Ashk Shayari

Karoge Yaad Ek Din Is Pyaar Ke Zamane Ko;
Chale Jayenge Jab Hum Kabhi Na Vapas Aane Ko;
Chalega Mehfil Mein Jab Zikr Hamara Koi;
To Tum Bhi Tanhayi Dhundoge Aansu Bahane Ko!
----------
Khaali Nahi Raha Kabhi Aankhon Ka Ye Makaan;
Sab Ashq Beh Gaye To Udaasi Thehar Gayi!
----------
Aaj Sawan Bhi Sunata Hai Teri Chitthi;
Kore Badal Mein Tu Aansuon Ko Rakhti Hai!
----------
Har Khushi Kam Hai, Tera Gham Bhulane Ke Liye;
Ek Tera Gham Hi Kaafi Hai, Mujhe Umar Bhar Rulane Ke Liye!
----------
Jo Aag Lagai Thi Tumne Usko To Bujhaya Ashkon Ne;
Jo Ashkon Ne Bhadkai Hai Us Aag Ko Thanda Kaun Kare!
----------
Maine Bhi Badal Diye Apne Zindagi Ke Asool;
Ab Jo Yaad Karega Woh Yaad Rahega!
----------
Kisi Ki Yaadon Ko Rok Paana Mushkil Hai;
Rote Hue Dil Ko Manana Mushkil Hai;
Yeh Dil Apno Ko Kitna Yaad Karta Hai;
Yeh Kuch Lafzon Mein Bayan Kar Paana Mushkil Hai!
----------
Jala Hai Jism Jahaan, Dil Bhi Jal Geya Hoga;
Kuredte Ho Jo Ab Raakh, Justujuu Kya Hai!
----------
Meethi Yaadon Se Gir Raha Tha Yeh Aansu;
Phir Bhi Na Jaane Kyon Yeh Khara Tha!
----------
Kaun Kehta Hai Ki Aansuon Mein Vajan Nahi Hota;
Ek Aansu Bhi Chalak Jata Hai To Mann Halka Ho Jata Hai!
----------
Zikar Tumhara Jab Jab Hota Hai Dekho Na,
In Aankhon Se Bheega Bheega Pyaar Beh Jaata Hai!
----------
Mujhe Rula Kar Dil Uska Bhi Roya Hoga,
Chehra Aansuon Se Usne Bhi To Dhoya Hoga,
Agar Na Kiya Hasil Kuch Humne Pyaar Mein,
Kuch Na Kuch To Usne Bhi Zaroor Khoya Hoga!
----------
Dil Hi Dil Mein Kuch Chupati Hai Woh,
Yaadon Mein Aa Kar Chain Churati Hai Woh,
Khwabon Mein Ek Ehsaas Jaga Rakha Hai,
Band Aankhon Mein Ashk Ban Tadpati Hai Woh!
----------
Hanste Hanste Aksar Ro Padti Hain Yeh Nigahein,
Jab Jab Aata Hai Zehen Mein Khoya Hua Chehra Tera!
----------
Jo Aag Lagayi Thi Tum Ne Us Ko To Bujhaya Ashkon Ne;
Jo Ashkon Ne Bhadkayi Hai Us Aag Ko Thanda Kaun Kare!
~ Moin Ahsan Jazbi
----------
Pyaar Karke Jataye Ye Zaroori To Nahi,
Yaad Karke Koi Bataye Ye Zaroori To Nahi,
Rone Wala To Dil Mein Hi Ro Leta Hai,
Aankh Mein Aansu Aaye Ye Zaroori To Nahi!
----------
Majburi Mein Jab Koi Juda Hota Hai,
Zaroori Nahi Ki Wo Bewafa Hota Hai,
De Kar Wo Aapki Aankhon Mein Aansu,
Akele Mein Aapse Bhi Zyada Rota Hai!
----------
Jo Aata Hai Khushi Ki Inteha Par, Bahut Roye The Us Aansu Ki Khatir!
----------
Mujhe Maloom Hai Tumne Bahut Barsaat Dekhi Hai,
Magar Meri Inhi Aankhon Se Sawan Haar Jaata Hai!
----------
Jab Jab Aapse Milne Kee Umeed Nazar Aayi,
Mere Paanv Mein Zanjeer Nazar Aayi,
Gir Pade Aansu Aankh Se,
Aur Har Ek Aansu Mein Aapki Tasveer Nazar Aayi!
----------
Jab Lafz Thak Gaye To Phir Ankhon Ne Baat Kee;
Jo Baatein Aankhein Na Keh Saki Wo Phir Ashkon Se Bayaan Hui!
----------
Rone Kee Saza Na Rulane Kee Saza Hai,
Ye Dard Mohabbat Ko Nibhane Kee Saza Hai;
Hanste Hain To Aankhon Se Nikal Aate Hain Aansu,
Ye Us Shakhs Se Dil Lagane Kee Saza Hai!
----------
Betab Se Rehte Hain Teri Yaad Mein Aksar;
Raat Bhar Nahi Sote Teri Yaad Mein Aksar;
Jism Mein Dard Ka Bahana Sa Bana Kar;
Hum Toot Ke Rote Hain Teri Yaad Mein Aksar!
---------- 
Yun Kisi Kee Yaad Mein Rona Fizool Hai;
Itne Anmol Aansu Khona Fizool Hai;
Rona To Unke Liye Jo Hum Par Nisaar Hain;
Unke Liye Kya Rona Jinke Aashiq Hazaar Hain!
----------
Jo Aag Lagayi Thi Tum Ne Us Ko To Bujhaya Ashkon Ne;
Jo Ashkon Ne Bhadkayi Hai Us Aag Ko Thanda Kaun Kare!
~ Moin Ahsan Jazbi
----------
Hum Rone Pe Aa Jayein To Dariya Hi Baha Den;
Shabnam Kee Tarah Se Humein Rona Nahi Aataa!
~ Sheikh Ibrahim Zauq
----------
Aansuon Ko Peena Purani Aadat Hai Meri;
Mujhe Logon Ko Apna Gham Dikhana Nahi Aata!
----------
Meri Aankhon Se Gire Hain Yeh Jo Chand Katre;
Jo Samajh Sako To Aansu, Na Samajh Sako To Pani!
----------
Pyaas Bujh Jaye Zameen Sabz Ho Manzar Dhul Jaye;
Kaam Kya Kya Na In Aankhon Kee Tari Aaye Humein!
~ Abdul Ahad Saaz
----------
Mil Kar Judaa Hue To Na Soya Karenge Hum;
Ek Dusre Kee Yaad Mein Roya Karenge Hum;
Aansu Jhalak Jhalak Ke Satayenge Raat Bhar;
Moti Palak Palak Mein Piroya Karenge Hum!
~ Qateel Shifai
----------
Hamare Ashk Mein Apka Khwab Chupa Hai;
Hamari Khushi Mein Aapka Ehsas Chupa Hai;
Tum Hamari Dastan Mein Raho Ya Na Raho;
Lekin Is Dil Mein Hamesha Aapke Liye Pyaar Chupa Hai!
----------
Tum Ne Jo Chonk Kar Har Jagah Nigah Kee Hogi;
Mere Hi Dard-e-Mohabbat Ne Sada Di Hogi;
Ye Jo Moti Baraste Hain Teri Yaad Mein Aksar;
Badlon Ne Meri Aankhon Ko Dua Di Hogi
----------
Kaise Rokun Jo Ashk Aankhon Se Dhal Jaate Hain;
Dil Ke Kuch Dard Hain Aankhon Se Nikal Aate Hain!
----------
Bikhre Ashkon Ke Moti Hum Piro Na Sake;
Teri Yaad Mein Saari Raat So Na Sake;
Mit Na Jaye In Ashkon Mein Teri Yaadein;
Yahi Soch Kar Hum Bas Ro Na Sake!
----------
Unhe Kehna Ki Meri Maut Par Aansoo Na Bahaye;
Mujhe Apni Maut Se Jyada Unke Rone Ka Dukh Hoga!
----------
Is Duniya Mein Koi Kisi Ka Nahi Hota;
Lakh Nibhao Rishta Koi Apna Nahi Hota;
Galatfehmi Rehti Hai Kuch Dino Ke Liye;
Lekin Uske Baad Aankhon Mein Aansuon Ke Siwa Kuch Nahi Hota!
----------
Hanste Rahoge To Duniya Saath Hai Warna;
Aansuon Ko To Aankh Mein Bhi Jagah Nahi Milti!
----------
Jee Dhoondta Hai Phir Fursat Ke Raat Din;
Baithe Rahen Tassavur-e-Jana Kiye Hue;
Ghalib Humein Na Chhed Ke Phir Josh-e-Ashq Se;
Baithe Hain Hum Tahayya-e-Toofan Kiye Hue!

Translation:
The soul seeks again that vacant time,
Night and day our memory re-imagining what the beloved is.
Ghalib do not torment us, for again with the storm of our tears,
We are sitting here having decided to unleash a hurricane at will.
~ Mirza Ghalib
----------
Raah Takte Jab Thak Gayi Meri Aankhein;
Phir Tujhe Dhoondne Meri Aankh Ke Aansu Nikle!
----------
Samandar Mein Utarta Hun To Aankhen Bheeg Jati Hain;
Teri Aankhon Ko Padhta Hun To Aankhen Bheeg Jati Hain;
Tumhara Naam Likhne Ki Izazat Chinn Gayi Jab Se;
Koi Bhi Lafz Likhta Hun To Aankhen Bheeg Jati Hain!
~ Syed Wasi Shah
----------
Unki Tasveer Ko Seene Se Laga Lete Hain;
Iss Tarah Judai Ka Gham Mita Lete Hain;
Kisi Tarha Zikar Ho Jaye Unko Hamare Dard Ka Agar;
Hans Kar Bheegi Palkon Mein Sab Dard Chupa Lete Hain!
----------
Har Lamha Hum Unhein Yaad Karte Rahe;
Unki Yaad Mein Mar-Mar Ke Jeete Rahe;
Ashq Aankon Se Hamari Behte Rahe;
Hum Ashqon Ke Jaam Peete Rahe!
----------
Woh Begaano Mein Apne;
Hum Apno Mein Anjaan Lagte Hain;
Hamare Khoon Ki Bhi Keemat Nahi;
Unke Ashkon Ke Bhi Daam Lagte Hain!
----------
Woh Lamhe Rulate Hain Humko Raat Din;
Woh Lamhe, Unka Bhi To Dil Dukhate Honge;
Jab Kabhi Bhi Woh, Padh Lete Honge Nagme Hamare;
Naam Apna Padhkar, Aankho Se Ashk Jhalak Aate Honge!
----------
Meri Yaadon Kee Kashti Uss Samandar Mein Tairti Hai;
Jis Mein Paani Meri Apni Hi Palkon Ka Hota Hai!
----------
Nikle Jab Aansu Uski Aankhon Se;
To Dil Karta Hai Sari Duniya Jala Dun;
Phir Sochta Hun Ki Honge Uske Apne Bhi Iss Duniya Mein
Kahin Anjane Mein Use Phir Se Na Rula Dun!
----------
Mana Ki Pyar Kisi Ka Mere Paas Nahi;
Magar Tumhein Meri Mohabbat Ka Bhi To Ehsaas Nahi;
Jaane Pee Gaye Hum Kitne Gham-e-Aansu;
Ab Kuch Aur Peene Kee Pyaas Nahi!
----------
Sukoon Apne Dil Ka Maine Kho Diya Hai;
Khud Ko Dard Ke Samandar Mein Dubo Diya Hai;
Jo Thi Kabhi Mere Muskurane Ki Wajah;
Aaj Uski Kami Ne Meri Palko Ko Bhigo Diya Hai!
----------
Dil Ke Sabhi Halaat Mujhe Kehne Do;
Behte Hain Ashk To Inhe Behne Do;
Bewafai Shamil Na Karo Dosti Kee Raaho Mein;
Kam Se Kam Dosti Ko To Dosti Rehne Do!
----------
Uski Yaadon Kee Barish Jab Bhi Barasti Hai Mujh Par;
Main Bheegta To Jarur Hun Lekin Palkon Kee Had Tak!
----------
Iss Dil Ne Ab Pyaar Karna Chod Diya;
Jis Din Se Tumne Yeh Dil Tod Diya;
Ab To Ro Bhi Nahi Sakte Apni Bebasi Pe;
Iss Liye In Aankhon Ne Ab Rona Bhi Chod Diya!
----------
Aaj Phir Mausam Num Hua Meri Aankhon Ki Tarah;
Shayad Baadlon Ka Bhi Kisi Ne Dil Dukhaya Hoga!
----------
Teri Yaadon Ke Siva Kuch Bhi Nahi Hai;
Khawab Har Raat Fir Sajana Padta Hai;
Kahin Dekh Na Le Namm Ye Aankhein Koi;
Aansuon Ko Aankhon Mein Chupana Padta Hai!
----------
Yeh Kya Ki Tujhe Bhi Hai Zamane Se Shikayat;
Yeh Kya Ki Teri Aankh Bhi Pur Num Hai Meri Jaan!
~ Habib Jalib
----------
De Ga Agar Dard To Khud Bhi Doobay Ga;
Woh Ek Shakss Jo Ankhon Me Rehta Hai!
----------
Phir Aaj Aansuyon Mein Nihaayi Hui Hai Raat;
Shayed Hamari Tarah Hi Sataayi Hui Hai Raat!
----------
Har Ek Jazbat Ko Zubaan Nahi Milti;
Dil Ki Har Ek Aarzoo Ko Dua Nahi Milti;
Muskan Banaye Rakho To Duniya Sath Hai;
Warna Aansuo Ko Bhi Aankho Mein Panah Nahi Milti!
----------
Mohabbat Ke Bhi Kuch Andaaz Hote Hain;
Jaagti Aankoh Me Bhi Kuch Khawab Hote Hain;
Zaroori Nahi Ki Gham Me Aansu Nikle;
Mushkurati Aankho Me Bhi Sailab Hote Hain!
----------
Phir Aaj Ashk Se Ankhon Mein Kyun Hain Aye Hue;
Guzar Gya Hai Zamaana Tujhe Bhulaaye Hue!
~ Firaq Gorakhpuri
----------
Yeh Jo Doobi Hain Meri Ankhein Ashkon Ke Dariya Mein;
Yeh Matti Ke Puttalon Par Bharose Ki Saza Hai!
----------
Kashti Abhi Umeed Ki Doobi Toh Nahi Hai;
Phir Kyo Teri Aankhon Mein Ye Toofan Hain Mohsin;
Munhasir Ehl-e-Sitam Par Hi Nahi'n Hai Mohsin;
Log Apno'n Ki Enayat Se Bhi Mar Jate Hain!
~ Mohsin Naqvi
----------
Dekh Kaisi Qayamat Si Barpa Hui Hai Aashiyanon Pay Iqbal;
Jo Lahoo Se Tameer Huye Thay, Paani Se Bah Gaye!
~ Allama Iqbal
----------
Hajoom Mein Tha, Woh Khul Kar Na Ro Saka Ho Ga;
Magar Yakeen Hai Ke Shab Bhar Na So Saka Ho Ga!
~ Mohsin Naqvi
----------
Us Ki Chahat Ka Bharam Kya Rakhna;
Dasht-e-Hijraan Mein Qadam Kya Rakhna;
Hanss Bhi Lena Kabhi Khud Par Mohsin;
Har Ghadi Aankh Ko Namm Kya Rakhna!
~ Mohsin Naqvi
----------
Dil Main Har Raaz Dabaa Key Rakhtay Hain;
Honton Pay Muskaan Sajaa Key Rakhtay Hain;
Ye Duniya Sirf Khushee Mein Saath Daitee Hai;
Iss Liye Hum Apnay Aansoo Chupaa Kay Rakhtey Hein!
----------
In Ko Nasir Na Kabhi Ankh Se Girne Dena;
Un Ko Lagte Hain Meri Ankh Mein Pyare Aansu!
~ Nasir Kazmi
----------
Aur Zeyada Bharrkatey Ho Tum To Aag Mohabbat Ki;
Sozish-e-Dil Ko Aye Ashko, Kya Khaak Bhujana Seekhey Ho!

Translation:
Sozish-E-Dil = Heartbreak
Ashko = Tears
~ Bahadur Shah Zafar
----------
Yoon Hi Ankhon Mein Aaa Gaye Aansoon;
Jayiye Aap, Koi Baat Naheen!
~ Daagh Dehlvi
----------
Ab Ke Saawan Mein Paani Barsa Bahut;
Pani Ki Har Bund Mein Wo Aaye Yaad Bahut;
Iss Suhane Mausam Mein Saath Nahi Koi;
Baadalo Ke Sath Inn Aankho Se Pani Baha Bahut!
----------
Qasam Hai Tujhko Zahid Kya Kare Gar Koi Aankhon Se Dekhe;
Chhalakna Saagar-e-Mai Ka, Chahekna Badah Khwaron Ka!
~ Daagh Dehlvi
----------
Aankhon Mein Kaun Aake Ilahi Nikal Gaya;
Kis Ki Talaash Mein Mere Ashk Rawaan Chale!
~ Zalil Manikpuri
----------
Yeh Ashq Aankhon Mein Qasid Kis Liye Ekdam Nahin Thamta;
Dil-e-Betaab Kaa Shayad Liye Maktoob Jaata Hai!
~ Mazmun Baajmeyu
----------
Kitne Aansu Baha Diye Hain Iss Char Din Ki Mohabbat Mein;
Kaash Sajde Mein Bahate To Aaj Gunahoan Se Paak Hote!
----------
Dekh Sakta Hai Bhala Kaun Yeh Pyaare Aansoon;
Meri Ankhoon Mein Na Aa Jae Tumhare Aansoon!
~ Akhtar Sheerani
----------
Sirf Chehre Ki Udaasi Se Bhar Aaye Ansoon;
Dil Ka Alam To Abhi Aap Ne Dekha Hi Nahi!
----------
Qasid Ne Khabar Di Thi K Aeinge Shab Ko Woh;
Chiragaan Itna Kia Hum Ne K Ghar Ko Jala Dala!
----------
Ashk Ka Qatra Aankhon Se Beh Gaya;
Bahte-Bahte Dil Ka Kissa Keh Gaya;
Bahut Mushkil Se Sambhala Tha Khud Ko;
Tujhe Dekha To Bas Dekhta Reh Gaya!
----------
Ya Rab! Gam-E-Hijran Mein Itna To Kiya Hota;
Jo Hath Jigar Pe Hai Wo Dast-E-Dua Hota!
----------
Apni Bebasi Par Aaj Rona Sa Aaya;
Doosron Ko Nahi Maine Apno Ko Azmaaya;
Har Dost Ki Tanhaayi Door Ki;
Lekin Khud Ko Har Mod Par Tanha Hi Paya!
----------
Be Wajha Nahin Rota, Ishq Mein Koi Ghalib;
Jisey Khudh Se Barr Ke Chaho, Woh Rulata Zaroor Hai!
----------
Muddat Baad Jo Ki Usne Lutf Ki Ik Nigaah;
Dil To Khush Ho Gaya, Par Aaansu Nikal Pade!
----------
Barson Guzar Gaye Rokar Nahi Dekha;
In Aankhon Ko Aansu Se Dhokar Nahi Dekha;
Wo Kya Jaane Pyar Kya Chiz Hai;
Jisne Kabhi Kisi Ko Kho Kar Nahi Dekha!
----------
Aansuon Ko Palkon Pe Laaya Na Kijiye;
Dil Ki Baatein Har Kisi Ko Bataya Na Kijiye;
Log Mutthi Mein Namak Liye Firte Hain;
Apne Har Jakhm Dikhaya Na Kijiye!
----------
Rone De Tu Aaj Humko Aankhe Sujane De;
Baho Mein Le Le Aur Khud Ko Bheeg Jane De;
Hai Jo Seene Mein Quaid Dariya Woh Chhot Jayega;
Hai Itna Dard Ki Tera Daaman Bheeg Jayega!
----------
Rone De Tu Aaj Humko, Tu Aankhe Sujane De;
Baho Mein Le Le Aur Khud Ko Bheeg Jane De;
Hai Jo Seene Mein Quaid Dariya Woh Chhoot Jayega;
Hai Itna Dard Ke Tera Daaman Bheeg Jayega!
----------
Likhu Kya Aaj Waqt Ka Takaza Hai;
Dard-e-Dil Abhi Taza-Taza Hai;
Gir Pade Hain Aansu Mere Kagaz Pe Likhte Waqt;
Lagta Hai Kalam Mein Syahi Kam Dil Mein Dard Jyada Hai!
----------
Agar Bhigne Ka Itna Hi Shonq Hai Baarish Main;
To Dekho Na Meri Aankhon Main;
Baarish To Har Ek Ke Liye Hoti Hai;
Lekin Ye Aankhein Sirf Tumhare Liye Barasti Hain!
----------
Log Puchhte Hain, Kyun Surkh Hain Tumhari Aankhein;
Hans Ke Keh Deti Hoon, Raat Ko So Na Saaki;
Laakh Chahoon Bhi, Magar Ye Keh Na Sakoon;
Raat Ko Rone Ki Hasrat Thi, Magar Ro Na Saki!
----------
Jab Kuchh Sapne Adhure Reh Jaate Hein;
Tab Dil Ke Dard Aansu Ban Ke Beh Jaate Hein;
Jo Kehte Hein Ke Hum Sirf Aap Ke Hein;
Pata Nahi Kaise Alvida Keh Jaate hein!
----------
Ab Aansoonon Ko Aankhon Mein Sajana Hoga;
Chirag Bujh Gaye, Khud Ko Jalana Hoga;
Na Samajhna Ki Tumse Bichadke Khush Hain Hum;
Hamein Logon Ki Khatir Muskurana Hoga!
----------
Kabhi Roo Kar Muskuraye, Kabhi Muskuraa Ke Roye;
Jaab Bhi Teri Yaad Aai, Tujhee Bhula Kar Roye;
Ek Tera Hi Toh Gam Tha, Jisse Hazaar Baar Likha;
Jitna Likh Ke Khush Hue, Uss Se Jayada Mita Ke Roye!
----------
Kya Hoon Main Aur Kya Samajhte Hein;
Sab Raaz Nahi Hote Batane Wale;
Kabhi Tanhaiyon Mein Aakar Dekhna;
Kaise Rote Hai Sabko Hasane Wale!
----------
Likhun Kuchh Aaj, Ye Waqt Ka Takaza Hai;
Mere Dil Mein Dard, Abhi Taaza Hai;
Gir Padte Hai Ashq, Mere Kagaz Par;
Kalam Me Sayahi Kam Aur Aansoo Jyada Hein!
----------
Woh Nadiyan Nahi Aansu The Mere;
Jinpar Woh Kashti Chalate Rahe;
Manzil Mile Unhein Yeh Chahat Thi Meri;
Isliye Hum Aansu Bahate Rahe!
----------
Behte Aansu Ki Zabaan Nahi Hoti;
Lafzo Mein Mohabbat Bayan Nahi Hoti;
Mile Jo Pyaar Kisi Ka To Kadar Karna;
Kismat Har Kisi Par Maherban Nahi Hoti!
----------
Wapsi Ka Safar Aab Mumkin Na Hoga;
Hum Toh Nikal Chuke Hain Aankh See Aansu Ki Tarhan!
----------
Yeh Soach Kar Palkon Mein Chuppa Lete Hein Aansu;
Gir Ke Yeh Aankh Se Meri Tarhan, Tanha Na Ho Jayein!
----------
Ulfat Mein Kabhi Yeh Haal Hota Hai;
Aankhen Hasti Hain Magar Dil Rota Hai;
Mante Hain Hum Jisse Manzil Apni;
Humsafar Uska Koi Aur Hota Hai!
----------
Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai;
Aaj Phir Aap Ki Kami Si Hai!
----------
Buhat Chahenge Tumhe, Magar Bhula Na Sakenge;
Khayalon Mein Kissi Aur Ko La Na Sakenge;
Kissi Ko Dekh Kar Aansu To Ponch Lagein;
Magar Kabhi Aapke Bina Muskura Na Sakenge!
----------
Muddat Baad Ki Usne, Jo Lutf Ki Ik Nigaah;
Dil To Khush Ho Gaya, Par Aansu Nikal Pade!
----------
Ab to meri aankh me ek ashk bhi nahin,
Pehle ki baat or thi, gam tha naya naya.
----------
Is khudgarz zamane me koi kisi ka nahi hota;
Khushiyan hi hoti duniya me to gum ansu kaun rota.
Gaur se dekhna kabi behte hue ansuon ko,
Hasti ankhon se behne wala hr aansu khushi ka nahi hota.
----------
Har jazbaat ko juban nahi milti;
Har aarzu ko dua nahi milti;
Hanste raho to duniya deti hai saath;
Warna aansuon ko to aankho me bhi panah nahi milt.
----------
Daag ansuon se dhoye hain,
Jab bhi tanha huye hain roye hain,
Dil mein kyon na uge yaad teri,
Dil mein tere hi khawab boye hain.
----------
Mombati ke andar ka dhaga bola, Main jalta hoon to tu kyon pighalti hai?
Mombati boli, Jisko dil mein jagah di woh bichade to aansoo to niklenge hi.
----------
Aansuon ko bohut samjhaya ke yun na aya karo, mehfil mein hamara mazaak na udaya karo, is par aansu bole mehfil mein tumhe akela paate hain isliye chale aate hain.
----------
Ankho me aansuo ko ubharne na diya,
Mitti ke motiyo ko bikharne na diya,
Jis raah pe pade the tere kadamo ke nishan,
Us raah se kisi ko gujarne na diya
----------
Teri dosti hum is tarah nibhayenge,
Tum roz khafa hona hum roz manayenge,
Par maan jana manane se,
Warna yeh bheegi palkein le ke kaha jayenge.
----------
Ek din hamare annsoon humse pooch baithe, humey roz -roz kyon bulate ho,
Humne kaha hum yaad to unhe karte hain tum kyon chale aate ho.
----------
Ae dil unki yaad mein rona fizul hai, ansu anmol hai, inko khona fizul hai,
Rote uske liye hain jo tum pe nisar ho, uske liye kya rona jiske ashiq hazaar hon
----------
Ansoon ko ankhon ki dehleez par laya na karo,
Apne dil ki halat kisi ko bataya na karo,
Log muthi bhar namak liye ghumtey hain,
Apne zakhm kisi ko dikhaya na karo.
----------
Ishq ke bhi kuch andaz hote hain,
Jagti ankhon mein bhi khawab hote hain,
Zaroori nahi k gam mein ansu nikle,
Muskurati ankhon mein bhi sailab hote hain.
----------
Raat hogi to chand duhai dega,
Khawabon mein aapko woh chehra dikhai dega,
Ye mohabbat hai zara sochke karna,
Ek aansoo bhi gira to sunai dega.
----------
तेरी महफ़िल और मेरी आँखें;
दोनों भरी-भरी हैं!
----------
पलक से पानी गिरा है तो उसको गिरने दो;
कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही है पिघलने दो!
----------
वो क्या समझेगा मेरी आँखों का बरसना;
जो बादल के बरसने पर बहुत खुश होता है!
----------
मोहब्बत का अश्कों से, कुछ तो रिश्ता जरूर है;
तमाम उम्र न रोने वाले की भी, इश्क़ में आँख भीग गई!
----------
बहुत अंदर तक तबाही मचाता है वो आँसू;
जो पलकों से बाहर नहीं आ पाता।!
----------
साहिल पे बैठे यूँ सोचते हैं आज, कौन ज्यादा मजबूर है;
ये किनारा जो चल नहीं सकता, या वो लहर जो ठहर नहीं सकती!
----------
काश तू सुन पाता खामोश सिसकियां मेरी,
आवाज़ करके रोना तो मुझे आज भी नहीं आता।
----------
तेरी ज़ुबान ने कुछ कहा तो नहीं था,
फिर ना जाने क्यों मेरी आँख नम हो गयी।
----------
काश आँसुओ के साथ यादें भी बह जाती,
तो एक दिन तसल्ली से बैठ कर रो लेते।
----------
वो तो बारिश कि बूँदें देखकर खुश होते हैं,
उन्हें क्या मालूम कि हर गिरने वाला कतरा पानी नही होता।
----------
तेरी जरूरत, तेरा इंतजार और ये तन्हा आलम;
थक कर मुस्कुरा देते हैं, हम जब रो नहीं पाते।
----------
आ देख मेरी आँखों के ये भीगे हुए मौसम,
ये किसने कह दिया कि तुम्हें भूल गये हैं हम।
----------
बहुत अजब होती हैं यादें यह मोहब्बत की,
रोये थे जिन पलों में याद कर उन्हें हँसी आती है;
और हँसे थे जिन पलों में अब याद कर उन्हें रोना आता है।
----------
रात की गहराई आँखों में उतर आई, कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के, कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई।
अश्क / बेवफ़ाई
उसकी आँखों में कोई दुःख बसा है शायद;
या मुझे खुद ही वहम सा हुआ है शायद;
मैंने पूछा कि भूल गए हो तुम भी क्या;
पोंछ कर आँसू आँख से उसने भी कहा शायद।
----------
क्या दुख है समुंदर को बता भी नहीं सकता;
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता।
~ Wasim Barelvi
----------
इस कदर छलकते है आँसू पलकों पे छुपा नहीं सकता;
मेरे कदम रोकते हैं मुझको उसके दर पे जा नहीं सकता;
न जाने किस की गलती थी कोई रूठ गया था मुझसे;
आज उसे मनाने की ख्वाहिश है पर दिल मजबूर है इतना कि मना नहीं सकता।
----------
भीगी भीगी सी ये जो मेरी लिखावट है;
स्याही में थोड़ी सी, मेरे अश्कों की मिलावट है।
~ Saurabh Srivastava
----------
बहुत रोया हूँ मैं जब से ये मैंने ख्वाब देखता है;
कि आप आँसू बहाते सामने दुश्मन के बैठे हैं।
~ Daagh Dehlvi
----------
किसी ने मुझसे कहा आपकी आँखें बहुत खूबसूरत हैं;
मैंने कहा बारिश के बाद अक्सर मौसम सुहाना हो जाता है।
----------
पढ़ने वालों की कमी हो गयी है आज इस ज़माने में;
नहीं तो गिरता हुआ एक-एक आँसू पूरी किताब है।
----------
आँखों से बहता पानी झरना है या है कोई समंदर;
हर पल क्यों ये लगता है जैसे कुछ टूट रहा है मेरे अंदर।
----------
छूटा जो तेरा हाथ तो हम टूट के रोये;
तुम जो ना रहे साथ तो हम टूट के रोये;
चाहत की तमन्ना थी और ज़ख़्म दिए तुमने;
पायी जो यह सौगात तो हम टूट के रोये।
----------
हँसोगे तो साथ हँसेगी दुनिया बैठ अकेले रोना होगा;
चुपके चुपके बहा कर आँसू दिल के दुःख को धोना होगा;
बैरन रीत बड़ी दुनिया की आँख से जो भी टपका मोती;
पलकों से ही उठाना होगा पलकों से ही पिरोना होगा।
~ Meeraji
----------
आँखों में आकर रुक जाते हैं आँसू;
पलकों पर आकर रुक जाते हैं आँसू;
मन तो करता है बह जाने दूँ इनको;
पर आपकी हँसी को देख रुक जाते हैं आँसू।
----------
तेरे ना होने से ज़िंदगी में बस इतनी सी कमी रहती है;
मैं चाहे लाख मुस्कुराऊँ फिर भी इन आँखों में नमी रहती है।
----------
आँसुओं को पलकों पे लाया मत कीजिये;
दिल की बातें हर किसी को बताया न कीजिये;
लोग मुट्ठी में नमक लिए फिरते हैं;
अपना हर ज़ख़्म लोगों को दिखाया न कीजिये।
----------
उनके ख्यालों ने कभी हमें खोने नहीं दिया;
जुदाई के दर्द ने हमें कभी खामोश होने नहीं दिया;
आँखे तो आज भी उनके इंतज़ार में रोती हैं;
मगर उनकी मुस्कुराहट ने हमें आज भी रोने नहीं दिया।
----------
आँख की ये एक हसरत थी कि बस पूरी हुई;
आँसुओं में भीग जाने की हवस पूरी हुई;
आ रही है जिस्म की दीवार गिरने की सदा;
एक अजब ख्वाहिश थी जो अब के बरस पूरी हुई।
~ Shahryar
----------
मेरी आंखों के आंसू कह रहे हैं मुझसे,
अब दर्द इतना है कि सहा नहीं जाता;
मत रोक पलको से खुल कर छलकने दे;
अब यूं इन आँखों में थम कर रहा नहीं जाता।
----------
क्या आये तुम जो आये घडी दो घडी के बाद;
सीने में होगी सांस अड़ी दो घडी के बाद;
क्या रोका अपने गिर्ये को हम ने कि लग गयी;
फिर वही आँसुओं की झड़ी दो घडी के बाद।
~ Sheikh Ibrahim Zauq
----------
क्या देते किसी को मुस्कुराहट, हम अपने अश्कों से ज़ार-ज़ार थे;
क्या देते किसी को ज़िंदगी का तोहफा, हम तो अपनी मौत से बेज़ार थे।
----------
सुकून अपने दिल का मैंने खो दिया;
खुद को तन्हाई के समंदर में डुबो दिया;
जो था मेरे कभी मुस्कुराने की वजह;
आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो दिया।
----------
दिल की बात लबों पर लाकर अब तक हम दुःख सहते हैं;
हम ने सुना था इस बस्ती में दिल वाले भी रहते हैं;
बीत गया सावन का महीना मौसम ने नज़रें बदलीं;
लेकिन इन प्यासी आँखों से अब तक आँसू बहते हैं।
~ Habib Jalib
----------
मोहब्बत के सपने वो दिखाते बहुत हैं;
रातों में वो हम को जगाते बहुत हैं;
मैं आँखों में काजल लगाऊं तो कैसे;
इन आँखों को वो रुलाते बहुत हैं।
----------
दिल में हर राज़ दबा कर रखते हैं;
होंठों पे मुस्कुराहट सज़ा के रखते हैं;
यह दुनिया सिर्फ ख़ुशी में साथ देती है;
इसलिए हम अपने आँसुओं को छुपा कर रखते हैं।
----------
पलको के किनारे हमने भिगोए ही नहीं;
वो सोचते है हम रोए ही नहीं;
वो पूछते है ख्वाब में किसे देखते हो;
हम है कि एक उम्र से सोए ही नहीं।
----------
और ज्यादा भड़काते हो तुम तो आग मोहब्बत की;
सोजिश-ए-दिल को ऐ अश्को, क्या ख़ाक बुझाना सीखे हो।
~ Bahadur Shah Zafar
----------
क्या मिला प्यार में अपनी ज़िंदगी के लिए;
रोज़ आँसू ही पिए हैं मैंने किसी के लिए;
वो गैरों में खुशियां मनाते रहे;
और हमे अपनी ही हँसी के लिए तड़पाते रहे।
----------
कौन रोकेगा अब इन बहती हुई आँखों को;
क्योंकि रुलाना तो पुरानी आदत है ज़माने की;
एक ही शख्स था जो थाम लेता था हमको;
पर अब उसे भी आदत हो गयी है आज़माने की।
----------
कभी उसको हमारी यादों ने सताया होगा;
चेहरा हमारा आँखों से आँसुओं ने मिटाया होगा;
ग़म ये नहीं कि वो भूल गए होंगे हमको;
ग़म ये है कि बहुत रो-रो कर भुलाया होगा।
----------
माना कि प्यार किसी का मेरे पास नहीं;
मगर तुम्हें मेरी मोहबबत का एहसास नहीं;
जाने पी गए हम कितने ग़म-ए-आंसू;
अब कुछ और पाने की प्यास नहीं।
----------
मोहब्बत के भी कुछ अंदाज़ होते हैं;
जागती आँखों के भी कुछ ख्वाब होते हैं;
जरुरी नहीं कि गम में ही आँसू निकलें;
मुस्कुराती आँखों में भी सैलाब होते हैं।
----------
इस दिल ने अब प्यार करना छोड़ दिया;
जिस दिन से तुमने ये दिल तोड़ दिया;
अब तो रो भी नहीं सकते अपनी बेबसी पे;
इस लिए इन आँखों ने अब रोना भी छोड़ दिया।
----------
जान-ए-तनहा पे गुज़र जायें हज़ारों सदमें;
आँख से अश्क रवाँ हों ये ज़रूरी तो नहीं।
~ Sahir Ludhianvi
----------
इन को 'नासिर' न कभी आँख से गिरने देना;
उन को लगते हैं मेरी आँख में प्यारे आँसू।
~ Nasir Kazmi
----------
जख्म जब मेरे सीने के भर जायेंगें;
आसूं भी मोती बन कर बिखर जायेंगें;
ये मत पूछना किस-किस ने धोखा दिया;
वर्ना कुछ अपनों के चेहरे उतर जायेंगें।
----------
खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है;
मैं तेरे गम को ज़माने से छुपाऊं कैसे।
----------
दिल तड़पता रहा और वो जाने लगे​;​​​​
​संग गुज़रे हर लम्हे याद आने लगे​;​​
खामोश नजरो से देखा जो उसने मुड कर​;​​
​तो भीगी पलकों से हम भी मुस्कराने लगे​।
----------
जाहिर नहीँ होने देता पर मैँ रोज रोता हूँ;
और वो पानी मेरे घर से​ ​निकलता है; ​​
​ लोग कहते है एक बहता दरिया जिसे;​​
वो दरिया मेरे शहर से निकलता है।​
----------
रोने से और इश्क़ में बे-बाक हो गए;
धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए।
~ Mirza Ghalib
----------
लोग मोहब्बत को खुदा कहते है;
अगर कोई करे तो उसे इल्जाम देते है;
कहते हैं कि पत्थर दिल रोया नहीं करते;
फिर क्यों पहाड़ों से झरने गिरा करते है।
----------
बहुत सोचा, बहुत समझा, बहुत ही देर तक परखा;
तन्हा हो के जी लेना मोहब्बत से बेहतर है।
----------
तुमने कहा था, आँख भर के देख लिया करो मुझे;
अब आँख भर आती है पर तुम नज़र नहीं आते​।
----------
कभी रो कर मुस्कुराए कभी मुस्कुरा के रोए​​;
​जब तेरी याद आई तुझे भुला कर रोए;
​एक तेरा ही नाम था जो हज़ारों बार लिखा;
​​​जितना लिख कर खुश हुए उससे ज्यादा मिटा कर रोए​।
----------
नींद आँखों में नहीं ख़्वाब खो गए;
तन्हा ही थे, कुछ तेरे बिन हम हो गए;
दिल कुछ तड़प उठा, ज़ुबान भी लड़खड़ाई;
तेरी याद में दो आँसू चुपके से बह गए।
----------
वक़्त-ए-रुखसत पोंछ रहा था मेरे आँसू अपने आँचल से;
उसको ग़म था इतना कि वो खुद रोना भूल गया।
~ Mushtaq Ahmad Nazish
----------
हमें गम रहा जब तक, दम में दम रहा;
दिल के जाने और टूट जाने का गम रहा;
लिखी थी जिस कागज पर हक़ीक़त हमारी;
एक मुद्दत तक वो कागज़ भी नम रहा।
----------
एहसास बहुत होगा जब छोड़ के जाएंगे;
रोयेंगे बहुत मगर आँसू नहीं आएँगे;
जब साथ कोई ना दे तो आवाज़ हमें देना;
आसमान पर होंगे तो भी लौट के आएंगे।
----------
​समुंदर बहा देने का जिगर तो रखते हैं लेकिन​;
​हमें आशिकी की नुमाइश की आदत नहीं है दोस्त​।
----------
तेरी याद में ज़रा आँखें भिगो लूं;
उदास रात की तन्हाई में सो लूं;
अकेले गम का बोझ अब सम्भलता नहीं;
अगर तु मिल जाए तो तुझसे लिपट कर रो लूं।
----------
आगोश-ए-सितम में छुपाले कोई;
तन्हा हूँ तड़पने से बचा ले कोई;
सूखी है बड़ी देर से पलकों की जुबां;
बस आज तो जी भर के रुला दे कोई।
----------
दर्द जब हद से गुजर जाता हूँ तो रो लेता हूँ;
जब किसी से कुछ कह नहीं पता तो रो लेता हूँ;
यूँ तो मेला हैं चारों तरफ हमारे, लोगों का मगर;
जब कोई अपना नजर नहीं आता तो रो लेता हूँ।
----------
आंसू ना होते तो आँखे इतनी हसीन ना होती;
दर्द ना होता तो खुशियां क्या होती;
पूरी करते खुदा यूँ ही सब मुरादे तो;
इबादत की कभी जरुरत ही ना होती।
----------
दिल के ज़ख्मो पर मत रो मेरे यार;
वक़्त हर ज़ख्म का मरहम होता है;
दिल से जो सच्चा प्यार करे;
उनका तो खुदा भी दीवाना होता है|
----------
मेरे गम ने होश उनके भी खो दिए;
मुझे समझाते-समझाते वो खुद ही रो दिए।
----------
प्यासे को इक कतरा पानी ही काफी है;
इश्क में चार पल की जिंदगानी ही काफी है;
हम डूबने को समँदर में भला जाए क्यो;
उनकी पलको से टपका वो आंसू ही काफी है।
----------
उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते है;
इस तरह जुदाई का गम उठा लेते है;
किसी तरह ज़िक्र हो जाए उनका;
तो हंस कर भीगी पलके झुका लेते है।
----------
किसी को यूँ रुलाया नहीं करते;
झूठे ख्वाब किसी को दिखाया नहीं करते;
अगर कोई आपकी जिंदगी में ख़ास नहीं है;
तो उसे रह-रह के ये असहास दिलाया नहीं करते।
----------
हमसे दूर जाने का बहाना ना बना लेना;
बस जाने की एक वजह बता देना;
खुद चले जाएंगे आपकी जिंदगी से;
लेकिन जहाँ आपकी याद ना आये;
उस जगह का पता बता देना
----------
तुम करोगे याद एक दिन इस प्यार के ज़माने को;
चले जाएँगे जब हम कभी ना वापस आने को;
करेगा महफ़िल मे जब ज़िक्र हमारा कोई;
तब आप भी तन्हाई ढूंढोगे आँसू बहाने को।
----------
क्या हूँ मैं और क्या समझते है;
सब राज़ नहीं होते बताने वाले;
कभी तनहाइयों में आकर देखना;
कैसे रोते है सबको हंसाने वाले।
----------
एक दिन जब हम दुनिया से चले जायेंगे;
मत सोचना आपको भूल जायेंगे;
बस एक बार आसमान की तरफ देख लेना;
मेरे आँसू बारिश बनके बरस जाएंगे।
----------
वो रोए तो बहुत, पर मुझसे मुंह मोड़ कर रोए;
कोई मजबूरी होगी तो दिल तोड़ कर रोए;
मेरे सामने कर दिए मेरे तस्वीर के टुकड़े;
पता चला मेरे पीछे वो उन्हे जोड़ कर रोए।
----------
प्यार करके जताए ये जरुरी तो नहीं;
याद करके कोई बताए ये जरुरी तो नहीं;
रोने वाले तो दिल में ही रो लेते है;
आँखों में आंसू आए ये जरुरी तो नहीं।
----------
कहते हैं कि पत्थर दिल किसी के लिए;
आंसू नहीं बहाते पर सच ये भी है कि;
नदियाँ पहाड़ों से ही निकलती है।
----------
यह इक अदा रुलाएगी हमको तमाम उम्र;
जाते हुए न प्यार से यूँ मुस्कुराए।
----------
हमारें आंसू पोछकर वो मुस्कुराते हैं;
इसी अदा से तो वो दिल को चुराते हैं;
हाथ उनका छू जाए हमारे चेहरे को;
इसी उम्मीद में तो हम खुद को रुलाते हैं!
----------
कैसी बीती रात किसी से मत कहना;
सपनों वाली बात किसी से मत कहना;
कैसे उठे बादल और कहां जाकर टकराए;
कैसी हुई बरसात किसी से मत कहना!
----------
लोग मोहब्बत को खुदा का नाम देते हैं;
कोई करता है तो इल्जाम देते हैं;
कहते हैं पत्थर दिल रोया नहीं करते;
और पत्थर के रोने को झरने का नाम देते हैं!
----------
दर्द कितने हैं बता नहीं सकता;
जख्म कितने हैं दिखा नहीं सकता;
आँखों से समझ सको तो समझ लो;
आँसु गिरे हैं, कितने गिना नहीं सकता।
----------
सिर्फ चेहरे की उदासी से भर आये तेरी आँखों में आँसू, हमदम;
मेरे दिल का क्या आलम है ये तो तू अभी जानता नहीं!
----------
डर है मुझे तुमसे बिछड़ न जाऊं;
खोके तुम्हें मिलने की राह न पाऊं;
ऐसा न हो जब भी तेरा नाम लबों पर लाऊं;
मैं आंसू बन जाऊं!
~ Khwaza Parvez
----------
जिन आँखों में मोहब्बत होती है;
वो आँखें एक दिन जरूर रोती हैं;
जिस तकिये पर सर रखकर ख्वाब संजोती हैं;
एक दिन उसी तकिये को रोकर भिगोती हैं।
----------
मोहब्बत के सपने वो दिखाते बहुत हैं;
रातों में वो हमको जगाते बहुत हैं;
मैं आँखों में काजल लगाऊं तो कैसे;
इन आँखों को लोग रुलाते बहुत हैं।
----------
नम हैं आँखे मेरी, मगर एक भी आंसू बह ना पायेगा;
ये दिल भी कितना दगाबाज़ है, यारो;
खुद को भूल जायेगा, मगर तुझे ना भूल पायेगा।
----------
कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ;
गम और जुदाई के अंदाज़-ए-बयां लिखता हूँ;
रुकते नहीं हैं मेरी आँखों से आंसू;
मैं जब भी उसकी याद में अल्फाज़ लिखता हूँ।
----------
मोहब्बत के भी कुछ राज़ होते हैं;
जागती आँखों में भी ख़्वाब होते हैं;
जरूरी नहीं कि गम में ही आंसू आयें;
मुस्कुराती आँखों में भी सैलाब होते हैं।
----------
वापसी का सफ़र अब मुमकिन न होगा।
हम तो निकल चुके हैं - आँख से आंसू की तरह।
----------
अय दिल किसी की याद में रोना फ़जूल है;
आंसू बड़े अनमोल हैं, इन्हें खोना फ़जूल है;
रो तू उनके लिए जो तुझ पर निसार हैं;
उनके लिए क्या रोना जिनके आशिक हजार हैं।
----------
हर एक मुस्कुराहट मुस्कान नहीं होती;
नफरत हो या मोहब्बत आसान नहीं होती;
आंसू गम के और ख़ुशी के एक जैसे होते हैं;
इनकी पहचान आसान नहीं होती!
----------
जिनके राहों में हमने बिछाये थे सितारे;
उनसे कहते हैं हरपाल आंसुओं के सहारे;
हो गए हैं सारे शिकवे कितने किनारे;
मगर फिर भी क्यों वो हुए ना हमारे!
----------
आकर ज़रा देख तो तेरी खातिर हम किस तरह से जिए;
आंसु के धागे से सीते रहे हम जो जख्म तूने दिए!
----------
जाने कब-कब किस-किस ने कैसे-कैसे तरसाया मुझे;
तन्हाईयों की बात न पूछो महफ़िलों ने भी बहुत रुलाया मुझे|
----------
मुस्कुराने से भी होता है, ग़म-ए-दिल बयां;
मुझे रोने की आदत हो, ये ज़रूरी तो नहीं!
----------
मैंने आंसू को समझाया;
भरी महफ़िल में ना आया करो;
आंसू बोला, तुमको भरी महफ़िल में तन्हा पाते है;
इसीलिए तो चुपके से चले आते है!
----------
हमें आंसुओ से ज़ख्मो को धोना नहीं आता;
मिलती है ख़ुशी तो उसे खोना नहीं आता!
सह लेते हैं हर गम को जब हँसकर हम;
तो लोग कहते है कि हमें रोना नहीं आता!
----------
दिन तो बीत जाते है, सुहानी यादें बनकर;
बाते रह जाती हैं, सिर्फ कहानी बनकर;
पर दोस्त तो दिल के करीब ही रहेंगे;
कभी मुस्कान, तो कभी आँखों का पानी बनकर!
----------
कोई खुशियों की चाह में रोया;
कोई दुखों की पनाह में रोया;
अजीब सिलसिला है ये ज़िन्दगी का;
कोई भरोसे के लिए रोया;
और कोई ऐतबार कर के रोया!
----------
मुलाकातें रह जाती है सुहानी यादें बनकर;
बातें रह जाती है कहानी बनकर;
पर प्यार तो हमेशा दिल के करीब रहता है;
कभी होंठों पे मुस्कान तो कभी आँखों में पानी बनकर!
----------
प्यार तो ज़िन्दगी का अफसाना है!
इसका अपना ही एक तराना है!
पता है सबको मिलेंगे सिर्फ आंसू!
पर न जाने दुनिया में हर कोई क्यों इसका दीवाना है!
----------
अब तो यह भी नहीं नाम तो ले लेते हैं!
दामन अश्कों से भिगो लेते हैं!
अब तेरा नाम लेके रोते भी नहीं!
सुनते हैं तेरा नाम तो रो लेते हैं!
----------
निकल जाते हैं तब आंसू जब उनकी याद आती है!
जमाना मुस्कुराता है मुहब्बत रूठ जाती है!
----------
प्यार की दास्तां जब भी वक्त दोहरायेगा!
हमे भी एक शख्स बहुत याद आयेगा!
जब उसके साथ बिताये लम्हें याद आयेंगे!
आँखें नम हो जायेगी, दिल आंसू बहायेगा!
----------
एक दिन हमारे आंसूं हमसे पूछ बैठे!
हमे रोज़ - रोज़ क्यों बुलाते हो!
हमने कहा हम याद तो उन्हें करते हैं तुम क्यों चले आते हो!
----------
हमारे आंसू पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं!
इसी अदा से वो दिल को चुराते हैं!
हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को!
इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते हैं!
----------
वो नदियाँ नहीं आंसू थे मेरे!
जिस पर वो कश्ती चलाते रहे!
मंजिल मिले उन्हें यह चाहत थी मेरी!
इसलिए हम आंसू बहाते रहे!
----------
आज किसी की दुआ की कमी है!
तभी तो हमारी आँखों में नमी है!
कोई तो है जो भूल गया हमें!
पर हमारे दिल में उसकी जगह वही है!
----------
हर रिश्ते को अजमाया है हमने!
कुछ पाया पर बहुत गवाया है हमने!
हर उस शख्स ने रुलाया है!
जिसे भी हमने इस दिल में बसाया है !
----------
सदियों बाद उस अजनबी से मुलाक़ात हुई !
आँखों ही आँखों में चाहत की हर बात हुई !
जाते हुए उसने देखा मुझे चाहत भरी निगाहों से !
मेरी भी आँखों से आंसुओं की बरसात हुई !