Santa Banta Jokes

स्पेलिंग ने मरवा दिया!
संता: जल्दी से यहाँ एक एम्बुलेंस भेज दीजिये, मेरे दोस्त को एक गाडी ने टक्कर मार दी है। उसके नाक से और कान से खून बह रहा है। शायद उसकी टांग भी टूट गयी है।

ऑपरेटर: आप किस जगह पर हैं कृपया वो बता दीजिये।

संता: Connaght Place में।

ऑपरेटर: आप मुझे स्पेलिंग बता दीजिये?

आगे से कोई आवाज़ नहीं आई।

ऑपरेटर: सर क्या आप को मेरी आवाज़ आ रही है?

दूसरी तरफ से अभी भी कोई आवाज़ नहीं आई।

ऑपरेटर: सर प्लीज, जवाब दीजिये, क्या आप मुझे सुन रहे हैं?

संता: हाँ- हाँ माफ़ करना, मुझे Connaght Place के स्पेलिंग नहीं आते, इसलिए मैं उसे घसीट कर Minto Road पर ले आया हूँ। आप Minto Road के स्पेलिंग लिखो।
----------
संता की ख़ुशी का कारण!
एक बार संता बार में बैठकर कागज पर कुछ गुणा-भाग कर रहा था और पागलों की तरह हँस रहा था। तभी वहां बंता आया और उसने संता से पूछा, "क्या हुआ संता, तुम इतने खुश क्यों हो?"

संता (हँसते-हँसते): ओ यार, आजकल मेरी पत्नी डाइटिंग पर है और पिछले 4 दिनों में उसने 5 किलो वजन घटा लिया है।

बंता: तो फिर इसमें इतना हँसने वाली क्या बात है?

संता: ओ यार, अभी-अभी मैंने सारा हिसाब लगाया है कि अगले 4 महीनों में वह पूरी तरह से गायब हो जाएगी।
----------
संता का तोता!
बंता: अरे यार संता तुम जो तोता लाये थे, कैसा है वो?

संता: क्या बताऊँ यार कल हमारा तोता पेट्रोल पी गया।

बंता: अरे, फिर क्या हुआ?

संता: होना क्या था तड़पा, चीखा, फड़फड़ाया, उड़ा तो छत से जा कर टकराया, फिर कई बार कमरे में गोल- गोल उड़ा और कई बार चारों दीवारों से टकराया।

बंता: फिर?

संता: फिर उड़ कर हॉल में पहुंच गया। वहां भी अंधों की तरह खूब टककरें मारीं। फिर किचन में पहुंच गया। वहां तो बहुत ही तड़पा, कई बर्तन फोड़ दिए। फिर बैडरूम में पहुंचा तो सीधा जाकर ड्रेसिंग टेबल के शीशे से टकराया। शीशा चकनाचूर हो गया और उन्ही टुकड़ों में वो भी फर्श पर ढेर हो गया।

बंता: ओह, फिर मर गया?

संता: नहीं मरा तो नहीं पर मुझे लगता है पेट्रोल ख़त्म हो गया होगा।
----------
संता की नेकी!
एक औरत सड़क पर गोद में अपने बच्चे को लेकर रोये जा रही थी, तभी वहाँ से संता गुज़र रहा था। संता ने उसके रोने का कारण पूछा।

औरत बोली, "बच्चा बहुत बीमार है और दवा के लिए पैसे नहीं हैं।"

संता ने जेब से 1000 का नोट दिया और कहा कि जाओ जाकर दवाई ले आओ और बच्चे के लिए कुछ खाना और दूध भी ले लेना, बाकी जो बचे मुझे लाकर लौटा देना मैं यहीं खडा हूँ।

थोड़ी देर बाद औरत आई और 800 रूपये लौटाती हुई बोली कि 100 रुपये डाक्टर ने लिए, 60 रुपये का खाना और 40 रुपये का दूध आया है।

संता बहुत खुश हुआ और सोचने लगा कि 'नेकी कभी बेकार नहीं जाती। डाक्टर को फीस भी मिल गई, बच्चे को दवा, दूध और खाना भी मिल गया।
.
.
.
.
.
.
.
.
और मेरा नकली नोट भी चल गया।
----------


लम्बी दूरी!
एक बार संता को एक लड़की से प्यार हो गया। वो रोज़ उसे ऑफिस, जहाँ को काम करती, ले जाने और वापस घर छोड़ के आने लगा।

एक दिन रास्ते में लड़की बेहद उदास हो कर बोली, "कल लड़के वाले मुझे देखने आये थे।"

संता: फिर?

लड़की: मुझे पसंद कर गए।

संता बेहद दुखी होते हुए बोला, "अब?"

लड़की रोन लगी और रोते - रोते बोली, "अगले महीने की शादी तय हो गई, उनका घर लक्ष्मी नगर है।"

संता गहरी सोच में पड़ गया।

लड़की: अब क्या करना है, सोचो जल्दी।

संता: सोच ही तो रहा हूँ। अब लक्ष्मी नगर से तुम्हें ऑफिस छोड़ने के लिए मुझे रिंग रोड़ लेनी पड़ेगी, फिर 3 किलोमीटर बाद यू - टर्न, उसके बाद वन वे के कारण राजगुरु रोड़, फिर वो मुखर्जी नगर वाला फ्लाई ओवर... ओये नहीं मेरे बस की बात नहीं है, तू अपने पति को ही बोल कोई इन्तेजाम करे, मुझे बहुत लम्बा पड़ेगा।"
----------
उदास क्यों हो?
संता और बंता कई दिनों बाद मिले संता कुछ उदास सा लग रहा था और आँखों में आंसू थे।

बंता ने पूछा, "अरे तुम तो ऐसे लग रहे हो जैसे तुम्हारा सुब कुछ लुट गया हो क्या बात है?"

संता ने कहा, "अरे क्या बताऊँ तीन हफ्ते पहले मेरे अंकल गुजर गए और मेरे लिए 50 लाख रूपए छोड़ गए।"

बंता: तो इसमें बुरी बात क्या है?

संता ने कहा: और सुनो दो हफ्ते पहले मेरा एक चचेरा भाई मर गया जिसे मैं जानता भी नहीं था वो मेरे लिए 20 लाख रूपए छोड़ गया।

बंता ने कहा: ये तो अच्छा हुआ।

बंता ने कहा: पिछले हफ्ते मेरे दादाजी नहीं रहे और वो मेरे लिए पूरा 1 करोड़ छोड़ गए।

बंता ने कहा: ये तो और भी अच्छी बात है पर तुम इतना उदास क्यों हो?

संता ने कहा: इस हफ्ते कोई भी नहीं मरा।
----------
दिन बदल गए!
बंता: यार संता तुम्हें पता है मैं और प्रीतो तलाक ले रहे है।

संता (हैरान होते हुए): क्यों क्या हो गया? तुम दोनों तो बहुत अच्छे से रहते हो।

बंता: जब से हम लोगों ने शादी की है तब से प्रीतो मुझे बदलने की कोशिश में लगी हुई है। सबसे पहले उसने मुझे शराब पीने से रोका, फिर सिगरेट फिर इधर-उधर आवारा घूमने से।

उसने मुझे सिखाया कि अच्छे कपड़े कैसे पहनते है, उसने मुझे संगीत और कला के प्रति रूचि आदि सब सिखाये और स्टॉक मार्केट में कैसे निवेश करना है ये सब भी उसी ने सिखाया।

संता ने कहा, "क्या तुम बस इसलिए नाराज हो कि उसने तुम्हें बदलने के लिए ये सब किया।"

बंता: अरे मैं नाराज नहीं हूँ, मैं अब काफी सुधर चुका हूँ तो अब वो मुझे अपने लायक नहीं लगती।
----------
ख़ुशी मिलती है!
एक आदमी ने एक वकील के ऑफिस में फ़ोन किया और वकील का नाम लेकर कहा कि मैं अपने वकील से बात करना चाहता हूँ।

रिसेप्शन वाले ने कहा, "जी माफ़ कीजिये, पिछले हफ्ते ही उनका देहांत हो गया।"

अगले दिन फिर से उस आदमी ने उसी तरह पूछा, "जी, क्या मैं अपने वकील के साथ बात कर सकता हूँ?"

रिसेप्शन वाले ने फिर से वही बात कही कि माफ़ कीजिये उनका पिछले हफ्ते देहांत हो गया।

अगले दिन फिर से उस आदमी ने फोन किया, "क्या मैं अपने वकील से बात कर सकता हूँ?"

रिसेप्शन वाले ने उस दिन दुखी होकर उसे पूछ ही लिया, "सर आज ये आपका तीसरा दिन है, लगातार मैं आपको बता रहा हूँ कि आपके वकील मर चुके हैं। आप फिर भी बार-बार फोन करके क्यों पूछ रहे हैं?"

उस आदमी ने बड़ी सहजता से जवाब दिया, "क्योंकि यह सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी मिलती है कि अब मेरे पैसे बच जायेंगे।"
----------


परीक्षा के दौरान!
अध्यापिका पप्पू से: तुम इतने परेशान क्यों हो?

पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।

अध्यापिका: क्या हुआ, क्या तुम अपना पेन भूल आये हो?

पप्पू फिर चुप।

अध्यापिका ने फिर से सवाल किया: रोल नंबर भूल गए हो?

पप्पू इस बार भी चुप।

अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?

पप्पू गुस्से से: ओये! चुप कर मेरी माँ, यहाँ मैं पर्ची गलत ले आया हूँ और तुझे पेन-पेंसिल और रोल नंबर की पड़ी हुई है।
----------
मायके गई हुई पत्नी का पति को पत्र।
कृपया इसे ध्यान से पढ़ें:

कामवाली को तनख्वाह दे दी है ज्यादा दानवीर मत बनना।

आपको कितनी बार बताया है कि पडोसन का अख़बार वाला, दूध वाला और लॉन्ड्री वाला हमसे अलग है। हर रोज़ सुबह पूछने मत पहुँच जाना कि अख़बार आया कि नही।

अलमारी में बायीं तरफ पर आपकी बनियान-चड्डी रखी है, दायीं तरफ पर मुन्ने की हैं, पिछली बार की तरह उसकी मत पहन लेना नहीं तो फिर सारा दिन ऑफिस में ऊपर नीचे खींचते रहोगे।

चश्मा सही जगह पर रखना, पिछली बार मैं 5 दिन बाद आई थी तो फ्रिज के अंदर से मिले थे।

अपना मोबाइल भी संभाल कर रखना। पिछली बार बाथरूम में साबुन की जगह मिला था। मुझे तो आज तक यह पता नही चल सका कि बाथरूम में मोबाइल का क्या काम होता है।

और हाँ, अपने सगे-संबंधियों और यार-दोस्तों को ज्यादा जमा मत करना, पिछ्ली बार सोफे के कवर से कितने सारे मूंगफली के छिलके निकले थे।

और ज्यादा उछलने की ज़रुरत नही है, मैं कभी भी अचानक आ सकती हूँ, खयाल रखना।
----------
सेर पर सवा सेर!
एक बार संता और बंता दोनों एक दुकान पर गए। वहाँ सब लोगों को अपने काम में व्यस्त देख कर बंता ने 3 चॉकलेट चुरा लिए।

जब दोनों बाहर आये तो बंता अपनी ढींगे हांकने लगा कि वो बहुत चालाक है। उसने 3 चॉक्लेट चुराए और किसी को पता भी नहीं लगने दिया। तुम ऐसा नहीं कर सकते।

यह सुनकर संता को भी गुस्सा आ गया और बोला, "चलो मैं तुम्हें इससे भी बढ़िया चीज़ दिखाता हूँ।"

वो दोनों वापिस अंदर चले गए। अंदर जाकर संता ने दुकानदार से कहा, "क्या तुम जादू देखना चाहते हो?"

दुकानदार ने कहा, "हाँ, ठीक है।"

संता: तो फिर मुझे एक चॉकलेट दो।

दुकानदार ने संता को चॉकलेट दी और संता ने वो चॉकलेट खा ली और दूसरी चॉकलेट मांगी। दुकानदार ने दूसरी चॉकलेट भी दे दी तो संता ने उसे भी खा लिया। अब संता ने दुकानदार से तीसरी चॉकलेट मांगी और वो भी खा ली।

दुकानदार ने पूछा, "इसमें जादू कहाँ है?"

संता: मेरे दोस्त की जेब देखो तो तुम्हें तुम्हारी तीनों चॉकलेट वापिस मिल जाएँगी!
----------
प्याज़ के रुलाने का कारण!
जब भगवान सारी सब्जियों को उनके गुण और सुगंध बांट रहे थे तब प्याज चुपचाप उदास होकर पीछे खड़ी हो गई। सब चले गए प्याज नहीं गई। वहीँ खड़ी रही। तब विष्णुजी ने पूछा, "क्या हुआ तुम क्यों नही जाती?"

तब प्याज रोते हुए बोली, "आपने सबको सुगंध और सुंदरता जैसे गुण दिए पर मुझे बदबू दी। जो मुझे खाएगा उसका मुँह बदबू देगा। मेरे साथ ही यह व्यवहार क्यों?"

तब भगवान को प्याज पर दया आ गई। उन्होने कहा, "मैं तुम्हे अपने शुभ चिन्ह देता हूँ। यदि तुम्हें खड़ा काटा जायेगा तो तुम्हारा रूप शंखाकार होगा और यदि आड़ा काटा गया तो चक्र का रूप होगा। यही नहीं सारी सब्जियों को तुम्हारा साथ लेना होगा, तभी वे स्वादिष्ट लगेंगी और अंत में तुम्हे काटने पर लोगों के वैसे ही आंसू निकलेंगे जैसे आज तुम्हारे निकले हैं। जब जब धरती पर मंहगाई बढ़ेगी तुम सबको रुलाओगी।

दोस्तों इसीलिए प्याज आज इतना रुला रही है उसे वरदान जो प्राप्त है।

परम ज्ञानी गुरु बाबा बकवास नंद के प्रवचनों से साभार!
----------


बुरे फंसे यार!
आज तो कमाल ही हो गयी। सुबह-सुबह श्रीमती जी नाश्ता बना रही थी, इतने में किसी ने दरवाजा खटखटाया। श्रीमती जी ने दरवाज़ा खोला तो एक सेल्समैन दनदना के अंदर पहुँचा और पूरे कालीन पर गोबर गिरा दिया।

श्रीमती जी गुस्से में चिल्लाते हुए, "अरे, यह क्या कर दिया। अभी तो सफाई की है और आप हो कौन?"

सेल्समैन: मैडम मैं एक सेल्समैन हूँ, आपको यह वैक्यूम क्लीनर का कमाल दिखाने आया हूँ।

श्रीमती जी: वैक्यूम क्लीनर का कमाल दिखाना है तो यह सारी गंदगी क्यों फैला दी?

सेल्समैन: मैडम तभी तो इसका कमाल दिखेगा।

सेल्समैन: क्योंकि अभी 2 मिनट में देखना यह सारी गंदगी साफ़ हो जाएगी और अगर ऐसा नहीं हुआ तो मैं खुद अपनी जीभ से चाट कर इसे साफ़ करूँगा।

श्रीमती जी ने सेल्समैन की तरफ घूर कर देखा और बोली, "जीभ से मत चाटना ऐसे ही हाथ से उठा कर खाना शुरू कर दो।"

सेल्समैन: आप ऐसा क्यों बोल रही हैं मैडम।

श्रीमती जी: क्योंकि घर में बिजली नहीं है। अब हो जाओ शुरू।

शिक्षा: कुछ भी करने से पहले पूरी जानकारी इकठी कर ले ताकि बाद में पछताना ना पड़े।
----------
गहराई की सच्चाई!
एक बार संता और बंता एक कोयले की खदान में नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाते हैं तो मैनेजर पहले बंता को बुलाता है और उसका इंटरव्यू लेता है।

मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले भी कभी खदान में काम किया है?

बंता: जी हाँ।

मैनेजर: अच्छा तो मुझे यह बताओ की उसकी गहराई कितनी थी?

बंता: जी 20 फुट।

बंता की बात सुन मैनेजर को गुस्सा आ जाता है तो वह उस से कहता है, "क्या बकवास कर रहे हो 20 फुट गहरी भी कोई खदान होती है, तुम झूठ बोल रहे हो इसीलिए मेरे कमरे से बहार निकल जाओ।"

मैनेजर की बात सुन बंता बहार आ जाता है और संता को अन्दर हुई सारी बात बताता है और कहता है, "अगर मैनेजर अन्दर तुमसे खदान की गहराई के बारे में पूछे तो ज्यादा से ज्यादा बताना।"

उसके बाद संता की बारी आती है तो मैनेजर फिर उस से वही सवाल पूछता है।

मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले कभी खदान में काम किया है?

संता: जी हाँ।

मैनेजर: अच्छा तो उस खदान की गहराई कितनी थी?

संता: जी 20,000 हज़ार फुट।

मैनेजर: बहुत बढ़िया तो एक बात और बताओ कि इतनी गहराई में काम करते वक्त तुम किस तरह की लाईटों का प्रयोग करते थे?

संता: जी मुझे कभी लाईटों की ज़रूरत नहीं पड़ी क्योंकि मेरी दिन की शिफ्ट होती थी।

----------
गहराई की सच्चाई!
एक बार संता और बंता एक कोयले की खदान में नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाते हैं तो मैनेजर पहले बंता को बुलाता है और उसका इंटरव्यू लेता है।

मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले भी कभी खदान में काम किया है?

बंता: जी हाँ।

मैनेजर: अच्छा तो मुझे यह बताओ की उसकी गहराई कितनी थी?

बंता: जी 20 फुट।

बंता की बात सुन मैनेजर को गुस्सा आ जाता है तो वह उस से कहता है, "क्या बकवास कर रहे हो 20 फुट गहरी भी कोई खदान होती है, तुम झूठ बोल रहे हो इसीलिए मेरे कमरे से बहार निकल जाओ।"

मैनेजर की बात सुन बंता बहार आ जाता है और संता को अन्दर हुई सारी बात बताता है और कहता है, "अगर मैनेजर अन्दर तुमसे खदान की गहराई के बारे में पूछे तो ज्यादा से ज्यादा बताना।"

उसके बाद संता की बारी आती है तो मैनेजर फिर उस से वही सवाल पूछता है।

मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले कभी खदान में काम किया है?

संता: जी हाँ।

मैनेजर: अच्छा तो उस खदान की गहराई कितनी थी?

संता: जी 20,000 हज़ार फुट।

मैनेजर: बहुत बढ़िया तो एक बात और बताओ कि इतनी गहराई में काम करते वक्त तुम किस तरह की लाईटों का प्रयोग करते थे?

संता: जी मुझे कभी लाईटों की ज़रूरत नहीं पड़ी क्योंकि मेरी दिन की शिफ्ट होती थी।
----------
होशियारी के नुक्सान!
एक बार दो दोस्त गोरखपुर से दिल्ली जा रहे थे।

डिब्बे में भीड़ ज्यादा थी तो उन्हें सीट नहीं मिल रही थी तो सीट के लिए उन्हें शरारत सूझी।

उन्होंने अपने बैग से रबड़ का एक सांप निकाला और चुपके से डिब्बे में छोड़ दिया और चिल्लाने लगे।
सांप... सांप!

थोड़ी देर में डिब्बा खाली हो गया और उन्होंने जल्दी से बिस्तर जमाकर जगह रोक ली।

सुबह जब आंख खुली, तो पांच बजे थे और गाड़ी किसी स्टेशन पर खड़ी थी।

उन्होंने खिड़की से बाहर झांककर रेलवे के कर्मचारी से पूछा: यह कौन सा स्टेशन है?

जवाब मिला: गोरखपुर।

उन्होंने पूछा: क्या गाड़ी दिल्ली नहीं गई?

कर्मचारी बोला: गाड़ी तो दिल्ली गई, लेकिन इस डिब्बे में सांप निकलने के कारण इस डिब्बे को काट दिया गया।
----------


दयालु संता!
एक दिन संता ऑफिस जाने के लिए जब बस में चढ़ा तो कंडक्टर ने हँसते हुए पूछा, "कल रात आप ठीक-ठाक घर पहुँच गए थे? कहीं गिरे तो नहीं या रास्ता तो नहीं भूले थे घर का?"

संता (गुस्से से): क्यों, कल रात को मुझे क्या हुआ था?

कंडक्टर: कल रात आप नशे में टुन्न थे।

संता: तुम कैसे कह सकते हो कि कल रात मैं नशे में था। हमने तो आपस में कोई बात भी नहीं की थी।

कंडक्टर: जी, वो ऐसा है कि कल रात जब आप बस में बैठे हुए थे तब एक मैडम बस में चढ़ी थी और आपने उन्हें उठकर अपनी सीट पर बैठने के लिए कहा था।

संता (हैरानी से): तो क्या किसी महिला को सीट देना कोई गुनाह है?

कंडक्टर (हँसते हुए): गुनाह तो नहीं है पर जब आप ने उनको सीट के लिए पूछा उस समय बस तो पहले से ही खाली थी।
----------
संता की समझदारी!
एक बार संता गाड़ी में अपने दोस्त बंता के साथ पिकनिक पर जा रहा था। गाड़ी के सामने के काँच से बंता को कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था लेकिन संता सड़क के तमाम गड्ढे बचाता हुआ बड़ी सफाई से गाडी चला रहा था।

बंता ने हैरान होकर पूछा, "संता, सामने काँच से कुछ भी साफ़ नजर नहीं आ रहा। फिर भी गाड़ी इतनी परफेक्ट कैसे चला रहे हो?"

संता: क्या बताऊँ यार? अपनी भूलने की आदत के कारण अब तक मेरे 180 चश्मे गुम चुके हैं।

बंता: अरे संता मैं ड्राइविंग के बारे में पूछ रहा हूँ।

संता: वही तो बता रहा हूँ कि चश्मे बनवा बनवा कर मैं परेशान हो गया तब मैंने गाड़ी का काँच ही चश्मे के नंबर वाला बनवाकर गाड़ी में लगवा लिया।
----------
विदेशी भाषा का चक्कर!
एक दिन संता और बंता दोनों टैक्सी स्टैंड पर बैठे बातें कर रहे थे कि तभी एक विदेशी उनके पास पहुँचा और उनसे अंग्रेजी भाषा में कुछ पूछा। संता - बंता दोनों बेवकूफों की तरह उस विदेशी के चेहरे को देखते रहे।

विदेशी समझ गया कि दोनों को अंग्रेजी नहीं आती। अब उसने वही प्रश्न उनसे स्पेन की भाषा स्पेनिश में पूछा।

दोनों फिर बेवकूफों की तरह विदेशी का चेहरा देखते रहे।

तीसरी बार विदेशी ने वही प्रश्न उनसे रूस की भाषा रशियन में पूछा।

दोनों का वही हाल रहा।

चौथी बार विदेशी ने वही प्रश्न उनसे जर्मनी की भाषा जर्मन में पूछा।

दोनों फिर वैसे ही उसका चेहरा ताकते रहे।

आखिर तंग आकर विदेशी चला गया। उसके जाने के बाद बंता, संता से बोला, "यार संता, हम लोगों को भी अपनी भाषा के अलावा कोई दूसरी भाषा सीखनी चाहिए। हमारे काम आएगी।"

संता ने एक जोर का झापड़ बंता को लगाया और बोला, "साले, उसको चार चार आती थी, उसके कोई काम आई?"
----------
संता की होशियारी!
एक आदमी ने मोटर साइकिल पर बैठ कर सिनेमा हाल के सामने संता से एक सवाल पूछा।

आदमी: भाईसाहब, मोटर साइकिल का स्टैंड कहाँ है?

संता: भाईसाब, पहले आप अपना नाम बताइये?

आदमी: रमेश।

संता: आपके माता-पिता क्या करते हैं?

आदमी: क्यों? भाई साहब मैं लेट हो जाऊंगा और फिल्म शुरू हो जाएगी।

संता: तो जल्दी बताओ?

आदमी: मेरी माँ एक डॉक्टर हैं और मेरे पिता जी इंजीनियर हैं। अब बता दीजिये?

संता: आपके नाम कोई जमीन जायजाद है?

आदमी: हाँ, गांव में एक खेत मेरे नाम है? प्लीज़ भाई साहब अब बता दीजिये स्टैंड कहाँ है?

संता: आखिरी सवाल, तुम पढ़े लिखे हो?

आदमी: जी हाँ, मैं MBA कर रहा हूँ। अब बताइये जल्दी से।

संता: भाई साहब, देखिये आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि इतनी अच्छी है, आपके माता पिता दोनों उच्च शिक्षित हैं, आप खुद भी इतने पढ़े लिखे हैं पर मुझे अफ़सोस है कि आप इतनी सी बात नहीं जानते कि मोटर साइकिल का स्टैंड उसके नीचे लगा होता है। एक बड़ा और एक साइड वाला।
----------


संता का दर्द!
एक दिन बंता जब संता से मिलने गया तो उसने देखा कि संता बहुत परेशान है। उसने संता से उसकी परेशानी का कारण पूछा।

बंता: क्या हुआ बड़ा परेशान लग रहा है?

संता: हाँ यार थोड़ी तबियत ख़राब है।

बंता: क्या हो गया? डॉक्टर को दिखाया तुमने?

संता: थोड़ा दिल में दर्द हो रहा है। डॉक्टर मेहता को दिखाने जा रहा हूँ।

बंता: पर वो तो बच्चों के डॉक्टर हैं।

संता: हाँ पर इसका इलाज़ वही कर सकते हैं।

बंता: तू पागल हो गया है क्या? दिल का इलाज़ दिल का डॉक्टर करेगा। बच्चो का डॉक्टर नहीं।

संता: यार तुम नहीं समझेगा डॉक्टर मेहता ही मेरा इलाज़ कर सकेंगे।

बंता: वो कैसे?

संता: तुमने सुना नहीं 'दिल तो बच्चा है जी'।
----------
नींद ना आने का इलाज़!
एक दिन संता थका हारा डॉक्टर के पास आता है और डॉक्टर से कहता है डॉक्टर साहब मेरे पड़ोस में बहुत सारे कुत्ते है जो रात दिन भौंकते रहते है जिस कारण में एक घड़ी के लिए भी नहीं सो पाता।

डॉक्टर ने कहा इसमें कोई चिंता की बात नहीं है मैं तुम्हें कुछ नींद की गोलियां दे देता हूँ वे इतनी असरदार है कि तुम्हें पता ही नहीं चलेगा कि तुम्हारे पड़ोस में कोई कुत्ता है भी या नहीं। ये दवाइयाँ तुम ले जाओ और अपनी परेशानी दूर करो।

कुछ हफ्ते बाद संता वापस डॉक्टर के पास आया और पहले से ज्यादा परेशान लग रहा था और डॉक्टर से कहने लगा डॉक्टर साहब आपकी योजना ठीक नहीं थी अब तो मैं पहले से ज्यादा थक गया हूँ।

डॉक्टर मैं नहीं जानता कि ये कैसे हो गया पर जो दवाईयां दी थी वे नींद आने की सबसे बढ़िया गोलियां थी चलो फिर भी आज मैं तुम्हें उससे भी ज्यादा असरदार गोलियां देता हूँ।

संता: क्या ये सचमुच असर करेंगी पर मैं सारी रात कुतों को पकड़ने में लगा रहता हूँ और मुश्किल से अगर एक-आध को पकड़ भी लूँ तो उसके मुहं में गोली डालना बहुत मुश्किल हो जाता है।
----------
रिश्ते अलग बातें अलग!
एक आदमी की बहन मरी और फ़िर भाई मरा लेकिन वो बिलकुल भी नहीं रोया।

जब उसकी बीवी मरी तो वो फ़ूट-फ़ूट कर रोने लगा। लोगों को इस बात से बङी हैरत हुई।

अजीब आदमी है, माँ, बाप, भाई, बहन किसी के मरने पर एक आँसू तक नहीं निकला। अब जब बीवी मरी है तो कैसे बिलख-बिलख कर रो रहा है।

तब उस आदमी ने कहा, "मुझे गलत मत समझो भाईयो, जब बाप मरा तो बाप की उम्र वाले लोगों ने मुझे यह कहा कि चिंता न करो, हम तुम्हारे बाप के समान हैं।

माँ के मरने पर भी उस उम्र की औरतों ने ऐसा ही कहा। भाई के मरने पर और बहन के मरने पर भी ऐसा ही सबने बोला पर अब बीवी के मरने पर किसी एक भी औरत ने यह नहीं कहा 'चिंता न करो, मैं तुम्हारी बीवी के समान हूँ'।
----------
आदमी ही आदमी को समझता है
एक बार संता एक कपडे दुकान में गया और दुकानदार से बोला, "भाई साहब क्या आप औरतों के कपडे भी रखते हैं?"

दुकानदार: जी हाँ, कहिये।

संता: तो मुझे एक लेडीज सूट दिखाइये।

संता की बात सुन दुकानदार ने उसे बड़े गौर से देखा और बोला, "बीवी के लिए चाहिए या कोई अच्छा वाला दिखाऊ?"
----------


मछली पकड़ने का लाइसेंस!
बंता मछलियाँ पकड़ने में काफी माहिर था और बड़ी बड़ी मछलियाँ पकड़ने के लिए मशहूर था, एक दिन वो बड़ी सी मछली पकड़कर टोकरी में लेकर घर की तरफ आ रहा था तभी मत्स्य अधिकारी ने उसे रोका और पूछा क्या तुम्हारे पास मछली पकड़ने का लाइसेंस है!

बंता ने जवाब दिया लाइसेंस? कैसा लाइसेंस?

लाइसेंस की तो कोई जरुरत ही नहीं है ये तो मेरी पालतू मछली है!

पालतू मछली? मत्स्य अधिकारी ने पूछा!

बंता ने जवाब दिया जी हाँ सर 'पालतू' हर रात को मैं इसे इस झील में डाल देता हूँ और थोड़ी देर के बाद मैं एक सीटी बजाता हूँ और ये कूदकर झील के किनारे पर आ जाती हैं और टोकरी में डालकर घर ले जाता हूँ!

ये तो तुम मेरा सरेआम बेवकूफ बना रहे हो मछली ऐसा कर ही नहीं सकती!

बंता ने अधिकारी से कहा कि आप ये चाहते हैं कि मैं आपको ये सब करके दिखाऊँ!

मत्स्य अधिकारी ने उत्सुकता से कहा कि बिल्कुल जरुर देखना चाहूँगा!

बंता ने मछली को पानी में डुबो दिया और वहीँ खड़ा हो गया थोड़ी देर वहीँ रुकने के बाद मत्स्य अधिकारी ने बंता से कहा: फिर?

बंता: फिर क्या?

अधिकारी ने पूछा तो तुम अपनी मछली को वापिस नहीं बुला रहे हो!

बंता ने कहा: मछली?... कौन सी मछली?
----------
करा ली बेइज़्ज़ती!
संता ने बंता से पूछा, "तुम खाली पेट होने पर कितने केले खा सकते हो?"

बंता ने कुछ पल सोचकर कहा, "मैं 6 केले खा सकता हूँ।"

संता ने हँसते हुए जवाब दिया, "गलत जवाब दोस्त, पहला केला खा लेने के बाद तुम्हारा पेट खाली कहां रहेगा, इसलिए खाली पेट होने पर तुम केवल एक ही केला खा सकते हो।"

बंता झेंपते हुए घर पहुंचा और जाते ही प्रीतो से सवाल किया, "तुम खाली पेट होने पर कितने केले खा सकती हो?"

प्रीतो ने भी कुछ पल सोचकर कहा, "मैं 4 केले खा सकती हूँ।"

बंता ने निराश स्वर में कहा, "अगर 6 कहती तो एक मस्त चुटकुला सुनाता तुझे।"
----------
उदास क्यों हो?
संता और बंता कई दिनों बाद मिले संता कुछ उदास सा लग रहा था और आँखों में आंसू थे।

बंता ने पूछा, "अरे तुम तो ऐसे लग रहे हो जैसे तुम्हारा सुब कुछ लुट गया हो क्या बात है?"

संता ने कहा, "अरे क्या बताऊँ तीन हफ्ते पहले मेरे अंकल गुजर गए और मेरे लिए 50 लाख रूपए छोड़ गए।"

बंता: तो इसमें बुरी बात क्या है?

संता ने कहा: और सुनो दो हफ्ते पहले मेरा एक चचेरा भाई मर गया जिसे मैं जानता भी नहीं था वो मेरे लिए 20 लाख रूपए छोड़ गया।

बंता ने कहा: ये तो अच्छा हुआ।

बंता ने कहा: पिछले हफ्ते मेरे दादाजी नहीं रहे और वो मेरे लिए पूरा 1 करोड़ छोड़ गए।

बंता ने कहा: ये तो और भी अच्छी बात है पर तुम इतना उदास क्यों हो?

संता ने कहा: इस हफ्ते कोई भी नहीं मरा।
----------
संता की बेइतबारी!
एक बार संता और बंता, किसी बियर बार में बियर पीने गये। जब वह पीने लगे तो बंता बोला, "लगता है बाहर बारिश हो रही है। तुम ऐसा करो घर जाकर जल्दी से छतरी ले आओ।"

संता गुर्राया: मुझे पता है मेरे जाने पर तुम मेरी सारी बियर पी जाओगे।

बंता ने उसे यकीन दिलाया कि वो उसकी बियर नहीं पियेगा। उसके हिस्से की बियर ज्यों की त्यों रखी रहेगी।

संता यह सुनकर मान गया और छतरी लेने चला गया।

जब रात गहराने लगी पर संता छतरी लेकर नहीं लौटा तो बंता ने सोचा शायद संता घर पर ही रुक गया है और अब नहीं आएगा। यही सोच कर उसने संता का बियर वाला गिलास उठाया ही था कि बार के एक कोने की छोटी सी खिड़की से तेज आवाज आई, "अगर पीओगे तो मैं छतरी लेने नहीं जाऊंगा।"
----------


मैं सीख रहा हूँ!
एक बार एक गाँव में तीर-अंदाज़ी की प्रतियोगिता चल रही रही थी। 3 नकाबपोश आदमी उसमे भाग लेने के लिए आये।

पहले नकाबपोश ने तीर चलाया और तीरा लक्ष्य के ठीक बीचों-बीच जाकर लगा। आदमी ने अपना नक़ाब उतारा और बोला, "मैं रॉबिन हुड हूँ।"

लोगों ने खूब तलिया बजायी और उसका स्वागत किया।

फिर दूसरे नकाबपोश ने तीर चलाया तो तीर लक्ष्य के बीच लगे रॉबिन हुड के तीर को चीरता हुआ चला गया। उसने अपना नक़ाब उतार और बोला, "मैं विलियम टेल हूँ।"

अब तीसरे आदमी ने तीर चलाया तो तीर लक्ष्य से बहुत दूर जाकर गिरा। आदमी ने अपना नक़ाब उतारा तो संता था। सभी लोग उसे घूर-घूर कर देख रहे थे तो संता बोला, "माफ़ करना दोस्तो मैं सीख रहा हूँ।"
----------
अब किस लिए मारा!
एक आदमी पेपर पढ़ रहा था जब उसकी बीवी ने उसके सिर पर जोर से फ्राईंग पैन दे मारा!

"यह किस लिए मारा", उस आदमी ने पूछा?

बीवी ने जवाब दिया,"आज तुम्हारी पैंट की जेब से एक कागज का टूकड़ा मिला उस पर 'जेन्नी' लिखा हुआ था इसलिए।"

"अरे पिछले हफ्ते मैं रेस कोर्स गया था और जिस घोड़ी पर मैंने पैसे लगाए थे उसका नाम 'जेन्नी' था", आदमी ने सफाई दी।

उसकी बीवी ने उससे माफी मांगी और वह अपना काम करने रसोई के अंदर चली गई।

तीन दिन बाद वह आदमी घर में टी.वी. देख रहा था जब उसकी बीवी ने और एक बड़े फ्राईंग पैन से उसके सिर पर इतने जोर से की वह बेहोश ही हो गया।

जब उस आदमी को होश आया उसने पूछा,"अब यह किस लिए मारा?"

"आज दिन में तुम्हारी घोड़ी का फोन आया था तुम्हारे बारे में पूछ रही था इसलिए", उसकी बीवी ने जवाब दिया।
----------
संता पहली बार चंडीगढ़ में!
संता पहली बार चण्डीगढ़ गया, वह रॉक गार्डन देखने जाना चाहता था!

पर उसे पता नहीं था की वहां कैसे पहुंचा जा सकता है! तभी उसे पुलिस वाले की गाड़ी दिखी उसने पुलिस वाले से पूछा सर क्या आप मुझे बता सकते हैं की मैं रॉक गार्डन कैसे जा सकता हूँ?

पुलिस वाले ने कहा तुम इस बस स्टॉप पर 46 नम्बर की बस लेना वो सीधी तुम्हें वहीँ ले जाएगी!

उसने पुलिस वाले को धन्यवाद कहा और पुलिसवाला अपनी गाड़ी में आगे निकल गया, तीन घंटे बाद जब पुलिस वाला उसी जगह से वापिस आ रहा था तो उसने देखा संता अभी भी वहीँ पर बस का इंतजार कर रहा है!

पुलिस वाला अपनी गाड़ी से बाहर आया और संता से पूछने लगा क्या तुम अभी तक रॉक गार्डन नहीं गए?

मैंने तुम्हें कहा था कि यहाँ से 46 नंबर की बस ले लेना पर तुम अभी तक यहीं हो?

चिंता न करे सर 46 अब ज्यादा दूर नहीं है, ये अभी 43वीं बस थी जो चली गयी!
----------
प्यार चाईना का माल है!
संता का एक पड़ोसी चाइना का था, काफी टाइम से एक साथ रहने से आना-जाना हो गया उनका, पर बीमारी की वजह से शादी के एक साल बाद ही बेचारे चाइनीज की बीवी मर गयी।

संता अफसोस करने उसके पास गया, और उसके कंधे पर हाथ रखकर समझाते हुए बोला।

संता: कोई नही यार शुक्र कर एक साल चल गयी चाइनीज थी और कितना चलती।

----------

कार नई है या बीवी?
एक दिन संता और बंता घर के बाहर पार्क में बैठे थे कि इतने में वहाँ पर एक कार आकर रुकी जिसमे से एक आदमी उतरा है और अपने साथ बैठी हुई अपनी पत्नी के लिए दरवाज़ा खोला, उस आदमी को ऐसा करते देख बंता, संता से बोला, "यार लगता है यह आदमी अपनी बीवी से बेहद प्यार करता है?"

संता: अरे यार ऐसा कुछ नहीं है।

संता का जवाब सुन बंता ने हैरानी से उसकी तरफ देखा और बोला, "यार अगर ऐसा कुछ नहीं है तो उसने अपनी बीवी के लिए इतनी इज्ज़त से कार का दरवाज़ा क्यों खोला?"

संता: यार देख यदि आदमी अपनी बीवी के लिए खुद कार का दरवाजा खोले तो उससे दो बातें साफ हो जाती हैं।

बंता: कौन सी दो बातें?

संता: यही कि या तो उसकी कार नई है या फिर बीवी।
----------
चोरी पकड़ी गयी!
एक दिन संता ने अपनी भाभी को खूब मारा। उसके चिल्लाने की आवाज सुन कर पड़ोसी देखने आ गए और संता से पूछने लगे कि क्या बात हो गयी, इतना क्यों मार रहे हो अपनी भाभी को?

संता(गुस्से में): भाईसाहब ये हमारी पीठ पीछे छुप -छुप के रोज मेरे सभी दोस्तों से बाते करती है।

पडोसी: तुम्हे कैसे पता लगा?

संता: अरे मैं जब भी अपने किसी दोस्त से पूछता हूँ कि वो फ़ोन पर किस बात कर रहे हैं, वो यही कहता है 'तुम्हारी भाभी से'।
----------
जीवन के कुछ अनमोल वचन!
मुसीबत में अगर मदद मांगो तो सोच कर माँगना क्योंकि मुसीबत थोड़ी देर की होती है और एहसान जिंदगी भर का।

मशवरा तो खूब देते हो "खुश रहा करो" कभी कभी वजह भी दे दिया करो।

कल एक इंसान रोटी मांगकर ले गया और करोड़ों की दुआयें दे गया, पता ही नहीं चला कि गरीब वो था या मैं।

गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं।

मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए।

जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है।

बचपन भी कमाल का था खेलते खेलते चाहें छत पर सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी।

खोए हुए हम खुद हैं, और ढूंढते भगवान को हैं।

अहंकार दिखा के किसी रिश्ते को तोड़ने से अच्छा है कि माफ़ी मांगकर वो रिश्ता निभाया जाये।

जिन्दगी तेरी भी अजब परिभाषा है, सँवर गई तो जन्नत, नहीं तो सिर्फ तमाशा है।

खुशीयाँ तकदीर में होनी चाहिये, तस्वीर में तो हर कोई मुस्कुराता है।

ज़िंदगी भी वीडियो गेम सी हो गयी है, एक लैवल क्रॉस करो तो अगला लैवल और मुश्किल आ जाता है।

इतनी चाहत तो लाखो रु. पाने की भी नही होती, जितनी बचपन की तस्वीर देखकर बचपन में जाने की होती है।

हमेशा छोटी छोटी गलतियों से बचने की कोशिश किया करो, क्योंकि इंसान पहाड़ो से नहीं पत्थरों से ठोकर खाता है।
----------
जोर से मार!
एक लोहार काफी बूढ़ा हो गया था उसने सोचा कि उसे अपने साथ किसी आदमी को काम पर रख लेना चाहिए।

तब उसने संता को बुलाया और अपने साथ काम पर रख लिया संता उससे हर काम से पहले उसके बारे में पूछ लेता।

बूढ़ा काफी चिढ़चिढ़ा और सख्त स्वभाव का था उसने संता को कहा कि वह ज्यादा सवाल मत पूछा करे जो उसे कहा जाये उसे चुपचाप किया करे।

एक दिन लोहार ने जलती हुई भट्टी से लोहा निकाला और और सन्दान पर रख दिया उसने हथौड़ा उठाया और संता को पकड़ाया और कहा जब मैं अपना सिर हिलाऊँ तो इसे पूरे जोर से मार देना।

और बस तब से शहर के लोग किसी नए लोहार की तलाश में है।
----------


रास्ता साफ़ कर देना!
संता की घास काटने वाली मशीन ख़राब हो गयी उसकी बीवी ने उसे घर में ही मशीन ठीक करने की सलाह दी पर वह ठीक तो हुई नही पूरी तरह से खराब हो गयी फिर कहीं जाकर उसे रिपेयर करने के लिए ले गया!

काफी दिन हो गए थे पर मशीन ठीक नही हुई घर के सामने लोन पर घास भी काफी बड़ी हो गयी थी उसकी बीवी ज्यादातर घर पर रहती तो उसे वह घास बहुत बुरी लगती!

एक दिन जब संता घर पहुंचा तो देखा कि उसकी बीवी एक बहुत ही छोटी कैंची से घास काट रही थी वह थोड़ी देर तक गौर से अपनी पत्नी को देखता रहा फिर घर के अन्दर गया और कुछ ही क्षणों में बाहर आ गया और उसके हाथ में टूथब्रुश था उसने उसे अपनी पत्नी की तरफ फैंका!

जब तुम घास काटकर ख़त्म कर दो तुम इससे रास्ता भी साफ़ कर देना!
----------
संता का जवाब!
पप्पू की शैतानियों से तंग आ कर संता और जीतो ने फैंसला लिया कि उसे हॉस्टल में भेज दिया जाये। इसलिए पप्पू का सामान बाँध कर उसे हॉस्टल छोड़ आये।

अभी हॉस्टल में पप्पू का केवल एक हफ्ता भी नहीं गुज़रा था कि उसके हॉस्टल से उसके वार्डन का संता को फ़ोन आ गया और वार्डन बोला,"जी क्या मैं पप्पू की पिता जी से बात कर सकता हूँ?"

संता: जी हाँ कहिये मैं बोल रहा हूँ।

वार्डन: जी आपके बेटे पप्पू ने अपनी शैतानियों से सारे हॉस्टल की नाक में दम कर रखा है।

वार्डन की बात सुन कर संता तुरंत बोला, "अरे जी वाह आपने तो एक हफ्ते में ही फ़ोन कर दिया, हम भी तो इतने सालों से उसे पाल रहे हैं हम ने तो कभी किसी से शिकायत नहीं की।"
----------
कहीं शुरू न हो जाये!
एक बार संता शाम को घर आया, टी. वी. चालू किया और सोफे पर बैठते ही जीतो से बोला, "इससे पहले की शुरू हो जाये जल्दी से मेरे लिए चाय लेकर आओ।"

जीतो को कुछ अजीब लगा पर वो चाय बना कर ले आई।

चाय पीते-पीते संता दोबारा जीतो से बोला, "इससे पहले शुरू हो जाये, मेरे लिए कुछ खाने के लिए भी लेकर आओ।"

जीतो को थोड़ा गुस्सा आया पर उसने संता को कुछ खाने के लिए भी दे दिया और वापस अपने काम में लग गयी।

थोड़ी देर बाद संता दोबारा बोला, "इससे पहले की शुरू हो जाये, यह बर्तन उठाओ यहाँ से।"

जीतो का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुँच गया और संता पर चिल्लाते हुए बोली, "मैं तुम्हारी कोई नौकरानी नहीं हूँ, जो मुझ पर इस तरह अपना हुकुम चला रहे हो। जब से आओ कुछ न कुछ हुकुम किये जा रहे हो जैसे यहाँ कोई तुम्हारा गुलाम है।"

संता उठा और गहरी सांस लेते हुए बोला, "लो शुरू हो गया।"
----------
कहीं शुरू न हो जाये!
एक बार संता शाम को घर आया, टी. वी. चालू किया और सोफे पर बैठते ही जीतो से बोला, "इससे पहले की शुरू हो जाये जल्दी से मेरे लिए चाय लेकर आओ।"

जीतो को कुछ अजीब लगा पर वो चाय बना कर ले आई।

चाय पीते-पीते संता दोबारा जीतो से बोला, "इससे पहले शुरू हो जाये, मेरे लिए कुछ खाने के लिए भी लेकर आओ।"

जीतो को थोड़ा गुस्सा आया पर उसने संता को कुछ खाने के लिए भी दे दिया और वापस अपने काम में लग गयी।

थोड़ी देर बाद संता दोबारा बोला, "इससे पहले की शुरू हो जाये, यह बर्तन उठाओ यहाँ से।"

जीतो का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुँच गया और संता पर चिल्लाते हुए बोली, "मैं तुम्हारी कोई नौकरानी नहीं हूँ, जो मुझ पर इस तरह अपना हुकुम चला रहे हो। जब से आओ कुछ न कुछ हुकुम किये जा रहे हो जैसे यहाँ कोई तुम्हारा गुलाम है।"

संता उठा और गहरी सांस लेते हुए बोला, "लो शुरू हो गया।"
----------


किस्मत वाली गाडी!
एक जगह पर गाड़ी कि नीलामी हो रही थी।

10 लाख।

15 लाख।

20 लाख।

25 लाख।

तभी वहाँ से संता गुजरा उसने बंता से कहा, "अरे यार ये गाड़ी देख खटारा जैसी लग रही है ये सब ज्यादा कीमत लगा रहें हैं कि नहीं, ऐसी भी क्या खूबी है इस गाड़ी में?"

बंता बोला,"मैंने सुना है जो इस गाड़ी को खरीदता है उसकी पत्नी का एक्सीडेंट हो जाता है।"

संता बोला,"मेरा 50 लाख।"
----------
संता की शानपट्टी!
संता बाज़ार में दरी बेचने वाली दुकान पर गया और साथ पप्पू को भी ले गया।

संता: मुझे एक बढ़िया दरी चाहिए।

दुकानदार: जी ज़रूर।

दुकानदार ने तरह-तरह की दरियां दिखाई।

अंत में संता को एक दरी पसंद आ गयी।

संता: मुझे यह वाली पसंद है, मैं इसे अभी अपने साथ ले जाता हूँ। यदि यह कमरे में ठीक-ठीक आ गयी तो रख लूंगा नहीं तो वापिस भेज दूंगा।

दुकानदार ने विश्वास कर लिया और बोला: अगर आपने वापिस करनी है तो कल शाम तक वापिस भेज दीजियेगा।

इतने में पप्पू बोला: कोई दिक्कत नहीं अंकल, हमारे यहाँ पार्टी तो आज रात को है।
----------
गौर करने के बाद!
संता एक सड़क पर चला हुआ था तभी उसकी नजर सामने दीवार पर लिखे हुए शब्दों पर पड़ी जब वह गौर से पढ़ने लगा दीवार पर लिखा था:

पढ़ने वाला गधा!

संता ने थोड़ी देर पहले कुछ सोचा फिर वहां से चला गया एक घंटे बाद फिर लौटकर आया उसने दीवार पर लिखे हुए को मिटा दिया और उसके स्थान पर लिखा:

लिखने वाला गधा!

----------
मुफ्त में लीजिये!
एक बार संता चेन्नई गया और वहां अपने तमिल दोस्त के घर जाकर ठहरा।

अगले दिन वह बाजार में खरीददारी के लिए अकेले ही चल पड़ा उसके मित्र ने कहा कि,"जब तुम खरीददारी करोगे तो जो भी सामान खरीदोगे उसकी कीमत जितनी दुकानदार कहेगा तुम उसे कहना कि इसका आधा दूंगा।"

संता बाजार में पहुँच गया उसने एक स्टीरियो कि कीमत पूछी तो दुकानवाले ने कहा, "2000 रूपए।"

संता ने कहा,"मैं 1000 रूपए दूंगा।"

दुकान वाले ने कहा, "साहब 1800 रूपए में दे सकता हूँ"।

इस पर संता ने कहा, "900 रूपए।"

दुकानदार ने कहा, "साहब बस अब लास्ट रेट 1500 रूपए लगेगा।"

संता ने कहा,"750 रूपए।"

इस पर दुकानदार ने चिढ़ कर कहा, "मैं आपको ये स्टीरियो मुफ्त में ही दे देता हूँ।"

संता ने कहा, "मैं इसे तभी मुफ्त में लूँगा अगर तुम इसके साथ और एक स्टीरियो दोगे।"
----------


संता की किस्मत!
एक रात को संता अपने बेटे को गुड नाईट बोलने के लिए गया उसने देखा उसका लड़का बहुत घबराया हुआ है, उसने कोई बुरा सपना देखा था जिससे वो काफी घबरा गया था, संता ने उसे उठाया और पूछा की क्या वो ठीक है? बच्चे ने कहा की उसे बहुत डर लग रहा है, क्योंकि उसने सपने में देखा की उसकी आंटी मर गयी है, संता ने उसे विश्वास दिलाया की उसकी आंटी बिलकुल ठीक है, और आराम से सो जाएँ!

अगले दिन पता चला की आंटी मर गयी! कुछ दिनों के बाद संता फिर से अपने बेटे को गुड नाईट बोलने के लिए गया, उसने देखा उसका बेटा फिर से घबराया हुआ था! संता ने फिर से अपने बेटे को जगाया और पूछा की सब कुछ ठीक है, बच्चे ने उस वक़्त कहा की उसने सपने में देखा की उसकी दादी मर गयी हैं, संता ने फिर से बच्चे को बताया की दादीजी ठीक है, आराम से सो जाओ!

अगले दिन सच में ही दादी मर गयी! संता एक हफ्ते के बाद फिर से बेटे को गुडनाईट बोलने के लिए गया तो देखा की बच्चा बहुत डरा हुआ है, संता ने पूछा क्या हुआ तो बच्चे ने कहा मैंने सपने में देखा की डैडी मर गए है,संता ने फिर से विश्वास दिलाया की वो ठीक है और उसे आराम से सोने के लिए कहा!

संता अपने बिस्तर पर गया, लेकिन उसे नींद नहीं आयी वो बहुत घबरा गया था, अगले दिन संता अपने आप को बचाने लगा उसे पूरा विश्वास था की वो मर जाएगा, ऑफिस जाते हुए उसने गाड़ी बहुत सावधानी से चलायी,वो, सारे काम बड़ी सावधानी से कर रहा था डर के मारे उसने लंच भी नहीं किया, कहीं पेट ख़राब होने से वो मर न जाये, उसने दिन भर न कुछ खाया न पिया उसे डर था वो किसी तरह भी मर सकता है, वो जरा सा भी शोर सुनकर डर जाता टेबल के नीचे छिप जाता पूरा दिन वो ऐसे ही डरता रहा!

शाम को जब वापिस आया तो दरवाजे पर उसकी बीवी जीतो खड़ी थी, उसने आते ही कहा, मैं तुम्हें बता नहीं सकता कि आज का दिन मेरे लिए कितना बुरा था!

जीतो ने जवाब दिया, तुम्हें लगता है तुम्हारा दिन बुरा था? या मेरा? तुम्हें पता है, आज सुबह यहाँ पहली सीढ़ी से फिसल कर दूधवाला मर गया!
----------
बड़ी स्क्रीन वाला फ़ोन!
एक बार संता एक मोबाइल फोन की दुकान पर गया और दुकानदार से बोला, " मुझे नोकिया का बड़ी स्क्रीन वाला फोन दिखाओ।"

संता की बात सुन दुकानदार ने उसे एक बड़ी स्क्रीन वाला नोकिया फ़ोन दिखया, संता ने वह फ़ोन हाथ में उठाया उसे ऑन किया और फिर उसे ऑफ करने के बाद उसे कुछ देर देख कर रख दिया और दुकानदार से बोला, " इससे भी बड़ी स्क्रीन वाला।"

दुकानदार ने एक और उससे भी बड़ी स्क्रीन वाला फ़ोन उसे दिखाया, संता ने वह फ़ोन हाथ में उठाया उसे ऑन किया और फिर उसे ऑफ करने के बाद उसे कुछ देर देख कर रख दिया, और दुकानदार से बोला, " इस से भी बड़ी स्क्रीन वाला।"

संता: अरे भाई तुम्हारी समझ नहीं आता क्या मैंने कहा बड़ी स्क्रीन वाला नोकिया फ़ोन दिखाओ।

इस बार दुकानदार ने उसे सबसे बड़ी स्क्रीन वाला नोकिया फ़ोन दिखाया तो संता ने फिर वैसा ही किया और दुकानदार से बोला," और बड़ी स्क्रीन वाला।"

दुकानदार: भाई साहब पहली बात तो यह की इससे बड़ी स्क्रीन वाला नोकिया का कोई फ़ोन आता नहीं है, और दूसरी बात यह की क्या आप मुझे बताएँगे कि इससे बड़ी स्क्रीन वाला फ़ोन आपने करना क्या है?

संता: कुछ नहीं यार बस मैं यह देखना चाहता हूँ की जब भी मैं फोन ऑन करता हूँ तो वो दो लोग कौन हैं जो इसके अन्दर हाथ मिलाते हैं।
----------
दयालु संता!
एक दिन संता ऑफिस जाने के लिए जब बस में चढ़ा तो कंडक्टर ने हँसते हुए पूछा, "कल रात आप ठीक-ठाक घर पहुँच गए थे? कहीं गिरे तो नहीं या रास्ता तो नहीं भूले थे घर का?"

संता (गुस्से से): क्यों, कल रात को मुझे क्या हुआ था?

कंडक्टर: कल रात आप नशे में टुन्न थे।

संता: तुम कैसे कह सकते हो कि कल रात मैं नशे में था। हमने तो आपस में कोई बात भी नहीं की थी।

कंडक्टर: जी, वो ऐसा है कि कल रात जब आप बस में बैठे हुए थे तब एक मैडम बस में चढ़ी थी और आपने उन्हें उठकर अपनी सीट पर बैठने के लिए कहा था।

संता (हैरानी से): तो क्या किसी महिला को सीट देना कोई गुनाह है?

कंडक्टर (हँसते हुए): गुनाह तो नहीं है पर जब आप ने उनको सीट के लिए पूछा उस समय बस तो पहले से ही खाली थी।
----------
मुझसे शादी करोगी?
एक बार एक लड़का, लड़की से बोला, "तुम मुझसे शादी कर लो।"

लड़की: तुम्‍हारे पास फ्लैट है?

लड़का: नहीं।

लड़की: क्‍या तुम्‍हारे पास बीएमडब्‍ल्‍यू कार है?

लड़का: नहीं।

लड़की: तुम्‍हारी तनख्वाह कितनी है?

लड़का: कुछ भी नहीं।

लड़की: जब तुम्‍हारे पास कुछ भी नहीं है, तो क्या मेरा दिमाग खराब है जो मैं तुमसे शादी करूं?

लड़का: मेरे पास एक बड़ा बंगला है, दो फेरारी और दो पोर्श कारें हैं तो मैं बीएमडब्‍ल्‍यू क्‍यों खरीदूं और मैं खुद पांच फैक्टरियों का मालिक हूँ तो मुझे तनख्वाह की क्‍या जरूरत है।

लड़की: जानू तो फिर मैं अभी अपने घर जाऊं या तुम्हारे साथ ही चलूँ।
----------



संता और उसके दोस्त!
एक बार संता और बंता अपने दोस्तों मोन्टी और जग्गी के साथ घुमने चले गए, एक जगह उनकी गाड़ी घने जंगलों में से होकर गुजर रही थी तभी उन्हें डाकुओं ने उन पर हमला कर लिया उन्होंने संता और बंता को गाड़ी से बाहर निकाला और उनकी गाड़ी को बम से उड़ा दिया और संता, बंता और उसके दोस्तों को जंगल के बीच में ले आये जहाँ उनका सरदार रहता था!

उनका सरदार चुटकुले सुनने का बड़ा शौक़ीन था, तब उसने एक शर्त रखी कि जो उसे ऐसा चुटकुला सुनाएगा, जिसको सुनकर सभी हँसे तो उसे बिना किसी हानि पहुंचाए जिन्दा छोड़ दिया जाएगा अगर ऐसा नहीं हुआ, अगर एक भी आदमी नहीं हंसा तो उस चुटकुले सुनाने वाले को गोली से उड़ाकर मार दिया जायेगा!

सबसे पहले बंता ने एक चुटकुला सुनाया एक बार ... और जब उसने चुटकुला पूरा सुना दिया, तो संता को छोड़कर सभी जोर जोर से हंसने लगे तो शर्त के अनुसार सरदार ने बेचारे बंता को गोली से उड़ा दिया!

अब मोन्टी कि बारी थी उसने भी एक जोरदार चुटकुला सुनाया फिर से सभी संता को छोड़ कर सरदार के साथ जोर-जोर से हंसने लगे सरदार ने संता पर गोली चला दी!

उसके बाद जग्गी कि बारी आयी जैसे ही उसने चुटकुला सुनाना शुरू किया तो, संता जोर-जोर से हंसने लगा सभी लोग हैरान हो गए कि ये पागलों कि तरह क्यों हंसने लगा?

सरदार उससे पूछने लगा, तुम बिना चुटकुला सुने ही क्यों हंसने लगे?

संता ने हँसते और लोट-पोट होते हुए कहा कि बंता ने कितना मस्त चुटकुला सुनाया था!
----------
मैं हमेशा प्यार करुँगी!
संता एक दिन अपनी पत्नी के कमरे में आया और बड़े प्यार से कहने लगा डार्लिंग! अगर में शरीर से विकृत हो जाऊं तो क्या तब भी तुम मुझे प्यार करोगी?

उसकी बीवी ने बहुत प्यार से कहा डार्लिंग! मैं हमेशा तुम्हें प्यार करुँगी और अपने नाखूनों को चमकाने लगी!

संता ने घबराहट के साथ कहा अगर में अपंग हो जाऊं और तुम्हें प्यार भी न कर पाऊँ तो भी क्या तुम मुझे प्यार करोगी?

उसकी पत्नी ने कहा तुम चिंता क्यों करते हो, मैं हमेशा तुम्हें प्यार करुँगी और फिर से नाख़ून चमकाने लगी!

संता ने कहा अगर मैं अपनी जॉब और वाइस प्रेसीडेंट का पद भी गवा दूँ और मेरा वेतन भी 2 लाख से घटकर 40-50 हजार हो जाये तब भी क्या तुम मुझसे प्यार करोगी?

उसकी पत्नी ने उसकी तरफ बहुत ही गुस्से के साथ देखा और कहा मैं तुम्हें हमेशा प्यार करुँगी.......

....उसकी पत्नी ने फिर से उसे आश्वासन दिया .....पर एक बात और ...मैं हमेशा तुम्हें बहुत याद करुँगी!
----------
संता की बेइतबारी!
एक बार संता और बंता, किसी बियर बार में बियर पीने गये। जब वह पीने लगे तो बंता बोला, "लगता है बाहर बारिश हो रही है। तुम ऐसा करो घर जाकर जल्दी से छतरी ले आओ।"

संता गुर्राया: मुझे पता है मेरे जाने पर तुम मेरी सारी बियर पी जाओगे।

बंता ने उसे यकीन दिलाया कि वो उसकी बियर नहीं पियेगा। उसके हिस्से की बियर ज्यों की त्यों रखी रहेगी।

संता यह सुनकर मान गया और छतरी लेने चला गया।

जब रात गहराने लगी पर संता छतरी लेकर नहीं लौटा तो बंता ने सोचा शायद संता घर पर ही रुक गया है और अब नहीं आएगा। यही सोच कर उसने संता का बियर वाला गिलास उठाया ही था कि बार के एक कोने की छोटी सी खिड़की से तेज आवाज आई, "अगर पीओगे तो मैं छतरी लेने नहीं जाऊंगा।"
----------
झगड़ा खत्म!
संता (बंता से): और सुना यार, बीवी से झगड़ा खत्म हुआ या नही?

बंता: अबे घुटनों पर चल कर आयी थी मेरे पास, घुटनों पर।

संता: क्या बात कर रहा है, सच में..

बंता: और नहीं तो क्या।

संता: फिर क्या बोली?

बंता: बोली बेड के नीचे से बाहर आ जाओ, पक्का अब नही मारुंगी।
----------


काश देर ना होती!
एक बार एक औरतो से भरी बस का बहुत ही बुरी तरह से एक्सीडेंट हो गया, और उसमे सवार सभी औरतें मर गयी।

यह खबर सुन कर उन सभी औरतों के पति घटनास्थल पर पहुंचे और बड़ी जोर जोर से रोने लगे।

यह सब देख संता जोकि उन आदमियों के साथ घटनास्थल पर गया था वह भी रोने लगा।

परन्तु कुछ देर बाद जब वे सभी आदमी रो कर चुप हो गए तो संता फिर भी रोता रहा, यह देख कर एक आदमी संता के पास आया और उससे बोला," क्या हुआ भाई क्या तुम्हारी पत्नी भी इस एक्सीडेंट में मर गयी है क्या?"

संता: नहीं?

आदमी: तो फिर तुम क्यों इतनी जोर-जोर से रो रहे हो?

संता: क्योंकि मेरी बीवी की यही बस बस छूट गयी थी।
----------
जिन्न भी हर काम नहीं कर सकता!
एक बार संता को रास्ते में एक चिराग मिला तो उसने सोचा कि, "क्यों ना चिराग रगड़ कर देखूं शायद इसमें से कोई जिन्न ही निकल आये"।

यह सोच कर संता ने चिराग रगडा, तो उसमे से धुंए के साथ एक जिन्न निकल कर आया और संता से बोला।

जिन्न: क्या हुकुम है मेरे आका?

संता: मेरे बैंक खाते में 100 करोड़ रूपए जमा करा दो।

जिन्न: यह तो थोडा मुश्किल काम है आका कोई और हुकुम करें।

संता: तो ठीक है मेरे घर से लेकर अमेरिका तक सीधी सड़क बना दो।

जिन्न: आका यह काम भी थोडा नामुमकिन सा है कोई और आदेश करें?

जिन्न की बात सुन कर संता ने ठंडी सी आह भरते हुए कहा, "अच्छा चलो कम से कम मेरी बीवी को थोड़ी सी अक्ल देकर समझदार तो बना दो"।

संता की बात सुन कर जिन्न तपाक से बोला, "आका सड़क सिंगल लेन बनानी है या डबल लेन"?
----------
हर जगह भाषण ठीक नहीं!
संता सुहाग रात अपनी पत्नी को बड़े प्यार से समझा रहा था।

संता: सबसे प्यार से रहना, सबकी इज्ज़त करना, उनका विश्वास जीतना, उनका ध्यान रखना और हमेशा सच बोलना।

संता की बात सुन दुल्हन फ़टाफ़ट बिस्तर से उठी और कमरे का दरवाज़ा खोल कर चिल्ला कर बोली, "सब फ़टाफ़ट अन्दर आ जाओ यहाँ बाबा जी का सत्संग हो रहा है।"
----------
क्यों रो रही हो
जब संता घर पहुँच तो उसकी बीवी जीतो रो रही थी।

संता: डार्लिंग क्यों रो रही हो।

जीतो: आपकी माँ में मेरा अपमान किया है।

संता: अरे ऐसा कैसे हो सकता है माँ तो कब से गाँव वाले मकान में रह रही है वो तुम्हारा अपमान कैसे कर सकती है?

जीतो: आज सुबह ही एक चिट्टी तुम्हारे नाम आयी तो मैं उसे पढ़ने के लिए काफी उत्सुक हो गयी और चिट्टी के अंत में लिखा था:

डियर जीतो, जब तुम पढ़कर इस चिट्टी को ख़त्म कर दो तो इसे मेरे बेटे को देना मत भूलना।

----------

जाकर खा लो!
मुर्गियों के फार्म में एक बार निरीक्षण के लिए इंस्पेक्टर आया।

इंस्पेक्टर: तुम मुर्गियों को क्या खिलाते हो?

पहला मालिक: बाजरा।

इंस्पेक्टर: खराब खाना, इसे गिरफ्तार कर लो।

दूसरा: चावल।

इंस्पेक्टर: गलत खाना, इसे भी गिरफ्तार कर लो।

अब संता की बारी आई।

संता डरते-डरते बोला, "हम तो जी मुर्गियों को 5-5 रुपए दे देते हैं कि जो तुम्हारी मर्जी है जाकर खा लो।"
----------
वो कौन थी?
एक दिन पप्पू अपने पिता संता के साथ बाज़ार में घूम रहा था कि तभी अचानक सामने से आती एक लड़की पप्पू को मुस्कुराते हुए हेल्लो बोली और चली गयी।

यह देख संता ने पप्पू से पूछा," कौन थी वो?"

पप्पू घबराते हुए, "जी वो मेरी गर्लफ्रेंड थी।"

अगले दिन फिर जब पप्पू संता के साथ घूम रहा था तो एक दूसरी लड़की उसे मुस्कुराते हुए हेल्लो बोली।

यह देख संता ने फिर पप्पू को घूरा और पूछा," अब यह कौन थी ?"

पप्पू मुस्कुराते हुए, " रिश्ता वही, आईटम नयी।"
----------
घरवाली-बाहरवाली!
एक बार संता अपनी पत्नी को लेकर शूपिंग मॉल में घूम रहा था की तभी अचानक पास से गुज़रती एक महिला ने उससे हेल्लो कहा।

यह देख संता की पत्नी उस से चिड़ते हुए ,बोली "कौन थी वो मनहूस डायन?"

संता: भगवान् के लिए चुप कर जा और मुझे कुछ सोचने दे, क्योंकि कल यही सवाल वो भी मुझसे पूछेगी।
----------
बंता का उधार!
संता और बंता एक बैंक में नौकरी करते थे एक दिन उस बैंक में बैंक लूटने वाले घुस गए, उन्होंने पूरा बैंक लुट लिया और फिर सभी कर्मचारियों को दीवार के साथ खड़े होने को कहा, फिर उनसे उनके पर्स घड़ियाँ और कीमती चीजें छिनने लगे।

संता बंता भी उसी लाइन में खड़े थे तभी संता ने बंता के हाथों में कुछ पकड़ाया, बंता ने फुसफुसाते पूछ लिया कि,"ये क्या है?"

तो संता ने जवाब दिया कि,"वो 1000 रूपए है जो मैंने तुमसे उधार लिए थे।"
----------


संता का रिश्ता!
संता अपने लिए लड़की देखने गया।

लड़की के बाप ने संता को एकांत में लड़की से बात करने के लिए भेज दिया।

संता की समझ में नहीं आया कि क्या बात करे तो बड़ी हिम्मत जुटाकर उसने पूछा, "बहनजी, आप कितने भाई-बहन हो"?

लड़की ने ठंडी सांस भर कर जवाब दिया, "अभी तक तो दो ही थे मगर अब तीन हो गए"।
----------
ये पहली बार है!
एक कस्बे में एक बार एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें उस कस्बे के सबसे सुखी व खुशहाल शादीशुदा जोड़े को चुना जाना था!

संता और उसकी पत्नी को सबसे खुशहाल जोड़े के रूप में चुना गया अगले दिन एक स्थानीय समाचारपत्र का संवाददाता उनका साक्षात्कार लेने उनके घर जा पहुंचा!

दरअसल संता और उसकी पत्नी अपने शांतिपूर्ण और सुखमय विवाहित जीवन के लिये पूरे कस्बे में प्रसिद्द हो चुके थे उनके बारे में यह कहा जाता था कि उनके बीच में आज तक कभी कोई झगड़ा किसी प्रकार की कोई तकरार तक नही हुई इसी बात से प्रभावित होकर वह संवाददाता उन दोनों का साक्षात्कार लेने उनके घर पहुंचा!

सवांददाता ने जब उनसे पूछा की क्या ये सच है आप लोगों में कभी कोई तकरार नही हुई तो संता ने बताया जब हमारी शादी हुई तो उसके फ़ौरन बाद हमलोग हनीमून मनाने के लिये कश्मीर गये हुये थे!

वहां हम लोगों ने बहुत मजे किये बर्फ में घूमें, घुड़सवारी की, घुड़सवारी करते हुए मेरा घोड़ा तो ठीक था पर जिस घोड़े पर मेरी पत्नी सवार थी वह जरा सा उदण्ड था उसने दौड़ते दौड़ते अचानक मेरी पत्नी को नीचे गिरा दिया!

पत्नी ने घोड़े की पीठ पर हाथ फेरते हुये कहा यह पहली बार है और फिर उसी घोड़े पर सवार हो गई थोड़ी दूर चलने के बाद घोड़े ने फिर उसे नीचे गिरा दिया!

पत्नी ने इस बार कहा यह दूसरी बार है और फिर उसी घोड़े पर सवार हो गई!

तीसरी बार जब घोड़े ने उसे नीचे गिराया तो मेरी पत्नी ने घोड़े से कुछ नहीं कहा, बस अपने पर्स से पिस्तौल निकाली और घोड़े को गोली मार दी!

मैं अपनी पत्नी पर चिल्लाया ये तुमने क्या किया तुमने एक बेजुबान जानवर को मार दिया क्या तुम पागल हो गई हो?

पत्नी ने मेरी तरफ देखा और कहा ......ये पहली बार है!

और बस, तभी से हमारी जिंदगी सुख और शान्ति से चल रही है!
----------
सी. बी. आई की भर्ती!
सी. बी. आई ने तीन लोगों को इंटरव्यू के लिए बुलाया उन्होंने उन्हें एक एक कर इंटरव्यू के लिए बुलाया! इंटरव्यू लेने वाले ने पहले आदमी से पूछा: क्या तुम अपनी पत्नी से प्यार करते हो?

जी हाँ सर करता हूँ!

क्या तुम अपने देश से प्यार करते हो?

जी हाँ सर!

तुम ज्यादा प्यार किससे करते हो अपने देश से या अपनी पत्नी से?

अपने देश से सर!

ठीक है, ये लो बंदूक अपनी पत्नी को अंदर बुलाओ दूसरे कमरे में ले जाकर उसे मार दो!

वो आदमी अपनी पत्नी को लेकर अंदर गया, पांच मिनट तक सब कुछ शांत था फिर वह बाहर आया उसकी टाई खुली थी, और वो पसीने से भीगा था उसने बंदूक नीचे रखी और बाहर चला गया!

दूसरा आदमी अंदर आया और बैठ गया, इंटरव्यू लेने वाले ने उससे भी वही प्रश्न पूछे?

उसका भी वही जवाब था इंटरव्यू लेने वाले ने उसे बंदूक दी और कहा, कि अपनी पत्नी को मार दो! उस आदमी ने वो बंदूक वहीँ नीचे रख दी और कहा मैं ये नहीं कर सकता!

तीसरा आदमी संता अंदर आया उससे भी वही पूछा,इंटरव्यू लेने वाले ने उसे बंदूक दी और कहा, कि अपनी पत्नी को मार दो!

संता अपनी पत्नी को लेकर कमरे में गया धम, धम, धम, धम की लगातार चार पांच आवाजें हुई और फिर सब शांत हो गया संता बाहर आया उसकी टाई खुल गयी थी उसने बंदूक को टेबल पर रखा!

इंटरव्यू लेने वाले ने पूछा क्या हुआ? आप ने जो बंदूक मुझे दी थी उसमें खाली कारतूस थे और मैंने अपनी पत्नी को गला घोंटकर मार दिया!
----------
सबसे मुश्किल काम!
एक बार संता और बंता होटल में चाय पी रहे होते हैं।

चाय पीते-पीते बंता के दिमाग में एक सवाल आता है तो वह संता से पूछता है, "यार संता एक बात बता की सरकार ने वोटिंग करने के लिए 18 साल के होने का कानून बनाया है तो फिर शादी करने की उम्र 21 साल क्यों?

संता: यार दरअसल बात यह है कि सरकार को भी पता है कि देश संभालना आसान है लेकिन बीवी संभालना नहीं।

----------

10 लाख रूपए!
एक बैंक बिल्कुल जेल के सामने था एक दिन बैंक के सेफ का लॉक नही खुल रहा था बैंक वालों ने हर तरह कोशिश की मैकनिक बुलाये पर फिर भी वे सेफ का लॉक नही खोल पाए।

तब बैंक मैनेजर ने जेल में जाकर कैदियों से मदद मांगी एक कैदी सेफ का लॉक खोलने के लिए तैयार हो गया।

उसे पुलिस सुरक्षा में बाहर लाया गया और उसने थोड़ी ही देर में बिना किसी तोड़फोड़ के सेफ खोल दिया।

बैंक मैनेजर उसके उस कारनामे से बहुत खुश हुआ।

मैनेजर ने सेफ खोलने वाले कैदी से कहा, "मैं आपसे बहुत खुश हूँ, आपने बिना किसी क्षति के सेफ खोल दिया आप बताईये की इस काम के लिए हम आपको कितने रूपए दें।"

सेफ खोलने वाले कैदी ने कहा, "पिछली बार तो जब मैंने ऐसा ही एक सेफ खोला था तो मुझे 10 लाख रूपए मिले थे तभी तो मैं यहाँ हूँ।"
----------
संता का मुर्गी प्रेम!
एक बार संता की पालतू मुर्गी मर गयी तो संता को उसके मरने का बहुत दुःख हुआ और वह जोर जोर रोने लगा।

संता की रोने की आवाज सुनकर बंता भी संता के घर पर पहुंचा और संता से पूछा, "भाई साहब क्या हुआ, आप इतना रो क्यों रहे हैं?"

संता: यार मेरी मुर्गी मर गयी है।

बंता: मेरा बाप मर गया था मगर मैं तब भी नहीं रोया, और आप मुर्गी के मरने से रो रहे हैं।

संता: तेरा बाप क्या अंडे देता था?
----------
पप्पू का इंटरव्यू!
एक बार ट्रेन में पप्पू ने टिकट चैकर से कहा, "मुझे सुबह 4 बजे पटियाला में उठा देना, मैं ना जांगू तो जबरदस्ती उठा देना क्योंकि मुझे सुबह इंटरव्यू देने जाना है"।

जब पप्पू सुबह 8 बजे उठा तो उसने देखा की पटियाला तो निकल गया है, तो वह तुरंत टिकट चेकर के पास गया और उसे गालियाँ देने लगा।

पप्पू: मैंने तुमसे ज्यादा नालायाक और बेशर्म इंसान नहीं देखा, मैं इतनी देर से तुम से कुछ कह रहा हूँ और तुम कोई जवाब ही नहीं दे रहे।

टिकट चैकर: अबे चुप कर कमबख्त, मैं वैसे ही यह सोच कर परेशान हूँ कि सुबह मैंने जिसको जबरदस्ती उतार दिया वो मुझे कितनी गलियां दे रहा होगा!

----------
बहुत शर्म आती है!
संता की शादी हुई पर अभी तक उसे कोई नौकरी नहीं मिल पाई थी वो बिल्कुल आलसी था एक दिन उसकी बीवी ने बहुत गुस्से होते हुए कहा मुझे तो बहुत शर्म आती है जिस तरह की जिन्दगी हम जी रहे है!

मेरे पापा ने हमारे घर का किराया दिया, माँ ने घर में खाने पीने का सामान भर दिया, मेरी बहन ने कपड़े दिए और चाचा चाची ने कार खरीद कर दी, मुझे तो बहुत शर्म आती है!

संता ने सोफे पर लोटपोट होते हुए कहा डार्लिंग शर्म तो तुम्हें आनी ही चाहिए, क्योंकि जो तुम्हारे दो भाई है बेकार में घूमते रहते है उन्होंने तो हमें फूटी कौड़ी भी नहीं दी!
----------

----------

जल्दबाजी ठीक नहीं!
एक बार संता अपनी बीवी के साथ जा रहा था।

रास्ते में उसे एक दोस्त मिला, जिसे पुलिस ने पकड़ा हुआ था।

संता ने उससे पूछा, "क्या हुआ?"

दोस्त: मैंने अपनी बीवी को मार डाला।

संता कुछ सोचते हुए बोला, "सज़ा क्या मिली है?"

दोस्त: 6 हफ्ते।

संता: बस 6 हफ्ते।

संता ने आव देखा ना ताव फटाफट पुलिस की पिस्टल ली और अपनी बीवी को मार डाला।

दोस्त रोते हुए बोला, "अबे साले तूने ये क्या किया?", पूरी बात तो सुनता 6 हफ्ते बाद मुझे फांसी दी जायेगी।
----------
काश देर ना होती!
एक बार एक औरतो से भरी बस का बहुत ही बुरी तरह से एक्सीडेंट हो गया, और उसमे सवार सभी औरतें मर गयी।

यह खबर सुन कर उन सभी औरतों के पति घटनास्थल पर पहुंचे और बड़ी जोर जोर से रोने लगे।

यह सब देख संता जोकि उन आदमियों के साथ घटनास्थल पर गया था वह भी रोने लगा।

परन्तु कुछ देर बाद जब वे सभी आदमी रो कर चुप हो गए तो संता फिर भी रोता रहा, यह देख कर एक आदमी संता के पास आया और उससे बोला," क्या हुआ भाई क्या तुम्हारी पत्नी भी इस एक्सीडेंट में मर गयी है क्या?"

संता: नहीं?

आदमी: तो फिर तुम क्यों इतनी जोर-जोर से रो रहे हो?

संता: क्योंकि मेरी बीवी की यही बस बस छूट गयी थी।
----------
जीत्तो के सवाल संता के जवाब!
एक बार संता की पत्नी ने उस से पूछा , "सुनो जी आपसे एक सवाल पूछूँ?"

संता: हाँ-हाँ जान पूछो।

जीत्तो: जी अरेंज मैरिज और लव मैरिज में क्या अंतर होता है?

संता: देखो भागवान, अरेंज मैरिज का मतलब होता है `बिका हुआ माल वापस नहीं होगा` और लव मैरिज का मतलब होता है `पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करें"।
----------
बच्चा किसका है?
बंता नाविक लगभग दो साल बाद अपने घर लौटा वह किसी गुप्त कार्य के लिए उसके विभाग द्वारा भेजा गया था जब वह घर पहुंचा तो उसने देखा कि उसकी पत्नी ने एक बच्चे को जन्म दिया है उसे यह देखकर बहुत गुस्से आया और पूछने लगा:

क्या यह बच्चा मेरे दोस्त संता का है?

उसकी पत्नी ने रोते हुए कहा नही!

तो क्या ये बच्चा मेरे दोस्त जंता का है?

उसकी पत्नी ने फिर परेशान होकर कहा नही!

बंता ने पूछा फिर ये किसका बच्चा है जो मेरा अच्छा दोस्त नही है!

उसकी पत्नी ने कहा ये आपके किसी भी दोस्त का नहीं है मेरे अपने भी कई अच्छे दोस्त है उसने सिसकते हुए कहा!
----------


समझदार पुलिसवाला!
एक बार संता इंडिया गेट के सामने खडा हुआ चिल्ला- चिल्ला के कह रहा था, "प्रधानमंत्री निकम्मा है, प्रधानमंत्री निकम्मा है।"

तभी उधर से एक पुलिसवाला निकला, तो उसने संता को गिरफ्तार कर लिया और बोला, "प्रधानमंत्री की बेइज्जती करता है, चल थाने अभी तेरा दिमाग ठिकाने लगाता हूं।"

संता: जनाब मुझे माफ़ कर दो मैं तो इंग्लैंड के प्रधानमंत्री के बारे में बोल रहा था।

पुलिसवाला: क्यों बे तूने क्या मुझे बेवकूफ समझ रखा है? क्या मुझे नहीं पता कि कहां का पीएम निकम्मा है।
----------
शातिर संता!
एक दिन संता अपनी मोटरसाइकिल पर पाकिस्तान से हिंदुस्तान आते समय बॉर्डर पर पकड़ा गया। उसने अपने कंधे पर एक बड़ा सा बैग लटका रखा था।

दरोगा बंता ने संता से कड़ककर पूछा,"इस बैग में क्या है?"

संता ने नम्रतापूर्वक जवाब दिया,"रेत है साब जी।"

परन्तु दरोगा बंता को जवाब से संतोष नहीं हुआ। उसने सिपाहियों को बैग की तलाशी लेने का आदेश दिया। बैग में सचमुच रेत के अलावा कुछ नहीं निकला तो मजबूरन दरोगा को उसे छोड़ना पड़ा।

कुछ दिनों बाद फिर इसी तरह संता मोटरसाइकिल पर कंधे पर बैग लटकाए पकड़ा गया । दरोगा बंता ने फिर बैग की तलाशी ली परन्तु उसमें रेत के अलावा कुछ भी ऐसा नहीं निकला जो आपत्तिजनक हो। संता फिर छोड़ दिया गया।

फिर तो ऐसा महीने में दो-तीन बार होने लगा। दरोगा बंता का शक भी बढ़ने लगा पर कोई सबूत हाथ न लगने से संता हर बार बचकर निकल जाता था।

लगभग सात-आठ महीने तक यही क्रम चलता रहा फिर एकाएक संता का आना बन्द हो गया। कुछ महीने बाद जब बंता छुट्टी पर आया तब उसने संता को दिल्ली के एक मंहगे होटल में कॉफी की चुस्कियां लेते देखा तो वह उसके पास गया।

बंता ने बड़े दोस्ताना लहजे में कहा," संता, एक बात बताओ मुझे पूरा यकीन है कि तुम बॉर्डर पर किसी चीज की तस्करी कर रहे थे। पर वह क्या चीज थी जो मेरी नजरें पकड़ नहीं सकीं? कम से कम वह रेत तो बिलकुल नहीं थी।

संता ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया "मोटरसाइकिल"।
----------
शोर मत करो!
एक मोहल्ले में सुबह सुबह एक शराबियों की टोली निकली और उन्होंने बहुत ज्यादा शोर मचा रखा था मोहल्ले के चौराहे पर वे सब बैठ गए और जोर जोर से चिल्लाते हुए बाते करने लगे!

पास वाले घर से एक महिला ने शराबियों को आवाज दी कि शोर मचाना बंद करो और यहाँ से चले जाओ!

तभी उन में से एक शराबी बोला अरे क्या आप बता सकती हैं कि इधर बंता कहाँ पर रहता है?

महिला ने जवाब दिया जी हाँ वो यही साथ वाले घर में रहता है!

शराबी ने कहा क्या आप आकर उसे यहाँ से ले जा सकती हैं ताकि हम भी अपने अपने घर चले जाएँ!
----------
भारत की तरक्की!
अमेरिका से संता का एक दोस्त भारत घूमने आया तो संता उसे घुमाने ले गया।

क़ुतुब मीनार के पास पहुँच कर संता का दोस्त उससे बोला।

दोस्त: ये क़ुतुब मीनार कितने दिन में बना है ?

संता: एक महीने में।

दोस्त: ये हमारे मुल्क में तो 2 हफ्ते में बन जाता है।

थोडा आगे जाने के बाद दोस्त ने फिर संता से पूछा।

दोस्त: ये लाल किला कितने दिन में बना है?

संता: सिर्फ दो हफ्ते में।

दोस्त: हमारे मुल्क में तो 3 दिनों में बन जाता है।

जब वे दोनों ताज महल के पास से गुज़रे तो दोस्त ने संता से फिर पूछा।

दोस्त: ये ताज-महल कितने दिन में बना है ?

संता: मैं खुद हैरान हूँ की कब बना, कल शाम को तो नहीं था।
----------


संता का हौंसला!
एक बार संता की पत्नी बीमार हुई तो संता ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया।

कुछ देर तक ऑपरेशन थियेटर में संता की पत्नी का मुआयना करने के बाद जब डॉक्टर बाहर आया तो संता ने डॉक्टर से पूछा , "क्या हुआ डॉक्टर साहब सब ठीक तो है ना?"

डॉक्टर: संता एक बहुत ही बुरी खबर है।

संता: क्या हुआ डॉक्टर साहब?

डॉक्टर: तुम्हारी पत्नी अब बस पांच घंटों की ही मेहमान है।

संता : कोई बात नहीं डॉक्टर साहब अब जहां पांच साल बर्दाश्त किया है तो पांच घंटे और सही।
----------
लात मारने का कानून!
एक बार संता शिकार करने चला गया उसने जाते ही एक कबूतर को मार दिया वह कबूतर जाकर एक खेत में गिरा, जब वह बाड़ा पार करके उस कबूतर के पास पहुंचा तभी एक किसान वहां आया और संता को पूछने लगा कि वह उसकी प्रोपर्टी में क्या कर रहा है?

संता ने कबूतर को दिखाते हुए कहा कि मैंने इस कबूतर को मारा और ये मर कर यहाँ गिर गया मैं इसे लेने आया हूँ!

किसान ने कहा ये कबूतर मेरा है क्योंकि ये मेरे खेत में पड़ा है!

संता ने कहा क्या तुम जानते हो तुम किससे बात कर रहे हो?

किसान ने जवाब दिया नहीं मैं नहीं जानता और मुझे इससे भी कुछ नहीं लेना है कि तुम कौन हो!

संता ने कहा मैं लुधिआना का एक बहुत मशहूर वकील हूँ, और अगर तुमने मुझे इस कबूतर को ले जाने से रोका तो मैं तुम पर ऐसा मुकदमा चलाऊंगा कि तुम्हें तुम्हारी जमीन जायदाद से बेदखल कर दूंगा और तुम्हें एक पल में रास्ते का भिखारी बना दूंगा!

किसान ने कहा हमारे भटिंडा मैं तो बस एक ही कानून चलता है लात मारने वाला!

संता ने कहा मैंने तो कभी इसके बारे में नहीं सुना!

किसान ने कहा मैं तुम्हें तीन लातें मारता हूँ अगर तुम वापिस उठकर तीन लातें मुझे मार पाओगे तो तुम इस कबूतर को ले जाना!

संता ने कहा ये ठीक है उसने उस किसान को देखा कि वह तो बिल्कुल कमजोर सा है तो इसकी लातों से उसे क्या फर्क पड़ने वाला ये सोचकर उसने कहा ठीक है मारो!

किसान ने बड़ी बेरहमी से संता को पहली लात टांगों के बीच में मारी जिससे संता मुहं के बल झुक गया!

किसान ने दूसरी लात संता के मुहं पर मारी जिसके पड़ते ही वह जमीन पर गिर गया!

तीसरी लात किसान ने संता की पसलियों पर मारी बड़ी देर बाद संता उठा और जब वह लात मारने के लायक हुआ तो संता ने कहा अब मेरी बारी है!

किसान ने कहा, चलो छोड़ो यार! ये कबूतर तुम ही रखो!
----------
पराई औरत भी पत्नी समान!
संता: यार बंता, मुझे तो हर पराई औरत अपनी बीवी समान लगती है।

बंता बौखलाते हुए, "यह क्या कह रहे हो"?

संता: सच कह रहा हूं यार! कसम से किसी भी औरत के सामने चूं तक करने की भी हिम्मत नहीं होती!
----------
चोर भी डरते हैं!
एक बार एक अँधेरी सड़क पर एक चोर ने संता को रोक लिया और बोला।

चोर: तुम्हारी जेब में जो कुछ है फटाफट निकाल दो।

संता: भाईसाहब, ऐसा मत कीजिए, अगर मैं खाली जेब लेकर घर गया तो मेरी बीवी मुझे कच्चा चबा जाएगी।

चोर: और अगर मैं खाली हाथ घर पहुंचा तो मेरी बीवी क्या मुझे तल के खाएगी?
----------


अमीरों के शौक!
एक बार संता पेट्रोल-पंप पर स्कूटर लेकर गया और वहां जाकर पेट्रोल भरने वाले से बोला।

संता: "भाई 5 रुपये का पेट्रोल डाल दो।"

संता की बात सुन पेट्रोल भरने वाले सेल्समेन संता का मज़ाक उड़ाते हुए बोला, "भाई इतना सारा पेट्रोल डलवा के कहाँ जाना है?"

संता: "जाना तो कहीं नहीं, बस हम जैसे अमीर लोग तो ऐसे ही पैसे उड़ाते है।"
----------
संता की मेहनत का राज़!
एक बार संता की नई-नई शादी हुई, लेकिन फिर भी वह शाम को दफ्तर से घर जाने में कोई जल्दी नहीं दिखाता और काफी देर तक दफ्तर में ही बैठा रहता।

जब काफी दिन तक यह सिलसिला चलता रहा तो एक दिन उसके बॉस ने उससे इसका कारण पूछा, " यार संता अभी तुम्हारी नई-नई शादी हुई है फिर भी तुम देर तक दफ्तर में ही बैठे रहते हो क्या बात सब ठीक तो है?"

संता: बिल्कुल सर, पर दरअसल, बात यह है कि मेरी पत्‍‌नी भी नौकरी करती है और हम दोनों में से जो भी घर पहले पहुंचता है खाना उसे ही बनाना पड़ता है बस इसीलिए।
----------
बीमार संता!
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!

संता: वो क्यों?

जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?

----------
भाड़ में मत जाना!
एक सुपर स्टोर के सेल्समैन की एक बड़े ग्राहक से कुछ कहा सुनी हो गयी।

जब स्टोर के मालिक को पता चला तो उसने सेल्समैन को खूब डाटा और कहा की तुम्हें पता नहीं है कि संता जी हमारे कितने पुराने व् बड़े ग्राहक है।

तुमने उनके साथ बदतमीजी की, चलो माफी मांगो।

सेल्समैन ने फोन मिलाया, हेल्लो, संता जी बोल रहे हैं?

संता: हा मैं संता बोल रहा हूँ।

सेलसमैन: मैं सुपर स्टोर का सेल्समैन बोल रहा हूँ।

संता: बोलो, क्या बात है?

सेल्समैन: कल मैंने आपसे कहा था कि भाड़ में जाओ।

संता: हाँ, तो?

सेल्समैन: अब वहां मत जाना।
----------


पायलट संता!
संता ने पायलट की ट्रेनिंग पूरी की, इसलिए ट्रेनिंग स्कूल ने उसका फाइनल टेस्ट लेने के लिए एक हेलिकॉप्टर उड़ाने के लिए दिया और उसे कंट्रोलरुम से लगातार कान्टेक्ट में रहने के लिए कहा!

संता हेलिकॉप्टर में बैठा और हेलिकॉप्टर उड़ाने लगा 1000 फीट ऊपर जाने के बाद में उसने कंट्रोल रुम में मैसेज भेजा, चिंता करने की कोई जरुरत नही है.. मै अच्छी तरह से हेलीकॉप्टर उड़ा पा रहा हूँ... हेलीकॉप्टर उड़ाने में बहुत मजा आ रहा है, और उपर से नीचे का नजारा भी बहुत अच्छा दिख रहा है!

2000 फीट ऊपर जाने के बाद संता ने फिर से कंट्रोल रुम में मैसेज भेजा, 2000 फीट ऊँचाई पर तो और मजा आ रहा है... मुझे तो ऐसा लग रहा है की हेलीकॉप्टर चलाना दुनिया की सबसे आसान चीज है!

फिर कंट्रोलरुम ने संता को 3000 फीट की ऊँचाई पर जाते हुए देखा थोड़ी देर बाद कंट्रोल रुमवालों को चिंता होने लगी, क्योंकि संता का कोई मैसेज नही आया!

थोड़ी और देर बाद कंट्रोल रुमवालों को पता चला कि संता का हेलिकॉप्टर आधा मील दूर नीचे जमीन पर गिर हुआ है, कंट्रोलरुम से कुछ लोग तुरंत वहां पहुंचे और उन्होने नीचे जमीन पर गिरे हुए और टूटे-फूटे हेलिकॉप्टर के ढेर से संता को बाहर निकाला, संता को कही जगहों पर चोटें आई थी लेकिन वह बच गया था!

जब उन लोगों ने संता से पूछा कि क्या हुआ?

तो संता ने जवाब दिया, क्या हुआ... मुझे खुद भी कुछ पता नही... सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन जब मैं 3000 फीट की ऊँचाई पर गया तब मुझे बहुत ठंड लगने लगी... इसलिए मैने ऊपर जो बड़ा फेन चल रहा था उसे बंद कर दिया... उसके बाद क्या हुआ मुझे कुछ भी याद नही!
----------
गधे की सवारी!
संता ट्रैफिक पुलिस के इंटरव्यू के लिए गया।

इंटरव्यूअर: एक आदमी गधे की सवारी करता हुआ रोड से जा रहा है और उसने हेलमेट नहीं पहना है तो क्या आप उसे दण्डित करेंगे?

संता: नहीं।

इंटरव्यूअर: क्यों?

संता: क्योंकि हेलमेट 2 व्हीलर के लिए जरूरी है, 4 व्हीलर के लिए नही।
----------
जोर से मार!
एक लोहार काफी बूढ़ा हो गया था उसने सोचा कि उसे अपने साथ किसी आदमी को काम पर रख लेना चाहिए!

तब उसने संता को बुलाया और अपने साथ काम पर रख लिया संता उससे हर काम से पहले उसके बारे में पूछ लेता!

बूढ़ा काफी चिढ़चिढ़ा और सख्त स्वभाव का था उसने संता को कहा कि वह ज्यादा सवाल मत पूछा करे जो उसे कहा जाये उसे चुपचाप किया करे!

एक दिन लोहार ने जलती हुई भट्टी से लोहा निकाला और और सन्दान पर रख दिया उसने हथौड़ा उठाया और संता को पकड़ाया और कहा जब मैं अपना सिर हिलाऊँ तो इसे पूरे जोर से मार देना......

. .

.

.

.

.

.

.

तब से शहर के लोग किसी नए लोहार की तलाश में है!
----------
मियाँ से तो बीवी भली!
एक बार संता चौकीदार की नौकरी के लिए साक्षात्कार देने गया।

अफसर: देखो! हमें ऐसा चौकीदार चाहिए जो तंदुरुस्त हो, चुस्त-चलाक और चौकन्ना हो और जरुरत पड़ने पर धमकी भी दे सकें। यदि तुममें ऐसे गुण है तो तुम्हें यह नौकरी मिलेगी, अन्यथा नहीं।

संता: साहब ये गुण मुझ में तो नहीं हैं, पर मेरी बीवी में ये सभी गुण हैं, मैं उसे बुलवाता हूँ।
----------



संता की उदासी का कारण!
संता बार में गया तो बार टेंडर ने उसे पूछा, "क्या लोगे आज?"

संता: बस एक बियर।

बार टेंडर: क्या हुआ? आज तुम कुछ ठीक नहीं लग रहे, इतने उदास क्यों हो?

संता: मेरा मेरी बीवी से झगड़ा हो गया था, उसने मुझे कहा कि वो एक महीने तक मुझसे बात नहीं करेगी।

बार टेंडर: फिर उसमे क्या दिक्कत है?

संता: आज एक महीना पूरा हो गया।
----------
बुढ़िया कहाँ गई!
एक बार एक बुढ़िया मर गयी तो उसकी बेटी जोर-जोर से रोने लगी और बोली।

बेटी: "अम्मा कहाँ गयी तू, जहां ना धूप-ना छाँव, ना रोटी-ना सब्जी, ना बिजली ना पानी।

साथ में ही संता और बंता भी शोक मनाने गये हुए थे।

संता ने साथ में बैठे बंता को कोहनी मारी और बोला, "अबे देख बुढ़िया कहीं हमारे घर पे तो नहीं चली गयी?"
----------
ज्यादा ताड़ना भी ठीक नहीं!
एक बार संता एक पार्टी में गया।

पार्टी में उसकी निगाह एक सुन्दर सी लड़की पर टिक गयी तो वह उसे बड़े गौर से देखने लगा।

जब काफी देर तक उसने लड़की को ताड़ना बंद नहीं किया तो लड़की उसके पास आई और उस से बोली," क्या आप मेरे चेहरे से एक चीज़ हटा सकते हैं?"

संता ख़ुशी से," ओह जी क्यों नहीं आप तो बस हुकुम करो क्या हटाना है।"

लड़की: अपनी कुत्ते जैसी नज़र।
----------
हाजिरजवाबी और बुद्दिमत्ता!
लम्बी हवाई यात्रा करते हुए आइन्स्टीन और बंता एक दूसरे के सामने बैठे हुए थे!

आइन्स्टीन ने कहा चलो एक खेल खेलतें हैं, मैं एक प्रश्न पूछता हूँ अगर तुम्हें उसका जवाब न आये तो तुम मुझे 5 डॉलर देना अगर मुझे जवाब नहीं आएगा तो मैं तुम्हें 500 डॉलर दूंगा!

आइन्स्टीन ने पहले प्रश्न पूछा: धरती से चंद्रमा की दूरी कितनी है?

बंता ने कुछ नहीं कहा और अपनी जेब से 5 डॉलर निकाले!

अब बंता की बारी थी उसने आइन्स्टीन से पूछा, ऐसा क्या है जो तीन पैरों पर पहाड़ी पर चढ़ता है और चार पैरों पर वापिस उतरता है?

आइन्स्टीन ने नेट पर खोजना शुरू कर दिया उसने अपने सभी दोस्तों को पूछा, और एक घंटे के बाद उसने बंता को 500 डॉलर दे दिए, आइन्स्टीन ने पागल होते हुए पूछा, अब बताओ वो क्या है जो तीन पैरों पर पहाड़ी पर चढ़ता है और चार पैरों पर उतरता है?

बंता ने जेब से 5 डॉलर निकाले और आइन्स्टीन को दे दिए!
----------


तुम्हें कैसे अंडे पसंद है?
संता और जीतो की शादी हो गयी! संता ने सोचा ये एक नए ज़माने की शादी है इसलिए दोनों की जिम्मेवारियां बराबर होनी चाहिए!

इसलिए हनीमून से लौट कर पहली ही सुबह संता जीतो के लिए बिस्तर पर ही ब्रेकफास्ट लाया!

जीतो उसकी पाक कला से ज्यादा प्रभावित नहीं हुई, उसने बड़े अनादर से ट्रे की तरफ देखा और सूंघकर कहा! उबला हुआ अंडा, मुझे तो तला हुआ अंडा चाहिए था!

अगली सुबह संता पूरे जोश में अपनी पत्नी की पसंद का तला हुआ अंडा ले आया, जीतो ने वो भी नहीं खाया, तुम्हें पता नहीं मुझे अलग अलग किस्म के अंडे पसंद है? आज मुझे उबला हुआ अंडा चाहिए था!

अपनी पत्नी को खुश करने के लिए अगले दिन सुबह बंता ने उसकी पसंद के दो अंडे बनाये, एक उबला हुआ एक तला हुआ और कहा लो मेरी जान खाओ!

जीतो एकदम गुस्से हो गयी, तुम मूर्ख हो! तुमने गलत अंडा तल दिया और गलत उबाल दिया!
----------
दूसरा अफेयर!
बंता: मेरे वैवाहिक जीवन से सारा रोमांच चला गया है!

संता: तुम घर से बाहर कोई नया अफेयर क्यों नहीं चला लेते?

बंता: पर अगर मेरी बीवी को पता चल गया?

संता: अरे हम नए ज़माने में रहे हैं जाओ और उसे सब कुछ साफ़ साफ़ बता दो!

बंता: अपने घर गया और बीवी से कहने लगा प्रीतो, मुझे लगता है के एक अफेयर हमें पास लाने में मदद करेगा!

प्रीतो: भूल जाओ इस बात को, मैंने पहले ही ये कोशिश कर ली है, पर कोई फर्क नहीं पड़ा!
----------
झूठ बोलना पाप है!
एक दिन संता एक रोबोट लेकर आया। वह रोबोट झूठ पकड़ सकता था और झूठ बोलने वाले को गाल पर खींचकर चांटा मार देता था।

एक दिन पप्पू को स्कूल से घर आने में देर हो गयी तो संता ने उससे पूछा, "घर लौटने में देर क्यों हो गई?"

पप्पू: आज हमारी एक्स्ट्रा क्लासेस थी।

रोबोट अचानक अपनी जगह से उछला और पप्पू के गाल पर एक जोरदार चांटा मार दिया।

संता:ये रोबोट हर झूठ को पकड़ सकता है, अब सच क्या है यह बताओ, कहां गए थे?

पप्पू ने अपना गाल सहलाते हुए कहा, "फिल्म देखने।"

संता ने कड़ककर पूछा, "कौन सी फिल्म?"

पप्पू : जय हनुमान, अभी पप्पू की बात पूरी नहीं हुई थी कि उसके गाल पर रोबोट ने एक जोर का चांटा मारा।

संता ने फिर पूछा, "कौन सी फिल्म?"

पप्पू : कातिल जवानी।

संता गुस्से में बोला, "शर्म आनी चाहिए तुम्हें, जब मैं तुम्हारी उम्र का था तब ऐसी हरकत नहीं किया करता था।"

इस बार संता के गाल पर रोबोट ने एक चांटा जड़ दिया।

यह सुनते ही जीतो रसोई से आते हुए बोली, "आखिर तुम्हारा ही तो बेटा है न, झूठ तो बोलेगा ही।"

अब जीतो की बारी थी, चटाक।
----------
छुट्टी नहीं मिल सकती!
एक दिन बंता अपने बॉस से मिलने उसके ऑफिस में गया!

बंता: सर मैं अन्दर आ सकता हूँ!

बॉस: अरे बंता, आओ... आओ!

बंता: सर कल हमने अपने घर कि पूरी सफाई करनी है और मेरी बीवी प्रीतो को इस काम के लिए मेरी मदद चाहिए काफी सामान है जो उठाकर इधर उधर करना है इसलिए मुझे.....?

बॉस: बंता देखो हमारे पास पहले ही स्टाफ की कमी है नहीं... नहीं मैं तुम्हें छुट्टी नहीं दे सकता!

बंता: थैंक्यू सर थैंक्यू मुझे आप पर पूरा भरोसा था!
----------


सिग्नल नहीं तोडूंगी!
एक अदालत में एक यातायात के नियम तोड़ने सम्बन्धी मामला दर्ज हुआ!

अपराधी महिला को कोर्ट के सामने पेश किया गया मामला यह था कि एक महिला ने रेड लाइट का सिग्नल तोड़ दिया था!

जब पूछताछ शुरू हुई तो महिला ने बताया कि जल्दी से इस मामले कि सुनवाई की जाए वह एक स्कूल टीचर है, और स्कूल के लिए देरी हो रही है!

जज की आँखों में एक अजीब सी चमक आ गयी!

जज ने कहा आप एक स्कूल टीचर हैं? मैडम मेरी कई सालों से एक बहुत दिली ख्वाहिश थी कि कोई टीचर किसी दिन यहाँ आये और मैं उसे कुछ काम दूँ!

चलिए अब नीचे बैठिये और 500 बार लिखिए कि मैं रेड लाइट का सिग्नल कभी नहीं तोडूंगी!
----------
तुम्हें कैसे अंडे पसंद है?
संता और जीतो की शादी हो गयी, संता ने सोचा ये एक नए ज़माने की शादी है इसलिए दोनों की जिम्मेवारियां बराबर होनी चाहिए।

इसलिए हनीमून से लौट कर पहली ही सुबह संता जीतो के लिए बिस्तर पर ही ब्रेकफास्ट लाया।

जीतो उसकी पाक कला से ज्यादा प्रभावित नहीं हुई, उसने बड़े अनादर से ट्रे की तरफ देखा और सूंघकर कहा,"उबला हुआ अंडा, मुझे तो तला हुआ अंडा चाहिए था।"

अगली सुबह संता पूरे जोश में अपनी पत्नी की पसंद का तला हुआ अंडा ले आया, जीतो ने वो भी नहीं खाया,"तुम्हें पता नहीं मुझे अलग अलग किस्म के अंडे पसंद है? आज मुझे उबला हुआ अंडा चाहिए था।"

अपनी पत्नी को खुश करने के लिए अगले दिन सुबह बंता ने उसकी पसंद के दो अंडे बनाये, एक उबला हुआ एक तला हुआ और कहा लो मेरी जान खाओ।

जीतो एकदम गुस्से हो गयी, "तुम मूर्ख हो! तुमने गलत अंडा तल दिया और गलत उबाल दिया।"
----------
संता का रोमांस!
एक बार संता अपनी प्रेमिका के साथ पार्क में बाहों में बाहें डाल कर बैठा हुआ था और कुछ बड़ी ही रूमानी बातें कर रहा था कि तभी अचानक वहां एक हवलदार आया और संता से बोला, " आपको शर्म नहीं आती आप एक समझदार व्यक्ति होकर खुलेआम पार्क में ऐसी हरकत कर रहे हैं"।

संता: देखिये हवालदार साहब आप गलत समझ रहे हैं, जैसा आप सोच रहे हैं वैसा कुछ भी नहीं है।

हवलदार: तो कैसा है?

संता: जी हम दोनों शादीशुदा हैं।

हवालदार: अगर तुम शादीशुदा हो तो फिर अपनी ये प्यार भरी गुटरगूं अपने घर पर क्यों नहीं करते।

संता: हवालदार साहब कर तो लें पर वहां मेरी पत्नी और और इसके पति को शायद अच्छा नहीं लगेगा।
----------
संता का बदला!
संता अपने 12वी मंजिल वाले अपार्टमेंट की बालकनी में खड़ा नीचे देख रहा होता है।

अचानक एक आदमी उसे हाथ हिला के नीचे आने का इशारा करता है।

संता को समझ ना आया फिर उसने सोचा की कोई जान पहचान वाला होगा।

संता लिफ्ट से नीचे पहुंचा और आदमी को जाकर बोला, "हाँ भाई बोलो, क्या बात है?"

नीचे खडा आदमी जो की एक भिखारी था रोते हुए बोला, "भगवान् के नाम पे कुछ दे दो बाबा।"

ये सुन संता को बड़ा गुस्सा आया तो वह वो उस भिखारी को बोला, "मेरे साथ ऊपर आ जाओ।"

संता जानबूझ के उसको लिफ्ट की बजाये सीढियों से उसे ऊपर ले जाता है और घर पहुँच कर संता बड़े प्यार से उस आदमी से कहता है, "बाबा माफ़ करो छुट्टा (चेन्ज) नहीं है कल आना।"

----------


लोग अलग, सुरूर अलग!
हवाई जहाज में शराब के चार-पांच पैग पीने के बाद;

ब्रिटिश: अब मैं सोने जा रहा हूँ।

अमेरिकन: मैं अपना ऑफिस का काम निपटाने जा रहा हूँ।

जर्मन: मैं अभी फिल्म देखूंगा।

चीनी: मैं तो अब संगीत सुनना चाहता हूँ।

संता: भाई तो आज प्लेन उडाएगा।
----------
बीयर के लिए धन्यवाद!
बंता एक बार में बीयर पीने के लिया गया जैसे ही बार वाले ने उसके गिलास में बीयर डाली बाहर एक बहुत जोर की आवाज हुई, वह बाहर यह देखने के लिया भागा की क्या हुआ पर जल्दी ही अपनी बीयर पीने के लिए वापिस आ गया!

----------
घड़ा कहाँ है?
संता: पानी है

बंता: हाँ घड़े में!

संता: घड़ा कहाँ है?

बंता: रसोई में!

संता: रसोई कहाँ है?

बंता: घर में!

संता: घर कहाँ है?

बंता: लक्सर में!

संता: लक्सर कहाँ है?

बंता: उत्तराखंड में!

संता: उत्तराखंड कहाँ है?

बंता: इंडिया में!

संता: इंडिया कहाँ है?

बंता: एशिया में!

संता: एशिया कहाँ है?

बंता: जमीन पर!

संता: जमीन कहाँ है?

बंता: पानी में!

संता: पानी कहाँ है?

बंता: पानी घड़े में!
----------
संता की कुंडली!
संता ज्योतिषी के पास कुंडली दिखाने गया।

ज्योतिषी: तेरा नाम संता है?

संता: जी हाँ।

संता: तेरी बीवी का नाम जीतो है?

संता: जी हाँ।

ज्योतिषी: तेरे पास एक बेटी और एक बेटा है?

संता: जी हाँ।

ज्योतिषी: जिनके नाम पिंकी और पप्पू हैं?

संता: जी हाँ।

ज्योतिषी: तूने अभी 10 किलो चावल खरीदे हैं?

संता: आप तो अन्तर्यामी हैं महाराज।

ज्योतिषी: दफ़ा हो जाओ यहाँ से, अगली दफ़ा कुंडली लाना, राशन कार्ड नहीं।
----------


पत्नी की कीमत!
पत्नी: सुनो जी अखबार में खबर है कि एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को बेच डाला ?

पति: ओह! कितने में?

पत्नी: एक साइकिल के बदले में, कहीं तुम भी तो ऐसा नहीं करोंगे।

पति: मैं इतना मूर्ख थोडे ही हूं, तुम्हारे बदले में तो कार आ सकती हैं।
----------
नरक की सैर!
मरने के बाद संता और बंता नरक में पहुंचे वहां यमदूत ने उनका स्वागत किया और नरक की सैर कराई यमदूत ने बताया कि यहां तीन तरह के नरक-कक्ष है और उन्हें अपनी पसन्द का कक्ष चुनने की आजादी है!

पहला कक्ष आग की लपटों और गर्म हवाओं से इस कदर भरा हुआ था कि वहां सांस लेना भी दूभर था संता ने कहाः

ओए बंतया.. यहां रहकर तो हमारी हालत ही खराब हो जाएगी... चल कोई दूसरा रूम देखते हैं...

यमदूत उन्हें दूसरे नरक कक्ष में ले गया यह कक्ष सैंकड़ों आदमियों से भरा हुआ था वहां बेहद गर्मी थी और धुआं फैला हुआ था चारों ओर चीख पुकार का माहौल था संता और बंता यह सब देखकर घबरा गए और उन्होंने यमदूत से कोई और कक्ष दिखाने की प्रार्थना की!

तीसरा और अंतिम कक्ष ऐसे लोगों से भरा हुआ था जो बस आराम कर रहे थे और कॉफी पी रहे थे यहां अन्य दो कक्षों जैसी कष्टदायक कोई बात नहीं दिखाई दी!

संता ने कहाः अरे बंतया यह जगह हमारे लिए सही लगेगी इस यमदूत को मना लेते है और यहीं अपनी जगह पक्की कर लेते हैं!

उन्होंने यमदूत से बात की और यमदूत मान गया वह उन दोनों को वहीँ छोड़कर वापिस चल पड़ा!

संता और बंता ने एक-एक कॉफी ली और आराम से एक तरफ बैठ गए!

कुछ मिनटों बाद लाउडस्पीकर पर एक आवाज गूंजीः ब्रेक टाइम खत्म हुआ अब फिर से दस हजार घूंसे और लातें खाने के लिये तैयार हो जाओ!
----------
चिट्ठी आयी है!
एक बार एक प्रधानमंत्री अपने मंत्रियों के साथ बैठकर जनता द्वारा भेजे गए पत्र पढ़ रहा था।

तभी वह एक पत्र देख कर चिल्लाया," इस पत्र को देखो! ये पत्र देश के सबसे बेवकूफ आदमी के नाम लिखा गया है।"

उसके मंत्री उसे ये कहकर चुप करवा रहे थे कि,"किसकी इतनी हिम्मत हुई जो इस तरह पत्र लिखे हम पता लगाते हैं आप शांत हो जाइये।"

प्रधानमंत्री थोड़ा उदास होते हुए धीरे से बोले," मुझे इसका दुःख नहीं कि मुझे किसी ने ऐसा पत्र लिखा मुझे इस बात का आश्चर्य है कि पोस्टमैन इसे सही पते पर कैसे ले आया?"
----------
महिलाओं की खूबसूरती का बखान!
कुदरत ने औरतों को हसीन बनाया;
खूबसूरती दी;
चाँद सा चेहरा दिया;
हिरनी सी आँखे;
मोरनी सी चाल;
रेशम जैसे बाल!
कोयल जैसे मीठी आव़ाज!
फूलों सी मासुमियत दी;
गुलाब से होंठ;
शहद सी मिठास दी;
प्यार भरा दिल दिया;
फिर जुबान दी;
और फिर इन सबका सत्यानाश हो गया।
जब भी इन्होंने अपना मुंह खोला, बस हर वक़्त टे टे टे टे टे टे टे टे टे...
----------


संता और रेलगाड़ी!
एक ट्रेन जो पटरी से जा रही थी अचानक पटरी से उतरकर इधर उधर के खेतों में गई और फिर से पटरी पर वापस आ गई!

वहां आसपास के लोग और रेलगाड़ी के यात्री थोड़ी देर के लिए सहम गए थे पर जब रेल अपने ट्रैक पर वापिस आ गयी तो सब सामान्य हो गए!

अगले स्टेशन पर रेलगाड़ी चालक को पकड़ा गया तो पता चला कि चालक संता सिंह था!

उससे पूछताछ हुई और उससे कुछ सवाल पूछे गये!

संता सिंह ने बताया कि एक आदमी पटरी पर खड़ा था, और मेरे इतने हॉर्न बजाने के बावजूद वह पटरी से हटने के लिए तैयार नही था!

तो पूछताछ करने वाले अफसर ने कहा, संता सिंह क्या तुम पागल हो? एक आदमी की जान बचाने के लिए पता है तुमने कितने लोगों की जान दाव पर लगा दी थी तुम्हें तो उस आदमी को कुचलना चाहिए था!

संता: वही तो मैं करने जा रहा था, लेकिन जब ट्रेन उसके एकदम नजदीक आ गई, वह बेवकूफ खेतों में इधर-उधर भागने लगा!
----------
बंता ने की आत्‍महत्‍या!
बंता एक बिल्डिंग की चालीसवीं मंजिल पर खड़ा हुआ था कि तभी उसके मोबाइल की घंटी बजी।

उधर से किसी ने कहा,"संता, अभी-अभी तेरी बीवी प्रीतो एक्सीडेंट में मर गई।"

मारे दु:ख के उसने फौरन चालीसवीं मंजिल से ही छलांग लगा दी।

जब वह तीसवीं मंजिल के पास पहुंचा, तब उसने सोचा कि, "ये प्रीतो कौन है? इसे तो मैं जानता ही नहीं।"

बीसवीं मंजिल पर,"मेरी तो अभी शादी ही नहीं हुई।"

दसवीं मंजिल पर,"यार, मेरा नाम तो बंता है, संता नहीं!"
----------
गलत नंबर!
एक बार फ़ोन की घंटी सुन कर जब संता फ़ोन उठाया तो दूसरी ओर से आवाज़ आयी।

हेल्लो, फ्रिज चल रहा है?

संता: हां, चल रहा है, आप कौन?

फोन करने वाला (कॉलर): तो फिर पकड़ लो, वर्ना भाग जायेगा।

कॉलर ने थोड़ी देर बाद दोबारा फोन किया।

"हेल्लो फ्रिज है?"

संता गुस्से से बोला: नहीं है।

कॉलर: कहा भी था पकड़ लो, भाग जायेगा।
----------
फोन ए फ्रेंड!
संता एक बार कौन बनेगा करोड़पति में पहुंचा!

अमिताभ: संता जी, तो आपने 50 लाख रूपए जीत लिए है और अभी भी आपकी एक लाइफलाइन फोन ए फ्रेंड शेष है अगर आप सही जवाब देते है तो आप यहाँ से 1 करोड़ रूपए जीतकर जायेंगे और अगर गलत जवाब दिया तो अफ़सोस कि आपको केवल 320000 रुपयों से ही संतुष्ट होना पड़ेगा!

क्या आप तैयार है?

संता हाँ!

अमिताभ: तो अंतिम प्रश्न आपके सामने है इनमें से कौन सा पक्षी अपना घोंसला नही बनाता? विकल्प है:

(ए) गोरैया (बी) राबिन (सी) कोयल (डी) बुलबुल !

संता ने थोड़ी देर सोचा फिर कहा मैं अपनी अंतिम लाइफलाइन का प्रयोग करना चाहता हूँ मैं अपने दोस्त बंता को फ़ोन करना चाहूँगा!

बंता को फोन लगाया गया बंता ने फोन उठाया!

हैलो बंताजी मैं अमिताभ बच्चन बोल रहा हूँ कौन बनेगा करोड़पति से हमारे सामने आपके मित्र बैठे हैं संताजी जिनको आखिरी प्रश्न के उत्तर के लिए आपकी मदद चाहिए अगली आवाज आपके मित्र की!

संता बंता से: बंता इन में से कौन सा पक्षी अपना घोंसला नही बनाता? विकल्प है: (ए) गोरैया (बी) राबिन (सी) कोयल (डी) बुलबुल!

बंता अरे संता ये तो बहुत आसान है इसका जवाब है (सी) कोयल!

संता: क्या तुम्हें पूरा विश्वास है!

बंता: हाँ बिल्कुल!

अमिताभ: आपने अभी अपने मित्र से बात की क्या आप 50 लाख लेकर जाना चाहेंगे या फिर हमारे साथ खेलेंगे!

संता: मैं खेलूँगा मैं अपने मित्र के साथ जाना चाहूँगा!

अमिताभ: क्या यह आपका फाइनल जवाब है?

संता: जी हाँ!

अमिताभ: पक्का!

संता: पक्का!

अमिताभ: जी हाँ संता जी आपने बहुत अच्छा खेला और आपका जवाब (सी) कोयल बिल्कुल सही है और आप जीत गए है 1 करोड़ रूपए आपको बहुत बहुत बधाई संता ने थोड़ी देर वहां सेलिब्रेट किया!

संता अगले दिन वापिस लुधिआना आ गया आते ही अपने मित्र बंता से मिला दोनों ही काफी खुश थे फिर एक रेस्टोरेंट में जाकर बैठ गए!

संता ने बंता की ओर रूबरू होते हुए पूछा अरे यार तुम मुझे ये बताओ कि तुम्हें कैसे पता था कि कोयल अपना घोंसला नही बनाती?

बंता ने कहा यार वैरी सिम्पल, हर कोई जानता है कि कोयल तो घड़ी में रहती है!
----------


संता की वकालत!
प्रोफेसर: अगर तुम्हे किसी को संतरा देना हो तो क्या बोलोगे?

संता: ये संतरा लो।

प्रोफेसर: नहीं, एक वकील की तरह बोलो।

संता: मैं एतद द्वारा अपनी पूरी रुचि और बिना किसी के दबाव में यह फल जो संतरा कहलाता है, को उसके छिलके, रस, गुदे और बीज समेत देता हूँ और साथ ही इस बात का सम्पूर्ण अधिकार भी कि इसे लेने वाला इसे काटने, छीलने, फ्रिज में रखने या खाने के लिये पूरी तरह अधिकार रखेगा और साथ ही यह भी अधिकार रखेगा कि इसे वो दूसरे को छिलके, रस, गुदे और बीज के बिना या उसके साथ दे सकता है...और इसके बाद मेरा किसी भी प्रकार से इस संतरे से कोई संबंध नहीं रह जाएगा।
----------
मुफ्त में लीजिये!
एक बार संता चेन्नई गया और वहां अपने तमिल दोस्त के घर जाकर ठहरा!

अगले दिन वह बाजार में खरीददारी के लिए अकेले ही चल पड़ा उसके मित्र ने कहा कि जब तुम खरीददारी करोगे तो जो भी सामान खरीदोगे उसकी कीमत जितनी दुकानदार कहेगा तुम उसे कहना कि इसका आधा दूंगा!

संता बाजार में पहुँच गया उसने एक स्टीरियो कि कीमत पूछी तो दुकानवाले ने कहा 2000 रूपए!

संता ने कहा मैं 1000 रूपए दूंगा!

दुकान वाले ने कहा साहब 1800 रूपए में दे सकता हूँ, इस पर संता ने कहा 900 रूपए!

दुकानदार ने कहा साहब बस अब लास्ट रेट 1500 रूपए लगेगा, संता ने कहा 750 रूपए!

इस पर दुकानदार ने चिढ़ कर कहा मैं आपको ये स्टीरियो मुफ्त में ही दे देता हूँ!

संता ने कहा मैं इसे तभी मुफ्त में लूँगा अगर तुम इसके साथ और एक स्टीरियो दोगे!
----------
बहुत बुरा हुआ!
एक आदमी गाँव में किसी के घर जा रहा था उसे एक घर के सामने काफी भीड़ दिखी उत्सुकतावश वह उस भीड़ को देखने चला गया उसने एक आदमी को पूछा अरे भाई! यहाँ इतनी भीड़ क्यों है?

गाँव के आदमी ने कहा बंता की खच्चर ने उसकी सास को लात मार दी और वह मर गयी!

ओ... हो ....ये तो बहुत बुरा हुआ.. लोगों की काफी भीड़ है लगता है उसके काफी दोस्त और रिश्तेदार थे!

गाँव के आदमी ने कहा अरे नही ये सब तो उस खच्चर को खरीदने वालों की भीड़ है, जिस खच्चर ने बंता की सास को लात मारी थी!
----------
शर्मीली बुढिया!
एक बार एक बूढी महिला अपने घर के आँगन मैं बैठी स्वेटर बुन रही थी कि तभी अचानक एक आदमी उसकी आँख बचाते हुए उसकी कुर्सी के नीचे बम रख कर भाग गया।

आदमी को इतनी जल्दी में भागते हुए देख, कुछ लोगों को शक हुआ तो उन्होंने आँगन में झाँक कर देखा तो उनकी नज़र बुढिया की कुर्सी के नीचे रखे बम पर पड़ी।

यह देख कर उन लोगों ने बुढिया को आगाह करने के लिए घर के बाहर से ही चिल्लाना शुरू कर दिया "बुढिया बम है, बुढिया बम है।"

यह शोर-गुल सुन कर बुढिया एक पल के लिए चौंकी और फिर शर्माते हुए बोली, " अरे अब वो बात कहाँ, बम तो मैं जवानी में होती थी।"
----------


संता और बंता का बिजनेस!
संता और बंता कोई बिजनेस शुरू करने कि सोच रहे थे बहुत चर्चा के बाद उन्होंने ये फैसला किया कि होटल का बिजनेस शुरू करते है!

उन्होंने होटल चलाने के लिए पहले एक अच्छी सी जगह देखी और फिर स्टाफ और अन्य सामग्री जो होटल के लिए आवश्यक होती है सब का प्रबंध किया फिर होटल का उदघाटन किया और काम शुरू कर दिया वो ग्राहकों का इन्तजार करने लगे एक दिन दो दिन... लगातार ऐसे ही 7 दिन बीत गए पर उनके पास कोई ग्राहक नहीं आया... जानते है क्यों?

क्योंकि होटल के प्रवेशद्वार पर लिखा था 'आगंतुकों का' आना मना है (विजिटर्स नॉट अलाउड)!

होटल का बिजनेस असफल होने के बाद उन्होंने फिर नया बिजनेस शुरू किया ऑटो गैराज का!

उन्होंने गैराज को बहुत बढ़िया सजाया, गाड़ियों के स्पेयर पार्ट और दूसरे यंत्र एकत्रित कर, उन्होंने जल्दी ही गैराज का काम शुरू कर दिया वो चाहते थे कि उनके गैराज के बाहर बहुत सी गाड़ियाँ आये पर लगातार 7 दिन तक उनके गैराज में एक भी गाड़ी नहीं आयी... जानते है क्यों?

क्योंकि उनका गैराज बिल्डिंग की पहली मंजिल पर था!
----------
क्या दूसरी शादी करोगे?
जीतो: अगर मैं मर जाऊं तो तुम क्या करोगे? क्या तुम दूसरी शादी कर लोगे?

संता: बिलकुल नहीं!

जीतो: क्यों नहीं- क्या तुम शादी करना नहीं चाहते?

संता: करना तो चाहता हूँ!

जीतो: फिर तुम दूसरी शादी क्यों नहीं कर लेते?

संता: ठीक है! मैं दूसरी शादी कर लेता हूँ!

जीतो: तुम्हें करनी चाहिए! (दुःख के साथ उसके चहेरे को देखकर)

संता: भारी मन के साथ हाँ बिलकुल!

जीतो: क्या उसके बाद तुम हमारे घर में रहोगे?

संता: हाँ ये काफी बड़ा घर है!

जीतो: क्या तुम उसके साथ हमारे बेड पर सोओगे?

संता: तो फिर हम कहाँ सोयेंगे!

जीतो: क्या तुम उसे मेरी गाड़ी चलाने दोगे?

संता: बिलकुल, ये अभी काफी नयी है!

जीतो: क्या तुम उसे मेरे गहने दोगे ?

संता: नहीं, मुझे लगता है उसके पास अपने गहने होंगे!

जीतो: क्या वो मेरे जूते भी पहेनेगी?

संता: नहीं, उसका जूता 6 नम्बर का है!

जीतो: चुप....

संता: ओह नो!
----------
बीयर के लिए धन्यवाद!
बंता एक बार में बीयर पीने के लिया गया जैसे ही बार वाले ने उसके गिलास में बीयर डाली बाहर एक बहुत जोर की आवाज हुई, वह बाहर यह देखने के लिया भागा की क्या हुआ पर जल्दी ही अपनी बीयर पीने के लिए वापिस आ गया!

जब वह वापिस पहुंचा उसने देखा उसका गिलास खाली है और साथ में एक नोट लिखा है, बीयर के लिए धन्यवाद! बंता थोड़ा सा परेशान हुआ पर फिर से उसने एक बीयर का ऑर्डर किया!

बार वाला फिर से बीयर डालने लगा उसे फिर से बाहर गली में एक जोर की आवाज सुनाई दी, उसे ऐसा लगा जैसे कोई उसकी कार लेकर भाग रहा है बंता बाहर की तरफ भागा अपनी कार को देखने लगा, उसने देखा उसकी कार बिलकुल वहीँ है जहाँ उसने उसे पार्क किया था!

वह वापिस बार में आया तो देखा उसका गिलास फिर से खाली है साथ में एक और नोट लिखा था धन्यवाद, ये पहले वाले से भी बढ़िया था! उसने अभी एक बीयर का गिलास भी नहीं पिया था इसलिए उसने बार वाले को बीयर लाने को कहा!

जैसे ही बार वाले ने बीयर डाली फिर से एक जोर का धमाका हुआ इस बार बंता अपनी बीयर किसी और को नहीं देना चाहता था, इसलिए उसने बीयर में थूक दिया और साथ में एक नोट लिखा!

अब पियो मैंने इसमें थूक दिया है फिर वो बाहर क्या हुआ, ये देखने के लिए भागा, जब बंता वापिस आया तो बड़ा खुश हुआ कि उसकी बीयर वैसे ही पड़ी है जैसी वो छोड़ के गया था! पर इस बार भी एक नोट पड़ा था जिसपर लिखा था तुम पियो, मैंने भी इसमें थूक दिया है!
----------
संता बंता की यात्रा!
संता और बंता दक्षिण अफ्रीका के एक आइलैंड में किसी जनजाति के जीवन शैली के अध्ययन के लिए गए जब वे वहां नाव से जा रहे थे तो उनकी नाव समुद्री तूफान के आने से डगमगाने लगी और वे दोनों तूफान आने से अलग अलग हो गए!

कुछ महीनों के बाद संता अपनी नाव लेकर अपने आईलैंड से दूर निकाल गया और वह दूसरे आइलैंड पर पहुँच गया!

जब वहां पहुंचा तो वह बंता को देखकर काफी खुश हो गया उसने देखा बंता वहां के स्थानीय लोगों के साथ कुछ बातें कर रहा है!

संता ने बंता से पूछा बंता कैसा लग रहा है तुम्हें यहाँ?

बंता बहुत अच्छा उसने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मैं इन लोगों के साथ इनकी भाषा सीखने की कोशिश कर रहा हूँ और एक चमत्कार इनकी भाषा का मैं तुम्हें दिखाता हूँ!

बंता ने उन लोगों की तरफ देखा और ताड़ के पेड़ की तरफ इशारा करते हुए पूछा ये क्या है?

सभी लोगों ने एक साथ मिलकर जवाब दिया उमांगो-गोंग (umangon gong)!

फिर उसने पहाड़ी की तरफ इशारा करते हुए पूछा ये क्या है?

उन सभी ने फिर से कहा उमांगो गोंग!

तब बंता ने कहा तुमने देखा इन्होने ताड़ के पेड़ और पहाड़ी को बोलने के लिए एक ही शब्द का प्रयोग किया!

संता ने कहा वाकई ये तो सच में हैरानी की बात है जिस आइलैंड में मैं रहता हूँ वहां इसका मतलब तर्जनी (इंडेक्स फिंगर) होता है!
----------


तलाक चाहता हूँ!
बंता: प्रीतो और मैं तलाक ले रहे है!

संता हैरान होते हुए क्यों क्या हुआ तुम दोनों तो बहुत अच्छे से रहते हो!

अच्छा! उसने कहा जब से हम लोगों ने शादी की है तब से प्रीतो मुझे बदलने की कोशिश में लगी हुई है, सबसे पहले उसने मुझे शराब पीने से रोका, फिर सिगरेट फिर इधर-उधर आवारा घूमने से, उसने मुझे सिखाया कि अच्छे कपड़े कैसे पहनते है, उसने मुझे संगीत और कला के प्रति रूचि पाक कला आदि सब सिखाये और स्टॉक मार्केट में कैसे निवेश करना है ये सब भी उसी ने सिखाया!

संता ने कहा क्या तुम बस इसलिए नाराज हो कि उसने तुम्हें बदलने के लिए ये सब किया!

अरे मैं नाराज नहीं हूँ मैं अब काफी सुधर चुका हूँ अब वो मुझे अपने लायक नहीं लगती!
----------
कुदरत का धोखा!
एक मरीज डॉक्टर के पास गया।

मरीज: डॉक्टर साहब मेरे कान में मटर का पौधा उग आया है।

डॉक्टर: यह तो बड़ी हैरानी की बात है!

मरीज: जी हां डॉक्टर साहब हैरानी की बात तो है ही क्योंकि मैंने तो अपने कान में भिन्डी के बीज डाले थे।
----------
संता की खर्चीली पत्नी!
संता: यार, मेरी बीवी ने तो मेरी जान खा रखी है पिछले हफ्ते उसने मुझसे 200 रुपये मांगे, परसों 500 मांगे, कल 1000 मांग रही थी और आज तो 2000 रुपये मांग लिए।

बंता: कमाल है आखिर इतने पैसों का वह करती क्या है?

संता: पता नहीं आज तक तो मैंने दिए नहीं।
----------
जल्दी आईये!
एक आबादी वाले कस्बे से थोड़ा दूर एक छोटे से घर में एक महिला रहती थी उसका घर काफी छोटा था घर के पीछे एक बड़ा सा खेत था जिसमें वह अक्सर काम करती रहती और घर के पीछे की तरफ ही एक छोटा सा स्टोर था जिसमें वह खेती करने के छोटे मोटे औजार रखती थी!

एक दिन वह खेत में काम कर रही थी तो उसने देखा कि उसके घर की छत से बाहर को काफी धुंआ निकाल रहा है घबराहट में उसने 911 पर डायल किया!

वहां से आवाज आयी जी हाँ आपातकालीन सेवा! .......कहिये हम आपके लिए क्या कर सकते है?

महिला ने कहा मेरे घर में आग लगी है

अग्निशमन वाले ने कहा आप घबराइये मत हम आ रहे है पर आप रहती कहाँ है?

महिला: घर में! .......जल्दी आईये!

अग्निशमन वाले ने कहा पर जहाँ आप रहती है हम वहां पहुंचे कैसे?

महिला ने कहा आपके पास जो बड़ी सी लाल गाड़ी है उसमें आईये!
----------


गधे की सवारी!
संता ट्रैफिक पुलिस के इंटरव्यू के लिए गया:

इंटरव्यूअर: एक आदमी गधे की सवारी करता हुआ रोड से जा रहा है और उसने हेलमेट नहीं पहना है तो क्या आप उसे दण्डित करेंगे?

संता: नहीं!

इंटरव्यूअर: क्यों?

संता: क्योंकि हेलमेट 2 व्हीलर के लिए जरूरी है, 4 व्हीलर के लिए नही!
----------
तीन अपराधी!
तीन अपराधी जेल से भाग गए एक मद्रासी एक गुजराती और एक संता!

जेल से भागने के बाद वे काफी दूर निकल आये थे जब उन्हें लगा कि काफी दूर आ गए है तो तीनों एक जगह आराम करने लगे तभी उन्हें दूर कुछ लोग आते हुए नजर आये उन्होंने आपस में कहा की हो नो हो ये पुलिस वाले है जो हमारा पीछा कर रहे है!

वे तीनों अफरातफरी में ऊपर पहाड़ी की तरफ चढ़ने लगे अभी थोड़ा दूर ही गए थे कि उन्हें वहां एक झोपड़ा सा नजर आया वे तीनों उस में घुस गए!

पुलिस उनका पीछा करते करते वहां भी पहुँच गयी तीनों ने अपने आप को बड़ी बड़ी बोरियों में घुसा रखा था पुलिस वाले ने सिपाई से कहा देखो तो जरा इन बोरियों में क्या है?

सिपाई ने पहली बोरी को टटोला और एक जोर की लात मार दी उस बोरी में मद्रासी था उसने ... बाऊं.....बाऊं की आवाज की!

सिपाई ने कहा साहब इसमें कुत्ता है!

दूसरी बोरी पर भी लात मारी तो उसमें गुजराती था उसने मिं...आऊं मिं...आऊं की आवाज की!

सिपाई ने कहा इसमें तो बिल्ली है साहब!

फिर उसने तीसरी बोरी पर लात मारी जिसमें संता था उसने एक.. दो..तीन..चार लातें मारी पर उसमें से कोई आवाज नहीं आयी उसने फिर उस पर लातें मारनी शुरू कर दी और अंत में जब लातें सहन नहीं हुई तो संता ने कहा.......आलू!
----------
झंझट में फंस गया
संता एक बार शिकार करने चला गया और साथ में अपनी पत्नि जीतो और सास को भी ले गया!

एक शाम को जंगल में बहुत गहरा अँधेरा था सब कुछ शांत था और जीतो अपनी माँ को इधर उधर ढूंढने लगी, जब उसे अपनी माँ कहीं भी नहीं नजर आयी तो उसने संता को बताया कि माँ पता नहीं कहाँ है!

तब संता ने अपनी राइफल उठाई और बाहर निकल गया संता ने थोड़ी सी शराब भी पी रखी थी वो जहाँ ठहरे थे पहले उन्होंने उसके चारों ओर ढूंढा पर उन्हें संता की सास कहीं नहीं मिली फिर वे दोनों जंगल में काफी दूर आ गए!

तभी जीतो की नजर सामने अपनी माँ पर पड़ी उसकी माँ के बिल्कुल सामने शेर था!

वह घबराते हुए संता से कहने लगी अब हमें क्या करना चाहिए?

संता ने कहा कुछ नहीं! शेर खुद ही इस झंझट में फंसा है, अब इसे खुद ही इस झंझट से बाहर निकलना है!
----------
आलू की बोरी!
तीन अपराधी जेल से भाग गए एक मद्रासी एक गुजराती और संता।

जेल से भागने के बाद वे काफी दूर निकल आये थे जब उन्हें लगा कि काफी दूर आ गए है तो तीनों एक जगह आराम करने लगे तभी उन्हें दूर कुछ लोग आते हुए नजर आये उन्होंने आपस में कहा, "हो नो हो ये पुलिस वाले है जो हमारा पीछा कर रहे है।"

वे तीनों अफरातफरी में ऊपर पहाड़ी की तरफ चढ़ने लगे अभी थोड़ा दूर ही गए थे कि उन्हें वहां एक झोपड़ा नजर आया और वे तीनों उस में घुस गए।

पुलिस उनका पीछा करते करते वहां भी पहुँच गयी तो तीनों ने अपने आप को बड़ी बड़ी बोरियों छुपा लिया, पुलिस वाले ने सिपाई से कहा देखो तो जरा इन बोरियों में क्या है?

सिपाई ने पहली बोरी को टटोला और एक जोर की लात मार दी, उस बोरी में मद्रासी था उसने ... बाऊं.....बाऊं की आवाज की।

सिपाई ने कहा, "साहब इसमें कुत्ता है।"

दूसरी बोरी पर भी लात मारी तो उसमें गुजराती था, उसने मिं...आऊं मिं...आऊं की आवाज की।

सिपाई ने कहा,"इसमें तो बिल्ली है साहब।"

फिर उसने तीसरी बोरी पर लात मारी जिसमें संता था उसने एक.. दो..तीन..चार लातें मारी पर उसमें से कोई आवाज नहीं आयी उसने फिर उस पर लातें मारनी शुरू कर दी और अंत में जब लातें सहन नहीं हुई तो बोरी के अन्दर से संता ने कहा, "आलू हूँ कम्बखत आलू।"
----------


मच्छरों का मातम!
संता ने अपने आलसी नौकर से कहा, यहाँ पर इतने सारे मच्छर गुनगुना रहे हैं तू इन्हें मार गिरा।

थोड़ी देर बाद संता फिर से बोला।

संता: अबे साले नौकर के बच्चे मैंने तूझे मच्छर मारने को कहा था, अभी तक तूने मारे नहीं वो अब भी गुन-गुना रहे हैं।

नौकर: साहब मच्छर तो मैंने मार दिए, यह तो उनकी पत्नियां हैं जो विधवा होकर रो रही हैं।
----------
ये कैसी मोहब्बत है?
बंता: यार क्या तूने कभी प्यार किया है?

संता: हाँ भाई किया तो है।

बंता: अच्छा तो बता मोहब्बत क्या है?

संता कुछ देर सोचता है और कहता है, "मोहब्बत एक से हो, तो भोलापन है, दो से हो तो अपनापन है, तीन से हो तो दीवानापन है, चार से हो तो पागलपन है और अगर फिर भी गिनती ना रुके तो कमीनापन है।
----------
हाजिरजवाबी और बुद्दिमत्ता!
लम्बी हवाई यात्रा करते हुए आइन्स्टीन और बंता एक दूसरे के सामने बैठे हुए थे।

आइन्स्टीन ने कहा, "चलो एक खेल खेलतें हैं, मैं एक प्रश्न पूछता हूँ अगर तुम्हें उसका जवाब न आये तो तुम मुझे 5 डॉलर देना अगर मुझे जवाब नहीं आएगा तो मैं तुम्हें 500 डॉलर दूंगा।"

आइन्स्टीन ने पहले प्रश्न पूछा, "धरती से चंद्रमा की दूरी कितनी है?"

बंता ने कुछ नहीं कहा और अपनी जेब से 5 डॉलर निकाले।

अब बंता की बारी थी उसने आइन्स्टीन से पूछा, "ऐसा क्या है जो तीन पैरों पर पहाड़ी पर चढ़ता है और चार पैरों पर वापिस उतरता है?"

आइन्स्टीन ने नेट पर खोजना शुरू कर दिया उसने अपने सभी दोस्तों को पूछा, और एक घंटे के बाद उसने बंता को 500 डॉलर दे दिए, आइन्स्टीन ने पागल होते हुए पूछा, "अब बताओ वो क्या है जो तीन पैरों पर पहाड़ी पर चढ़ता है और चार पैरों पर उतरता है?"

बंता ने जेब से 5 डॉलर निकाले और आइन्स्टीन को दे दिए।
----------
हिसाब बराबर!
एक बार एक बच्चे ने संता की दुकान से 45 रूपए का सामान खरीदा और उसे 5 के नोट में 5 की आगे 0 लगा कर दिया और कहा," ये लो 50 रूपए 5 रूपए वापस दो।

संता को यह पता चल गया तो उसने सोचा कि इसका बदला लेना चाहिए।

तो उसने जेब से 50 का नोट निकाला और उसका 0 पेंसिल से काट दिया और बोला," ले 5 रूपए, अब तो हिसाब बराबर?"
----------


पति का सपना!
पति: मैंने रात को सपना देखा।

पत्नी: क्या देखा?

पति: कि तुम प्यार कर रही हो।

पत्नी: किससे?

पति: वही तो मैं पहचान नहीं सका। रात मैं बिना चश्मे के ही सो गया था।
----------
संता की खरीदारी!
एक बार संता एक दुकान पर गया और दुकानदार से बोला।

संता: साबुन है ?

दुकानदार: नहीं।

संता: सिगरेट है ?

दुकानदार: नहीं।

संता: माचिस है ?

दुकानदार: नहीं।

संता: अच्छा चीनी तो होगी?

दुकानदार: नहीं भाईसाहब वो भी नहीं।

संता (गुस्से से): ताला है ?

दुकानदार: हाँ, है।

संता: तो फिर दुकान को लगा दे और घर बैठ।
----------
बिल्ली की धुलाई!
एक दिन संता सर्दियों के दिनों में बिल्ली को ठन्डे पानी से नहला रहा था।

संता को बिल्ली को ठन्डे पानी से नहलाते हुए देख बंता उससे बोला, " यह क्या कर रहे हो? इतनी सर्दी में ठंडे पानी से वह मर जायेगी", और इतना कहकर बंता वहां से चला गया।"

जब वह वापस लौटा तो बिल्ली को मरा हुआ देखकर वह संता से बोला, "मैंने कहा था न कि मर जायेगी।"

संता: " ओ यार ये नहलाने से नहीं मरी, बल्कि नहलाने के बाद निचोड़ने से मर गयी।"
----------
अंग्रेजी लड़की!
बंता की पत्नी प्रीतो दो महीने के लिए कंपनी से प्रशिक्षण लेने के लिए इंग्लैंड जा रही थी, बंता उसे छोड़ने हवाई अडडे चला गया और उसे अच्छी यात्रा के लिए शुभकामनायें दी!

प्रीतो ने थैंक्यू कहा और कहने लगी जब मैं वापिस आउंगी तो तुम्हारे लिए क्या लेकर आऊं?

बंता हंसने लगा और कहा एक अंग्रेजी लड़की!

प्रीतो ने कुछ नहीं कहा और चुपचाप चली गयी!

दो सप्ताह बाद जब प्रीतो लौटकर आयी तो बंता प्रीतो को लेने हवाई अडडे पहुँच गया, हाल चल पूछा और पूछने लगा कैसी रही तुम्हारी यात्रा!

प्रीतो ने कहा बहुत अच्छी, और मैंने जो मंगवाया था उसका क्या हुआ, मैंने तुम्हें कहा था कि मेरे लिए एक अंग्रेजी लड़की लेकर आना!

प्रीतो ने कहा ले तो आयी हूँ अब कुछ महीने बाद पता चलेगा, अगर ये लड़की हुई!
----------


संता की समझदारी!
संता ने घर का दरवाजा उखाड़ा और कंधे पर रखकर बाज़ार में चला गया।

एक आदमी ने पूछा, "ओ पाजी, क्या आपने दरवाजा बेचना है?"

संता: नहीं ताला खुलवाना है, चाबी गुम हो गई है।

हंसो मत जोक अभी आगे है।

आदमी ने संता से पूछा, "अगर घर में चोर घुस जाये तो?"

संता: अन्दर कैसे जायेगा, दरवाजा तो मेरे पास है।
----------
आलस की भी हद है!
संता और बंता एक रोज आलस के मारे एक कमरे में लेटे हुए थे।

बंता: यार जरा बाहर जाकर तो देख, बारिश हो रही है क्या?

संता: हाँ, बारिश हो रही है।

बंता: बिना देखे ही तू कैसे कह सकता है?

संता: अभी-अभी जो बिल्ली अंदर आई थी वो भीगी हुई थी, इसका मतलब बारिश हो रही है।

थोड़ी देर बाद बंता फिर बोला, "जरा बत्ती तो बुझा दे यार, मुझे रौशनी में नींद नहीं आती।"

संता: आंखें बंद कर लो अपने-आप अंधेरा हो जायेगा।

बंता झल्लाकर बोला, "कम से कम दरवाजा तो बंद कर ले।"

संता: अब दो काम मैंने कर दिए, एक-आध काम तू खुद भी कर ले।
----------
बंता का दामाद!
एक नौजवान बंता की लड़की का हाथ मांगने उसके घर गया बंता जानता था कि वो कुछ भी नहीं कमाता और आवारा घूमता रहता है!

बंता ने लड़के से कहा, मैं नहीं चाहता कि मेरी बेटी जिन्दगी भर एक गधे के साथ रहे!

लड़के ने कहा मैं जानता हूँ, तभी तो मैं इससे शादी करना चाहता हूँ
----------
आज आखिरी दिन है
संता एक बार में जाता है और बार वाले से कहता है मुझे एक जोरदार पैग पिलाओ बार वाला पैग लेकर आता है, संता पैग उठाता है और इसे इसे एक सांस में पी जाता है देता, वह एक और पैग लाने के लिए कहता है इसे भी जल्दी पी के रख देता है!

पांच, छह पैग पीने के बाद बार वाला सोचता है, कि अब वो उसे और शराब नहीं पिलाएगा, बार वाला संता से कहता है, अरे आज क्या बात है? क्या बीवी से झगड़ा हुआ है या कुछ और ?

संता आह भरते हुए कहता है, हाँ झगड़ा हुआ है और झगड़े के बाद मेरी बीवी ने कहा एक महीने तक उससे बात नहीं करनी बार वाले ने कहा, तो इसमें गलत क्या है ?

संता ने कहा, अरे आज बात न करने का आखिरी दिन है!
----------


घोड़े की दवा!
एक बार संता के घोड़े को कब्ज़ हो जाती है तो वह जानवरों के डॉक्टर के पास जाता है और उस से कहता है," डॉक्टर साहब मेरे घोड़े को बहुत ही बुरी तरह से कब्ज़ हो गयी है, जिस वजह से वह ठीक तरह से शौच भी नहीं जा पा रहा है।

संता की बात सुन कर डॉक्टर उसे एक गोली देता है और कहता है, " यह लो यह पेट साफ़ करने की गोली है, तुम इसे पशुओं को दवाई देने वाली नली में रख कर इसका एक सिरा घोड़े के मुंह में डाल देना और दूसरी तरफ से फूंक मार देना ताकि गोली घोड़े के पेट में चली जाए, और कुछ देर बाद ही तुम देखोगे की घोड़े के शौच एकदम सामान्य हो जायेंगे और उसका पेट भी बिल्कुल साफ़ हो जाएगा।"

डॉक्टर की बात सुन संता दवा लेकर घर चला जाता है।

कुछ देर बाद जब डॉक्टर अपने चिकित्सालय में बैठा होता है तो संता बदहवास सा अपना पेट पकडे डॉक्टर के पास आता है जिसे देख कर डॉक्टर उस से पूछता है।

डॉक्टर: अरे संता क्या हुआ तुम्हारी तो हालत बड़ी ही खराब लग रही है?

संता : अरे डॉक्टर साहब क्या बताऊँ ये सब घोड़े को दवाई देने के चक्कर में हो गया।

संता की बात सुन डॉक्टर हैरान सा होकर पूछता है, "वो कैसे?"

संता: अरे डॉक्टर साहब आपने घोड़े को दवाई देने का जो तरीका बताया था, मैंने बिल्कुल वैसा ही किया बस किस्मत ही खराब थी की मेरे से पहले घोड़े ने फूँक मार दी।
----------
विवाहित-अविवाहित का फर्क!
एक बार बंता, संता की दुकान पर जाता है, और कुछ देर आते-जाते हुए ग्राहकों को देख कर उसके दिमाग में एक सवाल आता है।

थोड़ी देर बाद जब संता अपने काम से फारीख हो जाता है तो बंता उससे पूछता है, "यार संता एक बात बता तू कैसे जान जाता है कि माल लेने वाले ग्राहक पति-पत्नी हैं या प्रेमी-प्रेमिका?

संता: आसान है यार, यदि कोई चुपचाप खरीदारी करें तो समझो प्रेमी-प्रेमिका हैं, और यदि केवल मोल-तोल करते हुए आपस में झगडें तो समझ लो कि पति-पत्नी हैं।
----------
संता की खुशकिस्मती!
फूलवाला: साहब ये फूल अपनी गर्लफ्रेंड के लिए ले लो।

संता: मेरी कोई गर्लफ्रेंड नही है।

फूलवाला: तो फिर अपनी मंगेतर के लिए ही ले लो।

संता: वो भी नही है।

फूलवाला: तो फिर अपनी बीवी के लिए ले लो।

संता: मेरी बीवी भी नही है।

फूलवाला: ऐ दुनिया के सबसे खुशकिस्मत इंसान, मेरी तरफ से ये फूल तेरे लिए।
----------
आज आखिरी दिन है!
संता एक बार में जाता है और बार वाले से कहता है,"मुझे एक जोरदार पैग पिलाओ।"

बार वाला पैग लेकर आता है, संता पैग उठाता है और इसे इसे एक सांस में पी जाता है।

संता एक और पैग लाने के लिए कहता है वह भी जल्दी पी के रख देता है।

पांच, छह पैग पीने के बाद बार वाला सोचता है, कि अब वो उसे और शराब नहीं पिलाएगा, बार वाला संता से कहता है, "अरे आज क्या बात है? क्या बीवी से झगड़ा हुआ है या कुछ और?"

संता आह भरते हुए कहता है, "हाँ झगड़ा हुआ है और झगड़े के बाद मेरी बीवी ने कहा एक महीने तक उससे बात नहीं करनी।"

बार वाले ने कहा, "तो इसमें गलत क्या है?"

संता ने कहा, अरे आज बात न करने का आखिरी दिन है।
----------


नर्क और स्वर्ग!
एक बार संता की प्रेमिका ने संता से बड़े ही रूमानी अंदाज़ में कहा।

प्रेमिका: जानू एक बात पूछूं तो क्या तुम उसका सही-सही जवाब दोगे?

संता: हाँ-हाँ पूछो।

प्रेमिका: अच्छा तो बताओ, अगर जोड़ियां स्वर्ग में बनती हैं तो शादी भी वहीं क्यों नहीं हो जाती?

संता कुछ देर सोचता रहा और बोला,"अरे बेवकूफ अगर वहां भी शादियां होने लगीं तो स्वर्ग, नर्क नहीं बन जाएगा क्या?"
----------
मैं भी नहीं जानता!
बंता और उसका बेटा एक दिन मछलियाँ पकड़ने गए हुए थे, काफी देर तक वे दोनों नाव पर बैठे रहे पर उनके हाथ कुछ नहीं लगा!

उसका बेटा बोर हो रहा था, उसने अपने पापा से ऐसे ही इधर उधर की बातें शुरू कर दी!

बातों बातों में उसने अपने पापा से पूछ लिया... पापा ये तो बताओ ये नाव तैरती कैसे है?

बंता ने थोड़ी देर सोचा और जवाब दिया बेटा ये तो ठीक से मैं भी नहीं जानता!

बच्चा थोड़ी देर चुप रहा फिर से उसने अपने पापा को पूछा पापा ये तो बताओ मछलियाँ पानी के अन्दर रहकर सांस कैसे लेती है?

बंता ने फिर से वही जवाब दिया ये तो मैं भी ठीक से नहीं जानता!

थोड़ी देर बाद बच्चे ने फिर से पूछा पापा आसमान नीला क्यों है?

बंता ने एक बार फिर से वही जवाब दिया ये तो मैं भी ठीक से नहीं जानता!

बच्चा दु:खी हो गया और नाराज होकर अपने पापा से कहने लगा... पापा क्या आपको लगता है कि मैंने आपसे जो प्रश्न पूछे वो गलत थे?

बंता ने उसे आश्वस्त करते हुए कहा नहीं बेटा, बिल्कुल नहीं अगर तुम प्रश्न नहीं पूछोगे तो फिर तुम कुछ भी नहीं सीख सकोगे!
----------
कड़क रोटी!
एक बार संता एक दांतों के डॉक्टर के पास जाता और अपनी परेशानी बताता है।

डॉक्टर : वो तो सब ठीक है पर आपके ये तीन दांत टूटे कैसे?

संता: पत्नी ने कड़क रोटी बनाई थी।

डॉक्टर: अरे तो दांत तुडवाने से अच्छा था कि आप खाने से मना कर देते।

संता: वही तो किया था।
----------
स्वर्ग में क्रिकेट है क्या?
संता और बंता काफी सालो से अच्छे दोस्त थे, और अब दोनों की उम्र अब लगभग 90 के आसपास हो चुकी थी।

एक बार संता बहुत बीमार पड़ गया तो बंता उससे रोज मिलने के लिए आता और रोज वे अपने दोस्ती के किस्से दोहराते।

गुज़रते वक़्त के साथ संता और बंता दोनों को ही अब लगभग यकीन हो चला था कि संता अब बस चंद दिनो का ही मेहमान है, तो एक दिन बंता ने संता से कहा, ''देखो जब तुम मर जाओगे, तो क्या मेरे लिए एक काम करोगे?''

संता: कौन सा काम?'

क्योंकि संता और बंता दोनों ही क्रिकेट के बहुत दीवाने थे इसीलिए बंता ने संता से कहा, "तुम मरने के बाद क्या मुझे यह बताओगे कि स्वर्ग में क्रिकेट है या नहीं?"

संता: क्यों नहीं जरुर।

और कुछ दिनों के बाद संता भगवान को प्यारा हो गया।

कुछ दिन बाद बंता जब सो रहा होता है संता उसके सपने में आता है और कहता है, ''तुम्हारे लिए मेरे पास दो खबरें है. . .एक बुरी और एक अच्छी।

बंता: तो पहले अच्छी खबर सुनाओ।

संता: अच्छी खबर यह है कि स्वर्ग में क्रिकेट है।

बंता:और बुरी खबर?

संता: बुरी खबर यह है कि तुम्हें आनेवाले रविवार को होने वाले मैच में बॉलिंग करनी है।

----------



तलाक का अनोखा कारण!
बंता: प्रीतो और मैं तलाक ले रहे है।

संता हैरान होते हुए, "क्यों क्या हुआ तुम दोनों तो बहुत अच्छे से रहते हो।"

बंता: जब से हम लोगों ने शादी की है तब से प्रीतो मुझे बदलने की कोशिश में लगी हुई है, सबसे पहले उसने मुझे शराब पीने से रोका, फिर सिगरेट फिर इधर-उधर आवारा घूमने से। उसने मुझे सिखाया कि अच्छे कपड़े कैसे पहनते है, उसने मुझे संगीत और कला के प्रति रूचि आदि सब सिखाये और स्टॉक मार्केट में कैसे निवेश करना है ये सब भी उसी ने सिखाया।

संता ने कहा, "क्या तुम बस इसलिए नाराज हो कि उसने तुम्हें बदलने के लिए ये सब किया।"

बंता: अरे मैं नाराज नहीं हूँ मैं अब काफी सुधर चुका हूँ तो अब वो मुझे अपने लायक नहीं लगती।
----------
संता का बदला!
संता अपने पडोसी दोस्त बंता से बोला, "अबे आज सुबह तेरे कुत्ते ने मेरी किताब फाड़ दी।"

बंता: मैं उसे अभी सजा देता हूँ।

संता: रहने दे भाई, मैंने सजा दे दी है।

बंता हैरानी से, "कैसे?"

संता: मैंने उसके कटोरे का दूध पी लिया।
----------
कभी खान में काम किया है!
संता और बंता ने एक खान में नौकरी के लिए आवेदन किया जो उनके गाँव के नजदीक ही थी जब उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया तो वे प्रतीक्षा कक्ष में बैठे थे, तभी बंता को अन्दर बुलाया!

इंटरव्यू लेने वाले ने पूछा तो बंता जी, आपको खान में काम करने का कितना अनुभव है? क्या आपने पहले भी खान में काम किया है?

बंता ने जवाब दिया जी हाँ, किया है!

इंटरव्यू लेने वाले ने पूछा आपने खान में कितनी गहराई तक काम किया है?

बंता यही कोई 8-10 फुट की गहराई तक!

इंटरव्यू लेने वाले ने कहा अरे, खान में बहुत गहराई में काम करना पड़ता है, तुम जाओ तुमसे ये काम नहीं होगा!

बंता बाहर आ गया और संता से कहने लगा कि अगर तुम्हें नौकरी करनी है तो अन्दर यह कहना कि मैंने भूमि के अन्दर बहुत गहराई में काम किया है तब तुम्हें नौकरी मिल जायेगी!

संता को जब अन्दर बुलाया तो इंटरव्यू लेने वाले ने संता से पूछा, क्या तुमने कभी भूमिगत खान में काम किया है?

संता बिलकुल किया है सर!

इंटरव्यू लेने वाले ने पूछा कितनी गहराई तक तुमने काम किया है?

संता: सर लगभग 20000 फुट कि गहराई तक किया है!

इंटरव्यू लेने वाले ने हैरान होते हुए पूछा क्या 20000 फुट की गहराई तक! तो फिर इतनी गहराई में तुम रोशनी का प्रयोग किस तरह करते थे?

संता ने कहा सर मुझे रोशनी की क्या जरुरत थी मेरी ड्यूटी तो दिन की शिफ्ट में थी!
----------
संता का भ्रम!
बंता सोचता था की वो मर गया है, परन्तु वास्तव में वो जिन्दा था, उसका भ्रम उसके परिवार के लिए एक समस्या बन गया था, और आखिर में उन्होंने उसे एक मनोचिकित्सक को दिखाया!

मनोचिकित्सक ने कई तरह से बंता को आश्वासन दिया की वो जिन्दा है, घबराने की जरुरत नहीं है!

अंत में डॉक्टर ने एक अंतिम तरीका सोचा जिससे संता को यकीन हो जाए की वो जिन्दा है!

उसने बंता को अपनी किताबें दिखाई जिसमें लिखा था मरे हुए आदमी से खून नहीं निकलता कुछ देर उन उबाऊ किताबें पढ़ने के बाद बंता ने मान लिया कि मरे हुए आदमी से खून नहीं निकलता!

डॉक्टर ने बंता से पूछा: अब तो तुम मान गए न की मरे हुए आदमी से खून नहीं निकलता?

बंता ने कहा: हाँ में मान गया हूँ, डॉक्टर ने कहा: बहुत अच्छे!

उसने एक पिन निकाली और बंता की ऊँगली में चुभो दी ऊँगली से खून की बूंदें निकलने लगी!

तब डॉक्टर ने पूछा: अब तुम क्या कहते हो?

हे भगवान! बंता ने अपनी ऊँगली की ओर हैरानी से देखा.... मरे हुए आदमी से भी खून निकलता है!
----------



नेता संता!
एक बार एक नेता ने संता के बच्चे को पेड़ से गिरने से बचाया।

संता ने उसे मर्सीडीज गिफ्ट की।

एक दिन संता का ऐक्सिडेंट हो गया और नेता ने उसे खून दिया।

इस बार संता ने उसे तिल वाले लड्डू दिए।

नेता (गुस्से से): इस बार मर्सीडीज क्यों नहीं दी?

संता: अब मेरी रगों में भी नेता का खून दौड़ रहा है।
----------
संता का फर्नीचर कारोबार!
संता एक फर्नीचर डीलर था उसने अपने फर्नीचर का कारोबार बढ़ाने के बारे में सोचा और वो इसी सिलसिले में कुछ बढ़िया फर्नीचर देखने के लिए पेरिस चला गया!

पेरिस पहुँचने के बाद (यह उसकी फ्रांस की राजधानी की पहली यात्रा थी) वह कई फर्नीचर बनाने वालों से मिला और अंत में कई तरह के फर्नीचर के नमूने पसंद करके उसने सोचा जब इंडिया वापिस लौटूंगा तो इन सबको साथ लेकर जाऊंगा!

अपने नए कारोबार को शुरू करने की ख़ुशी में संता एक पब में जाकर शराब पीने लगा, वह बैठे हुए शराब पीने का आनंद ले रहा था तभी थोड़ी देर में एक सुंदर सी महिला उसके टेबल के पास आई और कुछ फ्रेंच भाषा में उससे पूछने लगी (जिसे वो समझ नहीं पाया) और उसने कुर्सी की तरफ इशारा किया!

उसने उसे बैठने के लिए कहा उसने उसके साथ हिंदी, अंग्रेजी और पंजाबी में बात करने की कोशिश की पर उसने कुछ नहीं कहा क्योंकि वो इनमें से किसी भी भाषा को नहीं जानती थी इसलिए थोड़ी देर बाद उसने उसके साथ इशारों में बातें करनी शुरू कर दी, उसने एक नैपकिन पेपर उठाया और उस पर शराब का गिलास बनाया और उसे दिखाया!

उस लड़की ने हाँ में सिर हिलाया और संता ने उसके लिए एक शराब का गिलास मंगवाया!

कुछ देर साथ में टेबल पर बैठने के बाद उसने और एक नैपकिन निकाला और उस पर एक प्लेट बनाई जिसमें कुछ खाने की चीज बनाई, और उस लड़की ने हाँ में सिर हिला दिया!

थोड़ी देर बाद वे वहां से बाहर चले गए और एक शांत कैफे में गए जहाँ एक म्यूजिकल ग्रुप बड़ा मीठा संगीत बजा रहे थे, उन्होंने डीनर मंगवाया, डीनर करने के बाद संता ने एक और नैपकिन उठाया और उस पर नाचते हुए जोड़े की तस्वीर बनाई और उस महिला को दिखाई!

लड़की ने हाँ में सिर हिलाया और दोनों डांस करने लगे, वे दोनों तब तक डांस करते रहे जब तक कैफे बंद नहीं हुआ और बैंड वालों ने बैंड बजाना बंद नहीं किया!

उसके बाद वे दोनों अपने टेबल के पास आये, उस लड़की ने नैपकिन उठाया और उस पर एक बिस्तर बनाया!

आज तक संता को ये पता नहीं चला की उस लड़की को कैसे पता लगा कि उसका फर्नीचर का कारोबार है!
----------
ब्रेकफेल!
ट्रैफिक पुलिस ने हाई स्पीड से गाड़ी चला रहे बंता की गाड़ी को रोका और बंता से पूछा:

क्या तुम्हें पता नही यह प्रतिबंधित क्षेत्र है यहाँ हाई स्पीड से गाड़ी चलाना मना है, तुम इतना तेज गाड़ी क्यों चला रहे थे?

बंता ने जवाब दिया मेरी गाड़ी की ब्रेक फेल हो गयी है, इससे पहले की एक्सिडेंट हो जाये मैं घर पहुंचना चाहता था!
----------
नहले पे दहला!
एक बार संता और बंता पार्क में बैठे अपनी शादी के बारे में बातें कर रहे थे।

बंता : यार संता एक बात बता कि मैं ऐसा क्या करूँ कि मैं तेरी शादी के बाद मैं तेरी बीवी को फिल्म दिखाने को लेकर जाऊं और तू नाराज़ भी ना हो?

संता खुश होते हुए, " तू मेरी शादी अपनी बहन के साथ करा दे।
----------



दुकानदार संता!
संता अपने बेटे को खरीददारी सिखा रहा था, संता दुकानदार बना और उसका बेटा खरीददार!

बेटा: एक लीटर आलू देना!

संता: नहीं बेटा, आलू किलो में आता है!

बेटा: अच्छा तो एक किलो सोना दे दो!

संता: नहीं बेटा, सोना किलो में खरीदने की चीज नहीं है वह तो तोले के हिसाब से बिकता है वह भी ज्वेलर्स के यहां!

आखिर संता उकता गया और बोला कि मैं खरीददार बनता हूं और तुम दुकानदार बनो!

संता: एक किलो गुड़ देना!

बेटा: किसमें दूं? बोतल लाए हैं?
----------
क्या ये दिल मांगे मोर?
संता पेप्सी लेकर सामने रख के उदास बैठा था।

बंता वहां आया और आते ही संता की पेप्सी पी गया और पूछा, "यार तू उदास क्यों है?"

संता बोला,"यार आज का दिन ही बुरा है।"

सुबह -सुबह बीवी से झगड़ा हो गया।

रास्ते में कार खराब हो गई।

ऑफिस लेट पहुंचा तो बॉस ने नौकरी से निकाल दिया।

और अब जब जिंदगी से तंग आकर मैंने आत्महत्या करने के लिए पेप्सी में जहर मिलाया तो वो भी तू पी गया अब बता मैं उदास ना होऊं तो क्या करूँ?
----------
मेरे पास दिमाग है!
संता और बंता गढ्ढा खोद रहे थे बंता ने संता से पूछा अरे भाई हम दोनों ही काम कर रहे है और ये तीसरा आदमी वहां छाया में बैठकर आराम कर रहा है!

संता ने कहा शायद उसे काम नही आता इसलिए वह वहां जाकर बैठ गया है, मैं उसे पूछकर आता हूँ!

संता उस आदमी के पास गया और उसे पूछा अरे भाई तुम काम क्यों नही कर रहे हो?

उस आदमी ने कहा क्योंकि मेरे पास दिमाग है!

संता ने पूछा वो कैसे?

वह आदमी पेड़ के साथ खड़ा हो गया और कहने लगा मेरे मुहं पर मुक्का मारो जितनी जोर से तुम मार सकते हो!

संता ने मुक्का बनाया और पूरे जोर से उस आदमी को मारा वह आदमी थोड़ा सा एक तरफ को हो गया और संता का मुक्का सीधा पेड़ पर लगा उसे हाथ में बहुत दर्द हुआ!

संता ने कहा अच्छा अब मुझे पता चला कि तुम काम क्यों नही कर रहे!

वह वापिस बंता के पास गया बंता ने उसे पूछा तो अब बताओ हम दोनों ही काम क्यों कर रहे है?

संता ने कहा क्योंकि उसके पास दिमाग है!

बंता ने पूछा वह कैसे?

संता इधर-उधर पेड़ देखने लगा पर उसे पेड़ नजर नही आया उसने अपने हाथ को अपने मुहं के सामने रख दिया और बंता से कहा मेरे हाथ पर अपना मुक्का मारो जितनी जोर से तुम मार सकते हो!
----------
परेशानी का हल!
बंता: यार संता क्या इस धरती पर कोई ऐसा इंसान है जिसे परेशानी ना हो?

संता: नहीं तो।

बंता: तो यार अगर किसी की ज़िन्दगी में कोई परेशानी हो तो किसके पास जाना चाहिए?

संता: किसान के पास।

बंता: किसान के पास वो क्यों?

संता: क्योंकि उसके पास हल होता है।
----------



यह कैसी इंसानियत?
एक चोर एक अमीर आदमी के घर में चोरी करने के लिए जाता है।

जब वह चोर तिजोरी के पास पहुंचता तो उसने देखा कि तिजोरी पर लिखा था, तिजोरी को तोड़ने की जरुरत नहीं है।

452 नंबर प्रेस करके सामने वाला बटन दबाओ, तिजोरी अपने आप ही खुल जायेगी।

उस चोर ने जैसे ही बटन दबाया जोर से अलार्म बजा और पुलिस आ गई।

चोर जाते-जाते सेठ से बोला, तुम्हारी वजह से आज से मेरा इंसानियत से विश्वास उठ गया है।
----------
सच्चा प्यार!
एक दिन जीतो अपने बॉयफ्रेंड के साथ घूमने गई थी कि संता ने उसे देखा और उसके बॉयफ्रेंड को मारने लगा।

यह देख जीतो बोली, "मार गधे को, अपनी बीवी को तो घूमाता नहीं और दूसरे की बीवी घूमाने ले आता है।"

इतने में बॉयफ्रेंड को भी गुस्सा आ गया और वह भी संता की जमकर पिटाई करने लगा।

संता को पिटते देख जीतो बोली, "मार कमीने को न तो खुद घूमाने ले जाता है और किसी और को घूमाने देता है।"
----------
खुशहाल वैवाहिक जीवन!
एक बार बंता ने संता से कहा, तुम्हारे खुशहाल वैवाहिक जीवन के पीछे क्या राज है?

संता ने कहा, हमें अपने जीवन साथी के साथ प्यार से जिम्मेवारियां बाँटनी चाहिए, एक दूसरे का आदर करना चाहिए, तब कोई समस्या नहीं रहती!

बंता ने कहा क्या तुम थोड़ा खुल कर बता सकते हो?

संता ने कहा, जैसे मेरे घर में सारे बड़े मुद्दों पर में ही निर्णय लेता हूँ, जबकि सारी छोटी छोटी बातों के निर्णय मेरी बीवी लेती है हम एक दूसरे के निर्णयों पर कभी हस्तक्षेप नहीं करते!

मैं कुछ समझा नहीं! बंता ने कहा, थोड़ा उदाहरण दे कर बताओ, संता ने कहा छोटी छोटी बातें जैसे हमें कौन सी कार खरीदनी है, कितना पैसा बचाना है, कब घर जाना है, कब बाजार जाना है, कौन सा सोफा, एयर कंडिशनर कौन सा रफ्रिज्रेटर खरीदना है, महीने का खर्चा, नौकरानी रखनी है या नहीं वगैरा वगैरा!

मेरी पत्नी ही इन सबका निर्णय लेती है मैं उसके निर्णयों से सहमत हो जाता हूँ!

बंता ने पूछा तब तुम्हारी क्या भूमिका है?

संता ने कहा मेरे निर्णय हमेशा बड़े मुद्दों पर होते हैं जैसे,अमेरिका को इराक पर हमला करना चाहिए,क्या अफ्रीका को अपनी अर्थव्यवस्था बढ़ानी चाहिए,क्या सचिन को सन्यास लेना चाहिए वगैरा वगैरा, तुम्हें ये सुनकर हैरानी होगी, कि मेरी बीवी कभी भी मेरे फैसलों का विरोध नहीं करती!
----------
चोट का राज़!
एक बार संता को सिर में चोट लग गयी तो उसे लहुलुहान हालत में अस्पताल लाया गया जो देख कर भर्ती काउंटर पर खड़े डॉक्टर ने उस से चंद सवाल पूछने शुरू किये।

डॉक्टर: नाम?

संता: जी संता।

डॉक्टर: पिता का नाम?

संता: करनैल।

डॉक्टर: जन्म की तारीख?

संता: 1 मार्च।

डॉक्टर: शादीशुदा?

संता: जी नहीं, कार एक्सीडेंट।
----------



मूर्ख तो तुम हो!
बंता ने एक कंपनी में एक प्रशिक्षणार्थी के रूप में ज्वाइन किया पहले ही दिन उसने जब रसोई घर में फ़ोन मिलाया तो वह जोर से चिल्लाते हुए कहने लगा कमीनो! मेरे लिए जल्दी से कॉफी भेजो!

दूसरी तरफ से आवाज आयी अरे बेवकूफ तुमने गलत एक्सटेंशन न० मिला लिया है!

तुम जानते हो तुम किस से बात कर रहे हो?

बंता ने कहा नहीं!

दूसरी तरफ से आवाज आयी मैं इस कंपनी का मेनेजिंग डायरेक्टर हूँ .....मूर्ख समझे!

बंता फिर जोर से चिल्लाया अरे मूर्ख तो तुम हो तुम जानते हो तुम किस से बात कर रहे हो?

मेनेजिंग डायरेक्टर ने कहा नहीं!

तब ठीक है!

बंता ने चुपके से फ़ोन नीचे रख दिया!
----------
अगली बार!
संता अपनी पत्नी जीतो और नवजात बच्चे को अस्पताल से घर लेकर आया।

जीतो ने संता से कहा कि,"बच्चे ने गिला कर दिया है इसका डाईपर बदल दो।"

संता: मैं अभी काम में व्यस्त हूँ मैं वादा करता हूँ कि अगली बार पक्का करूँगा।"

थोड़ी देर बाद जब बच्चे ने फिर गिला किया तो जीतो ने फिर से संता से कहा।

संता ने मासूमियत से जीतो की तरफ देखकर कहा,"मैंने यह नही कहा था कि अगला डाईपर मैंने तो यह कहा था कि जब अगला बच्चा होगा तब मैं पक्का करूँगा।"
----------
ख़राब किस्मत!
एक आदमी मैंगो जूस का गिलास ले कर बैठा था, उसका दोस्त आया और फटाक से जूस पी लिया, आदमी मेरी तो यार किस्मत ही खराब है, बेटा फेल हो गया, बीवी दोस्त के साथ भाग गयी, घर में चोरी हो गयी, नल में पानी नहीं, घर में लाइट नहीं, अब जूस में ज़हर डाल के पीने को रखा था, और वो भी तू पी गया कमीने!
----------
महिलाओं से कैसे बचोगे?
एक बार एक्सीडेंट में बुरी तरह ज़ख़्मी होकर संता अस्पताल पहुंचा तो डॉक्टर ने उससे पूछा, "यह चोट तुम्हे कैसे लगी?"

संता: ओ जी एक औरत ने मेरे ऊपर गाडी चढ़ा दी।

डॉक्टर : अरे जब तुम्हे दिख रहा था की एक औरत कार चला रही है तो तुम्हे तो पहले ही सड़क से दूर चलना चाहिए था।

संता: सड़क, कैसी सड़क साहब, मैं तो अपनी दुकान के अन्दर बैठा था।

----------


वज़न ऐसे घटायें!
एक बार संता डॉक्टर के पास गया और बोला, " डॉक्टर साहब मैं अपने बढ़ते वज़न से बहुत परेशान हूँ इसकी वजह से आज कल मेरी तबियत भी कुछ ठीक नहीं रहती।

डॉक्टर: स्वस्थ रहने के लिए आप रोज या तो व्यायाम किया कीजिये या फिर कोई खेल खेला कीजिये।

संता: डॉक्टर साहब मैं रोज फुटबॉल, क्रिकेट और टेनिस खेलता हूं।

डॉक्टर आश्चर्य से, "अच्छा! तुम रोज कितनी देर खेलते हो।

संता: जब तक मोबाइल की बैटरी खत्म नही हो जाती।
----------
शादी या बर्बादी!
एक बार संता और बंता एक पार्क में बैठे हुए बातें कर रहे होते हैं तो संता, बंता से कहता है।

संता: यार मैंने प्यार-मोहब्बत से तौबा कर ली है, अब आगे से किसी हसीन लड़की की तरफ आंख उठाकर भी नहीं देखूंगा।

बंता: क्यों? क्या किसी लड़की ने तुम्हें ठुकरा दिया?

संता: नहीं यार।

बंता: तो फिर क्या हुआ?

संता: यार, उसने मुझसे शादी कर ली।
----------
बेमतलब की बातचीत!
संता एक वकील के कार्यालय में पहुँचता है, उसे तलाक चाहिए था!

वकील ने पूछा, मैं आपकी क्या सहायता कर सकता हूँ?

संता ने कहा, हाँ, मुझे तलाक़ चाहिए!

वकील ने पूछा, तुम किस ज़मीनी आधार पर तलाक़ लेना चाहते हो?

संता ने उत्तर दिया, हाँ मेरे पास 140 एकड़ ज़मीन है!

वकील ने कहा, नहीं आप समझे नहीं आपके पास कोई केस है?

संता ने कहा, नहीं मेरे पास केस नहीं मगर अलमारी है!

वकील ने कहा, आप फिर से नहीं समझे, मेरा मतलब है आपके पास कोई आधार है, तलाक़ के लिए कोई जगह तो होनी चाहिए!

संता ने कहा, हाँ है ना, मेरा घर है ना, वहीं तो मैं अपनी अलमारी रखता हूँ!

संता ने कहा, हाँ सर, मेरे पास एक सूट है, जिसे मैं विशेष मौकों पर पहनता हूँ!

वकील झल्लाकर बोला, क्या तुम्हारी बीवी तुम्हारी पिटाई-विटाई करती है क्या?

संता ने कहा, नहीं सर, हम दोनों लगभग साढ़े चार बजे उठ जाते हैं!

अन्ततः वकील ने पूछा, ठीक है, चलिए ये बताईए कि आपको तलाक़ क्यों चाहिए?

और संता ने उत्तर दिया, वो बात ऐसी है, कि हम दोनों में जो भी बातचीत होती है, बेमतलब की होती है!
----------
वजन कम हो जाएगा!
संता अपने मोटापे से परेशान था एक दिन वह डॉक्टर के पास गया और डॉक्टर ने संता से कहा कि यदि तुम 300 दिन रोज 8 किलोमीटर दौड़ोगे तो तुम्हारा वजन कम से कम 34 किलो तक कम हो जाएगा!

संता ऐसा सुनकर चला गया, जब 300 दिन पूरे हुए तो संता ने डॉक्टर को फ़ोन किया, डॉक्टर साहब मेरा वजन तो कम हो गया पर एक समस्या हो गई है!

डॉक्टर ने पूछा क्या समस्या हो गई?

संता: मैं अपने घर से 2400 किलोमीटर दूर हूँ!
----------


शराबी संता ने छोड़ी शराब!
संता ने पीने की गंदी लत छोडऩे का मन बनाया और अपने घर में से दारू की कई बोतलें उठाईं और फेंकने लगा।

पहली खाली बोतल फेंकते हुए,"तूने मेरा घर बरबाद कर दिया जा भाड़ में"।

दूसरी खाली बोतल उठाते हुए,"तूने मेरी बीवी से मेरा तलाक करवा दिया ले तेरा काम तमाम"।

तीसरी खाली बोतल फेंकते हुए,"तूने मेरे बच्चों से मुझे जुदा करवा दिया, जा तू भी जहन्नुम में जा"।

चौथी खाली बोतल फेंकते हुए,"तूने मेरी नौकरी छुड़वा दी तू भी चूर-चूर हो जा"।

पांचवीं बोतल उसके हाथ में भरी हुई आ गयी तो संता बोला, "तू यहीं पड़ी रह इन सारी चीजों में तेरा कोई दोष नहीं है"।
----------
एक हाथ से!
संता और उसकी गर्लफ्रेंड एक दिन ड्राइविंग पर बाहर गए!

संता इस बात को नोट कर रहा था कि उसकी गर्लफ्रेंड उसे बार-बार देख रही है, तब वह थोड़ा सा चौंका जब उसकी गर्लफ्रेंड उसकी तरफ को हुई और उसके कान में धीरे से कहने लगी:

क्या तुम एक हाथ से गाड़ी चला सकते हो?

संता ने खुश होते हुए कहा क्यों नही, बिल्कुल चला सकता हूँ और सोचने लगा कि अब पता नही क्या होने वाला है!

तभी उसकी गर्लफ्रेंड ने कहा बहुत अच्छे! अपनी नाक साफ़ करो ....बहुत बह रही है!
----------
कम पीने के नुक्सान!
बंता की टूटी हुई टांग देख कर संता,"तुम्हारी टांग कैसे टूट गई?"

बंता: क्या बताऊं यार, कल दारू कम पी थी, इसलिए।

संता: दारू कम पीने से टांग कैसे टूट सकती है?

बंता: सीधी सी बात है, अगर मैंने छक कर पी होती तो मैं ठेके पर ही लुढ़क गया होता। कम पी थी इसलिए घर आने के लिए निकला और रास्ते में गढ्डे में गिर गया।
----------
शराब पीना बुरी बात है!
संता और बंता एक बार शराब पीने के लिए एक ठेके पर गए।

संता: क्या पियेगा आज बता?

बंता: जो तू बोले मेरे यार।

संता: चल टॉस कर लेते हैं।

संता ने सिक्का उछाला और बोला,"देख भाई हेड आया तो स्कॉच और टेल आया तो विस्की, ऊपर हवा में रह गया तो रम और नीचे गिरा तो आज से दारु पीना हमेशा के लिए बंद।"
----------



शैतान बच्चा!
एक बार पप्पू एक अनजान नंबर से संता को कॉल करता।

संता: हेल्लो।

पप्पू: उल्लो, पुल्लो, कुल्लो।

संता: कौन है बे?

पप्पू: एक इंसान।

संता: वो तो पता है नाम बोल?

पप्पू: मैं एक गंदा बच्चा हूँ।

संता: तेरी तो ऐसी की तैसी, कहाँ रहता है तू?

पप्पू: पृथ्वी पर।

संता: वो तो पता है, फोन क्यों किया?

पप्पू: तुझे परेशान करने के लिए।

संता: रुक कम्बखत, अपने बाप को बुला, गधे की औलाद।

पप्पू: हेल्लो पापा, मैं पप्पू।
----------
समझदारी का नुस्खा!
एक बार बंता अखरोट बेच रहा था।

संता ने पूछा ये खाने से क्या होता है?

बंता: दिमाग तेज़ होता है।

संता: कैसे?

बंता: अच्छा ये बताओ एक किलो चावल में कितने दाने होते हैं?

संता: पता नहीं।

बंता ने उसको अखरोट खिलाया और बोला,"बताओ एक दर्जन में कितने केले होते हैं?

संता: 12।

बंता: देखा दिमाग तेज़ हुआ ना?

संता: एक किलो दे दो।
----------
कल कहाँ थे!
संता को देर से उठने की आदत थी इसलिये वह हमेशा ऑफिस देर से पहुंचता था उसका बॉस इस बात से बहुत नाराज था और अंतत: उसने संता को चेतावनी दे डाली कि या तो समय पर आओ या नौकरी छोड़ दो!

हार कर संता एक डॉक्टर के पास गया डॉक्टर ने उसे कुछ गोलियां दी और कहा कि अब वह बिल्कुल समय पर जाग जाया करेगा!

रात को संता दवा खाकर सो गया सुबह जब वह जागा तो सचमुच सूरज नहीं निकला था दवा ने तो कमाल ही कर दिया था वह खुशी खुशी तैयार हुआ और समय से थोड़ा पहले ही ऑफिस पहुंच गया!

सर, उसने बॉस से कहा, उस डॉक्टर की दवा तो कमाल की है!

वह तो ठीक है, बॉस ने सख्ती से जवाब दिया, पहले यह बताओ कि कल तुम कहां थे?
----------
बुद्धिमान कौन!
संता बंता और उनका एक दोस्त एक द्वीप पर फंस जाते है वे तीनों मन से भगवान को याद करते है और भगवान उनके सामने प्रकट हो जाते है!

भगवान उन्हें एक इच्छित वस्तु मांगने के लिए बोलता है, भगवान सबसे पहले संता को अपनी इच्छा जाहिर करने के लिए बोलता है!

संता भगवान से कहता है कि भगवान मुझे बुद्धिमान बना दो!

भगवान ने कहा तथास्तु!

संता तैरकर उस द्वीप से नदी के किनारे पहुँचता है!

अब भगवान बंता को अपनी इच्छा जाहिर करने को कहता है भगवान मुझे संता से ज्यादा बुद्धिमान बना दो!

भगवान कहता है तथास्तु!

बंता एक नाव बनाकर नांव में बैठकर द्वीप से नदी के किनारे तक पहुंचता है!

अब तीसरा उनका दोस्त भगवान के सामने अपनी इच्छा जाहिर करता है, भगवान मुझे संता और बंता से भी बुद्धिमान बना दो!

भगवान उसे भी कहता है तथास्तु!

उनका दोस्त पुल पर से चलते हूए नदी के किनारे तक पहुँचता है!
----------


जो कभी खाली न हो!
संता एक बार के बाहर अकेला एक कोने पर बैठा था, उसके पास बीयर पीने के लिए भी पैसे नहीं थे!

उसे वहीँ झाड़ियों पर पड़ा एक दीया नजर आया उसने उस दीये को उठाया और गौर से देखने लगा उस पर काफी धूल जमी हुई थी!

संता उसे साफ़ करने लगा तो उसमे से एक जिन्न निकलकर बाहर आया और कहने लगा तुम अपनी इच्छा की कोई भी तीन चीजें मांग सकते हो!

संता ने थोड़ी देर सोचा और आखिर में उसने अपनी इच्छा प्रकट करते हुए कहा मुझे एक बीयर की बोतल चाहिए जो कभी खाली न हो!

इसके साथ ही जिन्न ने अपने हाथों से निकालकर एक बीयर की बोतल संता को दी और कहा लो ये ऐसी बोतल है जिससे कभी बीयर खत्म ही नहीं होगी!

संता ने यह जानने के लिए की क्या ये जिन्न सही कह रहा है बीयर को पीना शुरू कर दीया जब बोतल आधी हुई तो संता ने देखा कि बोतल अपने आप ही फिर से भरने लग गयी है संता बहुत प्रसन्न हुआ!

अचानक से जिन्न ने कहा अभी तो तुम्हारी दो इच्छाएं और है वो भी कहो!

संता ने बड़ी मस्ती में कहा मुझे और इसी तरह की दो बोतलें चाहिए!
----------
टाइम क्या हुआ है!
एक बार रेलवे-स्टेशन पर एक वृद्ध सज्जन बैठे रेल का इंतजार कर रहे थे वहां संता जी आए और उन वृद्ध आदमी से पूछा:

संता, अंकल टाइम क्या हुआ है?

वृद्ध सज्जन, मुझे नहीं मालूम!

संता लेकिन आपके हाथ में घड़ी तो है प्लीज बता दीजिए न कितने बजे हैं?

वृद्ध सज्जन मैं नहीं बताऊंगा!

संता पर क्यों?

वृद्ध सज्जन क्योंकि अगर मैं तुम्हे टाइम बता दूंगा तो तुम मुझे थैंक्यू बोलोगे और अपना नाम बताओगे, फिर तुम मेरा नाम, काम आदि पूछोगे, फिर संभव है हम लोग आपस में और भी बातचीत करने लगें हम दोनों में जान-पहचान हो जायेगी, तो हो सकता है कि ट्रेन आने पर तुम मेरी बगल वाली सीट पर ही बैठ जाओ फिर हो सकता है कि तुम भी उसी स्टेशन पर उतरो जहां मुझे उतरना है, वहाँ मेरी बेटी, जोकि बहुत सुन्दर है, मुझे लेने स्टेशन आयेगी तुम मेरे साथ ही होगे तो निश्चित ही उसे देखोगे वह भी तुम्हे देखेगी हो सकता है तुम दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठो और शादी करने की जिद करने लगो, इसलिए भाई, मुझे माफ करो, मैं ऐसा कंगाल दामाद नहीं चाहता जिसके पास टाइम देखने के लिए अपनी घड़ी तक नहीं है!
----------
हमने भी कहानी सुनी है!
एक टोपी बेचने वाला दरख्त के नीचे आराम कर रहा था की अचानक कुछ बंदर उसकी सारी टोपियाँ उठा कर ले गए!

इन्सान की नक़ल करते बंदर को ख्याल आया तो आदमी ने अपनी टोपी उतार के नीचे फेंकी तो बंदरो ने भी वैसा ही किया!

और आदमी अपनी टोपियाँ उठा के चला गया घर जाकर उसने ये वाकया अपने पोते को सुनाया!

इत्तिफाक से सालों बाद पोता भी टोपियाँ बेचते हुए उस दरख्त के नीचे आ बैठा और बंदर फिर टोपियाँ ले गए!

उसे अपने दादा की सुनाई हुई कहानी याद आई और उसने अपने सिर की टोपी उतार कर नीचे फ़ेंक दी!

एक बन्दर पेड़ से नीचे आया उसने टोपी को उठाया और आदमी को एक थप्पड़ मार कर बोला!

अबे तू क्या सोचता है क्या हमारा दादा हमको कहानी नही सुनाता होगा!
----------
संता की बल्लेबाजी!
भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट मैच चल रहा था सारे बल्लेबाज एक एक करके आउट हो रहे थे!

पांच विकेट गिरने के संता बल्लेबाजी के लिए उतरा और धीरे धीरे मैदान पर पहुंचा और धीरे धीरे क्रीज पर आया और डरते डरते विकेट के सामने खड़ा हो गया!

उसे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे किसी बकरी के बच्चे को कसाईखाने में लाकर खड़ा कर दिया हो क्योंकि गेंदबाजी के अटैक में सामने ब्रेट ली था!

संता बल्लेबाजी के लिए तैयार हुआ जैसे ही सामने से ली भागते हुए आया संता विकेट के सामने से हट गया और साइड स्क्रीन की तरफ कुछ इशारा करने लगा!

साइड स्क्रीन को ठीक किया गया और ब्रेट ली फिर से भागते हुए आया जब वह विकेट के नजदीक पहुँचने लगा संता फिर से साइड स्क्रीन की तरफ कुछ इशारा करता हुआ एक तरफ को हट गया पिच पर काफी देर तक ऐसा ही होता रहा!

जब बार बार ऐसा हो रहा था तो अम्पायर खुद जाकर संता से बात करने लगा ....अरे आप इस साइड स्क्रीन को कहाँ फिट करवाना चाहते हो!

संता ने डरते हुए कहा क्या आप इस स्क्रीन को मेरे और ली के बीच में ला सकते हैं!
----------



देर रात घूमने का राज़!
एक बार बंता को देर रात तक घर के बाहर घूमता देख कर संता उस से बोला, "ओ यार तू इतनी देर रात तक घर से बाहर घूमता रहता है तेरी बीवी तुझ पर नाराज़ नहीं होती क्या?

बंता: ओ यार मेरी तो शादी ही नहीं हुई अब तक।

संता हैरानी से,"तो फिर जब घर में इतना सुख है तो तूझे बाहर घुमने की क्या ज़रूरत है।"
----------
खुंखार अपराधी!
एक दिन संता अपने घर के सामने पौधों को पानी दे रहा था इतने में वहां पुलिस की गाड़ी आयी, गाड़ी से पुलिस वाले उतरे और संता के घर के दूसरी तरफ भागने लगे और फिर थोड़ी देर में वापिस आ गए, पौधों को पानी देते हुए संता वह सब देख रहा था संता को लगा की पुलिस शायद किसी अपराधी का पीछा कर रही है!

संता ने पौधों को पानी देते हुए पूछा साहब किसे ढूंढ रहे हो?

पुलिसवाला संता के पास आया उसने जेब से एक तस्वीर निकाली और संता को दिखाते हुए कहा, यह एक खुंखार अपराधी की तस्वीर है और मैं उसी को ढूंढ रहा हूँ, तुमने अभी उसे यहां से जाते हुए देखा तो नही पुलिसवाले ने पूछा:

संता ने तस्वीर हाथ में ली और गौर से उस तस्वीर की तरफ देखा, तस्वीर पुलिस को वापिस देते हुए संता ने कहा नही... नही देखा साहब!

पुलिसवाला तस्वीर वापिस लेकर वहां से जाने लगा थोड़ी दूर जाने के बाद संता ने आवाज लगाई, साहब एक मिनट!

पुलिसवाला पलटकर संता के पास गया जरा वह तस्वीर तो दिखावो पुलिसवाले ने फिर से तस्वीर निकालकर संता को दिखाई!

संता ने थोड़ी देर तस्वीर की तरफ गौर से देखा और कहा:

मेरी समझ में एक बात नहीं आती इतना खुंखार अपराधी था तो जब उसकी तस्वीर खिंची तभी उसको क्यों नही पकड़ लिया?
----------
बेटे का भविष्य!
बंता ज्योतिषी से, "मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरा बेटा भविष्य में क्या बनेगा?"

ज्योतिषी: आप उसके टेबल पर सिगरेट, बियर, पैसों की एक गड्डी और किताबें रख दो। उनमें जो वो उठाएगा उससे पता चलेगा।

बंता: ठीक है।

अगले दिन जब बंता का बेटा आया तो उसने टेबल पर पड़ा हुआ सामान देखा और पैसों की गड्डी उठा कर जेब मैं रख ली, सिगरेट पी, बियर छुपा ली, ओर क़िताबें हाथ में लेकर घर से चला गया।

बंता ज्योतिषी के पास गया और बताया कि उस नालायक ने तो सब कुछ ले लिया।

ज्योतिषी: अरे, मुबारक हो! आपका बेटा राजनीतिज्ञ (Politician) बनेगा।
----------
मैं मूर्ख नहीं हूँ!
एक बार बंता लुधिआना गया, वह घंटाघर वाली गली से होकर गुजर रहा था उसकी नजर घंटेघर की घड़ी पर पड़ी तो एक आदमी ने उसे पूछ लिया साहब क्या इस घड़ी को खरीदोगे?

बंता ने कहा बिल्कुल उस आदमी ने कहा तो फिर निकालिये 1000 रुपया, और थोड़ी देर रुकिए मैं सीढ़ी लेकर आता हूँ!

बंता ने उस आदमी को 1000 रुपया दे दिया और वह आदमी वहां से गायब हो गया बंता काफी देर तक वहां उसका इन्तजार करता रहा पर वह आदमी नहीं आया और बंता भी वहां से चला गया!

अगले दिन बंता फिर वहीँ से गुजर रहा था तो उस आदमी ने फिर उसे घड़ी खरीदने कि बात कही आदमी ने कहा तो निकालो फिर 1000 रूपया और मैं सीढ़ी लेकर आता हूँ!

बंता ने उसे 1000 रूपए दिए और कहने लगा मैं मूर्ख नहीं हूँ, आज तुम यहाँ इन्तजार करो और मैं सीढ़ी लेकर आता हूँ!
----------



सबको मार दूंगा!
बंता लुधिआना में एक बीयरबार का मालिक था, गर्मियों में उसके बार में टेबल के चारों ओर काफी मक्खियाँ इकट्ठी हो जाती थी!

यह सिलसिला लगभग एक महीने तक चलता रहा संता जो उसका रोज का ग्राहक था उसके बार में आता और उस से बीयर मांगता!

एक दिन बंता ने उससे चिल्लाते हुए कहा हे संता आज में तुम्हें कोई बीयर नही दूंगा!

संता जानता था कि बंता अपने बार में मक्खियों से काफी परेशान है, इसलिए उसने मौका ताड़कर बंता से कहा बंता मैं तुम्हें एक डील ऑफर करता हूँ!

मैं कई दिनों से देख रहा हूँ कि तुम्हारे बार में मक्खियाँ कुछ ज्यादा ही हो गयी है, अगर तुम मुझे एक बीयर की बोतल दे दो तो मैं इन मक्खियों को एक एक करके मार दूंगा!

बंता ने पहले कुछ सोचा फिर बंता को एक बोतल दे दी, जैसे ही संता ने पूरी बोतल पी ली संता गुर्राता हुआ खड़ा हुआ, दरवाजे से बाहर चला गया और जोर से चिल्लाया!



अब ठीक है, अब इन्हें बाहर भेजो पर ध्यान रहे एक समय पर सिर्फ एक ही मक्खी बाहर आये!
----------
शोर मत करो!
एक मोहल्ले में सुबह सुबह एक शराबियों की टोली निकली जिसने की बहुत ज्यादा शोर मचा रखा था।

मोहल्ले के चौराहे पर वे सब बैठ गए और जोर जोर से चिल्लाते हुए बाते करने लगे।

पास वाले घर से एक महिला ने शराबियों को आवाज दी कि शोर मचाना बंद करो और यहाँ से चले जाओ।

तभी उन में से एक शराबी बोला, "अरे क्या आप बता सकती हैं कि इधर बंता कहाँ पर रहता है?"

महिला ने जवाब दिया,"जी हाँ वो मेरे पति हैं।"

शराबी ने कहा, " तो क्या आप आकर उसे यहाँ से ले जा सकती हैं ताकि हम भी अपने अपने घर चले जाएँ।"
----------
शराबी मच्छर!
संता: यार बंता क्या तुम्हें रात में मच्छर परेशान नहीं करते?

बंता: कतई नहीं।

संता: भला वो कैसे? मुझे तो बहुत परेशान करते हैं।

बंता: मैं रात को शराब पीकर जब बिस्तर पर लेटता हूं तो मच्छर मुझे घेर लेते हैं, पहले तो नशे की हालत में मुझे उनके काटने का पता नहीं चलता और जब मैं होश में आता हूं,तो वे नशे में धुत हो चुके होते हैं।
----------
पांच रूपए!
मुर्गियों के फार्म में एक बार निरीक्षण के लिए इंस्पेक्टर आया!

इंस्पेक्टर: तुम मुर्गियों को क्या खिलाते हो?

पहला मालिक: बाजरा!

इंस्पेक्टर: खराब खाना, इसे गिरफ्तार कर लो!

दूसरा: चावल!

इंस्पेक्टर: गलत खाना इसे भी गिरफ्तार कर लो!

अब संता की बारी आई, वह बहुत डर गया था फिर संता डरते-डरते बोला: हम तो जी मुर्गियों को 5-5 रुपए दे देते हैं कि जो तुम्हारी मर्जी है जाकर खा लो!
----------


नींद नहीं आती
एक दिन संता थका हारा डॉक्टर के पास आता है और डॉक्टर से कहता है डॉक्टर साहब मेरे पड़ोस में बहुत सारे कुत्ते है जो रात दिन भौंकते रहते है जिस कारण में एक घड़ी के लिए भी नहीं सो पाता!

डॉक्टर ने कहा इसमें कोई चिंता की बात नहीं है मैं तुम्हें कुछ नींद की गोलियां दे देता हूँ वे इतनी असरदार है कि तुम्हें पता ही नहीं चलेगा कि तुम्हारे पड़ोस में कोइ कुत्ता है भी या नहीं ये दवाइयाँ तुम ले जाओ और अपनी परेशानी दूर करो!

कुछ हफ्ते बाद संता वापिस डॉक्टर के पास आया और पहले से ज्यादा परेशान लग रहा था और डॉक्टर से कहने लगा डॉक्टर साहब आपकी योजना ठीक नहीं थी अब तो मैं पहले से ज्यादा थक गया हूँ!

डॉक्टर मैं नहीं जानता कि ये कैसे हो गया पर जो दवाईयां दी थी वे नींद आने की सबसे बढ़िया गोलियां थी चलो फिर भी आज मैं तुम्हें उससे भी ज्यादा असरदार गोलियां देता हूँ!

संता: क्या ये सचमुच असर करेंगी पर मैं सारी रात कुतों को पकड़ने में लगा रहता हूँ और मुश्किल से अगर एक आधे को पकड़ भी लूँ तो उसके मुहं में गोली डालना बहुत मुश्किल हो जाता है!
----------
सबसे तेज कौन!
संता का बेटा अपने दो दोस्तों के साथ स्कूल से घर लौट रहा था और रास्ते में आते हुए वे अपने घर के बारे में बातचीत कर रहे थे बात करते करते वे अपने अपने पापा के बारे में बात करने लगे!

पहला दोस्त अरे मेरे पापा से तेज तो दुनिया में कोई भी नही है वे 90kmph की रफ़्तार से गेंद फैंकते है और जब तक यह दूसरी तरफ के विकेट तक पहुँचती है तब तक मेरे पापा उसे भागकर पकड़ लेते है!

दूसरा लड़का अरे मेरे पापा तो तुम्हारे पापा से कई गुना तेज है वे इतने तेज है कि जब वे गोली चलाते है तो टार्गेट पर पहुँचने से पहले ही भागकर उसे पकड़ लेते है!

संता का बेटा बोला अरे ...तुम दोनों के पापा तो मेरे पापा के सामने कुछ भी नही मेरे पाप सरकारी कर्मचारी है हालांकि वे रोज 5 बजे तक काम करते है फिर भी 4 बजे घर पहुँच जाते है!
----------
आत्मघाती हमलावर!
बंता को आत्मघाती हमलावर दस्ते में नियुक्त किया गया उसे एक मिशन दिया गया कि शत्रुओं के खेमें में जाकर अपने आप को मार दे।

उसके उच्च अधिकारी ने उसे बहुत से हथियार दे दिए और कुछ बम उसके शरीर से बांध दिए और एक मोबाइल दिया जिससे उनकी बातचीत होती रहे। वह जैसे ही शत्रुओं के खेमें में पहुंचा उसने अपने बॉस को फ़ोन किया।

सर यहं पर दो शत्रु सैनिक है क्या मैं अब खुद को मार दूँ।

उच्च अधिकारी: नही केवल दो सैनिकों के लिए नही रुको जब तक काफी सैनिक न इकट्ठे हो जाये।

बंता: अब जहाँ में खड़ा हूँ वहां लगभग 25-30 सैनिक खड़े है क्या अब मार दूँ? उच्च अधिकारी: नही थोड़े और बढ़ने दो।

बंता: अब मेरे चारों ओर कोई 100 सैनिक है क्या में अब खुद को मार दूँ।

उच्च अधिकारी: हाँ बिल्कुल... आगे बढ़ो... बहादुरी से लड़ो.. देश के लिए जान दे दो... बंता ने चाकू निकाला और अपनी छाती पर मार दिया।
----------
सिर्फ दो!
एक बिजली विभाग के फोरमैन ने बिजली के खम्बे गाड़ने के लिए दो अलग-अलग ग्रुप में कर्मचारियों को भेजा!

उनके लिए सख्त हिदायत थी कि वे लोग शाम को आकर अपने फोरमैन के पास रिपोर्ट करें!

वे चले गए और जब शाम को वापिस आये तो फोरमैन के सामने खड़े हो गए फोरमैन ने पहले ग्रुप के लीडर से पूछा हाँ तो कितने खम्बे लगाये तुमने?

जवाब मैं उसने कहा साहब ग्यारह!

फोरमैन ने उसकी पीठ थपथपाते हुए कहा बहुत अच्छे!

फिर वह दूसरे ग्रुप लीडर संता के पास गया और वही प्रश्न पूछा:

संता ने जवाब दिया साहब दो!

फोरमैन ने कहा दो, जबकि दूसरे ग्रुप ने ग्यारह खम्बे लगाये है फोरमैन ने खीजते हुए कहा:

संता ने जवाब दिया पर आप चल कर देख लीजिये की वे जमीन से कितने बाहर रखने है!
----------




संता भी बस संता ही है!
संता का अपने बीवी (जीतो) से झगड़ा हो गया और वह गुस्से में जाकर घर के एक पेड़ पर लटक गया।

जीतो ने लाख मनाने की कोशिश की पर वह नहीं उतरा।

कुछ देर के बाद संता ने गाना गाना शुरु किया।

कुछ देर तक तो सीधे लटककर गाने गाये पर बाद में वह उल्टा लटककर गाने गाने लगा।

जीतो ने पूछा यह क्या है तो उसने जवाब दिया।

"पहले कैसेट की साईड A थी और अब मैं जो गाना बोल रहा हूं वह कैसेट की साईड B है।'

' जीतो ने अपने सर पर हाथ मारा और फिर से एक बार मनाने की कोशिश की, लेकिन संता नहीं माना।

फिर से वह सीधा लटककर गाने गाने लगा।

जीतो ने पूछा कि अब यह क्या है।

तो संता ने जवाब दिया - यह दूसरी कैसेट की साईड A है।

थक हार कर जीतो ने पड़ोसी को बुला लिया और कैसे भी संता को पेड़ से उतारने के लिए कहा।

पड़ोसी: आप चिंता मत करो, आप घर जाओ इसे तो मैं दो मिनट में उतारता हूँ।

पडोसी की बात सुन कर जीतो घर के अंदर चली गई और उसके पीछे ही पड़ोसी संता को पेड़ से उतारकर ले आया।

जीतो को बड़ा आश्चर्य हुआ।

जीतो: मैं इसको उतारने की सुबह से कोशिश कर रही थी आपने एक मिनट में इसको कैसे उतारा?

पड़ोसी: कुछ नहीं इसको सिर्फ हाथ हिलाकर हाय किया और ये नीचे उतर आया।
----------
ये कराटे जानता है!
बंता और उसकी पत्नी प्रीतो जिस कस्बे में रहते थे वहां बहुत ज्यादा क्राइम होता था उनके कस्बे और पड़ोस में लगभग तीन चार घरों में चोरियों कि वारदातें घट चुकी थी बंता की पत्नी प्रीतो ने घर की रखवाली के लिए एक कुत्ता खरीदने की सोची!

इसलिए प्रीतो एक दिन कुत्ता खरीदने के लिए बाजार चली गयी बाजार में उसे एक दुकान नजर आयी जिस पर लिखा था (डॉग फॉर सेल)!

प्रीतो वहां गयी और कहा मुझे एक कुत्ता खरीदना है तो दुकानदार ने कहा मैडम अब सारे कुत्ते हमने बेच दिए बस एक यही छोटा सा कुत्ता बचा है पर इसकी खासियत यह है कि ये कराटे जानता है प्रीतो को दुकानदार की बात पर विश्वास नहीं हुआ और उसने कहा मैं कैसे मान लूँ!

तब दुकानदार ने कुत्ते को इशारा किया और कुत्ते ने वहां पड़ी एक कुर्सी तोड़ दी, फिर दुकानदार ने और कलाबाजियां दिखाने को कहा कुत्ते ने कराटे कि सारी कलाबाजियां दिखाई!

फिर दुकानदार से प्रीतो ने कहा कि ये कुत्ता मुझे खरीदना है, और प्रीतो कुत्ता खरीदकर घर आ गयी घर आकर बंता ने जब कुत्ते को देखा तो हँसे बिना न रह सका और मजाकिया अंदाज में कहने लगा ये करेगा घर कि हिफाजत?

इस पर प्रीतो ने कहा हाँ बिलकुल इसकी खासियत यह है कि ये कराटे जानता है बंता ने खीजते हुए कहा ये .... खाक कराटे जानता है?

बस इतना कहने कि देर हुई और तब से बंता हॉस्पिटल में है!
----------
ओवर स्पीड!
एक बार बंता को एक पुलिस वाले ने गाड़ी को ओवर स्पीड से चलाने के लिए सिग्नल पर रोका!

बंता ने उस पुलिस वाले को पहचान लिया ये वही था जिसने बंता को एक बार मोटरसाईकिल से उतारा था और उसके साथ झगड़ा किया था और बाद में उसका चालान भी काट दिया था बंता ने सोचा आज तो इसको मजा चखा कर ही रहूँगा!

बंता ने जैसे उसकी बात सुनी ही नहीं और वहां से गाड़ी बड़ी तेजी से आगे बड़ा दी!

ये देख कर पुलिस वाले को गुस्सा आया और उसने अपनी मोटर साईकिल स्टार्ट की और बंता की गाड़ी का पीछा करने लगा बंता ने थोड़ी दूर जाकर गाड़ी को रोक दिया उसके पीछे पुलिसवाला भी वहां पहुँच गया!



पुलिसवाले ने रौब दिखाते हुए कहा चलो अपना लाइसेंस दिखाओ!

बंता नहीं है!

पुलिसवाले ने कहा गाड़ी के कागज दिखाओ बंता नहीं है! सर, मैं आपको ये सब कुछ दिखा देता पर आपको पता नहीं कि ये गाड़ी चोरी की है और पहले मैंने इसके मालिक का रेप किया फिर उसको जान से मार दिया अगर आपको यकीन नहीं हो रहा तो ये ट्रंक देख लीजिये इसमें उसकी लाश पड़ी है!

ये सब सुनकर पुलिस वाला चौंक गया और उसने अपने ऑफिसर को फोन पर सारी बात बता दी!

कोई दस मिनट बाद वहां वह पुलिस ऑफिसर पहुँच गया और उसने बंता से पूछताछ शुरू कर दी!

ऑफिसर ने बंता को कहा चलिए गाड़ी से बाहर उतरिये!

बंता: सर कोई प्रॉब्लम है क्या?

ऑफिसर जी हाँ हमे खबर मिली है कि ये गाड़ी चोरी की है और आपने इसके मालिक को मार दिया है!

बंता हैरान होकर गाड़ी के मालिक को मार दिया है!

पुलिस ऑफिसर क्या आप इस ट्रंक को खोल कर दिखाएँगे, बंता ने ट्रंक खोला पर वो बिल्कुल खाली था!

ऑफिसर सर क्या ये आपकी गाड़ी है!

बंता: जी हाँ, बिल्कुल ये देखिये गाड़ी के कागज और ये रहा मेरा लाइसेंस ऑफिसर ने गौर से देखा और कहा:

ऑफिसर: सर हमें इस गुस्ताखी के लिए माफ़ कीजिये पर मुझे किसी मेरे साथी ने फोन करके बताया था कि आपके पास न लाइसेंस है न गाड़ी के कागज और गाड़ी चोरी की है गाड़ी के मालिक को रेप करके मार दिया है!



बंता: उस कमीने ने आपको ये नहीं बताया कि मैं गाड़ी भी ओवर स्पीड से चला रहा था!
----------
नींद नहीं आती!
एक दिन संता थका हारा डॉक्टर के पास आता है और डॉक्टर से कहता है डॉक्टर साहब मेरे पड़ोस में बहुत सारे कुत्ते है जो रात दिन भौंकते रहते है जिस कारण में एक घड़ी के लिए भी नहीं सो पाता।

डॉक्टर ने कहा इसमें कोई चिंता की बात नहीं है मैं तुम्हें कुछ नींद की गोलियां दे देता हूँ वे इतनी असरदार है कि तुम्हें पता ही नहीं चलेगा कि तुम्हारे पड़ोस में कोई कुत्ता है भी या नहीं। ये दवाइयाँ तुम ले जाओ और अपनी परेशानी दूर करो।

कुछ हफ्ते बाद संता वापस डॉक्टर के पास आया और पहले से ज्यादा परेशान लग रहा था और डॉक्टर से कहने लगा डॉक्टर साहब आपकी योजना ठीक नहीं थी अब तो मैं पहले से ज्यादा थक गया हूँ।

डॉक्टर मैं नहीं जानता कि ये कैसे हो गया पर जो दवाईयां दी थी वे नींद आने की सबसे बढ़िया गोलियां थी चलो फिर भी आज मैं तुम्हें उससे भी ज्यादा असरदार गोलियां देता हूँ।

संता: क्या ये सचमुच असर करेंगी पर मैं सारी रात कुतों को पकड़ने में लगा रहता हूँ और मुश्किल से अगर एक-आध को पकड़ भी लूँ तो उसके मुहं में गोली डालना बहुत मुश्किल हो जाता है।
----------

संता का आईडिया!
संता और बंता ठहाके लगाते हुए रात को पैदल घर की तरफ जा रहे थे उनके पास ऑटो में जाने के लिए भी पैसे नहीं थे!

जब वे दोनों बस स्टॉप के साथ से निकले तो संता के दिमाग में एक शैतानी आईडिया आया उसने बंता से कहा मैं एक बस चुरा कर लाता हूँ और उसमें घर चलते है तुम बस स्टॉप के बाहर खड़े हो जाओ!

काफी देर तक संता नहीं आया तो बंता परेशान होकर बस स्टैंड के अन्दर चला गया और देखा तो संता एक एक कर सारी बसें देख रहा था तब संता एक बस में चढ़ा!

बंता ने उसे आवाज देकर कहा अरे क्या कर रहा है?

संता ने कहा अरे यार मुझे कहीं भी 25b नम्बर की बस नहीं मिल रही है जो हमारे घर जाती है!

बंता ने कहा तो तुम इस 27 नम्बर की बस में क्यों चढ़ रहे हो ये तो हमें घुमावदार चौक से ले जाकर शहर के बाहर छोड़ेगी और वहां से फिर हमें पैदल घर आना पड़ेगा!
----------
लॉटरी जितवा दो!
संता बहुत बड़ी मुसीबत में था उसका सारा बिजनेस ठप्प पड़ गया, और वह बहुत बड़े आर्थिक संकट में फंस गया वह बहुत निराश हुआ और आखिर में भगवान से मदद के लिए गुहार करने लगा!

वह मंदिर में गया और भगवान से प्रार्थना करने लगा, हे भगवान मेरी मदद करो! मेरा सारा बिजनेस ठप्प पड़ गया और मेरे पास एक भी पैसा नहीं बचा है, अब तो हालात ये है कि मुझे अपना घर भी बेचना पड़ सकता है, इसलिए हे भगवान, मुझे कोई लॉटरी जितवा दो!

इतना कहकर संता अपने घर चला गया जिस दिन लॉटरी निकली तो दुर्भाग्य से संता की लॉटरी नहीं निकली और वह फिर मंदिर में भगवान के पास चला गया फिर से वही गुहार लगाने लगा हे भगवान मुझे लॉटरी जितवा दो संता फिर अपने घर चला गया फिर से लॉटरी निकली पर इस बार भी सांता को निराशा का ही मुहं देखना पड़ा!

संता फिर भगवान के पास गया हे भगवान मुझे लॉटरी जितवा दो पर संता कई दिन तक लॉटरी नही जीत पाया!

एक दिन उदास होकर भगवान के पास पहुंचा और भारी मन से भगवान से कहने लगा..

हे भगवान! तुम मेरे साथ ऐसा क्यों कर रहे हो अब तो स्थिति ये बन गयी है कि मेरा घर गाड़ी सब बिक गए है, और मेरा परिवार भूखे मर रहा है... हे भगवान अब तो मुझे लॉटरी जितवा दे और संता निराश होकर वापिस जाने लगा और तभी..

एक जोर कि बिजली कड़की जिसकी रोशनी संता के मुहं पर पड़ी और आकाशवाणी हुई...

अरे उल्लू के पट्ठे संता पहले लॉटरी का टिकट तो खरीद!
----------
डॉक्टर और पलम्बर!
एक डॉक्टर के घर कि पानी कि पाइप टूट गयी उसने प्लम्बर को बुलाया!

पलम्बर पहुँच गया उसने पाइप को चैक किया और फिर पाइप को जोड़कर डॉक्टर को 2000 रूपए का बिल पकड़ाया!

डॉक्टर ने हैरानी के साथ अरे यह तो हास्यास्पद है मैं भी इतने पैसे नही कमा सकता!

पलम्बर ने कहा मैं भी नही कमा पाता था जब मैं डॉक्टर था!
----------
डॉक्टर साहब हैं!
डॉक्टर साहब हैं एक दिन संता का गला बैठ गया बहुत कोशिश की पर आराम नहीं मिला रात के 2 बजे अपनी बीवी से बोला कुछ समझ में नहीं आ रहा है क्या करूँ?

बीवी बोली: इसमें शर्माने की क्या बात है, सामने ही तो डॉक्टर बंता का घर है, चले जाओ!

संता: रात के 2 बजे किसी के घर जाते हुए अच्छा नहीं लगता है!

बीवी बोली: डॉक्टर का तो फ़र्ज़ यही है वे कभी भी मरीज को देख सकते हैं, इस बात की उन्हें शपथ दिलाई जाती है!

घबराते घबराते वे सामने वाले अपार्टमेन्ट में पहुंचे दरवाजा खटखटाया अन्दर से डॉक्टर की बीवी ने पूछा कौन है?

संता(गला बैठी हुई आवाज़ में) मैं हूँ आपका पड़ोसी, डॉक्टर साहब हैं?

अन्दर से आवाज़ आयी नहीं हैं, आ जाओ!
----------


क्या मैं प्रार्थना कर सकता हूँ!
संता और बंता एक मठ में धार्मिक सेवायें देने के लिए पहुंचे संता ने बंता को पूछा कि क्या जो धुम्रपान करता है, उसे धार्मिक सेवाएं देने का अधिकार है?

बंता ने कहा तुम धर्मगुरु से क्यों नहीं पूछ लेते!

बंता धर्मगुरु के पास जाता है और पूछता है 'गुरुजी क्या मैं प्रार्थना करते हुए धुम्रपान कर सकता हूँ?

धर्मगुरु ने कहा नहीं बेटा, बिलकुल नहीं, इससे धर्म का निरादर होता है!

संता वापिस बंता के पास आया और कहा कि धर्मगुरु ने ये सब कहा!

बंता ने उसे कहा कि अरे संता तुमने प्रश्न ही गलत किया, अब मैं कोशिश करता हूँ!

फिर बंता धर्मगुरु के पास जाता है और पूछता है कि गुरुजी क्या मैं धुम्रपान करते हुए प्रार्थना कर सकता हूँ?

जिस का धर्म गुरु ने सहमति के साथ उतर दिया, बिल्कुल कर सकते हो बेटा, बिल्कुल कर सकते हो, तुम जब चाहो तब प्रार्थना कर सकते हो!
----------
शतरंज के खिलाडी!
एक बार एक शतरंज का ग्रैंडमास्टर संता और बंता से बोला, चलो यार शतरंज खेलते हैं।

संता: नहीं, आप तो हमें आसानी से हरा दोगे।
ग्रैंडमास्टर: अछा चलो, तुम दोनों और मैं अकेला।
बंता: फिर भी हम हार जाएंगे।
ग्रैंडमास्टर: ठीक है, चलो मैं बाएं हाथ से खेलूंगा।

संता बंता : हां फिर ठीक है।

ग्रैंडमास्टर संता बंता  को हरा कर चला जाता है।

संता: बड़ी शर्मनाक बात है यार, उसने हमें उल्टे हाथ से भी हरा दिया।

बंता: अबे, वो हमें बेवकूफ बना गया।

संता: कैसे?

बंता: वो लेफ्टी ही होगा।
----------
जनगणना वाला!
संता अपने घर के बरामदे में बैठा अखबार पढ़ रहा था तभी एक आदमी हाथ में पेन्सिल और कुछ कागज लेकर वहां आया!

संता ने बड़ी विनम्रता से पूछा मैं आपके लिए क्या कर सकता हूँ, क्या आप कुछ बेचने आये हैं?

उस आदमी ने कहा नहीं सर मैं तो जनगणना वाला हूँ और जनगणना करने आया हूँ!

संता ने थोड़ा चकित होकर पूछा क्या?

आदमी ने कहा जनगणना साहब! उसने समझाते हुए कहा हम यह जानने कि कोशिश कर रहे हैं कि हमारे देश में कुल कितने लोग हैं!

अच्छा! संता ने कहा पर यहाँ तुम अपना समय खराब कर रहे हो क्योंकि मुझे इसका कोई आईडिया नहीं है!
----------
ऐसा मत करो!
संता को अपनी बीवी पर शक था कि उसका उसके अलावा किसी और के साथ भी चक्कर है, वह उसे रंगे हाथ पकड़ना चाहता था और उसे सजा देना चाहता था इसलिए उसने एक पिस्तौल खरीद ली!

एक दिन वह दोपहर को अचानक बिना बताए अपने घर पहुँचा... देखा तो उसके अनुमान के अनुसार उसकी बीवी किसी और के साथ रंगरलियाँ मना रही थी!

यह सब नजारा देखकर संता का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुँच गया उसने वह नई-नई खरीदी हुई पिस्तौल सामने अपनी बीवी पर तानी, फिर दुखी होकर इरादा बदलते हुए उसने वह पिस्तौल अपनी कनपटी पर लगाई!

वह ट्रिगर दबाने ही वाला था कि उसकी बीवी चिल्ला उठी, नही पतिदेव...ऐसा मत करो!

चुप रहो... अगला नंबर तुम्हारा है.... संता जोर से चिल्लाया!
----------


संता की अलमारी!
एक दिन संता रोजमर्रा के समय से पहले ही दफ्तर से घर पहुँच गया, तो जीतो, जो की अपने प्रेमी के साथ घर के अन्दर थी, ने जल्दी जल्दी अपने प्रेमी को अलमारी में छिपा दिया।

थोड़ी देर बाद उसने संता से कहा,"चलो डिनर कर लेते हैं।"

जब वे खाना खा रहे थे तो संता को अलमारी में कोई आवाज सुनाई दी, संता ने पूछा,"ये क्या है डार्लिंग?"

जीतो ने कहा, "कुछ नही जैकेट होगी।"

कुछ समय बाद फिर उसे वही आवाज सुनाई दी, संता ने फिर चिढ़कर कहा, "अरे ये फिर से आवाज हुई?"

जीतो ने कहा, "कुछ नही जैकेट है।"

थोड़ी देर बाद संता को फिर वही आवाज सुनाई दी, संता गुस्से में, "मैं ही देखता हूँ ये क्या है और अगर ये जैकेट नही हुई न तो तुम्हें बहुत पछताना पड़ेगा!"

संता ने जैसे ही अलमारी का दरवाजा खोला उसने देखा एक आदमी उसकी ओर पिस्तौल ताने खड़ा है, संता ने चुपचाप दरवाजा बंद किया और कहने लगा, "डार्लिंग सच में जैकेट ही है।"
----------
सो जा बेटा!
वह दिन भी कैसे थे जब मच्छर भगाने के लिए रात में किसी तरह कि सुविधा नही थी और लोगों को सारी रात जाग कर काटनी पड़ती!

संता भी इसी तरह की रातें गुजारा करता एक दिन वह सोने की कोशिश कर रहा था कि उसके कान के पीछे एक मच्छर आया और उसकी नींद में विघ्न डाल दिया!

मच्छर कान के पीछे लगातार गू.आ.आ.ऊँ.ऊँ गू...आ...आ...ऊँ...ऊँ कर रहा था!

संता को बहुत गुस्सा आया और वह उठकर बैठ गया, उसने हवा में इधर-उधर हाथ मारे पर उसके हाथ मच्छर नही लगा!

काफी कोशिश के बाद उसने मच्छर को अपने हाथ में पकड़ लिया, उसे मच्छर पर बड़ी दया आयी उसने उसे मारा नही पर उससे बदला लेने का फैसला किया!

उसने मच्छर को हाथ पर सुलाया और लोहरी गाने लगा 'सो जा मच्छर बेटे ..सो जा' थोड़ी देर में उसने देखा कि मच्छर उसके हाथ पर सो गया है तब संता चुपके से उसके नजदीक गया और गू.आ.आ.ऊँ.ऊँ गू...आ...आ...ऊँ...ऊँ करने लगा!
----------
आलसीपन की हद!
संता और बंता एक रोज आलस के मारे एक कमरे में लेटे हुए थे।

बंता: यार जरा बाहर जाकर तो देख, बारिश हो रही है क्या?

संता: हाँ, बारिश हो रही है।

बंता: बिना देखे ही तू कैसे कह सकता है?

संता: अभी-अभी जो बिल्ली अंदर आई थी वो भीगी हुई थी, इसका मतलब बारिश हो रही है।

थोड़ी देर बाद बंता फिर बोला, "जरा बत्ती तो बुझा दे यार, मुझे रौशनी में नींद नहीं आती।"

संता: आंखें बंद कर लो अपने-आप अंधेरा हो जायेगा।

बंता झल्लाकर बोला, "कम से कम दरवाजा तो बंद कर ले।"

संता: अब दो काम मैंने कर दिए, एक-आध काम तू खुद भी कर ले।
----------
वह कौन था?
संता एक बार ऑस्ट्रेलिया गया था वहां सिडनी में एक बार में बैठा था तभी एक ऑस्ट्रेलियन आया और संता के साथ वाले स्टूल पर बैठ गया।

उसने संता की ओर मुखातिब होते हुए कहा,"चलो एक छोटा सा खेल खेलते है मैं तुमसे एक पहेली पूछता हूँ अगर तुम इसका जवाब दे पाए तो ड्रिंक मेरी ओर से और अगर जवाब नही दे पाए तो ड्रिंक तुम्हारी तरफ से।"

संता ने बड़ी ख़ुशी से कहा ठीक है।

ऑस्ट्रेलियन ने कहा,"मेरे माँ बाप के एक बच्चा था, वह न तो मेरा भाई था और न मेरी बहन थी तो ये फिर कौन था?"

संता अपने सिर को खुजलाने लगा और बहुत सोचने के बाद उसने उससे कहा,"मैं नही बता सकता तुम ही बताओ की वह कौन था?"

तब ऑस्ट्रेलियन ने कहा,"वह मैं था", और वह मजाकिया अंदाज में हंसने लगा, फिर संता ने ड्रिंक के पैसे चुकाए और वहां से चला गया।

अगले दिन संता वापस भारत आ गया रात में वह बार में बैठा था, तभी वहां बंता आ गया।

संता: अरे बंता आओ यहाँ बैठो चलो एक खेल खेलते हैं, मैं तुमसे एक पहेली पूछता हूँ अगर तुम इसका जवाब दे पाए तो ड्रिंक मेरी ओर से और अगर नही दे पाए तो ड्रिंक तुम्हारी तरफ से।

बंता ने कहा,"ठीक है।"

संता ने कहा,"मेरे माँ बाप के एक बच्चा था वह न तो मेरा भाई था और न मेरी बहन थी तो ये फिर कौन था?"

बंता ने थोड़ी देर सोचा और फिर कहा, "यार मुझे नही पता तुम ही बताओ वह कौन था?"

संता ने कहा,"वह एक ऑस्ट्रेलियन था, जो सिडनी में रहता है।"
----------


संता की लॉटरी!
संता ने एक लॉटरी टिकट ख़रीदा और उसकी लॉटरी भी निकल गयी।

वह लॉटरी का दावा करने के लिए लॉटरी टिकट लेकर अपने नम्बर की पुष्टि करने जाता है।

संता वहां बैठे आदमी से कहता है,"मैंने लॉटरी के 10 लाख रूपए जीते है और वे मुझे अभी चाहिए।"

वहां बैठा आदमी संता से कहता है,"सर हम इस तरह लॉटरी का पूरा पैसा एक ही बार में आपको नही दे सकते, हम आपको अभी एक लाख देंगे और बाकि के नौ लाख अगले नौ साल में देंगे।"

संता ने कहा,"अरे ऐसा नही होता मैंने लॉटरी जीती है और मुझे सारा पैसा अभी के अभी चाहिए।"

वह आदमी फिर से कहने लगा,"देखिये सर हम अभी आपको केवल एक लाख ही दे सकते हैं बाकि की राशि अगले नौ सालों में ही देंगे।"

संता ने बहुत ही गुस्से में उस आदमी से कहा,"देखो मुझे मेरा पैसा चाहिए अगर तुम मुझे 10 लाख अभी नही दे सकते हो तो मेरा वह 100 रूपया वापस कर दो जिससे मैंने लॉटरी का टिकट ख़रीदा था।
----------
दूसरा अफेयर
बंता: मेरे वैवाहिक जीवन से सारा रोमांच चला गया है।

संता: तुम घर से बाहर कोई नया अफेयर क्यों नहीं चला लेते?

बंता: पर अगर मेरी बीवी को पता चल गया?

संता: अरे हम नए ज़माने में रहे हैं जाओ और उसे सब कुछ साफ़ साफ़ बता दो।

बंता: अपने घर गया और बीवी से कहने लगा प्रीतो, मुझे लगता है के एक अफेयर हमें पास लाने में मदद करेगा।

प्रीतो: भूल जाओ इस बात को, मैंने पहले ही ये कोशिश कर ली है, पर कोई फर्क नहीं पड़ा।
----------
उसका नाम क्या है?
एक बार संता को उसका दोस्त बंता रात के खाने पर आमन्त्रित करता है, जहाँ उसने ग़ौर किया कि उसका दोस्त अपनी पत्नी से कुछ कहने के बाद उसे कुछ खास शब्दों से सम्बोधित करता है जैसे: हनी, डार्लिंग, स्वीटहार्ट, जानू इत्यादि!

वह उससे बहुत प्रभावित हुआ, क्योंकि उन दोनों की शादी को 50 साल हो चुके थे और वे दोनों विवाहित जीवन बिता रहे थे!

जब बंता की पत्नी रसोई में थी तो संता ने कहा, मुझे लगता है कि यह कमाल की बात है कि इतने सालों के बाद भी तुम अपनी पत्नी को इतने प्यारे नामों से बुलाते हो!

बंता ने अपना सिर झटकते हुए कहा, अरे ऐसा नहीं है यार मैं तुम्हें सच्चाई बताता हूँ वास्तव में मुझे पिछले दस सालों से मुझे यही याद नहीं है की उसका नाम क्या है?
----------
तीन सेल्समैन!
तीन सेल्समैन बड़ी शेखियां बघार रहे थे वे अपने आप को सबसे बढ़िया सेल्समैन साबित करते हुए कह रहे थे:

पहला: मैंने आज एक अंधे आदमी को रंगीन टी.वी. बेचा!

दूसरा: मैंने तो एक बहरे आदमी को सोनी का म्युज़िक सिस्टम बेच दिया!

तीसरा: अरे मैंने तो आज बंता को कुकू घड़ी (Cuckoo clock) बेच दी!

बाकि दोनों उससे पूछने लगे तो क्या हुआ!

तीसरे ने कहा अरे मैंने कुकू घड़ी के साथ उसको 50 किलोग्राम पक्षियों का दाना भी बेच दिया!
----------


कुछ तो पॉजिटिव है!
एक बार संता को देखने के लिए लड़की वाले आये, कुछ देर बातें करने के बाद लड़की के बाप ने संता से कुछ सवाल जवाब करने शुरू किये।

लड़की का बाप: क्या तुम नॉन वेज खाते हो?

संता: जी हाँ।

लड़की का बाप: शराब पीते हो?

संता: जी हाँ।

लड़की का बाप: जुआ खेलते हो?

संता: हाँ।

लड़की का बाप: अरे तुम में सब कुछ नेगेटिव ही है या कुछ पॉजिटिव भी है?

संता: जी HIV पॉजिटिव है।
----------
प्लेटफोर्म नम्बर-1!
प्लेटफोर्म नम्बर-1 3148 बंता प्लेटफोर्म नम्बर-1 पर खड़ा होकर पंजाब मेल आने का इन्तजार कर रहा था!

तभी उसे रेलवे विभाग की सूचना सुनाई दी..... कृप्या ध्यान दें ट्रेन नम्बर 234 पंजाब मेल दिल्ली से कुछ ही क्षणों में प्लेटफोर्म नम्बर-1 पर आ रही है!

जैसे ही बंता ने ये सूचना सुनी वह घबराया हुआ सा अपना बैग उठाकर रेलवे ट्रैक पर जा पहुंचा और वहां खड़ा हो गया!
----------
बंता का उधार!
संता और बंता एक बैंक में नौकरी करते थे एक दिन उस बैंक में बैंक लूटने वाले घुस गए, उन्होंने पूरा बैंक लूट लिया और फिर सभी कर्मचारियों को दीवार के साथ खड़े होने को कहा, फिर उनसे उनके पर्स घड़ियाँ और कीमती चीजें छिनने लगे!

संता बंता भी उसी लाइन में खड़े थे तभी संता ने बंता के हाथों में कुछ पकड़ाया, बंता ने फुसफुसाते पूछ लिया कि ये क्या है!

तो संता ने जवाब दिया कि वो 1000 रूपए है जो मैंने तुमसे उधार लिए थे!
----------
अगली बार!
संता अपनी पत्नी जीतो और नवजात बच्चे को अस्पताल से घर लेकर आया!

जीतो ने संता से कहा कि बच्चे ने गिला कर दिया है इसका डाईपर बदल दो!

संता मैं अभी काम में व्यस्त हूँ मैं वादा करता हूँ कि अगली बार पक्का करूँगा!

थोड़ी देर बाद जब बच्चे ने फिर गिला किया तो जीतो ने फिर से संता से कहा!

संता ने मासूमियत से जीतो की तरफ देखकर कहा...मैंने यह नही कहा था कि अगला डाईपर, मैंने तो यह कहा था कि जब अगला बच्चा होगा, तब मैं पक्का करूँगा!
----------


वैक्यूम क्लीनर!
एक औरत ने दरवाजा खोला तो दरवाजे पर उसने देखा कि सामने एक आदमी है जो एक वैक्यूम क्लीनर को हाथ में उठाये हुए है!

गुड मॉर्निंग मैडम! मेरा नाम बंता है मैं आपका थोड़ा समय लेना चाहूँगा, मैं आपको एक बिल्कुल नया, उच्च गुणवत्ता और बहुत शक्तियुक्त वैक्यूम क्लीनर दिखाना चाहता हूँ!

औरत ने कहा चले जाओ यहाँ से! मेरे पास इतने पैसे नही है और वह मुड़कर दरवाजा बंद करने लगी!

बंता ने जल्दी से दरवाजे के बीच में अपनी टांग को रखा और दरवाजे को खोलते हुए बोला देखिये मैडम मेरी बात तो सुनिए बस एक बार मैं आपको इसका नमूना न दिखा दूँ और यह कहते हुए उसने पास में पड़ा हुआ घोड़े की लीद से भरा हुआ डिब्बा फर्श पर उड़ेल दिया सारे फर्श पर लीद को उड़ेल कर उस औरत से बोला:

मैडम देखिएगा अगर ये वैक्यूम क्लीनर इसको पूरा साफ़ नही कर पाया तो मैं बचे हुए मल को अपने मुहं से चाटकर साफ़ करूँगा!

औरत थोड़ी देर चुप रही फिर कहा मुझे लगता है आज तुम्हारी भूख अच्छी तरह से शांत हो जाएगी .......क्योंकि आज सुबह से शाम तक बिजली बंद है!
----------
संता की वेशभूषा!
पप्पू ने संता के सिर पर एक अजीब से टोपी देखी तो पूछा,"पापा ये आपने आज अजीब सी टोपी क्यों पहनी हुई है।"

संता ने जवाब दिया,"बेटा यह रेगिस्तान में गर्मी से हमारे सिर की रक्षा करती है।"

पप्पू: आपने कपड़े भी अजीब किस्म के पहने हुए हैं, ऐसा क्यों?

संता: बेटा ये ख़ास प्रकार के कपड़े हैं जो बहुत गर्मी में हमारे शरीर की रक्षा करते हैं।

पप्पू: पापा आपने अजीब प्रकार के जूते भी पहने हुए है, ऐसा क्यों?

संता: बेटा रेगिस्तान की रेत बहुत गर्म होती है उसमें चलने के लिए यह एक ख़ास प्रकार का जूता है।

पप्पू: तभी आपके ऊपर चुटकुले बनते हैं पापा ज़रा आँखे खोल के देखो हम रेगिस्तान में नहीं मनाली में हैं?
----------
उदास क्यों हो?
संता और बंता कई दिनों बाद मिले संता कुछ उदास सा लग रहा था और आँखों में आंसू थे।

बंता ने पूछा, "अरे तुम तो ऐसे लग रहे हो जैसे तुम्हारा सुब कुछ लुट गया हो क्या बात है?"

संता ने कहा, "अरे क्या बताऊँ तीन हफ्ते पहले मेरे अंकल गुजर गए और मेरे लिए 50 लाख रूपए छोड़ गए।"

बंता: तो इसमें बुरी बात क्या है?

संता ने कहा: और सुनो दो हफ्ते पहले मेरा एक चचेरा भाई मर गया जिसे मैं जानता भी नहीं था वो मेरे लिए 20 लाख रूपए छोड़ गया।

बंता ने कहा: ये तो अच्छा हुआ।

बंता ने कहा: पिछले हफ्ते मेरे दादाजी नहीं रहे और वो मेरे लिए पूरा 1 करोड़ छोड़ गए।

बंता ने कहा: ये तो और भी अच्छी बात है पर तुम इतना उदास क्यों हो?

संता ने कहा: इस हफ्ते कोई भी नहीं मरा।
----------
डिनर और मूवी दिखा देना!
एक घर में संता को घर को रंग रोगन करने का काम दिया गया संता ने बहुत ही ईमानदारी से पूरे घर को रंग रोगन किया!

घर के मालिक ने जब पूरे घर को देखा तो खुश हो गया उसने संता को शाबाशी देते हुए कहा! संता मैं तुम्हारे काम से बहुत खुश हूँ उसने संता को पैसे दिए और 500 रूपए अलग से देते हुए कहा लो बीवी को बाहर डिनर के लिए ले जाना और मूवी भी दिखा देना!

संता ने कहा नहीं साहब! मैं नहीं ले जा सकता!

मालिक ने कहा कोई बात नही मैं उसे मना लूँगा अगर तुम ऐसा करोगे तो मुझे बहुत ख़ुशी होगी मालिक ने कहा!

संता ने कहा अगर ऐसी बात है तो मुझे कोई ऐतराज नही मैं जरुर ले जाऊंगा!

रात को संता बिल्कुल तैयार होकर आया बढ़िया कपड़े, हाथों में फूलों का गुलदस्ता, उसने घर की घंटी बजाई!

घर का मालिक दरवाजे पर आया और उसे लगा शायद संता कुछ भूल गया होगा उसने पूछा

संता क्या बात है क्या यहाँ कुछ रह गया है यहाँ?

संता ने कहा नही मैं तो यहाँ बीवी को लेने आया हूँ, आपने ही तो दिन में कहा था कि शाम को बीवी को डिनर के लिए और मूवी दिखाने के लिए ले जाना!
----------


आकर्षक चीज!
संता एक स्टोर में गया और उसे वहां एक बहुत ही आकर्षक बोतल सी कोई चीज दिखाई दी उसने स्टोर वाले से पूछा ये इतनी आकर्षक चीज क्या है?

स्टोर वाले ने कहा सर ये थर्मस फ्लास्क है!

संता ने फिर से पूछा इसका क्या उपयोग है?

स्टोर वाले ने कहा यह गर्म चीजों को गर्म और ठंडी चीजों को ठंडा रखता है!

संता ने कहा मैंने यह खरीदना है!

अगले दिन संता नया थर्मस लेकर ऑफिस चला गया उसके बॉस ने उसे देखा और पूछा अरे संता ये इतनी बढ़िया सी चीज जो तुम लाये हो वह क्या है? संता ने कहा यह थर्मस फ्लास्क है!

बॉस ने पूछा इसका क्या उपयोग है?

संता ने कहा ये गर्म चीजों को गर्म और ठंडी चीजों को ठंडा रखता है!

बॉस ने कहा तो तुम इसमें क्या लाए हो?

संता: दो कप कॉफी और थोड़ा सा कोका कोला!
----------
संता का अमर-प्रेम!
एक बार जीतो बड़े रूमानी अंदाज़ में संता से पूछती है, " सुनो जी, तुम मुझसे कितना प्यार करते हो?"

संता: बेहद?

जीतो: फिर भी कितना?

संता: जितना शाहजहां, मुमताज से करता था।

जीतो: मतलब अगर मैं मर जाऊं तो तुम मेरे लिए ताजमहल भी बनवाओगे।

संता: जानू, मैंने तो जगह भी देख रखी है, बस तेरे मरने का इंतज़ार कर रहा हूं।
----------
अब संता क्या कहे!
स्कूल से अपने बेटे पप्पू के काफी सारे प्रेम प्रसंगों और बुरी आदतों की शिकायतें आने के बाद एक दिन संता उसे बुलाया और कहा।

संता: बेटा मुझे समझ नहीं आ रहा तुम्हे कैसे कहूं पर मुझे लगता की वह वक्त आ गया है जब हम दोनों स्त्री-पुरुष संबंधों के बारे में आपस में खुल कर बातचीत करें।

संता की बात सुन पप्पू तपाक से बोला, "अरे पापा शर्माइये नहीं बताइए ना आप क्या जानना चाहते हैं"?
----------
संता कहाँ गया?
संता अपने दोस्त बंता के घर आया हुआ था, रात को खाना खा कर जब वह वापस अपने घर जाने लगा तो देखा की बाहर बहुत तेज़ बारिश हो रही थी।

बंता ने ये देखा तो बोला, "आज मेरे पास ही रुक जाओ बारिश बहुत तेज है।"

संता: "ठीक है।"

बंता ने बिस्तर लगाया और देखा तो संता को गायब पाया।

एक घंटे बाद संता ने बंता के घर का दरवाजा खटखटाया।

बंता ने हैरानी से पूछा, "ओये तू किधर गया था?"

संता: "यार, वो मैं घर वालों को बताने गया था, के आज बारिश की वजह से मैं घर नहीं आ सकूँगा।"
----------


देश का भला!
एक बार संता और बंता आपस में बात कर रहे थे कि अचानक संता ने बंता से पूछा , "यार बनता मैंने सुना हैं तू फ़ौज में भर्ती हो रहा है?"

बंता: नहीं यार तुझे किसने कहा? मुझे तो ये भी पता नहीं की बन्दूक का मुंह किधर रख कर चलाते हैं।

संता: ओह यार इसमें कौनसी बड़ी परेशानी है तू बन्दूक का मुंह किधर भी रख कर चला, भला देश का ही होगा।
----------
जुरासिक पार्क!
बंता जुरासिक पार्क मूवी देखने सिनेमा हाल में गया पूरा हाल भीड़ से खचाखच भरा था उसमें एक सीन आता है जब ऐसा लगता है कि डायनासोर दर्शकों कि तरफ भागते हुए आ रहा है, जब वो सीन आया तो बंता डर के मारे कुर्सी के नीचे को झुक गया!

साथ में बैठे हुए संता ने उसे पूछा क्यों, क्या बात है? डर क्यों लग रहा है? सिनेमा ही तो है!

बंता ने जवाब दिया, आदमी हूँ और अक्ल भी है, पता है कि सिनेमा है...लेकिन वो तो जानवर है, उसको क्या पता!
----------
उदास क्यों हो!
संता और बंता कई दिनों बाद मिले संता कुछ उदास सा लग रहा था और आँखों में आंसू थे, बंता ने पूछा, "अरे तुम तो ऐसे लग रहे हो जैसे तुम्हारा सब कुछ लुट गया हो क्या बात है?"

संता ने कहा, "अरे क्या बताऊँ तीन हफ्ते पहले मेरे अंकल गुजर गए और मेरे लिए 50 लाख रूपए छोड़ गए।"

बंता: तो इसमें बुरी बात क्या है?

संता ने कहा, "और सुनो दो हफ्ते पहले मेरा एक चचेरा भाई मर गया जिसे मैं जानता भी नहीं था वो मेरे लिए 20 लाख रूपए छोड़ गया।"

बंता ने कहा, "ये तो अच्छा हुआ।"

बंता ने कहा, "पिछले हफ्ते मेरे दादाजी नहीं रहे और वो मेरे लिए पूरा 1 करोड़ छोड़ गए।"

बंता ने कहा, "ये तो और भी अच्छी बात है पर तुम इतना उदास क्यों हो?

संता ने कहा, "इस हफ्ते कोई भी नहीं मरा।"
----------
शादी का राज़!
एक बार संता और बंता समुद्र किनारे सैर कर रहे होते हैं, कि तभी अचानक बंता के दिमाग में एक सवाल आता है तो वह संता से पूछता है, "यार संता एक बात बता।"

संता: हाँ बोल।

बंता: जब हर आदमी को शादी करने के नुक्सान पता होते हैं, तो फिर भी वो शादी क्यों करता है?

संता: अरे वो इस लिए कि मरने के बाद अगर उसकी आत्मा स्वर्ग जाए तो वो अच्छा महसूस करे और अगर नर्क जाए तो उसे घर जैसा महसूस हो।
----------


फ्लॉप आईडिया!
एक दिन बंता ने अपने दोस्त संता को बुलाया और कहा कि यार आज रात को मुझे एक लड़की सपने में आयी और मुझे बहुत अच्छा लग रहा है, मुझे समझ नहीं आ रहा अब मैं क्या करूँ?

संता ने कहा उस लड़की को कुछ फूल भेज दे, और उसे अपने घर खाना बनाने के लिए बुला!

बंता को ये बात अच्छी लगी और उसने उस लड़की को कुछ फूल भेजे और उसे घर बुला लिया!

शाम को बंता ने संता को फ़ोन किया अरे यार तो बताओ कुछ खाने के बारे में!

बंता ने कहा यार तुम्हारा आईडिया फ्लॉप था!

संता क्या वो लड़की तुम्हारे घर नहीं आयी थी!

बंता अरे यार आयी तो थी पर उसने खाना बनाने से मना कर दिया!
----------
होशियार कुत्ता!
एक बार बंता अपने दोस्त संता से मिलने उसके घर गया, वह दरवाजे से जैसे ही अन्दर घुसा वह यह देखकर हैरान हो गया कि संता अपने कुत्ते के साथ शतरंज खेल रहा है।

बंता उन दोनों को बड़ी हैरानी के साथ एकटक देखता रहा।

फिर बंता यह कहता हुआ आगे बड़ा कि,"मुझे अपनी आँखों पर यकीन नही हो रहा है कि तुम्हारा कुत्ता इतना होशियार है कि यह शतरंज भी खेलता है, मैंने आज तक किसी कुत्ते को शतरंज खेलते हुए नही देखा।"

संता: होशियार? क्या ख़ाक होशियार है ये, अब तक मैंने इसे पांच में से तीन गेम्स में हरा दिया है।
----------
संता का दिमाग!
एक बार संता अपनी पत्नी के लिए के लिए प्यानो लेकर आया, तो पप्पू ने उस से पूछा, " पापा ये आप क्यों लाये हैं।"

संता: बेटा तुम्हारी माँ प्यानो बजाना सीखना चाहती थी इसीलिए ये उसका जन्मदिन का तोहफा है।

कुछ दिनों बाद पप्पू ने संता से पूछा, पापा क्या माँ ने अब प्यानो बजाना सीख लिया है?

संता: नही, हमने उसे वापस कर दिया और मैं उसकी जगह शहनाई लाया हूँ।

पप्पू: वो किसलिए पापा?

संता: शहनाई बजाते हुए तुम्हारी माँ कम से कम अपनी बेसुरी आवाज़ में गाना तो नही गा पाएगी।
----------
मैं क्यों जाऊं!
संता बंता और उनका एक दोस्त बीयर बार में बीयर पीने गए!

जब वह पीने लगे तो संता बोला लगता है बाहर बारिश हो रही है और हमारे पास छतरी भी नहीं है, तीनों में ये बात चल पड़ी की छतरी लाने के लिए कौन जाएगा गरमागरम बहस के बाद तय हुआ कि बंता छतरी लेने के लिये घर जाये!

बंता ने गुस्से में कहा मेरे जाने पर तुम मेरी सारी बीयर पी जाओगे उन्होंने उसे विश्वास दिलाया कि वे दोनों उसके हिस्से की बीयर नहीं पीयेंगे, उसके हिस्से की ज्यों की त्यों रखी रहेगी तब कहीं बंता छतरी लेने चला गया!

रात गहराने लगी पर बंता वापिस लौटकर नहीं आया संता अपने दोस्त को बोला क्यों न बंता के हिस्से की बीयर भी पी ही ली जाये अब तो वो आने से रहा!

दूसरा बोला मैं भी यही सोच रहा था आओ पीते हैं!

तभी बार के एक कोने की छोटी सी खिड़की से तेज आवाज आई अगर पीओगे तो मैं छतरी लेने नहीं जाऊंगा!
----------


इस उम्र में!
दो बूढ़े आदमी, संता और बंता रोजाना शाम को एक पार्क में मिलते थे वहां वे कुछ देर साथ-साथ घूमते, सुख दु:ख की बातें करते और फिर अपने अपने घर चले जाते!

एक दिन बंता नहीं आया संता ने इसे मामूली बात समझा और अपने घर चला गया लेकिन जब लगातार एक हफ्ते तक बंता नहीं आया तो संता को चिन्ता होने लगी परंतु वह कुछ नहीं कर सकता था वे दोनों काफी समय से पार्क में मिलते जरूर थे पर एक दूसरे का घर नहीं जानते थे लिहाजा उसने समझ लिया कि पिछली मुलाकात ही उनकी आखिरी मुलाकात थी और बंता अब इस दुनिया में नहीं है बहरहाल उसने अकेले ही पार्क में जाना जारी रखा!

छ: महीने बाद अचानक एक दिन बंता पार्क में घूमता हुआ नजर आया, बंता को देखकर संता की खुशी का ठिकाना नहीं रहा फिर उसने पूछा इतने दिन कहां रहे? मैं जेल में था, बंता ने जवाब दिया!

जेल! संता चिल्लाया, पर किस वजह से?

बंता आराम से बैठकर बोला पार्क के मेन गेट पर जो कॉफी शॉप है, तुम उसकी सुन्दर सी मालकिन को जानते हो न?

हां, तो? संता ने भौहें सिकोड़ते हुए कहा एक दिन पैसों के लेनदेन को लेकर मेरा उससे झगड़ा हुआ और मैंने उसे एक थप्पड़ रसीद कर दिया इस बात से नाराज होकर वह थाने चली गई और मेरे खिलाफ बलात्कार की झूठी रिपोर्ट दर्ज करा दी!

भरी अदालत में जब जज ने मुझसे इस आरोप की सफाई मांगी तो सच कहूं 80 साल की इस उम्र में अपने ऊपर लगे इस आरोप पर मुझे इतना गर्व महसूस हुआ कि मुझसे मना करते नहीं बना और मैंने उसे स्वीकार कर लिया!

मेरी उम्र को देखते हुए जज ने मुझे मात्र 6 महीने जेल की सजा सुना दी बस!
----------
दांत का दर्द!
जीतो बड़ी हड़बड़ी में दांत के डॉक्टर के पास गई और बोली,"डॉक्टर साहब! मैं बहुत जल्दी में हूं।"

मुझे एक जरूरी मीटिंग में जाना है इसलिए एनस्थीसिया (निश्चेतक) मत लगाइये और जल्दी से दांत बाहर निकाल दीजिये।

डॉक्टर ने मन ही मन मुस्कुराते हुए कहा,"कमाल की बहादुर औरत है।"

फिर उसने जीतो से बोला, ठीक है, जैसी आपकी मर्जी।

इस कुर्सी पर बैठ जाइये और बताइये कौन से दांत में दर्द है।

जीतो ने दरवाजे के पास खड़े अपने पति संता को आवाज दी,"चलो! डॉक्टर साहब को दांत दिखाओ।"
----------
कौन बनेगा करोड़पति!
संता कौन बनेगा करोड़पति शो में गया!

अमिताभ बच्चन ने संता से पूछा: संताजी आप किसके साथ यहाँ आये है?

संता: पिताजी के साथ!

अमिताभ: आप के पिताजी का शुभनाम?

संता: हाँ...जी!

अमिताभ: क्या नाम है आपके पिताजी का?

संता: जी!

अमिताभ: अरे संताजी, मैं आपसे आपके पिताजी का नाम पूछ रहा हूँ?

संता: पहले मुझे चार ऑप्शन तो दो!
----------
पागल हो गया है!
एक पागलखाने में एक डॉक्टर सुबह सुबह मरीजों के चैकअप के लिए निकल पड़ा उसने देखा संता ऐसे दिखा रहा है कि वह लकड़ियाँ काटने का काम कर रहा है और बंता सीलिंग के साथ उल्टा लटका हुआ है!

डॉक्टर ने पूछा अरे संता क्या कर रहे हो?

संता ने कहा दिखाई नहीं देता लकड़ियाँ काट रहा हूँ!

डॉक्टर ने संता से फिर पूछा और ये बंता क्या कर रहा है?

संता ने कहा ये तो पागल हो गया है ये समझ रहा है कि ये बल्ब है इसलिए उल्टा लटका है!

डॉक्टर ने उल्टे लटके हुए बंता को देखा तो उसका चेहरा पूरा लाल हो गया था डॉक्टर ने संता से कहा अरे, ये तुम्हारा दोस्त है इस से पहले कि इसके साथ कुछ गलत हो तुम्हें इसे नीचे उतारना चाहिए!

संता फिर में अँधेरे में काम कैसे करूँगा?
----------


पत्र का जवाब!
एक दिन बंता को संता का पत्र मिला जिसमें लिखा था...

प्रिय मित्र बंता, मैं बहुत मुसीबत में हूँ मुझे तुम्हारी मदद चाहिए, मुझे 10000 रुपयों की जरुरत है 6 महीने में वापिस कर दूंगा!

बंता, संता को पैसे नहीं देना चाहता था तो वो कोई बहाना सोचने लगा की अब क्या बहाना बनाऊं?

बहुत सोचने के बाद उसे एक उपाय सुझा और बंता एक पत्र लिखने लगा...

मेरे प्रिय मित्र संता, मुझे माफ़ करना! दुर्भाग्य से मुझे तुम्हारा वो पत्र नहीं मिला जिसमें तुमने मुझे 10000 रूपए देने को कहा था!
----------
गधा!
संता एक स्कूल में इंग्लिश टीचर था वह बहुत अच्छे से बच्चों को पढ़ाता और परीक्षा में बच्चे बहुत अच्छे नंबर लेते थे!

स्कूल का प्रिंसिपल भी बंता के काम से बहुत खुश था एक दिन स्कूल का निरीक्षण होना था निरीक्षक ने कहा कि वो पहले इंग्लिश की क्लास में जायेगा!

इंग्लिश की क्लास में बंता बच्चों को कुछ इस तरह पढ़ा रहा था!

बंता: बोलो बच्चों गधा!

सारे बच्चे एक साथ कहने लगे: गधा संता: बोलो बच्चों गधा, गधे के पीछे गधा!

सारे बच्चे एक साथ: गधा, गधे के पीछे गधा!

संता: बोलो बच्चों गधा, गधे के पीछे गधा, गधे के पीछे मैं!

सारे बच्चे फिर से एक साथ: गधा, गधे के पीछे गधा, गधे के पीछे मैं!

संता: बोलो बच्चों गधा, गधे के पीछे गधा, गधे के पीछे मैं और मेरे पीछे सारा देश!

सारे बच्चे फिर से एक साथ: गधा, गधे के पीछे गधा, गधे के पीछे मैं और मेरे पीछे सारा देश!

उसी वक़्त वहां निरीक्षक आ गया और वो बहुत गुस्से हो गया उसने प्रिंसिपल को बुलाया और कहने लगा ये संता क्लास में बच्चों को क्या पढ़ा रहा है प्रिंसिपल यह देखने के लिए आगे बढ़ा कि क्लास में क्या पढ़ाया जा रहा है उसने सुना गधा, गधे के पीछे गधा, गधे के पीछे मैं, और मेरे पीछे सारा देश!

प्रिंसिपल यह सुनकर बढ़ा हैरान हो गया संता जैसा अच्छा अध्यापक इस तरह से पढ़ा रहा है प्रिंसिपल ने तुरंत संता को टोकते हुए कहा संता ये क्या पढ़ा रहे हैं आप?

गधा, गधे के पीछे गधा, गधे के पीछे मैं और मेरे पीछे सारा देश!

जी हाँ सर मैं ये सब क्लास में बच्चों को पढ़ा रहा हूँ!

मैं बच्चों को 'ASSASSINATION' का अर्थ समझा रहा हूँ!
----------
संता का रक्षक
संता का अपनी बीवी से झगड़ा हो गया।

वह काफी गुस्से में अपने घर से निकला गली से होकर जल्दी जल्दी दफ्तर की तरफ जा रहा था तभी उसे एक आवाज सुनाई दी ठहरो! ठहर जाओ! अगर तुमने एक कदम भी आगे बढ़ाया तो एक ईंट तुम्हारे सिर पर आकर गिरेगी और तुम यहीं मर जाओगे।

संता घबराहट में इधर उधर देखने लगा तभी एक ईंट आकर उसके पैर के पास गिरी संता ने चारों और नजर दौड़ाई पर उसे वो आवाज देने वाला कहीं नजर नही आया।

वह वैसे ही गुस्से में था तो उसने ज्यादा ध्यान भी नही दिया और आगे बढ़ गया।

गली छोड़कर वह मुख्य सड़क पर आ गया जैसे ही वह सड़क पार करने लगा फिर से वही आवाज उसके कानों में पड़ी ठहरो! ठहर जाओ! एक कदम भी आगे बढ़ाया तो एक गाड़ी तुम्हें कुचल देगी।

संता फिर रुक गया तभी एक गाड़ी संता को लगभग छूती हुई निकल गयी।

संता बहुत हैरान हो गया कि ये आवाज देने वाला है कौन जो नजर भी नही आ रहा है और मुझे खतरों से भी बचा रहा है।

संता ने जोर से आवाज लगाई, "अरे भाई कौन हो तुम?"

दूसरी तरफ से आवाज आई, "मैं आपका सेवक और रक्षक देवदूत हूँ मेरा काम आपको मुसीबतों से बचाना है।"

संता ने चिढ़ते हुए कहा, "अरे कमबख्त उस वक़्त तुम कहाँ मर गए थे जब मेरी शादी हो रही थी।"
----------
अब तुम बताओ
संता और उसके दोस्त एक बीयर बार में बैठ कर बातें कर रहे थे उसके दोस्तों ने कहा यार हम तो अपनी बीवियों पर पैसों के जोर पर नियंत्रण रखते है!

संता उनकी बात चुपचाप सुन रहा था तब वे दोनों संता की तरफ मुड़े और उससे पूछने लगे यार तुम भी कुछ कहो अपने बारे में कि तुम किस तरह से अपनी बीवी पर नियंत्रण रखते हो?

संता ने कहा मैं तुम्हें बताता हूँ रात को मेरी बीवी हाथों और घुटनों के बल मेरे पास आती है, उसके दोनों दोस्त हैरानी के साथ उसके बाद क्या होता है?

संता ने कहा वह मुझे कहती है चलो बेड के नीचे से बाहर निकलो और आदमी की तरह लड़ो!
----------


कहीं शुरू न हो जाये!
एक बार संता शाम को घर आया, टी. वी. चालू किया और सोफे पर बैठते ही जीतो से बोला, "इससे पहले की शुरू हो जाये जल्दी से मेरे लिए चाय लेकर आओ।"

जीतो को कुछ अजीब लगा पर वो चाय बना कर ले आई।

चाय पीते-पीते संता दोबारा जीतो से बोला, "इससे पहले शुरू हो जाये, मेरे लिए कुछ खाने के लिए भी लेकर आओ।"

जीतो को थोड़ा गुस्सा आया पर उसने संता को कुछ खाने के लिए भी दे दिया और वापस अपने काम में लग गयी।

थोड़ी देर बाद संता दोबारा बोला, "इससे पहले की शुरू हो जाये, यह बर्तन उठाओ यहाँ से।"

जीतो का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुँच गया और संता पर चिल्लाते हुए बोली, "मैं तुम्हारी कोई नौकरानी नहीं हूँ, जो मुझ पर इस तरह अपना हुकुम चला रहे हो। जब से आओ कुछ न कुछ हुकुम किये जा रहे हो जैसे यहाँ कोई तुम्हारा गुलाम है।"

संता उठा और गहरी सांस लेते हुए बोला, "लो शुरू हो गया।"
----------
शतरंज के खिलाडी!
एक बार एक शतरंज का ग्रैंडमास्टर संता और बंता से बोला," चलो यार शतरंज खेलते हैं।"

संता: नहीं, आप तो हमें आसानी से हरा दोगे।

ग्रैंडमास्टर: अच्छा चलो, तुम दोनों और मैं अकेला।

बंता: फिर भी हम हार जाएंगे।

ग्रैंडमास्टर: ठीक है, चलो मैं बाएँ हाथ से खेलूंगा।

----------: हाँ फिर ठीक है।

ग्रैंडमास्टर संता बंता को हरा कर चला जाता है।

संता: बड़ी शर्मनाक बात है यार, उसने हमें उल्टे हाथ से भी हरा दिया।

बंता: अबे, वो हमें बेवकूफ़ बना गया।

संता: कैसे?

बंता: वो लेफ़्टी ही होगा।
----------
चिट्ठी किसकी है!
बंता अपने दोस्त से: अरे यार मुझे आज सुबह एक चिट्ठी मिली है जिसमें किसी ने लिखा है कि अगर मैंने उसकी बीवी को देखना बंद नही किया तो वह मेरी टांगें तोड़ देगा!

उसके दोस्त ने कहा अच्छा पर यार मुझे लग रहा है कि तुम्हें उसकी बीवी को देखना बंद कर देना चाहिए यह तुम्हारे लिए भी अच्छा रहेगा!

उसके दोस्त ने फिर पूछा क्या तुम उसे बहुत ज्यादा पसंद करते हो?

बंता ने कहा अरे यार ऐसा कुछ भी नही है पर उसने अपना नाम तो लिखा ही नही है अब ये समझ नही आ रहा है किसकी बीवी को नही देखूं!

न जाने ये चिट्ठी किसकी होगी!
----------
फर्क कैसे करें!
संता और बंता ने दो घोड़े ख़रीदे उनके पड़ोसी उनके घोड़े देखकर जलने लगे, उनको घोड़े खरीदकर एक समस्या आयी कि वे दोनों उन घोड़ों में फर्क नहीं कर पाते थे कि कौन सा घोड़ा किसका है !

फिर एक दिन संता ने अपने घोड़े का उल्टा कान थोड़ा सा काट दिया ताकि उसे अपने घोड़े को पहचानने में ज्यादा परेशानी न हो पर उनके पड़ोसी ने जब यह देखा तो उन्होंने चुपके से बंता के घोड़े का भी वही कान थोड़ा सा काट दिया!

संता और बंता कन्फ्यूज हो गए फिर अगले दिन संता ने अपने घोड़े के शरीर के हिस्सों को थोड़ा-थोड़ा काट दिया उनके पड़ोसी ने बंता के घोड़े को भी वैसे ही काट दिया!

आख़िरकार संता ने अपने घोड़े की एक टांग काट दी उनके पड़ोसी ने बंता के घोड़े की भी एक टांग काट दी जब वे सुबह जगे तो वही स्थिति थी!

अब वे परेशान हो गए कि अपने अपने घोड़ों में कैसे फर्क करें दोनों सोच विचार में लगे हुए थे तभी दोनों एक साथ खड़े हुए और संता बोला ठीक है, तुम काले वाला रखो और मैं सफ़ेद वाला रखता हूँ!
----------


क्यों रो रही हो!
जब संता घर पहुँच तो उसकी बीवी जीतो रो रही थी!

संता: डार्लिंग क्यों रो रही हो!

जीतो: आपकी माँ में मेरा अपमान किया है!

संता: अरे ऐसा कैसे हो सकता है माँ तो कब से गाँव वाले मकान में रह रही है वो तुम्हारा अपमान कैसे कर सकती है?

जीतो: आज सुबह ही एक चिट्टी तुम्हारे नाम आयी तो मैं उसे पढ़ने के लिए काफी उत्सुक हो गयी और चिट्टी के अंत में लिखा था:

डियर जीतो जब तुम पढ़कर इस चिट्टी को ख़त्म कर दो तो इसे मेरे बेटे को देना मत भूलना!
----------
मछली पकड़ने का लाइसेंस!
बंता मछलियाँ पकड़ने में काफी माहिर था और बड़ी बड़ी मछलियाँ पकड़ने के लिए मशहूर था, एक दिन वो बड़ी सी मछली पकड़कर टोकरी में लेकर घर की तरफ आ रहा था तभी मत्स्य अधिकारी ने उसे रोका और पूछा क्या तुम्हारे पास मछली पकड़ने का लाइसेंस है!

बंता ने जवाब दिया लाइसेंस? कैसा लाइसेंस?

लाइसेंस की तो कोई जरुरत ही नहीं है ये तो मेरी पालतू मछली है!

पालतू मछली? मत्स्य अधिकारी ने पूछा!

बंता ने जवाब दिया जी हाँ सर 'पालतू' हर रात को मैं इसे इस झील में डाल देता हूँ और थोड़ी देर के बाद मैं एक सीटी बजाता हूँ और ये कूदकर झील के किनारे पर आ जाती हैं और टोकरी में डालकर घर ले जाता हूँ!

ये तो तुम मेरा सरेआम बेवकूफ बना रहे हो मछली ऐसा कर ही नहीं सकती!

बंता ने अधिकारी से कहा कि आप ये चाहते हैं कि मैं आपको ये सब करके दिखाऊँ!

मत्स्य अधिकारी ने उत्सुकता से कहा कि बिल्कुल जरुर देखना चाहूँगा!

बंता ने मछली को पानी में डुबो दिया और वहीँ खड़ा हो गया थोड़ी देर वहीँ रुकने के बाद मत्स्य अधिकारी ने बंता से कहा:

फिर?

बंता: फिर क्या?

अधिकारी ने पूछा तो तुम अपनी मछली को वापिस नहीं बुला रहे हो!

बंता ने कहा: मछली?... कौन सी मछली?
----------
स्वर्ग नर्क!
एक बार संता और बंता समुद्र किनारे सैर कर रहे होते हैं, कि तभी अचानक बंता के दिमाग में एक सवाल आता है तो वह संता से पूछता है, "यार संता एक बात बता।"

संता: हाँ बोल।

बंता: जब हर आदमी को शादी करने के नुक्सान पता होते हैं, तो फिर भी वो शादी क्यों करता है?

संता: अरे वो इस लिए कि मरने के बाद अगर उसकी आत्मा स्वर्ग जाए तो वो अच्छा महसूस करे और अगर नर्क जाए तो उसे घर जैसा महसूस हो।
----------
सुखी जीवन!
संता: यार जरा तुम्हारे सुखी वैवाहिक जीवन का राज तो बताओ।

जब देखो तब तुम्हारे घर से तुम्हारी और तुम्हारे बीवी की हंसने की आवाजें आती रहती है।

बंता: अरे कैसी हंसी की आवाजें, जब देखो तब उसे गुस्सा आता है और जब उसे गुस्सा आता है तो वह सारे बर्तन फेंककर मुझे मारती है।

अगर निशाना सही लगा तो वो हंसती है और अगर निशाना गलत लगा तो मैं हँसता हूँ।
----------


जीतो का शक!
एक बार जीतो अपनी सहेली प्रीतो से मिलने उसके घर आती है।

जब दोनों सहेलियां आपस में बातें कर रही होती है तो जीतो कहती है, "प्रीतो मुझे लगता है मेरे पति संता का किसी के साथ चक्कर है और वो रोज़ घर के बाहर किसी लड़की से मिलते है"।

प्रीतो हैरानी से कहती है, "अच्छा तो अब तुम क्या करोगी"।

जीतो: करना क्या, मैं आज ही उनके पीछे अपने दोनों प्रेमिओं को लगा दूंगी और उन्हें रंगे हाथ पकड़ लूंगी।
----------
संता की अलमारी!
संता आज रोजमर्रा के समय से पहले ही घर पहुँच गया, जीतो अपने प्रेमी के साथ घर के अन्दर थी उसने जल्दी जल्दी अपने प्रेमी को अलमारी में छिपा दिया!

थोड़ी देर बाद उसने संता से कहा कि चलो डिनर कर लेते हैं!

जब वे खाना खा रहे थे तो संता को अलमारी में कोई आवाज सुनाई दी, संता ने पूछा ये क्या है डार्लिंग?

जीतो ने कहा कुछ नही जैकेट होगा!

कुछ समय बाद फिर उसे वही आवाज सुनाई दी, संता ने फिर चिढ़कर कहा अरे ये फिर से आवाज हुई!

जीतो ने कहा कुछ नही जैकेट है!

थोड़ी देर बाद संता को फिर वही आवाज सुनाई दी, संता गुस्से में, मैं ही देखता हूँ ये क्या है उसने जीतो से कहा अगर ये जैकेट नही हुआ न तुम्हें बहुत पछताना पड़ेगा!

संता ने जैसे ही अलमारी का दरवाजा खोला उसने देखा एक आदमी उसकी और पिस्तौल ताने खड़ा है, संता ने चुपचाप दरवाजा बंद किया और और कहने लगा डार्लिंग सच में ...जैकेट ही है!
----------
झगड़ा हो जाएगा!
पप्पू और उसके दोस्त एक जगह बैठे आपस में बातें रहे थे तभी शराबी संता लड़खड़ाते हुए वहां आया और बीच में बैठे पप्पू की तरफ इशारा करके बोला ऐ सुन, तेरी मां इस शहर की सबसे सुन्दर औरत है!

आसपास खड़े लोगों ने सोचा कि अब झगड़ा होगा पर पप्पू ने शराबी संता की बात को अनसुना कर दिया शराबी संता लड़खड़ाता हुआ दूसरी तरफ चला गया!

कुछ देर बाद संता फिर आया और पप्पू से बोला मैं तेरी मां से बहुत प्यार करता हूँ समझा!

पप्पू ने उसकी बात पर कोई ध्यान नहीं दिया और संता फिर से कहीं और चला गया!

कुछ देर बाद वह शराबी संता फिर आया और बोला सुन, तेरी मां भी मुझसे बहुत प्यार करती है!

आखिरकार पप्पू अपनी जगह से उठा, और शराबी संता के पास आकर बोला:

पापा, प्लीज, अब घर जाइये आपने बहुत पी रखी है!
----------
पति हो तो ऐसा!
एक ट्रेन में दो लड़कियां यात्रा करते हुए बात कर रही थीं।

पहली लड़की: तुझे कैसा पति चाहिए?

दूसरी लड़की: मुझे एक करोड़पति पति चाहिए।

पहली लड़की: अगर करोड़पति नहीं मिला तो?

दूसरी लड़की: तो 50 लाख के दो पति भी चलेंगे।

पहली लड़की: अगर 50 लाख वाला भी नहीं मिला तो?

दूसरी लड़की: तो 25 लाख के 4 पति भी चलेंगे।

इन दोनों की बात सुन ऊपर की बर्थ पर बैठा हुआ संता बोला, "जब यह सौ रुपए पर आए तो मुझे उठा देना"।
----------


फ़ोन की घंटी!
संता अपने लाल-लाल कानों के साथ डॉक्टर के पास पहुंचा!

डॉक्टर ने पूछा अरे ये तुम्हारे कानों को क्या हुआ?

संता ने कहा मैं कपड़ों को प्रैस कर रहा था उतने में फ़ोन की घंटी बजी मैंने फ़ोन उठाने के बजाय प्रैस उठा लिया और कान से लगा लिया!

डॉक्टर: अरे ये तो बहुत बुरा हुआ पर ये दूसरे कान को क्या हो गया?

संता: साहब कमबख्त फ़ोन की घंटी फिर से बज गयी और.....
----------
उदास क्यों हो!
संता और बंता कई दिनों बाद मिले संता कुछ उदास सा लग रहा था और आँखों में आंसू थे, बंता ने पूछा अरे तुम तो ऐसे लग रहे हो जैसे तुम्हारा सुब कुछ लुट गया हो क्या बात है?

संता ने कहा अरे क्या बताऊँ तीन हफ्ते पहले मेरे अंकल गुजर गए और मेरे लिए 50 लाख रूपए छोड़ गए!

तो इसमें बुरी बात क्या है?

संता ने कहा: और सुनो दो हफ्ते पहले मेरा एक चचेरा भाई मर गया जिसे मैं जानता भी नहीं था वो मेरे लिए 20 लाख रूपए छोड़ गया!

बंता ने कहा: ये तो अच्छा हुआ!

बंता ने कहा: पिछले हफ्ते मेरे दादाजी नहीं रहे और वो मेरे लिए पूरा 1 करोड़ छोड़ गए!

बंता ने कहा: ये तो और भी अच्छी बात है पर तुम इतना उदास क्यों हो?

संता ने कहा: इस हफ्ते कोई भी नहीं मरा!
----------
नेकी कर दरिया में डाल!
एक बार संता एक तालाब के किनारे सैर कर रहा था तो उसने देखा कि बंता ने एक डूबते आदमी को तालाब में से निकाला और फिर धक्का मार कर तालाब में फेंक दिया।

संता: क्यों यार, पहले तो तुमने तालाब में डूबते हुए आदमी को बचाया, फिर तुमने ही उसे तालाब में फेंक क्यों दिया?

बंता: अरे यार, क्या तुम भी, तुमने क्या वह कहावत नहीं सु‍नी कि नेकी कर और दरिया में डाल।
----------
चौथा इंजन!
संता और बंता एक चार इंजन वाले हवाई जहाज में यात्रा कर रहे थे अचानक जहाज के नीचे की तरफ से जोर की आवाज आई पायलट ने घोषणा की हवाई जहाज के एक इंजन ने काम करना बंद कर दिया है इसलिये हमें अपनी गति कम करनी पड़ रही है अब हम लोग लगभग 1 घंटा देर से पहुंचेंगे!

कुछ देर बाद फिर जोर की आवाज आई और उसके बाद पायलट ने घोषणा की जहाज के दूसरे इंजन ने भी काम करना बंद कर दिया है अब हम लोग लगभग 3 घंटे देरी से पहुंचेंगे!

कुछ देर बाद फिर एक आवाज हुई और पायलट ने बताया कि अब जहाज लगभग 6 घंटे देरी से पहुंचेगा!

संता ने अपने बगल में बैठे बंता के कान में फुसफुसाया यार ये तो हद हो गई, अगर चौथे इंजन ने भी काम करना बंद कर दिया तो क्या हम पूरा दिन आसमान में (हवा में) ही लटके रहेंगे?
----------


आत्मघाती हमलावर!
बंता को आत्मघाती हमलावर दस्ते में नियुक्त किया गया उसे एक मिशन दिया गया कि शत्रुओं के खेमें में जाकर अपने आप को मार दे!

उसके उच्च अधिकारी ने उसे बहुत से हथियार दे दिए और कुछ बम उसके शरीर से बांध दिए और एक मोबाइल दिया जिससे उनकी बातचीत होती रहे! वह जैसे ही शत्रुओं के खेमें में पहुंचा उसने अपने बॉस को फ़ोन किया!

सर यहं पर दो शत्रु सैनिक है क्या मैं अब खुद को मार दूँ!

उच्च अधिकारी: नही केवल दो सैनिकों के लिए नही रुको जब तक काफी सैनिक न इकट्ठे हो जाये!

बंता: अब जहाँ में खड़ा हूँ वहां लगभग 25-30 सैनिक खड़े है क्या अब मार दूँ? उच्च अधिकारी: नही थोड़े और बढ़ने दो!

बंता: अब मेरे चारों ओर कोई 100 सैनिक है क्या में अब खुद को मार दूँ!

उच्च अधिकारी: हाँ बिल्कुल... आगे बढ़ो... बहादुरी से लड़ो.. देश के लिए जान दे दो... बंता ने चाकू निकाला और अपनी छाती पर मार दिया!
----------
माँ को लेकर आ!
एक दिन संता अपने बेटे के साथ नजदीकी शहर में शॉपिंग मॉल देखने गया!

यूं तो वहां की हर चीज देखकर वे चकित थे परन्तु एक जगह एक खुलने और बन्द होने वाली दीवार (लिफ्ट) देखकर वे विशेष रूप से प्रभावित हुये उन्होंने ऐसी दीवार पहले कभी नहीं देखी थी!

जब संता और उसका बेटा आंखे फाड़ फाड़ कर उस दीवार को देख रहे थे उसी समय एक बूढ़ी औरत उस दीवार के पास पहुंची और वहाँ पर लगा एक बटन दबाया!

बटन दबाते ही दीवार खुल गई और बूढ़ी औरत उसके अन्दर चली गई दीवार फिर बन्द हो गई!

थोड़ी देर बाद दीवार अपने आप खुली और उसमें से एक पच्चीस साल की खूबसूरत लड़की बाहर निकली!

संता यह सब देखकर लगभग चिल्लाते हुये बेटे से बोला बेटा, जल्दी घर जा और अपनी मां को लेकर आ!
----------
दो पागल!
एक पागलखाने में संता और बंता नाम के दो पागल थे!

एक दिन जब वे दोनों पागलों के लिये बनाये गये नहाने के तालाब के किनारे टहल रहे थे कि अचानक बंता का पैर फिसल गया और वह पानी में जा गिरा उसे तैरना नहीं आता था लिहाजा वह डूबने लगा अपने दोस्त को डूबते देख संता फौरन पानी में कूद गया और बड़ी मेहनत करके उसे जिन्दा बाहर निकाल लाया!

जब यह खबर पागलखाने के अधिकारी को लगी तो वह आश्चर्य में पड़ गया!

इसका मतलब संता बिलकुल ठीक हो गया है!

उसने सोचा सचमुच संता का बहादुरी का कारनामा जिसने भी सुना उसने यही राय दी कि अब संता ठीक हो गया है!

अब वह पागल नहीं है अधिकारी ने उसे पागलखाने से रिहा करने का निश्चय कर लिया!

अगले दिन अधिकारी ने संता को अपने चेंबर में बुलाया और कहा संता, तुम्हारे लिये दो खबरें है एक बुरी और एक अच्छी!

अच्छी खबर यह कि तुम्हें पागलखाने से छुट्टी दी जा रही है क्योंकि अब तुम्हारी दिमागी हालत बिल्कुल ठीक है!

तुमने बंता की जान बचाने का जो कारनामा किया है उससे यही साबित होता है!

बुरी खबर यह है कि बंता ने, ठीक तुम्हारे द्वारा उसकी जान बचाने के बाद बाथरूम में जाकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली! वह मर चुका है! संता ने जवाब दिया उसने खुद अपने आपको नहीं लटकाया, वह तो मैंने ही उसे सूखने के लिये वहां लटकाया था तालाब में गीला हो गया था न! तो अब मैं घर जा सकता हूं?
----------
तेज गति से!
बंता को नयी नयी खोजें और नए नए कारनामे करने का शौक था!

एक दिन वह देखना चाहता था कि अगर साईकिल को अनियंत्रित गति से चलाया जाये तो कैसा लगता होगा!

उसने अपने दोस्त से कहा जिसके पास एक पुरानी मारुति कार थी यार अगर मैं अपनी साईकिल को तुम्हारी गाड़ी के साथ बाँध दूँ और गाड़ी बहुत तेज गति से चले तो कैसा लगेगा यह मुझे देखना है!

उसके दोस्त ने कहा हाँ यार बिल्कुल ऐसा करके देखो!

बंता ने अपनी साईकिल को मारुति से बाँध दिया और उसे हिदायत देने लगा मैं अपनी साईकिल कि घंटी को एक बार बजाऊंगा, अगर मुझे साईकिल कि गति तेज चाहिए!

अगर दो बार बजाऊँ तो समझना कि सही सही गति होनी चाहिए!

अगर बार बार बजाऊँ तो समझना कि बिल्कुल धीरे कर दो!

इतनी बात के बाद वे चल पड़े सब कुछ बढ़िया चला हुआ था बंता पूरा मजा ले रहा था कार 60kmph कि रफ़्तार से चल रही थी और बंता ने गति को अच्छी तरह से नियंत्रित कर रखा था!

तभी एक होंडा बाइक कार के बिल्कुल साथ-साथ चलने लगी बाइक वाला कभी अपनी गति को बढ़ा देता कभी कार के साथ-साथ चलने लगा!

कार वाला उस से दुखी हो गया था उसने कार की स्पीड को एक दम से बढ़ा दिया और कार 100kmph की गति से भागने लगी!

बाइक वाले के चक्कर में वह यह भी भूल गया कि पीछे गाड़ी से बंता की साईकिल भी बंधी है!

अभी वे थोड़ा ही आगे पहुंचे थे कि आगे संता पुलिस ऑफिसर अपने पुलिस दस्ते के साथ खड़ा था उसने देखा कि सामने से एक कार और होंडा बाइक बहुत तेज गति से आ रहे है!

उसने पुलिस हेडक्वाटर फ़ोन किया और रिपोर्ट करने लगा यहाँ हाईवे 20 पर एक बाइक और कार की रेस चली हुई है और उनके पीछे एक साईकिल वाला लगातार घंटी बजाता हुआ चला है और उनसे पास लेना चाहता है!
----------



बेरोक टोक बातें!
संता और बंता एक लोकल बार में बैठे बीयर पी रहे थे जब संता ने बंता से कहा अगर मैं तुम से एक प्रश्न पूछूँ तो तुम वादा करो कि तुम उसका जवाब मुझे बिल्कुल ईमानदारी से दोगे:

बंता ने कहा हाँ यार बिल्कुल पूछो:

संता ने कहा तुम्हें ऐसा क्यों लगता है कि यहाँ जितने भी लोग है उन सब को मेरी बीवी आकर्षक लगती है?

बंता इसलिए क्योंकि वह सभी से बेरोक टोक बातें करती हैं!

संता ने संशय प्रकट करते हुए कहा तुम कहना क्या चाहते हो बेरोक टोक बातें मतलब!

संता: मेरी बीवी कोई बेरोक टोक बातें नहीं करती!

बंता ने कहा तुम अकेले आदमी हो जिसने आज तक यह ध्यान नहीं दिया कि तुम्हारी बीवी कभी किसी को 'न' नहीं कहती!
----------
कभी होंडा चलाया है!
एक दिन एक आदमी हाई वे पर अपनी फिएट कार में 45KMPH की रफ़्तार से अपनी मस्ती में चल रहा था!

अचानक बंता अपने होंडा में आया बोइईईईन्न्नन्न्न्नन्नन्न और गाड़ी के अन्दर झांकता हुआ चिल्ला कर पूछता है कभी होंडा चलाया है क्या? और तेजी से आगे निकल गया!

गाड़ी वाला थोड़ा हैरान हुआ पर उसने इसकी कोई परवाह नहीं की उसे लगा की वो उसे ऐसे ही छेड़ रहा है!

पर थोड़ी देर बाद बंता उस गाड़ी के पास आया गाड़ी के अन्दर झांकते हुए फिर से वही पूछा इस वक़्त वो कार वाला कुछ कहना चाहता था पर बंता तेजी से आगे निकल गया!

एक दो बार जब और ऐसा हुआ तो कार वाले ने बंता को पकड़ने के लिए गाड़ी की गति बड़ा दी अभी वो थोड़ा आगे ही पहुंचा ही था की देखा बंता सड़क पर गिरा है और खून से लथपथ है!

वह गाड़ी से नीचे उतरा और बंता का मजाक उड़ाते हुए कहने लगा, क्यों भाई कभी होंडा चलाया है क्या?

बंता ने कहा वही तो पूछ रहा था, मैं इसमें ब्रैकें ढूँढ रहा था!
----------
बस स्टेशन!
एक बार संता और बंता लुधिआना जा रहे थे जब वो वहां पहुंचे संता पहले बस से उतरा जब बंता बस से नीचे उतरने लगा तो संता ने कहा जरा ठहरो! ये जमीन पर बिखरा हुआ क्या है?

उसने थोड़ा सा अपनी ऊँगली पर लगाया और ऊँगली को अपने मुहं में डाल दिया अरे छि: छि:..ये तो गोबर है!

बंता कहने लगा: अरे शुक्र.. कर पैरे नहीं लिबड़या!
----------
स्वर्ग में क्रिकेट है क्या?
संता और बंता काफी सालो से अच्छे दोस्त थे, और अब दोनों की उम्र अब लगभग 90 के आसपास हो चुकी थी।

एक बार संता बहुत बीमार पड़ गया तो बंता उससे रोज मिलने के लिए आता और रोज वे अपने दोस्ती के किस्से दोहराते।

गुज़रते वक़्त के साथ संता और बंता दोनों को ही अब लगभग यकीन हो चला था कि संता अब बस चंद दिनो का ही मेहमान है, तो एक दिन बंता ने संता से कहा, ''देखो जब तुम मर जाओगे, तो क्या मेरे लिए एक काम करोगे?''

संता: कौन सा काम?

क्योंकि संता और बंता दोनों ही क्रिकेट के बहुत दीवाने थे इसीलिए बंता ने संता से कहा, "तुम मरने के बाद क्या मुझे यह बताओगे कि स्वर्ग में क्रिकेट है या नहीं?"

संता: क्यों नहीं जरुर।

और कुछ दिनों के बाद संता भगवान को प्यारा हो गया।

कुछ दिन बाद बंता जब सो रहा होता है तो संता उसके सपने में आता है और कहता है, ''तुम्हारे लिए मेरे पास दो खबरें है. . .एक बुरी और एक अच्छी।

बंता: तो पहले अच्छी खबर सुनाओ।

संता: अच्छी खबर यह है कि स्वर्ग में क्रिकेट है।

बंता:और बुरी खबर?

संता: बुरी खबर यह है कि तुम्हें आनेवाले रविवार को होने वाले मैच में बॉलिंग करनी है।

----------


शराब के दुरूपयोग!
एक बुजुर्ग आदमी को रात एक बजे पुलिस वाले ने रोकते हुए पूछा इतनी रात को कहीं से आ रहे हो या कहीं जा रहे हो?

आदमी ने जवाब दिया मैं शराब के दुरूपयोग और कुप्रभावों का मानव शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है इस विषय पर लेक्चर सुनने जा रहा हूँ!

पुलिस वाले ने पूछा ...सच में? इतनी रात को इस विषय पर कौन लेक्चर दे रहा है?

इतनी रात को .....आदमी ने कहा मेरी बीवी और कौन हो सकता है!
----------
संता और मारुति कार!
संता ने एक नई मारुति कार खरीदी और अपने दोस्त से मिलने अपने घर अमृतसर से जालंधर चला गया, संता वहां थोड़े ही समय में पहुँच गया, वहां पर कुछ दिन रहने के बाद उसने वापिस घर आने की सोची, और अपनी माँ को फ़ोन करके बताया कि वो शाम तक घर पहुँच जायेगा, पर वो न तो शाम को पहुंचा और न ही अगले दिन पहुँच पाया जब वो तीसरे दिन घर पहुंचा तो परेशान माँ ने पूछा!

"अरे पुत्र! की होया?"

संता बहुत थका हुआ लग रहा था और थके हुए लहजे में माँ से बोला:

अरे माँ ये मारुति वाले पागल हो गए हैं! अग्गे जाने वास्ते चार गेअर बनाए हैं, और पिच्छे जाने वास्ते सिर्फ इक!
----------
उल्लू के पट्ठे!
संता अपने बेटे के लिए एक खिलौना रेलगाड़ी खरीद कर लाया!

खिलौना देने के कुछ देर बाद जब वह बेटे के कमरे में गया तो देखा कि बच्चा रेलगाड़ी से खेल रहा है और कह रहा है जिस उल्लू के पट्ठे को उतरना है वो उतर जाए, जिस उल्लू के पट्ठे को चढ़ना है वो चढ़ जाए।

रेलगाड़ी दो मिनट से ज्यादा नहीं रुकेगी!

बच्चे के मुंह से यह भाषा सुनकर संता को गुस्सा आ गया गया!

उसने बच्चे को जोर के दो तमाचे लगाए और फिर कभी इस तरह से न बोलने की चेतावनी दी फिर बोला, मैं दो घंटे के लिए बाजार जा रहा हूं। तब तक तुम सिर्फ पढ़ोगे, समझे!

दो घंटे बाद बाद जब संता लौटकर आया तो बच्चे को पढ़ते हुए पाया!

यह देखकर उसका दिल पसीज गया और उसने बच्चे को फिर रेलगाड़ी से खेलने की इजाजत दे दी!

अबकी बार उसने बच्चे को कहते हुए सुना जिस उल्लू के पट्ठे को उतरना है वो उतर जाए, जिस उल्लू के पट्ठे को चढ़ना है वो चढ़ जाए!

गाड़ी पहले ही एक उल्लू के पट्ठे की वजह से दो घंटे लेट हो चुकी है!
----------
फूलों का गुलदस्ता!
बंता एक लड़की से प्यार करने लगा था एक दिन उसने उसे कहा कि कल तुम्हारा बर्थ-डे है और कल मैं तुम्हें एक फूलों का गुलदस्ता भेजूंगा और उसमें उतने फूल भेजूंगा जितनी अभी तुम्हारी उम्र हुई है, हर साल के लिए एक फूल!

शाम को बंता ने एक फूलवाले को बता दिया कि वह सुबह सबसे पहले उसकी गर्ल फ्रेंड के घर फूलों का गुलदस्ता छोड़ दे!

उसने यह भी बता दिया कि कितने फूलों का गुलदस्ता बनाना है सुबह जब फूल वाले ने गुलदस्ता तैयार किया तो उसने सोचा कि बंता उसका अच्छा ग्राहक है और दोस्त भी है इसलिए उसने उस गुलदस्ते में एक दर्जन फूल एक्स्ट्रा डाल दिए!

बेचारे बंता को आज तक पता नहीं है कि उसकी गर्ल फ्रेंड उससे आज तक इतनी नाराज क्यों है!
----------


राज़ खुल गया!
भारतीय लड़कियां खेलों में अच्छी क्यों नहीं हैं?

क्योंकि, सिर्फ 10% क्रिकेट, हॉकी, टेनिस, बैडमिंटन, शतरंज आदि खेलती हैं बाकि कि 90% तो जानू से खेलने में व्यस्त रहती हैं।

जानू कहाँ हो?

जानू क्या कर रहे हो?

जानू कब आओगे?

जानू आप मुझसे प्यार करते हो न?

जानू किसके साथ हो?

जानू मुझे ये चाहिए।

जानू फिल्म देखने चलें, जानू ये क्या है?

जानू क्या किया दिनभर?

जानू आपने मुझे याद किया न?

जानू कुछ तो बोलो।

जानू मुझे आपकी बहुत याद आ रही है।

जानू ये।

जानू वो।

जानू कुछ नहीं।

"जान ले लो जानू की।"
----------
जो बात कही!
जीतो अपनी सहेली प्रीतो से शिकायत करती है कि...

उसने मुझे कहा था कि जो तमने कहा था वो बात मैंने तुमसे कही वो उससे मत कहना

प्रीतो ने जवाब दिया कि मैंने उससे कहा कि तुम्हें वो न कहे जो मैं उससे कह रही हूँ

जीतो ने फिर कहा ठीक है उससे मत कहना कि मैंने तुमसे कहा जो उसने मुझ से कहा था!
----------
इंटरव्यू!
संता को किसी कम्पनी ने इंटरव्यू के लिए बुलाया वह वहां समय से पहुँच गया और जल्दी ही उसे इंटरव्यू लेने वाले ने अन्दर बुला लिया इंटरव्यू लेने वाले ने संता को गौर से देखा फिर उसके सर्टिफिकेट को देखा फिर इंटरव्यू लेने वाले ने कहा कि मैंने तुम्हारे सर्टिफिकेट देख लिए हैं, तुम्हारी योग्यता पर मुझे कोई शक नहीं फिर भी मैं तुमसे कुछ न कुछ तो जरुर पूछुंगा अगर तुम उनका जवाब दे पाए तो तुम्हें जॉब के लिए सलेक्ट कर लिया जायेगा सबसे पहले हम कुछ विलोम शब्दों से शुरू करते हैं!

संता जी सर!

इंटरव्यू लेने वाले ने विलोम शब्द पूछने शुरू किये

ऊपर - नीचे

आगे - पीछे

उल्टा - सीधा

आदमी - औरत 

UGLY

संता ने सोचा अगली

संता: पिछली

इंटरव्यू लेने वाला मेरा कहने का मतलब है: UGLY

संता वही कह रहा हूँ सर, पिछली

इंटरव्यू लेने वाला अरे U-G-L-Y

संता सर वही P-I-C-H-H-L-Y..Y

इंटरव्यू लेने वाला: अरे भाई U--G--L--Y

संता: P.. I..C..H..H..L. Y.

इंटरव्यू लेने वाले को गुस्सा आया और चिल्ला कर कहने लगा: बाहर जाओ

संता: अन्दर आओ

चुप हो जाओ - बात करो

इंटरव्यू लेने वाला: तुम्हें रिजेक्ट किया जाता है

संता: तुम्हें सलेक्ट किया जाता है और..

इस तरह संता को जॉब मिल गयी!
----------
संता के सवाल, पप्पू के जवाब!
एक बार संता अपने बेटे पप्पू का गणित का टेस्ट ले रहा होता है;

संता: बेटा 5 के बाद क्या आता है?

पप्पू: 6, 7!

संता: वाह, मेरा बेटा तो बड़ा होशियार है, और 6, 7 के बाद क्या आता है?

पप्पू: 8, 9, 10!

संता: शाबाश, और उसके बाद क्या आता है?

पप्पू: गुलाम, बेगम, बादशाह!
----------



संता के लिए!
एक दिन स्वास्थ्य मंत्री पागल महिलाओं के अस्पताल में गया और एक डॉक्टर को अस्पताल के दौरे के लिए साथ में ले लिया, जब उन्होंने अँधेरे बरामदे में पागल औरतों की चीखें सुनी जो उनके कमरों से आ रही थी तो मंत्री जी भी परेशान हो गए, तब मंत्री ने डॉक्टर से पूछा कि मैं इन बेचारियों की कुछ मदद कर सकता हूँ, डॉक्टर ने उसे रोका और कहा कि सर आप केवल इन्हें छोटी खिड़की से देख सकते हैं!

वे एक कमरे की खिड़की के पास गए अंदर देखने लगे डॉक्टर ने कहा सर ये बहुत सिरियस केस है!

जिस मरीज महिला को को वो देख रहे थे वो जमीन पर अपने बाल बिखेरे, उनको नोचकर अपने आप को जमीन पर घसीट कर इधर से उधर जा रही थी और बार बार ओह संता, ओह संता कह रही थी डॉक्टर ने कहा सर इसकी संता नाम के आदमी से शादी होने वाली थी और शादी वाले दिन वो इसे छोड़कर किसी और लड़की के साथ भाग गया जिस कारण इसका दिल टूट गया और ये पागल हो गयी!

फिर वे दूसरे कमरे की खिड़की पर गए और अन्दर देखने लगे अन्दर एक और महिला अपने बालों को नोच रही थी जोर जोर से संता, संता कहकर चिल्ला रही थी और रो रो कर सिर पटक रही थी!

मंत्री ने कहा मुझे लगता है इसे भी छोड़कर संता चला गया!

डॉक्टर ने कहा नहीं सर ये वो है जिसके साथ संता भाग गया था!
----------
संता का रक्षक!
संता का अपनी बीवी से झगड़ा हो गया!

वह काफी गुस्से में अपने घर से निकला गली से होकर जल्दी जल्दी दफ्तर की तरफ जा रहा था तभी उसे एक आवाज सुनाई दी ठहरो! ठहर जाओ! अगर तुमने एक कदम भी आगे बढ़ाया तो एक ईंट तुम्हारे सिर पर आकर गिरेगी और तुम यहीं मर जाओगे!

संता घबराहट में इधर उधर देखने लगा तभी एक ईंट आकर उसके पैर के पास गिरी संता ने चारों और नजर दौड़ाई पर उसे वो आवाज देने वाला कहीं नजर नही आया!

वह वैसे ही गुस्से में था तो उसने ज्यादा ध्यान भी नही दिया और आगे बढ़ गया!

गली छोड़कर वह मुख्य सड़क पर आ गया जैसे ही वह सड़क पार करने लगा फिर से वही आवाज उसके कानों में पड़ी ठहरो! ठहर जाओ! एक कदम भी आगे बढ़ाया तो एक गाड़ी तुम्हें कुचल देगी!

संता फिर रुक गया तभी एक गाड़ी संता को लगभग छूती हुई निकल गयी!

संता बहुत हैरान हो गया कि ये आवाज देने वाला है कौन जो नजर भी नही आ रहा है और मुझे खतरों से भी बचा रहा है!

संता ने जोर से आवाज लगाई अरे भाई कौन हो तुम?

दूसरी तरफ से आवाज आई मैं आपका सेवक और रक्षक देवदूत हूँ मेरा काम आपको मुसीबतों से बचाना है!

संता ने चिढ़ते हुए कहा अरे कमबख्त उस वक़्त तुम कहाँ मर गए थे जब मेरी शादी हो रही थी!
----------
मेरी ओर से!
बंता शराबी एक बार में गया वहां जाकर उसने बार में मौजूद सभी लोगों, जिनमें बार मालिक भी शामिल था, के लिए अपनी तरफ से एक-एक पैग व्हिस्की का ऑर्डर दिया!

आज सभी लोग मेरी तरफ से पियो बंता ने झूमते हुए घोषणा की!

आधे घण्टे बाद बंता ने फिर से सभी लोगों के लिए एक-एक पैग व्हिस्की का ऑर्डर दिया!

बार मालिक को भी एक पैग और मिला फिर तो हर आधे घण्टे बाद यही क्रम चलने लगा!

पांचवें पैग के बाद बार मालिक को चिंता होने लगी उसने बंता को एक तरफ बुलाकर कहा, भाईसाहब आपका अभी तक का बिल तीन हजार चार सौ रुपये हो गया है!

बिल? कैसा बिल? मेरे पास तो फूटी कौड़ी भी नहीं है बंता ने जेबें उल्टी करके दिखाते हुए कहा!

अब तो बार मालिक का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया, उसने लात घूंसों से बंता की जमकर पिटाई की और आखिर में बार के कर्मचारियों से कहकर बाहर गंदे नाले में फिंकवा दिया!

अगले दिन शाम को बार अभी खुला ही था कि बंता अंदर आया और बोला एक पैग व्हिस्की मेरे लिए और एक-एक यहां मौजूद सभी लोगों के लिए मेरी तरफ से फिर बार मालिक की तरफ उंगली करके बोला सिर्फ तुमको छोड़कर तुम दो पैग के बाद बहक जाते हो!
----------
शराब पीते हो?
एक बार संता नौकरी के लिए इंटरव्यू के लिए गया।

इंटरव्यू के लिए एक लेडी बैठी थी।

लेडी ने संता से पूछा: आप शराब पीते हो??

संता: हाँ।

लेडी: कितनी?

संता: करीब 6 पैग रोज के।

लेडी: ओह! 6 पैग कितने के होते हैं?

संता: करीब 1000 रुपये के।

लेडी: कब से पी रहे हो?

संता: करीब 14 साल से।

लेडी: ओह! इसका मतलब आप रोज 1000 रुपये के हिसाब से महीने के 30000 रुपये शराब में उड़ाते हो, मतलब साल के 360000 रुपये। इस हिसाब से तुमने पिछले 14 साल में शराब पर करीब 50 लाख रुपये उड़ा दिए। क्या तुम जानते हो 50 लाख रुपये में तुम एक BMW खरीद सकते थे।

संता: क्या आप भी पीती हैं?

लेडी: नहीं मैंने कभी हाथ तक नहीं लगाया।

संता: चल फिर दिखा तेरी BMW कहाँ है?
----------



वाह रे संता!
संता अपने दोस्त बंता के घर डिनर पर आया था, खाना खाकर वह अपने घर जाने लगा तो उसका दोस्त बंता बोला, "आज यही रुक जाओ बाहर बहुत तेज बारिश है।"

संता: ठीक है।

बंता सोने की तैयारी ही कर रहा था कि संता गायब हो गया। लगभग एक घंटे बाद संता वापिस बंता के घर आया।

बंता (हैरानी से): ओये तू कहां चला गया था?

संता: यार वो मैं घर पर जीतो को बताने गया था कि आज बारिश की वजह से मैं तेरे घर ही रहूंगा।
----------
ग्राहक को कभी खाली नहीं जाने दो!
एक बार संता एक दुकान पर काम करने के लगा तो दुकान का मालिक उसको दुकानदारी समझाते हुए बोला;

दुकानदार: ग्राहक को कभी खाली ना जाने दो, अगर दुकान में वो चीज़ नहीं जो उसे चाहिए तो कोशिश करो कि तुम उसे दूसरी चीज़ बेच सको!

संता: ठीक है मालिक!

मालिक अपनी बात समझा कर किसी काम से चला जाता है कि तभी कुछ देर बाद एक ग्राहक दुकान में आया और संता से बोला;

ग्राहक: एक पैकेट टॉयलेट पेपर का देना!

संता: वो तो है नहीं, रेगमार ले लो!

----------
कम पीने के नुक्सान!
बंता की टूटी हुई टांग देख कर संता,"तुम्हारी टांग कैसे टूट गई?"

बंता: क्या बताऊं यार, कल दारू कम पी थी, इसलिए।

संता: दारू कम पीने से टांग कैसे टूट सकती है?

बंता: सीधी सी बात है, अगर मैंने छक कर पी होती तो मैं ठेके पर ही लुढ़क गया होता। कम पी थी इसलिए घर आने के लिए निकला और रास्ते में गढ्डे में गिर गया।
----------
मेरी मदद करो!
बंता अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने पहाड़ी पर चला गया दिन में इधर उधर घूम कर मस्तियाँ करते रहे फिर वापिस अपनी रहने वाली जगह की तरफ चल पड़े!

बंता ऐसे ही एक सुन्दर नज़ारे को देखने लगा उसे वह इतना सुन्दर लगा कि वह थोड़ी देर वहीँ पर बैठ गया!

उसके बाकी साथी काफी दूर निकल गए थे वह रास्ता भटक गया, वह चलते चलते ऐसी जगह पहुँच गया जहाँ एक झरना गिर रहा था!

वह उस झरने को देखने के लिए उसके नजदीक जाने लगा जाते हुए उसे इस बात का कोई पता नही चला कि वह वहां कैसे पहुंचा पर जब वह वापिस आने लगा तो वह वहां फंस गया!

उसने निकलने की काफी कोशिश की पर वह नही निकल पाया वह ऐसी जगह पर खड़ा था जहाँ से अगर वह गिरता तो लगभग 100 फुट की खाई में जा गिरता!

जब वह निसहाय हो गया तो वह डर के मारे जोर से चिल्लाने लगा अरे ...कोई मेरी मदद करो? पर उसकी सहायता के लिए कोई भी नही आया!

वह फिर से पुकारने लगा अरे भाई वहां ऊपर कोई है?

उसे एक बड़ी गहरी सी आवाज सुनाई दी हाँ ...मैं हूँ!

बंता ने कहा अरे कौन है भाई?

ऊपर से आवाज आई मैं भगवान बोल रहा हूँ!

बंता: क्या आप मेरी मदद करेंगे?

हाँ बिल्कुल! मैं तुम्हारी मदद करूँगा, क्या तुम मुझ पर विश्वास करते हो!

बंता मेरी सहायता करो, वह बुरी तरह से घबरा गया था!

तो फिर ...क्या तुम मुझ पर विश्वास करते हो मैं तुम्हें बचा लूँगा!

बंता अरे भाई तुम रहने दो ......कोई और है क्या ऊपर?
----------



जैविक सब्जियों के फायदे!
एक बार जीतो ने संता को जैविक खाद द्वारा उगाई गयी सब्जियों के ऊपर एक लंबा चौड़ा भाषण दे डाला और कहा की अब से तुम जब भी सब्जी लाओ तो जैविक खाद द्वारा उगाई सब्जी ही लाना।

अगले दिन संता सब्जी लेने सब्जी मंडी गया और एक दुकान पर जाकर सब्जी वाले से बोला।

संता: अरे भाई मुझे अपनी पत्नी के लिए सब्जी ले जानी है, तो क्या तुम मुझे बताओगे की इन सब्जियों पर किसी रासायनिक या ज़हरीले पदार्थ का छिडकाव तो नहीं किया हुआ है ना?

सब्जीवाला: नहीं साहब, यह काम आपको खुद ही करना पडेगा।
----------
बीवी पर तज़ुर्बा!
बंता एक दिन अपने आप ही घर की बत्ती ठीक कर रहा था, तो उसने अपनी बीवी को आवाज़ लगाई, "प्रीतो, सुनती हो"।

प्रीतो: क्या है?

बंता: अरे जरा इधर तो आ।

प्रीतो: लो आ गई, बोलो।

बंता: ये दो तारें है, इनमें से जरा कोई एक को पकड़ो।

प्रीतो: क्यों?

बंता: अरे पकड़ तो सही।

प्रीतो: लो, पकड़ ली एक तार।

बंता: कुछ नहीं हुआ?

प्रीतो: नहीं।

बंता: अच्छा! तो इसका मतलब करंट दूसरी तार में है।
----------
संता को प्‍यार हो गया!
एक बार संता को एक करोडपति बाप की इकलौती बेटी से प्यार हो जाता है तो वह शादी का प्रस्ताव लेकर लड़की के घर जाता है!

जैसे ही वह लड़की के घर पहुँचता लड़की का बाप उस से पूछता है;

लड़की का बाप: अगर मेरी लड़की गरीब बाप की बेटी होती तो क्या फिर भी तुम उसे प्यार करते?

लड़की के बाप की बात सुन कर संता ने उसे पटाने के लिए बड़े ही फ़िल्मी स्टाइल में जवाब दिया!

संता: जी हाँ बेशक!

लड़की का बाप: तुम जा सकते हो, मैं अपनी बेटी का विवाह तुमसे नहीं करूंगा, क्योंकि मुझे अपने परिवार में मूर्खों की संख्या नहीं बढ़ानी है!

----------
आपकी सहायता के लिए!
शहर में प्रमुख चौराहों पर पुलिस द्वारा सी.सी.टी.वी. लगवाया गया ताकि पुलिस नागरिकों की अच्छी तरह से सुरक्षा कर सके। लेकिन लोग तो बस इसमें भी अपनी सुविधा ढूँढ़ते हैं। इसी तरह एक दिन संता ने सुबह-सुबह पुलिस कंट्रोल रूम में फ़ोन किया।

संता: हैलो, जी मुझे आपकी सहायता चाहिए थी

कंट्रोल रूम: जी बताइए क्या सहायता चाहिए? हम आपकी सहायता के लिए ही हैं।

संता: क्या आपके सी.सी.टी.वी. कैमरे ठीक काम कर रहे है?

कंट्रोल रूम: जी हाँ, बिलकुल।

संता: क्या इसमें गली न 5 नज़र आ रही है?

कंट्रोल रूम: जी हाँ नज़र आ रही है।

संता: क्या उसके पीछे वाली गली भी दिख रही है?

कंट्रोल रूम: जी जनाब ! क्या बात हो गई?

संता: कुछ नहीं ज़रा देख कर बताना छोले-भटूरे वाले की दुकान खुल गई या नहीं?
----------


कुते और पति में अंतर!
एक बार जीतो और प्रीतो आपस में बातें कर रही होती है, कि तभी अचानक जीतो, प्रीतो से पूछती है;

जीतो: प्रीतो एक बात बता, कि नए पति और नए कुते में क्या फर्क होता है?

जीतो की बात सुन प्रीतो कुछ देर तक सोचने के बाद बोली;

प्रीतो: पता नहीं यार तू ही बता दे!

जीतो: वैसे तो पति और कुते में कोई ज्यादा अंतर नहीं होता, बस एक फर्क जो दोनों के बीच होता है वह यह कि नया कुता एक साल बाद भी आपको देखकर खुशी जताता है!
----------
संता का पिज़्ज़ा आर्डर!
एक बार संता पिज़्ज़ा हट पर फ़ोन करता है और कहता है;

संता: हैलो क्या आप पिज़्ज़ा हट से बोल रहे हैं!

मैनेजर: जी बताइये सर मैं आपकी क्या सहायता कर सकता हूँ!

संता: भाई मैं बता तो दूं पर आप मेरी वह सहायता करेंगे नहीं!

मैनेजर: नहीं सर आप बताइये तो सही मैं आपकी पूरी पूरी सहायता करूँगा!

संता: तो फिर बता कि मैं घर पर पिज़्ज़ा कैसे बनाऊँ?

----------
पत्नी की राजनीति!
संता लंगड़ाता हुआ जा रहा था और उसके कपड़े फटे हुए थे।

बंता ने पूछा: क्या हुआ भाई? यह हालत कैसे हुई तुम्हारी?

संता: क्या बताऊं यार, बीवी को मुझे पिटवाने की नई तरकीब सूझी थी।

बंता: कैसी तरकीब?

संता: बीवी ने मुझे झाड़ू खरीदने भेजा था, मैं वापिस आ रहा था, तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने मुझे 'आप' का कार्यकर्ता समझ लिया!
----------
संता की गर्लफ्रेंड का सपना!
एक बार संता की गर्लफ्रेंड ने उस से पूछा;

गर्लफ्रेंड: जानू एक बात पूछूँ?

संता: हाँ पूछो!

गर्लफ्रेंड: डार्लिंग क्या मैं तुम्हारे सपनों में आती हूं?

संता: नहीं!

गर्लफ्रैंड: क्यों नहीं?

संता: क्योंकि मैं हनुमान चालिसा पढ़ कर सोता हूं!

----------


संता की चालाकी!
संता एक डॉक्टर के पास गया और उस से पूछा;

संता: डॉक्टर साहब, घर जाकर चेक करने की क्या फीस है?

डॉक्टर ने कुछ सोचा और बोला: 300 रुपये!

संता बोला ठीक है, तो चलिए!

इतना सुनते ही डॉक्टर ने अपनी बाइक निकाली और संता के साथ उसके घर जा पहुंचा!

वहां पहुँच कर डॉक्टर ने पूछा: मरीज किधर है?

संता: अरे मरीज वरीज कोई नहीं है पागल, टैक्सी वाला 500 रुपये मांग रहा था और तू 300 में ले आया!

----------
संता की इंटरव्यू!
एक बार संता नौकरी के लिए इंटरव्यू के लिए गया।
इंटरव्यू के लिए एक लेडी बैठी थी।

लेडी ने संता से पूछा: आप शराब पीते हो??

संता: हाँ।

लेडी: कितनी?

संता: करीब 6 पैग रोज के।

लेडी: ओह! 6 पैग कितने के होते हैं?

संता: करीब 1000 रुपये के।

लेडी: कब से पी रहे हो?

संता: करीब 14 साल से।

लेडी: ओह! इसका मतलब आप रोज 1000 रुपये के हिसाब से महीने के 30000 रुपये शराब में उड़ाते हो, मतलब साल के 360000 रुपये। इस हिसाब से तुमने पिछले 14 साल में शराब पर करीब 50 लाख रुपये उड़ा दिए। क्या तुम जानते हो 50 लाख रुपये में तुम एक BMW खरीद सकते थे।

संता: क्या आप भी पीती हैं?

लेडी: नहीं मैंने कभी हाथ तक नहीं लगाया।

संता: चल फिर दिखा तेरी BMW कहाँ है?
----------
संता पर चुटकुले क्यों बनते हैं!
एक बार संता और पप्पू पार्क में घूम रहे होते हैं की तभी अचानक, पप्पू के दिमाग में एक सवाल आता है और संता से पूछता है;

पप्पू: पापा, अगर आपको रास्ते में जाते हुए 1000 रुपये और 500 रुपये के दो नोट पड़े दिखें तो आप कौन सा नोट उठाओगे?

संता: बेटा, मैं तो 1000 रुपये का नोट ही उठाऊंगा!

पप्पू (गुस्से से): पापा आप तो हो ही बुद्धू , इसीलिए तो लोग आप पर चुटकुले बनाते हैं, आप दोनों भी तो उठा सकते थे!

----------
वक़्त-वक़्त की बात है!
बंता: प्रीतो और मैं तलाक ले रहे है।

संता हैरान होते हुए, "क्यों क्या हुआ तुम दोनों तो बहुत अच्छे से रहते हो।"

बंता: जब से हम लोगों ने शादी की है तब से प्रीतो मुझे बदलने की कोशिश में लगी हुई है, सबसे पहले उसने मुझे शराब पीने से रोका, फिर सिगरेट फिर इधर-उधर आवारा घूमने से। उसने मुझे सिखाया कि अच्छे कपड़े कैसे पहनते है, उसने मुझे संगीत और कला के प्रति रूचि आदि सब सिखाये और स्टॉक मार्केट में कैसे निवेश करना है ये सब भी उसी ने सिखाया।

संता ने कहा, "क्या तुम बस इसलिए नाराज हो कि उसने तुम्हें बदलने के लिए ये सब किया।"

बंता: अरे मैं नाराज नहीं हूँ, मैं अब काफी सुधर चुका हूँ तो अब वो मुझे अपने लायक नहीं लगती।
----------


संता स्‍वर्ग नहीं जाना चाहता!
एक बार एक मंदिर में प्रवचन चल रहा होता है तो प्रवचन देने वाला गुरु सभी भक्तों से कहता है;

गुरु: आप सब में से जो-जो स्वर्ग जाना चाहता है, वह अपना हाथ ऊपर करे!

यह सुन संता की बीवी और सास ने हाथ ऊपर उठाया परन्तु संता ने हाथ नहीं उठाया यह देख गुरु ने संता से पूछा;

गुरू: क्या तुम स्वर्ग नहीं जाना चाहते बेटा?

संता: गुरुजी, यह दोनों चली जायेंगी तो यही पर स्वर्ग हो जाएगा!

----------
ये कैसी सहायता है!
एक रात दो बजे बहुत तेज़ बारिश हो रही थी तो संता ने एक घर की घंटी बजाई और पूछा;

संता: भाई साहब मेहरबानी करके धक्का लगा देंगे क्या ?

आदमी नींद में था इसलिए मना कर दिया और अन्दर आ गया, परन्तु फिर उसे एहसास हुआ की कभी वो खुद बारिश में फंस जाये और कोई उसकी मदद न करे तो?

यह सोच कर वह उठा और बाहर जा कर बोला;

आदमी: क्या तुम्हे अभी भी धक्का चाहिए?

संता की आवाज़ आई: हाँ!

आदमी: ठीक है पर तुम हो कहाँ?

संता: यहाँ गार्डन में झूले पर!

----------
मरवा दिया संता ने!
एक बार संता, उसका एक जापानी और एक ब्रिटिश मित्र समंदर घूमने निकले लेकिन अचानक एक तूफ़ान की वजह से वे एक सुनसान टापू पर पहुँच जाते हैं। चलते-चलते उन्हें एक चिराग मिलता है। जापानी चिराग को घिसता है तो उसमें से एक जिन्न बाहर आता है। जिन्न कहता है कि मैं आप तीनों की एक-एक इच्छा पूरी करूँगा।

जापानी कहता है कि मैं अपने घर वापस जाना चाहता हूँ। जिन्न हाथ घुमाता है और वो घर पहुँच जाता है।

ब्रिटिश भी अपने घर जाने की इच्छा रखता है और वो भी घर पहुँच जाता है।

संता सोच में पड़ जाता है और अपनी इच्छा बताते हुए कहता है, "भई, उन दोनों के जाने से मैं तो अकेला पड़ गया, तुम ऐसा करो उन दोनों को वापस बुला लो।"
----------
सी. बी. आई की भर्ती!
सी. बी. आई ने तीन लोगों को इंटरव्यू के लिए बुलाया उन्होंने उन्हें एक एक कर इंटरव्यू के लिए बुलाया! इंटरव्यू लेने वाले ने पहले आदमी से पूछा: क्या तुम अपनी पत्नी से प्यार करते हो?

जी हाँ सर करता हूँ!

क्या तुम अपने देश से प्यार करते हो?

जी हाँ सर!

तुम ज्यादा प्यार किससे करते हो अपने देश से या अपनी पत्नी से?

अपने देश से सर!

ठीक है, ये लो बंदूक अपनी पत्नी को अंदर बुलाओ दूसरे कमरे में ले जाकर उसे मार दो!

वो आदमी अपनी पत्नी को लेकर अंदर गया, पांच मिनट तक सब कुछ शांत था फिर वह बाहर आया उसकी टाई खुली थी, और वो पसीने से भीगा था उसने बंदूक नीचे रखी और बाहर चला गया!

दूसरा आदमी अंदर आया और बैठ गया, इंटरव्यू लेने वाले ने उससे भी वही प्रश्न पूछे?

उसका भी वही जवाब था इंटरव्यू लेने वाले ने उसे बंदूक दी और कहा, कि अपनी पत्नी को मार दो! उस आदमी ने वो बंदूक वहीँ नीचे रख दी और कहा मैं ये नहीं कर सकता!

तीसरा आदमी संता अंदर आया उससे भी वही पूछा,इंटरव्यू लेने वाले ने उसे बंदूक दी और कहा, कि अपनी पत्नी को मार दो!

संता अपनी पत्नी को लेकर कमरे में गया धम, धम, धम, धम की लगातार चार पांच आवाजें हुई और फिर सब शांत हो गया संता बाहर आया उसकी टाई खुल गयी थी उसने बंदूक को टेबल पर रखा!

इंटरव्यू लेने वाले ने पूछा क्या हुआ? आप ने जो बंदूक मुझे दी थी उसमें खाली कारतूस थे और मैंने अपनी पत्नी को गला घोंटकर मार दिया!
----------


नशा करना बुरी बात है
एक बार एक आदमी सड़क किनारे बैठ कर बीड़ी पी रहा था, तभी वहां संता आता है और उस आदमी से कहता है, "भाई, नशा करना छोड़ दो और मेरे साथ चलो मै तुम्हे दिखाता हूँ ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है!"

उस आदमी ने बीड़ी फेंक दी और संता के पीछे चल दिया!

थोड़ी और आगे जाने के बाद संता को और उस आदमी को एक पठान मिलता है जो की पेड़ के नीचे बैठ कर चरस पी रहा होता है, उसको देख संता उससे भी कहता है,"भाई, नशा करना बुरी बात है, मेरे साथ चलो मैं तुम्हें दिखाता हूं कि ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है!"

पठान भी चरस फेंकता है और संता के पीछे-पीछे चल पड़ता है!

थोड़ी और आगे जाने के बाद संता को बंता दिखाई देता है, जो की शराब पी रहा होता है, बंता को देख संता उससे भी कहता है, " देखो भाई नशा करना बुरी बात है, मेरे साथ चलो मैं तुम्हें दिखाता हूं कि ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है!"

संता की बात सुन बंता अपना पैग मेज पर रख देता है और संता को पीटने लगता है!

यह सारा तमाशा देख पठान को गुस्सा आ जाता तो वह बंता से कहता, "तुम क्यों इस नेक इंसान को पीट रहे यह तो तुम्हारे भले के लिए ही कह रहा है!"

पठान की बात सुन बंता जवाब देता है, " भला-वला गया भाड़ में, इस साले ने कल भांग पीकर मुझे भी ऐसे ही 3 घंटे तक सारे शहर में पैदल घुमाया था!"
----------
सेर को सवा सेर!
एक बार एक आदमी था। जिसने अपनी सारी ज़िन्दगी बहुत काम किया और बहुत पैसा कमाया। पैसा होने के बावजूद भी वो बहुत कंजूस था। उसे अपनी ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा प्यार अपने पैसे से था। यहाँ तक कि उसने अपनी पत्नी से भी यह वायदा लिया था की जब वो मर जायेगा तो उसका सारा पैसा उसके साथ उसकी कब्र में दफना देना।

उसकी पत्नी ने भी उससे वायदा कर दिया कि जब वो मरेगा तो वो ऐसा ही करेगी।

कुछ दिनों बाद आदमी की मौत हो गयी। आदमी को ताबूत में लिटाया गया और जब सब लोग उस ताबूत को दफ़नाने लगे तो पत्नी ने उनको रुकने को कहा।

सब रुक गए तभी उस आदमी की पत्नी एक डिब्बा लेकर आई और उसे ताबूत में रख दिया। सब लोग यह देख कर हैरान थे कि वो ऐसा क्यों कर रही है। पति तो अब मर चुका है तो अब सारा पैसा पत्नी का ही है फिर भी वो डिब्बा ताबूत में रखना चाहती है।

पत्नी ने सब की बात सुनी और बोली, "मैं एक अच्छी पत्नी हूँ जो अपने पत्नी की हर इच्छा पूरी करुँगी। मैंने उनसे वायदा किया था कि मैं उनके सारे पैसे उनके साथ ही ताबूत में छोड़ दूंगी।"

किसी ने उससे पूछा, "इसका मतलब तुमने सारे पैसे एक साथ इसमें रख दिए?"

पत्नी ने जवाब दिया, "हाँ बिल्कुल, मैंने उसके सारे पैसे अपने खाते में जमा करवा दिए हैं और अपने पति के नाम का चेक लिख दिया है जो कि इस डिब्बे में है!"
----------
बात में दम है!
एक बार संता अपने ससुराल मिलने के लिए गया और ज़मीन पर बैठ गया।

सास: बेटा ज़मीन पर क्यों बैठे हो? ऊपर सोफे पर बैठ जाओ।

संता: नहीं मैं यहीं ठीक हूँ।

सास: इतना अच्छा सोफा है फिर भी नीचे क्यों बैठे हो?

संता: सोफे पर तो गरीब लोग बैठते हैं। मैं नीचे ज़मीन पर ही ठीक हूँ।

सास(हैरानी से): गरीब लोग, वो कैसे?

संता: सोफे की कीमत पच्चीस हज़ार रुपये और ज़मीन के प्लाट की कीमत पच्चीस लाख रुपये!
----------
संता की गहराई की सच्चाई!
एक बार संता और बंता एक कोयले की खदान में नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाते हैं तो मैनेजर पहले बंता को बुलाता है और उसका इंटरव्यू लेता है;

मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले भी कभी खदान में काम किया है!

बंता: जी हाँ!

मैनेजर: अच्छा तो मुझे यह बताओ की उसकी गहराई कितनी थी?

बंता: जी 20 फुट!

बंता की बात सुन मैनेजर को गुस्सा आ जाता है तो वह उस से कहता है;

मैनेजर क्या बकवास कर रहे हो 20 फुट गहरी भी कोई खदान होती है, तुम झूठ बोल रहे हो इसीलिए मेरे कमरे से बहार निकल जाओ!

मैनेजर की बात सुन बंता बहार आ जाता है और संता को अन्दर हुई सारी बात बताता है और कहता है;

बंता: अगर मैनेजर अन्दर तुमसे खदान की गहराई के बारे में पूछे तो ज्यादा से ज्यादा बताना!

उसके बाद संता की बारी आती है तो मैनेजर फिर उस से वही सवाल पूछता है;

मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले कभी खदान में काम किया है?

संता: जी हाँ!

मैनेजर: अच्छा तो उस खदान की गहराई कितनी थी?

संता: जी 20,000 हज़ार फुट!

मैनेजर: बहुत बढ़िया तो एक बात और बताओ की इतनी गहराई में काम करते वक्त तुम किस तरह की लाईटों का प्रयोग करते थे?

संता: जी मुझे कभी लाईटों की ज़रूरत नहीं पड़ी क्योंकि मेरी दिन की शिफ्ट होती थी!

----------


हाथ में क्या है?
फ़ौज की ट्रेनिंग के दौरान मेजर ने संता से पूछा;

मेजर: यह हाथ में क्या है?

संता: सर ये बंदूक है!

मेजर: ये बंदूक नहीं, हमारी इज्जत और शान है, तुम्हारी मां है!

उसके बाद ऑफिसर दूसरे सैनिक बंता के पास गया उससे भी वही सवाल पूछा;

मेजर: यह हाथ में क्या है?

बंता: सर ये संता की मां है, और हमारी आंटी है!

----------
संता की अंग्रेजी!
एक बार संता काम के लिए विदेश चला गया और वहाँ एक रेस्टोरेंट में काम करने लग गया। वहाँ उसे काम करते कुछ दिन हुए थे कि एक रोज मैनेजर ने उसे अपने ऑफिस में बुलाया और बताया कि पंजाब से उसके भाई का फ़ोन आया है।

संता खुश हो गया और फ़ोन पकड़ कर काफी देर टूटी-फूटी अंग्रेजी में अपने भाई से बात करता रहा।

आखिरकार बात खत्म करने के बाद जब उसने फ़ोन रखा तो मैनेजर ने उससे पूछा, "अपने भाई से अंग्रेजी में क्यों बात कर रहे थे? अपनी जुबान में बात क्यों नहीं की?"

संता बहुत ही हैरान होकर बोला, "साहब जी, अब मुझे क्या मालूम था कि आपका टेलीफोन पंजाबी भी बोलता है।"
----------
इसे प्यार न समझो!
एक बार किसी जगह संगीत की महफ़िल चल रही थी। एक गायक ने जैसे ही गाना गाया, सब बोले, "वन्स मोर (Once more)।"

गायक ने गाना फिर सुना दिया।

दूसरी बार भी गाना खत्म हुआ तो सब लोग फिर से बोल उठे, "वन्स मोर (Once more)"।

इस बार गायक ने कहा, "मेरे प्यारे सुनने वालो, मैं आपका मेरे लिए प्यार समझता हूँ। पर मेरी भी कुछ मर्यादा है। मैं इतनी बार नहीं गा सकता।"

तभी महफ़िल में से एक आदमी उठ कर बोला, "जब तक तुम ठीक से नहीं गाओगे, तुमको गाना ही पड़ेगा।"
----------
फेसबुक छोड़ो!
संता अपने बेटे पप्पू के फेसबुक पर समय बर्बाद करने से काफी परेशान था, लेकिन कभी कुछ कहता नहीं था, एक दिन उससे रहा नहीं गया तो वह अपने बेटे के पास जाकर बोला;

संता: बेटा, छोड़ दे ये फेसबुक यह तुझे रोटी नहीं देने वाली!

पप्पू: हां पापा, मुझे पता यह मुझे रोटी नहीं देने वाली, लेकिन रोटी बनाने वाली देगी!

----------


चाइना का माल!
एक बार संता की शादी एक चाइनीज (चीनी) लड़की से हो जाती है, अभी संता कि शादी को छः महीने ही गुजरे होते हैं कि एक दिन अचानक उसकी पत्नी मर जाती है, इस घटना से दुखी होकर संता एक दिन बंता से अपना दुःख सांझा कर रहा होता है और कहता है;

संता: यार ना जाने क्यों कभी-कभी तेरी भाभी कि बड़ी याद आती है?

संता की बात सुन बंता उसे समझाते हुए कहता है;

बंता: क्या करें यार भगवान् की मर्ज़ी के आगे हम इंसान क्या कर सकते हैं!

संता: यार पर अभी तो तेरी भाभी की उम्र भी कोई ज्यादा नहीं थी!

संता की बात सुन बंता जवाब देता है;

बंता: अब चुप भी हो जा यार, आखिर था तो चाइना का माल ही ना और कितने दिन चलता!

----------
ट्रैफिक हवलदार संता!
संता ट्रैफिक पुलिस के इंटरव्यू के लिए गया!

इंस्पेक्टर ने पूछा: एक आदमी गधे की सवारी करता हुआ रोड से जा रहा है, और उसने हेलमेट नहीं पहना तो क्या आप उसे दण्डित करेंगे?

संता: नहीं!

इंस्पेक्टर: क्यों?

संता: क्योंकि हेलमेट 2 व्हीलर के लिए जरूरी है, 4 व्हीलर के लिए नहीं!

----------
प्यार हो जाता है या करना पड़ता है?
संता: "प्यार हो जाता है या करना पड़ता है?"

बंता: "ये तो परिस्थिति पर निर्भर करता है!"

संता: "वो कैसे?"

बंता: "लड़की सुन्दर हो और स्कूटी पर हो, तो हो जाता है। लेकिन लड़की बदसूरत हो पर मर्सीडीज में हो तो करना पड़ता है!"

----------
सेर पर सवा सेर!
एक बार संता और बंता दोनों एक दुकान पर गए। वहाँ सब लोगों को अपने काम में व्यस्त देख कर बंता ने 3 चॉकलेट चुरा लिए।

जब दोनों बाहर आये तो बंता अपनी ढींगे हांकने लगा कि वो बहुत चालाक है। उसने 3 चॉक्लेट चुराए और किसी को पता भी नहीं लगने दिया। तुम ऐसा नहीं कर सकते।

यह सुनकर संता को भी गुस्सा आ गया और बोला, "चलो मैं तुम्हें इससे भी बढ़िया चीज़ दिखाता हूँ।"

वो दोनों वापिस अंदर चले गए। अंदर जाकर संता ने दुकानदार से कहा, "क्या तुम जादू देखना चाहते हो?"

दुकानदार ने कहा, "हाँ, ठीक है।"

संता: तो फिर मुझे एक चॉकलेट दो।

दुकानदार ने संता को चॉकलेट दी और संता ने वो चॉकलेट खा ली और दूसरी चॉकलेट मांगी। दुकानदार ने दूसरी चॉकलेट भी दे दी तो संता ने उसे भी खा लिया। अब संता ने दुकानदार से तीसरी चॉकलेट मांगी और वो भी खा ली।

दुकानदार ने पूछा, "इसमें जादू कहाँ है?"

संता: मेरे दोस्त की जेब देखो तो तुम्हें तुम्हारी तीनों चॉकलेट वापिस मिल जाएँगी!
----------


चोरी पकड़ी गयी!
एक दिन संता ने अपनी भाभी को खूब मारा। उसके चिल्लाने की आवाज सुन कर पड़ोसी देखने आ गए और संता से पूछने लगे कि क्या बात हो गयी, इतना क्यों मार रहे हो अपनी भाभी को?

संता(गुस्से में): भाईसाहब ये हमारी पीठ पीछे छुप -छुप के रोज मेरे सभी दोस्तों से बाते करती है।

पडोसी: तुम्हे कैसे पता लगा?

संता: अरे मैं जब भी अपने किसी दोस्त से पूछता हूँ कि वो फ़ोन पर किस बात कर रहे हैं, वो यही कहता है `तुम्हारी भाभी से`।
----------
बंता का विचित्र ज्ञान!
संता अपने बेटे पप्पू की वजह से बहुत परेशान था।

इसी का सलाह-मश्वरा करने वो अपने दोस्त बंता के पास पहुंचा।

संता: यार, मैं अपने बेटे पप्पू को लेकर बहुत चिंतित हूँ।

बंता: क्यों क्या हुआ? उसने फिर कोई बदमाशी कर दी क्या?

संता: नहीं यार, वो बात नहीं है।

बंता: तो फिर क्या बात है?

संता: बस आज-कल जब भी वो सुबह उठता है तो बहुत थका-थका और सुस्त महसूस करता है। समझ नहीं आ रहा कि ऐसा क्यों होता है?

बंता भी अपने आप को होशियार साबित करने की कोशिश में लग गया।

बंता: तुम उसे सोने से पहले दूध पिलाते हो क्या?

संता: हाँ, पिलाता हूँ।

बंता: बस यही कारण है उसकी इस हालत का।

संता: मैं कुछ समझा नहीं। दूध के कारण ऐसा कैसे हो सकता है?

बंता: जब तुम उसे रात को दूध पिलाते हो तो रात को सोते वक़्त जब वो करवटें बदलता है तो दूध हिल-हिल कर दहीं बन जाता है, फिर दहीं से मक्खन निकल आता है, मक्खन फैट में बदल जाता है और उस फैट से चीनी बन जाती है और फिर चीनी की शराब। जिससे नतीजा यह होता है कि जब वो सुबह सोकर उठता है तो वो शराब के नशे में होता है। जिस कारण वो थका-थका और सुस्त महसूस करता है।
----------
वह कौन था?
संता एक बार ऑस्ट्रेलिया गया था वहां सिडनी में एक बार में बैठा था तभी एक ऑस्ट्रेलियन आया और संता के साथ वाले स्टूल पर बैठ गया!

उसने संता की ओर मुखातिब होते हुए कहा चलो एक छोटा सा खेल खेलते है मैं तुमसे एक पहेली पूछता हूँ अगर तुम इसका जवाब दे पाए तो ड्रिंक मेरी ओर से और अगर जवाब नही दे पाए तो ड्रिंक तुम्हारी तरफ से!

संता ने बड़ी ख़ुशी से कहा ठीक है!

ऑस्ट्रेलियन ने कहा मेरे माँ बाप के एक बच्चा था, वह न तो मेरा भाई था और न मेरी बहन थी तो ये फिर कौन था?

संता अपने सिर को खुजलाने लगा और बहुत सोचने के बाद उसने उससे कहा मैं नही बता सकता तुम ही बताओ की वह कौन था?

तब ऑस्ट्रेलियन ने कहा वह मैं था! वह मजाकिया अंदाज में हंसने लगा, फिर संता ने ड्रिंक के पैसे चुकाए और वहां से चला गया!

अगले दिन संता वापिस लुधिआना आ गया रात में वह बार में बैठा था, तभी वहां बंता आ गया!

अरे बंता आओ यहाँ बैठो चलो एक खेल खेलते हैं, मैं तुमसे एक पहेली पूछता हूँ अगर तुम इसका जवाब दे पाए तो ड्रिंक मेरी ओर से और अगर नही दे पाए तो ड्रिंक तुम्हारी तरफ से!

बंता ने कहा ठीक है!

संता ने कहा मेरे माँ बाप के एक बच्चा था वह न तो मेरा भाई था और न मेरी बहन थी तो ये फिर कौन था?

बंता ने थोड़ी देर सोचा और फिर कहा, यार मुझे नही पता तुम ही बताओ वह कौन था?

संता ने कहा: वह एक ऑस्ट्रेलियन था, जो सिडनी में रहता है!
----------
उससे अच्छी मिल गयी!
संता- तूने उस लड़की के लिए मांस खाना छोड़ दिया?

बंता- हां!

संता- शराब भी छोड़ दी?

बंता- हां!

संता- जुआ भी छोड़ दिया?

बंता- हां!

संता- अबे तो फिर उससे शादी क्यों नही की?

बंता- ओह यार, इतना सुधर गया था कि उससे अच्छी मिल गयी!

----------



संता की मुर्गियां!
एक बार पोल्ट्री फार्म के निरीक्षण के लिए पोल्ट्री विभाग से एक इंस्पेक्टर आता और पोल्ट्री फॉर्म के मालिकों से सवाल पूछता है;

इंस्पेक्टर (पप्पू से): तुम मुर्गियों को क्या खिलाते हो?

पप्पू: बाजरा!

इंस्पेक्टर: खराब खाना, इसका चालान काटो और इसे गिरफ्तार कर लो!

उसके बाद इंस्पेक्टर बंता से भी वही सवाल पूछता है;

इंस्पेक्टर: तुम मुर्गियों को क्या खिलाते हो?

बंता: चावल!

इंस्पेक्टर: गलत खाना इसे भी गिरफ्तार कर लो!

सबसे अंत में इंस्पेक्टर संता के पास आता है और उससे भी वही सवाल पूछता है;

इंस्पेक्टर: तुम मुर्गियों को क्या खिलाते हो?

पप्पू और बंता की हालत देखने के बाद संता डरता हुआ इंस्पेक्टर से कहता है;

संता: जी हम तो मुर्गियों को 5-5 रुपए दे देते हैं और कह देते हैं कि जो तुम्हारी मर्जी हो जाकर खा लो!
----------
मेरा नाम संता है!
एक बार संता को और उसके साथ काम करने वाली एक महिला को डाकू पकड़ लेते हैं;

डाकू (महिला से)- तेरा नाम क्या है?

महिला - मीना!

डाकू- मेरी बहन का नाम भी मीना था, इसीलिए जा मैं तुझे जिंदा छोड़ता हूँ!

डाकू (संता से)- तेरा नाम क्या है?

संता - मेरा नाम संता है, लेकिन लोग प्यार से मुझे मीना कहते हैं!

----------
शादीशुदा ज़िन्दगी
संता- डार्लिंग, अभी-अभी मेरा एक दोस्त खाने पर हमारे घर आने वाला है!

जीतो- तुम्हारा दिमाग खराब है? पूरा घर अस्त-व्यस्त पड़ा है, किचन में सामान भी नहीं है, मैं बहुत थकी हुई हूं और तुम्हारा दोस्त अभी आ रहा है, क्या सोचेगा वह?

संता- तभी तो मैंने उसे बुलाया है! दरअसल वह जल्दी ही शादी करने जा रहा है और शादी से पहले देखना चाहता है कि शादीशुदा लोग कैसे रहते हैं!
----------
पप्पू की शैतानियाँ
2 महीने की गर्मियों की छुट्टियों के बाद पप्पू अपने स्कूल जाता है!

अभी उसके स्कूल शुरू हुए एक हफ्ता भी नहीं गुज़रा होता है कि उसके स्कूल से उसकी अध्यापिका जीतो को फ़ोन करती है और कहती है;

अध्यापिका: क्या मैं पप्पू की माता जी से बात कर सकती हूँ?

जीतो: जी हाँ कहिये मैं बोल रही हूँ!

अध्यापिका: जी आपके पप्पू ने अपनी शैतानियों से सारे स्कूल की नाक में दम कर रखा है!

अध्यापिका की बात सुन कर जीतो तुरंत जवाब देती है;

जीतो: वाह मैडम जी वाह आपने तो एक हफ्ते में ही फ़ोन कर दिया, पिछले 2 महीने से जब उसने मेरा जीना मुहाल किया हुआ था तो मैंने तो कभी आपसे उसकी शिकायत नहीं की!
----------


पागलखाना!
एक पागलखाने में एक डॉक्टर सुबह सुबह मरीजों के चैकअप के लिए निकल पड़ा उसने देखा संता ऐसे दिखा रहा है कि वह लकड़ियाँ काटने का काम कर रहा है और बंता सीलिंग के साथ उल्टा लटका हुआ है!

डॉक्टर ने पूछा अरे संता क्या कर रहे हो?

संता ने कहा दिखाई नहीं देता लकड़ियाँ काट रहा हूँ!

डॉक्टर ने संता से फिर पूछा और ये बंता क्या कर रहा है?

संता ने कहा ये तो पागल हो गया है ये समझ रहा है कि ये बल्ब है इसलिए उल्टा लटका है!

डॉक्टर ने उल्टे लटके हुए बंता को देखा तो उसका चेहरा पूरा लाल हो गया था डॉक्टर ने संता से कहा अरे, ये तुम्हारा दोस्त है इस से पहले कि इसके साथ कुछ गलत हो तुम्हें इसे नीचे उतारना चाहिए!

संता फिर में अँधेरे में काम कैसे करूँगा?
----------
बिल्ली की जिद!
संता के घर एक बिल्ली रहती थी जिससे वह बहुत परेशान था, एक दिन संता उस से तंग आकर उसे जंगल में छोड़ आता है, परन्तु संता के घर पहुंचने से पहले वह बिल्ली घर लौट आती है!

यह देख संता दुबारा उस बिल्ली को और दूर जंगल में छोड़ आता है, पर फिर वैसा ही होता है और वह बिल्ली फिर वापस घर पहुँच जाती है यह देख संता को बहुत गुस्सा आता है, तो वह इस बार बिल्ली को अपनी गाडी में डाल कर और घने जंगल में ले जा कर छोड़ देता है, और कुछ देर बाद अपनी पत्नी को फ़ोन करता है और पूछता है;

संता: क्या बिल्ली घर आ गई है?

जीतो: हां, वह फिर पहुंच गई है!

संता: ठीक है तो उसे कहो मुझे आकर ले जाए, मैं रास्ता भूल गया हूं!
----------
संता का ब्रेक-अप!
एक बार संता और बंता एक पार्क में बैठे हुए होते हैं कि तभी अचानक बंता, संता से सवाल करता है;

बंता: यार संता एक बात बता तेरा और तेरी गर्लफ्रेंड का ब्रेकअप क्यों हो गया?

संता: मत पूछ यार बड़ी दुःख भरी कहानी है!

बंता: क्यों क्या हुआ?

संता : क्या बताऊं यार कल हम दोनों हाथों में हाथ डाल कर कहीं जा रहे थे, तभी वहां से एक शरारती बच्चा गुजरा और बोला भैया वो कल वाली दीदी ज्यादा मस्त थी, बस फिर क्या था मेरी गर्लफ्रेंड ने इतना सुना, मेरे गाल पर चांटा मारा और चली गयी!
----------
संता की आखिरी ख्वाहिश!
संता को किसी वजह से फांसी की सजा हुई, जेलर ने फांसी पर चढ़ाने से पहले संता से पूछा;

जेलर: फांसी से पहले किसी से मिलना चाहोगे?

संता: हां, बीवी से!

जेलर: क्यों, मां-बाप से नहीं मिलोगे?

संता: मां-बाप तो अगला जन्म होते ही मिल जाएंगे, बीवी के लिए फिर 21 साल इंतज़ार करना पड़ेगा!

----------


अस्पतालों की सैर!
संता: मैं दुनियां के सारे अस्पतालों में हो कर आ चूका हूँ।

बंता: नहीं, तुम अभी तक एक अस्पताल में हो कर नहीं आए होगे।

संता: हो ही नहीं सकता, तुम उस अस्पताल का नाम बताओ।

बंता: जनाना अस्पताल।

संता: अरे यार, वहाँ तो मैं पैदा ही हुआ था।
----------
ऐसी बीवी सिर्फ किस्मत वालो को ही मिलती है!
एक दिन संता दुखी होकर अपने दोस्त बंता के घर जाता है और बंता से कहता है;

संता: यार, मुझे अपनी बीवी से तलाक चाहिए!

बंता: लेकिन क्यों आखिर ऐसा क्या हुआ?

संता: वो 6 महीने से मुझ से बात ही नहीं कर रही!

बंता: एक बार फिर सोच लो, ऐसी बीवी सिर्फ किस्मत वालो को ही मिलती है!
----------
टमाटर खाओ!
रास्ते में जाते हुए एक भिखारी संता से बोला;

भिखारी: बाबा, कुछ खाने को दो ना!

संता: टमाटर खाओ!

भिखारी: रोटी दो ना बाबा!

संता: टमाटर खाओ!

भिखारी: ठीक है टमाटर ही खिला दो, बाबा!

भिखारी को संता से उलझते हुए देख कर जीतो वहां आ जाती है और भिखारी से कहती है;

जीतो: ओ बाबा ये तोतला बोलते है, कह रहे है कमाकर खाओ कमाकर!

----------
डॉक्टर की घंटी बज गयी!
एक दरवाजे पर एक घंटी लगी हुई थी, जिस पर लिखा था, 'डॉक्टर के लिए घंटी बजाइए।'

आधी रात को संता शराब में टुन्न उधर से निकला, उसने घंटी देखी, फिर ऊपर लिखी लाइन पढ़ी और फिर घंटी बजाने लगा।

थोड़ी देर बाद दरवाजा खुला और आँखें मलता हुआ एक आदमी बाहर निकला।

संता ने पूछा,"आप डॉक्टर हैं?"

डॉक्टर: हाँ।

संता: यह घंटी आप खुद नहीं बजा सकते?
----------



संता का इंटरव्यू!
एक बार संता रेल विभाग में लाईनमैन के पद के लिए साक्षात्कार देने जाता है तो वहां बैठा अफसर उससे कुछ सवाल पूछता है;

अफसर: संता मान लो तुम्हें पता चलता है कि तुम्हारे ट्रैक पर दो रेलगाडियां विपरीत दिशा से आ रही है और उनमें टक्कर होने वाली है तो तुम क्या करोगे?

संता: मैं आटोमेटिक लीवर से किसी एक ट्रेन को दूसरी लाइन पर स्थानांतरित कर दूंगा!

अफसर: अगर लीवर काम नहीं कर रहा हो तो?

संता: तो मै हाथ से लीवर को खींचने की कोशिश करूंगा!

अफसर: अगर वो भी ना हो सके तो?

संता: मै दोनो तरफ़ के स्टेशन मास्टरों को खबर करूंगा!

अफसर: अगर फोन भी काम नहीं कर रहा हो तो?

संता: मै लाल कपड़ा लेकर ट्रैक पर खड़ा हो जाऊंगा!

अफसर: अगर उस समय कोई लाल कपड़ा भी नहीं मिला तो?

संता: फिर मैं अपनी बीवी प्रीतो को बुलाऊंगा!

अफसर: क्यों, क्या वो कोई इंजीनियर है?

संता: नहीं, उसने कभी रेलगाड़ियों की टक्कर नहीं देखी ना!
----------
आप कौन से प्रधानमंत्री हो!
संता: तुम्हारे रिजल्ट (परिणाम) का क्या हुआ?

पप्पू: वो प्रिंसिपल का बेटा फेल हो गया!

संता: तुम्हारा?

पप्पू: वो मेजर साहब का बेटा भी फेल हो गया!

संता: तुम्हारा क्या हुआ?

पप्पू: वो डॉक्टर साहब का बेटा भी!

संता: इडियट, मैं इतनी देर से तुम्हारे बारे में पूछ रहा हूं!

पप्पू: तो आप कौन से 'प्रधानमंत्री' हो जो आप का बेटा पास हो जाएगा!

----------
वह कौन था?
संता एक बार ऑस्ट्रेलिया गया था वहां सिडनी में एक बार में बैठा था तभी एक ऑस्ट्रेलियन आया और संता के साथ वाले स्टूल पर बैठ गया!

उसने संता की ओर मुखातिब होते हुए कहा चलो एक छोटा सा खेल खेलते है मैं तुमसे एक पहेली पूछता हूँ अगर तुम इसका जवाब दे पाए तो ड्रिंक मेरी ओर से और अगर जवाब नही दे पाए तो ड्रिंक तुम्हारी तरफ से!

संता ने बड़ी ख़ुशी से कहा ठीक है!

ऑस्ट्रेलियन ने कहा मेरे माँ बाप के एक बच्चा था, वह न तो मेरा भाई था और न मेरी बहन थी तो ये फिर कौन था?

संता अपने सिर को खुजलाने लगा और बहुत सोचने के बाद उसने उससे कहा मैं नही बता सकता तुम ही बताओ की वह कौन था?

तब ऑस्ट्रेलियन ने कहा वह मैं था! वह मजाकिया अंदाज में हंसने लगा, फिर संता ने ड्रिंक के पैसे चुकाए और वहां से चला गया!

अगले दिन संता वापिस लुधिआना आ गया रात में वह बार में बैठा था, तभी वहां बंता आ गया!

अरे बंता आओ यहाँ बैठो चलो एक खेल खेलते हैं, मैं तुमसे एक पहेली पूछता हूँ अगर तुम इसका जवाब दे पाए तो ड्रिंक मेरी ओर से और अगर नही दे पाए तो ड्रिंक तुम्हारी तरफ से!

बंता ने कहा ठीक है!

संता ने कहा मेरे माँ बाप के एक बच्चा था वह न तो मेरा भाई था और न मेरी बहन थी तो ये फिर कौन था?

बंता ने थोड़ी देर सोचा और फिर कहा, यार मुझे नही पता तुम ही बताओ वह कौन था?

संता ने कहा: वह एक ऑस्ट्रेलियन था, जो सिडनी में रहता है!
----------
बंता तो कुछ ज्यादा ही समझदार है!
एक बार एक हवाई जहाज़ की कम्पनी अपने जहाज़ पर पेंट करवाने का ठेका देने के लिए अखबार में इश्तिहार निकालती है, जिसे देख कर संता, बंता और पप्पू नीलामी में बोली लगाने के लिए जाते हैं और वहां पहुँच कर अपनी अपनी बोली लगाते हैं;

संता: मैं इस जहाज़ को पेंट करने के लिए 5 लाख रूपए लूँगा!

मैनेजर: नहीं नहीं यह तो बहुत महंगा है!

इसके बाद पप्पू अपनी बोली लगाता है;

पप्पू: मैं इस जहाज़ को पेंट करने के 4 लाख रूपए लूँगा!

मैनेजर: नहीं यह भी बहुत महंगा है!

संता और पप्पू की बोली सुन कर बंता कुछ देर सोचता और अपनी बोली लगता है;

बंता: मैं ये जहाज़ 500 रूपए में पेंट कर दूंगा!

बंता की बात सुन कर मैनेजर हैरानी से बंता से पूछता है;

मैनेजर: बंता जी आपको नहीं लगता की ये कीमत कुछ ज्यादा ही कम है और आपको इस सौदे में नुकसान उठाना पड़ सकता है!

बंता: ओये नुकसान कैसा, ये दोनों तो बेवकूफ है मैं तो हवाई जहाज़ को तब पेंट करूँगा जब वह आसमान में चला जाएगा और छोटा हो जाएगा तब मैं सीढ़ी लगाकर उस पर रंग कर दूंगा!

----------


लड़कों से तो कुते भले!
एक बार संता ने बंता से एक सवाल कहा;

संताः यार बंता एक सवाल का जवाब दे!

बंता: पूछ!

संता: यार, आवारा लड़कों की किस्मत ज्यादा अच्छी होती है या गली के कुते की?

बंताः गली के कुते की!

संताः वो कैसे?

बंताः आवारा लड़के पीछे आते हैं तो लड़किया नजरें झुकाकर चलती हैं, और गली के कुते पीछे आते हैं तो बार-बार पीछे मुड़कर देखती हैं कि पीछा कर रहा है या नहीं!
----------
करा ली बेइज़्ज़ती!
संता ने बंता से पूछा, "तुम खाली पेट होने पर कितने केले खा सकते हो?"

बंता ने कुछ पल सोचकर कहा, "मैं 6 केले खा सकता हूँ।"

संता ने हँसते हुए जवाब दिया, "गलत जवाब दोस्त, पहला केला खा लेने के बाद तुम्हारा पेट खाली कहां रहेगा, इसलिए खाली पेट होने पर तुम केवल एक ही केला खा सकते हो।"

बंता झेंपते हुए घर पहुंचा और जाते ही प्रीतो से सवाल किया, "तुम खाली पेट होने पर कितने केले खा सकती हो?"

प्रीतो ने भी कुछ पल सोचकर कहा, "मैं 4 केले खा सकती हूँ।"

बंता ने निराश स्वर में कहा, "अगर 6 कहती तो एक मस्त चुटकुला सुनाता तुझे।"
----------
टूटी टांग का राज़!
एक बार बंता की टूटी हुई टांग देख कर संता, बंता से पूछता है;

संता: तुम्हारी टांग कैसे टूट गई?

बंता: क्या बताऊं यार, कल दारू कम पी थी ना इसलिए!

संता: क्या मतलब, दारू कम पीने से टांग कैसे टूट सकती है?

बंता: सीधी सी बात है, अगर मैंने छक कर पी होती तो मैं ठेके पर ही लुढक गया होता, अब चूंकि कम पी थी इसलिए घर की ओर चल पड़ा और रास्ते में एक गड्ढे में गिर गया!

----------
जान किसे प्यारी नहीं होती ?
एक बार पोल्ट्री के व्यापार में घाटा होने के बाद संता ने सभी मुर्गियों से कहा;

संता: "कल जिसने भी दो से कम अंडे दिए मैं उसे गोली से उड़ा दूंगा!

अगली सुबह संता जब वापस पोल्ट्री फॉर्म आया तो उसने देखा की सभी मुर्गियों ने दो-दो अंडे दिए हुए थे, बस एक ने मात्र एक अंडा दिया हुआ था!

यह देख संता ने कड़क आवाज़ में उस से पूछा, "तुमने सिर्फ एक अंडा क्यों दिया क्या तुम्हे याद नहीं मैंने क्या कहा था"?

जैसे ही संता की बात खत्म हुई सामने से जवाब आया," साहब यह एक अंडा भी मौत के डर से दिया है वर्ना मैं तो मुर्गा हूं!
----------


घोड़े का इलाज!
एक बार संता के घोड़े को कब्ज़ हो जाती है तो वह जानवरों के डॉक्टर के पास जाता है और उस से कहता है;

संता: डॉक्टर साहब मेरे घोड़े को बहुत ही बुरी तरह से कब्ज़ हो गयी है, जिस वजह से वह ठीक तरह से शौच भी नहीं जा पा रहा है!

संता की बात सुन कर डॉक्टर उसे एक गोली देता है और कहता है;

डॉक्टर: यह लो यह पेट साफ़ करने की गोली है, तुम इसे पशुओं को दवाई देने वाली नली में रख कर इसका एक सिरा घोड़े के मुंह में डाल देना और दूसरी तरफ से फूंक मार देना ताकि गोली घोड़े के पेट में चली जाए, और कुछ देर बाद ही तुम देखोगे की घोड़े के शौच एकदम सामान्य हो जायेंगे और उसका पेट भी बिल्कुल साफ़ हो जाएगा!

डॉक्टर की बात सुन संता दवा लेकर घर चला जाता है!

कुछ देर बाद जब डॉक्टर अपने चिकित्सालय में बैठा होता है तो संता बदहवास सा अपना पेट पकडे डॉक्टर के पास आता है जिसे देख कर डॉक्टर उस से पूछता है!

डॉक्टर: अरे संता क्या हुआ तुम्हारी तो हालत बड़ी ही खराब लग रही है?

संता : अरे डॉक्टर साहब क्या बताऊँ ये सब घोड़े को दवाई देने के चक्कर में हो गया!

संता की बात सुन डॉक्टर हैरान सा होकर पूछता है;

डॉक्टर : वो कैसे?

संता: अरे डॉक्टर साहब आपने घोड़े को दवाई देने का जो तरीका बताया था, मैंने बिल्कुल वैसा ही किया बस किस्मत ही खराब थी की मेरे से पहले घोड़े ने फूँक मार दी!

----------
संता की परेशानी!
एक दिन संता थका हारा डॉक्टर के पास आता है और डॉक्टर से कहता है, "डॉक्टर साहब मेरे पड़ोस में बहुत सारे कुत्ते है जो रात दिन भौंकते रहते हैं जिस कारण मैं एक घड़ी के लिए भी नहीं सो पाता।"

डॉक्टर: इसमें कोई चिंता की बात नहीं है मैं तुम्हें कुछ नींद की गोलियां दे देता हूँ वे इतनी असरदार है कि तुम्हें पता ही नहीं चलेगा कि तुम्हारे पड़ोस में कोई कुत्ता है भी या नहीं। ये दवाइयाँ तुम ले जाओ और अपनी परेशानी दूर करो।

कुछ हफ्ते बाद संता वापस डॉक्टर के पास आया और पहले से ज्यादा परेशान लग रहा था और डॉक्टर से कहने लगा: डॉक्टर साहब आपकी योजना ठीक नहीं थी अब तो मैं पहले से ज्यादा थक गया हूँ।

डॉक्टर: मैं नहीं जानता कि ये कैसे हो गया पर जो दवाईयां दी थी वे नींद आने की सबसे बढ़िया गोलियां थी चलो फिर भी आज मैं तुम्हें उससे भी ज्यादा असरदार गोलियां देता हूँ।

संता: क्या ये सचमुच असर करेंगी पर मैं सारी रात कुतों को पकड़ने में लगा रहता हूँ और मुश्किल से अगर एक-आध को पकड़ भी लूँ तो उसके मुहं में गोली डालना बहुत मुश्किल हो जाता है।
----------
संता की शानपट्टी!
संता बाज़ार में दरी बेचने वाली दुकान पर गया और साथ पप्पू को भी ले गया।

संता: मुझे एक बढ़िया दरी चाहिए।

दुकानदार: जी ज़रूर।

दुकानदार ने तरह-तरह की दरियां दिखाई।

अंत में संता को एक दरी पसंद आ गयी।

संता: मुझे यह वाली पसंद है, मैं इसे अभी अपने साथ ले जाता हूँ। यदि यह कमरे में ठीक-ठीक आ गयी तो रख लूंगा नहीं तो वापिस भेज दूंगा।

दुकानदार ने विश्वास कर लिया और बोला: अगर आपने वापिस करनी है तो कल शाम तक वापिस भेज दीजियेगा।

इतने में पप्पू बोला: कोई दिक्कत नहीं अंकल, हमारे यहाँ पार्टी तो आज रात को है।
----------
हम आराम कब करेंगे?
एक बार संता और बंता बगीचे में बैठे हुए होते हैं, कि तभी संता बंता से कहता है;

संता: यार आखिर जिंदगी में हम आराम कब करेंगे?

बंता: क्यों क्या हुआ?

संता: होना क्या है, जब दसवीं में थे तो पापा कहते थे बेटा बस इस साल मेहनत कर ले, फिर सारी जिंदगी आराम करना, फिर 11वीं में कहते थे, बेटा दो साल ठीक से पढ़ ले, फिर आराम से रहना, फिर इंजीनियरिंग में कहते थे, बेटा, बस डिग्री अच्छी तरह पूरी कर ले, फिर आराम रहेगा और अब डिग्री लेने के बाद कहते हैं, नालायक, यहां पड़ा-पड़ा आराम कर रहा है, काम पर कौन जाएगा!
----------


पत्नी की तलाश!
मार्केट में घूमते हुए संता एक खूबसूरत लड़की से टकरा गया तो वह उस से बोला;

संता: क्या मैं आपसे थोड़ी देर बात कर सकता हूं?

लड़की: पर मैं तो आपको जानती भी नहीं हूं!

संता: तो मैं कौन सा आपको जानता हूं, वो दरअसल बात यह है की मेरी बीवी जीतो कहीं खो गई है!

लड़की: तो इसमें मैं क्या कर सकती हूं?

संता: दरअसल, जब भी मैं किसी सुंदर लड़की से बात करता हूं तो वो पता नहीं कहां से आ जाती है!
----------
फ़ाइल ट्रांसफर!
संता एक बार कुछ फाइल्स एक पीसी से दूसरे को ट्रांसपर करना चाहता था संता ने उसकी प्रक्रिया कुछ इस प्रकार की

1. संता ने राईट क्लीक उस फ़ाइल पर किया जिसे वह ट्रांसफर करना चाहता था और कट ऑप्शन पर क्लीक किया!

2. उसके बाद उस पीसी से मॉउस को डिस्कोनेक्ट किया!

3. उस मॉउस को बड़ी सावधानी से उस पीसी के साथ जोड़ दिया जिस पर फ़ाइल को कॉपी करना चाहता था!

4. फिर से मॉउस पर राईट क्लीक किया और पेस्ट ऑप्शन पर क्लीक किया!
----------
आदत से मजबूर!
जीतो ने संता से नाराज़ होकर मौन व्रत रख लिया।

दो दिन बीत गए पर जीतो ने संता से कोई बातचीत नहीं की तो संता बहुत परेशान हो गया।

तीसरे दिन संता ने शाम को एक मोमबत्ती जलाई और कमरे में इधर-उधर कुछ ढूंढ़ने लग गया।

यह देख जीतो से रहा ना गया तो वो एक दम से संता पे चिल्लाने लगी,'क्या ढूंढ रहे हो? क्यों परेशान कर रहे हो इतनी देर से, लाइट होने के बावज़ूद भी मोमबत्ती लेकर घूम रहे हो, पागल हो गए हो क्या?

संता: कुछ नहीं बस तुम्हारी जीभ खो गयी थी न, वही ढूंढ रहा था पर लगता है तुम्हें वापिस मिल गयी है!
----------
जैसा काम वैसा नाम!
संता- भाभी का क्या नाम है?

बंता- गूगल कौर!

संता- अरे, यह कैसा नाम है ?

बंता- एक सवाल करो तो हज़ार जवाब देती है!

संता- बेटे का क्या नाम है ?

बंता- फेसबुक सिंह!

संता- ऐसा नाम क्यों रखा ?

बंता- कुछ कहो तो उसे पूरी सोसाइटी में फैला देता है!

संता- और बेटी का नाम ?

बंता- ट्विटर कौर, तुम पूछो उससे पहले ही बता देता हूँ, सारा दिन चहकती रहती है और पूरा मोहल्ला उसे फोल्लो करता है!
----------


निधन सन्देश!
एक बार जीतो एक अखबार के दफ्तर में अपने पति संता का निधन सन्देश अखबार में प्रकाशित करवाने जाती है और वहां जाकर अखबार के प्रकाशक से कहती है;

जीतो: भाई साहब मेरे पति का निधन हो गया है और मुझे उनके निधन का सन्देश अखबार में छपवाना है!

जीतो की बात सुन प्रकाशक जवाब देता है;

प्रकाशक: जी ठीक है परन्तु इसके लिए आपको 100 रूपए प्रति शब्द के हिसाब से हमें पैसे का भुगतान करना होगा!

प्रकाशक की बात सुन जीतो जवाब देती है;

जीतो: ठीक है तो आप बस इतना सन्देश छाप दीजियेगा की "संता मर गया"!

जीतो की बात सुन प्रकाशक कहता है;

प्रकाशक: मैं माफ़ी चाहूँगा मैडम पर ऐसे किसी भी सन्देश में कम से कम छः शब्द होने अनिवार्य हैं!

जीतो कुछ देर सोचती है और कहती है;

जीतो: ठीक है तो फिर यह प्रकाशित कर दीजियेगा कि "संता मर गया, स्कूटर बिकाऊ है"!

----------
छुपा हुआ कैमरा!
संता बड़ी देर से अपने कमरे में कुछ ढूंढ़ रहा था, परेशान होकर उसकी पत्नी जीतो बोली;

जीतो: तुम इतनी देर से क्या ढूंढ़ रहे हो?

संता: हिडन कैमरा!

जीतो: तुम्हें ऐसा क्यों लगा इस कमरे में हिडन कैमरा लगा है?

संता: अगर यहाँ हिडन कैमरा नहीं लगा होता तो टी.वी. में आ रहे इस आदमी को कैसे पता होता कि हम स्टार प्लस देख रहे हैं, बार-बार यह आप देख रहे हैं स्टार प्लस क्यों बोल रहा है?
----------
रामू की मेहनत!
संता एक बार बंता से मिलने उसके घर गया, वहां पर जब वह नाश्ता करने लगा तो उसने प्लेट में गंदगी लगी देखी तो बंता से पूछा;

संता: "यार बंता, ये प्लेटें सही ढंग से धुलती तो हैं न?"

बंता: "हां, बिल्कुल, रामू बड़ी मेहनत से और अच्छे से इन प्लेटों को साफ़ करता है!"

दोपहर के खाने के वक़्त संता ने फिर प्लेट में गन्दगी लगी देखी तो बंता से वही सवाल किया;

संता: "यार बंता, ये प्लेटें ढंग से धुलती तो हैं न?"

बंता: "हाँ मेरे दोस्त, रामू इन्हें बड़ी मेहनत से और अच्छे से साफ़ करता है!"

शाम को जब संता बाहर घूमने निकला तो दरवाजे पर बंधा बंता का पालतू कुत्ता भौंकने लगा, इस पर बंता ने कुत्ते को डपटते हुए कहा;

बंता: "चुप करो रामू, संताजी अपने घर के ही आदमी हैं!"

----------
हिम्मत है तो एक-एक करके आओ!
एक बार बंता, संता के घर जाता है तो उसे पट्टियों में लिपटे हुए पलंग पर पड़े देख कर चौंक जाता है और संता से कहता है;

बंता: ये क्या हाल बना रखा है?

संता: कुछ नहीं यार, कल 10 लोगो की भीड़ ने मुझे मिल के पिटा!

बंता: तो फिर तूने क्या किया?

संता: मैंने उनसे कहा कि अगर हिम्मत है तो एक-एक करके आओ फिर देखो मैं तुम्हारी क्या हालत करता हूँ!

बंता: फिर क्या हुआ?

संता: फिर क्या? फिर कमबख्तों ने एक-एक कर के पिटा!
----------


फायर ब्रिगेड किस काम की!
एक बार संता के घर में आग लग जाती है तो फायरब्रिगेड को फोन करता है, जहां बंता फोन उठाता है, बंता कि आवाज़ सुन संता कहता है;

संता: जल्दी आ जाओ मेरे घर आग लग गई है!

बंता: आग लग गयी है तो पानी डाला दो?

संता: डाला था, लेकिन फिर भी आग नहीं बुझी!

बंता: तो फिर हम आकर क्या करेंगे, हम भी तो पानी ही डालेंगे!
----------
लंबी ज़िन्दगी का नुस्खा!
एक बार संता डॉक्टर के पास जाता है और डॉक्टर से कहता है;

संता: डॉक्टर साहब, कोई ऐसा नुस्खा बताइए जिस से मैं लम्बा जीवन जी सकूं!

संता की बात सुन डॉक्टर उसे बड़े गौर से देखता है और पूछता है;

डॉक्टर: क्या तुम्हारी शादी हो गयी है?

संता : नहीं डॉक्टर साहब!

डॉक्टर: तो जाओ जाकर शादी कर लो!

संता: क्या बात कर रहे हो डॉक्टर साहब, शादी करने से भी कहीं लम्बी उम्र होती है?

डॉक्टर: नहीं, शादी कर लेने से लम्बा जीवन जीने की इच्छा खत्म हो जाती है!

----------
बहादुर संता!
एक बार संता और बंता दोनों मोटरसाइकिल पर जा रहे थे।
रास्ते में उनका एक्सीडेंट हो गया। दोनों को अस्प्ताल ले जाया गया।

डॉक्टर ने बंता की मरहम पट्टी की तो उसने बड़ी चीख़-पुकार मचाई।
सारा अस्प्ताल सिर पर उठा लिया।

जब संता की बारी आयी तो वो बड़े आराम से पट्टी बंधवाता रहा।

डॉक्टर बंता से: देखो यह कितना बहादुर इंसान है कितने आराम से पट्टी बंधवा ली।

इतने में संता बोला: नहीं डॉक्टर साहब, दरअसल इसकी चीखें सुनकर मैं इतना डर गया था
कि मैंने अपनी दूसरी टांग पर पट्टी बंधवा ली जो बिलकुल ठीक है!
----------
शराब पीना बुरी बात है!
एक बार वेटर संता और उसका साथी बंता आपस में बातें कर रहे होते है की तभी अचानक संता, बंता से कहता है;

संता: बंता तुझे पता है वो जो 11 नंबर कमरे वाले साहब हैं ना वो कल बुरी तरह ज़ख़्मी हो गए!

बंता: क्यों क्या हुआ?

संता: होना क्या था, रात को उन्होंने शराब पीकर स्वीमिंग पूल में छलांग लगा दी!

बंता: तो क्या पूल में पानी नहीं था?

संता: अरे यार पूल में पानी तो था पर जहां छलांग लगाई, वहां स्वीमिंग पूल नहीं था!

----------


संता की टिप!
एक बार संता फाइव स्टार होटल में खाना खाने जाता है, तो खाना खाने के बाद वेटर को 100 रुपए टिप में देता है, संता की दरियादिली देख कर वेटर संता से कहता है;

वेटर (खुशी से): सर, अगली बार आप जब भी आएंगे तो में आपके लिए वो कोने वाली सीट रिजर्व रख दूंगा!

वेटर की बात सुन संता जवाब देता है;

संता: नहीं, मैंने यह टिप तुम्हें इसीलिए दी है ताकि अगली बार जब भी मैं अपनी पत्नी के साथ यहां आऊं तो तुम कह देना कि कोई टेबल खाली नहीं है!
----------
सुखी जीवन!
संता: यार जरा तुम्हारे सुखी वैवाहिक जीवन का राज तो बताओ!

जब देखो तब तुम्हारे घर से तुम्हारी और तुम्हारे बीवी की हंसने की आवाजें आती रहती है!

बंता: अरे कैसी हंसी की आवाजें, जब देखो तब उसे गुस्सा आता है और जब उसे गुस्सा आता है तो वह सारे बर्तन फेंककर मुझे मारती है!

अगर निशाना सही लगा तो वो हंसती है और अगर निशाना गलत लगा तो मैं हँसता हूँ!
----------
हाथी की कब्र!
एक बार बंता को जोर-जोर से रोता हुआ देख संता ने उस से पूछा;

संता: तुम क्यों रो रहे हो?

बंता: मेरे पडोसी रामू का हाथी मर गया है!

संता: तो तुम क्यों रो रहे हो, क्या तुम उस हाथी से बहुत प्यार करते थे?

बंता: नहीं!

संता: तो फिर तुम क्यों रो रहे हो?

बंता: मुझे उसकी कब्र खोदने का काम मिला है!

----------
बीवी का मेकअप!
एक बार संता को उदास बैठा हुआ देख कर बंता ने उस से पूछा;

बंता: ओये संता क्या हुआ बड़ा उदास बैठा है?

संता: बस यार एक मुश्किल में पड़ गया हूँ समझ नहीं आ रहा कि क्या करूँ!

बंता: अरे ऐसी भी क्या बात हो गयी?

संता: कुछ नहीं यार बस इतनी सी परेशानी है कि अगर बीवी मेकअप करती है तो खर्चा बर्दाश्त नहीं होता और अगर मेकअप नहीं करती तो बीवी बर्दाश्त नहीं होती!
----------


संता को पुरस्कार!
पुलिसवाले ने संता की कार को रोका और संता से कहा;

पुलिसवाला: यह सुरक्षा सप्ताह है और क्योंकि आप सीट बेल्ट पहन कर कार चला रहे हैं, इसलिए आपको 5,000 रुपये का पुरस्कार दिया जाता है, आप इस पुरस्कार का क्या करोगे?

संता: मैं इस पुरस्कार से अपना ड्राईविंग लाइसेन्स बनवाऊंगा!

संता कि बात सुन पिछली सीट पर बैठी उसकी माँ बोली, इसकी बात का यकीन मत करना, ये शराब पीकर कुछ भी बोलता है!

अभी संता की माँ की बात ख़त्म भी नहीं हुई थी कि पिछली सीट पर बैठा हुआ संता का बाप बोला, "मुझे पता था कि चोरी की कार में हम ज्यादा दूर नहीं जा पाएंगे"!

तभी गाडी की डिक्की में से पप्पू की आवाज़ आई;

पप्पू:पापा हमने बार्डर पार कर लिया क्या?
----------
कुछ तमीज़ भी सीखो
एक दिन संता और बंता एक होटल में खाना खाने जाते हैं, और वेटर को एक प्लेट बटर चिकन लाने के लिए कहते हैं, जैसे ही वेटर बटर चिकन लेकर आता है, बंता झट से चिकन का बड़ा टुकड़ा उठा कर खाने लगता है!

यह देख संता को बहुत बुरा लगता है तो वह बंता से कहता है, "बंता खाने में तुम्हे थोडा धैर्य रखना चाहिए और खाने कि मेज़ पर थोड़ी तमीज से पेश आना चाहिए!"

यह सुन बंता, संता से पूछता है, " अच्छा अगर तुम्हे पहले चिकन उठाने का मौका मिलता तो तुम कौनसा टुकड़ा उठाते?"

संता जवाब देता है, " मैं निसंदेह ही छोटे वाला टुकड़ा उठता!"

यह सुन बंता तुरंत जवाब देता है, " जब तुम्हे छोटा टुकड़ा ही खाना था, तो अब तुम किस बात के लिए इतना तड़प रहे हो!"

----------
कार नई है या बीवी?
एक दिन संता और बंता पार्क के बाहर बैठे होते हैं, कि इतने में वहां पर एक कार आकर रूकती है जिसमे से एक आदमी उतरता है और साथ बैठी हुई अपनी पत्नी के लिए दरवाज़ा खोलता, उस आदमी को ऐसा करते हुए बंता, संता से कहता है;

बंता: यार लगता है यह आदमी अपनी बीवी से बेहद प्यार करता है?

संता: अरे यार ऐसा कुछ नहीं है!

संता का जवाब सुन बंता उस से हैरानी से पूछता है;

बंता: यार अगर ऐसा कुछ नहीं है तो उसने अपनी बीवी के लिए इतनी इज्ज़त से कार का दरवाज़ा क्यों खोला?

संता: यार देखो यदि आदमी अपनी बीवी के लिए खुद कार का दरवाजा खोले तो उससे दो बातें साफ हो जाती हैं!

बंता: कौन-सी दो बात ?

संता: या तो कार नई है या फिर बीवी!
----------
संता के मोटापे का राज़!
एक बार संता और उसकी पत्नी जीतो में बहस हो रही होती है तो जीतो संता से कहती है;

जीतो: तुम अपना पेट तो देखो ज़रा, कितने मोटे हो गए हो!

जीतो कि बात सुन संता जवाब देता है;

संता: तू भी तो मोटी होती जा रही है!

जीतो: मैं तो मां बनने वाली हूं इसीलिए मोटी हो रही हूँ!

संता: तो मैं भी तो बाप बनने वाला हूं!

----------


छुट्टी नहीं मिल सकती!
एक दिन बंता अपने बॉस से मिलने उसके ऑफिस में गया!

बंता: सर मैं अन्दर आ सकता हूँ!

बॉस: अरे बंता, आओ... आओ!

बंता: सर कल हमने अपने घर कि पूरी सफाई करनी है और मेरी बीवी प्रीतो को इस काम के लिए मेरी मदद चाहिए काफी सामान है जो उठाकर इधर उधर करना है इसलिए मुझे.....?

बॉस: बंता देखो हमारे पास पहले ही स्टाफ की कमी है नहीं... नहीं मैं तुम्हें छुट्टी नहीं दे सकता!

बंता: थैंक्यू सर थैंक्यू मुझे आप पर पूरा भरोसा था!
----------
पार्किंग केवल दोपहिया वाहनों के लिए है
संता एक बार अपने ऑटो से एक पहिया निकालने में जुटा हुआ था कि तभी बंता वहां आ जाता है और संता से सवाल करता है!

बंता: "अरें संता ये ऑटो का टायर क्यों निकाल रहे हो?"

यह सुन संता जवाब देता है, "तुम्हे दिखाई नहीं देता क्या वहां बोर्ड में क्‍या लिखा है? पार्किंग केवल दोपहिया वाहनों के लिए है!"

----------
ये बुढापे कि निशानी है!
एक बार संता और बंता बगीचे में बैठे बातें कर रहे थे कि तभी अचानक संता ने बंता से पूछा;

संता: तुम्हारी बीवी के दांतों का दर्द ठीक हुआ कि नहीं?

बंता: हां, डॉक्टर को दिखाते ही ठीक हो गया!

संता(हैरानी से): अच्छा, लगता है डॉक्टर बड़ा ही काबिल है जिस को एक बार दिखाने से ही सारा दर्द ठीक हो गया!

बंता: अरे काबिल वगैरह कुछ नहीं, बस उसने इतना कह दिया कि यह बुढ़ापे की निशानी है, बस फिर क्या था वो दिन है और आज का दिन, मेरी पत्नी ने दर्द की शिकायत ही नहीं की!
----------
संता की लॉटरी!
संता ने एक लॉटरी टिकट ख़रीदा और उसकी लॉटरी भी निकाल गयी!

वह लॉटरी का दावा करने के लिए लॉटरी टिकट लेकर अपने नम्बर की पुष्टि करने जाता है!

संता वहां बैठे आदमी से कहता है कि मैंने लॉटरी के 10 लाख रूपए जीते है और वे मुझे अभी चाहिए!

वहां बैठा आदमी संता से कहता है कि सर हम इस तरह लॉटरी का पूरा पैसा एक ही बार में आपको नही दे सकते, हम आपको अभी एक लाख देंगे और बाकि के नौ लाख अगले नौ साल में देंगे!

संता ने कहा अरे ऐसा नही होता मैंने लॉटरी जीती है और मुझे सारा पैसा अभी के अभी चाहिए!

वह आदमी फिर से कहने लगा देखिये सर हम अभी आपको केवल एक लाख ही दे सकते हैं, बाकि की राशि अगले नौ सालों में ही देंगे!

संता ने बहुत ही गुस्से में उस आदमी से कहा देखो मुझे मेरा पैसा चाहिए, अगर तुम मुझे 10 लाख अभी नही दे सकते हो तो मेरा वह 100 रूपया वापिस कर दो जिससे मैंने लॉटरी का टिकट ख़रीदा था!
----------


गलती करना आदत न बन जाए!
संता अपनी तनख्वाह का चेक लेकर अपने बॉस के पास गया और बोला;

संता: मेरे वेतन में से दो सौ रुपये कम हैं!

बॉस: पिछले महीने जब मैंने तुम्हें दो सौ रुपये ज्यादा का चेक दिया था, तब तो तुमने कोई शिकायत नहीं की थी?

संता: जी वह आपकी पहली गलती थी, इसलिए मैंने ध्यान नहीं दिया, लेकिन अगर गलती करना आप अपनी आदत बना लेंगे तो मुझे कहना ही पड़ेगा ना!

----------
यह दोस्ती
एक रात प्रीतो, घर वापस नहीं आती! अगली सुबह जब वह घर पहुँचती है तो बंता उससे पूछता है कि वह सारी रात कहाँ थी? तो प्रीतो जवाब देती है कि वह अपनी सहेली के घर पर थी!

यह सुन बंता प्रीतो की दस सहेलियों के घर फ़ोन करता है, तो सभी जवाब देती हैं कि रात को प्रीतो उनके घर पर नहीं थी!

कुछ ही दिन बाद एक रात बंता घर वापस नहीं आता!

अगली सुबह जब वह घर वापस पहुँचता है तो प्रीतो उससे सारी रात घर ना आने का कारण पूछती है तो बंता जवाब देता है कि वह अपने दोस्त के घर था!

यह सुन जब प्रीतो बंता के सभी दोस्तों को फ़ोन लगाती है, तो 10 में से 8 दोस्त कहते हैं कि बंता उनके साथ उनके घर पर था, और 2 दोस्त कहते हैं कि बंता अभी भी उनके घर पर है!

----------
संता की पासबुक!
एक दिन संता बहुत परेशान बैठा हुआ था, तो उसे परेशान देख कर उसकी पत्नी जीतो उस से पूछती है;

जीतो: सुनो जी क्या बात है, बहुत परेशान लग रहे हो?

संता: मैंने अभी एक ऐसी बुक पढ़ी है जिसे पढने के बाद मेरा दिल बैठा जा रहा है!

जीतो: ऐसी कौन सी बुक पढ़ ली तुमने?

संता: मेरे बैंक की पासबुक!

----------
हॉट कॉफ़ी या कोल्ड कॉफ़ी!
एक बार संता अपनी पत्नी जीतो के साथ कॉफी पीने जाता है और दो हॉट कॉफी ऑर्डर करता है, कुछ देर बाद जैसे ही वेटर कॉफी लेकर आता है तो संता, जीतो से कहता है;

संता: ओ जीतो जल्दी-जल्दी कॉफी पी ले अगर ठण्डी हो गई तो फ़ालतू में ज्यादा पैसे देने पड़ेंगे!

जीतो: क्यों क्या हुआ? मुंह जलवाने से तो अच्छा है कि, यह थोड़ी ठंडी हो जाए उसके बाद पिएं!

संता: पागल तूने इनकी रेट लिस्ट नहीं देखी, हॉट कॉफी 15 रुपए और कोल्ड कॉफ़ी 45 रुपए की है!
----------



महिलाओं की फिजूलखर्ची!
एक बार जीतो और प्रीतो चांदनी चौक में घूम रही होती है कि, तभी उनकी नज़र एक महिला पर पड़ती है जो कि अपने पति को खिड़की से धक्का दे देती है जिस से पति नीचे रखे कूड़ेदान में जा गिरता है, यह देख जीतो, प्रीतो से कहती है;

जीतो: यह दिल्ली कि महिलाएं बहुत फिजूलखर्च होती हैं!

जीतो कि बात सुन प्रीतो हैरानी से पूछती है;

प्रीतो: वह कैसे!

जीतो: अब देखो ना यह आदमी अभी और चार-पांच साल इसके काम आ सकता था, फिर भी इससे कूड़े में फ़ेंक दिया!

----------
जिन्न भी हर काम नहीं कर सकता!
एक बार संता को रास्ते में एक चिराग मिला तो उसने सोचा कि, "क्यों ना चिराग रगड़ कर देखूं शायद इसमें से कोई जिन्न ही निकल आये"।

यह सोच कर संता ने चिराग रगडा, तो उसमे से धुंए के साथ एक जिन्न निकल कर आया और संता से बोला।

जिन्न: क्या हुकुम है मेरे आका?

संता: मेरे बैंक खाते में 100 करोड़ रूपए जमा करा दो।

जिन्न: यह तो थोडा मुश्किल काम है आका कोई और हुकुम करें।

संता: तो ठीक है मेरे घर से लेकर अमेरिका तक सीधी सड़क बना दो।

जिन्न: आका यह काम भी थोडा नामुमकिन सा है कोई और आदेश करें?

जिन्न की बात सुन कर संता ने ठंडी सी आह भरते हुए कहा, "अच्छा चलो कम से कम मेरी बीवी को थोड़ी सी अक्ल देकर समझदार तो बना दो"।

संता की बात सुन कर जिन्न तपाक से बोला, "आका सड़क सिंगल लेन बनानी है या डबल लेन"?
----------
जीवन कभी रुकता नहीं
एक बार संता की पत्नी उसकी कार और घर के सारे पैसे लेकर उसके दोस्त बंता के साथ भाग जाती है, जिसके बाद संता मानसिक अवसाद से पीड़ित हो चिकित्सक के पास जाता है, जो कि उसे मनोचिकित्सक के पास भेज देता है!

मनोचिकित्सक के पास जा कर संता उसे अपनी सारी परेशानी बताने के बाद कहता है की, "वह अब जीना नहीं चाहता क्योंकि जीवन अब उसे व्यर्थ लगता है!"

यह सुन मनोचिकित्सक ने कहा, "इतनी जल्दी हिम्मत मत हारो और पूर्ण रूप से अपने काम में डूब जाओ, क्योंकि अब तुम्हारा कर्म ही तुम्हारी पूजा है!"

आगे मनोचिकित्सक संता से पूछता है, "वैसे तुम काम क्या करते हो?"

संता ने जवाब दिया, "जी मैं गटर साफ़ करता हूँ!"
----------
बिल्ली की जिद!
संता के घर एक बिल्ली रहती थी जिससे वह बहुत परेशान था, एक दिन संता उस से तंग आकर उसे जंगल में छोड़ आता है, परन्तु संता के घर पहुंचने से पहले वह बिल्ली घर लौट आती है!

यह देख संता दुबारा उस बिल्ली को और दूर जंगल में छोड़ आता है, पर फिर वैसा ही होता है और वह बिल्ली फिर वापस घर पहुँच जाती है यह देख संता को बहुत गुस्सा आता है, तो वह इस बार बिल्ली को अपनी गाडी में डाल कर और घने जंगल में ले जा कर छोड़ देता है, और कुछ देर बाद अपनी पत्नी को फ़ोन करता है और पूछता है;

संता: क्या बिल्ली घर आ गई है?

जीतो: हां, वह फिर पहुंच गई है!

संता: ठीक है तो उसे कहो मुझे आकर ले जाए, मैं रास्ता भूल गया हूं!
----------


संता और बंता का बिजनेस!
संता और बंता कोई बिजनेस शुरू करने कि सोच रहे थे बहुत चर्चा के बाद उन्होंने ये फैसला किया कि होटल का बिजनेस शुरू करते है!

उन्होंने होटल चलाने के लिए पहले एक अच्छी सी जगह देखी और फिर स्टाफ और अन्य सामग्री जो होटल के लिए आवश्यक होती है सब का प्रबंध किया फिर होटल का उदघाटन किया और काम शुरू कर दिया वो ग्राहकों का इन्तजार करने लगे एक दिन दो दिन... लगातार ऐसे ही 7 दिन बीत गए पर उनके पास कोई ग्राहक नहीं आया... जानते है क्यों?

क्योंकि होटल के प्रवेशद्वार पर लिखा था 'आगंतुकों का' आना मना है (विजिटर्स नॉट अलाउड)!

होटल का बिजनेस असफल होने के बाद उन्होंने फिर नया बिजनेस शुरू किया ऑटो गैराज का!

उन्होंने गैराज को बहुत बढ़िया सजाया, गाड़ियों के स्पेयर पार्ट और दूसरे यंत्र एकत्रित कर, उन्होंने जल्दी ही गैराज का काम शुरू कर दिया वो चाहते थे कि उनके गैराज के बाहर बहुत सी गाड़ियाँ आये पर लगातार 7 दिन तक उनके गैराज में एक भी गाड़ी नहीं आयी... जानते है क्यों?

क्योंकि उनका गैराज बिल्डिंग की पहली मंजिल पर था!
----------