Dooriyaan shayari

दूरियां ही दोस्तों को नज़दीक लाती हैं;
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;
दूर रहकर है करीब दोस्त कितना;
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
----------
ना दूर हमसे जाया करो, दिल तड़प जाता है;
आपके ख्यालों में ही हमारा दिन गुज़र जाता है;
पूछता है यह दिल एक सवाल आपसे;
कि क्या दूर रहकर भी आपको हमारा ख्याल आता है।
----------
तमाम उम्र ज़िंदगी से दूर रहे;
आपकी ख़ुशी के लिए अपनी ख़ुशी से दूर रहे;
अब इससे बढ़कर वफ़ा की सज़ा क्या होगी;
कि आपके होकर भी आप से दूर रहे।
----------
देख ज़रा नाराज़ है कोई शख्स तेरे जाने से;
हो सके तो लौट आ किसी बहाने से;
तू लाख ख़फ़ा सही पर एक बार तो देख;
कोई टूट गया है तेरे दूर जाने से।
----------
काश वो पल संग बिताये न होते;
जिनको याद कर आज ये आँसू आये न होते;
अगर इस तरह उनको मुझसे दूर ले जाना था;
तो इतनी गहराई से दिल मिलाये न होते।
----------
तमाम उम्र ज़िंदगी से दूर रहें आपकी;
ख़ुशी के लिए अपनी ख़ुशी से दूर रहें;
अब इससे बढ़कर वफ़ा की सज़ा क्या होगी;
कि आपके होकर भी आपसे दूर रहे।
----------
ना दूर मुझसे जाया करो, दिल तड़प जाता है;
हमेशा तेरे ख्यालों में दिन गुज़र जाता है;
दिल ने एक सवाल पूछा था तुमसे;
क्या दूर रह कर तुम्हें भी मेरा ख्याल आता है।
----------
अब अगर जुबान से नाम लेते हैं;
तो इन आँखों में आँसू आ जाते हैं;
कभी घंटो बातें किया करते थे;
और अब एक लफ्ज़ के लिए तरस जाते हैं।
----------
है अगर दूरियां बहुत तो इतना समझ लो;
कि पास रह कर भी कोई रिश्ता ख़ास नहीं होता;
हो तुम मेरे दिल के पास इतने कि;
दूर रह कर भी दूरियों का एहसास नहीं होता।
----------
गिला आपसे नहीं कोई;
गिला अपनी मज़बूरियों से करते हैं;
आप आज हमारे करीब ना सही;
मोहब्बत तो हम आपकी दूरियों से भी करते हैं।
----------
हो सकता है कि हम साथ रह न पायें;
एक दूसरे से कभी कुछ कह न पायें;
मत बढ़ाओ इतनी नज़दीकियां तुम;
कि हम दूरियां फिर सह न पायें।
----------
दूरियां बहुत हैं मगर इतना समझ लो;
पास रह कर ही कोई ख़ास नहीं होता;
तुम इस कदर पास हो मेरे दिल के;
मुझे दूरियों का एहसास नहीं होता।
----------
अगर ज़िद्द तुम्हारी रुठने की है;
तो हमारी ज़िद्द भी तुम्हें मनाने की है;
तुम लाख कोशिश करो हमसे दूर जाने की;
हमारी कोशिश बस ये दूरियां मिटाने की है।
----------
दूरियां होते हुए भी सफर वही रहता है;
कोई साथ न हो पर हमसफ़र वही रहता है;
बहुत मुश्किल है ये सफ़र मोहब्बत का;
दूर होकर भी पास होने का एहसास वही रहता है।
----------
अभी कुछ दूरियां तो कुछ फांसले बाकी हैं;
पल-पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी है;
हमें यकीन है कि कुछ ढूंढ़ता हुआ वो आयेगा ज़रूर;
अभी वो हौंसले और वो उम्मीदें बाकी हैं।
----------
दिल तोड़ना शायद उनकी आदत सी हो गयी है;
वरना वो तो फूल भी नहीं तोड़ते थे;
आज हमसे दूर-दूर से रहते हैं वो;
एक वक़्त था जब साथ नहीं छोड़ते थे वो!
----------
अब तो यह चांदनी भी हमें जलाती है;
भरी महफ़िल में भी तन्हाई हमें सताती है;
जब से दूर गए हो तुम हमसे;
हमारी आँखें हर पल दब-दबाती हैं।
----------
आँसुओं की आवाज़ कुछ और होती है;
दूरियों की आग कुछ और होती हैं;
कौन चाहता है तुम से दूर रहना,
मगर मज़बूरियों की बात कुछ और होती है।
----------
दूरियों से फर्क पड़ता नहीं;
बात तो दिलों की नज़दीकियों से होती है;
दोस्ती तो कुछ आप जैसों से है;
वरना मुलाकात तो जाने कितनों से होती है।
----------
आपसे दूर जाने का इरादा भी ना था;
सदा साथ रहने का वादा भी ना था;
आप भुल जाओगे हमे ये तो जानते थे;
पर इतनी जल्दी भुल जाओगे ये अंदाजा ना था।
----------
कोई दूर है तो कोई पास है;
यह वक़्त-वक़्त की बात है;
हम तुम दूर हैं तो क्या हुआ;
आपकी चाहत की यादें तो हमेशा अपने साथ हैँ।
----------
कुछ पल जी लो, शायद हम फ़िर ना मिलें;
याद कर लो शायद फ़िर वक़्त ना मिले;
चले जाएंगे ज़िंदगी से इतनी दूर;
कि हकीकत में तो क्या शायद फ़िर सपनें में भी ना मिलें।
----------
मौसम की तरह बदलना आता नही हमें;
पर हम आप को बदल के दिखायेंगे;
भले ही कितना मना लो हमें;
अब हम ना लौट कर वापस आयेंगे।
----------
तूफ़ान में बिखरते चले गए;
तन्हाई की गहराईयों में उतरते चले गए;
जन्नत थी हर शाम जिन दोस्तों के साथ;
एक-एक कर सब दूर होते चले गए।
----------
तमाम उम्र ज़िंदगी से दूर रहे;
तेरी ख़ुशी के लिए तुझसे दूर रहे;
अब इस से बढ़कर वफ़ा की सज़ा क्या होगी;
कि तेरे होकर भी तुझसे दूर रहे।
----------
आँखों के सागर में ये जलन है कैसी;
आज दिल को तड़पने की लगन है कैसी;
बर्फ की तरह पिघल जाएगी जिंदगी;
ये तेरी दूर रहने की कसम है कैसी।
----------
दिल ने तेरे प्यार में मजबूर कर दिया;
इस जहां की हर ख़ुशी से हमें दूर कर दिया;
जिस कदर चाहा था तेरे पास आने को;
उस कदर दुनिया ने मुझे तुझसे दूर कर दिया।
----------
आप पास रहो या दूर;
हम दिल से दिल की आवाज़ मिला सकते हैं;
ना ख़त के और ना फ़ोन के मोहताज़ हैं हम;
पर आपके दिल को एक हिचकी से हिला सकते हैं हम।
----------
सितारों को गिन कर दिखाना मुश्किल होता है;
किस्मत में जो लिखा हो उसे मिटाना मुश्किल है;
हमें आपकी ज़रूरत हो या ना हो;
पर अहमियत आपकी लफ़्ज़ों में जताना मुश्किल है।
----------
उस वक्त दिल कितना मजबूर होता है;
जब कोई किसी की यादों में चूर-चूर होता है;
रिश्ता क्या था, पता चलता है तब;
जब कोई निगाहों से बहुत दूर होता है।
----------
मैं उससे दूर चला तो आया हूँ;
मगर अभी तक उसे ना भूल पाया हूँ;
जिक्र किस से करूँ तेरी वफाओं का मैं;
इस अजनबी शहर में भटकता साया हूँ।
----------
वो जो हमारे लिए ख़ास होते हैं;
जिनके लिए दिल में एहसास होते हैं;
चाहे वक़्त कितना भी दूर कर दे उन्हें;
पर दूर रहकर भी वो दिल के पास होते हैं।
----------
सभी नगमे साज़ में गाए नहीं जाते;
सभी लोग महफ़िल में बुलाए नहीं जाते;
कुछ पास रहकर भी याद नहीं आते;
कुछ दूर रहकर भी भुलाए नहीं जाते।
----------
कुछ पल की ख़ुशी आपके साथ में थी;
ऐसी कोई लकीर हमारे हाथ में होती;
दूर रहकर भी आपको याद करते हैं हम;
शायद कोई बहुत प्यारी सी बात हमारी मुलाक़ात में थी।
----------
तुम पास हो तो तुझपे प्यार आता है;
तुम दूर हो तो तेरा इंतज़ार सताता है;
क्या कहें इस दिल की हालत;
तुझसे दूर होकर दिल बेक़रार हो जाता है।
----------
दूरियां ही सही पर देरी तो नहीं;
इंतज़ार भला पर जुदाई तो नहीं;
मिलना बिछड़ना तो किस्मत है अपनी;
आखिर इंसान हैं हम फ़रिश्ते तो नहीं।
----------
ढलती शाम का खुला एहसास है;
मेरे दिल में तेरी जगह कुछ ख़ास है;
तुम दूर हो, ये मालूम है मुझे;
पर दिल कहता है तू यहीं मेरे आस-पास है।
----------
बादल कितने खुशनसीब हैं, दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं;
हम कितने बदनसीब हैं, पास रहकर भी मिलने को तरसते हैं।
----------
बहुत दूर मगर बहुत पास रहते हो;
आँखों से दूर मगर दिल के पास रहते हो;
मुझे बस इतना बता दो क्या तुम भी मेरे बिना उदास रहते हो!
----------
दूरियों से फर्क पड़ता नहीं है, बात तो दिलों की नज़दीकियों से होती है;
दोस्ती तो कुछ ख़ास आप जैसे से ही है, वरना मुलाक़ात ना जाने कितनों से होती है।
----------
गलतियों से जुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;
दोनों इंसान हैं, ख़ुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;
गलतफहमियों ने कर दी दोनों में पैदा दूरियां;
वरना फितरत का बुरा तु भी नहीं था, मैं भी नहीं!
----------
रिश्तों में दूरियां तो आती रहती हैं;
फिर भी दूरियां दिलों को मिला देती हैं;
वो रिश्ता ही क्या जिसमें नाराज़गी ना हो;
पर सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना लेती है।
----------
भीगी पलकों के संग मुस्कुराते हैं हम;
पल-पल दिल को बहलाते हैं हम;
आप दूर हैं हमसे तो क्या हुआ;
हर सांस में आपकी आहट पाते हैं हम।
----------
यादों में हम रहें हमेशा यही एहसास रखना;
नज़रों से दूर पर दिल के पास रखना;
हम यह नहीं कहते कि साथ रहो;
दूर से ही पर दुआयों में याद रखना।
----------
मोहब्बत हर इंसान को आज़माती है;
किसी से रूठ जाती है पर किसी पर मुस्कुराती है;
मोहब्बत खेल ही ऐसा है;
किसी का कुछ नही जाता किसी का सब कुछ चला जाता है।
----------
दूरियों की न परवाह कीजिए;
दिल जब भी पुकारे हमें बुला लीजिए;
हम ज़्यादा दूर नहीं आपसे;
बस अपनी आँखों को पलकों से मिला लीजिए।
----------
ना दूर मुझसे जाया करो, दिल तड़प जाता है;
हमेशा तेरे ख्यालों में दिन गुज़र जाता है;
दिल ने एक सवाल पूछा था तुमसे;
क्या दूर रहकर तुम्हें भी मेरा ख्याल आता है।
----------
जब निकलता है कोई दिल में बस जाने के बाद;
दर्द कितना होता है बिछड़ जाने के बाद;
जो पास होता है उसकी कदर नहीं होती;
कमी महसूस होती है दूर जाने के बाद।
----------
बहेंगी जब सर्द हवाएं;
हम खुद को तनहा पाएँगे;
एहसास तुम्हारे साथ का;
हम कैसे महसूस कर पाएँगे।
----------
जो जितना दूर होता है नज़रों से,
उतना ही वो दिल के पास होता है,
मुश्किल से भी जिसकी एक झलक देखने को ना मिले,
वही ज़िंदगी मे सबसे ख़ास होता है|
----------
दूरियां ही नज़दीक लाती हैं;
दूरियां ही एक-दूजे की याद दिलाती हैं;
दूर होकर भी कोई करीब है कितना;
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
----------
कदमों की दूरी से दिलों के फांसले नहीं बढ़ते;
दूर होने से एहसास नहीं मरते;
कुछ कदमों का फांसला ही सही हमारे बीच;
लेकिन ऐसा कोई पल नहीं जब हम आपको याद नहीं करते।
----------
दोस्ती में दूरियां तो आती रहती हैं;
फिर भी दोस्ती दिलों को मिला देती है;
वो दोस्ती ही क्या जो नाराज़ न हो;
पर सच्ची दोस्ती, दोस्तों को मना लेती है।
----------
बनाने वाले ने दिल कांच का बनाया होता;
तोड़ने वाले के हाथ में जख्म तो आया होता;
जब भी देखता वो अपने हाथों को;
उसे हमारा ख्याल तो आया होता।
----------
दूरियां ही दोस्तों को नजदीक लाती हैं;
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;
दूर रहकर करीब है दोस्त कितना;
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
----------
दिल के दर्द को छुपाना कितना मुश्किल है;
टूट के फिर मुस्कुराना कितना मुश्किल है;
किसी के साथ दूर तक जाओ फिर देखो;
अकेले लौट के आना कितना मुश्किल है।
----------
दूरियां होते हुए भी सफ़र वही रहेगा;
दूर होते हुए भी दोस्ताना वही रहेगा;
बहुत मुश्किल है ये सफ़र जिंदगी का;
अगर आपका साथ होगा तो एहसास वही रहेगा।
----------
दूरियां होते हुए भी मंजिलें वही रहेंगी;
दूर होते हुए भी रिश्ते वही रहेंगे;
इतने आसान नहीं ये जिंदगी के रास्ते;
पर आप जैसे दोस्त साथ हों तो ये रास्ते और भी हसीन हो जायेंगे।
----------
अपनी बेबसी पर आज रोना आया;
दूसरों को क्या मैंने तो अपनों को भी आजमाया;
हर दोस्त की तन्हाई हमेशा दूर की मैंने;
लेकिन खुद को हर मोड़ पर हमेशा अकेला पाया।
----------
दर्द में कोई मौसम प्यारा नहीं होता;
दिल हो प्यासा तो पानी से गुजारा नहीं होता;
कोई देखे तो हमारी बेबसी;
हम सबके हो जाते पर कोई हमारा नहीं होता!
----------
आज खुदा ने फिर पूछा;
तेरा हँसता चेहरा उदास क्यों है;
तेरी आँखों में प्यास क्यों है;
जिसके पास तेरे लिए वक़्त नहीं है;
वही तेरे लिए खास क्यों है!
----------
खुदा की बनाई कुदरत नहीं देखी;
दिलों में छुपी दौलत नहीं देखी;
जो कहता है दूरी से मिट जाती है दोस्ती;
उसने शायद हमारी दोस्ती नहीं देखी।
----------
तनहा रहना तो सीख लिया हमने;
पर खुश कभी ना रह पायेंगे;
तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता है ये दिल;
पर तेरी मोहब्बत के बिन जी ना पायेंगे!
----------
इंसान को तकलीफ़ तब नहीं होती जब कोई अपना दूर चला जाता है;
तकलीफ़ तब होती है, जब अपना पास होकर भी दूरियां बना लेता है!
----------