jokes on school & study

बहुत दर्द होता है जब टीचर कहती है कि तुम्हारा और तुम्हारे आगे वाले का जवाब एक जैसा है।
तो दिल से एक ही आवाज़ आती है, "साला सवाल भी तो एक जैसा ही था।"
----------
किसी हँसते - खेलते इंसान की खुशियाँ उजाड़नी हो तो बस इतना कह दो,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"रिजल्ट आ गया तेरा।"
----------
वो मुड़ मुड़ के देख रहे थे हमें,
हम मुड़ मुड़ के देख रहे थे उन्हें,
वो हमें, हम उन्हें,
हम उन्हें, वो हमें,
क्योंकि परीक्षा में...
न उन्हें कुछ आता था, न हमें।
----------
बोर्ड परीक्षा के छात्र बढियां अंक लाने के लिए दो काम कर सकते हैं:
1. दही-चीनी खाकर घर से निकलें
2. या 'Lux Cozi' अपना लक, पहन के चलें
----------
परीक्षा में बैठे दुखी छात्र की शायरी:
प्यासी निगाहों से जलता रहा मेरी चाहत का दिया;
कुछ तो बता दे मेरे यार, मैंने अभी शुरू भी नहीं किया।
----------
समंदर जितना सिलेबस है;
नदी जितना पढ़ पाते हैं;
बाल्टी जितना याद होता है;
गिलास भर लिख पाते हैं;
चुल्लू भर नंबर आते हैं;
उसी में डूब कर मर जाते हैं।
----------
सबसे ज्यादा नशा किस में होता है?
शराब - नहीं
प्यार - नहीं
पैसा - नहीं
सबसे ज्यादा नशा होता है "किताब" में,
खोलते ही नींद आ जाती है।
----------
वो मुड़-मुड़ के देख रहे थे हमें;
हम मुड़-मुड़ के देख रहे थे उन्हें;
वो हमें, हम उन्हें, हम उन्हें, वो हमें;
क्योंकि परीक्षा में न उन्हें कुछ आता था, न हमें!
----------
अगर कोई लड़का परीक्षा में फेल हो जाये तो माँ तीन शब्द कहती है, "और जा घूमने"।
गर्लफ्रेंड भी तीन शब्द कहती है, "शर्म नहीं आती"।
और दोस्त भी तीन शब्द ही कहते हैं लेकिन दिल जीत लेते हैं,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"अबे तू भी"।
----------
अगर आप स्कूल की मीठी यादों में खोये हैं;
कॉलेज की हसीन यादों को संजोये हैं;
क्लास में दोस्तों के साथ की मस्ती को यादों में परोये हो;
तो...
.
.
.
.
.
.
.
.
मार्क-शीट निकाल कर देखो, सारा नशा उतर जायेगा।
----------
एक विद्यार्थी की दर्द भरी शायरी:
स्टूडेंट्स के दर्द को यह स्कूल वाले क्या जाने;
क्लास के रिवाज़ों से सब माँ-बाप हैं अनजाने;
होती है कितनी तकलीफ एक पेपर लिखने में;
ये दर्द वो पेपर चेक करने वाला क्या जाने।
----------
रात को किताब मेरी मुझे देखती रही;
नींद मुझे अपनी तरफ घसीटती रही;
नींद का झोंका मेरा मन मोह गया;
और एक रात फिर ये GENIUS बिना पढ़े सो गया।
----------
भगवान का दिया हुआ सब कुछ है,
किताबें हैं, नोट्स हैं, समय है,
और हौंसला तो इतना कि जब चाहूँ पढ़ कर टॉप कर लूँ, मगर...
.
.
.
.
.
.
ये साला मूड ही नहीं बन रहा।
----------
लिखो तो EXAM में कुछ ऐसा लिखो;
कि PEN भी रोने को मज़बूर हो जाये;
हर ANSWER में भर दो दर्द इतना;
कि चेक करने वाला भी DISPRIN खा कर सो जाये।
----------
अगर प्यार साथ हो तो तन्हाई नहीं होती;
सच्चे प्यार में कभी बेवफाई नहीं होती;
पर अगर एक बार हो जाये प्यार;
.
.
.
.
.
.
फिर कितनी भी रख लो टयूशन फिर पढाई नहीं होती।
----------
परीक्षा के बाद बच्चे और ऑपरेशन के बाद डॉक्टर एक ही चीज़ कहते हैं,
.
.
.
.
.
.
.
"कुछ कह नहीं सकते, बस दुआ करें"।
---------- / डॉक्टर
अगर हम एक बार जीते हैं;
एक ही बार मरते हैं;
प्यार भी एक बार करते हैं;
शादी भी एक बार करते हैं'
तो फिर ये...
.
.
.
.
.
.
एग्जाम बार-बार क्यों होते हैं।
----------
काश कोई एग्जाम रिजल्ट का इंश्योरेंस करवा देते;
तो हर एग्जाम से पहले प्रीमियम भरवा देते;
अगर पास होते तो ठीक;
वरना इंश्योरेंस का भी क्लेम करवा लेते।
----------
हर सवाल से डट कर लड़ना;
फैंकने में कमी मत करना;
मौक़ा मिले तो पीछे भी देखना;
और एक बात याद रखना;
आगे वाले का पेपर भी अपने ही समझना।
----------
अर्ज़ किया है:
ये परीक्षा से रिश्ता भी अजीब होता है;
सब अपना-अपना नसीब होता है;
रह जाता है निगाहों से जो दूर;
साला वही सवाल पेपर में ज़रूर होता है।
----------
किसी की धड़कन तेज़ करने के लिए प्यार की ज़रुरत नहीं, बस इतना ही कह दो कि
.
.
.
.
.
.
.
.
.
भाई तेरा रिजल्ट आ गया है। चेक कर ले!
----------
अध्यापक (क्लास मे पढाते हुए): बच्चो आयकर, बिक्रीकर, भूमिकर से मिलता झुलता कोइ और शब्द बताओ?
विद्यार्थी: सर, एक नही तीन शब्द सुने, सुनील गावासकर, सचिन तेंदुलकर और दिलीप वेंगसरकर।
---------- / खेल-कूद
अध्यापक: बाबर भारत में कब आया?
विद्यार्थी: पता नही सर।
अध्यापक: बोर्ड पर नहीं देख सकते, नाम के साथ ही लिखा है।
विद्यार्थी: मैने सोचा, शायद वह उसका फ़ोन नम्बर है।
----------
सबसे ज्यादा नशा किस में होता है?
शराब में? नहीं;
प्यार में? नहीं;
पैसे में? नहीं;
सबसे ज्यादा नशा तो
.
..
...
किताब में होता है, साला किताब खोलते ही नींद आ जाती है।
---------- / नटखट
हर सवाल से डट कर लड़ना;
फेंकने में कमी मत करना;
मौका मिला तो पीछे भी देखना;
और एक बात याद रखना, 'आगे वाले के पेपर को अपना ही समझना'।
----------
अध्यापक: नेता जी, आपका बेटा फेल हो गया है और आप लड्डू खिला रहे हो?
नेता जी: 70 लड़कों की क्लास में 60 फेल हैं, बहुमत तो मेरे बेटे के साथ है।
----------
अध्यापक विद्यार्थियों से: जो दूसरों को अपनी बात ना समझा सके वो गधा होता है।
विद्यार्थी: सर, क्या मतलब? मैं कुछ समझा नहीं।
----------
कह दो उन पढ़ने वालों से;
कभी हम भी पढ़ा करते थे;
जितना सिलेबस पढ़ कर वो टॉप करते हैं;
उतना तो हम Choice पर छोड़ दिया करते थे।
----------
टीचर स्टूडेंट्स से: वो तीन वर्ड्स(Words) बताओ जो सबसे ज्यादा बोले जाते हैं?
स्टूडेंट: मुझे नहीं पता।
टीचर: शाबाश! बेटा बैठ जाओ।
----------
टीचर: आपको शाहरुख़ खान की फ़िल्म 'रब ने बना दी जोड़ी' से क्या सबक मिलता है?
स्टूडेंट: यही, कि उम्मीद मत हारो, शादी के बाद भी लड़की पट सकती है।
----------
हमने इसीलिए महफ़िलों में जाना छोड़ दिया दोस्त;
कि कोई पूछ ना ले
.
..
...
कोई पूछ ना ले कि बेटा पेपर की तैयारी कैसी है।
----------
दिन में चैन नहीं, रात में नींद नहीं;
जी ना लगे कहीं, ऐ खुदा क्या यही प्यार है?
खुदा: नहीं बेटा, सभी Exam वालों का यही हाल है।
----------
पेपर की रोटी, टेंशन का अचार;
लैंप की किरण, सवालों की बहार;
पेपर leak की चांदी, सीनियर्स का प्यार;
मुबारक हो आपको Exam का त्यौहार।
----------
एक विद्यार्थी दुसरे से: आज कुछ खतरनाक काम करने का मन कर रहा है।
दूसरा विद्यार्थी: तो फिर चलो थोड़ी पढ़ाई करते हैं।
----------
रात को किताब मेरी मुझे देखती रही;
नींद मुझे अपनी ओर खींचती रही;
नींद का झोंका मेरा मन मोह गया;
और एक रात फिर यह जीनियस(Genius) बिना पढ़े सो गया।
----------
हर तरफ पढ़ाई का साया है;
हर पेपर में जीरो आया है;
हम तो यूँ ही चले जाते हैं बिना मुँह धोए परीक्षा देने;
और लोग कहते हैं साला रात भर पढ़ के आया है।
----------
किसी ने सच ही कहा है:
जो आँखों से हमेशा रहते हैं दूर;
वाह-वाह!
जो आँखों से हमेशा रहते हैं दूर;
वो प्रशन Exam में आते हैं ज़रूर।
----------
कोई किताब ऐसी मिलती जिस पर दिल लुटा देते;
हर विषय ने दिमाग खाया, किसी एक को निपटा देते;
अब सिलेबस देख कर सोचते हैं कि 1 महीना और होता तो दुनियां हिला देते।
----------
हम जीते एक बार हैं
मरते एक बार हैं;
प्यार भी एक बार करते हैं;
शादी भी एक बार ही करते हैं;
तो फिर ये EXAMS बार-बार क्यों?
जागो स्टूडेंट्स(Students) जागो!
----------
जोर का झटका हाय जोरों से लगा;
पढ़ाई बन गई उम्र कैद की सज़ा;
ये है उदासी जान की प्यासी;
EXAM से अच्छा तुम दे दो फांसी।
----------
चेन्नई स्टूडेंट: पेपर बहुत आसान था।
बैंगलोर स्टूडेंट: पेपर ठीक था।
दिल्ली स्टूडेंट: पेपर मुश्किल था।
पंजाबी स्टूडेन्ट: ओये पेपर दी छड्ड, मैडम पूरी अग्ग सी!
----------
उसको पाने के लिए मैं भगवान से भी लड़ जाता,
.
..
पर फिर मैंने सोचा कि "इम्तिहान का समय है, भगवान से पंगा ठीक नहीं!"
---------- / गुदगुदी
टीचर: रजनीकांत की फ़िल्म 'रोबोट' से क्या सीखने को मिलता है?
छात्र: यही कि लड़की सिर्फ इंसान का ही नहीं, मशीन का भी दिमाग खराब कर सकती है!
---------- / रजनीकांत  
अगर इम्तिहान में पेपर कठिन हो तो आँखें बंद करो;
गहराई से सांस लो और ज़ोर से कहो: "ये विषय बहुत मज़ेदार है इसे अगले साल फिर से पढ़ेंगे।"
----------
अर्ज़ है, "स्वर्ग सबको चाहिए पर मरना कोई नहीं चाहता;
वाह! वाह
"स्वर्ग सबको चाहिए पर मरना कोई नहीं चाहता;
टॉप (TOP) सबको करना है पर पढ़ना कोई नहीं चाहता।
पढ़ो यारों।
----------
पढ़ाई सिर्फ दो वजह से होती है?
एक शौक से;
और
दूसरा खौफ़ से।
फालतू के शौक हम रखते नहीं;
और
खौफ़ तो हमें किसी के बाप का भी नहीं।
----------
कोई चीज़ बे-वाफाई से बढ़कर क्या होगी;
गम-ए तन्हाई जुदाई से बढ़कर क्या होगी;
किसी को देनी हो जवानी में सजा;
तो वो सजा 'पढ़ाई' से बढ़कर क्या होगी।
----------
मौत और मोहब्बत तो बस नाम से बदनाम है;
वर्ना;
तकलीफ़ तो सबसे ज्यादा पढ़ाई ही देती है।
----------
33 मार्क्स की कीमत तुम क्या जानो लेक्चरर बाबू;
बोर्ड का आशीर्वाद होता है 33 मार्क्स;
विद्यार्थियों के सिर का ताज होता है 33 मार्क्स;
फेलियर का ख्वाब होता है 33 मार्क्स।
----------
जब question पेपर हो आउट ऑफ़ कंट्रोल;
आंसर शीट को करके फोल्ड;
एयरोप्लेन बना के बोल;
भैया "आल इज़ फेल।"
----------
जो लोग उठाते हैं हाथों में इश्क का झंडा;
वही अक्सर पाते हैं एग्जाम में 'अंडा'।
----------
जो मिल गया उसे मुक़द्दर समझो;
खुद को वक़्त का सिकंदर समझो;
क्यों डरते हो यारों रिजल्ट से?
रिजल्ट आने तक खुद को यूनिवर्सिटी-टॉपर समझो!
----------
समंदर भर सिलेबस होता है;
नदी भर पढ़ पाते हैं;
बाल्टी भर याद रहता है;
चुल्लू भर नंबर आते हैं;
जिसमें हम डूब जाते हैं।
----------
परीक्षा विशेष शायरी:
प्यासी निगाहों से जलता रहा मेरी चाहत का दियां;
कुछ तो important बता दे मेरे यार, मैंने अभी शुरू भी नहीं किया।
----------
रात को किताबें मुझे देखती रहीं;
नींद मुझे अपनी ओर खींचती रही;
नींद का झोका मेरा मन मोह गया;
और एक रात फिर ये पढ़ाकू बिना पढ़े ही सो गया।
----------
हर तरफ पढ़ाई का साया है;
हर पेपर में जीरो आया है;
हम तो यूहीं चले जाते हैं बिना मुंह धोये ही;
और लोग कहते हैं, 'साला रात भर पढ़कर आया है।'
----------
हर युग में ऐसा होता है;
हर स्टूडेंट इश्क में खोता है;
पढ़ाई रह जाती है सिर्फ दिखावे की;
और फिर हाल-ए-दिल, मार्कशीट पर बयाँ होता है।
----------
सबसे ज्यादा नशा किस्में होता है?
शराब में?
नहीं;
प्यार में?
नहीं;
पैसे में?
नहीं;
'सबसे ज्यादा नशा किताब में होता है, खोलते ही नींद आ जाती है।'
----------
वो आये हम देखते रहे;
वो मुस्कुराये हम चुप रहे;
वो कहते रहे हमने सुना नहीं;
जब वो चले गए हम चिल्लाये;
"सर Attendence (उपस्थिति)।"
----------
आपने कभी सोचा है सबसे ज्यादा नशा किस चीज़ में होता है?
नहीं पता?
मैं बताता हूँ।
किताबों में, खोलते ही सिर घूमने लगता है और नींद आने लगती है।
----------
लेक्चर में मस्ती थी;
हमारी भी कुछ हस्ती थी;
टीचर का सहारा था दिल ये आवारा था;
कहाँ आ गए इस डिग्री की आफ़त में यार;
वो स्कूल ही कितना प्यारा था।
----------
रात को किताबें मेरी मुझे देखती रही;
नींद मुझे अपनी और खींचती रही;
नींद का झोका मेरा मन मोह गया;
और एक रात फिर ये जीनियस बिना पढ़े ही सो गया।
----------
बचपन से मैं सुन रहा हूँ कि "बच्चे भगवान का रूप होते हैं।"
अगर हाँ तो उनके लिए इतने कम मंदिर हैं जबकि स्कूल ज्यादा क्यों?
----------
सोचिये की भौतिकी (Physics) आसान कैसे हो सकती थी;
अगर;
अगर ;
अगर;
सेब की जगह पेड़ गिरा होता और न्यूटन वहीँ निपट गया होता।
----------
अगर एक अकेला टीचर सारे विषय (subject) नहीं पढ़ा सकता तो;
ऐसी उम्मीद क्यों करते हैं कि एक विद्यार्थी सारे विषय (subject) पढ़े।
"जागो बच्चों जागो"
----------
बहुत दर्द होता है जब अध्यापिका बोलती है कि तुम्हारा और तुम्हारे आगे वाले का जवाब एक है।
तब दिल से आवाज आती है, "तो साला सवाल भी तो एक ही था"।
----------
निगाहें आज भी उस शख्स को शिद्दत से तलाश करती हैं;
जिसने कहा था, "बस दसवी कर लो, आगे पढ़ाई आसान है"।
----------
आप सभी को यह सूचित किया जाता है कि घर में रखे सारे जूते, चप्पल, बेल्ट, झाड़ू और बेलन को छुपा दें।
क्योंकि
.
. .
. . .
रिजल्ट आने वाला है।
----------
निकले जो दुनिया की भीड़ में, तो ग़ालिब यह जाना है;
हर वो शख्स उदास है जिसके बच्चे को सोमवार से स्कूल जाना है।
----------
एग्जाम के पावन मौके पर अर्ज़ है:
पढ़ना लिखना त्याग दे मित्रा;
नकल से रख आस;
ओढ़ रजाई सो जा बेटा;
रब करेगा पास।
पर्ची वाले बाबा की जय!
----------
ना वक्त इतना हैं कि सिलेबस पूरा हो;
ना चिराग का जिन है जो परीक्षा सफल कराये;
ना जाने कौन सा दर्द दिया है इस पढ़ाई ने;
ना रोया जाय और ना सोया जाए।
----------
पप्पू आईने के सामने पढ़ाई करना पसंद करता है क्योंकि:
1. दोहराने का समय बचता है।
2. संयुक्त पढ़ाई होती है।
3. एक दूसरे के संदेह साफ़ हो जाते हैं।
4. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रतियोगिता का महौल बना रहता है।
----------
हम जीते एक बार हैं;
और मरते एक बार हैं;
प्यार भी एक बार करते हैं;
और शादी भी एक बार करते हैं;
तो फिर ये एग्जाम बार बार क्यों आते हैं।
.
. .
"जागो बच्चों जागो।"
----------
लिखो तो एग्जाम में कुछ ऐसा लिखो;
कि पेन भी रोने पर मजबूर हो जाये;
हर उत्तर में वो दर्द भर दो;
कि चेक करने वाला 'डिस्प्रिन' खा के सो जाये।
----------
जोर का झटका हाय जोरों से लगा;
पढ़ाई बन गई उम्र कैद की सजा;
ये है उदासी जान की प्यासी;
एग्जाम से अच्छा तुम दे दो फांसी।
----------
माँ ने अपने बच्चे से पूछा, "तुम सारा साल क्यों नहीं पढ़ते, सिर्फ इम्तिहानों के दिनों में ही क्यों पढ़ते हो?"
बच्चा: माँ, लहरों का सकून तो सभी को पसंद है। लेकिन तूफानों में कश्ती निकालने का मज़ा ही कुछ और है।
----------
अगर प्रशन पेपर मुश्किल लगे, या समझ में ना आये तो एक गहरी सांस लो और जोर से चिल्लाओ,
"कमीनों, फेल ही करना है तो
.
. .
. . .
इम्तेहान क्यों लेते हो?"
----------
कह दो पढ़ने वालों से कभी हम भी पढ़ा करते थे;
जितने पाठ पढ़कर वो टॉप किया करते हैं;
उतने पाठ तो हम छोड़ दिया करते थे।
----------
ले गए आप इस स्कूल को उस मुकाम पर,
गर्व से उठते है हमारे सर,
हम रहे न रहे अब कल,
याद आयेंगे आप के साथ बिताये हुए पल,
टीचर... आपकी ज़रूरत रहेगी हमें हर पल!
----------
गल्तियाँ करो - खूब करो;
सौ बार नहीं, हज़ार बार करो!
बस इतना ध्यान रखो, कि एक गलती दोबारा मत करो;
वो है, 'स्कूल' जाने की!
-----------