Dosti shayari

दोस्ती इंसान की ज़रुरत है;
दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है;
आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ;
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।
---------- 
दोस्ती इंसान की ज़रुरत है;
दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है;
आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ;
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।
---------- 
खुदा ने दोस्त को दोस्त से मिलाया;
दोस्तों के लिए दोस्ती का रिस्ता बनाया;
पर कहते है दोस्ती रहेगी उसकी कायम;
जिसने दोस्ती को दिल से निभाया!
---------- 
दोस्ती नहीं है किसी दौलत की मोहताज;
कृष्ण के अलावा कौन सी दौलत थी सुदामा के पास!
---------- 
खुदा ने दोस्त को दोस्त से मिलाया;
दोस्तों के लिए दोस्ती का रिश्ता बनाया;
पर कहते हैं दोस्ती रहेगी उसकी कायम;
जिसने दोस्ती को दिल से निभाया!
---------- 
हुनर बताते अगर उसके ऐब को हम भी;
तो दोस्तों में हमें भी शुमार कर लेता!
---------- 
गुनगुनाना तो तकदीर में लिखा कर लाए थे;
खिलखिलाना दोस्तों से तोहफ़े में मिल गया।
---------- 
रिश्तों से बड़ी चाहत क्या होगी;
दोस्ती से बड़ी इबादत क्या होगी;
जिसे दोस्त मिल जाये आप जैसा;
उसे ज़िन्दगी से शिकायत क्या होगी!
---------- 
मेरी आवाज को महफूज कर लो, मेरे दोस्तों;
मेरे बाद बहुत सन्नाटा होगा, तुम्हारी महफ़िल में!
---------- 
जो दिल को अच्छा लगता है उसी को दोस्त कहता हूँ,
मुनाफ़ा देखकर मैं रिश्तों की सियासत नहीं करता।
----------
ना तुम दूर जाना ना हम दूर जायेंगे,
अपने अपने हिस्से की 'दोस्ती' निभाएंगे।
---------- 
हम नहीं इतने गाफिल कि अपने चाहने वालों को भूल जाएं,
मशरुफ जरुर रहते हैं लेकिन सबको याद करके सोते हैं।
---------- 
कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया।
~ Sahir Ludhianvi
---------- 
देखी जो नब्ज मेरी, हँस कर बोला वो हकीम,
जा जमा ले महफिल दोस्तों के साथ, तेरे हर मर्ज की दवा वही है।
---------- 
तू गलती से भी कन्धा न देना मेरे जनाजे को ऐ दोस्त,
कहीं फिर जिन्दा न हो जाऊं तेरा सहारा देखकर।
---------- 
शर्तें लगाई जाती नहीं दोस्ती के साथ;
कीजिये मुझे क़ुबूल मेरी हर कमी के साथ।
~ Wasim Barelvi
---------- 
दावे मोहब्बत के मुझे नहीं आते यारो;
एक जान है जब दिल चाहे माँग लेना।
---------- 
मेरे शब्दों को इतनी शिद्दत से ना पढ़ा करो यारो,
कुछ याद रह गया तो हमें भूल नहीं पाओगे।
---------- 
दोस्त वो जो आपके जज़्बात को समझे,
हमसफ़र वो जो आपके एहसास को समझे,
मिल तो जाते हैं सब अपने कहने वाले;
पर अपना वो जो बिन कहे आपकी हर बात को समझे।
---------- 
ना छुपाना कोई बात दिल में हो अगर;
रखना थोड़ा भरोसा हम पर;
हम निभाएंगे दोस्ती का यह रिश्ता इस कदर;
कि भुलाने पर भी ना भुला पाओगे हमें ज़िंदगी भर।
----------
इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िंदगी के दो जहान हैं;
इश्क़ मेरी रूह तो दोस्ती मेरा ईमान है;
इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी ज़िंदगी;
मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है।
---------- 
होठों पर उल्फत के फ़साने नहीं आते;
जो बीत गए फिर वो दीवाने नहीं आते;
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द;
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।
---------- 
एहसास बहुत होगा जब छोड़ के जायेंगे;
रोयेंगे बहुत मगर आँसू नहीं आयेंगे;
जब साथ ना दे कोई तो आवाज़ हमे देना;
आसमान पर भी होंगे तो लौट आयेंगे।
---------- 
नब्ज़ मेरी देखी और बीमार लिख दिया;
रोग मेरा उसने दोस्तों का प्यार लिख दिया;
कर्ज़दार रहेंगे उम्र भर उस हक़ीम के;
जिसने दवा में दोस्तों का साथ लिख दिया।
---------- 
दाेस्ती, ना कभी इम्तिहान लेती है;
ना कभी इम्तिहान देती है;
दाेस्ती ताे वाे है, जाे बारिश में भीगे चेहरे पर भी;
आँसुओं काे पहचान लेती है।
~ Harivansh Rai Bachhan
---------- 
दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम;
दुनिया के ग़मो को भी जानते हैं हम;
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे;
आज भी हँस कर जीना जानते हैं हम।
---------- 
दोस्ती की कीमत कभी अदा नहीं होती;
अच्छी दोस्ती कभी जुदा नहीं होती;
आप की अदा पर मर मिटे हैं;
वरना यूँ ही हमारी दोस्ती किसी पर फ़िदा नहीं होती।
---------- 
ग़मों मे हँसने वालों को भुलाया नही जाता;
पानी को लहरों से हटाया नही जाता;
बनने वाले बन जाते हैं अपने;
कहकर किसी को अपना बनाया नही जाता।
---------- 
सजा है मौसम तुम्हारी महक से आज फिर ए दोस्त;
लगता है हवायें तुम्हें छू कर आयी हैं।
---------- 
नब्ज़ मेरी देखी और बीमार लिख दिया;
रोग मेरा उसने दोस्तों का प्यार लिख दिया;
कर्ज़दार रहेंगे उम्र भर हम उस हकीम के;
जिसने दोस्तों का साथ लिख दिया।
----------
साथ अगर दोगे मुस्कुराएंगे ज़रूर;
प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे ज़रूर;
राह में कितने कांटे क्यों न हों;
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे ज़रूर।
---------- 
यहाँ कौन रोता है किसी के लिए सब अपनी ही किसी बात पर रोते हैं;
इस दुनिया में मिलता है सच्चा साथी मुश्किल से बाक़ी सब तो मतलब के यार होते हैं।
---------- 
गुनाह करके सजा से डरते हैं;
ज़हर पी कर दवा से डरते हैं;
दुश्मनों के सितम का ख़ौफ़ नहीं हमें;
हम तो दोस्तों के ख़फ़ा होने से डरते हैं।
---------- 
दिल की बात दिल में दबाना ठीक नहीं,
हम तो मान चुके हैं दिल से दोस्त तुम्हें ये राज़ ज्यादा देर तक छुपाना ठीक नहीं।
---------- 
ज़िक्र हुआ जब खुदा की रहमतों का;
हमने खुद को खुशनसीब पाया;
तमन्ना थी एक प्यारे से दोस्त की;
खुदा खुद दोस्त बनकर चला आया।
---------- 
गुनाह करके सज़ा से डरते है;
पी के ज़हर दवा से डरते हैं;
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमको;
हम तो दोस्तों की बेवफाई से डरते है।
---------- 
दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे;
जब कभी हम दोस्त हो जायें तो शर्मिंदा न हों।
~ Bashir Badr
---------- 
तेरी दोस्ती में खुद को महफ़ूज मानते है;
हम दोस्तों में तुम्हें सबसे अज़ीज मानते है;
तेरी दोस्ती के साये में ज़िंदा है;
हम तो तुझे खुदा का दिया हुआ तावीज मानते है।
---------- 
अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​;​
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​;​
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​;​
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।
~ Rahat Indori
---------- 
ज़िंदगी में बार​-​बार सहारा नही मिलता​;
​बार​-​बार कोई प्यार से प्यारा नही मिलता​;​
​है जो पास उसे संभाल के रखना​;​
​खो कर वो फिर कभी दुबारा नही मिलता।
----------
​ज़रा सी बात पर बरसों के याराने गए​​​;​​
​इतना तो हुआ​ पर कुछ लोग पहचाने गए।
---------- 
दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे​;​​
जैसे​-​जैसे दोस्तों को आज़माते जा रह हूं मैं​...
---------- 
​क्या फ़र्क है दोस्ती और मोहब्बत में,
रहते तो दोनों दिल में ही हैं लेकिन फ़र्क तो है;
बरसों बाद मिलने पर दोस्ती सीने से लगा लेती है,
और मोहब्बत नज़र चुरा लेती है।
---------- 
लोगों को कहते सुना अक्सर;
ज़िंदा रहे तो फिर मिलेंगे;
मगर इस दिल ने महसूस किया है;
मिलते रहेंगे तो ज़िंदा रहेंगे।
---------- 
सबसे खफा हो जाना, मगर उससे खफा ना होना;
जिसका जहां में तुम्हारे सिवा कोई और ना हो।
---------- 
​​​​दोस्त बनकर भी नहीं साथ निभानेवाला;
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़मानेवाला।
---------- 
दोस्ती में दोस्त, दोस्त का ख़ुदा होता है;
महसूस तब होता है जब दोस्त, दोस्त से जुदा होता है।
---------- 
फसलों से इंतज़ार बढा करता है;
इंतज़ार से प्यार बढ़ा करता है;
सारी ज़िंदगी ख़ुदा से सजदा करो तब जा के;
तुम्हारे जैसा यार मिला करता है।
---------- 
​दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तेफ़ाक़ है;
यह तो दिलों की मुलाक़ात है;
दोस्ती नहीं देखती यह दिन है कि रात;
इसमें तो सिर्फ वफ़ादारी और जज़्बात है।
---------- 
​सालों बाद ना जाने क्या समय होगा​;​
​हम सब दोस्तों में से ना जाने कौन कहाँ होगा​;​​​​
फिर मिलना हुआ तो मिलेंगे ख्वाबों में​;​​
जैसे सूखे गुलाब मिलते हैं किताबों में​।
----------
तुफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​;
​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।
---------- 
दुनिया की ठोकरों से एक ही सबक सीखा है ए दोस्त;
तमाम मुश्किलों का हाल एक सज़दा-ए-खुद में छुपा है।
---------- 
तन्हा था इस दुनिया की भीड़ में;​
सोचा था कोई नहीं है मेरी तक़दीर में;​
एक दिन फिर तुमने थाम लिया हाथ मेरा;​
​फिर लगा कि बहुत ​ख़ास था इस हाथ की लकीर में।
---------- 
कुछ खूबसूरत से पल किस्सा बन जाते है;​
जाने कब जिंदगी का हिस्सा बन जाता है;​
​कुछ लोग अपने होकर भी अपने नहीं होते;​
और कुछ बेगाने होकर भी जिंदगी का हिस्सा बन जाते है।
---------- 
दोस्तों पर तो शराफत का असर होता नहीं;
इसलिए मैं आज आया हूँ उतर औकात पर।
---------- 
है खबर अच्छी कि आजा मुंह तेरा मीठा करें;
नफरतें तेरी हुई हैं बा-खुशी दिल को कुबूल।
---------- 
कोई मिला ही नहीं जिसकों वफ़ा देता;
सभी ने धोखा दिया किस-किस को सजा देता;
ये तो हम थे कि चुप रह गये वर्ना;
दास्तान सुनाता तो महफ़िल को रुला देता।
---------- 
क्या पता था, दोस्त ऐसे भी दगा दे जाएगा;
अपने दुश्मन को मेरे घर कापता दे जाएगा।
---------- 
जब से कुछ दोस्त, अमीर हो गये;
नज़रों में उनकी, हम गरीब हो गये;
गुजरी है जिनकी, सलाखों के पीछे;
सियासत के दम पे, शरीफ हो गये।
---------- 
जब होता है तुम्हारा दीदार;
दिल धङकता है बार-बार;
आदत से मजबूर हो तुम;
ना जाने कब माँग लो उधार।
----------
दोस्ती वो नहीं जो जान देती है;
दोस्ती वो भी नहीं जो मुस्कान देती है;
अरे सच्ची दोस्ती तो वो है;
जो पानी में गिरा हुआ आंसू भी पहचान लेती है।
---------- 
हम वो नहीं जो दिल तोड़ देंगे;
थाम कर हाथ साथ छोड़ देंगे;
हम दोस्ती करते हैं पानी और मछली की तरह;
जुदा करना चाहे कोई तो हम दम तोड़ देंगे।
---------- 
एक मुलाक़ात करो हमसे इनायत समझकर;
हर चीज़ का हिसाब देंगे क़यामत समझकर;
मेरी दोस्ती पे कभी शक ना करना;
हम दोस्ती भी करते है इबादत समझकर।
---------- 
आज रब से मुलाकात की;
थोड़ी सी आपके बारे में बात की;
मैंने कहा क्या दोस्त है;
क्या किस्मत पाई है;
रब ने कहा संभाल के रखना;
मेरी पसंद है, जो तेरे हिस्से में आई है।
---------- 
कितना कुछ जानता होगा वो सख्श मेरे बारे में;
मेरे मुस्कुराने पर भी जिसने पूछ लिया कि तुम उदास क्यूँ हो?
---------- 
आप से दूर होकर हम जाएंगे कहाँ;
आप जैसा दोस्त हम पाएंगे कहाँ;
दिल को कैसे भी संभाल लेंगे;
पर आँखों के आंसू हम छिपाएंगे कहाँ।
---------- 
किसी को पाने में वक़्त लगता है;
किसी को अपनाने में वक़्त लगता है;
हमने बहुत पहले मांगी थी आपकी दोस्ती;
पर खुदा ने कहा अनमोल चीज को पाने में वक़्त लगता है।
---------- 
दोस्त की अहमियत समझो तो दोस्ती करना;
दर्द की अहमियत समझो तो मोहब्बत करना;
वादे की अहमियत समझो तो उसे पूरा करना;
ओर हमारी अहमियत समझो तो याद ज़रूर करना!
---------- 
कमजोरियां मत ढूंढ मुझ में तू दोस्त मेरे 
एक तू भी शामिल है मेरी कमजोरियों में!
---------- 
फिर न सिमटेगी अगर दोस्ती बिखर जायेगी;
ज़िन्दगी जुल्फ नहीं जो फिर से संवर जायेगी;
जो ख़ुशी दे तुम्हें थाम लो दामन उसका;
ज़िन्दगी रो कर नहीं हंस कर गुज़र जायेगी!
----------
दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे;
जैसे-जैसे दोस्तों को आजमाता जा रहा हूँ मैं!
---------- 
दिन बीत जाते हैं सुहानी यादें बनकर;
बातें रह जाती हैं कहानी बनकर;
पर दोस्त तो हमेशा दिल के करीब रहेंगे;
कभी मुस्कान तो कभी आँखों में पानी बनकर।
---------- 
तेरी आँख से आंसू चुरा लेंगे;
तेरा हर गम बिना जताये उठा लेंगे;
नज़र ना लग जाये तुम्हें किसी की अय दोस्त;
कुछ इस तरह से तुम्हें अपने दिल में हम छुपा लेंगे।
---------- 
इंसान की कोशिश दिल की हर चीज़ भुला देती है;
बात जब दोस्ती की हो तो, बंद आखों में भी सपने सजा देती है;
इस जिंदगी में सपनों की दुनिया जरुर रखना मेरे दोस्त;
क्योंकि हकीकत तो अक्सर लोगो को रुला देती है!
---------- 
गुजरे हुए कल की याद आती है;
कुछ लम्हों से आँखें भर आती है;
वो सुबह रंगीन वो शाम निराली जाती है;
जब आप जैसे दोस्तों की याद आती है;
वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए!
---------- 
कभी न कभी तो बहारों के फूल मुरझा जायेंगे;
भूले भी कभी हम तुम्हें याद आयेंगे;
एहसास होगा तुम्हें मेरी दोस्ती का जब
तब हम बहुत दूर चले जायेंगे!
---------- 
सवाल पानी का नहीं, प्यास का है;
सवाल मौत का नहीं, सांस का है:
दोस्त तो दुनिए में बहुत है मगर;
सवाल दोस्ती का नहीं, विश्वास का है!
---------- 
उमीद ऐसी हो जो जीने को मजबूर करे!
राह ऐसी हो जो चलने को मजबूर करे!
महक कम न हो कभी अपनी दोस्ती की!
दोस्ती ऐसी हो जो मिलने को मजबूर करे!
---------- 
गीत की ज़रूरत महफिल में होती है!
प्यार की ज़रूरत दिल में होती है!
बिन दोस्त के अधूरी है ज़िन्दगी,
क्योंकि दोस्त की ज़रूरत पल पल होती है!
---------- 
जो हमारा प्यार है!
उन्हें किसी और से प्यार है!
बस हार गए हम यह जानकर!
कि जिससे उन्हें प्यार है, वो हमारा यार है!
----------
यह सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा!
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा!
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी!
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा!
---------- 
ग़म में हंसने वालो को कभी रुलाया नहीं जाता!
लहरों से पानी को हटाया नहीं जाता!
होने वाले हो जाते हैं खुद ही दिल से अपने!
किसी को कहकर अपना बनाया नहीं जाता!
---------- 
सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती!
न करेंगे किसी से वादा!
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा की करना पड़ा दोस्ती का वादा!
---------- 
एक मरीज को कई दिनों के बाद होश आया!
मरीज: मैं कहां हूँ? क्या मैं स्वर्ग में हूँ!
पत्नी: नहीं डियर अभी तुम मेरे साथ हो!
मरीज: हां जहां तुम साथ हो वो स्वर्ग हो ही नहीं सकता!
---------- 
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!
तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!
यूँ तो मिल जाता है हर कोई!
मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
---------- 
आपकी पलकों पर रह जाये कोई!
आपकी सांसो पर नाम लिख जाये कोई!
चलो वादा रहा भूल जाना हमें!
अगर हमसे अच्छा दोस्त मिल जाये कोई!
---------- 
दोस्ती इन्सान की ज़रुरत है!
दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है!
आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ!
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है!
---------- 
तेरे बिना जिन्दगी हम जिया नहीं करते!
धोखा किसी को हम दिया नहीं करते!
जाने कैसे तुमसे दोस्ती हो गई!
वरना दोस्ती हम किसी से किया नहीं करते!
---------- 
दिल तोड़ना सजा है मुहब्बत की!
दिल जोड़ना अदा है दोस्ती की!
मांगे जो कुर्बानियां वो है मुहब्बत!
और जो बिन मांगे कुर्बान हो जाये वो है दोस्ती!
---------- 
हर पल की दोस्ती का इरादा है आपसे!
अपनापन भी कुछ ज्यादा है आपसे!
न सोचेंगे सिर्फ उम्र भर के लिये!
क़यामत तक दोस्ती निभाएंगे ये वादा है आपसे!
----------
तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में!
सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में!
एक दिन जब दोस्ती की आप से तो यूँ लगा!
कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में!
---------- 
हर आहट एहसास हमारा दिलाएगी!
हर हवा खुशबू हमारी लाएगी!
हम दोस्ती ऐसी निभाएंगे यारा!
की हम न होंगे और हमारी याद तुम्हे सताएगी!
---------- 
दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तेफाक है !
ये तो दिलो की मुलाक़ात है !
दोस्ती नहीं देखती की ये दिन है की रात है !
ऐसे में तो सिर्फ वफादारी और जज़्बात है !
---------- 
जिंदगी हर पल कुछ खास नहीं होती!
फूलों की खुशबू पास नहीं होती!
मिलना हमारी तक़दीर में था वरना!
इतनी प्यारी दोस्ती इतफाक नहीं होती!
---------- 
जिंदगी शुरू होती है रिश्तों से!
रिश्ते शुरू होते है प्यार से!
प्यार शुरू होता है अपनों से!
और अपने शुरू होते है आप से!
---------- 
तू दूर है मुझसे और पास भी है!
तेरी कमी का एहसास भी है!
दोस्त तो हमारे लाखो है इस जहाँ में!
पर तू प्यारा भी है और खास भी है!
---------- 
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है!
दोस्ती गहरी हो तो सबको भाति है!
दोस्ती नादान हो तो टूट जाती है!
पर अगर दोस्ती अपने जैसे से हो, तो इतिहास बनाती है!
---------- 
ज़िन्दगी नहीं हमें दोस्तों से प्यारी!
दोस्तों पर हाज़िर है जान हमारी!
आँखों में हमारी आँसू है तो क्या!
जान से भी प्यारी है मुस्कान तुम्हारी!
---------- 
जान है मुझको ज़िन्दगी से प्यारी!
जान के लिए कर दूं कुर्बान यारी!
जान के लिए तोड़ दूं दोस्ती तुम्हारी!
अब तुमसे क्या छुपाना तुम ही तो हो जान हमारी!
----------





हमारी सल्तनत में देख कर कदम रखना ऐ दोस्त;
क्योंकि हमारी दोस्ती की क़ैद में जमानत नहीं होती।
----------
लोग दौलत देखते हैं, हम इज़्ज़त देखते हैं;
लोग मंज़िल देखते हैं, हम सफ़र देखते हैं;
लोग दोस्ती बनाते हैं, हम उसे निभाते हैं।
----------
बस साथ चलते रहो ऐ दोस्त,
कुछ पल की नही, यह दोस्ती हमें उम्र भर चाहिए।
----------
जो दोस्त 'कमीने' नहीं होते;
वो कमीने 'दोस्त' ही नहीं होते।
----------
इश्क़ में नस काट लेना भी आसान था पर दोस्त इतने कमीने थे कि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
सालों ने दारु पिला के उसी की बारात में नचवा दिया।
----------
दोस्त फेल हो जाए तो दुःख होता है।
लेकिन अगर दोस्त First आ जाये तो ज़्यादा दुःख होता है।
----------
जब को कोई दोस्त बीमार होता है तो
रिश्तेदार: कुछ नहीं होगा तुझे, समय पर दवाई लेते रहना, भगवान सब ठीक करेगा
दोस्त: मर जा साले तू, मरने से पहले अपना Xbox मुझे दे दे यार, पता है मेरे दादा जी भी ऐसे ही मरे थे।
----------
महक दोस्ती की इश्क़ से कम नहीं होती,
इश्क़ से ज़िन्दगी शुरू या खत्म नहीं होती,
अगर साथ हो ज़िन्दगी में अच्छे दोस्तों का,
तो यह ज़िन्दगी भी जन्नत से कम नहीं होती।
----------
वो जो दिल के करीब होते हैं,
वो नमूने बड़े अजीब होते हैं।
----------
उस चाँद को बहुत गुरूर है कि उसके पास नूर है;
मगर वो क्या जाने कि मेरा तो पूरा ग्रुप कोहिनूर है।
----------
सब लोग मंज़िल को मुश्किल मानते हैं;
हम तो मुश्किल को मंज़िल मानते हैं।
बहुत बड़ा फर्क है सब में और हम में;
सब ज़िंदगी को दोस्त और हम दोस्त को ज़िंदगी मानते हैं।
----------
सारी शिकायतों का हिसाब जोड़ कर रखा था मैंने;
दोस्त ने गले लगाकर सारा गणित ही बिगाड़ दिया।
----------
इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है;
दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, निभाने वाले हमेशा बड़े होते हैं।
----------
कुछ रिश्ते अनजाने में बन जाते हैं;
पहले दिल से फिर ज़िन्दगी से जुड़ जाते हैं;
कहते हैं उस दौर को दोस्ती;
जिसमे अनजाने ना जाने कब अपने बन जाते हैं।
----------
प्यार की मस्ती किसी दुकान में नहीं बिकती,
अच्छे दोस्तों की दोस्ती हर वक़्त नहीं मिलती,
रखना सदा दोस्तों को दिल में सजाकर,
क्योंकि यारों की यारी कभी गैरों से नहीं मिलती।
----------
लोग कहते हैं कि इतनी दोस्ती मत करो कि दोस्ती दिल पर सवार हो जाए,
हम कहते हैं कि दोस्ती इतनी करो कि दुश्मन को भी तुमसे प्यार हो जाए।
----------
आज हम साथ नहीं लेकिन तारीख में तो 7/7 हैं।
----------
प्यार में दुनिया खूबसूरत लगती है;
दर्द में दुनिया दुश्मन लगती है.
तुम जैसे दोस्त अगर हों ज़िन्दगी में तो;
'Bisleri' भी 'Kingfisher' लगती है।
----------
ऐसा नहीं कि मुझमें कोई ऐब नहीं है पर सच कहता हूँ मुझमें कोई फरेब नहीं है,
जल जाते हैं मेरे अंदाज़ में मेरे दुश्मन,
क्योंकि एक मुद्दत से मैंने न मोहब्बत बदली और न दोस्त बदले!
----------
क्या फर्क है दोस्ती और मोहब्बत में रहते तो दोनो दिल मे ही हैं,
लेकिन फर्क बस इतना है बरसो बाद मिलने पर मोहब्बत नजर चुरा लेती है और दोस्त सीने से लगा लेते हैं।
----------
अच्छे दोस्त सफ़ेद रंग जैसे होते हैं,
सफ़ेद में कोई भी रंग मिलाओ तो नया रंग बन सकता है लेकिन दुनिया के सभी रंग मिलाकर भी सफ़ेद रंग नहीं बना सकते।
----------
रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी;
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी;
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा;
उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
----------
आग लगी थी मेरे घर को एक सच्चे दोस्त ने पूछा,
"क्या बचा है?"
मैने कहा, "मैं बच गया हूँ।"
उसने गले लगाकर कहा, "फिर जला ही क्या है?"
----------
अपनी ज़िंदगी के कुछ अलग ही उसूल हैं;
दोस्ती की खातिर हमें काँटे भी क़बूल हैं;
हँस कर चल देंगे काँच के टुकड़ों पर भी;
अगर दोस्त कहे कि यह दोस्ती में बिछाये फूल हैं।
----------
दोस्त एक ऐसा चोर होता है,
जो आँखों से आँसू, चेहरे से परेशानी, दिल से मायूसी, ज़िन्दगी से दर्द और बस चले तो हाथों की लकीरों से मौत तक चुरा ले।
----------
शराबी दोस्त रखता हूँ क्योंकि...
शराबी दोस्त अच्छे होते हैं "गिलास" ज़रूर तोड़ते हैं मगर दिल नहीं।
----------
गुनाह करके सजा से डरते हैं,
ज़हर पी के दवा से डरते हैं,
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमें,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है।
----------
ऐ दोस्त तुम पे लिखना कहाँ से शुरू करूँ;
अदा से करूँ या हया से करूँ;
तुम्हारी दोस्ती इतनी खूबसूरत है;
पता नहीं कि तारीफ ज़ुबाँ से करूँ या दुआ से करूँ।
----------
दोस्ती कर के देखो, दोस्ती में दोस्त खुदा होता है;
यह एहसास तब होता है जब दोस्त, दोस्त से जुदा होता है।
----------
दोस्ती दर्द नहीं खुशियों की सौगात है;
किसी अपने का ज़िंदगी भर का साथ है;
ये तो दिलों का वो खूबसूरत एहसास है;
जिसके दम से रौशन ये सारी कायनात है।
----------
रिश्तों की है यह दुनिया निराली;
सब रिश्तों से प्यारी है यह दोस्ती तुम्हारी;
मंज़ूर हैं आँसू भी आँखों में तुम्हारी;
ऐ दोस्त अगर आ जाये होंठों पे मुस्कान तुम्हारी।
----------
ना तुम दूर जाना ना हम दूर जायेंगे;
अपने अपने हिस्से की दोस्ती निभायेंगे;
बहुत अच्छा लगेगा ज़िन्दगी का ये सफर;
आप वहाँ से याद करना हम यहाँ से मुस्कुरायेंगे।
----------
सच्चा दोस्त वो है जो फेल होने पे ताली दे... और पास होने पे गाली दे।
----------
एक हसीन पल की ज़रूरत है हमें;
बीते हुए कल की ज़रूरत है हमें;
सारा ज़माना रूठ गया हमसे;
जो कभी न रूठे ऐसे दोस्त की ज़रूरत है हमें।
----------
फूल इसलिए अच्छे, क्योंकि खुश्बू का पैगाम देते हैं;
काँटे इसलिए अच्छे, कि दामन थाम लेते हैं;
दोस्त इसलिए अच्छे, कि वो मुझ पर जान देते हैं;
और दुश्मनों को, कैसे ख़राब कह दूँ;
वो ही तो है, जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते हैं।
----------
जो आसानी से मिले वो है धोखा;
जो मुश्किल से मिले वो है इज़्ज़त;
जो दिल से मिले वो है प्यार;
और जो नसीब से मिले वो है दोस्त।
----------
ज़िंदगी के तूफानों का साहिल है तेरी दोस्ती;
दिल के अरमानों की मंज़िल है तेरी दोस्ती;
ज़िंदगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत;
अगर मौत आने तक साथ दे तेरी दोस्ती।
----------
अच्छे दोस्त सफ़ेद रंग जैसे होते हैं,
सफ़ेद में कोई भी रंग मिलाओ तो नया रंग बन सकता है,
पर दुनिया के सारे रंग मिलाकर भी सफ़ेद रंग नहीं बना सकते।
----------
घड़ी की सुईयों - जैसा रिश्ता है, मेरे दोस्तों का
कभी मिलते है.. कभी नहीं... पर हाँ, जुड़े रहते हैं।
----------
महक दोस्ती की इश्क़ से कम नहीं होती;
इश्क़ से ज़िन्दगी खत्म नहीं होती;
अगर साथ हो ज़िन्दगी में अच्छे दोस्तों का;
तो ज़िन्दगी ज़न्नत से कम नहीं होती।
----------
आपकी दोस्ती पे नाज़ है हमें;
कल था जितना भरोसा उतना ही आज है हमें;
दोस्त वो नहीं जो ख़ुशी में साथ दे;
दोस्त वही जो हर पल अपनेपन का एहसास दे।
----------
होंठों पे उल्फत के फ़साने नहीं आते;
जो बीत गए फिर वो ज़माने नहीं आते;
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द;
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।
----------
दोस्ती होती नहीं, भूल जाने के लिए;
दोस्त मिलते नहीं, बिखर जाने के लिए; दोस्ती करके खुश रहोगे इतना;
की वक़्त ही नहीं मिलेगा, आंसू बहाने के लिए।
----------
इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है,
दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, निभाने वाले हमेशा बड़े होते हैं।
----------
गुण मिलने पर शादी होती है;
और अवगुण मिलने पर दोस्ती!
दोस्ती मुबारक!
----------
मेरी सल्तनत में देख कर कदम रखना;
मेरी दोस्ती की क़ैद में जमानत नहीं होती।
----------
दोस्ती कोई खोज नहीं होती;
दोस्ती हर किसी से हर रोज़ नहीं होती;
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना;
क्योंकि पलकें आँखों पर कभी बोझ नहीं होती।
----------
कितनी नन्ही से परिभाषा है दोस्ती की;
मैं शब्द...
तुम अर्थ...
तुम बिन मैं व्यर्थ।
----------
यकीन पे यकीन दिलाते हैं दोस्त;
राह चलते को बेवकूफ बनाते हैं दोस्त;
शरबत बोल कर दारू पिलाते हैं दोस्त;
पर कुछ भी कहो साले बहुत याद आते हैं दोस्त।
----------
दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं;
पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं;
हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है;
कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।
----------
प्यार करने वालों की किस्मत खराब होती है;
हर वक़्त इम्तिहान की घडी साथ होती है;
वक़्त मिले तो कभी रिश्तों की किताब खोल कर देखना;
दोस्ती हर रिश्ते से लाजवाब होती है।
----------
होठों पे उल्फ़त के फ़साने नहीं आते;
जो बीत गए फिर वो ज़माने याद नहीं आते;
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द;
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।
----------
रिश्तों में दूरियां तो आती रहती हैं;
फिर भी दूरियां दिलों को मिला देती हैं;
वो रिश्ता ही क्या जिसमें नाराज़गी ना हो;
पर सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना लेती है।
----------
जिए हुए लम्हों को ज़िन्दगी कहते हैं;
जो दिल को सुकून दे, उसे ख़ुशी कहते हैं;
जिसके होने की ख़ुशी से ज़िन्दगी मिले;
ऐसे रिश्ते को दोस्ती कहते हैं।
----------
ज़िन्दगी का सबसे अच्छा पल वो है जब आप कहते हैं "मैं ठीक हूँ"
और आपका दोस्त आपकी आँखों में एक पल झाँकने के बाद कहे "चल अब बता क्या बात है"।
----------
कुछ रिश्ते अनजाने में बन जाते हैं;
पहले दिल से फिर ज़िन्दगी से जुड़ जाते हैं;
कहते हैं उस दौर को दोस्ती;
जिसमे अनजाने ना जाने कब अपने बन जाते हैं।
----------
मेरे लिए मेरी जान है तेरी दोस्ती;
ज़िन्दगी का हर अरमान है तेरी दोस्ती;
ना कोई गिला, ना कोई शिकवा है किसी से;
मुझ पर खुदा का एहसान है तेरी दोस्ती।
----------
प्रेमी और दोस्त में क्या फर्क है?
प्रेमी कहता है, "तुम्हें कुछ हुआ तो मैं ज़िंदा नहीं रहूँगा।"
और दोस्त कहता है, "जब तक मैं ज़िंदा हूँ, तुम्हें कुछ नहीं होने दूँगा।"
----------
आपकी दोस्ती की एक नज़र चाहिए;
यह दिल है बेघर इसे एक घर चाहिए;
यूँ साथ चलते रहो, ऐ दोस्त;
यह दोस्ती हमें उम्र भर चाहिए।
----------
सोचा न था कभी ऐसी दोस्ती होगी;
साथ मेरे आप लोगों जैसी हस्ती होगी;
जन्नत की गलियों के ख्वाब क्यों देखूं;
अगर हम सारे दोस्त साथ होंगे तो हर साल में भी मस्ती होगी।
----------
विश्वास की एक डोरी है दोस्ती;
विश्वास के बिना कोरी है दोस्ती;
कभी थैंक्स तो कभी सॉरी है दोस्ती;
ना मानो तो कुछ भी नहीं;
पर मानो तो रब की भी कमज़ोरी है दोस्ती।
----------
दोस्त एक ऐसा चोर होता है;
जो आँखों से आँसू, चेहरे से परेशानी,
दिल से मायूसी, ज़िंदगी से दर्द,
और बस चले तो हाथों की लकीरों से मौत तक चुरा ले।
----------
आसमान से उतारी है, तारों से सजाई है;
चाँद की चाँदनी से नहलायी है;
ऐ दोस्त ज़रा संभाल कर रखना यह दोस्ती;
यही तो हमारी ज़िंदगी भर की कमाई है।
----------
दोस्त समझते हो तो दोस्ती निभाते रहना;
हमें भी याद करना खुद भी याद आते रहना;
हमारी तो हर ख़ुशी दोस्तों से ही है;
हम खुश रहें या ना आप सदा यूँ ही मुस्कुराते रहना।
----------
अपनी ज़िंदगी के कुछ अलग ही उसूल हैं;
दोस्ती की खातिर हमें काँटे भी क़बूल हैं;
हँस कर चल देंगे काँच के टुकड़ों पर भी;
अगर दोस्त कहे कि यह दोस्ती में बिछाये फूल हैं।
----------
रिश्तों से बड़ी चाहत क्या होगी;
दोस्ती से बड़ी इबादत क्या होगी;
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा;
उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
----------
लोग रूप देखते हैं, हम दिल देखते हैं;
लोग सपना देखते हैं, हम हकीकत देखते हैं;
बस फर्क इतना है कि लोग दुनिया में दोस्त देखते हैं;
हम दोस्तों में दुनिया देखते हैं।
----------
हम शतरंज नही खेलते, क्योंकि...
दुश्मनों की हमारे सामने बैठने की औकात नहीं,
और दोस्तों के सामने हम चाल नही चलते।
----------
लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी को खुदा नहीं मिलता;
शायद उन लोगों को दोस्त कोई तुम-सा नहीं मिलता;
किस्मत वालों को ही मिलती है पनाह किसी के दिल में;
यूं हर शख़्स को तो जन्नत का पता नहीं मिलता।
----------
दोस्त की दोस्ती से ज़िन्दगी सुनहरी होती है;
साथ उसके हर ख्वाहिश पूरी होती है;
अगर मिले दोस्त ऐसा जो समझ जाये दिल की बात;
फिर कहाँ कोई बात अधूरी होती है।
----------
भूलेंगे वो भुलाना जिनका काम है;
मेरी तो दोस्तों के बिना गुज़रती नहीं शाम है;
कैसे भूलूँ मैं उनको जो मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम है।
----------
जिंदगी सुंदर है पर मुझे जीना नहीं आता;
हर चीज में नशा है पर मुझे पीना नहीं आता;
सब मेरे बिना जी सकते हैं, र्सिफ मुझे दोस्तों के बिना जीना नहीं आता।
----------
रिश्तों की है यह दुनिया निराली;
सब रिश्तों से प्यारी है यह दोस्ती तुम्हारी;
मंज़ूर हैं आँसू भी आँखों में तुम्हारी;
ऐ दोस्त अगर आ जाये होंठों पे मुस्कान तुम्हारी।
----------
गुण मिलने पर शादी होती है;
और अवगुण मिलने पर दोस्ती।
----------
दो अक्षर की 'मौत'
और
तीन अक्षर के 'जीवन' में,
ढाई अक्षर का 'दोस्त' -
हमेंशा बाज़ी मार जाता हैं!
----------
दोस्ती सुख और दुःख की पहचान होती है;
दोस्ती दिल का सुकून और होठों की मुस्कान होती है;
अगर रूठ भी गए हो तुम तो मनायेंगे हम;
क्योंकि रूठना और मनाना ही दोस्ती की शान होती है।
----------
बिगड़ी हुई ज़िंदगी की बस इतनी सी कहानी है;
कुछ बचपन से ही हम लोफर थे;
बाकी कुछ आप जैसे दोस्तों की मेहरबानी है।
----------
ज़िंदगी के तूफानों का साहिल है तेरी दोस्ती;
दिल के अरमानों की मंज़िल है तेरी दोस्ती;
ज़िंदगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत;
अगर मौत आने तक साथ दे तेरी दोस्ती।
----------
एक हसीन पल की ज़रूरत है हमें;
बीते हुए कल की ज़रूरत है हमें;
सारा ज़माना रूठ गया है हमसे;
जो कभी ना रूठे ऐसे दोस्त की ज़रूरत है हमें।
----------
दोस्ती फूल से करोगे तो महक जाओगे;
शराब से करोगे तो बहक जाओगे;
सावन से करोगे तो भीग जाओगे;
हमसे करोगे तो बिगड़ जाओगे;
और नहीं करोगे तो किधर जाओगे।
----------
कुछ दोस्त ज़िन्दगी में इस तरह शामिल हो जाते हैं;
अगर भुलाना चाहो तो और याद आते हैं;
बस जाते हैं वो दिल में इस तरह कि;
आँखे बंद करो तो भी वो सामने नज़र आते हैं।
----------
इस दुनिया में दोस्त कम मिलेंगे;
ज़िंदगी के हर मोड़ पे गम ही गम मिलेंगे;
जहाँ दुनिया अपनी नज़र चुरा ले तुमसे;
उसी मोड़ पे दोस्त खड़े हम मिलेंगे।
----------
आसमान से उतारी है, तारों से सजाई है;
चाँद की चाँदनी से नहलायी है;
ऐ दोस्त, संभाल कर रखना ये दोस्ती;
यही तो हमारी ज़िंदगी भर की कमाई है।
----------
रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी;
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी;
जिसे दोस्त मिल जाये कोई आप जैसा;
उसे ज़िंदगी से शिकायत और क्या होगी।
----------
दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं;
पर दोस्ती के मामले में सच्चे है;
हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है;
कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।
----------
आपकी दोस्ती पे नाज़ है हमें;
कल था जितना भरोसा उतना आज है हमें;
दोस्त वो नहीं जो ख़ुशी में साथ दे;
दोस्त वही है जो हर पल अपनेपन का एहसास दे।
----------
हमारी गलतियों से कहीं टूट न जाना;
हमारी शरारतों से कहीं रूठ न जाना;
तुम्हारी दोस्ती ही है ज़िंदगी मेरी;
इस प्यारे से बंधन को तुम भूल न जाना।
----------
दोस्त साथ हो तो रोने में भी शान है;
दोस्त ना हो तो महफ़िल भी शमशान है;
सारा खेल दोस्ती का है वरना;
जनाज़ा और बारात एक समान है।
----------
खुशबू की तरह मेरी साँसों में रहना;
लहू बनके मेरी नस-नस में बहना;
दोस्ती होती है रिश्तों का अनमोल गहना;
इसलिए दोस्त को कभी अलविदा न कहना।
----------
एक फूल कभी दो बार नहीं खिलता;
ये जनम बार-बार नहीं मिलता;
ज़िंदगी में तो मिल जाते हैं हज़ारों लोग;
पर सच्चा दोस्त बार-बार नहीं मिलता।
----------
दोस्ती किसी से यूँ निभा लो;
कि उसके दिल के सारे ग़म चुरा लो;
इतनी छाप छोड़ दो किसी पर दोस्ती की;
कि खुदा भी हमें अपना दोस्त बना लो।
----------
खुदा ने दोस्त को दोस्त से मिलवाया;
दोस्तों के लिए दोस्ती का रिश्ता बनाया;
फिर खुदा ने फरमाया कि;
दोस्ती रहेगी उसकी कायम, जिसने दोस्ती को दिल से निभाया।
----------
उम्मीदों को टूटने मत देना;
इस दोस्ती को कम होने मत देना;
दोस्त मिलेंगे हमसे भी अच्छे पर;
इस दोस्त को यूँ ही भुला मत देना।
----------
मेरी हँसी का हिसाब कौन करेगा;
मेरी गलती को माफ़ कौन करेगा;
ऐ खुदा मेरे दोस्त को सलामत रखना;
वरना मेरी शादी में 'लुंगी डांस' कौन करेगा।
----------
न जाने कब फिर से ये मंज़र सुहाना मिलेगा;
ये खिल-खिलाती हँसी और दोस्तों का याराना मिलेगा;
क़ैद कर लो इन खूबसूरत लम्हों को अपनी यादों में यारो;
इन्ही लम्हों से हमें ज़िंदगी में रोते हुए भी हँसने का बहाना मिलेगा।
----------
दोस्ती कोई खोज नहीं होती;
दोस्ती हर किसी से हर रोज़ नहीं होती;
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना;
क्योंकि पलकें आँखों पर कभी बोझ नहीं होती।
----------
दोस्ती से कीमती कोई जागीर नहीं होती;
दोस्ती से खूबसूरत कोई तस्वीर नहीं होती;
दोस्ती यूँ तो कच्चा धागा है मगर;
इस धागे से मज़बूत कोई ज़ंज़ीर नहीं होती।
----------
दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम;
दुनिया के ग़मों को भी जानते हैं हम;
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे;
आज भी हँस कर जीना जानते हैं हम।
----------
कल हो न हो आज तो है;
आज हो न हो यह पल तो है;
यह पल हो न हो हम तो हैं;
हम हों न हों हमारी दोस्ती तो है।
----------
याद हमें रखना, चाहे पास हम न हों;
क़यामत तक चलता रहे, ये दोस्ती का सफ़र;
दुआ करो रब से कि कभी क़यामत न हो।
----------
रिश्तों से बड़ी चाहत क्या होगी;
दोस्ती से बड़ी इबादत क्या होगी;
जिसे दोस्त मिल जाये आप जैसा;
उसे ज़िंदगी से शिकायत क्या होगी।
----------
कुछ फांसले सिर्फ आँखों से होते हैं;
दिल के फांसले तो बातों में होते हैं;
हम लाख कोशिश करें भुलाने की;
पर कुछ दोस्त सांसों में बसे होते हैं।
----------
कभी यह धड़कन आपसे जो भी कहे;
फिर साँसों को भी उसकी ख़बर न हो;
बहुत गहरा है हमारी दोस्ती का यह रिश्ता;
दुआ करो कि इसको कभी किसी की नज़र न लगे।
----------
दोस्ती एक मिसाल है जहाँ कोई सरहद नहीं होती;
ये वो शहर है जहाँ इमारतें नहीं होती;
यहाँ तो सब रास्ते एक-दूसरे के निकलते हैं;
ये वो अदालत है जहाँ कोई शिकायत नहीं होती।
----------
तेरी दोस्ती में एक बहुत प्यार सा नशा है;
तभी तो यह सारी दुनिया हमसे ख़फ़ा है;
ना करो तुम हमसे इतनी दोस्ती;
कि दिल ही हमसे पूछे बता तेरी धड़कन कहाँ है।
----------
हर ग़म को ख़ुशी में बदलती है, दोस्ती;
हर आंसू को हँसी में बदलती है, दोस्ती;
कुछ लोग समझ नहीं पाते;
कि अँधेरी रात का दिया है, दोस्ती।
----------
आपकी दोस्ती को एहसान मानते हैं;
निभाना अपना ईमान मानते हैं;
लेकिन हम वो नहीं जो दोस्ती में अपनी जान दे देंगे;
क्योंकि दोस्तों को तो हम अपनी जान मानते हैं!
----------
फांसले मिटा कर आपस में प्यार रखना;
दोस्ती का यह रिश्ता हमेशा यूँ ही बरक़रार रखना;
बिछड़ जाये कभी आप से हम;
तो आँखों में हमेशा हमारा इंतज़ार रखना।
----------
दोस्ती फूल नहीं जो मुरझा जाये;
दोस्ती मौसम नहीं जो बदल जाये;
दोस्ती तो धड़कन है जो चले तो सब कुछ है;
और अगर न चले तो कुछ भी नहीं।
----------
दोस्ती का रिश्ता कभी पुराना नहीं होता;
इससे बड़ा कोई खज़ाना नहीं होता;
दोस्ती तो प्यार से भी पवित्र है;
क्योंकि इसमें कोई पागल या दीवाना नहीं होता।
----------
सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती न करेंगे किसी से वादा;
दोस्त मिला इतना प्यारा अब तमाम उम्र दोस्ती निभाने का इरादा।
----------
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं;
तूफानों में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं;
यूँ तो मिल जाता है हर कोई;
मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं।
----------
बरसात आये तो ज़मीन गीली न हो;
धूप आये तो सरसों पीली न हो;
ए दोस्त तूने यह कैसे सोच लिया कि;
तेरी याद आये और पलकें गीली न हों।
----------
आसमान से तोड़ कर 'तारा' दिया है;
आलम ए तन्हाई में एक शरारा दिया है;
मेरी 'किस्मत' भी 'नाज़' करती है मुझे पे;
खुदा ने 'दोस्त' ही इतना प्यारा दिया है।
----------
बेशक थोड़ा इंतजार मिला हमको;
पर दुनिया का सबसे हसीं यार मिला हमको;
न रही तमन्ना अब किसी जन्नत की;
तेरी दोस्ती में वो प्यार मिला हमको।
----------
किस हद तक जाना है ये कौन जानता है;
किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है;
दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो;
किस रोज़ बिछड़ जाना है ये कौन जानता है।
----------
अच्छा दोस्त तकिये के जैसा होता है;
मुश्किल में सीने से लगा सकते हैं;
दुःख में उस पे रो सकते हैं;
खुशी में गले लगा सकते हैं;
और...
.
.
.
.
.
.
गुस्से में लात भी मार सकते हैं।
----------
आपकी दोस्ती की एक नज़र चाहिए;
दिल है बे-घर उसे एक घर चाहिए;
बस यूँही साथ चलते रहो, ऐ दोस्त;
यह दोस्ती हमें उम्र भर चाहिए।
----------
चाँद की दोस्ती, रात से सुबह तक;
सूरज की दोस्ती, दिन से शाम तक;
हमारी दोस्ती पहली मुलाक़ात से आखरी सांस तक।
----------
कौन होता है दोस्त?
दोस्त वो जो बिन बुलाये आये;
बेवजह हर वक्त सर खाए;
हमेशा जेब खाली कर जाये ;
कभी सताए और कभी रुलाये;
मगर हमेशा साथ निभाए।
----------
ज़िक्र हुआ जब खुदा की रहमतों का;
हमने खुद को खुशनसीब पाया;
तमन्ना थी एक प्यारे से दोस्त की;
खुदा खुद दोस्त बनकर चला आया।
----------
प्यार की कमी को पहचानते हैं हम;
दुनिया के गमों को भी जानते हैं हम;
आप जैसे दोस्त का सहारा है;
तभी तो आज भी हंसकर जीना जानते हैं हम।
----------
कुछ खोये बिना हमने पाया है;
कुछ मांगे बिना हमें मिला है;
नाज़ है हमें अपनी तक़दीर पर;
जिसने आप जैसे दोस्त से मिलाया है।
----------
किसने इस दोस्ती को बनाया;
कहाँ से ये दोस्ती शब्द आया;
दोस्ती का सबसे ज्यादा फायदा तो हमने उठाया;
क्योंकि दुनिया का सबसे प्यारा दोस्त तो हमारे हिस्से में आया।
----------
खुदा से कोई बात अंजान नहीं होती;
इंसान की बंदगी बेईमान नहीं होती;
कहीं तो माँगा होगा हमने भी एक प्यारा सा दोस्त;
वर्ना यूंही हमारी आपसे पहचान न होती।
----------
वो एक दोस्त जो खुदा सा लगता है;
बहुत पास है दिल के, फिर भी जुदा सा लगता है;
बहुत दिनों से आया नहीं पैगाम उसका;
शायद किसी बात पर खफ़ा सा लगता है।
----------
दोस्ती कोई खोज नहीं होती;
यह हर किसी से हर रोज नहीं होती;
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना;
क्योंकि, पलके कभी आँखों पर बोझ नहीं होती।
----------
दोस्ती इंसान की ज़रुरत है;
दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है;
आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ;
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।
----------
गीत की ज़रूरत महफ़िल में होती है;
प्यार की ज़रूरत दिल में होती है;
बिन दोस्ती के अधूरी है ये ज़िन्दगी;
क्योंकि दोस्त की ज़रूरत हर पल महसूस होती है।
----------
यार दोस्त जब भी बुलाते सदा वो फंसता था;
खर्चा भी करता था हरदम फिर भी हंसता था;
जब भी मिलता मुस्कुराता और हर्षाता था;
सुखा सुखा लगता है अब, तब बादल सा बरसता था;
लगता है के अंग्रेजी पतलून अब खादी हो गई है;
जी हाँ आप सही समझे उसकी शादी हो गई है।
----------
हम खुद पर गुरुर नहीं करते;
किसी को दोस्ती करने पर मज़बूर नहीं करते;
मगर जिसे एक बार दिल में बसा लें;
उसे मरते दम तक दिल से दूर नहीं करते।
----------
हम वो नहीं जो दिल तोड़ देंगे;
थाम कर हाथ साथ छोड़ देंगे;
हम दोस्ती करते हैं पानी और मछली की तरह;
जुदा करना भी चाहो तो हम दम तोड़ देंगे।
----------
चाँद के पास सितारे बहुत हैं;
पर सितारों के पास चाँद एक ही है;
हमारे जैसे दोस्त आपके पास बहुत हैं;
लेकिन आप जैसा दोस्त हमारे पास एक ही है।
----------
कभी पसंद न आये साथ मेरा तो बता देना, ए दोस्त;
हम दिल पर पत्थर रख के तुम्हे
.
.
.
.
.
.
गोली मार देंगे!
बड़े आये, नापसंद करने वाले!
----------
मित्रता शुद्धतम प्रेम है;
ये प्रेम का सर्वोच्च रूप है;
जहाँ कुछ भी नहीं माँगा जाता;
कोई शर्त नहीं होती;
जहां बस देने में आनंद आता है।
----------
लोग रूप देखते हैं, हम दिल देखते हैं;
लोग सपना देखते हैं, हम हक़ीकत देखते हैं;
लोग दुनियां देखते हैं;
और हम दोस्त में अपनी दुनियां देखते हैं।
----------
कामयाबी बड़ी नहीं, पाने वाले बड़े होते हैं;
ज़ख्म बड़े नहीं, भरने वाले बड़े होते हैं;
इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है;
दोस्ती बड़ी नहीं, निभाने वाले बड़े होते हैं।
----------
सबसे अलग सबसे न्यारे हो आप;
तारीफ कभी पूरी ना हो इतने प्यारे हो आप;
आज पता चला कि ज़माना क्यों जलता है हमसे;
क्योंकि दोस्त तो आखिर हमारे हो आप।
----------
आना हमारा किसी को गवारा ना हुआ;
हर मुसाफिर ज़िंदगी का सहारा ना हुआ;
मिलते हैं बहुत लोग इस तन्हा ज़िंदगी में;
पर हर दोस्त आप सा प्यारा ना हुआ।
----------
दोस्तो् के साथ जीने का एक मौका दे दे, ऐ खुदा;
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे।
----------
तेरी दोस्ती में एक नशा है;
तभी तो यह सारी दुनियां हमसे खफा है;
ना करो हमसे इतनी दोस्ती;
कि दिल ही हमसे पूछे तेरी धड़कन कहाँ है।
----------
गम नहीं वहाँ जहाँ हो फ़साना आपका;
ख़ुशी भी ढूंढती है हर पल आशियाना आपका;
आप उदास ना होना कभी ज़िंदगी में;
बहुत अच्छा लगता है हमें दोस्ताना आपका।
----------
आंसू तेरे निकलें तो आँखें मेरी हों;
दिल तेरा धड़के तो धड़कन मेरी हो;
खुदा करे दोस्ती हमारी इतनी गहरी हो;
कि सड़क पर तू पिटे और गलती मेरी हो।
----------
भगवान कहते हैं कि तुम किसी का कुछ ना बिगाड़ो;
ऐ दोस्त, तुम निश्चिन्त रहो, मैं तुम्हारा कुछ बिगड़ने नहीं दूंगा।
----------
सच्ची दोस्ती का मतलब है:
जब एक दोस्त अपनी आखिरी साँसें ले रहा हो और उसका दोस्त आँखों में आंसू ले आए और कहे, "चल उठ यार! आज आखिरी समय मौत की क्लास बंक(Bunk) करते हैं।
----------
हमारी ज़िंदगी है दोस्तों की अमानत;
रखना मेरे खुदा सदा उनको सलामत;
देना उन्हें खुशियाँ सारे जहान की;
बन जाए वो तारीफ हर एक ज़ुबान की।
----------
दोस्ती का हक़ हम अदा यूँ करते हैं;
तेरे नाम पे जान भी फ़िदा करते हैं;
तुझको फूल भी ज़ख्म ना दे पाएं;
खुदा से हर दम यही दुआ करते हैं।
----------
हर कर्ज़ दोस्ती का अदा कौन करेगा;
जब हम ही नहीं रहेंगे तो दोस्ती कौन करेगा;
ऐ खुदा, मेरे दोस्त को सदा सलामत रखना;
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा।
----------
अपनी तक़दीर में तो कुछ ऐसे ही सिलसिले लिखे हैं;
किसी ने वक़्त गुज़ारने के लिए दोस्ती कर ली;
तो किसी ने दोस्ती कर के वक़्त गुज़ार लिया।
----------
दोस्त हैं तो आँसुओं की भी शान होती है;
दोस्त ना हो तो महफ़िल भी शमशान होती है;
सारा खेल तो दोस्ती का है;
वरना अरथी और बारात एक समान होती है।
----------
रिश्तों की ये दुनियाँ है निराली;
सब रिश्तों से प्यारी है दोस्ती तुम्हारी;
मंज़ूर है आँसू भी आँखों में हमारी;
अगर आ जाए मुस्कान होठों पे तुम्हारी।
----------
दोस्ती ग़ज़ल है गाने के लिए;
दोस्ती नगमा है सुनाने के लिए;
ये वो जज़बा है जो सब को नहीं मिलता;
क्योंकि आप जैसा दोस्त चाहिए निभाने के लिए।
----------
दिल्लगी दोस्तों के नाम नहीं होती;
दिलदारी दोस्तों की शान नहीं होती है;
कहीं भी रहो, पर रहोगे दिल में मेरे;
यही सच्ची दोस्ती की पहचान होती है।
----------
खामोशियों की भी धीमी सी आवाज़ है;
तन्हाईयों में भी एक गहरा राज़ है;
मिलते नही हैं सबको अच्छे दोस्त यहाँ;
आप जो मिले हो हमें खुद पर नाज़ है।
----------
बेवफ़ा से प्यार नहीं होता;
मरने के बाद इंतज़ार नहीं होता;
दोस्ती देख कर करना मेरे दोस्त;
हर दोस्त हमारी तरह वफ़ादार नहीं होता।
----------
क्यों मुश्किलों में साथ देते हैं, दोस्त;
क्यों ग़म को बाँट लेते हैं दोस्त;
ना रिश्ता ख़ून से ना रिवाज़ से बंधा;
फ़िर भी ज़िंदगी भर साथ देते हैं, दोस्त।
----------
तेरी दोस्ती हम इस तरह निभाएँगे;
तुम रोज़ खफा होना हम रोज़ मनाएँगे;
पर तुम मान जाना मनाने से;
वरना ये भीगी पलकें ले के हम कहाँ जाएँगे।
----------
दोस्ती इम्तिहान नहीं विश्वास मांगती है,
नज़र और कुछ नहीं, दोस्त का दीदार मांगती है,
जिन्दगी अपने लिए कुछ भी नहीं,
पर आपके लिए दुआएं हज़ार मांगती है।
----------
एक ऐसा वक़्त था जब दोस्त बोलते थे: "चलो मिलकर कोई प्लॉन(Plan) बनाते हैं।"
और अब बोलते हैं: "चलो मिलने का कोई प्लॉन(Plan) बनाते हैं।"
----------
एक अच्छा दोस्त एक मेडिसिन की तरह होता है;
.
..
...
लेकिन एक पूरा ग्रुप, मेडीकल स्टोर की तरह होता है।
----------
जो भी मिला वो हम से खफा मिला;
देखो दोस्ती का क्या सिला मिला;
उम्र भर रही फ़क़त वफ़ा की तलाश;
पर हर शख्स मुझको बेवफ़ा मिला।
----------
दुआ करते हैं हम सर झुका के;
आप अपनी मंज़िल को पाएं, मेरे दोस्त;
अगर आपकी राहों में कभी अँधेरा आये;
तो रौशनी के लिए ख़ुदा हमको जलाए!
----------
हर वक़्त तुम्हें मेरी याद सताएगी;
दुःख के वक़्त मेरी दोस्ती ही याद आएगी;
तब जानोगे हमारी दोस्ती की कदर;
जब हमारी ज़िंदगी से सांसे ही रूठ जाएंगी।
----------
महक दोस्ती की इश्क़ से कम नहीं होती;
इश्क़ पर ज़िंदगी खत्म नहीं होती;
साथ अगर हो ज़िंदगी में अच्छे दोस्तों का;
तो ज़िंदगी ज़न्नत से कम नहीं होती।
----------
बहुत दिनों से मैं भूला हुआ था दोस्तों को;
आज फ़िल्म "कमीने" देखी तो सब याद आ गए।
----------
दिन आते हैं, दिन जाते हैं;
कुछ लम्हे आपके बिन भी गुज़र जाते हैं;
इन्हीं लम्हों को समेट के देखें तो;
आप जैसे नालायक दोस्त बहुत याद आते हैं।
----------
ज़िंदगी ऐसी है जितना जियो उतना कम है;
ग़म एक ऐसी चीज़ है;
जिसमें जितना डूबो उतना कम है;
दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जितना समझो उतना कम है।
----------
दोस्ती वो नहीं जो हम एक साल में;
कितनों से करते हैं;
दोस्ती तो वो है जो हम किसी एक से;
कितने सालों तक रखते हैं।
----------
दोस्ती ग़ज़ल है गुनगुनाने के लिए;
दोस्ती नगमा है सुनाने के लिए;
ये वो जज़बा है जो सबको मिलता है;
क्योंकि हौंसला चाहिए दोस्ती निभाने के लिए।
----------
कुछ फ़र्ज़ आप निभाओ;
कुछ हम दिल से निभाते हैं;
चलो आज हम अपने रिश्ते को;
दोस्ती का नाम देते हैं।
----------
दोस्ती की राहों में कभी अकेलापन ना मिले;
ऐ दोस्त ज़िंदगी में तुम्हें कभी ग़म ना मिले;
दुआ करते हैं हम ख़ुदा से;
तुम्हें जब भी दोस्त मिले हम से कम ना मिले।
----------
दोस्ती का रिश्ता पुराना नहीं होता;
इससे बड़ा ख़जाना नहीं होता;
दोस्ती तो प्यार से भी पवित्र है;
क्योंकि इसमें कोई पागल या दीवाना नहीं होता।
----------
भगवान ने पूछा क्या चाहिए?
मैंने कहा: कामयाबी, ख़ुशी, और लंबी उम्र।
अंदर से फिर आवाज़ आई, किसके लिए?
मैंने कहा: जो sms पढ़ रहा है उसके लिए।
----------
दोस्त ज़िन्दगी का चाँद होता है;
दिल ज़मीन का आसमान होता है;
बदनसीब वो होते हैं जिनका कोई दोस्त नहीं;
क्योंकि दोस्त तो धड़कते दिल की जान होता है।
----------
दोस्ती एक रिश्ता है;
जो निभाए वो फरिश्ता है;
दोस्ती सच्ची प्रीत है;
जुदाई जिसकी रीत है;
जुदा होकर भी ना भूले;
यह दोस्ती की जीत है।
----------
आदतें अलग हैं, मेरी दुनिया वालों से;
कम दोस्त रखना हूँ;
पर लाजवाब रखता हूँ।
----------
खुदा ने दोस्त को दोस्त से मिलाया;
दोस्तों के लिए दोस्ती का रिश्ता बनाय;
फिर खुदा ने फरमाया;
दोस्ती रहेगी उसकी कायम, जिसने दोस्ती को दिल से निभाया।
----------
दोस्ती फूल से करोगे तो महक जाओगे;
मदिरा से करोगे तो बहक जाओगे;
सावन से करोगे तो भीग जाओगे;
हमसे करोगे तो बिगड़ जाओगे;
और नहीं करोगे तो किधर जाओगे।
----------
फासले दोस्ती में कभी-कभी आते रहते हैं;
दोस्ती फिर भी दो दिलों को मिला ही देती हैं;
जो ख़फ़ा न हो जाये वो दोस्त कैसे होता;
सच्ची दोस्ती फिर भी दोस्त को मिला ही देती है।
----------
क्यों मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त;
क्यों गम को बांट लेते हैं दोस्त;
न रिश्ता खून से न रिवाज से बंधा;
फिर भी जिंदगी भर साथ देते हैं दोस्त।
----------
मेरी भगवान से एक ही दुआ है कि;
वो तुम जैसा दोस्त हर किसी को दे;
क्योंकि;
यह सजा मैं अकेले क्यों भुगतूं।
----------
वो रिश्ते भी कुछ खास हैं तो अनजाने में बन जाते हैं;
पहले तो दिल से फिर जिंदगी से जुड़ जाते हैं;
लोग कहते हैं उनको दोस्ती;
जिसमें अनजाने भी अपने बन जाते हैं।
----------
हर दूरी मिटानी पड़ती है;
हर बात बतानी पड़ती है;
लगता है दोस्तों के पास वक्त ही नहीं है;
आजकल खुद अपनी याद दिलानी पड़ती है।
----------
हम वो फूल हैं जो रोज़-रोज़ नहीं खिलते;
ये वो होंठ हैं जो कभी-कभी नहीं सिलते;
हमसे बिछाड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें;
हम वो दोस्त हैं जो रोज-रोज नहीं मिलते।
----------
दिल में आशाएं बहुत हैं;
जिंदगी में दुःख बहुत हैं;
कब की मार डालती ये दुनिया हमें;
पर दोस्तों की दुआओं में दम बहुत है।
----------
यह सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म ना होगा;
दोस्तों से प्यार कभी कम ना होगा;
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी;
हमें कभी बिछड़ने का गम न होगा।
----------
तन्हा रहना सीख लिया हमने;
पर खुश कभी ना हम रह पायेंगे;
तेरी दूरी सहना सीख लिया हमने;
पर तेरी दोस्ती के बिना जी नहीं पायेंगे।
----------
दिल तोड़ना सजा है मोहब्बत की;
दिल जोड़ना अदा है दोस्ती की;
मांगे जो कुर्बानी वो है मोहब्बत;
जो बिन मांगे हो जाए कुर्बान वो है दोस्ती।
----------
दोस्तों जिन्दगी को हमेशा एक फूल की तरह जिया करो;
जो खुशबु भी दूसरों को देता है;
और;
टूटता भी दूसरों के लिए ही है।
----------
छोटी-बड़ी शरारतों का अंजाम है दोस्ती;
कहे-अनकहे रिश्तों का पैगाम है दोस्ती;
दिन-रात मस्ती का नाम है दोस्ती;
लेकिन आपके बिना बेजान है ये दोस्ती।
----------
वो याद नहीं करते, हम भुला नहीं सकते;
वो हंसा नहीं सकते, हम रुला नहीं सकते;
दोस्ती इतनी खूबसूरत है हमारी;
वो बता नहीं सकते, हम जता नहीं सकते।
----------
तोड़ने के लिए वादा किया नहीं जाता;
सोच समझकर प्यार किया नहीं जाता;
यकीन करो प्यार हो या दोस्ती;
अगर दिल से हो तो उसके बिना एक पल भी जिया नहीं जाता।
----------
दोस्ती की कसक को दिखाया जाता नहीं;
दिल की लगी आग को बुझाया जाता नहीं;
कितनी भी दूरी हो दोस्ती में;
आप जैसे दोस्त को भुलाया जाता नहीं।
----------
फूल से दोस्ती करोगे तो महक जाओगे;
सावन से दोस्ती करोगे तो भीग जाओगे;
हमसे करोगे तो बिगड़ जाओगे;
और नहीं करोगे तो किधर जाओगे।
----------
सच्ची दोस्ती बेजुबान होती है;
ये तो आँखों से बयाँ होती है;
दोस्ती में दर्द मिले तो क्या?
दर्द में ही दोस्ती की पहचान होती है।
----------
थोड़ा ख्वाब थोड़ी हकीकत हो तुम;
दोस्त की हर जरुरत हो तुम;
जिसे हर रोज sms करने पड़ें;
यार वो अजीब मुसीबत हो तुम।
----------
दोस्ती का वादा तोड़ मत जाना;
हमसे रूठ हमें न रुलाना;
तस्वीर दिल में लिए घूमते हैं;
तस्वीर समझकर हमें भूल मत जाना।
----------
ऐसा दोस्त चाहिए;
जो हमें अपना मान सके;
हमारे हर दुःख को जान सके;
चल रहे हैं हम तेज बारिश में;
फिर भी पानी में से आंसुओं को पहचान सके!
----------
हम अपनी दोस्ती को यादों में सजायेंगे;
दूर रहकर भी आँखों में नजर आयेंगे;
हम वो वक्त नहीं जो बीत जायेंगे;
जब भी याद करोगे चले आयेंगे!
----------
आसमान को नींद आये तो सुलाऊं कहाँ;
धरती को मौत आये तो दफ्नाऊं कहाँ;
सागर में लहर उठे तो छुपाऊं कहाँ;
आप जैसे दोस्त की याद आये तो जाऊं कहाँ।
----------
ना साथी है कोई ना हमसफ़र है कोई;
ना हम किसी के हैं ना हमारा है कोई;
पर आपको याद करके कह सकते हैं कि;
एक प्यार सा दोस्त हमारा भी है कोई।
----------
बहुत खूबसूरत है ये दुआ हमारी;
फूलों की तरह महके ये जिंदगी तुम्हारी;
मुझे क्या और चाहिए जिंदगी में;
बस कभी खत्म न हो ये दोस्ती हमारी।
----------
आसमान हमसे नराज है;
तारों का गुस्सा बेहिसाब है;
वो सब हमसे जलते हैं क्योंकि;
चाँद से बेहतर दोस्त हमारे पास है।
----------
उम्मीदों को टूटने मत देना;
इस दोस्ती को कम होने मत देना;
दोस्त मिलेंगे हमसे भी अच्छे पर;
इस दोस्त की जगह किसी और को मत देना।
----------
ज़िन्दगी के तुफानो का साहिल है तेरी दोस्ती;
दिल के अरमानों की मंजिल है तेरी दोस्ती;
ज़िन्दगी भी बन जायेगी अपनी तो जन्नत;
अगर मौत आने तक साथ दे तेरी दोस्ती।
----------
वक्त बदलता है जिंदगी के साथ;
जिंदगी बदलती है वक्त के साथ;
वक्त नहीं बदलता दोस्तों के साथ;
बस दोस्त बदल जाते हैं वक्त के साथ।
----------
दूर हो जाऊं तो जरा इंतज़ार करना;
अपने दिल में इतना तो ऐतबार करना;
लौट के आयेंगे हम, अगर कहीं चले भी गए तो;
आप बस हमसे ये दोस्ती बरकरार रखना!
----------
दोस्ती के मायने हमसे क्या पूछते हो;
हम अभी इन बातों से अनजान हैं;
सिर्फ एक गुजारिश है कि भूल ना जाना हमें;
क्योंकि आपकी दोस्ती ही हमारी जान है!
----------
जिंदगी में कभी हमारी दोस्ती के बारे में शक हो तो;
अकेले में एक सिक्का उछालना;
अगर हेड आया तो हम दोस्त;
और टेल आया तो पलट देना यार;
अकेले में कौन देखता है।
----------
हर पल की दोस्ती का इरादा है आपसे;
अपनापन भी कुछ ज्यादा है आपसे;
न सोचेंगे सिर्फ उम्र भर के लिये;
क़यामत तक दोस्ती निभायेंगे ये वादा है आपसे।
----------
दूरियों से फर्क पड़ता नहीं;
बात तो दिलों कि नज़दीकियों से होती है;
दोस्ती तो कुछ आप जैसो से है;
वरना मुलाकात तो जाने कितनों से होती है!
----------
बोलती है दोस्ती चुप रहता है प्यार;
हँसाती है दोस्ती रुलाता है प्यार;
मिलाती है दोस्ती जुदा करता है प्यार;
फिर भी लोग क्यों दोस्ती छोड़कर करते हैं प्यार!
----------
कुछ मीठे पल याद आते हैं;
पलकों पर आंसू छोड़ जाते हैं;
कल कोई और मिल जाये तो हमें न भूल जाना;
दोस्ती के रिश्ते जिंदगी भर काम आते हैं।
----------
सादगी में एक अदा इतनी प्यारी लगी;
आपकी दोस्ती हमको सबसे निराली लगी;
ये ना टूटे कभी यही दुआ है;
क्योंकि यही इस दुनिया में यही हमको हमारी लगी!
----------
मुझे इतनी फुर्सत कहाँ कि मैं तक़दीर का लिखा देखूं;
बस अपने दोस्तों की मुस्कराहट देख कर समझ जाता हूँ कि मेरी तक़दीर बुलंद है!
हैप्पी फ्रेंडशिप डे!
----------
अगर मिलती मुझे एक दिन भी बादशाही;
तो ए दोस्तों;
मेरी रियासत में हमारी दोस्ती के सिक्के चलते!
----------
मेरे सभी दोस्तों को समर्पित:
ज़िन्दगी से हर एक मौज मिली;
कभी कभी नहीं हर रोज़ मिली;
बस एक सच्चा दोस्त माँगा था ज़िन्दगी से;
मुझे कमीनो की पूरी फ़ौज मिली।
हैप्पी फ्रेंडशिप वीक!
----------
तेरी दोस्ती तेरी वफा ही काफी है;
तमाम उम्र ये आसरा ही काफी है;
जहाँ कहीं भी मिलो मिल के मुस्कुरा देना;
मेरे जीने के लिए तेरी यह अदा ही काफी है!
----------
ए दोस्त तेरी दोस्ती का क़र्ज़ हर हाल में चुकायेंगे;
तेरे लिए खुदा का कहना भी हम टाल जायेंगे;
ए दोस्त तेरी दोस्ती की कसम;
तेरे लिए इस दिल को भी सीने से अलग कर जायेंगे!
----------
रिश्तों की किताब का कवर है दोस्ती;
दोस्ती अब बनी है हमारी हस्ती;
खून के रिश्तों की बात आप करते हैं;
हमारे लिए तो जिंदगी है आपकी दोस्ती!
----------
एहसास-ए-आरज़ू को दिल से मिटा न सकोगे;
भूलना चाहो हमें भुला न सकोगे;
ये चिराग़-ए-दोस्ती दिल से जलाया हैं हमनें;
जल जाओगे मगर इसे बुझा ना सकोगे!
----------
हम खुद पे गुरुर नहीं करते;
किसी को दोस्ती करने पर मजबूर नहीं करते;
मगर जिसे एक बार दिल में बसा लें;
उसे मरते दम तक दिल से दूर नहीं करते।
----------
दिल को मिला सुकून कोई हमें याद तो करता है;
याद न सही फ़रियाद तो करता है;
आँखों ने ढूंढ लिया है ऐसा दोस्त;
जो बात न सही पर याद तो करता है!
----------
एक चिंगारी अंगार से कम नहीं होती;
सादगी श्रृंगार से कम नहीं होती;
ये तो अपनी-अपनी सोच का फर्क है;
वर्ना दोस्ती भी किसी प्यार से कम नहीं होती!
----------
दूरियों से फर्क पड़ता नहीं;
बात तो दिलों की नज़दीकियों से होती है;
दोस्ती तो कुछ आप जैसो से है;
वर्ना मुलाकात तो जाने कितनों से होती है!
----------
मुस्कुराना ही ख़ुशी नहीं होती;
उम्र बिताना ही ज़िन्दगी नहीं होती;
दोस्त को रोज याद करना पड़ता है;
दोस्ती कर लेना हीं दोस्ती नहीं होती!
----------
खुशियाँ इतनी हो कि आँखों में आंसू जम जायें;
लम्हें हो इतने हसीन कि वक्त भी थम जाये;
दोस्ती निभायेंगे हम आपसे इस तरह कि;
साथ गुजरा हुआ हर पल जिंदगी बन जाये!
----------
सफ़र मोहब्बत का चलता रहे;
सूरज हर शाम ढलता रहे;
कभी न ढलेगी अपनी दोस्ती की सुबह;
चाहे हर रिश्ता रंग बदलता रहे!
----------
प्यार करने वाले की किस्मत खराब होती है;
हर वक्त दुःख की घड़ी साथ होती है;
वक्त मिले तो रिश्तों की किताब पढ़ लेना;
दोस्ती हर रिश्ते से लाजवाब होती है!
----------
तूफ़ान है जिंदगी तो साहिल है तेरी दोस्ती;
सफ़र है मेरी जिंदगी मंजिल है तेरी दोस्ती;
मौत के बाद मिल जायेगी मुझे जन्नत;
जिंदगी भर रहे अगर कायम तेरी दोस्ती!
----------
विश्वास की एक डोरी है दोस्ती;
विश्वास के बिना कोरी है दोस्ती;
बहुत प्यारी है दोस्ती;
ना मानो तो कुछ भी नहीं;
मानो तो रब की भी कमजोरी है दोस्ती!
----------
एक अलग पहचान बनाने की आदत है हमें;
ज़ख्म हो जितना गहरा उतनामुस्कुराने की आदत है हमें;
सब कुछ लुटा देते हैं दोस्ती में;
क्योंकि दोस्ती निभाने की आदत है हमें!
----------
वादा करते हैं दोस्ती निभायेंगे;
कोशिश यही रहेगी तुझे न सतायेंगे;
ज़रूरत पड़े तो दिल से पुकारना;
मर भी रहे होंगे तो मोहलत लेकर आयेंगे!
----------
खुदा की बनाई कुदरत नहीं देखी;
दिलों में छुपी दौलत नहीं देखी;
जो कहता है दूरी से मिट जाती है दोस्ती;
उसने शायद हमारी दोस्ती नहीं देखी!
----------
हक़ीकत मोहब्बत की जुदाई होती है;
कभी-कभी प्यार में बेवफाई होती है;
हमारे तरफ हाथ बढ़ाकर तो देखो;
दोस्ती में कितनी सच्चाई होती है!
----------
अच्छा दोस्त जिंदगी को जन्नत बनाता है;
इसलिए मेरी कद्र किया करो;
वर्ना फिर कहते फिरोगे;
बहती हवा सा था वो;
यार हमारा था वो;
कहाँ गया उसे ढूढों!
----------
अगर हमारा पेन खो जाता है तो हम नया पेन खरीद सकते हैं, पर अगर हमारे पेन का ढक्कन खो जाए तो वह हम दूसरा नहीं खरीद सकते।
इसीलिए मैं तुम्हारी फ़िक्र करता हूँ मेरे दोस्त क्योंकि ज़िन्दगी में ढक्कन बहुत ज़रूरी होते हैं।
----------
दोस्त ऐसा हो कि धड़कन में बस जाये;
सांस भी लूँ तो खुशबु उसकी आये;
उसके प्यार का नशा आँखों पे ऐसा चले;
कि बात कोई भी हो नाम उसका आये!
----------
इंसान को अगर दोस्त ना मिलते तो इस बात को समझना कितना मुश्किल होता की अजनबी लोग भी अपनों से ज़्यादा प्यारे हो सकते हैं।
----------
सच्ची दोस्ती बेजान होती है;
ये तो आँखों से बयाँ होती है;
दोस्ती में दर्द मिले तो क्या;
दर्द में ही दोस्ती की पहचान होती है!
----------
महक दोस्ती की इश्क से कम नहीं होती;
इश्क से जिंदगी ख़तम नहीं होती;
साथ अगर हो जिंदगी में दोस्तों का;
तो जिंदगी जन्नत से कम नहीं होती।
----------
कुछ रिश्ते अंजाने में बन जाते हैं;
पहले दिल से फिर ज़िंदगी से जुड़ जाते हैं;
कहते हैं उस दौर को दोस्ती;
जिसमे अंजाने न जाने कब अपने बन जाते हैं!
----------
कुछ बदली हुई तकदीर नज़र आती है;
दूर तक यादों कि ज़ंजीर नज़र आती है;
मैं देखूं तो क्या देखूं अय दोस्त;
हर चेहरे पर तेरी तस्वीर नज़र आती है!
----------
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं;
तुफानों में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं;
यूँ तो मिल जाता है हर कोई;
मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
----------
यह सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा;
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा;
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी;
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा!
----------
दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तेफाक है;
ये तो दो दिलों की मुलाक़ात है;
दोस्ती नहीं देखती की ये दिन है की रात है;
इसमें तो सिर्फ वफादारी और जज़्बात है।
----------
दोस्त साथ में हो तो रोने में भी शान है;
दोस्त ना हो तो महफ़िल भी श्मशान है;
सारा खेल दोस्ती का है;
वरना जनाजा और बारात, एक समान हैं।
----------
आपकी दुआओं से हमें वो सहारा मिला;
जो मिल न सका वो किनारा मिला;
किन लफ्जों में हम बयाँ करें;
जाने इतनी भीड़ में मुझे दोस्त इतना प्यार मिला।
----------
दोस्त के साथ अंधेरे में चलना उजाले में अकेले चलने से बेहतर है।
----------
सबसे अच्छा दोस्त और महज़ दोस्त के बीच का अंतर:
जब आप अस्पताल में होते हैं।
महज दोस्त, ''तबीयत कैसी है?''
सबसे अच्छा दोस्त, ''नर्स कैसी है?''
----------

यह मत देखो कोई श़ख्स गुनहगार कितना है;
यह देखो वह आपके साथ वफ़ादार कितना है;
यह मत सोचो उसमें क्या-क्या कमजोरियां हैं;
यह देखो कि वह श़ख्स दिलदार कितना है!
----------
खुदा ने अगर ये रिश्ता बनाया ना होता;
एक दोस्त को मुझसे मिलाया न होता;
जिंदगी हो जाती हमारी बेजान;
अगर आप जैसे दोस्त को पाया न होता।
----------
मसरूफ़ हम भी बहुत हैं जिंदगी की उलझनों में दोस्तों;
पर उलझनों में दोस्तों को भुला देना दोस्ती नहीं होती।
----------
अए दोस्त, तेरी दोस्ती पर नाज़ करते हैं;
हर वक्त मिलने की फ़रियाद करते हैं;
हमें नहीं पता घर वाले बताते हैं;
हम नींद में भी आपसे बात करते हैं।
----------
ना आसमान से टपकाए गये हो;
न ऊपर से गिराए गए हो;
कहाँ मिलते हैं आप जैसे दोस्त;
आप तो ऑर्डर देकर बनवाये गए हो।
----------
सभी उम्दा दोस्तों को समर्पित:

ऐसी कौन सी पंक्ति है जिसे आप उल्टा पढ़ो या सीधा दोनों अच्छी लगती हैं।
"हैं जिंदगी तो दोस्ती है।"
----------
ज़ज्बात इश्क नाकाम ना होने देंगे;
दिल की दुनिया में कभी शाम न होने देंगे;
दोस्ती का हर इल्ज़ाम अपने सर पर ले लेंगे हम;
पर दोस्त हम तुम्हें कभी बदनाम न होने देंगे!
----------
आंसू तेरे निकले तो आँखें मेरी हो;
दिल तेरा धड़के तो धड़कन मेरी हो;
खुदा करे दोस्ती हमारी इतनी गहरी हो कि;
सड़क पर तू पिटे और गलती मेरी हो!
----------
दूर हो जाऊं तो जरा इंतज़ार करना;
अपने दिल में इतना तो ऐतबार करना;
लौट के आयेंगे हम, अगर कहीं चले भी गए तो;
आप बस हमसे ये दोस्ती बरकरार रखना।
----------
अजनबी रिश्तों का नाम है दोस्ती;
हर गम की दवा है दोस्ती;
दोस्त बिछड़ जाए तो रोता है दिल;
मगर दोस्ती टूट जाए तो रोती है जिंदगी।
----------
खुदा ने मुझे बहुत वफ़ादार दोस्तों से नवाज़ा है;
क्योंकि
याद अगर मैं ना करूँ तो कोशिश वो भी नहीं करते।
----------
हमारी जिंदगी है दोस्तों की अमानत;
रखना मेरे खुदा सदा उनको सलामत;
देना उन्हें खुशियाँ सारे जहाँ की;
बन जाए वो तारीफ हर एक जुबान की।
----------
हम जब भी आपकी दुनिया से जायेंगे;
इतनी खुशियाँ और अपनापन दे जायेंगे;
कि जब भी याद करोगे इस पागल दोस्त को;
हंसती आँखों से भी आंसू निकल आयेंगे।
----------
आपकी दोस्ती हमारे सुरों का साज़ है;
आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है;
चाहे कुछ हो जाये जिंदगी में;
दोस्ती वैसी ही रहेगी, जैसे आज है।
----------
महक दोस्ती की किसी इश्क से कम नहीं होती;
यह दुनिया इश्क में कफ़न नहीं होती;
अगर साथ हो जिंदगी में सच्चे दोस्तों का;
तो ये जिंदगी किसी जन्नत से कम नहीं होती।
----------
याद रख कर मेरी दोस्ती को तुमने;
मेरी ज़िंदगी पर एक एहसान कर दिया।
इस मोबाइल में यह आखरी रुपया था;
देखो हमने वो भी तेरे नाम कर दिया।
----------
आपकी दोस्ती हमारे सुरों का साज़ है;
आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है;
चाहे कुछ हो जाये जिंदगी में;
दोस्ती वैसी ही रहेगी, जैसे आज है।
----------
तुम हंसो तो ख़ुशी मुझे होती है;
तुम रूठों तो आँखें मेरी रोती हैं;
तुम दूर जाओ तो बेचैनी मुझे होती है;
महसूस करके देखो, दोस्ती ऐसी होती है।
----------
तुम्हारी अदा का क्या जवाब दूँ;
अपने दोस्त को क्या उपहार दूँ;
कोई अच्छा सा फूल होता तो माली से मंगवाता;
जो खुद गुलाब है, उसको क्या गुलाब दूँ।
----------
कामयाबी बड़ी नहीं, पाने वाले बड़े होते हैं;
ज़ख्म बड़े नहीं, भरने वाले बड़े होते हैं;
इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है;
दोस्ती बड़ी नहीं, निभाने वाले बड़े होते हैं!
----------
आंसू बहें तो एहसास होता है;
दोस्ती के बिना जीवन कितना उदास होता है;
उम्र हो आपकी चाँद जितनी लंबी;
आप जैसा दोस्त कहाँ हर किसी के पास होता है।
----------
जो पल पल चलती रहे, उसे जिंदगी कहते हैं;
जो हरपल जलती रहे, उसे रोशनी कहते हैं;
जो पलपल खिलती रहे, उसे मोहब्बत कहते हैं;
जो साथ न छोड़े कभी, उसे दोस्ती कहते हैं।
----------
दोस्त दोस्त नहीं खुदा होता है;
महसूस होता है जब वो जुदा होता है;
बिना दोस्त के जीना सजा होता है;
और दोस्त तुम जैसा हो तो जीवन में मज़ा होता है।
----------
बोलती है दोस्ती, चुप रहता है प्यार;
हंसती है दोस्ती, रुलाता है प्यार;
मिलाती है दोस्ती, जुदा करता है प्यार;
फिर क्यों दोस्ती छोड़कर लोग करते हैं प्यार।
----------
अब और मंजिल पाने की हसरत नहीं रही;
किसी की याद में मर जाने की फितरत नहीं रही;
आप जैसा दोस्त जब से मिला है;
किसी और को दोस्त बनाने की जरुरत नहीं रही।
----------
प्रिय दोस्त,
आपकी जिंदगी में 5 चीज़े कभी भी आ सकती हैं:
हम
हमारा कॉल
हमारा मैसेज
हमारी याद
और हमारी याद से आपके फेस परमुस्कराहट ।
देखो देखो, आई ना। मुस्कुराते रहो।
----------
खुशियों का एक संसार लेकर आयेंगे;
पतझड़ में भी बहार लेकर आयेंगे;
जब भी पुकारेंगे आप दिल से, मेरे दोस्त;
जिंदगी से साँसे उधार लेके आयेंगे।
----------
दोस्ती दिल है, दिमाग नहीं;
दोस्त सोच है, आवाज़ नहीं;
कोई आँखों से नहीं देख सकता दोस्ती का जज्बा;
क्योंकि दोस्ती एहसास है टाइम पास नहीं।
----------
मुस्कान का कोई मोल नहीं होता;
कुछ रिश्तों का तोल नहीं होता;
दोस्त तो मिल जाते हैं हर रास्ते पर;
लेकिन हर कोई आपकी तरह अनमोल नहीं होता।
----------
कामयाबी बड़ी नहीं पाने वाले बड़े होते हैं;
ज़ख्म बड़े नहीं भरने वाले बड़े होते हैं;
इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है;
दोस्ती बड़ी नहीं निभाने वाले बड़े होते हैं।
----------
दोस्ती कोई खोज नहीं होती;
दोस्ती किसी से हर रोज़ नहीं होती;
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना;
क्योंकि पलकें आँखों पर कभी बोझ नहीं होती।
----------
गुनाह करके सज़ा से डरते हैं;
पी के ज़हर दवा से डरते हैं;
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमको;
हम तो दोस्तों की बेवफाई से डरते हैं।
----------
फूलों की वादियों में हो बसेरा तेरा;
सितारों के आंगन में हो घर तेरा;
दुआ है एक दोस्त की एक दोस्त को;
कि तुझसे भी खूबसूरत हो मुक़द्दर तेरा।
----------
जब से आपको जाना है;
जब से आप सा दोस्त पाया है;
हर दुआ में आपका नाम आया है;
दिल कहता है कि पूंछूं उस रब से कि;
क्या इतना प्यारा दोस्त सिर्फ मेरे लिए बनाया है?
----------
फूलों की वादियों में हो बसेरा तेरा;
सितारों के आंगन में हो घर तेरा;
दुआ है एक दोस्त की एक दोस्त को;
कि तुझसे भी खूबसूरत हो मुक़द्दर तेरा।
----------
सोचो अगर हम आपके दोस्त ना होते तो क्या होता?





देखा
कितना खाली-खाली लगता है;
इसलिए कहता हूँ, मुझे मत खोना।
----------
अजनबी गलियों से हम गुजरा नहीं करते;
दर्द-ए-दिल हम लिया और दिया नहीं करते;
ये दोस्ती का रिश्ता सिर्फ तुमसे है;
वर्ना इतने मैसेज हम भी किसी को किया नहीं करते।
----------
कुछ दोस्त पसंद करते हैं:
रेमंड सूटिंग: सन 1925 से चलता आ रहा है।

कुछ पसंद करते हैं:
आई सी आई सी आई बैंक: 8 बजे सुबह से 8 बजे रात तक।

लेकिन हम पसंद करते हैं:
भारतीय जीवन बीमा: जिंदगी के साथ भी; जिंदगी के बाद भी।
----------
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं;
तूफानों में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं;
यूँ तो मिल जाता है हर कोई;
मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं।
----------
न जाने क्यों हमें आँसू बहाना नहीं आता;
न जाने क्यों हाल-ऐ-दिल बताना नहीं आता;
क्यों सब दोस्त बिछड़ गए हमसे;
शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता।
----------
असली हीरे की चमक नहीं जाती;
अच्छी यादों की कसक नहीं जाती;
कुछ दोस्त होते हैं इतने ख़ास;
कि दूर रहने पर भी उनकी महक नहीं जाती।
----------
चाँद को कभी अकेला ना पाओगे;
आगोश में सितारे मिल ही जायेंगे;
कभी अगर तन्हा हो तो आँखें बंद कर लेना;
अनजाने चेहरों में इस दोस्त को ज़रुर पाओगे।
----------
दोस्ती इन्सान की ज़रुरत है;
दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है;
आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ;
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।
----------
दोस्त रुठे तो रब रुठे;
फिर रुठे तो जग छुटे;
अगर फिर रुठे तो दिल टूटे;
और अगर फिर भी वो रुठे:
तो मारो डंडा तब तक जब तक डंडा ना टूटे।
----------
हर कर्ज दोस्‍ती का अदा कौन करेगा;
जब हम ही न रहे तो दोस्‍ती कौन करेगा;
ऐ खुदा मेरे दोस्‍त को सलामत रखना;
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा।
----------
कुछ सितारों की चमक नहीं जाती;
कुछ यादों की कसक नहीं जाती;
कुछ दोस्तों से होता है ऐसा रिश्ता;
कि दूर रहकर भी उनकी महक नहीं जाती।
----------
दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम;
दुनिया के ग़मों को भी हैं जानते हम;
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे;
आज भी हंसकर जीना जानते हैं हम।
----------
दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम;
दुनिया के ग़मों को जानते हैं हम;
आप जैसे दोस्तों के तो सहारे ही;
हंसकर हर पल काटते हैं हम।
----------
सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती;
न करेंगे किसी से वादा;
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा;
कि करना पड़ा दोस्ती का वादा।
----------
तेरी दोस्ती हम इस तरह निभाएँगे;
तुम रोज़ खफा होना हम रोज़ मनाएँगे;
पर मान जाना मनाने से;
वरना ये भीगी पलकें लेकर हम कहाँ जाएँगे।
----------
हमारी दोस्ती कोई सर्दी बुखार नहीं, जो आकर 2-4 दिनों में चली जाए;
ये तो एड्स की तरह है, जो एक बार हो जाए तो मौत के साथ ही जाए।
----------
जो सफ़र की शुरुआत करते हैं;
वो ही मंजिल को पार भी करते हैं;
बस एक बार साथ चलने का हौसला तो रखिये;
अच्छे दोस्तों का तो रास्ते भी इंतज़ार करते हैं।
----------
ऊपर वाला जिनको खून के रिश्ते में बांधना भूल जाता है;
उन्हें दोस्त बनाकर अपनी गलती सुधार लेता है।
मुझे अपना दोस्त स्वकृत करने के लिए, शुक्रिया।
----------
आपकी हंसी बहुत प्यारी लगती है;
आपकी हर ख़ुशी हमें हमारी लगती है;
कभी दूर ना करना खुद से हमें;
आपकी दोस्ती हमें जान से भी प्यारी लगती है।
----------
हम तो प्यार के सौदागर हैं, सौदा सच्चा करते हैं।
लेकिन अगर खरीददार आप जैसा दोस्त हो तो हम मुफ्त में भी बिक जाया करते हैं।
----------
कोशिश करो कोई आपसे ना रूठे;
जिंदगी में अपनों का साथ ना छूटे;
दोस्ती कोई भी हो उसे ऐसा निभाओ;
कि उस दोस्ती की डोर जिंदगी भर ना टूटे।
----------
विश्वास की एक डोरी है दोस्ती;
विश्वास के बिना कोरी है दोस्ती;
कभी थैंक्स तो कभी सॉरी है दोस्ती;
ना मानो तो कुछ भी नहीं;
पर मानो तो रब की भी कमजोरी है दोस्ती!
----------
दोस्ती एक किताब है जो कितनी भी पुरानी हो जाए;
पर उसके अलफ़ाज़ नहीं बिगड़ेंगे!
कभी याद आये तो पन्ना पलटकर देखना;
हमारे दिल के रिश्ते के तार भी वैसे ही कायम मिलेंगे!
----------
जिंदगी एक प्लेटफार्म और प्यार एक ट्रेन की तरह है, जो आती जाती रहती है!
पर पूछ-ताछ काउंटर दोस्त की तरह है जो आपसे हर वक़्त पूछते हैं कि "मैं आपकी क्या मदद कर सकता हूँ"?
----------
अच्छे दोस्त कितनी बार भी बार रूठ जायें, उन्हें मना लेना चाहिए!
क्योंकि वह कमीने आपके सारे राज जानते हैं!
----------
अपनी जिंदगी के अलग असूल हैं;
यार की खातिर तो कांटे भी कबूल हैं;
हंस कर चल दूं कांच के टुकड़ों पर भी;
अगर यार कहे, यह मेरे बिछाए हुए फूल हैं!
----------
दोस्ती के मायने हमसे क्या पूछते हो;
हम तो अभी इन बातों से अनजान हैं!
सिर्फ एक गुजारिश है कि भूल ना जाना हमें;
क्योंकि आपकी दोस्ती ही हमारी जान है!
----------
मन में आपके हर बात रहेगी;
बस्ती छोटी है मगर आबाद रहेगी;
चाहे हम भुला दे ज़माने को;
मगर आपकी यह प्यारी सी दोस्ती हमेशा याद रहेगी!
----------
दोस्ती कोई खोज नहीं होती;
यह हर किसी से हर रोज नहीं होती;
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना;
क्योंकि, पलके कभी आँखों पर बोझ नहीं होती!
----------
वो दिल ही क्या जो वफ़ा ना करे;
तुझे भूल कर जिएं कभी खुदा ना करे;
रहेगी तेरी दोस्ती मेरी जिंदगी बन कर;
वो बात और है, अगर जिंदगी वफ़ा ना करे!
----------
दोस्ती का रिश्ता तो अंजानो को भी जोड़ देता है;
हर कदम पर जिंदगी को नया मोड़ देता है;
वो साथ देते हैं तब;
जब साया भी साथ छोड़ देता है!
----------
दोस्ती इम्तिहान नहीं विश्वास मांगती है;
नज़र और कुछ नहीं, दोस्त का दीदार मांगती है;
जिन्दगी अपने लिए कुछ भी नहीं;
पर आपके लिए दुआएं हज़ार मांगती है!
----------
समुन्दर की ख़ामोशी, उसकी गहराई बताती है;
दोस्तों की कमी, अपनी तन्हाई बताती है;
वैसे तो दोस्त हमेशा प्यारे होते हैं;
पर उनकी कीमत उनकी जुदाई बताती है!
----------
जिसका वजूद नहीं, वह हस्ती किस काम की;
जो मजा न दे, वह मस्ती किस काम की;
जहा दिल न लगे, वो बस्ती किस काम की;
हम आपको याद न करें, तो फिर हमारी दोस्ती किस काम की!
----------
खुदा ने कहा दोस्ती न कर, दोस्ती में तु खो जायेगा;
मैंने कहा, "ए खुदा जमीन पर आकर मेरे दोस्त से तो मिल, तु भी उस पर फ़ना हो जाएगा"!
----------
दोस्ती गुनाह है, तो होने मत देना;
दोस्ती खुदा है, तो खोने मत देना;
जब करना दोस्ती किसी से कभी;
तो उस दोस्त को, रोने मत देना!
----------
दोस्त प्यार से भी बड़ा होता है;
हर सुख और दुःख में साथ होता है;
तभी तो कृष्ण राधा के लिए नहीं, सुदामा के लिए रोता है;
क्योंकि हर एक फ्रेंड को एक फ्रेंड का साथ ज़रूरी होता है!
----------
दोस्तों के लिए समर्पित:
होगे तुम किसी के जानु, बेबी, स्वीटहार्ट, शोना, पोचु और सबकुछ;
.
..
...
हमारे लिए तो तुम कुत्ते थे, कमीने हो और हराम खोर रहोगे!
----------
आपकी दोस्ती हमारे सुरों का साज है;
आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है;
चाहे कुछ भी हो जाये जिंदगी में;
दोस्ती कल भी वैसी ही रहेगी, जैसी आज है!
----------
जिंदगी नहीं हमें दोस्तों से प्यारी!
दोस्तों पर हाजिर है, जान हमारी!
आँखों में हमारी आंसू हैं तो क्या;
जान से भी प्यारी है मुस्कान तुम्हारी!
----------
कौन कहता है दोस्त, तुमसे हमारी जुदाई होगी;
ये खबर किसी और ने उड़ाई होगी;
शान से रहेंगे हम आपके दिल में;
दोस्ती के इस खेल में हमने;
कुछ तो जगह बनाई होगी!
----------
लोग कहते हैं कि इतनी दोस्ती मत करो की दोस्ती दिल पर सवार हो जाए!
हम कहते हैं कि दोस्ती इतनी करो की दुश्मन को भी तुमसे प्यार हो जाए!
----------
मत ढूढ़ ऍय दोस्त, कमजोरियां मुझमें;
तु भी तो शामिल है, मेरी कमजोरियों में!
----------
बहुत खूबसुरत है, यह साथ तुम्हारा;
बना दीजिये इससे किस्मत हमारी;
उसे और क्या चाहिए दुनिया में;
जिसे मिल गयी हो, दोस्ती तुम्हारी!
----------
एक दिन मुस्कुराहट ने हमसे पूछा;
हर पल हमें क्यों भूल जाते हो!
याद तो हम अपने दोस्तों को करते हैं;
तुम क्यों चले आते हो!
----------
सुना है, खुदा के दरबार से कुछ फ़रिश्ते फरार हो गए;
कुछ तो वापस चले गए; और कुछ हमारे यार हो गए!
----------
फ्रेंडस ढाबा:
मेनू:
सादगी की रोटी
भरोसे कि सब्जी
प्रेम की दाल
प्रेरणा का अचार
विश्वास का रायता
सम्मान का सलाद
प्यार का पुलाव
दोस्ती का मीठा
आपका बिल? सिर्फ एक "एस एम् एस"!
मेरी टिप: सिर्फ आपकी मुस्कान!
----------
दोस्ती नाम हैं, सुख दुःख की कहानी का;
दोस्ती राज़ हैं, सदा मुस्कुराने का;
यह कोई पल भर की पहचान नहीं;
दोस्ती नाम हैं, उम्र भर साथ निभाने का!
----------
दोस्त तेरा बहुत सहारा है;
वरना इस दुनिया में कौन हमारा है;
लोग मरते हैं, मौत आने पर;
हमें तो, आपकी दोस्ती ने मारा है!
----------
एक दिन प्यार और दोस्ती मिले!
प्यार ने पूछा मेरे होते हुए तुम्हारा यहाँ क्या काम?
दोस्ती बोली मैं उन होंटों पर मुस्कान लाती हूँ जिन आँखों में तुम आंसू छोड़ देती हो!
----------
दोस्तों से बिछड़ के यह एहसास हुआ, ग़ालिब;
थे तो कमीने लेकिन रौनक भी उन्ही से थी!
----------
मेरी दोस्ती का अंदाज़ा न लगा पाओगे;
खुद को भूल जाओगे, मगर हमको न भूल पाओगे!
एक बार हमसे जुदा होकर तो देखो;
क़सम तुम्हें हमारी दोस्ती की, हमारे बगैर जीना भूल जाओगे!
----------
दोस्ती होती नहीं, भूल जाने के लिए;
दोस्त मिलते नहीं, बिखर जाने के लिए;
दोस्ती करके खुश रहोगे इतना;
की वक़्त ही नहीं मिलेगा, आंसू बहाने के लिए!
----------
कोई कहता है चाँद है सबसे प्यारा;
कोई कहता है सितारा है सबसे प्यारा;
मेरे ख्याल से वही है सबसे प्यारा;
जो पढ़ रहा है "एस ऍम एस" हमारा!
----------
उसकी दोस्ती का सिला हर हॉल में देंगे;
खुदा ने कुछ कहा तो उसे भी हम टाल देगे;
दिल ने अगर कहा वो सच्चा दोस्त है;
तो उसकी दोस्ती की कसम, दिल को सीने से निकाल देंगें!
----------
दोस्तों से बिछड़ के यह एहसास हुआ ग़ालिब, थे तो कमीने लेकिन रौनक भी उन्ही से थी!
----------
अगर तुम परीक्षा में पास हो जाते हो तो...
माँ: कितनी ख़ुशी की बात है!
बाप: मेरा बेटा शेर है!
लवर: सो स्वीट!
और...
दोस्त: कुत्ते! कमीने! ज़लील! तू इतना कब पढ़ा?
----------
ज़िन्दगी में हमेशा नए दोस्त मिलेंगे;
कही ज्यादा तो कही कम मिलेंगे;
एतबार जरा सोचकर करना;
मुमकिन नही तुम्हें हर जगह हम मिलेंगे!
----------
गजब की पंक्तियाँ:
जो दोस्त कमीने नहीं होते,
वो कमीने, दोस्त ही नहीं होते!
----------
मेरी झोली में कुछ अलफ़ाज़ अपनी दुआओ के डाल देना, ऐ दोस्त;
क्या पता, तेरे लब हिले और मेरी तकदीर सवर जाये!
----------
एक दिन प्यार और दोस्ती मिले!
प्यार ने पूछा मेरे होते हुए तुम्हारा यहाँ क्या काम?
दोस्ती बोली मैं उन होंटों पे मुस्कान लाती हूँ जिन आँखों में तुम आंसू छोड़ देती हो!
----------
दोस्ती से प्यारा कोई रिश्ता नही होता;
दुनिया में हर कोई इसे मिटा नही सकता;
हमारा तो आप से वो रिश्ता है;
जिसे दुनिया तो क्या खुदा भी मिटा नही सकता!
----------
मैं कहूँ और आप सुनो वो अच्छी दोस्ती;
आप कहो और मैं सुनूँ वो उससे भी अच्छी दोस्ती;
पर मैं कुछ भी न कहूँ और आप समझ जाओ तो वो है सच्ची दोस्ती!
----------
फूलों की महक को चुराया नही जाता;
सूरज की किरणों को छुपाया नही जाता;
कितने भी दूर रहो ए दोस्त तुम;
दोस्ती में आप जैसे दोस्त को भुलाया नही जाता!
----------
स्वीट सा टाइम देख कर अपने स्वीट से दोस्त की स्वीट सी याद आई तो सोचा की स्वीट सा एस एम एस कर दूँ ताकि हमारी स्वीट सी दोस्ती में थोड़ी स्वीटनेस और बढ़ जाये!
----------
स्कूल की लाइफ 10+2 तक;
कॉलेज की लाइफ पढ़ो जब तक;
लव की लाइफ शादी तक;
पर हमारी दोस्ती की लाइफ फरवरी 31 तक!
----------
यकीन पे यकीन दिलाते हैं दोस्त;
राह चलते को बेवकूफ बनाते हैं दोस्त;
शरबत बोल के दारू पिलाते हैं दोस्त;
पर कुछ भी कहो साले बहुत याद आते हैं दोस्त!
----------
कुछ दोस्त ज़िन्दगी में इस तरह शामिल हो जाते है;
अगर भुलाना चाहो तो और याद आते है;
बस जाते ही वो दिल में इस तरह कि,
आँखे बंद करो तो सामने नज़र आते है!
----------
खवाइश दिल से जताई नहीं जाती;
दोस्तों की याद यूँ ही भुलाई नही जाती;
चलो हम ही एस एम एस कर देते है;
दोस्तों से तो तकलीफ उठाई नही जाती!
----------
जबसे आपको जाना है, जबसे आपको पाया है, हर दुआ में मेरी आपका नाम आया है!
दिल करता है पूछूं उस खुदा से कि तूने इतना प्यारा दोस्त क्या सिर्फ मेरे लिए बनाया है?
----------
दोस्ती का मतलब एक प्यारा सा दिल जो कभी नफरत नही करता!
एक प्यारी मुस्कान जो फीकी नही पड़ती, एक एहसास जो कभी दुःख नही देता और एक रिश्ता जो कभी खत्म नही होता!
----------
'वक़्त, दोस्त और रिश्ते;
ये वो चीजें हैं जो हमें मुफ्त मिलती हैं!
मगर इनकी कीमत का तब पता चलता है, जब ये कहीं खो जाती हैं!
----------
लोग दौलत देखते हैं, हम इज़्ज़त देखते हैं,लोग मंज़िल देखते हैं,
हम सफ़र देखते हैं,लोग दोस्ती बनाते हैं, हम उसे निभाते हैं.

दिल मैं में जिनको भी जगह देता हूँ खुद से ज़्यादा मैं उनका ख्याल रखता हूँ
जैसे के तुम मेरे दोस्त.

Sukoon sa Dil ko Milta hai Aey Dost,
Tere Dil me Apne liye Apnapan Dekh Kar.

Maza aata h kisi ko stane me,
Ruthe na koi to maza kya manane me,
Ek dosto se hi to khushi h,
Warna rakha kya h es zindgi or zamane me.

आओ ….. ताल्लुकात को कुछ और नाम दें,
ये दोस्ती का नाम तो बदनाम हो गया..

हम वक्त गुजारने के लिए
दोस्तों को नही रखते,
दोस्तों के साथ रहने केलिए वक्त रखते है.

सच्चे दोस्त हमे कभी गिरने नहीं देते,
ना किसी कि नजरों मे, ना किसी के कदमों मे.!!

लोग रूप देखते है ,हम दिल देखते है ,
लोग सपने देखते है हम हक़ीकत देखते है,
लोग दुनिया मे दोस्त देखते है,
हम दोस्तो मे दुनिया देखते है.

लोग पूछते हैं इतने गम में भी खुश क्युँ हो..
मैने कहा दुनिया साथ दे न दे.. मेरा दोस्त तो साथ हैं.”

एक बात हमेशा याद रखना दोस्तों
ढूंढने पर वही मिलेंगे जो खो गए थे,
वो कभी नहीं मिलेंगे जो बदल गए है.

मेरे “शब्दों” को इतने ध्यान से ना पढ़ा करो दोस्तों,
कुछ याद रह गया तो.. मुझे भूल नहीं पाओगे!

Dua karte hain hum sar jukaye,
Aye dost tu apni manzil hamse jaldi paye

अपनी दोस्ती का बस इतना सा उसूल है…
ज़ब तू कुबूल है तो तेरा सब कुछ कुबूल है….

कोन कहेता है की दोस्ती बराबरी वालो में होती है..
सच तो ये है की दोस्ती में सब बराबर होता है.

दोस्ती अच्छी हो तो रंग़ लाती है
दोस्ती गहरी हो तो सबको भाती है
दोस्ती नादान हो तो टूट जाती है
पर अगर दोस्ती अपने जैसी हो
तो इतिहास बनाती है…..!!!!!!!

Apun Ki Zindagi Me Rakha Hi Kya Hai..
Kuch Taswire Yaar Ki.
Baki Bottle Sharab Ki.

अच्छा दोस्त ज़िन्दगी को जन्नत बनाता है,
इसलिए मेरी कदर किया करो,
वरना फिर कहते फिरोगे,
बहती हवा सा था वो यार हमारा था वो
कहाँ गया उसे ढूढो.

ऐ दोस्त मै तेरी खुशीयां बाटने शायद न आ सकुं,
पर ये वादा रहा,
जब गम आऐ तो खबर कर देना, सारे के सारे ले जाउंगा.

लोग दौलत देखते हैं, हम इज़्ज़त देखते हैं,
लोग मंज़िल देखते हैं, हम सफ़र देखते हैं,
लोग दोस्ती बनाते हैं, हम उसे निभाते हैं.

जिन्दगी जख्मो से भरी है,
वक्त को मरहम बनाना सीख लो,
हारना तो है एक दिन मौत से,
फिलहाल दोस्तों के साथ जिन्दगी जीना सीख लो..!!

दोस्त तो दोस्त होता है, उसकी कोई जात या धर्म नही होता,
वो ख़ुशी के टाइम पे भी गालियाँ सुनता है और बुरे टाइम पे भी।

Teri dosti mein khud ko mehfooz maante hain,
Hum doston me tumhe sabse azeez maante hai.
Teri dosti ke saaye mein zinda hain,
Hm to tujhe khuda ka diya hua tabeez mante hai.

Dosti ka shukriya kuch is trah ada karu,
Aap bhul bhi jao to main yaad karu,
Dosti ne bas itna sikhaya hai muze
Ke khud se pahle apke liye dua karu.

Teri dosti ka rista pyara hai itna ke,
Har kadam pay muskuratay hain hum..!!

ए दोस्त…..
कौन कहता है की मुझ में कोई कमाल रखा है……
मुझे तो बस कुछ दोस्तो ने संभाल रक्खा है……

Dosti imtihan nahi vishwas mangti hai..
nazar aur kuchh nahi dost ka didar mangti hai…
Zindagi apne liye kuchh bhi nahi,
par dosto ke liye dua hazar mangti hai…

Rishto se badi chahat kya hogi,
dosti se badi ibadat kya hogi,
jise dost mil jaye AAp jaisa,
use zindgi se shikayat kya hogi.

Faasle mita kar aapas main pyaar rakhna,.
dosti ka ye rishta hamesha barkaraar rakhna,
bichhad jaaye kabhi aapse hum,
aankhon main hamesha hamara intzaar rakhna…

Zindagi bhi hum apni khushi se luta de,
agar khuda hamari umar apko laga de
aur khuda se chahte kuch bhi nahi bas
hr janam me apko hamara dost bana de

Hastiya mit gai naam kamane m,
Umar beet gai khusiya paane m,
Ek pal me dur na ho jana humse,
Hame to saalo lage hai,
Aap jaisha DOST pane me

Dosti Karo To Hamesha Muskra K,
Kisi Ko Dhoka na Do Apna Bana K,
Kar lo yaad Jab Tak Hum Zinda hai,
Fir na Kehna Chale Gaye Dil Me Yade basa ke

Meri dosti ke sare ehsas le lo,
Dil Se pyar ke sare jajbat le lo,
Nhi chorenge saath tumhare,
Is dosti ke chahe hazaron imtehan le lo…

Har din ye dil akela hota hai,
Har ek pal uske bina adhura hota hai,
Koi yaad karta h koi bhoola deta hai,
Par har ek friend zaroori hota hai…

Teri dosti ne diya sakun itna,
Ki tere baad koi bhi accha na lage,
Tujhe karni ho bewafai to is ada se karna,
Ki tere baad koi bhi bewafa na lage…

Kabhi dil ki kamzori bankar reh jati he,
Kabhi waqt ki majburi bankar reh jati he,
Ye dosti wo pani he,
Jitna bhi piyo pyas adhuri reh jati he…..

Kuch Rishte Iss Jahaan Mein Khaas Hote Hai;
Hawa Ke Rukh Se Jin Ke Ehsaas Hote Hai;
Yeh Dil Ki Kashish Nahi To Aur Kiya Hai Doston;
Door Reh Kar Bhi Woh Dil Ke Kitne Paas Hote Hai!.

दोस्त को दोस्त का इशारा याद रहेता हे,
हर दोस्त को अपना दोस्ताना याद रहेता हे,
कुछ पल सच्चे दोस्त के साथ तो गुजारो,
वो अफ़साना मौत तक याद रहेता हे|

Dosti ka shukriya kuch is trah ada karu,
Aap bhul bhi jao to main yaad karu,
Dosti ne bas itna sikhaya hai muze
Ke khud se pahle apke liye dua karu.

Suna Hai Khuda Ke Darbar Se..
Kuch Farishtey Faraar Ho Gaye..
Kuch to Vaapas Chale Gaye..
Aur Kuch Humare Yaar Ho Gaye.

Milna bichdna sab kismat ka khel hai,
Kabhi nafrat to kabhi dilo ka mail hai,
Beek jata hai har rishta duniya me,
Sirf dosti hi yaha “NOT FOR SALE” hai.

Manzilo Se Apni Kabhi Dar Na Jaana,
Raastey Ki Pareshaaniyo Se Kahi Toot Na Jaana,
Jab B Zaroorat Ho Zindagi Me Kisi Apne Ki,
Hum Aapke Apne Hi Hai Yeh Bhool Na Jaana!

umar ki rah me insaan badal jata hai,
waqt ki aandhi me tufan badal jata hai,
sochta hun tumhe pareshan na karu,
lekin baad me irada badal jata hai.

yaad tumhari na aye aisa ham hone na denge,
dost tumhare jaisa ham khone nahi denge,
ek do SMS karte rahna,
warna raat ko ham sone nahi denege.

hame ek aisa sathi chahiye,
jo hame apna maan sake,
hamare har dukh-dard ko jo baat sake,
jab ham chal bhi rahe ho tez barish me,
to hamare behte hue ansu ko vo pehchan sake.

Teri dosti ki aadat si pad gayi hai mujhe,
Kuch der tere sath chalana baki hai.
Shamshan mein jalta chodkar mat jana,
Warna ruh kahegi k ruk ja,
Abhi tere yaar ka dil jalna baki hai.

करनी है खुदा से गुजारिश,
तेरी दोस्ती के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जनम में मिले दोस्त तेरे जैसा,
या फिर कभी जिंदगी न मिले।

गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है.

Dooriya Toh Dosti Me Aati Rehti Hai,
Phir B Ye Dosti Dilon Ko Mila Detee Hain,
Wo Dost Hi Kya Joh Naraaz Na Ho,
Magar Sachi Dosti Doston Ko Mana Leti Hain!

वातावरण को जो महका दे उसे ‘इत्र’ कहते हैं,
जीवन को जो महका दे उसे ही ‘मित्र’ कहते हैं

Maangi thi jab humne dua rab se,
Dena mujhe wo dost ho jo alag sabse,
Usne hume mila diya aapse aur kaha
Sambhaalo inhe yeh anmol hai sab se.

Bade ajeeb hain ye zindagi ke raaste,
anjane mod par kuchh log dost ban jate hain,
milne ki khushi de ya na de
bichhadne ka gam zarur de jate hain…

दोस्ती नाम है सुख दुख की कहानी का,
दोस्ती नाम है सदा मुस्कुराने का,
यह कोई पल भर की पहचान नही,
दोस्ती नाम है सदा साथ निभाने का.

याद तुम्हारी ना आए ऐसा हम होने ना देंगे,
दोस्त तुम्हारे जैसा हम खोने नही देंगे,
एक दो स्मस करते रहना,
वरना रात को हम सोने नही डेनेगे.

Dosti Karo To Hamesha Muskra K,
Kisi Ko Dhoka na Do Apna Bana K,
Kar lo yaad Jab Tak Hum Zinda hai,
Fir na Kehna Chale Gaye Dil Me Yade basa ke..

Rishto se badi chahat kya hogi,
dosti se badi ibadat kya hogi,
jise dost mil jaye AAp jaisa,
use zindgi se shikayat kya hogi.

Aankhon Mein Basne Wale Pyara Sa Ishara Ho
Andheri Raat Me Chamkta Sitara Ho
Chubh Nahi Sakti Udasi kabhi usko
Jiska Koi Dost Itna Pyara Ho.

Pyaar aur dosti mein itna fark paya hai.
Pyaar ne sahaara diya aur dost ne nibhaaya hai.
Kis rishte ko gehara kahu?
Ek ne zindagi di aur dusre ne jeena sikhaaya hai.

Dosti Najaron Se Ho To Kudrat Kehte Hai,
Sitaron Se Ho To Jannat Kehte Hai,
Husn Se Ho To Mohabbat Kehte Hai,
Aur Aapse Ho To Use Kismat Kehte Hai.

Kehte hain dost banana zindagi hai
Dosti nibhana zindagi hai
Kitne bhi busy kyun na rahe din bhar
Magar ek pal ke liye hi sahi
Doston ki yaad aana hi zindagi hai

Kuchh fasle sirf aankhon se hote hain,
Dil ke fasle do baton se hote hai,
Koi lakh bhulane ki koshish kare,
Par dosti ke rishte khatam sirf saanson se hote hai.

Waqt bahut kam hai sath bitane ke liye,
Isko na ganwana kabhi roothne manane ke liye,
Dosti to hamne kar li aap se,
Bas thoda sa sath dena is ko nibhane ke liye.

Jaam pe jaam pine se kya fayada,
Shaam ko pee subaha phir utar jayegi,
Peena hai to do bund dosti ke pee,
Sari zindagi teri nashe mein guzar jayegi.

Dost ka pyar dua se kam nahi hota,
Woh chahe door ho phir bhi koi gham nahi hota,
Aksar pyar mein dosti kam ho jati hain,
Magar dosti mein pyar kabhi kam nahi hota.

Kitne azeez ho tum ye batayein kaise,
Hamari sachchai aap ko dikhayein kaise,
Aapki dosti hai anmol hamare liye,
Aapko chand lafzon mein samjhayein kaise.

Tere dosti me ek nasha hai,
Tabhi to yeh saari duniya hamse khafa hai,
Naa karo hamse itni dosti,
Ki dil hi hamse puchhe teri dhadkan kahan hai.

Dosti to sirf ittifaq hai,
Yeh to dillon ki mulaqat hai..
Dosti nahi dekhti ye din hai ki raat hai,
Isme to sirf wafadari or jazbaat hai..!

Tere dosti mein mujhe hogaya hai fever,
Tere dosti mein mujhe hogaya hai fever,
DEBIT the receiver, CREDIT the giver!!

“इश्क के सहारे जिया नहीं करते,
गम के प्यालों को पिया नहीं करते,
कुछ नवाब दोस्त हैं हमारे,
जिनको परेशान न करो तो वो याद ही किया नहीं करते.”

Dosti Ki Mahek Ishq Se Kam Nahi Hoti,
Ishq Pe Hi Zindgi Khatm Nahi Hoti,
Agar Sath Ho Zindgi Mein Achche Doston Ka,
Zindagi Kisi Jannat Se Kam Nahi Hoti.

Dosti aisi ho ke dhadkan main bas jaye.
Saans bhi loo to khushboo yaar uski aaye..!

Dosti dard nahi khushiyo ki sogat hai
Kisi apne ka jindgi bhar ka sath hai
Ye to dilo ka wo khubsurat ahsas hai
Jiske dam se rosan ye sari kaynaat hai

Dosti mein duriyaan toh aati jaati rehti hain,
Fir bhi dosti dilon ko milati rehti hain,
Woh dost hi kya jo naaraz na ho,
Par sachchi dosti doston ko manati rehti hain.

Dosti ki judaai ka gham mat karna,
Door rehke bhi dosti kam mat karna,
Agar milaaye zindagi kisi modh pe,
To humein dekh kar aankhein band mat karna.

Dosti aur Pyaar nadi pe gumne gye…
Pyaar nadi me gir gya Q?
Qki pyaar andha hota hai
Uske piche dosti bhi gir gai Q?
Qki dosti kisi ka sath nahi chodti.

Rate gumnaam hoti hai,
Din kisi ke naam hota hai,
Hum zindagi kuch iss tarahjeete hain,
Ki har lamha sirf doston ke hi naam hota hai.

Mehak dosti ki ishq se kam nahin hoti,
Ishq se duniya khatam nahin hoti,
Agar saath ho zindagi me doston ka,
To kathor zindagi bhi kisi jannat se kam nahin hoti.

Aapkee Dosti Per Maan Hai Mujhe,
Kall Tha Jitna Bhrosa Utna Aaj Hai Mujhe,
Dost Voh Nhi Jo Sukh Mein Saath Rahe,
Dost Vahi Hai Jo Hardum Apnepan Ka Ehsass De…

क्यूँ मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त
क्यूँ गम को बाँट लेते हैं दोस्त,
न रिश्ता खून का न रिवाज से बंधा है,
फिर भी ज़िन्दगी भर साथ देते हैं दोस्त

दोस्ती होती है दिले राज़ बताने के लिए,
हम अपनी हानशी मिटा दें आपको हसने के लिए,
मिलने की तो आपको फ़ुर्सत नही,
तो हम स्मस करते हैं अपनी याद दिलाने के लिए.

उमर की रह मे इंसान बदल जाता है,
वक़्त की आँधी मे तूफान बदल जाता है,
सोचता हूँ तुम्हे परेशन ना करू,
लेकिन बाद मे इरादा बदल जाता है.

Dosti Ek Gunaah Hai Toh Hone Mat Denaa
Dosti Khudaa Hai Toh Khoney Mat Denaa
Karte Ho Dosti Jab Kisi Se Toh Kabhi Us
Dost Ko Rone Na Denaa!!

Dosti Ki Tadap Ko Dikhaya Nhi Jata
Dil Mein Lagi Aag Ko Bhulaya Nhi Jata
Kitni Bhi Doori Ho Dosti Mein Aap Jaise
Dost Ko Bhulaya Nhi Jata!

Dosti Koi Khoj Nahi Hoti
Yeh Har Kisi Se Har Roz Nahi Hoti
Apni Zindagi Mein Hume Be Wajah
Mat Samajhana Kyunki Palkhein Aankhon
Par Kabhi Bhoj Nahi Hoti!

भूलना चाहो तो भी याद हमारी आएगी!
दिल की गहराई मे हमारी तस्वीर बस जाएगी!!
ढूढ़ने चले हो हमसे बेहतर दोस्त!
तलाश हमसे शुरू होकर हम पे ही ख़त्म हो जाएगी!!

Tumhari is ada ka kya jawab du,
apne dost ko kya uphar du,
koi achcha sa phool hota to mali se mangvata,
jo khud gulab hai usko kya gulab du.

Labo se chu kar ik jaam dete jana,
Hathon se apne ik paigam dete jana,
Meri mohabbat ko thukraya jo tune,
To ise dosti ka nam dete jana.

Ham tere dil mein rahenge ek yaad bankar,
Tere lab pa khilenge muskaan bankar,
Kabhi hamein apne se juda na samajhna,
Hum tere saath challenge aasmaan bankar.

दोस्तों की कमी को पहचानते है हम;
दुनियाँ के गमों को भी जानते है हम;
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे,
आज भी हँस कर जीना जानते है हम!!

Dosti imtihan nahi viswas mangti hai,
Nazar aur kuch nahi dost ka deedar mangti hai,
Zindagi apne liye kuch nahi par aapke liye,
Dua hazaar mangti hai…

Pyar Ki Masti Kisi Dukan Mein Nahi Bikti
Acche Doston Ki Dosti Har Waqt Nahi Milti
Rakhna Dosti Ki Ahmiyat Dil Mein Sajakar
Kyunki Yaaron Ki Yaari Kabhi Gairo Se Nahi Milti.

Na chahat hai sitaron ki, Na tamanna hay nazaroon ki,
Aap jaisa aik Dost mila kya zarorat hay hazaron ki.

Kuch dair ka intazar mila hum ko par sab se sweet yaar mila hum ko,
Na rahi tamanna kisi Aur ki teri Dosti se wo pyar mila hum ko..!

Hum to dosti ke saudagar hai DIL ka sauda kar Jayege,
agar honge aap hamari dosti ke kharidar to dosti ki kasam
hum muft mei bikk jayege.

Kuch Rishtey Anjaane Mein Ban Jaate Hain
Pehle Dil Se Phir Zindagi Se Jud Jaate Hain
Kehte Hain Uss Daur Ko Dosti
Jismein Anjaane Na Jaane Kab Apne Ban Jaate Hain

Itihaas Ke Har Panne Par Likha Hai
Dosti Kabhi Badi Nahi Hoti
Nibhane Wale Hamesha Bade Hote Hain

Khushiyan Itni Ho Ki Aankhon Mein Aasu Jam Jaaye
Lamhe Ho Itne Haseen Ki Waqt Bhi Tham Jaaye
Dosti Nibhayeinge Hum Aapse Iss Tarah Ki
Sath Gujra Hua Har Pal Zindagi Ban Jaaye…

Phoolon Ki Mahak Ko Churaya Nahi Jaata
Sooraj Ki Kirno Ko Chupaya Nahi Jaata
Kitne Bhi Door Raho Aye Dost Tum
Dosti Mein Aap Jaise Dost Ko Bhulaya Nahi Jaata

“हम अपने पर गुरुर नहीं करते,
याद करने के लिए किसी को मजबूर नहीं करते.
मगर जब एक बार किसी को दोस्त बना ले,
तो उससे अपने दिल से दूर नहीं करते.”

“कोई दोस्त कभी पुराना नहीं होता,
कुछ दिन बात न करने से बेगाना नहीं होता,
दोस्ती में दुरी तो आती रहती हैं,
पर दुरी का मतलब भुलाना नहीं होता.”

Teri dosti mein khud ko mehfooz maante hain,
Hum doston me tumhe sabse azeez maante hai.
Teri dosti ke saaye mein zinda hain,
Hm to tujhe khuda ka diya hua tabeez mante hai.

Chal Raha Tha Tanha Zindagi Ke Safar Mein,
Kuch Nahi Tha Mayoos Baithe Dil Mein,
Jab Se Bana Diya Khuda Ne Aapko Dost Mera,
Jannat Le Kar Aayi Dosti Tumhari Meri Sunsaan Zindagi Mein…

Kabhi Pasnd Na Aaye Meri Dosti To Saaf Keh Dena Dost,
Qasam Se.,Hans Kr Chale Jaengy Teri Zindagi Se Teri Khushi Ki Khatir

Dosti ka rista do anjano ko jod deta hai,
har kadam per zindgi ko nya mod deta hai,
saccha dost sath deta hai tab,
jab apna saya bhi sath chod deta hai..