Bewafa shayari

Hum Se Bewafai Ki Inteha Kya Puchte Ho Mohsin;
Woh Hum Se Pyaar Seekhta Raha Kisi Aur Ke Liye!
~ Mohsin Naqvi
----------
Woh Jin Ki Aankhon Se Chamakte The Wafa Ke Moti;
Yaqeen Mano Kasam Le Lo Woh Aankhein Bewafa Nikli!
----------
Kuch Toh Rahi Hongi Inki Bhi Mazbooriyan;
Yun Chah Ke Koi Bewafa Nahi Hota!
----------
Meri Neendein Udaane Wale;
Ab Tere Khawab Kaun Dekhega!
----------
Aaj Badi Der Tak Woh Mohabbat Dikhata Raha;
Na Jane Kyon Laga Ki Woh Mohabbat Chhod Jayega!
----------
Din Agar Laut Bhi Aayen To Kya Kariye;
Dil Lagana To Phir Bhi Usi Sitamgar Se Hai!
----------
Bechain Hoke Shouq Woh Mashooq Ho Gaye;
Jis Par Padi Nigaah Tere Beqrar Ki!
----------
Tere Pyaar Ne Diya Sukoon Itna;
Ki Tere Baad Koi Achha Na Lage;
Tujhe Karni Hai Bewafai Toh Is Ada Se Kar;
Ki Tere Baad Koi Bewafa Na Lage!
----------
Kaash Ye Dil Shishe Ka Bana Hota;
Chot Lagti To Beshak Yeh Fanah Hota;
Par Sunte Jab Wo Aawaz Iske Tutne Ki;
Tab Unhein Bhi Apne Gunah Ka Ehsaas Hota!
----------
Mehfil Na Sahi Tanhai Toh Milti Hai;
Milan Na Sahi Judai Toh Milti Hai;
Kaun Kehta Hai Ki Pyaar Mein Kuch Nahi Milta;
Wafa Na Sahi Bawafai Toh Milti Hai!
----------
Mohabbat Ke Sapne Dikhatae Bohat Hain;
Wo Raaton Main Hum Ko Jagate Bohat Hain;
Main Ankhon Main Kajal Lagaon To Kaise;
Inn Ankhon Ko Log Rulatae Bohat Hain!
----------
Uski Bewafai Pe Bhi Fida Hoti Hai Jaan Apni;
Khuda Jaane Agar Usmein Wafa Hoti Toh Kya Hota!
----------
Alfaaz Giraa Dete Hain Jazbaat Ki Qeemat;
Har Baat Ko Alfaaz Mein Tola Na Karo!
----------
Nadangi Ki Hadh Toh Dekho Mere Sanam Ki;
E Doston Mujhe Kho Kar Mera Jaisa Khoj Rahi Hai!
----------
Humne To Ishq Ke Nashe Mein Unko Khudaa Bana Daala,
Hosh To Tab Aaya Jab Unhone Kaha Ki Khudaa Kisi Ek Ka Nahi Hota!
----------
Mausam Ki Misaal Du Ya Tumhari,
Koi Puch Raha Hai Ki Badalna Kisko Kehte Hain!
----------
Log Kehte Hain Ki Pyaar Ek Aisi Bimari Hai,
Jiski Koi Dawa Nahi Hoti;
Hum Kehte Hain Bewafai Ek Aisi Dawa Hai,
Jisse Ye Bimari Phir Dobara Nahi Hoti!
----------
Ek Dhokhe Se Bhi Hil Jaati Hai Zameen Aitbaar Ki,
Zaroori To Nahi Bhukamp Aaye Har Baar!
----------
Ek Muddat Mein Parakhne Ka Shuur Aata Hai,
Bewafa Keh Dun Unhen Pehli Nazar Mein Kaise!
----------
Har Bhool Teri Maaf Ki Har Khata Teri Ko Bhula Diya,
Gham Bas Is Baat Ka Hai Ki Mere Pyaar Ka Tune Bewafa Ban Ke Sila Diya!
----------
Hum To Jal Gaye Uski Mohabbat Mein Moam Ki Tarah,
Agar Phir Bhi Koi Humein Bewafa Kahe To Uski Wafa Ko Salam!
----------
Kaam Aa Sakin Na Apni Wafayein To Kya Karen,
Us Bewafa Ko Bhool Na Jayein To Kya Karen!
~ Akhtar Shirani
----------
Wafa Ke Badle Bewafayi Na Diya Karo,
Meri Umeed Thukra Ke Inkaar Na Kiya Karo,
Teri Mohabbat Mein Hum Sab Kuch Kho Baithe,
Jaan Chali Jayegi Yun Imtihaan Na Liya Karo!
----------
Kuch Nahi Milta Jitni Marzi Wafa Karlo Kisi Se,
Jab Waqt Wafa Na Kare To Wafadar Bhi Bewafa Ho Jate Hain!
----------
Kuch Is Tarah Se Meri Zindagi Ko Maine Aasaan Kar Liya;
Bhulkar Teri Bewafai Apni Tanhai Se Maine Pyaar Kar Liya!
----------
Aaj Achanak Teri Yaad Ne Mujhe Rula Diya;
Kya Karu Tum Ne Jo Mujhe Bhula Diya;
Na Karte Wafa To Na Milti Ye Saza;
Shayad Meri Wafaon Ne Hi Tujhe Bewafa Bana Diya!
----------
Kaam Aa Saki Naa Apni Wafayein To Kya Karein;
Us Bewafa Ko Bhool Naa Jayein To Kya Karein!
----------
Mat Puch Sabar Kee Inteha Kahan Tak Hai;
Tu Sitam Kar Le Teri Taqat Jahan Tak Hai;
Wafa Kee Umeed Kisi Aur Ko Hogi;
Humein To Dekhna Hai Tu Bewafa Kahan Tak Hai!
----------
Ret Pe Naam Kabhi Likhte Nahin;
Kyonki Ret Pe Likhe Naam Kabhi Tikte Nahin;
Aap Kehte Ho Tum Patthar Dil Ho;
Par Patthar Pe Likhe Naam Kabhi Mitte Nahin!
----------
Dhokha Deti Hai Shareef Chehron Kee Chamak Aksar;
Har Kaanch Ka Tukda Heera Nahi Hota!
----------
Barbaad Kar Gaye Wo Zindagi Pyaar Ke Naam Se;
Bewafai Hi Mili Sirf Wafa Ke Naam Se;
Zakham Hi Zakham Diye Us Ne Dawa Ke Naam Se;
Aasman Bhi Ro Pada Meri Mohabbat Ke Anjam Se!
----------
Roz Dhalti Hui Shaam Se Dar Lagta Hai;
Ab Mujhe Ishq Ke Anjaam Se Dar Lagta Hai;
Jab Se Mili Hai Bewafai Mujhe Ishq Mein;
Tab Se Ishq Ke Naam Se Bhi Dar Lagta Hai!
----------
Jaan Kar Bhi Woh Humein Jaan Na Paye;
Aaj Tak Woh Humein Pehchan Na Paye;
Khud Hi Kar Li Bewafai Hum Ne Unse;
Taki Un Par Bewafai Ka Koi Ilzam Na Aaye!
----------
Dilon Se Khelne Ka Hunar Humein Nahi Aata;
Isi Liye Ishq Kee Baazi Hum Haar Gaye;
Meri Zindagi Se Shayad Unhein Bahut Pyaar Tha;
Isi Liye Mujhe Zinda Hi Wo Maar Gaye!
----------
Nahi Tha Yakeen Kabhi Milna Padega Judai Ke Baad;
Phir Bhadak Uthenge Jazbat Tumhari Bewafai Ke Baad!
----------
Kuchh Iss Tarah Se Meri Zindagi Ko Maine Aasan Kar Liya;
Bhool Kar Teri Bewafai, Maine Apni Tanhai Se Pyaar Kar Liya!
----------
Ek Bewafa Ko Apna Hamraaj Banakar;
Ab Pachhta Raha Hun Apna Dil Ganwakar;
Us Bewafa Ne Zindagi Mein Aag Laga Di;
Jise Dil Mein Basaya Tha Dhadkan Banakar!
----------
Ek Hasrat Thi Ki Unke Dil Mein Panah Milegi;
Kya Pata Tha Unki Mohabbat Mein Yeh Saza Milegi;
Na Apno Ne Samjha Na Gairon Ne Jaana;
Kya Khabar Thi Mujhe Meri Taqdeer Mein Bewafa Milegi!
----------
Duniya Ne Kis Ka Rah-e-Wafa Mein Diya Hai Sath;
Tum Bhi Chale Chalo Yun Hi Jab Tak Chali Chale!
~ Sheikh Ibrahim Zauq
----------
Kisko Farebi Hum Kahein Kisko Kahein Hum Bewafa;
Kismat Hi Shayad Aisi Likha Kar Laaye Hain Hum;
Aaj Wakif Hai Yaaro Humse Shehar Ka Har Ek Aadmi;
Magar Apno Ke Liye Hi Dekhiye Paraye Hain Hum!
----------
Hai Agar Hamari Koi Khata Tu Sabit To Kar;
Agar Bure Hain Hum To Bura Saabit To Kar;
Tujhe Chaha Hai Humne Kitna, Tu Kya Jane;
Chal Hum Bewafa Hi Sahi, Tu Apni Wafa Sabit To Kar!
----------
Maine Har Gum Ko Hans Kar Utha Liya;
Raaz Teri Bewafai Ka Sabse Chhipa Liya;
Mujhko To Teri Wafaon Par Yakin Tha;
Na Jane Kyon Tumne Apna Daman Chhuda Liya!
----------
Wafa Ka Naam Mat Lo Yaaro Wafa Dil Ko Dukhati Hai;
Wafa Ka Naam Lene Se Humein Ek Bewafa Kee Yaad Aati Hai!
----------
Kis Se Se Mangein Dawaa Zakhmon Kee;
Sabhi Ne Chotein Khayi Hain;
Kisi Ka Sanam Bewafa Hai To;
Kisi Ka Sajan Harzayi Hai!
----------
Jaan Kar Bhi Woh Humein Jaan Na Paye;
Aaj Tak Woh Humein Pehchaan Na Paye;
Khud Hi Kar Lee Bewafai Humne;
Taaki Unpar Koi Ilzaam Na Aaye!
----------
Hum Aapko Chahenge Wafa Ki Had Tak;
Bewafai Ko Apki Hum Wafa Kar Denge;
Royenge Aap Hume Dekar Saza;
Ek Din Hum Aisi Khata Kar Denge!
----------
Jo Dil Zinda Hi Na Ho Uske Liye Zindagi Kya Hai;
Lete Rehte Hain Naam Unka Woh Mere Nahi To Kya Hai;
Dhadkta Rehta Hai Kehne Ko To Ye Dil Mera;
Zindagi Chalti Rahe Ya Khatam Ho Humein Matlab Hi Kya Hai!
----------
Farz Tha Jo Mera Nibha Diya Maine;
Usne Jo Maanga Wo Sab Diya Maine;
Wo Sunke Gairon Ki Baatein Bewafa Ho Geya;
Samajh Kar Khawab Usko Aakhir Bhula Diya Maine!
----------
Jaane Meri Aankhon Se Kitne Aansu Beh Gaye;
Insano Ki Iss Bheed Mein Dekho Hum Tanha Reh Gaye;
Karte The Jo Kabhi Apni Wafa Ki Baatein;
Aaj Wahi Sanam Humein Bewafa Keh Gaye!
----------
Main Apne Ghar Geya Tha Woh Jab Apne Ghar Gayi;
Phir Mujh Ko Kya Khabar Ki Wahan Se Kidhar Gayi!
~ Anwar Masood
----------
Sameit Kar Le Ja Apni Yaadon Ke Adhooray Qissay;
Teri Agli Chahat Mein Tujhe In Kee Bhi Zaroorat Hogi!
----------
Mohabbat Mein Suno Tum Khud To Bewafa Ho;
Woh Jo Bichrra To Tum Marr Kyun Na Gaye!
----------
Kaun Chahega Tumhe Meri Tarah;
Ab Kisi Se Na Mohabbat Karna!
~ Parveen Shakir
----------
Badla Waafa Ka Denge Badi Saadgi Se Hum;
Tum Hum Se Rooth Jao Ge Aur Zindagi Se Hum!
----------
Har Shakhs Nahin Hota Har Shakhs Ke Kabil;
Har Shakhs Ko Apne Liye Socha Nahin Kartey!
----------
Umar Kitni Manzilein Teh Kar Chuki;
Dil Jahaan Thehra, Thehra Hi Reh Geya!
----------
Roz Kehta Hu Ki Bhul Jaunga Usse;
Magar Na Jane Kyun Roz Ye Baat Bhul Jata Hu!
----------
Hum Zamane Mein Yun Hi Bewafa Mashhoor Ho Gaye Faraz;
Hazaron Chahne Wale The Kis-Kis Se Wafa Karte!
~ Ahmad Faraz
----------
Kise Maloom Tha Ishq Is Qadar Lachaar Karta Hai;
Dil Usse Janata Hai Bewafa, Magar Pyaar Karta Hai!
----------
Hamari Subh Sham Hoti Thi Jin Ke Pehloo Main;
Waqt Badala To Dikhai Dete Hain, Ghairon Ke Dariche Main!
----------
Bewafayi Ki Intehaa Kar De;
Taaki Maloom Ho Wafaa Kya Hai!
----------
Pagalpan Ki Sari Lakeerein Mere Hath Me Kyun;
Jis Ko Chahoon Main Hi Chahoon, Main Hi Chahoon Kyun!
----------
Meri Tanhayi Ko Mera Shouq Mat Samajhna;
Bahut Pyaar Se Diya Hai Yeh Tohfa Kisi Ne!
----------
Barsey Bagaer Hi Jo Ghatta Aa Kar Nikal Gai;
Aik Bewafa Ka Ahd-e-Wafa Yaad Aa Gaya!
----------
Saabit Hua Ke Tu Bhi Zamane Ke Sath Hai;
Saabit Hua Ke Tu Bhi Hamaara Nahin Rahaa!
~ Farhat Abbas Shah
----------
Na Thi Jisko Mere Pyar Ki Kadar;
Ittefaaq Se Usi Ko Chah Raha Tha Main;
Usi Diye Ne Jalaya Mere Hathon Ko;
Jisko Hawa Se Bacha Raha Tha Main!
----------
Aaj Us Ne Dard Bhi Apne Elhaada Kar Liye;
Aj Bhi Roya Toh Mere Sath Woh Roya Na Tha!
~ Adeem Hashmi
---------- 
Ab Kar Ke Faramosh To Na'shaad Karo Ge;
Per Hum Jo Na Hon Ge To Bahut Yaad Karo Ge!

Translation:
Na'shaad = Cheerless
~ Mir Taqi Mir
----------
Ki Humse Wafaa Toh Gair Usko Jafa Kehte Hain;
Hoti Aayi Hai, Ki Acchi Ko Buri Kehte Hain!
~ Mirza Ghalib
----------
Main Nadaan Tha Jo Wafa Ko Talash Karta Raha 'Ghalib';
Yeh Bhi Na Socha Ke Apni Saans Bhi Ek Din Bewafaa Ban Jayegi!
~ Mirza Ghalib
----------
Is Qadar Toda Hai Mujhe Us Ki Be-Wafaai Ne;
Ghalib Ab Koi Agar Pyar Se Bhi Daikhe Toh Bikhar Jata Hoon Main!
~ Mirza Ghalib
----------
Sharminda Hon Ge, Jaaney Bhi Do Imtihaan Ko;
Rakhe Ga Tum Ko Kon Aziz, Apni Jaan Se!
~ Mir Taqi Mir
----------
Hum Zamane Mein Yun Hi Bewafa Mashhoor Ho Gaye Faraz;
Hazaron Chahne Wale The Kis-­Kis Se Wafa Karte!
~ Ahmad Faraz
---------- 
Woh Shakhs Jis Ko Samajhney Mein Mujh Ko Umar Lagi;
Bichad Ke Mujh Se Kissi Kaa Ho Na Saka Hoga!
~ Mohsin Naqvi
----------
Jata'aa Jata'aa Ke Mohabbat, Dikha Dikha Ke Khuloos;
Bohat Qareeb Se Loota Hay Mere Doston Ne Mujhey!
----------
Tu Wo Zaalim Hai Jo Dil Mein Reh Kar Bhi Mera Na Ban Saka 'Ghalib';
Aur Dil Wo Kafir Jo Mujh Mein Reh Kar Bhi Tera Hogaya!
~ Mirza Ghalib
----------
Wo Jo Kahta Tha Ki Tum Na Mile To Mar Jayenge Hum;
Wo To Aaj Bhi Zinda Hai Kisi Aur Se Ye Baat Kahne K Liye!
----------
Aa Ke Ab Tasleem Karlen Tu Nahin To Main Sahi;
Kon Maaney Ga Ke Hum Mein Se Bewafa Koi Nahi!
~ Ahmad Faraz
----------
Bhula K Mujhko Agar Tum Ho Salamat;
To Bhula K Tujhko Sambhalna Mujhe Bhi Aata Hai;
Nahi Hai Mari Fitrat Main Ye Aadat;
Warna Teri Tarha Badalna Mujhe Bhi Aata Hai!
----------
Ik Pal Mai Jo Barbad Kar Dete Hain Dil Ki Basti Ko Faraz;
Wo Log Dekhne Mai Aksar Masom Hote Hain!
~ Ahmad Faraz
----------
Tu Woh Zaalim Hai Jo Dil Mein Reh Kar Bhi Mera Na Ban Saka 'Ghalib';
Aur Dil Wo Kafir Jo Mujh Mein Reh Kar Bhi Tera Hogaya!
~ Mirza Ghalib
----------
Hum Ko Unse Wafa Ki Hai Ummeed;
Jo Nahi Jaante Wafa Kya Hai!
~ Mirza Ghalib
----------
Un Dino Meri Shaksiyat-o-Aawargi Ke Charche Aam Hote Rahe;
Kuch Chubhte Alfaazon Ko Labon Pe Thaam Hum Bhi Be-Aaaraam Hote Rahe;
Waqt Ki To Yun Bhi Fitrat Hai Apni Raftaar Mein Chalne Ki;
Vo Apne Andaaz Mein Chalta Raha Aur Hum Badnaam Hote Rahe!
----------
Woh Shakhs Ek Choti Si Bat Pe Yoon Rooth Ke Chal Dia;
Jese Useh Sadiyo Se Kisi Bahane Ki Talash Thi!
----------
Jisne Haq Diya Mujhe Muskurane Ka;
Ushe Shauk Hai Ab Muje Rulane Ka;
Jo Lehro Se Cheen Kar Laya Tha Kinaro Par;
Intzaar Ha Ushe Ab Mere Doob Jaane Ka!
----------
Khamosh Teh Hum To Magroor Samaj Liya;
Chup Hai Hum To Majboor Samaj Liya;
Yehi Aap Ki Khushnasibi Hai Ke Hum Itne Qarib Hain;
Phir Bhi Aap Nay Door Samajh Liya!
----------
Woh Ruksat Huyi To Ankh Milakar Nahi Gayi;
Woh Q Gayi Yeh Batakar Nahi Gayi;
Lagta Hai Wapis Abhi Laut Ayegi;
Woh Jate Huwe Chirag Bujhakar Nahi Gayi!
----------
Jandi Jandi Har Raaz Apne Naal Le Gai;
Jandi Jandi Di Chupi Sanu Kuch Keh Gai;
Keh Gai Dil Todna Sadi Majboori Nahi Sadi Aadat Ae;
Teri Eho Aadat Sadi Jaan Kad Ke Le Gai!
----------
Nafrat Ki Dhoop Me Barsat Se Pehle;
Halaat Na Thay Aese Teri Mulaqat Se Pehle;
Har Kisi Ko Hamdard Samajh Lete Thay;
Hum Bhi Kitne Saada Thay Muhabbaton K Tajurbat Se Pehle!
----------
Ek Shaks Pas Reh Ke Samjha Nahi Mujhe;
Is Baat Ka Malal Hai Shikwa Nahi Mujhe;
Main Ush Ko Bewafai Ka Ilzam Kaise Du;
Usne To Dil Se Hi Chaha Nahi Mujhe!
----------
Kamaal Ka Shakhs Tha Jis Ne Zindagi Tabah Kur Dee;
Raaz Ki Bat Hai Dil Ussh Se Khafa Ab Bhi Nahi!
----------
Tu Ne Tu Irade Hi Mere Tor Diye Hain;
Guzre Ga Safar Kaise,Khara Soch Raha Hoon!
----------
Dard Me Koi Mausam Pyara Nahi Hota;
Dil Ho Pyasa To Pani Se Gujara Nahi Hota;
Koi Dekhe To Humari Bebasi;
Hum Sabhi K Ho Jate Hain Par Koi Humara Nahi Hota!
----------
Apno Ne Zehar Ka Jaam De Diya;
Gairoon Ne Bewafa Naam De Diya;
Jo Kehte The Hamhein Bhool Na Jana;
Unhi Ne Bhoolne Ka Paigam De Diya!
----------
Talaash Karo Koi Tumhe Mil Jayega;
Magar Hamari Tarha Tumhe Kaun Chahega;
Zarur Koi Chahat Ki Nazar Se Tumhe Dekhega;
Magar Ankhein Hamari Kahan Se Layega!
----------
Ho Sakta Hai Humne Anjaane Me Unhe Rulaa Diya;
Unhone Duniya Ke Kehne Par Hume Bhula Diya;
Hum Toh Waise Bhi Aakele The;
Kya Hua Agar, Unhone Ehsaas Dila Diya!
----------
Itna Chhota Nahi Rishta Hamara;
Kaise Soch Liye Ke Aa Gaya Kinara;
Lo Fir Ho Gayi Aap Ki Aangan Mein Roshni;
Ek Baar Fir Badnaam Ho Gaya Naam Hamara!
----------
Kisey Maloom Tha Ishq Is Kadar Lachaar Karta Hai;
Dil Janta Hai Ki Wo Hai Bewafa, Fir Bhi Magar Ussi Se Pyar Karta Hai!
----------
Aaksar Mere Dil Mein Uthta Hai Yeah Sawal;
Gairoon Se Nibha Kar Kya Hoogi Wo, Khush Haal!
----------
Haar Gaye Hum Fariyad Karke;
Hum Ro Rahe Hain Unhe Yaad Karke;
Jal Gaye Yadoon Mein Jismo Jan Bhi;
Pachtah Rahe Hain Hum Pyar Karke!
----------
Dil Lagi Thi Useh Hum Se Mohabbat Kab Thi;
Mehfil-e-Gair Se Un Ko Fursat Kab Thi;
Hum The Mohabbat Main Lot Jane K Qabil;
Ush Ke Wadoon Main Wo Haqiqat Kab Thi!
----------
Wo Ajnabi Tha Toh Mujse Dil Lagaya Kyun;
Is Gair Ko Apna Banaya Kyun;
Wo Mera Hota To Mujhe Chhod Ke Kyun Jata;
Wo Mera Nahi Tha Toh Meri Zindagi Me Aya Kyun!
----------
Bar Bar Zindagi Ko Ajmaea Hai Hammne;
Har Pal Har Lamha Sirf Gum Paya Hai Hammne;
Dil Ke Tukre Ushi Ne Kie Hai Hamare;
Dil Ki Gehraion Mein Jishe Basaea Hai Hammne!
----------
Saray Raah Jo Unseh Nazar Mili;
To Naksh Dil Kay Ubhar Gaye;
Hum Nazar Mila Kar Jhijhag Gaye;
Woh Nazar Jhukaa Kar Chalay Gaye!
----------
Kabhi Laga Woh Humhe Sata Rahe Hai;
Kabhi Laga Ke Woh Karib Aa Rahe Hai;
Kuch Log Hote Hai Ansuon Ki Tarah Hi;
Pata Hi Nahi Lagta Sath De Rahe He Ya Chod Ke Ja Rahe Hai!
----------
Wo Raat Dard Aur Sitam Ki Raat Hogi;
Jis Raat Rukhsat Unki Barat Hogi;
Uth Jaate Hai Yeh Soch Kar Neend Se Aksar;
K Kisi Gair Ki Bahon Mein Hamari Saari Kainat Hogi!
----------
Hum Ne Iqbal Ka Kaha Maana;
Aur Faaqon Ke Haathon Marte Rahe;
Jhukne Waalon Ne Rifatein Paaein;
Hum Khudi Ko Buland Karte Rahe!
----------
Bekhabar Tujhe Kya Khabar;
Teri Aankhon Mai Kaisa Jamal Hai;
Tujhe Dekh Le Jo Bas Ik Nazar;
Us Ki Aankhon Mai Phir Yeh Sawal Hai!
----------
Unke Honthon Pe Mera Naam Jab Aya Hoga;
Khud ko Ruswaie Se Phir Kaise Bachaya Hoga;
Sun ke Fasana Auro Se Meri Barbadi Ka;
Kya Unko Apna Sitam Na Yaad Aya Hoga!
----------
Jaane Kyu Log Hamhe Aajmate Hai;
Kuch Pal Sath Rahne Ke Baad Dur Chale Jate Hai;
Sach Hi Kahte Hai Log Ki Sagar Ke Milne Ke Baad;
Log Barish Ko Bhul Jate Hai!
----------
Palko Ke Kinare Humne Bhigoye Hi Nahi;
Woh Sochte Hai Hum Roye Hi Nahi;
Woh Puchte Hai Khwabon Me Kise Dekhte Ho;
Hum Hai Ki Ek Umar Se Soye Hi Nahi!
----------
Jane Kya Soch Ke Lehrein Sahil Se Takrati Hain;
Aur Phir Se Vapis Laut Jati Hain;
Samaj Nahi Ata Ke Woh Kinaro Se Bewafai Karti Hain;
Ya Phir Laut Ke Samandar Se Wafa Nibhati Hain!
----------
Pal Pal Uska Saath Nibhate Hum;
Ek Ishare Par Duniya Chor Jaate Hum;
Samnder Ke Beech Mein Pahunch Kar Fareb Kiya Usne;
Wo Kehta To Kinare Par Hi Doob Jaate Hum!
----------
Na Thi Jisko Mere Pyaar Ki Kadar;
Ittefaaq Se Usi Ko Chah Raha Tha Main;
Usi Diye Ne Jalaya Mere Hathon Ko;
Jisko Hawa Se Bacha Raha Tha Main!
----------
Saameit Ke Le Ja Apne Jhoote Vaade Aur Adhoore Kisse;
Agli Chahat Mein Tumhe Fir Inki Jaroorat Padegi!
----------
Aisa Kya Likhoon Ke Tere Dil Ko Taskeen Pahunchay;
Kya Yeh Kaafi Nahin Ke Meri Duaaon Mein Tum Ho!
----------
Uske Hoonton Par Mera Naam Jab Aaya Hoga;
Khud Ko Rusvaayi Se Phir Kaise Bachaaya Hoga;
Sun Ke Auron Se Fasaanaa Meri Barbaadi Ka;
Kya Usko Apna Sitam Yaad Na Aaya Hoga!
----------
Kuch To Majbooriyaan Uski Bhi Rahi Hongi Aye Gaalib;
Varnaa Yunhi Mohabbat Mein Koi Bewafaa Nahi Hota!
----------
Ek Chhoti Si Galti Pe Wo Mujhe Chhod Gaya;
Jaise Sadiyon Se Wo Meri Galti Ki Talaash Mein Hi Tha!
----------
Mohabbat Dekhi Hai Maine Zamaane Bhar Ke Logon Ki;
Jahaan Kuch Daam Zyada Ho Aksar Vahaan Insaan Bik Jaate Hain!
----------
Zikar Us Pariwash Ka Aur Bayaan Apna;
Ban Gaya Raqeeb Aakhir, Tha Jo Raazdaan Apna!

Raqeeb = Rival
~ Mirza Ghalib
----------
Woh To Apne Dard Ro-Ro Ke Sunaate Rahe;
Humari Tanhaayion Se Ankh Churaate Rahe;
Aur Hume Bewafa Ka Naam Mila, Kyunki;
Hum Har Dard Muskura Kar Chipaate Rahe!
----------
Humse Dur Jane Ka Bahana Na Bana Lena;
Bass Jane Ki Ek Wajah Bata Dena;
Khud Chale Jayenge Apki Zindagi Se;
Lekin Jahan Aapki Yaad Na Aaye;
Uss Jagah Ka Pata Bata Dena!
----------
Kissi Ke Pyar Mein Gehri Chot Khai Hai;
Wafa Se Pehle Hi Wafa Bewafa Paayi Hai;
Log To Dua Maangte Hein Iss Haal Mein Marne Ki;
Par Hamne Uski Yaadon Mein Jeene Ki Kasam Khai Hai!
----------
Kya Batau Mera Haal Hai Kaisa;
Ek Din Guzarta Hai Ek Saal Jaisa;
Tadapta Hu Iss Kadar Bewafayi Mein Uski;
Yeh Tan Baanta Ja Raha Hai Kankal Jaisa!

Kankal = Skeleton
----------
Duniya Bhi Dekhi Aur Duniyadaari Bhi Deekhi;
Dil Par Mainee Chalti Hui Aari Bhi Dekhi;
Dekhe The Jo Log Maine Wafadariyaan Nibhaate;
Unhi Ke Hathon Maine Hoti Gadaari Bhi Dekhi!
----------
Jab Bhi Kisi Ko Kareeb Paya Hai;
Kasam Khuda Ki, Wahin Dhokha Khaya Hai;
Kyon Dosh Dete Hain Hum Kaanto Ko;
Zakhm To Humne Phulo Se Hi Paya Hai!
----------
Unki Chahat Mein Dil Majbur Ho Geya;
Bewafai Karna Unka Dastur Ho Geya;
Kasur Unka Nahi, Hamara Tha;
Humne Chaha Hi Itna Ki Unko Garur Ho Geya!
----------
Jaan Kar Bhi Woh Mujhe Jaan Na Paiye;
Aaj Tak Woh Mujhe Pehchaan Na Paiye;
Khud Hi Karli Bewafai Hum Ne, Dosto;
Ta-Ke Unn Par Koi Ilzaam Na Aaye!
----------
Wo Zeher Dekar Maarte To Duniya Ki Nazron Mein Aa Jaate;
Andaaz-e-Qatal To Dekho, Mohabbat Karke Chhod Diya!
----------
Woh Bhool Gaye Unhe Hasaya Kisne Tha;
Jab Woh Ruthte The To Unhe Manaya Kisne Tha;
Woh Kehte Hain Ke Woh Bahut Achhe Hain;
Lekin Woh Bhool Gaye Ke Unhe Yeh Bataya Kisne Tha!
----------
Dil Ne Ek Cheez Barri Beshumar Mangi Hai;
Husn-e-Magroor Ki Fitrat Se Waffa Mangi Hai!
----------
Teri Dosti Ne Diya Sakun Itna;
Ki Tere Baad Koi Bhi Accha Na Lage;
Tujhe Karni Ho Bewafai To Iss Ada Se Karna;
Ki Tere Baad Koi Bhi Bewafa Na Lage!
----------
Usney Mujhe Apna Kaha Tu Kya Huwa;
Log Jhooth Bhi To Bolte Hain!
----------
Pyaar Karne Ka Hunnar Hame Nahi Aata;
Isliye Pyar Ki Baazi Ham Haar Gaye;
Hamari Zindagi Se Unhe Buhut Pyaar Tha;
Shayad Isiliye Woh Hame Zinda Hi Maar Gaye!
----------
Itni Qasmein Na Uthao Ghabraa Ke;
Jao, Hum AitBaar Karte Hein!
----------
Saray Raah Jo Unsay Nazar Mili;
To Naksh Dil Kay Ubhar Gaye;
Hum Nazar Mila Kar Jhijak Gaye;
Woh Nazar Jhuka Kar Chale Gaye!
----------
Apni Taqdeer Mein To Kuchh Aise Hi Silsile Likhe The, Ae Dosto;
Kisi Ne Waqt Guzarne Ke Liye Pyaar Kar Liya;
To Kisi Ne Pyaar Kar Ke Waqt Guzaar Liya!
----------
Sochte Hein Seekh Lein Hum Bhi Berukhi Karna;
Mohobatt Nibhate Nibhate Aaj Humne Apni Hi Kadar Kho Di!
----------
Tu Wo Zaalim Hai Jo Dil Mein Reh Kar Bhi Mera Na Ban Saka, Ghalib;
Aur Dil Wo Kafir Jo Mujh Mein Reh Kar Bhi Tera Hogaya!
~ Mirza Ghalib
----------
Us Ke Chehre Ne Humain Tanha Kardiya;
Warna Hum To Apne Aap Main Hi Ek Mehfil Hua Karte Thay!
----------
Abb Toh Jaan Hi Dene Ki Baari Hai 'Mohsin';
Mein Kahan Tak Saabit Karun Ke Wafa Hai Mujh Mein!
----------
Chorr Toh Diya Mujhe;
Per Kabhi Ye Bhi Socha Tumne;
Ke Kabhi Jhoot Jo Bologe;
Toh Kasmein Kiski Khaoge!
----------
Har daag, daag nahi hota, har yaar wafadar nahi hota,
Yeh to dil milne ki baat hai, varna saat pheron mein bhi pyar nahi hota.
----------
Yeh such hai doston kisi se pyaar na karna,
Kabhi kisi ka aitbaar na karna,
Tham ke khanjar apne hi hathon mein,
Bedardi se apne dil par vaar na karna.
----------
Kaun rakhta hai yaad namo ko, log chehre tak bhul jate hai,
Tum samandar ki baat karte ho, log aankho me dub jate hai.
----------
ख्वाब बोये थे, और अकेलापन काटा है;
इस मोहब्बत में, यारों बहुत घाटा है!
---------- 
बेवक्त, बेवजह, बे-सबब सी बेरुखी तेरी;
फिर भी, बेइंतेहा, बेताब सी चाहत की बेबसी मेरी!
---------- 
वक्त इशारा देता रहा और हम इत्तेफाक़ समझते रहे;
बस यूँ ही धोखे ख़ाते गए और इस्तेमाल होते रहे!
---------- 
तुम्हारा नाम, किसी अजनबी की जुबान पर था;
बात जरा सी थी, पर चुभी बहुत!
---------- 
छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी आरजू करनी;
जिसे मोहब्बत की कद्र ना हो उसे दुआओ में क्या माँगना!
---------- 
ऐ मेरा जनाज़ा उठाने वालो, देखना कोई बेवफा पास न हो;
अगर हो तो उस से कहना, आज तो खुशी का मौका है, उदास न हो!
---------- 
कमाल करते हैं हमसे जलन रखने वाले;
महफिलें खुद की सजाते हैं और चर्चे हमारे करते हैं!
---------- 
वो जो सर झुकाए बैठे हैं, हमारा दिल चुराए बैठे हैं;
हमने कहा हमारा दिल लौटा दो, वो बोले हम तो हाथों में मेहँदी लगाये बैठे हैं!
---------- 
बदला बदला सा है मिजाज, क्या बात हो गई;
शिकायत हमसे है, या किसी और से मुलाकात हो गई!
---------- 
जिन्दगी पर बस इतना ही लिख पाया हूँ मैं;
बहुत मजबूत रिश्ते थे कुछ कमज़ोर लोगों से!
----------
किसी से प्यार करो और तजरुबा कर लो;
ये रोग ऐसा है जिसमें दवा नहीं लगती!
---------- 
सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे;
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे!
---------- 
डालना अपने हाथों से कफन मेरी लाश पर;
कि तेरे दिए जखमों के तोहफे कोई और ना देख ले!
---------- 
झूठी मोहब्बत, वफा के वादे, साथ निभाने की कसमें;
कितना कुछ करते हैं लोग, सिर्फ वक्त गुजारने के लिए!
---------- 
आओ शहर में नए दोस्त बनायें राहत;
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जायें!
---------- 
हर भूल तेरी माफ़ की हर खता को तेरी भुला दिया,
गम है कि, मेरे प्यार का तूने बेवफा बनके सिला दिया।
---------- 
वो सुना रहे थे अपनी वफाओ के किस्से,
हम पर नज़र पड़ी तो खामोश हो गए।
---------- 
सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा;
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा।
~ Bashir Badr
---------- 
पहले ज़िन्दगी छीन ली मुझसे;
अब मेरी मौत का भी वो फायदा उठाती है;
मेरी कब्र पे फूल चढाने के बहाने;
वो किसी और से मिलने आती है।
---------- 
सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना;
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया।
~ Aziz Lucknowi
----------
बहुत ख़ास थे कभी नज़रों में किसी के हम भी;
मगर नज़रों के तकाज़े बदलने में देर कहाँ लगती है।
---------- 
हर धड़कन में एक राज़ होता है;
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है;
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की;
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।
---------- 
मेरी तलाश का है जुर्म या मेरी वफा का क़सूर;
जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला।
---------- 
हो गया हूँ मशहूर तो ज़ाहिर है दोस्तो;
इलज़ाम सौ तरह के मेरे सर भी आयेंगे;
थोड़ा सा अपनी चाल बदल कर चलो;
सीधे चले तो मुमकिन है पीठ में खंज़र भी आयेंगे।
---------- 
ना जाने क्या सोच कर लहरें साहिल से टकराती हैं;
और फिर समंदर में लौट जाती हैं;
समझ नहीं आता कि किनारों से बेवफाई करती हैं;
या फिर लौट कर समंदर से वफ़ा निभाती हैं।
---------- 
हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है;
हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।
---------- 
दुनिया ने किस का राह-ए-वफ़ा में दिया है साथ;
तुम भी चले चलो यूँ ही जब तक चली चले।
~ Sheikh Ibrahim Zauq
---------- 
काम आ सकीं ना अपनी वफ़ाएं तो क्या करें;
उस बेवफा को भूल ना जाएं तो क्या करें।
---------- 
वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था;
खुदा जाने हरफ-ऐ-दुआ लिख रहा था;
महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद;
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।
---------- 
मशहूर हो गया हूँ तो ज़ाहिर है दोस्तो;
इलज़ाम सौ तरह के मेरे सर भी आयेंगे;
थोड़ा सा अपनी चाल बदल कर चलो;
सीधे चले तो मुमकिन है पीठ में खंज़र भी आयेंगे।
----------
वफ़ा करने से मुकर गया है दिल;
अब प्यार करने से डर गया है दिल;
अब किसी सहारे की बात मत करना;
झूठे दिलासों से भर गया है अब यह दिल।
---------- 
आता नहीं ख़याल अब अपना भी ऐ 'जलील'
एक बेवफ़ा की याद ने सब कुछ भुला दिया।
~ Jaleel Manikpuri
---------- 
बेवफा तो वो खुद हैं, पर इल्ज़ाम किसी और को देते हैं;
पहले नाम था मेरा उनके लबों पर, अब वो नाम किसी और का लेते हैं।
---------- 
एक ख़ुशी की चाह में हर ख़ुशी से दूर हुए हम;
किसी से कुछ कह भी ना सके इतने मज़बूर हुए हम;
ना आई उन्हें निभानी वफ़ा इस दौर-ए-इश्क़ में;
और ज़माने की नज़र में बेवफ़ा के नाम से मशहूर हुए हम।
---------- 
एक बार रोये तो रोते चले गए;
दामन अश्कों से भिगोते चले गए;
जब जाम मिला बेवफाई का तो;
खुद को पैमाने में डुबोते चले गए।
---------- 
ये संगदिलों की दुनिया है, ज़रा संभल कर चलना ऐ दोस्त;
यहाँ पलकों पे बिठाया जाता है नज़रों से गिराने के लिए।
---------- 
हर पल कुछ सोचते रहने की आदत गयी है;
हर आहट पे च चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।
---------- 
तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना;
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे;
तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर;
कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे।
---------- 
कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी;
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी;
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने;
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।
---------- 
शायद हम ही बेवफा थे कि झटके से उनके दिल से निकल गए;
उनकी वफा तो देखिये कि अब तक दिल में घर किए बैठे हैं।
----------
जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे;
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं;
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें;
मगर ये जो दिल है कमबख्त कुछ समझता ही नहीं।
---------- 
किसी बेवफ़ा की ख़ातिर ये जुनूँ 'फ़राज़' कब तक;
जो तुम्हें भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ।
~ Ahmad Faraz
---------- 
आग दिल में लगी जब वो खफा हुए;
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए;
करके वफ़ा कुछ दे ना सकें वो;
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफा हुए।
---------- 
तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना;
तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना;
मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना;
शौंक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना।
---------- 
महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है;
ग़म छुपा कर मुस्कुराना पड़ता है;
कभी हम भी उनके अज़ीज़ थे;
आज-कल ये भी उन्हें याद दिलाना पड़ता है।
---------- 
कोई भी नहीं यहाँ पर अपना होता;
इस दुनिया ने ये सिखाया है हमको;
उसकी बेवफाई का ना चर्चा करना;
आज दिल ने ये समझाया है हमको
---------- 
ज़िंदगी से बस यही एक गिला है;
ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है;
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के;
पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है।
---------- 
कभी करीब तो कभी जुदा था तू;
जाने किस-किस से ख़फ़ा है तू;
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीन था;
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।
---------- 
वो निकल गए मेरे रास्ते से इस कदर कि;
जैसे कि वो मुझे पहचानते ही नहीं;
कितने ज़ख्म खाए हैं मेरे इस दिल ने;
फिर भी हम उस बेवफ़ा को बेवफ़ा मानते ही नहीं।
---------- 
उनकी मोहब्बत के अभी निशान बाकी है;
नाम लब पर है और जान बाकी है;
क्या हुआ अगर देख कर मुँह फेर लेते हैं;
तसल्ली है कि शक्ल की पहचान बाकी है।
----------
कैसे कह दूँ कि मुझे छोड़ दिया है उस ने;
बात तो सच है ये मगर बात है रुस्वाई की।
~ Parveen Shakir
---------- 
सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं;
दूर है वो मुझसे पर मैं उससे ख़फ़ा नहीं;
मालूम है कि वो अब भी प्यार करता है मुझसे;
वो थोड़ा सा ज़िद्दी है मगर बेवफ़ा नहीं।
---------- 
मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा;
जिन्हें दावा था वफ़ा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा।
---------- 
ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है;
कर ले तू सितम, तेरी हसरत जहाँ तक है;
वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी;
हमें तो देखना है तू बेवफ़ा कहाँ तक है।
---------- 
कभी करीब तो कभी जुदा है तू;
जाने किस-किस से खफा है तू;
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीं था;
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।
---------- 
जानते थे कि नहीं हो सकते कभी तुम हमारे;
फिर भी खुदा से तुम्हें माँगने की आदत हो गयी;
पैमाने वफ़ा क्या है, हमें क्या मालूम;
कि बेवफाओं से दिल लगाने की आदत हो गयी।
---------- 
मेरी ज़िंदगी तो गुज़री तेरे हिज्र के सहारे;
मेरी मौत को भी प्यारे कोई चाहिए बहाना।
~ Jigar Moradabadi
---------- 
ज़िन्दगी से बस यही गिला है;
ख़ुशी के बाद क्यों ये गम मिला है;
हमने तो उनसे वफ़ा की थी;
पर नहीं जानते थे कि बेवफाई ही वफ़ा का सिला है।
---------- 
हम जमाने में यूँ ही बेवफ़ा मशहूर हो गये 'फराज';
हजारों चाहने वाले थे किस-किस से वफ़ा करते।
---------- 
जाने मेरी आँखों से कितने आँसू बह गए;
इंसानो की इस भीड़ में देखो हम तनहा रह गए;
करते थे जो कभी अपनी वफ़ा की बातें;
आज वही सनम हमें बेवफ़ा कह गए।
----------
उसे लगता है उसकी चालाकियाँ मुझे समझ नही आती;
मैं बड़ी खामोशी से देखता हूँ उसे अपनी नज़रों से गिरते हुए।
---------- 
'एहसान' ऐसा तलख जवाब-ए-वफ़ा मिला;
हम इस के बाद फिर कोई अरमां न कर सके।
~ Ehsaan Danish
---------- 
एक बेवफा के ज़ख्मों पर मरहम लगाने हम गए;
मरहम की कसम मरहम न मिला मरहम की जगह मर हम गए।
---------- 
जीने की तमन्ना बची कहाँ है;
भुलाया जो है हमें आपने;
यह तो बेवफ़ाई की हद ही है;
जिसे पार किया था हमने।
---------- 
फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने;
उसने माँगा वो सब दे दिया मैंने;
वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी;
समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने।
---------- 
मेरी तलाश का जुर्म है या मेरी वफा का क़सूर;
जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला।
---------- 
ना मिलता गम तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते;
दुनिया अगर होती चमन तो वीराने कहाँ जाते;
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई ग़ैर तो निकला;
सभी अगर अपने होते तो बेगाने कहाँ जाते।
---------- 
लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं;
ज़िंदगी मौत के पहलू में सो रही है;
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह;
वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है।
---------- 
मैंने कहा मुझे छोड़ दो या तोड़ दो;
वो बेवफ़ा हँस के बोली, "इतने नायाब तोहफ़े रोज़-रोज़ नहीं मिला करते।"
---------- 
कहते थे जो तेरी खातिर जान भी लुटा देंगे;
आज कहते हैं मेरा हाथ छोड़ दो इज्जत का सवाल है।
----------
वफ़ा पर हमने घर लुटाना था लेकिन;
वफ़ा लौट गयी लुटाने से पहले;
चिराग तमन्ना का जला तो दिया था;
मगर बुझ गया जगमगाने से पहले।
---------- 
तू देख कि तेरी जफा के बाद रिश्तों का क्या हाल हुआ;
मोहब्बत गयी लगन गयी ऐतबार गया यूं हर रिश्ता हमारा हार गया।
---------- 
बिखरे हुए दिल ने भी उसके लिए फरियाद मांगी;
मेरी साँसों ने भी हर पल उसकी ख़ुशी मांगी;
जाने क्या मोहब्बत थी उस बेवफ़ा में;
कि मैंने आखिरी फरियाद में भी उनकी वफ़ा मांगी।
---------- 
मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है;
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है;
देकर वो आपकी आँखों में आँसू;
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।
---------- 
एक बार फिर से निकलेंगे तलाश-ए-इश्क़ में;
दुआ करो यारो इस बार कोई बेवफ़ा न मिले!
---------- 
कुछ ,मोहब्बत का नशा था पहले हम को 'फ़राज़';
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गयी।
---------- 
कभी हम भी इसके क़रीब थे​;
​​दिलो जान से बढ़ कर अज़ीज थे​;​
​​मगर आज ऐसे मिला है वो​;​
​कभी पहले जैसे मिला ना हो​।
~ Bashir Badr
---------- 
ज़ख़्म जब मेरे सिने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।
---------- 
सारी फितरत तो नकाबों में छुपा रखी थी​;
​सिर्फ तस्वीर उजालों में लगा रखी थी।
~ Rahat Indori
---------- 
चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये है​;​​
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये है​;​​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​;​​
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।
~ Rahat Indori
----------
शहर में हमदम पुराने बहुत थे नासिर;
वक़्त पड़ने पर मेरे काम ना आया कोई।
~ Nasir Kazmi
---------- 
मेरी मौत के सबब आप बने;
इस दिल के रब आप बने;
पहले मिसाल थे वफ़ा की;
जाने यूँ बेवफ़ा कब आप बने।
---------- 
अब के अब तस्लीम कर ले तु, नहीं तो मैं सही;
कौन मानेगा कि हम में से बेवफा कोई नहीं।
---------- 
हुनर अब आ गया मुझको​ ​वफाओं को परखने का;
​ दिखावे की हर एक चाहत मैं वापिस मोड़ देता हूँ​। ​
---------- 
एक तेरी खातिर परेशाँ हूँ मैं;
टूटे दिलों की जुबाँ हूँ मैं;
तूने ठुकराया जिसको अपनाकर;
उसी दीवाने का गुमां हूँ मैं।
---------- 
खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा;
उजड़े हुए दिल का सहारा क्या होगा;
घबराहट होती है मोहब्बत की नाव में बैठ कर;
गर मझदार ये तो किनारा क्या होगा।
---------- 
खुदा खुशियां भी देगा तो उनको;
जिनके अपनाए थे कभी गम हमने।
---------- 
ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार:
दोनों मिल कर उसे भूल जाते है।
---------- 
जिस पर हम मर मिटे, उसने हमें मिटा दिया;
वाह! क्या खूब उसने मोहब्बत का सिला दिया।
---------- 
उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा;
दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है!
----------
तुमको समझाता हूँ इसलिए ए दोस्त;
क्योंकि सबको ही आज़मा चुका हूँ मैं;
कहीं तुमको भी पछताना ना पड़े यहाँ;
कई हसीनों से धोखा खा चुका हूँ मैं।
---------- 
कदम यूँ ही डगमगा गए रास्ते में;
वैसे संभालना हम भी जानते थे;
ठोकर भी लगी तो उसी पत्थर से;
जिसे हम अपना मानते थे।
---------- 
किया अपना बन कर जो तूने सनम;
ना गैरों से वो कभी गैर करे;
अगर हमें छोड़ कर जाना चाहते हो;
जाओ चले जाओ अल्लाह खैर करे।
---------- 
तुने जो मिटा डाला था मुझको बेवफा;
मेरी पाक मुहब्बत की एक तासीर अभी बाकी है।
---------- 
एक इंसान मिला जो जीना सिखा गया;
आंसुओं की नमी को पीना सिखा गया;
कभी गुज़रती थी वीरानों में ज़िंदगी;
वो शख्स वीरानों में महफ़िल सजा गया।
---------- 
काफ़िर हुए थे जिस की मोहब्बत में कल हम;
आज वही शख्स किसी और के लिए मुस्लमान हो गया।
---------- 
​कर दिया कुर्बान खुद को हमने वफ़ा के नाम पर;
छोड़ गए वो हमको अकेला मजबूरियों के नाम पर।
---------- 
महफ़िल ना सही, तन्हाई तो मिलती है;
मिलें ना सही, जुदाई तो मिलती है;
प्यार में कुछ नहीं मिलता;
वफ़ा ना सही, बेवफ़ाई तो मिलती है।
---------- 
कमाल का शख्स था, जिसने ज़िंदगी तबाह कर दी;
राज़ की बात है दिल उससे खफा अब भी नहीं।
---------- 
​यह ना थी हमारी क़िस्मत, कि विसाल-ए-यार होता;
अगर और जीते रहते, यही इंतज़ार होता;
तेरे वादे पर जाएँ हम, तो यह जान झूठ जाना;
कि ख़ुशी से मर ना जाते, अगर ऐतबार होता।
~ Mirza Ghalib
----------
जब भी उनकी गली से गुज़रता हूँ;
मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं;
दुःख ये नहीं कि वो दरवाजा बंद कर देते है;
खुशी ये है कि वो मुझे अब भी पहचान लेते हैं।
---------- 
फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िंदगी में;
दुआ करना इस बार कोई बेवफ़ा ना मिले।
---------- 
समेट कर ले जाओ अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से;
अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर इनकी ज़रूरत पड़ेगी।
---------- 
तेरा ना हो सका तो मैं मर जाउंगा;
कितना खूबसूरत वो झूठ बोलता था।
---------- 
​समझ जाते थे हम उनके दिल की हर बात ​को​;​
​और ​वो हमें हर बार ​धोखा देते थे​;​
लेकिन हम भी मजबूर थे दिल के हाथों​;​
जो उन्हें बार​-​बार मौका देते थे​।
---------- 
इंसानों के कंधे पर इंसान जा रहे हैं;
कफ़न में लिपट कर कुछ अरमान जा रहे हैं;
जिन्हें मिली मोहब्बत में बेवफ़ाई;
वफ़ा की तलाश में वो कब्रिस्तान जा रहे हैं।
---------- 
मैं फ़ना हो गया अफ़सोस वो बदला भी नहीं;
मेरी चाहतों से भी अच्छी रही नफरत उसकी।
---------- 
​बेवफाई उसकी मिटा के आया हूँ;
ख़त उसके पानी में बहा के आया हूँ;
कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को;
इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।
---------- 
ये देखा है हमने खुद को आज़माकर;
धोखा देते हैं लोग करीब आकर;
कहती है दुनिया पर दिल नहीं मानता;
कि छोड़ जाओगे तुम भी एक दिन अपना बनाकार।
---------- 
​आग दिल में लगी जब वो खफा हुए;​
​महसूस हुआ तब,​ ​जब वो जुदा हुए​;
​​करके वफ़ा कुछ दे न सके वो​
​​पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफा हुए।
----------
कहाँ से ​लाऊ हुनर उसे मनाने का​;​
कोई जवाब नहीं था उसके रूठ जाने का​;​
मोहब्बत में सजा मुझे ही मिलनी थी​;​
क्यूंकी जुर्म मैंने किया ​था ​उससे दिल लगाने का​।
---------- 
​मेरा ख़याल ज़ेहन से मिटा भी न सकोगे​;
​एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे​;​
​तो सारी उम्र मुस्करा न सकोगे​।
---------- 
वफाओं ​की बातें की हमने जफ़ाओं के सामने​;​
​ ले चले हम चिराग़ हवाओं के सामने​;​
​ उठे हैं जब भी हाथ बदली हैं क़िस्मतें​;
​ मजबूर है ​खुदा भी दुआओं के सामने​। ​ ​
---------- 
​​ठुकरा के उसने मुझे कहा ​कि मुस्कुराओ;
मैं हंस दिया सवाल उसकी ख़ुशी का था;
मैंने खोया वो जो मेरा था ​ही नहीं;
उसने खोया वो जो सिर्फ उसी का था।
---------- 
दिल किसी से तब ही लगाना;
जब दिलों को पढ़ना सीख लो;
वरना हर एक चेहरे की फितरत में;
ईमानदारी नहीं होती।
---------- 
मत बहा आंसुओं में जिंदगी को;
एक नए जीवन का आगाज़ कऱ;
दिखानी है अगर दुश्मनी की हद तो;
ज़िक्र भी मत कर, नज़र अंदाज़ कर।
---------- 
मेरी नाराज़गी पर हक़ मेरे अहबाब का है बस;
भला दुश्मन से भी कोई कभी नाराज़ होता है।
---------- 
रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके;
रोज उस के कूचे में इक काम निकल आता है।
---------- 
वो आई मेरे मज़ार पर;
अपने महबूब के साथ;
कौन कहता है कि;
मरने के बाद जलाया नहीं जाता।
---------- 
वो बात ही कुछ अजीब थी;
वो हमसे रूठ गयी, जो दिल के सबसे करीब थी;
उसने तोड़ दिया दिल हमारा;
और लोग कहते है वो लड़की बहुत सरीफ थी |
----------
नहीं करती थी प्यार तो, मुझे बताया होता;
गौर फरमाइएगा;
नहीं करती थी प्यार तो, मुझे बताया होता;
बुला के पार्क में यूं धोखे से अपने भाइयो से;
तो ना पिटवाया होता।
---------- 
हम तो तेरे दिल की महफ़िल सजाने आए थे;
तेरी कसम तुझे अपना बनाने आए थे;
किस बात की सजा दी तुने हमको बेवफा;
हम तो तेरे दर्द को अपना बनाने आए थे।
---------- 
लगाया है जो दाग तूने हमें बेवफ़ा सनम;
हाय मेरी पाक मुहब्बत पर;
लगाये बैठे हैं इसे अपने सीने से हम;
प्यार की निशानी समझ कर।
---------- 
दो दिलों की धड़कनों में एक साज़ होता है;
सबको अपनी-अपनी मोहब्बत पर नाज़ होता है;
उसमें से हर एक बेवफा नहीं होता;
उसकी बेवफ़ाई के पीछे भी कोई राज होता है!
---------- 
इतनी मुश्किल भी ना थी राह मेरी मोहब्बत की;
कुछ ज़माना खिलाफ हुआ, कुछ वो बेवफा हो गए!
---------- 
हर धड़कन में एक राज़ होता है;
बात को बताने का एक अंदाज़ होता है;
जब तक ठोकर न लगे बेवाफ़ाई की;
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।
---------- 
जनाजा मेरा उठ रहा था;
फिर भी तकलीफ थी उसे आने में;
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी;
और कितनी देर है दफनाने में!
---------- 
उसके चेहरे पर इस कदर नूर था;
कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था;
बेवफ़ा भी नहीं कह सकते उसको फराज़;
प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।
---------- 
उन पंछियों को कैद में रखना आदत नही हमारी;
जो हमारे दिल के पिंजरे में रहकर गैरों के साथ उड़ने का शौक रखते हों!
---------- 
ऐसा नहीं कि आप हमें याद नहीं आते;
माना कि जहाँ के सब रिश्ते निभाये नहीं जाते;
पर जो बस जाते हैं दिल में वो भुलाए नहीं जाते;
बेवफाओं से हर तरह के रिश्ते निभाये नहीं जाते।
----------
चलो इतना तो निकला काम बहम आशनाई से;
वफ़ा से हम हो गए आशना और तुम बेवफाई से!
---------- 
आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए;
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए;
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो;
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए!
---------- 
प्यार करने का हुनर हमें आता नहीं;
इसीलिए हम प्यार की बाज़ी हार गए;
हमारी ज़िन्दगी से उन्हें बहुत प्यार था;
शायद इसीलिए वो हमें ज़िंदा ही मार गए!
---------- 
हमनें अपनी साँसों पर उनका नाम लिख लिया;
नहीं जानते थे कि हमनें कुछ गलत किया;
वो प्यार का वादा करके हमसे मुकर गए;
ख़ैर उनकी बेवाफाई से हमनें कुछ तो सबक लिया!
---------- 
आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए;
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए;
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो;
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा!
---------- 
मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में;
मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में;
सुना है वो भी मोहब्बत का शोक़ रखते हैं;
जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में।
---------- 
आपकी नशीली यादों में डूबकर;
हमने इश्क की गहराई को समझा;
आप तो दे रहे थे धोखा और;
हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा।
---------- 
क्या बताऊँ मेरा हाल कैसा है;
एक दिन गुज़रता है एक साल जैसा है;
तड़पता हूँ इस कदर बेवफाई में उसकी;
ये तन बनता जा रहा कंकाल जैसा है।
---------- 
मेरी तक़दीर में जलना है तो जल जाऊँगा;
तेरा वादा तो नहीं हूँ जो बदल जाऊँगा;
मुझको समझाओ न मेरी जिंदगी के असूल;
एक दिन मैं खुद ही ठोकर खा के संभल जाऊँगा।
---------- 
चाँद निकलेगा तो दुआ मांगेंगे;
अपने हिस्से में मुकदर का लिखा मांगेंगे;
हम तलबगार नहीं दुनिया और दौलत के;
हम रब से सिर्फ आपकी वफ़ा मांगेंगे!
----------
खुद भी वो हमसें बिछड़ कर अधूरा सा हो गया;
मुझको भी इतने लोगों में तन्हा बना दिया।
---------- 
जब तक न लगे बेवफ़ाई की ठोकर दोस्त;
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है।
---------- 
पल पल उसका साथ निभाते हम;
एक इशारे पर दुनिया छोड़ जाते हम;
समुन्दर के बीच में पहुंचकर फरेब किया उसने;
वो कहता तो किनारे पर ही डूब जाते हम।
---------- 
वो छोड़ के गए हमें;
न जाने उनकी क्या मजबूरी थी;
खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं;
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।
---------- 
प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना;
अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना;
वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे;
पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।
---------- 
दुनियाँ को इसका चेहरा दिखाना पड़ा मुझे;
पर्दा जो दरमियां था हटाना पड़ा मुझे;
रुसवाईयों के खौफ से महफिल में आज;
फिर इस बेवफा से हाथ मिलाना पड़ा मुझे।
---------- 
तेरी दोस्ती ने दिया सकूं इतना;
की तेरे बाद कोई अच्छा न लगे;
तुझे करनी है बेवफ़ाई तो इस अदा से कर;
कि तेरे बाद कोई भी बेवफ़ा न लगे।
---------- 
जिंदगी देने वाले, मरता छोड़ गये;
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये;
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की;
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये।
---------- 
वो तो दिवानी थी मुझे तन्हां छोड़ गई;
खुद न रुकी तो अपना साया छोड़ गई;
दुख न सही गम इस बात का है;
आंखो से करके वादा होंठो से तोड़ गई।
---------- 
इंसान के कंधों पर ईंसान जा रहा था;
कफ़न में लिपटा अरमान जा रहा था;
जिन्हें मिली बे-वफ़ाई महोब्बत में;
वफ़ा की तलाश में श्मशान जा रहा था।
----------
ना पूछ मेरे सब्र की इंतहा कहाँ तक है;
तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक है;
वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी;
हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक है।
---------- 
शायरी नहीं आती मुझे बस हाले दिल सुना रही हूँ;
बेवफ़ाई का इलज़ाम है, मुझपर फिर भी गुनगुना रही हूँ;
क़त्ल करने वाले ने कातिल भी हमें ही बना दिया;
खफ़ा नहीं उससे फिर भी मैं बस, उसका दामन बचा रही हूँ।
---------- 
अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती;
तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती;
लोग मरने की आरज़ू ना करते;
अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती!
---------- 
जानकार भी तुम मुझे जान ना पाए;
आजतक तुम मुझे पहचान ना पाए;
खुद ही की है बेवाफाई तुमने;
ताकि तुम पर इल्ज़ाम ना आए!
---------- 
मत पूछ मेरे सब्र की इन्तेहा कहाँ तक है;
तु सितम कर ले, तेरी ताक़त जहाँ तक है;
व़फा की उम्मीद जिन्हें होगी, उन्हें होगी;
हमें तो देखना है, तू ज़ालिम कहाँ तक है!
---------- 
वो जिसे समझती थी ज़िन्दगी, मेरी धड्कनों का फरेब था;
मुझे मुस्कुराना सिखा के, वो मेरी रूह तक रुला गयी!
---------- 
ये संगदिलों की दुनिया है, ज़रा संभल के चलना 'दोस्त';
यहाँ पलकों पे बिठाया जाता है, नज़रों से गिराने के लिये!
---------- 
अगर मोहब्बत नही थी तो बता दिया होता;
तेरे एक चुप ने मेरी ज़िन्दगी तबाह कर दी!
---------- 
धोखा दिया था जब तुमने मुझे तब दिल से मैं नाराज था;
फिर सोचा कि दिल से तुम्हें निकाल दूँ, मगर वह कमबख्त दिल भी तुम्हारे पास था!
---------- 
हमने तेरे बाद न रखी किसी से मोहब्बत की आस;
एक शक्स ही बहुत था जो सब कुछ सिखा गया!
----------
तेरी बेवफाई ने मेरा ये हाल कर दिया है;
मैं नहीं रोती, लोग मुझे देख कर रोते हैं!
---------- 
जब तक न लगे बेवफाई की ठोकर;
हर किसी को अपनी पसंद पे नाज़ होता है!
---------- 
हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला;
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला!
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी;
हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला!
---------- 
हमने तेरे बाद न रखी किसी से महोब्बत की आस;
एक शक्स ही बहुत था जो सब कुछ सिखा गया!
---------- 
मुझे मालूम है मैं उसके बिना जी नहीं सकती;
उसका भी यही हाल है मगर किसी और के लिये!
---------- 
मैंने प्यार किया बड़े होश के साथ!
मैंने प्यार किया बड़े जोश के साथ!
पर हम अब प्यार करेंगे बड़ी सोच के साथ!
क्योंकि कल उसे देखा मैंने किसी और के साथ!
---------- 
कहती है दुनिया जिसे प्यार, नशा है , खताह है!
हमने भी किया है प्यार , इसलिए हमे भी पता है!
मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम!
पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है!
---------- 
उन्होंने जो किया ये शायद उनकी फितरत है!
अपने लिये तो प्यार एक इबादत है!
न मिले उनसे तो मरकर बता देंगे!
कि कितनी मुहब्बत है इस दिल में!
---------- 
प्यार किया था तो प्यार का अंजाम कहाँ मालूम था!
वफ़ा के बदले मिलेगी बेवफाई कहाँ मालूम था!
सोचा था तैर के पार कर लेंगे प्यार के दरिया को!
पर बीच दरिया मिल जायेगा भंवर कहाँ मालूम था!
---------- 
वफ़ा के नाम से वोह अनजान थे!
किसी की बेवफाई से शायद परेशान थे!
हमने वफ़ा देनी चाही तो पता चला!
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे!
----------
“उसे गैरों से बात करते देखा तो थोड़ी तकलीफ हुई। फिर याद आया हम कोनसा उसके अपने थे।”
“तू बेवफा है तेरी बेवफ़ाई में दिल बेकरार ही ना करूँ, तू हुक्म दे तो तेरा इंतेज़ार ही ना करूँ, तू बेवफा है तो कुछ इस कदर बेवफ़ाई कर, के तेरे बाद मैं किसी और से प्यार ही ना करूँ…”
““होते हैं शायद नफरत में ही पाकींजा रिश्तें, वरना अब तो तन से लिबास उतारने को लोग मोहब्बत कहते हैं”….!!”
“उजड़ जाते है सर से पाँव तक, “वो लोग” जो किसी “”बेपरवाह”” से “”बे-पनाह”” मोहब्बत करते है !”
“सुना है देर रात तक जागते हो आप लोग, यादो के मारे हो या मेरी तरह इश्क मे हारे हो…”
“शिकायत है उन्हें कि,हमें मोहब्बत करना नही आता,शिकवा तो इस दिल को भी है,पर इसे शिकायत करना नहीं आता”
“तन्हा रहना तो सीख लिया हमने,लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे,तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल,लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे.”
“आरजु थी तेरी माेहब्बत पाने की….!! पागल तूने ताे नफरत के काबिल भी नहीं समझा….!!”
“सासों मे भी शामिल हो, लहू मे भी रवा हो, मगर मेरे हाथो की लकीरो मे कहा हो…”
“खूबसूरती से धोका, न खाइये जनाब, तलवार कितनी भी, खूबसूरत क्यों न हो. मांगती तो, खून ही है..!”
“खुदा के दरबार मे तुम्हारी सलामती की फरियाद करते हैं, आप का तो पता नही मगर हम तो आपको एक पल मे सौ सौ बार याद करते हैं.”
“मुझसे खुशनसीब हैं मेरे लिखे ये लफ्ज, जिनको कुछ देर तक पढ़ेगी निगाहे तेरी ।”
“सुनो कोई टूट रहा है तुम्हे एहसास दिलाते दिलाते , सीख भी जाओ किसी की चाहत की कदर.”
“बिन बात के ही रूठने की आदत है;किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;आप खुश रहें, मेरा क्या है;मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है.”
“लोग पूछते हैं क्यूँ सुर्ख हैं तुम्हारी आँखे, हंस के कह देता हूँ रात सो ना सका, लाख चाहूं मगर ये कह ना सकूँ, रात रोने की हसरत थी, रो ना सका.”
“बस एक बार निकाल दो इस इश्क से ऐ खुदा ,फिर जब तक जियेंगे कोई खता न करेंगे .”
..”दिल तो दोनों का टूटा हैं,वरना…चाँद में दाग और सूरज में आग ना होती..!”
“हमारे इश्क की तो बस इतनी सी कहानी हैं, तुम बिछड गए…हम बिख़र गए. तुम मिले नहीं…और हम किसी और के हुए नही…।”
“अजीब है महोब्बत का खेल , जा मुझे नही खेलना रूठ कोई ओर जाता है , टूट कोई ओर जाता है ।
“अजीब सा दर्द है इन दिनों यारों, न बताऊं तो ‘कायर’, बताऊँ तो ‘शायर’।।”
बहाना क्यु बनाते हो नाराज होने का कह क्यु नही देते के अब दिल मे जगह नही तुम्हारे लिए.
जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना,बहुत तङपाते हैँ अक्सर सीने से लगाने वाले ..
“बहुत अमीर होती है ये शराब की बोतलें पैसा चाहे जो भी लग जाए सारे ग़म ख़रीद लेतीं है…!”
“न जख्म भरे, न शराब सहारा हुई न वो वापस लौटी न मोहब्बत दोबारा हुई !”
“किसी को न पाने से जिंदगी खत्म नही होती, लेकिन किसी को पा कर , खो देने से ….. कुछ भी बाकी नही रहता”
“अब तुझसे शिकायत करना,मेरे हक मे नहीं क्युकी तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की ।”
“मुझे रुला कर सोना तो तेरी आदत बन गई है, जिस दिन मेरी आँख ना खुली बेशक तुझे नींद से नफरत हो जायगी..”
“याद रहेगा हमेंशा यह दर्दे हयात हमको भी, कि क्या खूब तरसे थे ज़िन्दगी में एक शख्स की खातिर।”
“माना की तेरे प्यार का में मालिक नहीं,पर कीरायेदार का भी कुछ हक्क तो बनता हैं !!”
“अफ़सोस तो है तेरे बदल जाने का मगर, तेरी कुछ बातों ने मुझे जीना सिखा दिया.”
अजीब रंग में गुजरी है जिंदगी अपनी.दिलो पर राज़ किया और मोहब्बत को तरसे…
“यादों की किम्मत वो क्या जाने, जो ख़ुद यादों के मिटा दिए करते हैं, यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,यादों के सहारे जिया करते हैं…”
“दर्द से दोस्ती हो गई यारों; जिंदगी बे दर्द हो गई यारों; क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा; दूर तक रोशनी तो हो गई यारो”
“मुझे ऐसी शराब बता ये दोस्त नशा-ए-इश्क उतार पाऊ मै..”
“ये मेरी महोब्बत और उसकी नफरत का मामला है, ऐ मेरे नसीब तू बिच में दखल-अंदाज़ी मत कर..!!®”
“ना जाने किस बात पे वो नाराज है हमसे ख्वाबों मे भी मिलता हू, तो बात नही करती…”
“जो कहा करते थे “”कभी”” तुम्हे ना भूल पायेंगे कल रास्ते में मिले तो बोले लगता है कही देखा है “”तुम्हें”””
सुना है वो मुझे भुल चुकी है, और तो कुछ नहीं बस, उसकी हिंम्मत की दाद देता हुं…
“मेरी शायरी को लोग कितनी सिद्दत से पढते हैँ जैसे इन सब ने भी किसी अजनबी से मोहब्बत कि हो”
“बहुत डर लगता हैं कुछ लोगो से बातो में मिठास और दिलो में जहर रखते ह”
“बेवफाई तो सभी कर लेते है जानेमन तू तो समझदार थी कुछ तो नया करती “
“सोचता रहा ये रातभर. करवट बदल बदलकर, जानें वो क्यों बदल गया, मुझको इतना बदलकर ।”
वो आज फिर से मिले अजनबी से बनकर…और हमें आज फिर से… …मोहब्बत हो गई..
सजा देना हमे बी आता है…. पर तकलीफ से तू गुजरे.. यह हमे आज भी पसंद नही है ।
कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी, हजारो अपने है मगर याद तुम ही आते हो..
“समझा दो तुम अपनी यादों को ज़रा. दिन रात तंग करती हैं मुझे कर्ज़दार की तरह।”
“उस आशिक का दर्द भगवान भी नही समझ सकते, जिसकी गर्लफ्रेन्ड रिचार्ज करवाने के बाद भी उसे फोन नही करती..”
“धोखा देने का शुक्रिया ऐ-मेरे बिछड़े हुए हमससफर । वरना ज़िन्दगी का मतलब ही नही समझ में आता ॥”
“बेशक तेरे फ़ोन की कोई उम्मीद तो नहीं लेकिन, पता नहीं क्या सोचकर, मैं आज भी नंबर नहीं बदलता ।”
“सुना है देर रात तक जागते हो आप लोग, यादो के मारे हो या मेरी तरह इश्क मे हारे हो…”
“आरजु थी तेरी माेहब्बत पाने की.! पागल तूने ताे नफरत के काबिल भी नहीं समझा.!”
“खुदा के दरबार मे तुम्हारी सलामती की फरियाद करते हैं, आप का तो पता नही मगर हम तो आपको एक पल मे सौ सौ बार याद करते हैं.”
“सुनो कोई टूट रहा है तुम्हे एहसास दिलाते दिलाते , सीख भी जाओ किसी की चाहत की कदर……!!!”
“जब वो मिले हमसे अरसे बाद तो उन्होने पूछा हाल-चाल कैसा है, तो मैने कहा तुम्हारी चली चाल से
मेरा हाल बदल गया,”
“तुमको छुपा रखा हे इन पलकों मे,पर इनको ये बताना नहीं आया,सोते हुए भीग जाती हे पलके मेरी,पलकों को अब तक दर्द छुपाना नहीं आया”
“सूखे होंटों पे ही होती हैं मीठी बातें प्यास जब बुझ जाये तो लहजे बदल जाते हैं .!”
“लोग मुझसे पूछते हैं की तुम यार ऐसी शायरियां लाते कहा से हो. मैंने भी कह दिया की उसके ख्यालो मैं डुबकी लगानी पड़ती है.!”
“हर किसी को मैं खुश रख सकूं वो सलीका मुझे नहीं आता.. जो मैं नहीं हूँ, वो दिखने का तरीका मुझे नहीं आता ।”
“मुझें छोड़कर वो खुश हैं, तो शिकायत कैसी.. अब मैं उन्हें खुश भी न देखूं तो मोहब्बत कैसी..”
“इस मोहब्बत की किताब के दो ही सबक याद हुये, कुछ तुम जैसे आबाद हुये, कुछ हम जैसे बर्बाद हुये….!”
“तू मांग तो सही अपनी दुआओ मे बददुआ मेरे लिए मै हंसकर खुदा से आमीन कह दूंगा … !”
“इश्क” का धंधा ही बंघ कर दिया साहेब. मुनाफे में “जेब” जले.. और घाटे में “दिल”
“हमारे इश्क की तो बस इतनी सी कहानी हैं, तुम बिछड गए…हम बिख़र गए. तुम मिले नहीं…और हम किसी और के हुए नही…।”
“तड़प उठते है, उन्हें याद करके, जो गए है, हमे बर्बाद करके, अब तो इतना ही ताल्लुक रह गया है
कि रो लेते है, बस उन्हें याद करके.”
“जाता हुआ मौसम लौटकर आया है.. काश वो भी कोशिश करके देखे…!!”
“अजीब है महोब्बत का खेल , जा मुझे नही खेलना रूठ कोई ओर जाता है , टूट कोई ओर जाता है ।”
“काश तेरी याद़ों का खज़ाना बेच पाते हम.. हमारी भी गिनती आज अमीरों में होती । “
“नाराजगी, डर,नफरत या फिर प्यार…कुछ तो जरुर है जो तुम मुझ से दूर दूर रहते हो”..!!
“तू इतना प्यार कर जितना तू सह सके, बिछड़ना भी पड़े तो ज़िंदा रह सके.!”
“मौत के बाद याद आ रहा है कोई, मिट्ठी मेरी कबर से उठा रहा है कोई, या खुदा दो पल की मोहल्लत और दे दे, उदास मेरी कबर से जा रहा है कोई.”
“सुनो कोई टूट रहा है तुम्हे एहसास दिलाते दिलाते, सीख भी जाओ किसी की चाहत की कदर…”
“मत पूछो यारो ये इश्क केसा होता है. बस जो रुलाता है ना, उसे ही गले लगाकर रोने को जी चाहता है .”
“अजीब सा दर्द है इन दिनों यारों, न बताऊं तो ‘कायर’, बताऊँ तो ‘शायर’।।”
“कहते हैं कि हम उनकी झूठी ही तारीफ करते हैँ. ऐ खुदा इतना करम कर दे – बस एक दिन के लिए आईने को जुबान दे दे.”
“दिन गुजर जाता हे तुम्हारी यादो के साथ मशला रात का हे खेर जाने दो”
“रूप का आकर्षण प्यार नही होता हर किसी पे ना मर छोरे क्योकि हर के पास सच्चा प्यार नही होता”
मै रोता रहा रातभर मगर फैसला ना कर सका तू याद आ रही है… या मै याद कर रहा हूँ…
“बहुत अमीर होती है ये शराब की बोतलें पैसा चाहे जो भी लग जाए सारे ग़म ख़रीद लेतीं है…!”
“न जख्म भरे, न शराब सहारा हुई न वो वापस लौटी न मोहब्बत दोबारा हुई !”
“मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है, बोला, साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है”
इश्क का समंदर भी क्या समंदर है… जो डूब गया वो #आशिक… जो बच गया वो #दीवाना… जो तैरता ही रह गया वह #पति !!!
“तुम तो डर गये हमारी एक ही कसम से, हमेँ तो तुम्हारी कसम देकर हजारो ने लूटा है “
“कदम लडखडाये तो पता चला की पी ली हैं वरना याद में आपकी,वैसे भी हम नशे में रहेते हैं.. !”
मेरी कोशिश कभी कामयाब ना हो सकी, पहले तुझे पाने की फिर तुझे भुलाने की’;
“महफिल लगी थी बद दुआओं की, हमने भी दिल से कहा उसे इश्क़ हो, उसे इश्क़ हो, उसे इश्क़ हो…”
“इतनी दिलक़श आँखें होने का, ये मतलब तो नही कि, जिसे देखो उसे बरबाद कर दो।।”
“किसी को न पाने से जिंदगी खत्म नही होती, लेकिन किसी को पा कर , खो देने से ….. कुछ भी बाकी नही रहता”
“चाहा था मुक्कमल हो मेरे गम की कहानी, मैं लिख ना सका कुछ भी, तेरे नाम से आगे !!”
अब तुझसे शिकायत करना,मेरे हक मे नहीं क्युकी तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की ।
“मुझे रुला कर सोना तो तेरी आदत बन गई है, जिस दिन मेरी आँख ना खुली बेशक तुझे नींद से नफरत हो जायगी..”
“याद रहेगा हमेंशा यह दर्दे हयात हमको भी, कि क्या खूब तरसे थे ज़िन्दगी में एक शख्स की खातिर।”
“अगर नींद आ जाये तो, सो भी लिया करो ! रातों को जागने से, मोहब्बत लौटा नहीं करती”
“देख जिँदगी तू हमे रुलाना छोड दे अगर हम खफा हूऐ तो तूझे छोड देँगे”
“कुछ हार गई तकदीर कुछ टूट गये सपने.! कुछ गैरों ने किया बरबाद कुछ भूल गये अपने”
“कितना अजीब है लोगों का अंदाज़-ए-मोहब्बत रोज़ एक नया ज़ख्म देकर कहते हैं अपना ख्याल रखना!”
ज़रा सी बात पे ना छोड़ना किसी का दामन, उम्रें बीत जाती हैं दिल का रिश्ता बनाने में ….

क्या मिला प्यार में अपनी ज़िंदगी के लिए;
रोज़ आँसू ही पिए हैं मैंने किसी के लिए;

वो गैरों में खुशियां मनाते रहे;
और हमे अपनी ही हँसी के लिए तड़पाते रहे।

और ज्यादा भड़काते हो तुम तो आग मोहब्बत की;
सोजिश-ए-दिल को ऐ अश्को, क्या ख़ाक बुझाना सीखे हो।

दिल में हर राज़ दबा कर रखते हैं;
होंठों पे मुस्कुराहट सज़ा के रखते हैं;

यह दुनिया सिर्फ ख़ुशी में साथ देती है;
इसलिए हम अपने आँसुओं को छुपा कर रखते हैं।

Hasne Ki Justju Mein Dabaya Jo Dard Ko,
Aansoo Hamari Aankh Mein Pathar Ke Ho Gaye!!

सुकून अपने दिल का मैंने खो दिया;
खुद को तन्हाई के समंदर में डुबो दिया;

जो था मेरे कभी मुस्कुराने की वजह;
आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो दिया।

Aye Khuda log banaye the pathar ke agar,
Mere ehsas ko sheeshesa sa na banaya hota..

“ऐ मोहब्बत तू शर्म से डूब मर, तू एक शख्स को मेरा ना कर सकी..”

“तूने हसीन से हसीन चेहरों को उदास किया है,ए इश्क अगर तू इन्सान होता तो तेरी वाट लगा देता..”

उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं,
नाम लब पर हैं मगर जान अभी बाकी हैं,
क्या हुआ अगर देख कर मूंह फेर लेते हैं वो..
तसल्ली हैं कि अभी तक शक्ल कि पहचान बाकी हैं!

न वो आ सके न हम कभी जा सके,
न दर्द दिल का किसी को सुना सके,
बस बैठे है यादों में उनकी,
न उन्होंने याद किया और न हम उनको भुला सके !!

दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया,
खाली ही सही हाथों में जाम तो आया,
मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही, उसके लबों पे मेरा नाम तो आया।

हम सिमटते गए उनमें और वो हमें भुलाते गए,
हम मरते गए उनकी बेरुखी से, और वो हमें आजमाते गए,
सोचा की मेरी बेपनाह मोहब्बत देखकर सीख लेंगी वफाएँ करना,
पर हम रोते गए और वो हमें खुशी खुशी रुलाते गए..!!

अनजाने में यूँ ही हम दिल गँवा बैठे,
इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे,
उनसे क्या गिला करें.. भूल तो हमारी थी
जो बिना दिलवालों से ही दिल लगा बैठे।

टूटा हो दिल तो दुःख होता है,
करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है,
दर्द का एहसास तो तब होता है,
जब किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है।

Bahut bheed hai is mohabbat k shahar main,
ek baar jo bichhada dobara nahin milta.

काश वो भी आकर हम से कह दे मैं भी तन्हाँ हूँ,
तेरे बिन, तेरी तरह, तेरी कसम, तेरे लिए !

pyar to mohabbat ka karishma hai warna pathar
ke mahal ko taj mahal kaun kehta

Mohabbat hai meri isliye door hai mujhse..
Agar zidd hoti to shaam tak bahon mein hoti

Khabar marne ki jab aaye to yeh na samajhna hum dagebaaz the..
Kismat ne gum itne diye, bas zara se pareshan the..

Shayad chupke se rona bhi zindagi hai.

सुनो ना….हम पर मोहब्बत नही आती तुम्हें,
रहम तो आता होगा?

बहुत देर करदी तुमने मेरी धडकनें महसूस करने में..!
वो दिल नीलाम हो गया, जिस पर कभी हकुमत तुम्हारी थी..!

रिश्ते उन्ही से बनाओ जो निभानेकी औकात रखते हो,
बाकी हरेक दिल काबिल-ऐ-वफा नही होता ।

हाथ की लकीरें भी कितनी अजीब हैं,
हाथ के अन्दर हैं पर काबू से बाहर.

किसी ने धूल क्या झोंकी आखों में,
पहले से बेहतर दिखने लगा है.

वो बोलते रहे हम सुनते रहे,
जवाब आँखों में था वो जुबान में ढूंढते रहे.

यूँ गुमसुम मत बैठो पराये से लगते हो,
मीठी बातें नहीं करना है तो चलो झगड़ा ही कर लो…!!

हमने तुम्हें उस दिन से और ज़्यादा चाहा है,
जबसे मालूम हुआ के तुम हमारे होना नही चाहते.

काश एक ख़्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर,
तुम आ कर गले लगा लो मुझे,
मेरी इज़ाज़त के बगैर….!!

ज़िन्दगी जोकर सी निकली,
कोई अपना भी नहीं….कोई पराया भी नहीं.

आने वाला कल अच्छा होगा,
बस इसी सोच मे आज बीत जाता है.

Mai Jaanta Hu K Uske Bina Jee Nahi Paunga
Haal Uska B Yahi Hai Magar Kisi or K Liye.

Dhoka Deti Hain Aksar Chamak Sharif Chehron Ki;
Kyunki Hr Kaanch Kaa Tukda Heera Nhi Hotaa!

Teri Mohabbat Bhi Kiraye Ke Ghar Ki Tarah Thi,
Kitna Bhi Sajaya, Par Meri Na Huyi.

Faaslon ka ehsaas tb hua..
Jab Maine kaha..”mai theek hu..”
Aur.. Usne “maan liya..”

Tu agar khawab tha mera to bata
kyu meri neend se bahaar nikla

dhoka mila jab pyar mein,
zindagi mein udasi cha gayi,
socha tha aag laga denge iz duniya ko,
to kambhakt colony mein dusri aa gai!!

Lamha Lamha Saansein Khatam Ho Rahi Hain
Zindagi Maut Ke Pehloo Mein So Rahi Hai
Us Bewafa Se Naa Poocho Meri Maut Ki Wajah
Woh To Zamaane Ko Dikhaane Ke Liye Ro Rahi Hai

Pal Pal Uska Saath Nibhate Hum
Ek Ishare Pe Dunya Chhor Jate Hum
Samandar K Beech Me Pohanch Kar Fareib Kya Usne
Wo Kehte To Kinaare Pe Hi Doob Jate Hum

Pyar Kiya To Badnam HoGaye,
Charche Hamare Sar E Am Ho Gaye,
Zaalim Ne Dil Bhi Usi Waqt THoda,
Jab Hum Uske Pyar K Gulam Ho Gaye ….

Zindagi toh hum bhi jee rahe the,
Taqdeer humari kharab nikli,
Tajmahal hum bhi bana sakte the,
Mumtaz humari bewafa nikli.

हम अंजुमन में सबकी तरफ देखते रहे,
अपनी तरह से कोई हमें अकेला नहीं मिला।

Raat Ki Tanhaion Mein Bechain Hain Hum,
Mehfil Jami Hai Phir Bhi Akele Hain Hum,
Aap Humse Pyaar Karein Ya Na Karein,
Par Aapke Bina Bilkul Adhoore Hain Hum.

Na Jane Kyun Khud Ko Akela Sa Paya Hai,
Har Ek Rishte Me Khud Ko Ganwaya Hai,
Shayad Koyi Toh Kami Hai Mere Wajood Mein,
Tabhi Har Kisi Ne Humein Yun Hi Thukraya Hai.

Mujh say kehti hai tery sath rahoongi
Buht piyar krti hai mujhsey udasi meri…

Apni bebasi par aaj rona sa aaya
Doosron ko nahi maine apno ko azmaaya
Har dost ki tanhaayi door ki
Lekin khud ko har morh par tanha hi paya..!

Ab to un ki yaad bhi aati nahin,
Kitni tanha ho gayin tanhaayiyan..

Manzile Bhi Uski Thi Rasta Bhi Uska Tha
Ek Main Akela Tha, Kafila Bi Uska Tha
Sath-Sath Chalne Ki Soch Bi Uski Thi
Fir Raasta Badalne Ka Faisla Bhi Uska Tha.

Chiraagon Ki Roshni Jab Zara Hili
Laga Tumhari Ek Aahat Si Mili
Jaake Dekha Jab Dar Pe
To Phir Wahi Zaalim Hawa Mili

Aik Pal Ka Ehsas Bankar Ate Ho Tum
Dosre Hi Pal Khuwab Bankar Ur Jate Ho Tum
Janty Ho K Lagta Hia Dar Tanhaiyo se
Phr Be Bar Bar Tanha Chor jate ho Tum

Geele Kagaz Ki Tarah Hain Zindagi Apni
Koi Jalata Bhi Nahin Koi Bahata Bhi Nahin
Is Qadar Hain Akale Rahaon Mein Dil Ki
Koi Bulata Bhi Nahi Koi Batlata Bhi Nahin.

Aao Mil Kar Haste Hai,
Apni Apni Mohabbatoon Par.

Zindagi Mein Log Dukh Ke Siwa De Bhi Kya Sakhte Hein,
Marne Ke Baad Do Gazz Kafan Dete Hein Woh Bhi Ro Ro Ke

Kismat par aitbar kisko hai,
Mil jaye khushi inkaar kisko hai,
Kuch majburian hain mere dost,
Warna judai se pyaar kisko hai.

Waade bhi dost ne kya khub nibhaye,
Zakham muft mein aur dard tohfe me bhijwaye,
Is se badhkar wafa ki misaal kya hogi,
Maut se pehle hi dost kafan le aye

Dil ke dard ko dil todne waala kya jaane,
pyaar ke rivajo ko ye jmaana kya jaane,
hoti hai kitni takleef kabar mein,
upper se phool chadane waala kya jaane

Darya wafaon ka kabhi rukta nahi;
Mohabat mein insan kabhi jhukta nahi;
Khamosh hain hum unki khushi ke liye;
aur Wo smajh baithe hain ki dil humara dukhta nahi…

Meri Tanhayi Ko Mera Shaunq Na Samjhna;
Bohat Pyaar Se Diya Hai Yeh Tohfa Kisi Ne!

Kuchh Zakhm Sadiyoun Baad Bhi Taaza Rehte Hein, Faraz;
Waqt Ke Paas Bhi Har Marz Ki Dawa Nahi Hoti!

Ajab Hunnar Hai Mere Hath Mein,
Yeh Shair Likhne Ka;
Mein Apni Barbadian Likhta Hun,
Log Wah Wah Karte Hain!

Meri Chahat Ko Mere Halaat Ke Tarazu Mein Kabhi Mat Tolna,
Maine Woh Zakham Bhi Khaye Hain, Jo Meri Qismat Main Nahi The!

Talaash Kar Meri Kami Ko Apne Dil Mein;
Agar Dard Mile To Samajh Lena, Mohabbat Abhi Baki Hai!

Jagmagaate Shehar Ki Raanayion Mein Kya Naa Tha;
Dhundne Nikla Tha Jisko, Bas Vahi Chehra Na Tha!
Hum Vahi, Tum Bhi, Vahi, Mausam Vahi, Manzar Vahi;
Faansle Badh Jaayenge Itne, Kabhi Socha Na Tha!

Shaam Se Aaj Saans Bhaari Hai, Bekaraari Bekaraari Hai!
Aapke Baad Har Ghadi Humnein, Aap Ke Saath Hi Guzaari Hai!

Dua Maangi Thi Ik Aashiyaane Ki;
Aandhiyaan Chal Padi Zamaane Ki;
Mere Gham Ko Koi Samajh Na Saka;
Kyonki Mujhe Aadat Thi Muskuraane Ki!

Mujhe udaas dekhkar usne kaha,
Mere hote hue tumhe koi dukh nhi de skta;
`Phir aisa hi hua` zindgi mein;
Jitne dukh mile sab usi ne diye.

Dil wale to aur bhi honge tumhare shahar mein magar,
Hamara andaaz-e-wafa tumhe hamesha yaad ayega…!!

जानते थे तोङ दोगे तुम,,
फिर भी दिल तुम्हेँ देना अच्छा लगा..!!

Mujhe is baat ka gam nahi ki tum bewafa nikli…
Afsoos to iss baat ka hyai ki
Wo Log ‘sacche’ nikle jinse main tumhare liye lada karta tha…..

Bhula denge thume bhi, zara sabar to kijiye,
thumari tarah bewafa hone me thoda waqt to lagega..!!

Main Nhi Janta Pyar Main Bewafai Q Milti Hai Par,
Itna Zaror Janta Hon, Jub Dil Bhar Jye To Log chor dete hain….!!!

Tum ne uss Waqt Bewafaai ki,
Yakeen Jab Aakhri makaam par tha..!!

Bandh mutthi me Ret ki Tarah,
Bhoola diya tumne zara zara karke..!!

Anchal phir ashkon sey bhigoney wali hun,
Ji bhar kay teri yad me roney wali hun..

Bohat andar tak tabaahi machaata hai,
Woh aansuu jo behne se ddar jaye..

Zamaaney ke sawaalon ko main hans kar taal doon lekin,
Nami ankhon ki kehti hai mujhe tum yaad aatey ho..

Yoon hi ankhon mein aaa gaye ansu,
Jayiye aap, koi baat naheen..

आँखों से बहता पानी झरना है या है कोई समंदर;
हर पल क्यों ये लगता है जैसे कुछ टूट रहा है मेरे अंदर।

पढ़ने वालों की कमी हो गयी है आज इस ज़माने में;
नहीं तो गिरता हुआ एक-एक आँसू पूरी किताब है।

किसी ने मुझसे कहा आपकी आँखें बहुत खूबसूरत हैं;
मैंने कहा बारिश के बाद अक्सर मौसम सुहाना हो जाता है।

बहुत रोया हूँ मैं जब से ये मैंने ख्वाब देखता है;
कि आप आँसू बहाते सामने दुश्मन के बैठे हैं।

Riwaayeton Ko Nibhane Ka Tha Saleeqa Us Ko,
Woh Bewafaayi Bhi Karta Raha Wafaa Ke Sath.

Seh Liya Har Dard Humne Haste Haste
Ujad Gaya Ghar Mera Yaaro Baste Baste
Ab Wafa Kare Toh Kis Se Kare Yaaro
Wafa Karne Gaye Toh Bewafai Mili Har Raste…

Sirf Ek Hi Baat Seekhi,
In Husn Waloon Se Hum Ne,
Haseen Jis Ki Jitni Ada Hai,
Woh Utna Hi Bewafa Hai..

Umar beet gai bus ak zara si baat samjhne me ,
Ho jaye jinse Mohabbat wo log Qadar kyu nahi karte.

Matlab ki duniya me kaun kiska sath deta hai?
dhoka vo hi deta hai‚ jis par bharosha hota hai

हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर…..
कई ज़ख्मों को सीने में दबाकर रख दिया हमने !

जख्म जब मेरे सीने के भर जायेंगें ….
आसूं भी मोती बन कर बिखर जायेंगें ….
ये मत पूछना किस-किस ने धोखा दिया ….
वर्ना कुछ अपनों के चेहरे उतर जायेंगें

Mohabbat ek dhoka hai jisme har aasiq rota hai
Kya mila kisiko mahabbat karke?
Jisne pyar nahi kiya wo bhi kisiki
Love Story sun ke rota hai.

Zindagi Itni Mushqil Na Hoti,
Agar Tumse Mohabbat Na Ki Hoti,
Hum Iss Tarah Se Barbaad Na Hote,
Agar Tu Bewafa Na Hoti.

Khayal me aata hai jab us ka chehra,
To labon pe aksar faryaad aati hai,
Hum bhool jate hai us k sare sitam,
Jab us ki thori si mohabbat yaad aati hai…

Kitni raaten beet gai, kitne din beet gaye.
Bus beeta nahin to yaadon ka vo pal, wo guzra hua kal,
Beeti nahin to aankhon ki nami, aur aapki kami.

Meri Aawaz Usay Sunai nahi deti,
Ab to door tak koi Umeed bhi Dikhai nahi deti,
Ehsas Usay Aur Sab Logon ka hai,
Bus meri hi Tanhai Usay Dikhai nahi deti

किन लफ़्ज़ों में बंया करूँ मैं अपने दर्द को,
सुनने वाले तो बहुत है मगर समझने वाला कोई नहीं…

Woh aate to hai par samay se nahi,
Woh chalte to par man se nahi,
Kaun kehta hai kee woh payar nahi karte,
Karte to hai par hum sey nahi

Pyar Kisi Se Jo Karoge Ruswai Hi Milegi
Wafa Kar Lo Chahe Jitni Bewafaai Hi Milegi
Jitna Marzi Kisi Ko Apna Bana Lo
Jab Ankh Khulegi Tanhai Hi Milegi

Aab Intazar Ek Aadat Si Hogai Hai
Khamoshi Se Ek Caahat Si Hogai Hai
Na Shikwa Na Shikayat Karne Ki Zarurat Hai
Kyuki Is Tanhai Se Abb Mohbbat Si Hogai Hai

Jaa Chuke Hain Sab Aur Wahi Khamoshi Chaayi Hai
Pass Hain Har Oar Sannata, Tanhai Muskurai Hai

Na Kisee Kee Aankh Ka Noor Hoon;
Na Kisee Key Dil Ka Qaraar Hoon;
Jo Kisee Key Kaam Na Aa Sakey;
Main Vo Ek Musht-e-Ghubaar Hoon!

Zindagi Ka Har Zakham Uski Meharbani Hai;
Meri Zindagi To Ek Adhuri Kahani Hai;
Chahta To Mita Dete Har Dard Ko;
Magar Yeh Dard Hi To Uski Aakhri Nishani Hai!

Kabhi Ro Ke Muskuraye, Kabhi Muskura Ke Roye;
Jab Bhi Teri Yaad Aayi, Tujhe Bhula Ke Roye;
Ek Tera Hi To Naam Tha Jise Hazar Bar Likha;
Jitna Likh Ke Khush Hue Uss Se Jayada Mita Ke Roye!

Ae Maut, Tujhe Gale Lagana Chahta Hun;
Kitni Wafa Hai Tujh Main Aazmana Chaahta Hun;
Logo Ne Bahut Rulaya Hai Mujhe;
Tera Saath Mile To Logo Ko Rulana Chahta Hun!

Aaj Uss Nay Ek Dard Diya To Muje Yaad Aaya;
Humm Nay Hi Duaon Main Uss Ke Saare Dard Mange Thay!

Ya Toh Deewaana Hanse, Ya Tu Jise Taufeeq De;
Warna Iss Duniya Mein Kya Hai Muskaraane Ke Liye

Mana k kal hum akele reh gaye,
judai k aansu ankho se beh gaye,
Rothe hue ko koun chup karayega,
jo chup karathe the wo hi aaj chup hogaye.!

Gujra Waqt Dil ki Baat Sunayega,
Kabi Sath The Hum,Har Pal Yaad Aayega,
Gour se Palatna Zindgi ke Panno ko,
Kabhi na Kabhi to Hamara Naam Najar Aayega

Yun Dil Se Dil Ko Juda Na Kijiyega…….
Zara Soch Samaj Kar Faisla Kijiyega…….
Agar Jee Sakte Hai Aap Mere Bina………..
To Beshak Meri Maut Ki Dua Kijiyega.

Ab Jo Ik Hasrat-E-Jawani Hai;
Umr-E-Rafta Ki Ye Nishani Hai;
Khak Thi Maujzan Jahan Mein, Aur;
Ham Ko Dhoka Ye Tha Ke Pani Hai!

Khamosh Chehre Par Hazaaron Pehre Hote Hai;
Hasti Aankhon Mein Bhi Zakham Gehre Hote Hain;
Jinse Aksar Rooth Jaate Hai Hum;
Asal Mein Unse Hi Rishte Gehre Hote Hain!

Ik Tabasum Honthon Par Raksa Hai;
Koshish Hai Zamaane Se Gam Chhupaane Ki;
Aur Mere Ahbaab Samajte Hai Ki;
Mujhe Aadat Hai Muskuaarane Ki!

Mere Dil Ka Woh Har Ek Dard Mitaane Vaala;
Aaj Khud Rooth Gayaa Hai Mujhko Manaane Vaala;
Koi Dekhe Na Humein Dekh Rahaa Hai Maalik;
Sabke Dil Mein Hai Woh Maujood Zamaane Wala!

Mujhe Ghumaan Tha Ke Chaahaa Bahut Zamane Ne Mujhe;
Main Aziz To Sabko Tha Magar Zarooraton Ke Tarah!

Jab Bhi Unki Gali Se Guzarta Hoon;
Meri Aankhein Ek Dastak De Deti Hai;
Dukh Ye Nahi, Wo Darwaja Band Kar Dete Hai;
Khusi Ye Hai, Wo Mujhe Ab Bhi Pehchaan Lete Hai!

Roz dhalti huyi shaam se dar lagta hain,
Ab mujhe ishq ke anjaam se dar lagta h
Jab se tumne mujhe dhokha diya,
Tabse mohabbat k nam se b dar lagta hai.

Khushiyaan ek kahani ban k rah gayi,
milte milte yeh dooriyaan badti gayi,
Na jane kahaan gayi woh khilti huyi mausam,
dil mein ek andhera si cha gayi.

Teri duniaa se jaane ke baad mai tumhe,
Har ek taare main nazar aaya karunga.
Tum har pal koi duaa maang lena,
Or main har baar toot jaya karunga.

Jagmagaate Shehar Ki Raanaaiyon Mein Kya Na Tha;
Dhoondne Niklaa Tha Jisko, Bas Vahi Chehra Na Tha;
Hum Vahi, Tum Bhi Vahi, Mausam Vahi, Manzar Vahi;
Faasle Badh Jaayenge Itne Kabhi Socha Na Tha!

Raha Youn Hi Namukkamal, Gham-e-Ishq Ka Fasaana;
Kabhi Mujhko Neend Aayi, Kabhi So Gaya Zamaana!

Na Main Pass Unko Bulaa Saka;
Na Main Dil Ki Baat Suna Saka;
Woh Hansi Hansi Main Hi Chal Deeya;
Ke Main Haath Tak Na Hila Saka!

Dard Mein Bhi Yeh Lab Muskura Jate Hain;
Beetey Lamhe Hamein Jab Bhi Yaad Atey Hain!

Uski Justaju, Uska Intezaar Aur Yeh Akelapan;
Thak Kar Muskura Dete Hein, Jab Roya Nahi Jaata!

Humne Socha, Unke Pyar Mein Tadapna Chhod Denge;
Unke Liye Tarasna Chhod Denge;
Dil Ko Bola, Tu Bhul Ja Use;
Dil Bola, Hum Dhadakna Chhod Denge!

Dard Hi Sahi Mere Ishq Ka Inaam To Aaya;
Khali Hi Sahi Hathon Mein Jaam To Aaya;
Main Hoon Bewaafa Sabko Bataya Usne;
Yun Hi Sahi Uske Labon Pe Mera Naam To Aaya!

Koi Naraz Hai Humse Ke Hum Kuch Likhte Nahi;
Kahan Se Layein Lafz Jab Wo Milte Nahi;
Dard Ki Zuban Hoti To Bata Dete;
Woh Zakhm Kaise Bataye Jo Dikhte Nahi!

Manzilon Se Begaana Aaj Bhi Safar Mera;
Raat Besahar Meri Dard Beasar Mera!

Yun to Sadmo Mein Bhi Hans Leta Tha Main;
Aaj Kyu Bewajah Rone Laga Hun Main;
Barson Se Hatheliyan Khali Hi Rahi Meri;
Phir Aaj Kyu Lagaa Sab Khone Laga Hun Main!

Manzilon Sey Begana Aaj Bhee Safar Mera;
Raat Besahar Meree Dard Beasar Mera!

मैं उसका सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ दोस्तों..
वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए..

Itne Zakhm Khaye Hue Hai,
Ab Ishq Bhi Hota Nahi,
Darr Lagta Hai Iss Zamane Mein,
Kahin Sab Bewafa To Nahi.

Hum nadan the jo us ko apna humsafar samajh baithe,
Wo chalte to humare sath the, magar kisi aur ki talash mein..!!

मत रख हमसे वफा की उम्मीद,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

Janaaza Dekh kar Mera woh Bewafa bol he padi,
Wohi Maraa hena Jo Mujpar Maraa karta tha..!!

Aaj bhi ek swaal chhipa hai dil ke kone me,,
Aakhir kya kami reh gayi thi tera hone

“ये शायरी की महफ़िल बनी है आशिकों के लिये ,,बेवफाओं की क्या औकात जो शब्दों को तोल सके”

“वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह. फिर हल्का सा मुस्कराया, और कहा, मोहब्बत की थी ना…?”

मुझसे ‘नफरत’ तभी करना
जब आप मेरे बारे मे ‘सबकुछ’ जानते हो
तब नहीं जब किसी से ‘कुछ’ सुना हो ।

मैं कई अपनों से वाक़िफ़ हूँ
जो पत्थर के बने हैं !!!

“उजड़ जाते है सर से पाँव तक, “वो लोग”… जो किसी “”बेपरवाह”” से “”बे-पनाह”” मोहब्बत करते है….

उसके चले जाने के बाद…हम महोबत नहीं करते किसी से,
छोटी सी जिन्दगी है…किस किस को अजमाते रहेंगे.

बेवफा तेरा मासुम चेहरा
भुल जाने के काबिल नही।
है मगर तु बहुत खुबसुरत
पर दिल लगाने के काबिल नही.

तु भी आईने की तरह बेवफा निकला,
जो सामने आया उसी का हो गया.

हर भूल तेरी माफ़ की..
हर खता को तेरी भुला दिया..
गम है कि, मेरे प्यार का..
तूने बेवफा बनके सिला दिया|

तुझे चिठ्ठीयां नहीं करवटो की नकल भेजेंगे,
अब चादर के नीचे कार्बन लगाने लगे हैँ हम,
एक ख्वाहिश है मेरी, पूरी हो इबादत के बगैर,
वो आकर लिपटे मुझसे, मेरी इजाजत के बगैर.

इन्सान कम थे क्या.. जो अब मोसम भी धोखा देने लगे…

दिल धोखे में है , और धोखेबाज दिल में …!!

Saans bhi loon to uski mehak aati hai….
usne thukraya hai mujhe itne qareeb aane k baad..

Hum toh bane hii tabah hone k liye the,,
tumhara milna toh bas ek bahana tha…!!”

Uski aankhon mein nazar aata hai saara jahan mujhko,
Afsos ki un aankhon mein kabhi khud ko nahi dekha.

Jo Ho Ijazat To Tum Se ek Baat Punchhu……
Jo Hum Se Ishq Seekha Tha Woh Ab Tum Kis Se Karte Ho….!!!!

Ishtehar de do k ye dil khali hai ,
Wo Jo ayaa thaa kirayedar nikla

हैरान हूँ तुम्हारे “हसरतों” पर “मैं”,,,,, !!
हर चीज माँगी तुमने “मुझसे” …”मुझे” छोड़कर …!!

Teri Dosti Ne Diya Sakun Itna,
Ki Tere Baad Koi Bhi Accha Na Lage,
Tujhe Karni Ho Bewafai To Is Ada Se Karna,
Ki Tere Baad Koi Bhi Bewafa Na Lage…..

खाए है लाखो धोखे,
एक धोखा और से लेंगे.
तू लेजा अपनी डोली को,
हम अपनी अर्थी को बारात कह लेंगे..

Haasil karke to, Har koi mohabbat kar sakta hai…..
Bina haasil kiye, Kisi ko chahna koi humse punchho

Tum ne uss Waqt Bewafaai ki,
Yakeen Jab Aakhri makaam par tha..!!

Bandh mutthi me Ret ki Tarah,
Bhoola diya tumne zara zara karke..!!

Bewafa yaar se khakar dhoka ishq me,
Kyun rota hai tu apni acchi takdeer pe,
Koi na jane yaha mohabbat kiski sacchi h
Such to ye h mere dost teri kismat acchi h

Tumse Kya Shikwa E Dost Bewafai Ka
Jab Mujhse Mera Nasib Hi Rooth Gya
Sach To Ye H Dost Mai To Wo Khilona Hu
Jo Badnasib Khel Hi Khel Me Tut Gya

मैं उसका सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ दोस्तों..
वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए..

mere halaat par muskurate ho,
Baddua hAI tujHe ishq ho jaAye.

Hum toh bane hii tabah hone k liye the,,
tumhara milna toh bas ek bahana tha…!!”

Kabhi Dekha Hai Andhe Ko Kisi Ka Haath Pakad Kar Chalte Hue…..
Maine Mohabbat Mein ‘TujhPe’ Kuch Yun Bharosa Kiya Tha……

Dil tuta hai aaj par dard nai hua
Kya kare ab to dhoka khane ki aadat si ho gayi hai..!

सज़दे कीजिये, या माँगिये दुआयें,,,,
जो आपका है ही नही, वो आपका होगा भी नही.

जो जले थे हमारे लिऐ बुझ रहे है वो सारे दिये,
कुछ अंधेरों की थी साजिशें कुछ उजालों ने धोखे दिये !!

Bada Shauq Tha Unhe Mera Ashiyana Dekhne Ka
Jab Dekhi Meri Ghareebi to Rasta Badal Lia…

Mai Jaanta Hu K Uske Bina Jee Nahi Paunga
Haal Uska B Yahi Hai Magar Kisi or K Liye.

Dhoka Deti Hain Aksar Chamak Sharif Chehron Ki;
Kyunki Hr Kaanch Kaa Tukda Heera Nhi Hotaa!

Teri Mohabbat Bhi Kiraye Ke Ghar Ki Tarah Thi,
Kitna Bhi Sajaya, Par Meri Na Huyi.

Faaslon ka ehsaas tb hua..
Jab Maine kaha..”mai theek hu..”
Aur.. Usne “maan liya..”

Tu agar khawab tha mera to bata
kyu meri neend se bahaar nikla

dhoka mila jab pyar mein,
zindagi mein udasi cha gayi,
socha tha aag laga denge iz duniya ko,
to kambhakt colony mein dusri aa gai!!

Lamha Lamha Saansein Khatam Ho Rahi Hain
Zindagi Maut Ke Pehloo Mein So Rahi Hai
Us Bewafa Se Naa Poocho Meri Maut Ki Wajah
Woh To Zamaane Ko Dikhaane Ke Liye Ro Rahi Hai

Pal Pal Uska Saath Nibhate Hum
Ek Ishare Pe Dunya Chhor Jate Hum
Samandar K Beech Me Pohanch Kar Fareib Kya Usne
Wo Kehte To Kinaare Pe Hi Doob Jate Hum

Pyar Kiya To Badnam HoGaye,
Charche Hamare Sar E Am Ho Gaye,
Zaalim Ne Dil Bhi Usi Waqt THoda,
Jab Hum Uske Pyar K Gulam Ho Gaye ….

Zindagi toh hum bhi jee rahe the,
Taqdeer humari kharab nikli,
Tajmahal hum bhi bana sakte the,
Mumtaz humari bewafa nikli.

Riwaayeton Ko Nibhane Ka Tha Saleeqa Us Ko,
Woh Bewafaayi Bhi Karta Raha Wafaa Ke Sath.

Seh Liya Har Dard Humne Haste Haste
Ujad Gaya Ghar Mera Yaaro Baste Baste
Ab Wafa Kare Toh Kis Se Kare Yaaro
Wafa Karne Gaye Toh Bewafai Mili Har Raste…

Sirf Ek Hi Baat Seekhi,
In Husn Waloon Se Hum Ne,
Haseen Jis Ki Jitni Ada Hai,
Woh Utna Hi Bewafa Hai..

Umar beet gai bus ak zara si baat samjhne me ,
Ho jaye jinse Mohabbat wo log Qadar kyu nahi karte.

Matlab ki duniya me kaun kiska sath deta hai?
dhoka vo hi deta hai‚ jis par bharosha hota hai

हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर…..
कई ज़ख्मों को सीने में दबाकर रख दिया हमने !

जख्म जब मेरे सीने के भर जायेंगें ….
आसूं भी मोती बन कर बिखर जायेंगें ….
ये मत पूछना किस-किस ने धोखा दिया ….
वर्ना कुछ अपनों के चेहरे उतर जायेंगें

Mohabbat ek dhoka hai jisme har aasiq rota hai
Kya mila kisiko mahabbat karke?
Jisne pyar nahi kiya wo bhi kisiki
Love Story sun ke rota hai.

Zindagi Itni Mushqil Na Hoti,
Agar Tumse Mohabbat Na Ki Hoti,
Hum Iss Tarah Se Barbaad Na Hote,
Agar Tu Bewafa Na Hoti.

Jabse pyaar mein dhoka khaya hai,
Har husnwaale se dar lagta hai,
Andheron ki to aadat nahi thi hamein,
Ab yeh alam hai ke ujale se bhi dar lagta hai…

Tuze paane ki hasrat mein, kab tak taraste rahe
koi aisa de dhoka, ki meri aas toot jaye…

umeed naa rakhna sachee pyaar se ayee jaana,
baade pyaar se dhoka detey hain, shiddat se chahne walee…

हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह…
वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे..

Dhoka diya tha jab usne mujhe,
Jindgi se main naraz tha,
Phir socha usse dil se nikal du,
Dekha to kambkth dil vi uske pas tha.

khuda ne puchha kya saja dun us bewafa ko,
Dil se aavaz aayi mohabbat ho jaye use bhi..

बेवफ़ाओं की महफ़िल लगेगी ,
आज ज़रा वक़्त पर आना मेहमान-ए-ख़ास हो तुम… !!

Meri Maut Par Bhi Uski Aankhon Mein Aansu Na The
Use Shaq Tha Ki Mujhme Ab Bhi Jaan Baki Hai..

fāsla nazroñ kā dhoka bhī to ho saktā hai
vo mile yā na mile haath baḌhā kar dekho

Chod to dia mujhe par ye socha hai kbhi tumne
Ab jab bhi jhoot bologi to kasam kiski khaogi.

mera yaar mujhse yaari nibhana nahi bhula
jab bhi mila mauka, wo dil dukhana nahi bhula

Pehle Zindagi Cheen Li Mujhse,
Ab Meri Mout Ka Bhi Wo Fayda Uthati Hai,
Meri Kabar Pe Phool Chadhane Ke Bhahane,
Wo Kisi Aur Se Milne Aati Hai !!

Wafa ki Umeed kisi aur ko hogi,,
Hamey toh Dekhna hai tu Bewafa kaha tak hai..!!

Parindo’n Jesi Fitrat Ka Mila Tha Ek Shakhs Hamen,
Zara Pankh Kya Nikal Aaye Aashiyana Hi Chhor Gya..

Guzar Toh Jayegi Zindagi Uss Ke Baghair Bhi Lekin..!
Tarasta Rahega Dil Pyaar Karne Waalon Ko Dekh Kar..!!

समेट कर ले जाओ..
अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से..
अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर..
इनकी ज़रूरत पड़ेगी।

बुरे वक्त में ही सबके असली रंग दिखते हैं,
दिन के उजाले में तो पानी भी चांदी लगता है

Waqt Tezi se badal gaya,
Aur tum Waqt se bhi tez nikle..!

Kabhi Dekha Hai Andhe Ko Kisi Ka Haath Pakad Kar Chalte Hue,,
Maine Mohabbat Mein ‘TujhPe’ Kuch Yun Bharosa Kiya Tha..!!

Ishtehar de do k ye dil khali hai ,
Wo Jo ayaa thaa kirayedar nikla

मैं उसका सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ दोस्तों..
वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए..

Itne Zakhm Khaye Hue Hai,
Ab Ishq Bhi Hota Nahi,
Darr Lagta Hai Iss Zamane Mein,
Kahin Sab Bewafa To Nahi.

Hum nadan the jo us ko apna humsafar samajh baithe,
Wo chalte to humare sath the, magar kisi aur ki talash mein..!!

मत रख हमसे वफा की उम्मीद,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

Janaaza Dekh kar Mera woh Bewafa bol he padi,
Wohi Maraa hena Jo Mujpar Maraa karta tha..!!

Aaj bhi ek swaal chhipa hai dil ke kone me,,
Aakhir kya kami reh gayi thi tera hone me…

Mat Pooch Sabar ki Taaqat kab tak hai,,
Tu Bewafaai karle teri Taaqat jaha tak hai..!!

Ab Dekhte hai kiski Jaan jaati hai,
Maine Uski aur Usne Meri kasam Khaayi hai.

Hamse toh kya hosaka Mohabbat Mai,
Khair Tumne toh Bewafaai ki.!!

Jis phool ki parvarish hum ne apni mohabbat se ki,
Jab wo khushbu ke qabil hua to auro k liye mehkne laga.

Haa Yaad Aaaya uska Aakhri Alfaaz yahi tha,
Ab jee sako to jee lena, lekin Marjaao toh Behtar hai…!!

Aadat muje andhero se Darne ki Daal Kar,
Ek Shakss meri Zindagi ko Raat kar gaya..!!

Main Nhi Janta Pyar Main Bewafai Q Milti Hai Par,
Itna Zaror Janta Hon, Jub Dil Bhar Jye To Log chor dete hain….!!!

कैसे बुरा कह दूँ तेरी बेवफाई को,
यही तो है जिसने मुझे मशहूर किया है.

Wafa ki Umeed kisi aur ko hogi,,
Hamey toh Dekhna hai tu Bewafa kaha tak hai..!!

Teri Mohabbat Bhi Kiraye Ke Ghar Ki Tarah Thi,
Kitna Bhi Sajaya, Par Meri Na Huyi..

बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर,
जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया।

Woh Kehta hai Bahot he Majbooriyan hai Waqt ki,,
Saaf Lafzon mai Khud ko Bewafaa nahi kehta..!!

Bada Shauq Tha Unhe Mera Ashiyana Dekhne Ka,
Jab Dekhi Meri Ghareebi Toh Rasta Badal Lia.

Kuchh muhabbat ka nasha tha pehle ham ko
Dil jo toota to nashe se muhabbat ho gayi..!

Mai Jaanta Hu K Uske Bina Jee Nahi Paunga,
Haal Uska B Yahi Hai Magar Kisi or K Liye.

Hamey toh Kabse Pata tha k tu Bewafa hai,
Par tujhe Chaha he isliye k teri Fitrat badal jaaye..

जानते थे तोङ दोगे तुम,, फिर भी दिल तुम्हेँ देना अच्छा लगा..!!

Dil wale to aur bhi honge tumhare shahar mein magar,
Hamara andaaz-e-wafa tumhe hamesha yaad ayega…!!

Mujhe is baat ka gam nahi ki tum bewafa nikli…
Afsoos to iss baat ka hai ki
Wo Log ‘saceh’ nikle jinse main tumhare liye lada karta tha.

Bhula denge thume bhi, zara sabar to kijiye,
thumari tarah bewafa hone me thoda waqt to lagega..!!

Dil wale to aur bhi honge tumhare shahar mein magar,
Hamara andaaz-e-wafa tumhe hamesha yaad ayega…!!

जानते थे तोङ दोगे तुम,,
फिर भी दिल तुम्हेँ देना अच्छा लगा..!!

Mujhe is baat ka gam nahi ki tum bewafa nikli…
Afsoos to iss baat ka hyai ki
Wo Log ‘saceh’ nikle jinse main tumhare liye lada karta tha.

Bhula denge thume bhi, zara sabar to kijiye,
thumari tarah bewafa hone me thoda waqt to lagega..!!

Main Nhi Janta Pyar Main Bewafai Q Milti Hai Par,
Itna Zaror Janta Hon, Jub Dil Bhar Jye To Log chor dete hain….!!!

Tum ne uss Waqt Bewafaai ki,
Yakeen Jab Aakhri makaam par tha..!!

Bandh mutthi me Ret ki Tarah,
Bhoola diya tumne zara zara karke..!!

Mat Pooch Sabar ki Taaqat kab tak hai,,
Tu Bewafaai karle teri Taaqat jaha tak hai..!!

Ab Dekhte hai kiski Jaan jaati hai,
Maine Uski aur Usne Meri kasam Khaayi hai.

Hamse toh kya hosaka Mohabbat Mai,
Khair Tumne toh Bewafaai ki.!!

Jis phool ki parvarish hum ne apni mohabbat se ki,
Jab wo khushbu ke qabil hua to auro k liye mehkne laga.

Haa Yaad Aaaya uska Aakhri Alfaaz yahi tha,
Ab jee sako to jee lena, lekin Marjaao toh Behtar hai…!!

Aadat muje andhero se Darne ki Daal Kar,
Ek Shakss meri Zindagi ko Raat kar gaya..!!

मैं उसका सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ दोस्तों..
वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए..

Itne Zakhm Khaye Hue Hai,
Ab Ishq Bhi Hota Nahi,
Darr Lagta Hai Iss Zamane Mein,
Kahin Sab Bewafa To Nahi.

Hum nadan the jo us ko apna humsafar samajh baithe,
Wo chalte to humare sath the, magar kisi aur ki talash mein..!!

मत रख हमसे वफा की उम्मीद,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

Janaaza Dekh kar Mera woh Bewafa bol he padi,
Wohi Maraa hena Jo Mujpar Maraa karta tha..!!

Aaj bhi ek swaal chhipa hai dil ke kone me,,
Aakhir kya kami reh gayi thi tera hone me…

Parindo’n Jesi Fitrat Ka Mila Tha Ek Shakhs Hamen,
Zara Pankh Kya Nikal Aaye Aashiyana Hi Chhor Gya..

Guzar Toh Jayegi Zindagi Uss Ke Baghair Bhi Lekin..!
Tarasta Rahega Dil Pyaar Karne Waalon Ko Dekh Kar..!!

समेट कर ले जाओ..
अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से..
अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर..
इनकी ज़रूरत पड़ेगी।

बुरे वक्त में ही सबके असली रंग दिखते हैं,
दिन के उजाले में तो पानी भी चांदी लगता है

Waqt Tezi se badal gaya,
Aur tum Waqt se bhi tez nikle..!

Kabhi Dekha Hai Andhe Ko Kisi Ka Haath Pakad Kar Chalte Hue,,
Maine Mohabbat Mein ‘TujhPe’ Kuch Yun Bharosa Kiya Tha..!!

Ishtehar de do k ye dil khali hai,
Wo Jo ayaa thaa kirayedar nikla