Intzaar shayari

Marne Ke Baad Bhi Meri Aankhein Khuli Rahin;
Aadat Jo Parr Gayi Thi Tere Intezar Ki!
----------
Marne Ke Baad Bhi Meri Aankhein Khuli Rahi;
Aadat Jo Padd Gayi Thi Tere Intezar Ki!
----------
Koi Bhi Lamha Kabhi Laut Kar Nahi Aaya;
Woh Shaksh Aisa Geya Phir Nazar Nahi Aaya!
----------
Zakhm Itne Bade Hain Izhaar Kya Karein;
Hum Khud Nishana Ban Gaye Vaar Kya Karein;
Mar Gaye Hum Lekin Khuli Reh Gai Ankhen;
Ab Isse Zyada Kisi Ka Intezaar Kya Karein!
----------
Khatam Hone Ko Hai Dekho Ye Chiragon Ka Safar,
Ab To Aa Jao Ki Jalne Laga Hai Dil Mera!
----------
Tamam Umar Bhi Agar Tera Intezaar Kar Lun,
To Bhi Mujhe Ye Ranj Rahega Ki Zindagi Meri Kam Thi!
----------
Badi Ajeeb Kashmakash Hai Unke Intezaar Mein,
Aankhein Khuli Rakhun Ya Band Kar Lun Khwabon Mein Milne Ke Liye!
----------
Kishton Mein Khudkushi Kar Rahi Hai Zindagi,
Ek Intezar Tera, Mujhe Poora Marne Bhi Nahi Deta!
----------
Chale Bhi Aao Ki Hum Tumse Pyaar Karte Hain,
Ye Wo Gunah Hai Jo Hum Baar-Baar Karte Hain,
Log Maut Tak Takte Hain Raah Dildaar Ki,
Hum Hain Ki Qabar Mein Bhi Tera Intezar Karte Hain!
----------
Diya Khamosh Hai Lekin Kisi Ka Dil To Jalta Hai,
Chale Aao Jahan Tak Roshni Maloom Hoti Hai!
~ Nushur Wahidi
----------
Kahin Wo Aa Ke Mita Na Den Na Intezar Ka Lutf,
Kahin Qubool Na Ho Jaye Iltija Meri!
~ Hasrat Jaipuri
----------
Yakeen Hai Ki Na Aaye Ga Mujhse Milne Koi;
To Phir Yeh Dil Ko Mere Intezar Kaisa Hai!
----------
Itna Aitbaar To Apni Dhadkano Par Bhi Humne Na Kiya,
Jitna Aapki Baaton Par Karte Hain;
Itna Intezar To Apni Saanson Ka Bhi Na Kiya,
Jitna Aapke Milne Ka Karte Hain!
----------
Uski Dard Bhari Aankhon Ne Jis Jagah Kaha Tha Alvida;
Aaj Bhi Wahi Khada Hai Dil Uske Aane Ke Intezaar Mein!
----------
Raat Din Rulata Hai Intezar Tera;
Kat Gayi Umar Lekin Kam Na Hua Pyaar Tera;
Ab To Aa Jao Ke Bahut Udas Hai Yeh Dil;
Sanson Kee Hi Tarha Lazmi Hai Deedar Tera!
----------
Kabhi Kisi Ka Jo Ho Tha Intezar Humein;
Bada Hi Shaam-o-Sehar Ka Hisaab Rakhte The!
----------
Jo Chirag Saare Bujha Chuke Unhein Intezar Kahan Raha;
Ye Sukun Ka Daur-e-Shadeed Hai Koi Beqarar Kahan Raha!
~ Ada Jafri
----------
Bas Ek Choti Si Tum Haan Kar Do;
Hamare Naam Is Tarha Sara Jahan Kar Do;
Wo Mohabbtein Jo Tumhare Dil Mein Hain;
Un Ko Zuban Par Lao Aur Bayan Kar Do!
----------
Bas Ek Baar Kar Ke Aitbaar Likh Do;
Kitna Hai Mujh Se Pyaar Likh Do;
Kat Ti Nahi Ab Yeh Zindagi Bin Tere;
Aur Kitna Karun Main Intezar Likh Do!
----------
Najane Kab Tak Ye Aankhein Uska Intezar Karengi;
Uski Yaad Mein Kab Tak Khud Ko Bekarar Karengi;
Use To Ehsaas Tak Nahi Is Mohabbat Ka Yaaro;
Kab Tak Ye Dhadkane Uska Aitbaar Karengi!
----------
Koi Hai Jiska Is Dil Ko Intezar Hai;
Khyalon Mein Ab To Bas Usi Ka Khayal Hai;
Khushiyan Main Is Jahan Kee Saari Us Par Luta Du;
Kab Aayega Wo Jiska Is Dil Ko Intezar Hai!
----------
Intezaar To Bahut Tha Humein;
Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate;
Agar Hota Unhe Bhi Intezaar Kabhi!
----------
Dil Kee Baatein Bata Deti Hain Aankhein;
Dhadkano Ko Jaga Deti Hain Aankhein;
Dil Pe Chalta Nahi Jadu Chehron Ka Kabhi;
Dil Ko Tu Deewana Bana Deti Hain Aankhein!
----------
Yun Palke Bicha Kar Tera Intezar Karte Hain;
Yeh Wo Gunah Hai Jo Hum Baar Baar Karte Hain;
Jalakar Hasrat Kee Raah Par Chirag Arzoo Ke;
Hum Subah Aur Sham Tere Milne Ka Intezar Karte Hain!
----------
Yeh Na Thi Hamari Kismat Ki Visaal-e-Yaar Hota;
Agar Aur Jeete Rehte Yahi Intezar Hota;
Tere Vaade Par Jiye Hum To Yeh Jaan Jhooth Jaana;
Ki Khushi Se Mar Na Jaate Agar Aitbar Hota!

Translation:
It was never in my fate to be united with my beloved,
If I had lived any longer, it would be nothing but more waiting.
Waiting with those promises that I know to be falsities,
Had I belief in them, I would have died of joy.
~ Mirza Ghalib
----------
Kyun Khud Ko Beqarar Kiye Ja Rahe Hain;
Kis Bewafa Ko Pyaar Kiye Ja Rahe Hain;
Aaya Jo Na Sanam Kabhi, Aur Na Ayega Phir Kabhi;
Kyun Uska Intezar Hum Muddat Se Kiye Ja Rahe Hain!
----------
Pyaar Bahut Hai Tumse Magar Izhaar Nahi Karte;
Meri Khamoshi Se Yeh Na Samjhna Ki Tumse Pyaar Nahi Karte;
Meri Aankhein To Har Lamha Tumhari Raah Dekhti Hain;
Aur Tum Kehti Ho Hum Intezar Nahi Karte!
----------
Marne Ke Baad Bhi Meri Aankhein Khuli Rahin;
Aadat Jo Padh Gayi Thi Tere Intezar Kee!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Uske Intezar Ke Maare Hain Hum;
Bas Uski Yaadon Ke Sahare Hain Hum;
Duniya Jeet Kar Kya Karna Hai Ab;
Jise Duniya Se Jeeta Tha, Aaj Usi Se Haare Hain Hum!
----------
Intezar To Bahut Tha Humein Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaye Hi Aa Jaate Agar Hota Unhe Bhi Intezar Kabhi!
----------
Mat Intezar Karvao Humse Itna Ki Waqt Ke Faislon Pe Tumhe Bhi Afsos Ho Jaye;
Kya Pta Tum Baat Karne Aao Aur Tab Tak Humari Rooh Hi Khamosh Ho Jaye!
----------
Ab In Hudud Mein Laya Hai Intezar Mujhe;
Wo Aa Bhi Jayein To Aaye Na Aitabar Mujhe!

Translation:
Hudud = Limits, Boundries
~ Khumar Barabankvi
----------
Thak Thak Ke Band Hote Hain Chasme Intezar;
Aata Hai Sab Ko Khyal Tumhare Khyal Se!
~ Daagh Dehlvi
----------
Dil Mein Umeed Kee Shama Jala Rakhi Hai;
Humne Apni Alag Duniya Basa Rakhi Hai;
Iss Umeed Ke Saath Ki Aayega Kabhi Paigam Aapka;
Humne To Har Pal Darwaze Par Nazrein Tika Rakhi Hain!
----------
Intezar Rehta Har Shaam Tera;
Yaadein Katati Hain Le-Le Kar Naam Tera;
Muddat Se Baithe Hain Yeh Aas Paale Dil Mein;
Ki Aaj Aayega Koi Lekar Paigaam Tera!
----------
Roothi Hui Aankhon Mein Intezar Hota Hai;
Na Chahte Hue Bhi Pyar Hota Hai;
Kyun Dekhte Hain Hum Wo Sapne;
Jinke Tutne Par Bhi Unke Sach Hone Ka Intezar Hota Hai!
----------
Intezar To Bahut Tha Humein;
Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate;
Agar Hota Unhe Bhi Intezar Kabhi!
----------
Mohabbat Ka Imtihan Aasan Nahi;
Pyar Sirf Pane Ka Naam Nahi;
Muddatein Beet Jati Hain Kisi Ke Intezar Mein;
Ye Sirf Pal-Do-Pal Ka Kaam Nahi!
----------
Main Intezar Ka Qaayal Na Tha Magar Tum Ne;
Lagaa Diya Mujhe Deewaar Se Gharri Ki Tarah!
----------
Qaasid Ke Aatae Aatae Khat Ik Aur Likh Rakhoon;
Main Janta Hun Jo Woh Likhen Ge Jawaab Mein!
----------
Wafaa Mein Ab Yeh Hunar Ikhtiyaar Karna Hai;
Woh Sach Kahe Na Kahe Aitbaar Karna Hai;
Yeh Tujh Ko Jaagte Rehne Ka Shauq Kab Se Hua;
Mujhe To Khair Tera Intezaar Karna Hai!
----------
Un Ke Khat Ki Arzoo Hai, Un Ki Aamad Ka Khayal;
Kiss Qadar Phaila Hai Karobaar-e-Intezaar!
----------
Najane Kab Ka Pahunch Bhi Chuka Sar-e-Manzil;
Wo Shakhs Jis Ka Humein Intazar Raah Mein Hai!
----------
Palkon Pe Ruk Gaya Hai Samundar Khumaar Ka;
Kitnaa Ajab Nashaa Hai Tere Intezaar Ka!
----------
Phir Aaj Koi Gazal Tere Naam Na Ho Jaye;
Kahin Likhte Likhte Shaam Na Ho Jaye;
Kar Rahe Hain Intezaar Teri Mohabbat Ka;
Isi Intezaar Me Zindagi Tamam Na Ho Jaye!
----------
Ye Na Thi Hamari Kismat Ke Visaal-e-Yaar Hota;
Agar Aur Jeetey Rehtey, Yehi Intezaar Hota!
~ Mirza Ghalib
----------
Tamaam Raat Mere Ghar Ka Aik Dar Khulaa Raha;
Mein Raah Dekhti Rahi Woh Raasta Badal Geya!
~ Parveen Shakir
----------
Na Ishq Ka Izhaar Kiya, Na Thukra Sakke Humein Woh;
Hum Tamam Zindgi Mazloom Rahe, Unke Wada Mohabaat Ke!
~ JD Ghai
----------
Bikhra Pada Hai Tere Hi Ghar Mein Tera Wajood;
Bekaar Mehfilon Mein Tuje Dhoondhta Hun Mein!
~ Qateel Shifai
----------
Kuch Roz Yeh Bhi Rang Raha Intezar Ka;
Aankh Uth Gayi Jidhar Bas Udhar Dekhte Rahe!
~ Asar Lakhnavi
----------
Gazab Kiyaa, Tere Vaade Pe Aitabaar Kiyaa;
Tamaam Raat Qayaamat Kaa Intezaar Kiyaa!
~ Daagh Dehlvi
----------
Pahunchi Jis Waqt Khabar Uski Mujhe Aane Ki;
Sudh Rahi Mujh Ko Na Apne Ki Na Begane Ki!
~ Mirza Hassan
----------
Jo Ho Sake Toh Chale Aao Aaj Meri Taraf;
Mile Bhi Der Hui Aur Jee Bhi Udaas Hai!
~ Azeem Murtuza
----------
Jisne Haq Diya Muje Muskurane Ka;
Ushe Shauk Hai Ab Muje Rulane Ka;
Jo Lehron Se Cheen Kar Laya Tha Kinaro Par;
Intzar Ha Use Ab Mere Dub Jane Ka!
----------
Aap Ki Nigah Agar Meharban Ho Jae;
Main Jis Zameen Pe Hoon Woh Asman Ho Jai;
Hai Ab Bhi Aap Ko Shak Mere Dosti Par;
To Phir Ik Baar Mera Imtehaan Ho Jai!
----------
Wo Jo Hath Bhar Ka Tha Fansla, Kai Mausmon Main Badal Gya;
Useh Napte Useh Katte Mera Sara Waqt Guzar Gya!
----------
Jeene Ki Khwaish Mein Har Roz Marte Hain;
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hain;
Jutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada;
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hain!
----------
Itna Aitbaar To Apni Dhadkanon Par Bhi Humne Na Kiya;
Jitna Aapki Baaton Par Karte Hain;
Itna Intezar To Apni Saanson Ka Bhi Na Kiya;
Jitna Aapke Milne Ka Karte Hain!
----------
Ruthi Hui Aankhon Mein Intezar Hota Hai;
Na Chahte Hue Bhi Pyar Hota Hai;
Kyun Dekhte Hain Hum Wo Sapne;
Jinke Tutne Par Bhi Unke Sach Hone Ka Intezar Hota Hai!
----------
Intezaar To Bahut Tha Humein;
Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate;
Agar Hota Unhe Bhi Intezaar Kabhi!
----------
Nazar Chahti Hai Didaar Karna;
Dil Chahta Hai Pyaar Karna;
Kya Batayein Iss Dil Ka Aaalam;
Naseeb Mein Likha Hai Intezar Karna!
----------
Jhonka Idhar Na Aae Naseem-E-Bahar Ka;
Naazuk Bagut Hai Phool Chiragh-E-Mazaar Ka;
Phir Baithe Baithe Waada-E-Wasl Us Ne Kar Liya;
Phir Uth Khara Hua Wohi Rog Intezaar Ka!
~ Amir Ahmed Amir Meenai
----------
Kab Tak Rahoge Aakhir Yun Duur Duur Hum Se;
Milna Padega Aakhir Ik Din Jarur Hum Se.

Daaman Bachhane Waale Yeh Berukhi Hai Kaisi;
Keh Do Agar Hua Hai Koi Kasur Hum Se.

Hum Chhod Denge Tum Se Yun Baat-Chit Karna;
Tum Puchhte Firoge Apna Kasoor Hum Se!
----------
Kab Tak Pyaar Ke Ek Pal Ka Intzaar Karna Hoga;
Kab Tak Iss Intzaar Ki Aag Mein Yunhi Jalna Hoga;
Mere Dil Se Abb Sabar Aur Na Hoga;
Akhir Kab Tak Tumhare Saath Ek Pal Jeene Ke Liye;
Mujhe Yunhi Pal Pal Marna Hoga!
----------
Aankhon Mein Basi Hai Pyaari Soorat Teri;
Aur Dil Mein Basa Hai Tera Pyaar;
Chahe Tu Kabool Kare Ya Na Kare;
Humein Rahega Tera Intezaar!
----------
इंतजार अक्सर वही अधूरे रह जाते हैं;
जो बहुत शिद्दत से किए जाते हैं!
----------
यकीन है कि ना आएगा मुझसे मिलने कोई;
तो फिर ये दिल को मेरे इंतज़ार किसका है!
----------
इंतजार अक्सर वही अधूरे रह जाते हैं;
जो बहुत शिद्दत से किए जाते हैं!
----------
ऐ पलक तू बंद हो जा;
ख्बाबों में उसकी सूरत तो नजर आयेगी;
इंतज़ार तो सुबह दोबारा शुरू होगा;
कम से कम रात तो खुशी से कट जायेगी!
----------
कब उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुज़र रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
एहसास-ए-मोहब्बत के लिए बस इतना ही काफी है;
तेरे बगैर भी हम, तेरे ही रहते हैं!
इंतजार / इश्क
मुझे तो आज पता चला कि मैं किस क़दर तनहा हूँ;
पीछे जब भी मुड़ कर देखता हूँ तो मेरा साया भी मुँह फेर लेता है।
----------
कब उनकी आँखों से इज़हार होगा,
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा,
गुज़र रही हे रात उनकी याद में,
कबि तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
वो आ रहे हैं वो आते हैं आ रहे होंगे,
शब-ए-फ़िराक़ ये कह कर गुज़ार दी हम ने।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझ से मिलने के,
न दिल ठहरता है न इंतज़ार रुकता है।
----------
है ख़ुशी इंतज़ार की हर दम,
मैं ये क्यों पूछूं कब मिलेंगे आप।
~ Nizam Rampuri
----------
मोहब्बत वो हसीं गुनाह है जो हर इंसान ख़ुशी ख़ुशी करता है,
मोहब्बत में इंतज़ार वो सज़ा है जो वही सहता है जो सच्ची मोहब्बत करता है।
----------
टूट गया दिल पर अरमां वही है;
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है;
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे;
फिर भी इन आँखों में इंतज़ार वही है।
----------
भरे हैं काँटों से रास्ते सारे, मगर फिर भी हम चले जा रहे हैं;
भूल गया है कोई अपना हमें, मगर हम उन्हें याद किये जा रहे हैं;
आयेंगे एक बार वो फिर ये उम्मीद है;
इसी उम्मीद के सहारे हम बस जिए जा रहे हैं।
----------
जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं;
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं;
झूठा ही सही मेरे यार का वादा;
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं।
----------
कोई शाम आती है आपकी याद लेकर;
कोई शाम जाती है आपकी याद देकर;
हमें तो इंतज़ार है उस हसीन शाम का;
जो आये कभी आपको साथ लेकर।
----------
पल-पल इंतज़ार किया एक पल के लिए;
वो पल आया भी तो एक पल के लिए;
अब तो हर पल इंतज़ार है उस पल के लिए;
कि वो पल आये फिर से एक पल के लिए।
----------
किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों होती है;
जो नहीं मिलता उसी से मोहब्बत क्यों होती है;
कितने खाएं हैं धोखे इस मोहब्बत की राहों में;
फिर भी आँखें उसी के इंतज़ार में क्यों रोती हैं।
----------
वफ़ा में अब यह हुनर इख़्तियार करना है;
वो सच कहें या ना कहें बस ऐतबार करना है;
यह तुझको जागते रहने का शौंक कबसे हो गया;
मुझे तो खैर बस तेरा इंतज़ार करना है।
----------
चले भी आओ तसव्वुर में मेहरबां बनकर;
आज इंतज़ार तेरा, दिल को हद से ज्यादा है!
----------
ना जाने कब तक ये आँखें उसका इंतज़ार करेंगी;
उसकी याद में कब तक खुद को बेक़रार करेंगी;
उसे तो एहसास तक नहीं इस मोहब्बत का यारो;
ना जाने कब तक यह धड़कन उसका ऐतबार करेगी।
----------
बेवफाई का डर था तो प्यार क्यों किया;
तनहाई का डर था तो इकरार क्यों किया;
मुझसे मौत भी पूछेगी आने से पहले;
कि जब पता था वो नहीं आने वाले;
फिर भी तुमने उनका इंतजार क्यों किया।
----------
उसके इंतज़ार के मारे हैं हम;
बस उसकी यादों के सहारे हैं हम;
दुनिया जीत के करना क्या है अब;
जिसे दुनिया से जीतना था उसी से हारे हैं हम।
----------
जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं;
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं;
झूठा ही सही मेरे यार का वादा;
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं।
----------
ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें;
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें;
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें;
अब इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें।
----------
आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद;
आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह;
लाख ये चाहा कि उसे भूल जायेँ पर;
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह।
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबु है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल करता है आखिरी सांस तक उसका इंतज़ार करूँ।
----------
नज़रें मेरी थक न जायें कहीं तेरा इंतज़ार करते-करते;
यह जान मेरी यूँ ही निकल ना जाये तुम से इश्क़ का इज़हार करते-करते।
----------
कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर;
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर;
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह;
बस एक इंतज़ार है साथ, सहारा बनकर।
----------
नज़रें मेरी कहीं थक न जायें;
बेवफा तेरा इंतज़ार करते-करते;
ये जान यूँ ही निकल न जाये;
तुम से इश्क़ का इज़हार करते-करते।
----------
इतना इंतज़ार तो अपनी धड़कनों पर भी हमने न किया;
जितना आपकी बातों पर करते हैं;
इतना इंतज़ार तो अपनी साँसों का भी न किया;
जितना आपके मिलने का करते हैं।
----------
देर लगी आने में तुमको, शुक्र है फिर भी आये तो;
आस ने दिल का साथ न छोड़ा, वैसे हम घबराये तो।
----------
तेरे इंतजार मे कब से उदास बैठे हैं;
तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे हैं;
तू एक नज़र हम को देख ले बस;
इस आस में कब से बेकरार बैठे हैं।
----------
मौत पर भी है यकीन उन पर भी ऐतबार है;
देखते हैं पहले कौन आता है दोनों का इंतजार है।
----------
कितना समझाया इस दिल को कि तू प्यार ना कर;
किसी के लिए ख़ुद को तू बेकरार ना कर;
वो तेरा नही बन सकता, किसी और की अमानत का तू इंतज़ार ना कर।
----------
इस इंतज़ार की घडी को, पल-पल की बेक़रारी को लफ़्ज़ों में बयां कैसे कर दूँ;
मखमली एहसाँसों को, रेशमी जज़्बातों को अल्फ़ाज़ों में बयां कैसे कर दूँ।
----------
पलट के आएगा वो मैं इंतज़ार करती हूँ;
कसम खुदा की उसे अब भी प्यार करती हूँ;
मैं जानती हूँ कि ये सब दर्द देते हैं मगर;
मैं अपनी चाहतों पे आज भी ऐतबार करती हूँ।
----------
जीने के लिए तेरी याद ही काफी है;
इस दिल में बस अब आप ही बाकी है;
आप तो भूल गए हो हमें अपने दिल से;
लेकिन हमें आज भी आपकी तालाश बाकी है।
----------
पंखों को खोल कि ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है​​​​​;​​
​यूँ जमीन पर बैठकर, आसमान क्या देखता है​... ​
----------
तुम आओ कभी दस्तक तो दो दर-ए-दिल पर;
प्यार पहले से कम हो तो सज़ा-ए-मौत दे देना।
----------
मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बत की कसम;
अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार में।
----------
रात को जब चाँद सितारे चमकते हैं;
हम हरदम फिर तेरी याद में तड़पते हैं;
आप तो चले गए हो छोड़कर हम को;
मगर हम मिलने को तरसते है।
----------
आप सागर को एक बार मिल जाईए;
इसकी मौत के आने से पहले;
यह भी एक बार देख ले ज़िंदगी अपनी;
इस ज़िंदगी को गँवाने से पहले।
----------
तड़पती है आज भी रूह आधी रात को;
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को;
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे;
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।
----------
उम्रे-दराज़ मांग कर लाये थे चार दिन;
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार में।
----------
दिल को किसी आहट की आस रहती है;
निगाहों को किसी सूरत की प्यास रहती है;
तेरे बिना ज़िंदगी में कोई कमी तो नहीं;
लेकिन फिर भी तेरे बिना ज़िदगी उदास रहती है।
----------
ये ना थी हमारी किस्मत कि विशाल-ए-यार होता;
अगर और जीते रहते, यही इंतज़ार होता।
~ Mirza Ghalib
----------
मिट जाएगी मख्लूक़ तो इंसाफ करोगे;
मुनासिब हो अगर तो हशर उठा क्यों नहीं देते।
~ Ahmad Faraz
----------
हम उनको मनाने जायेंगे, उनकी उम्मीद ग़ज़ब की है;
वे खुद चलकर आयेंगे, हमारी भी जिद्द ग़ज़ब की है।
----------
उदास आँखों में करार देखा है;
पहली बार उसे इतना खुश और बेक़रार देखा है;
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की;
उसकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है।
----------
तू पास भी हो तो दिल बेक़रार अपना है;
कि हमको तेरा नहीं, इंतज़ार अपना है।
~ Ahmad Faraz
----------
कौन आता है मगर आस लगाए रखना;
उम्र भर दर्द की शमाओं को जलाए रखना।
~ Ahmad Faraz
----------
​वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई;
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई;
लगता है वापिस अभी लौट आएगी;
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।
----------
जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता;
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता;
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त;
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।
----------
​एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;​
​जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;​
​​मैं जो जिंदगी हूँ तो वो भी हैं ​​अना का कैदी;​
​​मेरे कहने पर कहाँ उसने चले आना है।​
----------
​हमने ये शाम चराग़ों से सजा रक्खी है;​​
​आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
​हवा टकरा रही है शमा से बार-बार;​​
​और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रक्खी है।
----------
वो कह कर गया था मैं लौटकर आउंगा;
मैं इंतजार ना करता तो क्या करता;
वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से;
मैं एतबार ना करता तो क्या क्या करता।
----------
रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने;
अपनी आँखों को 'तेरे ख्वाब' का लालच देकर।
----------
जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे;
याद उन्हे दिन रात किया करते थे;
अब उन राहों से गुजरा नही जाता;
जहाँ बैठ कर उनका इंतज़ार किया करते थे।
----------
तुम को फुर्सत जो कभी मिल जाए;
तो खुद से मुझको निजात दे देना।
----------
कुछ रोज़ यह भी रंग रहा तेरे इंतज़ार का;
आँख उठ गई जिधर बस उधर देखते रहे।
~ Asar Lucknowi
----------
जो हो सके तो चले आओ आज मेरी तरफ़;
मिले भी देर हो गई और जी भी उदास है।
~ Azeem Murhujha
----------
अजीब सी कशिश हैं तुम में;
कि हम तुम्हारे ख्यालों में खोये रहते है;
ये सोचकर कि तुम ख्यालों में आओगे;
हम दिन रात बस सोए रहते है।
----------
तुम मिलो ना मिलो मिलने का गम नहीं;
तुम पास से निकल जाओ तो मिलने से कम नहीं;
माना कि तुम्हे कद्र नहीं हमारी;
पर उनसे पूछों जिन्हें हम हांसिल नहीं।
----------
आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है;
आपकी याद बहुत बेक़रार कराती है;
जाते-जाते कहीं भी मुलाकात हो जाए आपसे;
तलाश आपको ये नज़र बार-बार करती है।
----------
जब भी खुदा को याद किया नज़र तु ही आया;
ये मेरे दीवाने पन के लिए तेरे दीदार की हद थी;
हम तो मर गये मगर खुली रही आँखे हमारी;
बेवफा तु नहीं आया ये तेरे इंतज़ार की हद थी।
----------
ग़जब किया तेरे वादे पे एतबार किया;
तमाम रात किया क़यामत का इंतज़ार किया।
~ Daagh Dehlvi
----------
मेरी यह ज़िन्दगी है कि मरना पड़ा मुझे;
इक और ज़िन्दगी की तम्मना लिए हुए।
~ Hafeez Jalandhari Araman
----------
एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर भी हर मोड़ पर उसी का इंतज़ार क्यों है!
----------
कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतज़ार है;
जुदाई के बाद भी तुमसे प्यार है;
तेरे चेहरे की उदासी बता रही है;
मुझसे मिलने के लिये तू भी बेकरार है!
----------
उसने कहा अब किसका इंतज़ार है;
मैंने कहा अब मोहब्बत बाकी है;
उसने कहा तू तो कब का गुजर चूका है 'मसरूर';
मैंने कहा अब भी मेरा हौसला बाकी है!
----------
एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है!
----------
होंठ कह नहीं सकते जो फ़साना दिल का;
शायद नज़रों से वो बात हो जाए;
इस उम्मीद से करते हैं इंतज़ार रात का;
कि शायद सपनों में ही मुलाक़ात हो जाए!
----------
आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी;
और दिल में बसा है तेरा प्यार;
चाहे तू कबूल करे या ना करे;
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार!
----------
जिंदगी हसीना है जिंदगी से प्यार करो;
है अंधेरा तो क्या हुआ, उजाले का इंतज़ार करो;
वो पल भी आएगा जिसका इंतज़ार है आपको;
रब पर भरोसा और वक़्त पर ऐतबार करो!
----------
कब उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुज़र रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे;
याद उन्हें दिन रात किया करते थे;
अब उन राहों से गुजरा नहीं जाता;
जहाँ बैठकर उनका इंतज़ार किया करते थे!
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
यादें काटती हैं ले-ले के नाम तेरा;
मुद्दत से बैठे हैं तेरे इंतज़ार में;
कि आज आयेगा कोई पैगाम तेरा!
----------
यादों का ये कारवा हमेशा रहेगा;
दूर जाते हुए ही प्यार वही रहेगा;
मत कहना मिल नहीं सके आपसे;
यकीन रखना आँखों में इंतज़ार वही रहेगा!
----------
ज़ख्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें;
हम खुद निशान बन गए वार क्या करें;
मर गए हम मगर खुलो रही आँखें;
अब इससे ज्यादा इंतज़ार क्या करें!
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बतायें इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतजार करना।
----------



बहुत नाराज़ है, कोई शख्स तेरे जाने से;
हो सके तो तू लौट आ, किसी बहाने से;
तू लाख खफा सही मगर एक बार तो देख;
कोई टूट गया है, तेरे दूर जाने से।
----------
किस्मत ने तुमसे दूर कर दिया;
अकेलेपन ने दिल को मज़बूर कर दिया;
हम भी ज़िंदगी से मुँह मोड़ लेते मगर;
तुम्हारे इंतज़ार ने जीने पर मज़बूर कर दिया।
----------
बड़ा अरमान था तेरे साथ जीवन बिताने का;
शिकवा है बस तेरे खामोश रह जाने का;
दीवानगी इससे बढ़कर और क्या होगी;
आज भी इंतज़ार है बस तेरे आने का।
----------
किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों होती है;
जो नहीं मिलता उसी से मोहब्बत क्यों होती है;
कितने खाएं हैं धोखे इस मोहब्बत की राहों में;
फिर भी आँखें उसी के इंतज़ार में क्यों रोती हैं।
----------
रोज़ तेरा इंतज़ार होता है;
रोज़ यह दिल बेक़रार होता है;
काश कि वो समझ सकते;
कि चुप रहने वालों को भी किसी से प्यार होता है।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बताएं इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना।
----------
आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं;
हर वक़्त आपको ही बस याद करती हैं;
जब तक ना कर लें दीदार आपका;
तब तक वो आपका इंतज़ार करती हैं।
----------
इंतज़ार तो बहुत था हमें;
लेकिन आये ना वो कभी;
हम तो बिन बुलाये ही आ जाते;
अगर होता उन्हें भी इंतज़ार कभी।
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
यादें कटती हैं ले ले कर नाम तेरा;
मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले;
कि कभी तो आएगा कोई पैगाम तेरा।
----------
दिल में इंतज़ार की लकीर छोड़ जायेंगे;
आँखों में यादों की नमी छोड़ जायेंगे;
ढूंढ़ते फिरोगे हमें हर जगह एक दिन;
ज़िन्दगी में ऐसी अपनी कमी छोड़ जायेंगे।
----------
किस्मत ने तुमसे दूर कर दिया;
अकेलेपन ने दिल को मज़बूर कर दिया;
हम भी ज़िंदगी से मुँह मोड़ लेते मगर;
तुम्हारे इंतज़ार ने जीने पर मज़बूर कर दिया।
----------
बिन आपके कुछ भी अच्छा नहीं लगता;
अब मेरा वजूद भी सच्चा नहीं लगता;
सिर्फ आपके इंतज़ार में कट रही है ये ज़िंदगी;
वरना अब तक तो मौत के आगोश में सो जाती ये ज़िंदगी।
----------
लम्हा-लम्हा इंतज़ार किया उस लम्हे के लिए;
और वो लम्हा आया भी तो बस एक लम्हे के लिए;
गुज़ारिश है यह खुदा से कि काश;
वो लम्हा फिर से मिल जाये बस एक लम्हे के लिए।
----------
भले ही राह चलते तू औरों का दामन थाम ले;
मगर मेरे प्यार को भी तू थोड़ा पहचान ले;
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में मैंने;
ज़रा इस दिल की बेताबी को भी तू जान ले।
----------
कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर;
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर;
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह;
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर।
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबु है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल चाहता है आखिरी सांस तक उसका इंतज़ार करूँ।
----------
उस अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर भी चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है।
----------
आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं;
हर वक़्त आपको ही तो याद करती हैं;
जब तक देख न लें चेहरा आपका;
तब तक हर घडी आपका इंतज़ार करती हैं।
----------
नज़र चाहती है उनका दीदार करना;
दिल चाहता है उनसे प्यार करना;
क्या बतायें है इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है बस इंतज़ार करना।
----------
भले ही राह चलतों का दामन थाम ले;
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले;
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में;
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
रातें कटती हैं लेकर नाम तेरा;
मुद्दत से बैठा हूँ पाल के ये आस;
कभी तो आएगा कोई पैग़ाम तेरा।
----------
इंतज़ार की आरज़ू अब खो गई है;
खामोशियों की आदत सी हो गई है;
ना शिकवा रहा ना शिकायत किसी से;
अगर है तो एक मोहब्बत जो इन तनहाइयों से हो गई है।
----------
तड़प कर देखो किसी की चाहत में;
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है;
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो;
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है।
----------
इंतज़ार तो बहुत था हमें;
लेकिन आये न वो कभी;
हम तो बिन बुलाये भी आ जाते;
अगर होता उन्हें भी इंतज़ार कभी।
----------
पलट के आयेगी वो, मैं इंतज़ार करता हूँ;
क़सम खुदा की, उसे अब भी प्यार करता हूँ;
मैं जानता हूँ कि ये सब दर्द देते हैं मगर;
मैं अपनी चाहतों पे आज भी ऐतबार करता हूँ।
----------
तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं;
तेरा दीदार करने की चाह जगी है;
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता;
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में;
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बतायें इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना।
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबू है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल करता है आखिरी साँस तक उसका इंतज़ार करूँ।
----------
आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं;
हर वक़्त आपको ही याद करती हैं;
जब तक न देख लें आपको;
तब तक बस आप ही का इंतज़ार करती हैं।
----------
क्यों कोई मेरा इंतज़ार करेगा;
अपनी ज़िंदगी मेरे लिए बेकार करेगा;
हम कौन सा किसी के लिए ख़ास हैं;
क्या सोच कर कोई हमें याद करेगा।
----------
मत इंतज़ार कराओ हमे इतना;
कि वक़्त के फैसले पर अफ़सोस हो जाये;
क्या पता कल तुम लौटकर आओ;
और हम खामोश हो जाएँ।
----------
हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है;
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार;
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।
----------
यादों से तेरी हम प्यार करते हैं;
100 जन्म भी तुझ पर निसार करते हैं;
फुर्सत मिले तो आ जाना मेरी ज़िंदगी में;
उसी पल का तो हम दिन रात इंतज़ार करते हैं।
----------
कुछ दिन से मेरे सामने आते नहीं हो तुम;
आँखों में नूर बन के समाते नहीं हो तुम;
सो रहा है गहरी नींद में एक उम्र से;
इस बे-खबर को आ कर जगाते नहीं हो तुम।
----------
इश्क़ कर देता है बेक़रार;
भर देता है पत्थर के दिल में प्यार;
हर एक को नहीं मिलती ज़िंदगी की यह बहार;
क्योंकि इश्क़ का दूसरा नाम है इंतज़ार।
----------
खुद एक बार उसे यह एहसास दिला दे;
कितना इंतज़ार है ज़रा उसे बता दे;
हर पल देखते हैं रास्ता उसी का;
ना इंतज़ार करना पड़े, मुझे ऐसी नींद सुला दे।
----------
इश्क़ किया तुझसे मेरे ऐतबार ही हद्द थी;
इश्क़ में दे दी जान मेरे प्यार की हद्द थी;
मरने के बाद भी खुली थी आँखें;
यह मेरे इंतज़ार की हद्द थी।
----------
मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं;
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं;
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में;
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।
----------
फासला मिटा कर आपस में प्यार रखना;
हमारा यह रिश्ता हमेशा बरकरार रखना;
बिछड़ जाएं कभी आप से हम;
आँखों में हमेशा मेरा इंतज़ार रखना।
----------
सूखी पत्ती से भी प्यार करेंगे;
हम तुम पर ऐतबार कर लेंगे;
एक बार कह दो तुम हमारे हो;
हम सारी ज़िंदगी इंतज़ार कर लेंगे।
----------
क़यामत तक तुझे याद करेंगे;
तेरी हर बात पर ऐतबार करेंगे;
तुझे लौट कर आने को तो नहीं कहेंगे;
पर फिर भी तेरे आने का इंतज़ार करेंगे!
----------
उस नज़र को मत देखो;
जो आपको देखने से इनकार करती है;
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो;
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।
----------
तुम लौट के आयोगे हम से मिलने;
रोज दिल को बहलाने की आदत हो गई;
तेरे वादे पे क्या भरोसा किया;
हर शाम तेरा इंतज़ार करने की आदत हो गई।
----------
जिस के इक़रार का इंतज़ार था मुझे;
जाने क्यों उस से इतना प्यार था मुझे;
ऐ ख़ुदा आ ही गया वो हसीं पल;
जब उसने कहा तुमसे बहुत प्यार है मुझे।
----------
तड़प के देखो किसी की चाहत में;
तो पता चले कि इंतज़ार क्या होता है;
यूँ ही मिल जाये अगर कोई बिना तड़पे;
तो कैसे पता चले के प्यार क्या होता है!
----------
मिलने की ख़ुशी ना बिछड़ने का गम;
ना तन्हा, ना उदास हैं हम;
कैसे कहें कैसे हैं हम;
बस यूँ समझ लो बहुत अकेले हैं हम।
----------
आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी;
और दिल में बसा है तेरा प्यार;
चाहे तू कबूल करे या ना करे;
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बताएं इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना।
----------
तुझे देखना चाहती हूँ हर पल;
शायद तुझसे बहुत प्यार करती हूँ;
कल तक तो तुझे जानती भी न थी;
आज तेरा इंतज़ार करती हूँ।
----------
यादों का यह कारवां हमेशा रहेगा;
दूर जाते हुए भी प्यार वही रहेगा;
माफ करना मिल नहीं सके आपसे;
यकीन रखना अँखियों में इंतज़ार वही रहेगा।
----------
हर शाम से तेरा इज़हार किया करते हैं;
हर ख्वाब में तेरा दीदार किया करते हैं;
दीवाने ही तो हैं हम तेरे ओ हम नशीब;
हर वक़्त तेरे मिलने का इंतज़ार किया करते हैं।
----------
इश्क कर देता है बेकरार;
भर देता है पत्थर के दिल में प्यार;
हर एक को नहीं मिलती जिंदगी की ये बहार;
क्योंकि इश्क का दूसरा नाम है इंतजार।
----------
जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे;
याद उन्हें दिन-रात किया करते थे;
अब उन राहों से गुजरा नहीं जाता;
जहाँ बैठकर उनका इंतज़ार किया करते थे।
----------
तेरे इंतज़ार में छोड़ा दुनिया का साथ;
तेरे इंतज़ार में छोड़ा अपनों का साथ;
जब तुझे जाना ही था तो क्यों दिया वादों का साथ;
रह गया अब मैं बस अपने ग़मों के साथ।
----------
यादों में तेरी तन्हा बैठे;
हैं तेरे बिना लबों की हंसी;
गवा बैठे हैं तेरी दुनिया में;
अँधेरा न हो इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं।
----------
नज़रों को तेरी मोहब्बत से इंकार नहीं है;
अब मुझे किसी का इंतजार नहीं है;
खामोश अगर हूँ ये अंदाज है मेरा;
मगर तुम ये नहीं समझना कि मुझे प्यार नहीं है।
----------
सब आपकी आँखों से जहाँ देख रहा हूँ;
मैं आपकी नज़रों में जहाँ देख रहा हूँ;
तू ढूढ़ रही होगी मुझको वहां पर;
और मैं यहाँ पर कब से तेरी राह देख रहा हूँ।
----------
बड़ा अरमान था तेरे साथ जीवन बिताने का;
शिकवा है बस तेरे खामोश रह जाने का;
दीवानगी इससे बढ़कर और क्या होगी?
आज भी इंतज़ार है तेरे आने का!
----------
कब उनकी आँखों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुजर रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
यादें कटती हैं ले-ले कर नाम तेरा;
मुद्दत से बैठे हैं ये आस पाले कि;
आज आयेगा कोई पैगाम तेरा।
----------
कब तक इंतज़ार करूँ मैं तेरा;
अब इंतज़ार नहीं होता;
तूने जो दिल न लगाया होता तो;
मेरा ये हाल न होता।
----------
कभी उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुजर रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
तेरे इंतज़ार में यह नजरें झुकी हैं;
तेरा दीदार करने की चाह जगी है;
ना जानू तेरा नाम ना तेरा पता;
ना जाने क्यों इस पागल दिल में एक अनजानी सी बेचैनी जगी है।
----------
कोई क्यों मेरा इंतज़ार करेगा;
अपनी जिंदगी मेरे लिए बेकार करेगा;
हम कौन से, किसी के लिए ख़ास हैं;
क्या सोचकर कोई हमें याद करेगा!
----------
इंतज़ार हमसे होता नहीं;
इज़हार में ज़माना लगेगा;
मेरे इश्क को तुम क्या जानो;
प्यार में तो परवाना ही जलेगा!
----------
प्यार उसे करो जो तुमसे प्यार करे;
खुद से भी ज्यादा तुम पे ऐतबार करे;
तुम बस एक बार कहो कि रुको दो पल;
और वो उन दो पलों के लिए पूरी जिंदगी इंतज़ार करे!
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बताऊं इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतजार करना।
----------
इंतज़ार की आरजू अब खो गई है;
खामोशियों की आदत सी हो गई है;
ना शिकवा रहा ना सिकायत किसी से;
अगर है तो एक मोहब्बत;
जो इन तनहाइयों से हो गई है।
----------
चाँद सितारों से तेरी बात करते हैं;
तनहाईयों में तुझे याद करते हैं;
तुम आओ या ना आओ मर्ज़ी तुम्हारी;
हम तो हरपल तुम्हारा इंतजार करते हैं।
----------
आजा अभी सर्दी का मौसम नहीं गुजरा;
पहाड़ों पर अभी भी बर्फ जमी है;
सब कुछ तो है मेरे पास;
सिर्फ एक तेरी कमी है।
----------

रोती हुई आँखो मे इंतज़ार होता है;
ना चाहते हुए भी प्यार होता है;
क्यों देखते हैं हम वो सपने;
जिनके टूटने पर भी उनके सच होने का इंतज़र होता है!
----------
बस तेरी यादों से ही है तारीफ मेरी;
वर्ना ये सारा जहान तो मुझे अजनबी सा लगता है!
----------
बता नराज है, कोई सख्श तेरे जाने से;
हो सके तो तु लौट आ, किसी बहाने से;
तु लाख खफा सही मगर एक बार तो देख;
कोई टूट गया है, तेरे दूर जाने से!
----------
कोशिश कीजिये हमें याद करने की;
लम्हें तो अपने आप ही, मिल जायेंगे;
तमन्ना कीजिये हमें मिलने की;
बहाने तो अपने आप ही, मिल जायेंगे!
----------
दूर ही सही मगर तुझसे प्यार तो है;
तेरे ईन्कार के बाद भी इंतज़ार तो है!
अगर आसान होता भूलना, तो भूल जाते;
पर आज भी ये दिल बेक़रार तो है!
----------
तेरे इन्तजार में हुई सुबह से शाम;
तेरी चाहत में हुआ ये दिल बे-लगाम;
तुझे पाने की आरजू मेरी जल्द हो पूरी;
कि होंठों पे आता है सिर्फ तेरा ही नाम!
----------
एक मुस्कान तू मुझे एक बार दे दे;
ख्वाब में ही सही, एक दीदार दे दे!
बस एक बार कर ले तू आने का वादा;
फिर उम्र भर का चाहे इंतज़ार दे दे!
----------
मेरी नज़रों में जो खुमार है उसका ही है;
मेरे तस्सवुर में जो हिसार है उसका ही है;
वो मेरे पास आये, साथ चले रहे न रहे;
मुझे तो बस अब इंतज़ार उसका ही है!
----------
मिट्टी मेरी कब्र से चुरा के जा रहा है कोई;
मर कर भी बहुत याद आ रहा है कोई;
ए खुदा एक पल की ज़िन्दगी और दे दे मुझे;
उदास मेरी कब्र से होकर जा रहा है कोई!
----------
तड़प के देखो किसी की चाहत में;
तो पता चले कि इंतज़ार क्या होता है;
यूँ ही मिल जाये अगर कोई बिना तड़पे;
तो कैसे पता चले के प्यार क्या होता है!
----------
फासले मिटा कर आपस में प्यार रखना;
दोस्ती का ये रिश्ता हमेशा बरकरार रखना;
बिछड़ जाए कभी आपसे हम;
आँखों में हमेशा हमारा इंतज़ार रखना!
----------

हमने तो उस शहर में भी किया है इंतज़ार तेरा,
जहाँ मोहब्बत का कोई रिवाज़ न था..

Haalaat Kah Rahe Hai., Ke Ab Mulaqaat Nahi Hogii…..
Ummeed Keh Rahi Haii…, Zara Intezaaar Karr…..

Chorr Diya hamne uska intezaar karna hamesha k liye,
Jise Mohabbat ki Qadar nahi usko DUA o mai kya mangna.

इशक के दरद ही कुछ ऐसे हैं…
लोग जान दे देते हैं मगर इंतजार नहीं करते।।

Meri Mohabbat pe AITBAR to KIYA hota
ae JAAN kisi AUR ke HONE se pehle
MERA intezaar to kiya hota

यकीन ही उठ गया, इस राह को अब
तो छोड़ दे ग़ालिब.
मगर …इश्क में रिवाज हो गया कि ,
इन्तजार कयामत तक होता है …..

NAhi hai kiSmat mEin w0h phiR b uSse m0hbbat kaRta hu…
Bada mAza Ata hai aPne diL ko sAza dEne mEin..

जी भर गया है तो बता दो….
हमें इनकार पसंद है…. इंतजार नहीं…!

उसकी जरूरत उसका इंतजार और अकेलापन..
थक कर मुस्कुरा देता हूँ, मैं जब रो नहीं पाता.

Aankhon Ko Intezaar Ka De Kar Hunar Chala Gaya
Chaha Tha Ik Shakhs Ko Jane Kidhr Chala Gaya

uski mhbt pe koi haq nhi h mera,
phir bhi dil karta h uska intezar karu…

Hame soorat se kya matlab hum to seerat pe marte hai
Unse kahna tumhara husn dhal jaye to bhi laut aana..!

Hai maut ka intezaar par unpe bhi aitbaar hai,
dekhein pehele woh aate hain ya phir maut!

Marne Ke Baad Bhi Meri Aankheh Khuli Rahi
Aadat Hi Parrh gayi Thi inne Intehzaar Ki

Kyu Mere Liye Koi Intzar Karega,
Apni Zindgi Mere Liye Bekrar Karega.
Me Kya Hu Meri Hasti Hi Kya Hai,
Kya Dekhkar Humse Koi Pyar Karega !!

Phir Muqaddar Ki Lakeeron Main Likh Dia Intezar,
Phir Wohi Raat Ka Aalam Aur Main Tanha Tanha…

Koi Hai Jiska Is Dil Ko Intezar Hai;
Khyalon Mein Ab To Bas Usi Ka Khayal Hai;
Khushiyan Main Is Jahan Kee Saari Us Par Luta Du;
Kab Aayega Wo Jiska Is Dil Ko Intezar Hai!

यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है ……
यह वो गुनाह है जो हम बार बार करते है …!!

Uske intzaar ke maare hai hum…
Bas uski yaadon ke sahare hai hum…
Duniya jeet k karna kya hai ab…
Jise duniya se jeetna tha aaj usi se haare hai hum

Pal bhar ka pyaar aur barson ka intezaar,
jaise koi apna hi apne ghar ko loot raha hai…

Bas ab ek haan ke intezaar me raat yunhi guzar jaayegi,
ab toh bas uljhan hai saath mere neend kahan aayegi,
Subah ki kiran na jaane konsa sandesh laayegi,
rimjhim is gungunayegi ya pyaas adhuri reh jaayegi…

Jeene Ki Khwaish Me Har Roz Marte Hain
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hain
Jutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hain…

Aaj Mausam Ko Kya Ho Gaya
Dost Mera Jaane Kahan Kho Gaya
Hum To Uske MSG Ka Intezaar Karte Reh Gaye
Par Lagta Hai Koi Aur Uske MSG Ka Haqdar Ho Gaya…

Usne Kaha Ab Kiska Intezaar Hai,
Maine Kaha Ab Bhi Mohabbat Baaki Hai,
Usne Kaha Tu Toh Kab Ka Guzar Chuka Hai ‘Masroor’,
Maine Kaha Ab Bhi Mera Hausla Baaki Hai…

Unka vaada hai ki wo laut k aayenge,
isi ummid par hum jiye jayenge,
ye intejar bhi unki hi tarah pyara hai,
kar rhe the, kar rhe hain aur kiye jayenge…

Char dino ki chahat mein umar bhar ka intezar hai,
Mohabbat ek aisi majburi hai jisme sab lachar hain,
Juda nahi kar sakti ab maut bhi mujhe teri yaadon se,
Aur ek zindagi hai jo har pal tere liye beqarar hai…

Kabhi to hume bhi yaad karoge
Do pal mere liye bhi barbaad karoge
Intezaar rahega hume bhi Qayamat tak
hum bhi to dekhe tu
akhir kab tak hume pyaar na karoge…

खबर नहीं मुझे यह जिन्दगी कहाँ ले जाए;
कहीं ठहर के मेरा इंतज़ार मत करना।

Unki Apni Marzi Ho,
To Wo Humse Baat Karte Hain…
Aur Hamara Pagalpan Dekho
Ki Sara Din Unki Marzi Ka Intezaar Karte Hain

Kyu Mere Liye Koi Intzar Karega,
Apni Zindgi Mere Liye Bekrar Karega.
Me Kya Hu Meri Hasti Hi Kya Hai,
Kya Dekhkar Humse Koi Pyar Karega !!

Bahut Ho Chuka Intezaar Unka,
Ab Aur Zakham Sahe Jaate Nahi,
Kya Bayaan Karein Unke Sitam Ko,
Dard Unke Kahe Jate Nahi…

Zindagi Hasin Hai Zindagi Se Pyaar Karo,
Hai Rat To Subah Ka Intzar Karo,
Wo Pal Bhi Ayega Jiska Intzaar Hai Aap Ko,
Rab Pr Bhrosa Or Waqt Pe Aitbar Rakho… ….

ab kaise kahu ki tujhse pyar hai kitna
tu kya jaane bedardi tera intezaar hai kitna

tum dekhna yeh intezaar rang layega zaroor
ek roz aagan me mausam ae bahar aayega zaroor

usi din ke intezaar me kaanto pe chal raha hoo
ghar me nahi sajan angaro me pal raha hoo

Kho Gayi Shaam Kisi ke Intezar Mein,
Dhal Gayi Raat Kisi ke Intezar Mein,
Fir Hua Savera Kisi ke Intezar Mein,
Intezar Ki Aadat Ho Gayi Kisi ke Intezar Mein..

Tera Intezaar Mujhe Har Pal Rehta Hai,
Har Lamha Mujhe Tera Ehsaas Rehta Hai,
Tujh Bin Dhadkane Rukk Si Jaati Hai,
Ki Tu Mere Dil Me Meri Dhadkan Banke Rehta Hai.

Sukhe Patte se Pyar kar Lenge,
Tumhara Aitbaar Kar Lenge,
Tum ye to Kaho ki Hum Tumhare h,
Hum Jindagi Bhar Intezaar Kar lenge.

Tere intezaar ke maare hai hum
Sirf teri he yaado ke sahare hai hum
Tujhe chaha tha jeetna is duniya se
Or aaj tere he haatho haare hai hum

Deedar ko tere tarasne lage hai hum
Intezar mai tere tadapne lage hai hum
Jaise shakho se patte girke bikhar jate hai
Tutkar waise he bikharne lage hai hum

Mat Intzar karvao hame Itna,
Ki waqt ke faisle par afsos ho jaye.
Kya pata kal tum laut kar aao,
Or hum sada ke liye khamosh ho jayein.

Phir Aaj Koi Gazal Tere Naam Na Ho Jaye
Kahin Likhte Likhte Shaam Na Ho Jaye
Kar Rahe Hain Intezaar Teri Mohabbat Ka
Isi Intezaar Me Zindagi Tamam Na Ho Jaye

हमने ये शाम चराग़ों से सजा रक्खी है;
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार;
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रक्खी है।

आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी; और दिल में बसा है तेरा प्यार;
चाहे तू कबूल करे या ना करे; हमें रहेगा तेरा इंतज़ार!

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा
आज भी वही खड़ा है दिल उसके आने के इंतजार में

पलको पर रूका है ‘समन्दर’ खुमार का,,,,
कितना अजब नशा है तेरे ‘इंतजार’ का…!!!

”कभी किसी का जो होता था इंतज़ार हमें…
बड़ा ही शाम-ओ-सहर का हिसाब रखते थे..”

उसकी मोहब्बत पे मेरा हक़ तो नहीं लेकिन,
दिल करता है के उम्र भर उसकी इंतज़ार करूँ….

इतनी तो तेरी सूरत भी नहीं देखी मैने,
जितना तेरे इंतज़ार में घड़ी देखी है!”

हकीकत में जीना जब आदत बन जाती है,
ख्वाबों की दुनिया बेरंग नज़र आती है,
कोई इंतज़ार करता है ज़िन्दगी के लिए,
और किसी की ज़िन्दगी इंतज़ार बन जाती है…

इंतज़ार तो हम भी किआ करते हैं,
आपसे मिलने की आस किआ करते हैं,
मेरी याद हिचकियों की मोहताज़ नहीं,
हम तो आपको साँसों से याद किया करते हैं.

हाथ कि लकीरों पर ऐतबार कर लेना,
भरोसा हो तो किसी से प्यार कर लेना,
खोना पाना तो नसीबों का खेल है,
ख़ुशी मिलेगी बस थोड़ा इंतज़ार कर लेना..

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त आपको ही याद करती हैं,
जब तक ना देख ले मेसेज आपका,
तब तक वो आपके मेसेज का इंतज़ार करती हैं..

उस नज़र की तरफ मत देख,
जो आप को देखने से इनकार करती है,
दुनिया की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ आपका इंतज़ार करती है…

दिल में जो आया वो लिख दिया,
कभी मिलन कभी बिछड़ना लिख दिया,
तेरी जुदाई ही है अब मुक़द्दर मेरा,
लो हमने अपनी ज़िन्दगी का नाम इंतज़ार लिख दिया…

फासले मिटाकर आपस में प्यार रखना,
प्यार का रिश्ता यूँही बरकरार रखना,
बिछड़ जाएं कभी आपसे हम,
तो आँखों में हमेशा हमारा इंतज़ार रखना…

हर घड़ी अब उनकी आवाज़ सुनने को बेकरार रहते हैं,
शायद इसी को दुनिया में प्यार कहते हैं,
काटने से भी जो ना कटे वक्त,
उसी को मोहब्बत में इंतज़ार कहते हैं…

Tadap Ke Dekh Kisi Ki Chahat Mein,
Toh Pata Chale Ke Intezaar Kya Hota Hai,
Yun Mil Jaaye Agar Koi Bina Tadap Ke,
Toh Kaise Pata Chale Ke Pyar Kya Hota Hai?

Badi mushkil mein hoon kaise izhar karoon,
Wo to khshboo hai use kaise girftar karoon
Uski mohabbt par mera haq nahi lakin
Dil kehta hai aakhri saans tk uska intizar karu.

किश्तों में खुदकुशी कर रही है ये जिन्दगी…
इंतज़ार तेरा…मुझे पूरा मरने भी नहीं देता ।

Jaane kis raah se aa jaye woh aaney wala,
Hum ne har simt se deewaar giraa rakhi hai..

Kabhi kisi ka jo hota tha intizaar humen,
Bara hi shaam o sehar ka hisaab rakhte they..

Main phool chunti rahi aur khabar na huyi,
Woh shakss aa ke mere sheher se chala bhi geya.
Yakeen hai ke na aaye ga mujhse milne koi,
To phir yeh dil ko mere intezar kesa hai..

Mere mehboob ne vaada kiya hai paanchve din ka,
Kisi se sun liya hoga duniya chaar din ki hai..

Is se pehle ke mujh ko sabbar aa jaye,
Kitna acha ho ke laut aao tum..

Ghazab Kiya, Tere Vaade Pe Aitbaar Kiyaa
Tamaam Raat Qayaamat Ka Intazaar Kiyaa

Loote Maze Usi Ne Tere Intazaar Ke
Jo Hadd-E-Intazaar Se Aage Nikal Gayaa

Kaun Kehta Hai Ishq Me Bas Ikraar Hota Hai
Kaun Kehta Hai Ishq Me Bas Inkaar Hota Hai,
Tanhai Ko Tum Bebasi Ka Naam Na Do,
Kyunki Ishq Ka Doosra Naam Hi Intezaar Hota Hai…

Koi Wada Nahi Phir Bhi Tera Intjaar H,
Judai Ke Bawjud Bhi Tujhse Pyar H,
Chehre Ki Udasi De Rahi H Gawhai,
Mujhse Milne Ke Liye Tu Bhi Bekrar H.

Koi hai jiska is dil ko intjaar hai,
Khayalon main bas usi ka khayal hai,
Khushiyaan main saari us par luta dun,
Chahat mai uski mai khud ko mita dun,
Kab ayega wo jiska is dil ko intjaar hain.

Zindagi Bhar Intezar Kiya Maine Jis Lamhe Ka,
Aaj Taqdeer Ne Mujhe Wo Lamha Naseeb Kiya Hai.
Jis Haseen Ko Mai Roj Khwabo Me Dekha Karta Tha,
Aaj Usey Hi Khuda Ne Mujhe Tohfe Me Diya Hai.

Kab Unke Labon Se Izhaar Hoga,
Dil Ke Kisi Kone Main Hamare Liye Bhi Pyar Hoga,
Gujar Rahe Hain Ab To Ye Raate Bas Isi Soch Main,
Ki Shayad Unko Bhi Hamara Intejaar Hoga.

Na Jane Kab Wo Haseen Raat Hogi,
Jab Unki Nigahe Humari Nigaho Ke Saath Hogi,
Baithe Hai Hum Uss Raat Ke Intezaar Main,
Jab Unke Hontho Ki Surkhiya Hamare Honthon Ke Saath Hogi.

Yun hi nahi roz kisi ka intezaar hota hai,
Yun hi nahi roz yeh dil bekaraar hota hai,
Kaash ke koi samajh paata ki,
Chup rehne waalon ko bhi kisi se pyar hota hai…..

Roothi Hui Aankhon Mein Intezar Hota Hai,
Na Chahte Hue Bhi Har kisi ko Pyar Hota Hai
Kyun Dekhte Hain Hum Wo Sapne,
Jinke Tutne Par Bhi Unke Sach Hone Ka Intezaar Hota Hai…..!!

Chale Bhi Aao Ki Hum Tumse Pyaar Kartey Hain
Ye Wo Gunaah Hai Jo Hum Baar Baar Kartey Hain
Log To Maut Tak Taaktey Hain Raah Dildaar Ki
Hum Hain Ki Kabar Mein Bhi Tera Intezaar Karte Hain…

Lamha lamha intezaar kiya us lamhe ke liye,
Aur woh lamha aaya bhi to bus ek lamhe ke liye,
guzarish yehi hai khuda se ki kaash,
woh lamha phir aaye 1 lamhe ke liye…..

Barso ke baad hoti hai mulaqaat,
fir bhi rehti hai Dil me Dil ki baat,
Nazron se karna padta hai pyar,
Par Nazar milane ke liye bhi karna padta hai Intezaar.

Kuch Nasha Teri Baat Ka Hai,
Kuch Nasha Dhimi Barsaat Ka Hai,
Hum To Kab se Nashe Me Doob Jaane Ko Tayyar Hai,
Intezaar To Sirf Aapki Mulaqaat Ka Hai…..

Teri Baahon Mein Meri Zannat,
Meri Julfon Mein Teri Shaam Hui Thi,
Pyar Ke Lambe Intezaar Ke Baad,
Eh Sanam Tumse Meri Mulakaat Hui Thi…

दिल में हो आप तो कोई और ख़ास कैसे होगा,
यादों में आपके सिवा कोई पास कैसे होगा,
हिचकियां केहती है आप याद करते हो…
पर बोलोगे नहीं तो हमें अहसास कैसे होगा ?

Bin Aapke Kuch Bhi Aacha Nahi Lagta,
Ab Mera Wajood Bhi Saccha Nahi Lagta.
Sirf Aapke Deedar K Intezaar Me Kat Rahi Hai Zindagi..

Mumkin Nahi Shayad Kisi Ko Samaj Pana,
Samjhe Bina Kisi Se Kya Dil Lagana,
Aasan Hai Kisi Ko Pyar Karna,
Bahut Mushkil Hai Kisi Ka Pyar Pana.

Rooth jaane ki Ada ham ko bhi Aa hi jaati,
Manane wala kaash koi hamein bhi milta

Aik lamhe ko mein samjhi tere aney ka sandesa,
Dar pe dastak kissi bachey ki shararat nikli..

Tamaam raat tere intezaar mein ae dost,
Mera yaqeen bhatakta raha, gumaan ki tarah..

Naadani ki hadd hai jara dekho to unhe…..
Mujhe kho kar wo mere jaisa dhoondh rahe hai….

Hum to moujood thy andheron main ujalon ki tarha
Tum ne chaha hi nahi chahny walon ki tarha

Chalo kuch din k liye dunya chor dety hain,
suna hai log bohat yaad kerty hai chaly jany k bahd