Intzaar shayari

Marne Ke Baad Bhi Meri Aankhein Khuli Rahin;
Aadat Jo Parr Gayi Thi Tere Intezar Ki!
----------
Marne Ke Baad Bhi Meri Aankhein Khuli Rahi;
Aadat Jo Padd Gayi Thi Tere Intezar Ki!
----------
Koi Bhi Lamha Kabhi Laut Kar Nahi Aaya;
Woh Shaksh Aisa Geya Phir Nazar Nahi Aaya!
----------
Zakhm Itne Bade Hain Izhaar Kya Karein;
Hum Khud Nishana Ban Gaye Vaar Kya Karein;
Mar Gaye Hum Lekin Khuli Reh Gai Ankhen;
Ab Isse Zyada Kisi Ka Intezaar Kya Karein!
----------
Khatam Hone Ko Hai Dekho Ye Chiragon Ka Safar,
Ab To Aa Jao Ki Jalne Laga Hai Dil Mera!
----------
Tamam Umar Bhi Agar Tera Intezaar Kar Lun,
To Bhi Mujhe Ye Ranj Rahega Ki Zindagi Meri Kam Thi!
----------
Badi Ajeeb Kashmakash Hai Unke Intezaar Mein,
Aankhein Khuli Rakhun Ya Band Kar Lun Khwabon Mein Milne Ke Liye!
----------
Kishton Mein Khudkushi Kar Rahi Hai Zindagi,
Ek Intezar Tera, Mujhe Poora Marne Bhi Nahi Deta!
----------
Chale Bhi Aao Ki Hum Tumse Pyaar Karte Hain,
Ye Wo Gunah Hai Jo Hum Baar-Baar Karte Hain,
Log Maut Tak Takte Hain Raah Dildaar Ki,
Hum Hain Ki Qabar Mein Bhi Tera Intezar Karte Hain!
----------
Diya Khamosh Hai Lekin Kisi Ka Dil To Jalta Hai,
Chale Aao Jahan Tak Roshni Maloom Hoti Hai!
~ Nushur Wahidi
----------
Kahin Wo Aa Ke Mita Na Den Na Intezar Ka Lutf,
Kahin Qubool Na Ho Jaye Iltija Meri!
~ Hasrat Jaipuri
----------
Yakeen Hai Ki Na Aaye Ga Mujhse Milne Koi;
To Phir Yeh Dil Ko Mere Intezar Kaisa Hai!
----------
Itna Aitbaar To Apni Dhadkano Par Bhi Humne Na Kiya,
Jitna Aapki Baaton Par Karte Hain;
Itna Intezar To Apni Saanson Ka Bhi Na Kiya,
Jitna Aapke Milne Ka Karte Hain!
----------
Uski Dard Bhari Aankhon Ne Jis Jagah Kaha Tha Alvida;
Aaj Bhi Wahi Khada Hai Dil Uske Aane Ke Intezaar Mein!
----------
Raat Din Rulata Hai Intezar Tera;
Kat Gayi Umar Lekin Kam Na Hua Pyaar Tera;
Ab To Aa Jao Ke Bahut Udas Hai Yeh Dil;
Sanson Kee Hi Tarha Lazmi Hai Deedar Tera!
----------
Kabhi Kisi Ka Jo Ho Tha Intezar Humein;
Bada Hi Shaam-o-Sehar Ka Hisaab Rakhte The!
----------
Jo Chirag Saare Bujha Chuke Unhein Intezar Kahan Raha;
Ye Sukun Ka Daur-e-Shadeed Hai Koi Beqarar Kahan Raha!
~ Ada Jafri
----------
Bas Ek Choti Si Tum Haan Kar Do;
Hamare Naam Is Tarha Sara Jahan Kar Do;
Wo Mohabbtein Jo Tumhare Dil Mein Hain;
Un Ko Zuban Par Lao Aur Bayan Kar Do!
----------
Bas Ek Baar Kar Ke Aitbaar Likh Do;
Kitna Hai Mujh Se Pyaar Likh Do;
Kat Ti Nahi Ab Yeh Zindagi Bin Tere;
Aur Kitna Karun Main Intezar Likh Do!
----------
Najane Kab Tak Ye Aankhein Uska Intezar Karengi;
Uski Yaad Mein Kab Tak Khud Ko Bekarar Karengi;
Use To Ehsaas Tak Nahi Is Mohabbat Ka Yaaro;
Kab Tak Ye Dhadkane Uska Aitbaar Karengi!
----------
Koi Hai Jiska Is Dil Ko Intezar Hai;
Khyalon Mein Ab To Bas Usi Ka Khayal Hai;
Khushiyan Main Is Jahan Kee Saari Us Par Luta Du;
Kab Aayega Wo Jiska Is Dil Ko Intezar Hai!
----------
Intezaar To Bahut Tha Humein;
Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate;
Agar Hota Unhe Bhi Intezaar Kabhi!
----------
Dil Kee Baatein Bata Deti Hain Aankhein;
Dhadkano Ko Jaga Deti Hain Aankhein;
Dil Pe Chalta Nahi Jadu Chehron Ka Kabhi;
Dil Ko Tu Deewana Bana Deti Hain Aankhein!
----------
Yun Palke Bicha Kar Tera Intezar Karte Hain;
Yeh Wo Gunah Hai Jo Hum Baar Baar Karte Hain;
Jalakar Hasrat Kee Raah Par Chirag Arzoo Ke;
Hum Subah Aur Sham Tere Milne Ka Intezar Karte Hain!
----------
Yeh Na Thi Hamari Kismat Ki Visaal-e-Yaar Hota;
Agar Aur Jeete Rehte Yahi Intezar Hota;
Tere Vaade Par Jiye Hum To Yeh Jaan Jhooth Jaana;
Ki Khushi Se Mar Na Jaate Agar Aitbar Hota!

Translation:
It was never in my fate to be united with my beloved,
If I had lived any longer, it would be nothing but more waiting.
Waiting with those promises that I know to be falsities,
Had I belief in them, I would have died of joy.
~ Mirza Ghalib
----------
Kyun Khud Ko Beqarar Kiye Ja Rahe Hain;
Kis Bewafa Ko Pyaar Kiye Ja Rahe Hain;
Aaya Jo Na Sanam Kabhi, Aur Na Ayega Phir Kabhi;
Kyun Uska Intezar Hum Muddat Se Kiye Ja Rahe Hain!
----------
Pyaar Bahut Hai Tumse Magar Izhaar Nahi Karte;
Meri Khamoshi Se Yeh Na Samjhna Ki Tumse Pyaar Nahi Karte;
Meri Aankhein To Har Lamha Tumhari Raah Dekhti Hain;
Aur Tum Kehti Ho Hum Intezar Nahi Karte!
----------
Marne Ke Baad Bhi Meri Aankhein Khuli Rahin;
Aadat Jo Padh Gayi Thi Tere Intezar Kee!
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
Uske Intezar Ke Maare Hain Hum;
Bas Uski Yaadon Ke Sahare Hain Hum;
Duniya Jeet Kar Kya Karna Hai Ab;
Jise Duniya Se Jeeta Tha, Aaj Usi Se Haare Hain Hum!
----------
Intezar To Bahut Tha Humein Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaye Hi Aa Jaate Agar Hota Unhe Bhi Intezar Kabhi!
----------
Mat Intezar Karvao Humse Itna Ki Waqt Ke Faislon Pe Tumhe Bhi Afsos Ho Jaye;
Kya Pta Tum Baat Karne Aao Aur Tab Tak Humari Rooh Hi Khamosh Ho Jaye!
----------
Ab In Hudud Mein Laya Hai Intezar Mujhe;
Wo Aa Bhi Jayein To Aaye Na Aitabar Mujhe!

Translation:
Hudud = Limits, Boundries
~ Khumar Barabankvi
----------
Thak Thak Ke Band Hote Hain Chasme Intezar;
Aata Hai Sab Ko Khyal Tumhare Khyal Se!
~ Daagh Dehlvi
----------
Dil Mein Umeed Kee Shama Jala Rakhi Hai;
Humne Apni Alag Duniya Basa Rakhi Hai;
Iss Umeed Ke Saath Ki Aayega Kabhi Paigam Aapka;
Humne To Har Pal Darwaze Par Nazrein Tika Rakhi Hain!
----------
Intezar Rehta Har Shaam Tera;
Yaadein Katati Hain Le-Le Kar Naam Tera;
Muddat Se Baithe Hain Yeh Aas Paale Dil Mein;
Ki Aaj Aayega Koi Lekar Paigaam Tera!
----------
Roothi Hui Aankhon Mein Intezar Hota Hai;
Na Chahte Hue Bhi Pyar Hota Hai;
Kyun Dekhte Hain Hum Wo Sapne;
Jinke Tutne Par Bhi Unke Sach Hone Ka Intezar Hota Hai!
----------
Intezar To Bahut Tha Humein;
Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate;
Agar Hota Unhe Bhi Intezar Kabhi!
----------
Mohabbat Ka Imtihan Aasan Nahi;
Pyar Sirf Pane Ka Naam Nahi;
Muddatein Beet Jati Hain Kisi Ke Intezar Mein;
Ye Sirf Pal-Do-Pal Ka Kaam Nahi!
----------
Main Intezar Ka Qaayal Na Tha Magar Tum Ne;
Lagaa Diya Mujhe Deewaar Se Gharri Ki Tarah!
----------
Qaasid Ke Aatae Aatae Khat Ik Aur Likh Rakhoon;
Main Janta Hun Jo Woh Likhen Ge Jawaab Mein!
----------
Wafaa Mein Ab Yeh Hunar Ikhtiyaar Karna Hai;
Woh Sach Kahe Na Kahe Aitbaar Karna Hai;
Yeh Tujh Ko Jaagte Rehne Ka Shauq Kab Se Hua;
Mujhe To Khair Tera Intezaar Karna Hai!
----------
Un Ke Khat Ki Arzoo Hai, Un Ki Aamad Ka Khayal;
Kiss Qadar Phaila Hai Karobaar-e-Intezaar!
----------
Najane Kab Ka Pahunch Bhi Chuka Sar-e-Manzil;
Wo Shakhs Jis Ka Humein Intazar Raah Mein Hai!
----------
Palkon Pe Ruk Gaya Hai Samundar Khumaar Ka;
Kitnaa Ajab Nashaa Hai Tere Intezaar Ka!
----------
Phir Aaj Koi Gazal Tere Naam Na Ho Jaye;
Kahin Likhte Likhte Shaam Na Ho Jaye;
Kar Rahe Hain Intezaar Teri Mohabbat Ka;
Isi Intezaar Me Zindagi Tamam Na Ho Jaye!
----------
Ye Na Thi Hamari Kismat Ke Visaal-e-Yaar Hota;
Agar Aur Jeetey Rehtey, Yehi Intezaar Hota!
~ Mirza Ghalib
----------
Tamaam Raat Mere Ghar Ka Aik Dar Khulaa Raha;
Mein Raah Dekhti Rahi Woh Raasta Badal Geya!
~ Parveen Shakir
----------
Na Ishq Ka Izhaar Kiya, Na Thukra Sakke Humein Woh;
Hum Tamam Zindgi Mazloom Rahe, Unke Wada Mohabaat Ke!
~ JD Ghai
----------
Bikhra Pada Hai Tere Hi Ghar Mein Tera Wajood;
Bekaar Mehfilon Mein Tuje Dhoondhta Hun Mein!
~ Qateel Shifai
----------
Kuch Roz Yeh Bhi Rang Raha Intezar Ka;
Aankh Uth Gayi Jidhar Bas Udhar Dekhte Rahe!
~ Asar Lakhnavi
----------
Gazab Kiyaa, Tere Vaade Pe Aitabaar Kiyaa;
Tamaam Raat Qayaamat Kaa Intezaar Kiyaa!
~ Daagh Dehlvi
----------
Pahunchi Jis Waqt Khabar Uski Mujhe Aane Ki;
Sudh Rahi Mujh Ko Na Apne Ki Na Begane Ki!
~ Mirza Hassan
----------
Jo Ho Sake Toh Chale Aao Aaj Meri Taraf;
Mile Bhi Der Hui Aur Jee Bhi Udaas Hai!
~ Azeem Murtuza
----------
Jisne Haq Diya Muje Muskurane Ka;
Ushe Shauk Hai Ab Muje Rulane Ka;
Jo Lehron Se Cheen Kar Laya Tha Kinaro Par;
Intzar Ha Use Ab Mere Dub Jane Ka!
----------
Aap Ki Nigah Agar Meharban Ho Jae;
Main Jis Zameen Pe Hoon Woh Asman Ho Jai;
Hai Ab Bhi Aap Ko Shak Mere Dosti Par;
To Phir Ik Baar Mera Imtehaan Ho Jai!
----------
Wo Jo Hath Bhar Ka Tha Fansla, Kai Mausmon Main Badal Gya;
Useh Napte Useh Katte Mera Sara Waqt Guzar Gya!
----------
Jeene Ki Khwaish Mein Har Roz Marte Hain;
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hain;
Jutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada;
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hain!
----------
Itna Aitbaar To Apni Dhadkanon Par Bhi Humne Na Kiya;
Jitna Aapki Baaton Par Karte Hain;
Itna Intezar To Apni Saanson Ka Bhi Na Kiya;
Jitna Aapke Milne Ka Karte Hain!
----------
Ruthi Hui Aankhon Mein Intezar Hota Hai;
Na Chahte Hue Bhi Pyar Hota Hai;
Kyun Dekhte Hain Hum Wo Sapne;
Jinke Tutne Par Bhi Unke Sach Hone Ka Intezar Hota Hai!
----------
Intezaar To Bahut Tha Humein;
Lekin Aaye Na Woh Kabhi;
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate;
Agar Hota Unhe Bhi Intezaar Kabhi!
----------
Nazar Chahti Hai Didaar Karna;
Dil Chahta Hai Pyaar Karna;
Kya Batayein Iss Dil Ka Aaalam;
Naseeb Mein Likha Hai Intezar Karna!
----------
Jhonka Idhar Na Aae Naseem-E-Bahar Ka;
Naazuk Bagut Hai Phool Chiragh-E-Mazaar Ka;
Phir Baithe Baithe Waada-E-Wasl Us Ne Kar Liya;
Phir Uth Khara Hua Wohi Rog Intezaar Ka!
~ Amir Ahmed Amir Meenai
----------
Kab Tak Rahoge Aakhir Yun Duur Duur Hum Se;
Milna Padega Aakhir Ik Din Jarur Hum Se.

Daaman Bachhane Waale Yeh Berukhi Hai Kaisi;
Keh Do Agar Hua Hai Koi Kasur Hum Se.

Hum Chhod Denge Tum Se Yun Baat-Chit Karna;
Tum Puchhte Firoge Apna Kasoor Hum Se!
----------
Kab Tak Pyaar Ke Ek Pal Ka Intzaar Karna Hoga;
Kab Tak Iss Intzaar Ki Aag Mein Yunhi Jalna Hoga;
Mere Dil Se Abb Sabar Aur Na Hoga;
Akhir Kab Tak Tumhare Saath Ek Pal Jeene Ke Liye;
Mujhe Yunhi Pal Pal Marna Hoga!
----------
Aankhon Mein Basi Hai Pyaari Soorat Teri;
Aur Dil Mein Basa Hai Tera Pyaar;
Chahe Tu Kabool Kare Ya Na Kare;
Humein Rahega Tera Intezaar!
----------
इंतजार अक्सर वही अधूरे रह जाते हैं;
जो बहुत शिद्दत से किए जाते हैं!
----------
यकीन है कि ना आएगा मुझसे मिलने कोई;
तो फिर ये दिल को मेरे इंतज़ार किसका है!
----------
इंतजार अक्सर वही अधूरे रह जाते हैं;
जो बहुत शिद्दत से किए जाते हैं!
----------
ऐ पलक तू बंद हो जा;
ख्बाबों में उसकी सूरत तो नजर आयेगी;
इंतज़ार तो सुबह दोबारा शुरू होगा;
कम से कम रात तो खुशी से कट जायेगी!
----------
कब उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुज़र रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
एहसास-ए-मोहब्बत के लिए बस इतना ही काफी है;
तेरे बगैर भी हम, तेरे ही रहते हैं!
इंतजार / इश्क
मुझे तो आज पता चला कि मैं किस क़दर तनहा हूँ;
पीछे जब भी मुड़ कर देखता हूँ तो मेरा साया भी मुँह फेर लेता है।
----------
कब उनकी आँखों से इज़हार होगा,
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा,
गुज़र रही हे रात उनकी याद में,
कबि तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
वो आ रहे हैं वो आते हैं आ रहे होंगे,
शब-ए-फ़िराक़ ये कह कर गुज़ार दी हम ने।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझ से मिलने के,
न दिल ठहरता है न इंतज़ार रुकता है।
----------
है ख़ुशी इंतज़ार की हर दम,
मैं ये क्यों पूछूं कब मिलेंगे आप।
~ Nizam Rampuri
----------
मोहब्बत वो हसीं गुनाह है जो हर इंसान ख़ुशी ख़ुशी करता है,
मोहब्बत में इंतज़ार वो सज़ा है जो वही सहता है जो सच्ची मोहब्बत करता है।
----------
टूट गया दिल पर अरमां वही है;
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है;
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे;
फिर भी इन आँखों में इंतज़ार वही है।
----------
भरे हैं काँटों से रास्ते सारे, मगर फिर भी हम चले जा रहे हैं;
भूल गया है कोई अपना हमें, मगर हम उन्हें याद किये जा रहे हैं;
आयेंगे एक बार वो फिर ये उम्मीद है;
इसी उम्मीद के सहारे हम बस जिए जा रहे हैं।
----------
जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं;
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं;
झूठा ही सही मेरे यार का वादा;
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं।
----------
कोई शाम आती है आपकी याद लेकर;
कोई शाम जाती है आपकी याद देकर;
हमें तो इंतज़ार है उस हसीन शाम का;
जो आये कभी आपको साथ लेकर।
----------
पल-पल इंतज़ार किया एक पल के लिए;
वो पल आया भी तो एक पल के लिए;
अब तो हर पल इंतज़ार है उस पल के लिए;
कि वो पल आये फिर से एक पल के लिए।
----------
किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों होती है;
जो नहीं मिलता उसी से मोहब्बत क्यों होती है;
कितने खाएं हैं धोखे इस मोहब्बत की राहों में;
फिर भी आँखें उसी के इंतज़ार में क्यों रोती हैं।
----------
वफ़ा में अब यह हुनर इख़्तियार करना है;
वो सच कहें या ना कहें बस ऐतबार करना है;
यह तुझको जागते रहने का शौंक कबसे हो गया;
मुझे तो खैर बस तेरा इंतज़ार करना है।
----------
चले भी आओ तसव्वुर में मेहरबां बनकर;
आज इंतज़ार तेरा, दिल को हद से ज्यादा है!
----------
ना जाने कब तक ये आँखें उसका इंतज़ार करेंगी;
उसकी याद में कब तक खुद को बेक़रार करेंगी;
उसे तो एहसास तक नहीं इस मोहब्बत का यारो;
ना जाने कब तक यह धड़कन उसका ऐतबार करेगी।
----------
बेवफाई का डर था तो प्यार क्यों किया;
तनहाई का डर था तो इकरार क्यों किया;
मुझसे मौत भी पूछेगी आने से पहले;
कि जब पता था वो नहीं आने वाले;
फिर भी तुमने उनका इंतजार क्यों किया।
----------
उसके इंतज़ार के मारे हैं हम;
बस उसकी यादों के सहारे हैं हम;
दुनिया जीत के करना क्या है अब;
जिसे दुनिया से जीतना था उसी से हारे हैं हम।
----------
जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं;
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं;
झूठा ही सही मेरे यार का वादा;
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं।
----------
ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें;
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें;
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें;
अब इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें।
----------
आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद;
आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह;
लाख ये चाहा कि उसे भूल जायेँ पर;
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह।
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबु है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल करता है आखिरी सांस तक उसका इंतज़ार करूँ।
----------
नज़रें मेरी थक न जायें कहीं तेरा इंतज़ार करते-करते;
यह जान मेरी यूँ ही निकल ना जाये तुम से इश्क़ का इज़हार करते-करते।
----------
कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर;
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर;
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह;
बस एक इंतज़ार है साथ, सहारा बनकर।
----------
नज़रें मेरी कहीं थक न जायें;
बेवफा तेरा इंतज़ार करते-करते;
ये जान यूँ ही निकल न जाये;
तुम से इश्क़ का इज़हार करते-करते।
----------
इतना इंतज़ार तो अपनी धड़कनों पर भी हमने न किया;
जितना आपकी बातों पर करते हैं;
इतना इंतज़ार तो अपनी साँसों का भी न किया;
जितना आपके मिलने का करते हैं।
----------
देर लगी आने में तुमको, शुक्र है फिर भी आये तो;
आस ने दिल का साथ न छोड़ा, वैसे हम घबराये तो।
----------
तेरे इंतजार मे कब से उदास बैठे हैं;
तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे हैं;
तू एक नज़र हम को देख ले बस;
इस आस में कब से बेकरार बैठे हैं।
----------
मौत पर भी है यकीन उन पर भी ऐतबार है;
देखते हैं पहले कौन आता है दोनों का इंतजार है।
----------
कितना समझाया इस दिल को कि तू प्यार ना कर;
किसी के लिए ख़ुद को तू बेकरार ना कर;
वो तेरा नही बन सकता, किसी और की अमानत का तू इंतज़ार ना कर।
----------
इस इंतज़ार की घडी को, पल-पल की बेक़रारी को लफ़्ज़ों में बयां कैसे कर दूँ;
मखमली एहसाँसों को, रेशमी जज़्बातों को अल्फ़ाज़ों में बयां कैसे कर दूँ।
----------
पलट के आएगा वो मैं इंतज़ार करती हूँ;
कसम खुदा की उसे अब भी प्यार करती हूँ;
मैं जानती हूँ कि ये सब दर्द देते हैं मगर;
मैं अपनी चाहतों पे आज भी ऐतबार करती हूँ।
----------
जीने के लिए तेरी याद ही काफी है;
इस दिल में बस अब आप ही बाकी है;
आप तो भूल गए हो हमें अपने दिल से;
लेकिन हमें आज भी आपकी तालाश बाकी है।
----------
पंखों को खोल कि ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है​​​​​;​​
​यूँ जमीन पर बैठकर, आसमान क्या देखता है​... ​
----------
तुम आओ कभी दस्तक तो दो दर-ए-दिल पर;
प्यार पहले से कम हो तो सज़ा-ए-मौत दे देना।
----------
मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बत की कसम;
अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार में।
----------
रात को जब चाँद सितारे चमकते हैं;
हम हरदम फिर तेरी याद में तड़पते हैं;
आप तो चले गए हो छोड़कर हम को;
मगर हम मिलने को तरसते है।
----------
आप सागर को एक बार मिल जाईए;
इसकी मौत के आने से पहले;
यह भी एक बार देख ले ज़िंदगी अपनी;
इस ज़िंदगी को गँवाने से पहले।
----------
तड़पती है आज भी रूह आधी रात को;
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को;
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे;
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।
----------
उम्रे-दराज़ मांग कर लाये थे चार दिन;
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार में।
----------
दिल को किसी आहट की आस रहती है;
निगाहों को किसी सूरत की प्यास रहती है;
तेरे बिना ज़िंदगी में कोई कमी तो नहीं;
लेकिन फिर भी तेरे बिना ज़िदगी उदास रहती है।
----------
ये ना थी हमारी किस्मत कि विशाल-ए-यार होता;
अगर और जीते रहते, यही इंतज़ार होता।
~ Mirza Ghalib
----------
मिट जाएगी मख्लूक़ तो इंसाफ करोगे;
मुनासिब हो अगर तो हशर उठा क्यों नहीं देते।
~ Ahmad Faraz
----------
हम उनको मनाने जायेंगे, उनकी उम्मीद ग़ज़ब की है;
वे खुद चलकर आयेंगे, हमारी भी जिद्द ग़ज़ब की है।
----------
उदास आँखों में करार देखा है;
पहली बार उसे इतना खुश और बेक़रार देखा है;
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की;
उसकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है।
----------
तू पास भी हो तो दिल बेक़रार अपना है;
कि हमको तेरा नहीं, इंतज़ार अपना है।
~ Ahmad Faraz
----------
कौन आता है मगर आस लगाए रखना;
उम्र भर दर्द की शमाओं को जलाए रखना।
~ Ahmad Faraz
----------
​वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई;
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई;
लगता है वापिस अभी लौट आएगी;
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।
----------
जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता;
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता;
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त;
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।
----------
​एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;​
​जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;​
​​मैं जो जिंदगी हूँ तो वो भी हैं ​​अना का कैदी;​
​​मेरे कहने पर कहाँ उसने चले आना है।​
----------
​हमने ये शाम चराग़ों से सजा रक्खी है;​​
​आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
​हवा टकरा रही है शमा से बार-बार;​​
​और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रक्खी है।
----------
वो कह कर गया था मैं लौटकर आउंगा;
मैं इंतजार ना करता तो क्या करता;
वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से;
मैं एतबार ना करता तो क्या क्या करता।
----------
रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने;
अपनी आँखों को 'तेरे ख्वाब' का लालच देकर।
----------
जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे;
याद उन्हे दिन रात किया करते थे;
अब उन राहों से गुजरा नही जाता;
जहाँ बैठ कर उनका इंतज़ार किया करते थे।
----------
तुम को फुर्सत जो कभी मिल जाए;
तो खुद से मुझको निजात दे देना।
----------
कुछ रोज़ यह भी रंग रहा तेरे इंतज़ार का;
आँख उठ गई जिधर बस उधर देखते रहे।
~ Asar Lucknowi
----------
जो हो सके तो चले आओ आज मेरी तरफ़;
मिले भी देर हो गई और जी भी उदास है।
~ Azeem Murhujha
----------
अजीब सी कशिश हैं तुम में;
कि हम तुम्हारे ख्यालों में खोये रहते है;
ये सोचकर कि तुम ख्यालों में आओगे;
हम दिन रात बस सोए रहते है।
----------
तुम मिलो ना मिलो मिलने का गम नहीं;
तुम पास से निकल जाओ तो मिलने से कम नहीं;
माना कि तुम्हे कद्र नहीं हमारी;
पर उनसे पूछों जिन्हें हम हांसिल नहीं।
----------
आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है;
आपकी याद बहुत बेक़रार कराती है;
जाते-जाते कहीं भी मुलाकात हो जाए आपसे;
तलाश आपको ये नज़र बार-बार करती है।
----------
जब भी खुदा को याद किया नज़र तु ही आया;
ये मेरे दीवाने पन के लिए तेरे दीदार की हद थी;
हम तो मर गये मगर खुली रही आँखे हमारी;
बेवफा तु नहीं आया ये तेरे इंतज़ार की हद थी।
----------
ग़जब किया तेरे वादे पे एतबार किया;
तमाम रात किया क़यामत का इंतज़ार किया।
~ Daagh Dehlvi
----------
मेरी यह ज़िन्दगी है कि मरना पड़ा मुझे;
इक और ज़िन्दगी की तम्मना लिए हुए।
~ Hafeez Jalandhari Araman
----------
एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर भी हर मोड़ पर उसी का इंतज़ार क्यों है!
----------
कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतज़ार है;
जुदाई के बाद भी तुमसे प्यार है;
तेरे चेहरे की उदासी बता रही है;
मुझसे मिलने के लिये तू भी बेकरार है!
----------
उसने कहा अब किसका इंतज़ार है;
मैंने कहा अब मोहब्बत बाकी है;
उसने कहा तू तो कब का गुजर चूका है 'मसरूर';
मैंने कहा अब भी मेरा हौसला बाकी है!
----------
एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है!
----------
होंठ कह नहीं सकते जो फ़साना दिल का;
शायद नज़रों से वो बात हो जाए;
इस उम्मीद से करते हैं इंतज़ार रात का;
कि शायद सपनों में ही मुलाक़ात हो जाए!
----------
आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी;
और दिल में बसा है तेरा प्यार;
चाहे तू कबूल करे या ना करे;
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार!
----------
जिंदगी हसीना है जिंदगी से प्यार करो;
है अंधेरा तो क्या हुआ, उजाले का इंतज़ार करो;
वो पल भी आएगा जिसका इंतज़ार है आपको;
रब पर भरोसा और वक़्त पर ऐतबार करो!
----------
कब उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुज़र रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे;
याद उन्हें दिन रात किया करते थे;
अब उन राहों से गुजरा नहीं जाता;
जहाँ बैठकर उनका इंतज़ार किया करते थे!
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
यादें काटती हैं ले-ले के नाम तेरा;
मुद्दत से बैठे हैं तेरे इंतज़ार में;
कि आज आयेगा कोई पैगाम तेरा!
----------
यादों का ये कारवा हमेशा रहेगा;
दूर जाते हुए ही प्यार वही रहेगा;
मत कहना मिल नहीं सके आपसे;
यकीन रखना आँखों में इंतज़ार वही रहेगा!
----------
ज़ख्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें;
हम खुद निशान बन गए वार क्या करें;
मर गए हम मगर खुलो रही आँखें;
अब इससे ज्यादा इंतज़ार क्या करें!
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बतायें इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतजार करना।
----------



बहुत नाराज़ है, कोई शख्स तेरे जाने से;
हो सके तो तू लौट आ, किसी बहाने से;
तू लाख खफा सही मगर एक बार तो देख;
कोई टूट गया है, तेरे दूर जाने से।
----------
किस्मत ने तुमसे दूर कर दिया;
अकेलेपन ने दिल को मज़बूर कर दिया;
हम भी ज़िंदगी से मुँह मोड़ लेते मगर;
तुम्हारे इंतज़ार ने जीने पर मज़बूर कर दिया।
----------
बड़ा अरमान था तेरे साथ जीवन बिताने का;
शिकवा है बस तेरे खामोश रह जाने का;
दीवानगी इससे बढ़कर और क्या होगी;
आज भी इंतज़ार है बस तेरे आने का।
----------
किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों होती है;
जो नहीं मिलता उसी से मोहब्बत क्यों होती है;
कितने खाएं हैं धोखे इस मोहब्बत की राहों में;
फिर भी आँखें उसी के इंतज़ार में क्यों रोती हैं।
----------
रोज़ तेरा इंतज़ार होता है;
रोज़ यह दिल बेक़रार होता है;
काश कि वो समझ सकते;
कि चुप रहने वालों को भी किसी से प्यार होता है।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बताएं इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना।
----------
आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं;
हर वक़्त आपको ही बस याद करती हैं;
जब तक ना कर लें दीदार आपका;
तब तक वो आपका इंतज़ार करती हैं।
----------
इंतज़ार तो बहुत था हमें;
लेकिन आये ना वो कभी;
हम तो बिन बुलाये ही आ जाते;
अगर होता उन्हें भी इंतज़ार कभी।
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
यादें कटती हैं ले ले कर नाम तेरा;
मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले;
कि कभी तो आएगा कोई पैगाम तेरा।
----------
दिल में इंतज़ार की लकीर छोड़ जायेंगे;
आँखों में यादों की नमी छोड़ जायेंगे;
ढूंढ़ते फिरोगे हमें हर जगह एक दिन;
ज़िन्दगी में ऐसी अपनी कमी छोड़ जायेंगे।
----------
किस्मत ने तुमसे दूर कर दिया;
अकेलेपन ने दिल को मज़बूर कर दिया;
हम भी ज़िंदगी से मुँह मोड़ लेते मगर;
तुम्हारे इंतज़ार ने जीने पर मज़बूर कर दिया।
----------
बिन आपके कुछ भी अच्छा नहीं लगता;
अब मेरा वजूद भी सच्चा नहीं लगता;
सिर्फ आपके इंतज़ार में कट रही है ये ज़िंदगी;
वरना अब तक तो मौत के आगोश में सो जाती ये ज़िंदगी।
----------
लम्हा-लम्हा इंतज़ार किया उस लम्हे के लिए;
और वो लम्हा आया भी तो बस एक लम्हे के लिए;
गुज़ारिश है यह खुदा से कि काश;
वो लम्हा फिर से मिल जाये बस एक लम्हे के लिए।
----------
भले ही राह चलते तू औरों का दामन थाम ले;
मगर मेरे प्यार को भी तू थोड़ा पहचान ले;
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में मैंने;
ज़रा इस दिल की बेताबी को भी तू जान ले।
----------
कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर;
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर;
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह;
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर।
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबु है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल चाहता है आखिरी सांस तक उसका इंतज़ार करूँ।
----------
उस अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर भी चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है।
----------
आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं;
हर वक़्त आपको ही तो याद करती हैं;
जब तक देख न लें चेहरा आपका;
तब तक हर घडी आपका इंतज़ार करती हैं।
----------
नज़र चाहती है उनका दीदार करना;
दिल चाहता है उनसे प्यार करना;
क्या बतायें है इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है बस इंतज़ार करना।
----------
भले ही राह चलतों का दामन थाम ले;
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले;
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में;
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
रातें कटती हैं लेकर नाम तेरा;
मुद्दत से बैठा हूँ पाल के ये आस;
कभी तो आएगा कोई पैग़ाम तेरा।
----------
इंतज़ार की आरज़ू अब खो गई है;
खामोशियों की आदत सी हो गई है;
ना शिकवा रहा ना शिकायत किसी से;
अगर है तो एक मोहब्बत जो इन तनहाइयों से हो गई है।
----------
तड़प कर देखो किसी की चाहत में;
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है;
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो;
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है।
----------
इंतज़ार तो बहुत था हमें;
लेकिन आये न वो कभी;
हम तो बिन बुलाये भी आ जाते;
अगर होता उन्हें भी इंतज़ार कभी।
----------
पलट के आयेगी वो, मैं इंतज़ार करता हूँ;
क़सम खुदा की, उसे अब भी प्यार करता हूँ;
मैं जानता हूँ कि ये सब दर्द देते हैं मगर;
मैं अपनी चाहतों पे आज भी ऐतबार करता हूँ।
----------
तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं;
तेरा दीदार करने की चाह जगी है;
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता;
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में;
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बतायें इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना।
----------
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबू है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल करता है आखिरी साँस तक उसका इंतज़ार करूँ।
----------
आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं;
हर वक़्त आपको ही याद करती हैं;
जब तक न देख लें आपको;
तब तक बस आप ही का इंतज़ार करती हैं।
----------
क्यों कोई मेरा इंतज़ार करेगा;
अपनी ज़िंदगी मेरे लिए बेकार करेगा;
हम कौन सा किसी के लिए ख़ास हैं;
क्या सोच कर कोई हमें याद करेगा।
----------
मत इंतज़ार कराओ हमे इतना;
कि वक़्त के फैसले पर अफ़सोस हो जाये;
क्या पता कल तुम लौटकर आओ;
और हम खामोश हो जाएँ।
----------
हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है;
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार;
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।
----------
यादों से तेरी हम प्यार करते हैं;
100 जन्म भी तुझ पर निसार करते हैं;
फुर्सत मिले तो आ जाना मेरी ज़िंदगी में;
उसी पल का तो हम दिन रात इंतज़ार करते हैं।
----------
कुछ दिन से मेरे सामने आते नहीं हो तुम;
आँखों में नूर बन के समाते नहीं हो तुम;
सो रहा है गहरी नींद में एक उम्र से;
इस बे-खबर को आ कर जगाते नहीं हो तुम।
----------
इश्क़ कर देता है बेक़रार;
भर देता है पत्थर के दिल में प्यार;
हर एक को नहीं मिलती ज़िंदगी की यह बहार;
क्योंकि इश्क़ का दूसरा नाम है इंतज़ार।
----------
खुद एक बार उसे यह एहसास दिला दे;
कितना इंतज़ार है ज़रा उसे बता दे;
हर पल देखते हैं रास्ता उसी का;
ना इंतज़ार करना पड़े, मुझे ऐसी नींद सुला दे।
----------
इश्क़ किया तुझसे मेरे ऐतबार ही हद्द थी;
इश्क़ में दे दी जान मेरे प्यार की हद्द थी;
मरने के बाद भी खुली थी आँखें;
यह मेरे इंतज़ार की हद्द थी।
----------
मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं;
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं;
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में;
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।
----------
फासला मिटा कर आपस में प्यार रखना;
हमारा यह रिश्ता हमेशा बरकरार रखना;
बिछड़ जाएं कभी आप से हम;
आँखों में हमेशा मेरा इंतज़ार रखना।
----------
सूखी पत्ती से भी प्यार करेंगे;
हम तुम पर ऐतबार कर लेंगे;
एक बार कह दो तुम हमारे हो;
हम सारी ज़िंदगी इंतज़ार कर लेंगे।
----------
क़यामत तक तुझे याद करेंगे;
तेरी हर बात पर ऐतबार करेंगे;
तुझे लौट कर आने को तो नहीं कहेंगे;
पर फिर भी तेरे आने का इंतज़ार करेंगे!
----------
उस नज़र को मत देखो;
जो आपको देखने से इनकार करती है;
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो;
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।
----------
तुम लौट के आयोगे हम से मिलने;
रोज दिल को बहलाने की आदत हो गई;
तेरे वादे पे क्या भरोसा किया;
हर शाम तेरा इंतज़ार करने की आदत हो गई।
----------
जिस के इक़रार का इंतज़ार था मुझे;
जाने क्यों उस से इतना प्यार था मुझे;
ऐ ख़ुदा आ ही गया वो हसीं पल;
जब उसने कहा तुमसे बहुत प्यार है मुझे।
----------
तड़प के देखो किसी की चाहत में;
तो पता चले कि इंतज़ार क्या होता है;
यूँ ही मिल जाये अगर कोई बिना तड़पे;
तो कैसे पता चले के प्यार क्या होता है!
----------
मिलने की ख़ुशी ना बिछड़ने का गम;
ना तन्हा, ना उदास हैं हम;
कैसे कहें कैसे हैं हम;
बस यूँ समझ लो बहुत अकेले हैं हम।
----------
आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी;
और दिल में बसा है तेरा प्यार;
चाहे तू कबूल करे या ना करे;
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार।
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बताएं इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना।
----------
तुझे देखना चाहती हूँ हर पल;
शायद तुझसे बहुत प्यार करती हूँ;
कल तक तो तुझे जानती भी न थी;
आज तेरा इंतज़ार करती हूँ।
----------
यादों का यह कारवां हमेशा रहेगा;
दूर जाते हुए भी प्यार वही रहेगा;
माफ करना मिल नहीं सके आपसे;
यकीन रखना अँखियों में इंतज़ार वही रहेगा।
----------
हर शाम से तेरा इज़हार किया करते हैं;
हर ख्वाब में तेरा दीदार किया करते हैं;
दीवाने ही तो हैं हम तेरे ओ हम नशीब;
हर वक़्त तेरे मिलने का इंतज़ार किया करते हैं।
----------
इश्क कर देता है बेकरार;
भर देता है पत्थर के दिल में प्यार;
हर एक को नहीं मिलती जिंदगी की ये बहार;
क्योंकि इश्क का दूसरा नाम है इंतजार।
----------
जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे;
याद उन्हें दिन-रात किया करते थे;
अब उन राहों से गुजरा नहीं जाता;
जहाँ बैठकर उनका इंतज़ार किया करते थे।
----------
तेरे इंतज़ार में छोड़ा दुनिया का साथ;
तेरे इंतज़ार में छोड़ा अपनों का साथ;
जब तुझे जाना ही था तो क्यों दिया वादों का साथ;
रह गया अब मैं बस अपने ग़मों के साथ।
----------
यादों में तेरी तन्हा बैठे;
हैं तेरे बिना लबों की हंसी;
गवा बैठे हैं तेरी दुनिया में;
अँधेरा न हो इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं।
----------
नज़रों को तेरी मोहब्बत से इंकार नहीं है;
अब मुझे किसी का इंतजार नहीं है;
खामोश अगर हूँ ये अंदाज है मेरा;
मगर तुम ये नहीं समझना कि मुझे प्यार नहीं है।
----------
सब आपकी आँखों से जहाँ देख रहा हूँ;
मैं आपकी नज़रों में जहाँ देख रहा हूँ;
तू ढूढ़ रही होगी मुझको वहां पर;
और मैं यहाँ पर कब से तेरी राह देख रहा हूँ।
----------
बड़ा अरमान था तेरे साथ जीवन बिताने का;
शिकवा है बस तेरे खामोश रह जाने का;
दीवानगी इससे बढ़कर और क्या होगी?
आज भी इंतज़ार है तेरे आने का!
----------
कब उनकी आँखों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुजर रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।
----------
इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा;
यादें कटती हैं ले-ले कर नाम तेरा;
मुद्दत से बैठे हैं ये आस पाले कि;
आज आयेगा कोई पैगाम तेरा।
----------
कब तक इंतज़ार करूँ मैं तेरा;
अब इंतज़ार नहीं होता;
तूने जो दिल न लगाया होता तो;
मेरा ये हाल न होता।
----------
कभी उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुजर रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
----------
तेरे इंतज़ार में यह नजरें झुकी हैं;
तेरा दीदार करने की चाह जगी है;
ना जानू तेरा नाम ना तेरा पता;
ना जाने क्यों इस पागल दिल में एक अनजानी सी बेचैनी जगी है।
----------
कोई क्यों मेरा इंतज़ार करेगा;
अपनी जिंदगी मेरे लिए बेकार करेगा;
हम कौन से, किसी के लिए ख़ास हैं;
क्या सोचकर कोई हमें याद करेगा!
----------
इंतज़ार हमसे होता नहीं;
इज़हार में ज़माना लगेगा;
मेरे इश्क को तुम क्या जानो;
प्यार में तो परवाना ही जलेगा!
----------
प्यार उसे करो जो तुमसे प्यार करे;
खुद से भी ज्यादा तुम पे ऐतबार करे;
तुम बस एक बार कहो कि रुको दो पल;
और वो उन दो पलों के लिए पूरी जिंदगी इंतज़ार करे!
----------
नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बताऊं इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतजार करना।
----------
इंतज़ार की आरजू अब खो गई है;
खामोशियों की आदत सी हो गई है;
ना शिकवा रहा ना सिकायत किसी से;
अगर है तो एक मोहब्बत;
जो इन तनहाइयों से हो गई है।
----------
चाँद सितारों से तेरी बात करते हैं;
तनहाईयों में तुझे याद करते हैं;
तुम आओ या ना आओ मर्ज़ी तुम्हारी;
हम तो हरपल तुम्हारा इंतजार करते हैं।
----------
आजा अभी सर्दी का मौसम नहीं गुजरा;
पहाड़ों पर अभी भी बर्फ जमी है;
सब कुछ तो है मेरे पास;
सिर्फ एक तेरी कमी है।
----------

रोती हुई आँखो मे इंतज़ार होता है;
ना चाहते हुए भी प्यार होता है;
क्यों देखते हैं हम वो सपने;
जिनके टूटने पर भी उनके सच होने का इंतज़र होता है!
----------
बस तेरी यादों से ही है तारीफ मेरी;
वर्ना ये सारा जहान तो मुझे अजनबी सा लगता है!
----------
बता नराज है, कोई सख्श तेरे जाने से;
हो सके तो तु लौट आ, किसी बहाने से;
तु लाख खफा सही मगर एक बार तो देख;
कोई टूट गया है, तेरे दूर जाने से!
----------
कोशिश कीजिये हमें याद करने की;
लम्हें तो अपने आप ही, मिल जायेंगे;
तमन्ना कीजिये हमें मिलने की;
बहाने तो अपने आप ही, मिल जायेंगे!
----------
दूर ही सही मगर तुझसे प्यार तो है;
तेरे ईन्कार के बाद भी इंतज़ार तो है!
अगर आसान होता भूलना, तो भूल जाते;
पर आज भी ये दिल बेक़रार तो है!
----------
तेरे इन्तजार में हुई सुबह से शाम;
तेरी चाहत में हुआ ये दिल बे-लगाम;
तुझे पाने की आरजू मेरी जल्द हो पूरी;
कि होंठों पे आता है सिर्फ तेरा ही नाम!
----------
एक मुस्कान तू मुझे एक बार दे दे;
ख्वाब में ही सही, एक दीदार दे दे!
बस एक बार कर ले तू आने का वादा;
फिर उम्र भर का चाहे इंतज़ार दे दे!
----------
मेरी नज़रों में जो खुमार है उसका ही है;
मेरे तस्सवुर में जो हिसार है उसका ही है;
वो मेरे पास आये, साथ चले रहे न रहे;
मुझे तो बस अब इंतज़ार उसका ही है!
----------
मिट्टी मेरी कब्र से चुरा के जा रहा है कोई;
मर कर भी बहुत याद आ रहा है कोई;
ए खुदा एक पल की ज़िन्दगी और दे दे मुझे;
उदास मेरी कब्र से होकर जा रहा है कोई!
----------
तड़प के देखो किसी की चाहत में;
तो पता चले कि इंतज़ार क्या होता है;
यूँ ही मिल जाये अगर कोई बिना तड़पे;
तो कैसे पता चले के प्यार क्या होता है!
----------
फासले मिटा कर आपस में प्यार रखना;
दोस्ती का ये रिश्ता हमेशा बरकरार रखना;
बिछड़ जाए कभी आपसे हम;
आँखों में हमेशा हमारा इंतज़ार रखना!
----------