नहीं पाते….
तेरी बेरुखी ने छीन ली है शरारतें मेरी और लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूँ ..!
गीली लकड़ी सा इश्क उन्होंने सुलगाया है…ना पूरा जल पाया कभी, ना बुझ पाया है
दिलों की बात करता है ज़माना… पर मोहब्बत आज भी चेहरे से शुरू होती है…
चाहे कितनी भी डाईटिंग कर लों हसीनाओ जब तक भावखाना बंद नही करोगी …वजन कम नही होगा…
इतनी करुंगा मुहब्बत के तू खुद कहेगी। देखो वो मेरा आशिक़ जा रहा है..!!!
पालने मेँ Beti किसी को नही चाहिए….. मगर बिस्तर पर Leti हरेक को चाहिए….
Jab waqt aya to wo bik chuka tha…… hame ameer hone me zamana guzar gaya!
Kar li na tum ne tasali, dil tod kar mera……main ne kaha tha, kuch nhi is mai tere siwa..!!
Jab me Aata tha yaha to patake phode gaye the Angle k aane pe koi welcome hi kardo dosto
Bahut bheed ho gayi thi uske dil me achcha hua hum waqt pe nikal gyae.
Ye Zamaana Jal JayeGa Kisi Shole Ki Tarah….. Jab Tere Haath Ki Ungli Me Hogi Mere Naam Ki Anghoothi..
Kisi se itna pyar hi mt karo ki ush se 1 minute door rehna bhi aapko 1 day jaisa lge. Ishliye be single be happy.
पैसों से तो ‪किताबें खरीदी‬ जाती हैं….. ज्ञान देने के लिए तो हमारे ‪‎Status‬ ही काफी हैं !!
पगली ‪Block‬ करके तो चली गयी पर आज भी मेरे पेज के ‪‎status‬ पढ़ के ही सोती है।
जिस दिन मेरी ‪‎मौत‬ आएगी तो लोग कहेँगे … इंसान मिला तो नही पर ‪‎Status‬ अच्छे डालता था…
मेरा कुछ ना ऊखाड सकोगे तुम मुझसे दुश्मनी करके… मुझे बर्बाद करना चाहते हो तो,मुझसे मोहब्बत कर लो.
लाख समझाया उसको की दुनिया शक करती है…. मगरउसकी आदत नहीं गयी मुस्कुरा कर गुजरने की.
तेरा मेरा प्यार तो साला फलोप हो गया….. लेकिन तेरी यादो मे लिखे मेरे सारे ‪Status‬ सुपरहिट हो गए.
तुम मौसम की तरह बदल रही हो, मैं फसल की तरह बरबाद हो रहा हूँ…
हमारा ‪‎Status‬ हमारी ‪Personality‬ को शोभा देता है…. क्योंकि बात सिर्फ ‪‎Status की‬ है….।।
सुना है आज उस की आँखों मे आसु आ गये, वो बच्चो को सिखा रही थी की, मोहब्बत ऐसे लिखते है..
दील चुराना शौख नही… पेशा है मेरा…. क्या करें ‘Status’ ही कुछ एसा है मेरा ||‪
कुछ खास जादू नही है मेरे पास, बातें दिल से करता हूँ..
रोज ‪ Status‬ बदलने से जिंदगी नहीँ बदलती . जिंदगी को बदलने के लिए अपना भी एक Status होना जरुरी हे.
एक आप ही हो जो मुझे समझ नहीं पाते… वरना.. लोग तो आज भी मेरे ‪#‎status‬ के दीवाने है! कुछ ‪Special‬ लड़कियाँ जिनको शौक नही ‪Whatsapp‬ चलाने का…. वो सिर्फ मेरा ‪‎Status‬ पढ़ने के लिए ‪Online‬ आती हैं॥
Log churane lgge hai ‪”Status‬” mere… Gujarish hai meri gum bhi chura lo!!
KaAsH kUcH AiSa hO JaYe…. Vo kAhE Ki ‪‎StAtUs‬ lIkHnE WaLa mErA Ho jAyE…!!
लोग कहते है,तुझे तेरी भाईगीरी एक दिन जरुर मरवायेंगी…. मैने लोगोंसे Pyar से कहा क्या करु, सबको आती नहीं और,‪ ‎मेरी‬ जाती नही!!
क्या लूटेगा जमाना खुशियो को हमारी…हम तो खुद अपनी खुशिया दुसरो पर लुटाकर जीते है.
फ़ासले कम ना हो सके, आमना-सामना रहा बरसों…
किसी ने यूँ ही पुछ लिया हमसे कि दर्द की कीमत क्या है.. हमने हँसते हुए कहा, पता नहीं कुछ अपने मुफ्त में दे जाते हैं।
इश्क का समंदर भी क्या समंदर है, जो डूब गया वो आशिक जो बच गया वो दीवाना…!
ताजगी मिज़ाज में और रंगत जैसे पिघला हुआ सोना, यहाँ तारीफ तेरी नहीं है मेरे साकी, यह ज़िकर शराब का है।
मेरी लड़खड़ाहट तुम, मुझ तक ही रहने दो, जो बात मैंने होश की कर दी, तो बेहोश हो जाओगे.
तुम्हे अमीरी पे नाज़ है, में गरीब हु मुझे गरीबी पे नाज है
बेहतरीन इंसान अपनी मीठी जुबान से ही जाना जाता है वरना अच्छी बातें तो दीवारों पर भी लिखी होती है !
प्यार, एहसान, नफरत, दुश्मनी, जो चाहे वो हमसे कर लो आप की कसम, वही दुगुना मिलेगा…
हम तुम्हें मुफ़्त में जो मिले हैं, क़दर ना करना हक़ है तुम्हारा..!!
जलील करके जीस फकीर को तुने किया रुखसत. वौ भीख लेने नही तुजे दुआऐं देने आता था.
Gulami to Sirf teri ishq ki Thi…..Baki to ye DIL pehle bhi Nawab.. tha Or Aaj bhi Nawab…hai
मेरी बात सुन ‪‎पगली‬ अकेले ‪‎हम‬ ही शामिल नही है इस ‪‎जुर्म‬ में… ‎जब नजरे‬ मिली थी तो ‪मुस्कराई तू‬ भी थी…
काबील नजरो के लीये हम जान दे दे पर.. कोई गुरुर से देखे ये हमे मंजुर नही.
जीवन में कभी किसी को कसूरवार न बनायें… अच्छे लोग खुशियाँ लाते हैं! बुरे लोग तजुर्बा!!
हाथ में टच फ़ोन, बस स्टेटस के लिये अच्छा है… सबके टच में रहो, जींदगी के लिये ज्यादा अच्छा है..
कीस कदर मासूम सा लहजा था उसका, धीरे से जान कहकर बेजान कर दीया..!
उसके हाथों पर अपना नाम देखा, तो मैं बहुत खुश था वो बड़े मासूम से लहज़े में बोली, तेरे हमनाम और भी हैं
मेरा कुछ ना ऊखाड सकोगे तुम मुझसे दुश्मनी करके…. मुझे बर्बाद करना चाहते हो तो,मुझसे मोहब्बत कर लो!!
लोग कहते हैं कि वक़्त किसी का ग़ुलाम नहीं होता, फिर तेरी मुस्कराहट पे वक़्त क्यूँ थम सा जाता है…!!!
मैं ‪‎famous‬ हूँ क्युकि में सच लिखता हूँ तभी आज ज़माने में सबसे मेंहंगा बिकता हूँ
ना वफ़ा का जिक्र होगा ना वफ़ा की बात होगी, अब जिससे भी मोहब्बत होगी मार्च क्लोज़िंग केबाद होगी।
गिटार सिखा था जिस को पटाने के लिए ….. आज ऑफर आया है उसकी शादी में बजाने के लिए|
हमारी ताकत का अंदाजा हमारे जोर से नही….. दुश्मन के शोर से पता चलता है…..!!
इश्क करो तो आयुर्वेदिक वाला करो… फायदा ना हो तो नुक़सान भी ना हो…
लोग रोज नसें काटते हैं प्यार साबित करने के लिये, लेकिन कोई सूई भी नही चुभने देता.. “रक्त दान” के लिए।
ज़िन्दगी के हाथ नहीं होते.. लेकिन कभी कभी वो ऐसा थप्पड़ मारती हैं जो पूरी उम्र याद रहता है
तुम्हारा दिल है या किसी मंत्री का इस्तीफा, कब से मांग रहा हूँ, दे ही नहीं रही हो..
शर्म की अमीरी से इज्जत की गरीबी अच्छी है ..
इस दुनियाँ में सिर्फ बिना स्वार्थ के माँ बाप ही प्यार कर सकते हैं ..
दिल मेरा उसने ये कहकर वापस कर दिया… दुसरा दिजीए… ये तो टुटा हुआ है….!!?!!
कुछ रिश्ते मुनाफा नहीं देते, पर अमीर जरूर बना देते हैं.
शाम को थक कर टूटे झोपड़े में सो जाता है वो मजदूर, जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है….
अमीर की बेटी पार्लर में जितना दे आती है, उतने में गरीब की बेटी अपने ससुराल चली जाती है….
कल एक इन्सान रोटी मांगकर ले गया और करोड़ों कि दुआयें दे गया, पता ही नहीँ चला की, गरीब वो था की मैं….
दीदार की तलब हो तो नजरें जमाये रखना .. क्यों कि ‘नकाब’ हो या ‘नसीब’ सरकता जरूर है…
गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी, साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं
मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए….
जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है..
बचपन भी कमाल का था खेलते खेलते चाहें छत पर सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी…
हर नई चीज अच्छी होती है लेकिन दोस्त पुराने ही अच्छे होते है….
ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब कही मेरी माँ की दुवा तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये….
खोए हुए हम खुद हैं, और ढूंढते भगवान को हैं…
अहंकार दिखा के किसी रिश्ते को तोड़ने से अच्छा है की,माफ़ी मांगकर वो रिश्ता निभाया जाये….
जिन्दगी तेरी भी, अजब परिभाषा है..सँवर गई तो जन्नत, नहीं तो सिर्फ तमाशा है…
खुशीयाँ तकदीर में होनी चाहिये, तस्वीर मे तो हर कोई मुस्कुराता है…
हम तो पागल हैं शौक़-ए-शायरी के नाम पर ही दिल की बात कह जाते हैं और कई इन्सान गीता पर हाथ रख कर भी सच नहीं कह पाते है…
जिंदगी में वही लोग कामयाबी के शिखर को छुते है… जो बचपन में साइकिल की चैन उतरते ही तुरंत उल्टा पैडल मारकर चढ़ा लिया करते थे!!!
न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर.. तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है..!
जो इंसान प्रेम मेँ निष्फल होता है, वो जिदगी मे सफल होता है..
हम अपना ‪#‎status‬ दिलो पर ‪#‎update‬ करते है ‪#‎facebook‬ पर नहीं|
ज़िंदगी भी विडियो गेम सी हो गयी है, साला एक लैवल क्रॉस करो तो अगला लैवल और मुश्किल आ जाता हैं..
मेरे दोस्त केहते हैं तुम्हारे सब #StatuS एक नंबर रेहते हैं मैने कहा २ नंबर के काम मैने कभी किया ही नहीं|
वो कहते है कि हमे मोहब्बत है आपसे हमने भी कह दिया जा झूठी प्यार का पंचनामा -2 देखी है हमने
जिंदगी मै सिर्फ़ दो ही नशा करना, जीने के लिए यार और मरने के लीये प्यार..
कुछ लोग मुझे अपना कहा करते थे.. सच कहूँ तो वो सिर्फ कहा करते थे..
ज़िंदगी से बस यही गिला है मुझे, तू बहुत देर से मिला है मुझे ।
तब, महबूबा की गलियों के चक्कर काट काट कर जवानी बिता दी जाती थी अब, मोबाइल को चार्जिंग में लगाये लगाये बीत रही है ।
है कोई वकील इस जहान में,जो हारा हुआ इश्क जीता दे मुझको.



Tujhme baat he kuch aise hai
Dil na diya tumhe to jaan chali jaayegi.

Tum bohat saal reh liye apne,
Ab mere sirf mere ho ke raho.

Tum Zara sa kam Khoosoorat hoti
toh bhi Bahut Khoobsoorat hoti

इक झलक जो मुझे आज तेरी मिल गयी मुझे
फिर से आज जीने की वजह मिल गयी

jab aankho aankho mai baat hoti ho
toh jubaan ki kya himmat

तुम मिले तो लगा मुझे ऐसे,
पिछले जन्म की बिछड़ी मेरी रूह मिली हो मुझे जैसे

इंतजार तो बस उस दिन का है
जिस दिन तुम्हारे नाम के पिछे हमारा नाम लगेगा.

Kehna hi pada usko yeh khat padh kar humara
Kambakhat ki har bat muhabbat se bhari hai.

Sadak se Mahekti hui Hawa ka Zokaa
Lehraiye too Lagta hai ke Tum Ho.

Hamne Dekha Tha Shok-E-Nazar ki Khaatir
Ye Na socha Tha k Tum Dil Mai Utar jaaoge!!

Ab To Shayad Hi Mujse Muhabbat Karay Koi
Meri Ankhon Main Tum Saaf Nazar Atay Ho.

Sukun milta hai jab unse baat hoti hai
Hazar raaton mein wo ek raat hoti hai
Nigah uthakar jab dekhte hain wo meri taraf
Mere liye wohi pal poori kaaynat hoti hai.

जिन्दगी में ‘कुछ’ चीजे भुलाई नही जा सकती
मेरी जिन्दगी में सब ‘कुछ’ सिर्फ तुम ही हो

Ab Tak Wahan Utartey Hai Khushbuo’n k Qaafley,
Bhoolay Se Likh Diya Tha Tera Naam Jis Jaga.!!

Tum jis Rastey se Chaho Aa jaana,
Mere Charo Taraf Mohabbat Hai.

Jaan jaunga main khushbu say tumhari tum ko ♥♥
Tum peechay say meri aankhon ko chupaya karna…

मोहब्बत है तो कबुल करो सरेआम
वो जो बन्द कमरो मेँ होता है उसे हवस कहते है।

थोड़ा मैं , थोड़ी तुम, और थोड़ी सी मोहब्बत
बस इतना काफी है, जीने के लिये….

Hazaron chehron me, mohbbate mili mujhko tumhari…..
Par dil ki zid hai, Agar tum nahi to tum jaisa bhi nahi…

Phir na kijey meri gustaakh nigaahi ka gila,
Dekhiye aap ne phir pyaar se dekha mujhe..

kuch rasto pe kadam nahi, Dil chlate hai

लत तुम्हारी लगी है. . .
इल्जाम मोबाइल पर आता है. . .

रात तो क्या…, पूरी जिन्दगी भी,
जाग कर गुजार दूँ तेरी खातिर,
बस तू एक बार कह कर तो देख कि,
“मुझे तेरे बिना नींद नही आती…”

उसकी ये ‪मासूम अदा मुझको बेहद भाती है,
वो मुझसे नाराज़ हो तो ‪गुस्सा सबको दिखाती है….

Baat sirf itni se thi ki tum ache lagti thi….
Baat itni badh gaye hai ki tumhare siva koi acha ni lagta

Us ke Be-Naqab Honey tak…!!
Main Bhi Shamil Tha Hosh Walon Mein.. !!

Mohabbat Mil Nahi Sakti, Mujhe Maloom Hai…!!
Magar Khamosh Baitha Hun, Mohabbat Jo Kar Baitha Hun…!!

mujhe ek galti karne ki izazat ho to…
mai fir se mohabbat karunga tumse…

मेरा वक्त तो कट जाता है
जब उस वक्त मै बस तुम शामिल हो

शक नहीं रखना मोहब्बत का
तुम्हारे बिना भी हम तुम्हारे रहते है

Sab Tere Mohabbat Ki Enayat Hai Werna_!!
♥ Main Kya.. Mera Dil kya.. Mera Andaaz-e-junoon Kya….Meri shayari kya !!

Kasoor toh tha hi en nigaaho ka,
Joh chupke se deedar kar betha,
Humne to khamosh rehne ki thani thi
Par bewafa ye zuban izhar kar betha

Meri Hasratein machal gayi
Jab tumne socha ek pal ke liye,
Anjaam-e-deewangi kya hogi
Jab tum milogi muje umr bhar k liye

Parwah kar uski jo teri parwah kare..!!
Zindagi mein jo kabhi na tanha kare..!!
Jaan ban ke utar jaa uski ruh mein~~
Jo jaan se b jyada tujhse “wafa aur Pyar” kare .!

Har Cheez Hadd Main Achi Lagti Hai
Magar Tum “Be Hadd” Acche Lagte Ho

कैसे बदल दूं मैं फितरत ये अपनी,
मुझे तुम्हें सोचते रहने की आदत सी हो गई है..!!

Har baar hum par ilzaam laga dete ho mohhabat ka,
Kabhi khud se pucha hai ki itne hassen ku ho…!!

Sirf ik baar aa Mary Dil ki Aahat sunn..
Phir Lotnay ka irada Hum Tum par chor Den Ge …

Main Bimaar-e-Muhabbat Hoon Mujhey Kya Gharz
Hakeemo Se…!!
Agar Meri Shifaa Chaho Mera Mehboob Le Aao…!

रब से आपकी खुशीयां मांगते है,
दुआओं में आपकी हंसी मांगते है,
सोचते है आपसे क्या मांगे,
चलो आपसे उम्र भर की मोहब्बत मांगते है।

Hamne To Aek Hi Shaks Pe Chahat Khatm Kardi
Ab Mohabbat Kisko Kehte He Kuch Maaloom Nahi…

Tujh se mile na the tou koi aarzoo na thi ….
Dekh liya tujhe tu tere talabgaar ho gaye..!!

acha lagta hai tera naam mere naam ke sath…
jese koi khoobsurat subah judi to kisi haseen sham ke sath…

kuchh khaas nahi bas
itanee see hai mohabbat meri ,
har raat kaa aakhari khayaal aur
har subah ki pahali soch ho tum

कहने के तो बोहत सारे है लोग हमारे,
पर जब वही लोग हमें “आप” का कह के बुलाते है,
खुदा क़सम दुनिया भर की ख़ुशी मिल जाती है

Tumhari Yaad Ki Khushboo Mere Daaman Se Lipti Hain,
Bara Acha Sa Lagta Hai Tumhein Hi Sochtey Rehna.

Suna tha Dil samundar se bhi gehra hota hai….
Hairaan hoon,Samaya nahi is mein Tere siwa koi.

में तेरी ज़ुल्फ़ों और आँखो में खोया रहता हु,
बस इसी तरह ज़िंदगी को जीने चाहता हु

Tum jis Rastey se Chaho Aa jaana,
Mere Charo Taraf Mohabbat Hai.

kuchh khaas nahi bas
itanee see hai mohabbat meri ,
har raat kaa aakhari khayaal aur
har subah ki pahali soch ho tum.

Us k Chor jany k Bad hum Mohabbat Nahi
Karty Kisi Se …..!
Thori Si to Umer Ha Kis Kis Ko Azmaty Phren
gy ….

Mujhe Chahate Honge Or Bhi Log Bohat..
Magar Mujh Ko Mohabbat Sirf Apni Mohabbat Se Hai……!

मुझे भी जरुरुत है तेरी बाहो की।
दुनिया के वजूद और दुनिया के रास्ते बहुत कमजोर है——

दिल को छु जाती है,
एक तुम और एक बाते तुम्हारी

थाम लूँ तेरा हाथ और तुझे इस दुनिया से दूर ले जाऊं,
जहाँ तुझे देखने वाला मेरे सिवा कोई और ना हो.

Hoth mila diye mere hoth se usne yeh keh kr……
cigarette pina chod do to yeh jaam roz milega

Bari Gustakhiyan Karne Laga Hai Mera DilMujh Se,
Ye Jab Se Uska Huwa Hai Meri Sunta Hi Nahi !!!

तेरी शान में क्या नज़्म कहूँ अल्फाज नही मिलते. . .
कुछ गुलाब ऐसे भी हैं जो हर शाख पे नही खिलते. . .

धूप मायूस लौट जाती है. . .
छत पेँ कपङेँ सुखाने आया करो. .

पाँव लटका के दुनिया की तरफ . . .
आओ बैठे किसी सितारे पर . . .

मैने दील के दरवाजे पर लीखा अन्दर आना सख्त मना हे. . .
महोब्बत हंसती हुई आयी और बडे प्यार से कहा माफ करना मै तो अंधी हु. . .

पागल उसने कर दिया, एक बार देखकर. . .
मै कुछ भी ना कर सका लगातार देखकर. .

Kitne Anmol Hote Hai Yeh Mohabbat Ke Rishte
Koi Yaad Na Bhi Kare To Chahat Fir Bhi Rehti Hai.

Teri yadon se shuru hoti h meri subah…
Fir kse keh du k mera din kharab hai…

ek chehre ki talash mein
hum duniya se khafa the,
aj wo hamare sath hai,
to duniya hamse khafa hai..

Is Baat ka ehsaas kisi par na hone dena,
ke tere chahaton se chalti hai meri sansein.!!

Abhi aankhon ki shamyen jal rahi hain Pyar zinda hai,
abhi mayoos mat hona abhi Beemar zinda hai !
hazaron zakhm khakar bhi mai dushman ke Muqabil hun,
khuda ka shukr hai ab tak dile Khuddar zinda hai !!

Kab Unki Palkon Se Izhaar Hoga,
Dil Ke Kisi Kone Mein Hamare
Liye Pyar Hoga, Guzar Rahi
Hai Raat Unki Yaad Mein, Kabhi
To Unko Bhi Hamara Intezar Hoga.

Koi kehta hai pyaar nasha ban jata hai….
Koi kehta hai pyaar saza ban jata hai….
Par pyaar karo agar sachche dil se….
To wo pyaar hi jine ka waja ban jata hai..!

MerI saanson kO Aadat haI,
TerI yaaðOn se chalne kI
Ruk JaayengI Ye saanseIn,
JIs ðIn tum Yaað na AaOgI.

Aakhein kholu toh chehra tumhara ho
Band karu toh sapna tumhara ho,
Maar bhi jau toh koyi gam nahi,
Agar kafan ke badle achal tumhara ho.

Un Haseen palo ko yaad kar rahe the,
Aasmaan se aapki baat kar rahe the,
Sukun mila jab hume hawao Ne bataya,
Aap bhi hame yaad kar rahe the.

Khushbu ki tarah meri har sans main,
Pyar apna basane ka wada karo,
Rang jitne tumhari mohabbat ke hain,
Mere dil me sajane ka wada karo.

Kash Dil ki awaz me itna asar ho jay,
Hum apko yaad karen aur apko khabar ho jay,
Aaj kuda se itni hi dua hai,
aap jo bhi chaho vo haqiqat ho jay !

Jaan hai hume jaan se pyari,
Jaan ke liye chhod du dunia sari…
Jaan ke liye chhod du rasme sari,
ab tumse kya chupana,
tum hi to ho jaan hamari !

Maine khuda se ek dua mangi,
dua me apni maut mangi,
khuda ne kaha maut to tujhe de dun,
par uska kya jisne har dua me teri jindgi mangi !

Kushbu tere Pyar ki mujhe Mahka jati hai,
teri har baat mujhe bahka jati hai,
Saansen to bahut der leti hai aane jane me,
Har saans k pahle mujhe teri yaad aati hai !

Khoob aati hai jab…
Yaad teri bahot sataati hai,
Dhoop main, chaanw main,
ghataaon main,
Teri soorat ubhar Ke aati hai !

Tumhari lovely aankho ne,
Hame aise attract kiya,
Ke sabko neglect karke,
Tumhe hi select kiya !

Yun durr rehkar duriyon ko badaya nahi karte,
Apne deewano ko sataya nahi karte,
Har waqt bas jise tumhara khyal ho,
Usey apni awaaz ke liye tadpaya nahi karte!

Yeh mat pucho tum bin hum kya kya khote rahe,
Tumhari yaadon mein hum roz kitne rote rahe,
Na din gujre hai na raatein,
Bas kuch bechain se hum hote rahe !

Khudaa jab husn deta hai nazaakat aaa hi jati hai,
Kadam chun chun kar rakhti ho,
Phir bhi kamar balkha hi jaati hai,!

Chaho to dil se hamko mitta dena,
Chaho to humko bhula dena,
Par Yeh wada karo ki aaye jo kabhi yaad hamari…
To rona nahi Bus muskura dena…!

Wafa ke rang me dubi har sham tere liye,
Ye dagar, ye nagar mera naam tere liye,
Tu mehkati rahe chandni raton ki tarah,
Iss nayi subha ka paigam tere liye,

Mohabbat ka matlab intezaar nahi hota,
Har kisi ko dekhna pyar nahi hota,
Yun to milta h roj mohbaat-e-paigam,
Pyar jindagi h jo har baar nahi hota.

Mein kuch lamha or tera sath chahta hu,
Jo aankho mein bas jaye wo barsaat chatha hu,
Suna h wo mujhe bahut chahta h,
Bas ek baar mein use sunna chahta hu.

Tumhare apnepan par naaz h humein,
Kal tha jitna bharosa utna aaj h humein,
Apna wo nahi jo khusi me sath de,
Apna wo jo har pal apnepan ka eshaas de.

Jante h sab fir bhi anjaan bante h,
Iss tarah wo humein pareshan karte h,
Puchthe h humse ki tumhe kya pasand h,
Khud jawab hokar ye sawal karte h.

Kya Mangu Khuda Se Aapko Paane K Bad
Kiska Karu Intezar Aapke Aane K Bad
Kyu Dosto Pe Jan Lutate Hai Log
Malum Hua Aapko Dost Banane K Bad.

Sabke Chehre Mei Woh Baat Nahi Hoti,
Thode Se Andhere Mei Raat Nahi Hoti,
Zindagi Mei Kuch Log Bahut Pyare Hote Hai,
Kya Kare Unhi Se Aaj Kal Mulakat Nahi Hoti..

Yaad Karne Ke Liye Koi Cheez Chahiye,
Aap Nahi To Aap Ki Tasveer Chahiye
Par Aap Ki Tasveer Hamara Dil Bhehla Nahi Sakti
Kyonki Wo Aap Ki Tarha Muskura Nahi Sakti

Aassman humse naaraz h,
Taaron ka gussa behisaab h,
Wo sab humse jalte h, kyunki,
Chand se bhi behtar, aap humare pass h.

Aap jab samne se gujar jate h,
Armaan dil ke ubhar jaate h,
Dekh kar aapki pyari surat,
Sehme hue phool bhi nikhar jaate h.

Mere wajood mein kaash tu utar jaye,
Main dekhu aaina or tu nazar aaye,
Tu ho samne aur ye waqt thehar jaye
Or ye zindagi tujhe dekhte hue guzar jaye

Jazbaat mere kahin kuchh khoye huye se hain,
Kahu kese wo tumse thoda shrmaye huye se h
Par aaj na rok sakunga jazbaato ko main apne,
Krte h pyar hm tumhi se pr ghbraye huye se hai

Khud Me Hum Kuch Is Tarah Kho Jate Hai,
Sonchte Hai Aapko To Aapke Hi Ho Jaate Hai,
Nind Nahi Aati Raton Me Par,
Aapko Khwab Me Dekhne Ke Liye So Jate Hai.

Taras gaye apke deedar ko,
phir bhi dil aap hi ko yaad karta hai,
humse khusnaseeb to apke ghar ka aaina hai,
jo har roz apke husn ka deedar karta hai…

Hum paas rahen ya door,
Par dil se dil ko mila sakte hain,
Na khat na lafz ke mohtaz hai hum,
Ek hichki se apke dil ko hila sakte hain hum…

Na sawaal banke mila karo,
Na jawaab banke mila karo,
Meri zindagi mera khwaab hai,
Mujhe khwaab banke mila karo…

Khuda Ne Mujhse Kaha,
Ishq Na Kar Tu Deewana Ho Jayega,
Maine Kaha Aey Khuda,
Tu Un Se To Mil, Tujhe Bhi Ishq Ho Jayega.

Har baat samjhane ke liye nahi hoti,
Zindagi aksar kuch paane ke liye nahi hoti,
Yaad aksar aati hai aapki,
Par har yaad jatane ke liye nahi hoti…

Mana k tere sehar mai garib kum honge,
Agar biki teri dosti to pehle khariddar hum honge,
Tuje khabar na hogi teri kimat par,
par Tuje paakar sabse ameer Ham honge.

Teri Ankhain jab juk kr
uthi to nasha ban gyi
Hame to pta hi nin chala e dost kab is dil tumare liye
Is dil me jgha ban gyi.