Hindi funny jokes

सच्चा प्यार!
एक बार तीन दोस्त थे। तीनो को एक ही लड़की पसंद आ गयी तो तीनो ने फैंसला किया कि वे तीनो एक साथ लड़की को प्रोपोज़ करेंगे और लड़की का फैंसला आखिरी फैंसला होगा।

तीनों दोस्त लड़की के पास पहुंचे।

पहला दोस्त: मैं तुम्हारे लिए अपनी जान दे सकता हूँ।

लड़की : वो तो सब कहते हैं।

दूसरा दोस्त: मैं तुम्हारे लिए चाँद तारे तोड़ सकता हूँ।

लड़की: पुराना डायलाग है।

तीसरा दोस्त बड़ी हिम्मत करके लड़की के पास आया और बोला, "मैं तुम्हारी ACTIVA में रोज 3 लीटर पेट्रोल डलवाऊंगा।"

यह सुन कर लड़की की आँखों में आँसू आ गए और बोली, "पागल इतना चाहता है मुझ को।"
----------
भारत का योगदान!
एक अमेरिकन भारत घूमने आया तो यहाँ अपने हिंदुस्तानी मित्र से पूछ बैठा, "भाई साहब बताइये अगर आपका भारत महान है तो सँसार के इतने अविष्कारों में आपके देश का क्या योगदान है?"

हिंदुस्तानी: अरे अमरीकन सुन... सँसार की पहली फायर प्रूफ लेडी भारत में हुई, नाम था "होलिका" आग में जलती नही थी, इसीलिए उस वक्त फायर ब्रिगेड चलती नही थी।

सँसार की पहली वाटर प्रूफ बिल्डिँग भारत में हुई... नाम था भगवान विष्णु का "शेषनाग"... काम तो ऐसे जैसे "विशेषनाग"।

दुनिया के पहले पत्रकार भारत में हुए... "नारद जी" जो किसी राजव्यवस्था से नही डरते थे... तीनों लोक की सनसनी खेज रिपोर्टिँग करते थे।

दुनिया के पहले कमेंटेटर "सँजय" हुए, जिन्होंने नया इतिहास बनाया... महाभारत के युद्ध का आँखो देखा हाल अँधे "ध्रतराष्ट" को उन्ही ने सुनाया।

दादागिरी करना भी दुनिया को हमने सिखाया क्योंकि वर्षो पहले हमारे "शनिदेव" ने ऐसा आतँक मचाया.. कि "हफ्ता" वसूली का रिवाज उन्ही के शिष्यो ने चलाया.. आज भी उनके शिष्य हर शनिवार को आते हैं और उनका फोटो दिखाकर हफ्ता ले जाते हैं।

अमेरिकन बोला, "दोस्त फालतू की बातें मत बनाओ, कोई ढँग का आविष्कार हो तो बताओ। जैसे हमने इँसान की किडनी बदल दी, बाईपास सर्जरी कर दी आदि।

हिंदुस्तानी बोला, "अरे अमरीकन, सर्जरी का क्या खूब याद दिलाया, अरे सर्जरी का आइडिया ही दुनिया को हमने बताया था। तू ही बता "गणेश जी" का ऑपरेशन क्या तेरे बाप से करवाया था।"

अमरीकन हडबडाया.. गुस्से में बडबडाया। देखते ही देखते चलता फिरता नजर आया। तब से पूरी दुनिया को हम पर मान है। दुनिया में मुल्क कितने ही हो पर सबमें मेरा "भारत" महान है।
----------
मेड इन इंडिया!
एक जापानी पर्यटक भारत की सैर पर आया हुआ था। आखिरी दिन उसने एयरपोर्ट जाने के लिए एक टैक्सी ली और ड्राइवर को चलने के लिए कहा।

यात्रा के दौरान एक 'होण्डा' बगल से गुज़री। जापानी ने उत्तेजित होकर खिड़की से सिर निकाला और चिल्लाया‚ `होण्डा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

कुछ देर बाद एक 'टोयोटा' तेज़ी से टैक्सी के पास से गुज़री‚ और फिर जापानी बाहर झुका और चिल्लाया‚ `टोयोटा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

और फिर एक 'मित्सुबिशी' टैक्सी की बगल से गुज़री। तीसरी बार जापानी खिड़की की ओर झुकते हुए चिल्लाया‚ `मित्सुबिशी‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

ड्राइवर थोड़ा ग़ुस्से में आ गया मगर चुप रहा और कई सारी कारें गुज़रती रहीं।

आखिरकार टैक्सी एयरपोर्ट तक पहुँच गयी। किराया 800 रु. बना। जापानी चीखा‚ `क्या? इतना ज़्यादा!`

तो ड्राइवर चिल्लाया, `मीटर‚ वेरी फास्ट! मेड इन इंडिया।`
----------
चाँद का दीदार!
एक लड़की ने अपने बॉयफ्रेंड से कहा, "तुम मेरे लिए क्या कर सकते हो?"

लड़का: जो तुम कहो डार्लिंग।

लड़की: क्या तुम मेरे लिए चाँद ला सकते हो?

लड़का गया और थोड़ी देर बाद हाथ में कुछ चीज़ छिपा कर लाया और लड़की से कहा, "आँखे बंद करो।"

लड़की ने आँखें बंद की तो लड़के ने वो चीज़ लड़की के हाथो में दी और लड़की से आँखे खोलने को कहा।

लड़की ने आखें खोली तो उस चीज़ को देख उसकी आँखों में आंसू थे। क्योकि उसके हाथों में एक आइना था जिसमे उस लड़की का चेहरा नज़र आ रहा था।

लड़की: तुम मुझे चाँद सा समझते हो?

लड़का: नहीं, मैं तो तुम्हें सिर्फ ये समझा रहा था कि जिस मुँह से चाँद मांग रही हैं कभी वो थोबड़ा आईने में भी देखा है या नहीं?
----------


प्रेम पत्र!
एक सुन्दर युवती दवाईयों की एक दुकान के सामने काफी देर तक खडी थी। भीड़ छटने का इंतज़ार कर रही थी। दुकान का मालिक उसे शक की नजर से घूर रहा था।

बहुत देर बाद जब दुकान मे कोई ग्राहक नही बचा, तो वह लड़की दुकान मे आयी।

एक सेल्समन को धीरे से एक किनारे बुलाया।

दुकान मालिक अब और भी ज्यादा चौकन्ना हो गया।

लड़की ने धीरे से एक कागज़ सेल्समन की ओर बढाया और धीरे से फुसफुसायी,

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"भैया, मेरी एक डॉक्टर के साथ शादी तय हो गयी है। आज उनकी पहली चिठ्ठी आयी है। थोडा पढ़कर सुनायेंगे क्या?
----------
लालू से चीटिंग!
एक बार इंद्रदेव ने पृथ्वीलोक के तीन नेताओ को सही उत्तर बताने पर स्वर्ग जाने का न्योता भेजा। जिसमें तीन नेता चुने गए।
1. सोनिया गाँधी
2. नरेन्द्र मोदी
3. लालू प्रसाद यादव

इंद्रदेव का पहला सवाल - सोनिया से- RAT की स्पेलिंग बताओ।
सोनिया: R. A. T

मोदी से- CAT की स्पेलिंग।
मोदी: C. A. T

लालू जी से - चकोस्लोवाकिया की स्पेलिंग।
लालू: धत बुर्बक इ सबसे चुहा, बिल्ली। आ हमरा से चकोस्लोवाकिया। ई सब नए होगा फेर से पुछिये।

तब इंद्र देव बोले ठीक है अगला सवाल।
सोनिया से- यह एक लडका है का अंग्रेजी बताओ।
सोनिया: This is a boy.

मोदी से- वह एक लडकी है का अंग्रेजी बनाओ।
मोदी: That is a girl.

लालू से- हरा पेड़ चर्रर्रर्र से गिर गया का अंग्रेजी बनाओ।
लालू: ई का उ सबसे लड़का लड़की आ हमरा से चर्रर्र पर्रर्र। फेर से फेर से नै नै फेर से, फेर से होगा।

तब इंद्रदेव बोले लालू जी आप तो बच्चो की तरह जिद कर रहे हैं। ये आखिरी मौका दे रहा हूँ बस।
सोनिया से- जलियावाला बाग हत्याकांड कब हुआ था?
सोनिया: 1919 ई.मे।

ठीक है स्वर्ग मे जाओ।

मोदी से- उस हत्याकांड मे कितने लोग मरे थे?
मोदी: यही कोई दस हजार लोग।

ठीक है स्वर्ग मे जाओ।

लालू से- उन दस हजार के नाम बताओ।

लालू - अरे साफ़ साफ़ बोलिए न जी की हमको नरक भेजने का प्रोगराम फिट करके बैठल है। बोलिए नरक किधर है?
----------
नहले पे दहला!
एक करोड़पति मर गया और स्वर्ग का दरवाजा खटखटाने लगा।

देव: कौन हो तुम?

करोड़पति: मैं धरती पर करोड़पति था। मुझे स्वर्ग में प्रवेश चाहिए।

देव: स्वर्ग में रहने लायक तुमने कौन सा काम किया है?

करोड़पति: एक बार मैंने एक भूखी भिखारिन को 10/- रूपये दिए थे। एक बार मेरी कार से टकराकर घायल हुए एक बच्चे को 100/- रुपये दिए थे।

देव: और कुछ किया?

करोड़पति: और कुछ तो याद नही आ रहा।

देव (दूसरे देव से) भाई क्या करें इसका?

दूसरे देव: इसके 110/- रूपये लौटाकर इसे नरक भेज दो।
----------
नयी पड़ोसन!
एक नवविवाहित जोड़ा शादी के बाद रहने के लिए शहर में आया वहां उन्होंने एक कमरा लिया और नए पड़ोसियों के साथ रहने लगे।

एक सुबह महिला ने देखा कि उनकी पड़ोसन ने कपड़े धोकर बाहर सुखाने के लिए डालें है।

उसने कपड़ों की तरफ देखा और कहा,"लगता है इसे कपड़े साफ़ करना नही आते देखो कितने गंदे रखे हैं उसे कपड़े धोने का अच्छा साबुन इस्तेमाल करना चाहिए उसके पति ने भी देखा और उस वक्त चुप ही रहा।"

इसके बाद लगातार दो तीन सप्ताह तक वह महिला उसी प्रकार उस महिला के बारे में बोलती रही।

फिर एक महीने बाद एक सुबह जब महिला ने देखा तो हैरानी के साथ अपने पति से कहने लगी, "देखो लगता है आज इसने अच्छे साबुन का इस्तेमाल किया है और अब इसे कपड़े धोने भी आ गए है, मुझे हैरानी है कि इसे ये सब किसने सिखाया होगा?"

उसके पति ने कहा, "आज सुबह मैं जल्दी उठ गया था और मैंने अपने कमरे की खिड़कियाँ साफ़ की है।"
----------


यमराज से मस्ती!
यमलोक के दरवाजे पर दस्तक हुई तो यमराज ने जाकर दरवाजा खोला।

उन्होंने बाहर झांका तो एक मानव को सामने खड़ा पाया। यमराज ने कुछ बोलने के लिए मुंह खोला ही था कि वह एकाएक गायब हो गया।

यमराज चौंके और फिर दरवाज़ा बंद कर लिया। यमराज अभी वापस मुड़े ही थे कि फिर दस्तक हुई। उन्होंने फिर दरवाजा खोला। उसी मानव को फिर सामने मौजूद पाया, लेकिन वह आया और फिर गायब हो गया।

ऐसा तीन-चार बार हुआ तो यमराज अपना धैर्य खो बैठे और अबकी बार उसे पकड़ ही लिया और पूछा, "क्या बात है भाई, क्या ये आना-जाना लगा रखा है। मुझसे पंगा ले रहे हो?"

मानव ने बड़ी सहजता पूर्वक जवाब दिया, "अरे नहीं महाराज, दरअसल मैं तो वैंटीलेटर पर हूं और यह डॉक्टर लोग ही हैं जो आपसे मस्ती कर रहे हैं।"
----------
यूपी की शादी!
लड़की देखे जाने पर लडका और लडकी में बात करने का तरीका देखते है। शायद आपको यूपी की भाषा पसंद आये!

पप्पी: कित्ते तक पड़ी हो?
अंजू: 8वीं तक।
पप्पी: फिर काहे नाय पड़ी?
अंजू: स्कूल दूर हतो तो हमारी पढ़ाई छुड़ाय दई गयी।
पप्पी: अच्छा, रोटी बनाय लेत हौ का?
अंजू: हाँ, बनाय लेत हैं।
पप्पी: और सब्जी?
अंजू: हाँ, सब्जीऔ बनाय लेत हैं।
पप्पी: काय काय की बना लेत हौ?
अंजू: आलू की मेथी की पालक की गोभी की भिन्डी की सबहि तराह की।
पप्पी: कदुआ की नाय बनाय पाती हौ का?
अंजू: हाँ, बनाय लेत हैं।
पप्पी: कैसी बनात हो गीली का सूखी?
अंजू: मुआ, करमजला, दारीजार, कन्नास नासपीटा नाय तो तैँ लौड़िया देखन आओ है कि काम बाली बाई देखन आओ है। धुँआ लगे इत्ती देर से दिमाग चाटन में लगो है जौ बना लेत वौ बना लेत। 1 चप्पल दिएँ अभई उतार के मुँह सूजी यइये अभई हाल। बड़ो आओ कदुआ खान वारो।
----------
अगर मुन्नी को पाकिस्तान छोड़ने सलमान की बजाए ये लोग जाते तो...
• अगर केजरीवाल जाते तो अपने साथ 12 और लोगों को ले जाते, 8 कैमरामैन और 4 रिपोर्टर और जब फ़ौज उन्हें रोकती तो वो वहीं बॉर्डर पर धरना देने बैठ जाते।

• अगर मोदी जी जाते तो वो मुन्नी को अफगानिस्तान, ईरान व चीन घुमाते हुए पाकिस्तान पहुंचाते और मुन्नी वहाँ पहुँचते ही अपनी माँ से कहती - मितरों ! मैं आ गयी।

• अगर राहुल गाँधी जाते तो मुन्नी कहती - मेरी ऊँगली पकड़ कर चलो, वरना खो जाओगे।

• अगर रोबर्ट वाड्रा जाते तो पाकिस्तान फिर से भारत का हिस्सा बन जाता।

• मुन्नी को पाकिस्तान छोड़ने अगर आलोक नाथ जाते तो मुन्नी का कन्यादान करके ही लौटते।

• अगर कुमार विश्वास जाते तो वो उन्हें वापस छोड़ने के लिए एम्बुलेंस को आना पड़ता।

• अगर अल्ताफ राजा जाते तो बाद में अगले दिन पूरा पाकिस्तान उन्हें वापस भारत छोड़ने आता।

• अगर अर्नब गोस्वामी जाते तो आधे पाकिस्तानी बहरे व आधे पाकिस्तानी पागल हो जाते।

• अगर आशुतोष जाते तो उन्हें भारतीय दूतावास की बजाए वेस्ट-इंडीज दूतावास में ठहराया जाता।

• अगर एन.डी.तिवारी जाते तो वहाँ भी 2-4 घर बसा के आ जाते।

और

• अगर अगर अपने इमरान हाश्मी जाते तो मुन्नी को छोड़ आते और बदले में हीना रब्बानी को ले आते। तो मुन्नी को छोड़ आते और बदले में हीना रब्बानी को ले आते।
----------
प्यार क्या होता है?
एक लड़की ने शर्माते हुए अपने पूछा, "ये प्यार क्या होता है?"

लड़के ने सोचा कि लड़की पर अपना इम्प्रैशन ज़माने का यही मौका है तो उसने जवाब दिया, "प्यार का रिश्ता दो इंसानों में वही होता है जो सीमेंट और रेत के बीच पानी का होता है।

जैसे कि...

लड़का = सीमेंट है, लड़की = रेत और प्यार = पानी, अब अगर सीमेंट और रेत को आपस में मिला दिया जाए तो वो स्ट्रांग नहीं होंगे लेकिन अगर इसमें पानी भी मिला दिया जाए तो कोई इनको जुदा नहीं कर सकता।"

लड़के का यह जवाब सुन लड़की हँसते हुए बोली, "कमीने तू शक्ल से ही मजदूर लगता है।"
----------


आखिर कब तक?
दुबई जाने वाली फ्लाइट में तीन सीटों की पंक्ति में दो पाकिस्तानी और एक भारतीय बैठे थे। भारतीय कोने वाली सीट पर था और अपने जूते उतार कर आराम से सीट पर ही चौकड़ी मार कर बैठ गया।

तभी पहला पाकिस्तानी बोला, "भाई मुझे तो बहुत प्यास लगी है, मैं कोक पियूंगा।`

भारतीय कोने में बैठा था तो बोला, "भाई साहब, आप बैठो, मैं लेकर आता हूँ।" और वो एयर होस्टेस से कोक लेने नंगे पावँ ही चला गया।

दोनों पाकिस्तानी मुस्कुराए और एक ने भारतीय के जूते में थूक दिया।

भारतीय थोड़ी ही देर में कोक लेकर आया और फिर चौकड़ी मार कर बैठ गया। अब थोड़ी देर के बाद दूसरा पाकिस्तानी भी बोला, "मुझे भी प्यास लगी है, मैं भी कोक पियूँगा।"

भारतीय फिर उठा और थोड़ी देर के बाद कोक लेकर आ गया। इस बीच दूसरे पाकिस्तानी ने भी उसके जूते में थूक दिया।

दुबई पहुँचने पर भारतीय ने अपने जूते जैसे ही पहने, उसको सारी बात समझ में आ गयी। यह देख दोनों पाकिस्तानी भारतीय की हसीं उड़ाने के अंदाज़ में मुस्कुराने लगे। भारतीय बहुत ही आहत स्वर में बोला, "आखिर कब तक यह दुश्मनी चलेगी? आखिर कब तक हम भुगतते रहेंगे? आखिर कब तक यह मंजर चलेगा? आखिर कब तक... तुम जूतों में थूकते रहोगे और हम कोक में मूतते रहेंगे?"
----------
जीवन रक्षक फिजिक्स!
एक लड़का एक कोचिंग सेंटर में प्री-मेडिकल-टेस्ट की तैयारी कर रहा था।

फिजिक्स उस लड़के को बिलकुल समझ में नहीं आता था और सारे लेक्चर उसके सिर के ऊपर से निकल जाते थे।

एक दिन उसने टीचर से पूछा, "सर, हम लोग यहाँ डॉक्टर बनने की तैयारी करने आए हैं वैज्ञानिक बनने की नहीं, फिर हमें फिजिक्स क्यों पढ़ना पड़ता है?"

टीचर ने मुस्कुरा कर कहा, "फिजिक्स मेडिकल साइंस के लिए बड़ा उपयोगी विषय है। यह लोगों की ज़िन्दगी बचाने में मदद करता है।"

लड़के ने हलके से व्यंग्यात्मक अंदाज़ में कहा, "अच्छा, वो कैसे सर? ज़रा हमें भी तो बताईये कि फिजिक्स से लोगों की जिंदगी कैसे बचाई जा सकती है?"

टीचर ने जवाब दिया, "तुम जैसे गधों को मेडिकल कॉलेज में एडमिशन लेने से रोक कर।"
----------
शेर और बंदर!
एक बार जंगल में एक बहुत बड़े से गड्ढे में एक शेर गिर गया। परेशान होकर शेर यहाँ वहां देखने लगा पर उसे कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा था।

तभी वहां एक पेड़ पे एक बंदर आ गया। शेर को इस हाल में फंसा देखकर बंदर शेर का मजाक उडाने लगा।

"क्यों शेर तू तो राजा बना फिरता है, अब तो तेरी अकल ठिकाने आ गयी न, अब शिकारी तुझे मारेंगे, तेरी खाल निकालकर दीवार पर सजायेंगे, तेरे नाखून और दांत निकाल कर दवाई बनायेंगे।

तभी अचानक वो डाल जिस पे बंदर बैठा था, टूट गयी और बन्दर सीधे शेर के सामने आ गिरा।

और गिरते ही बोला, "माँ कसम... माफ़ी मांगने के लिए कूदा हूँ।"
----------


समझदारी के नुक्सान!
एक बार दो दोस्त गोरखपुर से दिल्ली जा रहे थे।

डिब्बे में भीड़ ज्यादा थी तो उन्हें सीट नहीं मिल रही थी तो सीट के लिए उन्हें शरारत सूझी।

उन्होंने अपने बैग से रबड़ का एक सांप निकाला और चुपके से डिब्बे में छोड़ दिया और चिल्लाने लगे।

सांप... सांप!

थोड़ी देर में डिब्बा खाली हो गया और उन्होंने जल्दी से बिस्तर जमाकर जगह रोक ली।

सुबह जब आंख खुली, तो पांच बजे थे और गाड़ी किसी स्टेशन पर खड़ी थी।

उन्होंने खिड़की से बाहर झांककर रेलवे के कर्मचारी से पूछा: यह कौन सा स्टेशन है?

जवाब मिला: गोरखपुर।

उन्होंने पूछा: क्या गाड़ी दिल्ली नहीं गई?

कर्मचारी बोला: गाड़ी दिल्ली गई, लेकिन गाड़ी में सांप निकलने के कारण इस डिब्बे को काट दिया गया।
----------
सपने का मतलब!
रात में एक चोर घर में घुसा। कमरे का दरवाजा खोला तो बरामदे पर एक बूढ़ी औरत सो रही थी। खटपट से उसकी आंख खुल गई। चोर ने घबरा कर देखा तो वह लेटे लेटे बोली, ''बेटा, तुम देखने से किसी अच्छे घर के लगते हो, लगता है किसी परेशानी से मजबूर होकर इस रास्ते पर लग गए हो। चलो कोई बात नहीं। अलमारी के तीसरे बक्से में एक तिजोरी है। इस का सारा माल तुम चुपचाप ले जाना। मगर पहले मेरे पास आकर बैठो, मैंने अभी-अभी एक ख्वाब देखा है। वह सुनकर जरा मुझे इसका मतलब तो बता दो।"

चोर उस बूढ़ी औरत की रहमदिली से बड़ा अभिभूत हुआ और चुपचाप उसके पास जाकर बैठ गया।

बुढ़िया ने अपना सपना सुनाना शुरु किया, ''बेटा, मैंने देखा कि मैं एक रेगिस्तान में खो गइ हूँ। ऐसे में एक चील मेरे पास आई और उसने 3 बार जोर जोर से बोला अभिलाष! अभिलाष! अभिलाष! बस फिर ख्वाब खत्म हो गया और मेरी आँख खुल गई। जरा बताओ तो इसका क्या मतलब हुआ?''

चोर सोच में पड़ गया। इतने में बराबर वाले कमरे से बुढ़िया का नौजवान बेटा अभिलाष अपना नाम ज़ोर ज़ोर से सुनकर उठ गया और अंदर आकर चोर की जमकर धुनाई कर दी।

बुढ़िया बोली, ''बस करो अब यह अपने किए की सजा भुगत चुका है।"

चोर बोला, "नहीं-नहीं, मुझे और मारो सालों, ताकि मुझे आगे याद रहे कि मैं चोर हूँ, सपनों का मतलब बताने वाला नहीं।"
----------
चोरी ऊपर से सीनाज़ोरी!
एक बार एक आदमी बड़ी आराम से अपनी गाड़ी में जा रहा था कि अचानक सामने से आ रही एक महिला की गाड़ी आ कर उसकी गाड़ी से टकरा गयी, पर एक्सिडेंट के बाद दोनों सुरक्षित बच गए।

जब दोनों गाड़ी से बाहर आये तो महिला ने पहले अपनी गाड़ी को देखा जो पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी थी, फिर वो सामने की तरफ गयी जहाँ आदमी भी अपनी गाड़ी को बड़ी गौर से देख रहा था।

तभी वह महिला उससे रूबरू होते हुए बोली, "देखिये कैसा संयोग है कि गाड़ियाँ पूरी तरह से टूट-फूट गयी पर हमें चोट तक नहीं आई। यह सब भगवान की मर्जी से हुआ है ताकि हम दोनों मिल सकें। मुझे लगता है कि अब हमें आपस में दोस्ती कर लेनी चाहिए।"

आदमी ने भी सोचा कि इतना नुक्सान होने के बाद भी गुस्सा करने के बजाय दोस्ती के लिए कह रही है तो कर लेता हूँ और बोला, "आप बिल्कुल ठीक कह रही हैं कि ये सब भगवान की मर्जी से हुआ है।"

तभी महिला ने कहा, "एक चमत्कार और देखिये कि पूरी गाड़ी टूट-फूट गयी पर अंदर रखी शराब की बोतल बिल्कुल सही है।"

आदमी ने कहा, "वाकई यह तो हैरान करने वाली बात है।"

महिला ने बोतल खोली और बोली, "आज हमारी जान बची है, हमारी दोस्ती हुई है तो क्यों न थोड़ी सी ख़ुशी मनाई जाए।"

महिला ने बोतल को उस आदमी की तरफ बढ़ाया उसने भी बोतल को पकड़ा और मुहं से लगाया और आधी करके बोतल वापस महिला को दे दी।

फिर कहने लगा, "आप भी लीजिये।"

महिला ने बोतल को पकड़ा उसका ढक्कन बंद किया और एक तरफ रख दी।

आदमी ने पूछा, "क्या आप शराब नहीं पियेंगी?"

महिला बड़े आराम से बोली, "नहीं ...मुझे लगता है मुझे पुलिस का इंतज़ार करना चाहिए ताकि मैं बता सकूँ कि इस शराबी ने मेरी गाडी ठोक दी है।"

----------


आदत से मज़बूर!
एक आदमी की शादी में जब फेरे लेने की बारी आई तो पहले फेरे के वक्त ही दूल्हा दौड़कर दुल्हन से आगे निकल गया।

पंडित जी ने दूल्हे को पीछे रहने को कहा।

दूसरे फेरे के वक्त दुल्हन आगे हुई तो दूल्हा फिर दौड़कर आगे निकल गया।

दूल्हा बार-बार ऐसे ही तेजी से दुल्हन के आगे निकल जाता।

बार-बार ऐसा होता देख दुल्हन के पिता को गुस्सा आ गया और वे बोले, "यह कैसा दूल्हा है जो फेरे भी ढंग से नहीं ले सकता। ऐसे यह शादी नहीं हो सकती।"

दूल्हे के चाचा ने समझाते हुए कहा, "माफ करना भाईसाहब, दरअसल लड़का हरियाणा रोडवेज की बस का ड्राईवर है इसलिए इसे बार - बार ओवरटेक करने की आदत है।
----------
गलतफहमी!
एक लड़की हर रोज़ जब कॉलेज से घर आती तो एक लड़के को अपने घर के आगे खड़ा देखती। जब लड़की उस लड़के की तरफ देखती तो लड़का या तो इधर-उधर देखने लग जाता या फिर अपने मोबाइल पर देखता।

हर रोज़ ऐसा होता और ऐसा होते-होते पूरा एक साल बीत गया।

लड़की को यकीन हो गया कि लड़का उससे प्यार करता है पर कुछ कह नहीं पा रहा। इसलिए लड़की ने एक दिन खुद ही अपने घर वालों से बात कर ली। घर वाले भी बात समझ गए और उनकी शादी के लिए तैयार हो गए।

अगले दिन लड़की ने हिम्मत करके लड़के से कहा, "तुम लगातार एक साल से हर रोज़ मेरे घर के आगे खड़े हो जाते हो। मुझे पता है कि तुम मुझ से बहुत प्यार करते हो और मैं भी तुमसे शादी करने के लिए तैयार हूँ।"

यह सुनकर लड़का डर गया और कांपते-कांपते बोला, "आप गलत समझ रही हैं बहन जी, दरअसल आपके Wi-Fi पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ और मैं तो हर रोज़ मुफ्त में Wi-Fi का इस्तेमाल करने के लिए आपके घर के आगे खड़ा होता हूँ।"
----------
बच्चे की होशियारी!
एक माँ अपने 6 साल के बच्चे का फोटो खिंचवाने के लिए फोटो-स्टूडियो लेकर गई। फोटोग्राफर बच्चे को पुचकारते हुए बोला, "बेटा, मेरी तरफ देखो... इस कैमरे से अभी कबूतर निकलेगा।"

बच्चा एक दम से बोला, "फोकस एडजस्ट कर, जाहिलों जैसी बातें मत कर, पोर्ट्रेट मोड यूज करना, मैक्रो के साथ, ISO 200 के अंदर रखना। High Resolution में आनी चाहिए फोटो, Facebook पे अपलोड करनी है, वरना पैसे नहीं मिलेंगे। साला, 'कबूतर' निकलेगा। तेरे बाप ने कबूतर डाला था कैमरे में?"

फोटोग्राफर: बेटा कौन से स्कूल में पढते हो?

बच्चा: आँगन बाड़ी।

हर बच्चा IIN से नहीं होता!
----------
चिकन - मटन या मटर पनीर!
एक आदमी को चिकन - मटन खाने का बहुत शौंक था और वो हर शुक्रवार को चिकन और मटन बनाता था लेकिन जिस मोहल्ले में वो रहता था वहां उसके सभी पडोसी कठोर किस्म के कैथोलिक थे और उन्हे उनके धर्म गुरु ने शुक्रवार के दिन चिकन और मटन खाने के लिए मना किया था। लेकिन अपने पडोसी के घर से आने वाली चिकन और मटनकी खुशबू उन को बहुत विचलित करती थी। इसलिए उन्होने आखिर अपने धर्म गुरु से इस बारे में बात की।

धर्म गुरु उस आदमी से मिलने के लिए उसके घर आया और उसने उसे भी धर्म परिवर्तन करने की सलाह दी। उस धर्मगुरुके और अपने पडोसियोंके बहुत मनाने और समझाने बुझाने के बाद आदमी रविवार को चर्च में उनकी प्रार्थना सुनने चला गया। फिर अचानक उस धर्म गुरु ने आदमी के शरीर पर पवित्र पानी छिडका और कहा, ''तुम जनम से जो थे और जो भी बन कर बडे हुए उसे भूल जाओ, अब तुम कैथोलिक हो।"

उस आदमी के सभी पडोसी बहुत खुश थे - लेकिन सिर्फ अगला शुक्रवार आने तक ही।

अगले शुक्रवार की रात फिर से आदमी के घर से चिकन और मटन कबाब की खुशबू सारे मोहल्ले में फैल गई। पडोसियों ने तुरंत धर्म गुरु को बुलाया। धर्म गुरु जब आदमी के घर के पिछवाडे से उसके घर में दाखिल हुए और उसे डांटने के लिए तैयार ही थे, तब वे अचानक रुक गए और आश्चर्य से आदमी की तरफ देखने लगे।

वो आदमी छोटी सी पानी की बोतल पकडकर खडा था। उसने वह पानी चिकन और मटन पर छिड़का और बोला, "तुम जनम से चाहे चिकन और मटन थे, और चिकन और मटन बन कर ही बडे हो गए, लेकिन अब मटर और पनीर हो।"
----------


दोस्ती की ज़रूरत!
एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर रहता था, और वहीं पास एक मोरनी भी रहती थी। एक दिन मोर ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि "हम तुम विवाह कर लें, तो कैसा अच्छा रहे?"

मोरनी ने पूछा, "तुम्हारे मित्र कितने है?"

मोर ने कहा, "उसका कोई मित्र नहीं है।"

तो मोरनी ने विवाह से इनकार कर दिया।

मोर सोचने लगा सुखपूर्वक रहने के लिए मित्र बनाना भी आवश्यक है।

उसने एक शेर से, एक कछुए से, और शेर के लिए शिकार का पता लगाने वाली टिटहरी से, दोस्ती कर लीं।

जब उसने यह समाचार मोरनी को सुनाया, तो वह तुरंत विवाह के लिए तैयार हो गई।

दोनों ने पेड़ पर घोंसला बनाया और उसमें अंडे दिए, और भी कितने ही पक्षी उस पेड़ पर रहते थे।

एक दिन जंगल में कुछ शिकारी आए। दिन भर कहीं शिकार न मिला तो वे उसी पेड़ की छाया में ठहर गए और सोचने लगे, पेड़ पर चढ़कर अंडे और बच्चों से भूख बुझाई जाए।

मोर दंपत्ति को भारी चिंता हुई, मोर मित्रों के पास सहायता के लिए दौड़ा।

बस फिर क्या था, टिटहरी ने जोर- जोर से चिल्लाना शुरू किया। शेर समझ गया, कोई शिकार है। वह उसी पेड़ के नीचे जा पहुँचा जहाँ शिकारी बैठे थे। इतने में कछुआ भी पानी से निकलकर बाहर आ गया।

शेर से डरकर भागते हुए शिकारियों ने कछुए को ले चलने की बात सोची। जैसे ही हाथ बढ़ाया कछुआ पानी में खिसक गया। शिकारियों के पैर दलदल में फँस गए। इतने में शेर आ पहुँचा और उन्हें ठिकाने लगा दिया।

मोरनी ने कहा, "मैंने विवाह से पूर्व मित्रों की संख्या पूछी थी, सो बात काम की निकली न, यदि मित्र न होते, तो आज हम सबकी खैर न थी।`

मित्रता सभी रिश्तों में अनोखा और आदर्श रिश्ता होता है। और मित्र किसी भी व्यक्ति की अनमोल पूँजी होते हैं। इसलिए अपने दोस्तों को मत भूलो और ज्यादा से ज्यादा दोस्त बनाओ।
----------
सब गोलमाल है!
एक व्यक्ति बढ़िया सा कपड़ा खरीदा और सूट सिलवाने के लिेए एक दर्जी के पास गया। दर्जी ने कपड़ा लेकर नापा और कुछ सोचते हुए कहा, "कपड़ा कम है। इसका एक सूट नहीं बन सकता।"

वह दूसरे दर्जी के पास चला गया। उसने नाप लेने के बाद कहा, "आप दस दिन बाद सूट ले जाइए।"

वह निश्चित समय पर दर्जी के पास गया। सूट तैयार था। अभी सिलाई के पैसे दे रहा था कि दुकान में दर्जी का पांच साल का लड़का प्रविष्ट हुआ। उस व्यक्ति ने देखा कि लड़के ने बिल्कुल उसी कपड़े का सूट पहन रखा है। थोड़ी सी बहस के बाद दर्जी ने बात स्वीकार कर लिया।

वह व्यक्ति पहले दर्जी के पास गया और फुंकारते हुए कहा, "तुम तो कहते थे कि कपड़ा कम है, पर तुम्हारे साथ वाले दर्जी ने उसी कपड़े से न केवल मेरा, बल्कि अपने लड़के का भी सूट बना लिया।"

दर्ज़ी ने हैरान होकर पूछा, "ऐसा कैसे हो सकता है?"

आदमी: ऐसा ही हुआ है अगर यकीन नहीं तो साथ चल के देख लो।

दर्जी फिर कुछ सोचते हुए बोला, "अच्छा लड़के की उम्र क्या है?"

आदमी: पाँच वर्ष।

दर्जी: तभी तो।

आदमी: क्या तभी तो?

दर्ज़ी: अरे श्रीमान मेरे लड़के की उम्र 18 वर्ष है तो उसका सूट कैसे बनता?
----------
कोई इसकी भी सुन लो!
एक आदमी सड़क पर बेहोश हो गया। उसके इर्द-गिर्द भीड़ जमा हो गई, हर कोई उसे होश में लाने के लिए सलाहें देने लगा। भीड़ में से एक बुढ़िया बोली, "बेचारे को थोड़ी ब्रांडी दे दो।"

कोई बोला, "इसके मुंह पर पानी के छींटे मारो।"

"इसे ब्रांडी दो।" बुढिया फिर बोली।

"इसे पंखा करो।" कोई बोला।

"इसे ब्रांडी दो।" बुढिया बोली।

"इसे अस्पताल ले जाओ।" किसी ने कहा।

"इसे ब्रांडी दो।" बुढिया फिर बोली।

तभी बेहोश पड़ा आदमी उठकर बैठ गया और जोर से चिल्लाया, "आप सब लोग अपनी बकवास बंद कीजिये और उस बेचारी बुढिया की भी कोई सुन लो।"
----------
बेरोज़गारी का हाल!
नदी में डूबते हुए आदमी ने पुल पर चलते हुए आदमी को आवाज़ लगायी। आदमी: `बचाओ-बचाओ।`

पुल पर चलते आदमी ने नीचे देखा और उस आदमी को बचाने के लिए पुल से नीचे रस्सी फैंकी और कहा, `रस्सी को पकड़ के ऊपर आ जाओ।`

परन्तु नदी में डूबता हुआ आदमी रस्सी नहीं पकड़ पा रहा था तो वह डर के मारे चिल्ला कर बोला, `मैं मरना नहीं चाहता, ज़िन्दगी बड़ी कीमती है कल ही तो मेरी टार्जन कंपनी में बड़ी अच्छी नौकरी लगी है।`

इतना सुनते ही पुल पर चलते आदमी ने अपनी रस्सी खींच ली और भागते-भागते टार्जन कंपनी के दफ्तर में गया वहां के मैनेजर से बोला,` जिस आदमी को आपने कल नौकरी दी थी वो अभी-अभी डूबकर मर गया है, और इस तरह आपकी कंपनी में एक जगह खाली हो गयी है, मैं बेरोजगार हूँ इसीलिए मुझे रख लीजिये।`

मैनेजर: `दोस्त, तुमने देर कर दी, अब से कुछ देर पहले हमने उस आदमी को रखा है, जो उसे धक्का दे कर तुमसे पहले यहाँ आया है।`
----------


हिंदी का बुखार!
सब लोग हिंदी को प्रोत्साहित कर रहे हैं तो मुझे भी आज हिंदी बोलने का शौक हुआ, घर से निकला और एक ऑटो वाले से पूछा,
"त्री चक्रीय चालक, पूरे सुभाष नगर के परिभ्रमण में कितनी मुद्रायें व्यय होंगी?"

ऑटो वाले ने घूर कर मेरी तरफ देखा और बोला,"अबे हिंदी में बोल।"

मैंने कहा, "श्रीमान मै हिंदी में ही वार्तालाप कर रहा हूँ।"

ऑटो वाले ने कहा, "मोदी जी पागल करके ही मानेंगे। चलो बैठो, कहाँ चलोगे?"

मैंने कहा, "परिसदन चलो।"

ऑटो वाला फिर चकराया, "अब ये परिसदन क्या है?"

बगल वाले श्रीमान ने कहा, "अरे सर्किट हाउस जाएगा"

ऑटो वाले ने सिर खुजाया और बोला, "बैठिये प्रभु।"

रास्ते में मैंने पूछा, "इस नगर में कितने छवि गृह हैं?"

ऑटो वाले ने कहा, "छवि गृह मतलब?"

मैंने कहा, "चलचित्र मंदिर।"

उसने कहा, "यहाँ बहुत मंदिर हैं... राम मंदिर, हनुमान मंदिर, जगन्नाथ मंदिर, शिव मंदिर।"

मैंने कहा, "भाई मैं तो चलचित्र मंदिर की बात कर रहा हूँ। जिसमें नायक तथा नायिका प्रेमालाप करते हैं।"

ऑटो वाला फिर चकराया, "ये चलचित्र मंदिर क्या होता है?"

यही सोचते सोचते उसने सामने वाली गाडी में टक्कर मार दी। ऑटो का अगला चक्का टेढ़ा हो गया।

मैंने कहा, "त्री चक्रीय चालक तुम्हारा अग्र चक्र तो वक्र हो गया।"

ऑटो वाले ने मुझे घूर कर देखा और बोला, "उतर जल्दी उतर।"

सामने पंक्चर की दुकान थी मैंने दुकान वाले से कहा, "हे त्रिचक्र वाहिनी सुधारक महोदय, कृप्या अपने वायु ठूंसक यंत्र से इनके त्रिचक्र वाहिनी के द्वितीय चक्र में वायु ठूंस दीजिये।"

दूकानदार ने घूरकर मुझे देखा और बोला, "चल भाग यहाँ से कमीने, एक तो सुबह से बोनी नहीं हुई और तू शलोक सुना रहा है।"

तब से यही सोच रहा हूँ कि अब क्या करूँ हिंदी का?
----------
पत्नी की शायरी!
पत्नी जब मायके जाती है और फिर जब पति कि याद आती है तो कैसे रोमांटिक मैसेज भेजती है:

"मेरी मोहब्ब्त को अपने दिल में ढूंढ लेना;
और हाँ, आटे को अच्छी तरह गूँथ लेना!

मिल जाए अगर प्यार तो खोना नहीं;
प्याज़ काटते वक्त बिलकुल रोना नहीं!

मुझसे रूठ जाने का बहाना अच्छा है;
थोड़ी देर और पकाओ आलू अभी कच्चा है!

मिलकर फिर खुशियों को बाँटना है;
टमाटर जरा बारीक़ ही काटना है!

लोग हमारी मोहब्ब्त से जल न जाएं;
चावल टाइम पे देख लेना कहीं गल न जाएं!

कैसी लगी हमारी ग़जल बता देना;
नमक कम लगे तो और मिला लेना!
----------
सेर को सवा सेर!
गली से एक भिखारी गुज़र रहा था, एक घर का दरवाज़ा खुला था और अंदर एक बुढ़िया बैठी थी। उसे देख भिखारी बोला, "खाने के लिए रोटी दे दो, अम्मा।"

बुढ़िया: रोटी तो अभी बनी नहीं है, बाद में आना।

भिखारी: ठीक है ये लो मेरा मोबाइल नंबर जब बन जाये तो मिस कॉल मार देना।

ये सुन बुढ़िया के होश उड़ गए पर वो कहाँ कम थी बोली, "मिस कॉल क्या करनी, जब बन जाएगी तो WhatsApp पे डाल दूंगी। वहीँ से डाउनलोड करके खा लेना।"

ये सुनकर भिखारी बेहोश हो गया।
----------
नयी पड़ोसन
एक नवविवाहित जोड़ा शादी के बाद रहने के लिए शहर में आया वहां उन्होंने एक कमरा लिया और नए पड़ोसियों के साथ रहने लगे।

एक सुबह महिला ने देखा कि उनकी पड़ोसन ने कपड़े धोकर बाहर सुखाने के लिए डालें है।

उसने कपड़ों की तरफ देखा और कहा,"लगता है इसे कपड़े साफ़ करना नही आते देखो कितने गंदे रखे हैं उसे कपड़े धोने का अच्छा साबुन इस्तेमाल करना चाहिए उसके पति ने भी देखा और उस वक्त चुप ही रहा।"

इसके बाद लगातार दो तीन सप्ताह तक वह महिला उसी प्रकार उस महिला के बारे में बोलती रही।

फिर एक महीने बाद एक सुबह जब महिला ने देखा तो हैरानी के साथ अपने पति से कहने लगी, "देखो लगता है आज इसने अच्छे साबुन का इस्तेमाल किया है और अब इसे कपड़े धोने भी आ गए है, मुझे हैरानी है कि इसे ये सब किसने सिखाया होगा?"

उसके पति ने कहा, "आज सुबह मैं जल्दी उठ गया था और मैंने अपने कमरे की खिड़कियाँ साफ़ की है।"
----------


बुजुर्ग की दूरदृष्टि!
एक बार रेलवे स्टेशन पर एक बुजुर्ग बैठे रेल का इंतजार कर रहे थे। वहाँ एक नवयुवक आया और उसने बुजुर्ग से पूछा, "अंकल, समय क्या हुआ है?"

बुजुर्ग: मुझे नहीं मालूम।

युवक: लेकिन आपके हाथ में घड़ी तो है, प्लीज बता दीजिए न कितने बजे हैं?

बुजुर्ग: मैं नहीं बताऊँगा।

युवक: पर क्यों?

बुजुर्ग: क्योंकि अगर मैं तुम्हें समय बता दूँगा तो तुम मुझे थैंक्यू बोलोगे और अपना नाम बताओगे, फिर तुम मेरा नाम, काम आदि पूछोगे। फिर संभव है हम लोग आपस में और भी बातचीत करने लगें। हम दोनों में जान-पहचान हो जायेगी तो हो सकता है कि ट्रेन आने पर तुम मेरी बगल वाली सीट पर ही बैठ जाओ। फिर हो सकता है कि तुम भी उसी स्टेशन पर उतरो जहाँ मुझे उतरना है। वहाँ मेरी बेटी, जोकि बहुत सुन्दर है, मुझे लेने स्टेशन आयेगी। तुम मेरे साथ ही होगे तो निश्चित ही उसे देखोगे, वह भी तुम्हें देखेगी। हो सकता है तुम दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठो और शादी करने की जिद करने लगो। इसलिए भाई, मुझे माफ करो ! मैं ऐसा कंगाल दामाद नहीं चाहता जिसके पास समय देखने के लिए अपनी घड़ी तक नहीं है।
----------
पागलों की पहचान!
एक पागलखाने में एक पत्रकार ने डॉक्टर से प्रश्न किया। "आप कैसे पहचानते हैं कि, कौन मानसिक रोगी है और कौन नहीं?"

डॉक्टर: हम एक बाथटब पानी से पूरा भर देते हैं और मरीज को एक चम्मच, एक गिलास और एक बाल्टी देकर कहते हैं कि वो बाथटब को खाली करे।

पत्रकार: अरे वाह, बहुत बढ़िया। यानि जो नार्मल व्यक्ति होता होगा वो बाल्टी का उपयोग करता होगा क्योंकि वो चम्मच और गिलास से बड़ी होती है।

डॉक्टर: जी नहीं। नार्मल व्यक्ति बाथटब में लगे हुए ड्रेन प्लग को खींच कर टब को खाली करता है। आप 39 नंबर के बैड पर जाइए ताकि हम आप की पूरी जाँच कर सकें।

अगर आप ने भी बाल्टी ही सोचा था तो कृपया बैड नंबर 40 पर जाइए।
----------
4 का चमत्कार!
हम भारतीयों के जीवन में 4 नंबर का बहुत महत्व है। इसके कुछ प्रमुख उदाहरण इस प्रकार हैं।

जैसे

जुम्मा-जुम्मा 4 दिनों का प्यार।

4 दिन की चांदनी फिर अंधेरी रात।

4 किताबें पढ़ क्या लीं खुद को तीस मार खां समझते हो।

4 पैसे कमाओगे तब पता चलेगा।

4-4 आने में बिकती है आज के दौर में ईमानदारी।

आखिर हमारी भी 4 लोगों में इज़्ज़त है।

ये बात 4 लोग सुनेंगे तो क्या सोचेंगे।

4 दिनों की आई हुई बहू के ऐसे तेवर।

4 दिन तो दुकान में टिक कर बैठ जाओ।

वो आई और 4 बातें सुना कर चली गई।

तुमसे क्या 4 कदम भी नहीं चला जाता।

और अंत में

4 बोतल Vodka काम मेरा रोज़ का।
----------
मज़ा नहीं आएगा!
एक दिन एक कंजूस आदमी के घर कोई मेहमान आ गया। अब कंजूस को यह चिंता सताने लगी कि इस मेहमान की मेहमान नवाज़ी में बेकार का खर्चा हो जायेगा तो उसने अपने अंदाज़ में हालात को कुछ यूँ संभाला।

कंजूस: भाईसाहब, ठंडा लेंगे या गरम?

मेहमान: ठंडा।

कंजूस: जूस या कोल्ड ड्रिंक?

मेहमान: कोल्ड ड्रिंक ले लूँगा।

कंजूस: स्टील के गिलास में लेंगे या काँच के गिलास में?

मेहमान: काँच के गिलास में ले आओ।

कंजूस: प्लेन या डिजाइन वाला?

मेहमान (परेशान होते हुए): अरे यार, डिजाइन वाले में ही ले आओ।

कंजूस: ओके, कौन सी डिजाइन पसंद है? लाइनों वाली या फूलों वाली?

मेहमान: फूलों वाली।

कंजूस: कौन से फूल? गुलाब के या चमेली के?

मेहमान: गुलाब के।

कंजूस (अपनी बीवी से): अरे ज़रा देख तो गुलाब के फूलों की डिजाइन वाला गिलास अपने घर में है या नहीं?

बीवी: नहीं है जी।

कंजूस: ओ तेरी नहीं है, चल फिर कोल्ड ड्रिंक रहने दे। भाईसाहब को मजा नहीं आएगा।
----------


मुर्गे का डर!
एक आदमी ने एक मुर्गा रखा हुआ था जो कि उसे बहुत प्यारा था। मुर्गा भी अपने मालिक को बहुत प्यार करता था। एक दिन मालिक बीमार हो गया। मुर्गा अपने मालिक को खिङकी से बैठा देख रहा था। मालिक की पत्नी उसके बगल में बैठी थी।

पत्नी बोली, "आपको बहुत तेज़ बुखार है। मै आपके लिए चिकन सूप बना लाती हूँ।"

इतना सुनते ही मुर्गे के होश उङ गये और वो तुरंत बोला, "बहन जी एक बार Crocin दे कर भी देख लो।"
----------
ज्यादा समझदारी भी अच्छी नहीं!
एक कंपनी का मालिक अपनी एक फैक्टरी में विजिट करने गया।

वहाँ उसने देखा कि सारे कर्मचारी तो काम कर रहे थे लेकिन एक युवक एक कोने में आराम से खड़ा मोबाइल पर मैसेज पढ़ रहा था और मुस्कुरा रहा था।

मालिक को यह देखकर और भी हैरत हुई कि उसके आने के बावजूद भी युवक अपने काम पर लगने की बजाये ढीठता पूर्ण तरीके से वैसे ही खड़ा रहा।

मालिक को गुस्सा आ गया। उसने युवक को बुलाया और पूछा, "तुम्हें हर महीने कितनी तनख्वाह मिलती है?"

युवक: "6000 रुपये सर!"

मालिक ने जेब से 18000 रुपये निकाले और युवक को देते हुए बोला, "ये पकड़ो तुम्हारी 3 महीने की एडवांस तनख्वाह और दफा हो जाओ यहाँ से, तुम्हारे जैसे कामचोरों के लिए मेरी कंपनी में कोई जगह नहीं है।"

युवक ने शांतिपूर्वक रुपये लिए और मुस्कुराता हुआ चला गया।

अब मालिक ने वहाँ काम कर रहे लोगों से पूछा, "अब कोई मुझे बताएगा कि ये आदमी कौन था और क्या काम करता था?"

बड़ी मुश्किल से अपनी हँसी दबाते हुए एक कर्मचारी ने बताया, "सर, वो तो पिज्जा डिलीवरी करने वाला लड़का था। दरअसल आज सुपरवाइजर साहब अपना लंच बॉक्स लाना भूल गए थे।"
----------
BMW vs Nano
एक ऐसा चुटकुला जो आपको कम से कम 5 मिनट हंसाएगा। ज़रूर पढ़िए...

दो जिगरी दोस्त थे एक के पास एक BMW कार थी और दूसरे के पास Tata Nano!

एक बार रात को Nano वाले दोस्त ने BMW वाले दोस्त को फ़ोन किया और बोला कि यार मेरी गाड़ी का पेट्रोल खत्म हो गया है। तू आ जा और मेरी कार को अपनी कार से बाँध करके पेट्रोल पंप तक मुझे पहुँचा दे।

BMW वाले दोस्त ने कहा ठीक है और और वो Nano वाले के पास आया और Nano को अपनी BMW के पीछे बाँध लिया और बोला, "अगर तुम्हें लगे कि मैं तेज़ चल रहा हूँ तो पीछे से डिपर दे देना, ताकि मैं धीमे हो जाऊँ।"

और दोनों पेट्रोल पंप की तरफ चल पड़े। चलते-चलते थोड़ी देर बाद BMW की साइड से तेज रफ़्तार से एक Audi निकली तो BMW वाला चिढ़ गया और भूल गया कि वो Nano को बाँध कर चल रहा है।

बस फिर क्या था, BMW और Audi दोनों में जबर्दस्त रेस लग गयी। स्पीड 200+ चली गयी। आगे पुलिस का नाका लगा हुआ था लेकिन दोनों पुलिस बेरिकेट्स तोड़ कर निकल गए।

तो पुलिस वाले ने अपने ऑफ़िसर को वायरलेस पर संदेश भेजा और सारी घटना बताई। तो ऑफिसर ने पूछा, "गाड़ी कौन-कौन सी थी?"

सिपाही: सर, गाड़ियाँ तो दो रेस कर रही थी, BMW और Audi, लेकिन वो छोड़ो सर, हैरान तो मैं इस बात से हूँ कि रेस BMW और Audi की हो रही थी पर एक Nano वाला पीछे से दोनों को ओवर टेकिंग के लिए डिपर पे डिपर मारे जा रहा था।
----------
भगवान से भी धोखा!
एक आदमी कश्ती से कहीं जा रहा था कि अचानक एक ज़ोरदार तूफ़ान की वजह से उसकी कश्ती पलट गयी। उसे तैरना नहीं आता था। वो प्रार्थना करने लगा, "भगवान अगर तुम मुझे बचा लिया तो मैं गरीबों में 21 किलो लड्डू बाटूंगा।"

फिर ज़ोर से हवा चली और एक बड़ी से लहर के साथ एक लकड़ी की शाख आई और उसने उसका सहारा लेकर तैरने लग गया और चिल्लाया, "कौन से लड्डू, कैसे लड्डू?"

फिर ज़ोर से एक लहर आई और उसने आदमी के साथ से लकड़ी छुड़वा दी।

आदमी: मैं तो पूछ रहा हूँ कौन से लड्डू, बेसन के या बूंदी के?
----------


रजनीकांत और एडमिन की मुलाक़ात!
रजनीकांत और अपने एडमिन की मुलाक़ात हुई।

रजनीकांत: मेरे बचपन में हमारे गाँव में बिजली नहीं थी इस कारण मैं अगरबत्ती के प्रकाश में पढ़ाई किया करता था।

एडमिन: मेरे गाँव में भी बिजली नहीं थी, अगरबत्ती भी नहीं थी।

रजनीकांत: तो?

एडमिन: तो क्या मेरा एक दोस्त था जिसका नाम प्रकाश था। मैं उसके साथ पढ़ाई किया करता था लेकिन एक बार बरसात हुई और प्रकाश भीग गया।

रजनीकांत: फिर?

एडमिन: फिर कुछ नहीं। मेरी एक ज्योति नाम की दोस्त भी तो थी।
----------
बड़ा अंतर!
लड़की का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकला।

कमेंट्स लड़कों के:

1. डिअर, वो आपके लायक था ही नहीं।
2. तुम कहाँ वो साला बन्दर कहाँ।
3. हमने तो पहले ही कहा, सब मेरे जैसे नहीं होते।
4. कभी हमें अजमा के देखो, पता चलेगा भरोसा क्या है।
5. जो भी हुआ अच्छा ही हुआ, चिंता मत करो जानू।
लड़के का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकली।

कमेंट्स नजदीकी दोस्तों के:

1. साले, तेरी शकल ही गधे जैसी है।
2. तेरे से बस आज तक कोई पटी है?
3. तुझ जैसो से भी लड़की पटेगी।
4. उससे तेरी नामर्दी का पता चल गया होगा।
5. तेरे से कुछ नहीं होगा बच्चे, चल अब उसका नम्बर मुझे दे।
----------
चेला, गुरु पे भारी!
एक गुरु और चेला समंदर के किनारे टहल रहे थे। वहाँ उन्होंने एक बोर्ड देखा जिस पर लिखा था -
"डूबते हुए को बचाने वाले को 500 रुपये का इनाम दिया जाएगा।"

बोर्ड पढ़ते ही गुरु को एक आईडिया सूझा। उसने चेले से कहा, "मैं समंदर में कूद जाता हूँ और मदद के लिए चिल्लाता हूँ... तुम मुझे बचा लेना। जो 500 रुपये मिलेंगे उसमें से 100 तुझे दूंगा, ठीक है?"

चेला: केवल 100? 50% करिये ना?

गुरु: 100 रुपये से एक पैसा ज्यादा नहीं दूंगा। आईडिया मेरा है कि तेरा? चुपचाप जैसा मैं कहता हूँ वैसा कर।

और गुरू समंदर में कूद कर मदद के लिए चिल्लाने लगा।

चेला आराम से बैठकर देखता रहा। उसे यूँ बैठे देखकर गुरू बोला, "अबे अब आता क्यों नहीं मुझे बचाने? मुझे सचमुच तैरना नहीं आता।"

चेला: गुरू जी आपने बोर्ड ध्यान से नहीं पढ़ा। नीचे लिखा है - "लाश निकालने वाले को 5000 रुपये का इनाम दिया जाएगा।"
----------
पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट!
एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी;

और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा से लेट हो गयी;

जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई -आदतानुसार हम पर चिल्लाई;

तुम क्या समझते हो मुझे नहीं है किसी बात का इल्म;

जरुर देख रहे होगे तुम सक्रेटरी के साथ कोई फिल्म;

मैंने कहा - अरी पगली, घर आते हे ऐसे झिडकियां मत दिया कर;

कभी तो छोड़ दे, मुझ बेचारे पर इस तरह शक मत किया कर;

पत्नी फिर तेज होकर बोली - मुझे बेवकूफ बना रहे हो;

6 बजे दफ्तर बंद होता है और तुम 10 बजे आ रहे हो;

मैंने कहा अब छोड़ यह धुन - मेरी बात ज़रा ध्यान से सुन;

एक आदमी का एक हज़ार का नोट खो गया था;

और वह उसे ढूंढने के जिद्द पर अड़ा था;

पत्नी बोली, तो तुम उसकी मदद कर रहे थे;

मैंने कहा , नहीं रे पगली मै ही तो उस पर खड़ा था;

सुनते ही पत्नी हो गयी लोट-पोट;

और बोली कहाँ है वह हज़ार का नोट;

मैंने कहा बाकी तो खर्च हो गया यह लो सौ रुपये;

वह बोली क्या सब खा गए बाकी के 900 कहाँ गए;

मैंने कहा : असल में जब उस नोट के ऊपर मै खडा था;

तो एक लडकी की निगाह में उसी वक़्त मेरा पैर पडा था;

कही वह कुछ बक ना दे इसलिए वह लडकी मनानी पडी;

उसे उसी के पसंद के पिक्चर हाल में फिल्म दिखानी पडी;

फिर उसे एक बढ़िया से रेस्टोरेन्ट में खाना खिलाना पड़ा;

और फिर उसे अपनी बाइक से घर भी छोड़कर आना पड़ा;

तब कहीं जाकर तुम्हारे लिए सौ रुपये बचा पाया हूँ;

यूँ समझो जानू तुम्हारे लिए पानी पुरी का इंतजाम कर लाया हूँ;

अब तो बीवी रजामंद थी - क्यूंकि पानी पुरी उसे बेहद पसंद थी;

तुरंत मुस्कुराकर बोली : मै भी कितनी पागल हूँ इतनी देर से ऐसे ही बक बक किये जा रही थी;

सच में आप मेरा कितना ख़याल रखते है और मै हूँ कि आप पर शक किये जा रही थी!


----------

बदसूरत बच्चा!
एक महिला एक बच्चे को गोद में उठाये हुए बस में चढ़ी।

बस ड्राईवर ने उसके बच्चे कि तरफ देखा और कहा, "मैंने ऐसा बदसूरत बच्चा आज तक नहीं देखा।"

महिला ने कन्डक्टर को किराया पकड़ाया और पीछे जाकर सीट पर बैठ गयी।

उसे ड्राईवर की बात का बुरा लगा था, इसलिए वह थोड़ी उदास सी थी।

उसके साथ बैठे आदमी ने पूछ लिया कि, "बहनजी क्या बात है? आप कुछ परेशान लग रही है।"

महिला ने कहा, "अभी अभी ड्राईवर ने मेरी बेइज्जती की है।"

उस आदमी ने उसे सहानुभूति देते हुए कहा, "क्यों? वह तो जानता का नौकर है उसे इस प्रकार यात्रियों की बेइज्जती नहीं करनी चाहिए।"

महिला ने कहा, "आप ठीक कहते हैं, मुझे लगता है कि मुझे उसकी बदतमीजी का जवाब दे देना चाहिए जिससे मेरे मन को शांति मिले।"

उस आदमी ने कहा, "ये बहुत अच्छी बात कही आपने, आप जाईये और.... इस बंदर को मुझे दीजिये।"
----------
मोबाइल और लड़की!
मोबाईल बना हैँ हर लड़की की शान,
मिस कॉल करके लड़कों को करती हैँ परेशान;

SMS मेँ लिखती Miss You मेरी जान,
तुम्हारी आवाज़ सुनने को तरसे मेरे कान;

4-5 Boyfriend बना कर कहती हैँ एक,
तुम्हीं तो हो मेरी जान;

अपने राज सहेलियोँ को बताकर करती हैँ हैरान,
कहती हैँ लड़को को उल्लू बनाना है आसान;

होश मेँ आओ मेरे भाई लो इनको पहचान,
मत पड़ो इनके चक्कर मेँ लड़कियाँ होती हैं शैतान;

लड़को के जनहित मेँ जारी, लड़कियाँ हैँ बड़ी अत्याचारी!
----------
बुरे फंसे यार!
आज तो कमाल ही हो गयी। सुबह-सुबह श्रीमती जी नाश्ता बना रही थी, इतने में किसी ने दरवाजा खटखटाया। श्रीमती जी ने दरवाज़ा खोला तो एक सेल्समैन दनदना के अंदर पहुँचा और पूरे कालीन पर गोबर गिरा दिया।

श्रीमती जी गुस्से में चिल्लाते हुए, "अरे, यह क्या कर दिया। अभी तो सफाई की है और आप हो कौन?"

सेल्समैन: मैडम मैं एक सेल्समैन हूँ, आपको यह वैक्यूम क्लीनर का कमाल दिखाने आया हूँ।

श्रीमती जी: वैक्यूम क्लीनर का कमाल दिखाना है तो यह सारी गंदगी क्यों फैला दी?

सेल्समैन: मैडम तभी तो इसका कमाल दिखेगा।

सेल्समैन: क्योंकि अभी 2 मिनट में देखना यह सारी गंदगी साफ़ हो जाएगी और अगर ऐसा नहीं हुआ तो मैं खुद अपनी जीभ से चाट कर इसे साफ़ करूँगा।

श्रीमती जी ने सेल्समैन की तरफ घूर कर देखा और बोली, "जीभ से मत चाटना ऐसे ही हाथ से उठा कर खाना शुरू कर दो।"

सेल्समैन: आप ऐसा क्यों बोल रही हैं मैडम।

श्रीमती जी: क्यों घर में बिजली नहीं है। अब हो जाओ शुरू।

शिक्षा: कुछ भी करने से पहले पूरी जानकारी इकठी कर ले ताकि बाद में पछताना ना पड़े।
----------
दामाद और ससुराल दौरा!
सभी माननीय दामादों की ससुराल दौरे से जुड़ी आवश्यक जानकारी जनहित में जारी

पहली बार:
पूरी, 2 सब्ज़ी, चिकन या मटन ( दामाद जी की इच्छानुसार ), फिश फ्राई, रायता,सलाद, मिठाई और अंत में जबरदस्ती दो मिठाई।

दूसरी बार:
पूरी, 1 सब्ज़ी, चिकन ( बिना दामाद जी को पूछे),गोभी फ्राई, सलाद, मिठाई

तीसरी बार:
पराठा-सब्ज़ी, भिंडी फ्राई, प्याज-टमाटर काट कर और हलवा

चौथी बार:
पराठा-आलू का भुजिया सब्ज़ी, प्याज-टमाटर काट कर, और खाना परोसते हुए पूछा जाएगा कि चिकन बनाएँ क्या

पांचवी बार
जल्दी मे लगते हैं, खाना भी खायेंगे क्या?

छठी बार:
अरे बाद में बैठिये पहले मुन्नू को स्कूल छोड़ आएये और लौटते समय सब्ज़ी लेते आना फिर खाना बनेगा।
----------


अमीरी की हकीकत!
एक ताऊ हस्पताल में आखिरी साँसे गिन रहा था उसका परिवार व एक नर्स उसके बिस्तर के पास खड़े थे।

ताऊ अपने बड़े बेटे से बोला,"बेटा, तुम मेरे TDI City वाले 15 बंगले ले लो।

बेटी से कहा,"तू सोनीपत सेक्टर 14 के बंगले ले ले।

छोटे बेटे से कहा,"तू सबसे छोटा है और मुझे सबसे ज्यादा प्यारा भी तुझे मैं रोहिणी सेक्टर 24 पॉकेट 13 की 20 दुकाने देता हूँ"।

आखिर में ताऊ पत्नी से बोला,"मेरेबाद तुम्हें पैसों के लिए किसी का मुँह न ताकना पड़े इसलिए मेरे यूनिटी वाले 12 फ़्लैट तुम अपने पास रख लो।"

पास में खड़ी नर्स, जो यह सब सुन रही थी, बहुत प्रभावित हुई उसने ताऊ की पत्नी से कहा, "आप बहुत भाग्यशाली हैं कि आपको इतने अमीर पति मिले जो इतनी सारी जायदाद देकर जा रहे हैं।"

पत्नी: "कौन अमीर ? कैसी जायदाद ? अरे ये दुधिया है हम सबको जिम्मेदारियां बाँट रहे हैं सुबह-सुबह दूध पहुंचाने की।
----------
सास से प्यार!
यह एक जग प्रसिद्ध सच है कि सभी बहुओं को अपनी सास से परेशानी रहती है।

ऐसे ही एक दिन सभी बहुएं इकट्ठी हुई और उन्होंने फैसला किया कि, वे सब अपनी सास से माफ़ी मांगेगी और कहेंगी, उन्होंने जो भी किया उनसे वो गलती से हुआ।

एक हफ्ते बाद सभी बहुओं ने पिकनिक जाने का कार्यक्रम बनाया, जिसमें पूरे परिवार के साथ अपनी अपनी सास को भी ले गयी।

सारी सास एक ही बस में थी जो सबसे आगे चली थी रास्ते में उनकी बस का एक्सिडेंट हो गया।

और सभी सास मर गयी, सारी बहुएं जोर-जोर से बिलख-बिलख कर रो रही थी।

पर एक बहु को शायद कुछ ज्यादा ही दुःख हुआ वो जमीन पर हाथ पटक पटक कर रो रही थी। सभी उसे सांत्वना देकर कह रहे थे, कम से कम तुम्हारी सास बिना किसी चिंता के मरी है। तुम्हारा उससे कोई झगड़ा नहीं था पर वो अभी भी जोर-जोर से चिल्ला रही थी।

जब वो बार-बार बोलने पर चुप नहीं हो रही थी तो एक औरत ने उसे पूछा, "तुम इतना क्यों चिल्ला रही हो, क्या तुम्हारी सास ज्यादा खास थी?"

उस औरत ने अपने आप को थोड़ा संभाला और सिसकते हुए कहा, "नहीं, उनसे बस छूट गयी है।"
----------
रावण का ज्ञान!
जिस समय रावण मरणासन्न अवस्था में था, उस समय भगवान श्रीराम ने लक्ष्मण से कहा कि इस संसार से नीति, राजनीति और शक्ति का महान् पंडित विदा ले रहा है, तुम उसके पास जाओ और उससे जीवन की कुछ ऐसी शिक्षा ले लो जो और कोई नहीं दे सकता।

श्रीराम की बात मानकर लक्ष्मण मरणासन्न अवस्था में पड़े रावण के सिर के नजदीक जाकर खड़े हो गए।

रावण ने कुछ नहीं कहा।

लक्ष्मण जी वापस रामजी के पास लौटकर आए... तब भगवान ने कहा कि यदि किसी से ज्ञान प्राप्त करना हो तो उसके चरणों के पास खड़े होना चाहिए न कि सिर की ओर।

यह बात सुनकर लक्ष्मण जाकर इस बार रावण के पैरों की ओर खड़े हो गए।

उस समय महापंडित रावण ने लक्ष्मण को तीन बातें बताई जो जीवन में सफलता की कुंजी है।

पहली बात जो रावण ने लक्ष्मण को बताई वह ये थी कि
"What's app से दूर रहना।"

दूसरी बात "Facebook का प्रयोग मत करना।"

और तीसरी बात "गाड़ी चलाते समय Mobile मत इस्तेमाल करना। नहीं तो बड़ा बुरा हाल होगा।"
----------
तारीफ भी पड़ गयी महंगी!
एक आदमी की शादी को 20 साल हो गए थे लेकिन उसने आज तक अपनी पत्नी के हाथ से बने खाने की तारीफ नहीं की।

एक दिन जब वो दफ्तर से घर वापस आ रहा था तो रास्ते में उसे एक बाबा मिले। बाबा ने उस आदमी को रोका और कुछ खाने को माँगा तो आदमी ने बाबा को खाना खिला दिया। बाबा आदमी से बहुत प्रसन्न हुए तो उन्होंने आदमी से कहा कि अगर उसे कोई समस्या है तो बताओ, हम उसका हल कर देंगे।

आदमी बोला, "बाबा जी, बहुत समय से कोशिश कर रहा हूँ लेकिन काम में तरक्की नहीं हो रही।"

बाबा: बेटा, तुमने अपनी पत्नी के खाने की कभी तारीफ नहीं की। अपनी पत्नी के खाने की तारीफ करो, तुम्हें अवश्य तरक्की मिलेगी।

आदमी बाबा को धन्यवाद बोल कर चल दिया।

घर पहुँच कर उसकी पत्नी ने खाना परोसा, आदमी ने खाना खाया और खाने की जम कर तारीफ की।

पत्नी एक दम से उठी और रसोई घर से बेलन लेकर आई और आदमी की पिटाई शुरू कर दी।

आदमी: क्या हुआ? मैं तो तुम्हारे खाने की तारीफ कर रहा हूँ।

पत्नी: 20 साल हो गए आज तक तो खाने की तारीफ नहीं की और आज जब पड़ोसन खाना दे कर गयी है तो तुम्हें ज़िन्दगी का मज़ा आ गया।
----------


नर्क भी सरकारी है!
एक बार एक व्यक्ति मरकर नर्क में पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है । उसने सोचा चलो अमेरिका वासियों के नर्क में जाकर देखें। जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से उसने पूछा, "क्यों भाई अमेरिकी नर्क में क्या-क्या होता है?

पहरेदार बोला, "कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक कुर्सी पर एक घंटा बिठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे तक लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे मारेगा।

यह सुनकर वह व्यक्ति बहुत घबराया और उसने रूस के नर्क की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से भी वही पूछा। रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नर्क में सुनकर आया था। फ़िर वह व्यक्ति एक-एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे पर जाकर आया, सभी जगह उसे भयानक किस्से सुनने को मिले। अन्त में जब वह एक जगह पहुँचा, देखा तो दरवाजे पर लिखा था "भारतीय नर्क" और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में जाने के लिये लम्बी लाईन लगी हुई थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे।

उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी। तत्काल उसने पहरेदार से पूछा कि सजा क्या है?

पहरेदार ने कहा, "कुछ खास नहीं...सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक कुर्सी पर एक घंटा बिठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे तक लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे मारेगा।

चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा, "यही सब तो बाकी देशों के नर्क में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड क्यों है?"

पहरेदार: इलेक्ट्रिक कुर्सी तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है, और कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है और कभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़ मारता है और पचास लिख देता है।
----------
काम वाला फ़ोन!
फ़ोन का बहुत अधिक बिल आने पर एक आदमी ने अपने घर के सभी लोगों को बुलाया और कहने लगा।

आदमी: देखो, मुझे इस बात पर बिल्कुल भी यकीन नही हो रहा है कि फ़ोन का इतना अधिक बिल कैसे आ सकता है? जबकि मैं तो सारे फ़ोन अपने ऑफिस के फ़ोन से करता हूँ।

पत्नी: बिल्कुल, मैं भी! मैं तो कभी भी इस फ़ोन से फ़ोन नही करती क्योंकि मेरे पास तो अपना ऑफिस वाला फ़ोन है।

बेटा: मुझे तो मेरी कंपनी वालों ने बिल्कुल नया फ़ोन दिया है मैं तो उसी से फ़ोन करता हूँ।

नौकरानी: तो इसमें दिक्कत क्या है साहब? सभी अपने काम वाले फ़ोन से ही फ़ोन करते हैं।
----------
मेरे साथ चलो!
एक दोपहर में एक धनी वकील अपनी बड़ी गाड़ी में कहीं जा रहा था, रास्ते में उसने देखा कि सड़क के किनारे दो आदमी घास खा रहे है, उसने अपने ड्राईवर से गाड़ी रोकने को कहा और वह गाड़ी से बाहर निकला और उन दोनों से पूछताछ करने लगा, अरे भई.. तुम लोग घास क्यों खा रहे हो?

उन दोनों ने कहा साहब क्या करें हमारे पास खाना खाने के लिए पैसे नहीं है!

ओह.. हो.. चलो मेरे साथ आओ!

पर साहब मेरी पत्नी और दो बच्चे भी है!

उन्हें भी साथ लेकर आओ, और तुम भी मेरे साथ आओ उसने दूसरे आदमी से कहा!

पर साहब मेरे तो छह बच्चे है और बीवी भी है दूसरे आदमी ने कहा, उन्हें भी साथ लेकर आओ, वे सब बड़ी मुश्किल से गाड़ी पर चढ़े और आपस में सट कर बैठ गए!

जो आदमी सबसे अंत में चढ़ा वो कहने लगा, साहब आप बहुत दयालु है जो आप हम जैसे गरीबों को साथ में लेकर जा रहे हैं!

वकील कहने लगा अरे कोई बात नहीं मेरे घर के आसपास में लगभग 2 फुट लम्बी घास है!
----------
अद्भुत भारत!
भारत के बारे में 15 ऐसे तथ्य जो मजाकिया होने के साथ सच भी है।

1. भारत एक ऐसा देश है जो कई स्थानीय भाषाओ द्वारा विभाजित है और एक विदेशी भाषा द्वारा एकजुट।

2. भारत मे लोग ट्रैफिक सिग्नल की रेड लाइट पर भले ही ना रुके लेकिन अगर एक काली बिल्ली रास्ता काट जाए हो हज़ारो लोग लाइन में खड़े हो जाते है। अब तो लगता है ट्रैफिक पुलिस में भी काली बिल्लियों की भर्ती करनी पड़ेगी।

3. चीन अपनी सरकार की वजह से तरक्की कर रहा है और भारत में तरक्की ना होने का सबसे बड़ा कारण उसकी अपनी सरकारें ही रही हैं।

4. भारत का मतदाता वोट देने से पहले उम्मीदवार की जात देखता है ना की उसकी योग्यता। अब इन लोगों को कौन समझाये की भाई तुम देश के लिए नेता ढूंढ रहे हो ना की अपने लिए जीजा।

5. भारत एक ऐसा देश है जहाँ एक्टर्स क्रिकेट खेल रहे है, क्रिकेटर्स राजनीति खेल रहे है, राजनेता पोर्न देख रहे है और पोर्न स्टार्स एक्टर बन रहे है।

6. भारत में आप 'जुगाड़' से करीब-करीब सब कुछ पा सकते है।

7. हम एक ऐसे देश में रहते है जहाँ नोबेल शांति पुरस्कार मिलने से पहले लगभग कोई भारतीय नहीं जानता था की कैलाश सत्यार्थी कौन है। लेकिन अगर एक रशियन टेनिस खिलाडी हमारे देश के एक क्रिकेटर को नही जानती तो ये हमारे लिए अपमान की बात है।

8. 'भारत चौदह करोड़ मुस्लिमो का घर, और कोई अलक़ायदा नहीं'।- जॉर्ज बुश

9. भारत में किसी अनजान से बात करना खतरनाक है, लेकिन किसी अनजान से शादी करना बिलकुल ठीक।

10. हम भारतीय अपनी बेटी की पढ़ाई से ज्यादा खर्च बेटी की शादी पे कर देते है।

11. हम एक ऐसे देश में रहते है जहाँ एक पुलिसवाले को देखकर लोग सुरक्षित महसूस करने की वजाए घबरा जाते है।

12. हम भारतीय बहुत शर्मीले है फिर भी 125 करोड़ है।

13. हम भारतीय हेलमेट सुरक्षा के लिहाज़ से कम, चालान के डर से ज्यादा पहनते है।

14. भारत गरीब लोगो का एक अमीर देश है।

15. भारतीय समाज सिखाता है की 'बलात्कार से कैसे बचें' नाकि ये की 'बलात्कार ना करें'।
----------



बढ़ती प्याज की कीमतों के हिसाब फिल्मों के डायलॉग्स!
बढ़ती प्याज की कीमतों के हिसाब से जल्दी ही फिल्मों के डायलॉग्स इस प्रकार के होंगे।

मेरे करण अर्जुन आयेंगे... और दो किलो प्याज़ लायेंगे।

ये ढाई किलो के प्याज़ जब आदमी लेता है ना तो आदमी उठता नहीं उठ जाता है।

मेरे पास बंगला है गाड़ी है बैंक बैलेंस है पैसा है, तुम्हारे पास क्या है?
मेरे पास प्याज़ है।

जिनके घर प्याज़ के सलाद होते हैं वो बत्ती बुझा कर खाना खाते हैं।

चिनॉय सेठ, प्याज़ बच्चों के खेलने की चीज़ नहीं होती कट जाए तो खून निकल आता है।

मैं आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता प्याज़ हो तो अलग बात है।

सारा शहर मुझे प्याज़ के नाम से जानता है।

प्याज़ को खरीदना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है।

आपके प्याज देखे, बहुत हसीन हैं, इन्हें ज़मीन पे मत उतारियेगा मैले हो जायेंगे।

चल धन्नो, आज दस किलो प्याज़ का सवाल है।
----------
मदद करनी भी पड़ गयी भारी!
एक बार एक किसान का घोडा बीमार हो गया। उसने उसके इलाज के लिए डॉक्टर को बुलाया। डॉक्टर ने घोड़े का अच्छे से मुआयना किया और बोला, "आपके घोड़े को काफी गंभीर बीमारी है। हम तीन दिन तक इसे दवाई देकर देखते हैं, अगर यह ठीक हो गया तो ठीक नहीं तो हमें इसे मारना होगा। क्योंकि यह बीमारी दूसरे जानवरों में भी फ़ैल सकती है।"

यह सब बातें पास में खड़ा एक बकरा भी सुन रहा था।

अगले दिन डॉक्टर आया, उसने घोड़े को दवाई दी चला गया। उसके जाने के बाद बकरा घोड़े के पास गया और बोला, "उठो दोस्त, हिम्मत करो, नहीं तो यह तुम्हें मार देंगे।"

दूसरे दिन डॉक्टर फिर आया और दवाई देकर चला गया।

बकरा फिर घोड़े के पास आया और बोला, "दोस्त तुम्हें उठना ही होगा। हिम्मत करो नहीं तो तुम मारे जाओगे। मैं तुम्हारी मदद करता हूँ। चलो उठो"

तीसरे दिन जब डॉक्टर आया तो किसान से बोला, "मुझे अफ़सोस है कि हमें इसे मारना पड़ेगा क्योंकि कोई भी सुधार नज़र नहीं आ रहा।"

जब वो वहाँ से गए तो बकरा घोड़े के पास फिर आया और बोला, "देखो दोस्त, तुम्हारे लिए अब करो या मरो वाली स्थिति बन गयी है। अगर तुम आज भी नहीं उठे तो कल तुम मर जाओगे। इसलिए हिम्मत करो। हाँ, बहुत अच्छे। थोड़ा सा और, तुम कर सकते हो। शाबाश, अब भाग कर देखो, तेज़ और तेज़।"

इतने में किसान वापस आया तो उसने देखा कि उसका घोडा भाग रहा है। वो ख़ुशी से झूम उठा और सब घर वालों को इकट्ठा कर के चिल्लाने लगा, "चमत्कार हो गया। मेरा घोडा ठीक हो गया। हमें जश्न मनाना चाहिए। आज बकरे का गोश्त खायेंगे।"

शिक्षा: मैनेजमेंट को भी कभी पता नहीं चलता कि कौन सा कर्मचारी कितना योग्य है।
----------
व्हाट्सएप्प के नए नियम!
मोदी सरकार द्वारा नया नियम लागू करने से पहले एडमिन ने किये अपने नए नियम लागू।

सभी ग्रुप मेंबर्स को सूचित किया जा रहा है कि 1 अक्टूबर 2015 से अपने इस ग्रुप के नियमों मे कुछ बदलाव किया जा रहा है। ग्रुप के नए नियम:

1. मैसेज दोबारा करने पर 50 ₹ जुर्माना

2. तीन-चार दिनो तक कोई मैसेज नही भेजने पर 150 ₹ दंड

3. बिना इजाजत के ग्रुप छोडने पर 100 ₹ दंड

4. इज़ाज़त ले कर ग्रुप छोडने पर कोई चार्ज नही होगा पर इज़ाज़त देने के एडमिन 200 ₹ घूस लेंगे

5. बीस से ज्यादा मैसेज भेजने पर 15 ₹ प्रति मैसेज देना होगा

6. ज्यादा चैटिंग करने वालो को एडमिन का 100 ₹ का रिचार्ज करवाना पडेगा

7. एक साथ वीडियो की बाढ लाने वाले को हर ग्रुप मेंबर का 50 ₹ का नेट पैक रिचार्ज करवाना पडेगा

8. एडमिन पर किसी प्रकार का कोई नियम लागू नही होगा

9. हफ्ते के सबसे बढ़िया मैसेज को एडमिन की तरफ से 1kg मूंगफली के छिलके मिलेंगे

10. और इस मैसेज को दूसरे ग्रुप में भेजने पर उचित इनाम भी दिया जायेगा

धन्यवाद
----------
हिंदुस्तानी माता-पिता की कुछ बातें!
1. पैसे पेड़ पे नहीं उगते।

2. बेटा: माँ मैं पार्टी के लिए जाऊं? माँ: पिता जी से पूछ लो। पिता जी: माँ से पूछ लो।

3. अगर 8 बजे तक घर नहीं आये तो वापस आने की ज़रूरत नहीं है।

4. अगर पढ़-लिख कर कुछ अच्छा नहीं करोगे तो उसकी तरह बन जाओगे।(किसी बेरोज़गार, बेघर की उदाहरण देकर)

5. बेटे अभी पढ़ लो बाद में तो ऐश ही ऐश है।

6. ज़रा तुम्हारे अपने बच्चे होने दो।

8. अंकल-आंटी के पैर छुओ, चलो आशीर्वाद लो।

9. बेटा: माँ मेरे गणित में 100 में से 90 नंबर आये। माँ: क्लास में सबसे ज्यादा नंबर किसके आये हैं।

10. जाओ और जाकर पढाई करो। ये दोस्त नही आने वाले तुम्हारे एग्जाम देने।

11. तुमको ही सब पता है, हमने तो दुनिया देखि ही नहीं है न।

12. हमारी बात सुनना कब शुरू करोगे?

13. कहाँ थे लाट साहब? ये कोई टाइम है घर आने का।

14. घुस जा टीवी के अंदर, जीतने के बाद कप तुझे ही मिलने वाला है।

15. हमारे टाइम में तो ऐसे नहीं होता था।

16. जब खुद कमाओगे तब पता चलेगा।

17. क्या तुम्हारे दोस्त भी अपने माँ-बाप से ऐसे ही बात करते हैं।

18. इसके तो पर निकल आये हैं।

19. दोपहर में भी लाइट क्यों जलाते हो?

20. क्या सोचा है तुमने आगे के बारे में?
----------



बुढ़ापे का प्यार!
एक बार एक बुज़ुर्ग औरत और एक बुज़ुर्ग आदमी में काफी लम्बे समय से बड़ी गहरी दोस्ती होती है, एक दिन अचानक आदमी के दिमाग में कुछ आता है और वह उस महिला के सामने शादी का प्रस्ताव रख देता है जिसके लिए वह महिला फ़ौरन हाँ कर देती है।

इस घटना के अगले दिन जब वह आदमी सुबह सो के उठता है तो उसे ठीक से याद नहीं रहता की उस महिला ने उसके प्रस्ताव का क्या जवाब दिया था। काफी देर तक कोशिश करने के बाद भी जब याद नहीं आता है तो वह महिला को फ़ोन लगाता है।

बुज़ुर्ग आदमी: कल मेरे शादी के प्रस्ताव पर तुमने क्या जवाब दिया था, हां या ना?

महिला: भगवान का लाख-लाख शुक्र है कि तुमने फोन कर लिया। जवाब तो मैंने हां ही दिया था पर मैं ये भूल गई थी कि किसको दिया था।
----------
औरतों की विचित्र सच्चाई!
1. वे बचत में विश्वाश करती हैं लेकिन फिर भी महंगे महंगे कपडे खरीदती हैं।

2. महंगे महंगे कपडे खरीदती है, फिर भी कहती रहती हैं कि मेरे पास पहनने को कुछ भी नहीं है।

3. पहनने को कुछ भी नहीं होता है,पर सजती बहुत सुन्दर हैं।

4. सजती बहुत सुन्दर हैं, पर सन्तुष्ट कभी नहीं होती।

5. सन्तुष्ट कभी नहीं होती, पर हमेशा चाहती हैं कि उनका पति उनकी तारीफ़ करे।

6. चाहती हैं कि उनका पति उनकी तारीफ़ करे, पर पति सच में भी तारीफ़ करे तो वे विश्वाश नहीं करती।

सचमुच समझ से बाहर हैं ये औरतें।
----------
फौजी की दावत!
एक बार एक फौजी अफसर की शादी हुई तो उसने अपने बटालियन के सभी जवानों को शादी की दावत पर बुलाया।

खाना टेबल पर लगाकर सब जवानों को फौजी अँदाज मे कहा, "मेरे शेरो इस खाने को दुशमन समझकर इसके उपर टूट पड़ो।"

थोड़ी देर में फौजी अफसर क्या देखता है कि एक जाट एक हाथ से लड्डू - जलेबी खा रहा है और एक हाथ से लड्डू - जलेबी जेब मे ठूस रहा है।

अफसर: जवान यह क्या हो रहा है?

जाट: साहब जितने मारने थे उतने मार दिये बाकियों को बंदी बना रहा हूँ।
----------
चालाकी कंजूस की!
एक कंजूस आदमी के घर मेहमान आया।

कंजूस: भाईसाहब, ठंडा लेंगे या गरम?

मेहमान: ठंडा।

कंजूस: जूस या कोल्ड ड्रिंक?

मेहमान: कोल्ड ड्रिंक ले लूँगा।

कंजूस: स्टील के गिलास में लेंगे या काँच के गिलास में?

मेहमान: कांच के गिलास में ले आओ।

कंजूस: प्लेन या डिजाइन वाला?

मेहमान (परेशान होते हुए ): अरे यार, डिजाइन वाले में ही ले आओ।

कंजूस: ओके, कौन सी डिजाइन पसंद है? लाइनों वाली या फूलों वाली?

मेहमान: फूलों वाली।

कंजूस: कौन से फूल? गुलाब के या चमेली के?

मेहमान: गुलाब के।

कंजूस (अपनी बीवी से): लाजो, ज़रा देख तो गुलाब के फूलों की डिजाइन वाला गिलास अपने घर में है या नहीं?

बीवी: नहीं है जी।

कंजूस: ओ तेरी! नहीं है? चल फिर कोल्ड ड्रिंक रहने दे, भाईसाहब को मजा नहीं आएगा।
----------


फौजी की दावत!
एक बार एक फौजी अफसर की शादी हुई तो उसने अपने बटालियन के सभी जवानों को शादी की दावत पर बुलाया।

खाना टेबल पर लगाकर सब जवानों को फौजी अँदाज मे कहा, "मेरे शेरो इस खाने को दुशमन समझकर इसके उपर टूट पड़ो।"

थोड़ी देर में फौजी अफसर क्या देखता है कि एक जाट एक हाथ से लड्डू - जलेबी खा रहा है और एक हाथ से लड्डू - जलेबी जेब मे ठूस रहा है।

अफसर: जवान यह क्या हो रहा है?

जाट: साहब जितने मारने थे उतने मार दिये बाकियों को बंदी बना रहा हूँ।
----------
एक भेलपुरी अलग अलग दाम!
एक भेलपुरी वाले का मेनू:

1) भेलपुरी 10 रू
2) स्पेशल भेलपुरी 12 रू
3) व्हेरी स्पेशल भेलपुरी 15 रु
4) एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी 16 रु
5) डबल एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी 20 रु
6) संडे स्पेशल भेलपुरी 25 रु
(सिर्फ रविवार)

भेलपुरी की अलग अलग टेस्ट चखने के लिए मैं रोज एक अलग भेलपुरी खाने लगा। पर जल्द ही मुझे एहसास हुआ कि, हर एक भेलपुरी की एक ही टेस्ट है। आखिरकार एक दिन मैने उससे इस का कारण पुछा, "हर एक भेल की एक जैसा टेस्ट है?"

भेलवाला: भेलपुरी मतलब भेलपुरी. . . सिर्फ 10 रु.
स्पेशल भेलपुरी मतलब चमच धोया हुआ।
व्हेरी स्पेशल भेलपुरी मतलब चमच और प्लेट, दोनों ही धोये हुए।
एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी मतलब भेल देने से पहले हात धुले हुए।
डबल एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी मतलब पीने का साफ पानी अलग से दिया जाता है।

इतना बोलकर वह चुप हो गया।

मैं: फिर संडे स्पेशल मतलब क्या?

भेलवाला: संडे को मैं नाहता हूँ, इसलिए संडे स्पेशल अलग से।
----------
ख़बरों के टुकड़े!
कई दुकानदार अख़बारों को काट कर लिफाफे बना लेते हैं लेकिन कई बार जोड़ लगाते समय दो अखबारों की खबरें इस तरह जुड़ जाती हैं कि उनके मतलब कुछ और के और ही बन जाते हैं।

कुछ नमूनें देखें:

1. अमरीका के राष्ट्रपति... कानपुर के पास चोरी की भैंसों समेत गिरफ्तार

2. अमरीकी फौजों द्वारा इराक की जेलों में... चमेली बाई के साथ भंगड़े की क्लासें 23 जुलाई से शुरू

3. अफगानिस्तान की जेलों में छिपे लादेन को... पंजाब सरकार की ओर से बुढ़ापा पेंशन देने का ऐलान

3. मुख्यमंत्री के घर पर... भैंस ने छ: टाँगों वाले बच्चे को जन्म दिया

4. अपने हरमन प्यारे नेता को वोट डालकर... मर्दाना ताकत हासिल करें

5. अटल बिहारी वाजपेयी ने ज़ोर देकर कहा... एक सुन्दर और सुशील कन्या की ज़रूरत

6. तिहाड़ जेल से छ: कैदी फरार... भारत को ओलंपिक्स में सोने के तमगे की उम्मीद

7. क्या आपकी नज़र कमज़ोर है? आज ही आयें... ठेका देशी शराब

8. बे-औलाद दंपत्ति परेशान न हों... 7 तारीख को आ रहे हैं लालू प्रसाद आपके शहर में
----------
मांग का महत्त्व!
क्या आपने कभी सोचा है कि औरतें मांग क्यूं भरती हैं?
.
.
.
.
.
नहीं पता न...
.
.
.
. .
मैं बताता हूँ।

औरतें मांग इसलिए भरती हैं ताकि लोगों को पता चल जाए कि इस प्लाट की रजिस्ट्री हो चुकी है।

पुरुष कभी मांग नहीं भरते क्योंकि ये तो गोचर भूमि है, इसकी रजिस्ट्री नही हो सकती।

शादी के समय आपने देखा होगा वरमाला का समय होता है तब दुल्हन के साथ तीन चार और लडकियां आती हैं, उसका क्या तात्पर्य है?

उसका तात्पर्य है कि जिस प्लाट की रजिस्ट्री हो रही होती है उसके नक्शे में आस-पास खाली प्लाट दिखाने पड़ते हैं।

इसमे भी एक समस्या है कि कुछ की रजिस्ट्री हो चुकी होती है और बाकियों पर अवैध कब्जा चल रहा होता है।
----------


भिक्षा दे माई!
एक फ्लैट में घंटी बजती है और महिला जो घर में अकेली है दरवाज़ा खोलती है।

भिक्षुक: माई, भिक्षा दे।

महिला: ले लो, महाराज।

भिक्षुक: माई ज़रा यह द्वार पार करके बाहर तो आना। वह द्वार पार करके बाहर आती है।

भिक्षुक (उसे पकड़ते हुए ): हा... हा... हा... मैं भिक्षुक नहीं, रावण हूँ।

महिला: हा... हा... हा... मैं भी सीता नहीं, कामवाली बाई हूँ।

रावण: हा... हा... हा... सीता का अपहरण करके आज तक पछता रहा हूँ, तुम्हें ले जाऊंगा तो मंदोदरी खुश हो जायेगी।मुझे भी कामवाली बाई की ही ज़रूरत है।

महिला: हा... हा... हा... सीता को ढूंढने सिर्फ राम आये थे, मुझे ले जाओगे तो सारी बिल्डिंग ढूँढ़ते पहुँच जाएगी।
----------
सबसे तेज क्या?
एक बार कक्षा छठी में चार बालकों को परीक्षा मे समान अंक मिले, अब प्रश्न खडा हुआ कि किसे प्रथम रैंक दिया जाये। स्कूल प्रबन्धन ने तय किया कि प्राचार्य चारों से एक सवाल पूछेंगे, जो बच्चा उसका सबसे सटीक जवाब देगा उसे प्रथम घोषित किया जायेगा।

चारों बच्चे हाजिर हुए, प्राचार्य ने सवाल पूछा, "दुनिया में सबसे तेज क्या होता है?"

पहले बच्चे ने कहा, "मुझे लगता है 'विचार' सबसे तेज होता है, क्योंकि दिमाग में कोई भी विचार तेजी से आता है, इससे तेज कोई नहीं।"

प्राचार्य ने कहा, "ठीक है, बिलकुल सही जवाब है।"

दूसरे बच्चे ने कहा, "मुझे लगता है 'पलक झपकना' सबसे तेज होता है, हमें पता भी नहीं चलता और पलकें झपक जाती हैं और अक्सर कहा जाता है, 'पलक झपकते' कार्य हो गया।

प्राचार्य बोले, "बहुत खूब, बच्चे दिमाग लगा रहे हैं।"

तीसरे बच्चे ने कहा, "मैं समझता हूँ 'बिजली', क्योंकि मेरे यहाँ गैरेज, जो कि सौ फ़ुट दूर है, में जब बत्ती जलानी होती है, हम घर में एक बटन दबाते हैं, और तत्काल वहाँ रोशनी हो जाती है,तो मुझे लगता है 'बिजली' सबसे तेज होती है।"

अब बारी आई चौथे बच्चे की। सभी लोग ध्यान से सुन रहे थे, क्योंकि लगभग सभी तेज बातों का उल्लेख तीनो बच्चे पहले ही कर चुके थे।

चौथे बच्चे ने कहा, "सबसे तेज होते हैं 'दस्त'।

सभी चौंके, प्राचार्य ने कहा, "साबित करो कैसे?"

बच्चा बोला, "कल मुझे दस्त हो गए थे, रात के दो बजे की बात है, जब तक कि मैं कुछ 'विचार' कर पाता, या 'पलक झपकाता' या 'बिजली' का स्विच दबाता, दस्त अपना 'काम' कर चुका था।

कहने की जरूरत नहीं कि इस असाधारण सोच वाले बालक को ही प्रथम घोषित किया गया।
----------
आदमी का दिल!
आदमी का दिल कितना बड़ा होता है और औरत का कितना छोटा। आप खुद ही देख लीजिए।

औरत के दिल में सिर्फ़ उसके प्रेमी, अपने पति और अपने बच्चों के लिए ही जगह होती है।

आदमी के दिल में तो...

अपनी गर्लफ्रेंड
दोस्त की गर्लफ्रेंड
भाई की गर्लफ्रेंड
पड़ोसी की गर्लफ्रेंड
बीवी की सहेली
बहन की सहेली
पड़ोसन की सहेली
अपनी साली
भाई की साली
साले की साली
साली की सहेली
सामने वाली
पीछे वाली
बाजू वाली
उपर वाली
नीचे वाली
सब्जी वाली
दूध वाली
कपड़े वाली
काम वाली
और आख़िर में थोड़ी बहुत अपनी पत्नी के लिए भी जगह होती है।

सच में, आदमी का दिल बहुत बड़ा होता है।
----------
फ़िल्मी गीत और बीमारियां!
कुछ हिंदी फ़िल्मी गीत जो कुछ बीमारियों का वर्णन करते हैं:

गीत - जिया जले, जान जले, रात भर धुआं चले
बीमारी - बुखार

गीत - तड़प-तड़प के इस दिल से आह निकलती रही
बीमारी - हार्ट अटैक

गीत - सुहानी रात ढल चुकी है, न जाने तुम कब आओगे
बीमारी - कब्ज़

गीत - बीड़ी जलाई ले जिगर से पिया, जिगर म बड़ी आग है
बीमारी - एसिडिटी

गीत - तुझमे रब दिखता है, यारा मैं क्या करूँ
बीमारी - मोतियाबिंद

गीत - तुझे याद न मेरी आई किसी से अब क्या कहना
बीमारी - यादाश्त कमज़ोर

गीत - मन डोले मेरा तन डोले
बीमारी - चक्कर आना

गीत - टिप-टिप बरसा पानी, पानी ने आग लगाई
बीमारी - यूरिन इन्फेक्शन

गीत - जिया धड़क-धड़क जाये
बीमारी - उच्च रक्तचाप

गीत - हाय रे हाय नींद नहीं आये
बीमारी - अनिद्रा

गीत - बताना भी नहीं आता, छुपाना भी नहीं आता
बीमारी - बवासीर

और अंत में

गीत - लगी आज सावन की फिर वो झड़ी है
बीमारी - दस्त
----------



बुढ़िया की शर्त!
शहर के सबसे बडे बैंक में एक बार एक बुढिया आई।

उसने मैनेजर से कहा, "मुझे इस बैंक में कुछ रुपये जमा करने हैं।"

मैनेजर ने पूछा, "कितने हैं?"

वृद्धा बोली, "होंगे कोई दस लाख।"

मैनेजर बोला, "वाह क्या बात है, आपके पास तो काफ़ी पैसा है, आप करती क्या हैं?"

वृद्धा बोली, "कुछ खास नहीं, बस शर्तें लगाती हूँ ।"

मैनेजर: शर्त लगा-लगा कर आपने इतना सारा पैसा कमाया है? कमाल है।

वृद्धा: कमाल कुछ नहीं है बेटा, मैं अभी एक लाख रुपये की शर्त लगा सकती हूँ कि तुमने अपने सिर पर विग लगा रखा है।

मैनेजर हँसते हुए बोला, "नहीं माताजी, मैं तो अभी जवान हूँ, और विग नहीं लगाता।"

वृद्धा: तो शर्त क्यों नहीं लगाते?

मैनेजर ने सोचा यह पागल बुढिया फ़िज़ूल में ही एक लाख रुपये गँवाने पर तुली है, तो क्यों न मैं इसका फ़ायदा उठाऊँ। मुझे तो मालूम ही है कि मैं विग नहीं लगाता। मैनेजर एक लाख की शर्त लगाने को तैयार हो गया।

वृद्धा: चूँकि मामला एक लाख रुपये का है, इसलिये मैं कल सुबह ठीक दस बजे अपने वकील के साथ आऊँगी और उसी के सामने शर्त का फ़ैसला होगा।

मैनेजर ने कहा, "ठीक है बात पक्की।"

मैनेजर को रात भर नींद नहीं आई। वह एक लाख रुपये और बुढिया के बारे में सोचता रहा।

अगली सुबह ठीक दस बजे वह बुढिया अपने वकील के साथ मैनेजर के केबिन में पहुँची और पूछा, "क्या आप तैयार हैं?"

मैनेजर: बिलकुल, क्यों नहीं?

वृद्धा: लेकिन चूँकि वकील साहब भी यहाँ मौजूद हैं और बात एक लाख की है इसलिए मैं तसल्ली करना चाहती हूँ कि सचमुच आप विग नहीं लगाते, इसलिए मैं अपने हाथों से आपके बाल नोचकर देखूँगी।

मैनेजर ने पल भर सोचा और हाँ कर दी, आखिर मामला एक लाख का था।

वृद्धा मैनेजर के नजदीक आई और धीर-धीरे आराम से मैनेजर के बाल नोँचने लगी। उसी वक्त अचानक पता नहीं क्या हुआ, वकील साहब अपना माथा दीवार पर ठोंकने लगे।

मैनेजर: अरे.. अरे.. वकील साहब को क्या हुआ?

वृद्धा: कुछ नहीं, इन्हें सदमा लगा है, मैंने इनसे पाँच लाख रुपये की शर्त लगाई थी कि आज सुबह दस बजे मैं शहर से सबसे बडे बैंक के मैनेजर के बाल नोँचकर दिखा दूँगी।
----------
बनिया और कटोरा!
एक बनिए की बाजार में छोटी सी मगर बहुत पुरानी कपड़े सीने की दुकान थी। उनकी इकलौती सिलाई मशीन के बगल में एक बिल्ली बैठी एक पुराने गंदे कटोरे में दूध पी रही थी। एक बहुत बड़ा कला पारखी बनिए की दुकान के सामने से गुजरा। कला पारखी होने के कारण जान गया कि कटोरा एक एंटीक आइटम है और कला के बाजार में बढ़िया कीमत में बिकेगा। लेकिन वह ये नहीं चाहता था कि बनिए को इस बात का पता लगे कि उनके पास मौजूद वह गंदा सा पुराना कटोरा इतना कीमती है।

उसने दिमाग लगाया और बनिए से बोला, 'लाला जी, नमस्ते, आप की बिल्ली बहुत प्यारी है, मुझे पसंद आ गई है। क्या आप बिल्ली मुझे देंगे? चाहे तो कीमत ले लीजिए।'

बनिए ने पहले तो इनकार किया मगर जब कलापारखी कीमत बढ़ाते-बढ़ाते दस हजार रुपयों तक पहुंच गया तो लाला जी बिल्ली बेचने को राजी हो गए और दाम चुकाकर कला पारखी बिल्ली लेकर जाने लगा।

अचानक वह रुका और पलटकर बनिए से बोला--- "लाला जी बिल्ली तो आपने बेच दी। अब इस पुराने कटोरे का आप क्या करोगे? इसे भी मुझे ही दे दीजिए। बिल्ली को दूध पिलाने के काम आएगा। चाहे तो इसके भी 100-50 रुपए ले लीजिए।'

कहानी में ट्विस्ट

बनिए ने जवाब दिया, "नहीं साहब, कटोरा तो मैं किसी कीमत पर नहीं बेचूंगा, क्योंकि इसी कटोरे की वजह से आज तक मैं 50 बिल्लियां बेच चुका हूं।'

..बनिया आखिर बनिया होता है...इनको कोई बेवकूफ नहीँ बना सकता...
----------
सेर को सवा सेर!
एक बार एक आदमी था। जिसने अपनी सारी ज़िन्दगी बहुत काम किया और बहुत पैसा कमाया। पैसा होने के बावजूद भी वो बहुत कंजूस था। उसे अपनी ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा प्यार अपने पैसे से था। यहाँ तक कि उसने अपनी पत्नी से भी यह वायदा लिया था की जब वो मर जायेगा तो उसका सारा पैसा उसके साथ उसकी कब्र में दफना देना।

उसकी पत्नी ने भी उससे वायदा कर दिया कि जब वो मरेगा तो वो ऐसा ही करेगी।

कुछ दिनों बाद आदमी की मौत हो गयी। आदमी को ताबूत में लिटाया गया और जब सब लोग उस ताबूत को दफ़नाने लगे तो पत्नी ने उनको रुकने को कहा।

सब रुक गए तभी उस आदमी की पत्नी एक डिब्बा लेकर आई और उसे ताबूत में रख दिया। सब लोग यह देख कर हैरान थे कि वो ऐसा क्यों कर रही है। पति तो अब मर चुका है तो अब सारा पैसा पत्नी का ही है फिर भी वो डिब्बा ताबूत में रखना चाहती है।

पत्नी ने सब की बात सुनी और बोली, "मैं एक अच्छी पत्नी हूँ जो अपने पत्नी की हर इच्छा पूरी करुँगी। मैंने उनसे वायदा किया था कि मैं उनके सारे पैसे उनके साथ ही ताबूत में छोड़ दूंगी।"

किसी ने उससे पूछा, "इसका मतलब तुमने सारे पैसे एक साथ इसमें रख दिए?"

पत्नी ने जवाब दिया, "हाँ बिल्कुल, मैंने उसके सारे पैसे अपने खाते में जमा करवा दिए हैं और अपने पति के नाम का चेक लिख दिया है जो कि इस डिब्बे में है!"
----------
मम्मियों के प्रकार
1. आलसी मम्मी - एक बात तुम्हें कितनी बार बतानी पड़ती है?

2. धमकाने वाली मम्मी - आने दो तुम्हारे पापा को तुम्हारी शिकायत करुँगी।

3. इतिहास पसंद मम्मी - जब मैं तुम्हारी उम्र की थी तो सारी जिम्मेदारी संभाल लेती थी।

4. भविष्य वाचक मम्मी - मुझे पता था ये जरूर टूटेगा।

5. भ्रमित मम्मी - मैं इंसान हूँ या मशीन?

6. स्वार्थी मम्मी - परांठा तुम्हारे लिए दिया था या तुम्हारे दोस्तों के लिए?

7. शक्की मम्मी - 10 में से 10, जरूर तुमने नक़ल की होगी?

8. सबकी मम्मी - इस मोबाइल को आग लगा दूँगी।
----------



पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करे!
समाचार पत्र में विज्ञापन आया, हमारे पास एक ऐसा उत्पाद हैं, जिसको पहनकर आप पूरी दुनिया को देख सकते हैं, मगर आपको कोई नही देख सकता।

दस हज़ार में यह सुविधा आपके घर तक फ्री में पहुंचाई जायेगी।

एक लड़की ने विज्ञापन पढ़ते ही 10,000 रुपये भेज दिए।

कुछ दिनों बाद एक पैकेट लेकर आया, लड़की ने उसे जल्दी से खोला तो अन्दर से एक 'बुर्क़ा' निकला वो भी टोपी वाला।
----------
प्रधानमंत्री जी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त!
प्रधानमंत्री जी,

सबसे पहले तो मैं यह स्पष्ट कर दूं कि मैं ना आज़म खान की भैंस हूँ और ना लालू यादव की। ना मैं कभी रामपुर गयी ना पटना। मेरा उनकी भैंसों से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है। यह सब मैं इसलिये बता रही हूँ कि कहीं आप मुझे विरोधी पक्ष की भैंस ना समझे लें। मैं तो भारत के करोड़ों इंसानों की तरह आपकी बहुत बड़ी फ़ैन हूँ।जब आपकी सरकार बनी तो जानवरों में सबसे ज़्यादा ख़ुशी हम भैंसों को ही हुई थी। हमें लगा कि 'अच्छे दिन' सबसे पहले हमारे ही आयेंगे लेकिन हुआ एकदम उल्टा। आपके राज में तो हमारी और भी दुर्दशा हो गयी। अब तो जिसे देखो वही गाय की तारीफ़ करने में लगा हुआ है। कोई उसे माता बता रहा है तो कोई बहन। अगर गाय माता है तो हम भी तो आपकी चाची, ताई, मौसी, बुआ कुछ लगती ही होंगी।

हम सब समझती हैं। हम अभागनों का रंग काला है ना, इसीलिये आप इंसान लोग हमेशा हमें ज़लील करते रहते हो और गाय को सिर पे चढ़ाते रहते हो। आप किस-किस तरह से हम भैंसों का अपमान करते हो, उसकी मिसाल देखिये।

आपका काम बिगड़ता है अपनी ग़लती से और टारगेट करते हो हमें कि 'देखो गयी भैंस पानी में'। गाय को क्यों नहीं भेजते पानी में। वो महारानी क्या पानी में गल जायेगी?

आप लोगों में जितने भी लालू लल्लू हैं, उन सबको भी हमेशा हमारे नाम पर ही गाली दी जाती है, 'काला अक्षर भैंस बराबर'। माना कि हम अनपढ़ हैं, लेकिन गाय ने क्या पीएचडी की हुई है?

जब आपमें से कोई किसी की बात नहीं सुनता, तब भी हमेशा यही बोलते हो कि 'भैंस के आगे बीन बजाने से क्या फ़ायदा'। आपसे कोई कह के मर गया था कि हमारे आगे बीन बजाओ? बजा लो अपनी उसी प्यारी गाय के आगे।

अगर आपकी कोई औरत फैलकर बेडौल हो जाये तो उसकी तुलना भी हमेशा हमसे ही करोगे कि 'भैंस की तरह मोटी हो गयी हो'। पतली औरत गाय और मोटी औरत भैंस। वाह जी वाह!

गाली-गलौच करो आप और नाम बदनाम करो हमारा कि 'भैंस पूंछ उठायेगी तो गोबर ही करेगी'। हम गोबर करती हैं तो गाय क्या हलवा करती है?

अपनी चहेती गाय की मिसाल आप सिर्फ़ तब देते हो, जब आपको किसी की तारीफ़ करनी होती है 'वो तो बेचारा गाय की तरह सीधा है, या- अजी, वो तो राम जी की गाय है'। तो गाय तो हो गयी राम जी की और हम हो गए लालू जी के।

वाह रे इंसान! ये हाल तो तब है, जब आप में से ज़्यादातर लोग हम भैंसों का दूध पीकर ही सांड बने घूम रहे हैं। उस दूध का क़र्ज़ चुकाना तो दूर, उल्टे हमें बेइज़्ज़त करते हैं। आपकी चहेती गायों की संख्या तो हमारे मुक़ाबले कुछ भी नहीं हैं। फिर भी, मेजोरिटी में होते हुए भी हमारे साथ ऐसा सलूक हो रहा है।

प्रधानमंत्री जी, आप तो मेजोरिटी के हिमायती हो, फिर हमारे साथ ऐसा अन्याय क्यों होने दे रहे हो?

प्लीज़ कुछ करो।

आपके 'कुछ' करने के इंतज़ार में - आपकी एक तुच्छ प्रशंसक!
----------
उम्मीद से ज्यादा!
एक मेडीकल कॉलेज मे एक नये प्रोफेसर ने ज्वॉइन किया और बहुत ही नामचीन प्रोफेसर होने की वजह से उसे इस बात की बिलकुल भी घबराहट नहीं थी कि आज इस कॉलेज मे उसका पहला दिन है। वो सीधा अपनी पहली क्लास में गया और सभी छात्र और छात्राओ ने उसका जोरदार स्वागत किया।

प्रोफेसर ने सभी छात्र और छात्राओ को इस स्वागत के लिए धन्यवाद दिया और अपना परिचय देने के बाद क्लास से बोला, "मै भी आप सभी का परिचय जानना चाहता हूँ पर उससे पहले एक सवाल पूछ कर आप सभी के ज्ञान की परीक्षा लेना चाहता हूँ।

सभी छात्र और छात्राओ ने एक साथ कहा, "सर ठीक है... हम सभी तैयार है।"

प्रोफेसर: हमारे शरीर का कौन सा ऐसा अंग है जो कि हमारे उत्तेजित होने पर अपने वास्तविक साईज से दस गुना बडा हो जाता है?

जब कोई हाथ खडा नही हुआ तो फिर प्रोफेसर ने एक लडकी को खडा होने के लिए इशारा किया और बोला, "तुम्हें इस सवाल का जवाब आता है?"

लडकी: सर मुझे जवाब तो पता है...पर आपको एक लडकी से इस तरह का सवाल पूछने में शर्म महसूस होनी चाहिए।

प्रोफेसर: ठीक है फिर बैठ जाओ।

प्रोफेसर ने फिर एक लडके का हाथ खडा हुआ देखा और पूछा, "क्या तुम्हे जवाव पता है?"

लडका: हाँ सर, मुझे जवाब पता है।

प्रोफेसर: तो ठीक है फिर बताओ।

लडका: सर आँख की पुतली।

प्रोफेसर: एकदम सही जवाब।

प्रोफेसर ने उस लडकी को दोबारा खडा होने के लिए कहा जिसने सवाल का जवाब देने से मना किया था और उससे बोला, "मुझे तुमको तीन बातें बतानी है।"

लडकी: कौन सी तीन बातें सर?

प्रोफेसर: पहली बात तुम्हारा ज्ञान बहुत ही सतही है, इसको गहराई तक लेकर जाओ। दूसरी बात तुम्हारे दिमाग में गन्दगी भरी है इसे निकालो और तीसरी बात तुम्हारी उम्मीदे बहुत ज्यादा हैं जो तुम्हे परेशानी मे डाल सकती हैं।

लडकी: उम्मीदे ज्यादा होने का क्या मतलब है सर?

प्रोफेसर: तुम जिसकी बात कर रही थी। वो कभी भी अपने वास्तविक साईज से दस गुना नहीं होता।
----------
हसबैंड की परिभाषा!
गांव की दो महिलाएं आपस में बात कर रही थी।

पहली बोली, "बहन यह हसबैंड क्या होता है?"

दूसरी ने मुस्कुराते हुए कहा, "बहन ये अजीब तरह का बैंड होता है। जो केवल घर के बेलन से ही बजाया जाता है। इस बैंड को बजाने का आनंद केवल शादीशुदा औरतें ही ले सकती हैं और इस बैंड की अच्छाई ये होती है कि इसे जितना बजाओगी उतनी ही मधुर धुन निकलेगी और धुन केवल घर के अंदर ही रहेगी। मजे की बात तो यह है कि इसे कितना भी बजाओ ये हँसता ही रहता है, इसीलिए इसे हसबैंड कहते हैं।"
----------



शानपट्टी के नुक्सान!
नए-नए रईस हुए एक साहब को लोगों के ऊपर अपनी अमीरी का रौब झाड़ने का शौक चढ़ गया। इसी के चलते एक रोज उनके घर मेहमान आने वाले थे तो उन्होंने अपने नौकर को बुलाया और समझाने लगे, "मेहमानों के सामने मैं किसी भी चीज़ को तलब करूँ तो उसकी 2-3 किस्मों के नाम लेना ताकि उन पर रौब पड़ सके, समझ गए।"

नौकर: जी हुज़ूर बिल्कुल समझ गया।

अगले रोज मेहमान आ गए। साहब ने नौकर से कहा, "ठाकुर साहब के लिए शरबत लाओ।"

नौकर: हुज़ूर, कौन सा शरबत लेंगे, खस का, केवड़े का या बादाम का?

नौकर की समझदारी पर साहब मन ही मन खुश होते हुए बोले, "केवड़े का ले आओ।"

फिर थोड़ी देर बाद-
साहब: ठाकुर साहब के लिए खाना लगवाओ।

नौकर: हुज़ूर, कौन सा खाना खायेंगे इंडियन, कांटिनेंटल या चाइनीज?

खाने के बाद-
साहब: पान ले आओ।

नौकर: कौन सा पान हुज़ूर लखनवी, मुरादाबादी या बनारसी?

फिर थोड़ी देर बाद शहर घूमने का प्रोग्राम बन गया।
साहब: हमारी गाड़ी निकलवाओ।

नौकर: कौन सी गाड़ी हुज़ूर, सफारी, ऑडी, मर्सिडीज़, या बेंटली?

साहब: ऑडी निकलवाओ और सुनो हमारे पिताजी से कह देना कि हम ज़रा देर से आयेंगे।

नौकर: कौन से पिताजी से कहूँ हुज़ूर आगरा वाले, दिल्ली वाले या चंडीगढ़ वाले?
----------
बॉस का आदेश!
एक बार कुछ लड़कियां शहर से गाँव घूमने आई थी। जब वो वापस लौट रही थी तो रास्ते में जिस बस में वे सफर कर रहीं थी, कुछ डाकुओं ने उस बस को घेर लिया। बस लूटने वाले दो डाकुओं ने पिस्तौल दिखाकर बस जंगल में रुकवा ली, तो सभी मुसाफिरों में सन्नाटा छा गया।

एक डाकू ने अपने साथी से कहा, "हम पुरुषों को लूटेंगे और सभी औरतों को अपने साथ ले जाएँगे।"

दूसरा डाकू जो पहले वाले से कमजोर था बोला, "नहीं, हम सारा सामान लूटेंगे, औरतों को कुछ नहीं कहेंगे।"

यह सुन पीछे की सीट पर बैठी लड़कियों ने आपस में खुसुर - फुसुर की और फिर उनमे से एक दूसरे डाकू से बोली, "ऐ, तुम अपने बॉस का आदेश मानो। जैसा वो कह रहा है वैसा करो।"
----------
मोहब्बत का राज़!
एक लड़की जब रोज़ अपने कॉलेज से वापस आती तो एक लड़के को रोज़ अपने घर के बाहर खडा हुआ देखती।

ऐसा रोज़ होता था, और एक साल बीत गया, वह लड़का रोज़ उसे अपने घर के सामने खडा नज़र आता।

वो कुछ नहीं कहता था और बस कभी आगे पीछे और कभी अपने मोबाइल फ़ोन को देखता रहता।

वक्त के गुजरने की साथ लड़की को विश्वास हो चला था की लड़का उसे चाहता है।

एक दिन लड़की ने हिम्मत कर के उसके पास जाकर पूछ लिया,"तुम रोज़ मेरे घर के बाहर क्यों खड़े रहते हो?"

लड़का घबरा कर, "माफ़ करना बहन, वो क्या है की तुम्हारे वाई-फाई (Wi-Fi) पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ है, तो मैं तो वो इस्तेमाल करने आता हूँ।"
----------
आज - कल
कुछ लोग जब रात को अचानक फोन का बैलेंस ख़त्म हो जाता है इतना परेशान हो जाते हैं कि जैसे सुबह तक वो इंसान जिंदा ही नहीं रहेगा जिससे बात करनी थी।

कुछ लोग जब फ़ोन की बैटरी 1-2% हो तो चार्जर की तरफ ऐसे भागते है जैसे अपने फ़ोन कह रहे हों "तुझे कुछ नहीं होगा भाई, आँखे बंद मत करना मैं हूँ न सब ठीक हो जायेगा।"

कुछ लोग अपने फोन में ऐसे पैटर्न लॉक लगाते हैं जैसे आई एस आई की सारी गुप्त फाइलें उनके फ़ोन में ही पड़ी हों।

कुछ लोग जब आपसे बात कर रहे होते हैं तो बार बार अपने फ़ोन को जेब से निकालते हैं, लॉक खोलते हैं और वापस लॉक कर देते हैं। वास्तव में वे कुछ देखते नहीं हैं, बस ये जताते हैं कि वो जाना चाहते हैं।

और अगर कभी गलती से फ़ोन किसी दूसरे दोस्त के यहाँ छूट जाए तो ऐसा महसूस होता हैं जैसे अपनी भोली-भाली गर्लफ्रेंड को शक्ति कपूर के पास छोड़ आये हों।
----------



नादान बहु!
पर्दा प्रथा का पालन करने वाले घर में शहर की एक अल्हड़ कन्या का विवाह हो गया।

एक दिन बहु आंगन में सास के साथ बैठकर बातें कर रही थी कि अचानक ससुर जी को किसी काम से आंगन की ओर आना पड़ा।

बहू के वहीं बैठे होने के कारण उन्होंने खांसकर इशारा किया, ताकि बहू वहाँ से चली जाए। लेकिन जब ससुर जी के कई बार खांसने पर भी बहू न हिली, तो सास ने प्यार से बहू से कहा, "बहू कमरे में जाओ, तुम्हारे ससुर जी आए हैं।"

इस पर बहू ने शरमाते हुए बड़े ही भोलेपन से पूछा, "माँ जी, ससुर जी आये हैं तो कमरे में मैं जाऊँ या आप जाएँगी?"
----------
हिंदी के नुक्सान!
सब लोग हिंदी को प्रोत्साहित कर रहे हों इसलिए मुझे भी आज हिंदी बोलने का शौक हुआ, घर से निकला और एक ऑटो वाले से पूछा, "त्री चक्रीय चालक, पूरे सुभाष नगर के परिभ्रमण में कितनी मुद्रायें व्यय होंगी?"

ऑटो वाले ने घूर कर मेरी तरफ देखा और बोला,"अबे हिंदी में बोल।"

मैंने कहा, "श्रीमान मै हिंदी में ही वार्तालाप कर रहा हूँ।"

ऑटो वाले ने कहा, "मोदी जी पागल करके ही मानेंगे। चलो बैठो, कहाँ चलोगे?"

मैंने कहा, "परिसदन चलो।"

ऑटो वाला फिर चकराया, "अब ये परिसदन क्या है?"

बगल वाले श्रीमान ने कहा, "अरे सर्किट हाउस जाएगा"

ऑटो वाले ने सिर खुजाया और बोला, "बैठिये प्रभु।"

रास्ते में मैंने पूछा, "इस नगर में कितने छवि गृह हैं?"

ऑटो वाले ने कहा, "छवि गृह मतलब?"

मैंने कहा, "चलचित्र मंदिर।"

उसने कहा, "यहाँ बहुत मंदिर हैं...राम मंदिर, हनुमान मंदिर, जगन्नाथ मंदिर, शिव मंदिर।"

मैंने कहा, "भाई मैं तो चलचित्र मंदिर की बात कर रहा हूँ। जिसमें नायक तथा नायिका प्रेमालाप करते हैं।"

ऑटो वाला फिर चकराया, "ये चलचित्र मंदिर क्या होता है?"

यही सोचते सोचते उसने सामने वाली गाडी में टक्कर मार दी। ऑटो का अगला चक्का टेढ़ा हो गया।

मैंने कहा, "त्री चक्रीय चालक तुम्हारा अग्र चक्र तो वक्र हो गया।"

ऑटो वाले ने मुझे घूर कर देखा और बोला, "उतर जल्दी उतर! चल... भाग यहाँ से।"

तब से यही सोच रहा हूँ अब और हिंदी बोलूं या नहीं?
----------
आदमी का दिल!
आदमी का दिल कितना बड़ा होता है और औरत का कितना छोटा।
आप खुद ही देख लीजिए।

औरत के दिल में सिर्फ़ उसके प्रेमी, अपने पति और अपने बच्चों के लिए ही जगह होती है।

आदमी के दिल में तो...

अपनी गर्लफ्रेंड
दोस्त की गर्लफ्रेंड
भाई की गर्लफ्रेंड
पड़ोसी की गर्लफ्रेंड
बीवी की सहेली
बहन की सहेली
पड़ोसन की सहेली
अपनी साली
भाई की साली
साले की साली
साली की सहेली
सामने वाली
पीछे वाली
बाजू वाली
उपर वाली
नीचे वाली
सब्जी वाली
दूध वाली
कपड़े वाली
काम वाली
और आख़िर में थोड़ी बहुत अपनी पत्नी के लिए भी जगह होती है।

सच में, आदमी का दिल बहुत बड़ा होता है।
----------
पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट!
एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी,
और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा सी लेट हो गयी;

जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई - आदत अनुसार हम पर चिल्लाई;
तुम क्या समझते हो मुझे नहीं है किसी बात का इल्म;
जरुर देख रहे होगे तुम सक्रेटरी के साथ कोई फिल्म;

मैंने कहा, "अरी पगली, घर आते ही ऐसे झिडकियां मत दिया कर;
कभी तो छोड़ दे, मुझ बेचारे पर इस तरह शक मत किया कर";

पत्नी फिर तेज होकर बोली, "मुझे बेवकूफ बना रहे हो;
6 बजे दफ्तर बंद होता है और तुम 10 बजे आ रहे हो";

मैंने कहा, "अब छोड़ यह धुन -
मेरी बात ज़रा ध्यान से सुन";
एक आदमी का एक हज़ार का नोट खो गया था;
और वह उसे ढूंढने के जिद्द पर अड़ा था";

पत्नी बोली, "तो तुम उसकी मदद कर रहे थे';
मैंने कहा, "नहीं रे पगली मै ही तो उस पर खड़ा था";

सुनते ही पत्नी हो गयी लोट-पोट;
और बोली, "कहाँ है वह हज़ार का नोट";

मैंने कहा, "बाकी तो खर्च हो गया यह लो सौ रुपये का नोट";

वह बोली, "क्या सब खा गए बाकी के 900 कहाँ गए";

मैंने कहा, "असल में जब उस नोट के ऊपर मै खडा था;
तो एक लडकी की निगाह में उसी वक़्त मेरा पैर पडा था;
कही वह कुछ बक ना दे इसलिए वह लडकी मनानी पडी;
उसे उसी की पसंद के पिक्चर हाल में फिल्म दिखानी पडी;
फिर उसे एक बढ़िया से रेस्टोरेन्ट में खाना खिलाना पड़ा;
और फिर उसे अपनी बाइक से घर भी छोड़कर आना पड़ा;
तब कहीं जाकर तुम्हारे लिए सौ रुपये बचा पाया हूँ;
यूँ समझो जानू तुम्हारे लिए पानी पूरी का इंतजाम कर लाया हूँ";

अब तो बीवी रजामंद थी - क्योंकि पानी पूरी उसे बेहद पसंद थी;
तुरंत मुस्कुराकर बोली, "मै भी कितनी पागल हूँ इतनी देर से ऐसे ही बक बक किये जा रही थी;
सच में आप मेरा कितना ख़याल रखते है और मै हूँ कि आप पर शक किये जा रही थी"!
----------


मरने से पहले रावण ने लक्ष्मण को बताई थी ये 3 बातें
जिस समय रावण मरणासन्न अवस्था में था, उस समय भगवान श्रीराम ने लक्ष्मण से कहा कि इस संसार से नीति, राजनीति और शक्ति का महान् पंडित विदा ले रहा है, तुम उसके पास जाओ और उससे जीवन की कुछ ऐसी शिक्षा ले लो जो और कोई नहीं दे सकता।

श्रीराम की बात मानकर लक्ष्मण मरणासन्न अवस्था में पड़े रावण के सिर के नजदीक जाकर खड़े हो गए।

रावण ने कुछ नहीं कहा।

लक्ष्मण जी वापस रामजी के पास लौटकर आए। तब भगवान ने कहा कि यदि किसी से ज्ञान प्राप्त करना हो तो उसके चरणों के पास खड़े होना चाहिए न कि सिर की ओर।

यह बात सुनकर लक्ष्मण जाकर इस बार रावण के पैरों की ओर खड़े हो गए।

उस समय महापंडित रावण ने लक्ष्मण को तीन बातें बताई

जो जीवन में सफलता की कुंजी है।
1. Whatsapp से दूर रहना
2. Facebook का उपयोग मत करना और
3. गाड़ी चलाते समय लड़कियों को मत देखना नहीं तो मुझसे भी बुरा हाल होगा
ध्यान से पढ़ने के लिए धन्यवाद्!
----------
व्हाट्सएप्प और फेसबुक की बातचीत में अंतर
फेसबुक पर:

पत्नी ने अपना स्टेटस अपडेट किया: जानू कब से इंतज़ार कर रही हूँ, कब आओगे, तुम्हारी बहुत याद आ रही है।
10 दोस्तों ने स्टेटस को Like किया।

पति ने भी जवाब में अपना स्टेटस अपडेट किया: मेरा हमेशा साथ देने के लिए शुक्रिया, मैं बहुत खुशकिस्मत हूँ जो मुझे तुम मिल गयी। मैं जल्द ही वापस आ रहा हूँ।
15 लोगों ने स्टेटस को Like किया। सास और साली ने Comment किया।

व्हाट्सएप्प पर:

पत्नी: कब से इंतज़ार कर रही हूँ, घर कब आओगे?

पति: अभी कुछ पता नहीं, दिमाग मत चाटो। जब देखो परेशान करती रहती हो, पता नहीं कहाँ से पल्ले पड़ गयी हो।
----------
पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट!
एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी,
और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा सी लेट हो गयी;

जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई - आदत अनुसार हम पर चिल्लाई;
तुम क्या समझते हो मुझे नहीं है किसी बात का इल्म;
जरुर देख रहे होगे तुम सक्रेटरी के साथ कोई फिल्म;

मैंने कहा, "अरी पगली, घर आते ही ऐसे झिडकियां मत दिया कर;
कभी तो छोड़ दे, मुझ बेचारे पर इस तरह शक मत किया कर";

पत्नी फिर तेज होकर बोली, "मुझे बेवकूफ बना रहे हो;
6 बजे दफ्तर बंद होता है और तुम 10 बजे आ रहे हो";

मैंने कहा, "अब छोड़ यह धुन -
मेरी बात ज़रा ध्यान से सुन";
एक आदमी का एक हज़ार का नोट खो गया था;
और वह उसे ढूंढने के जिद्द पर अड़ा था";

पत्नी बोली, "तो तुम उसकी मदद कर रहे थे';
मैंने कहा, "नहीं रे पगली मै ही तो उस पर खड़ा था";

सुनते ही पत्नी हो गयी लोट-पोट;
और बोली, "कहाँ है वह हज़ार का नोट";

मैंने कहा, "बाकी तो खर्च हो गया यह लो सौ रुपये का नोट";

वह बोली, "क्या सब खा गए बाकी के 900 कहाँ गए";

मैंने कहा, "असल में जब उस नोट के ऊपर मै खडा था;
तो एक लडकी की निगाह में उसी वक़्त मेरा पैर पडा था;
कही वह कुछ बक ना दे इसलिए वह लडकी मनानी पडी;
उसे उसी की पसंद के पिक्चर हाल में फिल्म दिखानी पडी;
फिर उसे एक बढ़िया से रेस्टोरेन्ट में खाना खिलाना पड़ा;
और फिर उसे अपनी बाइक से घर भी छोड़कर आना पड़ा;
तब कहीं जाकर तुम्हारे लिए सौ रुपये बचा पाया हूँ;
यूँ समझो जानू तुम्हारे लिए पानी पूरी का इंतजाम कर लाया हूँ";

अब तो बीवी रजामंद थी - क्योंकि पानी पूरी उसे बेहद पसंद थी;

तुरंत मुस्कुराकर बोली, "मै भी कितनी पागल हूँ इतनी देर से ऐसे ही बक बक किये जा रही थी;
सच में आप मेरा कितना ख़याल रखते है और मै हूँ कि आप पर शक किये जा रही थी"!
----------
हिंदी फ़िल्मी गीत और बीमारियां
कुछ हिंदी फ़िल्मी गीत जो कुछ बीमारियों का वर्णन करते हैं:

गीत - जिया जले, जान जले, रात भर धुआं चले
बीमारी - बुखार

गीत - तड़प-तड़प के इस दिल से आह निकलती रही
बीमारी - हार्ट अटैक

गीत - सुहानी रात ढल चुकी है, न जाने तुम कब आओगे
बीमारी - कब्ज़

गीत - बीड़ी जलाई ले जिगर से पिया, जिगर म बड़ी आग है
बीमारी - एसिडिटी

गीत - तुझमे रब दिखता है, यारा मैं क्या करूँ
बीमारी - मोतियाबिंद

गीत - तुझे याद न मेरी आई किसी से अब क्या कहना
बीमारी - यादाश्त कमज़ोर

गीत - मन डोले मेरा तन डोले
बीमारी - चक्कर आना

गीत - टिप-टिप बरसा पानी, पानी ने आग लगाई
बीमारी - यूरिन इन्फेक्शन

गीत - जिया धड़क-धड़क जाये
बीमारी - उच्च रक्तचाप

गीत - हाय रे हाय नींद नहीं आये
बीमारी - अनिद्रा

गीत - बताना भी नहीं आता, छुपाना भी नहीं आता
बीमारी - बवासीर

और अंत में

गीत - लगी आज सावन की फिर वो झड़ी है
बीमारी - दस्त
----------



8 आश्चर्यजनक सत्य:
1. भारत में 80% लोग दूध नहीं पीते।

2. यु.के. में अब तक जुड़वा बच्चे पैदा नहीं हुए।

3. नेपाल में टाईगर इंसानो के साथ सोते हैं।

4. साँप को अगर हवा में फ़ेंका जाये तो वह 10 सेकेण्ड तक उड़ सकता है।

5. ज़ेबरा का दिल नहीं होता।

6. बंदर चाईनिज ज़ुबान समझ सकते हैं।

7. हाथी के दुम के 1 बाल से एक वक्त में 3 मोबाइल की बैटरी चार्ज कर सकते हैं।

8. ये सब पॉइंट गलत हैं।

हम खाली बैठे टाइम पास कर रहे थे।
ध्यान से पढ़ने का शुक्रिया...आप भी शेयर करके टाइम पास कर सकते हैं।
----------
भगवान् भरोसे!
एक लड़की अपने होने वाले मंगेतर को अपने मम्मी पापा से मिलाने के लिए घर लेकर आयी, खाना खाने के बाद लड़की की माँ ने अपने पति से कहा,"कुछ लड़के के बारे में पता करो।"

लड़की के पिता ने लड़के को अकेले में बुलाया और उससे बातचीत करने लगे।

लड़की के पिता ने पूछा, "तो तुम्हारा प्लान क्या है?"

लड़का: मैं रिसर्च स्कॉलर हूँ!!

"रिसर्च स्कॉलर बहुत अच्छे तो तुम मेरी बेटी को एक सुन्दर सा घर कैसे दे पाओगे जिसकी उसे आदत है?", लड़की के पिता ने पूछा।

लड़का: मैं पढ़ाई करूँगा और भगवान हमारी मदद करेंगे।

लड़की का पिता: और तुम किस तरह उसके लिए सगाई कि अंगूठी खरीदोगे जिसके योग्य वो है?

"मैं और ज्यादा ध्यान से पढ़ाई करूँगा बाकि भगवान हमारी मदद करेंगे", लड़के ने कहा।

"और बच्चे उन्हें कैसे पालोगे?", लड़की के पिता ने कहा।

लड़का:चिंता मत कीजिये सर भगवान कोई न कोई रास्ता निकाल ही लेगा।

और हर बार जितनी बार लड़की के पिता ने कुछ भी पूछा, तो लड़के ने कहा कि कोई न कोई रास्ता भगवान निकाल ही लेगा।

बाद में लड़की की माँ ने लड़की के पिता से कहा, " ये सब कैसे होगा जी?"

लड़की के पिता ने कहा, "पता नहीं, उसके पास न कोई नौकरी है न कोई प्लान पर अच्छी खबर ये है कि वो मुझे भगवान समझ रहा है।"
----------
बताते हैं!
एक पुलिस वाला रास्ते में चेकिंग कर रहा था तभी सामने से एक आदमी आता दिखा।

पुलिस वाले ने उससे पूछा कि इस लाल बैग में क्या है?

आदमी ने कहा, बताते हैं बताते हैं।

पुलिस वाले ने फिर पूछा, क्या है?

आदमी ने फिर कहा, बताते हैं बताते हैं।

पुलिस वाले को थोड़ा शक हुआ और वह उसे थाने ले आया।

थाने में बम डिफ्यूज करने वालों को बुलाकर उसका बैग खुलवाया तो उसमें बताशे निकले।

पुलिस वाले ने उससे कहा कि इसमें बताशे हैं तुम बोल क्यों नहीं रहे थे।

आदमी ने कहा कि इत्ती देल से यही तो तह लहा था ती इतमें बताते हैं बताते हैं।
----------
बुड्ढा बुड्ढी की कहानी!
एक बुड्ढा आया साथ में एक बुढिया लाया;

होटल में जाकर वेटर को बुलाया;

दोनों ने अपना अपना आर्डर मंगवाया;

पहेले बुड्ढ़े ने खाया;

बुढिया ने बिल चुकाया;

फिर बुढिया ने खाया;

बुड्ढ़े ने बिल चुकाया;

ये देख वेटर का सिर चकराया;

वो उनके पास आया और बोला, "जब तुम दोनों में इतना प्यार है तो खाना एक साथ क्यों नही खाया?"

इस पर बुड्ढ़े ने फरमाया, "जानी तेरे सवाल तो नेक है पर हमारे पास दांतों का सेट सिर्फ एक है।"
----------


आदमी और औरत की खोजें और अविष्कार!
आदमी ने रंग की खोज की, और चित्रकला का अविष्कार किया महिला ने रंग की खोज की, और मेक-अप का अविष्कार किया।

आदमी ने शब्द की खोज की, और भाषा का अविष्कार किया औरत ने भाषा का खोज की, और गप्पों का अविष्कार किया।

आदमी ने जुए की खोज की, और कार्डस का अविष्कार किया औरतों ने कार्डस की खोज की, और टोने, टोटके और चुगलियों का अविष्कार किया।

आदमी ने खेती बाड़ी की खोज की, और भोजन का अविष्कार किया औरतों ने भोजन की खोज की, और डायटिंग का अविष्कार किया।

आदमी ने दोस्ती की खोज की, और प्यार का अविष्कार किया औरत ने प्यार की खोज की, और विवाह का अविष्कार किया।

आदमी ने व्यापार की खोज की, और पैसों का अविष्कार किया औरत ने पैसों की खोज की, और खरीददारी का अविष्कार किया।

वैसे तो आदमी ने बहुत सारी चीजों की खोज कर ली. .. जबकि औरत अभी भी खरीददारी में ही फंसी हुई है।
----------
समझदार कुत्ता!
एक महिला ने एक बहुत उम्दा नसल का कुत्ता खरीदा। पहले ही दिन उसने घर में ड्राइंगरूम में बिछे कालीन पर पॉटी कर दी।

अगर तुमने दोबारा कालीन पर पॉटी की तो मैं तुझे खिड़की से बाहर फेंक दूंगी।
कुत्ते ने दोबारा कालीन पर पॉटी कर दी।

महिला ने उसे खिड़की से बाहर फेंक दिया।

दस दिन ऐसा ही सिलसिला चला। कुत्ता कालीन पर पॉटी करता था और महिला उसे खिड़की से बाहर फेंक देती थीं।

ग्यारहवें दिन कुत्ते के व्यवहार में आखिरकार तब्दीली आयी। आख़िरकार वो कुछ सीख गया। उस रोज उसने पॉटी की और खुद खिड़की से बाहर छलांग लगा दी।
----------
फिल्मों के प्रेरणादायक संवाद!
हालिया फिल्मों के 10 एेसे संवाद जो आपको कहीं हिम्मत नहीं हारने देंगे और सफलता पाने का जज्बा हमेशा जगाए रखेंगे।

1. 3 Idiots: काबिल हो जा मेरे बच्चे, कामयाबी तुम्हारे पीछे झक मार कर आएगी।

2. Dhoom 3: जो काम दुनिया को नामुमकिन लगे, वही मौका होता है करतब दिखाने का।

3. Badmaash Company: बड़े से बड़ा बिजनेस पैसे से नहीं, एक बड़े आइडिया से बड़ा होता है।

4. Yeh Jawaani Hai Deewani: मैं उठना चाहता हूं, दौड़ना चाहता हूं, गिरना भी चाहता हूं... बस रुकना नहीं चाहता।

5. Sarkar: नजदीकी फायदा देखने से पहले दूर का नुकसान सोचना चाहिए।

6. Namastey London: जब तक हार नहीं होती ना... तब तक आदमी जीता हुआ रहता है।

7. Chak De! India: वार करना है तो सामने वाले के गोल पर नहीं, सामने वाले के दिमाग पर करो... गोल खुद ब खुद हो जाएगा।

8. Mary Kom: कभी किसी को इतना भी मत डराओ कि डर ही खत्म हो जाए।

9. Jannat: जो हारता है, वही तो जीतने का मतलब जानता है।

10. Happy New Year: दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं विनर और लूजर... लेकिन जिंदगी हर लूजर को एक मौका जरूर देती है।
----------
गुटर-गुं!
एक बार एक आदमी अपनी प्रेमिका के साथ पार्क में बाहों में बाहें डाल कर बैठा हुआ था और कुछ बड़ी ही रूमानी बातें कर रहा था कि तभी अचानक वहां एक हवलदार आया और बोला, "आपको शर्म नहीं आती आप एक समझदार व्यक्ति होकर खुलेआम पार्क में ऐसी हरकत कर रहे हैं"।

आदमी: देखिये हवालदार साहब आप गलत समझ रहे हैं, जैसा आप सोच रहे हैं वैसा कुछ भी नहीं है।

हवलदार: तो कैसा है?

आदमी: जी हम दोनों शादीशुदा हैं।

हवालदार: अगर तुम शादीशुदा हो तो फिर अपनी ये प्यार भरी गुटरगूं अपने घर पर क्यों नहीं करते।

आदमी: हवालदार साहब कर तो लें पर वहां मेरी पत्नी और और इसके पति को शायद अच्छा नहीं लगेगा।
----------



नारी शक्ति!
एक औरत ख़रीदारी करने शॉपिंग मॉल मैं गई कैश काउंटर पर पेमेंट करने के लिए उसने पर्स खोला तो दुकानदार ने महिला के पर्स में टीवी का रिमोट देखा, दुकानदार से रहा नहीं गया उसने पूछा, "आप टीवी का रिमोट हमेशा अपने साथ लेकर चलती हैं?"

औरत: नहीं, हमेशा नहीं, लेकिन आज मेरे पति ने खरीदारी के लिए मेरे साथ आने से मना कर दिया था।

दुकानदार हंसते हुए बोला, "मैं सभी सामान वापस रख लेता हूँ आप के पति ने आपका क्रेडिट कार्ड ब्लॉक कर दिया हैं।

शिक्षा: अपने पति के शौक का सम्मान करें।

कहानी अभी भी जारी है;

महिला थोड़ी हँसी फिर अपने पर्स से अपने पति का क्रेडिट कार्ड निकला और सभी बिल की पेमेंट कर दी। पति ने पत्नी का कार्ड ब्लॉक कर दिया था पर अपना कार्ड नहीं।

शिक्षा: एक नारी की शक्ति को कभी कम नहीं समझना चाहिए।
----------
WhatsApp के मिज़ाज़!
इस WhatsApp के चक्कर में पूरा दिमाग सटक गया है।

एक Second में मिजाज शायराना हो जायेगा।

अगले ही Second में देश भक्ति जाग जायगी।

उसके फौरन बाद सनी को देख के रोमांटिक हो जायेगा ।

अचानक कोई ज्ञानी आ के ज्ञान दे देगा।

फिर कोई होशियार कहीं से बीवी के ऊपर कोई joke post कर के terror दे देगा।

मनुष्य का इतनी तेजी से हृदय परिवर्तन साला इतिहास में कभी ना हुआ होगा।

और सबसे बड़ा दिमाग का दहीबड़ा तब होता है जब कोई क्विज ले के आता है।
----------
मेहनत करे मुर्गी अण्डा खाए फ़क़ीर!
एक बार एक किसान का घोडा बीमार हो गया। उसने उसके इलाज के लिए डॉक्टर को बुलाया। डॉक्टर ने घोड़े का अच्छे से मुआयना किया बोला, "आपके घोड़े को काफी गंभीर बीमारी है। हम तीन दिन तक इसे दवाई देकर देखते हैं, अगर यह ठीक हो गया तो ठीक नहीं तो हमें इसे मारना होगा। क्योंकि यह बीमारी दूसरे जानवरों में भी फ़ैल सकती है।"

यह सब बातें पास में खड़ा एक बकरा भी सुन रहा था।

अगले दिन डॉक्टर आया, उसने घोड़े को दवाई दी चला गया। उसके जाने के बाद बकरा घोड़े के पास गया और बोला, "उठो दोस्त, हिम्मत करो, नहीं तो यह तुम्हें मार देंगे।"

दूसरे दिन डॉक्टर फिर आया और दवाई देकर चला गया।

बकरा फिर घोड़े के पास आया और बोला, "दोस्त तुम्हें उठना ही होगा। हिम्मत करो नहीं तो तुम मारे जाओगे। मैं तुम्हारी मदद करता हूँ। चलो उठो"

तीसरे दिन जब डॉक्टर आया तो किसान से बोला, "मुझे अफ़सोस है कि हमें इसे मारना पड़ेगा क्योंकि कोई भी सुधार नज़र नहीं आ रहा।"

जब वो वहाँ से गए तो बकरा घोड़े के पास फिर आया और बोला, "देखो दोस्त, तुम्हारे लिए अब करो या मरो वाली स्थिति बन गयी है। अगर तुम आज भी नहीं उठे तो कल तुम मर जाओगे। इसलिए हिम्मत करो। हाँ, बहुत अच्छे। थोड़ा सा और, तुम कर सकते हो। शाबाश, अब भाग कर देखो, तेज़ और तेज़।"

इतने में किसान वापस आया तो उसने देखा कि उसका घोडा भाग रहा है। वो ख़ुशी से झूम उठा और सब घर वालों को इकट्ठा कर के चिल्लाने लगा, "चमत्कार हो गया। मेरा घोडा ठीक हो गया। हमें जश्न मनाना चाहिए। आज बकरे का गोश्त खायेंगे।"

शिक्षा: मैनेजमेंट को भी कभी पता नहीं चलता कि कौन सा कर्मचारी कितना योग्य है।
----------
ग्रुप एडमिन को समर्पित!
नाम: ग्रुप एडमिन

हॉबी: बन्दूक से निकली गोली को हाथ से पकड़ना और शेर के दाँत तोड़कर जमा करना।

रिकॉर्ड: एक बार जिराफ की गर्दन में गाँठ लगा दी थी।

शर्मनाक पल: एक बार एक ही घूँसे में 100 हाँथियों को नहीं मार पाए। सिफ 99 ही मरे।

पागलपन: एक बार सुनामी में तैरने निकल गए।

उपलब्धि: ज्वालामुखी के लावे पर स्केटिंग की।

खुद पर गर्व: जब इन्हें देख 40 फुट लम्बा अजगर डर कर भाग गया।

एडमिन के अब तक के पराक्रम:

विवाह भोज में दो बार भोजन करना।

दूसरों की बरात में नाचना। परिचित हों अथवा ना हों।

चुनाव के समय दो पार्टियों से पैसे लेकर तीसरे को वोट देना।

बच्चों की क्रिकेट टीम का कैप्टन बनना।

जब कहीं केक काटा जा रहा हो तो सबसे सामने खड़ा रहना।

एडमिन पद से इस्तीफा देने की सिर्फ धमकी देना।
----------



सरकारी बैंक की भर्ती!
बैंक में इंटरव्यू चल रहा था। ब्रांच मैनेजर पहले सवाल का जवाब सुनकर ही 200 से ज्यादा लोगो को रिजेक्ट कर चूके थे।

अब अंतिम 3 बचे थे...

मैनेजर: तुम्हारा नाम क्या है?

पहला कैंडिडेट
कैंडिडेट 1: सुरेश सिंह

मैनेजर: Get out.

दूसरा कैंडिडेट
मैनेजर: तुम्हारा नाम क्या है?

कैंडिडेट 2: मेरा नाम गिरीश चंद्र है।

मैनेजर: दफा हो जाओ।

तीसरा कैंडिडेट
मैनेजर: तुम्हारा नाम क्या है?

तीसरा कैंडिडेट कुछ नहीं बोला

मैनेजर: मैंने पूछा What's your name?

कैंडिडेट फिर चुप

मैनेजर: अबे अपना नाम बता

कैंडिडेट अभी भी चुप
मैनेजर: सर कृपया अपना नाम बताइये।

कैंडिडेट 3: मुझे नहीं पता, काउंटर नंबर 4 में पूछिये।

मैनेजर: बहुत खूब तुम इस पद के लिए एकदम सही हो...तुम्हारी नौकरी पक्की।
----------
इंजीनियर और हिंदी फिल्में!
अगर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हिंदी फिल्में बनाते तो उनके नाम कुछ ऐसे होते:

करंट हो न हो

जानम सप्लाई करो

सर्किट वाले इंडिकेटर ले जायेंगे

कभी AC कभी DC

हमारा IC आपके पास है

फ्यूज लगाया तो डरना क्या

Capacitor नंबर 1

हम सिग्नल दे चुके सनम

फ्यूज तो उड़ना ही था
----------
पुरुष!
भगवान की ऐसी रचना जो बचपन से ही त्याग और समझौता करना सीखता है।

वह अपने चॉकलेटस का त्याग करता है अपने दांत बचाने के लिये।

वह अपने सपनो का त्याग कर माता-पिता की खुशी के लिये उनके अनुसार कैरियर चुनता है।

वह अपनी पूरी पॉकेट-मनी गर्लफ़्रेंड के लिये गिफ़्ट खरीदने में लगाता है।

वह अपनी पूरी जवानी बीवी-बच्चों के लिये कमाने में लगाता है।

वह अपना भविष्य बनाने के लिये लोन लेता है और बाकी की ज़िंदगी उस लोन को चुकाने में लगाता है।

इन सबके बावज़ूद वह पूरी ज़िंदगी पत्नी, माँ और बॉस से डांट सुनने में लगाता है।

पूरी ज़िंदगी पत्नी, माँ, बॉस और सास उस पर कंट्रोल करने की कोशिश करते हैं।

उसकी पूरी ज़िंदगी दूसरों के लिये ही बीतती है।

इसलिए हमेशा एक पुरुष का सम्मान करें|
----------
माँ की होशियारी!
माँ का फ़ोन आया, "बेटा, इस मंगलवार को छुट्टी लेकर घर आ जाना, कुछ जरूरी काम है।"

"मम्मी, ऑफिस में बहुत काम है, बॉस छुट्टी नहीं देगा।" आँखों से अंगारे बरसाते हुए रावण जैसे प्रतीत हो रहे बॉस की तरफ देखकर मैं जल्दी से फुसफुसाया।

"वो एक रिश्ता आया था तुम्हारे लिये, बड़ी सुंदर लड़की है, सोच रही थी कि एक बार तुम दोनों मिल लेेते तो..."

"अरे माँ, बस इतनी सी बात, तुम कहो और मैं ना आऊँ, ऐसा हो सकता है भला?" मन में फूट रहे लड्डूओं की आवाज छिपाते हुए मैंने जवाब दिया।

बॉस को किसी तरह टोपी पहनाकर, तत्काल कोटा में रिजर्वेशन कराने के बाद सोमवार की रात घर पर पहुँचा।

माँ ने कुछ ज्यादा बात नहीं की, बस खाना परोसा और दूसरे दिन जल्दी उठ जाने को कहा।

सुबह के 4 बजे तक तो नींद आँखों से कोसों दूर थी, फिर आँख लगी तो सुबह 7 बजे मोबाइल के अलार्म के साथ ही नींद खुली।

माँ ने चाय देते हुए कहा, "बाथरूम में कपड़े रखे हैं, बदलकर आ जाओ।"

बाथरूम में पुरानी टी-शर्ट और शॉर्ट्स देखकर दिमाग ठनका, बाहर आकर पूछा तो माँ ने मनोरम मुस्कान बिखेरते हुए कहा, "घर की सफाई का बोलती तो तू काम का बहाना बनाकर टाल देता, चल अब जल्दी से ये लंबा वाला झाड़ू उठा और दीवार के कोने साफ कर, बहुत जाले हो गये हैं।
----------



सिंधी का दिमाग!
एक लड़का अण्डो से भरी टोकरी साइकिल पर रख कर जा रहा था कि अचानक साइकिल पत्थर से टकरा गयी और अण्डो वाली टोकरी गिर गयी और सभी अण्डे टूट गए।

भीड़ इकठी हो गयी और सभी चिलाये: देख कर चलो भाई, कितनी गन्दगी कर दी?

भीड़ में से एक काका बोले, "इतना चिल्लाने से अच्छा है यह सोचो इसका मालिक इसकी क्या हालात करेगा? पगार में से पैसे काट लेगा। इसकी कुछ मदद करो, लो मेरी तरफ से 10/- रूपये।"

सभी ने सहानभूति जताते हुए 10 -10 रूपये दिए।

लड़का खुश हो गया, क्योंकि मिली हुई रकम अण्डों की कीमत से ज्यादा थी।

सभी के चले जाने के बाद एक व्यक्ति लड़के से बोला, "बेटे अगर काका ना होते तो मालिक को तू क्या जवाब देता?"

लड़का: वो काका ही मालिक है और वो सिंधी है।
----------
इंजीनियर!
एक पादरी, वकील और इंजीनियर को विद्रोह के कारण मौत की सजा मिली। जब सजा देने का वक़्त आया तो अपराधियों को आखिरी ख्वाहिश की प्रथा बताई तो उन्हें गर्दन ऊपर और नीचे रखने के विकल्प मिले।

पादरी ने ऊपर देखना स्वीकारा ताकि भगवान को देख सके और जैसे ही बटन दबाया गया तो आरी, गर्दन से सिर्फ दो इंच ऊपर रुक गई। अधिकारियों ने इसे ईश्वर की मर्जी समझ के उसे छोड़ दिया।

वकील ने भी ऊपर देखा और जब आरी रुकी तो वह बोला कानूनन एक व्यक्ति को दो बार सजा नहीं दी जा सकती और वह भी छूट गया।

इंजीनियर ने भी ऊपर ही देखने का फैंसला किया। जब बटन दबाया जा रहा था तो वो चिल्लाया, "एक मिनट रुको, अगर आप उस हरे और लाल तार को आपस में बदल देंगे तो काम हो जायेगा।"

बस काम तमाम हो गया।
----------
10 लाख रूपए!
एक बैंक बिल्कुल जेल के सामने था एक दिन बैंक के सेफ का लॉक नही खुल रहा था बैंक वालों ने हर तरह कोशिश की मैकनिक बुलाये पर फिर भी वे सेफ का लॉक नही खोल पाए।

तब बैंक मैनेजर ने जेल में जाकर कैदियों से मदद मांगी एक कैदी सेफ का लॉक खोलने के लिए तैयार हो गया।

उसे पुलिस सुरक्षा में बाहर लाया गया और उसने थोड़ी ही देर में बिना किसी तोड़फोड़ के सेफ खोल दिया।

बैंक मैनेजर उसके उस कारनामे से बहुत खुश हुआ।

मैनेजर ने सेफ खोलने वाले कैदी से कहा, "मैं आपसे बहुत खुश हूँ, आपने बिना किसी क्षति के सेफ खोल दिया आप बताईये की इस काम के लिए हम आपको कितने रूपए दें।"

सेफ खोलने वाले कैदी ने कहा, "पिछली बार तो जब मैंने ऐसा ही एक सेफ खोला था तो मुझे 10 लाख रूपए मिले थे तभी तो मैं यहाँ हूँ।"
----------
अनोखा परीक्षण!
एक बदसूरत काला सा आदमी जुकाम की शिकायत लेकर डाक्टर के पास गया। डाक्टर ने उसे सरसरी निगाह से देखकर कहा कि वो अपने कपडे उतार दे और दोनों हाथों को जमीन पर टिका दे।

आदमी हैरान परेशान हो गया पर उसने वैसा ही किया जैसा कि डॉक्टर ने उसे करने के लिए कहा।

डाक्टर: ठीक है, अब जानवरों की तरह चलिए, और कमरे के दायें कोने में जाएं।

आदमी ने यही किया।

डाक्टर: ठीक अब बाएँ कोने में जाएं।

आदमी उधर चला गया।

डॉक्टर: अब इस कोने में, अब उस कोने में, अब सामने, अब बीच में।

आदमी घबरा के उठ खड़ा हुआ और बोला, "डाक्टर साहब, कोई गंभीर बीमारी तो नहीं हो गयी मुझे?"

डॉक्टर: अरे नहीं, मामूली जुकाम है, ये दो गोली लो सुबह तक ठीक हो जाओगे।

आदमी: पर डॉक्टर साहब आपने ये मेरा एक घंटे तक इस तरह परीक्षण क्यों किया?

डॉक्टर: कुछ नहीं यार, बात यह है कि मैंने एक काले रंग का सोफा ख़रीदा है, मैं देखना चाहता था इस कमरे में वो किस जगह ठीक दिखेगा।
----------




बेरोज़गारी का हाल!
नदी में डूबते हुए आदमी ने पुल पर चलते हुए आदमी को आवाज़ लगायी।

आदमी: "बचाओ-बचाओ।"

पुल पर चलते आदमी ने नीचे देखा और उस आदमी को बचाने के लिए पुल से नीचे रस्सी फैंकी और कहा, "रस्सी को पकड़ के ऊपर आ जाओ।"

परन्तु नदी में डूबता हुआ आदमी रस्सी नहीं पकड़ पा रहा था तो वह डर के मारे चिल्ला कर बोला, "मैं मरना नहीं चाहता, ज़िन्दगी बड़ी कीमती है कल ही तो मेरी टार्जन कंपनी में बड़ी अच्छी नौकरी लगी है।"

इतना सुनते ही पुल पर चलते आदमी ने अपनी रस्सी खींच ली और भागते-भागते टार्जन कंपनी के दफ्तर में गया वहां के मैनेजर से बोला," जिस आदमी को आपने कल नौकरी दी थी वो अभी-अभी डूबकर मर गया है, और इस तरह आपकी कंपनी में एक जगह खाली हो गयी है, मैं बेरोजगार हूँ इसीलिए मुझे रख लीजिये।"

मैनेजर: "दोस्त, तुमने देर कर दी, अब से कुछ देर पहले हमने उस आदमी को रखा है, जो उसे धक्का दे कर तुमसे पहले यहाँ आया है।"
----------
सुखी जीवन के 10 सूत्र:
1) जानवरों से प्यार करो, वो स्वादिष्ट भी होते हैं।

2) पानी बचाओ दारू पियो।

3) फल और सलाद बहुत स्वास्थ्य प्रद होते हैं, उन्हें बीमारों के लिए रहने दो।

4) किताबें पवित्र होती हैं, उन्हें मत छुओ।

5) कक्षा में हंगामा नहीं करना चाहिए, जो सो रहे हैं वो जाग सकते हैं।

6) पड़ोसियों से प्यार करो, लेकिन पकडे मत जाओ।

6) ज़िंदगी से कोई चीज़ ऐसे मांगो जैसे तुम्हारे बाप की हो। अगर नहीं मिले तो दुखी मत हो, कौनसी तुम्हारे बाप की थी।

8) शराब पीने से ज़िंदगी की मुश्किलें हल नहीं होती जूस पीने से भी नहीं होती। इसलिए पियो और पीने दो।

9) अगर कोई हमे अच्छा लगता है तो अच्छा वो नहीं हम हैं और अगर कोई बुरा लगता है तो बुरे हम नहीं वो है, क्योंकि हम तो अच्छे हैं।

10) अगर आप अपनी उँगलियाँ को इस्तेमाल अपनी गलतियां गिनने में करेंगे तो दूसरों को ऊँगली करने का वक़्त ही नहीं मिलेगा।
----------
शरारती बच्चे!
एक दम्पति के दो बच्चे थे एक 8 साल का दूसरा 10 साल का जो काफी शरारती थे वे हमेशा कोई न कोई शरारत करते और मुसीबत में फंस जाते उनकी माँ उनकी शरारतों से बहुत परेशान थी, अगर उनके आस पड़ोस में किसी भी तरह की कोई शरारत या कोई गड़बड़ होती तो उनके माता-पिता को लगता कि ये सब उन दोनों ने ही किया है!

उन की माँ ने अपने कस्बे में किसी बाबा के बारे में सुना जो बच्चों को अनुशासन सिखाते थे, वो बाबा के पास गयी और अपने बच्चो के बारे में बताया बाबा ने कहा बेटी कोई बात नहीं इस उम्र में बच्चो का यही हाल होता है फिर मैं कोशिश करता हूँ!

बाबा ने कहा कि मैं तुम्हारे दोनों बच्चों को एक एक कर मिलूँगा इसलिए पहले तुम अपने छोटे बच्चे को मेरे पास भेजना!

अगले दिन सुबह ही उनकी माँ ने छोटे वाले बच्चे को बाबा के पास भेज दिया और बड़े वाले को दोपहर में भेजना था, जब बच्चा बाबा के सामने पहुंचा तो उसने देखा बाबा बहुत ही रौबदार और लम्बी लम्बी दाड़ी वाले हैं, बाबा ने बच्चे को बहुत प्यार से अपने पास बुलाया और एक कर्कश आवाज में पूछा बताओ भगवान कहाँ है?

ये सुनकर बच्चे का मुहं खुला का खुला ही रह गया और आँखें बड़ी बड़ी हो गयी!

बाबा ने फिर पूछा बताओ भगवान कहाँ है?

बच्चे ने फिर से उसकी बात का कोई उतर नहीं दिया अब बाबा ने और ज्यादा रौब से बच्चे की तरफ ऊँगली करते हुए पूछा बताओ भगवान कहाँ है?

बच्चा जोर से चिल्लाया और वहां से भागता हुआ सीधे घर पहुँच गया घर जाते ही चुपके से अलमारी के अन्दर छिप गया और जोर से अलमारी के दरवाजे को बंद कर दिया जब उसके भाई ने उसे अलमारी में ढूंढा तो उसने पूछा क्या हुआ?

तो छोटे भाई ने हांफते हुए बताया कि भाई हम बड़ी मुसीबत में फंस गए है भगवान कहीं खो गए हैं, और वो सोच रहे हैं ये हमने किया है!
----------
नयी पड़ोसन!
एक नवविवाहित जोड़ा शादी के बाद रहने के लिए शहर में आया वहां उन्होंने एक कमरा लिया और नए पड़ोसियों के साथ रहने लगे।

एक सुबह महिला ने देखा कि उनकी पड़ोसन ने कपड़े धोकर बाहर सुखाने के लिए डालें है।

उसने कपड़ों की तरफ देखा और कहा,"लगता है इसे कपड़े साफ़ करना नही आते देखो कितने गंदे रखे हैं उसे कपड़े धोने का अच्छा साबुन इस्तेमाल करना चाहिए उसके पति ने भी देखा और उस वक्त चुप ही रहा।"

इसके बाद लगातार दो तीन सप्ताह तक वह महिला उसी प्रकार उस महिला के बारे में बोलती रही।

फिर एक महीने बाद एक सुबह जब महिला ने देखा तो हैरानी के साथ अपने पति से कहने लगी, "देखो लगता है आज इसने अच्छे साबुन का इस्तेमाल किया है और अब इसे कपड़े धोने भी आ गए है, मुझे हैरानी है कि इसे ये सब किसने सिखाया होगा?"

उसके पति ने कहा, "आज सुबह मैं जल्दी उठ गया था और मैंने अपने कमरे की खिड़कियाँ साफ़ की है।"
----------




गर्लफ्रेंड बनाने के 5 फायदे
1. दोस्तों में आपकी इज़्ज़त बढ़ जाती है।
यह जीवन का एक कड़वा सच है दोस्तो। आज कल उसी लड़के की हर कोई इज़्ज़त करता है जिसकी गर्लफ्रेंड होती है। बिना गर्लफ्रेंड वालों को कोई नहीं पूछता।

2. आप अपने दिल का दर्द उस से बाँट सकते हैं।
अपने दिल का दर्द बाँटने के लिए आपके पास एक सच्चा साथी होता है। (किन्तु सच्चाई तो यह है कि जिसके पास गर्लफ्रेंड होती है उसका ही दिमाग हमेशा खराब रहता है।)

3. आपकी हर बात मानने वाला कोई आपके पास होता है।
गर्लफ्रेंड बनाने से आपके पास ऐसा इंसान आ जाता है जो आपकी हर एक बात मानता है। (किन्तु सबसे बड़ा सच तो यह है कि होता इसके बिल्कुल उल्ट है और हमेशा लड़के ही दबते हैं।)

4. आपके बिगड़ने का खतरा नहीं रहता।
लड़कों के घर वालों को हमेशा यही चिंता रहती है कि उनका लड़का कहीं बिगड़ न जाये। असल में जब एक बार किसी लड़के की गर्लफ्रेंड बन जाये तो बिगड़ने के लिए और कुछ नहीं रहता।

5. फेसबुक पर आपके पोस्ट धनाधन पसंद किये जाते हैं।
जी हाँ, यदि आपके पास गर्लफ्रेंड हो तो आप कुछ भी पोस्ट करें सबसे पहले आपकी गर्लफ्रेंड उसे पसंद करेगी और टिप्पणी करेगी और लड़की को देख कर हर कोई आपकी पोस्ट को पसंद करने आएगा, उस पर टिप्पणी करेगा।
----------
होशियारी पड़ गयी भारी!
नए-नए रईस हुए एक साहब को लोगों के ऊपर अपनी अमीरी का रौब झाड़ने का शौक चढ़ गया। इसी के चलते एक रोज उनके घर मेहमान आने वाले थे तो उन्होंने अपने नौकर को बुलाया और समझाने लगे, "मेहमानों के सामने मैं किसी भी चीज़ को तलब करूँ तो उसकी 2-3 किस्मों के नाम लेना ताकि उन पर रौब पड़ सके, समझ गए।"

नौकर: जी हुज़ूर बिल्कुल समझ गया।

अगले रोज मेहमान आ गए। साहब ने नौकर से कहा, "ठाकुर साहब के लिए शरबत लाओ।"

नौकर: हुज़ूर, कौन सा शरबत लेंगे, खस का, केवड़े का या बादाम का?

नौकर की समझदारी पर साहब मन ही मन खुश होते हुए बोले, "केवड़े का ले आओ।"

फिर थोड़ी देर बाद-
साहब: ठाकुर साहब के लिए खाना लगवाओ।

नौकर: हुज़ूर, कौन सा खाना खायेंगे इंडियन, कांटिनेंटल या चाइनीज?

खाने के बाद-
साहब: पान ले आओ।

नौकर: कौन सा पान हुज़ूर लखनवी, मुरादाबादी या बनारसी?

फिर थोड़ी देर बाद शहर घूमने का प्रोग्राम बन गया।
साहब: हमारी गाड़ी निकलवाओ।

नौकर: कौन सी गाड़ी हुज़ूर, सफारी, ऑडी, मर्सिडीज़, या बेंटली?

साहब: ऑडी निकलवाओ और सुनो हमारे पिताजी से कह देना कि हम ज़रा देर से आयेंगे।

नौकर: कौन से पिताजी से कहूँ हुज़ूर आगरा वाले, दिल्ली वाले या चंडीगढ़ वाले?
----------
सब गोलमाल है!
एक व्यक्ति बढ़िया सा कपड़ा खरीदा और सूट सिलवाने के लिेए एक दर्जी के पास गया। दर्जी ने कपड़ा लेकर नापा और कुछ सोचते हुए कहा, "कपड़ा कम है। इसका एक सूट नहीं बन सकता।"

वह दूसरे दर्जी के पास चला गया। उसने नाप लेने के बाद कहा, "आप दस दिन बाद सूट ले जाइए।"

वह निश्चित समय पर दर्जी के पास गया। सूट तैयार था। अभी सिलाई के पैसे दे रहा था कि दुकान में दर्जी का पांच साल का लड़का प्रविष्ट हुआ। उस व्यक्ति ने देखा कि लड़के ने बिल्कुल उसी कपड़े का सूट पहन रखा है। थोड़ी सी बहस के बाद दर्जी ने बात स्वीकार कर लिया।

वह व्यक्ति पहले दर्जी के पास गया और फुंकारते हुए कहा, "तुम तो कहते थे कि कपड़ा कम है, पर तुम्हारे साथ वाले दर्जी ने उसी कपड़े से न केवल मेरा, बल्कि अपने लड़के का भी सूट बना लिया।"

दर्जी धीरज से उल्टा रहा, फिर कुछ सोचते हुए बोला, लड़के की उम्र क्या है?

आदमी: "पाँच वर्ष।"

दर्जी चहककर बोला, "मैं अब जान सका कारण क्या है? श्रीमान मेरे लड़के की उम्र 18 वर्ष है।"
----------
हिसाब बराबर!
एक बार एक मरता हुआ पति अपनी पत्नी से अपराध स्वीकारोक्ति करते हुए बोला।

पति: प्रिये, दो साल पहले अलमारी से तुम्हारा गोल्ड सेट मैंने ही चोरी किया था।

पत्नी (रोते हुए): कोई बात नहीं जी।

पति: एक साल पहले तेरे भाई ने तुझे जो 1 लाख रूपए दिए थे वो भी मैंने ही गायब किये थे।

पत्नी: कोई बात नहीं मैंने आपको माफ़ किया।

पति: तेरी कमेटी के पैसे भी मैंने ही चोरी किये थे।

पत्नी: कोई बात नहीं जी, आपको ज़हर भी मैंने ही दिया है इसलिए हिसाब बराबर।
----------



आँख मिचोली!
स्वर्ग के दरवाजे पर दस्तक हुई तो धर्मराज ने जाकर दरवाजा खोला। उन्होंने बाहर झाँका तो एक मानव को सामने खड़ा पाया। धर्मराज ने कुछ बोलने के लिए मुंह खोला ही था कि वो एकाएक गायब हो गया। धर्मराज ने कंधे उचकाए और फाटक बंद कर लिया।

तत्काल फिर दस्तक हुई।

उन्होंने फिर दरवाजा खोला, उसी मानव को फिर सामने मौजूद पाया, लेकिन वो फिर गायब हो गया।

ऐसा तीन चार बार हुआ तो धर्मराज धीरज खो बैठे।

वो बोले, "क्या बात है भाई, तू मेरे से पंगा ले रहा है?"

मानव बोला: अरे नहीं बॉस, दरअसल मैं.....
.
.
.
.
.
.
.
वेंटीलेटर पर हूँ!
----------
ज्यादा समझदारी के नुक्सान!
एक बार दो दोस्त गोरखपुर से दिल्ली जा रहे थे।

डिब्बे में भीड़ ज्यादा थी तो उन्हें सीट नहीं मिल रही थी तो सीट के लिए उन्हें शरारत सूझी।

उन्होंने अपने बैग से रबड़ का एक सांप निकाला और चुपके से डिब्बे में छोड़ दिया और चिल्लाने लगे।

सांप... सांप!

थोड़ी देर में डिब्बा खाली हो गया और उन्होंने जल्दी से बिस्तर जमाकर जगह रोक ली।

सुबह जब आंख खुली, तो पांच बजे थे और गाड़ी किसी स्टेशन पर खड़ी थी।

उन्होंने खिड़की से बाहर झांककर रेलवे के कर्मचारी से पूछा: यह कौन सा स्टेशन है?

जवाब मिला: गोरखपुर।

उन्होंने पूछा: क्या गाड़ी दिल्ली नहीं गई?

कर्मचारी बोला: गाड़ी दिल्ली गई, लेकिन गाड़ी में सांप निकलने के कारण इस डिब्बे को काट दिया गया।
----------
तीन ठेकेदार!
तीन भवन निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों की मौत के बाद वे तीनों स्वर्ग के दरवाजे पर मिले पहला पाकिस्तान का था दूसरा चीन का और तीसरा भारत का।

जैसे ही वे स्वर्ग के अंदर जाने लगे दूत ने उन्हें रोका और कहा,"अन्दर जाने से पहले आप तीनों को मैं बता दूँ कि अन्दर जाने वाले इस गेट की मरम्मत करनी है तो आप तीनों ही मुझे थोड़ा सा अनुमान लगाकर बताएं कि इस पर कितना खर्चा आ सकता है।"

सबसे पहले पाकिस्तानी ठेकेदार ने गेट को देखा और सोच कर बोला, "मेरे ख्याल से इसमें जितनी मरम्मत होनी है उस हिसाब से तो पूरा खर्चा 9000 रूपए आना चाहिए।"

दूत ने उसे पूछा,"कि ये किस तरह से इतना अनुमान लगाया आपने ठेकेदार ने कहा 3000 रूपए का मैटीरीअल, 3000 रूपए मजदूर के और 3000 का मुनाफा।"

दूत ने चीन के ठेकेदार को कहा कि, "तुम अपना अनुमान लगाओ।"

थोड़ी देर उसने भी गेट को देखा और बोला, "33000 रूपए दूत ने कहा ये किस तरह हुआ।"

चीन का ठेकेदार बोला, "11000 का मैटीरीअल, 11000 मजदूरों के और 11000 का मुनाफा।"

जब दूत ने भारत के ठेकेदार को पूछा तो उसने बिना किसी निरीक्षण के झट से कह दिया 29000 रूपए।

दूत ने पूछा, "किस हिसाब से आपने ये अनुमान लगाया।"

ठेकेदार बोला, "10000 आपके 10000 मेरे और.....

9000 रूपए पाकिस्तानी ठेकेदार को दे देते है वह 9000 में बहुत अच्छा काम कर लेगा।"
----------
बनिया और कटोरा!
एक बनिए की बाजार में छोटी सी मगर बहुत पुरानी कपड़े सीने की दुकान थी। उनकी इकलौती सिलाई मशीन के बगल में एक बिल्ली बैठी एक पुराने गंदे कटोरे में दूध पी रही थी। एक बहुत बड़ा कला पारखी बनिए की दुकान के सामने से गुजरा। कला पारखी होने के कारण जान गया कि कटोरा एक एंटीक आइटम है और कला के बाजार में बढ़िया कीमत में बिकेगा। लेकिन वह ये नहीं चाहता था कि बनिए को इस बात का पता लगे कि उनके पास मौजूद वह गंदा सा पुराना कटोरा इतना कीमती है।

उसने दिमाग लगाया और बनिए से बोला, 'लाला जी, नमस्ते, आप की बिल्ली बहुत प्यारी है, मुझे पसंद आ गई है। क्या आप बिल्ली मुझे देंगे? चाहे तो कीमत ले लीजिए।'

बनिए ने पहले तो इनकार किया मगर जब कलापारखी कीमत बढ़ाते-बढ़ाते दस हजार रुपयों तक पहुंच गया तो लाला जी बिल्ली बेचने को राजी हो गए और दाम चुकाकर कला पारखी बिल्ली लेकर जाने लगा।

अचानक वह रुका और पलटकर बनिए से बोला--- "लाला जी बिल्ली तो आपने बेच दी। अब इस पुराने कटोरे का आप क्या करोगे? इसे भी मुझे ही दे दीजिए। बिल्ली को दूध पिलाने के काम आएगा। चाहे तो इसके भी 100-50 रुपए ले लीजिए।'

कहानी में ट्विस्ट

बनिए ने जवाब दिया, "नहीं साहब, कटोरा तो मैं किसी कीमत पर नहीं बेचूंगा, क्योंकि इसी कटोरे की वजह से आज तक मैं 50 बिल्लियां बेच चुका हूं।'

..बनिया आखिर बनिया होता है...इनको कोई बेवकूफ नहीँ बना सकता...
----------



समझदार कुत्ता!
रात के समय एक दुकानदार अपनी दुकान बन्द ही कर रहा था कि एक कुत्ता दुकान में आया । उसके मुँह में एक थैली थी। जिसमें सामान की लिस्ट और पैसे थे। दुकानदार ने पैसे लेकर सामान उस थैली में भर दिया। कुत्ते ने थैली मुॅंह मे उठा ली और चला गया।

दुकानदार आश्चर्यचकित होके कुत्ते के पीछे पीछे गया ये देखने की इतने समझदार कुत्ते का मालिक कौन है।

कुत्ता बस स्टाॅप पर खडा रहा। थोडी देर बाद एक बस आई जिसमें चढ गया। कंडक्टर के पास आते ही अपनी गर्दन आगे कर दी। उस के गले के बेल्ट में पैसे और उसका पता भी था। कंडक्टर ने पैसे लेकर टिकट कुत्ते के गले के बेल्ट मे रख दिया। अपना स्टाॅप आते ही कुत्ता आगे के दरवाजे पे चला गया और पूॅंछ हिलाकर कंडक्टर को इशारा कर दिया। बस के रुकतेही उतरकर चल दिया।

दुकानदार भी पीछे पीछे चल रहा था।

कुत्ते ने घर का दरवाजा अपने पैरोंसे 2-3 बार खटखटाया।

अन्दर से उसका मालिक आया और लाठी से उसकी पीटाई कर दी।

दुकानदार ने मालिक से इसका कारण पूछा ।

मालिक बोला `साले ने मेरी नीन्द खराब कर दी। चाबी साथ लेके नहीं जा सकता था गधा।`

जीवन की भी यही सच्चाई है। लोगों की अपेक्षाओं का कोई अन्त नहीं है।
----------
गुरु, गुरु ही होता है!
एक रात, चार कॉलेज विद्यार्थी देर तक मस्ती करते रहे और जब होश आया तो अगली सुबह होने वाली परीक्षा का भूत उनके सामने आकर खड़ा हो गया।

परीक्षा से बचने के लिए उन्होंने एक योजना बनाई। मैकेनिकों जैसे गंदे और फटे पुराने कपड़े पहनकर वे प्रिंसिपल के सामने जा खड़े हुए और उन्हें अपनी दुर्दशा की जानकारी दी।

उन्होंने प्रिंसिपल को बताया कि कल रात वे चारों एक दोस्त की शादी में गए हुए थे। लौटते में गाड़ी का टायर पंक्चर हो गया। किसी तरह धक्का लगा-लगाकर गाड़ी को यहां तक लाए हैं। इतनी थकान है कि बैठना भी संभव नहीं दिखता, पेपर हल करना तो दूर की बात है। यदि आप हम चारों की परीक्षा आज के बजाय किसी और दिन ले लें तो बड़ी मेहरबानी होगी।

प्रिंसिपल साहब बड़ी आसानी से मान गए। उन्होंने तीन दिन बाद का समय दिया। विद्यार्थियों ने प्रिंसिपल साहब को धन्यवाद दिया और जाकर परीक्षा की तैयारी में लग गए।

तीन दिन बाद जब वे परीक्षा देने पहुंचे तो प्रिंसिपल ने बताया कि यह विशेष परीक्षा केवल उन चारों के लिए ही आयोजित की गई है। चारों को अलग-अलग कमरों में बैठना होगा।

चारों विद्यार्थी अपने-अपने नियत कमरों में जाकर बैठ गए। जो प्रश्नपत्र उन्हें दिया गया उसमें केवल दो ही प्रश्न थे:

प्र.1 आपका नाम क्या है? (2 अंक)

प्र.2 गाड़ी का कौन सा टायर पंक्चर हुआ था? (98 अंक)
----------
गुरु, गुरु ही होता है!
एक रात, चार कॉलेज विद्यार्थी देर तक मस्ती करते रहे और जब होश आया तो अगली सुबह होने वाली परीक्षा का भूत उनके सामने आकर खड़ा हो गया।

परीक्षा से बचने के लिए उन्होंने एक योजना बनाई। मैकेनिकों जैसे गंदे और फटे पुराने कपड़े पहनकर वे प्रिंसिपल के सामने जा खड़े हुए और उन्हें अपनी दुर्दशा की जानकारी दी।

उन्होंने प्रिंसिपल को बताया कि कल रात वे चारों एक दोस्त की शादी में गए हुए थे। लौटते में गाड़ी का टायर पंक्चर हो गया। किसी तरह धक्का लगा-लगाकर गाड़ी को यहां तक लाए हैं। इतनी थकान है कि बैठना भी संभव नहीं दिखता, पेपर हल करना तो दूर की बात है। यदि आप हम चारों की परीक्षा आज के बजाय किसी और दिन ले लें तो बड़ी मेहरबानी होगी।

प्रिंसिपल साहब बड़ी आसानी से मान गए। उन्होंने तीन दिन बाद का समय दिया। विद्यार्थियों ने प्रिंसिपल साहब को धन्यवाद दिया और जाकर परीक्षा की तैयारी में लग गए।

तीन दिन बाद जब वे परीक्षा देने पहुंचे तो प्रिंसिपल ने बताया कि यह विशेष परीक्षा केवल उन चारों के लिए ही आयोजित की गई है। चारों को अलग-अलग कमरों में बैठना होगा।

चारों विद्यार्थी अपने-अपने नियत कमरों में जाकर बैठ गए। जो प्रश्नपत्र उन्हें दिया गया उसमें केवल दो ही प्रश्न थे:

प्र.1 आपका नाम क्या है? (2 अंक)

प्र.2 गाड़ी का कौन सा टायर पंक्चर हुआ था? (98 अंक)
----------
जैसे को तैसा!
एक बार एक डॉक्टर रात को सोया हुआ था। रात को अचानक डॉक्टर की नींद खुली उसने देखा कि उसका टॉयलेट पूरी तरह से ब्लॉक हो गया है।

उसने अपनी पत्नी से कहा, "मैं अभी प्लम्बर को बुलाता हूं।"

पत्नी ने पूछा, "तुम प्लम्बर को रात को तीन बजे बुलाओगे?"

डॉक्टर: हाँ क्यों नहीं, मैं तो बुलाऊंगा। हम भी तो जाते हैं रात को अगर कोई मरीज बीमार हो जाये।

उसने प्लम्बर को फोन किया, शिकायत की और उसे रात को ही आने को कहा। प्लम्बर ने सुबह आने को कहा तो डॉक्टर ने फिर से वही बात कही, "अगर मैं रात को मरीज देखने जा सकता हूं तो तुम क्यों नहीं आ सकते?"

रात को करीब 3:30 बजे प्लम्बर आंखों को मसलता हुआ पहुंचा। डॉक्टर ने उसे टॉयलेट दिखाया।

प्लम्बर बाहर गया, वहां कुछ गोलियां पड़ी हुई थी। उसने दो गोलियां उठा कर टॉयलेट में डाल दी और डॉक्टर से कहा, "अगर कोई फर्क नहीं पड़े तो सुबह फिर से मुझे कॉल कर लेना।
----------


निजी सचिव का गुस्सा!
एक बार एक सुंदर सी निजी सचिव गुस्से में अपने प्रबंधक के कमरे से बाहर निकली तो उसकी एक सहेली ने उस से पूछा, "अरे क्या हुआ तू गुस्से में क्यों है?"

सचिव: जब मैं अन्दर गयी तो बॉस ने मुझे बड़े प्यार से कुर्सी पर बैठने के लिए कहा।

सहेली: फिर?

सचिव: फिर उन्होंने बड़े प्यार से मुझ से पूछा की क्या मैं आज शाम को फ्री हूँ।

सहेली:फिर ?

सचिव: मैंने खुशी के मारे हां कर दी...और...

सहेली : और?

सचिव: और क्या....उस कम्बख्त ने मुझे 500 पेज टाइप करने को दे दिए।
----------
आखिरी इच्छा!
एक बार एक आदमी अपने घर के पीछे पेड़ लगाने कि लिए गढ्ढा खोद रहा था, कोई 2 फुट खोदने के बाद उसे एक चिराग मिला। उसने उसे बाहर निकाला और उसे साफ़ करने लगा अचानक ही उससे एक जिन्न प्रकट हो गया और कहने लगा मैं तुम्हारी तीन इच्छाएँ पूरी कर सकता हूँ।

उस आदमी ने सोचा कि ये तो बहुत अच्छा है।

जिन्न ने कहा, "तुम मुझे पहले ये बताओ कि तुम सबसे ज्यादा नफरत किससे करते हो?"

उस आदमी ने कहा कि मैं अपने पडोसी से सबसे ज्यादा नफरत करता हूँ।

जिन्न ने कहा, "देखो तुम्हारी जो भी तीन इच्छाएँ होगी या जो भी तुम मांगोगे तुम्हारे पडोसी को उसका दुगना मिलेगा।"

उस आदमी ने जल्दबाजी में जिन्न से कहा कि उसे 1 करोड़ रूपए दे दो।

जिन्न ने कहा, "ठीक है पर तुम्हारे पडोसी को दो करोड़ मिलेंगे।"

उस आदमी ने अपनी दूसरी इच्छा भी जल्द ही मांग ली उसने जिन्न से कहा कि उसे एक बहुत बड़ा बंगला नौकरों के साथ चाहिए।

जिन्न ने कहा, "मिल जायेगा पर पडोसी को दो बंगले मिलेंगे वो भी दुगने नौकरों के साथ।"

अब उस आदमी की आखिरी इच्छा बची थी उसने सोचा कि मैं जो भी मांग रहा हूँ पडोसी को उसका दुगना मिल रहा है तो बड़े सोच विचार के बाद उसने जिन्न से कहा कि मेरी आखिरी इच्छा ये है कि आप मुझे मार मार कर अधमरा कर दो।
----------
एक परेशान आदमी की दास्तान!
एक आदमी ड्राइविंग लाइसेंस हासिल करने की कोशिश में था तो ड्राइविंग लाइसेंस के लिए चौथी बार ड्राइविंग टेस्ट दिया, इस दौरान वो इतना मशहूर और पसंदीदा हो चुका था कि इस बार अफसर ने उसके लिए एक ही सवाल रखा था।

सवाल: आप 120 की रफ्तार से एक ऐसी सड़क से गुजर रहे हो जिसके एक ओर ऊंचा पहाड़ और दूसरी तरफ गहरी खाई है, सामने दो औरतें आ जाती हैं एक जवान और एक बूढ़ी तो अब आप किसे मारेंगें?

आदमी ने तुरंत जवाब लिखा कि मैं बूढ़ी औरत को मारूँगा।

हस्बे मुताबिक़ आदमी इम्तिहान में फिर फेल हो गया। आदमी अफसर से मिला और वजह पूछी तो उसने आदमी को ध्यान से देखा और ठंडी सांस भर कर कहा, "भाई आपको आखिरी बार बता रहा हूँ कि आप ब्रेक मारेंगे, किसी औरत-वौरत को नहीं।
----------
बादशाह का प्यार!
एक बार एक बादशाह को एक लड़की पसंद आ गयी। उस लड़की का बाप सुनार था, बादशाह ने सुनार को दरबार में आने के लिए बुलावा भेजा।

चार दिन गुजरने के बाद भी सुनार बादशाह के दरबार में नहीं आया तो बादशाह ने सुनार को गिरफ्तार करने के लिए अपने सिपाही भेज दिए।

जब सिपाही सुनार के घर पहुंचे तो घर को ताला लगा हुआ था। बादशाह ने सिपाहियों को हुक्म दिया कि सुनार को ढूँढो।

सिपाहियों ने सुनार को हर जगह ढूँढा, लेकिन वो उनको कहीं नहीं मिला, फिर उन्होंने एक तरकीब निकाली और ऐलान किया कि जो भी सुनार को ढूँढने में मदद करेगा उसे एक किलो सोना दिया जाएगा, फिर भी सुनार नहीं मिला।

फिर ऐलान किया गया कि जो भी सुनार को छुपने में मदद करेगा उसे फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा, फिर भी सुनार नहीं मिला, और सिपाहियों का सुनार को ढूँढने में सारा वक़्त ऐसे ही बर्बाद हुआ जैसे आप का इस को पढने में हुआ.... जिस का कोई मतलब नहीं है।

हँसना मत, गुस्सा भी मत करना मेरे साथ भी ऐसे ही हुआ था। आप भी किसी और के साथ ऐसा करके बदला ले सकते हैं।
----------



डॉक्टर की होशियारी!
मरीज: डॉक्टर साहब, जल्दी कुछ करो, मेरे पैरों पर एक औरत ने गाड़ी चढा दी।

डॉक्टर ने अच्छे से चेक किया और पाया कि मामूली चोट है पर मरीज घबराया हुआ है।

डॉक्टर: ओ हो, भाई आपरेशन करना पडेगा, बहुत खर्चा आयेगा... तैयार हो?

मरीज: कुछ भी करो जल्दी करो। कमीनी ने मरा सोच कर उठाया भी नहीं।

इतने में ही डॉक्टर की पत्नी का फोन आया।

डॉक्टर: हैलो

पत्नी: हैलो छोड़ो, ये बताओ मैं क्या करूं? मुझसे कार चलाते में एक आदमी मर गया जय हिंद चौक पर।

डॉक्टर: आदमी ने कपड़े कैसे पहन रखे थे?

पत्नी: हरी टी शर्ट और काली पैंट।

डॉक्टर: ओ हो, तो उसे तुमने मारा है। पुलिस खूनी को तलाश करती हुई घूम रही है।

पत्नी: तो अब क्या करूं?

डॉक्टर: करना क्या है, 4-6 महीने के लिए मायके भाग जा जल्दी।

पत्नी: ठीक है जा रही हूँ।

मरीज: डॉक्टर साहब करो ना कुछ।

डॉक्टर: भाई कुछ नहीं हुआ है तेरे को, ये ले 500 रूपये और चार बियर ले आ, दोनो पियेंगे... और हाँ, यह हरी टी शर्ट निकाल के जा।
----------
हिंदी फ़िल्मी गीत और बीमारियां
कुछ हिंदी फ़िल्मी गीत जो कुछ बीमारियों का वर्णन करते हैं:

गीत - जिया जले, जान जले, रात भर धुआं चले
बीमारी - बुखार

गीत - तड़प-तड़प के इस दिल से आह निकलती रही
बीमारी - हार्ट अटैक

गीत - सुहानी रात ढल चुकी है, न जाने तुम कब आओगे
बीमारी - कब्ज़

गीत - बीड़ी जलाई ले जिगर से पिया, जिगर म बड़ी आग है
बीमारी - एसिडिटी

गीत - तुझमे रब दिखता है, यारा मैं क्या करूँ
बीमारी - मोतियाबिंद

गीत - तुझे याद न मेरी आई किसी से अब क्या कहना
बीमारी - यादाश्त कमज़ोर

गीत - मन डोले मेरा तन डोले
बीमारी - चक्कर आना

गीत - टिप-टिप बरसा पानी, पानी ने आग लगाई
बीमारी - यूरिन इन्फेक्शन

गीत - जिया धड़क-धड़क जाये
बीमारी - उच्च रक्तचाप

गीत - हाय रे हाय नींद नहीं आये
बीमारी - अनिद्रा

गीत - बताना भी नहीं आता, छुपाना भी नहीं आता
बीमारी - बवासीर

और अंत में

गीत - लगी आज सावन की फिर वो झड़ी है
बीमारी - दस्त
----------
लड़कों को रिजेक्ट करते वक्त लड़कियों के 10 बहाने
1. तुम तो मेरे भाई जैसे हो- प्यार का इजहार करते ही लड़कों के दिलों दिमाग में रक्षा बंधन का एहसास लाने वाला जो बहाना सबसे पहले आता है, वो है- तुम तो मेरे भाई जैसे हो। मैंने तुम्हें कभी इस नजर से नहीं देखा। मैं तो तुम्हें भाई मानती थी और तुम...छी छी। यह बहाना लड़कों में धिक्कार भाव को अनचाहा जन्म देता है। बहाना सुनते ही आशिक को कई दिन सदमे से निकलने में लग जाते हैं।

2. प्यार माई फुट- जिस तरह भूत है या नहीं, इसको लेकर काफी संशय है, ठीक उसी तरह कुछ सुंदरियों को प्यार के अस्तित्व पर शक रहता है। ऐसे में कोई मासूम दिल किसी सुंदरी से प्यार करने की गुस्ताखी कर बैठता है तो पहला जवाब आता है। 'प्यार माई फुट', मुझे प्यार में यकीन नहीं है। हालांकि यह बहाना आज के दौर में वीसीआर कैसेट की तरह हो गयाहै, जिसका इस्तेमाल कम ही होता है।

3. अपनी शक्ल देखी है क्या- जब बात दिल की चल रही हो और शक्ल बीच में आ जाए तो समझ लीजिए कि आपका मामला अमुक इश्क के मंदिर में फिट नहीं होगा।

लड़कियां प्यार का इजहार करते वक्त अक्सर गुस्से में यह कह देती हैं कि 'अपनी शक्ल देखी है क्या'। ऐसे में उन लड़कों का दिल सबसे ज्यादा टूटता है, जो महीने में कई बार छिप-छिप कर फेशियल करवाते हैं। 4. सारे लड़के एक जैसे होते हैं- वो लड़कियां जिन्हें प्यार में लड़के धोखा दे देते हैं, ऐसी लड़कियां लड़कों को लेकर एक बुरी छवि बना लेती हैं और हर बार करीब आने वाले लड़के को इस पुरस्कार से नवाजती हैं कि 'सारे लड़के एक जैसे होते हैं'। हालांकि यह बहाना 'शक्ल देखी है' वाले बहाने की काट करता है।

5. मां-बाप को धोखा- बॉर्नवीटा और भगवान कृष्ण को गुरु मानते हुए लड़के अपने रपटते दिल की बात जैसे ही लड़कियों के सामने रखते हैं, फट से जैसे जवाब आता है, मैं अपने मां-बाप-परिवार को धोखा नहीं दे सकती। इस बहाने को सुनते ही लड़कों के मन में ख्याल आता है कि प्यार मांगा है तुम्हीं से।।घर की रजिस्ट्री के कागज नहीं मांगे हैं।

6. करियर जरूरी है भई- प्यार करने के बाद करियर चौपट हो जाता है। इस अटूट सत्य का ज्ञान लड़कों के प्यार का इजहार करते ही लड़कियां दे देती हैं। इजहार करने वाले लड़कों को यह ज्ञान तब मिलता है, जब वो अपनी ट्यूशन फीस से कई मर्तबा ग्रीटिंग कार्ड खरीदने में खर्च कर चुके होते हैं।

7. मेरी उम्र ही क्या है- प्यार करने के लिए वोटर कार्ड जरूरी होता है क्या। यही सवाल सोचते हुए लड़कों ने घंटों पार्क में बिता दिए होंगे, जब किसी खूबसूरत प्रेमिका ने यह कहा होगा कि मेरी अभी उम्र ही क्या है। तुम मुझसे उम्र में बड़े या छोटे हो।

8. बाबा जी का ठुल्लू- प्यार को कबूल न करने के बहानों में इस बहाने का एंट्री जल्दी ही हुई है। पर जिस तेजी से इसने एकतरफा इश्क की बगिया में पांव पसारे हैं, ऐसा मालूम होता है कि आने वाला कल इसी बहाने का है।

9. मेरा ब्वॉयफ्रेंड है- मेरा ब्वॉयफ्रेंड है।।बस ये सुनते ही लड़कों के दिमाग और जुबां पर यही सवाल आ जाता है कि मुझमें क्या कमी है। इस बहाने को कुंठा पैदा करने कीश्रेणी में अव्वल दर्जा प्राप्त है। इस बहाने के कान में घुसते ही लड़के आसमान की ओरदेखते हुए कल्पनाओं के सागर में उतरकर अपनी तुलना उस लड़के से करने लगते हैं, जिसका जिक्र बहाने के तौर पर या सच्चाई बताते हुए लड़कियां कर देती हैं।

10. मैं उस तरह की लड़की नहीं हूं- महिलाओं को बांटने की रणनीति के तहत ही इस बहाने का जन्म हुआ था। लड़कों को कई मर्तबा 3 जादुई शब्द सुनने को मिल जाते हैं। मैं बाकी लड़कियों जैसी नहीं हूं। ऐसे में प्यार का इजहार करने वाले के मन में भी यह शक और खोज करने की इच्छा पैदा हो जाती है कि मैं अब उस तरह की लड़की कहां से लाऊं।प्यार का मजा तब ही है, जब कई बार इंकार हो, तकरार हो, कभी कभार मार भी हो। तो ऐसे में अगर कोई लड़का किसी लड़की से सच्ची मोहब्बत करता है, तो वो इन बहानों से न घबराए और प्यार को साबित करने की कोशिश करते रहे। लेकिन सीमाओं का ध्यान रहे, डर फिल्म के शाहरुख खान बनोगे तो भैया वही हाल होगा जो शाहरुख का कि।।कि। करते हुए फिल्म के आखिरमें हुआ था। बाकी प्यार सच्चा है तो राहत इंदौरी के तोड़े गए इस शेर को दिमाग में बैठा लीजिए,
'फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो, मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर कर नदियां पार करो'।
----------
सपने का मतलब!
रात में एक चोर घर में घुसा। कमरे का दरवाजा खोला तो बरामदे पर एक बूढ़ी औरत सो रही थी। खटपट से उसकी आंख खुल गई। चोर ने घबरा कर देखा तो वह लेटे लेटे बोली, ''बेटा, तुम देखने से किसी अच्छे घर के लगते हो, लगता है किसी परेशानी से मजबूर होकर इस रास्ते पर लग गए हो। चलो कोई बात नहीं। अलमारी के तीसरे बक्से में एक तिजोरी है। इस का सारा माल तुम चुपचाप ले जाना। मगर पहले मेरे पास आकर बैठो, मैंने अभी-अभी एक ख्वाब देखा है। वह सुनकर जरा मुझे इसका मतलब तो बता दो।"

चोर उस बूढ़ी औरत की रहमदिली से बड़ा अभिभूत हुआ और चुपचाप उसके पास जाकर बैठ गया।

बुढ़िया ने अपना सपना सुनाना शुरु किया, ''बेटा, मैंने देखा कि मैं एक रेगिस्तान में खो गइ हूँ। ऐसे में एक चील मेरे पास आई और उसने 3 बार जोर जोर से बोला अभिलाष! अभिलाष! अभिलाष! बस फिर ख्वाब खत्म हो गया और मेरी आँख खुल गई। जरा बताओ तो इसका क्या मतलब हुआ?''

चोर सोच में पड़ गया। इतने में बराबर वाले कमरे से बुढ़िया का नौजवान बेटा अभिलाष अपना नाम ज़ोर ज़ोर से सुनकर उठ गया और अंदर आकर चोर की जमकर धुनाई कर दी।

बुढ़िया बोली, ''बस करो अब यह अपने किए की सजा भुगत चुका है।"

चोर बोला, "नहीं-नहीं, मुझे और मारो सालों, ताकि मुझे आगे याद रहे कि मैं चोर हूँ, सपनों का मतलब बताने वाला नहीं।"
----------




के बी सी के नाम पे धोखा!
Patiala के एक लड़के ने अपनी गर्लफ्रेंड को फोन किया तो उसके पापा ने उठा लिया, लड़का मन मे बोला हे भगवान ये कहाँ से आ गया!

पिता: हैलो, कौन बोल रहा है?

लड़का: मैं अमिताभ बच्चन बोल रहा हूँ, कौन बनेगा करोड़पति से और आपकी बेटी की फ्रेंड हॉट सीट पर बेठी है और आपकी बेटी की मदद चाहती है, उसको फोन दीजिये Sir.

पिता: ओह, रोमांचित हो कर बेटी को फोन दे दिया!

लड़का: सवाल यह है 'आज शाम को तुम कहाँ मिलोगी?

Option A: Model Town
Option B: Omaxe Mall
Option C: Baradari
Option D: Rose Garden

लडकी: Option C

लड़का: धन्यवाद, और अब आप का समय समाप्त होता है.

पिता अभी तक खुशी के मारे फुले नहीं समा रहे थे।
----------
मेहनत की कमाई!
एक बार एक कारखाने के मालिक की मशीन ने काम करना बंद कर दिया. कई दिनों की मेहनत के बाद भी मशीन ठीक नहीं हो पायी. मालिक को रोज लाखों का नुकसान हो रहा था।

तभी वहाँ एक कारीगर पहुँचा और उसने दावा किया की वो मशीन को ठीक कर सकता है।

मालिक फौरन ही उसे कार्यशाला में ले गया।

मशीन ठीक करने से पहले कारीगर ने मालिक से कहा कि वो मशीन तो ठीक कर देगा लेकिन मेहनताना अपनी मर्जी से तय करेगा।

मालिक का तो रोज लाखों का नुकसान रोज हो रहा था इसलिये वो मान गया।

कारीगर ने पूरी मशीन का मुआयाना किया और एक पेच को कस दिया।

मशीन को चालू किया गया. मशीन ने कार्य करना शुरू कर दिया था।

मालिक बहुत खुश हु़आ।

कारीगर ने दस हजार रूपया मेहनताना मांगा।

मालिक को बहुत आश्चर्य हुआ।

केवल एक पेच कसने के दस हजार रूपय! लेकिन उसने अपना वादा निभाया और दस हजार रूपए कारीगर को देते हुये पूछा कि एक पेच कसने के दस हजार रूपय कुछ ज्यादा नहीं हैं?

कारीगर ने तुरंत जवाब दिया, "साहब पेच कसने का तो केवल मैंने एक रूपया लिया है, बाकि 9999 रूपय तो कौन सा पेच कसना है यह पता करने के लिये हैं।"
----------
औरत के कान!
एक आदमी ने दुर्घटना में दोनों कान खो दिए, कोई भी प्लास्टिक सर्जन उसका समाधान नहीं कर पाया, उसने किसी से सुना कि स्वीडन में कोई सर्जन है जो इसे ठीक कर सकता है और वो उसके पास गया!

नए सर्जन ने उस कि जांच की, थोड़ी देर सोचा और फिर कहा, मैं तुम्हें ठीक कर दूंगा!

ओप्रशन के बाद पट्टियां खोली गयी, टांके भी खोल दिए गए और वो वापिस अपने होटल चला गया!

अगली सुबह उसने बहुत गुस्से में सर्जन को फ़ोन किया और जोर से चिल्लाया कमीने तुमने मुझ में औरत का कान लगाया है!

सर्जन ने कहा, तो क्या हुआ कान तो कान है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, औरत का हो या मर्द का!

ऐसा नहीं है, आप गलत बोल रहे हैं, मैं सुन तो सब कुछ सकता हूँ, पर समझ में कुछ भी नहीं आ रहा है!
----------
अजीब कहानी!
एक पहाड़ी पर एक ग्रामीण जानवर चरा रहा था। तभी वहाँ एक हेलीकॉप्टर उतरा, उसमें से एक आदमी उतरा। उसने उस ग्रामीण चरवाहे से कहा, "अगर मैं बिना गिने गायों की संख्या बता दूँ तो क्या तुम मुझे एक बछड़ा दे दोगे?"

ग्रामीण बोला, "हाँ दे दूंगा।"

उस आदमी ने मोबाइल में Google Map से वहाँ की Location ली और उसे ISRO को भेज कर पूछा कि इस पहाड़ी पर कितने जीवित प्राणी हैं?

जवाब आया - 35 प्राणी। उस आदमी ने 2 कम करके कहा कि तुम्हारे पास 33 गाय हैं।

ग्रामीण: जी हाँ ! ये 33 ही हैं।

वो आदमी बोला, "तो अब एक बछड़ा मुझे दो।"

ग्रामीण ने दे दिया लेकिन जब आदमी हेलीकॉप्टर में बछड़ा ले जाने लगा तो ग्रामीण बोला, "अगर मैं आपका नाम बता दूँ तो क्या आप मेरा जानवर मुझे वापिस दे देंगे?"

आदमी: हाँ बताओ?

ग्रामीण: आप "राहुल गाँधी" हो।

राहुल गाँधी: लेकिन तुमने कैसे पहचाना?

ग्रामीण: बहुत ही आसान है। पहली बात आप बिन बुलाये आये हो, दूसरी, जिन्हें आप गायें बता रहे हो, वह भेंड़ हैं और तीसरी बात यह कि जिसे आप ले जा रहे हो वह बछड़ा नहीं कुत्ता है।
----------



दामाद और ससुराल दौरा!
सभी माननीय दामादों की ससुराल दौरे से जुड़ी आवश्यक जानकारी जनहित में जारी

पहली बार:
पूरी, 2 सब्ज़ी, चिकन या मटन ( दामाद जी की इच्छानुसार ), फिश फ्राई, रायता,सलाद, मिठाई और अंत में जबरदस्ती दो मिठाई।

दूसरी बार:
पूरी, 1 सब्ज़ी, चिकन ( बिना दामाद जी को पूछे),गोभी फ्राई, सलाद, मिठाई

तीसरी बार:
पराठा-सब्ज़ी, भिंडी फ्राई, प्याज-टमाटर काट कर और हलवा

चौथी बार:
पराठा-आलू का भुजिया सब्ज़ी, प्याज-टमाटर काट कर, और खाना परोसते हुए पूछा जाएगा कि चिकन बनाएँ क्या?

पांचवी बार
जल्दी मे लगते हैं, खाना भी खायेंगे क्या?

छठी बार:
अरे बाद में बैठिये पहले मुन्नू को स्कूल छोड़ आएये और लौटते समय सब्ज़ी लेते आना फिर खाना बनेगा।
----------
ज्यादा समझदारी भी अच्छी नहीं!
एक कंपनी का मालिक अपनी एक फैक्टरी में विजिट करने गया।

वहाँ उसने देखा कि सारे कर्मचारी तो काम कर रहे थे लेकिन एक युवक एक कोने में आराम से खड़ा मोबाइल पर मैसेज पढ़ रहा था और मुस्कुरा रहा था।

मालिक को यह देखकर और भी हैरत हुई कि उसके आने के बावजूद भी युवक अपने काम पर लगने की बजाये ढीठता पूर्ण तरीके से वैसे ही खड़ा रहा।

मालिक को गुस्सा आ गया। उसने युवक को बुलाया और पूछा, "तुम्हें हर महीने कितनी तनख्वाह मिलती है?"

युवक: "6000 रुपये सर!"

मालिक ने जेब से 18000 रुपये निकाले और युवक को देते हुए बोला, "ये पकड़ो तुम्हारी 3 महीने की एडवांस तनख्वाह और दफा हो जाओ यहाँ से, तुम्हारे जैसे कामचोरों के लिए मेरी कंपनी में कोई जगह नहीं है।"

युवक ने शांतिपूर्वक रुपये लिए और मुस्कुराता हुआ चला गया।

अब मालिक ने वहाँ काम कर रहे लोगों से पूछा, "अब कोई मुझे बताएगा कि ये आदमी कौन था और क्या काम करता था?"

बड़ी मुश्किल से अपनी हँसी दबाते हुए एक कर्मचारी ने बताया, "सर, वो तो पिज्जा डिलीवरी करने वाला लड़का था। दरअसल आज सुपरवाइजर साहब अपना लंच बॉक्स लाना भूल गए थे।"
----------
मेड इन इंडिया!
एक जापानी पर्यटक भारत की सैर पर आया हुआ था। आखिरी दिन उसने एयरपोर्ट जाने के लिए एक टैक्सी ली और ड्राइवर को चलने के लिए कहा।

यात्रा के दौरान एक 'होण्डा' बगल से गुज़री। जापानी ने उत्तेजित होकर खिड़की से सिर निकाला और चिल्लाया‚ `होण्डा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

कुछ देर बाद एक 'टोयोटा' तेज़ी से टैक्सी के पास से गुज़री‚ और फिर जापानी बाहर झुका और चिल्लाया‚ `टोयोटा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

और फिर एक 'मित्सुबिशी' टैक्सी की बगल से गुज़री। तीसरी बार जापानी खिड़की की ओर झुकते हुए चिल्लाया‚ `मित्सुबिशी‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

ड्राइवर थोड़ा ग़ुस्से में आ गया मगर चुप रहा और कई सारी कारें गुज़रती रहीं।

आखिरकार टैक्सी एयरपोर्ट तक पहुँच गयी। किराया 800 रु. बना। जापानी चीखा‚ `क्या? इतना ज़्यादा!`

तो ड्राइवर चिल्लाया, `मीटर‚ वेरी फास्ट! मेड इन इंडिया।`
----------



एक मर्द का दर्द!
पिछले हफ्ते मेरी दाढ़ में दर्द हुआ और मैं जिंदगी में पहली बार दाँतों के डॉक्टर के पास गया। रिसेप्शन में बैठे-बैठे मेरी नजर वहाँ दीवार पर लगी डॉक्टर की डिग्री पर पड़ी और उस पर लिखे डॉक्टर के नाम को पढ़ते ही मानो मुझ पर बिजली गिर पड़ी।

"डॉ. नंदिता प्रधान" यानि, स्कूल के दिनों की हमारी क्लास की हीरोइन। गोरी-चिट्टी, ऊँची-लम्बी, घुँघराले बालों वाली खूबसूरत लड़की।

अब झूठ क्या बोलूँ, क्लास के दूसरे लड़कों के साथ साथ मैं खुद भी उस पर मरता था, अपनी नंदू पर।

मेरे दिल की धड़कन बढ़ गई। मेरा नंबर आने पर मैंने धड़कते दिल से, नंदू के चेम्बर में प्रवेश किया। उसके माथे पर झूलते घुँघराले बाल अब हट चुके थे, गुलाबी गाल अब फूलकर गोल गोल हो गए थे, नीली आँखें मोटे चश्मे के पीछे छुप गयी थीं लेकिन फिर भी नंदू बहुत रौबदार लग रही थी।

लेकिन उसने मुझे पहचाना नहीं। मेरी दाढ़ की जाँच हो जाने के बाद मैंने ही उससे पूछा, "तुम कान्वेंट में पढ़ती थी ना?"

वो बोली, "हाँ"

मैंने पूछा, "10 वीं से कब निकली? 1991 में ना?"

वो बोली, "करेक्ट! लेकिन आपको कैसे मालूम?"

मैंने मुस्कराते हुए जवाब दिया, "अरे, तुम मेरी ही क्लास में थी।"

फिर
वो
भैंस,
चश्मिश,
हथनी,
मोटी,
भद्दी,
टुनटुन
मुझसे बोली... "सर आप कौन सा सब्जेक्ट पढ़ाते थे?"
----------
दिल पे मत लो यार!
खूब लंबा-तगड़ा एक पहलवान बस में चढ़ा।

कंडक्टर: भाई साहब, टिकट?

पहलवान: हम टिकट नहीं लेते।

कंडक्टर डर के मारे कुछ नहीं कर सका लेकिन कंडक्टर ने इस बात को दिल पर ले लिया। कंडक्टर जिम जाकर खूब मेहनत करने लगा। पहलवान रोज बस में चढ़ता।

कंडक्टर रोज पूछता: भाई साहब, टिकट?

पहलवान रोज जवाब देता: हम टिकट नहीं लेते।

कंडक्टर ने बात को दिल पर ले ली... रातोँ की नीँद उड़ गई, ख़ून ख़ौल उठा

5 महीने में कंडक्टर ज़िम में कसरत करके पहलवान की तरह तगड़ा हो गया।

पहलवान फिर बस में चढ़ा।

कंडक्टर: भाई, टिकट ले ले।

पहलवान: हम टिकट नहीं लेते।

कंडक्टर छाती चौड़ी करके बोला: क्यों नहीं लेता बे?

पहलवान: पास बनवा रखा है, इसीलिए नहीं लेता।

कुछ बातें दिल पे नही लेनी चाहिए!!
----------
टूट गया भरोसा!
एक बार एक आदमी बड़ी आराम से अपनी गाड़ी में जा रहा था कि अचानक सामने से आ रही एक महिला की गाड़ी आ कर उसकी गाड़ी से टकरा गयी, पर एक्सिडेंट के बाद दोनों सुरक्षित बच गए।

जब दोनों गाड़ी से बाहर आये तो महिला ने पहले अपनी गाड़ी को देखा जो पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी थी, फिर वो सामने की तरफ गयी जहाँ आदमी भी अपनी गाड़ी को बड़ी गौर से देख रहा था।

तभी वह महिला उससे रूबरू होते हुए बोली, "देखिये कैसा संयोग है कि गाड़ियाँ पूरी तरह से टूट-फूट गयी पर हमें चोट तक नहीं आई। यह सब भगवान की मर्जी से हुआ है ताकि हम दोनों मिल सकें। मुझे लगता है कि अब हमें आपस में दोस्ती कर लेनी चाहिए।

आदमी ने भी सोचा कि इतना नुक्सान होने के बाद भी गुस्सा करने के बजाय दोस्ती के लिए कह रही है तो कर लेता हूँ और बोला, "आप बिल्कुल ठीक कह रही हैं कि ये सब भगवान की मर्जी से हुआ है।"

तभी महिला ने कहा, "एक चमत्कार और देखिये कि पूरी गाड़ी टूट-फूट गयी पर अंदर रखी शराब की बोतल बिल्कुल सही है।"

आदमी ने कहा, "वाकई यह तो हैरान करने वाली बात है।" महिला ने बोतल खोली और बोली, "आज हमारी जान बची है, हमारी दोस्ती हुई है तो क्यों न थोड़ी सी ख़ुशी मनाई जाए।"

महिला ने बोतल को उस आदमी की तरफ बढ़ाया उसने भी बोतल को पकड़ा और मुहं से लगाया और आधी करके बोतल वापस महिला को दे दी। फिर कहने लगा, "आप भी लीजिये।"

महिला ने बोतल को पकड़ा उसका ढक्कन बंद किया और एक तरफ रख दी।

आदमी ने पूछा, "क्या आप शराब नहीं पियेंगी?" महिला बड़े आराम से बोली, "नहीं ...मुझे लगता है मुझे पुलिस का इंतज़ार करना चाहिए ताकि मैं बता सकूँ कि इस शराबी ने मेरी गाडी ठोक दी है।"

मरो और करो लड़कियों पर भरोसा !!
----------
WhatsApp ग्रुप छोड़ने के नियम!
लोगों के ग्रुप से बाहर होने के कारण, परेशान हो कर, Group Admin ने पूरे ग्रुप के लिये निम्न नियम बनाये हैं:

1. ग्रुप छोड़ने से पहले कम से कम 90 दिन का नेटिस देना जरूरी होगा।

2. ग्रुप छोड़ने से पहले, इच्छित मेंबर का Admin द्वारा Interview लिया जायेगा, और ग्रुप छोड़ने का ठोस कारण बताना पड़ेगा।

3. ग्रुप छोड़ने से पहले, अपने रिक्त स्थान को भरने के लिये, नये मेंबर की व्यव्सथा करना अनिवार्य होगा। इसके पीछे कारण यह है कि नये मेंबर के लिये Admin को दर-दर ना भटकना पड़े।

4. अगर जाने वाला मेंबर, किसी कारण वश नये मेंबर का इंतज़ाम नही कर पाता है तो, जुर्माने के रूप में, उसे Admin को 500/-₹ का और बाकी सभी मेंबर्स का, 100/-₹ का नैट पैक डलवाना अनिवार्य होगा।

5. मेंबर्स के मनमानी करने पर, उन्के द्वारा पोस्ट की गयी, अश्लील तस्वीरें और कमेंट्स का Screen Shot, Admin द्वारा, उन्के परिवार वालो को भी भेजा जा सकता है।
----------




आवश्यकता है एक गर्लफ्रेंड की।
पद : जूनियर गर्लफ्रेंड/सहायक प्रेमिका

अनुभव : कम से कम दो लडको की गर्ल फ्रेंड रह चुकी हो, तथा गर्ल फ्रेंड के सभी दायित्वों में पारंगत हो।

आयु : 18-25 वर्ष (अगर कोई लड़की/महिला दिखने में अच्छी है, और ज्यादा उम्र होने के बावजूद इसी उम्र की लगती हो, तो वह अप्लाई कर सकती है)।

लाभ तथा मानदेय :- सकल मासिक।

• एक उपहार प्रति महिना (अधिकतम मूल्य रुपये 1000) (कोई मूल्यवान धातु जैसे सोना, चांदी या बहुमूल्य रत्न जैसे हीरा इत्यादि की अपेक्षा न रखे)।

• लक्ज़री बाइक में मुफ्त सवारी (अधिकतम 1 घंटा प्रतिदिन)

• कुल्फी / आइसक्रीम/ चोकलेट , प्रतिदिन

• प्रतिदिन 50-100 रुपये के समकक्ष मुफ्त नाश्ता जैसे समोसा / ब्रेड पकोड़ा इत्यादि

• हर रविवार मुफ्त मूवी (ऊपर कोने वाली सीट पर)

• महीने में एक बार मुफ्त ''ब्रांडेड जीन्स /टी-शर्ट '' अथवा ''स्कर्ट / टॉप '' अथवा ''डिज़ाइनर परिधान'' पसंदानुसार (लेकिन पिछले महीने का आचरण संतोष जनक होने पर ही यह सुविधा उपलब्ध है।)

• मिस्ड कॉल करने के लिए , फ़ोन चालू रखने हेतु 100 रूपये का रिचार्ज प्रति महीना

प्रतिवर्ष एक नवीनतम स्मार्ट फ़ोन, जैसे IPHONE या Galaxy S, दिया जायेगा, तथा ऊपर लिखी सभी सुविधायें अनलिमिटेड रूप से प्राप्त होंगी।

स्थायी होने के बाद वर्ष में दो बार हीरा या सोना के जवाहरात दिए जायेंगे।

जो लडकियाँ इस ऑफर के लिए अपने आपको उपयुक्त नहीं मानती हैं, उन्हें मन छोटा करने की कोई जरूरत नहीं है वो ''Suggest a friend'' सुविधा का लाभ उठा कर अपनी सहेलियों का सुझाव दे सकती हैं।

प्रत्येक सफल रिफरेन्स पर उन्हें फाइव स्टार होटल में लंच अथवा कैंडल लाइट डिनर, उपहार / कृतज्ञता स्वरुप कराया जायेगा!

कृपया इस विज्ञापन के तहत अपने बायो-डाटा के साथ आज ही आवेदन करें।

(बिना फोटो कोई आवेदन स्वीकार नहीं किया जायेगा)

नोट-हमारी कोई शाखा नहीं है।
----------
एक भयानक सत्य कथा!
भारत में प्रथम श्रेणी में पास होने वाले विद्यार्थी टेक्नीकल में प्रवेश लेते हैं और वह डॉक्टर या इंजिनियर बनते है।

द्वितीय श्रेणी में पास होने वाले MBA में एडमिशन लेते हैं और व्यवस्थापक/प्रबंधक बनते है तथा प्रथम श्रेणी वालों को हैंडल करते हैं।

तृतीय श्रेणी में पास होने वाले कहीं पर भी प्रवेश नहीं लेते हैं। वह राजनीती में जाते है और प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी वालो को हैंडल करते हैं।

फेल होने वाले भी कहीं पर भी प्रवेश नहीं लेते हैं और वह अंडरवर्ल्ड में जा कर तीनों पर कंट्रोल करते है।

और जो कभी स्कूल में गए ही नहीं वह बाबा-साधू बनते हैं और उपर लिखे चारों उनके पैर पढ़ते है।
----------
प्रेम पत्र!
एक सुन्दर युवती दवाईयों की एक दुकान के सामने काफी देर तक खडी थी। भीड़ छटने का इंतज़ार कर रही थी। दुकान का मालिक उसे शक की नजर से घूर रहा था।

बहुत देर बाद जब दुकान मे कोई ग्राहक नही बचा, तो वह लड़की दुकान मे आयी।

एक सेल्समन को धीरे से एक किनारे बुलाया।

दुकान मालिक अब और भी ज्यादा चौकन्ना हो गया।

लड़की ने धीरे से एक कागज़ सेल्समन की ओर बढाया और धीरे से फुसफुसायी,

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"भैया, मेरी एक डॉक्टर के साथ शादी तय हो गयी है। आज उनकी पहली चिठ्ठी आयी है। थोडा पढ़कर सुनायेंगे क्या?
----------
आलसीपन!
पति-पत्नी दोनों अव्वल दर्जे के आलसी थे। एक रात जब दोनों बिस्तर पर लेट गए तो कुछ शोर सा सुन कर पति बोला, "ज़रा देखो तो, बाहर बारिश हो रही है क्या?"

पत्नी लेटे-लेटे ही बोली, "हो रही है।"

पति: बिना देखे तुमने कैसे जान लिया?

पत्नी: अभी जो बिल्ली अन्दर आई थी वो भीगी हुई थी इसका मतलब बारिश हो रही है।

पांच मिनट बाद पति फिर बोला, "ज़रा लाइट तो बंद कर दो... रौशनी में नींद नहीं आ रही है।"

पत्नी: कम्बल ओढ़ लो... अपने आप अँधेरा हो जाएगा।

पति झल्लाते हुए बोला, "ठीक है कम से कम दरवाजा तो बंद कर लो।"

पत्नी चिल्ला कर बोली, "अब दो काम मैंने कर दिए, एक काम आप खुद नहीं कर सकते क्या?"
----------



ज्यादा समझदारी भी अच्छी नहीं!
एक कंपनी का मालिक अपनी एक फैक्टरी में विजिट करने गया।

वहाँ उसने देखा कि सारे कर्मचारी तो काम कर रहे थे लेकिन एक युवक एक कोने में आराम से खड़ा मोबाइल पर मैसेज पढ़ रहा था और मुस्कुरा रहा था।

मालिक को यह देखकर और भी हैरत हुई कि उसके आने के बावजूद भी युवक अपने काम पर लगने की बजाये ढीठता पूर्ण तरीके से वैसे ही खड़ा रहा।

मालिक को गुस्सा आ गया। उसने युवक को बुलाया और पूछा, "तुम्हें हर महीने कितनी तनख्वाह मिलती है?"

युवक: "6000 रुपये सर!"

मालिक ने जेब से 18000 रुपये निकाले और युवक को देते हुए बोला, "ये पकड़ो तुम्हारी 3 महीने की एडवांस तनख्वाह और दफा हो जाओ यहाँ से, तुम्हारे जैसे कामचोरों के लिए मेरी कंपनी में कोई जगह नहीं है।"

युवक ने शांतिपूर्वक रुपये लिए और मुस्कुराता हुआ चला गया।

अब मालिक ने वहाँ काम कर रहे लोगों से पूछा, "अब कोई मुझे बताएगा कि ये आदमी कौन था और क्या काम करता था?"

बड़ी मुश्किल से अपनी हँसी दबाते हुए एक कर्मचारी ने बताया, "सर, वो तो पिज्जा डिलीवरी करने वाला लड़का था। दरअसल आज सुपरवाइजर साहब अपना लंच बॉक्स लाना भूल गए थे।"
----------
आव्य्श्यकता है गर्लफ्रेंड की!
पद : जूनियर गर्लफ्रेंड/सहायक प्रेमिका

अनुभव : कम से कम दो लडको की गर्ल फ्रेंड रह चुकी हो, तथा गर्ल फ्रेंड के सभी दायित्वों में पारंगत हो।

आयु : 18-25 वर्ष (अगर कोई लड़की/महिला दिखने में अच्छी है, और ज्यादा उम्र होने के बावजूद इसी उम्र की लगती हो, तो वह अप्लाई कर सकती है)।

लाभ तथा मानदेय :- सकल मासिक।

एक उपहार प्रति महिना (अधिकतम मूल्य रुपये 1000) (कोई मूल्यवान धातु जैसे सोना, चांदी या बहुमूल्य रत्न जैसे हीरा इत्यादि की अपेक्षा न रखे)।

लक्ज़री बाइक में मुफ्त सवारी (अधिकतम 1 घंटा प्रतिदिन)

कुल्फी / आइसक्रीम/ चोकलेट , प्रतिदिन

प्रतिदिन 50-100 रुपये के समकक्ष मुफ्त नाश्ता जैसे समोसा / ब्रेड पकोड़ा इत्यादि

हर रविवार मुफ्त मूवी (ऊपर कोने वाली सीट पर)

महीने में एक बार मुफ्त ''ब्रांडेड जीन्स /टी-शर्ट '' अथवा ''स्कर्ट / टॉप '' अथवा ''डिज़ाइनर परिधान'' पसंदानुसार (लेकिन पिछले महीने का आचरण संतोष जनक होने पर ही यह सुविधा उपलब्ध है।)

मिस्ड कॉल करने के लिए , फ़ोन चालू रखने हेतु 100 रूपये का रिचार्ज प्रति महीना

प्रतिवर्ष एक नवीनतम स्मार्ट फ़ोन, जैसे IPHONE या Galaxy S4, दिया जायेगा, तथा ऊपर लिखी सभी सुविधायें अनलिमिटेड रूप से प्राप्त होंगी।

स्थायी होने के बाद वर्ष में दो बार हीरा या सोना के जवाहरात दिए जायेंगे।

जो लडकियाँ इस ऑफर के लिए अपने आपको उपयुक्त नहीं मानती हैं, उन्हें मन छोटा करने की कोई जरूरत नहीं है वो ''Suggest a friend'' सुविधा का लाभ उठा कर अपनी सहेलियों का सुझाव दे सकती हैं।

प्रत्येक सफल रिफरेन्स पर उन्हें फाइव स्टार होटल में लंच अथवा कैंडल लाइट डिनर, उपहार / कृतज्ञता स्वरुप कराया जायेगा।

कृपया इस विज्ञापन के तहत अपने बायो-डाटा के साथ आज ही आवेदन करें।

(बिना फोटो कोई आवेदन स्वीकार नहीं किया जायेगा)

नोट-हमारी कोई शाखा नहीं है।
----------
सुखी जीवन के 10 सूत्र:
1) जानवरों से प्यार करो, वो स्वादिष्ट भी होते हैं।

2) पानी बचाओ दारू पियो।

3) फल और सलाद बहुत स्वास्थ्य प्रद होते हैं, उन्हें बीमारों के लिए रहने दो।

4) किताबें पवित्र होती हैं, उन्हें मत छुओ।

5) कक्षा में हंगामा नहीं करना चाहिए, जो सो रहे हैं वो जाग सकते हैं।

6) पड़ोसियों से प्यार करो, लेकिन पकडे मत जाओ।

6) ज़िंदगी से कोई चीज़ ऐसे मांगो जैसे तुम्हारे बाप की हो। अगर नहीं मिले तो दुखी मत हो, कौनसी तुम्हारे बाप की थी।

8) शराब पीने से ज़िंदगी की मुश्किलें हल नहीं होती जूस पीने से भी नहीं होती। इसलिए पियो और पीने दो।

9) अगर कोई हमे अच्छा लगता है तो अच्छा वो नहीं हम हैं और अगर कोई बुरा लगता है तो बुरे हम नहीं वो है, क्योंकि हम तो अच्छे हैं।

10) अगर आप अपनी उँगलियाँ को इस्तेमाल अपनी गलतियां गिनने में करेंगे तो दूसरों को ऊँगली करने का वक़्त ही नहीं मिलेगा।
----------
अब वो बात कहाँ?
एक बार एक बूढी महिला अपने घर के आँगन मैं बैठी स्वेटर बुन रही थी कि तभी अचानक एक आदमी उसकी आँख बचाते हुए उसकी कुर्सी के नीचे बम रख कर भाग गया।

आदमी को इतनी जल्दी में भागते हुए देख, कुछ लोगों को शक हुआ तो उन्होंने आँगन में झाँक कर देखा तो उनकी नज़र बुढिया की कुर्सी के नीचे रखे बम पर पड़ी।

यह देख कर उन लोगों ने बुढिया को आगाह करने के लिए घर के बाहर से ही चिल्लाना शुरू कर दिया "बुढिया बम है, बुढिया बम है।"

यह शोर-गुल सुन कर बुढिया एक पल के लिए चौंकी और फिर शर्माते हुए बोली, " अरे अब वो बात कहाँ, बम तो मैं जवानी में होती थी।"
----------



हम हैं हिंदुस्तानी!
1. जब भी दरवाज़े पर घंटी बजती है तो घर का कोई मर्द या कोई बच्चा दरवाज़ा खोलने जाता है और औरत दुपट्टा लेने।

2. किसी भी रिश्तेदार को एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन पर पूरे परिवार का जाना एक परंपरा बन गयी है।

3. हम बाहर जितना मर्ज़ी खा लें कभी बीमार नहीं हो सकते।

4. हर हिंदुस्तानी महिला के दो प्रमुख काम हैं - घर को संभालना और दूसरों की शादियाँ पक्की करवाना।

5. हर हिंदुस्तानी लड़की के तीन तरह के भाई होते हैं - असल भाई, चचेरा भाई और राखी भाई।

6. विदाई के समय दुल्हन का रोना बहुत अनिवार्य है। क्योंकि इसके बिना शादी की फिल्म अच्छी नहीं लगेगी।

7. हम सब पर दिवाली के दिनों में सफाई का भूत सवार हो जाता है ताकि जो लोग हमारे घर आयेंगे हम उन्हें दिखा सकें कि हम कितने सफाई पसंद हैं।

8. हम कितने भी बड़े हो जाएँ फिर भी हमारे माता-पिता को हमारी हर खबर होनी चाहिए, कहाँ गए थे, कहाँ से आ रहे हो, क्या कर रहे हो... वगैरह-वगैरह।

9. जब भी हिंदुस्तानी माता-पिता कोई टिकट खरीदते हैं तो उनका बच्चा 12 साल से कम हो जाता है। उनके लिए बच्चे की आधी टिकट लेना बहुत बड़ी जीत है।

10. अगर हम अपने माता-पिता से दूर किसी दूसरे शहर में रहते हैं तो हमारे लिए यह बहुत जरूरी है कि हम हर रोज़ अपनी माँ को फ़ोन करें नहीं तो वो हमारे दोस्तों को फ़ोन करके हमारा हाल-चाल पूछेगी।

11. दुनिया में कोई भी हमें मोल-भाव करने में नहीं पछाड़ सकता। चलो भाई न तुम्हारा न हमारा इतने पैसे ठीक हैं।

12. हम चाहे कितने भी बड़े कान्वेंट स्कूल में पढ़ लें, ज़रुरत पड़ने पर गालियां हम अपनी मात्र भाषा में ही देते हैं।

13. जब कोई मेहमान घर से जाने लगता है तो दरवाज़े में खड़े होकर ही अचानक हमें सारी बातें याद आ जाती हैं जो हम घर के अंदर करना भूल जाते हैं।

14. जब हम रिमोट को इधर-उधर ठोक कर चला सकते हैं तो बैटरी क्यों बदली जाये।
----------
जैकेट का खेल!
एक दिन एक औरत अपने प्रेमी के साथ घर में थी कि अचानक से उसके पति ने बाहर आवाज़ लगा दी। औरत ने अपने प्रेमी को जल्दी जल्दी अलमारी में छिपा दिया।

पति घर में दाखिल हुआ और पूछा, "क्या हुआ, दरवाज़ा खोलने में इतना समय क्यों लगा दिया?"

औरत ने घबराते हुए जवाब दिया, "नहीं वो मैं अलमारी में कपडे रख रही थी।"

थोड़ी देर बाद औरत ने पति कहा,"चलो खाना खा लेते हैं।"

जब वे खाना खा रहे थे तो पति को अलमारी में कोई आवाज सुनाई दी, तो उस ने अपनी पत्नी से पूछा,"ये क्या है डार्लिंग?"

औरत: कुछ नही जैकेट होगी।

कुछ समय बाद फिर उसे वही आवाज सुनाई दी, पति ने फिर चिढ़कर कहा, "अरे ये फिर से आवाज हुई?"

औरत: कुछ नही जैकेट है।

थोड़ी देर बाद पति को फिर वही आवाज सुनाई दी, तो वो गुस्से में उठकर बोला, "मैं ही देखता हूँ ये क्या है और अगर ये जैकेट नही हुई न तो तुम्हें बहुत पछताना पड़ेगा।"

औरत पूरी तरह से घबरा गयी।

पति ने जैसे ही अलमारी का दरवाजा खोला तो एक आदमी उसकी ओर पिस्तौल ताने खड़ा था। पति ने चुपचाप अलमारी का दरवाजा बंद किया और बोला, "अरे डार्लिंग सच में जैकेट ही है।"
----------
कुदरत का करिश्मा
कुदरत ने औरत को हसींन बनाया।

खूबसूरती दी।

चाँद सा चेहरा दिया।

हिरणी सी आँखें दी।

मोरनी जैसी चाल दी।

रेशम से बाल दिए।

कोयल जैसी मीठी आवाज़ दी।

फूल सी मासूमियत दी।

गुलाब से होंठ दिए।

शहद सी मिठास दी।

प्यार भरा दिल दिया।

और फिर....

फिर क्या हुआ जानते हो?

एक ज़ुबान दी।
और सब सत्यानाश हो गया।

हर वक़्त टर्र, टर्र, टर्र।
----------
बीमा कंपनी!
एक बीमा कंपनी के तीन सेल्समैन अपनी अपनी कंपनी की तेज सेवा के विषय में बातें कर रहे थे।

पहला कहने लगा,"यार हमारी कंपनी की सर्विस इतनी तेज है कि जब हमारी कंपनी द्वारा बीमाकृत व्यक्ति की सोमवार को अचानक मृत्यु हो गयी, हमें इस बात का पता उसी शाम को चला और हमारी कंपनी ने बुधवार को ही मुआवजे की सारी रकम उनके घर पहुंचा दी।"

दूसरा आदमी बोला,"अरे यार, जब हमारी कंपनी द्वारा बीमाकृत व्यक्ति मरा था तो, जैसे ही हमारी कंपनी को पता चला तो हमारी कंपनी ने उसी शाम को उनके घर जाकर मुआवजे की सारी रकम दे दी।"

आखिरी सेल्समैन ने कहा,"अरे ये तो कुछ भी नही हमारा ऑफिस एक बिल्डिंग के 20वें माले पर है और उस बिल्डिंग में लगभग 70 मंजिलें है हमारी कंपनी का बीमाकृत व्यक्ति 70 वें माले पर खिड़की साफ़ कर रहा था उसका पैर फिसला और वह नीचे गिर गया। जब वह हमारे ऑफिस तक पहुंचा तो हमने उसके मुआवजे वाला चैक उसके हाथ में ही पकड़ा दिया।"
----------



कोई इसकी भी सुन लो!
एक आदमी सड़क पर बेहोश हो गया। उसके इर्द-गिर्द भीड़ जमा हो गई, हर कोई उसे होश में लाने के लिए सलाहें देने लगा। भीड़ में से एक बुढ़िया बोली, "बेचारे को थोड़ी ब्रांडी दे दो।"

कोई बोला, "इसके मुंह पर पानी के छींटे मारो।"

"इसे ब्रांडी दो।" बुढिया फिर बोली।

"इसे पंखा करो।" कोई बोला।

"इसे ब्रांडी दो।" बुढिया बोली।

"इसे अस्पताल ले जाओ।" किसी ने कहा।

"इसे ब्रांडी दो।" बुढिया फिर बोली।

तभी बेहोश पड़ा आदमी उठकर बैठ गया और जोर से चिल्लाया, "आप सब लोग अपनी बकवास बंद कीजिये और उस बेचारी बुढिया की भी कोई सुन लो।"
----------
भारत और उसके तथ्य:
भारत के बारे में 12 ऐसे तथ्य जो मजाकिया होने के साथ सच भी हैं।

👉🏽1. भारत एक ऐसा देश है जो कई स्थानीय भाषाओ द्वारा विभाजित है और एक विदेशी भाषा द्वारा एकजुट है ।

👉🏽2. भारत मे लोग ट्रैफिक सिग्नल की रेड लाइट पर भले ही ना रुके लेकिन अगर एक काली बिल्ली रास्ता काट जाए हो हजारो लोग लाइन में खड़े हो जाते है। अब तो लगता है ट्रैफिक पुलिस में भी काली बिल्लियों की भर्ती करनी पड़ेगी।

👉🏽3. चीन अपनी सरकार की वजह से तरक्की कर रहा है और भारत में तरक्की ना होने का सबसे बड़ा कारण उसकी अपनी सरकारें ही रही हैं।

👉🏽4. भारत का मतदाता वोट देने से पहले उम्मीदवार की जाति देखता है, न कि उसकी योग्यता। अब इन लोगों को कौन समझाये की भाई तुम देश के लिए नेता ढूंढ रहे हो, न कि अपने लिए जीजा।

👉🏽5. भारत एक ऐसा देश है जहाँ एक्टर्स क्रिकेट खेल रहे है, क्रिकेटर्स राजनीति खेल रहे है, राजनेता पोर्न देख रहे है और पोर्न स्टार्स एक्टर बन रहे है।

👉🏽6. भारत में आप जुगाड़ से करीब-करीब सब कुछ पा सकते है।

👉🏽7. हम एक ऐसे देश में रहते है जहाँ नोबेल शांति पुरस्कार मिलने से पहले लगभग कोई भारतीय नहीं जानता था कि कैलाश सत्यार्थी कौन है। लेकिन अगर एक रशियन टेनिस खिलाडी हमारे देश के एक क्रिकेटर को नही जानती तो ये हमारे लिए अपमान की बात है।

👉🏽8. भारत गरीब लोगो का एक अमीर देश है। भारत की जनता ने दो फिल्मों, बाहुबली और बजरंगी भाईजान, पर 700 करोड़ खर्च कर दिए।

👉🏽9. भारत में किसी अनजान से बात करना खतरनाक है, लेकिन किसी अनजान से शादी करना बिलकुल ठीक।

👉🏽10. हम भारतीय अपनी बेटी की पढ़ाई से ज्यादा खर्च बेटी की शादी पे कर देते है।

👉🏽11. हम एक ऐसे देश में रहते है जहाँ एक पुलिसवाले को देखकर लोग सुरक्षित महसूस करने के बजाए घबरा जाते है।

👉🏽12. हम भारतीय हेलमेट सुरक्षा के लिहाज से कम, चालान के डर से ज्यादा पहनते है।
----------
निशाना चूक गया!
एक बार एक आश्रम में एक गुरु अपने शिष्यों को धनुष बाण चलाना सिखा रहा होता है, जिसमे से एक शिष्य निशाना लगता है परन्तु उसका निशाना चूक जाता है।

शिष्य: साला निशाना चूक गया।

गुरू: आश्रम मैं अपशब्द बोलना मना है अब मत बोलना।

शिष्य दोबारा निशाना लगता है और उसका निशाना फिर से चूक जाता है।

शिष्य: साला निशाना चूक गया।

गुरु: मैंने तुम्हे मना किया था फिर भी तुमने अपशब्द बोला, अब यदि तुमने फिर से यह अपशब्द बोला तो एक आकाशवाणी होगी और आकाश से एक बाण निकलेगा जो तुम्हारी आँख फोड़ देगा।

शिष्य तीसरी बार निशाना लगता है और तीसरी बार फिर उसका निशाना चूक जाता है।

शिष्य: साला फिर निशाना चूक गया।

तभी अचानक बिजली कडकती है और आकाश से एक बाण निकल कर गुरु की आँख मैं जाता है और साथ ही आकाशवाणी होती है;

आकाशवाणी: साला निशाना चूक गया।
----------
चेला, गुरु पे भारी!
एक गुरु और चेला समंदर के किनारे टहल रहे थे। वहाँ उन्होंने एक बोर्ड देखा जिस पर लिखा था -
"डूबते हुए को बचाने वाले को 500 रुपये का इनाम दिया जाएगा।"

बोर्ड पढ़ते ही गुरु को एक आईडिया सूझा। उसने चेले से कहा, "मैं समंदर में कूद जाता हूँ और मदद के लिए चिल्लाता हूँ... तुम मुझे बचा लेना। जो 500 रुपये मिलेंगे उसमें से 100 तुझे दूंगा, ठीक है?"

चेला: केवल 100? 50% करिये ना?

गुरु: 100 रुपये से एक पैसा ज्यादा नहीं दूंगा। आईडिया मेरा है कि तेरा? चुपचाप जैसा मैं कहता हूँ वैसा कर।

और गुरू समंदर में कूद कर मदद के लिए चिल्लाने लगा।

चेला आराम से बैठकर देखता रहा। उसे यूँ बैठे देखकर गुरू बोला, "अबे अब आता क्यों नहीं मुझे बचाने? मुझे सचमुच तैरना नहीं आता।"

चेला: गुरू जी आपने बोर्ड ध्यान से नहीं पढ़ा। नीचे लिखा है - "लाश निकालने वाले को 5000 रुपये का इनाम दिया जाएगा।"
----------



एक दौर वो भी था...
धूप में लेंस लेकर कागज़ जलाने वाला नासा का वैज्ञानिक माना जाता था।

जिस लड़के को माउथ ऑर्गन बजाना आता था वो रॉकस्टार माना जाता था।

प्लास्टिक की डिस्पोजल में गोबर भर के उस में तार और छोटी बल्ब लगा के लाइट पैदा करने वाले एडिसन कहलाते थे।

कुछ लड़के कालर चढाकर और हाथ मेँ रूमाल लपेट कर डॉन बना करते थे।

प्लास्टिक की बन्दूक को चलाने के बाद जेम्स बांड वाली फिलिंग बडी ही जोरदार हुआ करती थी।

जो लड़का अगरबत्ती वाली थैली में पानी भर के आग में रख देता था और थैली नहीं जलती थी उसे किसी वैज्ञानिक से कम नहीं समझा जाता था और गांव के बूढ़े तो उसे जादूगर ही घोषित कर देते थे।

एक हाथ से गिरती चड्डी पकड़े दूसरे से साइकिल के टायर को गली में साइकिल से भी तेज घुमाते हुए दौड़ना भी मैराथन वाली फील देता था और अगले ही मोड़ पर पापा से सामना होते ही चड्डी और टायर दोनों जमीन पर मिलते थे और हाथ दोनों गालों पर।
----------
होशियारी पड़ी भारी!
एक औरत ने दरवाजा खोला तो दरवाजे पर उसने देखा कि सामने एक आदमी है जो एक वैक्यूम क्लीनर को हाथ में उठाये हुए है!

गुड मॉर्निंग मैडम! मेरा नाम बंता है मैं आपका थोड़ा समय लेना चाहूँगा, मैं आपको एक बिल्कुल नया, उच्च गुणवत्ता और बहुत शक्तियुक्त वैक्यूम क्लीनर दिखाना चाहता हूँ!

औरत ने कहा चले जाओ यहाँ से! मेरे पास इतने पैसे नही है और वह मुड़कर दरवाजा बंद करने लगी!

बंता ने जल्दी से दरवाजे के बीच में अपनी टांग को रखा और दरवाजे को खोलते हुए बोला देखिये मैडम मेरी बात तो सुनिए बस एक बार मैं आपको इसका नमूना न दिखा दूँ और यह कहते हुए उसने पास में पड़ा हुआ घोड़े की लीद से भरा हुआ डिब्बा फर्श पर उड़ेल दिया सारे फर्श पर लीद को उड़ेल कर उस औरत से बोला, "मैडम देखिएगा अगर ये वैक्यूम क्लीनर इसको पूरा साफ़ नही कर पाया तो मैं बचे हुए मल को अपने मुहं से चाटकर साफ़ करूँगा!"

औरत थोड़ी देर चुप रही फिर कहा मुझे लगता है आज तुम्हारी भूख अच्छी तरह से शांत हो जाएगी... क्योंकि आज सुबह से शाम तक बिजली बंद है!
----------
तीन सेल्समैन!
तीन सेल्समैन बड़ी शेखियां बघार रहे थे वे अपने आप को सबसे बढ़िया सेल्समैन साबित करते हुए कह रहे थे:

पहला: मैंने आज एक अंधे आदमी को रंगीन टी.वी. बेचा!

दूसरा: मैंने तो एक बहरे आदमी को सोनी का म्युज़िक सिस्टम बेच दिया!

तीसरा: अरे मैंने तो आज बंता को कुकू घड़ी (Cuckoo clock) बेच दी!

बाकि दोनों उससे पूछने लगे तो क्या हुआ!

तीसरे ने कहा अरे मैंने कुकू घड़ी के साथ उसको 50 किलोग्राम पक्षियों का दाना भी बेच दिया!
----------
पत्नी का पत्र!
गांव में एक स्त्री थी । उसके पति आई.टी.आई मे कार्यरत थे। वह आपने पति को पत्र लिखना चाहती थी, पर अल्पशिक्षित होने के कारण उसे यह पता नहीं था कि पूर्णविराम (Full Stop) कहां लगेगा ।

इसीलिये उसका जहां मन करता था वहीं पूर्णविराम लगा देती थी ।

तो एक बार उसने अपने पति को कुछ इस प्रकार चिठ्ठी लिखी:

मेरे प्यारे जीवनसाथी मेरा प्रणाम आपके चरणो मे।

आप ने अभी तक चिट्टी नहीं लिखी मेरी सहेली को। नौकरी मिल गयी है हमारी गाय को। बछडा दिया है दादाजी ने। शराब की लत लगाली है मैने। तुमको बहुत खत लिखे पर तुम नहीं आये कुत्ते के बच्चे। भेड़िया खा गया दो महीने का राशन। छुट्टी पर आते समय ले आना एक खूबसूरत औरत। मेरी सहेली बन गई है। और इस समय टीवी पर गाना गा रही है हमारी बकरी। बेच दी गयी है तुम्हारी मां। तुमको बहुत याद कर रही है एक पडोसन। हमें बहुत तंग करती है।

तुम्हारी चंदा।
----------


करवा चौथ पर ध्यान रखने योग्य बातें!
1. जब पत्नी का उपवास हो उसे विश्वास दिलाएं कि आप उसके साथ हैं और आप भी भूखे रsहने का नाटक करें, चाहे भले ही होटल में नाश्ता कर आएं।

2. घर में कुछ खाएं-पीएं न ताकि पत्नी को भी इस बात का पूरा यकीन हो कि वाकई आप उसके साथ हैं।

3. इस दिन शेविंग न बनाएं, ताकि आपके चेहरे पर उपवास की फीलिंग झलके और हेवी नाश्ते की डकार पर कंट्रोल करें नहीं तो पोल खुल जाएगी।

4. जब पत्नी भूखी हो तो आप हंसे न, हंसी आ ही रही हो तो किसी गुप्त स्थान पर जाकर हंस आएं और पत्नी के सामने गंभीर हो जाएं।

5. संभव हो तो इस दिन ऑफिस से छुट्टी लेकर पत्नी के साथ घर पर ही हरिनाम संकीर्तन करें।

6. मोबाइल में ज्यादा उंगली न करें वॉट्सऐप और फेसबुक का त्याग भी इसदिन कर दें।

7. घर में फलाहारी पकवान लाकर रखें ताकि बीवी को अहसास होता रहे कि आपको उसके व्रत खोलने की चिंता है।

8. आवाज पर संयम रखें बच्चों से धीमे और करहाते हुए बोलें ताकि भूखी पत्नी को लगे कि आप वाकई भूखे हैं। इसदिन चटख रंगों के कपड़े न पहने और सादा पहनावा रखें।

9. सावधान, इस दिन पत्नी आपसे जिद करेगी कि आप भूखे न रहें कुछ खा लें लेकिन आप उसके झांसे में मत आना दरअसल वो आपका इम्तहान ले रही होती है।

10. इसदिन टीवी पर कोई कॉमेडी शो भी न देखें क्योंकि उसे देखकर आप हंसे तो फिर समझो फंसे।
----------
लड़कों के पांच दुःख!
1) लड़की अगर दिल से अच्छी हो तो अच्छी दिखती नहीं है।

2) लड़की अगर अच्छी दिखे तो दिल से अच्छी होती नहीं है।

3) लड़की अगर सुंदर भी हो और अच्छी भी, तो सिंगल नहीं होती।

4) सुंदर और अच्छी लड़की अगर सिंगल मिल भी जाए तो उसका एक तगड़ा सा भाई होता है।

5) सबसे दुःख वाली बात तो यह है कि अगर सुंदर और अच्छी लड़की का तगड़ा भाई नहीं हुआ तो दोस्तो वह हर लड़के से भाई जैसा ही बर्ताव करती है।
----------
एक आवश्यक सूचना:
ग्रुप के सभी सदस्यों को वालो यह सूचना दी जाती है कि अभी जैसे कि ठण्ड बढ़ रही है तो अब आप स्नान के निम्न प्रकार के इस्तेमाल कर सकते हैं।

1. कंकड़ी स्नान - इस स्नान में पानी की बूंदों को अपने ऊपर छिड़कते हुए मुँह धोया जा सकता है।

2. नल नमस्कार स्नान - इस में आप नल को नमस्ते कर लें स्नान माना जायेगा।

3. जल स्मरण स्नान - यह उच्च कोटि का स्नान है। इसको रजाई के अन्दर रहते हुए पानी से नहाने को याद कर लो नहाया हुआ माना जायेगा।

4. और अन्तिम स्पर्शानूभूति स्नान - इस स्नान में नहाये हुए व्यक्ति को छूकर 'त्वं स्नानम्, मम् स्नानम्' कहने से स्नान माना जायेगा।
----------
पैसों का मामला!
शहर के सबसे बड़े बैंक में एक बार एक बुढ़िया आई । उसने मैनेजर से कहा :- `मुझे इस बैंक में कुछ रुपये जमा करने हैं`

मैनेजर ने पूछा :- कितने हैं ?

वृद्धा बोली :- होंगे कोई दस लाख ।

मैनेजर बोला :- वाह क्या बात है, आपके पास तो काफ़ी पैसा है, आप करती क्या हैं ?

वृद्धा बोली :- कुछ खास नहीं, बस शर्तें लगाती हूँ ।

मैनेजर बोला :- शर्त लगा-लगा कर आपने इतना सारा पैसा कमाया है ? कमाल है...

वृद्धा बोली :- कमाल कुछ नहीं है, बेटा, मैं अभी एक लाख रुपये की शर्त लगा सकती हूँ कि तुमने अपने सिर पर विग लगा रखा है ।

मैनेजर हँसते हुए बोला :- नहीं माताजी, मैं तो अभी जवान हूँ और विग नहीं लगाता ।

तो शर्त क्यों नहीं लगाते ? वृद्धा बोली ।

मैनेजर ने सोचा यह पागल बुढ़िया खामख्वाह ही एक लाख रुपये गँवाने पर तुली है, तो क्यों न मैं इसका फ़ायदा उठाऊँ... मुझे तो मालूम ही है कि मैं विग नहीं लगाता ।

मैनेजर एक लाख की शर्त लगाने को तैयार हो गया ।

वृद्धा बोली :- चूँकि मामला एक लाख रुपये का है, इसलिये मैं कल सुबह ठीक दस बजे अपने वकील के साथ आऊँगी और उसी के सामने शर्त का फ़ैसला होगा ।

मैनेजर ने कहा :- ठीक है, बात पक्की...

मैनेजर को रात भर नींद नहीं आई.. वह एक लाख रुपये और बुढ़िया के बारे में सोचता रहा ।

अगली सुबह ठीक दस बजे वह बुढ़िया अपने वकील के साथ मैनेजर के केबिन में पहुँची और कहा :- क्या आप तैयार हैं ?

मैनेजर ने कहा :- बिलकुल, क्यों नहीं ?

वृद्धा बोली :- लेकिन चूँकि वकील साहब भी यहाँ मौजूद हैं और बात एक लाख की है, अतः मैं तसल्ली करना चाहती हूँ कि सचमुच आप विग नहीं लगाते, इसलिये मैं अपने हाथों से आपके बाल नोचकर देखूँगी ।

मैनेजर ने पल भर सोचा और हाँ कर दी, आखिर मामला एक लाख का था ।

वृद्धा मैनेजर के नजदीक आई और धीर-धीरे आराम से मैनेजर के बाल नोचने लगी । उसी वक्त अचानक पता नहीं क्या हुआ, वकील साहब अपना माथा दीवार पर ठोंकने लगे ।

मैनेजर ने कहा :- अरे.. अरे.. वकील साहब को क्या हुआ ?

वृद्धा बोली :- कुछ नहीं, इन्हें सदमा लगा है, मैंने इनसे पाँच लाख रुपये की शर्त लगाई थी कि आज सुबह दस बजे मैं शहर के सबसे बड़े बैंक के मैनेजर के बाल नोचकर दिखा दूँगी ।
----------




तीन इच्छाएं!
एक महिला का पति बहुत शराबी था वह उसे बहुत प्रताड़ित करता था और उसके किसी दूसरी औरत के साथ अवैध सम्बन्ध भी थे वह महिला उससे काफी दु:खी थी!

आखिर एक दिन उस महिला ने अपने पति से तलाक ले लिया उसे अपने पति से बहुत नफरत हो गई वह अपने पति से अलग रहने लगी!

एक दिन रास्ते में उसे एक पुराना सा दीपक मिला महिला ने उसे उठाकर रगड़ा तो उसमें से एक जिन्न प्रकट हुआ जिन्न ने महिला से कहा कि वह कोई भी तीन वरदान मांग सकती है परन्तु जो वह मांगेगी उसका दुगुना उसके पति को मिलेगा!

महिला ने पहला वरदान मांगा मैं अमीर हो जाऊं!

वह अमीर हो गई साथ ही उसका पति उससे दुगुना अमीर हो गया!

महिला ने दूसरा वरदान मांगा मुझे खूबसूरत बना दो!

वह खूबसूरत हो गई लेकिन उसका पति उससे दुगुना खूबसूरत हो गया!

जिन्न जानता था कि यह महिला अपने पति से नफरत करती है, इसलिये तीसरा वरदान मांगने से पहले उसने उसे टोका देखो, अब यह तुम्हारी तीसरी और आखिरी इच्छा है जिसे मैं पूरी करूंगा इसलिये सोच समझकर मांगना!

महिला ने गंभीरतापूर्वक सोचा और अंत में इस निर्णय पर पहुंची .....मैं चाहती हूं कि तुम मुझे अधमरी कर दो!
----------
फ़ोकट ज्ञान:
1. DOG सड़क पे उल्टा पड़ा था तो लोग उसकी पूजा करने लगे, क्यों?
क्योंकि DOG उल्टा GOD होता है।

2. मरे हुए व्यक्ति के मुँह में क्या डालना चाहिए?
बिड़ला सीमेन्ट, क्योंकि इस सीमेन्ट में जान है।

3. 13 का घनमूल क्या है?
सुरूर, क्योंकि 13...13...13... = सुरूर

4. जो लड़की कभी नही हँसती उसे क्या कहेंगे?
"हसी-ना"

5. जिसका दिल टूट जाता उसका GK कमजोर होता है?
क्योंकि, जब दिल ही टूट गया तो GK क्या करेगा।

6. अगर 2 पीपल के पेड़ को रस्सी से बाँध दिया जाये तो उस रस्सी को क्या कहेंगे?
नोकिया - कनेक्टिगं पीपल

इसी तरह के और फ़ोकट के ज्ञान के लिए हमारे साथ बने रहिए। हम आपको ऐसे ही ज्ञान गंगा में डुबकी लगवाते रहेगें।
----------
गलतफहमी!
एक औरत हाथ में हथौड़ा लिये अपने बेटे के स्कूल में पहुंची और चपरासी से पूछ्ने लगी, "शुक्ला सर की क्लास कौन सी है?"

"क्यों पूछ रही हैं?" हथौड़े को देखकर चपरासी ने डरते हुए पूछा।

"अरे वो मेरे बेटे के क्लास टीचर है।" हथौड़ा हिलाते हुए वो औरत उतावलेपन से बोली।

चपरासी ने दौड़कर शुक्ला सर को खबर दी, कि एक औरत हाथ में हथौड़ा लिये आपको ढूंढ रही है। शुक्ला सर के छक्के छूट गये। वो दौड़कर प्रिसिंपल की शरण में पहुंचे। प्रिंसिपल तत्काल उस औरत के पास पहुंचा और विनय पूर्वक बोला, "कृपया करके आप शांत हो जाईये।"

"मै शांत ही हूं।" वो औरत बोली।

प्रिंसिपल: आप मुझे बताईये कि बात क्या है?

औरत: बात कुछ भी नही हैं। मैं बस शुक्ला सर की क्लास में जाना चाहती हूं।

प्रिंसिपल: लेकिन क्यों?

औरत: क्यों, क्योंकि मुझे वहाँ उस बेंच की कील ठोकनी है, जिस पर मेरा बेटा बैठता है। क़ल वो स्कूल से तीसरी पेंट फ़ाड़ कर आया है।
----------
औरत एक अद्भुत रचना!
अगर आप उसे किस्स करते हैं, तो आप सज्जन आदमी नहीं अगर नहीं करते तो आप आदमी ही नहीं।

अगर आप उसकी तारीफ़ करो तो उसे लगता है कि आप झूठ बोल रहे हो अगर नहीं करो तो आपको कुछ नहीं आता, आप किसी काम के नहीं।

अगर आप उसकी सारी बातें मानते है तो आप डरपोक अगर नहीं मानते तो तालमेल ही नहीं बिठा पाते।

अगर आप उससे रोज मिलते हो तो आप बोर करते है अगर आप नहीं मिलते तो आप पर आरोप लगाया जाता है कि आप डबल क्रॉस कर रहे है।

अगर आप अच्छे कपड़े पहनते हो तो आप प्लेबॉय है अगर नहीं पहनते तो आप आलसी और सुस्त।

अगर आप एक भी मिनट लेट हो जाओ तो वो शिकायत करती है कि इन्तजार करना कितना मुश्किल होता है अगर वो लेट हो जाए तो कहती है ये लड़कियों का तरीका है।

अगर आप उसे कभी कभी किस्स करते हैं तो आप रूखें हैं अगर आप रोज किस्स करने कि कोशिश करते हैं तो आप गलत फायदा उठा रहे हो।

अगर आप बोलते हैं तो वो चाहती है कि आप सुने अगर आप सुन रहे हो तो वो चाहती है कि आप बोले।

संक्षेप में: दिखने में जितनी सीधी सादी, उतनी ही जटिल जितनी कमजोर उससे कहीं ज्यादा शक्तिशाली।

जितनी पेचीदा उतनी ही मनभावन, ये नारी सच में अद्भुत है।
----------




कब्ज़ का इलाज!
एक बार एक आदमी के घोड़े को कब्ज़ हो गयी तो वह जानवरों के डॉक्टर के पास गया बोला, "डॉक्टर साहब मेरे घोड़े को बहुत ही बुरी तरह से कब्ज़ हो गयी है, जिस वजह से वह ठीक तरह से शौच भी नहीं जा पा रहा है।"

आदमी की बात सुन कर डॉक्टर ने उसे एक गोली दी और बोला, "यह लो यह पेट साफ़ करने की गोली है, तुम इसे पशुओं को दवाई देने वाली नली में रख कर इसका एक सिरा घोड़े के मुंह में डाल देना और दूसरी तरफ से फूंक मार देना ताकि गोली घोड़े के पेट में चली जाए, और कुछ देर बाद ही तुम देखोगे की घोड़े के शौच एकदम सामान्य हो जायेंगे और उसका पेट भी बिल्कुल साफ़ हो जाएगा।"

डॉक्टर की बात सुन आदमी दवाई लेकर घर चला गया।

कुछ देर बाद जब डॉक्टर अपने चिकित्सालय में बैठा था तो आदमी बदहवास सा अपना पेट पकडे डॉक्टर के पास आया, जिसे देख कर डॉक्टर ने उस से पूछा, "अरे भाई क्या हुआ तुम्हारी तो हालत बड़ी ही खराब लग रही है?"

आदमी: अरे डॉक्टर साहब क्या बताऊँ ये सब घोड़े को दवाई देने के चक्कर में हो गया।

डॉक्टर: वो कैसे?

आदमी: अरे डॉक्टर साहब आपने घोड़े को दवाई देने का जो तरीका बताया था, मैंने बिल्कुल वैसा ही किया बस किस्मत ही खराब थी की मेरे से पहले घोड़े ने फूँक मार दी।
----------
औरत के कान!
एक आदमी ने दुर्घटना में दोनों कान खो दिए, कोई भी प्लास्टिक सर्जन उसका समाधान नहीं कर पाया, उसने किसी से सुना कि स्वीडन में कोई सर्जन है जो इसे ठीक कर सकता है और वो उसके पास गया!

नए सर्जन ने उस कि जांच की, थोड़ी देर सोचा और फिर कहा, मैं तुम्हें ठीक कर दूंगा!

ओप्रशन के बाद पट्टियां खोली गयी, टांके भी खोल दिए गए और वो वापिस अपने होटल चला गया!

अगली सुबह उसने बहुत गुस्से में सर्जन को फ़ोन किया और जोर से चिल्लाया कमीने तुमने मुझ में औरत का कान लगाया है!

सर्जन ने कहा, तो क्या हुआ कान तो कान है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, औरत का हो या मर्द का!

ऐसा नहीं है, आप गलत बोल रहे हैं, मैं सुन तो सब कुछ सकता हूँ, पर समझ में कुछ भी नहीं आ रहा है!
----------
आई लव यू की कहानी!
कल रात दो पैग लगाने के बाद तीसरे पैग में बर्फ डालने के लिए जैसे ही फ्रिज खोला तो LG रेफ्रीजिरेटर की नयी ऐड याद आ गयी, जिस में फ्रिज खोल कर आई लव यू बोलो तो बदले में आई लव यू टू बोलता है। मन किया कि ट्राई करें मंद मंद मुस्कुराते हुए मैंने बर्फ गिलास में डाल के हलके से कहा, "I Love You" बदले में एक जानी-पहचानी, हृदय स्पर्शी और कर्कश आवाज सुनाई दी।

"बंद कर दो फ्रिज का दरवाजा... सुबह से लाइट नहीं थी... थोड़ी सी बरफ जमी है वो भी पिघल जाएगी... बच्चों के लिए मैंगो शेक बनाना है... आग लगे इस कलमुही शराब को... पचास बार कहा है कम पिया करो... पता नही फ्रिज में... कौन सी अम्मा बैठी है जिसको आई लव यू बोल रहे हो।"

मुझे बाद में ध्यान आया घर का फ्रिज तो सैमसंग का है अगली बार LG लूंगा। फिर कोशिश करूँगा।
----------
दिखावों पे ना जाओ अपनी अक्ल लगाओ!
एक शरीफ लड़के की सगाई एक बहुत ख़ूबसूरत लड़की से हुई।

पर वो लड़का उस लड़की से कभी नहीं मिला था, ना ही उस से बात की थी।

बस सब लोगो से उसकी खूबसूरती की तारीफ ही सुनी थी।

अपनी सुहाग रात पर लड़का बड़ा ख़ुशी-ख़ुशी अपने कमरे में गया और बड़े स्टाइल से अपनी पत्नी का घूंघट उठा कर उससे बोला।

लड़का: "तुम सच में बहुत ख़ूबसूरत हो, समझ नहीं आता की तुम्हे क्या तोहफा दूँ?"

लड़की शर्माती हुई बोली, "दो आप ता दिल तले, वो देदो।"

कहानी का मूल:दिखावों पे ना जाओ, अपनी अक्ल लगाओ।
----------



पागल लड़की!
वो छत पर खड़ी थी। बाल खुले और बिखरे कभी मुँह इधर कभी उधर, बार-बार सामने निहारती दिन दुनियाँ से बेखबर, मुझे बहुत दया आ रही थी।

इतनी कम उम्र में पागल होना। पूरी जिंदगी पड़ी है। क्या होगा? कैसे होगा? मुझे उसके पिता की चिंता सताने लगी।

बेचारा दिन रात मेहनत करके परिवार पालता है। ऊपर से इस पागल लड़की को कैसे संभालेगा?

धीरे-धीरे पागलपन और बढ़ गया।अब तो वह मुंडेर पर बैठ गयी थी। मैं घबराया, मैंने अपनी बिटिया को बुलाया और अपनी चिंता से अवगत कराया ।

बिटिया बोली, "अरे पापा वो पागल नहीं हैं, वो तो सैल्फी ले रही है।"
----------
कंजूसी की हद!
एक आदमी महा कंजूस था। उसने एक शीशी में घी भर कर उसका मुँह बंद किया हुआ था। जब वह और उसके बेटे खाना खाते तब शीशी को रोटी से रगड़ कर खाना खा लेते थे।

एक बार कंजूस किसी काम से बाहर चला गया। लौटने पर उसने बेटों से पूछा, "खाना खा लिया था।"

बेटे बोले: हाँ।

कंजूस: पर शीशी तो मैं अलमारी में बंद करके गया था।

बेटे बोले: हमने अलमारी के हैंडल से रोटियाँ रगड़ कर खा लीं।

कंजूस नाराज हो कर बोला: नालायकों, क्या तुम लोग एक दिन बिना घी के खाना नहीं खा सकते थे।
----------
नारी शक्ति!
एक औरत ख़रीदारी करने शॉपिंग मॉल मैं गई कैश काउंटर पर पेमेंट करने के लिए उसने पर्स खोला तो दुकानदार ने महिला के पर्स में टीवी का रिमोट देखा, दुकानदार से रहा नहीं गया उसने पूछा, "आप टीवी का रिमोट हमेशा अपने साथ लेकर चलती हैं?"

औरत: नहीं, हमेशा नहीं, लेकिन आज मेरे पति ने खरीदारी के लिए मेरे साथ आने से मना कर दिया था।

दुकानदार हंसते हुए बोला, "मैं सभी सामान वापस रख लेता हूँ आप के पति ने आपका क्रेडिट कार्ड ब्लॉक कर दिया हैं।

शिक्षा: अपने पति के शौक का सम्मान करें।

कहानी अभी भी जारी है;

महिला थोड़ी हँसी फिर अपने पर्स से अपने पति का क्रेडिट कार्ड निकला और सभी बिल की पेमेंट कर दी। पति ने पत्नी का कार्ड ब्लॉक कर दिया था पर अपना कार्ड नहीं।

शिक्षा: एक नारी की शक्ति को कभी कम नहीं समझना चाहिए।
----------
सयाना आदिवासी!
एक बार एक आदिवासी बाप-बेटा शिकार पे गए।

एक पतली सी औरत को देख कर बेटे ने पूछा, "पापा इसे खा ले?"

पिता: नहीं इस से हम दोनों का पेट नहीं भरेगा।

आगे गए तो एक मोटी औरत नज़र आई।

बेटा: पापा इसे खा ले?"

पिता: नहीं, इस में मोटापा बहुत है, कोलेस्ट्रॉल बढ़ जायेगा।

भूख से निढाल बच्चे को एक बहुत सुन्दर लड़की नज़र आई।

बेटा: पापा, ये बिलकुल ठीक है इसे खा लेते है।

पिता: "नहीं बेटा, इसे घर ले जाते है और तेरी मम्मी को खा लेते है।"
----------


युद्ध की शुरुआत!
बेटा: पिताजी, युद्ध कैसे शुरू होते हैं?

पिताजी: मान लो अमेरिका और इंग्लैंड में किसी बात पर मतभेद हो गया...

माँ: लेकिन अमेरिका और इंग्लैंड में मतभेद हो ही नहीं सकता।

पिताजी: अरे भई मैं तो सिर्फ उदाहरण दे रहा था...

माँ: मगर तुम गलत उदाहरण देकर बच्चे को बहका रहे हो।

पिताजी: मैं नहीं बहका रहा हूँ...

माँ: ये बहकाना नहीं तो और क्या है?

पिताजी: चुप रहो.. एक बार कह दिया न कि नहीं बहका रहा हूँ, मतलब नहीं बहका रहा हूँ।

माँ: मैं क्यों चुप रहूँ, ये मेरे बच्चे की पढ़ाई का सवाल है। आज ये बॊल रहे हो कल को कुछ और गलत बोलोगे...

बच्चा: प्लीज... आप लोग झगड़ा मत करिये... मैं समझ गया कि युद्ध कैसे शुरू होते हैं।
----------
ग्रुप एडमिन को समर्पित!
नाम: ग्रुप एडमिन

हॉबी: बन्दूक से निकली गोली को हाथ से पकड़ना और शेर के दाँत तोड़कर जमा करना।

रिकॉर्ड: एक बार जिराफ की गर्दन में गाँठ लगा दी थी।

शर्मनाक पल: एक बार एक ही घूँसे में 100 हाँथियों को नहीं मार पाए। सिफ 99 ही मरे।

पागलपन: एक बार सुनामी में तैरने निकल गए।

उपलब्धि: ज्वालामुखी के लावे पर स्केटिंग की।

खुद पर गर्व: जब इन्हें देख 40 फुट लम्बा अजगर डर कर भाग गया।

एडमिन के अब तक के पराक्रम:

विवाह भोज में दो बार भोजन करना।

दूसरों की बरात में नाचना। परिचित हों अथवा ना हों।

चुनाव के समय दो पार्टियों से पैसे लेकर तीसरे को वोट देना।

बच्चों की क्रिकेट टीम का कैप्टन बनना।

जब कहीं केक काटा जा रहा हो तो सबसे सामने खड़ा रहना।

एडमिन पद से इस्तीफा देने की सिर्फ धमकी देना।
----------
ख़बरों के टुकड़े!
कई दुकानदार अख़बारों को काट कर लिफाफे बना लेते हैं लेकिन कई बार जोड़ लगाते समय दो अखबारों की खबरें इस तरह जुड़ जाती हैं कि उनके मतलब कुछ और के और ही बन जाते हैं।

कुछ नमूनें देखें:

1. अमरीका के राष्ट्रपति... कानपुर के पास चोरी की भैंसों समेत गिरफ्तार

2. अमरीकी फौजों द्वारा इराक की जेलों में... चमेली बाई के साथ भंगड़े की क्लासें 23 जुलाई से शुरू

3. अफगानिस्तान की जेलों में छिपे लादेन को... पंजाब सरकार की ओर से बुढ़ापा पेंशन देने का ऐलान

3. मुख्यमंत्री के घर पर... भैंस ने छ: टाँगों वाले बच्चे को जन्म दिया

4. अपने हरमन प्यारे नेता को वोट डालकर... मर्दाना ताकत हासिल करें

5. अटल बिहारी वाजपेयी ने ज़ोर देकर कहा... एक सुन्दर और सुशील कन्या की ज़रूरत

6. तिहाड़ जेल से छ: कैदी फरार... भारत को ओलंपिक्स में सोने के तमगे की उम्मीद

7. क्या आपकी नज़र कमज़ोर है? आज ही आयें... ठेका देशी शराब

8. बे-औलाद दंपत्ति परेशान न हों... 7 तारीख को आ रहे हैं लालू प्रसाद आपके शहर में
----------
लड़की और लड़के का अंतर!
लड़की का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकला।

कमेंट्स लड़कों के:

1. डिअर, वो आपके लायक था ही नहीं।
2. तुम कहाँ वो साला बन्दर कहाँ।
3. हमने तो पहले ही कहा, सब मेरे जैसे नहीं होते।
4. कभी हमें अजमा के देखो, पता चलेगा भरोसा क्या है।
5. जो भी हुआ अच्छा ही हुआ, चिंता मत करो जानू।
लड़के का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकली।

कमेंट्स नजदीकी दोस्तों के:

1. साले, तेरी शकल ही गधे जैसी है।
2. तेरे से बस आज तक कोई पटी है?
3. तुझ जैसो से भी लड़की पटेगी।
4. उससे तेरी नामर्दी का पता चल गया होगा।
5. तेरे से कुछ नहीं होगा बच्चे, चल अब उसका नम्बर मुझे दे।
----------


उम्र का चक्र!
एक औरत और उसका बेटा बस स्टॉप पर खड़े बस का इंतज़ार कर रहे थे तो औरत अपने बेटे से बोली," बेटा अगर बस में कंडक्टर तुमसे तुम्हारी उम्र पूछे तो कहना कि तुम पांच साल के हो। इससे तुम्हारा किराया माफ़ हो जाएगा और तुम बस में मुफ्त सफ़र कर सकोगे।"

थोड़ी देर बाद जब बस आई और वो दोनों जब बस में चढ़े तो कंडक्टर ने बच्चे से उसकी उम्र पूछी।

यह सुन बच्चा बड़े ही गर्व से बोला, "मैं 5 साल का हूँ।"

क्योंकि कंडक्टर का भी उतनी ही उम्र का एक बेटा था तो कंडक्टर भी मुस्कुरा कर बोला, "और आप 6 साल के कब हो जाओगे?"

बच्चा बड़ी मासूमियत से बोला, "जैसे ही मैं इस बस से उतरूंगा।"
----------
मेहनत करे मुर्गी अण्डा खाए फ़क़ीर!
एक बार एक किसान का घोडा बीमार हो गया। उसने उसके इलाज के लिए डॉक्टर को बुलाया। डॉक्टर ने घोड़े का अच्छे से मुआयना किया बोला, "आपके घोड़े को काफी गंभीर बीमारी है। हम तीन दिन तक इसे दवाई देकर देखते हैं, अगर यह ठीक हो गया तो ठीक नहीं तो हमें इसे मारना होगा। क्योंकि यह बीमारी दूसरे जानवरों में भी फ़ैल सकती है।"

यह सब बातें पास में खड़ा एक बकरा भी सुन रहा था।

अगले दिन डॉक्टर आया, उसने घोड़े को दवाई दी चला गया। उसके जाने के बाद बकरा घोड़े के पास गया और बोला, "उठो दोस्त, हिम्मत करो, नहीं तो यह तुम्हें मार देंगे।"

दूसरे दिन डॉक्टर फिर आया और दवाई देकर चला गया।

बकरा फिर घोड़े के पास आया और बोला, "दोस्त तुम्हें उठना ही होगा। हिम्मत करो नहीं तो तुम मारे जाओगे। मैं तुम्हारी मदद करता हूँ। चलो उठो"

तीसरे दिन जब डॉक्टर आया तो किसान से बोला, "मुझे अफ़सोस है कि हमें इसे मारना पड़ेगा क्योंकि कोई भी सुधार नज़र नहीं आ रहा।"

जब वो वहाँ से गए तो बकरा घोड़े के पास फिर आया और बोला, "देखो दोस्त, तुम्हारे लिए अब करो या मरो वाली स्थिति बन गयी है। अगर तुम आज भी नहीं उठे तो कल तुम मर जाओगे। इसलिए हिम्मत करो। हाँ, बहुत अच्छे। थोड़ा सा और, तुम कर सकते हो। शाबाश, अब भाग कर देखो, तेज़ और तेज़।"

इतने में किसान वापस आया तो उसने देखा कि उसका घोडा भाग रहा है। वो ख़ुशी से झूम उठा और सब घर वालों को इकट्ठा कर के चिल्लाने लगा, "चमत्कार हो गया। मेरा घोडा ठीक हो गया। हमें जश्न मनाना चाहिए। आज बकरे का गोश्त खायेंगे।"

शिक्षा: मैनेजमेंट को भी कभी पता नहीं चलता कि कौन सा कर्मचारी कितना योग्य है।
----------
इंजीनियरिंग छात्र!
1. हमेशा 2 अलार्म लगाते हैं एक थोड़ा-थोड़ा उठने के लिए, और दूसरा सचमुच में उठने के लिए।

2. Deo सिर्फ इसलिए लगाते हैं ताकि कोई ये न पता कर पाये कि ये बिना नहाये Class में आया है।

3. गंदे कपड़ों में भी, कम गंदे कपड़े ढूंढ-ढूंढ कर निकालते हैं।

4. कंपनियाँ Maggie Noodles सिर्फ इसलिए बनातीं हैं ताकि ये लोग भूखे न मरें।

5. रिजल्ट आने पर Marks को छोड़कर सिर्फ ये पता करते हैं किसकी कितनी Back आई।

6. 'Girlfriend' ये सुविधा सिर्फ Medical पढ़ने वालों के लिए होती है।

7. किताबों को Chapters के हिसाब से नहीं पढ़ते। "बस यार 12 पन्ने और बचे हैं पढ़ने को।"

8. बर्तन सिर्फ तभी धोते हैं जब खाना बनाना हो।

9. कालेज जाने का सिर्फ एक ही मकसद होता है Attendance लगवाना।

10. 'एक इंजीनियर कुछ नही जानता' ये सिर्फ इंजीनियर ही जानता है।

11. एक रात में सिलेबस खत्म करना इंजीनियर की सबसे बड़ी ताकत है।

12. हर इंजीनियर के फोन में एक Hidden Folder जरुर होता है।

13. सिर्फ इंजीनियरिंग छोड़कर बाकी सभी Course इंजीनियरों के लिए सरल होते हैं।

14. सुबह 9 बजे उठकर 9:25 पर Class में पहुंचने की क्षमता सिर्फ इंजीनियर में होती है।

15. एक आम इंसान खराब चीजों को ठीक करता है पर इंजीनियर पहले चीजों को खराब करते है फिर ठीक।

16. पेट्रोल, सोना, दाल, सब्जी मँहगी होने से इन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता पर सिगरेट या दारु महंगी हो जाये तो ये पागल हो जाते हैं।

17. किसी के Wi- Fi का Password अगर इन्हें पता चल जाये तो ऐसे उछलते हैं जैसे Worldcup जीत लिया हो।

18. इंजीनियर कभी रात में सोते नहीं और सुबह उठते नहीं।

19. अपने मम्मी पापा के लिए ये दुनिया के Most Innocent Person होते हैं और बाकी सारी दुनिया के लिए Yo Yo Honey Singh

20. सिर्फ इंजीनियरिंग करते समय ही ये पैसे वाले होते है इंजीनियरिंग पूरी होते ही ये बेरोजगार हो जाते हैं।
----------
यारों की यारी!
रिजल्ट अगर अच्छा हो तो

माँ: भगवान की कृपया है।
पापा: बेटा किसका है।
दोस्त: चल दारू पीते हैं।

रिजल्ट अगर बुरा हो तो

माँ: आग लगे ऐसे कॉलेज में।
पापा: लाड-प्यार ने बिगाड़ दिया है।
दोस्त: चल दारु पीते हैं।

नौकरी लगने पर

माँ: भगवान का लाख-लाख शुक्र है।
पापा: मन लगा कर काम करना।
दोस्त: चल दारु पीते हैं।

नौकरी छूटने पर

माँ: नौकरी ही खराब थी।
पापा: कोई बात नहीं दूसरी मिल जाएगी।
दोस्त: चल दारु पीते हैं।

शादी पर

माँ: सदा सुखी रहो।
पापा: खुश रहो।
दोस्त: चल दारु पीते हैं।

प्यार में दिल टूटने पर

माँ: बेटा भूल जा उसको।
पापा: मर्द बन।
दोस्त: चल दारु पीते हैं।

दुनिया चाहे कितनी भी बदल जाये दोस्त कभी नहीं बदलते।
----------




सही उपयोग!
एक बार एक पजामा पहने हुए भारतीय से एक अंग्रेज बोला, "अाप लोग चीजों का सही उपयोग नहीं करते।"

भारतीय: चीजों का सही उपयोग अगर हम नहीं करते तो कोई भी नहीं करता।
अंग्रेज: यह अाप कैसे कह सकते हो?

भारतीय: मैं समझाता हूँ। इस पजामे को देखो, मैं इसे करीब एक साल से पहन रहा हूंं। अब इसके बाद श्रीमति जी इसको काटकर मेरे बेटे राजू के साइज़ का बना देगी।

फिर राजू इसे एक साल पहनेगा। उसके बाद श्रीमति जी इसको काट-छांट कर तकियों के कवर बना देगी।

फिर एक साल बाद उन कवर का झाड़ू पोछे में इस्तेमाल किया जायेगा।

अंग्रेज बोला, "फिर फेंक देते होंगे?"

भारतीय ने फिर कहा, "नहीं-नहीं इसके बाद 6 महीने तक मैं इस से अपने जूते साफ़ करूंगा और अगले 6 महीने तक बाइक का साइलेंसर चमकाऊँगा। बाद में उसे हाथ से बनाई जाने वाली गेंद में काम में ले लेंगे और अंत में कोयले की सिगडी (चूल्हा) सुलगाने के काम में लेंगे और फिर उस सिगड़ी (चूल्हे) की राख बर्तन मांजने के काम में लेंगे।"

इतना सुनने के बाद अंग्रेज बेहोश होकर गिर गया और उसे होश आने पर एहसास हुआ कि आखिर अंग्रेज भारत छोड़कर जाने पर क्यों मजबूर हुए।
----------
पत्नी और घड़ी के बीच का संबंध!
समानताएं:
1. घड़ी चौबीस घंटे टिक-टिक करती रहती है, और पत्नी चौबीस घंटे किट-किट करती रहती है।

2. घड़ी की सूइयाँ घूम-फिर कर वहीं आ जाती हैं। उसी प्रकार पत्नी को आप कितना भी समझा लो, वो घूम- फिर कर वहीं आ जायेगी और अपनी ही बात मनवायेगी।

3. घड़ी बिगड़ जाये तो मैकेनिक के यहाँ जाती है। पत्नी बिगड़ जाये तो मायके जाती है।

4. घड़ी को चार्ज करने के लिये सेल (बैटरी) का प्रयोग होता है, और पत्नी को चार्ज करने के लिये सैलेरी का प्रयोग होता है।

विषमतायें:
1. घड़ी में जब 12 बजते हैं तो तीनों सूइयाँ एक दिखाई देती हैं, लेकिन पत्नी के जब 12 बजते हैं तो एक पत्नी भी 3-3 दिखाई देती है।

2. घड़ी के अलार्म बजने का फिक्स टाइम है, लेकिन पत्नी के अलार्म बजने का कोई फिक्स टाइम नहीं है।

3.घड़ी बिगड़ जाये तो रूक जाती है, लेकिन जब पत्नी बिगड़ जाये तो शुरू हो जाती है।

4. सबसे बड़ा अंतर ये कि घड़ी को जब आपका दिल चाहे बदल सकते हैं, मगर पत्नी को चाह कर भी बदल नहीं सकते, उल्टा पत्नी के हिसाब से आपको खुद को बदलना पड़ता है।
----------
हिसाब बराबर होता है!
एक दिन पंजाब पुलिस का एक ट्रैफिक इंस्पेक्टर हाईवे पर अकेले ही अपनी मोटरसाइकल पर बैठा था। तभी दूसरी स्टेट से आती हुयी एक कार ने बॉर्डर क्रॉस किया। इंस्पेक्टर ने रुकने का इशारा किया और जब कार रुकी तो वो टहलता हुआ ड्राइवर की खिड़की के पास गया।

एक नवयुवक जो गाड़ी चला रहा था उसने शीशा नीचा कर सिर बाहर निकाल कर पूछा, "क्या बात है इंस्पेक्टर?"

इंस्पेक्टर ने एक जोरदार थप्पड़ उसके गाल पर रसीद कर दिया।

युवक: अरे, मारा क्यों इंस्पेक्टर साहब?

इंस्पेक्टर: जब पंजाब पुलिस का ट्रैफिक इंस्पेक्टर किसी गाड़ी को रुकने कहता को है तो ड्राइवर को गाड़ी के कागजात अपने हाथ में रखे हुए होने चाहिए।

युवक: माफ़ कीजिये इंस्पेक्टर साहब मैं पहली बार पंजाब आया हूँ।

फिर युवक ने गाडी के कागज़ निकाल कर इंस्पेक्टर को दिखाये।

इंस्पेक्टर ने कागज़ों का मुआयना किया बोला, "ठीक है रख लो।"

फिर घूमकर कार की दूसरी तरफ गया और शीशा ठकठकाया।

पैसेन्जर सीट पर बैठे दुसरे युवक ने शीशा गिराकर सिर बाहर निकाल कर पूछा, "हाँ बोलिए?"

और इतने में इंस्पेक्टर ने उसे भी एक थप्पड़ रसीद कर दिया।

युवक: अरे! मैंने क्या किया?

इंस्पेक्टर: ये तुम्हारी अकड़ उतारने के लिए।

युवक: पर मैंने तो कोई अकड़ नहीं दिखाई।

इंस्पेक्टर: अभी नहीं दिखाई, पर मैं जानता हूँ एक किलोमीटर आगे जाने के बाद तुम अपने दोस्त से कहते, "वो दो कौड़ी के इंस्पेक्टर ने मुझे मारा होता तो बताता।"
----------
नया साल मुबारक
मेरी तरफ से
तमाम
छोटे
बड़े
मोटे
पतले
काले
गोरे
बच्चे
बूढ़े
जवान
मर्द
औरत
हर
अमीर
गरीब
शहरी
पेंडू
और
आप
के
चाचा
चाची
ताया
ताई
साला
साली
बुआ
फूफा
मामा
मामी
देवर
देवरानी
जेठ
जेठानी
भांजे
भांजी
भतीजे
भतीजी
और
पोते
पोती
दादा
दादी
नाना
नानी
नवासे
नवासी
पापा
मम्मी
बहनोई
बहन
भाई
भाभी
दोस्त
सहेली
अज़ीज़
रिश्तेदार
हमसाये
को
नया साल मुबारक
कोई रह तो नही गया ना?
अगर रह गया तो सॉरी, दिल से
नए साल की बधाई!
----------



गुरु, गुरु ही होता है!
एक रात, चार कॉलेज विद्यार्थी देर तक मस्ती करते रहे और जब होश आया तो अगली सुबह होने वाली परीक्षा का भूत उनके सामने आकर खड़ा हो गया।

परीक्षा से बचने के लिए उन्होंने एक योजना बनाई। मैकेनिकों जैसे गंदे और फटे पुराने कपड़े पहनकर वे प्रिंसिपल के सामने जा खड़े हुए और उन्हें अपनी दुर्दशा की जानकारी दी।

उन्होंने प्रिंसिपल को बताया कि कल रात वे चारों एक दोस्त की शादी में गए हुए थे। लौटते में गाड़ी का टायर पंक्चर हो गया। किसी तरह धक्का लगा-लगाकर गाड़ी को यहां तक लाए हैं। इतनी थकान है कि बैठना भी संभव नहीं दिखता, पेपर हल करना तो दूर की बात है। यदि आप हम चारों की परीक्षा आज के बजाय किसी और दिन ले लें तो बड़ी मेहरबानी होगी।

प्रिंसिपल साहब बड़ी आसानी से मान गए। उन्होंने तीन दिन बाद का समय दिया। विद्यार्थियों ने प्रिंसिपल साहब को धन्यवाद दिया और जाकर परीक्षा की तैयारी में लग गए।

तीन दिन बाद जब वे परीक्षा देने पहुंचे तो प्रिंसिपल ने बताया कि यह विशेष परीक्षा केवल उन चारों के लिए ही आयोजित की गई है। चारों को अलग-अलग कमरों में बैठना होगा।

चारों विद्यार्थी अपने-अपने नियत कमरों में जाकर बैठ गए। जो प्रश्नपत्र उन्हें दिया गया उसमें केवल दो ही प्रश्न थे:

प्र.1 आपका नाम क्या है? (2 अंक)

प्र.2 गाड़ी का कौन सा टायर पंक्चर हुआ था? (98 अंक)
----------
घोड़े का इलाज!
एक बार संता के घोड़े को कब्ज़ हो जाती है तो वह जानवरों के डॉक्टर के पास जाता है और उस से कहता है;

संता: डॉक्टर साहब मेरे घोड़े को बहुत ही बुरी तरह से कब्ज़ हो गयी है, जिस वजह से वह ठीक तरह से शौच भी नहीं जा पा रहा है!

संता की बात सुन कर डॉक्टर उसे एक गोली देता है और कहता है;

डॉक्टर: यह लो यह पेट साफ़ करने की गोली है, तुम इसे पशुओं को दवाई देने वाली नली में रख कर इसका एक सिरा घोड़े के मुंह में डाल देना और दूसरी तरफ से फूंक मार देना ताकि गोली घोड़े के पेट में चली जाए, और कुछ देर बाद ही तुम देखोगे की घोड़े के शौच एकदम सामान्य हो जायेंगे और उसका पेट भी बिल्कुल साफ़ हो जाएगा!

डॉक्टर की बात सुन संता दवा लेकर घर चला जाता है!

कुछ देर बाद जब डॉक्टर अपने चिकित्सालय में बैठा होता है तो संता बदहवास सा अपना पेट पकडे डॉक्टर के पास आता है जिसे देख कर डॉक्टर उस से पूछता है!

डॉक्टर: अरे संता क्या हुआ तुम्हारी तो हालत बड़ी ही खराब लग रही है?

संता : अरे डॉक्टर साहब क्या बताऊँ ये सब घोड़े को दवाई देने के चक्कर में हो गया!

संता की बात सुन डॉक्टर हैरान सा होकर पूछता है;

डॉक्टर : वो कैसे?

संता: अरे डॉक्टर साहब आपने घोड़े को दवाई देने का जो तरीका बताया था, मैंने बिल्कुल वैसा ही किया बस किस्मत ही खराब थी की मेरे से पहले घोड़े ने फूँक मार दी!
----------
सस्ता इलाज!
एक आदमी मनोचिकित्सक के पास गया बोला "डॉक्टर साहब मैं बहुत परेशान हूं। जब भी मैं बिस्तर पर लेटता हूं, मुझे लगता है कि बिस्तर के नीचे कोई है। जब मैं बिस्तर के नीचे देखने जाता हूं तो लगता है कि बिस्तर के ऊपर कोई है। नीचे, ऊपर, नीचे, ऊपर यही करता रहता हूं। सो नहीं पाता । कृपा कर मेरा इलाज कीजिये नहीं तो मैं पागल हो जाऊंगा।"

डॉक्टर ने कहा, "तुम्हारा इलाज लगभग दो साल तक चलेगा। तुम्हें सप्ताह में तीन बार आना पड़ेगा। अगर तुमने मेरा इलाज मेरे बताये अनुसार लिया तो तुम बिलकुल ठीक हो जाओगे।"

मरीज: पर डॉक्टर साहब, आपकी फीस कितनी होगी ?

डॉक्टर: सौ रूपये प्रति मुलाकात।

आदमी गरीब था इसीलिए फिर आने को कहकर चला गया।

लगभग छ: महीने बाद वही आदमी डॉक्टर को सड़क पर घूमते हुये मिला, "क्यों भाई, तुम फिर अपना इलाज कराने क्यों नहीं आये ?" मनोचिकित्सक ने पूछा।

"सौ रूपये प्रति मुलाकात में इलाज करवाऊं ? मेरे पड़ोसी ने मेरा इलाज सिर्फ बीस रूपये में कर दिया" आदमी ने जवाब दिया।

डॉक्टर: अच्छा! वो कैसे?

मरीज: दरअसल वह एक बढ़ई है, उसने मेरे पलंग के चारों पाए सिर्फ पांच रूपये प्रति पाए के हिसाब से काट दिये।
----------
मंदी की मार!
एक छोटे से शहर मे एक बहुत ही मश्हूर बनवारी लाल सामोसे बेचने वाला था। वो ठेला लगाकर रोज दिन में 500 समोसे खट्टी मीठी चटनी के साथ बेचता था। रोज नया तेल इस्तमाल करता था और कभी अगर समोसे बच जाते तो उनको कुत्तो को खिला देता, बासी समोसे या चटनी का प्रयोग बिलकुल नहीं करता था, उसकी चटनी भी ग्राहकों को बहुत पसंद थी जिससे समोसों का स्वाद और बढ़ जाता था। कुल मिलाकर उसकी क्वालिटी और सर्विस बहुत ही बढ़िया थी।

उसका लड़का अभी अभी शहर से अपनी MBA की पढाई पूरी करके आया था। एक दिन लड़का बोला, "पापा मैंने न्यूज़ में सुना है मंदी आने वाली है, हमे अपने लिए कुछ Cost Cutting करके कुछ पैसे बचने चाहिए, उस पैसे को हम मंदी के समय इस्तेमाल करेंगे।

बनवारी लाल: बेटा में अनपढ़ आदमी हूँ मुझे ये Cost Cutting - Wost Cutting नहीं आता ना मुझसे ये सब होगा, बेटा तुझे पढ़ाया लिखाया है अब ये सब तू ही सम्भाल।

बेटा: ठीक है पिताजी आप रोज रोज ये जो फ्रेश तेल इस्तमाल करते हो इसको हम 80% फ्रेश और 20%पिछले दिन का जला हुआ तेल इस्तेमाल करेंगे।

अगले दिन समोसों का टेस्ट हल्का सा चेंज था पर फिर भी उसके 500 समोसे बिक गए और शाम को बेटा बोलता है देखा पापा हमने आज 20%तेल के पैसे बचा लिए और बोला पापा इसे कहते है Cost Cutting

बनवारी लाल: बेटा मुझ अनपढ़ से ये सब नहीं होता ये तो सब तेरे पढाई लिखाई का कमाल है।

लड़का: पापा वो सब तो ठीक है पर अभी और पैसे बचाने चाहिए। कल से हम खट्टी चटनी नहीं देंगे और जले तैल की मात्र 30% प्रयोग में लेंगे।

अगले दिन उसके 400 समोसे बिक गए और स्वाद बदल जाने के कारन 100 समोसे नहीं बिके जो उसने जानवरो और कुत्तो को खिला दिए।

लड़का: देखा पापा मैंने बोला था ना मंदी आने वाली है आज सिर्फ 400 समोसे ही बिके है।

बनवारी लाल: बेटा अब तुझे पढ़ाने लिखाने का कुछ फायदा मुझे होना ही चाहिए। अब आगे भी मंदी के दौर से तू ही बचा।

लड़का: पापा कल से हम मीठी चटनी भी नहीं देंगे और जले तेल की मात्रा हम 40% इस्तेमाल करेंगे और समोसे भी कल से 400 हीे बनाएंगे।

अगले दिन उसके 400 समोसे बिक गए पर सभी ग्राहकों को समोसे का स्वाद कुछ अजीब सा लगा और चटनी ना मिलने की वजह से स्वाद और बिगड़ा हुआ लगा। शाम को लड़का अपने पिता से बोला, "देखा पाप आज हमे 40% तेल, चटनी और 100 समोसे के पैसे बचा लिए। पापा इसे कहते है Cost Cutting और कल से जले तेल की मात्रा 50% कर दो और साथ में Tissue पेपर देना भी बंद कर दो।

अगले दिन समोसों का स्वाद कुछ और बदल गया और उसके 300 समोसे ही बिके।

शाम को लड़का अपने पिता से, "पापा बोला था ना आपको की मंदी आने वाली है।"

बनवारी लाल: हाँ बेटा तू सही कहता है मंदी आ गई है। अब तू आगे देख क्या करना है कैसे इस मंदी से लड़े?

लड़का :पापा एक काम करते हैं कल 200 समोसे ही बनाएंगे और जो आज 100 समोसे बचे है कल उन्ही को दोबारा तल कर मिलाकर बेचेंगे।

अगले दिन समोसों का स्वाद और बिगड़ गया, कुछ ग्राहकों ने समोसे खाते वक़्त बनवारी लाल को बोला भी और कुछ चुप चाप खाकर चले गए। आज उसके 100 समोसे ही बिक पाये और 100 बच गए।

शाम को लड़का बनवारी लाल से, "पापा देखा मैंने बोला था आपको और ज्यादा मंदी आएगी अब देखो कितनी मंदी आ गई है।"

बनवारी लाल: हाँ बेटा तू सही बोलता है तू पढ़ा लिखा है समझदार है। अब आगे कैसे करेगा?

लड़का: पापा कल हम आज के बचे हुए 100 समोसे दोबारा तल कर बेचेंगे और नए समोसे नहीं बनाएंगे।

अगले दिन उसके 50 समोसे ही बिके और 50 बच गए। ग्राहकों को समोसे का स्वाद बेहद ही ख़राब लगा और मन ही मन सोचने लगे बनवारी लाल आज-कल कितने बेकार समोसे बनाने लगा है और चटनी भी नहीं देता कल से किसी और दुकान पर जाएंगे।

शाम को लड़का: पापा देखा मंदी आज हमने 50 समोसों के पैसे बचा लिए। अब कल फिर से 50 बचे हुए समोसे दोबारा तल कर गरम करके बचेंगे।

अगले दिन उसकी दुकान पर शाम तक एक भी ग्राहक नहीं आया और बेटा बोला, "देखा पापा मैंने बोला था आपको और मंदी आएगी और देखो आज एक भी ग्राहक नहीं आया और हमने आज भी 50 समोसे के पैसा बचा लिए। इसे कहते है Cost Cutting"

बनवारी लाल: तू सच में MBA करके आया है या अरुण जेटली से मिलकर आया है जो हर चीज़ में Cost Cutting कर दी और मेरी दूकान बंद करवा दी।
---------

आज कोर्ट में एक अजीब मुकद्दमा चल रहा था, एक ग्रामीण ने तोप के लाइसेंस के लिये आवेदन दिया था, और इसे देखने हज़ारो की भीड़ और मीडिया कोर्ट में हाज़िर थे।
जज ग्रामीण से ये तुमने तोप के लाइसेंस के लिए आवेदन पुरे होशोहवाश में दिया है?
ग्रामीण- जी हां जज साहब
जज- क्या तुम अदालत को बताओगे कि ये तोप तुम कहा और किस पर चलाने वाले हो।
ग्रामीण- जज साहब
पिछले साल मैंने अपने ग्रामीण बैंक में 1 लाख रुपये के बेरोजगार लोन के लिये आवेदन किया, बैंक वालो ने पूरी जाँच पड़ताल कर मुझे 10 हज़ार रुपये का लोन प्रदान किया।
उसके बाद मेरी बहन की शादी में मैंने राशन से 100 किलो शक्कर के लिए आवेदन किया और मुझे राशन से सिर्फ 10 किलो शक्कर मिली।
अभी कुछ दिन पहले जब मेरी फ़सल  बाढ़ में डूब गयी तो पटवारी ने मेरे लिए 50 हज़ार रुपये का मुवायजा स्वीकृत करने की बात करके गया और मेरे खाते में मात्र 5 हज़ार रुपये ही आये।
इसलिए अब मैं सरकारी कार्यप्रणाली को बहुत अच्छे से समझ गया हूँ, मुझे तो बंदर भगाने के लिये पिस्तौल  का लाइसेन्स चाहिए था पर मैंने सोचा की यदि मैं पिस्तौल के लाइसेन्स का आवेदन करूँगा तो
मुझे कही आप गुलेल का लाइसेन्स न देदे, इसलिए मैंने तोप के लाइसेन्स का आवेदन किया।
----------

सब यही चाहते है!
पुरुषों के सुखी जीवन के लिए पांच सूत्र

1. आपके पास ऐसी स्त्री हो जो घर का काम करे, खाना बनाए और कपड़े धोए!

2. आपके पास ऐसी स्त्री हो जो आपको हंसाये और खुश रखे!

3. आपके पास ऐसी स्त्री हो जिस पर आप विश्वास कर सकें और जो आपसे झूठ न बोले!

4. आपके पास ऐसी स्त्री हो जो आपको प्यार करे और आपके साथ रहकर आनंद का अनुभव करे!

5. आखिरी और सबसे महत्वपूर्ण बात:- उपरोक्त चारों स्त्रियां एक दूसरे से बिल्कुल परीचित न हों!
----------
मंदी की मार!
एक छोटे से शहर मे एक बहुत ही मश्हूर बनवारी लाल सामोसे बेचने वाला था। वो ठेला लगाकर रोज दिन में 500 समोसे खट्टी मीठी चटनी के साथ बेचता था। रोज नया तेल इस्तमाल करता था और कभी अगर समोसे बच जाते तो उनको कुत्तो को खिला देता, बासी समोसे या चटनी का प्रयोग बिलकुल नहीं करता था, उसकी चटनी भी ग्राहकों को बहुत पसंद थी जिससे समोसों का स्वाद और बढ़ जाता था। कुल मिलाकर उसकी क्वालिटी और सर्विस बहुत ही बढ़िया थी।

उसका लड़का अभी अभी शहर से अपनी MBA की पढाई पूरी करके आया था। एक दिन लड़का बोला, "पापा मैंने न्यूज़ में सुना है मंदी आने वाली है, हमे अपने लिए कुछ Cost Cutting करके कुछ पैसे बचने चाहिए, उस पैसे को हम मंदी के समय इस्तेमाल करेंगे।

बनवारी लाल: बेटा में अनपढ़ आदमी हूँ मुझे ये Cost Cutting - Wost Cutting नहीं आता ना मुझसे ये सब होगा, बेटा तुझे पढ़ाया लिखाया है अब ये सब तू ही सम्भाल।

बेटा: ठीक है पिताजी आप रोज रोज ये जो फ्रेश तेल इस्तमाल करते हो इसको हम 80% फ्रेश और 20%पिछले दिन का जला हुआ तेल इस्तेमाल करेंगे।

अगले दिन समोसों का टेस्ट हल्का सा चेंज था पर फिर भी उसके 500 समोसे बिक गए और शाम को बेटा बोलता है देखा पापा हमने आज 20%तेल के पैसे बचा लिए और बोला पापा इसे कहते है Cost Cutting

बनवारी लाल: बेटा मुझ अनपढ़ से ये सब नहीं होता ये तो सब तेरे पढाई लिखाई का कमाल है।

लड़का: पापा वो सब तो ठीक है पर अभी और पैसे बचाने चाहिए। कल से हम खट्टी चटनी नहीं देंगे और जले तैल की मात्र 30% प्रयोग में लेंगे।

अगले दिन उसके 400 समोसे बिक गए और स्वाद बदल जाने के कारन 100 समोसे नहीं बिके जो उसने जानवरो और कुत्तो को खिला दिए।

लड़का: देखा पापा मैंने बोला था ना मंदी आने वाली है आज सिर्फ 400 समोसे ही बिके है।

बनवारी लाल: बेटा अब तुझे पढ़ाने लिखाने का कुछ फायदा मुझे होना ही चाहिए। अब आगे भी मंदी के दौर से तू ही बचा।

लड़का: पापा कल से हम मीठी चटनी भी नहीं देंगे और जले तेल की मात्रा हम 40% इस्तेमाल करेंगे और समोसे भी कल से 400 हीे बनाएंगे।

अगले दिन उसके 400 समोसे बिक गए पर सभी ग्राहकों को समोसे का स्वाद कुछ अजीब सा लगा और चटनी ना मिलने की वजह से स्वाद और बिगड़ा हुआ लगा।

शाम को लड़का अपने पिता से बोला, "देखा पाप आज हमे 40% तेल, चटनी और 100 समोसे के पैसे बचा लिए। पापा इसे कहते है Cost Cutting और कल से जले तेल की मात्रा 50% कर दो और साथ में Tissue पेपर देना भी बंद कर दो।

अगले दिन समोसों का स्वाद कुछ और बदल गया और उसके 300 समोसे ही बिके।

शाम को लड़का अपने पिता से, "पापा बोला था ना आपको की मंदी आने वाली है।"

बनवारी लाल: हाँ बेटा तू सही कहता है मंदी आ गई है। अब तू आगे देख क्या करना है कैसे इस मंदी से लड़े?

लड़का :पापा एक काम करते हैं कल 200 समोसे ही बनाएंगे और जो आज 100 समोसे बचे है कल उन्ही को दोबारा तल कर मिलाकर बेचेंगे।

अगले दिन समोसों का स्वाद और बिगड़ गया, कुछ ग्राहकों ने समोसे खाते वक़्त बनवारी लाल को बोला भी और कुछ चुप चाप खाकर चले गए। आज उसके 100 समोसे ही बिक पाये और 100 बच गए।

शाम को लड़का बनवारी लाल से, "पापा देखा मैंने बोला था आपको और ज्यादा मंदी आएगी अब देखो कितनी मंदी आ गई है।"

बनवारी लाल: हाँ बेटा तू सही बोलता है तू पढ़ा लिखा है समझदार है। अब आगे कैसे करेगा?

लड़का: पापा कल हम आज के बचे हुए 100 समोसे दोबारा तल कर बेचेंगे और नए समोसे नहीं बनाएंगे।

अगले दिन उसके 50 समोसे ही बिके और 50 बच गए। ग्राहकों को समोसे का स्वाद बेहद ही ख़राब लगा और मन ही मन सोचने लगे बनवारी लाल आज-कल कितने बेकार समोसे बनाने लगा है और चटनी भी नहीं देता कल से किसी और दुकान पर जाएंगे।

शाम को लड़का: पापा देखा मंदी आज हमने 50 समोसों के पैसे बचा लिए। अब कल फिर से 50 बचे हुए समोसे दोबारा तल कर गरम करके बचेंगे।

अगले दिन उसकी दुकान पर शाम तक एक भी ग्राहक नहीं आया और बेटा बोला, "देखा पापा मैंने बोला था आपको और मंदी आएगी और देखो आज एक भी ग्राहक नहीं आया और हमने आज भी 50 समोसे के पैसा बचा लिए। इसे कहते है Cost Cutting"

बनवारी लाल: तू सच में MBA करके आया है या अरुण जेटली से मिलकर आया है जो हर चीज़ में Cost Cutting कर दी और मेरी दूकान बंद करवा दी।
----------
भिन्न-भिन्न फेसबुक स्टेटस!
लड़की का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकला।

कमेंट्स लड़कों के:
1. डिअर, वो आपके लायक था ही नहीं।
2. तुम कहाँ वो साला बन्दर कहाँ।
3. हमने तो पहले ही कहा, सब मेरे जैसे नहीं होते।
4. कभी हमें अजमा के देखो, पता चलेगा भरोसा क्या है।
5. जो भी हुआ अच्छा ही हुआ, चिंता मत करो जानू।

लड़के का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकली।

कमेंट्स नजदीकी दोस्तों के:
1. साले, तेरी शकल ही गधे जैसी है।
2. तेरे से बस आज तक कोई पटी है?
3. तुझ जैसो से भी लड़की पटेगी।
4. उससे तेरी नामर्दी का पता चल गया होगा।
5. तेरे से कुछ नहीं होगा बच्चे, चल अब उसका नम्बर मुझे दे।
----------
बेरोज़गारी का हाल!
नदी में डूबते हुए आदमी ने पुल पर चलते हुए आदमी को आवाज़ लगायी। आदमी: `बचाओ-बचाओ।`

पुल पर चलते आदमी ने नीचे देखा और उस आदमी को बचाने के लिए पुल से नीचे रस्सी फैंकी और कहा, `रस्सी को पकड़ के ऊपर आ जाओ।`

परन्तु नदी में डूबता हुआ आदमी रस्सी नहीं पकड़ पा रहा था तो वह डर के मारे चिल्ला कर बोला, `मैं मरना नहीं चाहता, ज़िन्दगी बड़ी कीमती है कल ही तो मेरी टार्जन कंपनी में बड़ी अच्छी नौकरी लगी है।`

इतना सुनते ही पुल पर चलते आदमी ने अपनी रस्सी खींच ली और भागते-भागते टार्जन कंपनी के दफ्तर में गया वहां के मैनेजर से बोला,` जिस आदमी को आपने कल नौकरी दी थी वो अभी-अभी डूबकर मर गया है, और इस तरह आपकी कंपनी में एक जगह खाली हो गयी है, मैं बेरोजगार हूँ इसीलिए मुझे रख लीजिये।`

मैनेजर: `दोस्त, तुमने देर कर दी, अब से कुछ देर पहले हमने उस आदमी को रखा है, जो उसे धक्का दे कर तुमसे पहले यहाँ आया है।`
----------


स्माइल प्लीज!
तीन मरे हुए राजनीतिज्ञों के शव शमशान में उठ खड़े हुए सभी के मुहं में बड़ी मुस्कान थी, पुलिस ने डाक्टर को बुलाया ये देखने के लिए की क्या हो गया है, एक जासूस पुलिस वाले को भी बुलाया गया की देखें क्या हुआ है!

पहले शव को देखकर डाक्टर ने कहा, ये बी.जे.पी का नेता है जो हर्ट अटैक से मरा जब ये अपनी नौकरानी के साथ प्यार कर रहा था इसीलिए बड़ी हंसी हंस रहा है डाक्टर ने कहा!

पुलिस ने दूसरा शव बाहर निकाला तो डाक्टर ने कहा ये सतासीन पार्टी का नेता है, इसकी उम्र 70 साल है सरकारी कोष में घोटाले करके सारा पैसा शराब में उड़ाया लीवर ख़राब होने से मरा फिर भी मुस्करा रहा है ये कुछ खास नहीं है!

पुलिस ने सोचा और तीसरे शव को देखा, डाक्टर ने कहा ये सबसे अनोखा है, बिहार का सांसद, उम्र 60 साल ये आसमानी बिजली के गिरने से मर गया!

पुलिस वाले ने पूछा पर ये हंस क्यों रहा है?

तो डाक्टर ने कहा, ये अभी भी यही सोच रहा है की इसकी फोटो खिंची जा रही है!
----------
औरतों की विचित्र सच्चाई!
1. वे बचत में विश्वाश करती हैं लेकिन फिर भी महंगे महंगे कपडे खरीदती हैं।

2. महंगे महंगे कपडे खरीदती है, फिर भी कहती रहती हैं कि मेरे पास पहनने को कुछ भी नहीं है।

3. पहनने को कुछ भी नहीं होता है,पर सजती बहुत सुन्दर हैं।

4. सजती बहुत सुन्दर हैं, पर सन्तुष्ट कभी नहीं होती।

5. सन्तुष्ट कभी नहीं होती, पर हमेशा चाहती हैं कि उनका पति उनकी तारीफ़ करे।

6. चाहती हैं कि उनका पति उनकी तारीफ़ करे, पर पति सच में भी तारीफ़ करे तो वे विश्वाश नहीं करती।

सचमुच समझ से बाहर हैं ये औरतें।
----------
मच्छर मारने का सबसे आसान तरीका!
चीनी और लाल मिर्च का मिश्रण बना कर मच्छर को दें।

मिश्रण खाते ही वो पानी की तलाश में निकलेगा।

जैसे ही वो पानी के टैंक के पास जाए उसे धक्का दे दो।

वो भीग जाएगा और खुद को सुखाने के लिए आग के पास जाएगा।

उसी वक्त आप आग में बम फ़ेंक दें।

वो बुरी तरह ज़ख़्मी हो के अस्पताल में दाखिल हो जाएगा।

आप वहां जाकर उसका आक्सीजन मास्क उतार दें।

मच्छर मर जाएगा...

धन्यवाद की ज़रूरत नहीं है, मुझे आप की सहायता करके ख़ुशी हुई।
----------
मेरे साथ चलो!
एक दोपहर में एक धनी वकील अपनी बड़ी गाड़ी में कहीं जा रहा था, रास्ते में उसने देखा कि सड़क के किनारे दो आदमी घास खा रहे है, उसने अपने ड्राईवर से गाड़ी रोकने को कहा और वह गाड़ी से बाहर निकला और उन दोनों से पूछताछ करने लगा, अरे भई.. तुम लोग घास क्यों खा रहे हो?

उन दोनों ने कहा साहब क्या करें हमारे पास खाना खाने के लिए पैसे नहीं है!

ओह.. हो.. चलो मेरे साथ आओ!

पर साहब मेरी पत्नी और दो बच्चे भी है!

उन्हें भी साथ लेकर आओ, और तुम भी मेरे साथ आओ उसने दूसरे आदमी से कहा!

पर साहब मेरे तो छह बच्चे है और बीवी भी है दूसरे आदमी ने कहा, उन्हें भी साथ लेकर आओ, वे सब बड़ी मुश्किल से गाड़ी पर चढ़े और आपस में सट कर बैठ गए!

जो आदमी सबसे अंत में चढ़ा वो कहने लगा, साहब आप बहुत दयालु है जो आप हम जैसे गरीबों को साथ में लेकर जा रहे हैं!

वकील कहने लगा अरे कोई बात नहीं मेरे घर के आसपास में लगभग 2 फुट लम्बी घास है!
----------


यमराज का क़ानून!
एक बार तीन दोस्त मर कर नर्क में पहुँच जाते हैं।

पहले दोस्त को स्वर्ग की सबसे बदसूरत और भद्दी महिला के साथ रहने को कहा गया।

दोस्त ने उस पर ऐतराज़ किया और ऐसा करने का कारण पूछा।

यमराज: जब तुम नौ साल के थे तुमने एक चिड़िया को पत्थर से मारा था इसीलिए।

कुछ ऐसा ही दूसरे दोस्त के साथ भी होता है जब वह यमराज से इसका कारण पूछता है तो उसे भी वाही जवाब मिलता है कि जब वह नौ साल का था तो उसने एक चिड़िया को पत्थर से मारा था।

अपने दोनों दोस्तों का हाल देख कर तीसरा दोस्त सोच में पड़ गया की कहीं उसने तो ऐसा कुछ नहीं किया था, परन्तु इतने में ही यमराज ने उसे बुलाया और एक सुन्दर सी महिला के साथ भेजते हुए कहा, "तुम इसके साथ रहोगे।

यह देख दोनों दोस्त यमराज के पास गए और उस से बोले, " हे यमराज हम दोनों को यह दो बदसूरत महिलाओं के साथ रहने की सज़ा और उसे उस खूबसूरत महिला के साथ रहने का मौक़ा ऐसा क्यों जबकि वह भी तो हमारे साथ का ही है।

यमराज: दरअसल बात यह है, जब वह महिला नौ साल की थी तब उसने एक चिड़िया को पत्थर से मारा था।

----------
हम में क्या कमी है!
घोडा रेस में बिक रहा है;
वकील केस में बिक रहा है;
अदालत में जज बिक रहा है;
वर्दी में फर्ज बिक रहा है;
यहाँ सब कुछ बिक रहा है;

मज़बूरी में इंसान बिक रहा है;
जुल्म का हैवान बिक रहा है;
पैसों की खातिर ईमान बिक रहा है;
गरीबों का प्राण बिक रहा है;
यहाँ सब कुछ बिक रहा है;

गेट का संत्री बिक रहा है;
पार्टी का मंत्री बिक रहा है;
खिलाडी खेल में बिक रहा है;
कानून जेल में बिक रहा है;
यहाँ सब कुछ बिक रहा है;

पर आज ऐसी हालत होते हुए भी सिर्फ हमारा माल नहीं बिक रहा है।
बहुत मंदी है।

All Business Association
----------
प्यार में भी कंजूसी!
एक बार एक कंजूस लड़के को एक कंजूस लड़की से प्यार हो जाता है।

लड़की: जब पापा घर पर नहीं होंगे तो मैं गली में सिक्का फेंकुंगी, आवाज़ सुन कर तुम तुरंत अन्दर आ जाना।

लेकिन लड़का सिक्का फेंकने के एक घंटे बाद आया।

लड़की: इतनी देर क्यों लगा दी?

लड़का: वो मैं सिक्का ढूंढ रहा था।

लड़की: पागल वो तो धागा बाँध कर फेंका था, वापस खींच लिया।

----------
हम हैं हिंदुस्तानी!
1. जब भी दरवाज़े पर घंटी बजती है तो घर का कोई मर्द या कोई बच्चा दरवाज़ा खोलने जाता है और औरत दुपट्टा लेने।

2. किसी भी रिश्तेदार को एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन पर पूरे परिवार का जाना एक परंपरा बन गयी है।

3. हम बाहर जितना मर्ज़ी खा लें कभी बीमार नहीं हो सकते।

4. हर हिंदुस्तानी महिला के दो प्रमुख काम हैं - घर को संभालना और दूसरों की शादियाँ पक्की करवाना।

5. हर हिंदुस्तानी लड़की के तीन तरह के भाई होते हैं - असल भाई, चचेरा भाई और राखी भाई।

6. विदाई के समय दुल्हन का रोना बहुत अनिवार्य है। क्योंकि इसके बिना शादी की फिल्म अच्छी नहीं लगेगी।

7. हम सब पर दिवाली के दिनों में सफाई का भूत सवार हो जाता है ताकि जो लोग हमारे घर आयेंगे हम उन्हें दिखा सकें कि हम कितने सफाई पसंद हैं।

8. हम कितने भी बड़े हो जाएँ फिर भी हमारे माता-पिता को हमारी हर खबर होनी चाहिए, कहाँ गए थे, कहाँ से आ रहे हो, क्या कर रहे हो... वगैरह-वगैरह।

9. जब भी हिंदुस्तानी माता-पिता कोई टिकट खरीदते हैं तो उनका बच्चा 12 साल से कम हो जाता है। उनके लिए बच्चे की आधी टिकट लेना बहुत बड़ी जीत है।

10. अगर हम अपने माता-पिता से दूर किसी दूसरे शहर में रहते हैं तो हमारे लिए यह बहुत जरूरी है कि हम हर रोज़ अपनी माँ को फ़ोन करें नहीं तो वो हमारे दोस्तों को फ़ोन करके हमारा हाल-चाल पूछेगी।

11. दुनिया में कोई भी हमें मोल-भाव करने में नहीं पछाड़ सकता। चलो भाई न तुम्हारा न हमारा इतने पैसे ठीक हैं।

12. हम चाहे कितने भी बड़े कान्वेंट स्कूल में पढ़ लें, ज़रुरत पड़ने पर गालियां हम अपनी मात्र भाषा में ही देते हैं।

13. जब कोई मेहमान घर से जाने लगता है तो दरवाज़े में खड़े होकर ही अचानक हमें सारी बातें याद आ जाती हैं जो हम घर के अंदर करना भूल जाते हैं।

14. जब हम रिमोट को इधर-उधर ठोक कर चला सकते हैं तो बैटरी क्यों बदली जाये।
----------


सस्ता इलाज!
एक आदमी मनोचिकित्सक के पास गया और बोला, "डॉक्टर साहब मैं बहुत परेशान हूं। जब भी मैं बिस्तर पर लेटता हूं, मुझे लगता है कि बिस्तर के नीचे कोई है। जब मैं बिस्तर के नीचे देखने जाता हूं तो लगता है कि बिस्तर के ऊपर कोई है। नीचे, ऊपर, नीचे, ऊपर यही करता रहता हूं। सो नहीं पाता हूं। मेरा इलाज कीजिये नहीं तो मैं पागल हो जाऊंगा।"

डॉक्टर ने कहा, "तुम्हारा इलाज लगभग दो साल तक चलेगा। तुम्हें सप्ताह में तीन बार आना पड़ेगा। अगर तुमने मेरा इलाज मेरे बताये अनुसार लिया तो तुम बिलकुल ठीक हो जाओगे।"

मरीज: पर डॉक्टर साहब, आपकी फीस कितनी होगी?

डॉक्टर: सौ रूपये प्रति मुलाकात।

आदमी गरीब था इसीलिए फिर आने को कहकर चला गया।

लगभग छ: महीने बाद वही आदमी डॉक्टर को सड़क पर घूमते हुये मिला, "क्यों भाई, तुम फिर अपना इलाज कराने क्यों नहीं आये?" मनोचिकित्सक ने पूछा।

"सौ रूपये प्रति मुलाकात में इलाज कैसे करवाऊं? मेरे पड़ोसी ने मेरा इलाज सिर्फ बीस रूपये में कर दिया" आदमी ने जवाब दिया।

डॉक्टर: अच्छा! वो कैसे?

मरीज: दरअसल वह एक बढ़ई है, उसने मेरे पलंग के चारों पाए सिर्फ पांच रूपये प्रति पाए के हिसाब से काट दिये।
----------
आवश्यकता है एक गर्लफ्रेंड की।
पद: जूनियर गर्लफ्रेंड/सहायक प्रेमिका

अनुभव: कम से कम दो लडको की गर्ल फ्रेंड रह चुकी हो, तथा गर्ल फ्रेंड के सभी दायित्वों में पारंगत हो।

आयु : 18-25 वर्ष (अगर कोई लड़की/महिला दिखने में अच्छी है, और ज्यादा उम्र होने के बावजूद इसी उम्र की लगती हो, तो वह अप्लाई कर सकती है)।

लाभ तथा मानदेय: सकल मासिक।

• एक उपहार प्रति महिना (अधिकतम मूल्य रुपये 1000) (कोई मूल्यवान धातु जैसे सोना, चांदी या बहुमूल्य रत्न जैसे हीरा इत्यादि की अपेक्षा न रखे)।

• लक्ज़री बाइक में मुफ्त सवारी (अधिकतम 1 घंटा प्रतिदिन) • कुल्फी / आइसक्रीम/ चोकलेट , प्रतिदिन

• प्रतिदिन 50-100 रुपये के समकक्ष मुफ्त नाश्ता जैसे समोसा / ब्रेड पकोड़ा इत्यादि

• हर रविवार मुफ्त मूवी (ऊपर कोने वाली सीट पर)

• महीने में एक बार मुफ्त ''ब्रांडेड जीन्स /टी-शर्ट '' अथवा ''स्कर्ट / टॉप '' अथवा ''डिज़ाइनर परिधान'' पसंदानुसार (लेकिन पिछले महीने का आचरण संतोष जनक होने पर ही यह सुविधा उपलब्ध है।)

• मिस्ड कॉल करने के लिए , फ़ोन चालू रखने हेतु 100 रूपये का रिचार्ज प्रति महीना प्रतिवर्ष एक नवीनतम स्मार्ट फ़ोन, जैसे IPHONE या Galaxy S, दिया जायेगा, तथा ऊपर लिखी सभी सुविधायें अनलिमिटेड रूप से प्राप्त होंगी।

स्थायी होने के बाद वर्ष में दो बार हीरा या सोना के जवाहरात दिए जायेंगे।

जो लडकियाँ इस ऑफर के लिए अपने आपको उपयुक्त नहीं मानती हैं, उन्हें मन छोटा करने की कोई जरूरत नहीं है वो ''Suggest a friend'' सुविधा का लाभ उठा कर अपनी सहेलियों का सुझाव दे सकती हैं।

प्रत्येक सफल रिफरेन्स पर उन्हें फाइव स्टार होटल में लंच अथवा कैंडल लाइट डिनर, उपहार / कृतज्ञता स्वरुप कराया जायेगा!

कृपया इस विज्ञापन के तहत अपने बायो-डाटा के साथ आज ही आवेदन करें।

(बिना फोटो कोई आवेदन स्वीकार नहीं किया जायेगा)

नोट-हमारी कोई शाखा नहीं है।
----------
पक्का भारतीय होने के लक्षण:
1. होटल में खाने के बाद मुट्ठी भर सौंफ खाना।

2. हवाई यात्रा के बाद बैग से टैग नहीं उतारना।

3. सब्जी लेने के बाद मुफ़्त धनिये की मांग करना।

4. दीवाली पर मिले गिफ्ट को रिश्तेदार को सरका देना।

5. छह साल के बच्चे को 3 साल का बता कर आधा टिकट लेना।

6. रिमोट से लेकर मोबाइल तक का पीठ ठोंक कर चलाना।

7. शादी के कार्ड से गणेश जी उतारकर फ्रिज पर चिपकाना।

8. मोलभाव करते वक्त पिछली दुकान का हवाला देना।

9. गोलगप्पे खाने के बाद मुफ़्त में सुखी पापड़ी की जिद करना।

10. नई कार लेने के बाद छह महीने तक सीट की पन्नी नहीं उतारना।
----------

तीन ठेकेदार!
तीन भवन निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों की मौत के बाद वे तीनों स्वर्ग के दरवाजे पर मिले पहला पाकिस्तान का था दूसरा चीन का और तीसरा भारत का।

जैसे ही वे स्वर्ग के अंदर जाने लगे दूत ने उन्हें रोका और कहा,"अन्दर जाने से पहले आप तीनों को मैं बता दूँ कि अन्दर जाने वाले इस गेट की मरम्मत करनी है तो आप तीनों ही मुझे थोड़ा सा अनुमान लगाकर बताएं कि इस पर कितना खर्चा आ सकता है।"

सबसे पहले पाकिस्तानी ठेकेदार ने गेट को देखा और सोच कर बोला, "मेरे ख्याल से इसमें जितनी मरम्मत होनी है उस हिसाब से तो पूरा खर्चा 9000 रूपए आना चाहिए।"

दूत ने उसे पूछा,"कि ये किस तरह से इतना अनुमान लगाया आपने ठेकेदार ने कहा 3000 रूपए का मैटीरीअल, 3000 रूपए मजदूर के और 3000 का मुनाफा।"

दूत ने चीन के ठेकेदार को कहा कि, "तुम अपना अनुमान लगाओ।"

थोड़ी देर उसने भी गेट को देखा और बोला, "33000 रूपए दूत ने कहा ये किस तरह हुआ।"

चीन का ठेकेदार बोला, "11000 का मैटीरीअल, 11000 मजदूरों के और 11000 का मुनाफा।"

जब दूत ने भारत के ठेकेदार को पूछा तो उसने बिना किसी निरीक्षण के झट से कह दिया 29000 रूपए।

दूत ने पूछा, "किस हिसाब से आपने ये अनुमान लगाया।"

ठेकेदार बोला, "10000 आपके 10000 मेरे और....

9000 रूपए पाकिस्तानी ठेकेदार को दे देते है वह 9000 में बहुत अच्छा काम कर लेगा।"
----------
यमराज से मस्ती!
यमलोक के दरवाजे पर दस्तक हुई तो यमराज ने जाकर दरवाजा खोला।

उन्होंने बाहर झांका तो एक मानव को सामने खड़ा पाया। यमराज ने कुछ बोलने के लिए मुंह खोला ही था कि वह एकाएक गायब हो गया।

यमराज चौंके और फिर दरवाज़ा बंद कर लिया। यमराज अभी वापस मुड़े ही थे कि फिर दस्तक हुई। उन्होंने फिर दरवाजा खोला। उसी मानव को फिर सामने मौजूद पाया, लेकिन वह आया और फिर गायब हो गया।

ऐसा तीन-चार बार हुआ तो यमराज अपना धैर्य खो बैठे और अबकी बार उसे पकड़ ही लिया और पूछा, "क्या बात है भाई, क्या ये आना-जाना लगा रखा है। मुझसे पंगा ले रहे हो?"

मानव ने बड़ी सहजता पूर्वक जवाब दिया, "अरे नहीं महाराज, दरअसल मैं तो वैंटीलेटर पर हूं और यह डॉक्टर लोग ही हैं जो आपसे मस्ती कर रहे हैं।"
----------
फ़ोन प्रेम!
कुछ लोग जब रात को अचानक फोन का बैलेंस ख़त्म हो जाता है इतना परेशान हो जाते हैं कि जैसे सुबह तक वो इंसान जिंदा ही नहीं रहेगा जिससे बात करनी थी।

कुछ लोग जब फ़ोन की बैटरी 1-2% हो तो चार्जर की तरफ ऐसे भागते है जैसे अपने फ़ोन कह रहे हों "तुझे कुछ नहीं होगा भाई, आँखे बंद मत करना मैं हूँ न सब ठीक हो जायेगा।"

कुछ लोग अपने फोन में ऐसे पैटर्न लॉक लगाते हैं जैसे आई एस आई की सारी गुप्त फाइलें उनके फ़ोन में ही पड़ी हों।

कुछ लोग जब आपसे बात कर रहे होते हैं तो बार बार अपने फ़ोन को जेब से निकालते हैं, लॉक खोलते हैं और वापस लॉक कर देते हैं। वास्तव में वे कुछ देखते नहीं हैं, बस ये जताते हैं कि वो जाना चाहते हैं।

और अगर कभी गलती से फ़ोन किसी दूसरे दोस्त के यहाँ छूट जाए तो ऐसा महसूस होता हैं जैसे अपनी भोली-भाली गर्लफ्रेंड को शक्ति कपूर के पास छोड़ आये हों।
----------
नाम में क्या रखा है!
एक पाकिस्तानी लड़के ने अमेरिकन स्कूल में एडमिशन लिया।

टीचर: तुम्हारा नाम क्या है?

लड़का: अहमद।

टीचर: अब तुम अमेरिका में हो, इसलिए आज से तुम्हारा नाम जॉन है।

लड़का घर पहुंचा।

मां: पहला दिन कैसा रहा अहमद?

लड़का: मैं अब अमेरिकन हूं और आगे से मुझे जॉन कहकर पुकारना।

मां और पापा ने यह सुनते ही उसकी जमकर धुनाई कर दी।

शरीर पर चोट के निशान लिए अगले दिन वह स्कूल पहुंचा।

टीचर: क्या हुआ जॉन?

लड़का: मेरे अमेरिकन बनने के 4 घंटे बाद ही मुझ पर 2 पाकिस्तानियों ने हमला कर दिया।
----------


भारत और महाभारत!
दुर्योधन और राहुल गांधी - दोनों ही अयोग्य होने पर भी सिर्फ राजपरिवार में पैदा होने के कारन शासन पर अपना अधिकार समझते हैं।

भीष्म और आडवाणी - कभी भी सत्तारूढ़ नही हो सके फिर भी सबसे ज्यादा सम्मान मिला। उसके बाद भी जीवन के अंतिम पड़ाव पे सबसे ज्यादा असहाय दिखते हैं।

अर्जुन और नरेंद्र मोदी - दोनों योग्यता से धर्मं के मार्ग पर चलते हुए शीर्ष पर पहुचे जहाँ उनको एहसास हुआ की धर्म का पालन कर पाना कितना कठिन होता है।

कर्ण और मनमोहन सिंह - बुद्धिमान और योग्य होते हुए भी अधर्म का पक्ष लेने के कारण जीवन में वांछित सफलता न पा सके।

जयद्रथ और केजरीवाल - दोनों अति महत्वाकांक्षी एक ने अर्जुन का विरोध किया दूसरे ने मोदी का। हालांकि इनको राज्य तो प्राप्त हुआ लेकिन घटिया राजनीतिक सोच के कारण बाद में इनकी बुराई ही हुयी।

शकुनि और दिग्विजय - दोनों ही अपने स्वार्थ के लिए अयोग्य मालिको की जीवनभर चाटुकारिता करते रहे।

धृतराष्ट्र और सोनिया - अपने पुत्र प्रेम में अंधे है।

श्रीकृष्ण और कलाम - भारत में दोनों को बहुत सम्मान दिया जाता है परन्तु न उनकी शिक्षाओं को कोई मानता है और न उनके बताये रास्ते का अनुसरण करता है।
----------
मच्छर मारने का सबसे आसान तरीका!
चीनी और लाल मिर्च का मिश्रण बना कर मच्छर को दें।

मिश्रण खाते ही वो पानी की तलाश में निकलेगा।

जैसे ही वो पानी के टैंक के पास जाए उसे धक्का दे दो।

वो भीग जाएगा और खुद को सुखाने के लिए आग के पास जाएगा।

उसी वक्त आप आग में बम फ़ेंक दें।

वो बुरी तरह ज़ख़्मी हो के अस्पताल में दाखिल हो जाएगा।

आप वहां जाकर उसका आक्सीजन मास्क उतार दें।

मच्छर मर जाएगा...
धन्यवाद की ज़रूरत नहीं है, मुझे आप की सहायता करके ख़ुशी हुई।
----------
मालिक कौन है?
एक बार एक किसान अपनी भूमि बेचने कि तैयारी कर रहा होता है, परन्तु उससे पहले उसे अपनी ज़मीन पर रहने वाले पशुओं को बहार निकालने कि ज़रूरत पड़ती है, जिसके लिए वह गाँव के हर एक घर में जाता है, और जिन घरों में आदमी का मालिक है, वह वहां एक घोड़ा दे देता है, और जिन घरों में महिलाएं मालिक हैं वहां पर मुर्गी दे देता है!

जब वह सड़क के अंत में पहुँचता है तो देखता है कि एक घर के बहार एक दम्पति बागवानी कर रहे होता हैं!

यह देख वह उनसे पूछता है कि, "आप दोनों में से घर का मालिक कौन है!"

यह सुनते ही आदमी जवाब देता है, " मैं हूँ!"

जवाब पाकर किसान कहता है, " मेरे पास दो घोड़े हैं एक काले रंग का और एक भूरे रंग का आप कौनसा घोडा लेना पसंद करेंगे!"

आदमी थोड़ी देर सोचता है और जवाब देता है, " काले रंग वाला!"

तभी उस आदमी कि पत्नी बोलती है, "नहीं नहीं भूरे रंग का घोडा लो!"

यह सुन वह किसान उस जोड़े से कहता है, " यह लीजिये आपकी मुर्गी!"
----------
आरक्षण और ऑफर!
अगर आरक्षण का यही हाल रहा तो हो सकता है कि एक दिन ऐसा आएगा जब मोबाइल कंपनियां ऐसे ऑफर देंगी।
Genral - ₹249 में 1 GB (2G)
OBC - ₹149 में 1.5 GB (3G)
S.C - ₹99 में 4 GB (3G)
S.T - ₹50 में 3G अनलिमिटेड

भला हो रेलवे रिजर्वेशन पर इन आरक्षण मांगने वालो की नज़र नहीं पड़ी नहीं तो सीट भी इस प्रकार होती
S.C - अपर बर्थ
S.T - मिडिल बर्थ
O.B.C.- लोअर बर्थ
Genral - अपनी दरी साथ लेकर जाएँ।

कुछ दिनों में विवाह हेतु भी स्कीम चलेगी
S.C - 3 पत्नी
S.T -2 पत्नी
OBC - 1 पत्नी
Genral - एक भी नहीं क्योंकि नौकरी नहीं तो छोकरी नही


----------

कलयुग की महाभारत!
कौरव और पांडव बीच बड़ा ही घमासान युद्ध चल रहा था कि तभी दुर्योधन की नज़र पांडवों के पीछे खड़े आदमी पर पड़ी।

दुर्योधन: चल यार युधिष्टिर बाय यार हमने नहीं लड़ना तुम्हारे साथ।

युधिष्ठिर: क्या हुआ?

दुर्योधन: नहीं यार बस बाय, ले यार तू अपना हस्तिनापुर भी वापस ले ले, और द्रौपदी भाभी से हम खुद जाकर सॉरी कह देंगे, हमने नहीं लड़ना तुम्हारे साथ, तू खुश रह।

युधिष्ठिर: अबे रुक तो सही?

दुर्योधन: नहीं यार भाई बस माफ़ कर तू हमें और जाने दे।

युधिष्ठिर: यार दुर्योधन भाई नहीं है तू मेरा बता तो सही हुआ क्या?

दुर्योधन: कुछ नहीं यार भाई बात ही खत्म, ना कोई चिंता ना कोई फ़िक्र मज़े ही मज़े।

युधिष्ठिर: नहीं पहले बता प्लीज़, तुझे मेरी कसम क्या हुआ बता ना?

दुर्योधन: बस रहने दे यार, साला ज़रा सी बात थी और तूने रजनीकांत को बुला लिया।
----------
व्हाट्सएप्प के नए नियम!
सरकार द्वारा नया नियम लागू करने से पहले एडमिन ने किये अपने नए नियम लागू।

सभी ग्रुप मेंबर्स को सूचित किया जा रहा है कि 1 अक्टूबर 2015 से अपने इस ग्रुप के नियमों मे कुछ बदलाव किया जा रहा है। ग्रुप के नए नियम:

1. मैसेज दोबारा करने पर 50 ₹ जुर्माना

2. तीन-चार दिनो तक कोई मैसेज नही भेजने पर 150 ₹ दंड

3. बिना इजाजत के ग्रुप छोडने पर 100 ₹ दंड

4. इज़ाज़त ले कर ग्रुप छोडने पर कोई चार्ज नही होगा पर इज़ाज़त देने के एडमिन 200 ₹ घूस लेंगे

5. बीस से ज्यादा मैसेज भेजने पर 15 ₹ प्रति मैसेज देना होगा

6. ज्यादा चैटिंग करने वालो को एडमिन का 100 ₹ का रिचार्ज करवाना पडेगा

7. एक साथ वीडियो की बाढ लाने वाले को हर ग्रुप मेंबर का 50 ₹ का नेट पैक रिचार्ज करवाना पडेगा

8. एडमिन पर किसी प्रकार का कोई नियम लागू नही होगा

9. हफ्ते के सबसे बढ़िया मैसेज को एडमिन की तरफ से 1kg मूंगफली के छिलके मिलेंगे

10. और इस मैसेज को दूसरे ग्रुप में भेजने पर उचित इनाम भी दिया जायेगा

धन्यवाद!
----------
सयाना आदिवासी!
एक बार एक आदिवासी बाप-बेटा शिकार पे गए।

एक पतली सी औरत को देख कर बेटे ने पूछा, "पापा इसे खा ले?"

पिता: नहीं इस से हम दोनों का पेट नहीं भरेगा।

आगे गए तो एक मोटी औरत नज़र आई।

बेटा: पापा इसे खा ले?"

पिता: नहीं, इस में मोटापा बहुत है, कोलेस्ट्रॉल बढ़ जायेगा।

भूख से निढाल बच्चे को एक बहुत सुन्दर लड़की नज़र आई।

बेटा: पापा, ये बिलकुल ठीक है इसे खा लेते है।

पिता: "नहीं बेटा, इसे घर ले जाते है और तेरी मम्मी को खा लेते है"
----------
कुछ यूँ ही!
मैं शांति से बैठा अपना इंटरनेट चला रहा था। तभी कुछ मच्छरों ने आकर मेरा खून चूसना शुरू कर दिया। स्वाभाविक प्रतिक्रिया में मेरा हाथ उठा और चटाक हो गया और दो-एक मच्छर ढेर हो गए। फिर क्या था उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया कि मैं असहिष्णु हो गया हूँ।

मैंने पूछा, "इसमें असहिष्णुता की क्या बात है?"

वो कहने लगे, "खून चूसना उनकी आज़ादी है।"

बस "आज़ादी" शब्द सुनते ही कई बुद्धिजीवी उनके पक्ष में उतर आये और बहस करने लगे। इसके बाद नारेबाजी शुरू हो गयी।

"कितने मच्छर मारोगे हर घर से मच्छर निकलेगा"

बुद्धिजीवियों ने अख़बार में तपते तर्कों के साथ बड़े-बड़े लेख लिखना शुरू कर दिया।

उनका कहना था कि मच्छर देह पर मौज़ूद तो थे लेकिन खून चूस रहे थे ये कहाँ सिद्ध हुआ है और अगर चूस भी रहे थे तो भी ये गलत तो हो सकता है लेकिन 'देहद्रोह' की श्रेणी में नहीं आता। क्योंकि ये "मच्छर" बहुत ही प्रगतिशील रहे हैं। किसी की भी देह पर बैठ जाना इनका 'सरोकार' रहा है।

मैंने कहा, "मैं अपना खून नहीं चूसने दूंगा बस।"

तो कहने लगे, "ये "एक्सट्रीम देहप्रेम" है। तुम कट्टरपंथी हो, डिबेट से भाग रहे हो।"

मैंने कहा, "तुम्हारा उदारवाद तुम्हें, मेरा खून चूसने की इज़ाज़त नहीं दे सकता।"

इस पर उनका तर्क़ था कि भले ही यह गलत हो लेकिन फिर भी थोड़ा खून चूसने से तुम्हारी मौत तो नहीं हो जाती, लेकिन तुमने मासूम मच्छरों की ज़िन्दगी छीन ली। "फेयर ट्रायल" का मौका भी नहीं दिया।

इतने में ही कुछ राजनेता भी आ गए और वो उन मच्छरों को अपने बगीचे की 'बहार' का बेटा बताने लगे।

हालात से हैरान और परेशान होकर मैंने कहा कि लेकिन ऐसे ही मच्छरों को खून चूसने देने से मलेरिया हो जाता है, और तुरंत न सही बाद में बीमार और कमज़ोर होकर मौत हो जाती है।

इस पर वो कहने लगे कि तुम्हारे पास तर्क़ नहीं हैं इसलिए तुम भविष्य की कल्पनाओं के आधार पर अपने 'फासीवादी' फैसले को ठीक ठहरा रहे हो।

मैंने कहा, "ये साइंटिफिक तथ्य है कि मच्छरों के काटने से मलेरिया होता है। मुझे इससे पहले अतीत में भी ये झेलना पड़ा है। साइंटिफिक शब्द उन्हें समझ नहीं आया।"

तथ्य के जवाब में वो कहने लगे कि मैं इतिहास को मच्छर समाज के प्रति अपनी घृणा का बहाना बना रहा हूँ। जबकि मुझे वर्तमान में जीना चाहिए।

इतने हंगामें के बाद उन्होंने मेरे ही सिर माहौल बिगाड़ने का आरोप भी मढ़ दिया।

मेरे ख़िलाफ़ मेरे कान में घुसकर सारे मच्छर भिन्नाने लगे कि "लेके रहेंगे आज़ादी"।

मैं बहस और विवाद में पड़कर परेशान हो गया था। उससे ज़्यादा जितना कि खून चूसे जाने पर हुआ। आख़िरकार मुझे तुलसी बाबा याद आये: "सठ सन विनय कुटिल सन प्रीती"।

और फिर मैंने काला हिट उठाया और मंडली से मार्च तक, बगीचे से नाले तक उनके हर सॉफिस्टिकेटेड और सीक्रेट ठिकाने पर दे मारा।

एक बार तेजी से भिन्न-भिन्न हुई और फिर सब शांत। उसके बाद से न कोई बहस न कोई विवाद, न कोई आज़ादी न कोई बर्बादी, न कोई क्रांति न कोई सरोकार।

अब सब कुछ ठीक है बस यही दुनिया की रीत है।
----------


जन-धन खाता!
एक ग्राहक बैंक में गया।

ग्राहक: जन-धन में खाता खुलवाना है।

बैंक मैनेजर: खुलवा लो।

ग्राहक: क्या ये जीरो बैलेंस में खुलता है।

बैंक मैनेजर (मन ही मन में साला पता है फिर भी पूछ रहा है): हाँ जी फ्री में खुलवा लो।

ग्राहक: इसमें सरकार कितना पैसा डालेगी?

बैंक मैनेजर: जी अभी तो कुछ पता नहीं।

ग्राहक: तो मैं ये खाता क्यों खुलवाऊँ?

बैंक मैनेजर: जी मत खुलवाओ।

कस्टमर: फिर भी सरकार कुछ तो देगी।

बैंक मैनेजर: आपको फ्री में ATM CARD दे देंगे।

कस्टमर: जब उसमे पैसा ही नहीं होगा तो ATM का क्या करूँगा?

बैंक मैनेजर: पैसे डलवाओ भैया तुम्हारा खाता है।

ग्राहक: मेरे पास पैसा होता तो मैं पहले नहीं खुलवा लेता, तुम खाता खोल रहे हो तो तुम डालो न पैसे।

बैंक मैनेजर: अरे भाई सरकार खुलवा रही है।

ग्राहक: तो ये सरकारी बैंक नहीं है?

बैंक मैनेजर: अरे भाई सरकार तुम्हारा बीमा फ्री में कर रही है, पूरे एक लाख का।

ग्राहक: (खुश होते हुए) अच्छा तो ये एक लाख मुझे कब मिलेंगे?

बैंक मैनेजर: (गुस्से में) जब तुम मर जाओगे तब तुम्हारी बीवी को मिलेंगे।

ग्राहक: (अचम्भे से) तो तुम लोग मुझे मारना चाहते हो और मेरी बीवी से तुम्हारा क्या मतलब है?

बैंक मैनेजर: अरे भाई ये हम नहीं सरकार चाहती है।

ग्राहक: (बीच में बात काटते हुए) तुम्हारा मतलब सरकार मुझे मारना चाहती है?

बैंक मैनेजर: अरे यार मुझे नहीं पता, तुमको खाता खुलवाना है या नहीं?

ग्राहक: नहीं पता का क्या मतलब? मुझे पूरी बात बताओ।

बैंक मैनेजर: अरे अभी तो मुझे भी पूरी बात नहीं पता, मोदी ने कहा कि खाता खोलो तो हम खोल रहे हैं।

ग्राहक: अरे नहीं पता तो यहां क्यों बैठे हो, (जन-धन के पोस्टर को देखते हुए) अच्छा ये 5000 का ओवरड्राफ्ट क्या है?

बैंक मैनेजर: मतलब तुम अपने खाता से 5000 निकाल सकते हो।

ग्राहक: (बीच में बात काटते हुए) ये हुई ना बात, ये लो आधार कार्ड, 2 फोटो और निकालो 5000।

बैंक मैनेजर: अरे यार ये तो 6 महीने बाद मिलेंगे।

ग्राहक: मतलब मेरे 5000 का इस्तेमाल 6 महीने तक तुम लोग करोगे।

बैंक मैनेजर: भैया ये रुपये ही 6 महीने बाद आएंगे।

ग्राहक: झूठ मत बोलो, पहले बोला कि कुछ नहीं मिलेगा, फिर कहा ATM मिलेगा, फिर बोला बीमा मिलेगा, फिर बोलते हो 5000 रुपये मिलेंगे, फिर कहते हो कि नहीं मिलेंगे, तुम्हें कुछ पता भी है?

बैंक मैनेजर: अरे मेरे बाप कानून की कसम, भारत माँ की कसम, मैं सच कह रहा हूँ, मोदी जी ने अभी कुछ नहीं बताया है, तुम चले जाओ, खुदा की कसम तुम जाओ। मेरी सैलरी इतनी नहीं है कि एक साथ ब्रेन हैमरेज और हार्ट अटैक दोनों का इलाज़ करवा सकूं।
----------
स्कूली जीवन का सिनेमा!
क्लास - बर्दाश्त।

अटेंडेंस - हेरा फेरी।

क्लास रूम - नो एंट्री।

टीचर - जानी दुश्मन।

एग्जाम - बुरी मौत।

इग्ज़ैमनर - डॉन।

फ्रेंड पेपरों में - हम आपके हैं कौन?

मौखिक परीक्षा - सामना।

एग्जाम टाइम - कयामत।

चीटिंग - लगे रहो मुन्ना भाई।

मार्केटिंग - अँधा कानून।

प्रश्न पेपर - एक पहेली।

उत्तर सीट - कोरा कागज।

रिजल्ट - सदमा।

पास - चमत्कार।

फेल - देवदास।

फ्यूचर - ना तुम जानो ना हम।
----------
जन्मदिन का तोहफा!
एक बार एक आदमी अपनी पत्नी के लिए के लिए पियानो लेकर आया, तो उसके दोस्त ने उस से पूछा, "यार तुम ये पियानो क्यों ले रहे हो?"

आदमी: यार वो मेरी बीवी पियानो बजाना सीखना चाहती थी इसीलिए ये उसके जन्मदिन का तोहफा है।

कुछ दिनों बाद दोनों दोस्त फिर मिले तो दूसरे दोस्त ने पूछा, "और बताओ क्या भाभी ने अब पियानो बजाना सीख लिया है?"

आदमी: नही, हमने उसे वापस कर दिया और मैं उसकी जगह शहनाई लाया हूँ।

दोस्त: शहनाई वो किस लिए?

आदमी: शहनाई बजाते हुए मेरी बीवी कम से कम अपनी बेसुरी आवाज़ में गाना तो नही गा पाएगी।
----------
ज़िन्दगी के पड़ाव!
विभिन्न आयु के छात्रो का सबसे अच्छा सामूहिक उदाहरण:

पहली से तीसरी कक्षा तक: मुझे तो पूरा पर्चा आता था।

चौथी से छटी कक्षा तक: यार 8 नंबर वाला प्रश्न तो बहुत मुश्किल था मैंने सिर्फ उसे ही छोड़ा है।

सातवी से दसवी कक्षा तक: मैंने तो सिर्फ मुख्य ही प्रश्न किये हैं।

ग्यारवी कक्षा में: मुझे लगता है पास होने के लिए चार पाठ पढ़ना बहुत है।

बाहरवीं कक्षा: कल पेपर कौन सा है यार।

और कॉलेज के दिनों में: सालों बता तो देते आज पेपर है, मैं तो पेन भी नहीं लाया।
----------


फेसबुक पर सांप!
2 सांप फेसबुक पर चैटिंग कर रहे थे;

सांप 1: फुस्स;

सांप 2: फुस्स;

सांप 1: फुस्स, फुस्स, फुस्स;

सांप 2: फुस्स, फुस्स, फुस्स;

सांप 1: फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स;

सांप 2: फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स, फुस्स;

सांप 1: भौ, भौ, भौ। . . . . .

सांप 2: साले आ गया ना औकात पर, मुझे पता था तू नकली (Fake) आई डी (ID) बनाकर आया है!

----------
कबीर के आधुनिक दोहे!
यदि कबीर जिन्दा होते तो आजकल के दोहे यह होते:

नयी सदी से मिल रही, दर्द भरी सौगात;
बेटा कहता बाप से, तेरी क्या औकात;

पानी आँखों का मरा, मरी शर्म औ लाज;
कहे बहू अब सास से, घर में मेरा राज;

भाई भी करता नहीं, भाई पर विश्वास;
बहन पराई हो गयी, साली खासमखास;

मंदिर में पूजा करें, घर में करें कलेश;
बापू तो बोझा लगे, पत्थर लगे गणेश;

बचे कहाँ अब शेष हैं, दया, धरम, ईमान;
पत्थर के भगवान हैं, पत्थर दिल इंसान;

पत्थर के भगवान को, लगते छप्पन भोग;
मर जाते फुटपाथ पर, भूखे, प्यासे लोग;

फैला है पाखंड का, अन्धकार सब ओर;
पापी करते जागरण, मचा-मचा कर शोर;

पहन मुखौटा धरम का, करते दिन भर पाप;
भंडारे करते फिरें, घर में भूखा बाप।
----------
भारत का नया राष्ट्रगीत
आओ बच्चों तुम्हे दिखायें,
शैतानी शैतान की।

नेताओं से बहुत दुखी है,
जनता हिन्दुस्तान की।

बड़े-बड़े नेता शामिल हैं,
घोटालों की थाली में।

सूटकेश भर के चलते हैं,
अपने यहाँ दलाली में।

देश-धर्म की नहीं है चिंता,
चिन्ता निज सन्तान की।

नेताओं से बहुत दुखी है,
जनता हिन्दुस्तान की।

चोर-लुटेरे भी अब देखो,
सांसद और विधायक हैं।

सुरा-सुन्दरी के प्रेमी ये,
सचमुच के खलनायक हैं।

भिखमंगों में गिनती कर दी,
भारत देश महान की।

नेताओं से बहुत दुखी है,
जनता हिन्दुस्तान की।

जनता के आवंटित धन को,
आधा मन्त्री खाते हैं।

बाकी में अफसर-ठेकेदार,
मिलकर मौज उड़ाते हैं।

लूट-खसोट मचा रखी है,
सरकारी अनुदान की।

नेताओं से बहुत दुखी है,
जनता हिन्दुस्तान की।

थर्ड क्लास अफसर बन जाता,
फर्स्ट क्लास चपरासी है।

होशियार बच्चों के मन में,
छायी आज उदासी है।

गंवार सारे मंत्री बन गये,
मेधावी आज खलासी है।

आओ बच्चों तुम्हें दिखायें,
शैतानी शैतान की।

नेताओं से बहुत दुखी है,
जनता हिन्दुस्तान की।
----------
प्रधानमंत्री जी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त!
प्रधानमंत्री जी,

सबसे पहले तो मैं यह स्पष्ट कर दूं कि मैं ना आज़म खान की भैंस हूँ और ना लालू यादव की। ना मैं कभी रामपुर गयी ना पटना। मेरा उनकी भैंसों से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है। यह सब मैं इसलिये बता रही हूँ कि कहीं आप मुझे विरोधी पक्ष की भैंस ना समझे लें। मैं तो भारत के करोड़ों इंसानों की तरह आपकी बहुत बड़ी फ़ैन हूँ।जब आपकी सरकार बनी तो जानवरों में सबसे ज़्यादा ख़ुशी हम भैंसों को ही हुई थी। हमें लगा कि 'अच्छे दिन' सबसे पहले हमारे ही आयेंगे लेकिन हुआ एकदम उल्टा। आपके राज में तो हमारी और भी दुर्दशा हो गयी। अब तो जिसे देखो वही गाय की तारीफ़ करने में लगा हुआ है। कोई उसे माता बता रहा है तो कोई बहन। अगर गाय माता है तो हम भी तो आपकी चाची, ताई, मौसी, बुआ कुछ लगती ही होंगी।

हम सब समझती हैं। हम अभागनों का रंग काला है ना, इसीलिये आप इंसान लोग हमेशा हमें ज़लील करते रहते हो और गाय को सिर पे चढ़ाते रहते हो। आप किस-किस तरह से हम भैंसों का अपमान करते हो, उसकी मिसाल देखिये।

आपका काम बिगड़ता है अपनी ग़लती से और टारगेट करते हो हमें कि 'देखो गयी भैंस पानी में'। गाय को क्यों नहीं भेजते पानी में। वो महारानी क्या पानी में गल जायेगी?

आप लोगों में जितने भी लालू लल्लू हैं, उन सबको भी हमेशा हमारे नाम पर ही गाली दी जाती है, 'काला अक्षर भैंस बराबर'। माना कि हम अनपढ़ हैं, लेकिन गाय ने क्या पीएचडी की हुई है?

जब आपमें से कोई किसी की बात नहीं सुनता, तब भी हमेशा यही बोलते हो कि 'भैंस के आगे बीन बजाने से क्या फ़ायदा'। आपसे कोई कह के मर गया था कि हमारे आगे बीन बजाओ? बजा लो अपनी उसी प्यारी गाय के आगे।

अगर आपकी कोई औरत फैलकर बेडौल हो जाये तो उसकी तुलना भी हमेशा हमसे ही करोगे कि 'भैंस की तरह मोटी हो गयी हो'। पतली औरत गाय और मोटी औरत भैंस। वाह जी वाह!

गाली-गलौच करो आप और नाम बदनाम करो हमारा कि 'भैंस पूंछ उठायेगी तो गोबर ही करेगी'। हम गोबर करती हैं तो गाय क्या हलवा करती है?

अपनी चहेती गाय की मिसाल आप सिर्फ़ तब देते हो, जब आपको किसी की तारीफ़ करनी होती है 'वो तो बेचारा गाय की तरह सीधा है, या- अजी, वो तो राम जी की गाय है'। तो गाय तो हो गयी राम जी की और हम हो गए लालू जी के।

वाह रे इंसान! ये हाल तो तब है, जब आप में से ज़्यादातर लोग हम भैंसों का दूध पीकर ही सांड बने घूम रहे हैं। उस दूध का क़र्ज़ चुकाना तो दूर, उल्टे हमें बेइज़्ज़त करते हैं। आपकी चहेती गायों की संख्या तो हमारे मुक़ाबले कुछ भी नहीं हैं। फिर भी, मेजोरिटी में होते हुए भी हमारे साथ ऐसा सलूक हो रहा है।

प्रधानमंत्री जी, आप तो मेजोरिटी के हिमायती हो, फिर हमारे साथ ऐसा अन्याय क्यों होने दे रहे हो?

प्लीज़ कुछ करो।

आपके 'कुछ' करने के इंतज़ार में - आपकी एक तुच्छ प्रशंसक!
----------


जीवन के कुछ अनमोल वचन!
मुसीबत में अगर मदद मांगो तो सोच कर माँगना क्योंकि मुसीबत थोड़ी देर की होती है और एहसान जिंदगी भर का।

मशवरा तो खूब देते हो "खुश रहा करो" कभी कभी वजह भी दे दिया करो।

कल एक इंसान रोटी मांगकर ले गया और करोड़ों की दुआयें दे गया, पता ही नहीं चला कि गरीब वो था या मैं।

गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं।

मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए।

जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है।

बचपन भी कमाल का था खेलते खेलते चाहें छत पर सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी।

खोए हुए हम खुद हैं, और ढूंढते भगवान को हैं।

अहंकार दिखा के किसी रिश्ते को तोड़ने से अच्छा है कि माफ़ी मांगकर वो रिश्ता निभाया जाये।

जिन्दगी तेरी भी अजब परिभाषा है, सँवर गई तो जन्नत, नहीं तो सिर्फ तमाशा है।

खुशीयाँ तकदीर में होनी चाहिये, तस्वीर में तो हर कोई मुस्कुराता है।

ज़िंदगी भी वीडियो गेम सी हो गयी है, एक लैवल क्रॉस करो तो अगला लैवल और मुश्किल आ जाता है।

इतनी चाहत तो लाखो रु. पाने की भी नही होती, जितनी बचपन की तस्वीर देखकर बचपन में जाने की होती है।

हमेशा छोटी छोटी गलतियों से बचने की कोशिश किया करो, क्योंकि इंसान पहाड़ो से नहीं पत्थरों से ठोकर खाता है।
----------
गलतफहमी!
एक औरत हाथ में हथौड़ा लिये अपने बेटे के स्कूल में पहुंची और चपरासी से पूछ्ने लगी, "शुक्ला सर की क्लास कौन सी है?"

"क्यों पूछ रही हैं?" हथौड़े को देखकर चपरासी ने डरते हुए पूछा।

"अरे वो मेरे बेटे के क्लास टीचर है।" हथौड़ा हिलाते हुए वो औरत उतावलेपन से बोली।

चपरासी ने दौड़कर शुक्ला सर को खबर दी, कि एक औरत हाथ में हथौड़ा लिये आपको ढूंढ रही है। शुक्ला सर के छक्के छूट गये। वो दौड़कर प्रिसिंपल की शरण में पहुंचे। प्रिंसिपल तत्काल उस औरत के पास पहुंचा और विनय पूर्वक बोला, "कृपया करके आप शांत हो जाईये।"

"मै शांत ही हूं।" वो औरत बोली।

प्रिंसिपल: आप मुझे बताईये कि बात क्या है?

औरत: बात कुछ भी नही हैं। मैं बस शुक्ला सर की क्लास में जाना चाहती हूं।

प्रिंसिपल: लेकिन क्यों?

औरत: क्यों, क्योंकि मुझे वहाँ उस बेंच की कील ठोकनी है, जिस पर मेरा बेटा बैठता है। क़ल वो स्कूल से तीसरी पेंट फ़ाड़ कर आया है।
----------
बादशाह का प्यार!
एक बार एक बादशाह को एक लड़की पसंद आ गयी। उस लड़की का बाप सुनार था, बादशाह ने सुनार को दरबार में आने के लिए बुलावा भेजा।

चार दिन गुजरने के बाद भी सुनार बादशाह के दरबार में नहीं आया तो बादशाह ने सुनार को गिरफ्तार करने के लिए अपने सिपाही भेज दिए।

जब सिपाही सुनार के घर पहुंचे तो घर को ताला लगा हुआ था। बादशाह ने सिपाहियों को हुक्म दिया कि सुनार को ढूँढो।

सिपाहियों ने सुनार को हर जगह ढूँढा, लेकिन वो उनको कहीं नहीं मिला, फिर उन्होंने एक तरकीब निकाली और ऐलान किया कि जो भी सुनार को ढूँढने में मदद करेगा उसे एक किलो सोना दिया जाएगा, फिर भी सुनार नहीं मिला।

फिर ऐलान किया गया कि जो भी सुनार को छुपने में मदद करेगा उसे फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा, फिर भी सुनार नहीं मिला, और सिपाहियों का सुनार को ढूँढने में सारा वक़्त ऐसे ही बर्बाद हुआ जैसे आप का इस को पढने में हुआ.... जिस का कोई मतलब नहीं है।

हँसना मत, गुस्सा भी मत करना मेरे साथ भी ऐसे ही हुआ था। आप भी किसी और के साथ ऐसा करके बदला ले सकते हैं।
----------
नाम में क्या रखा है!
एक पाकिस्तानी लड़के ने अमेरिकन स्कूल में एडमिशन लिया।

टीचर: तुम्हारा नाम क्या है?

लड़का: अहमद।

टीचर: अब तुम अमेरिका में हो, इसलिए आज से तुम्हारा नाम जॉन है।

लड़का घर पहुंचा।

मां: पहला दिन कैसा रहा अहमद?

लड़का: मैं अब अमेरिकन हूं और आगे से मुझे जॉन कहकर पुकारना।

मां और पापा ने यह सुनते ही उसकी जमकर धुनाई कर दी।

शरीर पर चोट के निशान लिए अगले दिन वह स्कूल पहुंचा।

टीचर: क्या हुआ जॉन?

लड़का: मेरे अमेरिकन बनने के 4 घंटे बाद ही मुझ पर 2 पाकिस्तानियों ने हमला कर दिया।
----------


ए.टी.एम मशीन!
एक बूढ़ा आदमी एक दिन जिम में जाता है और वहां लगी मशीनों के साथ एक्सरसाइज़ करने लगता है तभी उसे वहां एक लड़की नजर आती है!

बूढ़ा आदमी ट्रेनर से पूछता है कि अगर मैंने उस लड़की को इम्प्रैस करना है तो मेरे लिए कौन सी कौन सी मशीन सही रहेगी!

ट्रेनर ने बूढ़े को सर से पाँव तक देखा और और कहा मैं यहीं आसपास में कहीं ए.टी.एम मशीन देखता हूँ!
----------
जाट से होशियारी मंहगी!
एक जाट के पड़ोस में बनिया रहता था। बनिया की बीवी गुजर गई। जाट ने सोचा बनिया के पास बहुत पैसे हैं, कुछ आमदनी की जाये।

जाट छाती पीटता हुआ बनिये के घर जा कर रोते हुए कहने लगा, "मेरा तुम्हारी बीवी से बहुत प्यार था। मैं उसके बिना कैसे जीऊंगा, मुझे भी इसके साथ जला आओ।"

बनिया हाथ जोड़ कर बोला, "चौधरी दूर- दूर से रिस्तेदार आने वाले हैं। ऐसे मत कर। बहुत बेइज्जती होगी।"

जाट: ठीक है, एक लाख रुपए दे दे, मैं चुपचाप चला जाऊंगा।

बनिये ने एक लाख रुपए दे दिए और जाट खुशी खुशी अपने घर चला गया।

कुछ दिन बाद जाट की घरवाली मर गई। बनिये ने सोचा अब मौका आया है जाट से ब्याज समेत पैसे वापिस लाऊंगा।

बनिया रोता हुआ जाट के घर जा कर बोला, "मेरा और तुम्हारी घरवाली का बहुत प्यार था। मैं भी इसके साथ मरूंगा, मने भी इसके साथ फूँक आओ।"

यह सुनकर जाट अपने लड़कों से बोला, "छोरो, थारी माँ कहे तो करै थी कि मेरा एक बनिये तै प्यार है। अच्छा तो ये ही है वो बनिया, फूँक आओ इस ने भी अपनी माँ के साथ।"

बनिया: चौधरी माफ कर दे। मैं तो मजाक कर रहा था।

जाट: ठीक है, दो लाख रुपये ले आ, वरना लड़के तनै फूकण नै तैयार खड़े हैं।
----------
सब यही चाहते है!
पुरुषों के सुखी जीवन के लिए पांच सूत्र

1. आपके पास ऐसी स्त्री हो जो घर का काम करे, खाना बनाए और कपड़े धोए!

2. आपके पास ऐसी स्त्री हो जो आपको हंसाये और खुश रखे!

3. आपके पास ऐसी स्त्री हो जिस पर आप विश्वास कर सकें और जो आपसे झूठ न बोले!

4. आपके पास ऐसी स्त्री हो जो आपको प्यार करे और आपके साथ रहकर आनंद का अनुभव करे!

5. आखिरी और सबसे महत्वपूर्ण बात:- उपरोक्त चारों स्त्रियां एक दूसरे से बिल्कुल परीचित न हों!
----------
कुदरत का करिश्मा!
कुदरत ने औरत को हसींन बनाया।

खूबसूरती दी।

चाँद सा चेहरा दिया।

हिरणी सी आँखें दी।

मोरनी जैसी चाल दी।

रेशम से बाल दिए।

कोयल जैसी मीठी आवाज़ दी।

फूल सी मासूमियत दी।

गुलाब से होंठ दिए।

शहद सी मिठास दी।

प्यार भरा दिल दिया।

और फिर....

फिर क्या हुआ जानते हो?

एक ज़ुबान दी।
और सब सत्यानाश हो गया।

हर वक़्त टर्र, टर्र, टर्र।
----------


क्‍लास का फूफा!
कॉलेज में एक लड़की ने दाखिला लिया तो सारे लड़के-लड़कियों ने उसे चिढ़ाने के लिए बुआ कहना शुरू कर दिया।

कुछ दिनों तक तो उस बेचारी ने सहन किया।

अंत में उसने तंग आकर प्रिंसिपल से शिकायत कर दी।

लड़की की बात सुन कर प्रिंसिपल को बड़ा क्रोध आया तो वह क्लास रूम में पहुंचे और बोले, "जो भी इसे बुआ कहता है वह तुरन्त खड़ा हो जाये।

एक-एक करके सारी क्लास खड़ी हो गई।

केवल पप्पू बैठा रहा तो प्रिंसिपल ने बड़ी हैरानी के साथ उस से पूछा, "क्यों पप्पू तुम क्यों बैठे हो?"

क्या तुम इसे बुआ नहीं कहते?

पप्पू ने ठंडी सांस भरकर कहा, "सर! मैं इस क्लास का फूफा हूं।"
----------
एक एडमिन का दर्द
एक तो खुद के मोबाइल पे पैसा खर्च करके इन सब को जोड़ो...

फिर इन माँ के लाडलो के नखरे उठाओ.... कि कभी कोई लेफ्ट तो कभी कोई लेफ्ट होने की धमकी दे रहा है... जैसे कि मेरे लड़के की बारात मे आए हों।

कोई कुछ मैसेज करे तो दूसरा बन्दा पहले उसका उल्टा मतलब निकालता है, फिर एडमिन की छाती पे मूंग दलता है कि उसे समझाओ।

कभी कोई नासपीटा.... चुड़ैल की फोटो डाल कर नीचे लिख देता है, "I Love You Admin" जैसे एडमिन न हो गये सबके फूफा हो गए।

और तो और पेपर वालों की, अख़बार वालों की भी जय हो...रोज के रोज यही छापते रहते हैं....एडमिन को होगी जेल!

सालो... ये भी कोई बात हुई ...जैसे गरीब की लुगाई... सबकी भौजाई!

सालो.... गंदगी कोई करे... समेटने की ठेकेदारी... एडमिन की!
----------
गरीब परिवार पर निबन्ध!
एक गरीब खानदान था।

बाप गरीब, माँ गरीब।

बच्चे थे वो भी गरीब।

खानदान में नौकर थे वो भी गरीब।

उनके पास एक टूटी ही हुई एकॉर्ड कार थी।

ड्राईवर भी उसी टूटी हुई कार में बच्चो को स्कूल छोड़कर आता था।

बच्चो के पास पुराना मोबाइल फोन N95 था।

बच्चे हफ्ते में सिर्फ तीन बार ही मैकडोनाल्ड जाते थे।

घर में सिर्फ 4 AC थे वो भी सेकंड हैंड खरीदे हुए थे।

सारा खानदान बड़ी मुश्किल से ऐश कर रहा था
----------
मंदी की मार!
एक छोटे से शहर मे एक बहुत ही मश्हूर बनवारी लाल सामोसे बेचने वाला था। वो ठेला लगाकर रोज दिन में 500 समोसे खट्टी मीठी चटनी के साथ बेचता था। रोज नया तेल इस्तमाल करता था और कभी अगर समोसे बच जाते तो उनको कुत्तो को खिला देता, बासी समोसे या चटनी का प्रयोग बिलकुल नहीं करता था, उसकी चटनी भी ग्राहकों को बहुत पसंद थी जिससे समोसों का स्वाद और बढ़ जाता था। कुल मिलाकर उसकी क्वालिटी और सर्विस बहुत ही बढ़िया थी।

उसका लड़का अभी अभी शहर से अपनी MBA की पढाई पूरी करके आया था। एक दिन लड़का बोला, "पापा मैंने न्यूज़ में सुना है मंदी आने वाली है, हमे अपने लिए कुछ Cost Cutting करके कुछ पैसे बचने चाहिए, उस पैसे को हम मंदी के समय इस्तेमाल करेंगे।

बनवारी लाल: बेटा में अनपढ़ आदमी हूँ मुझे ये Cost Cutting - Wost Cutting नहीं आता ना मुझसे ये सब होगा, बेटा तुझे पढ़ाया लिखाया है अब ये सब तू ही सम्भाल।

बेटा: ठीक है पिताजी आप रोज रोज ये जो फ्रेश तेल इस्तमाल करते हो इसको हम 80% फ्रेश और 20%पिछले दिन का जला हुआ तेल इस्तेमाल करेंगे।

अगले दिन समोसों का टेस्ट हल्का सा चेंज था पर फिर भी उसके 500 समोसे बिक गए और शाम को बेटा बोलता है देखा पापा हमने आज 20%तेल के पैसे बचा लिए और बोला पापा इसे कहते है Cost Cutting

बनवारी लाल: बेटा मुझ अनपढ़ से ये सब नहीं होता ये तो सब तेरे पढाई लिखाई का कमाल है।

लड़का: पापा वो सब तो ठीक है पर अभी और पैसे बचाने चाहिए। कल से हम खट्टी चटनी नहीं देंगे और जले तैल की मात्र 30% प्रयोग में लेंगे।

अगले दिन उसके 400 समोसे बिक गए और स्वाद बदल जाने के कारन 100 समोसे नहीं बिके जो उसने जानवरो और कुत्तो को खिला दिए।

लड़का: देखा पापा मैंने बोला था ना मंदी आने वाली है आज सिर्फ 400 समोसे ही बिके है।

बनवारी लाल: बेटा अब तुझे पढ़ाने लिखाने का कुछ फायदा मुझे होना ही चाहिए। अब आगे भी मंदी के दौर से तू ही बचा।

लड़का: पापा कल से हम मीठी चटनी भी नहीं देंगे और जले तेल की मात्रा हम 40% इस्तेमाल करेंगे और समोसे भी कल से 400 हीे बनाएंगे।

अगले दिन उसके 400 समोसे बिक गए पर सभी ग्राहकों को समोसे का स्वाद कुछ अजीब सा लगा और चटनी ना मिलने की वजह से स्वाद और बिगड़ा हुआ लगा।

शाम को लड़का अपने पिता से बोला, "देखा पाप आज हमे 40% तेल, चटनी और 100 समोसे के पैसे बचा लिए। पापा इसे कहते है Cost Cutting और कल से जले तेल की मात्रा 50% कर दो और साथ में Tissue पेपर देना भी बंद कर दो।

अगले दिन समोसों का स्वाद कुछ और बदल गया और उसके 300 समोसे ही बिके।

शाम को लड़का अपने पिता से, "पापा बोला था ना आपको की मंदी आने वाली है।"

बनवारी लाल: हाँ बेटा तू सही कहता है मंदी आ गई है। अब तू आगे देख क्या करना है कैसे इस मंदी से लड़े?

लड़का :पापा एक काम करते हैं कल 200 समोसे ही बनाएंगे और जो आज 100 समोसे बचे है कल उन्ही को दोबारा तल कर मिलाकर बेचेंगे।

अगले दिन समोसों का स्वाद और बिगड़ गया, कुछ ग्राहकों ने समोसे खाते वक़्त बनवारी लाल को बोला भी और कुछ चुप चाप खाकर चले गए। आज उसके 100 समोसे ही बिक पाये और 100 बच गए।

शाम को लड़का बनवारी लाल से, "पापा देखा मैंने बोला था आपको और ज्यादा मंदी आएगी अब देखो कितनी मंदी आ गई है।"

बनवारी लाल: हाँ बेटा तू सही बोलता है तू पढ़ा लिखा है समझदार है। अब आगे कैसे करेगा?

लड़का: पापा कल हम आज के बचे हुए 100 समोसे दोबारा तल कर बेचेंगे और नए समोसे नहीं बनाएंगे।

अगले दिन उसके 50 समोसे ही बिके और 50 बच गए। ग्राहकों को समोसे का स्वाद बेहद ही ख़राब लगा और मन ही मन सोचने लगे बनवारी लाल आज-कल कितने बेकार समोसे बनाने लगा है और चटनी भी नहीं देता कल से किसी और दुकान पर जाएंगे।

शाम को लड़का: पापा देखा मंदी आज हमने 50 समोसों के पैसे बचा लिए। अब कल फिर से 50 बचे हुए समोसे दोबारा तल कर गरम करके बचेंगे।

अगले दिन उसकी दुकान पर शाम तक एक भी ग्राहक नहीं आया और बेटा बोला, "देखा पापा मैंने बोला था आपको और मंदी आएगी और देखो आज एक भी ग्राहक नहीं आया और हमने आज भी 50 समोसे के पैसा बचा लिए। इसे कहते है Cost Cutting"

बनवारी लाल: तू सच में MBA करके आया है या अरुण जेटली से मिलकर आया है जो हर चीज़ में Cost Cutting कर दी और मेरी दूकान बंद करवा दी।
----------


सम्पूर्ण इस्तेमाल!
एक बार एक पजामा पहने हुए हिन्दुस्तानी से एक अंग्रेज ने पूछा, "आप का यह देशी पैंट (पजामा) कितने दिन चल जाता है?

हिन्दुस्तानी ने जवाब दिया, "कुछ ख़ास नहीं, मै इसे एक साल पहनता हूँ। उसके बाद श्रीमति जी इसको काट कर राजू के साइज़ का बना देती है। फिर राजू इसे एक साल पहनता है। उसके बाद श्रीमति जी इसको काट छांट कर तकियों के कवर बना लेती है। फिर एक साल बाद उन कवर का झाडू पोछे में इस्तेमाल करते हैं।"

अंग्रेज बोला, "फिर फेंक देते होंगे?"

हिन्दुस्तानी ने फिर कहा, "नहीं-नहीं इसके बाद 6 महीने तक मै इस से अपने जूते साफ़ करता हूँ और अगले 6 महीने तक बाइक का साइलेंसर चमकाता हूँ। बाद में मारदडी की हाथ से बनायीं जाने वाली गेंद में काम लेते हैं और अंत में कोयले की सिगडी (चूल्हा) सुलगाने के काम में लेते हैं और सिगड़ी (चुल्हे) की राख बर्तन मांजने के काम में लेते हैं।"

इतना सुनते ही अंग्रेज रफू चक्कर हो गया।

किसी भी चीज का सम्पूर्ण इस्तेमाल कोई हम हिन्दुस्तानियों से सीखे। हमें हिंदुस्तानी होने पर गर्व है।
----------
आशिकी की हद!
एक लड़की ने एक लड़के को फोन किया।

लड़की: हेल्लो डार्लिंग।

लड़का: ओह्ह जानू कैसी हो?

लड़की: कहाँ हो यार सुबह से?

लड़का: अरे हम तो खोये हुए हैं आपकी आँखों में।

लड़की: अभी क्या कर रहे हो?

लड़का: तुम्हारी तस्वीर देख रहा हूँ कहीं और दिल ही नहीं लग रहा आज कल।

लड़की: पर मैंने तो तुम्हे कोई अपनी तस्वीर दी ही नहीं।

लड़का: अरे मेरे दिल में छपी है बरसों से।

लड़की: पर हम तो परसों ही मिले हैं?

लड़का: तुम्हारे बिना हर एक पल बरसों की तरह है पिंकी।

लड़की: पिंकी? ये पिंकी कौन है मैं तो निशा हूँ।

लड़का: तुमसे बात करके मैं सब भूल जाता हूँ।

लड़की: तुम अजय बोल रहे हो ना?

लड़का: घर वाले समीर बुलाते हैं लेकिन वो गलत हो सकते हैं तुम नहीं।

लड़की: यह 9622XXXXXX है ना?

लड़का: अब तक नहीं था पर अब से यही है।
----------
तीन ठेकेदार!
तीन भवन निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों की मौत के बाद वे तीनों स्वर्ग के दरवाजे पर मिले पहला पाकिस्तान का था दूसरा चीन का और तीसरा भारत का।

जैसे ही वे स्वर्ग के अंदर जाने लगे दूत ने उन्हें रोका और कहा,"अन्दर जाने से पहले आप तीनों को मैं बता दूँ कि अन्दर जाने वाले इस गेट की मरम्मत करनी है तो आप तीनों ही मुझे थोड़ा सा अनुमान लगाकर बताएं कि इस पर कितना खर्चा आ सकता है।"

सबसे पहले पाकिस्तानी ठेकेदार ने गेट को देखा और सोच कर बोला, "मेरे ख्याल से इसमें जितनी मरम्मत होनी है उस हिसाब से तो पूरा खर्चा 9000 रूपए आना चाहिए।"

दूत ने उसे पूछा,"कि ये किस तरह से इतना अनुमान लगाया आपने ठेकेदार ने कहा 3000 रूपए का मैटीरीअल, 3000 रूपए मजदूर के और 3000 का मुनाफा।"

दूत ने चीन के ठेकेदार को कहा कि, "तुम अपना अनुमान लगाओ।"

थोड़ी देर उसने भी गेट को देखा और बोला, "33000 रूपए दूत ने कहा ये किस तरह हुआ।"

चीन का ठेकेदार बोला, "11000 का मैटीरीअल, 11000 मजदूरों के और 11000 का मुनाफा।"

जब दूत ने भारत के ठेकेदार को पूछा तो उसने बिना किसी निरीक्षण के झट से कह दिया 29000 रूपए।

दूत ने पूछा, "किस हिसाब से आपने ये अनुमान लगाया।"

ठेकेदार बोला, "10000 आपके 10000 मेरे और.....

9000 रूपए पाकिस्तानी ठेकेदार को दे देते है वह 9000 में बहुत अच्छा काम कर लेगा।"
----------
सच्चा प्यार!
एक बार तीन दोस्त थे। तीनो को एक ही लड़की पसंद आ गयी तो तीनो ने फैंसला किया कि वे तीनो एक साथ लड़की को प्रोपोज़ करेंगे और लड़की का फैंसला आखिरी फैंसला होगा।

तीनों दोस्त लड़की के पास पहुंचे।

पहला दोस्त: मैं तुम्हारे लिए अपनी जान दे सकता हूँ।

लड़की : वो तो सब कहते हैं।

दूसरा दोस्त: मैं तुम्हारे लिए चाँद तारे तोड़ सकता हूँ।

लड़की: पुराना डायलाग है।

तीसरा दोस्त बड़ी हिम्मत करके लड़की के पास आया और बोला, "मैं तुम्हारी ACTIVA में रोज 3 लीटर पेट्रोल डलवाऊंगा।"

यह सुन कर लड़की की आँखों में आँसू आ गए और बोली, "पागल इतना चाहता है मुझ को।"
----------


वैक्यूम क्लीनर!
एक औरत ने दरवाजा खोला तो दरवाजे पर उसने देखा कि सामने एक आदमी है जो एक वैक्यूम क्लीनर को हाथ में उठाये हुए है!

गुड मॉर्निंग मैडम! मेरा नाम बंता है मैं आपका थोड़ा समय लेना चाहूँगा, मैं आपको एक बिल्कुल नया, उच्च गुणवत्ता और बहुत शक्तियुक्त वैक्यूम क्लीनर दिखाना चाहता हूँ!

औरत ने कहा चले जाओ यहाँ से! मेरे पास इतने पैसे नही है और वह मुड़कर दरवाजा बंद करने लगी!

बंता ने जल्दी से दरवाजे के बीच में अपनी टांग को रखा और दरवाजे को खोलते हुए बोला देखिये मैडम मेरी बात तो सुनिए बस एक बार मैं आपको इसका नमूना न दिखा दूँ और यह कहते हुए उसने पास में पड़ा हुआ घोड़े की लीद से भरा हुआ डिब्बा फर्श पर उड़ेल दिया सारे फर्श पर लीद को उड़ेल कर उस औरत से बोला:

मैडम देखिएगा अगर ये वैक्यूम क्लीनर इसको पूरा साफ़ नही कर पाया तो मैं बचे हुए मल को अपने मुहं से चाटकर साफ़ करूँगा!

औरत थोड़ी देर चुप रही फिर कहा मुझे लगता है आज तुम्हारी भूख अच्छी तरह से शांत हो जाएगी .......क्योंकि आज सुबह से शाम तक बिजली बंद है!
----------
इंजीनियर की समझदारी!
एक औरत अपने बच्चे के लिए रो रही थी।

एक इंजीनियर ने औरत से रोने की वजह पूछी।

औरत ने कहा, "मेरा बच्चा बीमार है और मेरे पास दवा के लिए पैसा नहीं है।"

इंजीनियर ने 1000 का नोट दिया और कहा, "जाओ दवा ले लो और 100 का दूध भी ले लेना और बाकि के पैसे मुझे वापस दे देना।"

औरत थोड़ी देर बाद दवा और दूध ले आई।

बाकी के 650 रुपये इंजीनियर को वापस कर दिए।

इंजीनियर खुश हुआ और सोचने लगा कि नेकी कभी बेकार नहीं जाती।

डॉक्टर को फीस मिल गई।

बच्चे को दवा मिल गई।

और

मेरा नकली नोट भी चल गया।
----------
पति-पत्नी और मुहावरे!
. खुद की जान खतरे में डालना = शादी करना

. आ बैल मुझे मार = पत्नी से पंगा लेना

. दीवार से सर फोड़ना = पत्नी को कुछ समझाना

. चार दिन की चांदनी वही अँधेरी रात = पत्नी का मायके से वापस आना

. आत्म हत्या के लिए प्रेरित करना = शादी की राय देना

. दुश्मनी निभाना = दोस्तों की शादी करवाना

. खुद का स्वार्थ देखना = शादी ना करना

. पाप की सजा मिलना = शादी हो जाना

. लव मैरिज करना = खुद से युद्ध करने को योद्धा ढूंढना

. जिंदगी के मज़े लेना = कुँवारा रहना

. ओखली में सिर देना = शादी के लिए हाँ करना

. दो पाटों में पिसना = दूसरी शादी करना

. खुद को लुटते हुऐ देखना = पत्नी को पर्स से पैसे निकालते हुए देखना

. शादी के फ़ोटो देखना = गलती पर पश्चाताप करना

. शादी के लिए हाँ करना = स्वेच्छा से जेल जाना

. शादी = बिना अपराध की सजा

. साली आधी घर वाली = वो स्कीम जो दूल्हे को बताई जाती है लेकिन दी नहीं जाती

नोट: शादी - शुदा लोग हिम्मत रखे
----------
भारत के 'रायचंद'!
भारत एक अत्यंत राय बांटू प्रवत्ति का देश है। यहाँ प्राय: चार किस्म के 'रायचंद' पाए जाते हैं।

1. लघु ज्ञानचंद - अकर्मण्य एवं निक्कमे लोग देश चलाने पर ज्ञान की गंगा बहाते नजर आते हैं। हालांकि वे स्वयं के काम में निम्न कोटि की उत्पादकता प्रेषित करते हैं। इन्हें बस बहस का मुद्दा दीजिए और कमाल देखिए।

2. मध्यम ज्ञानचंद- वह लोग जो पचास हजार रुपए महीना तक कमाते हैं। प्राय: दाल, टमाटर, प्याज के भाव पर चिंतन के बहाने ज्ञान बांटा करते हैं। ऐसे लोग ज्यादातर मॉल में Window Shopping करते एवं McDonald पर बर्गर खाते पाए जाते हैं। महंगाई को ताख में रख कर Multiplex में 180 के टिकट पर फिल्म देखना पसंद करते हैं। जहाँ कहीं भी सेल लगी हो वहाँ इनका जमघट देखा जा सकता है।

3. उत्तम ज्ञानचंद - ऐसे लोग जो लाखों में खेलते हैं, प्राय: किसानों की मृत्युदर, भ्रष्टाचार, उद्योग जगत और अर्थव्यवस्था पर ज्ञान पेलते पाए जाते हैं। तुलनात्मक विश्लेषण में पारंगत ऐसे लोग पानी सिर्फ Bisleri का पीते हैं, कपड़े ब्रांडेड पहनते हैं और जनसंख्या एवं गंदगी पर सरकार से क्षुब्ध नजर आना इनका विशेष शौक है। गाड़ी का शीशा नीचे करके टिशु पेपर/ सोडा बॉटल फेंकने में विशेष महारत हासिल यह लोग स्वच्छ भारत अभियान को कोसना नहीं भूलते।

4. अत्यंत ज्ञानचंद - वह लोग जो करोड़ों अरबों में खेलते हैं प्राय: सहिष्णुता-असहिष्णुता, सांप्रदायिकता एवं धर्म-निरपेक्षता जैसे भारी भरकम शब्दों पर मीडिया के सामने ज्ञान वितरण का मौका ढूंढते हैं और अवसर प्राप्त होते ही विशेष ज्ञान का उत्सर्जन कर समस्त छोटे ज्ञानचंदों को भौंचक्का कर देते हैं। ऐसे लोगों की एक टाँग हमेशा विदेश में रहती है और स्विस बैंक से विशेष प्रेम। नैतिकता का उपदेश देना इनका फेवरेट पास टाइम है और देश को अपमानित करना इनकी महानता का मापदंड। पेज थ्री की पार्टियां अटेंड करना और ट्वीट करना इनका विशेष शौक है। अनैतिकता का कचरा इनके कारपेट के नीचे हमेशा दबा मिलता है।
----------


रॉंग नंबर
एक बार एक आदमी का तबादला दूसरे शहर में हो गया तो वह अपना कार्यभार संभालने शहर पहुँच गया।

वहां पहुँच कर उसने देखा कि उसे कंपनी ने रहने के लिए एक फ्लैट भी दे दिया है। यह देख उसने तुरंत अपनी पत्नी को इसके बारे में सूचना देने के इरादे से अपने मोबाइल पे मैसेज लिखा, परन्तु गलती से उसे गलत नंबर पर भेज दिया।

जिस औरत को वह मैसेज मिला वह अपने पति का अंतिम संस्कार करके लौट रही थी। मैसेज पढ़ते ही वह औरत बेहोश हो गयी और उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा क्योंकि मैसेज में लिखा था:

प्रिय,
मैं सही-सलामत पहुंच गया हूं और यहां रहने के लिए अच्छी जगह भी मिल गई है। तुम बिलकुल चिंता मत करना बस 2-4 दिन में ही तुमको भी बुला लूंगा।

तुम्हारा पति!
----------
लोकसभा चैनल की टीआरपी में जबरदस्त उछाल, निजी चैनल मालिकों में मचा हड़कंप!
इस बार संसद का सत्र शुरू होते ही नेताओं के धमाकेदार भाषणों के चलते लोकसभा चैनल की टीआरपी में दिनोंदिन वृद्धि देखने को मिल रही है, जिससे एक ओर लोकसभा टीवी के दफ्तर में ख़ुशी का माहौल है तो वहीं दूसरी ओर निजी टीवी चैनल मालिकों के बीच मायूसी की लहर व्याप्त होती जा रही है।

एक निजी चैनल मालिक ने निराशा भरे स्वर में बताया कि नेता अच्छे अभिनेता होते हैं ये बात तो मैं जानता था, मगर इतने अच्छे होते हैं ये पहली बार देखने को मिल रहा है। अगर हमारे सांसद इसी तरह परफॉर्म करते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब मुझे वापस अपना घर-घर जाकर दूध बेचने का धंधा फिर से शुरू करना पड़ेगा।

पता चला है कि लोकसभा टीवी की लोकप्रियता में वृद्धि स्मृति ईरानी के जोरदार भाषण वाले दिन से शुरू हुई और राहुल गाँधी का भाषण होते समय तो इसने टीआरपी के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। इसके बाद जब मोदी जी का नंबर आया और उन्होंने अपना "ये मैंने नहीं कहा ..." वाला भाषण शुरू किया तो दो निजी चैनल मालिक डिप्रेशन में चले गए और उन्हें हस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

बहरहाल, चैनल मालिकों का एक प्रतिनिधि मंडल शीघ्र ही सरकार से मिलकर लोकसभा कार्यवाही के सीधे प्रसारण पर रोक लगाने की मांग करने वाला है।

प्रतिनिधि मंडल के एक सदस्य ने बताया कि वैसे तो हम लोकसभा टीवी को ही बंद करने की मांग कर रहे हैं लेकिन फिलहाल यदि ये संभव नहीं हो पाया तो कम से कम राहुल गाँधी के भाषणों को तो बैन करवा के ही मानेंगे। क्योंकि जब भी उनका भाषण होता है तब हमारे चैनलों से दर्शक ऐसे गायब हो जाते हैं जैसे गधे के सिर से सींग !

सदस्य ने कहा कि सरकार हमारे साथ ठीक नहीं कर रही है। राहुल गाँधी तो खैर विपक्ष के नेता हैं, पर मोदी जी को इतना अच्छा भाषण देने की क्या जरूरत थी ? और स्मृति ईरानी तो खुद टीवी एक्ट्रेस रह चुकी हैं उन्हें तो हमारा ख्याल करना चाहिए था !

उधर सास-बहू के बोरिंग सीरियल देख-देख कर उकताए दर्शकों ने भी कमर कस ली है और वे संसद का सत्र पूरे साल नॉन-स्टॉप चलाये जाने की मांग करने वाले हैं।

"नेता हमारे और किसी काम तो आते नहीं हैं, कम से कम मनोरंजन ही करें", एक दर्शक का कहना था।

Disclaimer: उपरोक्त खबर पूरी तरह से काल्पनिक है और सिर्फ मनोरंजन के उद्देश्य से लिखी गई है।)
----------
लिपस्टिक के दाग!
एक प्रिंसिपल को उसके स्कूल की कुछ लड़कियों ने परेशान कर रखा था!

वे लड़कियां अपने होटों पर लिपस्टिक लगाती थी और बाथरूम में जाकर वहां लगे शीशे पर अपने होटों के निशान छोड़ देती!

उसे ये पता ही नहीं चलता था कि ऎसी हरकत कौन सी लड़कियां करती है एक दिन उसने सभी लड़कियों को इकट्ठे होने को कहा और उन्हें सीधी चेतावनी दे दी की! अगर दोपहर तक वे लड़कियां जो बाथरूम के शीशे पर लिपस्टिक के दाग लगाती हैं प्रिंसिपल के ऑफिस में आकर स्वीकार कर ले की ये हरकत उनकी है तो मैं सभी लड़कियों को स्कूल से निकाल दूंगा! डर के मारे वे लड़कियां इकट्ठी हो कर प्रिंसिपल के ऑफिस में पहुँच गयी, वहां प्रिंसिपल और स्कूल की सफाई करने वाले उनका इन्तजार कर रहे थे!

प्रिंसिपल ने गुस्से होते हुए कहा तुम जानती हो सफाई करने वालों के लिए रोज शीशे को साफ़ करना एक समस्या बन गई थी, तुम को तो पता भी नहीं कि इन लोगों को ये 'वैक्सी लिपस्टिक' मिटाने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती है

आओ, तुम्हें बाथरूम में चलकर दिखाते हैं चलो एक एक कर के पहले वहां अपने होटों के निशान लगाओ सभी लड़कियां चुपचाप गई और वापिस आ गयी!

प्रिंसिपल ने सफाई वाले को इशारा किया कि साफ़ करे, सफाई वाले ने एक ब्रुश उठाया और उसे टॉयलेट में डुबोया और उससे शीशा साफ़ करने लगा!

वह उस स्कूल में लड़कियों की शरारत का आखिरी दिन था उसके बाद शीशे पर कभी भी लिपस्टिक के दाग नहीं दिखे!
----------
जादुई इलाज!
एक प्रेमी जोड़ा, ट्रेन में..

लड़की : जानू, मेरा सर दर्द कर रहा है!

लड़का उसके सर पे किस कर देता है..

थोड़ी देर बाद..

लड़की : शोना, मेरी गर्दन में दर्द हो रहा है!

लड़का उसकी गर्दन पर किस कर देता है..

फिर कुछ देर बाद..

लड़की : बाबू, मेरे हाथ में दर्द हो रहा है!

लड़का उसके हाथ पर किस कर देता है..

एक बूढ़ा जो काफ़ी देर से ये सब देख रहा था, लड़के से बोला, "बेटा, बवासीर का भी इलाज करते हो क्या??"
----------



तीन ठेकेदार!
तीन भवन निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों की मौत के बाद वे तीनों स्वर्ग के दरवाजे पर मिले पहला पाकिस्तान का था दूसरा चीन का और तीसरा भारत का!





जैसे ही वे स्वर्ग के अंदर जाने लगे दूत ने उन्हें रोका और कहा अन्दर जाने से पहले आप तीनों को मैं बता दूँ कि अन्दर जाने वाले इस गेट की मरम्मत करनी है तो आप तीनों ही मुझे थोड़ा सा अनुमान लगाकर बताएं कि इस पर कितना खर्चा आ सकता है! सबसे पहले पाकिस्तानी ठेकेदार ने गेट को देखा और सोच कर बोला मेरे ख्याल से इसमें जितनी मरम्मत होनी है उस हिसाब से तो पूरा खर्चा 9000 रूपए आना चाहिए! दूत ने उसे पूछा कि ये किस तरह से इतना अनुमान लगाया आपने ठेकेदार ने कहा 3000 रूपए का मैटीरीअल, 3000 रूपए मजदूर के और 3000 का मुनाफा

दूत ने चीन के ठेकेदार को कहा कि तुम अपना अनुमान लगाओ! थोड़ी देर उसने भी गेट को देखा और बोला 33000 रूपए दूत ने कहा ये किस तरह हुआ!

चीन का ठेकेदार बोला 11000 का मैटीरीअल, 11000 मजदूरों के और 11000 का मुनाफा! जब दूत ने भारत के ठेकेदार को पूछा तो उसने बिना किसी निरीक्षण के झट से कह दिया 29000 रूपए!

दूत ने पूछा किस हिसाब से आपने ये अनुमान लगाया!

ठेकेदार बोला 10000 आपके 10000 मेरे और.............

9000 रूपए पाकिस्तानी ठेकेदार को दे देते है वह 9000 में बहुत अच्छा काम कर लेगा!
----------
सांभा बागी हो गया!
गब्बर: अरे ओ सांभा?

सांभा: जी सरदार।

गब्बर: कितने आदमी थे रे?

सांभा: 2 सरदार।

सरदार: मुझे गिनती नहीं आती, 2 कितने होते हैं?

सांभा: सरदार, 2 एक के बाद आता है।

गब्बर: और 2 के पहले?

सांभा: 2 के पहले 1 आता है।

गब्बर: तो बीच में कौन आता है?

सांभा: बीच में कोई नहीं आता।

गब्बर: तो फिर दोनों एक साथ क्यों नहीं आते?

सांभा: 2 एक के बाद ही आ सकता है, क्योंकि 2 एक से बाद आता है।

गब्बर: 2 एक से बाद आता है, कितना बड़ा है वो?

सांभा: 2 एक से बाद आता है।

गब्बर: अगर 2 एक से बाद है तो एक-एक से कितना बड़ा है?

सांभा: सरदार, मैंने तुम्हारा नमक खाया है, मुझे गोली मार दो, पर मेरा दिमाग तो मत खाओ!
----------
तेज दिमाग!
एक दिन एक कुत्ता जंगल में रास्ता खो गया तभी उसने देखा एक शेर उसकी तरफ आ रहा है कुत्ते की सांस रुक गयी!

उसने सोचा आज तो काम तमाम है मेरा फिर उसने सामने कुछ सूखी हड्डियाँ पड़ी देखी वो आते हुए शेर की तरफ पीठ कर के बैठ गया और एक सूखी हड्डी को चूसने लगा और जोर जोर से बोलने लगा:

वाह शेर को खाने का मज़ा ही कुछ और है एक और मिल जाए तो पूरी दावत हो जाएगी और उसने जोर से डकार मारा!

इस बार शेर सकते में आ गया उसने सोचा ये कुत्ता तो शेर का शिकार करता है जान बचा कर भागो और शेर वहां से चम्पत हो गया!

पेड़ पर बैठा एक बन्दर ये सब तमाशा देख रहा था उसने सोचा ये मौका अच्छा है शेर को सारी कहानी बता देता हूँ शेर से दोस्ती हो जाएगी और उससे ज़िन्दगी भर के लिए जान का खतरा दूर हो जायेगा!

वो फटाफट शेर के पीछे भागा कुत्ते ने बन्दर को जाते हुए देख लिया और समझ गया कि कोई लोचा है!

उधर बन्दर ने शेर को सब बता दिया कि कैसे कुत्ते ने उसे बेवक़ूफ़ बनाया है शेर जोर से दहाड़ा, चल मेरे साथ अभी उसकी लीला खत्म करता हूँ और बन्दर को अपनी पीठ पर बैठा कर शेर कुत्ते की तरफ लपका!

क्या आप कुत्ते के तेज दिमाग का कारनामा जानना चाहेंगे.......

.

.

.

.

.

.

.

कुत्ते ने शेर को आते देखा तो एक बार फिर उसकी तरफ पीठ करके बैठ गया, और जोर जोर से बोलने लगा, इस बन्दर को भेज के एक घंटा हो गया, साला एक शेर फाँसकर नही ला सकता!
----------
स्वस्थ रहने का उपाय!
दोस्तो आज हम शरीर को स्वस्थ रखने के उपाय बताएँगे।

आज हमारे शरीर में धूल-मिट्टी, धुआँ, दूषित पानी, जहर युक्त फल एवं सब्जी से हमारे अंदर अनेक कीटाणु प्रवेश कर रहे हैं। इस सबसे बचने का एक ही उपाय है और वह है "शराब" जिसके चार पैग लगाते ही सारे कीटाणु मर जाते हैं और शरीर पूरी तरह से तरो-ताजा रहता है।

इस औषधी का उपयोग करने की विधि:

शाम को अपना सारा काम पूर्ण करने के बाद, दो गिलास लें व एक अच्छी कंपनी की शराब की बोतल लें और बर्फ और सोडा पानी और नमकीन काजू बादाम वगैरह और मुझे फोन कर के बुलायें। ताकि आप को एक अच्छा साथ मिल सके और आपका जीवन आनंद पूर्वक बीते।

यह बात अच्छी लगे तो अपने इष्ट मित्रों के साथ शेयर करें और उन्हें भी लाभ उठाने का मौका दें।

धन्यवाद!
----------



भीख मांगने का तरीका!
एक बार एक भिखारी भीख माँगने एक घर के दरवाजे पर पहुंचा, दस्तक दी तो अंदर से एक पैंतालीस साल की महिला आयी।

भिखारी: माताजी भूखे को रोटी दो।

महिला: शर्म नहीं आती, हट्टे-कट्टे होकर भीख मांगते हो, दो हाथ हैं, दो आंख हैं, पैर हैं, फिर भी भीख मांगते हो?

भिखारी: माताजी, आप भी खूबसूरत, गोरी-चिट्टी हैं, गजब का फिगर है और अभी आपकी उम्र ही क्या है? आप मुंबई जाकर हीरोइन क्यों नहीं बन जातीं? घर पर बेकार बैठी हो।

महिला: जरा रुको, मैं अभी तुम्हारे लिए खाना लाती हूं।
----------
शरीफ पत्नी!
एक लड़की से उसकी शादी के बाद, पहली बार उसकी सहेली मिलने आती है।

वो आपस में बातें कर रही होती हैं तो लड़की उसे बताती है।

लड़की: मुझे अपने पति पर शक है कि वो रोज़ बाहर किसी लड़की से मिलते हैं।

सहेली हैरानी से बोली, "ओह्ह अब तुम क्या करोगी?"

लड़की: आज ही उनके पीछे अपने दोनों बॉयफ्रेंड्स को लगाती हूँ।
----------
ये कैसा शेर है!
एक आदमी रात को गली के सामने खड़ा था।

वहां के चौकीदार ने देखा तो कड़क कर पूछा कौन हो तुम यहां क्या कर रहे हो?

आदमी बोला, "मेरा नाम शेर सिंह है"।

चौकीदार: बाप का नाम क्या है?

आदमी: शमशेर सिंह।

चौकीदार: कहां रहते हो?

आदमी: शेरों वाले मोहल्ले में।

चौकीदार: तो इतनी रात में यहाँ खड़े क्या कर रहे हो, जाओ अपने घर जाओ?

आदमी: कैसे जाऊं, आगे कुत्ते भौंक रहे हैं।
----------
सोशल मीडिया की क्रांति!
ट्वीटर, फेसबुक और व्हाट्सएप अपने प्रचंण्ड क्रांतिकारी दौर से गुजर रहा है। हर नौसिखीया क्रांति करना चाहता है। कोई बेडरूम में लेटे-लेटे गौ-हत्या करने वालों को सबक सिखाने की बातें कर रहा है तो किसी के इरादे सोफे पर बैठे बैठे महंगाई, बेरोजगारी या बांग्लादेशियों को उखाड़ फेंकने के हो रहे हैं।

हफ्ते में एक दिन नहाने वाले लोग स्वच्छता अभियान की खिलाफत और समर्थन कर रहे हैं। अपने बिस्तर से उठकर एक गिलास पानी लेने पर नोबेल पुरस्कार की उम्मीद रखने वाले बता रहे हैं कि माँ-बाप की सेवा कैसे करनी चाहिए।

जिन्होंने आज तक बचपन में कंचे तक नहीं जीते वह बता रहे हैं कि भारत रत्न किसे मिलना चाहिये।

जिन्हें गली क्रिकेट में इसी शर्त पर खिलाया जाता था कि बॉल कोई भी मारे पर अगर नाली में गई तो निकालना तुझे ही पड़ेगा वो आज कोहली को समझाते पाए जायेंगे कि उसे कैसे खेलना है।

देश में महिलाओं की कम जनसंख्या को देखते हुए उन्होंने नकली ID बनाकर जनसंख्या को बराबर कर दिया है।

जिन्हें यह तक नहीं पता कि हुमायूं, बाबर का कौन था वह आज बता रहे हैं कि किसने कितनों को काटा था।

कुछ दिन भर शायरियां पेलेंगे जैसे 'गालिब' के असली उस्ताद तो यहीं बैठे हैं।

जो नौजवान एक बाल तोड़ हो जाने पर रो-रो कर पूरे मोहल्ले में हल्ला मचा देते हैं, वे देश के लिए सिर कटा लेने की बात करते दिखेंगे।

किसी भी पार्टी का समर्थक होने में समस्या यह है कि भाजपा समर्थक को अंधभक्त, आप समर्थक उल्लू, तथा कांग्रेस समर्थक बेरोजगार करार दे दिये जाते हैं।

कॉपी पेस्ट करने वालों के तो कहने ही क्या। किसी की भी पोस्ट चेप कर ऐसे व्यवहार करेंगे जैसे साहित्य की गंगा उसके घर से ही बहती है और वो भी 'अवश्य पढ़ें' तथा 'मार्केट में नया है' की सूचना के साथ।

एक कप दूध पी लें तो दस्त लग जाए ऐसे लोग हेल्थ की टिप दिए जा रहे हैं लेकिन समाज के असली जिम्मेदार नागरिक हैं।

टैगिये... इन्हें ऐसा लगता है कि जब तक ये गुड मॉर्निंग वाले पोस्ट पर टैग नहीं करेंगे तब तक लोगों को पता ही नहीं चलेगा कि सुबह हो चुकी है।

जिनकी वजह से शादियों में गुलाब जामुन वाले स्टॉल पर एक आदमी खड़ा रखना जरूरी है वो आम बजट पर टिप्पणी करते हुए पाये जाते हैं।

कॉकरोच देख कर चिल्लाते हुये दस किलोमीटर तक भागने वाले पाकिस्तान को धमका रहे होते हैं कि "अब भी वक्त है सुधर जाओ"।

क्या वक्त आ गया है वाकई। धन्य है व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्वीटर युग के क्रांतिकारी।
----------



पेप्सी का नया विज्ञापन!
सीनियर बनाम जूनियर

सन्नी लियॉन सीनियर अभिनेत्रियों के कमरे से पेप्सी उठा लेती है।

कैटरीना: ओये तू यहाँ सीनियर अभिनेत्रियों के कमरे में क्या कर रही है?

सन्नी: मुझे प्यास लगी थी इसीलिए मैं यहाँ पेप्सी लेने आयी थी।

करीना: क्या तुमने अन्दर आने से पहले हमारी आज्ञा ली?

सन्नी: आज्ञा पेप्सी के लिए?

दीपिका: तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई अपने से सीनियर अभिनेत्रियों से बहस करने की?

सन्नी : दरसल मैंने सोचा की हम एक ही कार्य क्षेत्र में हैं तो हमारे बिच में कोई फर्क नहीं है।

प्रियंका: तो तुम्हे लगता है की तुम्हारे और हमारे बीच में कोई फर्क नहीं है?

सन्नी: फर्क तो है. . . मैं आप लोगों की फिल्म में कभी भी आ सकती हूँ, पर आप लोग मेरी फिल्म में कभी नहीं आ सकते।
----------
अजीबो-गरीब इंटरव्यू!
एक बार एक आदमी की प्रमोशन के लिए उसका डिपार्टमेंटल इंटरव्यू हुआ।

बॉस: चलो मुझे तुम्हारी अंग्रेजी चैक करने दो। मैं जो कहूँगा तुम मुझे उसका "Opposite" बताना।
आदमी: ठीक है सर

बॉस: Good
आदमी: Bad

बॉस: Come
आदमी: Go

बॉस: Ugly
आदमी: Pichhlli

बॉस: Pichhli?
आदमी: UGLY

बॉस: Shut Up !
आदमी: Keep talking

बॉस: Now stop all this
आदमी: Then carry on all that

बॉस: अबे, चुप हो जा... चुप हो जा... चुप हो जा
आदमी: अबे बोलता जा... बोलता जा... बोलता जा

बॉस: अरे, यार ...
आदमी: अरे दुश्मन...

बॉस: Get Out
आदमी: Come In

बॉस: My God
आदमी: Your devil

बॉस: shhhhhhh
आदमी: hurrrrrrrrrrrrrr

बॉस: मेरे बाप चुप हो जा..
आदमी: तेरे बेटे बोलते रहो..

बॉस: You are rejected
आदमी: I am selected

बॉस: प्रभु आपके चरण कहाँ है
आदमी: वत्स मेरा सर यहाँ है

बॉस: बाप रे किस पागल से पाला पड़ा है
आदमी: माँ री किसी बुद्धिमान से पाला नहीं पड़ा

बॉस: साले उठा कर पटक दूँगा
आदमी: जीजा लिटा कर उठा लूँगा

फिर आदमी को बॉस ने एक थप्पड़ मारा,
आदमी ने दो जमा दिए

बॉस ने फिर चार मारे
आदमी ने बॉस को मार मार कर बेहोश कर दिया।

फिर अपने मन मेँ आदमी बोला,
"कल साहब को होश आने पर रिजल्ट पूछता हूँ, वैसे बॉस को जवाब तो मैने संतोषप्रद ही दिए हैं।
----------
बेचारा सांभा अब क्या करे?
गब्बर: अरे ओ सांभा।

सांभा: जी सरदार।

गब्बर: कितने आदमी थे रे?

सांभा: 2 सरदार।

सरदार: मुझे गिनती नहीं आती, 2 कितने होते हैं?

सांभा: सरदार, 2 एक के बाद आता है।

गब्बर: और 2 के पहले?

सांभा: 2 के पहले एक आता है।

गब्बर: तो बीच में कौन आता है?

सांभा: बीच में कोई नहीं आता।

गब्बर: तो फिर दोनों एक साथ क्यों नहीं आते?

सांभा: 2 एक के बाद ही आ सकता है, क्योंकि 2 एक से बाद आता है।

गब्बर: 2 एक से बाद आता है, कितना बड़ा है वो?

सांभा: 2 एक से बाद आता है।

गब्बर: अगर 2 एक से बाद है तो एक-एक से कितना बड़ा है?

सांभा: सरदार, मैंने तुम्हारा नमक खाया है, मुझे गोली मार दो, पर मेरा दिमाग तो मत खाओ।
----------
आखिर पत्नी क्या है?
फौजी: सारे दुश्मन हम से डरते हैं और हम बीवी से।

मोची: मैं जूतों की मरम्मत करता हूँ और बीवी मेरी।

टीचर: मैं कॉलेज में लैक्चर देता हूँ और घर में बीवी से सुनता हूँ।

ऑफिसर: मैं ऑफिस में बॉस हूँ और घर में बीवी का नौकर।

जज: मैं कोर्ट में फैसला सुनाता हूँ और घर में इंसाफ के लिए तरसता हूँ।

दुकानदार: मैं दुनिया को बनाता हूँ फिर घर में पत्नी मुझे बनाती है।

डॉक्टर: मैं दुनिया को ठीक करता हूँ और घर में बीवी मुझे ठीक करती है।

फेसबुकिया: मैं दुनिया को पकाता हूँ और घर में बीवी मुझे पकाती है।

अकाउंटेंट: मैं दुनिया का हिसाब रखता हूँ और बीवी मेरा हिसाब बराबर करती है।

फैसला आपके हाथ में है... कुंवारे रहो खुश रहो।

जो शादी कर चुके हैं वो कुछ नहीं कर सकते।
----------


नशा करना बुरी बात है!
एक चीता सिगरेट का कश लगाने ही वाला था कि अचानक चूहा वहाँ आया और बोला, "भाई छोड़ दो नशा, आओ मेरे साथ, देखो जंगल कितना खूबसूरत है।"

चीता चूहे के साथ चल दिया।

आगे हाथी कोकीन ले रहा था, चूहा फिर बोला, "भाई छोड़ दो नशा, आओ मेरे साथ, देखो जंगल कितना खूबसूरत है।"

हाथी भी साथ चल दिया।

आगे शेर व्हिस्की पीने की तैयारी कर रहा था, चूहे ने उसे भी वही कहा।

शेर ने ग्लास साइड पर रखा और चूहे को 5-6 थप्पड़ मारे।

हाथी बोला: अरे क्यों मार रहे हो इस बेचारे को?

शेर बोला, "ये साला रोज़ अफ़ीम पीके ऐसे ही सबको पूरी रात जंगल घुमाता है।"
----------
कुत्तों को जलेबी!
शहर में एक सेठ जी के घर पर इनकम टैक्स का छापा पड़ गया। सब कुछ देखने के बाद इनकम टैक्स अधिकारी बोला, "सेठ जी सब कुछ ठीक है लेकिन आप ने एक कुत्ता जलेबी खाता बनाया है, जिसमे आपने पांच लाख रूपये से अधिक खर्च किये हैं। इसका ब्यौरा देना होगा।"

सेठ बोला, "भाया मेरे पास तो कोई कागज पत्तर न है।"

तब अधिकारी ने कहा, "ठीक है मामला रफा दफा कर लेते हैं। आप दस हजार रुपये दे दो।"

सेठ ने मुनीम को आवाज दी और बोले, "मुनीम जी इनको रूपए दे दो और खाते में लिख देना कि कुत्तों को दस हजार की जलेबी और खिलाई।"
----------
टूथ ब्रश की रिटायरमेंट!
एक बार एक कॉन्फ्रेंस चल रही थी, जहाँ पर दुनिया भर से अलग अलग देशों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे थे। संचालक ने सभी से एक सवाल पूछा कि टूथ ब्रश कितने समय के बाद रिटायर हो जाता है?

सब ने अलग अलग जवाब दिए। किसी ने कहा, एक हफ्ता, किसी ने एक महीना, किसी ने दो महीने तो किसी ने तीन महीने।

अब बारी आई हिंदुस्तानी प्रतिनिधि की। जब उनसे यह सवाल पूछा तो उन्होंने इसका जवाब कुछ यूँ दिया, "हिंदुस्तान में टूथ ब्रश कभी रिटायर नहीं होता। क्योंकि सब से पहले तो टूथ ब्रश दाँत साफ़ करने के काम आता है, फिर उसका इस्तेमाल बाल में रंग लगाने के लिए होता है, उसके बाद मशीन की सफाई करने के काम आता है और जब उसके बाल पूरी तरह से टूट जायें तो उसका इस्तेमाल पजामे में नाड़ा डालने के लिए किया जाता है। इस तरह टूथ ब्रश कभी भी रिटायर नहीं होता।"
----------
काबिल कुता!
एक दुकान के बाहर लिखा था, "इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बिकाऊ है।"

एक आदमी दुकानदार से जाकर बोला, "मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं।"

दुकानदार ने कहा,"साथ के कमरे में बैठा है, जा कर मिल लो।"

ग्राहक उस कमरे में गया तो उसने देखा, कुर्सी पर एक हट्टा-कट्टा कुत्ता बैठा था तो उसने उस से पूछा, "क्यों भई, तुम यहां क्या कर रहे हो?"

कुता बोला, "कर तो मैं बहुत कुछ सकता हूं, लेकिन आजकल इस दुकान की रखवाली करता हूं। इससे पहले अमेरिका के जासूसी महकमे में काम करता था और कई खूंखार आतंकवादियों को पकड़वाया, फिर मैं इंग्लैंड चला गया जहां पुलिस के लिए मुखबरी करता था। एक साल बाद यहां आ गया।"

कुत्ते की बात सुन उस आदमी ने दुकानदार से पूछा, "इतने गुणवान कुत्ते को आप बेचना क्यों चाहते हैं?"

दुकानदार: जी क्योंकि यह अव्वल नम्बर का झूठा है।
----------


सामान्य ज्ञान की कक्षा!
एक बार एक भारतीय विद्यार्थी ने अमेरिका के एक स्कूल में दाखिला लिया, स्कूल का पहला दिन था, अध्यापिका बच्चों से सवाल कर रही थी।

अध्यापिकाः आईये अमेरिका के इतिहास पर नजर डालकर पढ़ाई शुरु करते हैं। बताओ किसने कहा था 'मुझे आजादी दो या मौत दे दो।'

पूरी क्लास खामोश रही सिर्फ भारतीय ने जवाब दियाः पेट्रिक हैनरी 1775।

अध्यापिकाः बहुत अच्छे, अब बताओ ये वाक्य किसका है, 'धरती से जनता के लिए, जनता द्वारा, जनता की सरकार नहीं समाप्त होनी चाहिए।'

इस बार भी पूरी क्लॉस खामोश रही सिर्फ भारतीय ने जवाब दियाः अब्राहम लिंकन 1863।

अध्यापिकाः पूरी क्लॉस को शर्म आनी चाहिए, एक भारतीय छात्र को अमेरिका का इतिहास ज्यादा मालूम है।

इस पर एक छात्र पीछे से बोलाः 'इस को मारो।'

अध्यापिका(गुस्से में): ये किसने कहा?

भारतीय: जनरल क्लस्टर 1862।

भारतीय के इस एक और जवाब पर एक और बच्चा बोला, 'मैं उल्टी कर दूंगा।'

अध्यापिका(झल्लाते हुए): अब ये किसने कहा?

भारतीय: जार्ज बुश ने जापानी प्रधानमंत्री से 1991 में।

भारतीय के इस एक और जवाब पर पूरी क्लास का दिमाग खराब हो गया, किसी ने चिल्लाते हुए कहा, 'अगर अब तुमने एक शब्द भी बोला तो मैं तुम्हारी जान ले लूंगा।'

यह सुनकर भारतीय पूरे जोश के साथ चिल्लायाः माईकल जैक्सन, अपने खिलाफ गवाही दे रहे बच्चे से, 2004 में।

भारतीय के इस जवाब पर अध्यापिका बेहोश हो गई, सारे बच्चे उसके चारों और इकट्ठा हो गए। किसी एक ने कहा, 'ओह्ह शिट, हम बुरी तरह फंस गए हैं।'

इस पर भारतीय बोलाः जार्ज बुश, इराक युद्ध के दौरान 2007।

भारतीय के इस जवाब से सारे बच्चे बेहोश हो गये।
----------
बीवी का लवर!
एक छात्र "लोजिस्टिक एंड ऑर्गेनाइजेशन" के पेपर में फेल हो गया वह इस बारे में पूछने अपने प्रोफेसर के पास गया और उनसे पूछा!!

छात्र: सर क्या आप इस विषय के बारे में कुछ जानते है?!

प्रोफेसर : हाँ मैं जानता हूँ! अन्यथा मैं लेक्चरर नहीं होता!!

छात्र: बहुत बढ़िया सर, फिर मैं आपसे एक प्रश्न पूछता हूँ, अगर आपने सही जवाब दिया तो फिर मैं मान जाऊंगा की मेरे इतने ही नंबर ठीक है यदि आप जवाब नहीं दे पाए तो मैं चाहता हूँ की आप मुझे इस पेपर के लिए 'ए' ग्रेड दें!!

प्रोफेसर ने कहा ठीक है तुम अपना प्रश्न बताओ!!

छात्र वैध क्या है? पर न्यायसंगत नहीं? न्यायसंगत है? पर वैध नहीं? न न्यायसंगत और न वैध क्या है?!

लम्बे सोच विचार के बाद भी प्रोफेसर जवाब नहीं दे पाया फिर वह उस छात्र के नम्बर 'ए' ग्रेड में बदलने के लिए तैयार हो गया!!

इसके बाद प्रोफेसर ने अपने सबसे अच्छे स्टुडेंट को बुलाया और उससे ये प्रश्न पूछा? !

उसने शीघ्रता से जवाब दिया सर आप 63 साल के हैं और आपने 35 साल की औरत से शादी की है, जो वैध है, पर न्यायसंगत नहीं है, आपकी बीवी का लवर 25 साल का है जो न्यायसंगत है पर वैध नहीं, अब ये सच है की आपने अपनी बीवी के प्रेमी को 'ए' ग्रेड दिया, जबकि वो फेलथा ये न तो न्यायसंगत है और न ही वैध!
----------
मोहब्बत का राज़!
एक लड़की जब रोज़ अपने कॉलेज से वापस आती तो एक लड़के को रोज़ अपने घर के बाहर खडा हुआ देखती।

ऐसा रोज़ होता था, और एक साल बीत गया, वह लड़का रोज़ उसे अपने घर के सामने खडा नज़र आता।

वो कुछ नहीं कहता था और बस कभी आगे पीछे और कभी अपने मोबाइल फ़ोन को देखता रहता।

वक्त के गुजरने की साथ लड़की को विश्वास हो चला था की लड़का उसे चाहता है।

एक दिन लड़की ने हिम्मत कर के उसके पास जाकर पूछ लिया,"तुम रोज़ मेरे घर के बाहर क्यों खड़े रहते हो?"

लड़का घबरा कर, "माफ़ करना बहन, वो क्या है की तुम्हारे वाई-फाई (Wi-Fi) पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ है, तो मैं तो वो इस्तेमाल करने आता हूँ।"
----------
दिखावों पे ना जाओ अपनी अक्ल लगाओ!
एक शरीफ लड़के की सगाई एक बहुत ख़ूबसूरत लड़की से हुई।

पर वो लड़का उस लड़की से कभी नहीं मिला था, ना ही उस से बात की थी।

बस सब लोगो से उसकी खूबसूरती की तारीफ ही सुनी थी।

अपनी सुहाग रात पर लड़का बड़ा ख़ुशी-ख़ुशी अपने कमरे में गया और बड़े स्टाइल से अपनी पत्नी का घूंघट उठा कर उससे बोला।

लड़का: "तुम सच में बहुत ख़ूबसूरत हो, समझ नहीं आता की तुम्हे क्या तोहफा दूँ?"

लड़की शर्माती हुई बोली, "दो आप ता दिल तले, वो देदो।"

कहानी का मूल:दिखावों पे ना जाओ, अपनी अक्ल लगाओ।
----------


गलत नंबर लग गया!
लड़की: कौन हो तुम?

पप्पू: हसरत तेरी।

लड़की: देखते हो क्या?

पप्पू: सूरत तेरी।

लड़की: करते हो क्या?

पप्पू: पूजा तेरी।

लड़की: काफ़िर हो क्या?

पप्पू: सोच है तेरी।

लड़की: चाहते हो क्या?

पप्पू: मोहब्बत तेरी।

लड़की: पछताओगे।

पप्पू: किस्मत मेरी।

लड़की: राखी सावंत हूँ मैं।

पप्पू: ओ तेरी, सॉरी आंटी गलत नंबर लग गया।
----------
पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करे!
समाचार पत्र में विज्ञापन आया, हमारे पास एक ऐसा उत्पाद हैं, जिसको पहनकर आप पूरी दुनिया को देख सकते हैं, मगर आपको कोई नही देख सकता।

दस हज़ार में यह सुविधा आपके घर तक फ्री में पहुंचाई जायेगी।

एक लड़की ने विज्ञापन पढ़ते ही 10,000 रुपये भेज दिए।

कुछ दिनों बाद TCS एक पैकेट लेकर आया, लड़की ने उसे जल्दी से खोला तो अन्दर से एक 'बुर्क़ा' निकला वो भी टोपी वाला।
----------
जन - धन में खाता!
एक दिन सुबह-सुबह बैंक में एक आदमी आया और बैंक मैनेजर से बोला, "जन धन में खाता खुलवाना है।"
बैंक मैनेजर: खुलवा लो।
आदमी: क्या ये जीरो बैलेंस में खुलता है?
बैंक मैनेजर (मन ही मन में, साला पता है फिर भी पूछ रहा है): हाँ जी फ्री में खुलवा लो।
आदमी: इसमें सरकार कितना पैसा डालेगी?
बैंक मैनेजर: जी अभी तो कुछ पता नहीं।
आदमी: तो मैं ये खाता क्यों खुलवाऊँ?
बैंक मैनेजर: जी मत खुलवाओ।
आदमी: फिर भी सरकार कुछ तो देगी?
बैंक मैनेजर: आपको फ्री में एटीएम दे देंगे।
आदमी: जब उसमे पैसा ही नहीं होगा तो एटीएम का क्या करूँगा?
बैंक मैनेजर: पैसे डलवाओ भैया तुम्हारा खाता है।
आदमी: मेरे पास पैसा होता तो मैं पहले नहीं खुलवा लेता, तुम खाता खोल रहे हो तो तुम डालो न पैसे।
बैंक मैनेजर: अरे भाई सरकार खुलवा रही है।
आदमी: तो ये सरकारी बैंक नहीं है?
बैंक मैनेजर: अरे भाई सरकार तुम्हारा बीमा फ्री में कर रही है, पूरे एक लाख का।
आदमी (खुश होते हुए): अच्छा तो ये एक लाख मुझे कब मिलेंगे?
बैंक मैनेजर (गुस्से में): जब तुम मर जाओगे तब तुम्हारी बीवी को मिलेंगे।
आदमी (अचम्भे से): तो तुम लोग मुझे मारना चाहते हो और मेरी बीवी से तुम्हारा क्या मतलब है?
बैंक मैनेजर: अरे भाई ये हम नहीं सरकार चाहती है।
आदमी (बीच में बात काटते हुए): तुम्हारा मतलब सरकार मुझे मारना चाहती है?
बैंक मैनेजर: अरे यार मुझे नहीं पता, तुमको खाता खुलवाना है या नहीं?
आदमी: नहीं पता का क्या मतलब? मुझे पूरी बात बताओ।
बैंक मैनेजर: अरे अभी तो मुझे भी पूरी बात नहीं पता, मोदी जी ने कहा कि खाता खोलो तो हम खोल रहे हैं।
आदमी: अरे नहीं पता तो यहाँ क्यों बैठे हो?
बैंक मैनेजर ने अपना सिर पकड़ लिया और आदमी जन धन के पोस्टर को देखते हुए बोला, "अच्छा ये 5000 रुपये का ओवरड्राफ्ट क्या है?"
बैंक मैनेजर: मतलब तुम अपने खाते से 5000 निकाल सकते हो।
आदमी (बीच में बात काटते हुए): ये हुई ना बात, ये लो आधार कार्ड, 2 फोटो और निकालो 5000 रुपये।
बैंक मैनेजर: अरे यार ये तो 6 महीने बाद मिलेंगे।
आदमी: मतलब मेरे 5000 का इस्तेमाल 6 महीने तक तुम लोग करोगे?
बैंक मैनेजर: भैया ये रुपये ही 6 महीने बाद आएंगे।
आदमी: झूठ मत बोलो, पहले बोला कि कुछ नहीं मिलेगा, फिर कहा एटीएम मिलेगा, फिर बोला बीमा मिलेगा, फिर बोलते हो 5000 रुपये मिलेंगे, फिर कहते हो कि नहीं मिलेंगे, तुम्हे कुछ पता भी है?
बैंक मैनेजर: अरे मेरे बाप कानून की कसम, भारत माँ की कसम, मैं सच कह रहा हूँ, मोदी जी ने अभी कुछ नहीं बताया है, तुम चले जाओ, खुदा की कसम, तुम जाओ, मेरी सैलरी इतनी नहीं है कि एक साथ ब्रेन हैमरेज और हार्ट अटैक दोनों का इलाज करवा सकूँ।
----------
बेचारा पप्पू अब क्या करे!
गर्लफ्रेंड: आई लव यू बेबी।

पप्पू धीरे से बोला, "मैं भी तुमसे प्यार करता हूँ।"

गर्लफ्रेंड: ऐसा क्यों?

पप्पू: बस थोड़ा सा मूड़ ख़राब था।

गर्लफ्रेंड: दोस्तों के साथ तो बड़े खुश रहते हो, मेरे साथ ही ड्रामे।

पप्पू (प्यार से): ऐसा कुछ नहीं जानू, तबियत थोड़ी ठीक है।

गर्लफ्रेंड: हाँ, दोस्त अभी फोन कर देगा तो 2 सेकंड में तबियत ठीक हो जायेगी।

पप्पू: दोस्त कहाँ से आये, मेरा मूड़ थोड़ा परेशान है बस।

गर्लफ्रेंड: मेरे साथ ही ये सब होता है, दोस्तों के साथ मज़े करते हो, या कोई और लड़की पसंद आ गई?

पप्पू और ज्यादा प्यार से, "अरे, कहाँ से कहाँ बात ले जा रही हो?"

गर्लफ्रेंड: आज सब साफ़-साफ़ होगा।

पप्पू: क्या साफ़ करना है जानू, ऐसा क्या हो गया है?

गर्लफ्रेंड (खुद कंफ्यूज): जब तुम खुद साफ़ नहीं, तुम्हें कुछ पता नहीं तो मैं क्या बोलूं।

पप्पू समझदार बनने की नक़ल करते हुए, "तुम्हे क्या हुआ है, किस बात पर परेशान हो, बताओ?"

गर्लफ्रेंड: तुम्हारी संगत खराब है।

पप्पू: मेरे साथ तो तुम हो।

गर्लफ्रेंड: अब बहुत हो गया, अब और नहीं।

पप्पू (चिल्लाते हुए): हुआ क्या है, ये तो बताओ?

गर्लफ्रेंड: हम अब साथ नहीं रह सकते।

पप्पू: ये बात कहाँ से आई?

गर्लफ्रेंड: मैं इसे तोड़ना चाहती हूँ।

पप्पू (चिढ़कर): हमसे, ठीक है।

गर्लफ्रेंड (गुस्सा होते हुए): हाँ, यही चाहते हो तुम तो, फिर तुम जो मर्ज़ी कर सको।

पप्पू: अरे खुद ही बोला अभी, मैंने क्या गलत कहा?

गर्लफ्रेंड: इतनी तकलीफ़ थी तो बोला, क्यों नहीं, मैं खुद बिना बोले चली जाती तुम्हारी जिन्दगी से।

पप्पू अपने बाल पकड़कर, "मुझे मेरी गलती तो बता दो?"

गर्लफ्रेंड: वक़्त आने पर पता चलेगी तुम्हें अपने आप, जब मैं चली जाऊँगी (कभी नहीं जायेगी)।

पप्पू: अच्छा, तो मैं इंतज़ार करता हूँ, सही वक़्त का।

गर्लफ्रेंड: तुम सिरियस कब हो गए?

पप्पू: अब क्या हॉस्पिटल में भर्ती हो जाऊं सिरियस होने के लिए।

गर्लफ्रेंड: भाड़ में जाओ।

पप्पू: दोबारा मुझे फोन मत करना।

3 घंटे बाद

गर्लफ्रेंड: तुम्हें पता है न, मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती जानू, सॉरी आई लव यू मेरे बेबी।

पप्पू (सब भूलकर): अच्छा फिर, मैं भी तुमसे प्यार करता हूँ।

गर्लफ्रेंड: इतनी उदास आवाज में क्यों?

(ऊपर से दोबारा इसे पढ़ो, उसी प्रकार होगा)
----------


पठान को रोकना बहुत मुश्किल है!
पठान अपने स्कूटर पे जा रहा था, रास्ते में एक आदमी ने लिफ्ट मांग ली।

आगे लाल बत्ती थी पठान ने बड़ी तेजी से स्कूटर निकाल दिया पीछे बैठा आदमी डर गया।

आदमी: पठान जी, लाल बत्ती थी।

पठान: हम पठान है लाल बत्ती पे नहीं रुकते।

फिर लाल बत्ती आई फिर निकाल दिया, आदमी और ज्यादा डर गया।

आदमी: पठान जी मरवाओगे क्या लाल बत्ती थी।

पठान: हम पठान हैं पठान लाल बत्ती पे नहीं रुकते।

आगे हरी बत्ती आई तो पठान ने जोर का ब्रैक मारा और वही रुक गया।

आदमी: पठान जी, अब तो चलो हरी बत्ती है।

पठान: अब्बे मरवाएगा क्या, उधर से कोई पठान आ रहा हुआ तो?
----------
भगवान् से पंगा ठीक नहीं!
एक बार एक आदमी समुद्र में नहाते हुए डूबने लगता तो वह भगवान् से प्रार्थना करते हुए कहता है, " हे भगवान्! मैं बच गया तो 100 गरीबों को बिरयानी खिलाऊंगा"।

अभी उसकी बात ख़त्म ही हुई होती है की एक तेज़ लहर उसे किनारे पर फेंक देती है।

जैसे ही वह आदमी किनारे पर पहुंचा, उसने ऊपर देखा और कहा, "कौनसी बिरयानी"?

तभी अचानक एक और लहर आयी और उसे वापस समुद्र में ले गयी।

आदमी: मेरा मतलब था चिकन या मटन।
----------
मन की बात!
मुझे आज-कल ऐसा लगने लगा है जैसे मैं आपकी मन की बातें जानने लगा हूँ।

चलिए इस का सबूत देता हूँ।

1. आप इस समय मेरा यह स्टेटस पढ़ रहे हैं।

2. आप नेकदिल इंसान हैं और आप तौर पर सब को खुश देखना चाहते हैं।

3. होंठों को अलग किये बिना आप 'पापा' नहीं बोल सकते।

4. आपने अभी-अभी 'पापा' कह कर देखा।

6. ऐसा करने पर आपके चेहरे पर मुस्कान आई।

7. अरे आपने नंबर 5 तो पढ़ा ही नहीं।

8. अब आप फिर से नंबर 5 पर गए, पर वो तो है ही नहीं।

9. इस बात पर फिर से हँसी छूटी, यानि कि आप छोटी-छोटी बातों पर हँस सकते हैं। मतलब आप एक नेकदिल इंसान हैं।

10. अब आप सोच रहे हैं कि यह हँसने-हँसाने का सिलसिला जारी रखा जाये और यह किसी और के साथ भी शेयर किया जाये।

तो फिर इतना क्या सोचना कीजिये शेयर और बाँटिये खुशियां।
----------
सच्चा प्यार!
एक लड़का अपनी गर्लफ्रेंड से बहुत प्यार करता था।

एक दिन वह मर गई, तो उस लड़की की एक दोस्त उस लड़के के पास गई और बोली, "क्या मैं उसकी जगह ले सकती हूं?'

लड़का: मुझे कोई ऐतराज नहीं, मगर कब्रिस्तान वालों से जाकर पूछ लो।
----------


दोस्त भी दोस्त ना रहा!
एक अंग्रेज सिपाही, जिसकी बीवी बहुत खूबसूरत थी, को अचानक लड़ाई के मैदान से बुलावा आ गया।

उसकी गैरमौजूदगी में उसकी बीवी कहीं किसी और से आंखे चार न कर बैठे इस डर से उसने अपनी बीवी को एक कमरे में बन्द किया और चाबी अपने एक विश्वासपात्र मित्र को देकर कहा, "मैं लड़ाई में भाग लेने जा रहा हूं। यदि मैं दस दिनों तक नहीं लौटूं तो तुम इस चाबी से ताला खोलकर उसे आजाद कर देना"।

इतना कहकर वह सिपाही चल दिया।

अभी वह थोड़ी ही दूर पहुंचा था कि उसने देखा उसका मित्र घोड़े पर सरपट दौड़ता हुआ उसे आवाज देता हुआ चला आ रहा है यह देख सिफाई ने उस से पूछा, "अरे क्या हुआ सब ठीक तो हैं?"

दोस्त गुस्से से आग बबूला होकर उस पर चिल्लाते हुए बोला,"धोखेबाज! तू मुझे गलत चाबी देकर जा रहा है। इससे तो ताला खुल ही नहीं रहा।
----------
देश अलग, सोच अलग!
नयी शादी के बाद 3 देशों की पत्नियां आपस में मिलती हैं।

अमेरिकन पत्नी:
पहले ही दिन मैंने पति से कहा कि झाडू, पोंछा, खाना पकाना, कपडे-बर्तन धोना, यह सब मैं नहीं करुँगी। दो दिन तक पति नज़र नहीं आया। तीसरे दिन वो काम करने के लिए नौकर ले आया।

चीनी पत्नी:
मैंने भी ऐसा ही कहा और मेरा पति भी दो दिन नज़र नहीं आया और तीसरे दिन यह सब काम करने के लिए मशीन ले आया।

हिंदुस्तानी पत्नी:
मैंने भी ऐसा ही कहा। दो दिन मेरा पति भी दिखाई नहीं दिया। तीसरे दिन बांयी आँख से थोड़ा-थोड़ा दिखाई देना शुरू हुआ।
----------
पागल कौन?
डॉक्टर: तुम पागल कैसे हुए?

पागल: मैंने एक विधवा से शादी की, उसकी जवान बेटी से मेरे बाप ने शादी की तो मेरी वो बेटी मेरी मां बन गई।

उनके घर बेटी हुई तो वह मेरी बहन हुई, मगर मैं उसकी नानी का शौहर था।

इसलिए वह मेरी नवासी भी हुई। इसी तरह मेरा बेटा अपनी दादी का भाई बन गया और मैं अपने बेटा का भांजा।

और मेरा बाप मेरा दामाद बन गया और मेरा बेटा अपने दादा का साला बन गया और...

डॉक्टर: अबे चुपकर मुझे भी पागल करेगा क्या?
----------
इतना ज्यादा बिल!
फ़ोन का बहुत अधिक बिल आने पर एक आदमी ने अपने घर के सभी लोगों को बुलाया और कहने लगा।

आदमी: देखो, मुझे इस बात पर बिल्कुल भी यकीन नही हो रहा है कि फ़ोन का इतना अधिक बिल कैसे आ सकता है? जबकि मैं तो सारे फ़ोन अपने ऑफिस के फ़ोन से करता हूँ।

पत्नी: बिल्कुल, मैं भी! मैं तो कभी भी इस फ़ोन से फ़ोन नही करती क्योंकि मेरे पास तो अपना ऑफिस वाला फ़ोन है।

बेटा: मुझे तो मेरी कंपनी वालों ने बिल्कुल नया फ़ोन दिया है मैं तो उसी से फ़ोन करता हूँ।

नौकरानी: तो इसमें दिक्कत क्या है साहब? सभी अपने काम वाले फ़ोन से ही फ़ोन करते हैं।
----------


मंगेतर!
एक लड़की अपने होने वाले मंगेतर को अपने मम्मी पापा से मिलाने के लिए घर लेकर आयी, डीनर के बाद लड़की की माँ ने अपने पति से कहा कि कुछ लड़के के बारे में पता करो!!

लड़की के बाप ने लड़के को अकेले में बुलाया और उससे बातचीत करने लगे बाप ने पूछा तो तुम्हारा प्लान क्या है? !

उसने कहा में रिसर्च स्कॉलर हूँ!!

रिसर्च स्कॉलर! बाप ने कहा बहुत अच्छे!!

पर तुम मेरी बेटी को एक सुन्दर सा घर कैसे दो पाओगे जिसकी उसे आदत है? !

मैं पढ़ाई करूँगा, लड़के ने कहा, और भगवान हमारी मदद करेंगे!!

और तुम किस तरह उसके लिए सगाई कि अंगूठी खरीदोगे जिसके योग्य वो है!!

मैं और ज्यादा ध्यान से पढ़ाई करूँगा लड़के ने कहा बाकि भगवान हमारी मदद करेंगे!!

और बच्चे! बाप ने कहा, उन्हें कैसे पालोगे?!

चिंता मत कीजिये, सर भगवान कोई न कोई रास्ता निकाल ही लेगा!!

और हर बार जितनी बार बाप ने कुछ भी पूछा, तो लड़के ने हर बार कहा कि कोई न कोई रास्ता भगवान निकाल ही लेगा!!

बाद में लड़की की माँ ने कहा ये सब कैसे होगा जी?!

बाप ने कहा, पता नहीं, उसके पास न कोई नौकरी है न कोई प्लान पर अच्छी खबर ये है कि वो मुझे भगवान समझ रहा है!
----------
माँ बनने वाली है!
एक 65 वर्षीय वृद्धा चैक‍अप कराने अस्पताल गई, जहां एक युवा डाक्टर उसे चैकअप करने के लिए केबिन के अन्दर ले गया, थोड़ी देर में वह वृद्धा लगभग चिल्लाती हुई कैबिन से बाहर भागी, बाहर एक सीनियर डाक्टर ने उसे रोक कर सारी बात जाननी चाही!

सारी बात जान कर वह युवा डाक्टर के कैबिन में आया, और उसे डाटते हुए बोला, तुम्हारा दिमाग तो ठीक है? 65 साल की महिला को तुम कह रहे हो कि वह मां बनने वाली है!

जूनियर डाक्टर बोला: सॉरी सर, पर मैं क्या करता, उसकी हिचकी रोकने का मेरे पास कोई दूसरा तरीका नही था!
----------
छोटी सी प्रेम कहानी!
एक दादा और दादी ने अपने जवानी के दिनों को याद करके का सोचा।

उन्होंने फैसला किया कि हम फिर से दरिया के किनारे मिलेंगे जहाँ हम पहली बार मिले थे।

दादा सुबह जल्दी उठकर तैयार होकर गुलाब लेकर पहुँच गए पर दादी नहीं आयी।

दादा जी गुस्से में घर पहुंचकर बोले,"तुम आयी क्यों नहीं, मैं इंतज़ार करता रहा तुम्हारा?"

दादी ने भी शर्मा के जवाब दिया,"माँ ने जाने ही नहीं दिया।"
----------
किस्मत का धनी!
एक महिला के 3 दामाद थे।

उसके दामाद उसे चाहते भी हैं या नहीं यह जानने के लिए एक दिन वह पहले दामाद को लेकर तालाब के किनारे घूमने गई और उसमें कूद पड़ी।

पहले दामाद ने उसे बचा लिया।

सास ने उसे एक मारुति कार उपहार में दी।

अगले दिन दूसरे दामाद के साथ तालाब किनारे घूमने गई और फिर कूद पड़ी।

दूसरे दामाद ने भी उसे बचा लिया।

सास ने उसे एक मोटर साइकिल दी।

2 दिन के बाद तीसरे दामाद को लेकर गई और तालाब में कूद पड़ी।

तीसरे दामाद ने सोचा - `लगता मुझे, तो साइकिल ही मिलेगी तो खामख्वाह मेहनत करके क्या फायदा, और वह बचाने नहीं गया।

इस तरह से सासू माँ डूब गई।

लेकिन अगले दिन इस दामाद को मर्सिडीज कार मिली।

पूछो कैसे?

?
?
?
?
"अरे भाई, ससुर ने दी।"
----------


गर्लफ्रेंड बनाने के 5 फायदे
1. दोस्तों में आपकी इज़्ज़त बढ़ जाती है।
यह जीवन का एक कड़वा सच है दोस्तो। आज कल उसी लड़के की हर कोई इज़्ज़त करता है जिसकी गर्लफ्रेंड होती है। बिना गर्लफ्रेंड वालों को कोई नहीं पूछता।

2. आप अपने दिल का दर्द उस से बाँट सकते हैं।
अपने दिल का दर्द बाँटने के लिए आपके पास एक सच्चा साथी होता है। (किन्तु सच्चाई तो यह है कि जिसके पास गर्लफ्रेंड होती है उसका ही दिमाग हमेशा खराब रहता है।)

3. आपकी हर बात मानने वाला कोई आपके पास होता है।
गर्लफ्रेंड बनाने से आपके पास ऐसा इंसान आ जाता है जो आपकी हर एक बात मानता है। (किन्तु सबसे बड़ा सच तो यह है कि होता इसके बिल्कुल उल्ट है और हमेशा लड़के ही दबते हैं।)

4. आपके बिगड़ने का खतरा नहीं रहता।
लड़कों के घर वालों को हमेशा यही चिंता रहती है कि उनका लड़का कहीं बिगड़ न जाये। असल में जब एक बार किसी लड़के की गर्लफ्रेंड बन जाये तो बिगड़ने के लिए और कुछ नहीं रहता।

5. फेसबुक पर आपके पोस्ट धनाधन पसंद किये जाते हैं।
जी हाँ, यदि आपके पास गर्लफ्रेंड हो तो आप कुछ भी पोस्ट करें सबसे पहले आपकी गर्लफ्रेंड उसे पसंद करेगी और टिप्पणी करेगी और लड़की को देख कर हर कोई आपकी पोस्ट को पसंद करने आएगा, उस पर टिप्पणी करेगा।
----------
किफायती प्यार!
एक लड़के ने अपने पास की ही सीट पर बैठी एक सुंदर सी लड़कीको देख रहा था।

थोड़ी देर बाद उसने एक पेपर निकाला और लिखा- I LOVE YOU, क्या तुम भी मुझे प्यार करती हो? और लड़की को दे दिया।

लड़की ने पढ़ कर मना कर दिया और पेपर उसे लौटा दिया।

थोड़ी देर मायूस होने के बाद उसने ये पेपर पास में ही बैठी एक दूसरी लड़की को दे दिया और उसने हां कर दी।

इस कहानी का सार- जैसा आप सोच रहे हो वैसा बिल्कुल नहीं।

.

.

.

"धरती को बचाओ, एक ही पेपर को कई बार इस्तेमाल करो।
----------
बेचारा बूढ़ा!
एक बूढ़ा आदमी एक खूबसूरत लड़की से टकरा गया तो वह उससे बोला, सॉरी।

लड़की: अँधा है क्या, दिखता नहीं सामने से कोई आ रहा है?

लड़की जैसे ही थोडा आगे बढ़ी, एक स्मार्ट लड़का उससे टकरा गया।

लड़का: सॉरी।

लड़के को देख लड़की मुस्कुराते हुए बोली, "कोई बात नहीं।"

बूढ़ा आदमी जो की यह सब देख रहा था, लड़की पास आकर बोला, कम्बखत मेरी सॉरी की स्पेलिंग गलत थी क्या जो तू मुझे खाने को पड़ गयी?
----------
बेरोज़गारी का हाल!
नदी में डूबते हुए आदमी ने पुल पर चलते हुए आदमी को आवाज़ लगायी।

आदमी: "बचाओ-बचाओ।"

पुल पर चलते आदमी ने नीचे देखा और उस आदमी को बचाने के लिए पुल से नीचे रस्सी फैंकी और कहा, "रस्सी को पकड़ के ऊपर आ जाओ।"

परन्तु नदी में डूबता हुआ आदमी रस्सी नहीं पकड़ पा रहा था तो वह डर के मारे चिल्ला कर बोला, "मैं मरना नहीं चाहता, ज़िन्दगी बड़ी कीमती है कल ही तो मेरी टार्जन कंपनी में बड़ी अच्छी नौकरी लगी है।"

इतना सुनते ही पुल पर चलते आदमी ने अपनी रस्सी खींच ली और भागते-भागते टार्जन कंपनी के दफ्तर में गया वहां के मैनेजर से बोला," जिस आदमी को आपने कल नौकरी दी थी वो अभी-अभी डूबकर मर गया है, और इस तरह आपकी कंपनी में एक जगह खाली हो गयी है, मैं बेरोजगार हूँ इसीलिए मुझे रख लीजिये।"

मैनेजर: "दोस्त, तुमने देर कर दी, अब से कुछ देर पहले हमने उस आदमी को रखा है, जो उसे धक्का दे कर तुमसे पहले यहाँ आया है"
----------


भगवान् का पता!
एक बार एक फ़क़ीर भीख मांगने के लिए मस्जिद के बाहर बैठा हुआ होता है।

सब नमाज़ी उस से आँख बचा कर चले गए और उसे कुछ नहीं मिला।

वो फिर चर्च गया।

फिर मंदिर और फिर गुरुद्वारे।

लेकिन उसको किसी ने कुछ नहीं दिया।

आखिरी में वह हार कर एक शराब की दुकान के बहार आ कर बैठ गया।

उस शराब की दुकान से जो भी निकलता उसके कटोरे में कुछ न कुछ डाल देता।

कुछ देर बाद उसका कटोरा नोटों से भर गया तो नोटों से भरा कटोरा देख कर फ़क़ीर ने आसमान की तरफ देखा और बोला।

"वाह रे प्रभु" रहते कहाँ हो और पता कहाँ का देते हो...!
----------
केवल पुरुष!
एक छोटे से शहर में एक फैक्ट्री थी जिसमें केवल विवाहित पुरुषों को ही काम दिया जाता था!

एक दिन उसी शहर की एक महिला ने उस फैक्ट्री के मालिक से मिलकर इसका कारण जानने की कोशिश की उसने पूछा आपकी इस फैक्ट्री में केवल विवाहित आदमी ही काम पर रखे जाते है इसका क्या कारण है? क्या महिलाएं इतनी योग्य नही की वे आपकी फैक्ट्री में काम कर सके?

मालिक ने कहा नहीं नहीं ऐसा नहीं है मैडम इसके पीछे केवल एक ही कारण है कि विवाहित आदमी को आज्ञा पालन की आदत होती है और वह हमेशा किसी भी काम के लिए न नही करता है सुबह जल्दी आता है और शाम को देर से जाता है और हमेशा अपना मुहं बंद रखता है जब तक उसे बोलने के लिए न कहा जाये!
----------
सच्चा प्यार!
एक लड़के को एक लड़की से प्यार हो गया लेकिन लड़की ने उसे ठुकरा दिया।

लड़के ने कहा कि तुम 10 दिन के अंदर मुझसे मोहब्बत का इक़रार करोगी। और लड़का दिन-रात बारिश में, धूप में, उसके घर के सामने खड़ा रहा।

9 दिन के बाद लड़की को सच में लड़के की मोहब्बत का एहसास हो गया। उसने सोचा सुबह प्यार का इक़रार करुँगी।

अगले दिन सुबह जब लड़की लड़के से मिलने गयी तो उसे वहाँ लड़का नहीं मिला पर एक कागज़ मिला। जिस पर लिखा था, "सॉरी, तेरे चक्कर में तेरी बहन सेट हो गयी है।"
----------
फर्क नज़रिए का!
जीतो: तुम्हारे बेटे और बेटी की शादी हुई है, तुम्हारी बहु और दामाद कैसे हैं?

पड़ोसन: मेरी बहु तो बहुत बुरी है, रोज़ लेट उठती है और मेरा बेटा उसके लिए चाय बनाता है, घर का कोई काम नहीं करती, और जब देखो मेरे बेटे से बाहर का खाना खाने के लिए कहती रहती है।

पड़ोसन: और तुम्हार दामाद कैसा है?

जीतो: मेरा दामाद तो फ़रिश्ता है, रोज मेरी बेटी को चाय बनाकर पिलाता है और वो आराम से उठती है, उसे घर का कोई काम करने नहीं देता और उसे अक्सर बाहर खाना खिलाने ले जाता है, ऐसा दामाद सबको मिले।
----------



कान काटने से अँधा!
एक डाकू ने एक मकान में डाका डाला, घर के सारे गहने, पैसे एक जगह पर इकठ्ठा करने के बाद उसने मकान मालिक के सामने एक बड़ा सा छूरा निकालते हूए कहा, "चल जल्दी से बोल, बाकि माल कहाँ छुपा रखा है, नहीं तो इस छूरे से तेरे कान काट दूंगा!"

मकान मालिक ने कहा, "साहब मुझ पर रहम करो मैं बहुत गरीब आदमी हूँ, मेरे पास यही सामान है और कुछ नहीं है!"

डाकू ने फिर से कहा, "मैं तीन तक गिनता हूँ, नहीं तो मैं तेरे कान काट दूंगा!"

मकान मालिक बोला, "लो तिजोरी की चाबी ले लो साहब, लेकिन मेरे कान ना काटो, नहीं तो मैं अंधा हो जाऊंगा!"

डाकू आश्चर्यचकित होकर बोला, "कान काटने के बाद तू ज्यादा से ज्यादा बहरा हो सकता है लेकिन अंधा कैसे होगा?"

मकान मालिक बोला, "साहब कान काटने के बाद मैं अपना चश्मा कैसे पहनूंगा!"
----------
आज का नौजवान!
दो व्यक्ति रेलवे की टिकट खिड़की पर लाइन में लगे थे।

उनके पास ही एक नौजवान खड़ा हुआ था। पीछे वाले व्यक्ति ने आगे वाले से कहा," आजकल के नौजवानों को न जाने क्या हो गया है। जरा देखिए इस लड़के को, कितने भद्दे ढंग के कपड़े पहने हैं इसने।

आगे वाले ने जवाब दिया, "माफ कीजिये पर ये लड़का नहीं मेरी बेटी है"।

पहला व्यक्ति: ओह, आई एम सॉरी। अच्छा तो आप इसके पिता हैं?

दूसरा व्यक्ति: जी नहीं, मैं इसकी मां हूं।
----------
फेसबुक की हकीकत:
काली-कलूटी लड़की
फेसबुक पर नाम White Angel,

मोटा गैंडा लड़का
फेसबुक पर नाम Smart Guy,

अँधेरे से भी डरने वाला लड़का
फेसबुक पर नाम The Killer,

मोहल्ले की सबसे देसी लड़की
फेसबुक पर नाम Princess Rocks

45 साल की आंटी
फेसबुक पर नाम The Doll Returns

60 साल का बाबा
फेसबुक पर नाम The King

ऐसे फेसबुक नामों से सावधान क्योंकि हो सकता है कि आप भी इनका शिकार हो जायें।
----------
अजब प्रदेश!
पान की दुकान पर खडे एक 30 वर्षीय युवक से बातचीत के कुछ अंश...

मैने पूछा कुछ कमाते धमाते क्यो नहीं?

वह बोला, "क्यो?"

मै बोला, "शादी कर लो?"

वह बोला, "हो गई।"

मैंने पूछा, "कैसे?"

वह बोला, "मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में।"

मैं बोला, "फिर बाल बच्चों के लिए कमाओ।"

वह बोला, "जननी सुरक्षा से डिलवरी मुफ्त और साथ मे 1400/- रू का चेक।"

मैं बोला, "बच्चों कि पढ़ाई लिखाई के लिए कमा लो।"

वह बोला, "उनके लिए पढ़ाई और भोजन मुफ्त।"

मैं बोला, "यार घर कैसे चलाते हो?" वह बोला, "1रू किलो गेंहू और चावल से।"

मैं झुंझला कर बोला, "यार माँ-बाप को तीर्थ यात्रा पे ले जाने के लिए तो कमा।"

वह बोला, "दो धाम करवा दिए हैं, मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा से।"

मुझे गुस्सा आया और मैं बोला, "माँ-बाप के मरने के बाद जलाने के लिए कमा।"

वह बोला, "1 रू में विद्युत शवदाह गृह है।"

मैंने कहा, "अपने बच्चों की शादी के लिए कमा।"

वह मुस्कुराया और बोला, "फिर वहीं आ गए... वैसे ही होगी जैसे मेरी हुई थी।"

मैं बोला, "यार एक बात बता ये इतने अच्छे कपडे तू कैसे पहनता है?"

वह बोला, "राज की बात है... फिर भी बता देता हूँ, 'सरकारी जमीन पर कब्जा करो आवास योजना मे लोन लो और फिर मकान बेच कर फिर जमीन कब्जा कर पट्टा ले लो'।"

मुझे तो कुछ समझ नहीं आया। अब आप ही बताइये... यह किस प्रदेश का निवासी है? अगर नही पता चले तो एक बार ज़रूर आना
.
.
.
.
.
.
.
.
हमारे मध्य प्रदेश!
----------



हमारे जीवन में 4 नंबर की महत्ता:
. 4 दिनों का प्यार ओ रब्बा बड़ी लंबी जुदाई।

. 4 दिनों की चाँदनी फिर अँधेरी रात।

. 4 किताबें तो पढ़ ली, अब 4 पैसे भी कमा लो।

. आखिर हमारी भी 4 लोगों में इज़्ज़त है।

. ये बात 4 लोग सुनेंगे तो क्या कहेंगे कि 4 दिन की आई बहु ने ये कमाल कर दिया।

. 4 दिन तो घर में टिक के बैठ जाती।

. तुम से क्या 4 कदम भी नहीं चला जाता?

. वो आई और 4 बातें सुना कर चली गयी।

. 4 बोतल वोडका काम मेरा रोज़ का।
----------
पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट!
एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी;

और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा से लेट हो गयी;

जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई -आदतानुसार हम पर चिल्लाई;

तुम क्या समझते हो मुझे नहीं है किसी बात का इल्म;

जरुर देख रहे होगे तुम सक्रेटरी के साथ कोई फिल्म;

मैंने कहा - अरी पगली, घर आते हे ऐसे झिडकियां मत दिया कर;

कभी तो छोड़ दे, मुझ बेचारे पर इस तरह शक मत किया कर;

पत्नी फिर तेज होकर बोली - मुझे बेवकूफ बना रहे हो;

6 बजे दफ्तर बंद होता है और तुम 10 बजे आ रहे हो;

मैंने कहा अब छोड़ यह धुन - मेरी बात ज़रा ध्यान से सुन;

एक आदमी का एक हज़ार का नोट खो गया था;

और वह उसे ढूंढने के जिद्द पर अड़ा था;

पत्नी बोली, तो तुम उसकी मदद कर रहे थे;

मैंने कहा , नहीं रे पगली मै ही तो उस पर खड़ा था;

सुनते ही पत्नी हो गयी लोट-पोट;

और बोली कहाँ है वह हज़ार का नोट;

मैंने कहा बाकी तो खर्च हो गया यह लो सौ रुपये;

वह बोली क्या सब खा गए बाकी के 900 कहाँ गए;

मैंने कहा : असल में जब उस नोट के ऊपर मै खडा था;

तो एक लडकी की निगाह में उसी वक़्त मेरा पैर पडा था;

कही वह कुछ बक ना दे इसलिए वह लडकी मनानी पडी;

उसे उसी के पसंद के पिक्चर हाल में फिल्म दिखानी पडी;

फिर उसे एक बढ़िया से रेस्टोरेन्ट में खाना खिलाना पड़ा;

और फिर उसे अपनी बाइक से घर भी छोड़कर आना पड़ा;

तब कहीं जाकर तुम्हारे लिए सौ रुपये बचा पाया हूँ;

यूँ समझो जानू तुम्हारे लिए पानी पुरी का इंतजाम कर लाया हूँ;

अब तो बीवी रजामंद थी - क्यूंकि पानी पुरी उसे बेहद पसंद थी;

तुरंत मुस्कुराकर बोली : मै भी कितनी पागल हूँ इतनी देर से ऐसे ही बक बक किये जा रही थी;

सच में आप मेरा कितना ख़याल रखते है और मै हूँ कि आप पर शक किये जा रही थी!
----------
गब्बर इज बैक!
एक आदमी की कार पार्किंग से चोरी हो गयी. दो दिन बाद देखा तो कार वापस उसी जगह पार्किंग में ही खड़ी थी। अंदर एक लिफाफा था उसमे एक माफीनामा था जिसमे लिखा था, "माँ की तबियत अचानक बिगड़ जाने से रातों रात बड़े अस्पताल लेकर जाना आवश्यक था लेकिन इतनी रात में और छुट्टियों के सीजन में गाडी