Izhaar shayari

Khamosh Raahon Mein Tera Saath Chahiye;
Tanhayi Hai Mere Hath Mein Tera Haath Chahiye;
Mujhko Mere Muqaddar Par Itna Yaqeen Toh Hai;
Tujhko Bhi Mere Lafz, Meri Baat Chahiye!
----------
Udasi Jab Tum Par Beetegi Toh, Tum Bhi Jaan Jaoge Sanam;
Koi Nazar Andaz Karta Hai Toh Kitna Dard Hota Hai!
----------
Ajab Shikwa Sa Rehta Hai, Tumhein Mujh Se Mujhe Tum Se;
Tumhein Ulfat Nahi Mujh Se, Mujhe Nafrat Nahi Tum Se!
----------
Har Sapna Khushi Pane Se Pura Nahi Hota;
Koi Kisi Ke Bina Adhura Nahi Hota;
Jo Chaand Roshan Karta Hai Raat Bhar Sab Ko;
Har Raat Wo Bhi Toh Pura Nahi Hota!
----------
Usoolon Pe Aanch Aaye Toh Takrana Zaroori Hai;
Aur Zinda Ho Toh Zinda Nazar Aana Zaroori Hai!
~ Navjot Singh Sidhu
----------
Dil Na Ummeed To Nahi, Na-Kaam Hi To Hai;
Lambi Hai Gham Ki Shaam, Magar Shaam Hi To Hai!
----------
Haan Main Tumhein Bhula Na Saka;
Kabhi Dil Ne Izazat Hi Na Di!
----------
Mere Lafzon Se Nikal Jaye Assar;
Koi Khawhish Jo Tere Baad Karoon!
----------
Mushkil Raahon Mein Bhi Aasan Safar Lagta Hai;
Shayad Yeh Meri Maa Ki Duaon Ka Asar Lagta Hai!
----------
Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Munh Par Raunaq;
Woh Samajhte Hain Ki Beemaar Ka Haal Achha Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Kuch Toh Rahi Hongi Inki Bhi Mazbooriyan;
Yun Chah Ke Koi Bewafa Nahi Hota!
----------
Haadson Ke Shehar Mein Haadson Se Darta Hai;
Mitti Ka Khilona Hai Fanaa Hone Se Darta Hai;
Mere Dil Ke Kone Mein Masoom Sa Bachha;
Bado Ki Dekh Ke Ye Duniya, Bada Hone Se Darta Hai!
~ Navjot Singh Sidhu
----------
Sham Ka Parda Sarak Geya, Ab Shab Se Rubaru Ho Ja;
Kuch Apne Fasane Kehta Chal, Kuch Mere Tarane Sunta Ja!
----------
Barbaad Kar Gaye Wo Zindagi Pyaar Ke Naam Se;
Bewafai Hi Mili Sirf Wafa Ke Naam Se;
Zakham Hi Zakham Diye Uss Ne Dawa Ke Naam Se;
Aasman Bhi Ro Pada Meri Mohabbat Ke Anjam Se!
----------
Aafat To Hai Woh Naaz Bhi Andaz Bhi Lekin;
Marta Hun Main Jis Par Woh Ada Aur Hi Kuch Hai!
~ Ameer Minai
----------
Kabhi Yeh Dua Ki Usse Mile Jahaan Ki Khushiyan;
Kabhi Ye Khauf Ki Wo Khush Mere Bagair Toh Nahi!
----------
Wohi Wehshat, Wohi Hairat, Wohi Tanhai Hai 'Mohsin';
Teri Aankhein Mere Khwabon Se Kitni Milti Julti Hain!
~ Mohsin Naqvi
----------
Dil Pe Aaye Hue Ilzam Se Pehchante Hain;
Log Ab Mujhko Tere Naam Se Pehchante Hain!
~ Qateel Shifai
----------
Agar Tu Wajah Na Puche To Ek Baat Kahun;
Bin Tere Ab Humse Bhi Jiya Nahi Jata!
----------
Ajab Shikwa Sa Rehta Hai, Tumhein Mujh Se Mujhe Tum Se;
Tumhein Ulfat Nahi Mujh Se, Mujhe Nafrat Nahi Tum Se!
----------
Is Kadar Toot Ke Tum Par Humein Pyaar Aata Hai;
Apni Baahon Mein Bharien Aur Maar Hi Daalein Tum Ko!
~ Syed Wasi Shah
----------
Yun Toh Bhule Hain Humein Log Kai Pehle Bhi Bahut Se;
Par Tum Jitna Koi Un Mein Se Kabhi Yaad Nahi Aaya!
----------
Sar Jhukane Ki Aadat Nahi Hai;
Aansu Bahane Ki Aadat Nahi Hai;
Hum Kho Gaye To Pachtaoge Bahut;
Kyon Ki Humein Laut Ke Aane Ki Aadat Nahi Hai!
----------
Bin Baat Ke Hi Roothne Ki Aadat Hai;
Kisi Apne Ka Saath Paane Ki Chahat Hai;
Aap Khush Rahe, Mera Kya Hai;
Main To Aaina Hun, Mujhe Tootne Ki Aadat Hai!
----------
Tu Bhi Tasveer Ke Manind Chup Rehti Hai;
Meri Khamoshi Teri Tarah Kuch Kehti Hai!
----------
Hamari Khoj Mein Rehti Thi Titliyaan Aksar;
Ki Apne Shehar Ka Husn-O-Jamaal The Hum Bhi!
----------
Bas Gayi Hai Yeh Mere Ehsaas Mein Kaisi Mehak;
Koi Bhi Khushboo Main Lagaoon Toh Teri Khushboo Hi Aaye!
----------
Yaad Karte Hain Tumhein Tanhai Mein;
Dil Dooba Hai Ghamoon Ki Gehrai Mein;
Humein Mat Dhundna Duniya Ki Bheed Mein;
Hum Milenge Tumhein Tumhari Hi Parchai Mein!
----------
Naa Jaane Kis Hunar Ko Shayari Kehte Ho Tum;
Hum To Woh Likhte Hain Jo Tumse Keh Nahi Paate!
----------
Main Bikhar Jayunga Aanson Ki Tarah;
Is Kadar Pyar Ke Baad Duayein Na De!
----------
Milti Nahi Fursat Yaadon Se Uski, Rehta Hoon Masroof Baaton Mein Uski;
Main To Bas Itna Kahunga Ke Meri Jaan Main Basti Hai Jaan Uski!
----------
Ghazal Uss Ne Chhedi Mujhe Saaz Dena;
Zara Umar-e-Rafta Ko Awaaz Dena!
~ Safi Lakhnai
----------
Har Baar Hawao Ko Ilzaam Dena Thik Nahi Yaaro;
Kabhi Sochna Kahi Chiraag Kud Na Thak Gaya Ho Jalte Jalte!
----------
Bahut Pehle Se Un Kadmon Ki Aahat Jaan Lete Hain;
Tujhe Ai Zindagi Hum Door Se Pehchan Lete Hain!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Kya Rog De Gayi Hai Yeh Naye Mausam Ki Barish;
Mujhe Yaad Aa Rahe Hain Mujhe Bhool Jane Wale!
----------
Jeene Ki Khwaish Mein Har Roz Marte Hain;
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hain;
Jutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada Hai;
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hain!
----------
Dil Hi Dil Mein Hum Unse Pyar Karte Hain;
Chup-Chup Unki Mahobbat Ka Intezaar Karte Hain!
----------
Har Lamha Aapke Honthon Pe Muskan Rahe;
Khuda Kare Har Gham Se Aap Anjaan Rahe;
Mehak Uthe Jis Se Zindagi Aapki;
Hamesha Aapke Pas Wo Insaan Rahe!
----------
Is Kadar Betabi Na Bada Yeh Berukhi Hai Sanam;
Mujhe Tu Is Jahan Se Le Ja Is Pyaar Ka Sahara Ban!
----------
Apna Toh Chaahaton Mein Yahi Usool Hain;
Jab Tu Qubool Hai, Toh Tera Sub Kuch Qubool Hai!
----------
Karte Nahi Izhaar Phir Kyon Karte Ho Tum Pyaar,
Nazron Se Baatein To Bahut Hui Ab Lab Se Karo Iqraar!
----------
Ek Khwaish Sirhane Rakh Do Na;
Aaj Mujh Pe Tum Inayat Kar Do Na;
Zara Chupke Se Khamoshi Se;
Tum Izhar-e-Mohabbat Kar Do Na!
----------
Unhein Chahana Hamari Kamzori Hai;
Unse Keh Nahi Pana Hamari Majboori Hai;
Wo Kyon Nahi Samajhte Hamari Khamoshi Ko;
Kya Pyaar Ka Izhaar Karna Itna Zaroori Hai!
----------
Tujhe Chahte Hain Be-Inteha Par Chahna Nahi Aata;
Ye Kaisi Mohabbat Hai Ki Humein Kehna Nahi Aata;
Zindagi Mein Aa Jao Hamari Zindagi Ban Kar;
Ki Tere Bin Humein Zinda Rehna Nahi Aata!
----------
Humne Hamare Ishq Ka, Izhaar Yoon Kiya;
Phoolon Se Tera Naam, Pathron Pe Likh Diya!
----------
Ek Khwaish Sirhane Rakh Do Na;
Aaj Mujh Pe Tum Inayat Kar Do Na;
Zara Chupke Se Khamoshi Se;
Tum Izhar-e-Mohabbat Kar Do Na!
----------
Jisko Chaho Use Chahat Bata Bhi Dena;
Kitna Pyaar Hai Usse Yeh Jata Bhi Dena;
Yun Na Ho Ki Uska Dil Kahin Aur Lag Jaye;
Karke Izhaar Uske Dil Ko Chura Bhi Lena!
----------
Ishq Se Kabhi Humne Inkaar Nahi Kiya;
Par Iss Dil Ko Kabhi Itna Bekarar Nahi Kiya;
Bas Aankhon Mein Unke Sapne Sajaye Rakhe Hain;
Magar Kabhi Humne Honthon Se Ishq Ka Izhar Nahi Kiya!
----------
Izhar Mohabbat Ka Kuch Aise Hua;
Kya Kahein Ki Pyaar Kaise Hua;
Unki Ek Jhalak Pe Nisaar Hue Hum;
Saadgi Pe Mar-Mite Aur Aankho Se Iqraar Hua!
----------
Aankhon Kee Gehrai Ko Samjh Nahi Sakte;
Hontho Se Kuch Keh Nahi Sakte;
Kaise Bayan Kare Hum Aapko Yeh Dil Ka Haal Ki;
Tum Hi Ho Jiske Bina Hum Reh Nahi Sakte!
----------
Jeevan Mein Ek Baar Sabhi Ne Kiya Hai Pyaar;
Kuch Ne Darr Kar Kuch Ne Josh Mein Kiya Izhar;
Magar Bina Bole Jab Do Dil Keh Jayein Dil Kee Baat;
Wahi Hai Nazar Ka Nazar Se Saccha Iqraar!
----------
Ishq Ke Izhaar Mein Har Chaand Rusvayi To Hai;
Par Karun Kya Ab Tabiyat Aap Par Aayi To Hai!
~ Akbar Allahabadi
----------
Aap Ke Baad Yeh Mehsoos Hua Hai Humko;
Jeena Mushkil Nahi Aur Marna Bhi Dushwaar Nahi!
~ Gulzar
----------
Aankh Rakhte Ho To Us Aankh Kee Tehreer Parho;
Munh Se Iqraar Na Karna To Hai Aadat Uss Kee!
----------
Tere Didar Ki Talab Rakhta Tha;
Tujhse Pyaar ki Chahaht Rakhta Tha;
Tujhse Izhaar Ki Bhi Sada Rakhta Tha;
Rakh Na Paya To Sirf Izhaar-e-Junoon!
~ JD Ghai
----------
Khushi Ke Motiyon Mein Labh Woh Dabaate Rahe;
Aankhon Ko Kabhi Jhukaate Aur Kabhi Milate Rahe;
Labh Pe Na Woh Laaye Kabhi Ikraar Aur Na Inkaar Hi Kiya;
Tamam Umar Ishq ki Justju Main, Apni Aarzoo ko Rulaate Rahe!

Translation:
Khushi ke Moti: Teeth
~ JD Ghai
----------
Chaandni Raat Ke Khamosh Sitaron Ki Qasam;
Dil Mein Ab Tere Siwa Koi Bhi Aabad Nahi!
~ Mirza Ghalib
----------
Wo Mohabbaton Ke Saude Bhi Ajeeb Kerta Hai Mohsin;
Bas Muskurata Hai Aur Dil Khareed Leta Hai!
~ Mohsin Naqvi
----------
Dil Ko Kya Ho Gaya Khuda Jane;
Kyon Hai Aisa Udas Kya Jane;
Keh Diya Main Ne Hal­e ­Dil;
Apna Is Ko Tum Jano Ya Khuda Jane!
~ Daagh Dehlvi
----------
Saray Raah Jo Unsay Nazar Mili;
To Naksh Dil Kay Ubhar Gaye;
Hum Nazar Mila Kar Jhijag Gaye;
Vo Nazar Jhuka Kar Chale Gaye!
~ Mirza Ghalib
----------
Ghar Se Nikal Pade Hain Awaargi Uthaa Kar;
Hum Ko Yahi Bahut Hai Asbaab Is Safar Mein!
Translation:

Asbaab = Luggage
----------
Shair Kisi Ke Hijr Main Kehnaa Sirf Visaal Kisi Se;
Hum Bhi Kya Hain, Dheyaan Kisi Ka Aur Sawal Kisi Se!
~ Ahmad Faraz
----------
Muhabat Kia Hai Do Lafzon Main Tumhe Batata Hoon;
Tera Majboor Kar Dena Aur Mera Majboor Ho Jaana!
----------
Rail Ki Seetti Mein Kese Hijr Ki Tamheed Thi;
Us Ko Rukhsat Karke Ghar Lotay To Andaaza Hua!
~ Parveen Shakir
----------
Ungliyaa Meri Waafa Par Naa Uthaooo Logo;
Jisko Shaq Hai Wo Mujhse Nabhakar Dekho!
----------
Khyayyal Mein Woh, Besurti Mein Woh;
Aankkon Mein Woh, Aksh Mein Woh;
Khushi Mein Woh, Dard Mein Woh;
Aab Mein Woh, Sharab Mein Woh;
Labh Mein Woh, Behisaab Mein Woh;
Mere Abb Ho Lo, Ya Jaan Meri Lo!
~ JD Ghai
----------
Chand Kaliyaa Nishaat Ki Chunkar;
Muddaton Maayoos Rehta Hoon;
Tera Milna Khushi Ki Baat Sahi;
Tujhse Milkar Udaas Rehta Hoon!

Translation:
Nishaat = Happiness
~ Sahir Ludhianvi
----------
Qaasid Ke Aate Aate Khat Ek Aur Likh Rakkhun;
Main Jaanta Hoon Jo Wo Likhenge Jawaab Mein!
~ Mirza Ghalib
----------
Lamhe Ye Suhane Saath Ho Na Ho;
Kal Me Aaj Jaisi Koi Baat Ho Na Ho;
Aapka Pyar Hamesha Is Dil Mei Rahega;
Chahe Poori Umar Mulaqat Ho Na Ho!
----------
Dil Mei Chhipi Yadoon Se Sawaraa Tujhe;
Tu Dekhe To Apni Ankhon Mei Utaru Tujhe;
Tere Naam Ko Labo Pe Aise Sajaya Hai;
So Bhi Jau To Khawbo Mein Pukaru Tujhe!
----------
Chaand To Nikla Hai Magar Ye Raat Na Hai Pehli Si;
Ye Mulakat Mulakat Na Hai Pehli Si;
Ranj Kuch Kam To Hua Aaj Milne Se;
Ye Alag Baat Hai Ke Ye Baat Na Hai Pehli Si!
----------
Yeh Bahein Humein Jab;
Apni Panahon Mein Bulathi Hein;
Humein Apni Kasam Hum;
Har Sahara Bhool Jatey Hain!
----------
Tere Bina Hum Jeena Bhool Jate Hain;
Zakhmon Ko Seena Bhool Jate Hain;
Tu Zindagi Mein Sub Se Azeez Hai Hamain;
Tujhse Her Baar Yeh Kehna Bhool Jaate Hain!
----------
Uski Hansi Mein Chupe Dard Ko Mehsus Kar Dost;
Woh Kyu Yunhi Hans-Hans K Khud Ko Saza Deta Hai!
----------
Paas Hote Hain Jab Wo Mere Toh Koi Mozu-E-Guftagoo Nahi;
Door Hote Hain Toh Har Guftagoo Unhi Ke Liye Hai!
----------
Tere Bina Hum Jeena Bhool Jate Hain;
Zakhmon Ko Seena Bhool Jate Hain;
Tu Zindagi Mein Sub Se Azeez Hai Humain;
Tujhse Her Baar Yeh Kehna Bhool Jaatay Hain!
----------
Teri Aarzo Mein Humne Baharo Ko Dekha;
Tere Khayalo Mein Humne Sitaroa Ko Dekha;
Hume Pasand Tha Bas Aapka Saath;
Warna In Aankho Ne To Hazaro Ko Dekha!
----------
Yeh Darya Ishq Mein Qadam Zara Soch Ke Rakhna;
Ish Mein Utarne Wale Ko Kinara Nahi Milta!
----------
Khamosh They Hum To Magroor Samaj Liya;
Chup Hai Hum To Majboor Samaj Liya;
Yehi Aap Ki Khushnasibi Hai Ke Hum Itne Qarib Hain;
Phir Bhi Aap Nay Door Samajh Liya!
----------
Saza Na Do Mujh Ko Be-Qasoor Hoon Mein;
Tham Lo Mujko Ghamon Se Choor Hoon Mein;
Tere Pyar Ne Kar Diya Pagal Sa Mujhe;
Aur Logon Ka Kehna Hai K Maghror Hoon Mein!
----------
Tumhari Mohabbat Ka Pyaasa Hu Isliye Haath Fayla Diya Maine;
Warna Hum To Khud Ki Zindagi K Liye Bhi Duaa Nahi Karte!
----------
Tanha Hu Is Dard Mohabbat Mei;
Meri Tarah Behaal Tum Bhi Ho;
Hum Hai Kisi Ujde Hue Shahar Ki Misaal;
Aankhen Bata Rahi Hai Ki Viraan Tum Bhi Ho!
----------
Zindagi Mein Hamesha Naye Log Milenge;
Kahin Zyada To Kahin Kam Milenge;
Aitbaar Zara Soch Kar Karna;
Mumkin Nahin Har Jagah Tumhe Hum Milenge!
----------
Koi Deewana Kehta Hai Koi Pagal Samajhta Hai;
Magar Dharti Ki Bechani Ko Bus Badal Samajhta Hai;
Mein Tujhse Door Kaisa Hoon, Tu Mujhse Door Kaisi Hai;
Yeh Tera Dil Samajhta Hai Ya Mera Dil Samajhta Hai!
----------
Paas Hote Hai Jab Wo Mere To Koi Mozu-E-Guftagoo Nahi;
Door Hote Hai To Har Guftagoo Unhi Ke Liye Hai!
----------
Woh Tu Milta Hay Mujhse Mehdood Se Lamhon Me Faraz;
Yeh Dil Hay Kitni Fursat Se Sochta Hay Usay!
----------
Humne Hamare  Ishq Ka, Izhaar Yoon Kiya;
Phoolon Se Tera Naam, Pathron Pe Likh Diya!
----------
Mujshe Mat Puch Ki Kyun Aankhein Jhuka Li Maine;
Teri Tasveer Thi Inn Aankhon Mein Woh Tujhi Se Chupa Li Maine!
----------
Agar Hota Hain Itefaaq To Kuch Yoon Kyu Nahi Hota;
Woh Chale Ush Raah Pe Jo Mujh Pe Khatam Ho!
----------
Aao Kisi Shab Mujhe Toot Ke Bikharta Dekho;
Meri Ragon Mai Zehar Judaai Ka Utarta Dekho;
Kis Kis Adaa Se Tujhe Maanga Hai Khuda Se;
Aao Kabhi Mujhe Sajdon Mai Sisakta Dekho!
----------
Tere Bina Tutkar Bikhar Jayenge;
Tum Mil Gaye To Gulshan Ki Tarah Khil Jayenge;
Tum Na Mile To Jeete Ji Mar Jayenge;
Tumhe Paa Liya To Mar Ke Bhi Jee Jayenge!
----------
Tumhara Dukh Hum Seh Nahi Sakte;
Bhari Mehfil Mein Kuch Keh Nahi Sakte;
Hamare Girte Hue Aansuon Ko Pad Kar Dekho;
Woh Bhi Kehte Hai Ke Hum Aapke Bin Reh Nahi Sakte!
----------
Kash Hamari Bhi Parwah Kisi Ne Ki Hoti;
To Ye Duniya Humse Ruswa Na Hoti;
Agar Aata Aap Jaisa Muskurana Hamein;
To Hamse Bhi Kisi Ne Mohabbat Ki Hoti!
----------
Yaadon Ki Dhundh Me Aapki Parchaai Si Lagti Hai;
Kaano Me Goonjti Shahnaai Si Lagti Hai;
Aap Kareeb Hai To Apnapan Hai;
Varna Seene Me Saans Bhi Paraai Si Lagti Hai!
----------
Dil Jeet Le Woh Jigar Hum Rakhte Hai;
Katal Kar De Woh Nazar Rakhte Hai;
Wada Kiya Hai Kisi Se Hamesa Muskurane Ka;
Warana Hum Bhi Ankhon Mai Samunder Rakthe Hai!
----------
Ban Kar Ehsas Meri Dhadkan Ke Pass Rehte Ho;
Tasvir Ban Kar Meri Ankhon Ke Pass Rehte Ho;
Puchna Hai Bas Ek Sawal;
Humse Dur Hokar Kya Aap Bhi Udaas Rehte Ho!
----------
Nazare Mile To Pyar Ho Jata Hai;
Palke Uthe To Izhaar Ho Jata Hai;
Na Jane Kya Kasish Hai Chahat Main;
Anjaan Bhi Hamari Zindagi Ka Haqdaar Ho Jata Hai!
----------
Jaan Tujh Par Nisaar Karta Hoon;
Main Nahin Jaanta Dua Kya Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Mila Karo Humein Aksar, Ke Jee Nahi Lagta Tumhare Bin;
Tumhaare Raabte Se Zindagi Wajood Mein Hai Meri!

Raabte: Connection
----------
Kis Qadar Maasoom Sa Lehja Tha Unka "Faraz";
Dheere Se Jaan Keh Kar Humein Bejaan Kar Gaya!
----------
Yaado Ke Zakhm Bade Ajeeb Hote Hain;
Apne Pyar Ke Sath Bitaye Lamhe Azeez Hote Hain;
Sada Yaade Taaza Rehti Hai Unki ;
Jo Ankhon Ke Nahi Dil Ke Kareeb Hote Hain!
----------
Dil Mein Ab Yun Tere Bhoole Hue Gham Aate Hain;
Jaise Bichde Hue Kaabey Mein Sanam Aate Hain;
Ik-Ik Kar Ke Hue Jaate Hain Diye Taarey Roshan;
Meri Manzil Ki Taraf Jab Tere Kadam Aate Hain!
----------
Kaash Aapki Surat Itni Pyaari Na Hoti;
Kaash Aapse Mulaqat Hamaari Na Hoti;
Sapno Mein Hi Dekh Lete Aapko;
To Aaj Milni Ki Itni Bekarari Na Hoti!
----------
Gulab Ki Mehak Bhi Fiki Lagti Hai;
Kaun Si Khushbu Mujhme Basa Gayi Ho Tum;
Zindgi Hai Kya Teri Chahat Ke Siva;
Yeh Kaisa Khwab Aankhon Ko Dikha Gayi Ho Tum!
----------
Kuchh Socho Toh Tere Khayal Aa Jaata Hai;
Kuchh Bolon To Tera Naam Aa Jaati Hai;
Kab Tak Chupaon Dil Ki Baat;
Uski Har Ada Par Mujhe Pyaar Aa Jaata Hai!
----------
Achha Lagta Hai Tera Naam Mere Naam Ke Saath;
Jaise Koi Subhaa Jurari Ho Kissi Haseen Shaam Ke Saath!
----------
Teri Khushbu Se Waqif Ho Main;
Yeh Andaz Se Kayal Hun Main;
Mujhe Apni Zindagi Ka Har Pal Dede;
Yehi Mere Jinne Ka Tamanna Hai!
----------
Sab Ke Dil Mein Hai Jagah Teri, Jo Tu Raazi Hua;
Mujh Pe Goya Ik Zamaana Mehrbaan Ho Jaeega!
~ Mirza Ghalib
----------
Hamaari Sanso Mein Ek Aahat Apki Bhi Hai;
Dil Ki Dhadkno Mein Ek Gungunahat Apki Bhi Hai;
Anjaan Hai Aap Shayad Iss Raaz Se;
Ki Hamaari Hansi Mein Ek Muskrahat Apki Bhi Hai!
----------
Tu Hi Bata Ae Dil, Tujhe Samjhaon Kaise;
Jisse Chahta Hai Tu, Usse Nazdeek Laun Kaise;
Youn Toh Har Tamanna Har Ehsaas Hai Woh Mera;
Par Uss Ehsaas Ko Yeh Ehsaas Dilaun Kaise!
----------
Tum Ko De Di Hain Ishaaron Mein Ijaazat Maine;
Mangne Se Na Mil Sakun Toh Chura Lo Mujh Ko!
----------
Agar Apna Kaha Tum Aap Hi Samjhe Tau Kya Samjhe;
Maza Kahne Ka Jab Hai, Ik Kahe Aur Doosre Samjhein;
Kalaam-e-Mir Samjhe, Aur Zabaan-e-Meerza Samjhe;
Magar Inn Ka Kaha, Ya Aap Samjhein Ya Khuda Samjhe!
~ Mirza Ghalib
----------
Na Jaane Kis Ke Muqadar Mein Likhe Ho Tum Magar,
Yeh Such Hain Ke Umeedwar Hum Ajj Bhi Hain!
----------
Hum Chahat Ke Afsaane Likhte Rahe:
Woh Bhi Humein Durr Se Takte Rahe;
Jab Humne Izhar Karne Ko Haath Thama;
To Mehndi Se Ranga Unka Haath Paya!
~ JD Ghai
----------
Humne To Kho Di Thi Saab Chahat Ki Aas;
Unhone Pyaar-e-Izhrar Karke, Hum Mein Jinne Ki Arzoo Bhar Di!
~ JD Ghai
----------
Aaj Muddat Baad Unhone Mohabbat Ka Izhaar Kiya;
Aur Humne Unmein Raab Ka Deedar Kiya!
~ JD Ghai
----------
Woh Jo Muskura Ke Mila Kabhi;
Toh Yeh Fikr Jaise Mujhe Hui;
Kahun Apne Dil Ki Jo Baat Main;
Kahin Muskura Ke Na Taal De!
~ Javed Akhtar
----------
Kaash Woh Ayein Pyaar Ka Izhaar Karne, Meri Kabr Par - Ik Din;
Phir Mein Bhi Ik Aur Zindagi Ki Duwa Maangu, Unpe Nijhawar Karne Ke Liye!
~ JD Ghai
----------
Main Apni Zaat Ki Tanhaiyo Mein Zinda Hoon;
Magar Yeh Bhi Sach Hai Ke Mujhe Teri Zarorat Hain Bahut!
----------
Tum Mujhe Rooh Mein Basa Lo, Toh Achha Hai;
Yeh Dil-O-Jaan Ke Rishte, Aksar Toot Jaya Karte Hein!
----------
Tujhe Sochun Toh Pehlu Se Sarak Jata Ha Dil Mera;
Mein Dil Pe Haath Rakhkar Dhadhkano Ko Thaam Leta Hun!
----------
Ek ada aapke dil churane ki, ek ada aapke dil me bus jane ki,
Chehra apka chand sa aur ek zid hamari chand pane ki.
----------
Na khwabon me dekha, na nazaron me dekha,
Hazaron me ek humne tum hi ko dekha,
Gum dene wale to har pal hai yahan,
Har pal khushi dene walon me ek aap hi ko dekha.
----------
Zindagi Taj Mahal ho jaye,
Chandani khil ke kamal ho jaye,
Tum jo ban jaao dost mere,
Dil ki dhadkan bhi ek Ghazal ho jaye.
----------
Mere dil te asar tera hi rehnda hai,
Merian galan vich zikar tera hi rehnda hai,
Pata nahi kee rishta hai tera te mera,
Ke es dil nu bas tera hi fikar rehnda hai.
----------
Sehmi-2 nigahon mein khwab hum saja denge,
Suni suni rahon pe phool hum khila denge,
Aap hamare sung muskura kar to dekho,
Aap har gam bhula denge.
----------
रुतबा तो खामोशियों का होता है;
अल्फ़ाज़ का क्या, वो तो बदल जाते हैं अक्सर हालात देखकर!
----------
तेरे हाथ से मेरे हाथ तक, वो जो हाथ भर का था फ़ासला;
उसे नापते, उसे काटते मेरी सारी उमर गुज़र गयी!
----------
यूँ मिले कि मुलाक़ात हो ना सकी;
होंठ काँपे मगर कोई बात ना हो सकी;
मेरी खामोश निगाहें हर बात कह गयी;
और उनको शिकायत है कि कोई बात ना हो सकी!
----------
वो शख्स मिला तो महसूस हुआ मुझे;
मेरी ये उम्र मोहब्बत के लिए बहुत है कम!
----------
ठुकराया हमने भी बहुतों को है तेरी खातिर;
तुझसे फासला भी शायद उन की बददुआओं का असर है!
----------
उड़ रही है पल पल ज़िन्दगी रेत सी;
और हमको वहम है कि हम बडे हो रहे हैं!
----------
हम भी मुस्कराते थे कभी बेपरवाह अन्दाज़ से;
देखा है आज खुद को कुछ पुरानी तस्वीरों में!
----------
अगर मैं भी मिजाज़ से पत्थर होता;
तो खुदा होता या तेरा दिल होता!
----------
समंदर बेबसी अपनी किसी से कह नहीं सकता;
हजारों मील तक फैला है, फिर भी बह नहीं सकता!
----------
मैं तुम्हें इसलिए सलाह नहीं दे रहा हूँ कि मैं ज्यादा समझदार हूँ;
बल्कि इसलिए दे रहा हूँ कि मैंने जिन्दगी में गलतियां तुम से ज्यादा की हैं!
----------
न कोई फ़साना छेड़ा, न कोई बात हुई;
कहने को कह लीजिये, कि मुलाक़ात हुई!
----------
किताब मेरी, पन्ने मेरे और सोच भी मेरी;
फिर मैंने जो लिखे वो ख्याल क्यों तेरे!
----------
मैं जिस्म ओ जान के खेल में बे-बाक हो गया;
किस ने ये छू दिया है कि मैं चाक हो गया;
किस ने कहा वजूद मेरा खाक हो गया;
मेरा लहू तो आप की पोशाक हो गया!
----------
पूछ रही है आज मेरी शायरियाँ मुझसे कि;
कहाँ उड़ गये वो परिंदे जो वाह वाह किया करते थे!
----------
तुम उलझे रहे हमें आजमाने में;
और हम हद से गुजर गए तुम्हें चाहने में!
----------
बहारों में भी मय से परहेज़ तौबा;
ख़ुमार आप काफ़िर हुए जा रहे हैं!
----------
मेरी आवाज़ ही पर्दा है मेरे चेहरे का;
मैं हूँ ख़ामोश जहाँ, मुझको वहाँ से सुनिए!
----------
कल तुझसे बिछड़ने का फैंसला कर लिया था;
आज अपने ही दिल को रिश्वत दे रहा हूँ!
----------
हजारों महफिलें हैं और लाखों मेले हैं;
पर जहाँ तुम नहीं वहाँ हम अकेले हैं!
----------
यहाँ सब खामोश हैं, कोई भी आवाज़ नहीं करता;
सच बोल कर कोई किसी को नाराज़ नहीं करता।
----------
बहुत अलग सा है मेरे दिल का हाल;
एक तेरी ख़ामोशी और मेरे लाखों सवाल!
----------
लोग कहते हैं पिये बैठा हूँ मैं;
खुद को मदहोश किये बैठा हूँ मैं;
जान बाकी है वो भी ले लीजिये;
दिल तो पहले ही दिये बैठा हूँ मैं!
----------
आईना फैला रहा है खुदफरेबी का ये मर्ज;
हर किसी से कह रहा है आप सा कोई नहीं!
----------
अपनी हालात का ख़ुद अहसास नहीं है मुझको;
मैंने औरों से सुना है कि परेशान हूं मैं!
----------
सिर्फ एक बार आओ दिल में, देखने मोहब्बत अपनी;
फिर लौटने का इरादा हम तुम पर छोड़ देंगे!
----------
खुद पुकारेगी मंज़िल तो ठहर जाऊँगा;
वरना मुसाफिर खुद्दार हूँ, यूँ ही गुज़र जाऊँगा!
----------
चलो माना की हमे प्यार का इजहार करना नहीं आता;
जज्बात न समझ सको इतने नादान तो तुम भी नही!
----------
कभी इतना मत मुस्कुराना की नजर लग जाए जमाने की;
हर आँख मेरी तरह मोहब्बत की नही होती!
----------
लाखो की हंसी तुम्हारे नाम कर देंगे;
हर खुशी तुम पे कुर्बान कर देंगे;
आये अगर हमारे प्यार मे कोई कमी तो कह देना;
इस जिन्दगी को आखरी सलाम कह देंगे!
----------
तुम से बिछड के फर्क बस इतना हुआ;
तेरा गया कुछ नहीँ और मेरा रहा कुछ नहीँ!
----------
चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी;
लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है।
----------
आजाद कर देंगे तुम्हें अपनी चाहत की कैद से;
मगर, वो शख्स तो लाओ जो हमसे ज्यादा कदर करे तुम्हारी!
----------
कुछ ठोकरों के बाद, नज़ाक़त आ गई मुझ में;
मैं अब दिल के मशवरों पे, भरोसा नहीं करता!
----------
किन लफ्जों में लिखूँ, मैं अपने इन्तजार को तुम्हें;
बेजुबां हैं इश्क़ मेरा, और ढूँढता हैं खामोशी से तुझे!
----------
करते नहीं इज़हार फिर क्यों करते हो तुम प्यार,
नज़रों से बातें बहुत हुई अब लब से करो इकरार।
----------
हमने हमारे इश्क़ का इज़हार यूँ किया;
फूलों से तेरा नाम पत्थरों पे लिख दिया।
----------
उसको चाहा दिल-ओ-जान से पर इज़हार करना नहीं आया;
कट गयी सारी उम्र मगर हमें इश्क़ करना नहीं आया;
उसने हमसे कुछ माँगा भी तो माँग ली जुदाई;
इश्क़ में उसके डूबे थे हम इस कदर कि हमें इंकार करना नहीं आया।
----------
मिला वो भी नहीं करते मिला मैं भी नहीं करता;
वफ़ा वो भी नहीं करते वफ़ा मैं भी नहीं करता;
ये भी सच है कि मोहब्बत उन्हें भी है मोहब्बत मुझे भी है;
मगर इज़हार वो भी नहीं करते इक़रार मैं भी नहीं करता।
----------
जज़्बात मेरे कहीं कुछ खोये हुए से हैं;
कहूँ कैसे हम उनसे थोड़ा शर्माए हुए से हैं;
पर आज न रोक सकूंगा जज़्बातों को मैं अपने;
करते हैं प्यार हम उनसे पर थोड़ा घबराये हुए से हैं।
----------
कैसे कहूँ कि अपना बना लो मुझे;
निगाहों में अपनी समा लो मुझे;
आज हिम्मत कर के कहता हूँ;
मैं तुम्हारा हूँ अब तुम ही संभालो मुझे।
----------
नजऱ का नजऱ से मिलना कभी पयार नही होता;
कहीं पे रुक जाना किसी का इंतज़ार नही होता;
अरे प्यार तब तक नही होता, जब तक इजहार नही होता।
----------
उस के साथ रहते रहते हमें चाहत सी हो गयी;
उससे बात करते करते हमें आदत सी हो गयी;
एक पल भी न मिले तो न जाने बेचैनी सी रहती है;
दोस्ती निभाते निभाते हमें मोहब्बत सी हो गयी।
----------
तेरे हाथों में मुझे अपनी तक़दीर नज़र आती है;
देखूं मैं जो भी चेहरा तेरी तस्वीर नजर आती है।
----------
मेरी शायरी की तो जान है तू;
दिल में खुदा की पहचान है तू;
बिन देखे सूरत तेरी, रहूँ मैं उदास;
मेरे होंठों की सनम मुस्कान है तू।
----------
दिल ही दिल में हम तुमसे प्यार करते हैं;
हम ऐसे हैं जो मोहब्बत में जाँ निसार करते हैं;
निगाहें मिलाते हैं अक्सर लोगों से छुपाकर;
जैसे किसी गुनाह को यारो गुनाहगार करते हैं।
----------
ना वो कुछ कहते हैं, ना कुछ हम कहते हैं;
मगर निगाहें बहुत कुछ, होंठ कुछ कम कहते हैं;
हम चाहते हैं कुछ वो कहें कुछ हम कहें;
बात यही हम बार-बार तुझसे सनम कहते है।
----------
मत सोचना मेरी जान से जुदा है तू;
हकीकत में मेरे दिल का खुदा है तू।
----------
मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा;
बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए।
~ Ahsaan Danish
----------
न जाने क्यों उससे प्यार करता हूँ मैं;
न जाने क्यों उसपे जान निस्सार करता हूँ मैं;
यह जानता हूँ वह देगा धोखा एक दिन;
फिर भी जाने क्यों उसपे ऐतबार करता हूँ मैं।
----------
जब तु जुदा होता है;
तब ज़िंदगी तन्हा होती है;
ख़ुशी जो तेरे पास रहकर मिलती है;
वो कहाँ लफ़्ज़ों में बयां होती है।
----------
खुदा से भी पहले तेरा नाम लिया है मैंने;
क्या पता तुझे कितना याद किया है मैंने;
काश सुन सके तू धड़कन मेरी;
हर सांस को तेरे नाम से जिया है मैंने।
----------
इस दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता;
तो दूर भी रह कर के यूँ पास नहीं होता;
इस दिल ने तेरी चाहत कुछ ऐसे बसा ली है;
एक लम्हा भी तुझ बिन कुछ खास नहीं होता।
----------
लोग पूछते हैं हमसे कि तुम अपने प्यार का इज़हार क्यों नहीं करते;
तो हमने कहा जो लफ़्ज़ों में बयां हो जाए हम उनसे प्यार उतना नहीं करते।
----------
वो मोहब्बत के सौदे भी अजीब करता है;
बस मुस्कुराता है और दिल खरीद लेता है।
----------
बात इतनी सी थी कि तुम अच्छे लगते थे;
अब बात इतनी बढ़ गई है कि तुम बिन
कुछ अच्छा नहीं लगता।
----------
ज़िंदगी को प्यार हम आपसे ज्यादा नहीं करते;
किसी पे ऐतबार आपसे ज्यादा नहीं करते;
आप जी सके मेरे बिन तो अच्छी बात है;
हम जी लेंगे आपके बिन ये वादा नहीं करते।
----------
बदला वफाओं का देंगे बहुत सादगी से हम;
तुम हमसे रूठ जाओ और ज़िंदगी से हम।
----------
कोई प्यार पाने की ज़िद्द में है;
शायद कोई हमें आजमाने की ज़िद्द में है;
हम जिसे याद करते हैं इतनी शिद्दत से;
शायद वो हमें भुलाने की ज़िद्द में है।
----------
फ़िज़ा में महकती शाम हो तुम;
प्यार में झलकता जाम हो तुम;
सीने में छुपाए फिरते हैं हम यादें तुम्हारी;
इसीलिए मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम हो तुम!
----------
​रोज तेरा इंतजार होता है;
​रोज ये दिल बेक़रार होता है;​
काश के तुम समझ सकते;​
के चुप रहने वालों को भी प्यार होता है। ​
----------
उन्हें चाहना हमारी कमज़ोरी है;
उनसे कह ना पाना हमारी मजबूरी है;
वो क्यूँ नहीं समझते हमारी खामोशी को;
क्या प्यार का इज़हार करना ज़रूरी है।
----------
अपनी आँखों के समुंदर में उतर जाने दे;
तेरा मुज़रिम हूँ, मुझे डूब के मर जाने दे;
ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको;
सोचता हूँ कहूँ तुझसे,मगर जाने दे!
----------
मुझे उस जगह से भी मोहब्बत हो जाती है;
जहाँ बैठ कर एक बार तुम्हें सोच लेता हूँ।
----------
​​​मैंने कहा बहुत प्यार आता है तुम पर;​
​वो मुस्कुरा कर बोले और तुम्हे आता ही क्या है।
----------
तेरी ख़ामोशी हमारी कमजोरी हैं;
कह नहीं पाना हमारी मज़बूरी हैं;
क्यों नहीं समझते हमारी खामोशियो को;
क्या खामोशियो को जुबान देना जरुरी है।
----------
मैं उसका हूं, ये तो जान गया हूँ मैं लेकिन;
वो किसका है, ये सवाल मुझे सोने नही देता।
----------
घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;
सारी गली उनकी फिराक मे निकली;
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;
और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली।
----------
काश कि तु चाँद और मैं सितारा होता;
आसमान में एक आशियाना हमारा होता;
लोग तुम्हे दूर से देखते;
नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता।
----------
छेड़ने का तो मज़ा ही तब है कहो और सुनो;
जरा सी बात में तुम खफा हो गये लो और सुनो।
~ Insha
----------
तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ;
जिंदगी तेरी चाहत में सवार लूँ;
मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह;
तमाम उम्र बस एक मुलाकात में गुजर लूँ।
----------
दुनिया जिसे नींद कहती है;
जाने वो क्या चीज होती है;
आँखे तो हम भी बंद करते है;
पर वो आपसे मिलने की तरकीब होती है।
----------
सजते दिल के तराने बहुत है;
जिंदगी जीने के बहाने बहुत है;
आप हमेशा मुस्कुराते रहो;
आपकी मुस्कुराहट के दीवाने बहुत है।
----------
पूछो ना उस कागज़ से जिस पे;
हम दिल के मुकाम लिखते है;
तन्हाइयों में बीती बातें तमाम लिखते है;
वो कलम भी दीवानी हो गई;
जिस से हम आप का नाम लिखते है।
----------
हमें उनकी इबादत से फुर्सत नहीं मिलती;
लोग ना जाने किसको खुदा कहते है;
दिल में रखा हैं उनको फिर भी;
जाने क्यों लोग हमें जुदा कहते है।
----------
हमे भुला कर तो देखो ;
हर ख़ुशी तुमसे रूठ जाएगी;
जब भी देखोगे आईने में सूरत अपनी;
हमारी ही सूरत नज़र आएगी।
----------
वो मेरे सामने बैठे हुए हैं;
मगर यह फ़ासला भी कम नहीं।
~ Baqi Siddiqui
----------
इत्तेफाकन मिल जाते हो जब तुम राह में कभी;
यूँ लगता है करीब से ज़िन्दगी जा रही हो जैसे!
----------
बात कह दी जाए जुबां से जरूरी तो नहीं;
जिंदगी गुजरी है आधी पूरी तो नहीं;
समझेंगे वो निगाहों से, मेरे दिल की दास्ताँ;
दूर बैठे हैं दिलों में दूरी तो नहीं।
----------
नफरतों के जहां में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं;
दूर रहना कोई कमाल नहीं, पास आओ तो कोई बात बने!
----------
नज़र को नज़र की खबर न लगे;
कोई अच्छा भी इस कदर न लगे;
आपको देखा है बस उस नज़र से;
जिस नज़र से आपको नज़र न लगे।
----------
आपने नज़र से नज़र कब मिला दी;
हमारी ज़िन्दगी झूमकर मुस्कुरा दी;
जुबां से तो हम कुछ भी न कह सके;
पर निगाहों ने दिल की कहानी सुना दी।
----------
आज हर एक पल खूबसूरत है;
दिल में मेरे सिर्फ तेरी ही सूरत है;
कुछ भी कहे ये दुनिया गम नहीं;
दुनिया से ज्यादा मुझे तेरी जरुरत है।
----------
मुझे इस बात का गम नहीं कि बदल गया ज़माना;
मेरी जिंदगी तो सिर्फ तुम हो, कहीं तुम ना बदल जाना।
----------
नासमझ तो वो ना थे इतना;
कि प्यार को हमारे समझ ना सके;
पेश किया दर्द-ए-दिल हमने नगमों में;
उसे वो सिर्फ शेर समझ बैठे!
----------
वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए;
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए;
कभी तो समझो मेरी खामोशी को;
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें।
----------
प्यार तो किया मैंने बहुत;
मगर इज़हार न करना आया;
उसने पूछा तो मुझसे बहुत;
मगर इकरार न करना आया!
----------
सिर्फ एक बार आओ मेरी आँखों के रास्ते दिल में;
फिर लौटने का इरादा तुम पर छोड़ देंगे!
----------
लहरों से मिलकर, न वो बह सके न हम;
एक दूजे के दिल में, न वो रह सके न हम;
जीत लेते आसमां एक दिन;
लेकिन पलकों की ख़ामोशी को होठों से, न वो कह सके न हम!
----------
झुकी हुई पलकों से, उनका दीदार किया;
सब कुछ भुला के, उनका इंतजार किया!
वो जान ही न पाए, जज्बात मेरे;
जिन्हें दुनिया में मैंने, सबसे ज्यादा प्यार किया!
----------
यादो की शमा जब बुझती दिखाई देगी;
तेरी हर साँस मेरे वजूद की गवाई देगी;
तुम अपने अन्दर का शोर कम करो;
मेरी हर आहट तुम्हे सुनाई देगी!
----------
बनके आंसूं आँख से हम बह सकते नहीं!
दिल में उनके है जगह, पर हम ही रह सकते नहीं!
दुनिया भरके हमसे शिकवे, लाख हमसे हैं गिले!
अपने दिल की बात हाये हम ही कह सकते नहीं!
----------
कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतज़ार है!
जुदाई के बाद भी तुम से प्यार है!
तेरे चेहरे की उदासी बता रही है!
मुझसे मिलने के लिये तू भी बेकरार है!
----------
जब कोई ख्याल दिल से टकराता है!
दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है!
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है!
कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है!
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ!
मैं कैसे इज़हार करू!
तुम तो खुशबु हो!
तुमको कैसे कैद करू!
----------
कुछ लिख नहीं पाते, कुछ सुना नहीं पाते!
हाल-ऐ-दिल जुबान पर ला नहीं पाते!
वो उतर गए हैं दिल की गहराइयों में!
वो समझ नहीं पाते और हम समझा नहीं पाते!
----------
मैंने जो सोचा वो कभी पाया नहीं!
चाहकर भी मैं उसको भूल पाया नहीं!
चाहता तो था मैं उसको अपनाना!
पर मैंने उसको कभी ये बताया नहीं!
----------
इकरार में शब्दों की एहमियत नहीं होती!
दिल के जज़्बात की आवाज़ नहीं होती!
आँखें बयान कर देती है दिल की दास्तान!
मोहब्बत लफ्जों की मोहताज नहीं होती!
----------
सिर्फ चाहने से कोई बात नहीं होती!
सूरज के सामने कभी रात नहीं होती!
हम चाहते है जिन्हें जान से भी ज्यादा!
वो सामने है पर बात भी नहीं होती!
----------
दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है!
झुकी निगाह को इकरार कहते है!
सिर्फ पाने का नाम इश्क नहीं!
कुछ खोने को भी प्यार कहते है!
----------
खुद को खुद की खबर न लगे!
कोई अच्छा भी इस कदर न लगे!
आप को देखा है बस उस नज़र से!
जिस नज़र से आप को नज़र न लगे!