Husn shayari

Abhi Kamsin Ho, Rehne Do, Kahin Kho Dogi Dil Mera;
Tumhare Hi Liye Rakha Hai, Le Jaana Jawaan Ho Kar!
~ Mohsin Naqvi
----------
Fir Teri Nigahon Ko Aaina Banaya Hai;
Le Dekh Fir Muddaton Baad Ye Husn Nikhar Aaya Hai!
----------
Zidd Bhi Ki Dil Ne To Ishq Karne Ki;
Aaj Kehta Hai Ki Tune Mujhe Roka Bhi Nahi!
----------
Aafat To Hai Woh Naaz Bhi, Andaz Bhi Lekin;
Marta Hun Main Jis Par, Woh Ada Aur Hi Kuch Hai!
~ Ameer Minai
----------
Husn Ki Chahat Mein Ishq Ko Humne Thukra Diya;
Husn Ne Yehi Silsila Hamari Zindagi Mein Dohra Diya!
~ JD Ghai
----------
Meri Nigah-E-Shauq Bhi Kuch Kam Nahi Magar,
Phir Bhi Tera Shabab Tera Hi Shabab Hai!
~ Jigar Moradabadi
----------
Koi Aag Jaise Kohre Mein Dabi Dabi Si Chamke;
Teri Jhilmilati Aankhon Mein Ajeeb Sa Samaa Hai!
----------
Tu Dekh Ya Na Dekh, Tere Dekhne Ka Gham Nahi;
Par Teri Ye Na Dekhne Kee Ada Dekhne Se Kam Nahi!
----------
Sirf Aankhon Ko Dekh Ke Kar Li Unse Mohabbat;
Chhod Diya Apne Muqaddar Ko Uske Naqaab Ke Peeche!
----------
Chaand Sa Jab Kaha To Gila Karne Lage;
Bole, Chaand Kahiye Na, Chaand Saa Kya Hai!
----------
Tere Deedar Pe Agar Mera Ikhtiyar Hota,
Yeh Roz Roz Hota Aur Baar Baar Hota!
----------
Badi Aarzoo Thi Mohabbat Ko Benaqab Dekhne Ki,
Dupatta Jo Sarka To Zulfein Deewar Ban Gayi!
----------
Naqab To Unka Sir Se Lekar Paanv Tak Tha,
Magar Aankhein Bayaan Kar Rahi Thi Ki Mohabbat Ki Shaukeen Wo Bhi Thi!
----------
Khushbu Bikharti Hui Gulab Ki Kali Ho,
Titli Si Udti Hui Naazo Se Pali Ho,
Sangmarmari Badan Liye Sancho Mein Dhali Ho,
Kitno Ko Loot Liya Tum Wo Manchali Ho!
----------
Tarasha Hai Unko Badi Fursat Se,
Zulfein Jo Unki Badaal Ki Yaad Dila Den;
Nazar Bhar Dekh Le Jo Wo Kisi Ko,
Kisi Nekdil Insaan Ki Bhi Niyat Bigad Jaye!
----------
Agar Teri Nazar Qatal Karne Mein Hai Maahir To Sun,
Hum Bhi Mar-Mar Kar Jeene Mein Ustaad Ho Gaye Hain!
----------
Unke Husn Ka Aalam Na Puchiye,
Bas Tasveer Ho Gaya Hun Tasveer Dekh Kar!
----------
Jalve Machal Pade To Sahar Ka Gumaan Hua,
Zulfein Bikhar Gayi To Siyaah Raat Ho Gayi!
----------
Husn Walon Ko Kya Zaroorat Hai Sanwarne Ki,
Wo To Saadgi Mein Bhi Qayamat Ki Ada Rakhte Hain!
----------
Jheel Achhi, Kanwal Achha Ki Jaam Achha Hai,
Teri Aakhon Ke Liye Kaun Sa Naam Achha Hai!
----------
Khwab Hi Mein Nazar Aa Jaye Shab-e-Hijar Kahin,
So Mujhe Hasrat-e-Deedar Ne Sone Na Diya!
~ Imam Bakhsh Nasikh
----------
Zindagi Bahut Khoobsurat Hai Sab Kehte Hain,
Jis Din Tujhe Dekha Yakeen Aa Geya!
----------
Jalwon Kee Sazishon Ko Na Rakho Hijab Mein;
Ye Bijliyan Hain Ruk Na Sakengi Naqab Mein!
----------
Qatil Teri Adaaon Ne Loota Hai;
Mujhe Teri Jafaaon Ne Loota Hai;
Shaunk Nahi Tha Mujhe Mar-Mitne Ka;
Mujhe To In Nashili Nigahon Ne Loota Hai!
----------
Husn Dekha Jo Buton Ka To Khudaa Yaad Aaya;
Raah Kaabe Kee Mili Hai Mujhe But-Khaane Se!

Meaning:
Buton - Idols
But-Khane - Temples, Abode of idols
~ Jaleel Manikpuri
----------
Chand Sa Tera Masoom Chehra Tu Haya Kee Ek Murat Hai;
Tujhe Dekh Ke Kaliyan Bhi Sharmaye Tu Itni Khoobsurat Hai!
----------
Zikr Jab Chhid Geya Qayamat Ka;
Baat Pahunchi Teri Jawani Tak!
~ Fani Badayuni
----------
Jaise Meri Nigaah Ne Dekhaa Na Ho Kabhi;
Mehsoos Ye Hua Tujhe Har Baar Dekh Kar!
~ Shad Azeembadi
----------
Fizao Ka Mausam Jaane Ke Baad Baharo Ka Mausam Aaya;
Gulab Se Gulab Ka Rang Tere Gaalon Par Aaya;
Tere Naino Ne Kaali Ghata Ka Jab Kajal Lagaya;
Jawani Jo Tum Par Aayi To Nasha Meri Aankhon Mein Aaya!
----------
Aise Chhupne Se Na Chhupna Hi Tha Behtar Tera;
Tu Hai Parde Mein Magar Zikr Hai Ghar Ghar Tera!
~ Jaleel Manikpuri
----------
Jab Samne Hote Ho Tum, Na Jane Kyon Hosh Kho Dete Hain Hum;
Milti Hai Nazar Jab-Jab Tumse, Kasam Khudaa Kee Khudaa Ko Bhi Bhool Jaate Hain Hum!
----------
Tujhse Ru-b-Ru Hokar Baatein Karu;
Nigahein Milakar Wafa Ke Vaade Karu;
Thaam Kar Tera Hath Baith Jaun Tere Samne;
Teri Haseen Surat Ke Nazare Karu!
----------
Parda-e-Lutf Mein Ye Zulm-o-Sitam Kya Kahiye;
Haye Zalim Tera Andaz-e-Karam Kya Kahiye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Jab Achanak Kabhi Unka Deedar Hota Hai;
Dil Mein Dhimi Si Dhandkan Ruk Jati Hai;
Itni Khoobsurat Hain Aankhein Unki;
Ki Nazar Milate Hi Nazar Jhuk Jati Hai!
----------
Ho Na Jaye Gustakhi Husn Kee Shaan Mein;
Chale Jao Tumhein Dekh Ke Bahut Pyaar Aata Hai!
----------
Taras Gaye Aap Ke Deedar Ko;
Phir Bhi Dil Aap Hi Ko Yaad Karta Hai;
Humse Khush Naseeb To Hai Aapke Ghar Ka Aaina;
Jo Har Roz Aapke Husn Ka Deedar Karta Hai!
----------
Haathon Mein Ulfat Ka Naam Hota Hai;
Aankhon Mein Chalkta Jaam Hota Hai;
Khanjar Kee Jarurat Hai Yahan Kise;
Yahan Nazron Se Qatal-e-Aam Hota Hai!
----------
Tujhe Paane Kee Iss Liye Zidd Nahi Karte;
Kyonki Tujhe Khone Ko Dil Nahi Karta;
Tu Milta Hai To Isliye Nazrein Nahi Uthate;
Ki Phir Nazrein Hatane Ko Dil Nahi Karta!
----------
Apne Haseen Hontho Ko Kisi Parde Mein Chipa Liya Karo;
Hum Zara Gustakh Log Hain, Nazron Se Chum Liya Karte Hain!
----------
Hasrat Hai Sirf Humein Tumhe Paane Kee;
Aur Koi Khawahish Ab Nahi Is Deewane Kee;
Shikwa Humein Tumse Nahi Khuda Se Hai;
Kya Zarurat Thi Tumhe Itna Khoobsurat Banane Kee!
----------
Qatil Teri Adaaon Ne Loota Hai;
Mujhe Teri Jafaaon Ne Loota Hai;
Shaunk Nahi Tha Mujhe Mar-Mitne Ka;
Mujhe To In Nashili Nigahon Ne Loota Hai!
----------
Chaman Mein Shab Ko Jo Wo Shokh Be-Naqab Aaya;
Yakeen Ho Geya Shabnam Ko Aaftab Aaya;
Un Ankhdiyon Mein Agar Nasha-e-Sharab Aaya;
Salaam Jhuk Ke Karunga Jo Phir Hijab Aaya!
~ Atish
----------
Zakhm The Gehre Aur Na Aaya Mujhe Unhe Seena;
Uske Zakhmo Ke Bin Zindagi Mein Kya Jeena;
Agar Lafzo Mein Teri Tareef Karunga To Tere Husn Ke Be-Adbi Hogi;
Bas Tu Yeh Jaanle Ki Tere Bin To Chand Kee Chandni Bhi Adhuri Hogi!
----------
Teri Saadgi Ko Niharne Ka Dil Karta Hai;
Tamaam Umar Tere Naam Karne Ka Dil Karta Hai;
Ek Muqammal Shayari Hai Tu Kudrat Kee;
Tujhe Ghazal Banake Zuban Pe Lane Ka Dil Karta Hai!
----------
Dheere Se Sarkti Hai Raat Us Ke Aanchal Kee Tarah;
Uska Chehra Nazar Aata Hai Jheel Mein Khile Kamal Kee Tarha!
----------
Itna Haseen Kyon Banaya Khuda Ne Unko;
Ki Har Koi Dekhna Chahta Hai Dil-o-Jaan Se Unko;
Baarr-Baar Dekhne Se Dil Nahi Bharta Kisi Ka Bhi;
Aankhon Mein Basa Lena Chahta Hai Har Shakhs Unko!
----------
Husan Aur Uspe Husan-e-Zan, Rah Gayi Bul Hawas Ki Sharm;
Apne Pe Aitmaad Hai Ghair Ko Aazmayein Kyon!

Translation:
Beauty and its narcissism, ironically spare the lustful,
With seduction's assurance of its power, what need to test the rival?
~ Mirza Ghalib
----------
Jhhuki Nazro'n Mein Qayamat Ka Asar Hota Hai;
Husn Kuchh Aur Nikhar Jaata Hai Sharmaane Se!
----------
Chaman Mein Shab Ko Jo Wo Shokh Be-Naqab Aaya;
Yakeen Ho Geya Shabnam Ko Aaftab Aaya;
Un Ankhdiyon Mein Agar Nasha-e-Sharab Aaya;
Salaam Jhuk Ke Karunga Jo Phir Hijaab Aaya!
~ Atish
----------
Itna Haseen Kyon Banaya Khuda Ne Unko;
Har Koi Chahta Hai Dil-o-Jaan Se Unko;
Baar Baar Dekhne Se Dil Nahi Bharta Kisi Ka Bhi;
Aankhon Mein Basa Lena Chahta Hai Har Shakhs Unko!
----------
Yun To Duniya Mein Sahare Bahut Hain;
Hamare Jaise Tumhare Chahne Wale Bahut Hain;
Kis Kiska Haal Ab Tum Ja Kar Puchoge;
Yun To Zamane Mein Tumhare Deewane Bahut Hain!
----------
Parda-e-Lutf Mein Ye Zulm-o-Sitam Kya Kahiye;
Haye Zalim Tera Andaz-e-Karam Kya Kahiye!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Nasha Zaroori Hai Zindagi Ke Liye;
Par Sirf Sharab Hi Nahi Hai Bekhudi Ke Liye;
Kisi Kee Mast Nigahon Mein Doob Jao;
Bada Haseen Samandar Hai Khudkhushi Ke Liye!
----------
Tere Rukhsaar Se Hi Jal Jati Hai Cigarette Meri;
Iss Atishi Husn Ne, Machis Kee Bachat Kar Dee!
----------
Tere Chehre Ne Kuch Aisa Gazab Dhaya Hai;
Ki Tere Husn Se Aaj Chand Bhi Sharmaya Hai;
Maang Lete Tumhein Aaj Uss Khuda Se;
Par Tere Samne Aaj Woh Bhi Tera Ghulam Nazar Aaya Hai!
----------
Kayi Sadiyon Mein Aati Hai Koi Soorat Haseen Itni;
Husn Par Har Roz Kahan Aise Shabab Aate Hain;
Roshni Ke Waaste To Unka Noor Hi Kaafi Hai;
Unke Deedaar Ko Aaftab Aur Mehtaab Aate Hain!
----------
Tum Haqeeqat Nahi Ho Hasrat Ho;
Jo Mile Khawab Mein Wahi Daulat Ho;
Kis Liye Dekhti Ho Tum Yeh Aaina;
Tum To Khud Se Bhi Jyada Khoobsurat Ho!
----------
Apne Haseen Hontho Ko Kisi Parde Mein Chippa Liya Karo;
Hum Zara Gustakh Log Hain, Nazron Se Chum Liya Karte Hain!
----------
Kal Chaudhvin Kee Raat Thi Shab Bhar Raha Charcha Tera;
Kuch Ne Kaha Yeh Chaand Hai Kuch Ne Kaha Chehra Tera!
~ Ibn-e-Insha
----------
Itne Hijaabon Par To Yeh Aalam Hai Husn Ka;
Kya Haal Ho Jo Dekh Lein Parda Uthaa Ke Hum!
~ Jigar Moradabadi
----------
Uthti Nahi Hai Aankh Kisi Aur Ki Taraf;
Paband Kar Gayi Hai Kisi Ki Nazar Mujhe!
----------
Tere Husan Ko Pardey Ki Zarurat Hi Kya Hai;
Kaun Hosh Main Rehta Hai Tujhe Dekhne Ke Baad!
----------
Ab Magar Kuch Bhi Nahin, Kuch Bhi Nahin Ho Sakta;
Apne Jazbon Se Yeh Rangeen Shararat Na Karo;
Kitni Masoom Ho, Naazuk Ho, Hamaqat Na Karo;
Baar'haa Tum Se Kaha Tha Ke Mohabbat Na Karo!
~ Syed Wasi Shah
----------
Kuch Aur Bhi Hain Humein Kaam, Aye Gham-e-Janan;
Kab Tak Koi Uljhi Huyi Zulfon Ko Sanwaarey!
----------
Na Ishq Ki Tamanna Thi Na Madhoshi Ki Bekraari Thi;
Yeh Tere Husn Ka Jalwa Hai, Jo Hum Diwane Ho Gaye!
~ JD Ghai
----------
Kyon Vasl Ki Shab Haath Lagaane Nahin Dete;
Ma'shuq Ho Ya Koi Amaanat Ho Kisi Ki!
~ Daagh Dehlvi
----------
Jis Waqt Khuda Ne Tumhe Banaya Hoga;
Ek Saroor Sa Uska Dil Pe Chaya Hoga;
Pehle Socha Hoga Tujhe Jannat Mein Rakh Luon;
Phir Usse Mera Khayal Aaya Hoga!
----------
Dil Ki Chokat Par Jo Ik Deep Jala Rakha Hai;
Terey Laut Aanay Ka Imkan Saja Rakha Hai;
Rooth Jate Ho To Kuch Aur Hasin Lagtee Ho;
Yeh Soch Ke Tum Ko Khafa Rakha Hai!
----------
Rabb Janda Ohda Mera Ki Rishta;
Jisnu Har Pal Milan Nu Jee Karda;
Saari Duniya Toh Lagda Bhola Jeha Chehra;
Jihnu Tak Tak Na Dil Bharda!
----------
Naqsh Faryadi Hai Kis Ki Shokhi Takhir Ka;
Kaghazi Hai Pairahan Her Paikar-e-Tasvir Ka!

Translation:

Naqsh = Mark
Faryadi = Pleader
Shokh = Playful
Tahrir = Writing
Pairahan = Clothes
Paikar = Face
~ Mirza Ghalib
----------
Yeh Jo Pani Mein Sunehera Garoor Utar Aya Hai;
Zaroor Usne Pani Mein Payu Utara Hoga!
----------
Padhi Jo Ek Nazar Hum Dekhte Reh Gaye;
Vaar Hua Katil Muskaan Ka Hum Madhosh Ho Gaye;
Chahat Ki Chandani Mein Bheega Yoon Tan Badan;
Hum Kali Se Pal Bhar Mai Gulaab Ho Gaye!
----------
Shaam Hote Hi Tere Pyar Ki Pagal Khushboo;
Neend Ankhon Se Sukoon Dil Se Chura Leti Hai!
----------
Aaj Fir Lab Pai Un Kaa Naam Aaya;
Un Kaa Nazrain Uthaanaa Kaam Aaya;
Jaanta Un Ko Kaun Tha Kal Tak;
Husn-E-Awal Hain Woh Inaam Aaya!
----------
Tum Haqeeqat Nahi Ho Hasrat Ho;
Jo Mile Khawab Mein Wahi Daulat Ho;
Kis Liye Dekhti Ho Aaina;
Tum To Khud Se Bhi Jyada Khubsurat Ho!
----------
Koi Shayar Koi Faqir Ban Jaye;
Apko Jo Dikhe Khud Tasveer Ban Jaye;
Na Phoolon Ki Jarurat Na Kaliyo Ki;
Aap Jaha Pair Rakh Do Wahi Kashmeer Ban Jaye!
----------
Saadgi Par Uski Marjaane Ki Hasrat Dil Mein Hai;
Bas Nahin Chalta Ki Phir Khanjarkaf-E-Qaatil Mein Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Tere Pankhuriyon Jaise Hothon Ki Nami Ko Chura Loon;
Teri Zulfon Ki Shaam Mein Khudd Ko Chhipa Loon;
Tere Badan Ki Khushboo Mein Bass Ab Naha Loon;
Aggar Phir Bhi Chain Na Aaye, Toh Phir Se Yeh Sab Duhra Loon!
~ JD Ghai
----------
Hoti Nahi Wafa Toh Jafa Hi Kiya Karo;
Tum Bhi To Koi Rasm-E-Mohabbat Adaa Karo;
Hum Tumpe Mar Mite To Ye Kiska Kasoor Hai;
Aaina Le Ke Haath Mein Khud Faisla Karo!
----------
Tu Dekh Ya Na Dekh, Tere Dekhne Ka Gham Nahi;
Par Teri Ye Na Dekhne Ki Adaa Dekhne Se Kam Nahi!
----------
Khwaab Thaa Ya Khayaal Thaa Kyaa Thaa;
Hijr Thaa Ya Vishaal Thaa Kyaa Thaa!
Chamkee Bijlee Sie Par Na Samjhey Hum;
Husn Thaa Ya Jamaal Thaa Kya Thaa!
~ ShaiKh Ghulam Hamdani MusHafi
----------
Jab Yaar Ney Utthaa Kar Zulfon Key Baal Baandhey;
Tab Mainey Apney Dil Mein Laakhon Khayaal Baandhey!
~ Mirza Ghalib
----------
Kaash Aapki Surat Itni Pyaari Na Hoti;
Kaash Aapse Mulakat Hamaari Na Hoti;
Sapno Mein Hi Dekh Lete Hum Aapko;
To Aaj Milni Ki Itni Bekarari Na Hoti!
----------
Woh Soorat Ka Wahm Aur Deewangi;
Lagi Karne Dar Parda Be-ganagi!
Na Dekhe Meri Oar Uas Pyaar Se;
Gharibana Sar Maare Deewar Se!

Gharibana = Despairingly
~ Mir Taqi Mir
----------
Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Munh Pe Raunaq;
Woh Samajhte Hain Ke Beemaar Ka Haal Achcha Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Utra Hai Mere Dil Mein Koi Chand Nagar Se;
Ab Khauf Nahi Koi Andheron Ke Safar Main;
Woh Baat Hai Tujh Mein, Koi Tujh Sa Nahi Hai;
Kash Koi Dekhe Tujhe Meri Nazar Se!
----------
Unhe Koi Aur Bhi Chahe, Iss Baat Se Hum Thoda-Thoda Jalte Hein;
Par Faqr Hai Hume Iss Baat Ka Ke Sab Hamaari Pasand Pe Hi Marte Hein!
----------
Teri Nazron Ki Nazakat Pe Hum Naaz Karte Hain;
Ae Sanam Hum Teri Har Adaa Se, Pyaar Karte Hain!
----------
Woh khud par garoor karte hai, to isme hairat ki koi baat nahi.
Jinhe hum chahte hai, woh aam ho hi nahi sakte.
----------
Aap khubsurat hain itne, ke har shakhs ki zuban par aap hi ka tarana hai, hum nacheez to kahan kisi ke kaabil, aur aapka to khuda bhi diwana hai. Good Morning.
----------
Tumhara noor hi hai jo pad rha chehre par warna kaun dekhta muje andhere mein
----------
Tu dekh ya na dekh, tere dekhne ka gam nahi,
Par teri ye na dekhne ki ada dekhne se kam nahi.
----------
Hume Hasne-Hasane ki aadat hai, Nazron se Nazar Milane ki aadat hai,
Par hamari to nazar unse hai ja mili, Jinhe nazar jhukake Sharmane ki Aadat hai.
----------
Hum na hote to aapko gazal kaun kehta, apke chehre ko gulab kaun kehta,
Ye to karishma hai hum pyar karne walon ka warna pattharon ko Taj Mahal kaun kehta.
----------
Jis waqt khuda ne tumhe banaya hoga, ek saroor sa uske dil pe chaya hoga, pehle socha hoga tujhe jannat mein rakh lun phir usse mera ka khayal aaya hoga.
----------
खुशबू तेरी प्यार की मुझे महका जाती है;
तेरी हर बात मुझे बहका जाती है;
साँसे तो बहुत वक्त लेती है आने ओर जाने मै;
हर साँस से पहले तेरी याद इस दिल को धडका जाती है!
----------
आसमान के एक आशियाना में, एक आशियाना हमारा होता;
लोग तुम्हे दूर से देखते, नज़दीक से देखने का हक़ बस हमारा होता!
----------
ख़ुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नक़ाब में;
बेवज़ह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।
----------
मैं भी हुआ करता था वकील इश्क वालों का कभी;
नज़रें उस से क्या मिलीं आज खुद कटघरे में हूँ।
----------
जो उनकी आँखों से बयां होते हैं,
वो लफ्ज़ शायरी में कहाँ होते हैं।
----------
फूल जब उसने छू लिया होगा,
होश तो ख़ुशबू के भी उड़ गए होंगे।
----------
फिरते हुए किसी की नज़र देखते रहे हम,
उधर दिल का ख़ून हो रहा था मगर देखते रहे हम।
----------
बस जिद है तू इस दिल की,
वरना इन आँखो ने चेहरे और भी हसीन देखे हैं।
----------
तुम्हारा दीदार और वो भी आँखों में आँखें डालकर,
ये कशिश कलम से बयाँ करना भी मेरे बस की बात नही।
----------
होंठो पे अपने, यूँ ना रखा करो तुम नादान, कलम को;
वरना नज़्म फिर नशीली होकर, लड़खड़ाती रहेगी।
----------
तुम्हारा दीदार और वो भी आँखों में आँखें डालकर,
ये कशिश कलम से बयाँ करना भी मेरे बस की बात नहीं।
----------
कैसे लफ्जों में बयां करूँ मैं खूबसूरती तुम्हारी,
सुंदरता का झरना भी तुम हो, मोहब्बत का दरिया भी तुम हो।
----------
न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर,
सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है।
----------
बड़े गुस्ताख़ हैं झुक कर तेरा मुँह चूम लेते हैं,
बहुत सा तू ने ज़ालिम गेसुओं को सर चढ़ाया है।
----------
हुस्न का क्या काम है सच्ची मोहब्बत में यारो,
जब आँख मजनू हो तो लैला हसीन ही लगती है।
----------
हुस्न वालों को क्या जरूरत है संवरने की,
वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं।
----------
तिरछी नज़रों से न देखो आशिक़-ए-दिल-गीर को,
कैसे तीर-अंदाज़ हो सीधा तो कर लो तीर को।
~ Khwaja Mohammad Wazir
----------
सरक गया जब उसके रुख से पर्दा अचानक,
फ़रिश्ते भी कहने लगे काश हम भी इंसान होते।
----------
उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था।
~ Aziz Lucknowi
----------
हटा कर ज़ुल्फ़ चेहरे से ना छत पर शाम को आना,
कहीं कोई ईद ही ना कर ले अभी रमज़ान बाकी है।
----------
एक ख़्वाब ने आँखें खोली हैं, क्या मोड़ आया है कहानी में,
वो भीग रही है बारिश में, और आग लगी है पानी में।
----------
सुर्ख आँखों से जब वो देखते हैं,
हम घबराकर आँखें झुका लेते हैं,
क्यों मिलायें उन आँखों से आँखें,
सुना है वो आँखों से ही अपना बना लेते हैं।
----------
चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है, आँखों में सुरूर आ जाता है;
जब तुम मुझे अपना कहते हो तो अपने पे गुरूर आ जाता है;
तुम हुस्न की खुद एक दुनिया हो शायद ये तुम्हें मालूम नहीं;
महफ़िल में तुम्हारे आने से हर चीज़ पे नूर आ जाता है।
----------
मेरी निगाह-ए-शौक़ भी कुछ कम नहीं मगर;
फिर भी तेरा शबाब तेरा ही शबाब है।
~ Jigar Moradabadi
----------
आँख बंद करके चलाना खंजर मुझ पे;
कही तुम मुस्कुरा दिए तो हम बिना खंजर ही मर जायेंगे।
----------
तेरी आँखों के जादू से तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़;
ये उसे भी जीना सिखा देती हैं जिसे मरने का शौक़ हो।
----------
अच्छी सूरत नज़र आते ही मचल जाता है;
किसी आफ़त में न डाले दिल-ए-नाशाद मुझे।
~ Jaleel Manikpuri
----------
नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं;
हम घबरा कर आँखें झुका लेते हैं;
कौन मिलाये उन आँखों से आँखें;
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते हैं।
----------
फ़क़त इस शौक़ में पूछी हैं हज़ारों बातें;
मैं तेरा हुस्न तेरे हुस्न-ए-बयाँ तक देखूँ।
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
ना जाने कौन सा जादू है तेरी बाहों में;
शराब सा नशा है तेरी निगाहों में;
तेरी तलाश में तेरे मिलने की आस लिए;
दुआऐं मॉगता फिरता हूँ मैं दरगाहों में।
----------
अच्छी सूरत नज़र आते ही मचल जाता है;
किसी आफ़त में न डाले दिल-ए-नाशाद मुझे।
~ Jaleel Manikpuri
----------
वो करें भी तो किन अल्फ़ाज़ में तेरा शिकवा;
जिन को तेरी निगह-ए-लुत्फ़ ने बर्बाद किया।
~ Josh Malihabadi
----------
फ़िज़ाओं का मौसम जाने पर, बहारों का मौसम आया;
गुलाब से गुलाब का रंग तेरे गालों पे आया;
तेरे नैनों ने काली घटा का काजल लगाया;
जवानी जो तुम पर चढ़ी तो नशा मेरी आँखों में आया।
----------
हर बार हम पर इल्ज़ाम लगा देते हो मोहब्बत का;
कभी खुद से भी पूछा है इतने हसीन क्यों हो।
----------
ख़िरद वालों से हुस्न ओ इश्क़ की तन्क़ीद क्या होगी;
न अफ़्सून-ए-निगह समझा न अंदाज़-ए-नज़र जाना।

शब्दार्थ:
अफ़्सून-ए-निगह = नज़र का जादू
~ Asrar ul Haq Majaz
----------
हमारा क़त्ल करने की उनकी साजिश तो देखो;
गुज़रे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया।
----------
आज इस एक नज़र पर मुझे मर जाने दो;
उस ने लोगों बड़ी मुश्किल से इधर देखा है;
क्या ग़लत है जो मैं दीवाना हुआ, सच कहना;
मेरे महबूब को तुम ने भी अगर देखा है।
~ Majrooh Sultanpuri
----------
तरस गए आपके दीदार को,
फिर भी दिल आप ही को याद करता है;
हमसे खुशनसीब तो आइना है आपका;
जो हर रोज़ आपके हुस्न का दीदार करता है।
----------
पर्दा-ए-लुत्फ़ में ये ज़ुल्म-ओ-सितम क्या कहिए;
हाए ज़ालिम तिरा अंदाज़-ए-करम क्या कहिए।
~ Firaq Gorakhpuri
----------
वो खिलते हुए गुलाब सा है, कि उस का किरदार आब सा है;
कोई मुस्सवर जो देखे उस को यही कहे लाजवाब सा है;
हया की ज़िंदा मिसाल है वो, मगर यह कमबख्त पर्दा देखो;
देखने से रोकता है इस हुस्न को, चेहरे पर यह जो नक़ाब सा है।
----------
तुझे पाने की इस लिए ज़िद्द नहीं करते;
क्योंकि तुझे खोने को दिल नहीं करता;
तू मिलता है तो इसलिए नहीं देखते तुझको;
क्योंकि फिर इस हसीं चेहरे से नज़रें हटाने को दिल नहीं करता।
----------
हम भटकते रहे थे अनजान राहों में;
रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में;
अब तम्मना हुई है फिर से जीने की हमें;
कुछ तो बात है सनम तेरी इस निगाहों में।
----------
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता है;
तमाम उम्र तेरे नाम करने को दिल करता है;
एक मुक़्क़मल शायरी है तू कुदरत की;
तुझे ग़ज़ल बना कर जुबां पर लाने को दिल करता है।
----------
रख के मुँह सो गए हम आतिशीं रुख़्सारों पर;
दिल को था चैन तो नींद आ गई अँगारों पर।
~ Atish
----------
आफ़त तो है वो नाज़ भी अंदाज़ भी लेकिन;
मरता हूँ मैं जिस पर वो अदा और ही कुछ है।
~ Ameer Minai
----------
फ़क़त इस शौक़ में पूछी हैं हज़ारों बातें;
मैं तेरा हुस्न तेरे हुस्न-ए-बयाँ तक देखूँ।

अनुवाद:
फ़क़त = सिर्फ
हुस्न-ए-बयाँ = सुंदरता की परिभाषा
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
अब तो यूँ हो गए हैं मदहोश तेरी निगाह देख कर;
सदियों से पिये बैठे हैं जैसे जाम तेरी निगाह देख कर।
----------
कुछ इस तरह से वो मुस्कुराते हैं;
कि परेशान लोग उन्हें देख खुश हो जाते हैं;
उनकी बातों का अजी क्या कहिये;
अल्फ़ाज़ फूल बनकर होंठों से निकल आते हैं।
----------
देखी हैं कई महफिलें, ये फ़िज़ा कुछ और है;
देखे हैं जलवे बहुत, ये अदा कुछ और है;
पिए तो बहुत जाम हैं हमने, पर आपका नशा कुछ और है।
----------
हमारा क़त्ल करने की उनकी साजिश तो देखो;
गुज़रे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया।
----------
तेरे हसीन तस्सवुर का आसरा लेकर;
दुखों के काँटे में सारे समेट लेता हूँ;
तुम्हारा नाम ही काफी है राहत-ए-जान को;
जिससे ग़मों की तेज़ हवाओं को मोड़ देता हूँ।
----------
तेरे हुस्न को परदे की ज़रूरत ही क्या है ज़ालिम;
कौन रहता है होश में तुझे देखने के बाद।
----------
ये किसका ढलक गया है आंचल;
तारों की निगाह झुक गई है;
ये किस की मचल गई हैं ज़ुल्फ़ें;
जाती हुई रात रुक गई है।
~ Jaan Nisar Akhtar
----------
सोचा था इस कदर उनको भूल जाएँगे;
देखकर भी उनको अनदेखा कर जाएँगे;
पर जब जब सामने आया उनका चेहरा;
सोचा एस बार देख ले, अगली बार भूल जाएँगे।
----------
चमन में जा के हम ने ग़ौर से औराक़-ए-गुल देखे;
तुम्हारे हुस्न की शरहें लिखी हैं इन रिसालों में।
~ Shad Azeembadi
----------
बहुत खूबसूरत हैं आँखें तुम्हारी;
इन्हें बना दो किस्मत हमारी;
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ;
अगर मिल जाये बस मोहब्बत तुम्हारी।
----------
क़यामत है तेरा यूँ बन सँवर के आना;
हमारी छोड़ो, आईने पे क्या गुज़रती होगी!
----------
दीवाने हैं तेरे नाम के इस बात से इंकार नहीं;
कैसे कहें कि हमें तुमसे प्‍यार नहीं;
कुछ तो कसूर है आपकी आँखों का;
हम अकेले तो गुनहगार नहीं।
----------
क्या तारीफ़ करूँ आपकी बात की;
हर लफ्ज़ में जैसे खुशबू हो ग़ुलाब की;
रब ने दिया है इतना प्यारा सनम;
हर दिन तमन्ना रहती है मुलाक़ात की।
----------
रात गुम सुम है मगर खामोश नही;
कैसे कह दूँ आज फिर होश नही;
ऐसे डूबा हूँ तेरी आँखों की गहराई में;
हाथ में जाम है मगर पीने का होश नही।
----------
चाँद के दीदार में तुम छत पर क्या चली आई​​;​
शहर में ईद की तारीख मुक्कमल हो गयी​...
----------
सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​;
​हसीन जिस कि जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है।
----------
लोग कहते हैं जिन्हें नील कंवल, वो तो क़तील;
शब को इन झील सी आँखों में खिला करते है।
~ Qateel Shifai
----------
कितने नाज़ुक मिजाज़ हैं वो कुछ न पूछिये;
​ नींद नही आती है उन्हें धड़कन के शोर से।
----------
उसको सजने की संवरने की ज़रूरत​ ​ही नहीं​​;​
​ उस पे सजती है हया भी किसी जेवर ​की तरह...​​
----------
मुस्कुरा के देखा तो कलेजे में चुभ गयी;
खँजर से भी तेज़ लगती हैं आँखें जनाब की...
----------
सच कहते हैं लोग, इश्क़ पर जोर नहीं;
झुके जमाने के आगे, इश्क़ कमजोर नहीं;
यूँ तो बसते हैं हसीं लाखों इस ज़मीं पर;
मगर इस जहान में तुमसे बढ़कर और नहीं।
----------
खींचती है मुझे कोई कशिश उसकी तरफ;
वरना मैं बहुत बार मिला हूँ आखरी बार उससे!
----------
क्या ग़ज़ल सुनाऊँ तुझे देखने के बाद;
आवाज़ दे रही है मेरी ज़िंदगी मुझे;
जाऊं या ना जाऊं मैं तुझे देखने के बाद।
----------
नज़रें झुकी तो पैमाने बने;
दिल टूटे तो मैख़ाने बने;
कुछ तो जरुर ख़ास है आप में;
हम यूँ ही नहीं आपके दीवाने बने।
----------
फ़िज़ा में महकती शाम हो तुम;
प्यार में खहकता जाम हो तुम;
तुम्हें दिल में छुपाये फिरते हैं;
ऐ दोस्त मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम हो तुम।
----------
अच्छी सूरत को सवारने की ज़रूरत क्या है;
सादगी भी तो क़यामत की अदा होती है।
----------
डरता हूँ कहीं मैं पागल न बन जाऊँ;
तीखी नज़र और सुनहरे रूप का कायल ना बन जाऊँ;
अब बस भी कर ज़ालिम कुछ तो रहम खा मुझ पर;
चली जा मेरी नज़रों से दूर कहीं मैं शायर ना बन जाऊं।
----------
तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो;
जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो;
किस लिए देखती हो आईना;
तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो।
----------
कोई शायर तो कोई फकीर बन जाये;
आपको जो देखे वो खुद तस्वीर बन जाये;
ना फूलों की ज़रूरत ना कलियों की;
जहाँ आप पैर रख दो वहीं कश्मीर बन जाये।
----------
कहाँ से लाऊं वो शब्द जो तेरी तारीफ के क़ाबिल हो;
कहाँ से लाऊं वो चाँद जिसमें तेरी ख़ूबसूरती शामिल हो;
ए मेरे बेवफा सनम एक बार बता दे मुझकों;
कहाँ से लाऊं वो किस्मत जिसमें तु बस मुझे हांसिल हो।
----------
आईने में क्या चीज़ अभी देख रहे थे;
फिर कहते हो अल्लाह की कुदरत नहीं देखी।
----------
अंगराई लेके अपना मुझ पर जो खुमार डाला;
काफ़िर की इस अदा ने बस मुझको मार डाला।
----------
वो आपका पलके झुका के मुस्कुराना;
वो आपका नजरें झुका के शर्मना;
वैसे आपको पता है या नहीं हमें पता नहीं;
पर इस दिल को मिल गया है उसका नज़राना।
----------
उतरा है मेरे दिल में कोई चाँद नगर से;
अब खौफ ना कोई अंधेरों के सफ़र में;
वो बात है तुझ में कोई तुझ सा नहीं है;
काश कोई देखे तुझे मेरी नज़र से!
----------
आपके दीदार को निकल आये हैं तारे;
आपकी खुशबु से छा गई हैं बहारें;
आपके साथ दिखते हैं कुछ ऐसे नज़ारे;
कि चुप-चुप के चाँद भी बस आप ही को निहारे!
----------
इक अदा आपकी दिल चुराने की, इक अदा आपकी दिल में बस जाने की;
चेहरा आपका चाँद सा और एक ज़िन्दगी हमारी उस चाँद को पाने की!
----------
अंदाज अपने देखते हैं आईने में वो;
और ये भी देखते हैं, कोई देखता न हो;
कल चौदहवीं की रात थी, रात भर रहा चर्चा तेरा;
कुछ ने कहा ये चाँद है, कुछ ने कहा चेहरा तेरा!
~ Ibn-e-Insha
----------
कितने खड़े हैं पैरें अपना दिखा के सीना;
सीना चमक रहा है हीरे का ज्यूँ नगीना;
आधे बदन पे है पानी आधे पे है पसीना;
सर्वों का बह गोया कि इक करीना।
~ Nazeer Akbarabadi
----------
नज़रे न होती तो नज़ारा न होता;
दुनिया में हसीनो का गुज़ारा न होता;
हमसे यह मत कहो की दिल लगाना छोड़ दे;
जा के खुदा से कहो कि हसीनो को बनाना छोड़ दे।
----------
खुदा ने जब तुम्हें बनाया होगा;
उसके दिल में भी सकून आया होगा;
पहले सोचा होगा तुम्हें अपना लूँ;
फिर उसे मेरा ख्याल आया होगा।
----------
दिल, अजब शहर था ख्यालों का;
लूटा मारा है हुस्न वालों का।
~ Mir Taqi Mir
----------
हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की;
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की;
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है;
क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की?
----------
तुम्हारा नूर ही है जो पड़ रहा चेहरे पर;
वर्ना कौन देखता मुझे इस अंधेरे में!
----------
हम तो फना हो गए उनकी आँखे देखकर, ग़ालिब;
ना जाने वो आइना कैसे देखते होंगे!
~ Mirza Ghalib
----------
तुम्हारी जुल्फ के साये में शाम कर लूंगा;
सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा!
----------
पलकों को जब-जब हमने झुकाया है;
बस एक ही ख्याल आया है;
कि जिस खुदा ने तुम्हें बनाया है;
तुम्हें 'धरती' पर भेजकर वो कैसे जी पाया है!
----------
हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है;
तब शायरी पर बहार आती है!
पीके महबूब के बदन की शराब;
जिंदगी झूम-झूम जाती है!
----------
प्यार है हमको आपसे इस कद्र!
जागते है इंतज़ार में अब तो हर पहर!
आपके दीदार से होती है हर सहर!
और आपके खुमार में उठती है प्यार की लहर!
----------
अपने हसीं होंठों को, किसी चीज़ से छुपा लिया करो;
हम गुस्ताख लोग है, नज़रों से चूम लिया करते हैं!
----------
आँखें नीची है तो हया बन गई,
आँखें ऊँची है तो दुआ बन गई,
आँखें उठ कर झुकी तो अड़ा बन गई,
आँखें झुक कर उठी तो कदा बन गई!
----------
किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी,
झूम के आई घटा टूट के बरसा पानी!