Judaai shayari

Dil Ko Uss Raah Par Chalana Hi Nahi;
Jo Mujhe Tujh Se Juda Kar De!
~ Parveen Shakir
----------
Yun Guzarti Lamha-Lamha Ja Rahi Hai Zindagi,
Hai Tanhai Badi Aur Tanha Badi Hai Zindagi!
----------
Keh Do Usse Judaai Aziz Hai Toh Rooth Jaaein;
Woh Jee Sakta Hain Toh Hum Mar Bhi Sakte Hain!
----------
Mile To Hazaron Log The Zindagi Main Yaaron;
Woh Sab Se ALag Tha Jo Qismat Main Nahi Tha!
----------
Na Jane Kyun Yeh Dil Mera Itni Faryad Karta Hai;
Jo Iska Ho Nahi Skta Ussi Ko Yaad Karta Hai!
----------
Duniya Ke Jo Maze Hain Hargiz Woh Kam Na Honge;
Charche Yoon Hi Rahenge Afsos Hum Na Honge!
----------
Dil Ka Kya Hai Dil Ne Kitne Manzar Dekhe Lekin;
Ankhen Pagal Ho Jaati Hain Ek Ḳhayal Se Pehle!
----------
Guzarta Nahi Koi Bhi Din Tere Bagair,
Tera Hona Lazmi Hai Saanson Ki Tarah!
----------
Kyon Dil Ke Kareeb Aa Jaata Hai Koi,
Kyon Dil Ke Ehsaas Ko Chhu Jaata Hai Koi,
Jab Aadat Si Ho Jaati Hai Dil Ko Uski,
Kyon Itni Door Chala Jaata Hai Koi!
----------
Alvida Mat Kaho, Darr Lagta Hai Tum Se Bichadne Ka;
Phir Milenge Kaho, Taki Jee To Sake Hum Gham-e-Intezaar Mein!
----------
Dil Nahi Lagta Aapko Dekhe Bina,
Dil Nahi Lagta Aapke Bare Mein Soche Bina,
Aankhen Bhar Aati Hain Ye Soch Kar,
Ki Kis Haal Mein Honge Aap Humare Bina!
----------
Mohabbat Ki Gawahi Apne Hone Ki Khabar Le Ja,
Jis Taraf Wo Shakhs Rehta Hai Mujhe Aye Dil Us Taraf Le Ja!
----------
Kuch To Bewafayi Hai Mujh Mein Bhi,
Jo Ab Tak Zinda Hun Tere Bagair!
----------
Ek Ajeeb Dastaan Hai Mere Afasane Ki,
Maine Pal Pal Koshish Ki Tere Paas Aane Ki,
Kismat Thi Meri Ya Sazish Samjho Zamaane Ki,
Door Hue Itna Jitni Ummeed Thi Kareeb Aane Ki!
----------
Faasla Nazron Ka Dhokha Bhi To Ho Sakta Hai,
Woh Mile Ya Na Mile Haath Badha Kar Dekho!
~ Nida Fazli
----------
Main Tujh Ko Bhool Jane Ke Musalsal Marhale Mein Hun,
Magar Raftaar Madham Hai Mujhe Mehsoos Hota Hai!
----------
Bichhad Ke Us Se Pareshan Bahut Hun Main,
Suna Hai Woh Bhi Badhi Uljhano Mein Rehte Hain!
----------
Tu Kal Ki Tarah Aaj Nahi Saath To Kya Hua,
Kaise Batayein Tujhe Ki Mohabbat To Hum Teri Dooriyon Se Bhi Karte Hain!
----------
Uske Saath Hone Tak Hi Mehsoos Hui Zindagi,
Na Uske Aane Se Pehle Na Uske Jaane Ke Baad
----------
Gham Hun, Dard Hun, Saaz Hun, Ya Aawaz Hun;
Bas Jo Bhi Hun Main Tum Bin Bahut Udaas Hun!
----------
Mile Agar Mera Humdum To Use Sirf Itna Keh Dena;
Bina Teri Mohabbat Ke Woh Pagal Jee Nahi Sakta!
----------
Wo Saath The To Ek Lafz Na Nikla Labon Se,
Door Kya Hue Kalam Ne Qahar Macha Diya!
----------
Kehne Ko Wo Mere Kareeb Hai Bahut Lekin,
Faanslein Ab Tak Hamare Darmiyan Hain Bahut!
----------
Zara Palat Kar To Dekh Lete Hum Wahi Khade The,
Pal Do Pal To Aap Muskura Lete To Un Palo Mein Hum Apni Saari Zindagi Guzar Lete!
----------
Tu Agar Gulshan Mein Hai To Veerane Mein Kaun Hai,
Tu Agar Shamma Mein Jalta Hai To Parwaane Mein Kaun Hai!
----------
Humne To Ek Muddat Se Sona Hi Chhod Diya Ek Darr Se,
Ki Khwab Mein Bhi Jo Bichhade To Haqeeqat Mein Mar Jayenge!
----------
Juda Ho Kar Bhi Jee Rahe Hain Muddat Se,
Kabhi Dono Kehte The Ki Yeh Judai Maar Dalegi!
----------
Naya Dard Ek Aur Dil Mein Jaga Kar Chala Geya,
Kal Phir Woh Mere Shehar Mein Aakar Chala Geya,
Jise Dhoondta Raha Main Logon Kee Bheed Mein,
Mujh Se Woh Apna Aap Chhupa Kar Chala Geya!
----------
Dil Juda Hon To Mulaqaat Se Phir Kya Haasil,
Yun To Sehra Bhi Samandar Se Mila Karte Hain!
----------
Dil Ko Teri Chahat Pe Bharosa Bhi Bahut Hai,
Aur Tujh Se Bichhad Jaane Ka Darr Bhi Nahi Jaata!
~ Ahmad Faraz
----------
Hua Hai Tujhse Bichadne Ke Baad Ye Maloom,
Ki Tu Nahi Tha Tere Sath Ek Duniya Thi!
~ Ahmad Faraz
----------
Bin Tumhare Main Jee Geya Ab Tak,
Tumko Kya Khud Mujhe Yakeen Nahi!
----------
Kayi Baar Bina Galti Ke Bhi Galti Maan Lete Hain Hum,
Kyonki Darr Lagta Hai Kahin Koi Apna Humse Rooth Na Jaye!
----------
Hum Tujh Se Alag Reh Kar Bhi Rehte Hain Tere Pass,
Hote Hain Teri Bazam Mein Hote Hain Jahan Bhi!
----------
Yaadon Kee Dhund Mein Aapki Parchai Si Lagti Hai,
Kaano Mein Goonjti Shehnai Si Lagti Hai,
Aap Kareeb Ho To Apnapan Hai,
Varna Seene Mein Saanse Bhi Parai Si Lagti Hain!
----------
Mohabbat Nahi Hai Naam Sirf Pa Lene Ka,
Bichhad Ke Bhi Aksar Dil Dhadakte Hain Saath Saath!
----------
Is Tarah Dil Mein Samaoge Maloom Na Tha,
Dil Ko Itna Tadpaoge Maloom Na Tha,
Socha Tha Door Ho Aur Yaad Nahi Aaoge,
Magar Door Hokar Is Kadar Yaad Aaoge Maloom Na Tha!
----------
Wo Mil Geya To Bichhdna Padega Phir 'Zareen',
Isi Khayal Se Hum Raaste Badalte Rahe!
~ Iffat Zareen
----------
Paya Tumko To Hum Ko Laga Tumko Kho Diya;
Hum Dil Pe Roye Aur Yeh Dil Hum Pe Ro Diya;
Kyon Is Ke Fansle Humein Manzoor Ho Gaye;
Kitne Hue Kareeb Ki Hum Door Ho Gaye!
----------
Bichhad Ke Tujh Se Ajab Vehshaton Ne Ghera Hai,
Udaas Rehta Hai Yeh Dil Bhi Junglon Kee Tarah!
----------
Kitna Bhi Chaho Na Bhool Paoge Humein;
Jitni Door Jaoge Nazdik Paoge Humein;
Mita Sakte Ho To Mita Do Yaadein Meri;
Magar Kya Sanson Se Bhi Juda Kar Paoge Humein!
----------
Aap Ko Paa Kar Ab Khona Nahi Chahte;
Itna Khush Ho Kar Ab Rona Nahi Chahte;
Ye Aalam Hai Humara Aap Kee Judai Mein;
Aankhon Mein Hai Neend Par Sona Nahi Chahte!
----------
Kaise Bayan Karun Alfaaz Nahi Hain;
Dard Ka Mere Tujhe Ehsaas Nahi Hai;
Puchte Ho Kya Dard Hai Mujhe;
Mujhe Dard Ye Hai Ki Tu Mere Pass Nahi Hai!
----------
Ho Judai Ka Sabab Kuch Bhi Magar;
Hum Use Apni Khata Kehte Hain;
Woh Ton Saanson Mein Dhali Hai Mere;
Jaane Kyon Log Use Mujhse Juda Kehte Hain!
----------
Kadmo Kee Doori Se Dilon Ke Fansle Nahi Badhte;
Door Hone Se Dil Ke Ehsaas Nahi Marte;
Kuch Kadmon Ka Fansla Hi Sahi Hamare Beech;
Lekin Aisa Koi Pal Nahi Jab Hum Aapko Yaad Nahi Karte!
----------
Udas Na Baitho Fiza Tang Karegi;
Gujre Hue Lamho Ki Sazaa Tang Karegi;
Kisi Ko Na Lao Dil Ke Itna Kareeb;
Kyonki Uske Jaane Ke Baad Uski Har Adaa Tang Karegi!
----------
Kab Tak Reh Paoge Aakhir Yun Door Hum Se;
Milna Padega Aakhir Kabhi Zaroor Hum Se;
Nazrein Churane Wale Ye Berukhi Hai Kaisi;
Keh Do Agar Hua Hai Koi Kasoor Hum Se!
----------
Soch Bhi Nahi Sakta Ek Pal Bhi Door Rehna Tumse;
Agar Tu Bhool Jaye To Toot Ke Bikhar Jaun Main!
----------
Raat Kee Tanhai Mein Akele The Hum;
Dard Kee Mehfilon Mein Ro Rahe The Hum;
Aap Hamare Bhale Hi Kuch Nahi Lagte;
Par Fir Bhi Aapke Bina Bilkul Adhoore Hain Hum!
----------
Pyaar Karte Hain Tumse Kitna Kabhi Dikha Na Sake;
Tum Kya Ho Hamare Liye Yeh Kabhi Bata Na Sake;
Kya Hu Jo Aaj Tum Sath Nahi Ho Fir Bhi;
Tumhari Kisi Bhi Yaad Ko Hum Bhula Na Sake!
----------
Soch Nahi Sakte Ek Pal Bhi Door Rehna Tumse;
Agar Tu Bhool Jaaye To Toot Ke Bikhar Jaun Main;
Kabhi Jannat Bhi Mile Mujhe Tere Pyaar Ke Badle;
Mohabbat Kee Kasam Wahan Bhi Mukar Jaun Main!
----------
Kahan Ka Vasl Tanhai Ne Shayad Bhes Badla Hai;
Tere Dam Bhar Ke Mil Jaane Ko Hum Bhi Kya Samajhte Hain!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Chori Chori Humse Tum Aa Kar Mile The Jis Jagah;
Muddatein Guzri Par Ab Tak Wo Thikana Yaad Hai!
~ Hasrat Mohani
----------
Paya Tumko To Hum Ko Laga Tumko Kho Diya;
Hum Dil Pe Roye Aur Yeh Dil Hum Pe Ro Diya;
Kyon Is Ke Fansle Hume Manzoor Ho Gaye;
Kitne Hue Kareeb Ke Hum Door Ho Gaye!
----------
Humne Manga Tha Saath Unka;
Woh Judai Ka Gham De Gaye;
Hum Unki Yaadon Ke Sahare Hi Jee Lete;
Par Woh Bhool Jaane Kee Kasam De Gaye!
----------
Shaam Se Aaj Saans Bhaari Hai, Bekaraari Hi Bekaraari Hai;
Aapke Baad Har Ghadi Humne, Aap Ke Saath Hi Guzaari Hai!
----------
Yaad Mein Teri Aahein Bharta Hai Koi;
Har Saans Ke Saath Tujhe Yaad Karta Hai Koi;
Maut Sachhai Hai Ek Roz Aani Hai;
Lekin Teri Judaai Mein Har Roz Marta Hai Koi!
----------
Badi Mushkil Se Bana Hun Toot Jaane Ke Baad;
Main Aaj Bhi Ro Deta Hun Muskurane Ke Baad;
Tujh Se Mohabbat Thi Mujhe Beinteha Lekin;
Aksar Yeh Mehsoos Hua Tere Jaane Ke Baad!
----------
Lamha Lamha Ye Waqt Guzar Jayega;
Jane Kab Tu Mujhse Bichad Jayega;
Jee Lene Do Mujhe Is Ek Pal Mein Zindagi;
Ek Tujhse Bichad Kar Yeh Dil Mar Jayega!
----------
Khuda Humko Kabhi Aisi Judai Na De;
Unki Yaadon Se Kabhi Humko Rihai Na De;
Dua Karna Dosto Mujhe Aisi Jannat Na Mile;
Jahan Se Mera Pyaar Mujhe Dikhai Na De!
----------
Mitt Chale Meri Umeedon Kee Tarah Harf Magar;
Aaj Tak Tere Khaton Se Teri Khushbu Na Gayi!
~ Akhtar Sheerani
----------
Sard Raaton Ko Satati Hai Judai Teri;
Aag Bujhti Nahi Seene Mein Lagayi Teri;
Tum Jo Kehte The Bichar Kar Main Sukun Paa Lunga;
Phir Kyu Roti Hai Mere Dar Par Tanhayi Teri!
----------
Koi Apna Hota To Bin Kahe Hi Samjh Leta;
Ab Kis Ko Bataun Ki Kya Hai Is Dil Mein;
Bhule Baithe Hain Wo Log Bhi Jinhe Apna Samjhta Hun;
Kabhi Mile To Dil Cheer Ke Dikha Dun Ki Kya Hai Is Dil Mein!
----------
Zamane Se Nahi Main To Tanhai Se Darta Hun;
Pyaar Se Nahi Main To Ruswai Se Darta Hun;
Milne Kee Umang Bahut Hoti Hai Dil Mein;
Lekin Milne Ke Baad Teri Judai Se Darta Hun!
----------
Shikayat Kya Karun Dono Taraf Gham Ka Fasana Hai;
Mere Aage Mohabbat Hai Tere Aage Zamana Hai;
Pukara Hai Tujhe Manzil Ne Lekin Main Kahan Jaun;
Bichhad Kar Teri Duniya Se Kahan Mera Thikana Hai!
----------
Dil Ke Dard Ko Chupana Kitna Mushkil Hai;
Toot Kar Fir Muskurana Kitna Mushkil Hai;
Kisi Ke Saath Door Tak Jao Fir Dekh;
Akele Laut Ke Aana Kitna Mushkil Hai!
----------
Koi Vaada Nahi Phir Bhi Tera Intezar Hai;
Judai Ke Baad Bhi Humein Tujhse Pyaar Hai;
Tere Chehre Kee Udasi Kar Rahi Hai Bayaan Dastaan;
Ki Mujhse Milne Ke Liye Tu Bhi Bekarar Hai!
----------
Jaate Hue Kehte Ho Qayamat Ko Milenge;
Kya Khoob Qayamat Ka Hai Goya Koi Din Aur!

Translation:
Departing, you say, 'We shall meet on Judgement Day',
Marvellous! As if the day of judgement is some other day!
~ Mirza Ghalib
----------
Laazim Tha Ki Dekho Mera Rasta Koi Din Aur;
Tanha Gaye Kyon Ab Raho Tanha Koi Din Aur!

Translation:
Our paths had to cross again some other day,
Going alone, now stay alone until some other day.
~ Mirza Ghalib
----------
Yeh Kaisi Judai Hai Jisne Humein Shayar Bana Diya;
Yeh Kaisa Gham Hai Jisne Humein Bebas Bana Diya;
Socha Nahi Tha Juda Ho Jaoge Humse Kabhi;
Karte Bhi Kya Jab Aap Ne Hi Gair Bana Diya!
----------
Dil To Hai Jo Sirf Tujh Pe Hi Mare Ja Raha Hai;
Teri Yaad Mein Teri Tasbih Kiye Ja Raha Hai;
Ab To Yeh Judaai Ka Gham Hum Se Saha Nahi Ja Raha Hai;
Aur Ek Tu Hai Jo Door Reh Kar Hume Tadpaye Ja Raha Hai!
----------
Chand Kee Taraf Dekh Ke Fariyaad Mangte Hain;
Hum Zindagi Mein Bas Tera Pyaar Mangte Hain;
Bhool Ke Bhi Kabhi Mujhse Door Mat Jana;
Hum Kaun Sa Tujhse Teri Jaan Mangte Hai!
----------
Humne Manga Tha Saath Unka;
Woh Judai Ka Gham De Gaye;
Hum Unki Yaadon Ke Sahare Hi Jee Lete;
Par Woh Bhool Jaane Kee Kasam De Gaye!
----------
Aapki Yaad Dil Ko Bekarar Karti Hai;
Nazar Talash Aapko Bar Bar Karti Hai;
Gila Nahi Jo Hum Hain Door Aapse;
Hamari To Judai Be Aapse Pyaar Karti Hai!
----------
Zindagi Kitni Khoobsurat Hoti Agar Teri Chahat Adhuri Na Hoti;
Kuch Uljhane Kuch Majboorian Hoti Beshak, Magr Pyaar Mein Itni Dooriyan Na Hoti!
----------
Tumhara Dukh Hum Seh Nahi Sakte;
Bhari Mehfil Mein Kuch Keh Nahi Sakte;
Humare Girte Hue Aansuon Ko Padh Kar Dekho;
Woh Bhi Kehte Hain Ki Hum Aapke Bin Reh Nahi Sakte!
----------
Bahut Udaas Hai Koi Shakhs Tere Chale Jaane Se;
Ho Sake To Laut Kar Aaja Kisi Bahaane Se;
Tu Lakh Khafa Sahi Magar Ek Baar To Mud Kar Dekh;
Koi Toot Geya Hai Tere Door Chale Jaane Se!
----------
Zuban Khamosh Aankhon Mein Nami Hogi;
Yahi Bas Ek Daastan Zindagi Ki Hogi;
Bharne Ko To Har Zakhm Bhar Jayega;
Lekin Kaise Bharegi Wo Jagah, Jahan Uski Kami Hogi!
----------
Dil To Karta Hai Zindagi Ko Kisi Qaatil Ke Hawaale Kar Du;
Judai Mein Yun Roz-Roz Ka Marna Mujhe Achhaa Nahi Lagta!
----------
Saza Na Do Muje Bekasur Hoon Main;
Tham Lo Mujh Ko Gamon Se Choor Hoon Main;
Teri Doori Ne Kar Diya Hai Pagal Sa Mujhe;
Aur Logon Ka Kehna Hai Ki Magroor Hoon Main!
----------
Jane Kis Baat Kee Mujhko Saza Deta Hai;
Meri Hansti Hui Aankhon Ko Rula Deta Hai;
Ek Muddat Se Khabar Bhi Nahi Teri;
Koi Iss Tarah Bhi Kya Apne Pyaar Ko Bhula Deta Hai!
----------
Uski Khamoshi Se Darr Lagta Hai;
Door Na Ho Jaye Mujhse Aisa Kyon Lagta Hai;
Duniya Se Use Cheen Lene Ka Hausla Hai Mujh Mein;
Lekin Woh Saath Na Dega Aisa Kyon Lagta Hai!
----------
Bhule Hain Rafta Rafta Unhein Muddaton Mein Hum;
Kishton Mein Khudkhushi Ka Mazaa Hum Se Puchiye!
----------
Khoobsurat Hai Zindagi Khwaab Kee Tarha;
Jaane Kab Toot Jaaye Kaanch Kee Tarha;
Mujhe Na Bhoolna Kisi Baat Kee Tarha;
Apne Dil Mein Hi Rakhna Khoobsurat Yaad Kee Tarha!
----------
Tamanna Se Nahi Tanhayi Se Darte Hain;
Pyaar Se Nahi Ruswayi Se Darte Hain;
Milne Kee Chahat To Bahut Hai Magar;
Milan Ke Baad Kee Judai Se Darte Hain!
----------
Kaise Guzarti Hai Meri Har Ek Sham Tere Bagair;
Agar Tu Dekhle To Kabhi Tanhaa Na Chhodti Mujhe!
----------
Naye Kapde Badal Kar Jaun Kahan Aur Baal Banaun Kis Ke Liye;
Woh Shakhs To Shehar Hi Chodd Geya Main Bahar Jaun Kis Ke Liye;
Muddat Se Koi Aayaa Na Geya Sunsaan Padi Hai Ghar Kee Fazaa;
In Khali Kamron Mein 'Nasir' Ab Shama Jalaun Kis Ke Liiye!
~ Nasir Kazmi
----------
Na Woh Aaye Aur Na Koi Unka Paigaam Aaya;
Intezar Mein Apne Tadapa Kar Humein Hai Rulaya;
Humse Khataa Hui Agar Koi, Tum Bata Toh Dete;
Aisi Bhi Kya Naraazgi Thi Jo Humein Aapne Bhulaya!
----------
Bichar Kar Aap Se Humko Khushi Achhi Nahi Lagti;
Labon Par Yeh Banawat Ki Hansi Achhi Nahi Lagti;
Kabhi To Khoob Lagti Thi Magar Yeh Sochti Hoon Ab;
Ki Mujhko Kyon Meri Yeh Zindagi Achhi Nahi Lagti!
----------
Judaa Kisi Se Kisi Ka Garaz Habib Na Ho;
Yeh Daag Wo Hai Ki Dushman Ko Bhi Naseeb Na Ho!
~ Nazeer Akbarabadi
----------
Jab Chote The Hum To Zor Se Rote The;
Jo Pasand Hota Tha Use Paane Ke Liye;
Aaj Bade Hain To Chupke Se Rote Hain;
Jo Pasand Hai Use Bhulane Ke Liye!
----------
Maut Ne To Nahi Zindagi Ne Bahut Sataya Hai;
Tujhe Jitna Bhule Tu Utna Hi Yaad Aaya Hai;
Tu kyon Is Baat Ko Aksar Bhool Jata Hai;
Barson Minaton Ke Baad Tujhe Paaya Hai!
----------
Aye Zindagi Kaash Tu Hi Rooth Jaati Mujhse;
Ye Roothe Hue Log Mujhse Manaye Nahi Jaate!
----------
Tumhein Jab Kabhi Mile Fursatein Mere Dil Se Bojh Utaar Do;
Main Bahut Dino Se Udaas Hun, Mujhe Koi Shaam Udhaar do!
~ Aitbar Sajid
----------
Aaj Jarurat Hai Jiski Woh Paas Nahi Hai;
Ab Unke Dil Mein Wo Ehsaas Nahi Hai;
Tadapte Hai Do Pal Baat Karne Ko;
Shayad Ab Waqt Hamare Liye Unke Pass Nahi Hai!
----------
Judaa Ho Kar Bhi Jee Rahe Hain Muddat Se;
Kabhi Dono Hi Kehte The Yun Ho Nahi Sakta!
----------
Ab Kaun Se Mausam Se Koi Aas Lagaye;
Barsaat Mein Bhi Yaad Na Jab Un Ko Hum Aaye!
----------
Log Lete Hain Yun Hi Shamma Aur Parwane Ka Naam;
Kuch Nahi Hai Is Jahan Mein Ghum Ke Afsane Ka Naam!
~ Saghar Siddiqui
----------
Teri Dastak Ke Muntazir Muddat Se;
Deemak, Darwaazey, Tanhai Aur Main!
----------
Awaaz Mein Thehrao Tha, Ankhon Mein Nami Si Thi;
Aur Keh Raha Tha Maine Sab Kuch Bhulaa Diyaa!
----------
Tumhare Baad Na Takmeel Ho Saki Apni;
Tumhare Baad Adhoore Tamam Khawab Lage!

Translation
Takmeel = Completion
----------
Is Khayaal Se Hi Har Shaam Jald Neend Aayi;
Mujh Se Bichrre Hue Log Sheher-e-Khawab Mein Hain!
----------
Katt Hi Gayi Judayi Bhi, Kab Yeh Hua Ki Mar Gaye;
Tere Bhi Din Guzar Gaye, Mere Bhi Din Guzar Gaye!
----------
Us Ke Baghair Aaj Bahut Jee Udaas Hai;
'Jalib' Chalo Kahin Se Usse Dhoond Layen Hum!
~ Habib Jalib
----------
Na Koi Ilzaam, Na Koi Tanz, Na Koi Ruswai Mir;
Din Bahut Hogaye Yarron Ne Koi Inayat Nahi Ki!
~ Khwaja Mir Dard
----------
Woh Jate Jate Kah Gaye Ki Abb Hum Sirf Khwabo Main Ayeinge;
Humne Kaha Tu Wada To Kar, Zindgi Bhar Ke Liy Soo Jayeinge!
----------
Tumhare Baad Na Khushi Ho Saki Apni;
Tumhare Baad Adhoore Tamam Khawab Lage!
----------
Jaane Wale Dil Ko Pathar Kar Gaye;
Phir Kissi Ko Dekh Kar Dil Dhadka Hi Nahin!
----------
Uss Ke Baghair Aaj Bahut Jee Udaas Hai;
Jalib Chalo Kahin Se Usse Dhoond Layen Hum!
~ Habib Jalib
----------
Dil Ke Sehraa Mein Kab Aalam-E-Tanhai Hai;
Jab Bhi Dekha Teri Tasveer Nazar Ayi Hai!
----------
Yeh Samaat Ka Bharam Hai Ya Kisi Naghmey Ki Goonj;
Aik Pehchaani Si Awaaz Aati Hai Mujhey!

Translation:
Samaat = Hearing
----------
Jaa Chuke Hain Sab Aur Wahi Khamoshi Chaayi Hai;
Pass Hain Har Aur Sannata, Tanhai Muskurai Hai!
----------
Khamoshi Se Adaa Ho Rasm-e-Doori;
Koi Hungama Barpaa Kyun Karen Hum!
----------
Us Ke Baghair Aaj Bohat Jee Udaas Hai;
Jalib Chalo Kahin Se Usey Dhoond Layen Hum!
~ Habib Jalib
----------
Kisi Ko Chahne Ka Koi Bahana Nahi Hota;
Dil Lagaane Se Koi Deewanaa Nahi Hota;
Aashiqui Seekhni Ho To Seekho Humse;
Humein Pata Hai Mohabbat Ka Matlab Pana Nahi Hota!
----------
Hazaar Rang Bhare Zindagi Ke Khaake Mein;
Tere Baghair Yeh Tasveer Na'mukammal Hai!
----------
Socha Tha Usse Bichhdenge Toh Mar Jaayenge;
Jaan Leva Khauf Tha Bas, Hua Kuch Bhi Nahi!
----------
Tujh Se Bichad Ke Hum Bhi Muqaddar Ke Ho Gaye;
Phir Jo Bhi Dar Mila Hai Ussi Dar Ke Ho Gaye!
----------
Band Tha Darwaaza Bhi Aur Ghar Mein Bhi Tanhaa Tha Mein;
Tu Ne Kuch Mujh Se Bola Tha Ya Aap Hi Bola Tha Mein!
~ Amjad Islam Amjad
----------
Tu Geya, Khaawb, Justujuu Bhi Gaye;
Tujh Se Kitne Mere Hawaaley They!
----------
Tujh Se Bicharr Ke Hum Bhi Muqaddar Ke Ho Gaye;
Phir Jo Bhi Dar Mila Hai Ussi Dar Ke Ho Gaye!
----------
Ajeeb Saanehaa Guzraa Hai Mujh Pe Aaj Ki Sham;
Main Aaj Shaam Tumhare Hijar Main Udaas Na Tha;
Ab Aik Saal To Yeh Aik Gham Hi Kaafi Hai;
Tumhari Salgiraah Par Bhi Tumhare Paas Na Tha!
~ Waris Shah
----------
Na Ruthna Humse Hum Mar Jayenge;
Dil Ki Duniya Tabaah Kar Jayenge;
Pyar Kiya He Humne Koi Mazak Nahi;
Dil Ki Dhadkan Tere Naam Kr Jayenge!
----------
Tujhse Door Ab Hum Jaa Nahi Sakte;
Tujhse Pyar Kitna Hai Ye Hum Bataa Nahi Sakte;
Humhe Maloom Hai Ye Zindagi Chaar Din Ki Hai Lekin;
Tere Bina Ye Chaar Din Hum Bita Nahi Sakte!
----------
Ik Khel Hai Aurag-e-Sulemaan, Mere Nazdeek;
Ik Baat Hai Ajaaz-e-Maseeha Mere Aage!
~ Mirza Ghalib
----------
Koi Deewana Kehta Hai Koi Pagal Samajhta Hai;
Magar Dharti Ki Bechani Ko Bus Badal Samajhta Hai;
Mein Tujhse Door Kaisa Hoon, Tu Mujhse Door Kaisi Hai;
Yeh Tera Dil Samajhta Hai Ya Mera Dil Samajhta Hai!
----------
Jab Kabhi Dil Ko Wo Rihayi Dega;
Mere Ander Koi Tufan Sunayi Dega;
Us Se Milte Hi Yeh Ehsas Hua Tha;
Mujhko Yahi Wo Shakhs Hai Jo Lambi Judai Dega!
----------
Kaisa Sitam Hai Apka Ye, Ke Rone Bhi Nahi Dete;
Kareeb Aate Nahi Aur Khud Se Juda Hone Bhi Nahi Dete!
----------
Tamnna Se Ni Tanhai Se Darte Hai;
Pyaar Se Ni Ruswai Se Darte Hai;
Milne Ki Chaaht To Bahut Ha Par;
Milan K Baad Ki Judai Se Darte Hai!
----------
Aye Dost Humko Saath Itna Do Ke Had Na Rahe;
Magar Aitbaar Bhi Itna Karna Ke Shaq Na Rahe;
Humse Wafa Itni Karna Ke Kabhi Bewafai Na Ho;
Aur Dua Bus Itni Karna Ke Kabhi Judai Na Ho!
----------
Maine Rab Se Kaha Wo Chhod Ke Chali Gayi Mujhe;
Pata Nahi Uski Kya Majburi Thi;
Rab Ne Kaha Isme Uska Koi Kasur Nahi;
Ye Kahani Toh Maine Likhi Hi Adhuri Thi!
----------
Rehna Chaahte The Saath Unke;
Par Iss Zamane Ne Rehne Na Diya;
Kabhi Waqt Ki Khamoshi Me Khamosh Rahe;
To Kabhi Unki Khamoshi Ne Kuch Kehne Na Diya!
----------
Mujh Se Bichar Kar, Mujh Ko Rula Kar Woh Udaas Tha;
Meri Tarah Khud Ko Jala Kar Woh Udaas Tha;
Aaise Ajeeb Dard Ke Pehre The Chaaro Aur;
Ab Ke Wo Mere Shehr Mai Aa Kar Udaas Tha!
----------
Chand Ki Judai Me Aasman Bhi Tadap Gaya;
Uski Ek Zhalak Pane Ko Har Sitara Taras Gaya;
Badal Ke Dard Ko Kya Kahoon;
Chand Ki Yaad Me Vo Haste Haste Baras Gaya!
----------
Aye Khuda Kaisi Ye Judaai Hai;
Har Mod Par Tanhaai Hai;
Kaise Jiyenge Hum Unke Bina;
Har Taraf Ruswai Hai!
----------
Duriya Hote Hue Bhi Safar Vahi Rahega;
Door Hote Hue Bhi Dostana Vahi Rahega;
Bahot Mushkil Hai Yeh Safar Zindgi Ka;
Agar Aapka Sath Hoga To Ehsaas Vahi Rahega!
----------
Kabhi Ek Lamha Aisa Bhi Aata Hai;
Jisme Beeta Hua Kal Nazar Aata Hai;
Bas Yaadein Reh Jati Hai Yaad Karna Ke Liye;
Aur Waqt Sab Kuch Lekar Guzar Jata Hai!
----------
Har Mulaqat Par Waqt Ka Takaza Hua;
Jab Jab Use Dekha Dil Ka Dard Taza Hua;
Suni Thi Sirf Gazal Mein Judai Ki Batein;
Ab Khud Par Biti Toh Haqiqat Ka Andaza Hua!
----------
Kisi Ko Pyar Itna Dena Ki Had Na Rahe;
Par Aitbaar Bhi Itna Rakhna Ki Shak Na Rahe;
Wafa Itni Karna Ki Bewafai Na Ho;
Aur Dua Bus Itni Karna Ki Judaai Na Ho!
----------
Marne Wale Marte Hain Lekin Fana Hote Nahin;
Vo Haqeeqat Mein Kabhi Hum Se Juda Hote Nahin!
----------
Judaai Mein Rahti Hoon Main Beqaraar;
Piroti Hoon Har Roz Ashkon Ke Haar!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना;
बहुत तङपाते हैं अक्सर सीने से लगाने वाले!
----------
दिल का क्या है तेरी यादों के सहारे जी लेगा,
हैरान तो आँखें हैं तड़पती हैं तेरे दीदार को।
----------
कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है;
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है;
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ, तू मुझसे दूर कैसी है;
ये तेरा दिल समझता है, या मेरा दिल समझता है!
~ Dr. Kumar Vishwas
----------
तुम नाराज हो जाओ, रूठो या खफा हो जाओ;
पर बात इतनी भी ना बिगाड़ो की जुदा हो जाओ!
----------
भूल तो जाऊं तुझे;
फिर मेरे पास रहेगा क्या!
----------
मेरी आँखों में आँसू नहीं बस कुछ नमी है;
वजह आप नही आप की कमी है!
----------
फिर खो न जाएँ हम कहीं दुनिया की भीड़ में;
मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी!
----------
मिलना इतिफाक था बिछरना नसीब था;
वो तुना हे दूर चला गया जितना वो करीब था;
हम उसको देखने क लिए तरसते रहे;
जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था!
----------
शायद कुछ दिन और लगेंगे, ज़ख़्मे-दिल के भरने में;
जो अक्सर याद आते थे, वो कभी-कभी याद आते हैं!
----------
बदल गया वक़्,त बदल गयी बातें, बदल गयी मोहब्बत;
कुछ नहीं बदला तो वो है इन आँखों की नमी और तेरी कमी।
----------
अकेला सा महसूस करो जब कभी तन्हाई में;
याद मेरी आये जब जुदाई में;
महसूस करना तुम्हारे करीब हूँ मैं;
जब चाहे देख लेना अपनी ही परछाई में।
----------
दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता;
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता।
----------
जूनून-ए-इश्क था तो कट जाती थी रात ख्यालो में;
सजा-ए-इश्क आयी तो हर लम्हा सदियों सा लगने लगा।
----------
रूकता भी नहीं ठीक से चलता भी नही,
यह दिल है कि तेरे बाद सँभलता ही नही।
----------
याद में तेरी आँखें भरता है कोई, हर साँस के साथ तुझे याद करता है कोई;
मौत तो ऐसी चीज़ है जिसको आना ही है, लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज़ मरता है कोई।
----------
रंगीन वादों से लिपटा हुआ तार ले आना,
ऐ डाकिये, तुम अबकी बार मेरा बिछडा हुआ यार ले आना।
----------
मुझे मंज़ूर थे वक़्त के हर सितम मगर,
तुमसे बिछड़ जाना, ये सज़ा कुछ ज्यादा हो गयी।
----------
महीनों गुजर गए ना जाने कब तेरा दीदार होगा,
जिस दिन मिलूंगी तुमसे मेरी ज़िन्दगी का नया साल होगा।
----------
अकसर भुल जाता हूँ मैं तुझे शाम की चाय में चीनी की तरह,
फिर जिंदगी का फीकापन तेरी कमी का एहसास दिला देता है।
----------
साल गुज़र जाते हैं इश्क़ में और,
थम कर रह जाते हैं लम्हें एक चेहरे पर।
----------
दूरियाँ जब बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गयी;
फिर तुमने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नही।
----------
तुम अगर लौट आओ तो मुझे ज़रा पहले बता देना,
मुझे खुद को ढूंढने में कुछ वक़्त लगेगा।
----------
कभी हो मुखातिब तो कहूँ क्या मर्ज़ है मेरा,
अब तुम दूर से पूछोगे तो ख़ैरियत ही कहेंगे।
----------
इतनी यादें तेरी पर तू मेरे पास ही नही,
इतनी बातें हैं पर करने को तू साथ नही।
----------
कुछ ही पलों में ज़िन्दगी की तस्वीर बदल जाती है;
कुछ ही पलों में ज़िन्दगी की तक़दीर बदल जाती है;
कभी किसी को अपना बना कर दूर मत जाना;
क्योंकि एक ही जुदाई से किसी की पूरी ज़िन्दगी बिखर जाती है।
----------
वहाँ तक तो साथ चलो जहाँ तक साथ मुमकिन है,
जहाँ हालात बदलेंगे वहाँ तुम भी बदल जाना।
----------
लौट आओ वो हिस्सा लेकर, जो साथ ले गए थे तुम,
इस रिश्ते का अधूरा-पन अब अच्छा नहीं लगता।
----------
मै यह नहीं कहता कि मेरी खबर पूछो तुम,
खुद किस हाल में हो बस इतना बता दिया करो।
----------
खूबियाँ इतनी तो नही हम में कि तुम्हे कभी याद आएँगे,
पर इतना तो ऐतबार है हमे खुद पर, आप हमे कभी भूल नही पाएँगे।
----------
बिछडने वाले तेरे लिए एक मशवरा हैं,
कभी हमारा ख्याल आये तो अपना ख्याल रखना।
----------
पलकों मे कैद कुछ सपनें है, कुछ अपने हैं और कुछ बेगाने हैं,
न जाने क्या कशिश है इन ख़्यालों में कुछ लोग दूर् होकर भी कितने अपने हैं।
----------
चलते - चलते मेरे कदम अक्सर यही सोचते हैं कि,
किस तरफ जाऊं जो मुझे तू मिल जाये।
----------
ये कैसी जुदाई है आँख मेरी भर आई है,
सावन की हर एक बरसती बूंद में तेरी ही परछाईं है,
इस हसीन मौसम में फिर क्यों ये जुदाई है।
----------
वो साथ था हमारे या हम पास थे उसके,
वो ज़िन्दगी के कुछ दिन, या ज़िन्दगी थी कुछ दिन।
----------
क्या जरूरत थी दूर तुम्हें जाने की,
चाहते तो पास रहकर भी तो सता सकते थे।
----------
दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है;
लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
उसके दिल में थोड़ी सी जगह माँगी थी मुसाफिरों की तरह;
उसने तन्हाईयों का एक शहर मेरे नाम कर दिया।
----------
एक पल का एहसास बन कर आते हो तुम;
दूसरे ही पल ख्वाब बन कर उड़ जाते हो तुम;
जानते हो कि लगता है डर तनहाइयों से;
फिर भी बार बार तनहा छोड़ जाते हो तुम।
----------
तेरे बगैर भी तो ग़नीमत है ज़िन्दगी;
खुद को गँवा कर कौन तेरी जुस्त-जू करे।
~ Ahmad Faraz
----------
बदली सावन की कोई जब भी बरसती होगी;
दिल ही दिल में वह मुझे याद तो करती होगी;
ठीक से सो न सकी होगी कभी ख्यालों से मेरे;
करवटें रात भर बिस्तर पे बदलती होगी।
----------
हम उनके काबिल नही इस लिए दूर रहने लगे हैं;
वरना तन्हाई की क्या जुर्रत थी कि हमें बर्बाद करती।
----------
सर्द मौसम का मज़ा कितना अलग सा है;
तनहा रात में इंतज़ार कितना अलग सा है;
धुंध बनी नक़ाब और छुपा लिया सितारों को;
उनकी तन्हाई का अब एहसास कितना अलग सा है।
----------
कुछ ही पलों में ज़िन्दगी की तस्वीर बदल जाती है;
कुछ ही पलों में ज़िन्दगी की तक़दीर बदल जाती है;
कभी किसी को अपना बना कर दूर मत जाना;
क्योंकि एक ही जुदाई से किसी की पूरी ज़िन्दगी बिखर जाती है।
----------
तू मेरा सपना मेरा अरमान है;
पर शायद तू अपनी अहमियत से अनजान है;
मुझसे कभी भी रूठ मत जाना;
क्योंकि मेरी दुनिया तेरे बिना वीरान है।
----------
दिल को आता है जब भी ख्याल उनका;
तस्वीर से पूछते हैं फिर हाल उनका;
वो कभी हमसे पूछा करते थे जुदाई क्या है; आज समझ आया है हमें सवाल उनका।
----------
जब कुछ सपने अधूरे रह जाते हैं;
तब दिल के दर्द आँसू बन के जाते हैं;
जो कहते हैं कि हम सिर्फ और सिर्फ आपके हैं;
पता नहीं कैसे अलविदा कह जाते हैं।
----------
ये फ़ासले तेरी गलियों के हमसे तय ना हुए;
हज़ार बार रुके हम हज़ार बार चले।
~ Gulzar
----------
अगर प्यार में जुदाई न होती तो प्यार की अहमियत समझ में आई न होती;
ज़िन्दगी के हर सफर में अगर साथ होता तो मोहब्बत के रास्ते में इतनी गहराई न होती।
----------
तेरी हर अदा मोहब्बत सी लगती है;
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है;
पहले नही सोचा था अब सोचने लगे है हम;
जिंदगी के हर लम्हों में तेरी ज़रूरत सी लगती है!
----------
कहाँ आ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा;
वो जो मिल गया उसे याद रख जो नहीं मिला उसे भूल जा;
वो तेरे नसीब की बारिशें किसी और छत पे बरस गई;
दिल-ए-मुंतज़िर मेरी बात सुन उसे भूल जा उसे भूल जा।
~ Amjad Islam Amjad
----------
हर रोज़ हमें मिलना हर रोज़ हमें बिछड़ना है;
मैं रात की परछाई और तू सुबह का चेहरा है।
----------
कोई वादा नही फिर भी प्यार है;
जुदाई के बावजूद भी हमें तुमसे प्यार है;
तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही;
मुझसे बिछड़ कर तू भी बेकरार है।
----------
निकलता नहीं है कोई दिल में बस जाने के बाद;
दिल दुखता है बिछड़ जाने के बाद;
पास जो होता है तो क़दर नहीं होती उसकी;
महसूस होती है कमी उनके दूर जाने के बाद।
----------
किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम
तू मुझ से ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए आ।
~ Ahmad Faraz
----------
क्या गज़ब है उसकी ख़ामोशी;
मुझ से बातें हज़ार करती है।
----------
यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर;
इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ।
~ Noshi Gilani
----------
यादों को भुलाने में कुछ देर तो लगती है;
आँखों को सुलाने में कुछ देर तो लगती है;
किसी शख्स को भुला देना इतना आसान नहीं होता;
दिल को समझाने में कुछ देर तो लगती है।
----------
रोज साहिल से समंदर का नज़ारा न करो;
अपनी सूरत को शबो-रोज निहारा न करो;
आओ देखो मेरी नज़रों में उतर कर ख़ुद को;
आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा न करो।
----------
प्यास वो दिल की बुझाने कभी आया भी नहीं;
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं;
बेरुख़ी इससे बड़ी और भला क्या होगी;
एक मुद्दत से हमें उस ने सताया भी नहीं।
~ Qateel Shifai
----------
आँखों में चाहत दिल में कशिश है;
ना जाने फिर क्यों मुलाकात में बंदिश है;
मोहब्बत है हम दोनों को एक-दूसरे से;
फिर भी दिलों में ना जाने यह रंजिश क्यों है।
----------
ऐसा नहीं के तेरे बाद अहल-ए-करम नहीं मिले;
तुझ सा नहीं मिला कोई, लोग तो कम नहीं मिले;
एक तेरी जुदाई के दर्द की बात और है;
जिन को न सह सके ये दिल, ऐसे तो गम नहीं मिले।
~ Aitbar Sajid
----------
हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है;
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें।
~ Shahryar
----------
कुदरत के इन हसीन नज़ारों का हम क्या करें;
जब तुम ही साथ नहीं तो इन चाँद सितारों का क्या करें।
----------
उसी तरह से हर इक ज़ख़्म खुशनुमा देखे;
वो आये तो मुझे अब भी हरा-भरा देखे;
गुज़र गए हैं बहुत दिन रिफ़ाक़त-ए-शब में;
इक उम्र हो गई चेहरा वो चाँद-सा देखे।
~ Parveen Shakir
----------
मैं समझता था कि लौट आते हैं जाने वाले
तूने जा कर तो जुदाई मेरी क़िस्मत कर दी।
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
अगर यूँ ही ये दिल सताता रहेगा;
तो एक दिन मेरा जी जाता रहेगा;
मैं जाता हूँ दिल को पास तेरे छोड़े;
मेरी याद तुझको दिलाता रहेगा।
~ Khwaja Mir Dard
----------
आज कुछ ज़िन्दगी में कमी है तेरे बगैर;
ना रंग है ना रौशनी है तेरे बगैर;
वक़्त चल रहा है अपनी ही रफ़्तार से;
बस थम गयी है धड़कन एक तेरे बगैर।
----------
कोई रिश्ता नया या पुराना नहीं होता;
ज़िंदगी का हर पल सुहाना नहीं होता;
जुदा होना तो किस्मत की बात है;
पर जुदाई का मतलब भुलाना नहीं होता।
----------
कैसे कहें कि आपके बिन यह ज़िंदगी कैसी है;
दिल को हर पल जलाती यह बेबसी कैसी है;
न कुछ कह पाते हैं और न कुछ सह पाते हैं;
न जाने तक़दीर में लिखी यह आशिकी कैसी है।
----------
कुछ बातें करके वो हमें रुला के चले गए;
हम न भूलेंगे यह एहसास दिला के चले गए;
आयेंगे कब वो अब तो यह देखना है उम्र भर;
बुझ रही है वो आग जिसे वो जला कर चले गए।
----------
आपके बिना मेरा जीना कैसा होगा;
रह कर दूर आपसे मेरा हाल-ए-दिल कैसा होगा;
जब तक ज़िंदा हूँ अपने साथ रहने दो मुझे;
ज़रा सोचो आपके बिना मेरा मरना कैसा होगा।
----------
अगर ज़िंदगी में जुदाई ना होती तो कभी किसी की याद आई ना होती;
साथ गुज़रता हर लम्हा तो शायद रिश्तों में यह गहराई ना होती।
----------
सर्द रातों को सताती है जुदाई तेरी;
आग बुझाती नहीं सीने में लगायी तेरी;
तुम जो कहते थे बिछड़ कर मैं सुकून पा लूंगा;
फिर क्यों रोती है मेरे दर पर तन्हाई तेरी।
----------
दौर-ए-तन्हाई में झोंका हवा का जब भी कोई आया;
दिल देता है दस्तक कि देख कहीं वो लौट तो नहीं आया।
----------
हर लम्हा हम उन्हें याद करते रहे;
उनकी याद में मर-मर के जीते रहे;
अश्क़ आँखों से हमारी बहते रहे;
जुदाई में उनकी हम अश्क़ों के जाम पीते रहे।
----------
किसी को मोहब्बत की सच्चाई मार डालेगी;
किसी को मोहब्बत की गहराई मार डालेगी;
करके मोहब्बत कोई नहीं बच पायेगा;
जो बच गया उसे तन्हाई मार डालेगी।
----------
रंजिश ही सही दिल को दुखाने के लिए आ;
आ फिर से मुझे छोड़ जाने के लिए आ;
कुछ तो मेरे इश्क़ का रहने दे भरम;
तू भी तो कभी मुझे मनाने के लिए आ।
----------
रह ना पाओगे भुला कर देख लो;
यकीन ना आये तो आज़मा कर देख लो;
हर जगह होगी महसूस कमी हमारी;
चाहे तो अपनी महफ़िल कभी सज़ा कर देख लो।
----------
ज़िंदगी में बार-बार सहारा नहीं मिलता;
बार-बार कोई प्यार से प्यारा नहीं मिलता;
है जो पास उसे संभाल कर रखना;
क्योंकि खो कर वो फिर कभी दोबारा नहीं मिलता।
----------
तेरी हर अदा अब मोहब्बत सी लगती है;
एक पल की जुदाई भी मुद्दत सी लगती है;
पहले तो नहीं मगर अब सोचने लगे हैं हम कि;
जिंदगी के हर लम्हे को तेरी ज़रूरत सी लगती है।
----------
आज कुछ कमी है तेरे बगैर;
ना रंग है ना रौशनी है तेरे बगैर;
वक़्त अपनी रफ़्तार से चल रहा है;
मगर यह धड़कन अब थम गयी है तेरे बगैर।
----------
आँखों के इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया;
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया;
दिन की वो महफिलें गईं, रातों के रतजगे गए;
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।
----------
जाती नहीं आँखों से सूरत तेरी;
ना जाती है दिल से मोहब्बत तेरी;
तेरे जाने के बाद किया है यह महसूस हमने;
और भी ज्यादा है हमें ज़रूरत तेरी।
----------
आज तुम्हारी याद ने मुझे कुछ लिखने पर मज़बूर किया;
ऐसा लगा जैसे तुम ने भी मुझे याद है ज़रूर किया;
अगर थी मुझसे इतनी मोहब्बत तुमको ऐ सनम;
तो फिर क्यों तुम ने मुझको खुद से है इतना दूर किया।
----------
आपकी याद दिल को बेकरार करती है;
नज़र तालाश आपको बार-बार करती है;
गिला नहीं जो हम हैं दूर आपसे;
हमारी तो जुदाई भी आपसे प्यार करती है।
----------
याद में तेरी आहें भरता है कोई;
हर सांस के साथ तुझे याद करता है कोई;
मौत तो सच्चाई है एक रोज़ आनी है लेकिन;
तेरी जुदाई में हर रोज़ मरता है कोई।
----------
हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ;
हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ;
सुनी थी सिर्फ लोगों से जुदाई की बातें;
आज खुद पर बीती तो हक़ीक़त का अंदाज़ा हुआ।
----------
कहाँ आ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा;
वो जो मिल गया उसे याद रख जो नहीं मिला उसे भूल जा;
वो तेरे नसीब की बारिशें किसी और छत पे बरस गईं;
दिल-ए-मुंतज़िर मेरी बात सुन उसे भूल जा उसे भूल जा।

अनुवाद:
दिल-ए-मुंतज़िर = इंतज़ार करने वाला दिल
~ Amjad Islam Amjad
----------
जब कभी दिल को वो यादों से रिहाई देगा;
मेरे अंदर कोई तूफ़ान सुनाई देगा;
उस से मिलते ही ये एहसास हुआ था मुझ को;
ये वही शख्स है जो लम्बी जुदाई देगा।
----------
जब भी तेरे बिना रात होती है;
दीवारों से अक्सर बात होती है;
सन्नटा पूछता है हमारा हाल हम से;
और बस तेरे नाम से ही शुरुआत होती है।
----------
दिल की धड़कनो को एक लम्हा सब्र नहीं;
शायद उसको अब मेरी ज़रा भी कदर नहीं;
हर सफर में मेरा कभी हमसफ़र था वो;
अब सफर तो हैं मगर वो हमसफ़र नहीं।
----------
थी वस्ल में भी फ़िक्र-ए-जुदाई तमाम शब;
वो आए तो भी नींद न आई तमाम शब।
~ Hakim Momin Khan Momin
----------
जाती नहीं आँखों से सूरत तेरी;
ना जाती है दिल से मोहब्बत तेरी;
तेरे जाने के बाद होता है महसूस यूँ;
हमें और भी ज्यादा है ज़रुरत है तेरी।
----------
हम ही में थी न कोई बात, याद न तुम को आ सके;
तुम ने हमें भुला दिया हम न तुम्हें भुला सके।
~ Hafeez Jalandhari
----------
तपिश से बच कर घटाओं में बैठ जाते हैं;
गए हुए की सदाओं में बैठ जाते हैं;
हम इर्द-गिर्द के मौसम से जब भी घबराये;
तेरे ख्याल की छाओं में बैठ जाते हैं।
~ Farhat Abbas Shah
----------
हौंसला तुझ में न था मुझसे जुदा होने का;
वरना काजल तेरी आँखों का न यूँ फैला होता।
----------
आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है;
आपकी याद बहुत बेकरार करती है;
जाते जाते कहीं मुलाकात हो जाये आप से;
तलाश आपको ये नज़र बार बार करती है।
----------
आँखों के सागर में ये जलन है कैसी;
आज दिल को तड़पने की लगन है कैसी;
बर्फ की तरह पिघल जायेगी ये जिंदगी;
ये तेरी दूर रहने की कसम है कैसी।
----------
बिखरी किताबें, भीगे अवर्क, और ये तन्हाई;
कहूँ कैसे कि मिला मोहब्बत में कुछ भी नहीं।
----------
होंठो पे कभी उनके मेरा नाम ही आये;
आये तो सही बर-सर-ए-इलज़ाम ही आये;
हैरान हैं लब-बस्ता हैं दिल-गीर हैं गुंचे;
खुशबू की जुबानी तेरा पैगाम ही आये।
~ Ada Jafri
----------
ये शमा मेहमान है दो घडी की;
शमा बुझ जायेगी तुमसे जुदा होने के बाद;
कुछ भी कह लो हक़ है तुम्हें;
बस अब मर जायेंगे तुमसे जुदा होने के बाद।
----------
तुम मिल जाओगे जब कभी;
तो इस दिल को आराम आएगा;
वरना खामोश सा रहेगा;
ये दिल तन्हाइयों में खो जायेगा।
----------
बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद;
मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बाद;
तुझ से मोहब्बत थी मुझे बेइन्तहा लेकिन;
अक्सर ये महसूस हुआ तेरे जाने के बाद।
----------
जिंदगी मोहताज नहीं मंज़िलों की वक्त हर मंजिल दिखा देता है;
मरता नहीं कोई किसी की जुदाई में वक्त सबको जीना सिखा देता है।
----------
फिर कहीं दूर से एक बार सदा दो मुझको;
मेरी तन्हाई का एहसास दिला मुझको;
तुम तो चाँद हो तुम्हें मेरी ज़रुरत क्या है;
मैं दिया हूँ किसी चौखट पे जला दो मुझको।
----------
तेरी आवाज़ की शहनाइयों से प्यार करते हैं;
तस्सवुर में तेरे तन्हाईओं से प्यार करते हैं;
जो मेरे नाम से तेरे नाम को जोड़ें ज़माने वाले;
अब हम उन चर्चों से प्यार करते हैं।
----------
उस की चाहत का भरम क्या रखना;
दश्त-ए-हिजरां में क़दम क्या रखना;
हँस भी लेना कभी खुद पर 'मोहसिन';
हर घडी आँख को नम क्या रखना।
~ Mohsin Naqvi
----------
न कोई इल्ज़ाम, न कोई तंज़, न कोई रुस्वाई मीर;
दिन बहुत हो गए यारों ने कोई इनायत नहीं की।
~ Khwaja Mir Dard
----------
तुम बिन मेरी जात अधूरी, जैसे कोई बात अधूरी;
हिजर के सारे दिन पूरे, लेकिन है हर रात अधूरी।
----------
आज भी सूना पड़ा है हर एक मंज़र;
तेरे जाने से सब कुछ वीरान लगता है;
उस रास्ते पे आज भी हम तेरी राह देखते हैं;
जहाँ से तेरा लौट आना आसान लगता है।
----------
यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले;
कब लौट के आते हैं छोड़ कर जाने वाले।
----------
कैसी अजीब ये तुझसे जुदाई थी कि तुझे अलविदा भी न कह सका;
तेरी सादगी में इतना फ़रेब था कि तुझे बेवफ़ा भी न कह सका।
----------
गुज़र गए हैं बहुत दिन रफ़ाक़त-ए-शब में;
इक उम्र हो गयी चेहरा वो चाँद सा देखे;
तेरे सिवा भी कई रंग खुश नज़र थे मगर;
जो तुझ को देख चुका हो वो और क्या देखे।
----------
यूँ तो काफी मिर्च-मसाले हैं इस जिंदगी में;​​​​
तुम्हारे बिना जायका फिर भी फीका ही लगता है....
----------
आँखों में आंसुओ को उभरने ना दिया​;
​ मिट्टी के मोतियों को बिखरने ना दिया​;​
​ जिस राह पे पड़े थे तेरे कदमो के निशान​;
​​ उस राह से किसी को गुजरने ना दिया​।
----------
ना वो आम रहे ना हम ख़ास रहे;
जाने क्यों आंसू पीकर भी हमें प्यास रहे;
सारी दुनियां मुस्कुराती है दोस्तों मगर;
दिल हमारा हमेशा ही उदास रहे।
----------
तुम्हारी याद के सहारे जिए जाते हैं;
वरना हम तो कब के मर गए होते;
जो जख्म दिल में नासूर बन गए;
जख्म वो कब के भर गए होते।
----------
अभी ज़िंदा हूँ, लेकिन सोचता रहता हूँ ख़लवत में;
कि अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मैंने।
~ Sahir Ludhianvi
----------
कुछ पल में ज़िंदगी की तस्वीर बन जाती है;
कुछ पल में ज़िंदगी की तक़दीर बदल जाती है;
किसी को पा कर कभी खोना मत मेरे दोस्त;
क्योंकि एक जुदाई से पूरी ज़िंदगी बिखर जाती है।
----------
सामने ना हो तो तरसती हैं ये आँखें;
बिन तेरे बहुत बरसती हैं ये आँखें;
मेरे लिए ना सही इनके लिए ही आ जाओ;
क्योंकि तुमसे बेपनाह प्यार करती हैं ये आँखें।
----------
लोग कहते हैं किसी एक के चले जाने से ज़िंदगी अधूरी नहीं होती;
लेकिन लाखों के मिल जाने से उस एक की कमी पूरी नहीं होती है।
----------
पलट कर भी ना देखो और ना तुम आवाज़ दो मुझ को;
बड़ी मुश्किल से सीखा है किसी को अलविदा कहना।
----------
हमारी किस्मत हमें दगा दे गई;
ज़िंदगी भर अकेले रहने की सज़ा दे गई;
जिन्हें हमने जान से भी ज्यादा प्यार किया;
वही हमें हर पल मरने की सज़ा दे गई।
----------
कुछ उलझे सवालों से डरता है दिल;
ना जाने क्यों तन्हाई में भखड़ता है दिल;
किसी को पाना कोई बड़ी बात नहीं है;
पर किसी को खोने से डरता है ये दिल।
----------
बहुत दूर है मेरे शहर से तेरे शहर का किनारा;
फिर भी हम हवा के हर झोंके से तेरा हाल पूछते है।
----------
शायद वो अपना वजूद छोड़ गया है मेरी हस्ती में;
यूँ सोते-सोते जाग जाना मेरी आदत पहले कभी ना थी।​
----------
फ़राज़' अब कोई सौदा कोई जुनूं भी नहीं;
मगर क़रार से दिन कट रहे हों, यूं भी नहीं।
~ Ahmad Faraz
----------
कितना आसां था तेरे हिज्र में मरना जाना;
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते।

हिज्र: जुदाई
~ Ahmad Faraz
----------
महल तेरी उम्मीद का ढहने नहीं दिया;
ग़म ज़ुदा हूँ मैं, किसी को कहने नहीं दिया;
ना हो यकीं तो पूछ लो इन आँखों से;
एक आंसू भी आँखों से बहने नहीं दिया।
----------
तमन्ना से नहीं तन्हाई से डरते हैं;
प्यार से नहीं रुसवाई से डरते हैं;
मिलने की चाहत तो बहुत है पर;
मिलने के बाद की जुदाई से डरते हैं
----------
हर घड़ी सोचते हैं भलाई तेरी;
सुन नहीं सकते बुराई तेरी;
हस्ते हस्ते रो पड़ती हैं आँखें मेरी;
इस तरह से सहते हैं जुदाई तेरी।
----------
तुम लौट के आने का तकल्लुफ मत करना;
हम एक मोहब्बत को दो बार नहीं करते।
----------
आज मैंने उनको खफा कर दिया;
ऐसा लगा जैसे ख़ुदा से दगा कर दिया;
कैसे मनाऊ उन्हें सोचता रहा दिन भर;
आंसुओं ने भी साथ निभाने से मना कर दिया।
----------
न हाथ थाम सके न पकड़ सके दामन;
बहुत ही क़रीब से गुज़र कर बिछड़ गया कोई।
----------
​हर एक चेहरे पे गुमान उसका था;
बसा ना कोई दिल में ये खाली मकान उसका था;
तमाम दुःख मेरे दिल से मिट गए, लेकिन;
जो न मिट सका वो एक नाम उसका था।
----------
​मेरी गली से वो जब भी गुज़रता होगा​;​
​मोड़ पे जा के कुछ देर ठहरता होगा​;​
​भूल जाना मुझको इतना आसान तो न होगा​;​
​दिल में कुछ तो टूट के उसके भी बिखरता होगा​।
----------
​किसी से ​जुदा होना अगर इतना आसान होता ऐ दोस्त​;​​
​​जिस्म से रूह को लेने कभी फ़रिश्ते नहीं आते​।
----------
किसी को ये सोचकर साथ मत छोड़ना की उसके पास कुछ नहीं तुम्हे देने के लिए;
बस ये सोचकर साथ निभाने की उसके पास कुछ नहीं है तुम्हारे सिवा खोने के लिए!
----------
जिस अफ़साने को अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन;
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना ही अच्छा।
----------
अपनी नींद से मुझे कुछ यूँ भी मोहब्बत है"फ़राज़"
कि उसने कहा था मुझे पाना एक ख्वाब है तेरे लिए
----------
फिर क्यों इतने मायूस हो उसकी बेवफाई पर "फराज";
तुम खुद ही तो कहते थे कि वो सबसे जुदा है।
----------
हम ने माँगा था साथ उनका;
वो जुदाई का गम दे गए;
हम यादों के सहारे जी लेते;
वो भुल जाने की कसम दे गए।
----------
सब कुछ है मेरे पास बस दिल की दवा नहीं;
दूर वो मुझसे है पर मैं उस से खफा नहीं;
मालूम है अब भी प्यार करता हैं वो मुझसे;
वो थोडा सा जिद्दी है लेकिन बेवफा नहीं।
----------
जिसने हमको चाहा, उसे हम चाह न सके;
जिसको चाहा उसे हम पा न सके;
यह समझ लो दिल टूटने का खेल है;
किसी का तोडा और अपना बचा न सके।
----------
टूट जाते हैं सभी रिश्ते मगर;
दिल से दिल का रिश्ता अपनी जगह;
दिल को है तुझ से ना मिलने का यक़ीन;
तुझ से मिलने की दुआ अपनी जगह।
----------
लोग कहते हैं किसी के चले जाने से;
जिन्दगी अधूरी नहीं होती;
लेकिन लाखों के मिल जाने से भी तो;
उस एक की कमी पूरी नहीं होती है।
----------
उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया;
कट गई उम्र हमें प्यार करना नहीं आया;
उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई;
और हमें इंकार करना नहीं आया।
----------
प्यार ने ये कैसा तोहफा दे दिया;
मुझको गमो ने पत्थर बना दिया;
तेरी यादों में ही कट गयी ये उम्;
कहता रहा तुझे कब का भुला दिया।
----------
कभी यूँ भी आ मेरी आँखों में;
कि मेरी नज़र को खबर न हो;
तुझे भूलने की दुआ करूँ;
तो दुआ में मेरी असर ना हो।
----------
बस इतने में ही कश्ती डुबा दी हमने;
जहाँ पहुंचना था वो किनारा ना रहा;
गिर पड़ते है लडखडा के कदमों से;
जो थामा करता था वो आज सहारा ना रहा।
----------
आपको पाकर खोना नहीं चाहते;
इतना खुश होकर अब रोना नहीं चाहते;
ये आलम हैं हमारा आपकी जुदाई से;
आँखों में नींद है मगर हम सोना नहीं चाहते।
----------
जान मेरी तू क़त्ल कर दे मुझे;
पर छोड़ जाने का जुल्म ना करना।
----------
हौंसला तो तुझमे भी ना था मुझसे जुदा होने का;
वर्ना काजल तेरी आँखों का यूँ फैला नहीं होता!
----------
मोहब्बत-मोहब्बत की बस इतनी कहानी है;
इक टूटी हुई कश्ती और ठहरा हुआ पानी है;
इक फूल जो किताबों में कहीं दम तोड़ चुका है;
कुछ याद नहीं आता किसकी निशानी है!
----------
अकेला सा महसूस करो जब तन्हाई में;
याद मेरी आये जब जुदाई में;
महसूस करना तुम्हारे करीब हूँ मैं;
जब चाहे देख लेना अपनी ही परछाई में!
----------
वो रोए तो बहुत पर मुझसे मुंह मोड़कर रोए;
कोई मजबूरी होगी तो दिल तोड़कर रोए;
मेरे सामने कर दिए मेरे तस्वीर के टुकड़े;
पता चला मेरे पीछे वो उन्हें जोड़कर रोए!
----------
दुआ करना यारों जुदा हो रहे हैं;
रही जिंदगी तो फिर आकर मिलेंगे;
अगर मर गया तो दुआ करते रहना;
आंसू बहाने की कोशिश ना करना!
----------
सदियों से जागी आँखों को एक बार सुलाने आ जाओ;
माना कि तुमको प्यार नहीं, नफ़रत ही जताने आ जाओ;
जिस मोड़ पे हमको छोड़ गए हम बैठे अब तक सोच रहे;
क्या भूल हुई क्यों जुदा हुए, बस यह समझाने आ जाओ।
---------




गलतियों से जुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;
दोनों इंसान हैं, ख़ुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;
गलतफहमियों ने कर दी दोनों में पैदा दूरियां;
वरना फितरत का बुरा तु भी नहीं था, मैं भी नहीं।
----------
कैसी अजीब तुझसे यह जुदाई थी,
कि तुझे अलविदा भी ना कह सका;
तेरी सादगी में इतना फरेब था,
कि तुझे बेवफा भी ना कहा सका।
----------
भूल जाने का हौसला ना हुआ;
दूर रह कर भी वो जुदा ना हुआ;
उनसे मिल कर किसी और से क्या मिलते;
कोई दूसरा उनके जैसा ना हुआ।
----------
ज़ुबान खामोश आँखों में नमी होगी;
ये बस एक दास्तां-ए ज़िंदगी होगी;
भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएगा;
कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी होगी।
----------
हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर;
हम उसे अपनी खता कहते हैं;
वो तो साँसों में बसी है मेरे;
जाने क्यों लोग उसे मुझे जुदा कहते हैं।
----------
आज कुछ कमी सी है तेरे बगैर;
ना रंग ना रौशनी है तेरे बगैर;
वक़्त अपनी रफ़्तार से चल रहा है;
बस धड़कन थम सी गयी है तेरे बगैर।
----------
दिल की धड़कन को, एक लम्हा सबर नहीं;
शायद उसको अब मेरी ज़रा भी कदर नहीं;
हर सफर में मेरा कभी हमसफ़र था वो;
अब सफर तो है मगर वो हमसफ़र नहीं।
----------
कुछ बिखरे सपने और आँखों में नमी है;
एक छोटा सा आसमान और उमीदों की ज़मीं है;
यूँ तो बहुत कुछ है ज़िंदगी में;
बस जिसे चाहते हैं उसी की कमी है।
----------
तुझसे दूर अब हम जा नहीं सकते;
तुझसे प्यार कितना है यह हम बता नहीं सकते;
हमें मालूम है ये ज़िन्दगी है चार दिन की लेकिन;
तेरे बिन ये चार दिन तो क्या दो पल भी हम बिता नहीं सकते।
----------
अगर जिंदगी में जुदाई न होती;
तो कभी किसी की याद न आई होती;
अगर साथ गुजरा होता, हर लम्हा;
तो शायद रिश्तों में इतनी, गहराई न होती।
----------
उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया;
कट गयी उम्र पर हमें प्यार करना नहीं आया;
उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई;
और हमें भी इंकार करना नहीं आया।
----------
हम तेरे दिल में रहेंगे एक याद बनकर;
तेरे लब पे खिलेंगे मुस्कान बनकर;
कभी हमें अपने से जुदा न समझना;
हम तेरे चलेंगे आसमान बनकर।
----------
ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना;
मेरे भरोसे को रुस्वा न करना;
दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना;
मेरे दिल में रह कर बेवफाई न करना।
----------
हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर;
हम उसे अपनी खता कहते हैं;
वो तो साँसों में बसी है मेरे;
जाने क्यों लोग उसे मुझे जुदा कहते हैं।
----------
तेरे होते हुए भी तन्हाई मिली;
वफ़ा करते भी देखो बुराई मिली;
जितनी दुआ की तुम्हें पाने की;
उस से ज्यादा तेरी जुदाई मिली।
----------
तू है मुझमें शामिल इस तरह;
तेरा तसव्वर ज़िक्र भी करूँ किस तरह;
चाहे दूर सही लेकिन तू है इस दुनिया में;
तेरी उम्मीद रहते हुए मैं मरुँ किस तरह।
----------
हमें तो अपना दिल लगता अवारा है;
जो चाहे चला जाए हमें ठुकरा के;
रह लेंगे हम तो बस यूँ ही तन्हा;
बस एक आपके जाने से रह जाएंगे हम तड़प के।
----------
मेरी चाहत में कोई खोट तो नहीं शामिल;
फिर क्यों वो बार-बार आज़माए मुझे;
दिल उसकी याद से एक पल भी नहीं जुदा;
फिर कैसे मुमकिन है वो भूल जाए मुझे।
----------
मोहब्बत मुक़द्दर है एक ख्वाब नहीं;
ये वो रिश्ता है जिस में सब कामयाब नहीं;
जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पर गिन लो;
जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।
----------
तुझे पाने की आरज़ू में तुझे गंवाता रहा हूँ;
रुस्वा तेरे प्यार में होता रहा हूँ;
मुझसे ना पूछ तू मेरे दिल का हाल;
तेरी जुदाई में रोज़ रोता रहा हूँ।
----------
वो मिल जाते हैं कहानी बनकर;
दिल में बस जाते हैं निशानी बनकर;
जिन्हें हम रखते हैं आँखों में;
जाने वो क्यों निकल जाते हैं पानी बनकर।
----------
कौन कहता है कि हमारी जुदाई होगी;
ये अफवाह किसी दुश्मन ने फैलाई होंगी;
शान से रहेंगे आपके दिल में;
इतने दिनों में कुछ तो जगह बनाई होगी।
----------
प्यार करने वालों की किस्मत बुरी होती है;
मुलाक़ात जुदाई से जुड़ी होती है;
वक़्त मिले तो प्यार की किताब पढ़ना;
हर प्यार करने वालों की कहानी अधूरी होती है।
----------
जुबान खामोश आँखों में नमी होगी;
ये बस दास्ताँ-ए-ज़िंदगी होगी;
भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएंगेः;
कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी होगी।
----------
कर दिया कुर्बान खुद को हमने वफ़ा के नाम पर;
छोड़ गए वो हमको अकेला, मज़बूरियों के नाम पर।
----------
तन्हाई जब मुक़द्दर में लिखी है;
तो क्या शिकायत अपनों और बेगानों से;
हम मिट गए जिनकी चाहत में;
वो बाज ना आए हमे आज़माने से।
----------
हम अपना दर्द किसी को कहते नही;
वो सोचते हैं कि हम तन्हाई सहते नहीं;
आँखों से आँसू निकले भी तो कैसे;
क्योंकि सूखे हुए दरिया कभी बहते नहीं।
----------
ये प्यार की बातें किताबों में ही अच्छी लगती हैं;
तन्हाई भरी महफ़िल दर्दे दिल से ही सजती है;
तुम तो कर गए एक पल में पराया;
तेरी यादें ही हैं जो हमें अपनी लगती हैं।
----------
वो देता है दर्द बस हमी को;
क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को;
लाखों दीवाने हों जिस के;
वो क्या महसूस करेगा एक हमारी कमी को।
----------
जगाया उन्होंने ऐसा के अब तक सो न सके;
रुलाया उन्होंने ने फिर भी हम रो न सके;
न जाने क्या बात थी उन में;
जो अब तक हम किसी के भी न हो सके।
----------
ग़म ने हंसने ना दिया, ज़माने ने रोने ना दिया;
इस उलझन ने जीने ना दिया;
थक के जब सितारों से पनाह ली;
नींद आई तो आपकी याद ने सोने ना दिया।
----------
हर चेहरे पर गुमान उसका था;
बसा ना सका खाली मकान उसका था;
लाखों दर्द मिट गए दिल से लेकिन;
जो मिट ना सका वो एक नाम उसका था।
----------
दिल नहीं लगता आपको देखे बिना;
दिल नहीं लगता आपके बारे में सोचे बिना;
आँखें भर आती हैं यह सोच कर;
कि किस हाल में होंगे आप हमारे बिना।
----------
बहुत चाहा पर उन्हें भुला ना सके;
ख्यालों में किसी और को ला ना सके;
किसी को देख कर आंसू तो पोंछ लिए;
पर किसी को देख कर हम मुस्कुरा ना सके।
----------
थक गए हम उनका इंतज़ार करते-करते;
रोए हज़ार बार खुद से तकरार करते-करते;
दो शब्द उनकी ज़ुबान से निकल जाते कभी;
और टूट गए हम एक तरफ़ा प्यार करते-करते।
----------
तन्हा हो कभी, तो मुझ को ढूंढना;
दुनियां से नहीं, अपने दिल से पूछना;
आस-पास ही कहीं बसे रहते हैं हम;
यादों से नहीं, साथ गुज़ारे लम्हों से पूछना।
----------
आप को खोने का हर पल डर लगा रहता है;
जब कि आपको पाया ही नहीं;
तुम बिन इतना तन्हा हूँ मैं;
कि मेरे साथ मेरा साया भी नहीं।
----------
तेरी याद में आंसुओं का समंदर बना लिया;
तन्हाई के शहर में अपना घर बना लिया;
सुना है लोग पूजते हैं पत्थर को;
इसलिए तुझसे जुदा होने के बाद दिल को पत्थर बना लिया।
----------
रात इतनी हसीन थी कि सारे सो रहे थे;
हम ही ऐसे बदनसीब थे, जो आपकी याद में रो रहे थे।
----------
सब फूलों की जुदा कहानी है;
खामोशी भी तो प्यार की निशानी है;
ना कोई ज़ख्म है, फिर भी ऐसा एहसास है;
यूँ महसूस होता है कोई आज भी दिल के पास है।
----------
ग़म में हँसने वालों को कभी रुलाया नहीं जाता;
लहरों से पानी को हटाया नहीं जाता;
होने वाले हो जाते हैं खुद ही दिल से जुदा;
किसी को जबर्दस्ती दिल में बसाया नहीं जाता।
----------
बिताए हुए कल में आज को ढूँढता हूँ;
सपनों में सिर्फ आपको देखता हूँ;
क्यों हो गए आप मुझसे दूर, यह सोचता हूँ;
तन्हा, यारों से छुपकर रोता हूँ।
----------
भुला कर हमें वो क्या खुश रह पाएंगे;
साथ में नहीं हमारे जाने के बाद मुस्कुराएंगे;
दुआ है खुद से कि उन्हें दर्द ना देना;
हम तो सह गए, पर वो टूट जाएंगे।
----------
भूल जाने का हौसला ना हुआ;
दूर रह कर भी वो जुदा ना हुआ;
उनसे मिल कर किसी और से क्या मिलते;
कोई दूसरा उनके जैसा ना हुआ!
----------
नज़र नवाज़ नज़रों में ज़ी नहीं लगता;
फ़िज़ा गई तो बहारों में ज़ी नहीं लगता;
ना पूछ मुझसे तेरे ग़म में क्या गुजरती है;
यही कहूंगा हज़ारों में ज़ी नहीं लगता।
----------
नफ़रत कभी ना करना तुम हमसे;
यह हम सह नहीं पायेंगे;
एक बार कह देना हमसे, ज़रूरत नहीं अब तुम्हारी;
तुम्हारी दुनियाँ से हंसकर चले जायेंगे!
----------
हर किसी के नसीब में सच्चा प्यार नहीं होता;
सब किस्मत का खेल है,
किसी का कोई दोष नहीं होता;
मेरे नसीब में सिर्फ तड़प, जुदाई, और नफरत ही बची है, अब खुश रह नहीं होता।
----------
पलकों के किनारे हमने भिगोए ही नहीं;
वो सोचते हैं हम रोए ही नहीं;
वो पूछते हैं कि ख़्वाबों में किसे देखते हो;
हम हैं कि एक उम्र से सोए ही नहीं।
----------
ज़ुबान खामोश आँखों में नमी होगी;
ये बस एक दास्तां-ए ज़िंदगी होगी;
भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएगा;
कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी होगी?
----------
सुन लिया हम ने फैसला तेरा;
और सुन के उदास हो बैठे;
ज़हन चुप चाप आँख खाली;
जैसे हम क़ायनात खो बैठे।
----------
ज़िन्दगी की आखिरी शाम लिखते हैं;
आप की याद में गुजरते पल तमाम लिखते हैं;
वो कलम भी दीवानी हो जाती है आप की;
जिस कलम से हम आपका नाम लिखते हैं।
----------
जुदाई की कसक लिए;
तेरी याद से जुड़ा आंसू;
हर शब् मेरी आँख से टपका है;
गुज़रे कल की तरह आज का दिन भी;
तुम बिन उदास गुज़रता है।
----------
ये इश्क़ वालों की क़िस्मत बुरी होती है;
हर मुलाक़ात जुदाई से जुडी होती है;
कहीं भी देख लेना आज़माकर;
सच्चे प्यार को जुदाई ही नसीब होती है।
----------
धोखा दिया था जब तूने मुझे;
जिंदगी से मैं नाराज था;
सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं;
मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था।
----------
लम्हें जुदाई को बेकरार करते हैं;
हालात मेरे मुझे लाचार करते हैं;
आँखे मेरी पढ़ लो कभी;
हम खुद कैसे कहें कि आपसे प्यार करते हैं।
----------
जिस घड़ी तेरी यादों का समय होता है;
फिर हमें आराम कहाँ होता है;
हौंसला नहीं मुझमें तुम्हें भुला देने का;
काम सदियों का है यह, लम्हों में कहाँ होता है।
----------
लम्हें जुदाई के बेकरार करते हैं;
हालात मेरे मुझे लाचार करते हैं;
आँखें मेरी पढ़ लो कभी भी;
हम खुद कैसे कहें कि आपसे प्यार करते हैं।
----------
जिंदगी की कश्ती कब लगे कौन से किनारे;
कब मिलेंगी मनचली बहारें;
जीना तो पड़ेगा ही कैसे भी प्यारे;
कभी दोस्तों की भीड़ में कभी तन्हाई के सहारे।
----------
कितना चाहता हूँ तुझे यह मुझको पता नहीं;
मगर तुम्हारे सिवा कोई और दिल में बसा नहीं;
ज़माना दुश्मन हो गया चाहत का हमारी;
जुदा हो गए फिर से यह मेरी खता नहीं।
----------
तमन्ना से नहीं तनहाई से डरते हैं;
प्यार से नहीं रुसवाई से डरते हैं;
मिलने की तो बहुत चाहत है;
पर मिलने के बाद जुदाई से डरते हैं।
----------
कोई रास्ता नहीं दुआ के सिवा;
कोई सुनता नहीं यहां खुदा के सिवा;
मैंने भी जिंदगी को बहुत करीब से देखा है;
मुश्किल में कोई साथ नहीं देता आंसुओं के सिवा।
----------
हर ख़ुशी गम का ऐलान है;
हर मुलाक़ात जुदाई का ऐलान है;
ना रखा किसी से उम्मीद;
हर उम्मीद दिल टूटने का फरमान है।
----------
जलते हुए दिल को और मत जलाना;
रोती हुई आँखों को और मत रुलाना;
आपकी जुदाई में हम पहले ही मर चुके हैं;
मरे हुए इंसान को और मत मारना।
----------
मुझे उसके पहलु में आशियाना ना मिला;
उसकी जुल्फों की छाओं में ठिकाना ना मिला;
कह दिया उसने मुझको बेवफ़ा;
जब मुझको छोड़ने का उसे कोई बहाना ना मिला।
----------
अर्ज़ किया है:
इतना कमजोर हो गए तेरी जुदाई में;
इतना कमजोर हो गए तेरी जुदाई में;
कि अब तो चींटी भी खींच ले जाती है चारपाई से।
----------
बेताब तमन्नाओं की कसक रहने दो;
मंजिल को पाने की कसक रहने दो;
आप चाहे रहो नजर से दूर;
पर मेरी आँखों में एक झलक रहने दो।
----------
बता मुझे ये तेरी तनहाई कैसी है;
समझकर प्यार सारा फिर भी रुसवाई कैसी है;
हमें और भी मजबूर कर दिया है तूने;
तू बता तो सही ये तेरी तनहाई कैसी है?
----------
तुम ना समझोगे इस तन्हाई के मायने;
पूछना है तो शाख से टूटे पत्ते से पूछो क्या है जुदाई;
यूँ ना कह दो बेवफा हमें;
यह पूछो कि किस वक़्त तेरी याद नहीं आई।
----------
ज़माना बन जाए कागज़ का;
और समंदर हो जाए स्याही का;
फिर भी कलम लिख नहीं सकती;
दर्द तेरी जुदाई का।
----------
याद में तेरी आँहें भरता है कोई;
हर साँस के साथ तुझे याद करता है कोई;
मौत तो सच्चाई है आनी है;
लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज मरता है कोई!
----------
यह सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा;
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा;
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी;
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा!
----------
याद में तेरी आँखें भरता है कोई;
हर सांस के साथ तुझे याद करता है कोई;
मौत एक ऐसी चीज़ है जिसको आना ही है;
लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज़ मरता है कोई।
----------
जिंदगी मोहताज़ नहीं मंजिलो की;
वक़्त हर मंजिल दिखा देता है;
मरता नहीं कोई किसी से जुदा होकर;
वक़्त सबको जीना सिखा देता है।
----------
सर्द रातों को सताती है जुदाई तेरी;
आग बुझती नहीं सीने में लगाई तेरी;
जब भी चलती हैं हवाएं;
बहुत परेशान करती है यह तन्हाई मेरी।
----------
दिल तो करता है जिंदगी को किसी क़ातिल के हवाले कर दूँ, अये यारो;
जुदाई में यूँ रोज़ रोज़ मरना मुझे अच्छा नहीं लगता!
----------
हमने तो ऊमर गुज़ार दी तन्हाई में;
सह लिए सित्तम तेरी जुदाई में;
अब तो यह फ़रियाद है खुदा से;
कोई और ना तड़पे, तेरी बेवाफ़ाई में!
----------
फूल खिलतें हैं, खिलकर बिछड़ जाते हैं;
फूल खिलतें हैं, खिलकर बिछड़ जाते हैं;
यादें तो दिल में रहती हैं, दोस्त ही मिलकर बिछड़ जाते हैं!
----------
मंजिल ढूंढ़ते ढूंढ़ते आज मुझे एहसास हुआ;
कि मेरे 'हमसफ़र' की राह तो कबकी बदल गयी!
----------
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा न करे;
करे तो क़यामत तक जुदा न करे;
यह माना कि कोई मरता नहीं जुदाई में;
लेकिन जी भी तो नहीं पाता तन्हाई में!
----------