Armaan Shayari

Fir Wahi Fasaana Afsaana Sunaati Ho;
Dil Ke Paas Hun Keh Kar Dil Jalaati Ho;
Beqaraar Hai Aatish-e-Nazar Se Milne Ko;
To Fir Kyon Nahi Pyaar Jataati Ho!
----------
Chhup Ke Rehna Hai Jo Sab Se To Ye Mushkil Kya Hai;
Tum Mere Dil Mein Raho Dil Ki Tamanna Ho Kar!
~ Jaleel Manikpuri
----------
Dil Ko Ussh Raah Par Chalana Hi Nahi;
Jo Mujhe Tujhse Juda Kar De!
~ Parveen Shakir
----------
Chhup Ke Rehna Hai Jo Sab Se To Yeh Mushkil Kya Hai;
Tum Mere Dil Mein Raho Dil Kee Tamanna Ho Kar!
~ Jaleel Manikpuri
----------
Udaas Na Hona Kyon Ki Main Sath Hoon;
Samne Na Sahi Par Aas Paas Hoon;
Aankhon Ko Band Karo Dil Se Yaad Karo;
Main Hamesha Aap Ke Liye Ek Ehsaas Hoon!
----------
Unka Zikar Unki Tamanna Unki Yaad;
Waqt Kitna Qeemti Hai Aaj Kal!
----------
Zindagi Ke Liye Jaan Jaroori Hai;
Jeene Ke Liye Armaan Jaroori Hai;
Hamare Paas Chahe Ho Kitne Bhi Gham;
Tere Chehre Par Muskan Jaroori Hai!
----------
Tum Se Sadiyon Ki Wafaaon Ka Koi Naata Tha;
Tum Se Milne Ki Lakiren Thi Mere Hathon Mein!
~ Saeed Rahi
----------
Apni Aankhon Ke Samandar Mein Utar Jaane De;
Tera Mujrim Hun Mujhe Doob Kar Mar Jaane De;
Zakham Kitne Diye Hain Teri Chaahat Ne Mujko;
Sochta Hun Tujh Se Kahoon Magar Jaane De!
----------
Kuch Der Aur Agar Aap Thehar Jaate Toh Dil Ke Armaan Main Pure Kar Leta,
Aankhon Mein Basakar Kar Leta Band Inko, Fir Hans Kar Sabke Sitam Zar Leta!
----------
Uth Ke Chal Pada Hun Magar Dil Se Chahta Hun Yeh,
Uth Kar Mujhe Woh Rok Le Aur Raasta Na De!
----------
Chahat Hai Aapko Apna Bnane Ki,
Zaroorat Ki Hai Aapse Dil Lagane Ki;
Aap Humein Chahe Ya Na Chahe,
Hamari To Chahat Hai Aap Par Mar Mit Jaane Ki!
----------
Kaash Koi Khushiyon Ki Dukaan Hoti,
Aur Mujhe Uski Pehchaan Hoti;
Khareed Leta Har Khushi Aapke Liye,
Chahe Uski Keemat Meri Jaan Bhi Hoti!
----------
Baithe Hue Dete Hain Daaman Ki Hawayein;
Allah Kare Hum Na Kabhi Hosh Mein Aayein!
~ Nooh Nar
----------
Lamha-Lamha Jeena Kya Aur Lamha-Lamha Marna Kya;
Saath Tumhara, Saath Hamare Agar Rahe To Kehna Kya!
----------
Main Sulagta Raha Hun Tere Ishq Mein Kisi Ad-Jali Shaakh Sa;
Kaash! Tu Bhi Mere Ishq Mein Pighalti Kabhi Mom Si!
----------
Kuch Aisi Mohabbat Uske Dil Mein Bhar De Ai Khuda,
Wo Jis Ko Bhi Chahein Wo Main Ban Jaun!
----------
Sach Hai Insan Ki Khwaish Ki Koi Hadh Nahi,
Meri Unginat Khwaishein Dekho Ek Tum Bas Tum Sirf Tum!
----------
Zindagi Guzar Jaye Par Pyaar Kam Na Ho,
Yaad Humein Rakhna Chahe Paas Hum Na Ho,
Qayamat Tak Chalta Rahe Yeh Pyaar Ka Safar,
Dua Karo Rab Se Kabhi Yeh Rishta Khatam Na Ho!
----------
Ruthkar Baith Na Jana Humko Manane Wale,
Raah Khud Bhul Na Jana Raah Dikhane Wale,
Aapke Aangan Mein Barse Khushi Ke Baadal,
Yahi Dua Karte Hai Hum Ashk Bahane Wale!
----------
Tamana Hai Meri Ki Aapki Aarzoo Ban Jau,
Aapki Aankh Ka Tara Na Sahi Aapki Aankh Ka Aansu Ban Jau,
Main Aap Ki Zindagi Ki Khushi Banu Ya Na Ban Saku,
Aapke Gham Mein Aapka Sahara Ban Jau!
----------
Dekha Tujko Jab Se Hai Ye Bat Is Dil Mein Tab Se,
Mil Jaye Mujko Pyaar Jo Tera Fir Na Kuch Mangana Hai Rab Se!
----------
Khwaish-e-Zindagi Bas Itni Si Hai Ab Meri,
Ki Saath Tera Ho Aur Zindagi Kabhi Khatam Na Ho!
----------
Kaash Yaadon Ka Matlab Wo Samajhte,
Kaash Khwabon Ka Matlab Wo Samajhte,
Nazar Milti Hai Hazaar Nazron Se,
Kash Hamari Nazar Ka Matlab Wo Samajhte!
----------
Tamanna Hai Meri Ki Aapki Aarzu Ban Jaun,
Aapki Aankh Ka Tara Na Sahi Aapki Aankh Ka Aansu Ban Jaun,
Main Aap Ki Zindagi Kee Khushi Banu Ya Na Ban Saku,
Aapke Gham Mein Aapka Sahara Ban Jaun!
----------
Mujhko Ye Aarzoo Wo Uthayein Naqab Khud,
Un Ko Ye Intezar Taqaza Kare Koi!
~ Asrar ul Haq Majaz
----------
Tere Haath Kee Main Wo Lakeer Ban Jaun,
Sirf Main Hi Tera Muqaddar Teri Takdeer Ban Jaun,
Main Tujhe Itna Chahun Ki Tu Bhool Jaye Har Rishta,
Sirf Main Hi Tere Har Rishte Kee Tasveer Ban Jaun!
----------
Haqeeqat Se Bahut Door Hai Khwahishein Meri;
Phir Bhi Khwahish Hai Ki Ek Khwab Haqeeqat Ho Jaye!
----------
Ajeeb Bebasi Ka Mausam Hai Dil Ke Aangan Mein 'Faraz';
Taras Gaye Hain Tere Sath Guftgu Ke Liye!
~ Ahmad Faraz
----------
Kaise Guzarta Hai Tere Bin Har Pal;
Kabhi Baat Karne Kee Hasrat To Kabhi Dekhne Kee Tamanna!
----------
Tumhein Jab Kabhi Mile Fursatein Mere Dil Se Bojh Utaar Do;
Main Bahut Dino Se Udaas Hun, Mujhe Koi Shaam Udhaar Do!
~ Aitbar Sajid
----------
Woh Mera Sab Kuch Hai Bas Mera Muqaddar Nahi;
Kaash Woh Mera Kuch Bhi Na Hota Sirf Muqaddar Hota!
----------
Jee Chahta Hai Tum Se Pyaari Si Baat Ho;
Haseen Chand Tare Ho, Lambi Si Raat Ho;
Fir Raat Bhar Yahi Guftagu Rakhe Hum Dono;
Tum Meri Zindagi Ho, Tum Meri Kayanat Ho!
----------
Kitna Dilkash Manzar Ho Jab Hum;
Qayamat Ke Din Karein Shikwa Teri Bewafai Ka;
Aur Tum Lag Ke Gale Se Mere;
Dheere Se Kaho, Chup Raho Khudaa Ke Liye!
----------
Tujhse Mila Nahi Hun Magar Chahta Hun Main;
Tu Humsafar Ho Aur Kahin Ka Safar Na Ho!
----------
Tamana Hai Meri Ki Aapki Aarzoo Ban Jaun;
Aapki Aankh Ka Tara Na Sahi Aapki Aankh Ka Aansu Ban Jaun;
Main Aap Kee Zindagi Kee Khushi Banu Ya Na Ban Sakun;
Aapke Gham Mein Aapka Sahara Ban Jaun!
----------
Kash Koi Mile Is Tarah Ke Phir Judaa Na Ho;
Wo Samjhe Mere Mizaz Ko Aur Kabhi Khafa Na Ho;
Apne Ehsaas Se Baant Le Saari Tanhayi Meri;
Itna Pyaar De Jo Pehle Kabhi Kisi Ne Diya Na Ho!
----------
Aarzoo Hai Ki Unki Har Nazar Dekha Karein;
Woh Hi Apne Saamne Ho Hum Jidhar Dekha Karein;
Ek Taraf Ho Saari Duniya, Ek Taraf Surat Teri;
Hum Tujhe Duniya Se Hokar Bekhabar Dekha Karein!
----------
Meri Nazaron Ko Aaj Bhi Talaash Hai Teri;
Bina Aapke Khushi Bhi Udaas Hai Meri;
Khuda Se Maanga Hai To Sirf Itna;
Ki Marne Se Pehle Aapse Mulaqat Ho Meri!
----------
Ajnabi Thi Baatein Sabhi Uske Pyaar Kee;
Nahi Thi Khabar Ek Din Qayamat Zaroor Hogi;
Karte Rahe Fariyad Us Khuda Se Ai Sanam;
Milega Tu Mujhe, Khuda Kee Rehmat Zaroor Hogi!
----------
Gum Na Ho Wahan Jahan Ho Aafsana Apka;
Khusiyan Dhundti Rahe Aashiyana Aapka;
Wo Waqt Hi Na Aaye Jab Aap Udas Ho;
Ye Duniya Bhula Na Sake Muskurana Apka!
----------
Dil Mein Umeed Kee Shama Jala Rakhi Hai;
Humne Apni Alag Duniya Basa Rakhi Hai;
Iss Umeed Ke Saath Ki Aayenge Woh Kabhi;
Humne Har Raah Pe Apni Palkein Bichha Rakhi Hain!
----------
Jo Saath Ki Umeed Hum Saari Umar Unse Karte Rahe;
Woh Tanhayian Ne Buhut Adab Se Guzaara Hamare Sang!
~ JD Ghai
----------
Aarzu Ye Hai Ki Unki Har Nazar Dekha Karen;
Woh Hi Apne Samne Ho, Hum Jidhar Dekha Karen;
Ek Taraf Ho Sari Duniya, Ek Taraf Teri Surat Ho;
Hum Tujhe Duniya Se Hokar Bekhabar Dekha Karen!
----------
Hamari Har Khushi Ka Ehsaas Tumhara Ho;
Tumhare Har Gum Ka Dard Hamara Ho;
Mar Bhi Jayein To Humein Koi Gum Nahi;
Bas Aakhiri Waqt Saath Tumhara Ho!
----------
Kabhi Kabhi Hume Bhi Yun Hi Yaad Kar Liya Karo;
Hamari Tasveer Bhi Dekh Kar Use Chum Liya Karo;
Maana Ki Tumhein Kami Nahi Hai Kisi Cheez Kee;
Fir Bhi Kabhi Hume Apni Dua Mein Maang Liya Karo!
----------
Kaash Tum Mujhe Ek Khat Likh Dete;
Mujhme Kya-Kya Thi Kami Yeh To Bata Dete;
Tadapte Dil Se Mere Tumne Nafrat Kyon Kee;
Nafrat Kee Hi Mujhe Koi Wajah To Bata Dete!
----------
Tumhari Pasand Hamari Chahat Ban Jaye;
Tumhari Muskurahat Dil Kee Rahat Ban Jaye;
Khudaa Khushiyon Se Itna Khush Kar De Aapko;
Ki Aapko Khush Dekhna Hamari Aadat Ban Jaye!
----------
Le Kar Aana Usse Mere Janaaze Mein;
Ek Aakhri Haseen Mulaqat Toh Hogi;
Mere Jism Mein Beshak Jaan Na Ho Magar;
Meri Jaan Mere Jism Ke Pass To Hogi!
----------
Tere Har Gum Ko Apni Rooh Mein Utaar Lun;
Zindagi Apni Teri Chahat Mein Sawaar Lun;
Mulaqat Ho Tujhse Kuch Is Tarah Meri;
Sari Umar Bas Ek Mulaqat Mein Guzaar Lun!
----------
Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuch Baat Kee;
Barri Arzoo Thi Hum Ko Mulaaqat Kee!
----------
Ikk Zara Haath Badha Dein To Pakad Lein Daaman;
Uske Seene Mein Sama Jaaye Hamari Dhadkan;
Itni Kurbat Hai To Phir Faaslaa Itna Kyun Hai!
~ Kaifi Azmi
----------
दिल ने आज फिर तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है;
अगर फुरसत मिले तो ख्वाबों मे आ जाना।
----------
Koshish Ke Baad Bhi Jo Poori Na Ho Saki;
Tera Naam Bhi Unn Khawishon Mein Hai!
----------
Ae Kaash, Kahin Qudrat Ka Yeh Nizaam Hua Kare;
Tujhe Dekhne Ke Siwa Na Mujhe Koi Kaam Hua Kare!
----------
Khudaa Buri Nazar Se Bachaye Aap Ko;
Chand Sitaron Se Sajaye Aap Ko;
Ghum Kya Hota Hai Ye Aap Bhool Hi Jao;
Khudaa Zindagi Mein Itna Hasaye Aap Ko!
----------
Ae Kaash, Kahin Qudrat Ka Ye Nizaam Hua Kare;
Tujhe Dekhne Ke Siwa Na Mujhe Koi Kaam Hua Kare!
----------
Bas Itni Guzarish Hai Mohabbat Mein Mere Maula;
Mujhe Nakaam Hone Se Zara Pehle Uthaa Lena!
----------
Tere Har Gum Ko Apni Rooh Mein Utaar Loon;
Zindagi Apni Teri Chahat Mein Sawaar Loon;
Mulaqat Ho Tujhse Kuch Is Tarah Meri;
Sari Umar Bas Ek Mulaqat Mein Guzaar Loon!
----------
Dya Dye Se Jalaa Loon Tou Chain Aaye Mujhe;
Tumhain Galay Se Laga Loon Tou Chain Aaye Mujhe;
Mohabbaton Ke Saheefay Hain Ya Azaab Koi;
Tere Khatoot Jala Loon Tou Chain Aaye Mujhe!
~ Waris Shah
----------
Ab Tak Toh Khair Teri Tamanna Mein Katt Gayi;
Tu Mil Gaya Toh Sochta Hoon Kya Karon Ga Main!
~ Amjad Islam Amjad
----------
Dil Main Uthe Armaan Ke Toh Kya Kahne;
Hum Toh Apni Shayari Bhi Unse Chhupate Rahe!
~ JD Ghai
----------
Mar Kar Bhi Usko Dekhte Rehne Ke Shauq Mein;
Aankhein Kisi Ko Apni, Amanat Mein De Gaye!
----------
Mujhe Bhi Yaad Rakhna Jo Likho Kabhi Tareekh Wafaa Ki;
Maine Bhi Lutaaya Hai Mohabbat Mein Sakoon Apna!
----------
Waqt Ik Pal Ko Jo Ruk Jaye Toh Ehsaan Is Ka;
Chand Yaadein Mere Dil Mein Se Guzrna Chahein!
~ Ahmad Nadeem Qasimi
----------
Iss Qadar Pyar Se Na Dekh Mujhe;
Phir Tamanna Jawaan Na Ho Jaye!
~ Hafeez Jullundhary
----------
Kitna Dilkash Manzar Ho Jab Hum;
Qyamat Ke Din Karein Shikwa Teri Bewafai Ka;
Aur Tum Lag Ke Gale Se Mere;
Dheere Se Kaho, Chup Raho Khudaa Ke Liye!
----------
Sirf Ek Baar Apne Honthon Se Mujhe Apna Keh Do;
Phir Mehfil Mein Raqeeboon Ka Tamasha Dekho!
~ Ahmad Faraz
----------
Ye Jo Hai Hukm Mere Pas Na Aye Koi;
Iss Liye Ruth Rahe Hain K Manaye Koi;
Taak Mein Hai Nigah-e-Shauq Khuda Khair Kare;
Samane Se Mere Bachta Hua Jaye Koi!
~ Daagh Dehlvi
----------
Duriya Hote Huye Bhi Safar Vahi Rahega;
Door Hote Huye Bhi Dostana Vahi Rahega;
Bahut Mushkil Hai Ye Safar Zindgi Ka;
Agar Aapka Sath Hoga To Ehsaas Vahi Rahega!
----------
Bhooli Huyi Subah Hoon Mujhe Yaad Ki Jiye;
Tum Se Kahin Milaa Hoon Mujhe Yaad Ki Jiye!
ARMAAN / YAADEIN
In Aankhon Ki Baat Jo Bayaan Hoti;
Toh Apka Pyaar Aaj Hamaari Pehchaan Hoti;
Chhod Dete Hum Bhi Is Jahaan Ko;
Agar Tere Dil Mein Jagah Tamaam Hoti!
----------
Khuda To Milta Hai, Insaan Hi Nahin Milta;
Yeh Cheez Woh Hai Jo Dekhi Kahin Kahin Maine!
~ Allama Iqbal
----------
Mitt Jaye Ga Gunahon Ka Tasavur Is Jahaan Se;
Agar Ho Jaye Yaqeen Ke Khuda Dekh Raha Hai!
----------
Sirf Chahne Se Mulaqat Nahi Hoti;
Sooraj Ke Hote Raat Nahi Hoti;
Hum Jise Chahete Hai Jaan Se Bhi Zyaadah;
Saamne Hote Hain, Par Baat Nahi Hoti!
----------
Tasveer Maine Maangi Thi Shokhi To Dekhiye;
Ek Phool Us Ne Bhejj Diya Hai Gulaab Ka!
----------
Thukraa Diya Hai Jis Ke Liye ek Jahaan Ko;
Yaa Rab Woh Mera Dil Na Dukhaaye Tamaam Umar!
----------
Dil Se Tera Khayal Na Jaye To Kya Karu;
Tu Hi Bata Tu Yaad Aaye To Kya Karu;
Hasrat Ye Hai Ki Ek Nazar Tujhe Dekhun;
Magar Kismat Woh Lamha Na Laye To Kya Karu!
----------
Kahin To Milegi Mohabat Ki Manzil;
Ye Dil Ka Musafir Chala Ja Raha Hai!
----------
Hazaaron Khawahishein Aisi Ke Har Khawahish Par Dum Nikle;
Bohut Nikle Mere Armaan, Lekin Phir Bhi Kum Nikle!
~ Mirza Ghalib
----------
Saaz Yeh Keena Saaz Kya Jaane;
Naaz Waale Niyaaz Kya Jaane!
~ Daagh Dehlvi
----------
Tinkon Se Khelte Hi Rahe Aashiyan Mein Hum;
Aaya Bhi Aur Gaya Bhi Zamana Bahaar Ka!
~ Faani
----------
Aah Hoti Mere Lab Par Na Yeh Nalah Hota;
Ek Bhi Toone Jo Armaan Nikaala Hota!
----------
Haif Us Chaar Girah Kapde Ki Qismat 'Ghalib';
Jis Ki Qismat Mein Ho Aashiq Ka Girebaan Hona!

Translation:
Haif = Alas
Girah = One Sixteenth Of A Yard
Girebaan = Collar
~ Mirza Ghalib
----------
Naa Jana Ki Duniya Se Jata Hai Koi;
Bahut Der Ki Mehrban Aate Aate!
~ Daagh Dehlvi
----------
Takmeel E Zoq E Ishq Ko Ik Umar Chahiye;
Barsoon Teri Nigah Ne Darse Wafa Diya;
Parhati Hai Mujh Par Sare Zamane Ki Ubb Nazar;
Mujh Ko Teri Nigah Nae Tujh Sa Bana Diya!
----------
Itni Shidat Se To Barsaat Be Kam Kam Barse;
Jis Traha Ankh Teri Yaad Main Cham Cham Barse;
Minatien Kon Kare Aik Gharonde Ke Liye;
Kah Do Baadal Se Barasta Hai To Jam Jam Barse!
----------
Sirf Dekhke Kisi Ko Dil Ki Baat Nahi Hoti;
Mulakat Ho Phir Bhi Kabhi Barsaat Nahi Hoti;
Janti Hoon Main Kabhi Tumhari Na Ban Paungi;
Phir Bhi Is Dil Mein Kabhi Raat Nahi Hoti!
----------
Zaroori To Nahin Jeene Ke Liye Sahara Ho;
Zaroori To Nahin Hum Jinke Hain Vo Hamara Ho;
Kuch Kashtiyaan Doob Bhi Jaati Hain;
Zaroori To Nahin Ke Har Kashti Ka Koi Kinara Ho!
----------
Hazaar Chehron Main Uski Muhabatain Milien Mujhko;
Par Dil Ki Zid Thi Agr Wo Nahin To Us Jaisa Bhi Nahin.
~ Aamir Khan
----------
Sirf Dekh Ke Kisi Ko Dil Ki Baat Nahi Hoti;
Mulakat Ho Phir Bhi Kabhi Barsaat Nahi Hoti;
Janti Hoon Main Kabhi Tumhari Na Ban Paungi;
Phir Bhi Is Dil Mein Kabhi Raat Nahi Hoti!
----------
Jab Bhi Main Tere Sammne Hota Hun;
Na Jane Kyon Aisa Lagta Hain;
Yeh Waqt Yahi Tham Jaye;
Zamana Na Jane Kyun Itna Tez Bheta Hain!
----------
Bichre Hue Logon Pe Taras Khao Kisi Din;
Aisa Ho Jaye K Na Yaad Aao Kisi Din;
Sawan K Bina Jaise Ho Jati Hai Barish;
Aisa Hi Mere Pas Chale Aao Kisi Din!
----------
Hai Tumhari Wafaon Pe Mujhko Yaqeen;
Phir Bhi Dil Chata Hai Mere Dil Nasheen;
Yoonhi Meri Tasalli Ki Khatir Zara;
Mujhko Apna Banane Ka Waada Karo!
----------
Yoon Hi Lakeer Khurchte Hain Apni Qismat Ki;
Warna Unki Hatheli Mein Darj Hi Kya Hai;
Kuch Is Liye Bhi Wo Aankhon Ko Band Rakhte Hain;
Ke Khawaab Dekhte Rehne Men Harj Hi Kiya Hai!
----------
Tanha Jab Dil Hoga, Aapko Aawaz Diya Karenge;
Raat Me Sitaron se Aapka Jikar Kiya Karenge;
Aap Aaye Ya Na Aaye Hamari Khaboon mein;
Hum Bas Aapka Intezaar Kiya Karenge!
----------
Raaste Mein Pattharon Ki Kami Nahi Hai;
Mann Mein Toote Sapno Ki Kami Nahi Hai;
Chaahat Hai Unko Apna Banana Ki Magar;
Unke Paas Apno Ki Kami Nahi Hai!
----------
Pariyon Se Sunder Hai Mehbooba Meri;
Paakar Use Khud Par Naaz Karta Hun;
Har Janam Mein Bas Usi Ka Banna Hai;
Ye Elaan Sareaam Karta Hun!
----------
Main Kise Suna Raha Hoon Ye Ghazal Mohabbaton Ki;
Kahin Aag Saazishon Ki Kahin Aanch Nafraton Ki;
Koi Baagh Jal Raha Hai Ye Magar Meri Dua Hai;
Mere Phool Tak Na Pahunche Ye Hawa Tamazaton Ki!
----------
Humne Wajood Apna Kho Liya;
Unka Wajood Apne Saath Jodte Jodte!
~ JD Ghai
----------
Mere Wajod Me Kash Tu utar Jaye;
Mai Dekhu Aaina Or Tu Nazar Aye;
Tu Ho Samne Aur Waqt Thehar Jaye;
Ye Zindagi Tujhe Yuhi Dekhte Hue Guzar Jaye!
----------
Teri Subah Ki Angraian, Jaaga Deti Hain Laakhon Armaan;
Hote Hain Hum Neend Mein, Lekin Bandhan Ki Umeed Rakhte Hein!
~ JD Ghai
----------
Har Sapna Khushi Pane Se Pura Nahi Hota;
Koi Kisi Ke Bina Adhoora Nahi Hota;
Jo Chaand Roshan Karta Hai Raat Bhar Sab Ko;
Har Raat Woh Bhi To Poora Nahi Hota!
----------
Tere Ikhtiyar Main Kya Nahin, Mujhe Is Tarah Se Nawaaz De;
Yun Duaein Meri Qubul Ho, Ki Mere Lab Pe Koi Dua Na Ho!
----------
Ya Rab! Dil-E-Muslim Ko Woh Zinda Tammanaa De;
Jo Qalb Ko Garma De, Jo Rooh Ko Tarpaa De!
----------
Kaun Meri Chahat Ka Fasaana Samjhega Iss Daur Mein;
Yahan To Log Apni Zaroorat Ko Mohabbat Kehte Hain!
----------
Ruthi Hui Aankhon Mein Intezar Hota Hai;
Na Chahte Hue Bhi Pyaar Hota Hai;
Kyun Dekhte Hain Hum Wo Sapne;
Jinke Tutne Par Bhi Unke Sach Hone Ka Intezar Hota Hai!
----------
Hum Bhi Chahenge Tujhe Heer Ki Tarha;
Rab Se Maangenge Tujhe Kissi Fakeer Ki Tarha;
Rang Naa Laayi Aggar Hamaari Ye Duayen;
To Phir Hum Reh Jaayenge Be-rang Kisi Tasveer Ki Tarha!
----------
Aarzoo Ke Diye Dil Mein Jalte Rahnege;
Meri Aankhon Se Ansoo Nikalte Rahenge;
Dil Mein Roshni Toh Karo, Tum Shama Ban Ke;
Mom Bankar Hum Yunhi Pighalte Rahenge!
----------
Khuda Humko Kabhi Aissi Judai Na De;
Unki Yaadon Se Humko Rihai Na De;
Dua Karna Dosto, Mujhe Aisi Jannat Na Mile;
Jahan Se Mera Yaar Mujhe Dikhai Na De!
----------
Ghuncha-e-Na Shagufta Ko Door Se Mat Dikha Ke Yoon;
Bosa Ko Poochhta Hoon Main, Munh Se Mujhe Bata Ke Yoon!

Ghuncha-e-Na = Show me not
Shagufta = Far
Bosa + Kiss
~ Mirza Ghalib
----------
Meri Ibaadaton Ko Aise Qubool Ker, Ae Mere Maalik;
Ke Sajde Mein Main Sar Jhukaun;
Toh Mujh Se Judda Har Rishton Ki Zindaagi Sawar Jaye!
----------
Ae Khuda, Khushi Har Pal Unke Paas Rakhna;
Mere Apno Ko Tu Kabhi Na Udaas Rakhna;
Gum Na Aye Unke Paas, Mere Moula;
Tu Nazar-e-Karam Unpe Khaas Rakhna!
----------
Na Main Pass Usko Bula Saka;
Na Main Dil Ki Baat Suna Saka;
Wo Hansi-Hansi Main Hi Chal Diye;
Aur Main Haath Tak Na Hila Saka!
----------
Hai Kismat Hamari Aasman Mein Chamakte Sitaare Jaisi;
Log Apni Tammana Ke Liye Hamarey Tutne Ka Intezaar Karte Hain!
----------
Mere Dil Ki Khawaishen Reh Reh Kar Poochengee Ek Din Uss Se;
Kis Ko Aabad Kiya Hai Mujh Ko Barbaad Kar Ke!
----------
Shayad Koi Tarash Kar Kismat Sawaar De:
Yeh Soch Kar Hum Umar Bhar Pathar Baney Rahe!
----------
Woh Mera Sab Kuchh Hai Par Muqaddar Nahi;
Kaash Woh Mera Kuchh Na Hota Par Muqaddar Hota!
----------
Waqt Guzarta Raha Par Sansey Thammi Thi;
Muskura Rahe The Hum Par Ankhon Mein Nami Thi;
Saath Hamaare Yeh Jahaan Tha Sara;
Par Na Jaane Kyun Tumhari Kami Thi!
----------
Hazaron Khwahishen Aise Ke Har Khawahish Pe Dum Nikle;
Bahut Nikle Mere Armaan, Lekin Phir Bhe Kam Nikle!
~ Mirza Ghalib
----------
Mere Jeene Ke Liye, Tera Armaan Hi Kaafi Hai;
Dil Ke Qalam Se Likhi, Ye Dastaan Hi Kafi Hai;
Teer-E-Talwaar Ki Tujhe Kya Zaroorate Ai Nazneen;
Qatl Karne Ke Liye, Teri Muskaan Hi Kafi Hai!
----------
Mery Sajdon Mein Kami To Na Thi, Mere Mola!
Kya Mujh Se Bhi Barr Ke Kisi Ne Manga Tha Ussey?
----------
Ek ye khwaahish ke koi zakhm na dekhe dil ka;
ek ye hasrat ke koi dekhne wala hota.
----------
Apne gamo ki yu numaish na kar,
Apne nasib ki yu aazmaish na kar,
Jo tera hai tere dar pe khud ayega,
Roz roz use pane ki khwaish na kar!
----------
Har khomoshi mein ek baat hoti hai,
Har dil mein ek yaad hoti hai,
Aapko pata ho ya na ho par aapki khushi k liye roz fariyad hoti hai.
----------
Nakaam si koshish kiya karte hain,
Hum hain ki unse pyar kiya karte hain,
Khuda ne takdir me ek tuta tara nahi likha,
Aur hum hain ki chaand ki aarzu kiya karte hain
----------
Ek ajnabi se mujhe itna pyaar kyon hai,
Inkar karne par chahat ka ikraar kyon hai,
Use pana nahi meri taqdeer mein shayad,
Phir har mod pe usi ka intezar kyon hai.
----------
Kaash is dil ki awaz mein itna asar ho jaye,
Hum apko yaad karein, aur aapko khabar ho jaye,
Khuda se maangte hain ki aap jise bhi chaho,
Woh zindagi ki raah mein apka humsafar ho jaye.
----------
Kitne jaldi yeh mulakat guzar jati hai,
Pyaas bujhti nahin ki barsaat guzar jati hai.
Apni yadon se keho ki yun na sataya kare,
Neend aati nahin aur raat guzar jati hai.
----------
Qayamat Tak Tujhe Yaad Karenge;
Teri Har Baat Par Aitbaar Karenge;
Tujhe SMS Karne Ko To Nahi Kahenge;
Par Phir Bhi Tere SMS Ka Intezar Karenge!
----------
Baag ki har kali, khushbu de apko,
Suraj ki har kiran, nai subah de apko,
Hum to kuch dene ke kabil nahi hain,
----------
Ankhein khuli ho to chehra tumhara ho,
Aankhein bandh ho to sapna tumhara ho,
Mujhe maut ka dar na hoga,
Agar kafan ki jagah dupatta tumhara ho.
----------
Toot jaate hain sabhi rishte magar, Dil se dil ka raabta apni jagah, Dil ko hai tujh se na milne ka yakeen, Tujh se milne ki dua apni jagah.
----------
Jisne humko chaha, use hum chah na sake,
Jisko chaha usae hum pa na sake,
Yeh samajh lo dil tutne ka khel hai,
Kisi ka toda aur apna bacha na sake.
----------
Maut k baad yaad aa raha hai koi, mitti meri kabr se utha raha hai koi,
Ya khuda do pal ki mohlat aur de de, udas meri kabr se ja raha hai koi.
----------
बरसों बाद भी, तेरी ज़िद्द की आदत ना बदली;
काश हम मोहब्बत नहीं, तेरी आदत होते!
----------
पलकों में आँसू और दिल में दर्द सोया है;
हँसने वालों को क्या पता रोने वाला किस कदर रोया है;
ये तो बस वो ही जान सकता है, मेरी तन्हाई का आलम;
जिसने ज़िंदगी में, किसी को पाने से पहले खोया हो!
----------
काश! मैं भी पानी का एक घूँट होता;
तेरे होंठों से लगता और तेरी रग-रग में समा जाता!
----------
हमारे बगैर भी आबाद थीं महफिलें उनकी;
और हम समझते थे कि उनकी रौनकें हम से है!
----------
ताश के पत्ते तो खुशनसीब है यारों;
बिखरने के बाद उठाने वाला तो कोई है!
----------
हम भी मुस्कुराते थे कभी बेपरवाह अंदाज से;
देखा है खुद को आज पुरानी तस्वीरों में!
----------
ताबीज़ जैसा था वो शख्स;
गले लगते ही सुकूँ मिलता था!
----------
छू ना सकूं आसमान, तो ना ही सही दोस्तो,
आपके दिल को छू जाऊं, बस इतनी सी तमन्ना है।
----------
मेरे दिल ने जब भी कभी कोई दुआ माँगी है;
हर दुआ में बस तेरी ही वफ़ा माँगी है;
जिस प्यार को देख कर जलते हैं यह दुनिया वाले;
तेरी मोहब्बत करने की बस वो एक अदा माँगी है।
----------
पहली मुलाकात थी, हम दोनों ही थे बेबस;
वो जुल्फें न संभाल पाए और हम खुद को।
अरमान  
मेरी बस इतनी सी ख्वाहिश है,
तेरी कोई ख्वाहिश अधूरी ना रहे।
----------
रोज़ आ जाते हो तुम नींद की मुंडेरों पर,
बादलों में छुपे एक ख़्वाब का मुखड़ा बन कर;
खुद को फैलाओ कभी आसमाँ की बाँहों सा,
तुम में घुल जाए कोई चाँद का टुकड़ा बन कर।
----------
बस इतना ही नीचा रखना मुझे, ए मेरे खूदा,
कि हर दिल दुआ देने को मजबूर हो जाये।
----------
आये हो आँखों में तो कुछ देर तो ठहर जाओ,
एक उम्र लग जाती है एक ख्वाब सजाने में।
----------
तेरी यादों के बिना ज़िंदगी अधूरी है,
तू मिल जाये तो माने सोचें पूरी है,
तेरे साथ जुडी हैं अब मेरी हर ख़ुशी,
बाकी सब के साथ हँसना तो बस मजबूरी है।
----------
नही है ये ख्वाहिश कि इस जहान या उस जहान में पनाह मिले,
बस इतना करम कर ऐ खुदा, कोई ऐसा मिले जिससे प्यार बेपनाह मिले।
----------
ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस इतनी सी है अब मेरी,
कि साथ तेरा हो और ज़िंदगी कभी खत्म न हो।
----------
काश फिर मिलने की वो वजह मिल जाए,
साथ जितना भी बिताया वो पल मिल जाए;
चलो अपनी अपनी आँखें बंद कर लेते हैं,
क्या पता गुज़रा हुआ वो कल मिल जाए।
----------
एक आरज़ू है अगर पूरी परवरदिगार करे,
मैं देर से जाऊं और वो मेरा इंतज़ार करे।
----------
बदलेंगे नहीं ज़ज़्बात मेरे तारीखों की तरह,
बेपनाह इश्क़ करने की ख्वाहिश उम्र भर रहेगी।
---------- 
वो चुपके से ज़रूर आएंगे मिलने मुझसे,
हकीकत में नहीं तो सपने में ही सही।
----------
काश कोई मिले इस तरह के फिर जुदा ना हो,
वो समझे मेरे मिज़ाज़ को और कभी खफा ना हो।
----------
तुम्हें जब कभी मिले फुर्सतें मेरे दिल से बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो।
----------
चंद साँसें बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
ज़िन्दगी वीरान थी और मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो।
----------
कितने अरमानो को दफनाये बैठा हूँ,
कितने ज़ख्मो को दबाये बैठा हूँ,
मिलना मुश्किल है उनसे इस दौर में,
फिर भी दीदार की आस लगाये बैठा हूँ।
----------
खुदा का शुक्र है कि ख्वाब बना दिये,
वरना तुम्हें देखने की तो बस हसरत ही रह जाती।
----------
ये आरज़ू भी बड़ी चीज़ है मगर हमदम;
विसाल-ए-यार फ़क़त आरज़ू की बात नहीं।
~ Faiz Ahmad Faiz
----------
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
ना जाने कसी गली में ज़िन्दगी की शाम हो।
----------
हो सके तो तुम अपना एक वादा निभाने आ जाना;
मेरी प्यासी आँखों को अपना दीदार करवाने आ जाना;
बड़ी हसरत थी तुम्हारी बाँहों में बिातायें कुछ पल;
अगर यह साँस थम गयी तो एक बार मेरी लाश से लिपटने आ जाना।
----------
थक गया हूँ रोटी के पीछे भाग भाग कर;
थक गया हूँ सोती रातों में जाग जाग कर;
काश मिल जाये वही बीता हुआ बचपन;
जब माँ खिलाती थी भाग भाग कर और सुलाती थी जाग जाग कर।
---------- 
कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में;
कि हज़ारों सज्दे तड़प रहे हैं मिरी जबीन-ए-नियाज़ में।
~ Allama Iqbal
----------
हसरतें मचल गयी जब तुमको सोचा एक पल के लिए;
सोचो दीवानगी तब क्या होगी,जब तुम मिलोगे मुझे उम्र भर के लिए।
----------
तेरी दुआ से कज़ा तो बदल नहीं सकती;
मगर है इस से यह मुमकिन कि तू बदल जाये; तेरी दुआ है कि हो तेरी आरज़ू पूरी;
मेरी दुआ है तेरी आरज़ू बदल जाये।

शब्दार्थ:
कज़ा - भाग्य
~ Allama Iqbal
----------
तुम्हारी पसंद हमारी चाहत बन जाये;
तुम्हारी मुस्कुराहट दिल की राहत बन जाये;
खुदा खुशियों से इतना खुश कर दे आपको;
कि आपको खुश देखना हमारी आदत बन जाये।
----------
यादों के भंवर में एक पल हमारा हो;
खिलते चमन में एक गुल हमारा हो;
जब याद करें आप अपने चाहने वालों को;
उन नामों में बस एक नाम हमारा हो।
----------
​उनके साथ जीने का एक मौका दे दे, ऐ खुदा;​
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे​।
----------
ए काश वो किसी दिन तनहाइयों में आयें;
उनको ये राजे दिल हम महफ़िल में क्या बतायें;
लगता है डर उन्हें तो हमराज़ लेके आयें;
जो पूछना है पूछे, कहना है जो सुनाएँ।
----------
तेरे सीने से लगकर तेरी आरज़ू बन जाऊं;
तेरी साँसों से मिलकर तेरी खुशबु बन जाऊं;
फांसले ना रहें हम दोनों के दरमियान कोई;
मैं, मैं ना रहूँ बस तू ही तू बन जाऊं।
----------
ज़िंदगी भर के लिए तेरा साथ निभाना चाहते हैं;
तुम्हारी इन आँखों में सदा के लिए बस जाना चाहते हैं;
चाहतें इस दिल की न जाने हमसे क्या-क्या चाहती हैं;
नज़र भर तुम्हें देख कर, तुम पर मर जाना चाहते हैं।
----------
तेरे सीने से लगकर तेरी आरज़ू बन जाऊं;
तेरी साँसों से मिलकर तेरी खुशबू बन जाऊं;
फांसले न रहे कोई हम दोनों के दरमियान;
मैं, मैं न रहूँ बस तू ही तू बन जाऊं।
---------- 
यादों के भंवर में एक पल हमारा हो;
खिलते चमन में एक गुल हमारा हो;
जब याद करें आप अपने चाहने वालों को;
उन नामों में बस एक नाम हमारा हो।
----------
तुम्हारी पसंद हमारी चाहत बन जाये;
तुम्हारी मुस्कुराहट दिल की राहत बन जाये;
खुदा खुशियों से इतना खुश कर दे आपको;
कि आपको खुश देखना हमारी आदत बन जाये।
----------
ज़माने भर की निगाहों में जो खुदा सा लगे;
वो अजनबी है मगर मुझ को आशना सा लगे;
न जाने कब मेरी दुनिया में मुस्कुराएगा;
वो शख्स जो ख्वाबों में भी खफा सा लगे।
~ Mohsin Naqvi
----------
तेरी दुआ से कज़ा तो बदल नहीं सकती;
मगर है इस से यह मुमकिन कि तू बदल जाये;
तेरी दुआ है कि हो तेरी आरज़ू पूरी;
मेरी दुआ है तेरी आरज़ू बदल जाये।

अनुवाद:
कज़ा = भाग्य
~ Allama Iqbal
----------
कितने अरमानों को दफनाये बैठा हूँ;
कितने ज़ख्मों को दबाये बैठा हूँ;
मिलना मुश्किल है उनसे इस दौर में;
फिर भी दीदार की आस लगाये बैठा हूँ।
----------
खुश हैं वो हमें याद ना करके;
हँस रहे हैं वो हमसे बात ना करके;
ये हँसी उनके चेहरे से कभी ना जाये;
खुदा करे वो हमारी मौत पे भी मुस्कुराएं।
----------
वो एक पल ही काफी है जिसमे तुम शामिल हो;
उस पल से ज्यादा तो ज़िंदगी की ख्वाहिश ही नहीं मुझे।
----------
पल भर के लिए अगर वो हमे अपना बना ले;
अपनी ज़िंदगी का अगर वो सपना बना ले;
फिर भले ही दम निकल जाये हमारा;
बस एक रात के लिए वो मुझे अपना बना ले।
----------
ख़्वाहिश नहीं मुझे मशहूर होने की;
आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है।
----------
जिस चीज़ पे तू हाथ रखे वो चीज़ तेरी हो;
और जिस से तू प्यार करे, वो तक़दीर मेरी हो।
---------- 
करम ही करना है तुझको तो ये करम कर दे;
मेरे खुदा तू मेरी ख्वाहिशों को कम कर दे।
----------
तेरा पहलू, तेरे दिल की तरह आबाद रहे;
तुझ पे गुज़रे न क़यामत शब-ए-तन्हाई की।
~ Parveen Shakir
----------
ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस इतनी सी है अब मेरी;
कि साथ तेरा हो और ज़िंदगी कभी खत्म न हो।
----------
कोई गिला कोई शिकवा न रहे आप से;
ये आरज़ू है इक सिलसिला बना रहे आप से;
बस इक बात की उम्मीद है आप से;
दिल से दूर न करना अगर दूर भी रहें आप से।
~ Noshi Gilani
----------
चिरागों को आंखों में महफूज रखना;
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी;
मुसाफिर हो तुम भी, मुसाफिर हैं हम भी;
किसी मोड़ पर, फिर मुलाकात होगी।
~ Bashir Badr
----------
चूमना क्या उसे आँखों से लगाना कैसा;
फूल जो कोट से गिर जाये उठाना कैसा;
अपने होंठों की हरारत से जगाओ मुझको;
यूं सदाओं से दम-ए-सुबह जगाना कैसा!
~ Syed Wasi Shah
----------
काश आँसुओं के साथ यादें बह जाती;
काश ये ख़ामोशी सब कुछ कह जाती;
काश किस्मत तुमने लिखी होती तो शायद मेरी किस्मत में प्यार की कमी न रह जाती।
----------
यही बहुत है कि तूने पलट के देख लिया;
ये लुत्फ़ भी मेरे अरमां से ज्यादा है।
----------
सितारों के आगे जहां और भी है;
चमन और भी हैं आशियाँ और भी है;
कि शाहीन है ​तु, परवाज़ काम है तेरा;
तेरे सामने आसमां और भी है।
~ Allama Iqbal
----------
अजीब शख्स है​ नारा​ज ​हो के हंसता है;​​
मैं चाहता हूं ख़फ़ा हो, तो ख़फ़ा ही लगे...
~ Bashir Badr
----------  
घर उसने क्या बनाया मस्जिद के सामने;
चाहत ने उसकी हमें नमाजी बना दिया।
----------
आज मुझे फिर इस बात का गुमान हो​;​
मस्जिद में भजन, मंदिरों में अज़ान हो​;​​
खून का रंग फिर एक जैसा हो;​
तुम मनाओ दिवाली,​ ​मैं कहूं रमजान हो।
----------
चल रहे है जमाने में रिश्वतो के सिलसिले;
तुम भी कुछ ले-दे कर, मुझसे मोहब्बत कर लो​..
----------
​कभी यूँ भी आ मेरी आँख में ​कि मेरी नज़र को ख़बर न हो​;​
तु ही रहे मेरी निगाहों में, बस किसी और का ज़िक्र ना हो; 
इतनी सी गुजारिश है मेरी एक रात ​ इस तरह नवाज़ दे​ मुझे;
फिर गम नही मुझे चाहे उस रात की कभी सहर न हो​।
----------
अब भी ताज़ा हैं जख्म सीने में​;​
बिन तेरे क्या रखा हैं जीने में​;
हम तो जिंदा हैं तेरा साथ पाने को​;
वर्ना देर कितनी लगती हैं जहर पीने में।
----------
दर्द दिलों के कम हो जाते​​;
​​मैं और तुम अगर हम हो जाते​​;
​​कितने हसीन आलम हो जाते​​;
​​मैं और तुम गर हम हो जाते।
----------
​मोहब्बत की आजमाइश दे दे कर थक गया हूँ​ ​ऐ खुदा​;
किस्मत मेँ कोई ऐसा लिख दे, जो मौत तक वफा करे..
----------
आग के पास कभी मोम को ला कर देखू;​
​हो इजाजत तो तुझे तुझे हाथ लगा कर देखू;​
दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है;​
​सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगाकर देखू।
~ Rahat Indori
----------
बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो;
चार किताबें पढ़कर वो भी हमारे जैसे हो जाएंगे।
~ Nida Fazli
----------
ले तो लूँ सोते में उसके पांव का बोसा, मगर;
ऐसी बातों से वो काफ़िर बदनुमा हो जाएगा।
~ Mirza Ghalib
----------  
माँगते थे रोज़ दुआ में सुकून ख़ुदा से;
सोचते थे वो चैन हम लाएं कहाँ से;
किसी रोज एक प्यासे को पानी क्या पिला दिया;
लगा जैसे खुदा ने सुकून का पता बता दिया।
~ Lata Chaudhary
----------
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
ना जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए।
~ Bashir Badr
----------
पानी फेर दो इन पन्नों पर ताकि धुल जाए स्याही सारी;
ज़िन्दगी फिर से लिखने का मन होता है कभी-कभी।
----------
​ये सोच कर की शायद वो खिड़की से झाँक ले​;​
उसकी गली के बच्चे आपस में लड़ा दिए मैंने​।
----------
आपको अपने ज़ख्म दिखाना चाहता हूँ मैं;
मगर क्या करूँ बहुत ही दूर हैं आप;
आपको चाहता हूँ बनाना साथी अपना;
मगर मानता हूँ, रस्मों के हाथों मजबूर हैं आप।
----------
काश कि वो लौट के आयें मुझसे ये कहने;
कि तुम कौन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले।
----------
ग़ालिब ने यह कह कर, तोड़ दी माला;
गिन कर क्यों नाम लूँ उसका, जो बेहिसाब देता है।
----------
ना जी भर के देखा, ना कुछ बात की;
बड़ी आरज़ू थी हम को मुलाक़ात की।
~ Bashir Badr
----------
फ़ुर्सतें मिलें जब भी रंजिशें भुला देना;
कौन जाने सांसोंं की मोहलतें कहाँ तक है।
----------
खुदा को भी है आरज़ू तेरी;
हमारी तो भला औकात क्या है।
---------- 
सलामती खुदा से माँगते हैं उनकी;
जिन्होंने खुद उजाड़ा था मुझको।
----------
​मैं उसकी ज़िंदगी से ​चला जाऊं यह उसकी दुआ थी;
और उसकी हर दुआ पूरी हो, यह मेरी दुआ थी।
----------
कभी आना हमारे साथ;
एक सपनों की दुनियां आपको बताएंगे;
रहना चाहोगे आप भी यहाँ;
ऐसी वो दुनियां हम दिखाएंगे।
----------
मिसाल-ए-शीशा हैं हम, हमें संभाल कर रखना;
तेरे हाथ से छूटे तो बिखर जाएंगे।
----------
​उसके साथ जीने का इक मौका दे दे, ऐ खुदा;​
​ तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे​।
----------
अपने दिल की बात उनसे कह नहीं सकते;
ग़म जुदाई का भी सह नहीं सकते;
ऐ ख़ुदा, कुछ ऐसी तक़दीर बना;
वो खुद आकर हमसे कहें, हम आपके बिना रह नहीं सकते।
----------
​​हक़ से दे तो ​"नफरत​"​ भी सर आंखों पर​।
खैरात में तो तेरी "मोहब्बत" भी मंजूर नहीं।
----------
दिल तो कहता है कि छोड़ जाऊं ये दुनियां हमेशा के लिए;
फिर ख्याल आता है कि वो नफरत किस से करेंगे मेरे चले जाने के बाद।
----------
तुम मेरी बातों का जवाब नहीं देते तो कोई बात नहीं;
मेरी क़ब्र पर जब आओगे तो हम भी ऐसा ही करेंगे।
----------
कभी यूँ भी हो कि बाज़ी पलट जाए सारी;
उसे याद सताए मेरी और मैं सुकून से सो जाऊं।
---------- 
कभी ना कभी वो मेरे बारे में सोचेगा ज़रूर;
कि हांसिल होने की उम्मीद भी नहीं फिर भी प्यार करती थी मुझे।
----------
आप हमारे लिए एक फूल है;
जिसे तोड़ भी नहीं सकते और छोड़ भी नहीं सकते;
क्योंकि तोड़ दिया तो मुरझा जाएगा;
और छोड़ दिया तो कोई और ले जाएगा।
----------
​​हज़ार चेहरों में उसकी झलक मिली मुझको;
पर दिल की ज़िद्द थी, अगर वो नहीं तो उस के जैसा भी नहीं​।
----------
​अब मौत से कह दो कि हम से नाराज़गी खत्म कर ले;
वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे​।
----------
हर ख़ुशी से खूबसूरत तेरी शाम करूँ;
अपना प्यार मैं सिर्फ तेरे नाम करूँ;
मिल जाए अगर दोबारा ये ज़िंदगी;
हर बार मैं ये ज़िंदगी तेरे नाम करूँ!
----------
तु चाँद और मैं सितारा होता;
आसमान में एक आशियाना हमारा होता;
लोग तुम्हे दूर से देखते;
नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता!
----------
सब ने चाहा कि उसे हम ना मिलें;
हम ने चाहा उसे ग़म ना मिलें;
अगर ख़ुशी मिलती है उसे हम से जुदा होकर;
तो दुआ है ख़ुदा से कि उसे कभी हम ना मिलें।
----------
​मुझे कुछ अफ़सोस नहीं के मेरे पास सब कुछ होना चाहिए था।
मै उस वक़्त भी मुस्कुराता था जब मुझे रोना चाहिए था।
----------
मन में सब को पाने का अरमान नहीं होता;
हर कोई दिल का महमान नहीं होता;
पर एक बार जो बन जाते हैं अपने;
उन्हें भुलाना इतना आसान नहीं होता!
----------
आँखों में ना हमको ढूंढो सनम;
दिल में हम बस जाएंगे;
तमन्ना है अगर मिलने की तो;
बंद आँखों में भी हम नज़र आएंगे!
---------- 
उसने हमसे पूछा तेरी रज़ा क्या है;
क्यों करते हो पसंद वजह क्या है;
कोई बताए उसे मेरी खता क्या है;
जो वजह से करे पसंद किसी को, उसमें मज़ा क्या है।
----------
रख हौंसला, वो मंजर भी आएगा;
प्यासे के पास समंदर भी आएगा;
थक कर ना बैठ, ऐ मंजिल के मुसाफिर;
तुझे मंजिल भी मिलेगी और मिलने का मज़ा भी आएगा।
----------
मेरे वजूद में काश तू उतर जाए;​​
​मैं देखूं आइना और तू नजर आए;​​
​​तु हो सामने और वक़्त ठहर जाए;​​
​ये जिंदगी तुझे यूँही देखते हुए गुजर जाए।
----------
इस कदर इस जहाँ में जिंदा हूँ मैं;
हो गयी थी भूल अब शर्मिंदा हूँ मैं;
मेरी कोशिश है ​कि ना हो तेरी दुनिया में कोई गम;
तू आवाज़ दे गगन से एक परिंदा हूँ मैं​।
----------
खुशी जिसने खोजी वो धन ले के लौटा;
हंसी जिसने खोजी चमन ले के लौटा;
मगर प्यार को खोजने चला जो वो;
न तन ले के लौटा न मन ले के लौटा।
----------
फ़ना कर दे अपनी सारी ज़िन्दगी ख़ुदा की मुहब्बत में;
यही वो वाहिद प्यार है जिस में बेवफ़ाई नहीं होती।
----------
जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन;
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।
----------
जब भी मैं तेरे सामने होता हूँ;
ना जाने क्यों ऐसा लगता है;
यह वक़्त यहीं थम जाए;
ज़माना ना जाने क्यों इतना तेज़ बहता है।
----------
ऐ ख़ुदा मेरे रिश्ते में कुछ ऐसी बात हो;
मैं सोचूँ उसको और वो मेरे साथ हो;
मेरी सारी ख़ुशियाँ मिल जाएं उसको;
एक लम्हें के लिए भी अगर वो उदास हो।
----------
दीदार की 'तलब' हो तो नज़रे जमाये रखना 'ग़ालिब';
क्युकी, 'नकाब' हो या 'नसीब'... सरकता जरुर है।
---------- 
तु ही मिल जाये मुझे बस इतना ही काफी है;
मेरी हर सांस ने बस ये ही दुआ मांगी है;
जाने क्यों दिल खींचा चला जाता है तेरी तरफ;
क्या तुम ने भी मुझे पाने की दुआ मांगी है।
----------
सब खुशियाँ तेरे नाम कर जायेंगे;
ज़िंदगी भी तुझपे कुर्बान कर जायेंगे;
तुम रोया करोगे हमें याद करके;
हम तेरे दामन में इतना प्यार भर जायेंगे।
----------
मैं उसके हाथों का खिलौना ही सही;
कुछ देर के लिए ही सही उसने मुझे चाहा तो है।
----------
तु रहेगा न तेरे सितम रहेंगे बाकी​;​
दिन तो आना है किसी रोज़ हिसाबों वाला​।
----------
​आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है​​;​
​ कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है​​;​
​ था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा​​;​
​ कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है​।
----------
शायद फिर से वो तक़दीर मिल जाए;
जीवन के वो हसीन पल मिल जाए;
चल फिर से बैठे क्लास की लास्ट बैंच पर;
शायद वापिस वो पुराने दोस्त मिल जाए।
----------
​राह मुश्किल हैं मगर दिल को आमदा तो करो;​​
साथ चलने का मेरे तुम इरादा तो करो;
दिल बहलता है मेरा तेरे वादों से;
वादा ना करो कम से कम इरादा करो।
----------
​बिना मकसद बहुत मुश्किल है जीना​;​
खुदा! आबाद रखना दुश्मनों को​ मेरे।​
----------
बिकता अगर प्‍यार तो कौन नहीं खरीदता;
बिकती अगर खुशियां तो कौन उसे बेचता;
दर्द अगर बिकता तो हम आपसे खरीद लेते;
और आपकी खुशियों के लिए हम खुद को बेच देते।
----------
अगर इंसान मिल जाए मुकम्मल;
तो सर पत्थर के आगे क्यूँ झुकाऊँ।
----------
मौत को भी जीना सिखा देंगे;
बुझी जो शमा उसे जला देंगे;
जिस दिन हम जाएंगे दुनिया से;
एक बार तो दुश्मनों को भी रुला देंगे।
----------
सुना है वो जाते हुए कह गये के; 
अब तो हम सिर्फ आपके ख़्वाबों में ही आएँगे;
कोई कह दे कि वो वादा कर ले;
हम जिदंगी भर के लिए सो जाएंगे।
----------
निकले जब आँसू उसकी आँखो से;
दिल करता है सारी दुनिया जला दूं;
फिर सोचता हूं होंगे दुनिया में उसके भी अपने;
कहीं अंजाने में मैं उसे और ना रुला दूं।
----------
ना मुस्कुराने को जी चाहता है;
ना आंसू बहाने को जी चाहता है;
लिखूं तो क्या लिखूं तेरी याद में;
बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है।
----------
उनकी याद में सब कुछ भुलाए बैठे है;
चिराग खुशियों के सभी बुझाए बैठे है;
हम तो मरेंगे बस उनकी बाँहों में;
मौत के साथ ये शर्त लगाए बैठे है।
----------
मैं कुछ लम्हा और तेरे साथ चाहता था;
आँखों में जो जम गयी वो बरसात चाहता था;
सुना हैं मुझे बहुत चाहती है वो मगर;
मैं उसकी जुबां से एक बार इज़हार चाहता था।
----------
हम इस कदर मर मिटेंगे;
तुम जहाँ देखोगे हम वहीं दिखेंगे;
रखना हर पल इस दिल में हमारी याद;
हमारे बाद हमारे दिल की दास्ताँ दुनिया वाले लिखेंगे।
----------
ए खुदा किसी को किसी पर फ़िदा मत करना;
और अगर करे तो फिर उन्हें जुदा मत करना।
----------
लिपट जाते हैं वो बिजली के डर से;
इलाही ये घटा दो दिन तो बरसे।
~ Author Unknown
----------
हमें भी याद रखें जब लिखें तारीख गुलशन की;
कि हमने भी लुटाया है चमन में आशियां अपना।
~ Aziz Indorvi
---------- 
लोग कहते हैं वक़्त चलता है;
और इंसान भी बदलता है;
काश रुक जाए वक़्त आज की रात;
और बदले न कोई आज के बाद!
----------
सुनते हैं कि मिल जाती है हर चीज़ दुआ से;
इक रोज़ तुम्हे मांग के देखेंगे खुदा से।
---------- 
टूट गया दिल पर अरमां वही है;
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है;
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे;
फिर भी इन आँखों में इंतज़ार वही है।
----------
होंठ कह नही सकते जो फ़साना दिल का;
शायद नजरों से वो बात हो जाए;
इसी उम्मीद में इंतजार करते हैं रात का;
कि शायद सपनों मे ही मुलाकात हो जाए!
----------
ये चांदनी रात बड़ी देर के बाद आयी;
ये हसीं मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी;
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद;
आज की ये रात बड़ी देर के बाद आयी!
~ Kaifi Azmi
----------
जब कोई ख्याल दिल से टकराता है;
दिल ना चाह कर भी, खामोश रह जाता है;
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है;
कोई कुछ ना कहकर भी, सब बोल जाता है!
----------
तुम मुझे कभी दिल से कभी आँखों से पुकारो;
ये होठों के तकल्लुफ तो ज़माने के लिए होते हैं!
----------
आशिकी सब्र-तलब और तमन्ना बेताब;
दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक;
हम ने माना के तगाफुल ना करोगे लेकिन ;
ख़ाक हो जायेंगे हम तुम को खबर होने तक!
----------
ए वाइज़-ए-नादाँ करता है तू एक क़यामत का चर्चा;
यहाँ रोज़ निगाहें मिलती हैं, यहाँ रोज़ क़यामत होती है!
----------
मोहब्बत की आजमाइश दे-दे कर अब हम थक गए ए-खुदा;
मुकद्दर में कोई ऐसा भी लिख दे जो मौत तक वफ़ा करे!
----------
इतना कुछ खोया कि हमें पाना न आया;
प्यार किया तो जताना न आया;
आ गए तुम इस दिल में पहली नज़र में;
कसूर हमारा था जो आपके दिल में समाना ना आया।
----------
आरजू की थी इक आशियाने की;
आंधियां चल पड़ी ज़माने की;
मेरे ग़म को कोई समझ ना पाया;
क्योंकि मुझे आदत थी मुस्कुराने की!
----------
मेरी बहार-ओ-खिज़ां जिसके इख्तियार में थी;
मिजाज़ उस दिल-ए-बेइख्तियार का न मिला।

खिज़ां = पतझड़ मिजाज़ = मुलाकात
~ Yagana Changezi
----------
कब उनकी आँखों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुज़र रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।
----------
चेहरे पर मरने वाले हज़ार मिल जायेंगे;
कुछ लोग हर जरुरत पूरी कर जायेंगे;
ख्वाहिश है उसकी जो दिल से समझे हमें;
हम तो जिंदगी भी उसके नाम कर जायेंगे।
----------
वो तरस जाएँगी प्यार की एक बूँद के लिए;
मैं तो बादल हूँ किसी और पे बरस जाऊंगा।
----------
आंसू न होते तो आँखें इतनी खूबसूरत न होती;
दर्द न होता तो ख़ुशी की कोई कीमत न होती;
अगर मिल जाता कोई चाहने से;
तो दुनिया में ऊपर वाले की भी जरुरत न होती।
----------
कलियों के खिलने के साथ;
एक प्यारे एहसास के साथ;
एक नये विश्वास के साथ;
शुरूआत हो आपके हर दिन की;
एक मुस्कान के साथ।
गुड मोर्निंग।
----------
Meri Ibadaton Ko Aise Kar Qubool Ae Mere Maalik;
Ke Sajde Mein Main Jhukoon To Mujhse Judde Har Rishto Ki Zindagi Sanwr Jaye!
----------
सभी के चेहरे में वो बात नहीं होती;
थोड़े से अँधेरे से रात नहीं होती;
जिंदगी में कुछ लोग बहुत प्यारे होते हैं;
क्या करें उन्ही से हमारी 'मुलाकात' नहीं होती!
---------- 
वो नजर कहां से लाऊँ, जो तुम्हें भुला दे;
वो दुआ कहां से लाऊँ, जो इस दर्द को मिटा दे;
मिलना तो लिखा होता है तकदीरों में;
पर वो तकदीर ही कहां से लाऊँ, जो हम दोनों को मिला दे!
----------
मेरी झोली में कुछ अलफ़ाज़ अपनी दुआओ के डाल देना, ऐ दोस्त;
क्या पता, तेरे लब हिलें और मेरी तकदीर सवर जाये!
----------
हम तरस गये आपके दीदार को;
दिल फिर भी आपके लिए दुआ करता है!
हमसे अच्छा तो आपके घर का आईना है;
जो हर रोज़ आपका दीदार तो करता है!
----------
ख्वाहिशों का काफिला भी अजीब होता है;
अक्सर वही से गुजरता है, जहाँ पर रास्ते नहीं होते!
----------
पास आपके दुनिया का हर सितारा हो;
दूर आपसे गम का हर किनारा हो;
जब भी आपकी पलकें खुलें;
सामने वही हो जो आपको दुनिया में सबसे प्यारा हो!
----------
प्यार आ जाता है, आँखों में रोने से पहले;
हर ख्वाब टूट जाता है, सोने से पहले;
इश्क है गुनाह, यह तो समझ गए हम; 
काश कोई रोक लेता, ये गुनाह होने से पहले!
----------
शायद कोई तराश कर, किस्मत संवार दे;
यह सोच कर हम, उम्र भर पत्थर बने रहे!
----------
मिले तो हजारो लोग थे, ज़िन्दगी में;
पर वो सब से अलग था, जो किस्मत में नहीं था!
----------
काश वादों का मतलब वो समझते;
काश खामोशी का मतलब वो समझते;
नजर मिलती है हज़ारों नजारों से;
काश मेरी नज़रों का मतलब वो समझते!
----------
मेरी आँखों में देख आ कर हसरतों के नक्श;
ख़्वाबों में भी, तेरे मिलने की फ़रियाद करते!
----------  
ख़ुशी से दिल को आबाद करना,
और गम को दिल से आजाद करना,
हमारी बस इतनी गुजारिश है कि हमे भी,
दिन में एक बार याद करना!
----------
कोई न मिले तो किस्मत से गिला नहीं करते!
अक्सर लोग मिल कर भी मिला नहीं करते!
हर शाख पर बहार आती हैं ज़रूर!
पर हर शाख पर फूल खिला नहीं करते!
----------
जिंदगी बन गए हो तुम मेरी!
बंदगी बन गए हो तुम मेरी!
खुदा माफ़ करे मुझे आखरी आरजू बन गए हो तुम मेरी!
----------
रात की तन्हाई में उनको आवाज़ दिया करते हैं !
रात में सितारों से उनका ज़िक्र किया करते हैं !
वो आयें या न आयें हमारे ख्वाबों में !
हम तो बस उन्ही का इंतज़ार किया करते हैं !
----------
जब तन्हाई मैं आप की याद आती हैं!
होंठो पर एक दुआ आती हैं!
खुदा आप को दे हर ख़ुशी!
क्योंकि आज भी हमारी हर ख़ुशी आपके बाद आती हैं!
----------
याद आती है तो ज़रा खो जाते है!
आंसू आँखों में उतर आये तो ज़रा रो लेते है!
नींद तो नहीं आती आँखों में लेकिन!
वो ख्वाबों में आएंगे यही सोच कर सो लेते है!
----------
काश दिल की आवाज़ में इतना असर हो जाये!
हम आपको याद करे और आपको खबर हो जाये!
रब से बस इतनी दुआ करते हैं!
आप जो चाहे आपको मिल जाये!
----------
हम उनसे प्यार करते हैं! वो हमसे प्यार करते हैं!
न वो हमसे बात करते! न हम उनसे बात करते हैं!
बस एक दुसरे को देख कर टाइम पास किया करते हैं!
----------

काश उसे चाहने का अरमान ना होता;
मैं होश में रहते हुए अनजान ना होता;
ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हम को;
या फिर कोई पत्थर दिल इंसान ना होता।
----------
काश कि हम उनके दिल पे राज़ करते;
जो कल था वही प्यार आज करते;
हमें ग़म नहीं उनकी बेवफाई का;
बस अरमां था कि हम भी अपने प्यार पर नाज़ करते।
----------
ज़िंदगी गुज़र जाये पर प्यार कम ना हो;
याद हमे रखना चाहे पास हम ना हों;
क़यामत तक चलता रहे प्यार का सफर;
यही अरमां है हमारा कि यह रिश्ता कभी ख़त्म ना हो।
----------
काश वो पल संग बिताये ना होते;
तो उनको याद कर आज ये आँसू आये ना होते;
खुदा को अगर इस तरह दूर ले जाना था उन्हें;
तो इतनी गहराई से ये दिल मिलाये ना होते।
----------
जीने के लिए दर्द का सामान बहुत है;
कुछ रोज़ से अपना दिल परेशान बहुत है;
मिलते हैं सभी लोगों से हम;
बस आपसे मिलने का अरमान बहुत है।
----------
काश हमारी भी परवाह किसी ने की होती;
तो ये दुनिया हमें रुस्वा न होती;
काश हमें भी आता आप जैसा मुस्कुराना;
तो हमसे भी किसी ने मोहब्बत की होती।
----------
कभी हम टूटे तो कभी ख्वाब टूटे;
ना जाने कितने टुकड़ों में अरमां टूटे;
हर टुकड़ा है आईना जिंदगी का;
हर आईने के साथ लाखों जज़्बात टूटे।
----------
काश मेरी रूह में आप इस कदर उतर जायें;
मैं देखूं आईना और आपकी तस्वीर नज़र आये;
जब आप हों सामने तो वक़्त ठहर जाये;
और आपको देखते-देखते ये ज़िंदगी गुज़र जाये।
----------
ये भी एक दुआ है खुदा से;
किसी का दिल न दुखे मेरी वज़ह से;
ए खुदा कर दे कुछ ऐसी इनायत मुझ पे;
कि खुशियाँ ही मिलें सब को मेरी वज़ह से।
----------
यूँ रिश्ता निभाएंगे कि आपकी आँखों में खुद के लिए फिक्र छोड़ जाएंगे;
कल हम भले ही हों ना हों;
लेकिन आपकी हर एक याद में अपना ज़िक्र छोड़ जाएंगे।
----------

नहीं चाहिए मुझे ऐसा कोई तोहफा जो मेरी उम्र बढ़ा दे;
दे दे मुझे कोई ऐसी दुआ जो मुझे चैन की नींद सुला दे।
----------
निकलते हैं तेरे आशियाँ के आगे से;
सोचते हैं की तेरा दीदार हो जायेगा;
खिड़की से तेरी सूरत न सही तेरा साया तो नजर आएगा।
----------
काश मुझे भी कोई प्यार करे;
काश मुझे पर भी कोई ऐतबार करे;
निकलता हूँ यूँही चाहत की तलाश मे;
काश प्यार की राहों मे मेरा भी कोई इंतज़ार करे।
----------
आँखें खोलूं तो चेहरा उसका हो;
आँखें बंद करूँ तो सपना उसका हो;
मर जाऊं तो ग़म नहीं;
अगर कफ़न के बदले दुपट्टा उसका हो।
----------
छुप-छुप कर तन्हा रो लूंगा;
अब दिल का दर्द किसी से ना बोलूंगा;
नींद तो आती नहीं रातों को मुझे;
जब रुकेगी धड़कन तो जी भर के सो लूंगा।
----------
हम तेरे साथ चलेंगे तू चले ना चले;
तेरा हर दर्द सहेंगे तू कहे ना कहे;
सजी रहेगी दुनियां तेरी खुशियों से हमेशा;
चाहे हम इस दुनियां में रहें ना रहें।
----------
ऐ खुदा एक पल के लिए उसे मेरा बना दे;
कितना चाहते हैं उसे कोई ये बता दे;
हर पल देखूं सिर्फ़ सपने उसी के;
ना जागूं कभी, खुदा ऐसी नींद सुला दे।
----------
कुछ अरमान उन बारिश की बूंदों की तरह होते है;
जिनको छुने की ख्वाहिश में, हथेलिया तो गीली हो जाती है;
पर हाथ हमेशा खाली रह जाते हैं।
----------  
कभी ज़िंदगी में ऐसी शाम तो आए;
बेचैन सी इन सांसो को आराम तो आए;
ना रह जाएगी कोई रज़ा फिर उस खुदा से दोस्तो;
इकरार का उनका कोई पैगाम तो आए।
----------
शायद फिर से वो तकदीर मिल जाए;
जीवन का हसीन पल वो मिल जाए;
चलो बनाएं बारिश में कागज़ की कश्ती;
शायद फिर से हमारा बचपन मिल जाए।
----------

भगवान आपके सारे ग़म रेत पर लिख दे;
तांकि वो हवा से ही मिल जाए;
और खुशियां पत्थर पर लिख दे;
तांकि हवा तो क्या, उसे बारिश भी ना मिटा सके।
----------
काश यह सपना भी पूरा हो जाए;
हम भी किसी के सपनों में खो जाएं;
हो हमारा भी जिक्र उनके लबों पर;
हम भी उनके दिल में बस जाएं।
----------
आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है;
आपकी याद बहुत बेकरार करती है;
जाते जाते कहीं भी मुलाकात हो जाये आप से;
तलाश आपको ये नज़र बार बार करती है।
----------
रूठी जो ज़िंदगी तो मना लेंगे हम;
मिले जो ग़म वो सह लेंगे हम;
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे;
तो निकलते हुए आंसूओं में भी मुस्कुरा लेंगे हम।
----------
मैंने कब चाहा कि वो ज़िंदगी मेरे नाम कर दे;
बस मुझे चाहे, इतना सा काम कर दे;
हर रोज़ सोचा करे, कुछ लम्हे बस;
कब कहा कि मेरी याद में सुबह से शाम कर दे।
----------
हम इस कदर तुम पर मर मिटेंगे;
तुम यहाँ देखोगे हम ही तुम्हें दिखेंगे;
रखना हर पल इस दिल में हमारी याद;
हमारे बाद हमारे प्यार की दास्तान दुनियां वाले लिखेंगे।
----------
मुस्कान आपके होंठों से कहीं जाए ना;
आंसू आपकी पलकों पे कभी आए ना;
पूरा हो आपका हर ख्वाब;
और जो पूरा ना हो वो ख्वाब कभी आए ना।
----------
मेरे ईश्वर हज़ारों ऐब हैं मुझमें, नहीं कोई हुनर बेशक़,
मेरी खामी को तू खूबी में तब्दील कर देना;
मेरी हस्ती है एक खारे समंदर सी मेरे दाता,
तू अपनी रहमतों से इसको मीठी झील कर देना!
----------
चाह कर भी कभी ना तुमको भुला पाएंगे हम;
करते हैं वादा यह निभा पाएंगे हम;
खुद को फ़ना कर देंगे इस जहान से हम;
पर नाम तेरा ना दिल से मिटा पाएंगे हम।
----------
हमें अपने दिल में बसाए रखना;
हमारी यादों के चिराग जलाए रखना;
बहुत लंबा है सफ़र ज़िंदगी का मेरे दोस्त;
एक हिस्सा हमें भी बनाए रखना।
----------

हर पल ने कहा एक पल से;
पल भर के लिए तुम मेरे साथ रहो;
पल भर का साथ कुछ ऐसा हो;
कि हर पल तुम ही तुम याद रहो।
----------
ऐ रब अपने पास मेरी दुआ अमानत रखना;
रहती दुनियां तक उसको सलामत रखना;
मेरी आँखों के सारे दीप बुझा देना;
पर उसकी आँखों के सारे ख्वाब सलामत रखना।
----------
नन्हें से दिल में अरमां कोई रखना;
दुनियाँ की भीड़ में पहचान कोई रखना;
अच्छे नहीं लगते जब रहते हो उदास;
इन होंठों पर सदा मुस्कान वही रखना।
----------
बेताब तमन्नाओं की कसक रहने दो;
मंज़िल को पाने की ललक रहने दो;
आप भले रहो नज़रों से दूर;
पर मेरी बंद आँखों में आपकी एक झलक रहने दो।
----------
गिला रहे हमसे, शिकवा रहे हमसे;
आरज़ू या बस यूँ ही एक सिलसिला रहे हमसे;
फासले हों दरमियान, या खता हो कोई;
दुआ है बस यही कि नज़दीकियां रहें हमसे।
----------
चाँद तारों का नूर आप पर बरसे, हर कोई आप की चाहत को तरसे;
आप की ज़िंदगी में आएं इतनी खुशियाँ, कि आप एक ग़म पाने को तरसें!
----------
उनकी आँखों में काश कोई इशारा तो होता;
कुछ मेरे जीने का सहारा तो होता;
तोड़ देते हम हर रस्म जमाने की;
एक बार ही सही उसने पुकारा तो होता।
----------
गम की आहट ना आए तेरे दर पर;
प्यार के समंदर का तुम भी एक किनारा हो;
भूल से भी जो टपके तेरी आँखों से मोती;
थामे वही, जो तुम्हें सबसे प्यारा हो!
----------
कुछ लम्हें और उसका साथ चाहता था;
आँखों में थमी वो बरसात चाहता था;
जानता हूँ बहुत चाहती थी वो, मगर;
उसकी जुबां से एक बार इज़हार चाहता था!
----------
हर कामयाबी पर आपका नाम होगा;
आपके हर कदम पर दुनियाँ का सलाम होगा;
मुश्किलों का सामना हिम्मत से करना;
दुआ है एक दिन वक़्त भी आपका गुलाम होगा!
----------
आपके दिल पर एक दिन राज करेंगे;
कभी इस बात पर हम नाज़ करेंगे;
आपके लिए उस ख़ुदा से सारी ख़ुशियाँ मांग कर;
आपको एक आँसू के लिए भी मोहताज करेंगे!
----------
तेरे हाथ की काश मैं वो लकीर बन जाऊं;
काश मैं तेरा मुक़द्दर तेरी तक़दीर बन जाऊं;
मैं तुम्हें इतना चाहूँ कि तुम भूल जाओ हर रिश्ता;
सिर्फ मैं ही तुम्हारे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं;
तुम आँखें बंद करो तो आऊं मैं ही नज़र;
इस तरह मैं तुम्हारे हर ख्वाब की ताबीर बन जाऊं!
----------
करते हैं दुआ कामयाबी के शिखर पे आपका नाम हो;
जहाँ जहाँ पड़े कदम आपके, दुनिया का सालाम हो;
सामना मुश्किलों का हिम्मत से करना;
करते हैं दुआ एक दिन वक़्त आपका ग़ुलाम हो।
----------
क़ाश मेरी ज़िंदगी का अंत कुछ इस तरह हो;
कि मेरी क़बर पे बना उनका घर हो;
वो जब जब सोये ज़मीन पर;
मेरे सीने से लगा उनका सर हो।
----------
मन में सबको पाने का अरमान नहीं होता;
हर कोई दिल का मेहमान नहीं होता;
पर जो एक बार बन जाते हैं अपने;
फिर उन्हें कभी भुलाना इतना आसान नहीं होता।
----------
दिल में अरमान बहुत हैं;
ज़िन्दगी में ग़म बहुत हैं;
कब की मार डालती यह दुनिया हमें;
कम्बख्त दोस्तों की दुआओं में दम बहुत हैं।
----------
टूटा हो दिल तो दुःख होता है;
करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है;
दर्द का एहसास तो तब होता है जब;
किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है।
----------
आज जरुरत है जिसकी वो पास नहीं है;
अब उनके दिल में वो एहसास नहीं है;
तड़पते हैं दो पल बाते करने को;
शायद अब वक़्त हमारे लिए उनके पास नहीं है।
----------
उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है;
उनसे कह नहीं पाना हमारी मजबूरी है;
वो क्यों नहीं समझते हमारी खामोशी को;
क्यों प्यार का इज़हार करना जरूरी है।
----------
आज की रात मेरा दर्द मोहब्बत सुन ले;
कप-कपाते हुए होंठों की शिकायत सुन ले;
आज इज़हारे ख़यालात का मौका दे दे;
हम तेरे शहर में आये हैं, मुसाफिर की तरह।
----------

दुआ मांगी थी आशियाने की;
चल पड़ी आंधियाँ जमाने की;
मेरा गम कोई नही समझ पाया;
क्योंकि मेरी आदत थी मुस्कुराने की।
----------
होंठ कह नहीं सकते जो फ़साना दिल का;
शायद नजरों से वह बात हो जाये;
इस उम्मीद में करते हैं इंतज़ार रात का;
कि शायद सपनों में ही मुलाक़ात हो जाये।
----------
मिलना इतिफाक था, बिछड़ना नसीब था;
वो उतना ही दूर चला गया, जितना वो करीब था;
हम उसको देखने के लिए तरसते रहे;
जिस शख्स की हथेली पर हमारा नसीब था।
----------
आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा;
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा;
पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला;
मैं मोम हूँ उसने मुझे छू कर नहीं देखा।
----------
हम ये नहीं चाहते कि कोई आपके लिए 'दुआ' ना मांगे;
हम तो बस इतना चाहते है कि कोई 'दुआ' में आपको ना मांगे।
----------
बहुत अरसे बाद उसका फोन आया तो मैंने कहा, "कोई झूठ ही बोल दो।"
वो लम्बी सांस लेकर बोले, "तुम्हारी याद बहुत आती है"।
----------
बहुत नायब होते हैं जिन्हें हम अपना कहते हैं;
चलो तुमको इज़ाजत है कि तुम अनमोल हो जाओ।
----------
मजबूर मोहब्बत जता न सके;
ज़ख्म खाते रहे किसी को बता न सके;
चाहतों की हद तक चाहा उसे;
सिर्फ अपना दिल निकाल कर उसे दिखा न सके।